Uttarakhand News Portal

Uttar Pradesh

National

14 अक्टूबर तक छात्रवृत्ति न मिली तो अनिश्चितकालीन धरना होगा

देहरादून। उत्तराखंड संवैधानिक संरक्षण मंच के प्रदेश संयोजक दौलत कुंवर ने कहा है कि उत्तराखंड के किसी भी छात्र छात्राओं को  हैदराबाद यूनिवर्सिटी के खुदकुशी करने वाला छात्र रोहित वैमुला जैसा नहीं बनने दिया जायेगा।  उन्होंने कहा कि बीते दिनों एक प्रतिनिधिमंडल ने मुख्य सचिव से भी भेंट की थी और समस्याओं को उनके समक्ष रखा था कि 14 अक्टूबर तक छात्रवृत्ति नहीं मिली तो 15 अक्टूबर से सचिवालय के गेट पर अनिश्चितकालीन धरना प्रदर्शन किया जायेगा। उत्तरांचल प्रेस क्लब में पत्रकारों से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि मुख्य सचिव से 2009 से 2017 के बीच उत्तराखंड में जो भी छात्र छात्रायें एसी, एसटी, ओबीसी के प्राईवेट कॉलेजों में बीटैक, बीबीए, एमबीए, एमसीए, बीए, एलएलबी व अन्य कोर्स कर रहे हैं उनको छात्रवृत्ति न मिलने के कारण कईयों ने अपनी पढ़ाई छोड़ दी और जो बच्चे पढ़ रहे हैं वह न जाने मानसिक प्रताडऩा के बाद भी कैसे अपनी पढ़ाई कर पा रहे हैं यह सोचनीय विषय है। उनका कहना है कि मुख्य सचिव के माध्यम से अवगत कराया था कि पूरे उत्तराखंड में अभी भी लगभग 1100 बच्चे विभिन्न कॉलेजों में कोर्स कर रहे हैं लेकिन उनको पढाई के साथ साथ कालेज प्रशासन छात्रवृत्ति के लिए बार-बार मानसिक प्रताडऩा देते हैं।
 
 
  कहीं ऐसा न हो जैसे हैदराबाद यूनिवर्सिटी में छात्रों को जब छात्रवृत्ति नहीं मिली तो कुछ दिन पहले ही रोहित वैमुला ने खुदकुशी कर ली थी, लेकिन हमारे संगठन ने यह निर्णय लिया है कि हैदराबाद यूनिवर्सिटी की तरह हम उत्तराखंड में किसी भी बच्चों को ऐसा नहीं करने देंगे, इसके लिए आज तक का समय दिया गया था लेकिन मुख्य सचिव ने उनकी बात का संज्ञान नहीं लिया और सचिव समाज कल्याण को इस मामले का समाधान करने के निर्देश दिये और सचिव समाज कल्याण से वार्ता की और कहा कि इस वर्ग के बच्चों के साथ सौतेला व्यवहार का प्रकरण रखा तो उनके हाथ पांव फूल गये और निदेशालय बुलाया गया और लोगों के साथ पछवादून क्षेत्र में वर्तमान समय में जिला पंचायत के तीन सदस्यों के साथ निदेशक समाज कल्याण व जिला समाज कल्याण अधिकारी के साने छात्रों के साथ हो रहे भेदभाव का संपूर्ण प्रकरण रखा उस पर समाज कल्याण विभाग के निदेशक ने कुछ समय देने का आग्रह किया और संगठन की बैठक बुलाई गई और समाज कल्याण निदेशक को समय दिये जाने का निर्णय लिया गया। दौलत ने कहा कि 14 अक्टूबर तक समाज कल्याण विभाग सभी छात्रों को छात्रवृत्ति उपलब्ध करा देते हैं और हमें सभी बच्चों का विवरण के साथ अवगत करा देते हैं तो हम तब तक शांत रहेगें, यदि इस पर किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं होती है तो 15 अक्टूबर को सुबह दस बजे से सचिवालय के मुख्य गेट पर अनिश्चितकालीन धरना व प्रदर्शन किया जायेगा। इसके लिए रणनीति तैयार कर ली गई है। इस अवसर पर हाजी सलीम अहमद, संदीप पॉल, टीसी माथुर, सूर्य प्रकाश कन्नौजिया, जगराम सिंह, देवेन्द्र सैनी, अजय पाल, आकाश, अमर सिंह कश्यप, बंटी सूर्यवंशी, ओम प्रकाश, संजू आदि शामिल थे।

Update on: 10-08-2017

Himachal Pradesh

Current Articles