Share Your view/ News Content With Us
Name:
Contact Number:
Email ID:
Content:
Upload file:

लालतप्पड़ से भनियावाला बस सेवा शुुरु न होने से क्षेत्रवासियों में रोष

देहरादून। लालतप्पड़ से भनियावाला बस सेवा शुुरु न होने से जनता में रोष बना हुआ है।वहीं दून लालतप्पड़ व भनिया वाला के बीच पडऩे वाले गाँव को सीधे शहर से जोडऩे के लिए क्षेत्रवासियोँ के द्वारा काफी प्रयास किये गए जब की वह प्रयासा अभी तक जस के तस दिखाई दे रहे है।

क्षेत्रवासियों ने बताया कि सबसे बड़ी दिक्क्त की बात यह है की लाल तप्पड़ से भनियावाला से रोजाना कई क्षेत्रवासियों, छात्रों को देहरादून आना जाना पड़ता है जिसके लिए उत्तराखंड परिवहन की बस एक मात्र साधन है जब की परिवहन विभाग की बस के लिए लोगों को काफी इन्तजार करना पड़ता है और यही नहीं की अगर बस मिल भी गई तो बस में बैठने के लिए सीट नहीं मिल पाती है जिसके चलते खड़े खड़े सफर करना पड़ता है जिस के चलते कई छात्रों को काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है।
 
उनका कहना है कि जबकि क्षेत्र की समस्या को देखते हुए कई बार परिवहन विभाग के अधिकारियों को कहा गया किन्तु अधिकारियों के कान में जूं तक नहीं रेंग रही है। गौरतलब है की देहरादून से भनिया वाला तक सिटी बस सेवा संचालित है सिटी बसों का किराया भी काफी कम होने के कारण आसानी से देहरादून पंहुचा जा सकता है जब की पूर्व में परिवहन अधिकारियों, परिवहन मंत्री तथा मुख्यमंत्री को भी इस समस्या से अवगत किया गया जिस पर कार्यवाही करते हुवे परिवहन भिभाग ने एक बैठक करवा कर रुट का सर्वे करवाया गया किन्तु अभी तक देहरादून से लालतप्पड के बीच सिटी बस सेवा सुरु नहीं हो पाई है जिस के चलते क्षेत्र वासियोँ को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है जिस कारण परिवहन सुविधा से 20 हजार से ज्यादा लोग वंचित हो रहे है। क्षेत्रवासियों का कहना है कि काफी लम्बे समय से क्षेत्रवासी इस क्षेत्र के लोग सिटी बस की मांग कर रहे है किन्तु सम्बंधित अधिकारी इस और ध्यान नहीं दे रहे है जब की लालतप्पड़ में औद्योगिक क्षेत्र होने के कारण आम जनता को भी जो वह पर नौकरी करने के लिए जाते है उन्हें भी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

दून पहुंचने पर किया केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह का स्वागत

देहरादून। केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह गुरुवार को देहरादून पहुंचे। देहरादून पहुंचने पर प्रदेश के शासकीय प्रवक्ता व शहरी विकास, आवास मंत्री मदन कौशिक ने गृह मंत्री राजनाथ सिंह का जॉलीग्रान्ट हवाई अडडे पर स्वागत किया।
 
उत्तराखण्ड भ्रमण कार्यक्रम के अन्तर्गत गृह मंत्री राजनाथ सिंह सीमा सुरक्षा बल के विमान से जॉलीग्रान्ट पहुंचे। इस अवसर पर विधायक मुन्ना सिंह चौहान, पूर्व मंत्री नारायण सिंह राणा, नरेश बन्सल, मधु चौहान आदि उपस्थित रहे। 

शहीद भगत सिंह को दी श्रद्धांजलि

देहरादून। प्रदेश कांग्रेस कमेटी कार्यालय में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह के नेतृत्व में अमर शहीद भगत सिंह की जयंती के अवसर पर आयोजित श्रद्धांजलि कार्यक्रम में कांग्रेसजनों ने उनका श्रद्धापूर्वक स्मरण करते हुए शहीद भगत सिंह के चित्र पर माल्यार्पण कर उन्हें अपने श्रद्धा सुमन अर्पित किये। 
इस अवसर पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने महान क्रान्तिकारी अमर शहीद भगत सिंह को प्रेरणा स्रोत बताते हुए कहा कि उन्होंने देश की आजादी के लिए अपना सर्वोच्च बलिदान देकर देशवासियों के आजादी के सपने को साकार किया। अमर शहीद भगत सिंह के देश के प्रति समर्पण ने राष्ट्र के जनमानस को गहराई तक प्रभावित किया।
 
ऐसे महान नायकों की रहनुमाई में देश ने न केवल आजादी की लड़ाई लड़ी अपितु देश के नौजवानों को स्वतंत्रता आन्दोलन में बढ़चढ़ कर भाग लेने के लिए प्रेरित कर देने जैसे कार्यों केा अंजाम देने में सफलता पाई। हम सब को मिलकर उनके बताये हुए रास्ते पर चल कर एक शक्तिशाली भारत एवं समाज के निर्माण के उनके सपने को साकार करने के लिए अपनी सहभागिता निभानी है यही उन्हें हमारी सच्ची श्रद्धांजलि होगी। इस अवसर पर प्रदेश उपाध्यक्ष जोत सिंह बिष्ट, मुख्य कार्यक्रम समन्वयक राजेन्द्र शाह, महामंत्री नवीन जोशी, राजेन्द्र सिंह भण्डारी, पूर्व महानगर अध्यक्ष लालचन्द शर्मा, पूर्व मंत्री अजय ंिसह, राजपाल बिष्ट, प्रदेश सचिव संजय किशोर, गिरीश पुनेड़ा, भरत शर्मा, नवीन पयाल, दीप बोहरा, राजेश पाण्डेय, प्रवक्ता डा. आर.पी. रतूड़ी, गरिमा दसौनी, अशोक वर्मा, कै. बलवीर रावत, प्रदीप भट्ट, सुनित राठौर, कमलेश रमन पुष्पा पंवार, महेश जोशी, दीवान सिंह तोमर, उपेन्द्र थापली, सूरज थापा, राजेश चमोली, शम्मी प्रकाश, पंकज मेसोन, नेमीचन्द, कुंवर सिंह यादव, अनुराधा तिवारी, चन्द्रकला नेगी आदि अनेक कंाग्रेसजन उपस्थित थे। 
 

सडक़ हादसे में स्कूटी सवार छात्रा की मौत

देहरादून। बस की टक्कर से स्कूटी में सवार एक छात्रा की मौत हो गई। वह ग्राफिक एरा विश्वविद्यालय में बीबीए प्रथम वर्ष की छात्रा थी। हादसा नेहरू कालोनी थाना क्षेत्र के अंतर्गत मोहकमपुर के पास हुआ। गढ़वाली कलोनी नेहरुग्राम निवासी सुमन सिंह पुत्री गाजे सिंह सहेली के साथ स्कूटी से कलेज की तरफ जा रही थी। स्कूटी उसकी सहेली चला रही थी और वह पीछे बैठी थी।
 
बस की टक्कर से वह स्कूटी से गिर गई और वह बुरी तरह घायल हो गई। उसे सीएमआइ अस्पताल लाया गया। जहां से दून अस्पताल भेज दिया। जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। 
 

पूर्व मंत्री माखनलाल फोतेदार के निधन पर दुख व्यक्त किया

देहरादून। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिह ने वरिष्ठ कांग्रेस नेता एवं पूर्व केन्द्रीय मंत्री माखनलाल फोतेदार के आकस्मिक निधन पर शोक प्रकट किया है। प्रदेश अध्यक्ष  प्रीतम सिह ने अपने शोक संदेश में कहा कि स्व फोतेदार कांग्रेस पार्टी के एक वरिष्ठ नेता थे जिनका निधन उनके परिवार की ही नहीं अपितु कंाग्रेस परिवार की भी अपूर्णीय क्षति है तथा इनकी रिक्ति सदैव कांग्रेस परिवार को महसूस होती रहेगी। 

 
प्रीतम सिंह ने शोक संतन्त परिवार के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि पूरा कांग्रेस परिवार इस दु:ख की घडी में उनके साथ है, हम सभी कांग्रेसजनों की प्रार्थना है कि ईश्वर उनकी आत्मा को शांन्ति प्रदान करें तथा शोक संतन्त परिजनों को इस असहनीय दु:ख को सहन करने की शक्ति देवें। पूर्व केन्द्रीय मंत्री फोतेदार के निधन पर प्रदेश कांग्रेस कमेटी कार्यालय में प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिह की अध्यक्षता में कांग्रेसजनों ने एक शोक सभा का भी आयोजन किया। शोकसभा में कांग्रेसजनों ने स्व माखनलाल फोतेदार को  श्रद्घांजलि अर्पित करते हुए उनके निधन पर शोक प्रकट करते हुए शोक संतन्त परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की।
 
शोक प्रकट करने वालों में प्रदेश उपाध्यक्ष जोत सिंह बिष्ट, मुख्य कार्यक्रम समन्वयक राजेन्द्र शाह, महामंत्री राजेन्द्र सिंह भण्डा, नवीन जोशी, पूर्व हानगर अध्यक्ष लालचन्द शर्मा, पूर्व मंत्री अजय सिह, राजेश शर्मा, प्रदेश सचिव गिश पुनेड़ा, भरत शर्मा, प्रवक्ता डॉ आर$पी$ रतूड़ी, गरिमा दसौनी, अमरजीत सिंह, सुनित सिह राठौर, टीका राम पाण्डे, शोभा राम, कुंवर सिंह यादव, आदि प्रमुख थे।  
 

हाईकोर्ट के सीटिंग जज की देखरेख में हो सीबीआई जांच: प्रीतम

देहरादून। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष व विधायक प्रीतम सिंह ने केन्द्र एवं राज्य की भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि एनएच 74 भूमि घोटाले में आखिर किन लोगों को बचाने का काम किया जा रहा है, इसका दोनों ही सरकारों को खुलासा करना होगा, कि आखिर वह कौन लोग है। उनका कहना है कि कांग्रेस अब इस मामले पर जनांदोलन शुरू करेगी। उनका आरोप है कि केन्द्र व राज्य सरकार इस मामले पर अभी तक क्यों चुप्पी साधे हुए है।
 
यहां कांग्रेस भवन में पत्रकारों से बातचीत करते हुए प्रीतम सिंह ने कहा कि एनएच 74 भूमि घोटाले की जांच करने वाले तत्कालीन आयुक्त डी सैथिंल पांडियन ने करोड़़ों रूपये का घोटाला खोला और उसके बाद सरकार ने पाडिंयन का स्थानांतरण कर दिया और कहा जा रहा है कि यह घोटाला कांग्रेस की सरकार के समय का है, यदि यह घोटाला कांग्रेस की सरकार के समय का है तो कांग्रेस तो शुरू से ही इस घोटाले की सीबीआई से जांच कराये जाने की मांग कर रही है लेकिन सरकार इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रही है और विधानसभा सत्र के दौरान नेता सदन व मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने इस घोटाले की सीबीआई से जांच कराये जाने का आश्वासन दिया लेकिन आज तक किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं की गई है।
 
उनका कहना है कि मुख्यमंत्री का सीबीआई से जांच कराये जाने का आश्वासन दिया गया लेकिन केन्द्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने राज्य सरकार को एक पत्र लिखा कि इस प्रकार की जांच से अधिकारियों का मनोबल गिरता है और उनके कार्य में प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है तथा कामकाज में बाधायें भी आती है। उनका कहना है कि आज इस घोटाले का जिस अधिकारी ने पर्दाफाश किया है उन्हें व उनके परिवार को जान से मारने की धमकी दी जा रही है और सरकार को तत्काल उनकी व परिवार की सुरक्षा करनी चाहिए और एनएच 74 भूमि घोटाले एवं अधिकारी को जान से मारने की धमकी देने की सीबीआई से हाईकोर्ट के सीटिंग जज की देखरेख में जांच कराई जाये, क्योंकि आज केन्द्र सरकार सीबीआई, आईटी एवं आईडी का जिस प्रकार से प्रयोग कर रही है इससे सीबीआई की निष्पक्षता पर भी सवाल उठ रहे है इसलिए हाईकोर्ट के सीटिंग जज की देखरेख में इन दोनों मामलों की सीबीआई जांच करें।
 
उनका कहना है कि आईएएस अधिकारी को जान से मारने की धमकी से कानून व्यवस्था पर भी प्रश्नचिन्ह लगता है और आज कानून व्यवस्था तार तार हो चुकी है। उनका कहना है कि आज केन्द्र सरकार को उनकी ही पार्टी के वरिष्ठ नेता घेर रहे है। उनका कहना है कि पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा ने जिस प्रकार से नोटबंदी व जीएसटी से देश की अर्थव्यवस्था प्रभावित होने की बात कही है, प्रधानमंत्री को इस पर आत्ममंथन करना होगा क्योंकि आज उन्ही की पार्टी के वरिष्ठ नेता केन्द्र सरकार की कार्य प्रणाली पर प्रश्न चिन्ह लगा रहे है। उनका कहना है कि अब केन्द्र सरकार की कार्य प्रणाली पर अंगुली उठनी शुरू हो गई है। इस अवसर पर वार्ता में प्रवक्ता गरिमा दसौनी, लालचन्द शर्मा, डा. आर पी रतूडी, राजेन्द्र शाह, राजेन्द्र भंडारी, अजय सिंह आदि मौजूद थे।

शासनादेश की विसंगतियां दूर न हुई तो होगी हड़ताल

देहरादून। उत्तखंड ऊर्जा कामगार संगठन ने ने ऊर्जा विभाग के नियंत्रणाधीन तीनों निगमों के लिए सातवें वेतन आयोग की संस्तुति के अनुरूप पुनरीक्षित वेतनमान एवं भत्तों की स्वीकृति प्रदान किये जाने वाले शासनादेश में अंकित विभिन्न विसंगतियों के समाधान के लिए गेट मीटिंग करते हुए प्रदर्शन किया और कहा कि जल्द ही इसमें सुधार नहीं किया गया तो हड़ताल आरंभ कर दी जायेगी।

 
यहां संगठन के बैनर तले कार्मिक शासनादेश में अंकित विसंगतियों को दूर करने के लिए इकटठा हुए और वहां पर उन्होंने गेट मीटिंग करते हुए प्रदर्शन किया। इस अवसर पर संगठन के अध्यक्ष दीपक बेनीवाल ने बताया कि ऊर्जा विभाग के नियंत्रणाधीन तीनों निगमों के लिए सातवें वेतन आयोग की संस्तुति के अनुरूप पुनरीक्षित वेतनमान एवं भत्तों की स्वीकृति प्रदान किये जाने वाले शासनादेश में अंकित विभिन्न विसंगतियों के समाधान शीघ्र नहीं किया गया तो दीपावली पर हड़ताल कर दी जायेगी।
 
उनका कहना है कि इसमें कई प्रकार की खामियां है और एसीपी की व्यवस्था 10, 20, 30 वर्ष को लागू किया गया है जबकि 9, 14, 19 निर्धारित की गई थी। ग्रेड पे शासन स्तर पर नहीं निगम स्तर पर था, जो 3000, 2600 व 2200 है। उनका कहना है कि प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री घर घर तक बिजली पहुंचाने की बात कर रहे है लेकिन भर्तियां न करने का जिक्र शासनादेश में किया गया है तो ऐसे में घर घर बिजली किस प्रकार से पहुंचेगी यह समझ से परे है। उनका कहना है कि भर्ती प्रक्रिया को शुरू किया जाना चाहिए। उनका कहना है कि शीघ्र ही समाधान न होने पर हड़ताल आरंभ कर दी जायेगी। इस अवसर पर अनेक कर्मचारी मोजूद थे।

ग्राम प्रधानों ने किया सरकार के खिलाफ प्रदर्शन

देहरादून। प्रदेश प्रधान संगठन ने अपनी समस्याओं के समाधान के लिए प्रदेश सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए धरना दिया और कहा कि शीघ्र ही उनकी मांगों पर कार्यवाही नहीं की गई तो सडक़ों पर उतरकर जनांदोलन किया जायेगा। उनका कहना है कि एक अक्टूबर से आमरण अनशन शुरू किया जायेगा।

यहां परेड ग्राउंड स्थित धरना स्थल में संगठन के प्रदेश अध्यक्ष गिरवीर परमार के नेतृत्व में इकटठा हुए और वहां पर उन्होंने अपनी मांगों के समाधान के लिए प्रदर्शन कर धरना दिया। वक्ताओं ने कहा कि लगातार आंदोलन किया जा रहा है लेकिन सरकार की ओर से किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं की गई है। उनका कहना है कि प्रदेश के पंचायतीराज मंत्री अरविन्द पांडे ने 30 सितम्बर तक का समय दिया है लेकिन इस बीच मांगों का निस्तारण नहीं हो पाया तो आंदोलन को तेज किया जायेगा।
 
उनका कहना है कि समस्याओं के समाधान के लिए धरना प्रदर्शन जारी रखा जायेगा। उनका कहना है कि 14वें वित्त की धनराशि में की गई कटौती को तत्काल प्रभाव से वापस लिया जाना चाहिए और उत्तराखंड में पंचायतीराज एक्ट 2016 को तत्काल प्रभाव से लागू किया जाये और 73वें एवं 74वें संविधान संशोधन के तहत 29 विभाग पंचायतों के अंतर्गत करने की पुरानी व्यवस्था को यथावत रखा जाये। उनका कहना है कि लगातार सरकार जन विरोधी निर्णय ले रही है, जिसका पुरजोर विरोध किया जायेगा।
 
उनका कहना है कि ग्राम प्रधानों को सम्मानजनक मानदेय दिया जाना चािहए ओर नगर पालिकाओं व नगर निगमों में पंचायतों को शामिल करने का पुरजोर तरीके से विरोध किया जायेगा और और पूरे प्रदेश भर में ग्राम पंचायत, नगर निगमों में सौंपें जाने के निर्णय के खिलाफ भी जनांदोलन किया जायेगा। उनका कहना है कि प्रदेश की सरकार लगातार जन विरोधी निर्णय ले रही है जिसके खिलाफ प्रदेश भर में आंदोलन किये जा रहे है और जोशीमठ प्रधान संगठन जोशीमठ की चार पंचायत भेरग, बडा गांव, सेलंग, पैनी गांव को नगर पालिका जोशीमठ में शामिल करने का व्यापक स्तर पर विरोध कर रहा है । उनका कहना है कि प्रदेश भर में सरकार के निर्णय का विरोध हो रहा है और जब तक सरकार अपने निर्णयों को वापस नहीं लेती है तब तक प्रदेश भर में आंदोलन चलते रहेंगें। इस अवसर पर अनेक ग्राम प्रधान मौजूद थे।
 

सरकारी स्कूल के बच्चों को स्टेशनरी बांटी

देहरादून। प्रतिष्ठा फाउंडेशन ने अपने प्रोजेक्ट ‘शेयरिंग ऑफ़ स्माइल’ के तहत सुभाष नगर के प्राथमिक विद्यालय में बच्चों को स्टेशनरी आइटम डिस्ट्रीब्यूट किये। सबसे पहले स्कूल में बच्चों के बीच में अलग-अलग प्रतियोगिताए जैसे क्विज प्रतियोगिता, गायन प्रतियोगिता और क्राफ्ट प्रतियोगिता आयोजित की गयी!  इन सभी प्रतियोगिताओं में प्रतिभाग करने वाले सभी बच्चों को पुरस्कार के रूप स्टेशनरी दी गयी! प्रतिष्ठा फाउंडेशन के सदस्य अमन भट्ट ने बताया की इन बच्चों में जिम्मेदारी का भाव आये इसके लिए हम अलग-अलग स्कूलों में ऐसे आयोजन करते रहते है!
 
अंत में संस्था के अध्यक्ष दीपक कोठियाल ने बताया की हम ये स्टेशनरी अलग-अलग संस्थानों, कोचिंग सेंटर और आस-पास के लोगो से एकत्र करते है, हमारा प्रयास ये है की स्टेशनरी की कमी से कोई बच्चा शिक्षा से वंचित ना रह पाये। इस अवसर पर अध्यक्ष दीपक कोठियाल, उपाध्यक्ष प्रांजल शर्मा, सचिव दीप प्रकाश पंत, कोषाध्यक्ष चन्द्रशेखर, सहित विवेक राणा, यशवंत भट्ट, अमन भट्ट, वैशाली गुरुंग, श्वेता सिंह, कृतिका गुप्ता, सत्यम परमार, रजनीकांत घिल्डियाल, और महेश पाण्डेय आदि उपस्थित रहे।

राजपुर रोड पर बनाये जा रहे फुटपाथ पर फूड कोर्ट बनाना मूर्खता: धस्माना

देहरादून। देहरादून की सबसे व्यस्त रहने वाली राजपुर रोड के दोनों ओर मसूरी डाइवर्जन से लेकर आर.टी.ओ. तक बनाई जा रही फुटपाथ पर बेतरतीब पैसा खर्च किया जा रहा है, व इस फुटपाथ पर प्रस्तावित फूड कोर्ट या खाने पीने के रेस्टोरेन्ट विनाशकारी साबित होंगे। यह बात उत्तराखण्ड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के वरिष्ठ उपाध्यक्ष सूर्यकान्त धस्माना ने आज जारी एक बयान में कही। उन्होंने कहा कि ए.डी.बी. द्वारा राजपुर रोड के दोनों ओर टाइल्स, जयपुरी पत्थर व ग्रेनाइट लगाकर पानी रिचार्ज की गुजाइश ही खत्म कर दी गई है, सडक़ से दीवार तक पूरी फुटपाथ को कंक्रीट का बना कर बरसाती पानी, जो कच्ची जमीन सोख लेती थी, अब फुटपाथ पर नाले की तरह बह जायेगा और वॉटर रिचार्जिंग समाप्त हो जायेगी।

श्री धस्माना ने कहा कि इन फुटपाथों पर जब फूड कोर्ट खुलेंगे तो लोग सडक़ पर गाडिय़ां पार्क करके फूड कोर्ट में खाना पीना करेंगे और सडक़ पर जाम लगेगा। धस्माना ने कहा कि राजपुर रोड के दोनों ओर बसी कॉलोनियों के लोगों ने इस प्रकार के फूड कोर्ट का विरोध किया है व कुछ लोग तो हस्ताक्षर अभियान चलाकर श्रीमान राज्यपाल को सौंपने की तैयारी कर रहे हैं। धस्माना ने कहा कि मुख्यमंत्री लोक निर्माण मंत्री भी हैं, उनको इस मामले में हस्तक्षेप करना चाहिए व किसी भी हाल में फुटपाथ पर दुकानें, फूड कोर्ट व खोखे लगाने की अनुमति नहीं होनी चहिए।

गंगा बंदी से खुली सफाई की पोल

हरिद्वार। गंगा की अविरलता और निर्मलता को लेकर भले ही कईं योजनाएं चल रही हों। लेकिन गंगा की स्थिति जस की तस बनी हुई है। इन दिनों गंगा को वार्षिक बंदी के चलते घाटों की मरम्मत कार्यों के लिए बंद किया गया है। जिसके बाद सामने आए गंदगी के ढेर तमाम दावों की पोल खोल रहे हैं। हरिद्वार के मायापुर रेगुलेटर बैराज में इन दिनों गंगा बंदी के बाद गंदगी के ढेर सामने आ रहे हैं।

गंगा के नाम पर करोड़ो रुपये खर्च किए जाने के बाद भी गंगा की स्थिति में कोई सुधार नहीं हो पाया है। घाटों पर पहुंचने वाले श्रद्धालु और तीर्थ पुरोहितों ने भी गंगा की इस हालत को देखकर चिंता जताई है।  गंगा के बन्द होने पर जगह-जगह घाटों के किनारे फैली प्रशासन के दावों की पोल रही है। हालांकि यूपी सिंचाई विभाग इस दौरान गंगा में साफ-सफाई किए जाने के दावे कर रहा है। लेकिन ज़मीनी स्तर पर सभी दावे खोखले साबित हो रहे हैं।

 

हरीश रावत ने त्रिवेंद्र सरकार के इस कदम को बताया आत्मघाती

देहरादून। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत को एक पत्र लिखकर सरकार के हजारों रिक्त पदों को फ्रीज करने व नियुक्तियों पर रोक लगाने के निर्णय को युवाओं के लिए आत्मघाती बताया है और इस कदम को वापस लेने की अपील की है। पूर्व सीएम हरीश रावत का कहना है कि डबल-ट्रिपल इंजन के होते हुये भी बेरोजगारों को नियुक्तियों से वंचित करना राज्य के युवाओं के साथ अन्याय है। विभिन्न विभागों में हजारों पद रिक्त चल रहे हैं व लोक सेवा आयोग, अधिनस्त सेवा चयन आयोग जहां अभियाचन की कार्यवाही को आगे बढ़ा रहे हों व कई विभाग अपने स्तर पर भी नियुक्तियों को करने की प्रकिया में लगे हों, ऐसे में अचानक पदों को रिक्त करना एक आत्मघाती कदम होगा।

उनका कहना है कि इस तरह के फैसलों पर तुरंत रोक लगाई जानी चाहिये। उन्होंने मुख्यमंत्री के मंत्रिमंडल के सदस्यों से भी इस संबन्ध में सरकार का मार्गदर्शन की पहल करने को कहा है। गौर हो कि हरीश रावत समय-समय पर सोशल मीडिया के जरिये बीजेपी की राज्य और केंद्र सरकार पर निशाना साधते रहते हैं। इससे पहले अमित शाह के देहरादून दौरा और उनके द्वारा कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी की तीन पीढिय़ों का हिसाब मांगने पर भी रावत ने जबरदस्त जवाब दिया था। वहीं बीएचयू में छात्राओं के साथ हुए बर्ताव पर भी मोदी सरकार की बेटी बचाओ मुहिम पर तंज कसा था।

 

एडीजी अशोक कुमार आज से कुमाऊं दौरे पर

देहरादून। उत्तराखंड के अपर पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार (कानून व्यवस्था) 29 सितंबर से एक अक्टूबर तक कुमाऊं दौरे पर रहेंगे। शुक्रवार को एक बजे रुद्रपुर पहुचेंगे। जहां तीन बजे नगर निगम सभागार में जनता से रूबरू होंगे और उनकी समस्याओं को सुनेंगे। करीब चार बजे से एसएसपी आफिस में जनपद के पुलिस अधिकारियों के साथ कानून व्यवस्था की समीक्षा बैठक लेंगे। पांच बजे पुलिस सम्मेलन में पुलिस कर्मियों की समस्याओं को सुनेंगे। रात्रि विश्राम पीएसी गेस्ट हाउस में करने के बाद 30 सितंबर को सुबह 10रू30 बजे 31वीं पीएसी में 31वीं और 46 वी वाहिनी के पुलिस कर्मियों के सम्मेलन में हिस्सा लेंगे।

 

हल्द्वानी में एक बजे से दो बजे तक आम जनता से रूबरू होंगे।  इसके बाद  पुलिस अधिकारियो की समीक्षा बैठक लेंगे। उसके बाद अपर पुलिस महानिदेशक नैनीताल जाएंगे और डीआईजी  कार्यालय में प्रेस वार्ता करेंगे। रात्रि विश्राम करने के बाद एक अक्टूबर की सुबह काशीपुर को आठ बजे रवाना होंगे। जहां 10 बजे आम जनता से मुलाकात करेंगे और देहरादून को रवाना होंगे। अपर पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार का कहना है कि उनके दौरे का मकसद आम जनता और पुलिस के बीच सामंजस्यता स्थापित करना है ताकि पुलिस और आम जनता की दूरी कम हो।

राज्य योजना आयोग की नियमावली पर कैबिनेट की मोहर

देहरादून। कैबिनेट की बैठक में 28 मुद्दों में से 25 पर सहमति बन गई। राज्यपाल सचिवालय में नियमावली में संशोधन होगा। बिना कब्जे की भूमि खरीदने पर कैबिनेट ने फैसला लिया है कि सम्पति का दो प्रतिशत राज्य सरकार को अनुबंध के तौर पर देना होगा। राज्य योजना आयोग की नियमावली को कैबिनेट ने मंजूरी प्रदान की है।
 
कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक ने ब्रीफिंग करते हुए बताया कि 2378 ग्राम पंचायतों के लेखा परीक्षक के कर्मचारियों को ऑडिट के लिए संविदा पर रखा जायेगा। सचिवालय में निजी सचिवों के नियमावली पर कैबिनेट की मुहर लगा दी है। राज्य में इमारती लकड़ी पर 50 रुपये प्रति टन टैक्स लगाया गया है। पहले टैक्स 15 रुपये था। राज्य कर्मचारियों क50 फीसदी एरियर शीघ्र भुगतान करने का निर्णय लिया गया है। चाइल्ड एडॉप्शन पर भी 180 दिन की लीव का प्रावधान किया गया है। बैठक में राज्य कर्मचारियों को महंगाई भत्ते एक फीसदी का इजाफा किया गया है।
 
नगर पंचायत नंदप्रयाग के सीमा विस्तार को मंजूरी दी गई। इसके अलावा नगर पालिका ऋषिकेश का सीमा विस्तार करते हुए  संपूर्ण ग्रामीण इलाके को निहित किया गया है। जोलीग्रांट कैंप  के लिए फारेस्ट मानकों में शिथिलीकरण किया गया है।  हरिद्वार, देहरादून, नैनीताल, उधमसिंह नगर में जिला विकास प्राधिकरण बनेंगे।  कमर्शियल गतिविधियों में करेंगे मानीटरिंग।  परिवहन निगम के 4 हजार कर्मचारियों को एवं सिडकुल के कर्मचारियों को सातवें वेतनमान लाभ दिया जाएगा। पंचायतों के प्रतिनिधियों को मिलेगा आर्थिक लाभ। ग्रामीण इलाकों में सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट पॉलिसी लागू की जाएगी।
 

नशे के खिलाफ अभियान चलाएगा समिति

देहरादून। मानवाधिकार संरक्षण एंव भ्रष्टाचार निवारक समिति ने पिछले 5 सालों से प्रदेश के सभी जनपदों में नशाखोरी के खिलाफ जागरूकता अभियान चला रही है। इसके तहत समिति ने अब तक लगभग 1500 से अधिक शिक्षण संस्थाओं में कार्यशालायें आयोजित की गई। जिसमें लगभग 5 लाख से अधिक विद्ययाथियों को इस मुहिम में जोड़ा गया है। जिसका मुख्य उद्देश्य युवा पीढ़ी को नशे के आंतक के प्रति सचेत करना तथा विभिन्न सरकारी रोजगार परक योजनाओं और सूचनाओं को अपने स्तर से आदान प्रदान करना है।
 
