Uttarakhand News Portal

Uttar Pradesh

National

गौरीकुंड में वैदिक मंत्रोच्चार के साथ गौरामाई के कपाट खुले

रुद्रप्रयाग। केदारनाथ यात्रा मार्ग के प्रमुख पड़ाव गौरीकुंड में प्रसिद्ध गौरामाई मंदिर के कपाट भक्तों के दर्शनार्थ खोल दिए गए। सुबह गौरीगांव के ग्रामीणों द्वारा गौरामाई की डोली को गांव से ढोल दमाऊ के साथ गौरीकुंड लाया गया।  जहां वैदिक मंत्रोच्चार और विधि-विधान के साथ सुबह 9 बजे मंदिर के कपाट भक्तों के दर्शनार्थ खोल दिए गए। हर साल की तरह बैशाखी के पवित्र पर्व पर इस बार भी गौरीमाई के कपाट खोले गए।

सुबह साढ़े आठ बजे गौरीमाई की डोली को भक्तों द्वारा गौरीकुंड लाया गया। यहां मंदिर की तीन परिक्रमा के बाद डोली मंदिर के गर्भ गृह में विराजमान हुई। मंदिर के पुजारी लोकेश्वर जमलोकी एवं आचार्य वेदपाठियों ने पूजा अर्चना की। इस मौके पर देवी के जयकारों से गौरीकुंड गुंजायमान हुआ। इधर तीन मई को भगवान केदारनाथ के कपाट खुलने हैं।

मान्यता है कि केदारनाथ धाम से पहले गौरीकुंड में गौरीमाई के कपाट खोले जाते हैं। इस मौके पर पुजारी लोकेश्वर जमलोकी, मठापति शंभूप्रसाद गोस्वामी, व्यापार संघ अध्यक्ष कुलानंद गोस्वामी, प्रधान गौरीकुंड राकेश गोस्वामी, वन पंचायत सरपंच नरोत्तम प्रसाद गोस्वामी, राजेश गोस्वामी, देवी प्रसाद, जयकिशन, श्रीधर गोस्वामी आदि उपस्थित थे।

Update on: 14-04-2017

Himachal Pradesh

Current Articles