Share Your view/ News Content With Us
Name:
Contact Number:
Email ID:
Content:
Upload file:

2018 तक खुले से शौचमुक्त होगा प्रदेश : सीएम

 हल्द्वानी। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिह रावत ने सर्किट हाउस काठगोदाम में अधिकारियों के साथ विकास कार्यो की समीक्षा बैठक ली। बैठक में भारत सरकार द्वारा संचालित जनकल्याणकारी योजनाओं की समीक्षा करते हुये कार्यो में तेजी लाने के निर्देश मुख्यमंत्री  रावत ने अधिकारियों का दिये।

 
मुख्यमंत्री  ने कहा कि आगामी मार्च 2018 तक स्वच्छ भारत मिशन के अन्तर्गत पूरे प्रदेश को खुले में शौचमुक्त करने का लक्ष्य रखा गया है। इसलिए सभी निकाय अपने सभी वार्डो को शीघ्रता से ओडीएफ करना सुनिश्चित करें। प्रदेश में घटते लिंगानुपात पर चिंता व्यक्त करते हुये लिंगानुपात बढाने के हर सम्भव प्रयास करने के भी निर्देश दिये। मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द्र ने कहा कि भारत सरकार व प्रदेश सरकार द्वारा संचालित योजनाओं का लाभ सभी व्यक्तियों को मिले, इस हेतु अधिकारी सक्रियता व पारदर्शिता से कार्य करें। उन्होने कहा कि प्रत्येक उपजिलाधिकारी प्रतिमाह अपने क्षेत्र पर पांच-पांच विद्यालयों, राशन की दुकानों, सडकों, स्वास्थ्य केन्द्रो, आबकारी दुकानों का निरीक्षण कर रिर्पोट जिलाधिकारी को प्रस्तुत करें। स्वास्थ्य सुविधाओं को और बेहतर बनाने के लिए पहले संयुक्त चिकित्सालयों को वीडियो कांफ्रेंसिंग से जोडा जायेगा ताकि वहां पर बैठे चिकित्सक, फार्मेसिस्ट आदि वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से विशिष्ट चिकित्साधिकारियों से सीधे सम्पर्क कर रोगियो को और बेहतर उपचार दे सकेंगे।
 
मुख्यमंत्री ने कहा कि न्याय पंचायत स्तर पर कृषि महोत्सवों का आयोजन किया जायेगा व प्रगतिशील किसानों को और प्रोत्साहित किया जायेगा। उन्होने समाज कल्याण विभाग की पेंशन योजनाओं का लाभ दिये जाने तथा नये पात्र लाभार्थियों के चयन हेतु विशेष शिविरों का आयोजन किया जाए इसके साथ ही विभिन्न छात्रवृत्तियों के अलावा पेंशनंों का भुगतान लाभार्थी के खाते में ऑनलाइन किया जाए तथा अनिवार्य रूप से शतप्रतिशत उनके खाते आधार नम्बर से लिंक कर दिये जाए। उन्होने अटल आदर्श ग्रामों को चिन्हित कर वहां पर सभी योजनायें, सुविधायें एक छतरी के नीचे देने व न्याय पंचायत स्तर पर नई टाऊनशिप विकसित हेतु कार्य करने को कहा ताकि पलायन को रोका जा सके।
 
मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री सडक योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना, मनरेगा,राष्ट्ीय स्वास्थ्य मिशन, प्रधानमंत्री सिचाई योजना, बाल विकास, सर्व शिक्षा अभियान, मिडडे मील, स्वच्छ भारत मिशन, डिजिटल इण्डिया, राष्ट्ीय कृषि विकास योजना, दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण विद्युतीकरण योजना, राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना आदि की समीक्षा की। समीक्षा के दौरान उन्होने मनरेगा के अन्तर्गत जल संरक्षण एवं संवर्द्धन को प्राथमिकता से कराने के साथ ही बाल विकास अधिकारियों को कुपोषण दूर करने के निर्देश दिये। मुख्य शिक्षा अधिकारी को मैदानी व पहाडी क्षेत्रो के विद्यालयों का पृथक-पृथक डाटा तैयार करते हुये उनमें छात्र-छा़त्राओं व शिक्षकों की संख्या, शौचालय व अन्य सुविधायें आदि का डाटा तैयार करने के निर्देश दिये, साथ ही उन्होने शिक्षा के स्तर में सुधार एवं विद्यालयों में शैक्षिक माहौल बनाने के निर्देश भी दिये।
बैठक मे विधायक  बंशीधर भगत ने काठगोदाम-भद्यूनी निर्माणाधीन मोटर मार्ग मे कार्य रोके जाने के साथ ही सडक का तकनीकी सर्वे दोषपूर्ण होने की समस्या के बारे में अवगत कराया। जिस पर मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारी  दीपेन्द्र कुमार चैधरी को जांच कराने के निर्देश दिये। विधायक  रामसिह कैडा ने वलका-कैलाकोट सडक की गुणवत्ता पर सवाल उठाते हुये कहा कि सडक सोलिंग में स्थानीय कच्चे पत्थर का इस्तेमाल किये जाने की शिकायत की।
बैठक में विधायक  दीवान सिह विष्ट,  नवीन दुम्का,  संजीव आर्य,  राजकुमार ठुकराल, मेयर डा0 जोगेन्द्र पाल सिह रौतेला, जिलाधिकारी  दीपेन्द्र कुमार चैधरी,वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक  जन्मेजय खंडूरी, मुख्य विकास अधिकारी  प्रकाश चन्द्र, अपर जिलाधिकारी  हरवीर सिह सहित समस्त विभागीय अधिकारी मौजूद थे। 

 