जिससे युवा पीढ़ी समय रहते अपने भविष्य को सवार सके। प्रेस क्लब में पत्रकारों से मुखातिब होते हुए समिति के अध्यक्ष ललित मोहन जोशी ने बताया कि 2 अक्तूबर से 24 दिसम्बर तक सभी जनपदों के 250 स्कूलों नशाखोरी के खिलाफ एंव पर्यावरण सरंक्षण तथा हिमालय बचाओं के लिए जागरूकता अभियान चलेगा। इस दौरान अपना परिवार के राष्टीय अध्यक्ष पुरषोत्तम भटट , संजय श्रीवास्तव, छात्र संघ अध्यक्ष शुभम सिमल्टी, आकाश गौड, राकेश नेगी, नवीन नेगी, विकास नेगीएंव राकेश काला समेत मुकुल शर्मा भी मौजूद रहे। 

आयोग बनाने से पलायन नहीं रूका करते : नेगी

 देहरादून। जनसंघर्ष मोर्चा अध्यक्ष एवं जीएमवीएन के पूर्व उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी ने सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि टीएसआर सरकार मानसिक रूप से दिवालिया हो गयी है जिसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि सरकार को यही मालूम नहीं कि पलायन कैसे रूकेगा तथा प्रदेश से क्यों पलायन हो रहा है। नेगी ने कहा कि सरकार अगर अनुभवी होती तो निश्चित तौर पर आयोग बनाकर ये नादानी नहीं करती। सरकार को मालूम होना चाहिए कि पृथक राज्य की बुनियाद ही युवाओं के रोजगार को लेकर हुई थी इसको धरातल पर उतारने हेतु सरकार को नये-नये पद सृजित करने चाहिए थे, जिससे और अधिक बेरोजगारों को रोजगार मिलता, लेकिन सरकार पद समान्त करने पर तुली है।

भाजपा के राज में युवा रू0 5000/- की नौकरी के लिए अन्य प्रदेश में ठोकरे खाने को मजबूर है। नेगी ने कहा कि सरकार को 6 महीना हो गये हैं लेकिन पहाड़ों में लघु उद्योगों के बारे में सरकार के पस कोई रोड-मेप नहीं है। सरकार को चिकित्सा, शिक्षा तथा पर्यटन के क्षेत्र में आमूल चूल परिवर्तन करना होगा तभी प्रदेश के बेरोजगारों एवं वहॉं के निवासियों का पलायन रूकेगा। नेगी ने व्यंग्य करते हुए कहा कि सरकार ने आयोग बनाकर आयोग वालों का पलायन तो रोक ही दिया।

 

मंदिरों व घरों में अष्टमी पर कन्याओं की पूजा

देहरादू। शारदीय नवरात्र में गुरूवार को अष्टमी पर महागौरी की पूजा व अर्चना की गई, घर-घर बिठाई कन्याओं को बिठा कर उनकी पूजा अर्चना की गई।  नवरात्र का आठवां दिन होने के चलते  दून के मंदिरों में श्रद्घालुओं की भीड़ उमड़ी रही। मां महागौरी की पूजा के लिए भक्तों ने पूजा अर्चना की तो साथ ही घर-घर कन्याएं बिठाई गईं।   अष्टमी पर श्रद्घालुओं ने मां के आठवें स्वरूप महागौरी की पूजा अर्चना कर सुख समृद्घि की कामना की। साथ ही घर-घर कन्याओं का पूजन कर उपहार व दक्षिणा भेंट की गई।
 
नवरात्र का आठवां दिन होने के चलते  सुबह से ही मंदिरों में मां के दर्शनों के लिए श्रद्घालुओं का तांता लगा रहा। अष्टमी के चलते घर-घर कन्याओं का भी पूजन किया गया। घर में कन्याओं का अभिनंदन कर पूजा-अर्चना की गई। कन्याओं का तिलक कर भोजन ग्रहण करवाने के बाद चुनरी व वस्त्र भेंट किए गए। श्रद्घालुओं ने अपनी-अपनी सामर्थ्य के अनुसार कन्याओं को दक्षिणा दी। कन्या बिठाने के बाद घट विसर्जन हुआ।  कुछ लोग नवमी के दिन यह काम करते हैं। पर, अधिकांश इसे अष्टमी को ही करते हैं। नवरात्र में कलश में रखे गए जल से घर के चारों ओर छिडक़ाव किया गया और मां भगवती से घर-परिवार की सुख-समृद्घि की कामना की गई। कई मंदिरों और आश्रमों में भी चल रहे अनुष्ठानों की पूर्णाहुति हुई। शुक्रवार को नवमी के साथ ही शारदीय नवरात्रों का विधिवत समापन होगा। दशमी यानि 30 सितंबर के दिन दशहरा है। इस बुराई के प्रतीक रावण का दहन होगा।
 

आंतरिक गुणों को परिमार्जित करने का महापर्व नवरात्र : पण्ड्या

हरिद्वार। देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति डॉ$ चिन्मय पण्ड्या ने कहा कि नवरात्र साधना साधक के आंतरिक गुणों को परिमार्जित करने का महापर्व है। इन दिनों मनोयोगपूर्वक की गयी साधना से साधक के पूर्व जन्मों के दोषों का नाश होता है, तो वहीं उसका भविष्य का मार्ग भी सुगम होता है। डॉ$ चिन्मय पण्ड्या नवरात्र साधना के सातवें दिन गायत्री तीर्थ शांतिकुंज के मुख्य सभागार में आयोजित सत्संग में उपस्थित साधकों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रत्येक जीव कर्म के बंधन से बँधे हैं। उन्हें इनसे मुक्ति के लिए उच्च स्तरीय जप, तप की आवश्यकता होती है। ऋषि-मुनियों ने भी जप, तप के माध्यम से स्वयं के साथ-साथ अपने शिष्यों का मार्गदर्शन करते हुए उनके अंदर के गुणों को परिमार्जित किया है। साथ ही उनके अंदर पीडि़तों की नि:स्वार्थ सेवा के लिए भाव पैदा किये हैं। इसी तरह गायत्री परिवार के संस्थापक युगऋषि पं$ श्रीराम शर्मा आचार्य  ने साधना के माध्यम से लाखों-करोड़ों के जीवन में गुणात्मक परिवर्तन के साथ राष्ट्र धर्म निबाहने के लिए प्रेरित किया है।
 
डॉ$ चिन्मय ने कायिक, वाचिक, मानसिक, कर्षण, अयाचित, गव्यकल्प आदि बारह प्रकार के तप की व्याख्या करते हुए कहा कि इन तप, साधना के माध्यम से पूर्व जन्म में किये पापों का क्षय होता है तथा वर्तमान से लेकर भविष्य का मार्ग सुगम होता है। जप, तप के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा करते हुए कहा कि जाग्रत तीर्थ परिसर व सद्गुरु के सान्निध्य में की गयी साधना पुण्यदायी होती है। इससे पूर्व डॉ$ ओ$पी$शर्मा,  कालीचरण शर्मा, डॉ$ गायत्री शर्मा,  श्याम बिहारी दुबे,  नमोनारायण पाण्डेय आदि वरिष्ठजनों ने विभिन्न विषयों पर साधकों का मार्गदर्शन किया। इस अवसर पर संस्कार प्रकोष्ठ के प्रभारी पं$ शिवप्रसाद मिश्र, जोनल समन्वयक गंगाधर चौधरी सहित अंतेवासी कार्यकता एवं साधक   उपस्थित रहे।

गुलदार की खाल के साथ तस्कर गिरफ्तार

 पिथौरागढ़। वन्यजीव अंगों व मादक पदार्थों की तस्करी रोकने के लिए चलाए जा रहे अभियान में पुलिस की एसओजी टीम को बड़ी सफलता हाथ लगी है। एसओजी ने गुलदार की तीन खालों के साथ एक वन्य जीव तस्कर को गिरफ्तार किया है। एसओजी टीम को पिथौरागढ़ के वड्डा क्षेत्र में वन्य जीवों के अंगों की ऊंचे दामों पर तस्करी की मुखबिर से सूचना मिली थी। इस सूचना पर एसओजी सक्रिय हुई। गुरुवार की सुबह एसओजी टीम ने वड्डा के निकट हुड़कना में त्रिलोक सिंह बिष्ट पुत्र प्रताप सिंह बिष्ट निवासी ग्राम जायल पोस्ट पंथ्यूड़ी तहसील व जिला पिथौरागढ़ को रोका। उसके सामान की तलाशी ली तो उसके पास से तेंदुए की तीन खाल बरामद हुई।
इसमें दो खालें आठ फीट और एक खाल सात फीट की है। बरामद खालों की अंतरराष्ट्रीय बाजार में कीमत 15 लाख रुपये बताई जा रही है। अभियुक्त के खिलाफ थाना जाजरदेवल में अभियोग पंजीकृत किया गया। पुलिस व वन विभाग ने आशंका जताई है कि गुलदारों का शिकार आसपास के क्षेत्र में ही किया गया। मामले की जांच की जा रही है।

भाजपा नेता ने सीपीयू दारोगा से की मारपीट

 रुड़की। दिल्ली-देहरादून राजमार्ग ईदगाह चौक के समीप युवा भाजपा नेता ने अपने साथियों के साथ मिलकर जमकर हंगामा काटा। उन्होंने सीपीयू के दारोगा के साथ हाथापाई भी की। जिसके कारण हाइवे पर आधा घंटे तक जाम लगा रहा। पुलिस ने भाजपा नेता को गिरफ्तार कर लिया है। यह बवाल सीपीयू के भाजपा नेता के पिता का चालान करने के चलते हुआ। आजाद नगर चौक पर सीपीयू दारोगा धर्मवीर सिंह वाहनों की चेङ्क्षकग कर रहे थे। इसी बीच बीएसएम तिराहे की ओर से एक व्यक्ति कार से आ रहा था। कार सवार मोबाइल पर बात कर रहा था। इस पर सीपीयू टीम ने कार का पीछा शुरू कर दिया।

साथ ही उसकी वीडियो भी बनानी शुरू कर दी। ईदगाह चौक पर सीपीयू ने कार को रुकवा लिया। इसके बाद उन्होंने कार सवार का चालान काट दिया। इस बात को लेकर कार सवार और सीपीयू के बीच काफी नोकझोंक हुई। इसी बीच कार सवार ने अपने बेटे नितिन त्यागी को फोन कर दिया। भाजपा नेता अपने कई साथियों के साथ ईदगाह चौक पर पहुंच गया और यहां पर दारोगा से धक्का मुक्की कर दी। सीपीयू की ओर से गंगनहर कोतवाली पुलिस को इस बात की सूचना दी। तब तक भाजपा नेता के हंगामे की वजह से हाइवे पर जाम लग गया। पुलिस ने किसी तरह से हाईवे पर खड़ी भाजपा नेता के पिता की कार को साइड में करवाया और जाम लगा रहे भाजपाइयों को वहां से हटाया। बाद में दारोगा धर्मवीर ङ्क्षसह ने भाजपा नेता नितिन त्यागी और उसके पिता समेत कई अज्ञात के खिलाफ गंगनहर कोतवाली पुलिस को तहरीर दी। जिस पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है। पुलिस ने आरोपी नितिन त्यागी को गिरफ्तार कर लिया है। भाजपा नेता को छुड़वाने के लिए पूरा दिन भाजपा नेताओं की भीड़ लगी रही।

एलईडी स्ट्रीट लाइटों को लेकर पार्षदों को हंगामा

देहरादून। हाथीबडक़ला में हाल ही में लगी एलईडी स्ट्रीट लाइटों के बंद होने से भाजपा व कांग्रेस पार्षदों ने नगर निगम में हंगामा काटा। पार्षदों ने एलईडी लाइट लगाने वाली कंपनी पर भी सवाल खड़े किए। उन्होंने नगर आयुक्त रवनीत चीमा का घेराव करते हुए विकास कार्यों को अब शुरू न करने के लिए अधिकारियों को जिम्मेदार ठहाराया।

 
नगर निगम में नगर आयुक्त रवनीत चीमा का इंतजार कर रहे पार्षदों को सब्र टूट गया और वह नगर आयुक्त के कक्ष के समक्ष धरने पर बैठ गए। उन्होंने निगम के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। अधिकारियों पर विकास कार्य लटकाने का आरोप लगाया। इस बीच नगर आयुक्त निगम में पहुंची। फिर पार्षदों ने नगर आयुक्त को उनके कक्ष में घेर लिया। पार्षदों ने कहा कि विकास कार्यों की सूची सार्वजनिक करने के बाद आज तक टेंडर नहीं हो पाए हैं। इस दौरान पार्षद भूपेंद्र कठैत, विनय कोहली, नंदिनी शर्मा, सरोज पंवार, रमेश बुटोला, अशोक कोहली, रोशन बाला थापा, सोनू उनियाल, आनन्द त्यागी, सविता ओबराय, शारदा गुप्ता, निखिल कुमार आदि मौजूद रहे।

सीएम ने लगाई घोषणाओं की झड़ी

पौड़ी। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने बुधवार को रामलीला मैदान पौड़ी में जनता दर्शन कार्यक्रम में प्रतिभाग किया। उन्होंने घोषणा की कि पौड़ी में ग्रामीण विकास एवं पलायन आयोग का मुख्यालय बनाया जायेगा। 
इस मौके पर मुख्यमंत्री  त्रिवेंद्र ने डेढ दर्जन घोषणायें की। जिसमें पौड़ी ब्लाक के अन्तर्गत ग्वाड़स्यूं पट्टी के ल्वाली झील का निर्माण, नगर पालिका परिषद पौड़ी में कूड़ा निस्तारण हेतु धन आवंटन, जिला चिकित्सालय में सरकारी आवास का निर्माण तथा डिजिटल एक्स-रे मशीन की व्यवस्था करने, कल्जीखाल ब्लाक की नयार नदी पर बडख़ोली पुल का निर्माण करने की घोषणायें की। इसके साथ ही विधानसभा पौड़ी के अन्तर्गत एनएच 119 से ग्राम बरसूड़ी तक मोटर मार्ग का नव निर्माण (3 किमी) के कार्य, कोट ब्लाक के अन्तर्गत ग्राम उमरासू में क्षतिग्रस्त सिंचाई नहर का पूनर्निर्माण, पावर हाउस के समीप पार्किंग निर्माण, पर्यटन स्थल कंडोलिया का सौंदर्यीकरण, श्रीनगर-पौड़ी-घुड़दौड़ी तथा खिर्सू-लैंसडोन क्षेत्रों को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने की घोषण की। इसके साथ ही मुख्यमंत्री  त्रिवेंद्र ने घोषणा की कि पौड़ी में कौशल विकास केंद्र स्थापित किया जायेगा। पौड़ी ब्लाक में सत्यखाल-डांग मोटर मार्ग का पक्कीकरण एवं डामरीकरण का कार्य किया जायेगा। कोट ब्लाक के व्यासघाट से डांडा नागराज सिद्धपीठ तक तथा बगोलीधार-दोंदल हल्का वाहन मार्ग का मोटर मार्ग में परिवर्तन एवं डामरीकरण किया जायेगा। इसके अलावा जिला मुख्यालय के प्रेम नगर से खंडाह मोटर मार्ग का पक्कीकरण एवं डामरीकरण किया जायेगा। उन्होंने घुड़दौड़ी-बिलकेदार पंपिंग पेयजल योजना का निर्माण करने एवं कल्जीखाल ब्लाक में सिलेथ-क्यार्कसैंण मोटर मार्ग का पक्कीकरण एवं डामरीकरण (3 किमी) का कार्य किया जायेगा। जिला चिकित्सालय पौड़ी में शीघ्र आईसीयू की व्यवस्था की जायेगी। रामलीला मैदान में प्रकाश व्यवस्था करने के लिए मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारी को प्रपोजल बनाने के निर्देश दिये।
 
मुख्यमंत्री  त्रिवेंद्र ने रांसी स्टेडियम के विस्तारीकरण की बात कही। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड सैनिक बाहुुल प्रदेश है। उत्तराखंड के अर्द्ध सैनिक शहीदों के आश्रितों को सरकारी नौकरी दी जाएगी। इस अवसर पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने कुल 14 करोड़ 45 लाख 33 हजार रूपये की लागत की 09 विभिन्न योजनाओं का शिलान्यास किया। जिसमें 258.45 लाख रूपये की लागत से जयहरीखाल के अन्तर्गत खैरासैंण मोटर मार्ग के पक्कीकरण का कार्य, 130.63 लाख रूपये की लागत की श्रीनगर के मथीगांव पेयजल योजना एवं 135.97 लाख रूपये की नौगांव (चलूंणी) पेयजल योजना शामिल है। इसके अतिरिक्त 299.27 लाख रूपये की लागत के जनपद पौड़ी में जिला योजना (पूल्ड आवास) के अन्तर्गत श्रेणी चार के चार आवासों का निर्माण, यमकेश्वर विधानसभा क्षेत्रांतर्गत गरूड़ चट्टी-कांडी रोड से तोलसारी तक मोटर मार्ग का निर्माण जिसकी लागत 89 लाख रूपये है। पौड़ी नगर पालिका क्षेत्र में 125 लाख रूपये की लागत से कंडोलिया से क्यूंकालेश्वर तक मोटर मार्ग का सुधारीकरण एवं एसडीबीसी द्वारा नवीनीकरण शामिल हैं। रिखणीखाल ब्लाक में 86.83 लाख रूपये से निरीक्षण भवन का निर्माण, गुमखाल-द्वारीखाल-चैलूसैंण- मथगांव मोटर मार्ग का डामरीकरण जिसकी लागत 87.80 लाख रूपये एवं 232.38 लाख रूपये की लागत से बनने वाले रिखणीखाल ब्लाक के अन्तर्गत खालदरखास्ती मोटर मार्ग निर्माण कार्य शामिल हैं।
 
मुख्यमंत्री ने कहा कि बेरोजगारी एवं पलयान को रोकने के लिए सरकार प्रयासरत है। इसके लिए सभी 670 न्याय पंचायतों को ग्रोथ सेंटर के रूप में विकसित किया जाएगा। शुरूआती दौर में 50 न्याय पंचायतों से यह कार्य शुरू किया जायेगा। इससे पलायन रोकने के साथ ही महिलाओं को स्वरोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे। उन्होंने कहा कि सीमान्त क्षेत्रों के गांवों में अखरोट एवं चिलगोजे के चार लाख पेड़ लगाने की योजना है। इसके लिए दो टास्क फोर्स बनाये जायेंगे तथा नर्सरी बनने का कार्य प्रारंभ हो चुका है। पिरूल का उपयोग तारपीन का तेल बनाने के लिए किया जायेगा। इसके लिए अलग-अलग स्थानों पर पिरूल को एकत्रित करने के लिए सेंटर बनाये जायेंगे। स्थानीय लोगों से 5 रूपये प्रति किलोग्राम के हिसाब से पिरूल लिया जायेगा। जिससे स्थानीय लोगों को स्वरोजगार के अवसर बढ़ेंगे। मुख्यमंत्री  त्रिवेंद्र ने कहा कि प्रदेश में रोजगार के अवसर को बढ़ाने के लिए राज्य सरकार एनआईएफटी कोर्स, सीपीईटी तथा हॉस्पिटिलिटी की सुविधा शीघ्र प्रदान कराने के लिए प्रयासरत है। डिग्री कालेजों में दो  लाख तिहत्तर हजार बच्चों का नि:शुल्क बीमा किया जा रहा है। शिक्षा में गुणवत्त लाने के लिए एक साल में 180 दिनों की क्लास अनिवार्य की गई है। सभी महाविद्यालयों में प्राचार्य की नियुक्ति की गई है। शीघ्र ही डिग्री कालेजों में 877 असिस्टेंट प्रोफेसरों की भर्ती प्रक्रिया पूर्ण की जायेगी।
 
पुलिस व्यवस्था को और अधिक सुदृढ़ करने एवं भ्रष्टाचार को रोकने के लिए प्रतिवर्ष तीन करोड़ रूपये की व्यवस्था की  जा रही है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने जनता के बीच जाकर जन शिकायतों की सुनवाई की। इस मौके पर फरियादियों स्वास्थ्य, आर्थिक सहायता, मोटर मार्ग निर्माण, पेयजल, विद्युत, समाज कल्याण की विभिन्न पेंशनों, राशन कार्ड समेत 400 से अधिक शिकायतें प्राप्त हुई। अधिकतर शिकायतों का मुख्यमंत्री ने मौके पर ही निस्तारण किया। शेष शिकायतों को जिलाधिकारी एवं संबंधित विभागीय अधिकारियों को शीघ्र निस्तारण करने के निर्देश दिये। इस अवसर पर उच्च शिक्षा राज्य मंत्री डॉ.धन सिंह रावत, विधायक  मुकेश कोली, नगर पालिका अध्यक्ष  यशपाल बेनाम, जिलाधिकारी  सुशील कुमार, एसएसपी  जेआर जोशी, मुख्य विकास अधिकारी विजय कुमार जोगदंडे एवं अन्य जन प्रतिनिधि तथा संबंधित विभागीय अधिकारी उपस्थित रहे।

उत्तराखण्ड में पर्यटन की आपार सम्भावनाएं : खजानदास

देहरादून। विश्व पर्यटन दिवस के अवसर पर आज पर्यटन विभाग एवं गढवाल मण्डल विकास निगम के संयुक्त तत्वाधान में क्षेत्रीय पर्यटन कार्यालय देहरादून में एक गोष्ठी का आयोजन किया गया, जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में विधायक राजपुर रोड खजानदास ने कार्यक्रम में प्रतिभाग किया। इस अवसर पर उन्होने कहा कि विश्व पर्यटन दिवस को धूम-धाम से मनाने की आश्यकता है, जिसमें सभी की सहभागिता सुनिश्चित होनी चाहिए। उन्होने कहा कि उत्तराखण्ड पर्यटन के क्षेत्र में स्वीटजरलैण्ड हो सकता है, क्योंकि उत्तराखण्ड में पर्यटन की आपार सम्भावनाएं हैं, जिसमें कई ऐतिहासिक पर्यटन क्षेत्र हैं जिन्हे सुदृढ एवं बेहतर करने के लिए प्रचार-प्रसार की आवश्यकता है। उन्होने सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों से अपेक्षा की है कि वे अपनी लम्बी सेवा के दौरान उनके पास काफी समय है जो राज्य में पर्यटन को बढावा देने के लिए तथा संशाधनों को जुटाने के लिए निति निर्धारण कर पर्यटन को बढावा कैसे दें तथा कैसे पर्यटकों को आकर्षित करें,  ऐसी कार्य योजना तैयार करें, जिसके माध्यम से बेरोजगार युवाओं को रोजगार के अवसर मुहैया हो सकें।
 
उन्होने कहा कि सरकार भी इस क्षेत्र में बेहतर कार्य करने का प्रयास कर रही है तथा पर्यटन मंत्री द्वारा राज्य में बढावा देने के लिए पौराणिक मन्दिरों, लोक गाथाओं, पर्यटन स्थलों को  चिन्हित कर उनका सौन्दर्यीकरण एवं सुदृढिकरण का कार्य कर रहें हैं इसके लिए उनका धन्यवाद किया। उन्होने यह भी सुझाव दिया है कि जो पौराणिक पर्यटन स्थल हैं उन पर्यटन स्थलों को जीर्णोद्धार किया जाये न कि उनको नये सिरे बनाया जाय। इस अवसर पर निदेशक पर्यटन कुडियाल ने अपने सम्बोधन में कहा कि उत्तराखण्ड में पर्यटन की आपार सम्भावना है , जिसमें सभी की सहभागिता की आवश्यकता है। उन्होने कहा कि पर्यटन के क्षेत्र में रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने हेतु विभाग द्वारा कई कार्य योजनाएं तैयार की जा रही हैं। इस अवसर पर संयुक्त निदेशक पर्यटन पुनम चांद, विवेक चैहान, पर्यटन मंत्री के सलाहकार एन.एस नयाल, इस अवसर पर होटल मैनेजमैन्ट के प्रधानाचार्य राम सिंह नेगी, जिला पर्यटन विकास अधिकारी के.एस रावत, जगदीश खन्ना, जिला पंचायत सदस्य संध्या थापा सहित होटल मैनेजमैन्ट की छात्र/छात्राओं सहित सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित थे। 

कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने टपकेश्वर मंदिर परिसर में किया पौधारोपण

देहरादून। इन्दिरा गांधी की जन्मशताब्दी वर्ष के अवसर पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिह के नेतृत्व में देहरादून के टपकेश्वर महादेव मन्दिर प्रांगण में सघन पौधारोपण किया गया। 
कांग्रेस पार्टी द्वारा देशभर में वर्ष 2017 को अपनी प्रिय नेता भारत रत्न, पूर्व प्रधानमंत्री स्व इन्दिरा गांधी के जन्म शताब्दी वर्ष के रूप में मनाया जा रहा है। इसके तहत प्रदेशभर के जिला मुख्यालयों पर विभिन्न कार्यक्रमों का आयेाजन किया जा रहा है। इसी परिपेक्ष्य में बुधवार को कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिह के नेतृत्व में देहरादून में टपकेश्वर महादेव मन्दिर प्रांगण में सघन वृक्षारोपण किया गया। इस अवसर पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने कहा कि आज हम भारत का नाम विश्व मानचित्र पर स्वर्णाक्षरों में दर्शाने वाली राष्ट्र की महान सेविका तथा देश की एकता के लिए अपने प्राणों को न्यौछावर करने वाली त्याग और बलिदान की प्रतिमूर्ति, हमारी मात्र शक्ति स्व इन्दिरा गांधी के जन्म शताब्दी वर्ष के अवसर पर उन्हें श्रद्घा पूर्वक याद करते हुए श्रद्घांजलि देते हैं। स्व इन्दिरा ने अपनी प्रतिभा कौशल एवं विद्यता से देश को प्रगति के पथ पर आगे ले जाते हुए विश्व के मानचित्र पर भारत को एक नई पहचान दिलाई। उन्होंने गरीबी हटाओ का नारा देकर सामाजिक समरसता एवं सद्भाव को मजबूत बनाने की दिशा में अनेकों उल्लेखनीय कार्य कियेे। 
 
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि आज भारत विश्व शांति दूत के रूप में जाना जाता है। स्व इन्दिरा गांधी द्वारा चलाये गये बीस सूत्रीय कार्यक्रम के तहत ही सरकारों ने मलिन बस्तियों के विकास के लिए कार्य करवाये जिसके परिणामस्वरूप पूर्ववर्ती यू$पी$ए$ सरकार के समय करोड़ों रूपये की योजना मलिन बस्तियों के विकास के लिए लागू की गई। उन्होने कहा कि स्व इन्दिरा गांधी जी ने देश के प्रधानमंत्री के रूप में अपनी सेवायें देकर भारत को विश्व में एक अलग स्थान दिलाने का काम किया।  उन्होंने अपनी नेतृत्व क्षमता से यह भी साबित कर दिया कि महिलाएं पुरूषों  को कंधे से कंधा मिलाकर चल सकती हैं। इस अवसर पर पूर्व विधायक राजकुमार, प्रदेश उपाध्यक्ष सूर्यकान्त धस्माना, महामंत्री विजय सारस्वत, मुख्य कार्यक्रम समन्वयक राजेन्द्र शाह, नवीन जोशी, महानगर अध्यक्ष पृथ्वीराज चौहान, पूर्व महानगर अध्यक्ष लालचन्द शर्मा, पूर्व मंत्री अजय ंिसह, प्रदेश सचिव संजय किशोर, गिरीश पुनेड़ा, भरत शर्मा, नवीन पयाल, राजेश पाण्डेय, प्रवक्ता गरिमा दसौनी, अशोक वर्मा, ताहिर अली, प्रदीप डोभाल, महन्त विनय सारस्वत, कै बलवीर रावत, प्रदीप भट्ट, अनिल बसनेत, भगवान, सुनित राठौर, कमलेश रमन पुष्पा पंवार, महेश जोशी, देवेन्द्र बुटोला, दीवान सिंह तोमर, उपेन्द्र थापली, सूरज थापा, राजेश चमोली, शम्मी प्रकाश, पंकज मेसोन, अनुराधा तिवारी, चन्द्रकला नेगी आदि अनेक कंाग्रेसजन उपस्थित थे। 
 

सुरक्षित आवास पर ध्यान देने की जरूरत

 देहरादून। सरकार को बुनियादी आवश्यकताओं के साथ ही सबके लिए आवास और सुरक्षित आवास पर अतिरिक्त ध्यान देने की जरूरत है यह बात यहां हिमाद द्वारा आयोजित परिचर्चा में राजकुमार पूर्व विधायक व आवास समिति के अध्यक्ष ने कही। परिचर्चा में वक्ताओं ने कहा कि बढ़ते शहरीकरण के दौर में जहां एक ओर शहर और महानगरों का आकर्षण व्यापक हो रहा है वहीं दूसरी तरफ शहरीे गरीबों के आवास की समस्या भी दिन व दिन जटिल होते जा रही है। यह प्रश्न लगातार बना हुआ है कि कैसे सबके लिए एक सुरक्षित आवास हासिल हो सके। 

 
परिचर्चा में बोलते हुए समाज विज्ञानी डा0 डी0 एस0 पुण्डीर ने कहा कि शहरी गरीबों को आवास का बुनियादी अधिकार मुहैया कराने की प्रक्रिया इतनी धीमी है कि आम आदमी आवासीय योजनाओं का नाम ही भूल जाते हैैंं। इस बीच सरकारें बदलती है तो योजनाऐं भी बदल जाती है। दूशरी ओर शहरों के विस्तार होने से शहरी कामगारों के आवास की समस्या लगातार जटिल आकार ले रही हैं। देहरादून शहर में गरीबों की आवासीय स्थिति और वस्तियों में अन्य बुनियादी सुविधाओं की पड़ताल से पता चला कि कुल 1883 सर्वेक्षित परिवारों में से केवल 591 परिवारों के पास ही पक्के मकान हैं जबकि 578 के पास कच्चे और 714 के पास पक्के मकान ही हैं और उनका जमीन पर मालिकाना हक भी नहीं है।
 
बक्ताओं ने कहा कि शहरी गरीबों खास कर असंगठित क्षेत्र के मजदूर, घरेलू कामगार, रेहडी ठेली चलाने वाले एवं विपरीत परिस्थितियों में रहने  वाले नागरिकों की आवासीय समस्याओं को सरकार की आवास योजनाओं में विशेष महत्व दिये जाने की जरूरत है। और इस वात पर विशेश ध्यान दिये जाने की जरूरत है कि सभी प्रकार के आवासों को सुरक्षित आवास बनाया जाना आवश्यक है। साथ ही आवासीय अधिकार को एक संवैधानिक अधिकार के रूप में सामिल किया जाना चाहिए जो जीने के अधिकार का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। परिचर्चा में पुरूषोत्तम बडोनी, सुाीर भट्ट, कुसुम झिलडियाल, सीमा कटारिया सम्भू प्रसाद ममगाईं, अनिल रावत, दिशा, मंगेश, स्वाती आदि ने सम्बोधित किया परिचर्चा का संचालन अशोक अकेला ने किया।
 

