Uttarakhand News Portal

Uttar Pradesh

National

मौत के बाद पांच लोगों को नई जिंदगी दे गया बिजली लाइनमैन

इंदौर। काम के दौरान दुर्घटना में बुरी तरह घायल होने के बाद दिमागी रूप से मृत घोषित 27 वर्षीय बिजली लाइनमैन के परिजन ने उसका लीवर, दोनों किडनी, दोनों आंखें और त्वचा दान कर बुधवार को प्रेरक मिसाल पेश की। चिकित्सकों के मुताबिक इन अंगों से पांच मरीजों को नई जिंदगी मिल सकेगी।
अंगदान को बढ़ावा देने वाले गैर सरकारी संगठन मुस्कान के कार्यकर्ता संदीपन आर्य ने बताया, संजय कुकड़ेश्वर (27) बिजली के खंभे पर सुधार कार्य करते वक्त आठ मई की रात नीचे गिर पड़े थे। शहर के एक निजी अस्पताल के डॉक्टरों ने उनकी हालत पर सतत निगरानी के बाद उन्हें मंगलवार को नौ मई को दिमागी रूप से मृत घोषित कर दिया।

उन्होंने बताया कि कुकड़ेश्वर की मौत के बाद उनके परिजन जरूरतमंद मरीजों को नया जीवन देने के लिए बिजली लाइनमैन के अंगदान के लिए राजी हो गए। इसके बाद उनके मृत शरीर से लीवर, दोनों किडनी, दोनों आंखें और त्वचा निकाल ली गई।
आर्य ने बताया कि कुकड़ेश्वर के लीवर और किडनी को अलग-अलग ग्रीन कॉरिडोर बनाकर दो अन्य अस्पतालों तक पहुंचाया गया। इन अंगों को दो मरीजों के शरीर में प्रत्यारोपित किया गया। कुकड़ेश्वर की एक किडनी को उसी अस्पताल में भर्ती एक मरीज के शरीर में प्रत्यारोपित किया गया, जहां इलाज के दौरान बिजली लाइनमैन को मृत घोषित किया गया था।

उन्होंने बताया कि मत्यु उपरांत कुकड़े़श्वर के अंगदान से मिली आंखों और त्चचा को दो अलग अलग संस्थाओं ने प्रत्यारोपण के लिए हासिल कर सुरक्षित रख लिया है। आर्य ने यह भी बताया कि मस्तिष्क का दौरा पड़ने के बाद शहर के एक निजी अस्पताल में भर्ती तारा देवी नेभवानी (68) को आज शाम दिमागी रूप से मृत घोषित किया गया। मूलत: खंडवा निवासी महिला के परिजन भी उसके अंगदान के लिए राजी हो गए हैं।
इंदौर में दिमागी रूप से मृत मरीजों के अंगदान से मिले अंगों को प्रत्यारोपण के लिए जरूरतमंद मरीजों तक पहुंचाने के लिए सात अक्तूबर 2015 से लेकर अब तक 17 बार ग्रीन कॉरिडोर बनाये जा चुके हैं। ग्रीन कॉरिडोर बनाने से तात्पर्य सड़कों पर यातायात को इस तरह व्यवस्थित करने से है कि अंगदान से मिले अंगों को एम्बुलेंस के जरिये कम से कम समय में जरूरतमंद मरीजों तक पहुंचाया जा सके।

Update on: 10-05-2017

Himachal Pradesh

Current Articles