आशा कार्यकत्रियों ने फूंका प्रदेश सरकार का पुतला

देहरादून। उत्तराखंड आशा स्वास्थ्य कार्यकत्री यूनियन ने प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए सरकार का पुतला फूंककर विरोध जताया।  इस दौरान उन्होने कहा कि जब तक हमारी मांगे पूरी नही होती तब तक वे आंदोलन तेज करने की करेगे।  यूनियन के बैनर तले आशा कार्यकत्रियों ने धरना स्थल पर प्रान्तीय अध्यक्ष शिवा दुबे के नेतृत्व में इक्_ा हुए और वहां पर अपनी समस्याओं के समाधान के लिए प्रदेश सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए सरकार के पुतले को आग के हवाले किया।
 
इस दौरान उन्होंने काह कि शीइा्र ही उनकी समस्याओं का समाधान नहीं हुआ तो वे आंदोलन तेज करेगे। इस अवसर पर वक्ताओं ने कहा कि अन्य स्कीम वर्करो की भांति आशाओं को भी न्यूनतम वेतन व मानदेय दिया जाना चाहिए, लेकिन अभी तक सरकार की ओर से किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं की गई। वक्ताओं का कहना है कि सन 2012 -13 , 2013-14, 2015-16, 2016-17 चारों की पांच हजार रूपए प्रति वर्ष प्रोत्साहन राशि को एक मुश्त भुगतान अविलंब किया जाए। 
 

दून को अतिक्रमण मुक्त करने को लेकर बैठक आयोजित------17

 देहरादून। प्रदेश के शहरी विकासए आवासए राजीव गाँधी शहरी आवासए जनगणनाए पुनर्गठन एवं निर्वाचन मंत्री मदन कौशिक ने विधान सभा स्थित कार्यालय कक्ष में देहरादून शहर को सुन्दरए साफ.सुथरा एवं अतिक्रमण मुक्त करने विषय पर बैठक ली। उन्होंने अतिक्रमण हटाये जाने को लेकर 6 सेक्टर की टीम की जानकारी लेते हुए निर्देश दिया कि किसी के साथ पक्षपात नहीं होना चाहिए और यह भी कहा कि किसी की एक इंच भी भूमि नहीं ली जायेगी। लेकिन अतिक्रमण किसी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जायेगा।

 

अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा आम जन में मुनादी करा दी जाए कि कचहरी रोड़ए त्यागी रोड सहित स्वयं अपना अतिक्रमण हटा लिया जाए। यह भी निर्देश दिया गया कि यदि अतिक्रमण हटाये जाने के बाद सडक़ पर जबर्दस्ती समान रखा मिला हुआ पाया जाता हैए तब एक समिति बनाकर इसे नगर निगम में रख लिया जाए। इस आशय की जानकारी आम.जन को दे दी जाए कि यदि सडक़ पर जबर्दस्ती समान रखा हुआ पाया जाता हैए तब इसको हटाये जाने का खर्च भी सम्बन्धित से वसूला जायेगा। इस सम्बन्ध में निर्देश दिया गया कि आपत्तियों का निराकरण एक सप्ताह के भीतर कर लिया जाएए टेंडर की प्रक्रिया जल्दी करकेए अतिक्रमण सम्बन्धी कार्य में तेजी लाई जाए। इस अवसर पर डीएम देहरादून एसए मुरूगेशनए एसएसपी दून निवेदिता कुकरेतीए एडीएम अरविन्द पाण्डेयए वीर सिंह बुधियालए एसपी ट्रैफिक धीरेन्द्र गुंज्यालए एसडीएम सदर प्रत्युष सिंह इत्यादि मौजूद थे।

वित्त मंत्री ने प्रकाश पंत ने की विकास कार्यो की समीक्षा

गोपेश्वर। जिले की आवश्कता के अनुसार ही विकास योजनाओं को चिन्हित कर धरातल पर उनका क्रियान्वन करना सुनश्चित करें। यह निर्देश प्रदेश के वित, पेजल एवं स्वच्छता, आबकारी भाषा, विधी, संसदी कार्या, गन्ना विकास एवं चीनी उद्योग मंत्री प्रकाश पंत ने जिला क्लेक्ट्रेट परिसर में विकास कार्यो की समीक्षा के दौरान जिला स्तरी अधिकारियों को दिे। उन्होंने जनप्रतिनिधियों एवं अधिकारियों को बेहतर तालमेल के साथ जन भावनाओं के अनुप विकास र्काो को गुणवत्ता के साथ क्रियान्वन करने को कहा।
 
ताकि आम जनता को विकास कार्यो का लाभ मिल सके। इस अवसर पर बद्रीनाथ विधायक महेन्द्र भट्ट भी उनके साथ मौजूद थे। बैठक में वित्त मंत्री ने कहा कि सरकार ने 2022 तक कृषकों की आजीविका दोगुनी करने का लक्ष्या् निर्धारित किा है। जिसके लिए प्रभावी र्काोजना के साथ र्का करने की आवश्यक है। उन्होंने कहा सरकार छोटे किसानों के लिए 1लाख रुयपे तक ऋण 2 प्रतिशत बजदर पर उपलब्ध कराने हेतु योजना ला रही है, जिसका किसानों को भरपूर लाभ मिलेगा। उन्होंने किसानों को सम से बीज, पौधा एवं खाद उपलब्ध कराने के निर्देश कृषि एवं उद्यान विभाग के अधिकारियों को दिये, ताकि किसानों व काश्तकारों को बीज, पौध एवं खाद से जुडी समसओं का सामना न करना पडे।
 