प्रधान संगठन ने किया बुद्घि शुद्घि यज्

 देहरादून। प्रधान संगठन ने 14वां वित्त पूर्व की भांति किए जाने सहित चार सूत्रीय मांगों को लेकर परेड ग्राउंड में धरना जारी रखते हुए बुद्घि शुद्घि यज्ञ किया। इस दौरान संगठन के प्रदेश अध्यक्ष गिरविर परमार ने कहा कि संगठन अपनी मांगों को लेकर लंबे समय से आंदोलन कर रहा है जिसके बाद भी सरकार की कान में जू नहीं रेंग रही है। सरकार उनकी मांगो को अनदेखा कर लगातार कार्यवाही करने से बच रही है। इसे देखते हुए सगंठन ने त्वरित कार्यवाही करते हुए सरकार की बुद्घि शुद्घि यज्ञ किया है।

 

उन्होंने कहा कि इसके बाद भी सरकार उनकी मांगों को पूरा नहीं करते तो वे उग्र आंदोलन करेगे। उन्होंने कहा कि संगठन 14वां वित्त पूर्व की भांति दिए जाने, संशोधित पंचायती राज एक्ट को तत्काल लागू करने, नगर निगम में शामिल पंचायतों को बहाल करने व प्रधानों का मानदेय पांच हजार रुपये करने की मांग कर रहा है। उन्होंने बताया कि जब तक सरकार उनकी मांग को पूरा नहीं करेगी, तब तक आंदोलन जारी रहेगा। बीते दिन प्रधान संगठन के प्रतिनिधिमंडल की मुलाकात कैबिनेट मंत्री अरविंद पांडे से कराई थी इसके बाद भी संंगठन के पदाधिकारियों के मुताबिक मंत्री ने उन्हें 30 सितंबर को इस संबंध में उचित कार्रवाई करने का आश्वासन दिया, लेकिन प्रधान इससे संतुष्ट नहीं हैं। इस दौरान प्रदेश महामंत्री रितेश जोशी, जिलाध्यक्ष कुंदन सिंह बोहरा, रूप सिंह थापा, विकास शर्मा, हिमांशु पांडे आदि ग्राम प्रधान मौजूद रहे।

उक्रांद ने सौपा एसएसपी को पत्र

देहरादून। उत्तराखंड क्रान्ति दल के महानगर अध्यक्ष संजय क्षेत्री ने सोशल मीडिया में  उनकी प्रतिष्ठा धूमिल करने के उद्देश्य से गाली गलौज किए जाने संबधी एसएसपी को ज्ञापन सोपा है। इस विषय में  संजय क्षेत्री ने कहा कि उत्तराखंड के प्रमुख राजनीतिक क्षेत्रीय दल उत्तराखंड क्रांति दल के सदस्य है तथा पिछले 18 वर्षों से उत्तराखंड क्रांति दल में सक्रिय रहकर कार्य कर रहा है तथा वर्तमान में महानगर देहरादून के अध्यक्ष पद पर मनोनीत है ।
 
उल्लेखनीय है कि हाल ही में यूकेडी द्वारा अनुशासनहीनता के आरोप में देहरादून निवासी एक व्यक्ति जय सिंह राता, निवासी बालावाला को पार्टी द्वारा निष्कासित किया गया है।उक्त व्यक्ति के निष्कासन के बाद से ही उसका एक मित्र राकेश नेगी जिसकी थ्ंबमइववा में ष्राकेश राकेश नेगीष् के नाम से प्क् है द्वारा लगातार प्रार्थी को गाली गलौज व प्रार्थी की छवि धूमिल करने के उद्देश्य से आपत्तिजनक कमेंट किए जा रहे हैं।जिससे प्रार्थी की तथा प्रार्थी के पद की गरिमा पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है। अत: आपसे निवेदन है कि उक्त मामले में आरोपी राकेश राकेश नेगी के खिलाफ उचित धाराओं में मुकदमा दर्ज करते हुए कानूनी कार्यवाही की जाए।
 

सीएम ने किया चीनी मिल्स मुख्यालय का लोकार्पण

देहरादून। राज्य सरकार किसानों तथा रोजगार के मसलो पर अत्यन्त गम्भीर व ठोस पहल कर रही है जिससे आने वाले दिनों में इनके परिणाम भी देखने को मिलेगें। आवश्यकता पडऩे पर इन योजनाओं पर नीतिगत परिवर्तन भी किए जाएगे।  प्रोजेक्ट के लिए जरूरत पडऩे पर कर्ज  लेने पर उसका सौ फीसदी सदुपयोग किया जाएगा। गन्ना किसानों के 110 करोड़ रूपए बकाया राशि का भुगतान किया गया है। यह बात मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने बुधवार को बद्रीपुर  स्थित उत्तराखण्ड सहकारी चीनी मिल्स संघ लिमिटेड के नवनिर्मित मुख्यालय भवन का विधिवत पूजा-अर्चना एंव लोकार्पण के दौरान कहीं। उन्होंने  सहकारी चीनी मिल्स संघ को नवनिर्मित मुख्यालय भवन की बधाई व शुभकामनाएं दी।
 
 
गौरतलब है कि बुधवार को बद्रीपुर में मुख्यमंत्री द्वारा लोकार्पित उत्तराखण्ड सहकारी चीनी मिल्स संघ लिमिटेड के नवनिर्मित मुख्यालय भवन का निर्माण उत्तर प्रदेश राज्य निर्माण निगम द्वारा 4$11 करोड़ रूपये की लागत से किया गया। मुख्यालय भवन को भूमि आंवटन चीनी मिल डोईवाला द्वारा नि:शुल्क किया गया था। 887$ 71 वर्ग मीटर क्षेत्रफल में निर्मित मुख्यालय भवन का निर्माण कार्य जून 2016 में आरम्भ किया गया था तथा सितम्बर को यह पूरी तरह बनकर तैयार हो गयी। भवन में कार्यालय, ममटी एवं मशीन रूम, कॉन्फे्रस हॉल सहित सभी आधुनिक सुविधाए उपलब्ध है। मुख्यालय भवन को केन्द्रीय लोक निर्माण विभाग की विशिष्टियों एवं भूकम्परोधी तकनीक पर सीबीआरआई रूडक़ी द्वारा संरचनीय मानचित्र तैयार करा कर निर्मित किया गया है। भवन निर्माण की तृतीय पक्ष गुणवत्ता नियंत्रण सीबीआरआई रूडक़ी द्वारा कराया गया है। गन्ना विकास एवं चीनी उद्योग विभाग द्वारा जानकारी दी गई कि पेराई सत्र 2016-17 में राज्य की 8 चीनी मिलों द्वारा 350$60 लाख कुन्टल गन्ने की पेराई कर 34$ 55 लाख कुन्टल चीनी का उत्पादन  किया गया तथा औसतन चीनी परता 9$86 प्रतिशत प्रान्त हुआ। यह उत्तराखण्ड राज्य गठन के उपरान्त सर्वोच्च रहा। चीनी मिलो द्वारा कुल देय गन्ना मूल्य रूपये 1080$18 करोड़ के सापेक्ष रूपये 940$10 करोड़ का भुगतान किया गया।
 
 
पेराई सत्र 2016-17 के अवशेष गन्ना मूल्य भुगतान हेतु राज्य सरकार द्वारा सहकारी एवं सार्वजनिक क्षेत्र की चीनी मिलो को रूपये 65 करोड़ की आर्थिक सहायता दी गई है। पेराई सत्र 2016-17 के सम्पूर्ण गन्ना मूल्य भुगतान हेतु सहकारी एवं सार्वजनिक क्षेत्र की चीनी मिलों को 60 करोड़ रूपये की आर्थिक सहायता माननीय मंत्रिमण्डल द्वारा स्वीकृत की गई है। पेराई सत्र 2015-16 के अवशेष गन्ना मूल्य भुगतान हेतु सहकारी क्षेत्र की चीनी मिलों को 44$ 54 करोड़ की आर्थिक सहायता दी गई है। चीनी मिलों में जल एवं वायु प्रदूषण रोके जाने हेतु 100 लाख रूपये की प्रावधान किया गया हैं। सहकारी क्षेत्र की चीनी मिल नादेही एवं बाजपुर के आधुनिकीकरण हेतु यूजेवीएनएल के साथ एमओयू किया गया है साथ ही उक्त मिलों में  क्रमश: 16 व 22 मेगावॉट के सह-विद्युत परियोजना स्थापित किये जाने हेतु भी यूजेवीएनएल के साथ अनुबन्ध किया गया है। सहकारी गन्ना विकास समितियो ंके माध्यम से कृषि निवेशों के रूप में 1380$83 लाख रूपये का ऋण नाबार्ड द्वारा कृषकों को वितरित किया गया है।
इस अवसर पर कैबिनेट मंत्री  प्रकाश पन्त, राज्य मंत्री डा. धन सिंह रावत, सचिव गन्ना विकास एवं चीनी उद्योग  दिलीप जावलकर तथा अन्य गणमान्य उपस्थित थे। 

आइ.एस.बी.टी से भर्ती स्थल तक हो सुचारू व्यवस्था : डीएम

 देहरादून। जनपद के बीरपुर ग्राउण्ड देहरादून में 05 अक्टूबर से 12 अक्टूबर तक आयोजित होने वाली भर्ती रैली की तैयारियों एवं व्यवस्थाओं के सम्बन्ध में जिलाधिकारी एस.ए मुरूगेशन की अध्यक्षता में उनके कलैक्टेऊट कार्यालय में बैठक आयोजित की गयी। बैठक में सेना भर्ती निदेशक, सेना भर्ती कार्यालय लैन्सडाउन/कर्नल आर.एस चठ्ठा ने जिलाधिकारी को अवगत कराया कि 5 व 6 अक्टूबर को हवलदार शिक्षा के पदों हेतु भर्ती रैली में वे सभी अभ्यर्थी जिन्होने सेना भर्ती कार्यालय मेरठ में भर्ती के लिए आनलाईन रजिस्ट्रेशन किये थे वे ही अभ्यर्थी भर्ती में हिस्सा ले सकेंगे। उन्होने बताया कि 5 अक्टूबर 2017 को सेना भर्ती मुख्यालय लखनऊ, सेना भर्ती कार्यालय आगरा और वाराणसी के अधीनस्थ हवदार शिक्षा के अभ्यर्थी प्रतिभाग करेंगे तथा 6 अक्टूबर को सेना भर्ती कार्यालय मेरठ बरेली, अमेठी, अल्मोड़ा, पिथौरागढ और लैन्सडाउन के अधीनस्थ हवलदार शिक्षा के अभ्यर्थी प्रतिभाग करेंगे।

 

उन्होने बताया कि 7 एवं 8 अक्टूबर से जनपद पौड़ी के सभी टेऊड के अभ्यर्थी प्रतिभाग करेंगे, जिसमें 7 अक्टूबर को पौड़ी जनपद के तहसील, श्रीनगर, पौड़ी गढवाल, थलीसैण, धूमाकोट, और यमकेश्वर के सभी टेऊ ड के अभ्यर्थी तथा 8 अक्टूबर को जनपद पौड़ी के तहसील लैन्सडाउन, सतपूली, चैबट्टाखाल और कोटद्वार के सभी टेऊ ड के अभ्यर्थी प्रतिभाग करेंगे। 9 अक्टूबर 2017 को जनपद देहरादून के सभी अथ्यर्थी तथा 10 अक्टूबर 2017 को जनपद हरिद्वार के सभी अभ्यर्थी भर्ती रैली में प्रतिभाग करेंगे तथा 11 एवं 12 अक्टूबर को शारीरिक परीक्षा में उत्तीर्ण अभ्यर्थियों का मेडिकल परीक्षण होगा। उन्होने बताया कि सभी अभ्यर्थियों (हवलदार शिक्षा के अभ्यर्थियों को छोडक़र) को एडमिट कार्ड मेल कर दिया गया है वे अपने ई-मेल एकाउन्ट से अपना एडमिट कार्ड निकाल सकते हैं। उन्होन बताया कि सभी अभ्यर्थियों को भर्ती रैली में अपना एडमिट कार्ड, आधार कार्ड एवं सभी मूल दस्तावेज लेकर भर्ती ग्राउण्ड में प्रात: काल 02 बजे आना अनिवार्य है तथा भर्ती स्थल पर मोबाईल फोन प्रतिबन्धित रहेगा। उन्होने बताया कि बिना एडमिट कार्ड के किसी भी अभ्यर्थी को सेना भर्ती रैली में हिस्सा लेने नही दिया जायेगा। उन्होने बताया कि सेना भर्ती के दौरान दलाल सक्रिय हो जाते हैं जो सेना भर्ती में प्रतिभाग करने वाले अभ्यर्थियों से ठगी करते हैं। उन्होने अभ्यर्थियों से अपेक्षा क है कि वे किसी दलाल के झांसे में न आएं,जो अभ्यर्थी सभी परीक्षाएं पास करेगा वह सेना में भर्ती होगा। इसके लिए उन्होने जिलाधिकारी से सहयोग मांगा है ताकि अभ्यर्थियों को ठगी से बचाया जा सके। उन्होने जिलाधिकारी से भर्ती मैदान तथा आस-पास के स्थानों पर आवश्यक व्यवस्था हेतु सहयोग मांगा गया। बैठक में जिलाधिकारी एस.ए मुरूगेशन ने सम्बन्धित अधिकारियों को को निर्देश दिये हैं कि बीरपुर भर्ती मैदान का निरीक्षण कर लें तथा वहां की जाने वाली आवश्यक तैयारियों को सेना से समन्वय स्थापित करते हुए भर्ती रैली में जिला प्रशासन की ओर से की जाने वाली व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जायं। जिलाधिकारी ने लो.नि.वि के अधिकारियों को भर्ती मैदान पर बैरिकेटिंग करने, हाईडिल विभाग को लो.नि.वि के साथ समन्वय करते हुए लाईट की व्यवस्था करने के निर्देश दिये। जिलाधिकारी ने नगर निगम को भर्ती के दौरान भर्ती स्थल पर टायलेट की व्यवस्था एवं उनकी साफ-सफाई की व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिये। उन्होने स्वास्थ्य विभाग को भर्ती स्थल पर भर्ती के दौरान चिकित्सकों सहित मेडिकल टीम भेजने के निर्देश दिये।

उन्होने जल संस्थान को भर्ती के दौरान भर्ती स्थल पर पेयजल की व्यवस्था हेतु टैंकर भेजने के निर्देश दिये। उन्होने अभ्यर्थियों के अभिलेख जांच हेतु शिक्षा विभाग के अधिकारियों को 8 शिक्षक भेजने के निर्देश दिये। जिलाधिकारी परिवहन विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि आई.एस.बी.टी से भर्ती स्थल के लिए वाहन लगाये जायें, जिससे अभ्यर्थियों को परिवहन की समस्या न हो, जिलाधिकारी द्वारा पुलिस विभाग को भर्ती स्थल पर कानून एवं शांति व्यवस्था बनाये रखने तथा सक्रिय दलालों पर नजर रखते हुए आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिये। बैठक में अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व वीर सिंह बुदियाल, नगर मजिस्टेऊ ट सी.ए मर्तोलिया, सहित पुलिस विभाग, शिक्षा, जलसंस्थान, लो.नि.वि, हाईडिल, नगर निगम, परिवहन विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।

मजदूरों पर गिरा मिट्टी का पुश्ता, दो की मौत

 देहरादून। मिट्टी खोद रहे दो मजदूरों को उस समय अपनी जान से हाथ धोना पड़ा जब मिट्टी का पुश्ता मजदूरों के उपर ऊपर आ गिरा। घटना देहरादून के थाना राजपुर क्षेत्र अंतर्गत सहस्त्रधारा कुल्हान कुल्हान में घटी है।

मजदूर मिट्टी खोद रहे थे तभी ये हादसा हुआ। बताया जा रहा है कि पुश्ता गिरने से 2 लोग दब गए। फौरन पुलिस तथा एसडीआरएफ की टीम को मौके पर बुलाया गया। टीम ने मलबे से दोनों मजदूरों को बाहर निकाला, लेकिन तबतक दोनों की मौत हो चुकी थी। मृतकों की शिनाख्‍त नंदलाल महतो और रामेश्वर गिरी के रूप में हुई है। दोनों ही मजदूर बिहार के बेतिया के रहने वाले बताए जा रहे हैं। फिलहाल घटनास्थल पर एसडीआरएफ की टीम राहत एवं बचाव कार्य में लगी है।

जनसंघर्ष मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने किया तहसील घेराव

विकासनगर। जनसंघर्ष मोर्चा कार्यकर्ताओं ने मोर्चा अध्यक्ष एवं जीएमवीएन के पूर्व उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी के नेतृत्व में सरकार द्वारा प्रदेश के लाखों एपीएल कार्डों पर प्रत्यक्ष सब्सिडी दिये जाने के विरोध में तहसील पर प्रदर्शन कर घेराव किया तथा राज्यपाल को सम्बोधित ज्ञापन एसडीएम जितेन्द्र कुमार को सौंपा। नेगी ने कहा कि प्रदेश की अनुभवहीन सरकार ने ए0पी0एल0 कार्डधारकों को राशन के बजाय डायरेक्ट (प्रत्यक्ष) सब्सिडी देने का निर्णय किया है, जिसका जनसंघर्ष मोर्चा घोर विरोध करता है।
 
नेगी ने कहा कि सरकार को सोचना चाहिए कि अगर सरकार स्टेटपुल का धान व गेहूॅं नहीं खरीदेगी तो निश्चित तौर पर व्यापारियों को लूट का खुला लाईसेंस मिल जायेगा तथा वहीं गेहूॅं व धान (चावल) किसान को कौडिय़ों के भाव मजबूरी में बेचना पड़ेगा तथा सीजन समाप्त होते ही बाजार में गेहूॅं व चावल के दाम आसमान को छूने लगेंगे। इस नीति से किसान बर्बाद हो जायेगा। उनका कहना है कि वर्तमान में प्रदेश के हजारों राशन (गल्ले) की दुकानें संचालित हैं तथा अधिकांश शहरी क्षेत्र की दुकानों में एपीएल के कार्ड ही हैं तो इस परिस्थिति में हजारों राशन की दुकानें बंद हो जायेंगी तथा उनके सामने रोजी-रोटी का संकट पैदा हो जायेगा। नेगी ने चिंता जतायी कि आज भी हजारों गरीब परिवारों के पास बीपीएल का कार्ड न होकर एपीएल का कार्ड है तथा कई परिवारों में मुखिया व्यसनी व नशाखोर हैं, चूंॅकि सब्सिडी मुखिया के खाते में आयेगी तो निश्चित तौर पर वह अपनी मौज मस्ती में व्यसन करेगा तथा परिवार दो वक्त की रोटी को मोहताज हो जायेगा।
उनका कहना है कि इसके साथ-साथ बाजार मूल्य एवं सब्सिडी वाला मूल्य भी कार्डधारकों की कमर तोड़ देगा। वर्तमान में सरकार अन्य कल्याणकारी योजनाओं पर भी तो करोड़ों रूपया खर्च कर रही है। उल्लेखनीय है कि कई अमीर लोगों ने भी एपीएल के कार्ड बना रखे हैं और अगर वो राशन नहीं लेते हैं तो उनको सब्सिडी देने का क्या औचित्य है।
 
इस अवसर पर जनसंघर्ष मोर्चा ने राज्यपाल से मांग की है कि प्रदेश सरकार की जनविरोधी नीति पर रोक लगाने का काम करे, तथा गैस सब्सिडी की तर्ज पर ही राशन की सब्सिडी जनता को दें, जिससे किसान, राशन डीलर तथा कार्डधारक का हित सुरक्षित रह सकें। इस अवसर पर प्रदर्शन व घेराव में मोर्चा महासचिव आकाश पंवार, दिलबाग सिंह, ओ पी राणा, मौहम्मद असद, डॉ ओ पी पंवार, मौहम्मद नसीम, मौहम्मद इस्लाम, जयदेव नेगी, प्रवीण शर्मा, चौधरी मामराज, मौहम्मद रासिद, सतीश गुप्ता, मनीष गुप्ता, सचिन कुमार, मौहम्मद आसिफ, रैहवर अली, किशन पासवान, विनोद जैन, जयन्त चौहान, रवि भटनागर, कुंवर सिंह नेगी, पारितोष, एम अन्सारी, मनोज राय आदि थे

कांग्रेसियों ने मरीजों को बांटे फल

देहरादून। कांग्रेस पार्टी द्वारा देशभर में वर्ष 2017 को अपनी प्रिय नेता भारत रत्न, पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय इन्दिरा गांधी के जन्म शताब्दी वर्ष के रूप में मनाया जा रहा है। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के निर्देश पर कांग्रेसजनों द्वारा इन्दिरा गांधी की जन्म शताब्दी के अवसर पर प्रदेशभर के जिला मुख्यालयों पर विभिन्न कार्यक्रमों का आयेाजन किया जा रहा है। इसी परिपेक्ष में आज प्रदेशभर के जिला मुख्यालयों पर कांग्रेसजनों ने विभिन्न चिकित्सालयों में मरीजों को फल वितरित किये।
 
यहां इसी कार्यक्रम के तहत प्रदेश मुख्यालय देहरादून में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह के नेतृत्व में दून चिकित्सालय एवं मेडिकल कॉलेज में मरीजों को फल वितरण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें बड़ी संख्या में कांग्रेसजनों ने प्रदेश अध्यक्ष के नेतृत्व में मरीजों को फल वितरित किये। इस अवसर पर प्रीतम सिंह ने दून चिकित्सालय के विभिन्न वार्डों का निरीक्षण करते हुए सेवारत चिकित्सकों से भी चिकित्सालय की व्यवस्थाओं के बारे में जानकारी प्राप्त की।
इस अवसर पर पूर्व महानगर अध्यक्ष लालचन्द शर्मा, पूर्व मंत्री डॉ0 संजय पालीवाल, मुख्य कार्यक्रम समन्वयक राजेन्द्र शाह, महामंत्री नवीन जोशी, प्रदेश सचिव गिरीश पुनेड़ा, प्रदेश सचिव भरत शर्मा, अजय ंिसह, नवीन पयाल, महानगर अध्यक्ष पृथ्वीराज चौहान, डॉ. आर.पी. रतूड़ी, गरिमा दसौनी, सुनीता प्रकाश, संजय किशोर, अशोक वर्मा, दीप बोहरा, विनोद चौहान, ताहिर अली, सेनि कैप्टन बलवीर रावत, सुनीता राठौर, प्रणीता बडोनी, गौरव चौधरी, संजय डोभाल, कमलेश रमन पुष्पा पंवार, चन्द्रकला नेगी आदि अनेक कंाग्रेसजन उपस्थित थे।
 

पाई पाई के लिए मोहताज कर्मचारियों को मिलेगा वेतन

देहरादून। ऊर्जा के तीनों निगमों को सातवें वेतनमान के तोहफे के साथ ही सरकार ने वेतन के लिए तरस रहे राज्यभर के चाय श्रमिकों पर भी दरियादिली दिखाई है। पिछले पांच माह से पाई-पाई को मोहताज प्रदेश के कारखानों, बागान व पौधालयों के कामगार तथा कार्मिकों को भुगतान के लिए शासन ने पांच करोड़ रुपये स्वीत कर दिए हैं। 

 
बताते चलें कि दरअसल, कुमाऊं व गढ़वाल की चाय फैक्टियों, बागान व पौधालयों में करीब दो हजार श्रमिक व सौ से ज्यादा कार्मिक दिन रात उत्पादन में जुटे हैं। मगर अफसोस इस बात का है कि एक ओर उत्तराखंड को टी-टूरिज्म से जोड़ बागान विकास की कवायद चल रही, दूसरी तरफ कामगार व कर्मचारियों को समय पर वेतन मिलना दूभर हो रहा। बीते पांच माह से विभिन्न जिलों में तैनात श्रमिकों को आब जाकर राहत मिली है। राज्य सरकार ने उत्तराखंड चाय विकास बोर्ड
(यूटीडीबी) के अधीन श्रमिकों व कार्मिको के वेतन के लिए पांच करोड़ का बजट स्वीत कर दिया है।’
 
पांच माह से पगार के लिए मोहताज कर्मियों के लिए खोला खजाना  यूटीडीबी के वित्त अधिकारी ’अनिल खोलिया, का कहना है कि सभी श्रमिकों को अब जल्द वेतन जारी होने की उम्मीद है इसके लिए राज्य सरकार ने पांच करोड़ रुपये स्वीत कर दिए हैं। शासनादेश हो चुका है। जल्द ही श्रमिकों व कार्मिकों का रुका वेतन भुगतान कर दिया जाएगा।  

एन एच में कई करोड़ों डकारने की थी तैयारी

 देहरादून। एनएच 74 प्रोजैक्ट की जांच जैसे आगे बढ़ रही है वैसे वैसे यहां कई रहस्य सामने आ रहे हैं। बताया जा रहा है कि एनएच 74 फोरलेन प्रोजक्ट में अधिग्रहण में लिए गए कई गांवों की षि भूमि को अषक दर्शाकर करोड़ों का अतिरिक्त मुआवजा डकारने की तैयारी थी।  यदि सूत्रों की बात सही मानें तो यहां के कई गांवों में भूमि होते हुए भी इसका भू-उपयोग अषक दिखाने की वजह षि भूमि की तुलना में कई गुना ज्यादा मुआवजा हड़पने की नीयत थी। संबंधित खसरा नंबरों पर अषक भूमि में 143 कर करोड़ों का मुआवजा भी प्रस्तावित कर दिया गया, लेकिन ऐन वक्त में यह खेल पकड़ में आ गया। बाद में इन मामलों में षि भूमि के अनुरूप ही मुआवजे का निर्धारण किया।
 
हैरत की बात यह है कि मुआवजे में करोड़ों का अंतर आने के बाद भी उस समय इन प्रकरणों की जांच नहीं करायी गई। अगर उसी समय इन मामलों में कैसे षि भूमि की अषक की रिपोर्ट पेश की गई, इसकी जांच होती तो कई अधिकारियों की गर्दन नप जाती। सूत्रों के मुताबिक, गढ़ी हुसैन, बक्सौस, भवानीपुर, बहादरपुर, कालियावाला, किशनपुर, मन्डावाखेड़ा, तीरगढ़ी, गूलरगोजी, जगतपुरपट्टी, बहेड़ी, सरवरखेड़ा, बडख़ेड़ा राजपूत गांवों के मुआवजे को लेकर बड़ा खेल खेलने के प्रयास किए गए थे। इन गांवों के कई खसरा नंबरों को षि की जगह अषक दिखाकर करोड़ों के मुआवजे के लिए फाइलें तैयार कर दी गई थीं। 143 को लेकर तहसील कार्यालय और उपजिलाधिकारी कार्यालय दोनों स्तर पर पड़ताल होती है। इसके बाद भी इन खसरा नंबरों पर दर्ज भूमि को अषक दिखा गया। इसके बाद भी इन पर मुआवजे का निर्धारण अषक भूमि का न कर कृषि भूमि की दरों से अवार्ड बनाया गया। यानि यहां मुआवजे के निर्धारण को लेकर गड़बड़ी का खेल तो खुला लेकिन इसे खुलकर सामने नहीं लाया गया।

दस रूपये के सिक्के को लेकर कारोबारी परेशान

 देहरादून। नगर में कारोबारी और उपभोक्ता 10 रुपये के सिक्कों को लेकर काफी परेशान हैं। आलम यह है कि दुकानदारों के पास जो 10 रुपये के सिक्के हैं उन्हें कोई भी बैंक या सेल्समैंन लेने को तैयार नहीं हैं। रायपुर रोड में किराना की दुकान चलाने वाले मोहित गुन्ता ने बताया कि क्षेत्र के कारोबारी लंबे समय से दस के सिक्कों को लेकर परेशान हैं। उन्होंने बताया कि आंचल डेरी समेत क्षेत्र में सामान बेचने वाले किसी भी कंपनी के सेल्समैन 10 के सिक्के नहीं ले रहे हैं।
 
जिस कारण कारोबारी परेशान हैं। उन्होंने बताया कि उनके पास बड़ी संख्या में 10 के सिक्के जमा हो गए हैं। उनके पास पहले से ही काफी संख्या में सिक्के होने से अब ग्राहकों से सिक्के लेने में दिक्कत हो रही है। जिस कारण सभी को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। व्यापारियों ने चेतावनी दी यदि शीइा्र समस्या का समाधान नहीं हुआ तो विरोध प्रदर्शन करेंगे।

प्रेम प्रसंग में दे दी युवक ने जान

देहरादून। एक युवक ने प्रेम प्रसंग के चलते फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। पुलिस ने शव का पंचनामा भर कर पोस्टमार्टम हेतु भेज दिया। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार चौकी सेलाकुई को सूचना मिली कि शिव नगर कलोनी में एक व्यक्ति मिथिलेश कुमार पुत्र कुलदीप दास उम्र 24 वर्ष निवासी फुलवारिया, जिला बरौनी बिहार हाल निवासी शिवनगर कलोनी सेलाकुई थाना सहसपुर देहरादून ने अपने किराए के कमरे में केबल के तार से पंखे के हुक पर लटक कर आत्महत्या कर ली।

सूचना पर चौकी से पुलिस   मौके पर पहुँची और शव के नीचे उतारा। पुलिस ने आसपास के लोगों से पूछताछ की ते पता चला कि  युवक का वहां प्रेम प्रसंंग चल रहा था। इसी के चलते उसने मौत के गले लगा दिया। पुलिस ने शव का पंचायत नामा भरकर पोस्टमार्टम हेतु दून चिकित्सालय देहरादून भेजा दिया है।  

छात्र आपत्तिजनक तस्वीरों को लेकर छात्रा को कर रहा ब्लैकमेल

देहरादून । ग्राफिक एरा यूनिवर्सिटी में बी.कॉम की छात्रा को संसथान के बी.टेक के छात्र द्वारा उसकी आपत्तिजनक तस्वीरों को लेकर ब्लैकमेल किया जा रहा था। युवती की शिकायत के बावजूद संसथान द्वारा छात्र पर कोई कार्यवाही नहीं की गई बल्कि पीडि़ता को ही संसथान से निलंबित कर दिया गया। मामला क्लेमेंट टाउन ठाणे में युवती के पिता द्वारा दर्ज कराया गया है।

 
पहले तो छात्र ने पीडि़ता की ओर दोस्ती का हाथ बढ़ाया फिर मौका देख कर उसके साथ पूरी तैयारी से छेड़-छाड़ की, तथा अपने दोस्तों से उसकी तस्वीरें निकलवाई। छात्र छात्रा को उन तस्वीरों द्वारा ब्लैकमेल कर मिलने बुलाने लगा, परन्तु छात्रा के मना करने पर उसकी तस्वीरों को फेसबुक और व्हाट्सप्प पर वायरल कर दिया या। बता दे की आरोपी छात्र पर पहले भी कई आरोप है। फिर भी आरोपी के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं की गयी, बल्कि ग्राफिक एरा ने मामले से पल्ला झाड़ते हुए छात्रा को ही निलंबित कर दिया, तथा कल से संसथान में परीक्षाए आरम्भ है। ऐसे में पीडि़ता की माँ का कहना है की उनकी बेटी को संसथान में वापिस बुलाया जाये और उसे परीक्षाओ में बैठने की अनुमति दी जाये। यदि वह ऐसा नहीं करते है तो वह कानून की सहायता लेंगी तथा कड़ी कार्यवाही करेंगी।
संसथान के प्रमुख मीडिया प्रभारी सुभाष गुप्ता के मुताबिक आरोपी छात्र उनके संसथान का पूर्व छात्र है
 
