Uttarakhand News Portal

Uttar Pradesh

National

विज्ञान एवं जैव ऊर्जा शोध सेमीनार आयोजित

देहरादून। लुगदीय रद्दी से कागज विज्ञान एवं जैव ऊर्जा के क्षेत्र में भावी शोध आवश्यकताएं विषय पर शोध सेमीनार आयोजित की गई। कागज एवं लुगदी प्रभाग, वन अनुसंधान संस्थान द्वारा आयोजित यह सेमीनार एक बढिया शुरूवात है, जिसे हाल ही में भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद् द्वारा भावी शोध पहल एवं रोडमैप हेतु संवेदनशील बनाने के लिए अपनाया जा रहा है।
सेमीनार का मुख्य उद्देश्य लुगदी एवं कागज व जैव ऊर्जा के बहुत से विशेषज्ञों, वैज्ञानिकों, हितधारकों एवं शिक्षाविदों के मध्य विचार विमर्श एवं मंथन के जरिए उपभोक्ता की आवश्यकताओं पर आधारित शोध क्षेत्रों का सृजन करना है।
 
डा0 सविता, निदेशक, वन अनुसंधान संस्थान ने अपने संबोधन से सेमीनार का उद्घाटन किया। उन्होने कहा कि लुग्दी एवं कागज विज्ञान तथा जैव ऊर्जा पर आयोजित इस सेमीनार के परिणाम भावी शोध प्रथमिकताओं हेतु स्पष्ट दिशा प्रदान करने में निश्चित रूप से सक्षम होंगे तथा लुगदी एवं कागज व जैव ऊर्जा के क्षेत्र में अंर्तस्थानीय सहयोग एवं आवश्यकता आधारित अनुसंधान कार्यक्रमों के विकास एवं सूत्रीकरण में भी सहायक होंगे। उन्होने गुणवत्तापूर्ण कागज उत्पादन हेतु नैनो प्रौद्योगिकी जैसे उत्पन्न हो रहे शोध क्षेत्रों के अनुप्रयोगों की खोज की आवश्यकता पर विशेष जोर दिया। डा0 ए$के$ दीक्षित, वैज्ञानिक सी$पी$पी$आर$आई, सहारनपुर ने कागज उद्योग के सतत् विकास हेतु एकीकृत कृषि आधारित जैवशोधन के सिद्वांत पर ध्यानाकर्षण किया। उन्होने इस बढते क्षेत्र में अनुसंधान हेतु भविष्य में पैदा होते अवसरों पर विचार विमर्श किया।
 
डा0 संजय नैथानी, पूर्व प्रमुख, कागज एवं लुगदी प्रभाग ने विशेष रूप से कागज निर्माण हेतु पुर्नचक्रण कागज प्रक्रिया  में फाईबर सुधार एवं फाइबर बोर्डिंग हेतु प्राकृतिक योजक के रूप में नए पोलीसेचेराइड संसाधनों के शोध हेतु आवश्यकता के बारे में बताया। डा0 विकास राणा, प्रमुख कागज एवं लुगदी प्रभाग ने प्रतिभागियों एवं विशिष्ठ व्यक्तियों का स्वागत करते हुए अपने स्वागत भाषण में कहा कि सेमीनार का मुख्य उद्देश्य लुगदी एवं कागज व जैव-ऊर्जा के क्षेत्र में नए शोध क्षेत्रों की खोज करना है जिसमें कागज विज्ञान के वरिष्ठ वैज्ञानिकों एवं विशेषज्ञों की सिफारिसों एवं गहन मंथन की आवश्यकता होगी। सेमीनार में विभिन्न प्रभागों के प्रमुखों, वैज्ञानिकों एवं विविध लुगदी एवं कागज प्रोद्योगिकी से जुडे व्यक्तियों ने भाग लिया। डा0 पी$के$ गुप्ता, डा$ के$पी$ सिंह, एम$पी$सिंह, जयपाल सिंह रावत, आशीष शर्मा, सौम्या वसु, धर्मवीर आदि भी सेमीनार में उपस्थित रहे।
 

Update on: 07-12-2017

Himachal Pradesh

Current Articles