जिले में फल एवं सब्जी के कम उत्पादन पर नाराजगी जाहिर करते हुए उद्यान विभाग को फल एवं सब्जी उत्पादन हेतु लक्ष्य् निर्धारित कर कार्योजना तैार करने के निर्देश दिये। जिले में अमूल की तर्ज पर बदरी गाय के दुग्ध उत्पादन को बसजाने तथा बदरी गाय के नाम से दुग्ध ब्रान्ड तैार करने को कहा, ताकि बदरी ब्रान्ड के दुग्ध उत्पादन से जिले को नी पहचान मिल सके और काश्तकारों की आजीविका भी बसज सके। जडी बूटी उत्पादन के आपार सम्भावनाओं को देखते हुए उन्होंने काश्तकारों को जडी बूटी उत्पादन हेतु प्रोत्साहित करने को कहा। उन्होंने स्वच्छ पेजल आपूर्ति के लिए सभी पेजल स्रोतों एवं वाटर टैंकों की निमित साफं व सफाई रखने के निर्देश दिे। उन्होंने कहा कि क्षतिग्रस्त पेजल लाईनों की शीघ्र मरम्मत कर सभी लिकेज को ठीक किा जा तथा पेयजल से संबधित शिकायतों के निराकरण हेतु शिकात रजिस्टर को अपडेट रखा जा। बैठक में बद्रीनाथ विधायक महेन्द्र भट्ट ने लोनिवि को स्वीकृत सडकों के आंगणन शीघ्र शासन को उपलब्ध कराने के निर्देश दिये, ताकि उन पर सम से कार्य शुरु हो सके।
 
जिलाधिकारी आशीष जोशी ने जिला योजना, राजय् सैक्टर, केन्द्र पोषित एवं बाह् साहतित योजनाओं के अन्तर्गत अनुमोदित परिव्य, विभागों को अवमुक्त धनराशि एवं विभागों द्वारा अभी तक किये गये व् के संबध में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने बैठक में अवगत कराा कि कृषि विभाग के माध्म से ड्रीम प्रोजेक्ट यात्रामार्ग पर बेमौसमी मक्का के उत्पादन एवं विपणन हेतु र्का योजना तैार की गी है। उन्होंने जनपद में अधिकारिों के रिक्त पदो के संबध में भी मंत्री को अवगत कराा। जिस पर वित्त मंत्री ने रिक्त पदों पर अधिकारियों की तैनाती के लिए हर सम्भव प्रयास करने की बात कही। इस अवसर पर भाजपा जिला अध्यक्ष मोहन प्रसाद थपलिाल, जिला महामंत्री भाजपा गजेन्द्र सिंह रावत, पुलिस अधीक्षक तृप्ति भट्ट, मुख्य विकास अधिकारी विनोद गोस्वामी, अपर जिलाधिकारी ईला गिरि, डीडीओ आनंद सिंह, सीएमओ भागीरथी जंगपांगी, सीईओ एमएम चमोली, सीटीओ वीरेन्द्र कुमार सहित अन्य जनप्रतिनिधि एवं जिला स्तरी अधिकारी व कर्मचारी मौजूद थे।
 

सडक़ों की दुर्दशा के विरोध में होगा आन्दोलन: धस्माना

देहरादून। राजधानी में सडक़ों की दुर्दशा के खिलाफ चलाये जा रहे फेसबुक लाइव के तेरह संस्करण होने के बाजवूद जिम्मेदारों द्वारा सडक़ों की दशा सुधारने के लिए एक भी कदम नहीं उठाने से आक्रोशित उत्तराखण्ड प्रदेश कांग्रेस के वरिष्ठ उपाध्यक्ष सूर्यकान्त धस्माना ने सम्बन्धित विभागों को चेतावनी देते हुए कहा कि सडक़ों की खस्ता हाल को सुधारने एवं सफाई व्यवस्था को ढर्रें पर लाने के लिए अब जनता के सहयोग से लोक निर्माण विभाग सहित सभी जिम्मेदार विभागों के विरुद्घ आन्दोलन किया जायेगा।
 
इसी माह 6 अगस्त को राजपुर रोड पर सडक़ की दुर्दशा के कारण दुर्घटना की शिकार होकर दो युवतियों की मौत से व्यथित  धस्माना ने 8 अगस्त से पूरे देहरादून में सडक़ों की दुर्दशा को आम नागरिकों को दिखाने के लिए फेसबुक लाइव के तेरह संस्करणों में शहर की विभिन्न सडक़ों राजपुर रोड, आई$एस$बी$टी$ चौक, कांवली रोड, सर्वे चौक से रायपुर रोड, जी$एम$एस$-आई$टी$बी$पी$ रोड, इंजीनियर्स एन्क्लेव, इन्दिरानगर-बसन्त विहार-बल्लूपुर चौक-महारानी बाग सम्पर्क मार्ग, भूड़गांव-पंडितवाड़ी गांव की मुख्य सडक़, पुष्पांजलि एन्क्लेव, पार्क रोड, न्यू पटेलनगर से मिलन विहार सडक़, पश्चिम पटेलनगर, हरिद्वार बाईपास से ब्राह्मणवाला मुख्य मार्ग आदि में भ्रमण किया और सडक़ों की खराब हालत स्वयं देखी तथा फेसबुक के माध्यम से दर्शकों को भी दिखाई। भ्रमण के दौरान श्री धस्माना ने उस क्षेत्र के स्थानीय नागरिकों से बातचीत भी की। प्रत्येक फेसबुक लाइव में स्थानीय नागरिकों ने सडक़ों की बदहाल स्थिति पर आक्रोश व्यक्त करते हुए बताया कि क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों की उपेक्षा के कारण स्थितियां बद से बदतर होती जा रही हैं।
 