और पीडि़ता की तस्वीरों को फोटोशॉप द्वारा एडिट किया गया है। समाजसेविका रेणु डी सिंह ने ग्राफिक एरा को चेतावनी देते हुए कहा कि वह कानून को अपने हाथ में नहीं ले सकता है और वह ये न समझे कि छात्रा अकेली है उसके साथ उत्तराखंड की हजारो, लाखो महिलाएं है, जो सडक़ पर उतर सकती है, वह छात्रा के साथ अन्याय नहीं होने देंगी। उनका ये भी कहना है कि ग्राफिक एरा पक्षकार न बने।
 

केंद्र ने उत्तराखंड कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष को बनाया सरकार में मंत्री

 देहरादून। उत्तराखंड भाजपा में भले ही मंत्रिमंडल का विस्तार ना हुआ हो लेकिन केंद्रीय मंत्री के एक पत्र के द्वारा उत्तराखंड की राज्य सरकार में एक नया मंत्री और तैनात कर दिया है और यह मंत्री भाजपा कार्यकर्ता या विधायक नहीं बल्कि कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह है। सवाल जायज है कि भला राज्य की बीजेपी सरकार में विपक्ष के नेता और प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह को कैसे जगह मिल गई। दरअसल, ये हम नहीं बल्कि भारत सरकार कह रही है। ग्रामीण विकास पंचायती राज्य मंत्री नरेंद्र तोमर के कार्यालय से एक पत्र देहरादून आया है और इस पत्र में प्रीतम सिंह को मंत्री बताया गया है। पत्र में लिखा गया है कि अगले महीने यानी अक्टूबर माह की 1 तारीख से लेकर 17 तारीख तक पूरे भारत में स्वच्छता अभियान चलाया जाएगा जिसको लेकर भारत के प्रधानमंत्री सहित तमाम जनप्रतिनिधि इस स्वछता अभियान में भाग ले रहे हैं। नरेंद्र तोमर आगे पत्र में लिखते हैं कि आपसे उम्मीद है कि आप भी इस अभियान में बढ़-चढक़र भाग लेंगे। लगभग 3 पैराग्राफ के इस पत्र में अपनी बात कहने के बाद नरेंद्र तोमर प्रीतम सिंह का धन्यवाद कर रहे हैं।

 

आगे पत्र में लिखा है कि मेरा आपसे अनुरोध है कि इस कार्यक्रम को अपना नेतृत्व प्रदान करें ताकि जनप्रतिनिधि, आशासकीय संस्थाएं, जनसमुदाय व छात्र इस अभियान का हिस्सा बने। यहां तक तो ठीक है लेकिन इसके बाद बकायदा केंद्रीय मंत्री ने अपने पत्र में प्रीतम सिंह को माननीय ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज्य मंत्री उत्तराखंड सरकार लिखा है। यह पत्र दिल्ली से 18 सितंबर को जारी हुआ है, जो हाल ही में कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह के पास पहुंचा है। हमने जब इस पत्र की सत्यता जांचने के लिए भारत सरकार में मंत्री नरेंद्र तोमर के दिल्ली दफ्तर पर फोन कर संपर्क किया तो वहां मौजूद कर्मचारियों ने भी इस गलती को स्वीकारा है। नरेंद्र तोमर के दफ्तर में तैनात कर्मचारियों का कहना है कि इस मामले का संज्ञान लेकर इसकी जांच की जा रही है कि आखिरकार इतनी बड़ी गलती हुई तो हुई कैसे।

एनएसयूआई कार्यकर्ताओं ने किया प्राचार्य का घेराव

देहरादून। बैक परीक्षाओं में आंतरिक परीक्षाओं में स्नातक प्रथम एवं द्वितीय सेमेस्टर के छात्र छात्राओं को स्पेशल आंतरिक परीक्षायें आयोजित किये जाने की मांग को लेकर एनएसयूआई से जुडे हुए छात्रों ने प्रदर्शन करते हुए प्राचार्य डा$ देवेन्द्र भसीन का घेराव किया। एनएसयूआई से जुडे हुए छात्र डीएवी पीजी कालेज परिसर में इकटठा हुए और वहां पर उन्होंने बैक परीक्षाओं में आंतरिक परीक्षाओं में स्नातक प्रथम एवं द्वितीय सेमेस्टर के छात्र छात्राओं को स्पेशल आंतरिक परीक्षायें आयोजित किये जाने की मांग को लेकर एनएसयूआई से जुडे हुए छात्रों ने प्रदर्शन करते हुए प्राचार्य डा$देवेन्द्र भसीन का घेराव किया।
 
इस अवसर पर विकास नेगी ने कहा कि जो छात्र छात्रायें आंतरिक परीक्षाओं से वंचित रह गये थे ऐसे छात्र छात्राओं के लए स्पेशल बैक परीक्षायें आयोजित की जाये जिससे आंतरिक परीक्षाओं से वंचित छात्र छात्रायें अनुत्तीर्ण होने से बच सके अन्यथा ऐसे छात्र छात्राओं का भविष्य खराब हो जायेगा। उनका कहना है कि इस ओर शीघ्र ही कार्यवाही न करने पर आंदोलन किया जायेगा। इस अवसर पर प्राचार्य ने शीघ्र ही उचित कार्यवाही करने का भरोसा दिया। प्राचार्य का घेराव करने वालों में विनित प्रसाद भटट, विकास नेगी, नित्यानंद गुसांई, अंजली चमोली, कुलदीप क्षेत्री, अमित, हिमांशु आदि शामिल रहे। 

आम आदमी पार्टी कार्यकर्ताओं ने फूंका पुतला

देहरादून। आम आदमी पार्टी महिला मोर्चा द्वारा बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय में आंदोलनरत छात्राओं पर पुलिस प्रशासन द्वारा किये गये लाठीचार्ज के विरोध में प्रदर्शन कर पुतला दहन किया गया।
आम आदमी पार्टी, उत्तराखंड प्रदेश के महिला मोर्चा द्वारा बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय उत्तर प्रदेश में प्रशासन द्वारा छात्राओं पर किये गये बर्बर व दमनकारी लाठीचार्ज के विरोध में गाँधी पार्क पर विरोध प्रदर्शन व दोषी शासन-प्रशासन का पुतला दहन किया गया। इस अवसर पर आम आदमी पार्टी उत्तराखंड प्रदेश की महिला मोर्चा प्रदेशाध्यक्षा पुष्पा रावत ने कहा कि एक तरफ तो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बेटी पढ़ाओ-बेटी बचाओ का नारा देते हैं, वहीं दूसरी ओर भाजपा शासित राज्यों में निरंतर बेटियों को अपमानित करने और महिला अत्याचार की घटनायें बढ़ी जा रही हैं फिर चाहे वह उत्तर प्रदेश हो या हरियाणा व गुजरात ही क्यों न हो।
 
उन्होंने बनारस हिन्दू विश्वविद्घालय  में अपने अधिकारों के लिये शांतिपूर्ण रूप से प्रदर्शन कर रही छात्राओं पर लाठीचार्ज की कड़ी निंदा करते हुये इसे उत्तर प्रदेश की योगी-सरकार की कायरतापूर्ण हरकत बताया। इस अवसर पर अन्य वक्ताओं ने भी संबोधित किया। इस कार्यक्रम में पुष्पा रावत, जिलाध्यक्ष उमा सिसोदिया, जिला महिला मोर्चा अध्यक्ष बलविंदर सैनी, सरिता गिरी, पूजा भल्ला, प्रदेश अध्यक्ष चंद्रशेखर भट्ट, श्यामबाबू पाण्डेय, श्यामलाल नाथ सहित अनेक कार्यकर्ता उपस्थित थे। 

आंगनवाड़ी कार्यकत्रियों ने किया जिलाधिकारी कार्यालय कूच

देहरादून। उत्तरांचल आंगनवाड़ी कर्मचारी संघ ने अपनी विभिन्न मांगों को लेकर जुलूस निकालकर प्रदर्शन किया। आंगनवाड़ी कर्मचारी संघ की प्रदेश महामंत्री सुशीला खत्री के नेतृत्व में आंगनवाड़ी कार्यकर्ता व सहायिका परेड ग्राउंड स्थित धरना स्थल पर इकट्ठा हुए और वहां से जुलूस निकालकर जिला मुख्यालय के लिए कूच किया।  जिलाधिकारी कार्यालय में एक सभा को संबोधित करते हुए प्रदर्शनकारियों ने कहा कि आंगनवाड़ी कार्यकत्रियों व सहायिकाओं को तीन से छह हजार रूपये मानदेय के रूप में दिये जा रहे हंै, वर्तमान समय में महंगाई चरम पर है लेकिन अभी तक किसी भी प्रकार की कोई बढोत्तरी नहीं की गई है। केन्द्रीय कर्मचारी तत्काल प्रभाव से लागू किया जाना चाहिए और न्यूनतम मानदेय 18 हजार रूपये किया जाये।
 
आंगनवाडी कार्यकत्र्रियों को समान कार्य के लिए समान मानदेय दिया जाये व सहायिका के कार्य को भी संपादित करने अतिरिक्त भत्ता दिया जाये। आंगनवाडी कार्यकत्र्रियों को सुपरवाइजर पदों पर पदोन्नति कर 45 वर्ष का प्रतिबंध समान्त कर उन्हें सुपरवाईजर के पदों पर शत प्रतिशत पदोन्नति का लाभ दिय जाये और सेवाकाल को साठ वर्ष के बढाकर पैंसठ वर्ष किया जाये। गर्मियों व सर्दियों में आंगनवाड़ी केन्द्रों में अवकाश की सुविधा दी जाये और उनकी सभी मांगों का समाधान किया जाये। इस अवसर पर जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन प्रेषित करते हुए कार्यवाही किये जाने की मांग की गई है। प्रदर्शनकारियों में रश्मि शर्मा, धनवंती चौहान, रंजना शुक्ला, उषा योगी, विमला गैरोला, आशा बुटोला, मंजू डिमरी, प्रमिला रावत, बीना चौहान, कमला, पार्वती, सीमा, अंजू सहित अनेक कार्यकत्र्रियां व सहायिका शामिल रहीं।

ग्राम प्रधानों ने सरकार के लिए मांगी भीख

 देहरादून। प्रदेश ग्राम प्रधान संगठन ने अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन करते हुए प्रदेश सरकार के भीख मांगी। ग्राम प्रधानों का कहना है कि सरकार उनकी मांगों को लेकर गंभीर नहीं है। एक अक्टूबर से आमरण अनशन शुरू किया जायेगा। 
ग्राम प्रधान परेड ग्राउंड स्थित धरना स्थल में संगठन के प्रदेश अध्यक्ष गिरवीर परमार के नेतृत्व में इकट्ठा हुए और सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया। प्रधानों ने ग्रामंपंचायतों के खिलाफ लिए जा रहे निर्णयों के विरोध स्वरूप प्रदेश सरकार के लिए भीख मांगी। उनका कहना था कि प्रदेश के पंचायतीराज मंत्री अरविन्द पांडे ने 30 सितम्बर तक का समय दिया है, इस बीच मांगों का निस्तारण नहीं हो पाया तो आंदोलन को तेज किया जायेगा। ग्राम प्रधानों का कहना है कि 14वें वित्त की धनराशि में की गई कटौती को तत्काल प्रभाव से वापस लिया जाए। उत्तराखंड में पंचायतीराज एक्ट 2016 को तत्काल प्रभाव से लागू किया जाये और 73वें एवं 74वें संविाान संशोधन के तहत 29 विभाग पंचायतों के अंतर्गत करने की पुरानी व्यवस्था को यथावत रखा जाये।

 

लगातार सरकार जन विरोधी निर्णय ले रही है, जिसका पुरजोर विरोध किया जायेगा। उनका कहना है कि ग्राम प्रधानों को सम्मानजनक मानदेय दिया जाना चािहए ओर नगर पालिकाओं व नगर निगमों में पंचायतों को शामिल करने का पुरजोर तरीके से विरोध किया जायेगा और और पूरे प्रदेश भर में ग्राम पंचायत, नगर निगमों में सौंपें जाने के निर्णय के खिलाफ भी जनांदोलन किया जायेगा। उनका कहना है कि प्रदेश की सरकार लगातार जन विरोधी निर्णय ले रही है जिसके खिलाफ प्रदेश भर में आंदोलन किये जा रहे है और जोशीमठ प्रधान संगठन जोशीमठ की चार पंचायत भेरग, बडा गांव, सेलंग, पैनी गांव को नगर पालिका जोशीमठ में शामिल करने का व्यापक स्तर पर विरोध कर रहा है। प्रदेश भर में सरकार के निर्णय का विरोध हो रहा है और जब तक सरकार अपने निर्णयों को वापस नहीं लेती है तब तक प्रदेश भर में आंदोलन चलते रहेंगें। इस अवसर पर नैनीताल के जिलाध्यक्ष कुंदन सिंह बोहरा ने कहा कि अगर सरकार नहीं चेती तो आंदोलन को उग्र किया जायेगा। इस अवसर पर धरने में संगठन के प्रदेश अध्यक्ष गिरवर परमार, प्रदेश महामंत्री रितेश जोशी, कुंदन सिंह बोहरा, प्रवीन चौहान, राजीव चौधरी, मुस्कान, निर्भय सिंह, प्रवीन रमोला, वासुदेव भट्ट, महावीर पंवार, धनराज बंगारी, नरेन्द्र रावत, नारायण सिंह, सतीश जोशी, माधो सिंह चमोली, रोशनी चमोली, सीमा देवी, प्रदीप भटट, राजकुमार त्यागी सहित प्रदेश भर से आये हुए ग्राम प्रधान मौजूद थे।

सभी मिलकर पंडित दीनदयाल के सपनों को पूरा करें

देहरादून। भाजपा रायपुर मंडल के प्रधान राजेश शर्मा ने कहा कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय का सपना था कि हर गरीब व्यक्ति का विकास हो, उनसे प्रेरणा लेकर केंद्र और राज्य सरकारे गरीब व्यक्तियों के विकास के लिए कार्य कर रही है। रायपुर के गढ़वाली कलोनी स्थित समुदायिक केंद्र में पंडित दीन दयाल उपाध्याय की जन्म शताब्दी समारोह की अध्यक्षता करते हुए राजेश शर्मा ने कहा कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय ने हमेशा देश और राष्ट्रहित में काम किया है। उनका सपना था कि देश का हर गरीब व्यक्ति का विकास हो। उनसे प्रेरणा लेकर केंद्र और राज्य सरकार गरीबों की हित मेें काम कर रही है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले तीन विश्व में भारत का नाम रोशन किया है और देश मजबूत हुआ है। 
 
उन्होंने देश में पिछले 7 वर्षाे से भ्रष्टाचार फैला हुआ है,जो पांच साल में समाप्त नहीं हो सकता। इस लिए 219 में होने वाले लोकसभा चुनाव में एक बार फिर से प्रधानमंत्री के रुप में नरेंद्र मोदी को पूरा देश देखना चाहता है,उनके नेतृत्व में देश और भाजपा दोनों ही मजबूती के साथ आगे बढ़ रही है। केंद्र और राज्य में भाजपा की सरकारे है, ऐसे में भाजपा कार्यकर्ताओं को समाज और संगठन के प्रति दायित्व और बढ़ जाता है। 
 
कार्यक्रम के मुख्य अतिथि भाजपा के प्रदेश महामंत्री एवं पछवादून जिले के अध्यक्ष सुनील उनियाल गामा ने कहा कि आज हम सबको पंडित दीनदयाल उपाध्याय के जीवन से प्रेरणा लेकर गरीब और असहाय लोगों की सहायता करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि  पंडित दीनदयाल उपायाय ने देश में कई योजनाओं को चलाया था,उन्ही योजनाओं को केंद्र और राज्य सरकारे आगे बढ़ा रही है। इस मौके पर भाजपा के पछवादून के जिलाध्यक्ष शमशेर सिंह पुंडीर ने कहा कि आज हम सब को पंडित दीनदयाल उपाध्याय के बताए हुए मार्ग पर चलकर उनके सपनों को पूरा करना चाहिए। उनके आर्दशों कोअपने जीवन में उतार कर समाज के उन लोगों की सेवा करनी चाहिए जो सेवा के असली हकदार है। उन्होंने कहा कि जब तक देश का हर व्यक्ति साक्षार नहीं होगा, देश का विकास नहीं हो सकता। इस लिए इस दिशा में भी भाजपा कार्यकर्ताओं को कार्य करना चाहिए। कार्यक्रम में रायपुर की ब्लाक प्रमुख बीना बहुगुणा, रायपुर की जिला पंचायत सदस्य पुष्पा बड़थ्वाल आदि ने भी अपने विचार रखे। इस मौके पर मनीष बिष्ट, दिनेश केमवाल, प्रेम किशोर कुकरेती, कविंद्र सेमवाल, धर्मेंद्र सिंह चौहान, विशाल रावत, दीपक फरासी, अवनीश कुठारी, गुड्डी देवी,ज्योति सजवाण, विपुल मेंदोली आदि उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन भाजपा रायपुर मंडल के महामंत्री इतवार सिंह रमोला ने किया। 

एसएफआई ने बनारस हिंदू विवि के कुलपति का फूंका पुतला

देहरादून। स्टूडेंट्स फेडरेशन अफ इंडिया (एसएफआई) डी$ए$वी इकाई देहरादून ने बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय में अपने सम्मान की लड़ाई के लिए प्रदर्शन कर रही छात्राओं पर हुई लाठीचार्ज के विरोध में करनपुर कार्यालय से डी$ए$वी कलेज तक नारेबाजी करते हुए कलेज गेट पर बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय कुलपति व विश्वविद्यालय प्रशासन का पुतला फूंका।
डी$ए$वी इकाई अध्यक्ष हिमांशु चौहान ने कहा कि बी$एच$यू में छात्राओं पर लाठीचार्ज करना लोकतांत्रिक अािकार पर हमला है सरकार एक तरफ बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का नारा देती है और दूसरी तरफ छात्राओं के साथ हो रही हरकतों पर कार्यवाही करने के बजाय छात्राओं की आवाज को दबाने के लिए बर्बर सरकार व विश्वविद्यालय प्रशासन लाठियो से लैस पुरुष पुलिस कर्मियों का इस्तेमाल करती है।
 
डी$ए$वी इकाई सचिव शैलेन्द्र परमार ने कहा की यह किसी एक विश्वविद्यालय पर हमला नही है यह पूरी आधी आबादी पर हमला है साथ ही कहा की बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का नारा उछालने वाले माननीय प्रधानमंत्री दो दिन से बनारस में मौजूद थे लेकिन वह सैकड़ो बेटियों से मिलने के बजाय रास्ता बदल कर निकल गए जो कि इनकी बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ के नारे के प्रति ईमानदारी दिखाता है जिस प्रकार छात्राओं की आवाज दबाने के लिए बल प्रयोग किया यह सरकार की अपनी नाकामी को छिपाने की कोशिश है। संगठन मांग करता है की इस घटना की निष्पक्ष जांच व दोषी अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही हो तथा इस प्रकार की घटनाये न हो इसके लिए सभी शिक्षण संस्थानों में बने। इस अवसर पर देवेंद्र सिंह, विपिन सिंह पंवार ,आशीष भंडारी, प्राचीता चौहान, सौम्या पंत, स्वाति, शालिनी, हिमांशू कुमार, हिमांशु खाती, अरुण, आकाश, धर्मेश, आदि मौजूद थे।

एक अक्टूबर से लीजिए चौकोंछक्कों का मजा

 हरिद्वार। हरिद्वार में एक अक्टूबर से देहरादून प्रीमियर लीग के मुकाबले खेले जाएंगे। हरिद्वार के भल्ला स्टेडियम में प्रतियोगिता का शुभारंभ हो रहा है। प्रतियोगिता पहली बार हरिद्वार में हो रही है। प्रदेश की 32 टीमें इसमें भाग ले रही हैं। देहरादून, मसूरी और हरिद्वार में प्रतियोगिता के मुकाबले होगे। कुल 16 मुकाबले हरिद्वार में एक अक्टूबर से आठ अक्टूबर तक खेले जाएंगे। हरिद्वार में प्रेस वार्ता करते हुए उत्तराखण्ड यूथ 20—20 क्रिकेट एसोसिएशन के महासचिव जावेद बट्ट ने बताया कि प्रतियोगिता का मकसद प्रदेश में युवा प्रतिभाओं को निखारने के लिए मंच उपलब्ध कराना है। चूंकि प्रदेश बीसीसीआई से मान्यता प्राप्त नहीं है लिहाजा यहां की प्रतिभाओं को पलायन करना पडता है। यही कारण है कि हमने इन प्रतियोगिताओं के जरिए युवाओं को मौके देने का फैसला किया है।
 
प्रदेश की 32 टीमें इसें भाग ले रही हैं। जीतने वाली टीम को 51 हजार रुपए का ईनाम दिया जाएगा, जबकि उप विजेता को 31 हजार रुपए दिए जाएंगे। जबकि प्रतियोगिता में बेहतर खेलने वाले खिलाडी को मैन ऑफ दि सीरीजि के तौर पर बाइक दी जाएगी। प्रतियोगिता का दूसरा चरण दस अक्टूबर से 18 अक्टूबर के बीच देहरादून में खेला जाएगा और 23 अक्टूबर से मसूरी में बचे हुए मैच होंगे। जबकि फाइनल देहरादून में खेला जाएगा। प्रेस वार्ता में गिरधर शर्मा, अंकुर शर्मा, धर्मेंद्र चौहान, उदयवीर सिंह पुंडीर, विकास गर्ग, अशोक गिरी आदि उपस्थित रहे।

लाखों की स्मैक के साथ नशा तस्कर गिरफ्तार

 कोटद्वार। मानपुर इलाके में आज कोटद्वार पुलिस ने एक व्यक्ति को स्मैक की 46 पुड़िया के साथ धर दबोचा है। जिसके बाद पुलिस ने गिरफ्तार आरोपी के खिलाफ केस दर्ज कर उसे जेल भेज दिया है।नशे के खिलाफ चलाए जा रहे चेकिंग अभियान के दौरान आज कोटद्वार पुलिस ने एक नशा तस्कर को गिरफ्तार कर लिया है।

जानकारी के मुताबिक गिरफ्तार आरोपी को पुलिस की टीम ने करीब 46 पुड़िया स्मैक के साथ धर दबोचा है। फिलहाल पुलिस हिरासत में आरोपी से पूछताछ जारी है। मामले की जानकारी देते हुए अपर पुलिस अधीक्षक हरीश वर्मा ने बताया कि आरोपी को चेकिंग अभियान के दौरान मानपुर क्षेत्र से स्मैक के साथ गिरफ्तार किया गया है। गिरफ्तार आरोपी से पूलिस कस्टडी में पूछताछ की जा रही है।

केदार बाबा के दर्शन के लिए पहुंची अमित शाह की बहनें

 रुद्रप्रयाग। बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की बहनें आज केदारनाथ धाम पहुंची। अमित शाह की बहनें नीना शाह और रूपा शाह ने आज केदार बाबा के दर पर माथा टेका। बता दें कि हाल ही में अमित शाह ने भी उत्तराखंड का दो दिवसीय दौरा किया था।

अमित शाह की दोनों बहनों ने केदारनाथ के दर्शन करने के बाद केदारपुरी में आपदा के बाद हुए कार्यों की सराहना की। आज सुबह ही शाह की बहनें हेलीकॉप्टर से बाबा केदारनाथ के दर्शन के लिये पहुंची। इस दौरान बदरीनाथ और केदारनाथ मंदिर समिति के अधिकारियों के साथ ही तीर्थ पुरोहित समाज ने दोनों बहनों का भव्य स्वागत किया। शाह बहनों के करीब आधे घंटे तक बाबा केदार के गर्भ गृह में पूजा-अर्चना की।

पूजा समाप्त करने के बाद दोनों बहनों ने केदारनाथ का निरीक्षण भी किया। इस दौरान उन्होंने आपदा के बाद केदारनाथ में हुए कार्यों की जानकारी ली और पुनर्निर्माण के कार्यों की सराहना की। वहीं दूसरी ओर हिमाचल हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस संजय करोल और न्यायाधीश उत्तराखंड राजीव कुमार भी आज बाबा केदारनाथ के दर्शन के लिए पहुंचे थे।

मुख्यमंत्री ने जाना तिवारी का हाल

 देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने रविवार को नई दिल्ली में पूर्व मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी के परिजनों से मुलाकात कर उनका हाल चाल जाना और उनके स्वास्थ्य के शीघ्र लाभ की कामना की। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत भाजपा की राष्ट्रीय कार्यसमिति की बैठक में शिरकत करने रविवार को दिल्ली पहुंचे।

वे 26 सितंबर तक वहीं रहेंगे। दिल्ली में रविवार को वे मैक्स अस्पताल गए और पूर्व मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी के परिजनों से मुलाकात कर तिवारी के स्वास्थ्य का हाल जाना।

 

29 से उत्तराखंड दौरे पर रहेंगे गृहमंत्री राजनाथ सिंह

 गोपेश्वर। गृहमंत्री राजनाथ सिंह तीन दिन भारत-चीन सीमा पर भारत-तिब्बत सीमा पुलिस बल (आइटीबीपी) के जवानों के साथ बिताएंगे। 29 सितंबर से शुरू हो रहे दौरे के दौरान वह अग्रिम चौकियों पर तैनात जवानों से मुलाकात के साथ ही बदरीनाथ और केदारनाथ के भी दर्शन करेंगे। गौरतलब है कि चमोली में चीन से सटी सीमा घुसपैठ की दृष्टि से अति संवेदनशील है। सूत्रों के अनुसार गृहमंत्री के आने से जवानों का मनोबल बढ़ेगा। राजनाथ सिंह 29 सितंबर को दोपहर सवा दो बजे हेलीकॉप्टर से बदरीनाथ पहुंचेंगे और माणा पास स्थित आइटीबीपी (भारत-तिब्बत सीमा पुलिस) चौकी का निरीक्षण करेंगे।  

 

इससे पूर्व वे बदरीनाथ धाम में दर्शन भी करेंगे। 30 सितंबर को सुबह नौ बजे गृहमंत्री चीन सीमा से लगी रिमखिम, बाड़ाहोती व लपथल चौकियों का निरीक्षण कर रात्रि विश्राम के लिए औली लौटेंगे। यहां उनका आइटीबीपी के बड़े खाने में शामिल होने का कार्यक्रम है। एक अक्टूबर को सुबह गृहमंत्री केदारनाथ धाम में दर्शनों के बाद आइटीबीपी कैंप गौचर पहुंचेंगे। यहां उनका आइटीबीपी व सेना के जवानों से मुलाकात का कार्यक्रम है। दोपहर पौने तीन बजे वह गौचर से दिल्ली लौट जाएंगे।

फोटो प्रदर्शनी एवं प्रतियोगिता का आयोजन

देहरादून। कैमरामैन् एसोसिएशन विभिन्न प्रकार के आयोजन करता रहा है। एसोसिएशन के द्वारा उत्तराखंड रंगमंच के 100 वर्ष पूर्ण होने के उपलक्ष्य में अभिव्यक्ति कार्यशाला नाट्य संस्था के साथ एक फोटो प्रदर्शनी एवं प्रतियोगिता का आयोजन उत्तरांचल प्रेस क्लब देहरादून परिसर में किया  किया गया । जिसका उद्घाटन उत्तरंखण्ड प्रदेश कोंग्रेस के अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने किया इस अवसर पर मौजूद रंगकर्मियों ओर पत्रकारों को सम्बोधित कर कहा कि प्रदेश के कलाकारो ने देश दुनिया मे अपना नाम कई माध्यमो से रोशन  किया और आप सभी संस्कृति प्रेमी इन परम्परागत माध्यमो के साथ नई पीढ़ी के द्वारा नव मानव निर्मित संचार माध्यमो का प्रयोग करेंगे और दुनिया के आगे एक मिसाल पेश करेंगे।आज पूरी दुनिया की आंखे हम पर लगी हैं और हम पर दायित्व है इस संस्कृति को बचाने का।र्ओ ईमानदारी से हम काम कर पाए तो दुनिया को अपना काम ओर अपने गुरुओं के नाम को सार्थक करेंगे।
 
इस अवसर पर अभिव्यक्ति कार्यशाला नाट्य संस्था के अध्यक्ष टी सी उप्रेती,महासचिव मनोज चन्दोला,हंसा अमोला,कमल मठपाल हिमाद्रि  चन्दोला,बी पी पुरोहित,सतीश कालीश्वरी,विभिन्न कॉलेजो ओर संस्थानों के छात्र छात्राओं के साथ पूर्व विधायक राजकुंमार,कोंग्रेस के पूर्व महानगर अध्यक्ष लालचन्द शर्मा, जिला पंचायत सदस्य हेमा पुरोहित,वरिष्ठ पत्रकार जितेंद्र नेगी,नवीन थलेड़ी उत्तरंखण्ड न्यूज़ केमरामेन एसोशिएशन अध्यक्ष राजेश बर्थवाल,संयुक्त सचिव मंगेश कुमार,कोषाध्यक्ष कैलाश कंडवाल मौजूद रहे वही मोके पर प्रदर्शनी में  प्रतियोगिता के जज के रूप में वरिष्ठ छायाकार एवम लेखक देवकीनन्दन पांडे,तिलक कक्कड़, भूमेश भारती भी मौजूद रहे। जिन्होंने प्रथम पुरस्कार के रूप में नवदीप सेनी(5000 रुपये), द्वितीय मिन्हाज अली(3100 रुपये), तृतीय अंशुल पुरोहित(2100 रुपये),सांत्वना पुरस्कार (501रुपये) हिमांशु बिष्ट,प्रियांशी राज,दुष्यंत राघव,दीपक भट्ट और प्रदीप को दिया गया। इन सभी छायाचित्र विजेताओं को अभिव्यक्ति संस्था द्वारा नगर निगम में एक समारोह में पुरस्कृत किया गया।

