Uttarakhand News Portal

Uttar Pradesh

National

पत्नी की हत्या के आरोपी MLA ने मंच पर योगी आदित्यनाथ के छुए पांव

लखनऊ: अपनी पत्नी की हत्या के आरोपी विधायक अमनमणि त्रिपाठी का उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ शनिवार को गोरखपुर में एक कार्यक्रम का मंच साझा किए जाने की घटना से सरकार विपक्षी दलों के निशाने पर आ गई है.

अपनी पत्नी सारा की हत्या के आरोपी नौतनवा सीट से निर्दलीय विधायक अमनमणि ने शनिवार को गोरखपुर में आयोजित एक कार्यक्रम में मुख्यमंत्री के साथ मंच साझा किया और यहां तक कि उनके पैर छूकर उनसे आशीर्वाद भी लिया. साथ ही योगी को कुछ कागजात भी दिए. अमनमणि पूर्व मंत्री अमरमणि त्रिपाठी के बेटे हैं. अमरमणि कवयित्री मधुमिता शुक्ला हत्याकांड मामले में इस वक्त उम्रकैद की सजा काट रहा है.

पैर छूने वाली तस्वीर सोशल मीडिया और टीवी चैनलों पर प्रसारित होने के बाद अमनमणि ने गोरखनाथ मंदिर के बाहर संवाददाताओं से कहा, 'महाराज जी (योगी आदित्यनाथ) हमारे अभिभावक हैं. वह जो भी आदेश देंगे, मैं करूंगा. जो उनका आदेश होगा, वही अंतिम होगा.' इस सवाल पर कि क्या वह भाजपा से नजदीकी दिखा रहे हैं और इस पार्टी में शामिल होना चाहते हैं, इस निर्दलीय विधायक ने कहा कि क्यों नहीं, जो महाराज जी का आदेश होगा, वही अंतिम होगा.

सपा के प्रांतीय प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने इस घटनाक्रम पर कहा कि यह योगी की कथनी और करनी में स्पष्ट अंतर को दिखाता है. प्रदेश की कानून-व्यवस्था खराब है. दुर्भाग्य की बात यह है कि खुद भाजपा के सांसद, विधायक और नेता ही कानून तोड़ रहे हैं. प्रदेश में कानून नाम की कोई चीज नहीं रह गई है. प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता अशोक सिंह ने इस बारे में कहा, 'दोहरा चरित्र तो भाजपा की पहचान है. अपनी पत्नी की हत्या के आरोपी का मुख्यमंत्री के साथ मंच साझा करना, वाकई बेहद शर्मनाक है.'

इस बीच, वरिष्ठ भाजपा विधायक तथा गोरखपुर में हुए मुख्यमंत्री के कार्यक्रम की तैयारियां करवाने वाले फतेह बहादुर सिंह ने कहा कि उन्हें बाद में पता लगा कि अमनमणि ने मुख्यमंत्री के पैर छुए हैं. हालांकि भाजपा की गोरखपुर इकाई के प्रवक्ता सत्येन्द्र सिन्हा ने कहा कि कोई भी जनप्रतिनिधि मुख्यमंत्री का अभिवादन कर सकता है या उनके पैर छूकर आशीर्वाद ले सकता है. इसमें कुछ भी गलत नहीं है.

Update on: 30-04-2017

Himachal Pradesh

Current Articles