धस्माना ने बताया कि जिन-जिन क्षेत्रों में फेसबुक लाइव के दौरान भ्रमण किया गया वहां सभी जगह स्थानीय नागरिकों ने एक स्वर में बताया कि टूटी सडक़ों के कारण बच्चे, महिलायें, बुजुर्ग और दोपहिया वाहन चालक अक्सर दुर्घटनाग्रस्त होते रहते हैं। क्षेत्रीय नागरिकों ने इन कार्यक्रमों के दौरान इन सडक़ों की दुर्दशा के विषय में स्थानीय पार्षदों, विधायकों एवं मेयर को अवगत करवाने के बावजूद इन्हें ठीक करवाने, मरम्मत आदि करवाने का काम नहीं किया जा रहा है। राजधानी में ठप पड़ी सफाई व्यवस्था के विषय में धस्माना ने कहा कि नगर निगम की उदासीनता से शहर के हर हिस्से में सडक़ों के किनारे एवं मौहल्लों के अन्दर कूड़े के ढ़ेर लगे हुए हैं। उन्होंने कहा कि बरसात का मौसम विभिन्न प्रकार की संक्रामक बीमारियों के लिए मुफीद होता है और उस पर सफाई व्यवस्था चौपट होने से डेंगू और स्वाइन फ्लू जैसी संक्रामक बीमारियों के फैलने का खतरा बना हुआ है। धस्माना ने कहा कि शहर की दुर्दशा के लिए जिम्मेदार विभागों को नींद से जगाने के लिए जनता के सहयोग से इन विभागों के विरुद्घ शीघ्र ही एक आन्दोलन प्रारम्भ किया जायेगा।

उत्तराखंड के एयर फील्ड व एयर स्ट्रिप पर की चर्चा

देहरादून। एयर मार्शल ए0एस0बुटोला ने गुरुवार को सचिवालय में मुख्य सचिव एस$ रामास्वामी से मुलाकात की। उन्होंने उत्तराखंड के एयर फील्ड, एयर स्ट्रिप के विस्तार पर चर्चा की। कहा कि सिविल-मिलिटरी लाइजन समिति में एयर फोर्स को भी शामिल किया जाए। एयरफोर्स के साथ प्रारंभिक समन्वय बैठक में तय किया गया कि वर्ष में कम से कम 2 बार इस तरह की समन्वय बैठक होगी।
 
बताया गया कि वर्ष 2013 की आपदा के अनुभव के आधार पर एअरफोर्स के साथ समन्वय बनाए रखा जाएगा। आपदा की स्थिति में बचाव और राहत कार्यों के लिए एयरफोर्स के सहयोग की जरूरत को देखते हुए एअर फील्ड को सु²ढ़ किया जाएगा। इसके लिए एयर फोर्स राज्य सरकार का सहयोग करेगी। एयर फोर्स ने राज्य के हेलीपैड का सर्वे कर शासन को स्थिति से अवगत कराया। मुख्य सचिव ने कहा कि रीजनल कनेक्टिविटी स्कीम (आर0सी0एस0) के तहत राज्य में हवाई सेवाओं को सु²ढ़ किया जा रहा है। इससे पर्यटन उद्योग को बढ़ावा मिलेगा। आपदा की स्थिति में राहत बचाव कार्य में सहयोग मिलेगा। बैठक में उकाडा के एसीइओ आर$राजेश कुमार, चीफ पायलट कैप्टन अशोक सेठी के अलावा एयरफोर्स के अधिकारी उपस्थित थे।

छात्रसंघ चुनाव के लिए मतदान संपन्न

 देहरादून। देहरादून के डीएवी पीजी कॉलेज में गुरूवार को छात्रसंघ चुनाव के लिए मतदान संपन्न हो गया। कॉलेज छात्रसंघ चुनाव के लिए सुबह 9:30 बजे से  मतदान शुरू हो गया था। मौसम साफ होने से तय समय पर ही वोटरों में उत्साह दिखाई दे रहा था। चटक धूप से वोटरों का उत्साह देखते ही बन रहा था। सुरक्षा व्यवस्था के लिए कॉलेज परिसर के आसपास भारी पुलिस फोर्स तैनात थी। छात्र संघ चुनाव के लिए मतदान दोपहर दो बजे तक चला। डीएवी पीजी कॉलेज में 6879 वोटर चुनाव मैदान में उतरे 31 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला करेंगे। मतगणना शुक्रवार को होगी। उधर, दोपहर बाद फर्जी वोटिंग को लेकर हंगामा हुआ।

 इस दौरान कुछ छात्र नेताओं की पुलिस ने नोकझोंक भी हुई। ऐसे में पुलिस ने सख्ती दिखाते हुए छात्रों को वहां से बाहर खदेड़ दिया।  छात्र राजनीति को लेकर डीएवी कॉलेज के छात्र संघ चुनाव कई मायने रखता है। राज्य का सबसे बड़ा कॉलेज होने का दावा डीएवी को लेकर किया जाता है। राजधानी में डीएवी की राजनीति में राजनैतिक दलों का भी पूरा हस्तक्षेप रहता है। विद्यार्थी परिषद 11वीं बार डीएवी में जीत के इरादे से उतर रही है तो एनएसयूआई बगावत के बावजूद डीएवी में बड़े उलटफेर के इरादे से इस चुनाव को देख रही है। महासचिव पद पर भी मुकाबला रोमांचक है। सत्यम छात्र संगठन जहां जीत के सिलसिले को आगे बढ़ाने के लिए जोरआजमाइश कर रहा है, तो आर्यन के लिए खोई हुई जमीन वापस प्राप्त करने की चुनौती है। एनएसयूआई ने पहली बार महासचिव पद पर भी दांव खेला है और वह हर हाल में जीतकर खाता खोलना चाहते हैं। निश्चय गु्रप भी इस बार ताकत के साथ मैदान में है। जबकि एसएफआई भी महासचिव के लिए मैदान में है। चुनाव अधिकारी डा.डीके त्यागी ने कहा कि तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। 20 बूथ पर सुबह नौ बजे से मतदान शुरू हो जाएगा। मतदान दोपहर दो बजे तक चलेगा। प्रत्येक बूथ पर पांच शिक्षकों और कर्मचारियों का स्टॉफ तैनात किया गया है।  