महिला साथी के साथ पुलिस के हत्थे चढ़ा इनामी माओवादी लीडर

 नैनीताल। उत्तराखण्ड सरकार को लगातार कुमांऊ की वादियों में चुनौती देने वाले माओवादियों की तलाश के लिए सरकार के मुखिया ने डीजीपी को खुले शब्दों में आदेश दिया हुआ था कि आवाम के बीच दहशत फैलाने वाले माओवादियों को पकडने के लिए गुप्त टास्क दिया जाये जिसके चलते डीजीपी ने नैनीताल के पुलिस कप्तान को एक माओवादी को सलाखों के पीछे पहुंचाने का टास्क सौंपा तो उसके बाद कप्तान ने अपनी सारी टीम व खुफिया टीम को उन माओवादियों की तलाश में लगा दिया जिन्होंने पिछले छह माह से कुमांऊ की वादियों में सरकारी सम्पत्ति जलाने व सरकार को चुनौती देने वाले पोस्टर चिपकाने का ऑपरेशन छेड रखा था। पुलिस कप्तान के बिछाये जाल में पचास हजार का फरार माओवादी व उसकी साथी महिला माओवादी को रणनीति के तहत दबोच लिया गया। हाथ आया माओवादी चमलियाल 2009 से 2014 तक झारखंड में माओवाद की ट्रेनिंग ले चुका था और 2004 में वह हशपुरखता में पकडे गये माओवादी कैंप से फरार हो गया था। देशद्रोही गतिविधियों व कई गम्भीर धाराओ में माओवादी के खिलाफ मुकदमें दर्ज हैं और अल्मोडा, सोमेश्वर सहित कई जगह सरकार विरोधी पोस्टर लगाने में उसका हाथ था और अब वह पंचेश्वर बांध के विरोध के लिए माओवादियों को सरकार के खिलाफ खडा करने का मिशन चला रहा था।

 
आज जनपद नैनीताल के पुलिस कप्तान जन्मेजय खंडूरी ने रणनीति के तहत पचास हजार के ईनामी माओवादी देवेंदर चमियाल व उसकी सहयोगी भगवती भोज को चैकिंग के दौरान गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल कर ली। इस ईनामी मोओवादी को खोजने के लिए देश की खुफिया एजेंसियां वर्षों से लगी हुई थी। सूत्रों के अनुसार पुलिस मुखियां अनिल रतूडी ने एसएसपी नैनीताल जन्मेजय खंडूरी को इन माओवादियों को पकड़ने का टास्क दिया तो उन्होंने न सिर्फ इस चैलेंज को स्वीकार किया और दो दो खुंखार माओवादियों को सलाखों के पीछे डाल पूरे देश में उत्तराखण्ड़ की खाकी का इकबाल बुलन्द कर दिया। एसएसपी खंडूरी ने उस माओवादी को पकड़ के दिखा दिया जिसको पूरे देश की खुफियां एजेंसी नहीं खोज सकी और जो पिछले दस साल से देश की पुलिस और खुफियां तंत्र की नीदें उड़ाए हुये था, जिसके सर पर 50,000रू का ईनाम रखा हुआ था। आज एसएसपी खंडूरी ने खुलासा करते हुये बताया कि पुलिस ने दो माओवादियों को पकड़ा है जिसमें से एक का नाम देवेन्द्र चमियाल है, जिसके उपर पचास हजार रू का ईनाम रखा हुआ था, उन्होंने बताया कि देवेन्द्र के उपर देश विरोधी कई मुकदमें दर्ज है और साथ ही कई संगीन धाराओं में इसके उपर दर्जनों मुकदमें दर्ज है, एसएसपी ने बताया कि माओवादी चमियाल 2009 से 14 तक झारखण्ड में ट्रेनिग ले चुका है, 2004 में हशपुरखत्ता में पकड़े गए माओवादी केम्प से हुआ था फरार, जिसको खोजने के लिये देश की सुरक्षा एजंेसी लगी हुई थी, एसएसपी ने बताया कि कुमांऊ रेंज में पिछले कुछ समय में जो भी माओवादी घटनाये हुई है, भले वो पोस्टर चस्पा करने की हो या सरकारी वाहन जलाने की, या चुनाव के समय पर आवाम को भड़का कर गलत कार्य कराने की, वो सारे कार्य चमियाल और उसकी सहयोगी ने किये है, अल्मोड़ा, सोमेश्वर, धारी सहित जहां भी मोआवादी वारदातें हुई है वो सब इन दोनों की है और अब इसके बाद ये दोनों चमपात के पंचेश्वर बाँध के विरोध के लिये पूरा खाका तैयार किया हुआ था और अल्मोड़ा से सितारगंज चोर गलिया होते हुये बस से जा रहे थे। एसएसपी ने बताया कि जैसे ही उनको, चुप्त चरों द्वारा ये सूचना मिली की देश के बड़े माओवादी किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने के लिये अल्मोड़ा से बस में रवाना हुये है तो जनपद की पुलिस को एक्टिव कर दिया गया और वो स्वंय मैदान में उतर पूरी कमान अपने हाथों में थाम ली जिसके बाद पुलिस के हाथ ये सफलता लगी। डीजीपी ने माओवादियों को पकडने वाली पुलिस टीम को बीस हजार रूपये नगद ईनाम देने की घोषणा की।

महिला पुलिसकर्मी ने पेश की ईमानदारी की मिशाल

 देहरादून। उत्तराखंड पुलिस में तैनात एक महिला पुलिसकर्मी ने नोटों से भरा पर्स उसके मालिक को वापिस कर ईमानदारी की मिसाल कायम की है। क्लेमनटाउन थाने में तैनात उक्त महिला पुलिसकर्मी की ईमानदारी के किस्से रविवार को सुर्खियों में छाये रहे। प्राप्त जानकारी अनुसार बीते शनिवार को रिक्रूट महिला आरक्षी मीना सकलानी को पोस्ट ऑफिस रोड क्लेमेंटाउन में एक पर्स लावारिस हालत में पड़ा हुआ मिला। जिसमें कई एटीएम कॉर्ड, पैन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, अन्य महत्वपूर्ण दस्तावेज व 7 हजार रुपये थे।

 
ड्राइविंग लाइसेंस व अन्य दस्तावेजों पर रितेश सौरभ पुत्र उमाशंकर प्रसाद निवासी 303 अल्फा टावर, हरिद्वार बाईपास रोड देहरादून का नाम अंकित था। थाना कार्यालय से हेड मोहर्रिर विजय प्रताप सिंह व कार्यालय स्टाफ द्वारा काफी प्रयास कर रितेश सौरव के संबंध में जानकारी की गयी, जो वर्तमान में जियो रिलायंस मार्केट जीएमएस रोड देहरादून में कार्यरत है, को उनके खोये हुये पर्स को सम्बन्ध में सूचित किया गया।इसके बाद रविवार को रितेश सौरव उपरोक्त थाने पर आए। रितेश सौरव को उनका पर्स जिसमें महत्वपूर्ण दस्तावेज व 7000 रुपये नगद थे। महिला रिक्रूट आरक्षी मीना सकलानी के द्वारा ईमानदारी दिखाते हुए उक्त पर्स को उसके असली मालिक को सुपुर्द किया गया। रितेश सौरव द्वारा क्लेमनटाऊन पुलिस का आभार प्रकट करते हुये पुलिस के उक्त कार्य की प्रशंसा की गयी।

चार सौ से अधिक सहाकारी समितियां होंगी बंद

 देहरादून। एक ओर सरकार सहकारिता को बढ़ावा देने के प्रयास कर रही है वहीं दूसरी ओर सहकारिता के क्षेत्र में लम्बे समय से पंजीकृत चार सौ से अधिक सहकारी समितियों को बंद करने के लिए फरमान जारी किया गया है। हालांकि सरकार का कहना है कि यह समितियां सिर्फ कागजो में ही सीमित रह गयी हैं। सहकारी समितियां उत्तराखण्ड के निबंधक कार्यालय द्वारा राज्य की चार सौ पच्चीस सहकारी समितियों को बंद करने के लिए कार्रवाई शुरू कर दी गयी हैं। इसके तहत ऐसी सहकारी समितियों की सूची जारी की गयी है जो कि लम्बे समय से काम नहीं कर रही हैं। सरकारी कागजों में ये समितियां पंजीकृत तो हुयी लेकिन इसके बाद से इनका कुछ भी पता नहीं है कि ये काम कर भी रही हैं या नहीं। इनका पंजीकरण के बाद से न तो कोई आय व्यय का ब्यौरा दर्ज हुआ है और न ही इनका किसी भी तरह का चुनाव हुआ है।

इन सभी समितियों में वर्तमान में कोई पदाधिकारी या संचालक है भी नहीं यह पता ही नहीं है। बताया जा रहा है कि नियमानुसार सरकार द्वारा तय किये गये समय पर इन सभी को अपना चुनाव करा कर नया संचालक मंडल गठन करना और उसकी सूचना निबंधक कार्यालय को देना जरूरी है। इसके साथ ही प्रत्येक साल का आय व्यय का ब्यौरा भी निबंधक कार्यालय में जमा कराना अति आवश्यक है। यही नहीं किसी भी तरह की गतिविधि की सूचना भी निबंधक कार्यालय को देनी होती है। लेकिन इन समितियों के द्वारा किसी भी तरह की कोई जानकारी निबंधक कार्यालय में नहीं दी गयी है। इसके अलावा एक भी समिति ने किसी तरह की कोई चुनावी सूचना नहीं दी। इसमें कई तो वेतनभोगी ऋण सहकारी समितियां हैं जो कि कर्मचारियों के द्वारा गठित की गयी है लेकिन इनकी भी कोई जानकारी सरकार के पास नहीं है। इस पूरे मामले में उप निबंधक ईरा उप्रेती का कहना है कि जिन समितियों को बंद करने का  नोटिस दिया गया है उनकी पिछले कई सालों का कोई भी ब्यौरा विभाग के पास नहीं है। इसी के चलते इनको सार्वजनिक नोटिस जारी किया गया है, यदि कोई भी समिति का संचालक अपना दावा पेश करता है तो उससे ब्यौरा मांगा जाएगा और यदि पन्द्रह दिनों में कोई भी ब्यौरा प्राप्त नहीं होगा तो समिति को तत्काल प्रभाव से समाप्त कर दिया जाएगा।

 

फर्जी ट्वीट के खिलाफ खंडूड़ी की बेटी ने पुलिस में दी तहरीर

देहरादून। विगत 20 सितंबर को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने उत्तराखंड में पार्टी के भीतर किसी भी तरह के विवाद होने से इंकार किया था। जिसके एक दिन बाद ही 23 सितंबर को ट्विटर पर पूर्व मुख्यमंत्री खंडूड़ी का दर्द छलक उठा। हालांकि बताया जा रहा है कि खंडूड़ी का अकाउंट किसी ने हैक कर लिया है। आपको बता दें कि उन्होंने ट्वीट कर कहा कि उन्होंने पार्टी की पूरी तरह से सेवा की है वह पार्टी से किसी भी तरह से नाराज नहीं है। इसके साथ ही उन्होंने कहा है कि आज की राजनीति हिंदी फिल्म की तरह हो गई है। वहीं पूर्व मुख्यमंत्री भुवन चंद्र खंडूड़ी का यह ट्वीट ऐसे समय में आया जब महामहिम राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का देवभूमि में आगमन हुआ। वहीं एक ओर प्रदेश में महामहिम राष्ट्रपति थे, वहीं दूसरी ओर पूर्व मुख्यमंत्री बीसी खंडूड़ी की नाराजगी है।
 
 
लेकिन इन सबसे हटके मामला यह हैं कि कल बीसी खंडूड़ी की बेटी रितु खंडूड़ी ने दून के नेहरू कॉलोनी थाने में अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाया है। रितु खंडूड़ी का कहना है कि मेरे पिताजी की राजनीतिक छवि खराब की जा रही है। ट्विटर पर उनके फर्जी अकाउंट बनाकर मैसेज वायरल किए जा रहे हैं जो कि एक निंदनीय कदम है। जिसके चलते उन्होंने नेहरू कॉलोनी थाने में जाकर एसएसपी को मामले की तहरीर दी। जिसपर पुलिस ने आईटी एक्ट और 420 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है। आपको बता दें कि पूर्व मुख्यमंत्री बीसी खंडूड़ी के ट्विटर अकाउंट से कुछ मैसेज किए गए थे, जिनके मुताबिक ऐसा प्रतीत हो रहा है कि बीसी खंडूड़ी अपनी पार्टी से नाराज हैं जिसके चलते उन्होंने यह मैसेज किया है। लेकिन मामला तब जाकर उल्टा पड़ गया जब उनकी बेटी रितु ने पुलिस में तहरीर दी। वहीं पूरे मामले पर खंडूड़ी का कहना है कि उन्होंने ऐसा कोई ट्वीट नहीं किया है।
 

केदारनाथ में पूजा-अर्चना के बाद महामहिम पहुंचे बदरीनाथ

 रुद्रप्रयाग। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद उत्तराखंड में अपने दो दिवसीय दौरे पर हैं। कल हरिद्वार के हर की पैड़ी पर गंगा पूजन करने के बाद उन्होंने केदारनाथ पहुंच पूजा-अर्चना की। इसके बाद उन्‍होंने गौचर के लिए उड़ान भरी। यहां कुछ देर विश्राम करने के बाद वह बदरीनाथ के लिए रवाना हो गए। आपको बता दें सुबह करीब 7:00 बजे राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सेना के हेलीकॉप्‍टर से दून से केदारनाथ के लिए उड़ान भरी। जिसेक बाद करीब आठ बजे वह केदारनाथ पहुंचे। यहां तीर्थपुरोहित और अधिकारियों ने उनका स्‍वागत किया। सुबह करीब 8:30 बजे राष्‍ट्रपति कोविंद ने मंदिर में प्रवेश किया और करीब 20 मिनट तक पूजा अर्चना की। इसके साथ ही उन्होंने बाबा का महाभिषेक भी किया। 

 
वहीं केदारनाथ के दर्शन करने वाले रामनाथ कोविंद देश के चौथे राष्ट्रपति हैं। इस दौरान बदरी-केदार मंदिर समिति के अधिकारियों ने भी उनका जमकर स्वागत किया। राष्ट्रपित बनने के बाद यह उनका पहला दौरा है। फिलहाल राष्ट्रपति केदारनाथ से बदरीनाथ पहुंच चुके हैं। यहां जिलाधिकारी आशीष जोशी एस.पी तृप्ति भट्ट सहित तमाम अधिकारियों ने उनका स्वागत किया। इस दौरान प्रदेश के राज्यपाल के.के.पाल, मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत भी मौजूद रहे।

अपने ही आदेश को भूले सीएम त्रिवेंद्र

  देहरादून। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने शपथ लेने के दो महीने बाद ही ये सर्कुलर जारी किया था कि राज्य सरकार के मंत्री और मुख्यमंत्री उत्तराखंड पधारने वाले मेहमानों का स्वागत पारंपरिक फूलों के बुके से नहीं बल्कि पुस्तकों से करेंगे लेकिन लगता है सीएम अपने ही फरमान को भूल गए हैं। दरअसल, आज महामहिम राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद अपने उत्तराखंड दौरे पर पहुंचे हैं।

दिल्ली से देहरादून के जॉलीग्रांट एयरपोर्ट पहुंचे महामहिम का स्वागत करने खुद राज्यपाल केके पॉल और मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत पहुंचे थे। बारिश के बाद भी एयरपोर्ट पर राष्ट्रपति का बखूबी गार्ड ऑफ ऑनर देकर स्वागत किया गया। लेकिन राष्ट्रपति की अगुवाई के दौरान राज्यपाल केके पॉल और सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने उन्हें भारी भरकम बुके देकर स्वागत किया। बता दें कि मुख्यमंत्री ने तमाम कार्यक्रमों में भी ये आदेश लागू करते हुए लोगों से अपील की थी कि वह किसी भी मेहमान को बुके ना दें बल्कि किताबों से उनका स्वागत करें। लेकिन आज खुद के ही फरमान को सीएम भूल गए

मकान ढहने से मलबे में दबे दो किशोर, एक की मौत

 देहरादून। प्रदेश में भूस्खलन और जलभराव से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। जिले में लगातार हो रही भारी बारिश के चलते एक मकान ढहने से दो किशोर मलबे में दब गए। एसडीआरएफ ने दो घायलों को मलबे से निकाला और उन्‍हें अस्‍पताल में भर्ती कराया। जहां पर एक किशोर की मौत हो गई। बता दें कि घटना नेशविला रोड से आगे डंगवाल मार्ग की है। जहां पर भारी बारिश की वजह से एक निर्माणाधीन मकान ढह गया।

हादसे में कमरे सो रहे दोनों बच्चे मलबे के नीचे आ गए। सूचना पाकर मौके पर पहुंची एसडीआरएफ और पुलिस ने 4 घंटे तक रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया गया। रेस्क्यू के दौरान में पुलिस और एसडीआरएफ टीम ने कड़ी मशक्कत के बाद दोनों घायल बच्चों को निकाला। आनन फानन में दोनो बच्चों को अस्पताल ले जाया गया। जहां पर एक बच्चे की हालत ठीक है जबकि दूसरे बच्चे की मौत हो गई। 

राष्ट्रपति के केदारपुरी आगमन पर बारिश बन सकती है मुसीबत

रुद्रप्रयाग। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद केदारनाथ धाम पहुंच रहे हैं, लेकिन उनकी यात्रा में मौसम खलल पैदा कर सकता है। मौसम विभाग की 36 घंटे की भारी बारिश के बाद शनिवार को दिनभर बरसात जारी रही। भारी बारिश के बावजूद प्रशासन तैयारियों में जुटा रहा। वहीं राष्ट्रपति आगमन को लेकर तीर्थ पुरोहितों में खुशी का माहौल बना है। उनकी माने तो केदारनाथ विकास प्राधिकरण को लेकर महामहिम राष्ट्रपति से बातचीत की जायेगी और केदारनाथ में प्राधिकरण को लागू न किये जाने की मांग की जायेगी। 
 
देश के प्रथम नागरिक राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद केदारनाथ और बद्रीनाथ की यात्रा में पहुंच रहे हैं। राष्ट्रपति के दौरे को लेकर प्रशासन ने सभी तैयारियां भी पूरी कर ली हैं, मगर उनकी मेहनत पर पानी फेरने का काम इन्द्रदेव कर सकते हैं। शनिवार को दिनभर भारी बरसात के बाद राष्ट्रपति के दौरे को लेकर संशय बन गया है। मौसम विभाग की ओर से भी 36 घंटे की भारी बारिश की चेतावनी दी गई है। यदि इसी तरह रविवार को भी बारिश जारी रही तो राष्ट्रपति का केदारनाथ दौरा टल सकता है और अधिकारियों की मेहनत पर पानी फिर सकता है। इसके अलावा नेशनल और रीजनल मीडिया भी केदारनाथ पहुंच गया है और राष्ट्रपति की इंतजारी कर रहा है। भारी बरसात के कारण केदारपुरी में मौसम भी ठंडा हो गया है। बदलते मौसम के कारण केदारपुरी का नजारा भी बदल गया है। वहीं निचले क्षेत्रों में भी ठंड ने दस्तक दे दी है। कुछ दिनों से गर्मी से परेशान लोगों को बारिश ने निजात देते हुए ठंड का अहसास करा दिया है। राष्ट्रपति के केदारनाथ आगमन को लेकर तीर्थ पुरोहितों में खुशी का माहौल भी बना है तो प्रशासन की ओर से दुकानों को हटाये जाने पर मायूसी भी छाई है।
 
वरिष्ठ तीर्थ पुरोहित उमेश पोस्ती, केदारसभा के अध्यक्ष विनोद शुक्ला, महामंत्री कुबेरनाथ पोस्ती, रूपक शुक्ला, सुरेन्द्र शुक्ला, राहुल सेमवाल, प्रवीण तिवारी ने कहा कि चौथे राष्ट्रपति के रूप में रामनाथ कोविंद केदारनाथ यात्रा पर आ रहे हैं, लेकिन उनके आगमन से स्थानीय व्यापारियों का नुकसान हुआ है। दो वक्त की रोटी के लिए व्यापारियों द्वारा लगाई गई दुकानों को प्रशासन ने राष्ट्रपति आगमन के कारण हटा दी। राष्ट्रपति आगमन के दो दिन पूर्व ही व्यापारियों की दुकानों को हटाया जाना कहां तक जायज है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति का केदारनाथ बाजार का कोई कार्यक्रम नहीं थी, फिर भी व्यापारियों की रोजी-रोटी को हटाया गया, यह न्यायोचित नहीं है। तीर्थ पुरोहितों ने कहा कि केदारनाथ में भारी बारिश के कारण यात्री पहले ही परेशान हैं। ऊपर से उन्हें पूजा की सामाग्री भी नहीं मिल पा रही है और खाने-पीने की सामग्री के लिए यात्री भटक रहे हैं। प्रशासन को यात्रियों और व्यापारियों से कोई लेना-देना नहीं है। सरकारी अधिकारी ड्यूटी करने के बाद चले जायेंगे, लेकिन व्यापारियों का भारी नुकसान हो जायेगा। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से केदारनाथ विकास प्राधिकरण को हटाये जाने की भी मांग रखी जायेगी। साफ तौर पर कहा जायेगा कि यदि केदारनाथ में प्राधिकरण को नहीं हटाया गया तो तीर्थ पुरोहित आंदोलन का बिगुल फूंक देंगे। 

राष्ट्रपति के केदारनाथ आगमन को लेकर तैयारियों में प्रशासन

रुद्रप्रयाग। भारत के नवनियुक्त राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के केदारनाथ आगमन को लेकर तैयारियां पूरी कर ली गई है। शनिवार को दिनभर मौसम खराबी के बावजूद भी प्रशासन तैयारियों में जुटा रहा। एक तरफ राष्ट्रपति के केदारनाथ दौरे को लेकर प्रशासन धामों में व्यवस्थाएं जुटाने में लगा रहा, वहीं जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक भी अपनी ओर से व्यवस्थाओं का लगातार जायजा लेते रहे। 
 
रविवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद बाबा केदारनाथ के दर्शन करेंगें। राष्ट्रपति आगमन की तैयारियों को लेकर जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक भी केदारनाथ में मौजूद हैं। डीएम मंगेश घिल्डियाल और पुलिस अधीक्षक पीएन मीणा भारी बारिश के बावजूद भी केदारनाथ में व्यवस्थाओं का जायजा लेते रहे और कर्मियों को ब्रीफ करते रहे। राष्ट्रपति श्री कोविंद 24 सितम्बर को सुबह 7 बजकर 25 मिनट पर एमआई 17 हेलीकप्टर से केदारनाथ हैलीपैड में लैडिंग करेंगे और 8 बजकर 35 मिनट पर गौचर के लिए रवाना होंगें। साथ ही राष्ट्रपति कोविंद इस दौरान केदारपुरी का भी जायजा लेंगें और फिर ल्वाणी गांव निवासी अपने तीर्थपुरोहित भगवती प्रसाद बगवाड़ी के साथ रूद्रमहाभिषेक व अन्य पूजाएं करेंगें।
 
इस मौके पर मंदिर समिति राष्ट्रपति को भगवान केदारनाथ की काष्ठ निर्मित प्रतिमूर्ति, स्थानीय मिठाई, रोट व अड़से भेंट करेगी और प्रशासन स्थानीय रिंगाल की टोकरी में स्थानीय उत्पादों से बने बाबा केदार के प्रसाद को भेंट करेगा। राष्ट्रपति के दौरे के दौरान 2013 की आपदा में हुई तबाही के गवाह के तौर पर धाम की थ्री लियर प्रोटेक्शन वल पर बन रही थ्रीडी पेंटिग को भी देखेंगे।
 
राष्ट्रपति की सुरक्षा के लिए हैलीपैडों को आरक्षित कर दिया गया है और अस्थाई व्यवस्था के लिए जाखधार स्थित चारधाम के हेलीपैड को भी आरक्षित किया गया है। 24 सितम्बर को केदारपुरी में नो फ्लाइंग जोन रहेगा और यह व्यवस्था तब तक जारी रहेगी जब तक राष्ट्रपति गौचर नहीं पहुंच जाते। सुरक्षा के लिहाज से धाम में जिलाधिकारी समेत 24 मजिस्ट्रेटों की तैनाती रहेगी। साथ ही एक एएसपी, दो एसपी,  6 सीओ, 10 इन्सपेक्टर, 20 एसआई, पांच महिला एसआई, 28 हेड कांस्टेबल व 450 पुलिस के जवान मौजूद हैं। जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने बताया कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के केदारपुरी आगमन को लेकर तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। शनिवार को पूरे दिनभर बारिश होने के बावजूद भी अधिकारी-कर्मचारी तैयारियों में जुटे रहे। उन्होंने बताया कि केदारनाथ मंदिर के चारों ओर बेरिकेटिंग की गई है, जिससे राष्ट्रपति के आगमन के दौरान कोई व्यक्ति भीतर न घुसे। उन्होंने कहा कि सुरक्षा के लिहाज से केदारपुरी को छावनी में तब्दील किया गया है। 

भारी बरसात के चलते बद्रीनाथ हाईवे सिरोबगड़ में बंद

रुद्रप्रयाग। जिले में दो दिनों से हो रही बारिश के कारण आम जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। बारिश है कि थमने का नाम नहीं ले रही है। केदारघाटी में जोरदार बारिश जारी है, जिससे आपदा प्रभावित लोगों के माथे पर चिंता की लकीरे पडऩे लगी है। वहीं भारी बारिश के चलते बद्रीनाथ हाईवे सिरोबगड़ में बंद हो गया है। फिलहाल व्यवस्था के तौर पर वैकल्पिक मार्ग छांतीखाल-डुंग्रीपंथ मार्ग से आवाजाही की जा रही है। इसके साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों को जोडऩे वाले छ: लिंक मार्ग बंद पड़े हुए हैं, जिस कारण ग्रामीण जनता को मीलों का सफर पैदल तय करना पड़ रहा है।
 
दरअसल, मौसम विभाग की चेतावनी के अनुसार जिले में बारिश का क्रम जारी है। भारी बारिश के चलते जनजीवन भी प्रभावित होने लगा है। जहां बारिश ने ग्रामीण क्षेत्रों को सडक़ मार्ग से अलग कर दिया है, वहीं बद्रीनाथ हाईवे भी जगह-जगह नासूर बन गया है। बद्रीनाथ हाईवे के सिरोबगड़ में भारी मात्रा में बोल्डर और पत्थर आये हैं, जिन्हें साफ करने में लोक निर्माण विभाग राष्ट्रीय राजमार्ग खण्ड को समय लगेगा। लगातार बरसात होने से राजमार्ग को खोलने में दिक्कतें आ रही हैं। ऐसे में व्यवस्था के तौर पर खांखरा-छांतीखाल मोटरमार्ग से आवाजाही की जा रही है, जिससे यात्रियों को अतिरिक्त सफर तय करना पड़ रहा है। सोचनीय बात यह भी है कि दो दशक से सिरोबगड़ डेंजर जोन का समाधान नहीं हो पाया है और हर बरसात में राजमार्ग बाधित हो जाता है, जिस कारण यात्रियों को भारी दिक्कतें झेलनी पड़ती है। विभाग की ओर से राजमार्ग पर करोड़ों रूपये खर्च किये जा रहे हैं।
 
सिरोबगड़ की पहाडि़यां विभागीय अधिकारियों के लिए सफेद हाथी साबित हो रही हैं। बारिश के चलते ग्रामीण क्षेत्रों को जोडऩे छ: से अधिक लिंक मार्ग बंद पड़ गये हैं। जगह-जगह मोटरमार्गों के मलबा और बोल्डर आया हुआ है, जिसे साफ कराने की जहमत विभागीय अधिकारी नहीं उठा रहे हैं। ऐसे में ग्रामीण जनता को रोजमर्रा की जरूरतों को पीठ पर ढोकर ले जाना पड़ रहा है। भाजपा किसान मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष मदन सिंह रावत ने कहा कि बारिश के कारण आम जनजीवन प्रभावित हो रहा है। बारिश से सबसे अधिक असर ग्रामीण क्षेत्रों में पड़ रहा है। मोटरमार्ग के साथ ही पैदल संपर्क मार्ग भी क्षतिग्रस्त हो गये हैं। रुद्रप्रयाग-चोपता-पोखरी मोटरमार्ग दुर्गाधार में जानलेवा बना हुआ है। यहां पर मार्ग का एक बड़ा हिस्सा ढह गया है, जिस कारण वाहनों की आवाजाही में दिक्कतें हो रही हैं। कहा कि केदारघाटी के आपदा प्रभावित लोग डरे और सहमे हुए हैं। आज तक 472 आपदा प्रभावित परिवारों का विस्थापन नहीं हो पाया है। विस्थापन न होने से आपदा प्रभावित बरसात में घरों को छोडऩे के लिए मजबूर हो जाते हैं। उन्होंने कहा कि सिरोबगड़ का समाधान किया जाना अत्यंत जरूरी है। अधिकारियों के लिए सिरोबगड़ की पहाडि़यां सफेद हाथी साबित हो रही है। मलबा साफ करने के नाम पर करोड़ों रूपये का गबन किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जनता की समस्याओं को देखते हुए शीइा्र समाधान किया जाना आवश्यक है। 

नगर पंचायत क्षेत्र में चलाया स्वच्छता अभियान

 रुद्रप्रयाग। नगर पंचायत अगस्त्यमुनि क्षेत्र में स्वच्छता ही सेवा कार्यक्रम के तहत व्यापक जन जागरूकता एवं सामुदायिक भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए नगर पंचायत, सेना एवं आम नागरिकों ने स्वच्छता अभियान लगाया। अभियान के तहत रामलीला मैदान से मंदाकिनी नदी तट के किनारों पर सफाई अभियान चलाते हुए कूड़ा एकत्रित किया गया। 

कार्यक्रम में नगर पंचायत अध्यक्ष अशोक खत्री ने कहा कि स्वच्छता में सामुदायिक भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए व्यापक जन जागरूकता अभियान चलाया जायेगा। लोगों से अपील की जायेगी कि अपने आस-पास सफाई बनाये रखें और कूड़े को यत्र-तत्र न फैंकते हुए एक जगह पर रखें। जिससे गंद्गी भी न फैले और साफ-सफाई बनी रहे। उन्होंने कहा कि देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी स्वच्छता को लेकर खासे चिंतित हैं। हमें उनके सपनों को गंद्गी को दूर करते हुए साकार करना है। गंद्गी से सिर्फ नुकसान पहुंचता है और बीमारियां भी होती है।

चारों ओर स्वच्छता रहने से ही मस्तिष्क भी स्वच्छ रहेगा और बीमारी भी नहीं फैलेगी। उन्होंने कहा कि यदि कोई व्यक्ति कूड़ा फैंके जाने पर पकड़ा जाता है तो उसके खिलाफ पांच हजार का जुर्माना व सजा का प्रावधान है। नगर पंचायत की ओर से घर-घर से कूड़ा उठाने की व्यवस्था की गई है, जिसके तहत घरों में सूखा कूड़ा व गीला कूड़ा अलग-अलग जगहों पर रखें और सफाई कर्मचारी के आने पर कूड़ा दें। इस मौके पर तहसीलदार श्रेष्ठ गुनसोला, सब इंस्पेक्टर पवन सिंह, नायक कुलदीप सिंह, रायफल मैन अजय कुमार, सनी कुमार, सतीश कुमार, धीर सिंह, राम रतन, राकेश कुमार, हषवद्र्घन सिंह, बृजमोहन, अशोक कंडारी सहित कई मौजूद थे।