नशामुक्ति केन्द्र का हो पंजीकरण : डीएम

देहरादून। जिलाधिकारी एस$ए मुरूगेशन की अध्यक्षता में कैम्प कार्यालय में क्लीनिक इस्टेब्लिशमेंट एक्ट उत्तराखण्ड शासन की नियमावली 2015 के अन्तर्गत अस्थाई पंजीकरण करने के सम्बन्ध में जिला रजिस्ट्रीकरण प्राधिकरण समिति की बैठक आहूत हुई। बैठक में जिलाधिकारी एस$ए मुरूगेशन ने नैदानिक स्थापन (रजिस्ट्रीकरण और विनियमन) अधिनियम के तहत किये जाने वाले अस्थाई पंजीकरण के सम्बन्ध में मुख्य चिकित्साधिकारी टी$सी पंत से जानकारी चाही गई। जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देश दिये हैं कि उक्त अधिनियम का जनपद में अनुपालन कराना सुनिश्चित करायें तथा एक्ट के सफल क्रियान्वयन के लिए शासन स्तर पर भी टास्क फोर्स समिति स्टेयरिंग कमेटी बनाये जाने के सम्बन्ध में पत्र प्रेषित करने के भी निर्देश दिये।
 
 
जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी को यह भी निर्देश दिये हैं कि जनपद में संचालित हो रहे नशामुक्ति केन्द्रो का एल$आई$यू के माध्यम से जांच कराते हुए यह सुनिश्चित किया जाये कि जनपद में संचालित हो रहे नशामुक्ति केन्द्र का पंजीकरण कराया गया है या नही तथा नशामुक्ति केन्द्र में किस तरह से आने वाले व्यक्तियों का उपचार किया जा रहा है इसके लिए संचालित हो रहे केन्द्रों में कोई विशेषज्ञ चिकित्सक कर्यरत है या नही तथा केन्द्र में आने वाले व्यक्तियों को नशा से मुक्त करने के लिए किन दवाओं का प्रयोग किया जा रहा है सभी तथ्यों की जांच कराना सुनिश्चित करें, यदि किसी केन्द्र में किसी प्रकार की कोई गड़बड़ी सामने आती है तो उनके विरूद्घ आवश्यक कार्यवाही सुलिश्चित की जाय। इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने अवगत कराया है कि जनपद में अब तक 132 पंजीकृत किये गये हैं जिसमें चिकित्सालय 26, सुपर स्पेशलिस्ट 7, एलोपैथिक क्लीनिक 19, आयुर्वेदिक 41, होम्योपैथिक 6, डेन्टल 9, इमेंजिंग सेन्टर 2, फिजियोथेरेपी सेन्टर 1, पैथोलाजी लेब17, प्राकृतिक चिकित्सा 4 क्लीनिक/चिकित्सालय का पंजीकरण करवाया गया है। जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देश दिये है कि क्लीनिक इस्टेब्लिशमेंट अस्थाई पंजीकरण के लिए सिंगल विडों सिस्टम के माध्यम से कराया जाय, जिससे इसमें की जाने वाली कार्यवाही एक ही स्थान से हो ताकि क्लीनिक संंचालकों को अन्य विभागों के चक्कर न लगाने पडें। उन्होने यह भी निर्देश दिये है कि इसका व्यापक प्रचार-प्रसार हेतु समाचार पत्रों में भी विज्ञापन प्रकाशन करना सुनिश्चित करें, जिन लोगों को इस सम्बन्ध में जानकारी नही है, उन्हे जानकारी प्रान्त हो सके।
 
उन्होने यह भी निर्देश दिये हैं कि जिस कार्य के लिए क्लीनिक का पंजीकरण किया जा गया है उसके माध्यम से वही कार्य किये जाय अन्य कार्य एवं अन्य बीमारी का ईलाज करने पर सम्बन्धित के विरूद्व आवश्यक कार्यवाही की जायेगी। बैठक में सहायक नगर आयुक्त नगर निगम रविन्द्र कुमार दयाल, उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी दयालशरण, सी$ओ सिटी चन्द्रमोहन सिंह, अध्यक्ष आईएम$ए डा$ गीता सहित सम्बन्धित अधिकारी उपस्थितत थे।

गोरखपुर मेडिकल कॉलेज के पूर्व प्राचार्य और पत्नी 14 दिन की न्यायिक हिरासत में

गोरखपुर। गोरखपुर स्थित बाबा राघवदास मेडिकल कॉलेज में बच्चों की मौत के मामले में आरोपी पूर्व प्राचार्य और उनकी पत्नी को आज 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अनिरुद्ध सिद्धार्थ पंकज ने यहां बताया कि मेडिकल कॉलेज के निलम्बित पूर्व प्राचार्य डॉक्टर राजीव मिश्रा और उनकी पत्नी डॉक्टर पूर्णिमा शुक्ला को व्यापक पुलिस सुरक्षा में अपर सत्र न्यायाधीश (अष्टम) शिवानंद सिंह की अदालत में पेश किया गया। अदालत ने डॉक्टर दम्पति को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में देने का आदेश दिया, जिसके बाद दोनों को गोरखपर जिला जेल भेज दिया गया।

 गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में गत 10 और 11 अगस्त को संदिग्ध हालात में करीब 30 बच्चों की मौत के हाई प्रोफाइल मामले में आरोपी डॉक्टर दम्पति की पेशी के मद्देनजर आज न्यायालय परिसर पूरी तरह से पुलिस छावनी में तब्दील हो गया। जेल प्रशासन ने पूर्व प्राचार्य राजीव मिश्रा और उनकी पत्नी को सुरक्षा की दृष्टि से अलग-अलग बैरक में रखने की व्यवस्था की है। जेल प्रशासन ने दोनों के भोजन को चखकर परोसने की व्यवस्था बनाई है। मालूम हो कि पिछली 10 और 11 अगस्त को मेडिकल कॉलेज में संदिग्ध हालात में कम से कम 30 बच्चों की मौत की उच्चस्तरीय जांच में दोषी पाये जाने पर राजीव मिश्रा और उनकी पत्नी पूर्णिमा शुक्ला समेत नौ आरोपियों के खिलाफ गत 23 अगस्त को लखनऊ स्थित हजरतगंज कोतवाली में साजिश रचने, धोखाधड़ी, गैर इरादतन हत्या की कोशिश इत्यादि के आरोपों में मुकदमा दर्ज किया गया था। बाद में यह मामला गोरखपुर के गुलहरिया थाने में स्थानान्तरित कर दिया गया था।

डेरा प्रमुख की सुरक्षा में तैनात हरियाणा के पांच पुलिसकर्मी बर्खास्त

 चंडीगढ़। डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह के सुरक्षा घेरे का हिस्सा रहे हरियाणा के पांच पुलिसकर्मी जिन पर राजद्रोह का भी आरोप है, उन्हें आज सेवा से बर्खास्त कर दिया गया। पुलिस अधिकारियों ने आज यह जानकारी दी। शुक्रवार को सीबीआई अदालत में पेश होने के लिए पंचकुला आए डेरा प्रमुख की सुरक्षा में तैनात पांच पुलिसकर्मियों समेत कुल सात लोगों के खिलाफ राजद्रोह और हत्या के प्रयास का मामला दर्ज किया गया है। 

 पुलिस ने बताया कि 15 वर्ष पुराने बलात्कार के मामले में विशेष सीबीआई अदालत द्वारा दोषी करार दिए जाने के बाद जब डेरा प्रमुख को पंचकुला अदालत परिसर से बाहर लाया जा रहा था तब इन लोगों ने कथित तौर पर उन्हें भगाने की कोशिश की थी। अधिकारियों ने बताया कि कल इन लोगों को अदालत में पेश किया गया जहां से उन्हें सात दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया। उन्होंने बताया कि गिरफ्तार किए गए पुलिसकर्मी सब इंस्पेक्टर, सहायक सब इंस्पेक्टर, हेड कांस्टेबल और कांस्टेबल रैंक के हैं।

डीएवी कालेज में छात्रसंघ चुनाव का मतदान आज

देहरादून। डीएवी पीजी कालेज में छात्र संघ चुनाव के लिए मतदान होगा। सात हजार से अधिक मतदाता प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला करेंगे। मतदान के लिए बीस बूथ बनाये गये हैं। मुख्य चुनाव अधिकारी डीके त्यागी ने बताया कि छात्र जोन आठ बनाये गये हैं जिनमें कमरा नंबर एक, कमरा नंबर चार, कमरा नंबर 101, कमरा नंबर 102, 106, 201, 206 और पूरन आश्रम रूम एक बनाया गया है।
 
 उनका कहना है कि छात्र जोन केमेस्ट्री डिपार्टमेंट, केमेस्ट्री गेलरी, रूम नंबर 20 कमरा नंबर 23 व 24, फिजिक्स गेलरी, बोटनी गेलरी, कमरा नंबर 11 व 33, बोटनी लेब, पी साइकोलॉजी डिपार्टमेंट एवं स्टाफ रूम को शामिल किया गया है। डा$ डीके त्यागी ने कहा कि कालेज में किसी भी प्रकार की गडबडियों को सहन नहीं किया जायेगा, और लिंगदोह समिति की सिफारिशों का पूर्णतया पालन किया जायेगा। उनका कहना है कि चुनाव व मतगणना तक पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था की गई है, शरारती तत्वों से निपटने के लिए हरसंभव प्रयास किये गये है। सुरक्षा व्यवस्था का पुख्ता इंतजाम किया गया है। वही ंप्रत्याशी व समर्थक कालेज में घूम घूम कर प्रचार करते रहे।
 

मांगों को लेकर आशाओं ने किया जिलाधिकारी कार्यालय कूच

देहरादून। उत्तराखंड आशा स्वास्थ्य कार्यकत्री यूनियन ने अपनी समस्याओं के समाधान के लिए प्रदेश सरकार के खिलाफ छठे दिन भी गरजते हुए प्रदर्शन करते कर धरना दिया और कहा कि शीघ्र ही समस्याओं का समाधान नहीं किया गया तो आंदोलन को तेज किया जायेगा। उन्होंने सरकार को चेतावनी देते हुए जिलाधिकारी कूच भी किया।  उनका कहना है कि लगातार उनके हितों की अनदेखी की जा रही है जिसे किसी भी दशा में बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। उनका कहना है कि जल्द ही समस्याओं का हल नहीं किया गया तो सचिवालय कूच किया जायेगा और इसके लिए रणनीति तैयार की जायेगी। वहीं उन्होंने जिलाधिकारी कार्यालय कूच किया। बुधवार को यूनियन के बैनर तले आशा स्वास्थ्य कार्यकत्र्रियां धरना स्थल पर प्रांतीय अध्यक्ष शिवा दुबे के नेतृत्व में इकटठा हुई और वहां पर अपनी समस्याओं के समाधान के लिए प्रदेश सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए धरना दिया और बाद में जिलाधिकारी कार्यालय कूच किया। उन्होंने कहा कि शीघ्र ही समस्याओं का समाधान नहीं किया गया तो आंदोलन को तेज किया जायेगा।
 