सार्इं इंस्टीट्यूट में नेगी की पुस्तक का विमोचन

 देहरादून। सार्ई इंस्टीट्यूट ऑफ पैरामेडिकल एण्ड ए़ेलाइड सांईसेज में हेमवती नंदन बहुगुणा विश्वविद्यालय श्रीनगर गढवाल के प्रौढ सतत शिक्षा एवं प्रसार विभाग एवं एच$ई$सी ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूट कनखल हरिद्वार के सौजन्य से प्रख्यात लोक गायक नरेन्द्र सिंह नेगी द्वारा लिखित पुस्तक नरेन्द्र सिंह नेगी के गीतों में जन सरोकार का लोकापर्ण किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि कुलपति देव सुमन विश्वद्यिालय प्रो0 यू$एस रावत और विशिष्ट अतिथि कर्नल अजय कोठियाल एवं प्रो$ डी$एस नेगी माननीय प्रति कुलपति गढवाल विश्वविद्यालय रहे। सांई इंस्टीट्यूट के सभागार में आयोजित कार्यक्रम में पुस्तक पर परिचर्चा भी रखी गयी जिसमें उपस्थित विद्घानों ने प्रतिभाग किया।

कार्यक्रम के संयोजक श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0यू0एस रावत ने नेगी का सम्मान किया। इस अवसर पर नेगी ने अपनी पुस्तक के विषय में उपस्थित दर्शकों को जानकारी दी। वहीं कॉलेज के चैयरमैन हरीश अरोड़ा ने कहा कि विश्वविद्यालय के इस प्रकार के बौद्घिक आयोजन और बुद्घिजिवियों की इस परिचर्चा से यहां उपस्थित सभी छात्र एवं छात्राओं को सीखने का मौका मिलेगा। उन्होने इस प्रकार के कार्यक्रम भविष्य मेें भी करने रहने की भी बात कही। वहीं संस्थान की चैयरपर्सन श्रीमती रानी अरोड़ा ने नरेन्द्र सिंह नेगी जी का जनसरोकार विषय पर परिचर्चा को महत्वपूर्ण बताया उन्होने कहा कि आज के लोकगीतों में जनसरोकार के मुद्दे लगभग लुप्त हो चुके हैं और नेगी जी हमेशा से ही अपने गीतों के माध्यम से जन मन तक पहुंचते रहे हैं। इस अवसर पर डॉ$नंद किशोर हटवाल, संपादक मण्डल प्रो$ डी$ आर $पुरोहित, डॉ$ एस$पी सती, डॉ$ प्रकाश थपलियाल, बीना बेंजवाल, डॉ$ सविता मोहन, इन्द्रेश मैखुरी, वीरेन्द्र पंवार, कर्नल अजय कोठियाल, प्रो$ डी$एस नेगी, डॉ$ ए$पी$एस नेगी, डॉ$ मनोज सुन्द्रियाल, के साथ ही संस्थान के सी$ई$ओ$रि0 मेजर रनवीर मलिक, डीन डॉ वी$डी शर्मा, प्रिसिंपल डॉ संध्या डोगरा, डॉ$ जितेन्द्र सिन्हां, बी$एस परमार, आर$के सूद और विभागों के विभागाध्यक्ष एवं शिक्षकगण भी मौजूद रहे।

देवभूमि आना मेरा सौभाग्य : राष्ट्रपति

 देहरादून। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद शनिवार को अपने दो दिवसीय दौरे पर उत्तराखंड पहुंचे। राष्ट्रपति बनने के बाद उनका देवभूमि का यह पहला दौरा है। जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर राज्यपाल डॉ$ कृष्ण कांत पाल व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का स्वागत किया। भारतीय सेना द्वारा राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। भारी बारिश के बीच महामहिम राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सपरिवार हरकी पैड़ी पहुंचे। वहां ब्रह्मकुंड पर श्रीगंगा सभा के 11 पुरोहितों ने वैदिक मंत्रोच्चार के साथ गंगा पूजन कराया।

इस दौरान राज्यपाल डा. केके पल और मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत भी मौजूद रहे। शनिवार दोपहर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद विशेष विमान से दिल्ली से जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर उतरे। यहां प्रदेश के राज्यपाल डा. केके पल, प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, प्रदेश के मुख्य सचिव पुलिस के डीजीपी सहित एयरपोर्ट पर मौजूद आलाधिकारियों ने उनका स्वागत किया। एयरपोर्ट पर उपस्थित पुलिस दस्ते ने राष्ट्रपति को गार्ड आफ आर्नर दिया। मौसम खराब होने की वजह से उनका काफिला सडक़ मार्ग से हरिद्वार के लिए रवाना हुआ। राष्ट्रपति ने हरिद्वार में गंगा पूजन के बाद कुछ समय दिव्य प्रेम सेवा मिशन में बिताया। रविवार को उनका केदारनाथ और बदरीनाथ में दर्शनों को जाने का कार्यक्रम है और फिर वह दिल्ली लौट जाएंगे। इस अवसर पर मुख्य सचिव एस$ रामास्वामी, पुलिस महानिदेशक अनिल कुमार रतूड़ी, कमान्डेंट आई$एम$ए$ एस$के$झा, मेजर जनरल जे$एस$यादव आदि ने भी राष्ट्रपति कोविंद का स्वागत किया।

महंतों से मिले कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष

 हरिद्वार। योगऋषि बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण ने भी अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय प्रवक्ता महंत मोहनदास के लापता होने पर चिन्ता जताई और महंत महेश्वरदास और महंत रघुमुनि महाराज और महंत दुर्गादास, महंत सुखदेव मुनि से महंत मोहनदास के लापता होने के बारे में विचार विमर्श किया। पंचायती उदासीन बड़ा अखाड़े में संतों महंतों से कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने मुलाकात की। इस अवसर पर संतों महंतों द्वारा विगत दिनों रहस्यमय परिस्थिति में गायब हुए कोठारी महंत मोहनदास की सकुशल बरामद्गी को लेकर वार्ता की। इस अवसर पर प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने संतों के समक्ष बोलते हुए कहा कि पुलिस प्रशासन की नाकामी साफ तौर पर दिखाई पड़ रही है। प्रदेश में कानून नाम की कोई चीज दिखाई नहीं दे रही है। संत समाज ही सुरक्षित नहीं हैं तो आमजनमानस का क्या होगा। उन्होंने कहा कि कोठारी महंत मोहनदास की सकुशल बरामद्गी त्वरित होनी चाहिये। पुलिस के आला अधिकारियों को टीमें बनाकर कार्य करना होगा।

उन्होंने कहा कि संत समाज सदैव ही समाज को अपनी सेवायें देते चले आ रहे हैं। मनुष्य कल्याण में संत समाज की भूमिका को कभी भुलाया नहीं जा सकता है। उन्होंने संतों को आश्वासन देते हुए कहा कि पुलिस के आला अधिकारियों से वार्ता की जायेगी। साथ ही राज्य के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत को त्वरित घटना का संज्ञान लेना चाहिये। रहस्यमय परिस्थिति में लापता कोठारी महंत की वापसी अवश्य होनी चाहिये। इस दौरान बड़ी संख्या में कांग्रेसी कार्यकर्ता भी अखाड़े में मौजूद रहे। जयराम पीठाधीश्वर स्वामी ब्रह्मस्वरूप ब्रह्मचारी ने कहा कि कोठारी महंत मोहनदास की 8 दिन बाद भी पुलिस पता नहीं लगा पाई है पुलिस अपनी जांच को तीळ्रता से बढ़ाते हुए रहस्मय परिस्थिति में गायब कोठारी महंत मोहनदास को सकुशल बरामद करे वरना 02 अक्टूबर से भारत साधु समाज, षड़दर्शन साधु समाज सडक़ों पर उतरकर पूरे देश में आंदोलन करेगा। पंचायती बड़ा उदासीन के महंत महेश्वरदास महाराज ने अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय प्रवक्ता महंत मोहनदास का 8 दिन बाद भी पता न लगने पर रोष व्यक्त करते हुए कहा कि बड़े दुख की बात है कि उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत महंत मोहनदास की गुमशुद्गी को लेकर गंभीर नहीं दिख रहे। क्योंकि अगर इस मामले में मुख्यमंत्री रूचि लेते तो 8 दिन तक महंत मोहनदास का अब तक पता लग जाता।

मुख्यमंत्री और जिला प्रशासन को चाहिये कि महंत मोहनदास की बरामद्गी के लिए कड़े से कड़े कदम उठाये ताकि महंत मोहनदास सकुशल अखाड़े में आ जाये। भारत साधु समाज के सचिव स्वामी ऋषिश्वरानंद महाराज ने कहा कि केन्द्र व उत्तराखण्ड में भाजपा की सरकार है उसके बावजूद भी संतों की सुरक्षा का दम भरने वाली सरकारें अपनी विफलतायें दर्शा रही है। संतों की सुरक्षा सुनिश्चित की जाये साथ ही महंत मोहनदास की वापसी जल्द से जल्द हो। पूर्व राज्य मंत्री संजय पालीवाल, पूर्व विधायक अमरीष कुमार ने कहा कि सन्ताह भर बीत जाने के बाद भी अब तक कोठारी महंत मोहनदास का पता लगाने में पुलिस विफल रही है। पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान लग रहे हैं। भाजपा पार्टी संतों की सुरक्षा को लेकर सजग नहीं हैं। उन्होंने कहा कि जल्द से जल्द इस पूरे प्रकरण की उच्च स्तरीय जांच होनी चाहिये।

कोठारी महंत की सकुशल वापसी की जाये जिससे संत समाज को राहत मिल सके। महानगर कांग्रेस के संयोजक संजय अग्रवाल व यशवंत सैनी ने कहा कि संतों महंतों के आशीर्वाद से ही जनता का कल्याण होता है। हरिद्वार नगरी की महत्ता संतो ंके निवास से हैं। आश्रमों अखाड़ों में धार्मिक आयोजनों से ही धर्म की महत्ता प्रतीत होती है। कोठारी महंत मोहनदास की सकुशल बरामद्गी होनी चाहिये। इस अवसर पर राव आफाक अली, संतोष चौहान, पुरूषोत्तम शर्मा, पूर्व पालिका अध्यक्ष सतपाल ब्रह्मचारी, पूनम भगत, गुरजीत लहरी, प्रदीप चौधरी, विकास चौधरी, विजय सारस्वत, विनय सारस्वत, तरूण नैयर, विमला पाण्डे, अशोक उपाध्याय, नितिन तेश्वर, संदीप गौड़, डॉ0 दिनेश पुण्डीर, अशोक अदालती, गौरव चौहान, ओ0पी0 चौहान, सुनील कुमार गुड्डू, हरीश शेरी, सुभद्रा आर्य, अंजू द्विवेदी आदि उपस्थित रहे।

आशा कार्यकत्रियों ने बारिश के बीच किया प्रदर्शन

 देहरादून। आशा कार्यकत्रियों ने अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन किया। उन्होंने धरना स्थल पर बारिश में ही सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। उत्तराखंड आशा स्वास्थ्य कार्यकत्री यूनियन की अध्यक्ष शिवा दूबे के नेतृत्व में आशा कार्यकत्री अपनी मांगों को लेकर धरना स्थल पर एकत्रित हुई और मांगे न माने जाने पर प्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर नोरबाजी की। उनका कहना था कि अन्य स्कीम वर्करों की भांति आशाओं को भी न्यूनतम मानदेय दिया जाना चाहिए, लेकिन अभी तक सरकार की ओर से किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही इस दिशा में नहीं की गई है। सन 2012-13, 2013-14, 2015-16, 2016-17 चारों की पांच हजार रूपये प्रति वर्ष प्रोत्साहन राशि को एक मुश्त भुगतान अविलंब किया जाये।

सरकार अभी तक इस दिशा में गंभीर नहीं दिखाई दे रही है। उनका कहना है कि आशा कार्यकत्र्रियों को बोनस का भुगतान तत्काल प्रभाव से किया जाये और 45वें श्रम सम्मेलन के फैसले के अनुसा आशा कार्यकत्र्रियों को कर्मकार घोषित किया और वर्तमान समय में बढ़ती हुई महंगाई को देखते उनके भत्तों में महंगाई के अनुरूप बढोत्तरी की जाये। पूर्व में मुख्यमंत्री, स्वास्थ्य मंत्री एवं स्वास्थ्य महानिदेशक को अवगत कराये जाने के बाद भी आज तक समस्याओं का समाधान नहीं हो पाया है जिससे उनमें रोष बना हुआ है। धरने में वीरेन्द्र सिंह भंडारी, लेखराज, सुनीता चौहान, बीरा भंडारी, मंजु ठाकुर, नीरू जैन, हन्सी देवी, बीना, शीतल, राधा देवी, मधु शर्मा, मधुबाला, सीमा देवी, प्रमिला, हेमलता, शिवदेई नैथानी, हेमलता, कलावती, कलावती चंदोला, अनिता अग्रवाल आदि शामिल रहे।

सीबीआई से हो छात्रवृत्ति घोटाले की जांच

देहरादून। समाज कल्याण विभाग द्वारा उत्तराखंड में संचालित छात्रवृत्ति योजनाओं में की गई गंभीर अनियमितताओं एवं एसटी, एससी, ओबीसी के गरीब वंचित छात्रों के भविष्य से किये जा रहे खिलवाड की सीबीआई से जांच कराये जाने की मांग को लेकर नवक्रांति स्वराज मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने जिलाधिकारी कार्यालय पर प्रदर्शन करते हुए जिलाधिकारी को ज्ञापन प्रेषित किया। मोर्चा के कार्यकर्ता यहां जिलाधिकारी कार्यालय में इकटठा हुए और वहां पर समाज कल्याण विभाग द्वारा उत्तराखंड में संचालित छात्रवृत्ति योजनाओं में की गई गंभीर अनियमितताओं एवं एसटी, एससी, ओबीसी के गरीब वंचित छात्रों के भविष्य से किये जा रहे खिलवाड की जांच कराये जाने की मांग को लेकर प्रदर्शन किया।
 
इस अवसर पर वक्ताओं का कहना है कि राज्य के गरीब छात्र छात्राओं हेतु विभिन्न छात्रवृत्ति योजनायें संचलित है लेकिन वह छात्र छात्राओं को नहीं मिल पा रहा है, जो लगभग साढे तीन के घोटाले का शिकार बन चुका है। उनका कहना है कि पिछले तीन साल से छात्रवृत्ति नहीं मिल पाई है और इसका खामियाजा छात्र-छात्राओं को भुगतना पड़ रहा है। इस मामले की उच्च स्तरीय एजेंसी सीबीआई से जांच किये जाने की जरूरत है। इस अवसर पर मोर्चा के अनेक सदस्य मौजूद थे।

बारिश के बीच सरकार पर गरजे ग्राम प्रधान

 देहरादून। प्रदेश प्रधान संगठन ने अपनी समस्याओं के समाधान के लिए प्रदेश सरकार के खिलाफ बारिश के बीच प्रदर्शन करते हुए धरना दिया और कहा कि शीघ्र ही उनकी मांगों पर कार्यवाही नहीं की गई तो सडक़ों पर उतरकर जनांदोलन किया जायेगा। उनका कहना है कि एक अक्टूबर से आमरण अनशन शुरू किया जायेगा। उनका कहना है कि सरकार लगातार जन विरोधी निर्णय ले रही है जो चिंता का विषय है।

यहां परेड ग्राउंड स्थित धरना स्थल में संगठन के प्रदेश अध्यक्ष गिरवीर परमार के नेतृत्व में इकटठा हुए और वहां पर उन्होंने अपनी मांगों के समाधान के लिए प्रदर्शन कर धरना दिया। वक्ताओं ने कहा कि लगातार आंदोलन किया जा रहा है लेकिन सरकार की ओर से किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं की गई है। उनका कहना है कि प्रदेश के पंचायतीराज मंत्री अरविन्द पांडे ने 30 सितम्बर तक का समय दिया है लेकिन इस बीच मांगों का निस्तारण नहीं हो पाया तो आंदोलन को तेज किया जायेगा। उनका कहना है कि समस्याओं के समाधान के लिए धरना प्रदर्शन जारी रखा जायेगा। उनका कहना है कि 14वें वित्त की धनराशि में की गई कटौती को तत्काल प्रभाव से वापस लिया जाना चाहिए और उत्तराखंड में पंचायतीराज एक्ट 2016 को तत्काल प्रभाव से लागू किया जाये और 73वें एवं 74वें संविधान संशोधन के तहत 29 विभाग पंचायतों के अंतर्गत करने की पुरानी व्यवस्था को यथावत रखा जाये।

उनका कहना है कि लगातार सरकार जन विरोधी निर्णय ले रही है, जिसका पुरजोर विरोध किया जायेगा। उनका कहना है कि ग्राम प्रधानों को सम्मानजनक मानदेय दिया जाना चािहए ओर नगर पालिकाओं व नगर निगमों में पंचायतों को शामिल करने का पुरजोर तरीके से विरोध किया जायेगा और और पूरे प्रदेश भर में ग्राम पंचायत, नगर निगमों में सौंपें जाने के निर्णय के खिलाफ भी जनांदोलन किया जायेगा। उनका कहना है कि प्रदेश की सरकार लगातार जन विरोधी निर्णय ले रही है जिसके खिलाफ प्रदेश भर में आंदोलन किये जा रहे है और जब तक सरकार अपने निर्णयों को वापस नहीं लेती है तब तक प्रदेश भर में आंदोलन चलते रहेंगें। इस अवसर पर अनेक ग्राम प्रधान मौजूद थे।

अनुभवहीन सरकार के जन विरोधी निर्णय: नेगी

 देहरादून। जन संधर्ष मोर्चा के अध्यक्ष एवं जीएमवीएन के पूर्व उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी ने कहा कि प्रदेश की अनुभवहीन सरकार जन विरोधी निर्णय ले रही है और उनका कहना है कि एपीएल कार्डधारकों को राशन के बजाय डायरेक्ट (प्रत्यक्ष) सब्सिडी देने का निर्णय किया है, जिसका घोर विरोध किया जायेगा।

यहां ओल्ड सर्वे रोड स्थित एक होटल में पत्रकारों से बातचीत करतेहुए नेगी ने कहा कि सरकार को सोचना चाहिए कि अगर सरकार स्टेटपुल का धान व गेहूॅं नहीं खरीदेगी तो निश्चित तौर पर व्यापारियों को लूट का खुला लाईसेंस मिल जायेगा तथा वहीं गेहूॅं-धान (चावल) किसान को कौडिय़ों के भाव मजबूरी में बेचना पड़ेगा तथा सीजन समाप्त होते ही बाजार में गेहूॅं व चावल के दाम आसमान को छूने लगेंगे। इस नीति से किसान बर्बाद हो जायेगा। उनका कहना है कि वर्तमान में प्रदेश के हजारों राशन (गल्ले) की दुकानें संचालित हैं तथा अधिकांश शहरी क्षेत्र की दुकानों में एपीएल के कार्ड ही हैं तो इस परिस्थिति में हजारों राशन की दुकानें बंद हो जायेंगी तथा उनके सामने रोजी-रोटी का संकट पैदा हो जायेगा।

 

नेगी ने चिंता जताई है कि आज भी हजारों गरीब परिवारों के पास बीपीएल का कार्ड न होकर एपीएल का कार्ड है तथा कई परिवारों में मुखिया व्यसनी व नशाखोर हैं, चूंॅकि सब्सिडी मुखिया के खाते में आयेगी तो निश्चित तौर पर वह अपनी मौज मस्ती में व्यसन करेगा तथा परिवार दो वक्त की रोटी को मोहताज हो जायेगा। इसके साथ-साथ बाजार मूल्य एवं सब्सिडी वाला मूल्य भी कार्डधारकों की कमर तोड़ देगा। उन्होंने राज्यपाल से मांग कि है कि प्रदेश सरकार की जनविरोधी नीति पर रोक लगाने का काम करे, तथा गैस सब्सिडी की तर्ज पर ही राशन की सब्सिडी जनता को दें, जिससे किसान, राशन डीलर तथा कार्डधारक का हित सुरक्षित रह सकें। उनका कहना है कि इस पर शीघ्र ही कार्यवाही न होने पर मोर्चा जनांदोलन करेगा। इस अवसर पर पत्रकार वार्ता में मोर्चा महासचिव आकाश पंवार, दिलबाग सिंह, ओपी राणा, भीम सिंह बिष्ट आदि थे।

भाजपा शासनकाल में अर्थव्यवस्था बुरी तरह प्रभावित हुई: चौहान

 देहरादून। महानगर कांग्रेस अध्यक्ष पृथ्वीराज चौहान ने कहा है कि केंद्र की भाजपा सरकार के शासनकाल में केंद्र सरकार की आर्थिक नीतियों की वजह से आर्थिक छेड़छाड़ की वजह से अर्थव्यवस्था बुरी तरह प्रभावित हुई है, जिसका खामियाजा जनता को भुगतना पड़ रहा है। यहां जारी एक बयान में केंद्र की मनमोहन सिंह सरकार में जो विकास दर सकल घरेलू उत्पाद(जी डी पी) 7.9 प्रतिशत थी जो आज 5.7प्रतिशत पर आ गई है। सरकार के जल्दबाजी में लिये गये अविवेकपूर्ण अधूरी तैयारी से बैंको को विश्वास में लिए बगैर नोटबन्दी एवं जीएसटी के फैसले से अर्थव्यवस्था बुरी तरह प्रवाहित हुई है।

उनका कहना है कि छोटा व्यवसायी जिसका व्यवसाय मनी हस्तांतरण से होता था उसमें अवरोध पैदा हुआ है, जिससे व्यापार प्रवाहित हुआ है। उनका कहना है कि बाजार में पैसा न होने का असर छोटे व्यापारियो पर पड़ा है, जिसका प्रभाव त्यौहारी सीजन में साफ दिखाई दे रहा है। उनका कहना है कि मध्यवर्गीय गरीब तबके के लोगों पर दोहरी मार पड़ी है। निरन्तर बढ़ती महंगाई,खाद्यानों के दामो में बेतहाशा बृद्धि जो बेकाबू हो गई है। उन्होंने कहा कि यूपीए शासनकाल में विश्वव्यापी मंदी का दौर था और जिसकी वजह से आर्थिक रूप से सदृढ़ देशो की अर्थव्यवस्था चरमरा गई थी लेकिन पूर्व प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह की सोच ही थी कि भारत जैसे विकासशील देश में उसका प्रभाव नही पड़ा, और विकास दर बढ़ती रही। उनका कहना है कि केन्द्र सरकार का अब तक का कार्यकाल पूरी तरह से निराशाजनक रहा है।

एसएसबी के शहीद जवान का सैनिक सम्मान के साथ अंतिम संस्कार

 बलिया। जम्मू कश्मीर के रामबन जिले के बनिहाल में गोलीबारी में शहीद हुए सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) के हवलदार राम प्रवेश यादव के पार्थिव शरीर का आज पूरे सैनिक सम्मान के साथ अन्तिम संस्कार कर दिया गया। हवलदार यादव का पार्थिव शरीर सेना के विशेष वाहन से पूर्वान्ह उभांव थाना क्षेत्र में स्थित उनके गांव टंगुनिया लाया गया। विशाल जनसमूह द्वारा ‘भारत माता की जय’, ‘शहीद राम प्रवेश अमर रहे’ और ‘पाकिस्तान मुर्दाबाद’ के जोरदार नारों के बीच यादव की अंतिम यात्रा पड़ोस के चैनपुर गुलौरा गांव स्थित शिव स्थान पहुंची। राज्य सरकार के प्रतिनिधि जल संसाधन मंत्री उपेंद्र तिवारी तथा सांसद रविन्द्र कुशवाहा एवं हरिनारायण राजभर और विधायकों संजय यादव तथा धनन्जय कनौजिया ने शहीद के पार्थिव शरीर पर पुष्पांजलि अर्पित की।

 

शहीद को एसएसबी के जवानों ने सलामी दी। पूर्ण राजकीय तथा सैनिक सम्मान के साथ आज दोपहर अंत्येष्टि हुई। मुखाग्नि शहीद के सात वर्षीय बेटे आयुष ने दी।मंत्री उपेंद्र तिवारी ने राज्य सरकार की तरफ से शहीद राम प्रवेश की स्मृति में शहीद स्मारक, शहीद द्वार बनवाने तथा प्राथमिक विद्यालय का नामकरण राम प्रवेश यादव के नाम पर करने की घोषणा की। राज्य सरकार की तरफ से उनके पिता राम बचन यादव को पांच लाख तथा पत्नी को 20 लाख रुपये का चेक प्रदान किया गया। परिवार को एसएसबी की तरफ से भी आठ लाख रुपये का चेक दिया गया। जम्मू-कश्मीर के बनिहाल में गत 20 सितम्बर को हुई गोलीबारी में एसएसबी हवलदार राम प्रवेश यादव शहीद हो गये थे।

इंटक की मजबूती को हरसंभव प्रयास

 देहरादून। राष्ट्रीय मजदूर कांग्रेस (इंटक) के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश सुन्दरियाल पहलवान ने कहा है कि संगठन की मजबूती के लिए व्यापक स्तर पर कार्ययोजना तैयार की गई है। सदस्यता अभियान चलाया जा रहा है।
उत्तरांचल प्रेस क्लब में पत्रकारों से बातचीत में पहलवान ने कहा है कि राहुल सोनकर को राष्ट्रीय मजदूर कांग्रेस युवा का प्रदेश अध्यक्ष एवं उत्तर प्रदेश का प्रभारी चौथी बार नियुक्त किया है और उनकी नियुक्ति से युवाओं में जोश है। उन्होंने भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के दून आगमन पर चुटकी लेते हुए कहा कि उन्होंने डबल इंजन की सरकार अमित शाह देहरादून सिर्फ मंत्रियों एवं विधायकों के झगडे को निपटाने के लिए आये थे या कांग्रेस को कोसने आये थे जिस झूठ के बल पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सरकार बनाई थी अब वह समय आ गया है कि जिस जनता ने उनकी सरकार बनाई वहीं जनता मुंहतोड जवाब देगी और जिस भी मजदूर व किसान ने आत्मदाह किया है उन सभी का जनता हिसाब लेगी।

इस अवसर पर राहुल कुमार ने कहा कि अमित शाह का दून आगमन केवल आपसी झगडों को निपटाना था और केन्द्र सरकार के अब तक के कार्यकाल में महंगाई चरम पर है और विकास कार्य पूर्ण रूप से ठप्प पडे हुए है और सौ दिन का वायदा किया था कि खातों में धनराशि आयेगी लेकिन आज तक कोई भी धनराशि खातों में नहीं आई और अब तो जनता के जमा धन पर टैक्स लिया जा रहा है और जमकर धनराशि वसूली जा रही है। उनका कहना है कि आजादी के बाद यह पहली बार हो रहा है, केन्द्र सरकार का यह जन विरोधी निर्णय है और इसे तत्काल वापस लिया जाना चाहिए। इस अवसर पर नवीन जोशी, मनीष नागपाल, राजेश, दीपक, प्रदीप हाहूजा, रविन्द्र बिरला, अन्नू जैन, हिमांशु मुलतानी, सुदेश, डिम्पल आदि मौजूद थे।

बढ़ती महंगाई के खिलाफ गरजे आप कार्यकर्ता

देहरादून। आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने केन्द्र सरकार द्वारा पेट्रोल, डीजल एवं रसोई गैस में अप्रत्याशित बढ़ोत्तरी किये जाने के विरोध में प्रदर्शन किया। उन्होंने पेट्रो पदार्थों की बढ़ी हुई कीमतों को तत्काल प्रभाव से वापस लिये जाने की मांग की।
 पार्टी के कार्यकर्ता एस्ले हॉल चौक पर इकट्ठा हुए और वहां पर उन्होंने केन्द्र सरकार द्वारा पेट्रोल, डीजल एवं रसोई गैस में अप्रत्याशित बढ़ोत्तरी किये जाने के विरोध में प्रदर्शन किया। उनका कहना था कि तीन वर्ष पूर्व केन्द्र में नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी की बहुमत की सरकार बनी थी, उन्होंने अपने घोषणा पत्र के माध्यम से जनता को बडे बडे सपने दिखाये थे परन्तु तीन साल में केन्द्र सरकार पूरी तरह से असफल रही है। उनका कहना है कि देश का किसान जो कि अन्नदाता है और कर्ज के तले दबकर आत्महत्या कर रहे है।
 
नवयुवक जो की देश की 65 प्रतिशत आबादी है रोजगार के लिए दर दर भटक रहा है और प्रतिवर्ष दो करोड युवाओं को रोजगार देने का वायदा भी ठंडे बस्ते में चला गया। महिलाओं की सुरक्षा पर प्रश्न चिन्ह लग गया है और यहां तक की अब तो स्कूली बच्चे भी सुरक्षित नहीं है। अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल के दाम घट रहे है और हमारे देश में वर्ष 2014 के बाद इस सरकार ने पेट्रोल व डीजल की कीमतों में बेतहाशा बढाकर आम जनता का जीना दूभर कर दिया है। उनका कहना है कि पार्टी राष्ट्रीय स्तर पर इस बेतहाशा बढोत्तरी का विरोध करती है और जल्द ही इस बढोत्तरी को वापस नहीं किया गया तो विरोध प्रदर्शनों को जारी रखा जायेगा और जिला मुख्यालयों पर प्रदर्शन किया जायेगा। उनका कहना है कि 30 सितम्बर को महंगाई का रावण जलाकर विरोध प्रदर्शन का समापन किया जायेगा। प्रदर्शन करने वालों में राजेश बहुगुणा, उमा सिसोदिया, विशाल चौधरी, उपमा अग्रवाल, विरेन्द्र पोखरियाल, अशोक सेमवाल, शैलेश तिवारी, सुधीर पंत, धर्मेन्द्र, पूजा चौहान, श्याम लाल नाथ, जे सी मिश्रा, अजय शर्मा, अनुराग मित्तल सहित अनेक कार्यकर्ता शामिल रहे।

स्वतंत्रता सेनानी संगठन का वार्षिक महाधिवेशन 20 नवम्बर को

 देहरादून। उत्तराखंड स्वतंत्रता सेनानी एवं उत्तराधिकारी संगठन के संरक्षक व पूर्व विधायक रणजीत सिंह वर्मा ने कहा कि संगठन का वार्षिक महाधिवेशन 20 नवम्बर को धूमधाम से बनाया जायेगा। उत्तरांचल प्रेस क्लब में पत्रकारों से बातचीत करते हुए रणजीत सिंह वर्मा ने कहा कि 20 नवम्बर को संगठन के संस्थापक महासचिव स्वर्गीय पी के खत्री की चतुर्थ पुण्य तिथि के अवसर पर आयोजित होने वाले महाधिवेशन में प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत मुख्य अतिथि होंगें। पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय लाल बहादुर शास्त्री के पुत्र पूर्व कैबिनेट मंत्री सुनील शास्त्री विशिष्ट अतिथि के रूप में शामिल होंगें।