 इस अवसर पर वक्ताओं ने कहा कि अन्य स्कीम वर्करों की भांति आशाओं को भी न्यूनतम वेतन व मानदेय दिया जाना चाहिए, लेकिन अभी तक सरकार की ओर से किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं की गई है। वक्ताओं का कहना है कि सन 2012-13, 2013-14, 2015-16, 2016-17 चारों की पांच हजार रूपये प्रति वर्ष प्रोत्साहन राशि को एक मुश्त भुगतान अविलंब किया जाये। उनका कहना है कि सरकार अभी तक इस दिशा में गंभीर नहीं दिखाई दे रही है। उनका कहना है कि आशा कार्यकत्र्रियों को बोनस का भुगतान तत्काल प्रभाव से किया जाये और 45वें श्रम सम्मेलन के फैसले के अनुसा आशा कार्यकत्र्रियों को कर्मकार घोषित किया और वर्तमान समय में बढती हुई महंगाई को देखते उनके भत्तों में महंगाई के अनुरूप बढोत्तरी की जाये। उनका कहना है कि पूर्व में मुख्यमंत्री, स्वास्थ्य मंत्री एवं स्वास्थ्य महानिदेशक को अवगत कराये जाने के बाद भी आज तक समस्याओं का समाधान नहीं हो पाया है जिससे उनमें रोष बना हुआ है। उनका कहना है कि उनके हितों के लिए किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है। इस अवसर पर धरने में शिवा दूबे, सुनीता चौहान, बीरा भंडारी, मंजु ठाकुर, नीरू जैन, हन्सी देवी, शिवदेई नैथानी, हेमलता, कलावती, कलावती चंदोला, अनिता अग्रवाल, बीना, शीतल, राधा देवी, मधु शर्मा, मधुबाला, सीमा देवी, प्रमिला, हेमलता आदि मौजूद थे। 
 

बीजेपी कार्यालय में लगा पंत का दरबार

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने निर्देशों का पालन करते हुए सभी मंत्री अपनी-अपनी बारी पर बीजेपी ऑफिस में जनसमस्याओं को सुन रहे हैं। बुधवार को बारी थी वित्त मंत्री प्रकाश पंत की। पंत ने बीजेपी कार्यालय में जनता और कार्यकर्ताओं की समस्याओं को सुनकर उनका समाधान निकाल रहे हैं। बीजेपी कार्यालय में अलग-अलग क्षेत्रों से अपनी परेशानियों के साथ लोग पहुंचे हैं और प्रकाश पंत को अपनी परेशानियों को बता रहे हैं। मौके से ही सम्बन्धित विभाग को फोन कर प्रकाश पंत समस्याओं का निपटारा भी करने में लगे हैं।
 
 
हफ्ते का हर दिन एक मंत्री के लिये तय कर दिया गया है। इन दिन वो मंत्री जनता दरबार में जन समस्यायें सुनकर उनका निदान करने का प्रयास करते हैं। इससे पहले कल मंत्री हरक सिंह रावत ने यही कार्य किया था। हालांकि, इस दौरान उनकी एक मैनेजर से कहासुनी हो गई थी। सेलाकुई निवासी एक शख्स ने हरक से अपनी के मैनेजर की शिकायत की। हरक ने जब मैनेजर को फोन मिलवाया और मामले के बारे में पूछा तो मैनेजर ने बड़ी ही बदतमीजी से जवाब दिया कि- तू होता कौन है मुझसे पूछने वाला? इसके बाद मंत्री ने कंपनी की जांच के आदेश दे दिये।

मुख्यमंत्री ने दबाव से पलट दी ढैंचा रिपोर्ट : नेगी

देहरादून।  जनसंघर्ष मोर्चा अध्यक्ष एवं जीएमवीएन ने पूर्व उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी ने  वर्ष 2010 में कृषि मंत्री रहते हुए  त्रिवेन्द्र सिंह रावत (वर्तमान मुख्यमन्त्री) पर अपने पद का दुरूपयोग करते हुए  ढैंचा बीज घोटले को अंजाम देने का आरोप लगाया है।  इस घोटाले की राज्य में गूॅंज शुरू होने के साथ उक्त मामले में तत्कालीन कांग्रेस सरकार के साथ वर्ष 2013 में एकल सदस्यीय एससी त्रिपाठी जॉंच आयोग का गठन किया। इसके तहत ढैंचा बीज घोटाले की जॉंच के बाद त्रिपाठी जॉंच आयोग द्वारा तत्कालीन कृषि मंत्री  त्रिवेन्द्र रावत के खिलाफ तीन बिन्दुओं पर कार्यवाही की सिफरिश की गई।  जिसमें कृषि अधिकारियों का  निलम्बन एवं फिर उस आदेश की पलटना, सचिव, कृषि की भूमिका की जॉंच बिजीलेंस से कराये जाने के मामले में अस्वीकृती दर्शाया तथा बीज डिमांड प्रक्रिया सुनिश्चित किये बिना अनुमोदन करना भी सामने आया। इस प्रकार आयोग ने इसे उप्र (अब उत्तराखण्ड) कार्य नियमावली 1975 का उल्लंघन माना है। आयोग ने  रावत के खिलाफ सिफारिश की है कि वे प्रीवेन्शन एंड क्ररप्शन एक्ट 1988 की धारा 13 के अन्र्तगत आते है तथा सरकार उक्त तथ्यों का परीक्षण कर कार्यवाही करे। 
 
 
उक्त घोटाले की जॉंच यानि त्रिपाठी जॉंज आयोग की रिपोर्ट को सदन के पटल पर पूर्व में रखा गया था, जिसमें गहन जॉंच के आदेश सदन ने दिये थे। जिस पर  त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने अपनी पावर का इस्तेमाल कर पूरी जॉंच रिपोर्ट ही पलटवा दी तथा अपने अलावा अपने कारिंदों को भी क्लीन चिट दिलवा दी। इस मामले में कार्यवाही  में सिर्फ तत्कालीन निदेशक  मदनलाल को ही दोषी ठहराया गया है, जबकि पूरा घोटाला  टीएसआर के इशारे एवं उनके निर्देशन में हुआ था। नेगी ने कहा कि बड़े दुर्भाग्य की बात है कि जो आरोप  त्रिवेन्द्र सिंह रावत पर त्रिपाठी जॉंच आयोग ने तय किये थे उनको सिरे से खारिज कर दिया गया, जबकि वो आरोप आज भी स्थिर हैं। आनन-फानन में खुद को एवं अपने कारिंदों को बचाने के लिए टीएसआर सरकार ने जॉंच रिपोर्ट पलट कर इस अनैतिकता को अंजाम दिया तथा जुलाई 2017 का न्यायालय में प्रति शपथ पत्र एवं ये क्लीन चिट दाखिलरने के निर्देश दिये। उन्होंने इस विषय में मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत को सुप्रीम कोर्ट तक घसीटने की धमकी दी। इस दौरान मोर्चा महासचिव आकाश पंवार, दिलबाग सिंह, मौ असद, प्रभाकर जोशी, नवनीत कुकरेती, मोहन थलवाल आदि मौजूद थे।
 