उनका कहना है कि प्रदेश की सरकार से पूर्व की लंबित मांगों का निस्तारण कराये जाने के लिए महाधिवेशन के माध्यम से एक ज्ञापन प्रेषित किया जायेगा और शीइा्र ही समस्याओं के समाधान की मांग की जायेगी। इस अवसर पर जिला कार्यकारिणी का गठन एवं स्वागत भी किया गया। जिला कार्यकारिणी में संरक्षक डा$ एस के गोविल, अध्यक्ष महिपाल सिंह रावत, वहीं सूर्यदेव जुगरान, डा$ विपिन चन्द्र कंडवाल एवं सच्चिदानंद नौटियाल को उपाध्यक्ष बनाया गया और मदन सिंह रावत को महासचिव तथा देवेश गुन्ता को कोषाध्यक्ष बनाया गया है। केन्द्रीय कार्यकारिणी के निर्देश पर महाधिवेशन के बाद जिला कार्यकारिणी के शेष सभी पदों पर नियुक्ति की जायेगी। पत्रकार वार्ता में उपाध्यक्ष आदेश गुप्ता, महासचिव भद्रसेन नेगी, सचिव राजीव कोठारी, कोषाध्यक्ष गोवर्धन प्रसाद शर्मा, कार्यकारिणी सदस्य ठाकुर सिंह नेगी, विजय गर्ग आदि मौजूद रहे।

बच्चों को उनके अधिकार मिलें इसके लिए कार्य कर रहा आयोग: शारदा

देहरादून। राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की सदस्या शारदा त्रिपाठी ने कहा है कि बच्चों की समस्याओं के समाधान के लिए आयोग बना हुआ है और अब तक कई मामलों का निस्तारण भी किया गया है।
 
उत्तरांचल प्रेस क्लब में पत्रकारों से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि आज आयोग के बारे में लोगों के बीच जागरूकता पैदा करने की आवश्यकता है और इसके लिए व्यापक स्तर पर कार्य किये जा रहे है। उनका कहना है कि जिस प्रकार से स्कूलों में बच्चों के साथ मारपीट, स्कूल से जबरदस्ती निकाल देना सहित अनेकों ऐसे मामले है जिन पर आयोग सुनवाई करता है और इसके समाधान के लिए कार्य करता है। अभी तक जो मामले सामने आये है और उनकी रिपोर्ट तैयार कर सुनवाई के उपरांत उनका निस्तारण कर लिया गया है। आयोग 18 वर्ष से कम आयु के बच्चों की सुनवाई करता है। बच्चों को उनके अधिकार मिले और इसके लिए आयोग लगातार कार्य कर रहा है। उनका कहना है कि अभी तक सरकार की ओर से किसी भी प्रकार की कोई सुविधायें मुहैया नहीं कराई गई है और उम्मीद है कि जल्द ही सरकार इस ओर उचित कदम उठायेगी। 
 
उनका कहना है कि पीडित पक्ष की शिकायतों के निस्तारण के लिए पहले निरीक्षण कर रिपोर्ट तैयार की जाती है और आयोग के समक्ष रखा जाता है, और दोनों पक्षों की सुनवाई के बाद निर्णय दिया जाता है। आयोग इस दिशा में उचित कार्यवाही करता है और बस आयोग के प्रति जन जागरूकता फैलाने की जरूरत है। इस अवसर पर शैलेन्द्र शेखर करगेती आदि मौजूद रहे।

राज्यपाल व मुख्यमंत्री ने स्वामी दयानंद सरस्वती को अर्पित की श्रद्घांजलि

 देहरादून। स्वामी दयानंद आश्रम, ऋषिकेश में आयोजित कार्यक्रम में राज्यपाल डा$ कृष्ण कांत पाल व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने ब्रह्मलीन स्वामी दयानंद सरस्वती को श्रद्घांजलि अर्पित की। राज्यपाल ने स्वामी जी की पुण्य स्मृति में नमन करते हुए कहा कि पूज्य स्वामी दयानंद सरस्वती जी ज्ञान, दर्शन व आध्यात्मिकता की अद्भुत मिसाल थे। अध्यात्म के साथ ही मानव जाति की सेवा में भी उनका अविस्मरणीय योगदान रहा है। स्वामीजी ने ज्ञान-दर्शन व सेवा भाव का जो रास्ता हमें दिखाया है, उस पर चलकर ही मानव कल्याण सम्भव है। मेरा परम सौभाग्य है कि सितम्बर 2015 में प्रधानमंत्री जी के साथ आश्रम में आने पर मुझे स्वामीजी का आर्शीवाद मिला था। राज्यपाल व मुख्यमंत्री ने पूज्य स्वामी जी द्वारा समय-समय पर विभिन्न अवसरों पर दिए गए व्याख्यानों व व्यक्त किए गए विचारों के संकलन पर आधारित ग्रन्थ का विमोचन भी किया। राज्यपाल ने इसे पुनित कार्य बताते हुए कहा कि ये ग्रन्थ समाज का दिशा निर्देश करने के साथ ही मानव उत्थान में महत्वपूर्ण योगदान करेगा। राज्यपाल ने कहा कि भारतीय सभ्यता विश्व की प्राचीनतम सभ्यता है।

अन्य समकालीन सभ्यताओं में से बहुत सी सभ्यताएं पू तरह समान्त हो चुकी हैं। यह भारतीय सभ्यता ही है जो कि 5 हजार वर्षों से अपना मौलिक स्वरूप बनाए हुए है। धर्म, अध्यात्म व मूल्य आधारित व्यवस्था ही वे ताकतें हैं जिनके कारण भारतीय सभ्यता सदियों से कभी न रूकने वाली धारा की तरह लगातार प्रवाहित हो रही है। राज्यपाल ने कहा कि भारतीय सभ्यता को बहुत सी चुनौतियों का भी सामना करना पड़ा है। सबसे पहले 8वीं शताब्दी में आदि शंकराचार्य ने समाज को ऐसी कठिन परिस्थितियों से बाहर निकाला। 15वीं व 16वीं शताब्दी में गुरू नानक, तुलसीदास, कबीर, मीरा बाई, सूरदास, चौतन्य महाप्रभु व अन्य संत कवियों ने हमारा मार्ग प्रशस्त किया। बाद में 19वीं शताब्दी में रामष्ण, स्वामी विवेकानंद, ब्रह्म समाज, आर्य समाज, प्रार्थना समाज ने समाज को राह दिखाई। राज्यपाल ने कहा कि 19वीं शताब्दी के चुनौतिपूर्ण समय में रामष्ण ने वेदांत के ‘‘प्राणिमात्र की सेवा ही ईश्वर की सेवा है’’ के संदेश के साथ हिंदु धर्म को फिर से नई ऊर्जा दी। वेदांत, हिंदु धर्म की आधारशिला है। वेदांत ज्ञान की पराकाष्ठा है, हिंदु संतों की पवित्र बुद्घिमत्ता है, सत्य के मनीषियों का श्रेष्ठ अनुभव है।

यह वेदों का निष्कर्ष है। बौद्घ काल के पश्चात शंकरा परम्परा में 10 उपनिषदों व भगवद्गीता की व्याख्या की गई। इन सारगर्भित व्याख्याओं को ज्ञान के साधकों तक पहुंचाने में दयानंद आश्रम का महत्वपूर्ण योगदान है। राज्यपाल ने कहा कि हमारे ऋषि-मुनियों व विद्वानों के हजारों वर्षों के गहन चिंतन से रचित वेद, उपनिषद, महाकाव्य, पुराण आदि महान मार्गदर्शी रचनाएं, मानव कल्याण का मार्ग प्रशस्त कर रही हैं। हमारा दायित्व है कि हम अपने अध्यात्म, ज्ञान व दर्शन की विरासत को आने वाली पीढि़यों के लिए संजो कर रखें। विश्व शांति, विश्व कल्याण और विश्वबंधुत्व की भारतीय दर्शन की अवधारणा वर्तमान परिप्रेक्ष्य में दुनिया के लिए और भी अधिक प्रासंगिक हो गई है। वेदांतों में वर्णित ज्ञान से सम्पूर्ण मानवता का कल्याण सम्भव है। स्वामी दयानंद सरस्वती जी को श्रद्घांजलि अर्पित करते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि भारत, भारतीयता एवं हिन्दुत्व की रक्षा में स्वामी जी का योगदान भारत ही नहीं बल्कि विश्वभर में स्वीकार्य है। जब भारत एवं भारत की संस्ति की बात होती है तो उनका स्मरण स्वाभाविक है। मुख्यमंत्री ने कहा कि इसकी परम्परा आदि शंकराचार्य से प्रारंभ हुई, जिसे अग्रदूत के रूप में आगे बढ़ाने का कार्य स्वामी जी ने किया। आज उनके लाखों भक्त इस परंपरा को आगे बढ़ा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज भारत की संस्ति में प्रहार हो रहे हैं। स्वामी जी के अनुयायी निश्चित रूप से ऐसा नहीं होने देंगे। मैं इस अवसर पर स्वामी जी को श्रद्घांजलि अर्पित करता हूं। उनके द्वारा दिया गया ज्ञान हम सब का आगे भी मार्गदर्शन करता रहेगा। कार्यक्रम में उत्तराखण्ड विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद्र अग्रवाल, कृष्ण गोपाल, केबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल, स्वामी विदित्मानंद, वेंकटरामाराजा सहित अन्य गणमान्य उपस्थित थे।

जलवायु परिवर्तन कार्यशाला में कौशिक व हरक ने किया प्रतिभाग

 देहरादून। मिजोरम राज्य के विधानसभा में जलवायु परिवर्तन विषय पर आयोजित कार्यक्रम में उत्तराखण्ड राज्य का प्रतिनिधित्व प्रदेश के शासकीय प्रवक्ता एवं शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक तथा वन मंत्री डॉ0 हरक सिंह रावत सहित विधायकगणों द्वारा किया गया। पर्यावरण सुरक्षा व हिमालय के सतत् विकास की अवधारणा पर बोलते हुए शहरी विकास मंत्री श्री कौशिक ने कहा कि विकास के प्रति हमें संतुलित अवधारणा पर विश्वास रखना होगा।

इसकी अनदेखी का परिणाम हमें जलवायु परिवर्तन के रुप में देखने को मिल रहा है। उन्होंने कहा कि हमें पर्यावरण को जीवित रखने के लिए इसके प्राकृतिक स्वरुप पर बल देना होगा। विकास के नाम पर प्रकृति के दोहन की जगह इसके उपयोग पर बल देना होगा। इस अवसर पर वन मंत्री डॉ0 रावत ने कहा कि जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए हमें सामूहिक प्रयास करने होगें। उन्होंने कहा कि पर्यावरण समस्या से निपटने के लिए वृक्षारोपण एक कारगर कदम है। कार्यक्रम में विधायक विनोद चमोली, पुष्कर सिंह धामी व देशराज कर्णवाल भी उपस्थित थे।

झूलती तारों को 2 अक्टूबर तक सुव्यवस्थित करने के दिए निर्देश

 देहरादून। शहर में झूलती विद्युत टेलीफोन के पोलों पर केबिल की झूलती हुई तारों को सुव्यवस्थित करने के सम्बन्ध में जिलाधिकारी एस ए मुरूगेशन की अध्यक्षता में उत्तराखण्ड पावर कार्पोरेशन, मनोरंजनकर विभाग के अधिकारियों एवं शहर के समस्त मल्टीसिस्टम आपरेटर व लोकल केबिल आपरेटरों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक सम्पन्न हुई।

बैठक में जिलाधिकारी द्वारा स्पष्ट निर्देश दिये गये हैं कि शहर में झूलती तारों को 2 अक्टूबर तक सुव्यवस्थित कर लें। उन्होंने कहा कि यदि निर्धारित समयावधि तक झूलती तारों को सुव्यवस्थित नही किया जाता है तो उत्तराखण्ड पॉवर कॉर्पोरेशन के अधिकारी जनहित में झूलते हुए तारों को काटने के लिए स्वतंत्र होंगे। बैठक में मल्टी सिस्टम ऑपरेटरों के द्वारा आवश्वासन दिया गया कि वे शहर के मुख्य मार्गों से झूलती केबिल की तारों को सुव्यवस्थित कर लेंगें व निष्क्रिय तारों को निर्धिारित तिथि तक हटा देंगे। जिलाधिकारी ने शहर में केबिल तारों के अतिरिक्त निजी कम्पनियों के इन्टरनेट/डाटा केबिल तारों के संचालकों को भी निर्देशित किया गया है कि वे भी झूलती तारों को निर्धारित तिथि तक सुव्यवस्थित कर लें। ऐसा न किये जाने पर सम्बन्धित अधिकारियों द्वारा तारों को हटोने की कार्यवाही अमल में लायी जायेगी।

विस स्पीकर ने किया रामलीला का शुभारम्भ

 देहरादून। उत्तराखण्ड विधान सभा अध्यक्ष प्रेम चन्द अग्रवाल ने पर्वतीय रामलीला कमेटी, रेसकोर्स देहरादून द्वारा नवरात्री के शुभ अवसर पर आयोजित रामलीला का दीप प्रज्वलित कर शुभारम्भ किया। 
इस अवसर पर अग्रवाल ने पर्वतीय रामलीला कमेटी जो कि विधान सभा के कर्मचारियों द्वारा ही गठित है को बधाई एवं शुभकामना दी। उन्होंने कहा कि आज के युग में जहां टेलीविजन ने इस प्रकार के रामलीला आयोजन कम कर दिये हैं वहीं इस कमेटी द्वारा रामलीला की संस्ति को जीवन्त रखा है। श्री अग्रवाल ने कहा कि इस प्रतिस्पर्धा के युग में रामलीला के मंचन से हमे अपने संस्ति एंव इतिहास की जानकारी मिलती है। उन्होंने कहा कि भगवान राम के कार्यकलापों से प्रेरणा लेकर जीवन में उसका अहसास करना चाहिए।

अग्रवाल ने रामलीला के भव्य आयोजन पर कहा कि उत्तराखण्ड के संस्ति पूरे देश में अनूठी संस्ति है एवं देश के प्रत्येक कोने में उत्तराखण्डवासी अपनी किसी न किसी रूप में सेवा प्रदान कर रहे हैं। उत्तराखण्डवासियों की ईमानदारी, कर्मठता, संस्ति, परिधान पूरे देश में प्रसिद्घ हैं। भगवान श्रीराम जी का आर्शीवाद लेकर हम यह प्रण करें कि हम अपनी सस्ति, भाषा एवं परिधान को न भूलें। इस अवसर पर मदन जोशी मंच संचालक, जीवन सिंह बिष्ट, जी0सी0 भट्ट, हरीश पाण्डे, कैलाश पाठक, राजेन्द्र सिंह बिष्ट, मुकेश हटवाल, प्रदीप पपनै, विनोद काण्डपाल आदि लोग मौजूद थे।

प्रधान संगठन का धरना जारी

 देहरादून। प्रधान संगठन ने 14वां वित्त पूर्व की भांति दिए जाने सहित चार सूत्रीय मांगों को लेकर परेड ग्राउंड में चौथे दिन भी धरना जारी रखा। इस दौरान संगठन के प्रदेश अध्यक्ष गिरविर परमार ने कहा कि संगठन अपनी मांगों को लेकर लंबे समय से संघर्ष कर रहा है, लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की गई। उन्होंने कहा कि संगठन 14वां वित्त पूर्व की भांति दिए जाने, संशोधित पंचायती राज एक्ट को तत्काल लागू करने, नगर निगम में शामिल पंचायतों को बहाल करने व प्रधानों का मानदेय पांच हजार रुपये करने की मांग कर रहा है।

उन्होंने बताया कि जब तक सरकार उनकी मांग को पूरा नहीं करेगी, तब तक आंदोलन जारी रहेगा। बीते दिन प्रधान संगठन के प्रतिनिधिमंडल की मुलाकात कैबिनेट मंत्री अरविंद पांडे से कराई थी इसके बाद भी संंगठन के पदाधिकारियों के मुताबिक मंत्री ने उन्हें 30 सितंबर को इस संबंध में उचित कार्रवाई करने का आश्वासन दिया, लेकिन प्रधान इससे संतुष्ट नहीं हैं। इस विषय पर कोई कार्यवाही न होने पर वे सरकार के खिलाफ 1 अक्तूबर से आमरण करेगे। इस दौरान प्रदेश महामंत्री रितेश जोशी, जिलाध्यक्ष कुंदन सिंह बोहरा, रूप सिंह थापा, विकास शर्मा, हिमांशु पांडे आदि ग्राम प्राान मौजूद रहे।

चोरी के तीन आरोपी गिरफ्तार

 देहरादून। बंद घर से ताला तोडक़र चोरी की वारदातों को अंजाम देने वाले तीन आरोपियों को पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज के आधार पर गिरफ्तार किया है। पुलिस को इनके पास चोरी किए हुए सामान को भी बरामद किया है। जानकारी के अनुसार 20 जून को तेनजिन लाहक्वा पुत्र यी सी पुन्सोक निवासी तिब्बती कालोनी ने शिकायत दर्ज कराई थी कि अज्ञात चोरों द्वारा उनके घर का ताला तोडकर अन्दर रखी नगदी , जेवरात चोरी कर ले गए। इसके साथ ही रूचिका देशवाल पत्नी संजय देशवाल निवासी पन्त मार्ग सुभाषनगर उसके घर मे कुछ अज्ञात लोगों द्वारा घर की खिडकी की ग्रिल तोडकर अलमारी से एक कम्पनी एवं अगूठी सोने की आदि चोरी कर ले गये है। इन शिकायतों पर कार्यवाही करते हुए थाने से टीम गठित की गयी। 

जिसके उपरान्त अभियुक्तो के तलाश में वादी के घर में लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज के आधार पर फुटेज में आये अभियुक्तो की तलाश की गयी। पुलिस टीम मौके पर गयी। जिनके द्वारा उक्त संदिग्ध व्यक्ति का नाम पता पूछा तो उसके द्वारा अपना नाम हरिप्रसाद पुत्र मोहन निवासी धांरासी थाना जानगिरी चापा छत्तीसगढ बताया। जिसकी तलाशी ली गयी तो उसके कब्जे से एक पीली धातु की अंगूठी एवं एक प्लासनुमा कटर मिला। जिसकी निशानदेही पर फ्लाई ओवर के नीचे टर्नर मोड़ से उसके 02 दोस्त बसन्त पुत्र जय किशन निवासी ग्राम कटाउद थाना शिवरीनारायण जिला ज्ञानगिरी चापा छतीसगढ एवं विनोद कमार पुत्र मणिराम निवासी गुजकुडि़या गांव थाना जेजेपुर जिला ज्ञानगिरी चापा छतीसगढ को गिरफ्तार किया गया। जिनके कब्जे से एक जोडी टाप्स, एक मंगलसूत्र, एक जोडी कंगन, एक सोने की चौन, 04 चादी के सिक्के बरामद हुए।

कोश्यिारी ने किया महाराणा प्रताप हॉल का लोकार्पण

 रुद्रपुर । क्षेत्रीय सांसद भगत सिंह कोश्यारी ने नगर की संजय कॉलोनी स्थित क्षत्रिय धर्मशाला में सांसद निधि से निर्मित महाराणा प्रताप हॉल का लोकार्पण किया। इस मौके पर उन्होंने समाजसेवा और प्रशासनिक सेवा के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले व्यक्तियों एवं बोर्ड परीक्षा 2017 में हाईस्कूल व इंटर के विभिन्न विद्यालयों के प्रतिभावान छात्र छात्राओं को सम्मानित किया गया। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी के कुशल नेतृत्व में भारत देश विश्व में अपनी पहचान बना रहा है और देश विकास की और अग्रसर है। 

इस मौके पर भाजपा जिला महामंत्री राजेश कुमार, आनन्द पाल सिंह चौहान, ठा. उदयराज सिंह, केशव कुमार पासी, सुरेन्द्र सिंह नामधारी, विमल शर्मा, गोपाल कोछड़, विकास गुप्ता, देवेन्द्र सिंह रावत, कमल किशोर भट्ट, वीरेन्द्र बिष्ट, सरताज आलम, हरीश वर्मा, धूमबहादुर सिंह चौहान, राजेश वर्मा आदि मौजूद थे।

12वीं तक के सभी स्कूलों में छुट्टी के आदेश

 हरिद्वार। उत्तराखंड में कई हिस्सों में फिर से भारी बरसात से जन-जीवन प्रभावित हो गया है। पहाड़ी इलाकों के अलावा मैदानी हिस्सों में भी भारी बारिश हो रही है। हरिद्वार में भी मौसम विभाग ने आज भारी बरसात की चेतावनी दी है।

मौसम विभाग की बरसात की चेतावनी को देखते हुए जिलाधिकारी दीपक रावत ने भी तुरंत एक्शन लेते हुए 12वीं तक के सभी स्कूलों में छुट्टी की घोषणा की है। इसके साथ ही तमाम आंगनबाड़ी केंद्र भी बंद करने के आदेश दिये हैं। जिलाधिकारी ने साफ कहा है कि आदेशों का पालन न करने वाले स्कूलों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

पर्स लूट का एक आरोपी गिरफ्तार

 देहरादून। दो दिन पहले थाना क्लेमंटाउन क्षेत्र में पर्स लूट के मामले में पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। दूसरा आरोपी फरार है। पुलिस के मुताबिक उसे जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा। टर्नर रोड निवासी अशोक कुमार ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी कि उनकी पत्नी रेनू देवी 20 सितंबर की रात को पैदल घर आ रही थी। इसी बीच सफेद स्कूटी पर सवार दो युवकों ने उसका पर्स लूट लिया।

पर्स में करीब दो हजार रुपये, आधार कार्ड, पहचान पत्र आदि था। इस रिपोर्ट के बाद पुलिस ने आसपास के सीसीटीवी फुटेज एकत्र किए गए। सीसीटीवी फुटेज के आधार पर तलाश करते हुए घटना में शामिल अभियुक्त राजा पुत्र कुलदीप को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में उसने पुलिस को बताया कि वह इटावा अलीगढ़ का रहने वाला है और फिलहाल दिल्ली में रहता है। वह अपने साथी रवि पुत्र अमरजीत के साथ देहरादून आया था। यहां वे एक होटल में चार दिन से रुके हुए थे। घटना को अंजाम देने के लिए उन्होंने पहले स्कूटी चुराई। पुलिस ने स्कूटी भी बरामद कर ली।

नई करेंसी के नकली नोटों के साथ आरोपी गिरफ्तार

 रुड़की। छावनी के पिरान कलियर पुलिस ने नकली नोटों के साथ एक युवक को गिरफ्तार किया है। अभी तक मार्केट में भले ही 200 और 50 के नए नोट न आए हों लेकिन नकली नोट छापने का धंधा शुरू कर दिया है। कलियर पुलिस को सूचना मिली थी एक संदिग्ध युवक पीपल चौक के पास नकली नोट चला रहा है। जिसके बाद पुलिस ने मौके पर पहुंचकर नकली नोट के साथ संदिग्ध युवक को गिरफ्तार कर लिया है।

 

पुलिस ने आरोपी से नई करेंसी के 200 और 50 के करीब 15300 रुपये के नकली नोट बरामद किए हैं। पुलिस का कहना है कि पूछताछ के दौरान आरोपी ने बताया कि वह मुज़फ्फरनगर का रहने वाला है। वहीं के एक व्यक्ति ने उसे 50 प्रतिशत पर 20 हजार के नकली नोट लिए थे। जिनमें से 4700 रुपये के नकली नोट वो बाजार में चला चुका है। फिलहाल पुलिस की आरोपी से पूछताछ जारी है।

मुख्यमंत्री ने किया कुंजापुरी पर्यटन एवं विकास मेला का उद्घाटन

 टिहरी। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने गुरूवार को रामलीला मैदान, नरेन्द्र नगर, टिहरी में 42वें कुंजापुरी पर्यटन एवं विकास मेला-2017 का उद्घाटन किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र ने नरेन्द्रनगर में आॅडिटोरियम निर्माण, पुल्ड हाउस, सामुदायिक भवन, बस अडडा निर्माण, सीवर लाईन निर्माण, डालवाला में चन्द्रभागा नदी बाढ सुरक्षा बाॅध, संयुक्त चिकित्सालय में आईसीयू, अल्ट्रासाउण्ड, खाडी मे महाविद्यालय, कुंजापूरी को रोजवेज से जोडना, मुनि की रेती में मल्टी पार्किंग निर्माण, पीटीसी नरेन्द्रनगर से बडैडा-कंुजापूरी मोटर मार्ग, भौस्यारा मोटर मार्ग का डामरीकरण, मुनिकीरेती में ट्रंचिंग ग्राउण्ड बनाने की घोषणा की है।

 
मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र ने कहा कि नेशनल प्लास्टिक टैक्नोलाॅजी संस्थान तथा नेशनल फैशन डिजाईनिंग संस्थान, रानीपौखरी आगामी दो माह में कार्य करना प्रारम्भ कर देगा। इसके अलावा सरकार हाॅस्पिटेलिटी विश्वविद्यालय भी खोलने जा रही है। ये संस्थान स्थानीय बैरोजगार युवाओं को स्किल डेवलपमेंट के साथ ही आय बढाने के संसाधनों के रुप में विकसित किये जायेंगे। उन्होने कहा कि पहाड से पलायन के मुख्य रुप से तीन कारण है जिसमें शिक्षा, बेरोजगारी तथा स्वास्थ्य सेवा है। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा ग्रामीण विकास एवं पलायन आयोग का गठन किया गया है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने का लक्ष्य रखा गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के थाना क्षेत्रों में होने वाली आकस्मिक घटनाओं के लिए 156 थानों के लिए 3 करोड रुपये की धनराषि स्वीकृत की गयी है। 
 
मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र ने कहा कि सरकार पिरुल को भी रोजगार का साधन बनाने जा रही है। पिरूल से बायो आॅयल एवं बायो फ्यूल बनाया जायेगा। इसके अलावा सरकार प्रदेश में ईको टास्क फोर्स बनाने जा रही है, जिसमें 200 पूर्व सैनिकों को रोजगार से जोडा जायेगा तथा भारतीय सेना द्वारा 4 लाख अखरोट के पौधों की नर्सरी तैयार की गई है, जिनको ईको टास्क फोर्स के माध्यम से सीमांत गाॅवों में पंहचाया जायेगा। उन्होने कहा कि सरकार ने राज्य की न्याय पंचायतों को सडकों से जोडा है, जिन्हें नये टाउनशिप के रुप में विकसित किया जायेगा। मुख्यमंत्री ने विभिन्न शिक्षण संस्थाओं तथा विभागों द्वारा लगाई गई प्रदर्शनियों का भी उद्घाटन किया।
 
इस अवसर पर कैबिनेट मंत्री श्री सुबोध उनियाल ने मुख्यमंत्री को स्मृति चिन्ह भेंट किया। श्री उनियाल ने नरेन्द्रनगर क्षेत्र के विकास के लिए मांग पत्र भी मुख्यमंत्री को सौंपा। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने परिषदीय परीक्षाओं में अव्वल स्थान प्राप्त करने वाले हाईस्कूल व इण्टर के 6 छात्रों को भी सम्मानित किया। हंस फाउण्डेशन की ओर से मेले के आयोजन हेतु 1 लाख रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान की गई। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र ने कुंजापुरी मंन्दिर पहुंचकर पूजा-अर्चना भी की। उन्होंने कहा कि शारदीय नवरात्रों का महत्व हिन्दु धार्मिक परम्पराओं में महत्वपूर्ण स्थान रखता है। उन्होने माॅ कुंजापुरी से प्रदेश की प्रगति के साथ-साथ जन कल्याण की भी कामना की है। 
इस अवसर पर विधायक श्री शक्ति लाल शाह, श्री दिलीप रावत, जिलाधिकारी सोनिका, एसएसपी श्री बरिन्दर जीत सिंह सहित स्थानीय जनता व जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।

सहकार सम्मेलन में उठा पलायन का मुद्दा

 देहरादून। प्रदेश के सहकारिता, दुग्ध विकास एवं प्रोटोकॉल राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ0 धन सिंह रावत ने सहकारिता के क्षेत्र में बेहतर कार्य करने वाले लक्ष्मणराव इनामदार की जन्म शताब्दी के अवसर पर नई दिल्ली स्थित विज्ञान भवन में आयोजित सहकार सम्मेलन में प्रतिभाग किया। इस सम्मेलन में देश के सभी राज्यों के सहकारिता मंत्री उपस्थित रहे।

इस अवसर पर प्रदेश के सहकारिता मंत्री रावत ने कहा कि सहकारिता ही समग्र विकास की धुरी है। उन्होंने कहा कि हमारे प्रदेश में पलायन चिन्ता का मुख्य विषय बन गया है। लेकिन सहकारिता से पलायन को रोका जा सकता है। रावत ने केन्द्र सरकार से प्रदेश के लिए मदद की गुहार की। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार के भरपूर सहयोग से हम प्रदेश से हो रहे पलायन को रोकने में सफल रहेगें।

सीएम ने किया पुस्तक का विमोचन

 देहरादून। मुख्यमंत्री त्रवेन्द्र सिंह रावत ने गुरूवार को न्यू कैंट रोड स्थित जनता मिलन हॉल में प्रसिद्घ दार्शनिक मैक्स मूलर की अंग्रेजी पुस्तक इंडिया वाट कैन इट टीच अस के प्रकाश थपलियाल द्वारा किये गये हिन्दी अनुवाद भारत: हमें क्या सिखा सकता है का विमोचन किया। 
 
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि मैक्समूलर ने वेदों की जानका को भारत से बाहर लाने का प्रयास किया। भारत जैसे देश में जहां की विविधता में एकता को समझना भारतीय लोगों के लिए ही कठिन कार्य है वहाँ मैक्समूलर ने भारत और वेदों को समझने का प्रयास किया और विदेशों में भारतीय इतिहास एवं संस्ति की जानका देने का कार्य किया। उन्होंने प्रकाश थपलियाल को  मैक्स मूलर की पुस्तक का हिन्दी अनुवाद करने पर शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि हिन्दी भाषी क्षेत्रों के पाठकों के लिए यह अनूदित पुस्तक उपयोगी होगी। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने प्रकाश थपलियाल द्वारा अनूदित अन्य पुस्तकों का भी अवलोकन किया। इस अवसर पर वित्त मंत्री प्रकाश पंत, पूर्व मुख्य सचिव इंदु कुमार पांडे, साहित्यकार चारू चन्द चन्दोला, स्वामी विरेन्द्रानन्द आदि उपस्थित थे।

विधान सभा में बायोमेट्रिक उपस्थिति प्रणाली का उद्घाटन

देहरादून। नवरात्रा के शुभारम्भ पर उत्तराखण्ड विधान सभा अध्यक्ष  प्रेम चन्द अग्रवाल ने विधान सभा परिसर में बायोमेट्रिक उपस्थिति प्रणाली का उद्घाटन किया गया। इस अवसर पर  जगदीश चन्द्र ,सचिव विधान सभा द्वारा पहली बायोमेट्रिक उपस्थिति दी गयी। इस अवसर पर  अग्रवाल जी ने कहा कि वह माननीय प्रधानमंत्री जी की महत्वपूर्ण सोच के आधार पर विधान सभा में बायोमैट्रिक उपस्थिति प्रणाली को शुरू कर रहें है एवं प्रदेश सरकार ने भी बायोमेट्रिक प्रणाली पर आवश्यक कदम उठाये है। बायोमेट्रिक मशीन पर विधान सभा कर्मचारियों एवं अधिकारियों को अनिवार्य रूप से बायोमेट्रिक उपस्थिति दर्ज कराने के निर्देश दिये हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि बायोमेट्रिक उपस्थिति दर्ज न होने पर संबंधित कार्मिक को अनुपस्थित मानते हुए नियमानुसार कार्यवाही की जाएगी।
 
उन्होंने कहा कि जानबूझ कर देरी करने वाले कार्मिकों को उनकी सेवा से संबधित सुसंगत नियमों के अधीन अनुशासनात्मक कार्यवाही की जायेगी। अग्रवाल जी ने इस अवसर पर कहा कि बायोमेट्रिक मशीन की स्थापना से विधान सभा में अधिकारियों एंव कर्मचारियो की समय से उपस्थिति सुनिश्चित की जा सकेगी और कार्य प्रणाली में अनुशासन भी आएगा। अग्रवाल ने विधान सभा के अधिकारियों एवं कर्मचारियों को बधाई दी है कि विधान सभा परिसर में बायो मैट्रिक प्रणाली लगाने का सभी लोगों ने स्वागत किया है। इस प्रणाली से कार्य करने वाले कर्मचारियों को सम्मान तथा अन्य लोगों को प्रेरणा भी मिलेगी।

स्वच्छता अभियान में चमका घंटाघर से गांधी पार्क तक

 देहरादून। सुलभ इंटरनेशनल सोशल सर्विस आर्गेनाईजेशन की ओर से गुरुवार को सुबह घंटाघर से लेकर गांधी पार्क तक सफाई अभियान चलाया गया। सदस्यों ने झाड़ू लगाकर सडक़ की सफाई की। फिर इकठ्ठे कूड़े को डस्टबिन में डाल दिया। सुलभ इंटरनेशनल की ओर से तीन दिवसीय सफाई अभियान की शुरू

 

आत राजपुर रोड से की गई। सदस्यों ने घंटाघर से सफाई कार्य शुरू किया। यहां पर पसरी गंदगी को उठाया गया। फिर झाड़ू लगाते हुए सदस्य राजपुर रोड में पहुंचे। यहां से सफाई करते हुए गांधी पार्क के पास आए और यहां पर फुटपाथ व सडक़ में पड़ी गंदगी को साफ किया। सुलभ इंटरनेशनल से नियंत्रक सतीश चंद्र पटेल ने बताया कि 22 सितंबर को गांधी पार्क के अंदर सफाई अभियान चलाया जाएगा। इसके बाद 23 सितंबर को सीमादर से मलिक चौक के बीच अभियान चलेगा। इस दौरान उदय कुमार सिंह, राजकुमार सिंह, एसएस रॉय, दीपक कुमार, नरेंद्र रावत, गोपाल राय, दिलीप, रंजीत कुमार, राधेश्याम सिंह, आलोक झा आदि मौजूद रहे।

त्रिवेन्द्र कैबिनेट में होगा फेरबदल

 देहरादून। उत्तराखण्ड में दो दिवसीय दौरे पर आये अमित शाह के सामने त्रिवेन्द्र सरकार के मंत्रिमण्डल का विस्तार करने के लिए जब आवाज उठी तो हाईकमान ने भी जल्द कैबिनेट में विस्तार को लेकर अपनी हरी झण्डी दे दी जिससे संभावना जताई जा रही है कि नवरात्रों के बाद त्रिवेन्द्र सरकार की कैबिनेट में फेरबदल हो सकता है और उनकी कैबिनेट से एक-दो मंत्रियों के पर भी कतरे जा सकते हैं तथा चंद विधायकों को मंत्री पद की भी शपथ दिलाई जा सकती है जिसको लेकर कुछ विधायकों ने अपने पक्ष में लॉबिंग करना भी शुरू कर दिया है।

ल्लेखनीय है कि त्रिवेन्द्र सरकार की कैबिनेट में दो मंत्रियों के पद खाली चले आ रहे हैं जिसको लेकर पार्टी के चंद विधायकों में बेचैनी का माहौल है और वह अपनी ताजपोशी को लेकर कुछ माह से अपने पक्ष में लॉबिंग कराने के मिशन में आगे बढे हुए हैं। अमित शाह के दो दिवसीय दौरे में मंत्रिमण्डल के विस्तार को लेकर भी आवाज उठी जिसको लेकर अमित शाह ने भी मंत्रिमण्डल में विस्तार के लिए अपनी हरी झण्डी दे दी है। सम्भावना जताई जा रही है कि नवरात्रों के बाद त्रिवेन्द्र सरकार की कैबिनेट में फेरबदल होगा और यहां तक कयास लगाये जा रहे हैं कि एक दो मंत्रियों की छुट्टी की जा सकती है और उनके स्थान पर कुछ नये चेहरों को त्रिवेन्द्र सरकार की कैबिनेट में मंत्री बनाया जा सकता है? भाजपा के अन्दर यह सुगबुगाहट भी है कि भाजपा हाईकमान नैनीताल से सांसद भगत सिंह कोश्यारी व उत्तराखण्ड के पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा को राज्यपाल बना सकते हैं, चर्चा यहां तक भी है कि संघ पृष्ठभूमि के तीरथ सिंह रावत को भाजपा हाईकमान राज्यसभा में भेजने के लिए भी हरी झण्डी दे सकते हैं।

माफियाओं को संरक्षण देने वाली शराब नीति: प्रीतम

 देहरादून। उत्तराखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष व विधायक प्रीतम सिंह ने कहा है कि प्रदेश में भाजपा के मंत्रियों एवं विधायकों में जिस प्रकार से हो रही सिरफुटव्वल के लिए मंत्रियों व विधायकों को धमकाने के लिए दो दिन के दौरे पर आये थे, उनका कहना है कि बंद कमरों में जो बैठकें की गई, वहां पर मंत्रियों व विधायकों को धमकाया गया। वहीं कांग्रेस सरकार में अवैध खनन रोकने के लिए माइनिंग सेल का गठन किया गया लेकिन भाजपा सरकार ने उसे भंग कर दिया, आज चारों ओर अवैध खनन हो रहा है। राजीव भवन कांग्रेस भवन में पत्रकारों से बातचीत करते हुए प्रीतम सिंह ने कहा है कि प्रदेश में भाजपा के मंत्रियों एवं विधायकों में जिस प्रकार से हो रही सिरफुटव्वल के लिए मंत्रियों व विधायकों को धमकाने के लिए दो दिन के दौरे पर आये थे, उनका कहना है कि बंद कमरों में जो बैठकें की गई, वहां पर मंत्रियों व विधायकों को धमकाया गया। उनका कहना है कि छह माह के कार्यकाल में कोई विकास नहीं हुआ है और बल्कि मेट्रो रेल का जो सपना कांग्रेस कार्यकाल में देखा गया और इसके लिए एमडी की तैनाती की गई, लेकिन भाजपा सरकार की कार्यगुजारियों से तंग आकर इस मेट्रो रेल परियोजना के एमडी ने इस्तीफा दे दिया।

 
उनका कहना है कि एमडी के इस्तीफे से कार्य की गति प्रभावित होगी। उनका कहना है कि लोकसभा चुनावों के समय जनता से लोक लुभावन वायदे किये गये लेकिन आज तक उन पर किसी भी प्रकार की कार्ययोजना तैयार नहीं की गई है और हर व्यक्ति के खाते में 15 लाख रूपये आयेंगें, कालाधन वापस लाया जायेगा पर आज भाजपा व केन्द्र सरकार पूरी तरह से मौन है और केवल जो उनका कहना नहीं मान रहे है, उनको सीबीआई, इडी एवं अन्य एजेंसियों के माध्यम से धमकाने का काम किया जा रहा है, जिसे सहन नहीं किया जायेगा और इसके लिए जनांदोलन किया जायेगा। गरीब व दलित व्यक्ति के घर खाना खाने से काम नहीं चलेगा, केन्द्र सरकार ने अब तक दलितों के हितों के लिए क्या किये है उस कार्य को जनता के समक्ष रखना चाहिए।
उनका कहना है कि नोटबंदी का असर गरीबों, व्यापारियों व छोटे छोटे ठेकेदारों पर पडा है और उसके बाद अब व्यापारियों पर जीएसटी को लाद दिया गया है, उनका कहना है कि इसी प्रकार से शराब की दुकानों को बंद करने के लिए आंदोलन कर रही महिलाओं पर मुकदमें दर्ज कर जेल भेजने का काम किया है और प्रदेश की शराब नीति माफियाओं को संरक्षण देने वाली है और मोबाइल वैन के जरिये घर घर शराब पहुंचाने का कार्य भाजपा की सरकार कर रही है। दस लाख हजार करोड़ रूपये उत्तराखंड को दिये है के सवाल पर उन्होंने कहा कि प्रदेश की सरकार धन का रोना रो रही है और यदि यह राशि आई है तो कहां गई, जिसका जवाब प्रदेश के मुखिया को देना होगा। डबल इंजन की सरकार छह माह में ही फेल हो गई है और डबल इंजन अलग अलग दूरी पर खडे है और जब आगे भी इंजन होगा और पीछे भी तो ट्रेन कैसे चलेगी। इस अवसर पर अनेक पदाधिकारी व कार्यकर्ता भी मौजूद थे।

स्मैक के साथ चार युवक गिरफ्तार

 देहरादून। बरेली से सस्ते दामों में स्मैक लाकर उसे देहरादून के छात्रों को महंगे दामों पर बेचने वाला एक गैंग प्रेमनगर पुलिस के हाथ उस समय लग गया जब थाना प्रभारी अपनी टीम के साथ संदिग्ध वाहनों की चैकिंग का अभियान चलाये हुए थे। ऑल्टो कार ने जब पुलिस के इशारे को देखकर भागने की कोशिश की तो पुलिस ने उसे घेर लिया और उसमें सवार जब चार युवकों की तलाशी ली तो उनके पास से भारी मात्रा में नशा बरामद हुआ।

मिली जानकारी के अनुसार प्रेमनगर थानाध्यक्ष नरेश राठौर अपनी टीम के दरोगा कमल सिंह रावत, पुलिसकर्मी चमन, सुनील मलिक, रिंकू कुमार, कमल व जगजोत के साथ संदिग्ध व्यक्तियों-वाहनों की चैकिंग कर रहे थे तभी एक ऑल्टो कार 800 नंबर यूके04टीए 8434 को रोकने का इशारा किया तो चालक उसे तेजी से दूसरी दिशा में दौडाने लगा जिस पर पुलिस ने उन्हें घेर लिया और जब उसमें सवार युवकों से पूछताछ की तो उन्होंने अपने नाम विशाल, मनीष, मनोज व शिवम बताये। पुलिस ने जब इनकी तलाशी ली तो इनके पास से अवैध 30 ग्राम स्मैक (मॉर्फिन) बरामद हुई। नशा तस्करों से पूछताछ की गई तो उन्होंने बताया गया कि वे आपस मे दोस्त है और लगभग एक वर्ष से नशे की लत में पड़ गए अपनी इसी लत को पूरा करने के लिए बरेली से सस्ते दाम पर स्मेक लाकर देहरादून में पढऩे वाले स्टूडेंट को मोटे दामों पर बेचते हैं। पुलिस उनसे यह पता करने में लगी हुई थी कि वह कब से इस गोरख धंधे को कर रहे थे।

उत्तराखंड में खेल सुविधाओं का अभाव: कुहू

 देहरादून। बैडमिंटन के इंटरनेशनल ग्रीस ओपन मिक्स डबल में स्वर्ण पदक विजेता कुहू गर्ग ने कहा है कि उत्तराखंड में पर्याप्त सुविधाओं का अभाव है और बेहतर प्रशिक्षित कोचों की भी कमी है। उनका कहना है कि वह उत्तराखंड से बाहर नहीं बल्कि उत्तराखंड से ही खेलेगी।

 
यहां परेड ग्राउंड स्थित उत्तरांचल प्रेस क्लब में प्रेस से मिलिये कार्यक्रम में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कुहू ने स्पष्ट करते हुए कहा कि उत्तराखंड में पर्याप्त सुविधाओं का अभाव है और बेहतर कोचों की भी कमी है। उनका कहना है कि वह उत्तराखंड से बाहर नहीं बल्कि उत्तराखंड से ही खेलेगी। उनका कहना है कि आज के परिवेश में स्पॉनशरशिप की कमी है और स्पॉनशरशिप का होना जरूरी है और जिस प्रकार से विदेशों में बैडमिंटन की सुविधायें है वह आज तक भारत में नहीं है। मिक्स डबल्स के लिए कोचों का अभाव है और इसमें सुधार लाये जाने की आवश्यकता है। उनका कहना है कि आज हर खेल में बालिकायें आगे आ रही है और बैडमिंटन के सीनियर व जूनियर में भी बालिकायें आगे है।
 
उनका कहना है कि प्रदेश सरकारों को भी बेहतर सुविधायें प्रदान करनी चाहिए जिससे खेलों को व्यापक स्तर पर बढावा दिया जा सके। उनका कहना है कि नवम्बर में होने वाले सीनियर नेशनल के लिए वह अभी से ही तैयारी कर रही है और स्वर्ण पदक जीतना प्रमुख उददेश्य है। उनका कहना है कि मिक्स डबल में पार्टनर बदलते जा रहे है और एक बेहतर पार्टनरशिप का होना भी आवश्यक है और जिससे तालमेल बना रहे, बैडमिंटन के खेल में माता पिता को श्रेय देने के बाद कोचों तथा गोपीचन्द को भी श्रेय दिया और उनकी बदौलत वह इस मुकाम तक पहुंची है। इस अवसर पर उत्तराखंड बैडमिंटन एसोसिएशन के अध्यक्ष व एडीजी कानून व्यवस्था अशोक कुमार, कोच दीपक रावत, दीपक नेगी, विजय राणा, नवीन थलेडी, भूपेन्द्र कंडारी आदि मौजूद थे।

कोरोनेशन अस्पताल में लगा स्वास्थ्य शिविर

 देहरादून। पंडित दीनदयाल उपाध्याय राजकीय कोरोनेशन चिकित्सालय में एनसीडी क्लीनिक (वेलनेस सेंटर) म स्तन कैंसर और सर्वाइकल कैंसर जांच , निवारण एवं परामर्श शिविर आयोजन किया गया। यह शिविर में प्रशिक्षित विशेषज्ञों तथा अत्याधुनिक मशीनों द्वारा स्तन कैंसर व सर्वाइकल कैंसर के संबंधित जांच एवं परामर्श नि:शुल्क प्रदान किया गया। इस दौरान डा अजीत गैरोला ने बताया कि वर्तमान जीवनशैली के कारण 30 वर्ष या इससे अधिक आयु वर्ग की महिलाओं में यह रोग होने की आशंका रहती है।

इसका नियमित परीक्षण एंव जांच (तथा स्वजांच) आवश्यक है। इस रोग की गंभीरता को देखते हुए इस शिविर का आयोजन किया जाता रहा है। यह शिविर किआरा हेल्थकेयर तथा केनप्रोटेक्ट फाउंडेशन के सहयोग से आयोजित किया जा रहा है। जानकारी देते हुए डा अजीत गैरोला ने बताया कि इस दौरान अधिक से अधिक महिलाओं को चाहिए कि वे इस शिविर में पहुंच स्वस्थ जांच कराए।

पुलिस ने जुआरियों को दबोचा

 देहरादून। लक्खीबाग पुलिस द्वारा चंदन नगर से चार युवकों को सार्वजनिक स्थान पर जुआ खेलते हुए गिरफ्तार किया गया। जिनके पास से कुल 12,700 रुपए बरामद हुए। पुलिस के अनुसार यह चारों बीती रात जुआ खेलते हुए पकड़े गए।

वह पैसे के लालच में जुआ खेलने के आदी हो गए हैं। आरोपियों में गणेश सिंह पुत्र दीवान सिंह निवासी नई बस्ती, अमित अरोड़ा पुत्र संतान लाल अरोड़ा निवासी 343 खुड़बुड़ा, कोतवाली नगर, मोहम्मद माजिद पुत्र स्वर्गीय नबी उल्ला निवासी 176 गली नंबर 10 मस्जिद वाली गली, भगत सिंह कलोनी, इंदर रोड थाना रायपुर एंव वीरेंद्र कुमार पुत्र बाबूलाल निवासी चंदन नगर, थाना कोतवाली के निवासी है। पुलिस टीम में अनिल चौहान, चौकी प्रभारी लक्खीबाग, उप निरीक्षक नरेंद्र पुरी, कांस्टेबल रविशंकर, कांस्टेबल गजेंद्र, कांस्टेबल वीरेंद्र,कांस्टेबल मनोज मौजूद थे।

डिप्लोमा इंजीनियर्स संघ ने दिया धरना

 देहरादून। डिप्लोमा इंजीनियर्स संघ के ग्रामीण निर्माण विभाग , तपोवन मार्ग के समक्ष से दो दिवसीय धरना दिया। धरने के प्रथम दिन गढ़वाल मंडल के सदस्यों तथा पदाधिकारियों द्वारा भाग लिया गया है। सघं की 12 सूत्रीय मांगों पर शासन एंव सरकार द्वारा सकारात्मक कार्यवाही न करने तथा तानाशाही पूर्ण रवैया अपनाये जाने के विरूद्घ संघ द्वारा प्रदेशव्यापी आंदोलन घोषित किए जाने का निर्णय किया गया है, जिसमें प्रथम चरण में 21 एंव 22 सितम्बर को दो दिवसीय धरना दिया जा रहा है। उन्होंने बताया कि 23 सितम्बर को द्वितीय चरण के तीळ्र आंदोलन कार्यक्रम घोषित किए जाएगे।

संघ की प्रमुख समस्याओं में महावीर सिंह रौथान का स्थानान्तरण निरस्त किया जाना, वर्ष 2017-18 में अधिशासी अभियन्ताओं के नियम विरूद्घ हुए स्थानान्तरण की जांच तथा सबंधित निरस्त किया जाना अधीनस्त अभियन्त्रण सेवा नियमावली में संशोधन उच्च न्यायालय के अंतिम निर्णय आने तक सहायक अभियन्ताओं की पूर्व से विद्यमान ज्येष्ठता सूची के अनुसार अधिशासी अभियन्ताओं के पदों पर प्रोन्नति या प्रभारी बनाया जाना अधिशासी अभियन्ता को कार्यभार दिलाना जाना, रिक्त सहायत अभियन्तओं के पदों पर प्रोन्नति हेतु अभियान लोक सेवा आयोग को प्रेषित किया जाना , विभाग को ग्राम्य विकास की कार्यदायी संस्था बनाया जाने की भी मांग की। धरना स्थल पर नवीन कंडवाल, एल सी पांडे , रमेश थपलियाल, प्रदीप सैनी, बाइस चेयरमैन विकास अंथवाल, विनोद बडौनी , तहसीन अहमद, राजीव गर्ग, कृष्ण पाल , जगदीश नेगी, विजय प्रकाश समेत कई लोग मौजूद थे।

उक्रांद ने किया कार्यकारिणी का विस्तार

 देहरादून। उत्तराखंड क्रांति दल के महानगर अध्यक्ष संजय क्षेत्री ने कहा है कि दल की मजबूती को व्यापक स्तर पर सदस्यता अभियान चलाया जा रहा है और कई युवा दल से जुड़ रहे है।

 
यहां दल के केन्द्रीय कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत करते हुए क्षेत्री ने कहा महानगर इकाई ने निकट भविष्य में होने वाले नगर निगम चुनाव को ध्यान में रखते हुए महानगर कार्यकारिणी का गठन किया। उनका कहना है कि बीते 17 वर्षों से राजधानी देहरादून में आम जनता नगर निगम प्रदत्त सुविधाओं के लिए तरसती रही है। पिछले 17 वर्षों से नगर निगम में कब्जा जमाए बैठे कांग्रेस और भाजपा के जनप्रतिनिधि जनता को मूलभूत सुविधाएं दिलाने में पूरी तरह असफल रहे हैं। उनका कहना है कि आगामी चुनाव में उत्तराखंड क्रांति दल इस मुद्दे को भुनाने में कोई कसर नहीं छोड़ेगा। देहरादून शहर की सफाई व्यवस्था तथा गलियों,नालियों व पथ प्रकाश की लचर व्यवस्था पर जनता का ध्यान आकर्षित करने के लिए उक्रांद के महानगर स्तर के पदाधिकारी प्रत्येक वार्ड में जाकर वार्ड कार्यकारिणी का गठन व सभाएं करेंगे।
 
उनका कहना है कि प्रत्येक वार्ड में बैठक कर के वार्ड अध्यक्ष की नियुक्ति के साथ कांग्रेस और भाजपा की कथनी और करनी का फर्क जनता को बताएंगे। नगर निगम सीमा विस्तार की आड़ में सरकार के इशारे पर खेले जाने वाले भू-माफियाओं के खेल में बारीक नजर रखी जाएगी तथा वरिष्ठ नागरिकों की सैर, बच्चों व युवाओं के लिए खेल के मैदान तथा गरीब परिवारों के शादी विवाह हेतु सामुदायिक भवनों के निर्माण की लड़ाई लड़ी जाएगी। उनका कहना है कि दोनों राष्ट्रीय दलों ने नगर निगम की संपत्तियों में जिस तरह वोट बैंक की खातिर अंधाधुंध अवैध कब्जे करवाए हैं,उसकी वजह से आज शहरों में बुजुर्गों की सुबह शाम की सैर और बच्चों के लिए खेल के मैदान की जगह तक उपलब्ध नहीं है।
 
इस अवसर पर महानगर कार्यकारिणी के गठन के अवसर पर कांग्रेस, भाजपा के साथ आम आदमी पार्टी के पूर्व पदाधिकारियों ने भी उक्रांद की सदस्यता ग्रहण की। इनको महानगर कार्यकारिणी में दायित्व भी दिया गया। आम आदमी पार्टी के जिला संयोजक डॉ महेश कुमार ने आज यूकेडी की सदस्यता ग्रहण करी। महेश कुमार को महानगर महामंत्री का दायित्व भी दिया गया। भारतीय जनता पार्टी के मंडल पदाधिकारी एडवोकेट रविंद्र गुनसोला तथा पूर्व में कांग्रेसी विचारधारा रखने वाले युवा नेता गौरव कुमार को भी महानगर कार्यकारिणी जिम्मेदारी दी गई। 2007 में  गुरु राम राय डिग्री कॉलेज से छात्रसंघ महासचिव निर्वाचित हुए गौरव उनियाल को भी महानगर में दायित्व दिया गया। उनका कहना है कि इसके साथ ही चिकित्सा प्रकोष्ठ विधि प्रकोष्ठ तथा सोशल मीडिया प्रभारी की नियुक्ति भी की गई है। डॉक्टर भूषण उनियाल को चिकित्सा प्रकोष्ठ का महानगर अध्यक्ष तथा एडवोकेट संजय मिश्रा को विधि प्रकोष्ठ का महानगर अध्यक्ष बनाया गया। युवा नेता विक्रम खत्री को महानगर का सोशल मीडिया प्रभारी नियुक्त किया गया। इस अवसर पर अनेक पदाधिकारी व सदस्य मौजूद थे।

छात्र नेताओं ने खुद को प्रशासन भवन में किया कैद

 टिहरी। दो छात्र नेताओं ने आज खुद को एसआरटी परिसर बंद कर लिया। परिसर में बंद दोनों छात्र जय हो ग्रुप से जुड़े बताए जा रहे हैं। छात्र नेताओं ने विश्वविद्यालय प्रशासन पर मांगों के निराकरण को लेकर लापरवाही बरतने आरोप लगाया है। खुद को एसआरटी परिसर में बंद करने वाले छात्र नेताओं का कहना है कि वे लंबे समय से परिसर में बायोमेट्रिक मशीन लगाने की मांग कर रहे हैं।

लेकिन विश्वविद्यालय प्रशासन लगातार उनकी मांग को नज़रअंदाज करता आ रहा है। परिसर में कैद होने वाले छात्र नेताओं की पहचान पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष रविंद्र रावत और पूर्व विवि प्रतिनिधि धीरज कौशल के रूप में हुई है। परिसर में बंद छात्र नेताओं ने छात्र संगठनों को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि कुछ छात्र संगठन छात्र संघ चुनाव के समय समस्याओं के निराकरण के लिए आंदोलन करते हैं। लेकिन जैसे ही चुनाव संपन्न होते हैं, उन्हें समस्याएं दिखाई ही नहीं देती। छात्र नेताओं ने मांगे पूरी न होने पर उग्र आंदोलन की चेतावनी दी है।

किडनी कांड का एक और आरोपी गिरफ्तार

 देहरादून। गंगोत्री चैरिटेबिल हॉस्पिटल लाल तप्पड़ डोईवाला के बहुचर्चित किडनी कांड मामले में एक और आरोपी को गिरफ्तार किया गया है। चन्द्रेश्वरनगर ऋ षिकेश के रहने वाले श्रीनिवास चौहान को चन्द्रभागा पुल के पास से गिरफ्तार किया गया। वो ऋ षिकेश छोडक़र कहीं भागने की फिराक में था।

किडनी कांड में पहले से ही जेल की हवा खा रहे मास्टरमाइंड डॉ0 अमित, अस्पताल संचालक राजीव चौधरी व अन्य आरोपियों से पूछताछ में पुलिस के सामने श्रीनिवास चौहान का नाम आया था। श्रीनिवास गंगोत्री हॉस्पिटल में एक्स-रे का काम करता था और किडनी कांड के खुलासे के बाद से ही फरार था। श्रीनिवास की गिरफ्तारी के लिये एसएसपी के निर्देश पर पुलिस अधीक्षक ग्रामीण व सहायक पुलिस अधीक्षक ऋ षिकेश के नेतृत्व  में वरिष्ठ उपनिरीक्षक कोतवाली ऋषिकेश हेमंत खंडूड़ी के नेतृत्व में टीम गठित की गयी थी। बीती 19 सितंबर को पुलिस टीम को सूचना मिली कि श्रीनिवास ऋषिकेश छोडक़र भागने की फिराक में है।
 
इस सूचना पर पुलिस टीम ने चन्द्रभागा पुल के पास से श्रीनिवास चौहान को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ पर श्रीनिवास ने बताया कि वो गंगोत्री चैरिटेबिल अस्पताल लाल तप्पड़ में जनवरी 2017 से काम कर रहा था। उसे राजीव चौधरी ने वहां काम पर रखा था। राजीव चौधरी व उसकी पत्नी अनुपमा इस चैरिटेबल अस्पताल का संचालन करते थे। डॉक्टर अमित, उसका बेटा अक्षय, अमित का भाई जीवन, डॉ0 संजय दास व संजयदास की पत्नी सुषमा (गायनो सर्जन) बाहर से किडनी बदलने का ऑपरेशन करने आते थे व सोनू डायलिसिस का काम करता था। श्रीनिवास ने बताया कि दीपक, सरला व सरिता नर्स का काम करते थे। यह सब ऑपरेशन के दौरान जरूरत की चीजों को डॉक्टरों को उपलब्ध कराते थे। सभी को पता था कि डॉक्टर अमित व यहां सब लोग गलत तरीके से किडनियां बदलने का काम करते हैं इसलिये राजीव चौधरी, डॉ0 अमित व इनके सहयोगियों ने किसी भी मरीज के बारे में व हॉस्पिटल की गतिविधियों के बारे में बाहर किसी आदमी को बताने को मना किया था। साथ ही हॉस्पिटल में मरीजों का लेखा-जोखा भी सही प्रकार से नहीं रखा जाता था। मरीजों का नाम ही पता होता था। हास्पिटल में जो गार्ड थे वो डॉ0 अमित के जान पहचान वाले थे। गार्ड राजीव चौधरी की अनुमति के बिना किसी को भी अस्पताल में अन्दर नहीं आने देते थे। बता दें कि श्रीनिवास के कब्जे से गंगोत्री हॉस्पिटल लालतप्पड़ में किडनी बदलने सम्बन्धी मरीजों के कई टेस्ट रिपोर्ट व वल एक्सरे बरामद हुये हैं। गौर हो कि किडनी कांड का मास्टरमाइंड डॉ0 अमित, अस्पताल संचालक राजीव चौधरी व अन्य आरोपियों को पुलिस ने पहले ही गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

मोदी के नेतृत्व में उंचाईयों पर पहुंच रहा भारत: शाह

 देहरादून। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने अपनी पत्रकार वार्ता में मोदी सरकार के अब तक किये गये कार्यों का गुणगान करते हुए नजर आये। शाह ने कहा है कि मोदी सरकार के नेतृत्व में भारत विश्व में उंचाईयों पर पहुंच रहा है, उनके नेतृत्व में कई योजनायें गरीबों के उत्थान के लिए चल रही है जिसके कारण मोदी सरकार ब्रांड इंडिया बनाने में सफल हो रही है। राजपुर रोड स्थित एक होटल में बातचीत करते हुए अमित शाह ने कहा कि केन्द्र सरकार का तीन वर्ष का कार्यकाल हो गया, एक भी भ्रष्टाचार का मामला सामने नहीं आया है, विरोधी भी भ्रष्टाचार का आरोप नहीं लगा पा रहे है।

पिछली सरकार निर्णयविहीन थी वहीं अब मोदी सरकार खुले रूप से निर्णय ले रही है। जीएसटी के माध्यम से पूरे देश में एक कर प्रणाली लागू की गई है, यह एक सराहनीय कदम है। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड की जनता ने लोकसभा व विधानसभा चुनाव में भाजपा के पक्ष में मतदान कर दो तिहाई की सरकार बनाकर अपना आशीर्वाद दिया है उनके आशीर्वाद का दिल से धन्यवाद करता हूं। उनका कहना है कि गांव व शहर का एक साथ विकास करना मोदी सरकार की प्राथमिकता है और केन्द्र सरकार के तीन वर्ष के कार्यकाल में देश के राज्यों में अमूलचूल परिवर्तन हुए हे। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने जातिवाद, परिवारवाद व तुष्टिकरण को खत्म करके स्वच्छ प्रशासन की सरकार जनता को दी है।

 
उन्होंने कहा कि राज्य की त्रिवेन्द्र सरकार सही दिशा व सही गति से चल रही है ओर घोषणा पत्र के अनुसार आगे बढ़ेगी। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने नोटबंदी व एक कर प्रणाली पर निर्णय लेकर पूरे विश्व में एक मिसाल पैदा की है जिसका लाभ देश की जनता को लगातार मिल रहा है। ऑल वेदर रोड के माध्यम से चारों धाम की यात्रा सुलभ बनाने का प्रयास केन्द्र सरकार ने किया है, राज्य सरकार ने खनन माफिया, शराब माफिया व कानून व्यवस्था में लगातार सुधार लाकर अच्छा काम किया है। एनएच 74 की जांच राज्य सरकार की एजेंसियां कर रही है, इसमें दोषियों को बक्शा नहीं जायेगा। पत्रकारों द्वारा पूछे गये सवालों पर अमित शाह या तो टाल गये या फिर जवाब ही नहीं दे पाये।

.