आरटीआई कार्यकर्ता सावित्री वर्मा ने किया ब्लेकमेलिंग : प्रीति

देहरादून। जीबीपन्त इंजीनियरिंग कॉलेज घुडदौडी पौडी की डा. प्रीति डिमरी ने आरटीआई कार्यकर्ता सावित्री वर्मा पर ब्लैकमेलिंग का आरोप लगाया है। दून स्थित प्रेस क्लब में पत्रकारो से मुखातिब होते हुए दी। उन्होंने बताया कि उन्होंने 2010 से एमसीए विभाग में एसोसिएट प्रोफेसर बतौर विभागाध्यक्ष के पद पर कार्यरत है। उन्होंने बताया कि 2010 से एमसीए विभाग में एसोसिएट प्रोफेसर के पद पर निरंतर र्कायरत हूॅं, वर्ष 2010 से ही मुझे विभागाध्यक्ष का र्कायभार भी फरवरी 2017 तक सौंपा गया था। इसके अलावा ट्रेनिंग एंड प्लेसमेंट अफिसर, गल्र्स हस्टल-वार्डन सेक्रेटरी-वुमन हरस्मेंट सेल, डीन स्टूडेंट वेलफेयर आदि जैसे जिम्मेदार पदों पर अतिरिक्त प्रभार के दायित्वों का निर्वाहन करती आई हूॅं।
 
  उन्होंने बताया कि उनके सुपरविजन में कई विद्यार्थी द्वारा पीएचडी शोघकार्य किया जा रहा है। विद्यार्थी जितेंद्र सहगल  की बहन सावित्री वर्मा ने उन्हें धमकाने की नीयत से फोन किया तथा व्हाट्स एप के द्वारा धमकी भी दी । उनका कहना है कि 
इस  धमकी के बाद उन्हें मानसिक आघात पहुंचा।  21 सितम्बर 2016 को उनके पति सुशील कुमार डिमरी ने इस धटना की जानकारी तथा शिकायत एसएसपी  थानाध्यक्ष डालनवाला, डीजीपी उत्तराखंड, जिलाधिकारी, देहरादून, जिलाधिकारी पौडी तथा एसपी पौडी को दर्ज कराई । कालेज के प्राचार्य को भी इस घटना के विषय में बताया। बाद में सावित्रि वर्मा ने जीबी पतं इंजीनियरिंग कालेज, उत्तराखण्ड तकनीकी विश्वविद्यालय आदि में आरटीआई व पत्रों द्वारा   षडयंत्र रचा। कहीं से कामयाबी नहीं मिलने पर वह मीडिया को गुमराह कर एक नई साजिश रचकर मेरी छवी को धूमिल करने के साथ मेरे अध्यापन कार्य में बाधा डाल रही हैं । आरटीआई कार्यकर्ता के नाम पर इस प्रकार के ब्लैकमेल करने वालों का चेहरा समाज के सामने बेनकाब होना चाहिये ताकि ये कही भी इस प्रकार का षड्यंत्र न रच पाये।

गिद्धों के सरंक्षण पर चलाई विशेष कार्यशाला

देहरादून। कारबारी सहसपुर में दून यूनिवर्सिटी की छात्रा नेहा नेगी, रेनू गुसाई, शोभा भट ने गिद्धों के सरंक्षण पर जागरूकता अभियान चलाया। इस दौरान सैकड़ो की संख्या में कारबारी की महिलाओं और बच्चो ने प्रतिभाग किया। नेहा नेगी ने कहा कि डाइक्लोफिना नाम की दवाई के इस्तेमाल से गिद्दो की संख्या में लगातार कमी हो रही है। उन्होंने कहा कि इसका इस्तेमाल भैसा में इस्तेमाल किया जाता है जिसे तुंरत समाप्त करना होगा। नेहा ने कहा कि यह भी कहा कि गिददो का हमारे पर्यावरण में बहुत बड़ा महत्व  है उन्हे सफाई कर्मचारी भी कहा जाता है।
 
  हमारे पौराणिक कथाओं में रामायण में जटायु का जिक्र आता है। जिन्होंने रावत से सीता माता को बचाने के लिए संघर्ष किया था वह भी गिद्ध ही थे। रेनू गुसाई ने गिददों के बारे में लोगों की जानकारी दी और अपने आस पास की साफ सफाई के बारे में भी लोगों को जागरूक करने के लिए प्रेरित किया। कार्यक्रम के दौरान क्वीज प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया। प्रतियोगिता में कारबारी निवासी विरेन्द्र कुनियाल ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। वहीं दूसरे स्थान पर ममता थपलियाल एंव दिव्यान्शु तीसरे स्थान पर रहे। 

पर्युषण पर्व के पांचवे दिन उत्तम शौच पर चर्चा

देहरादून। जैन धर्मशाला में पर्युषण पर्व के पांचवे दिन मंदिर  मे पुजा पाठ व भगवान  का जलाभिषेक किया गया। इसके पश्चात मुनि  अनुज सागर जी ने दशलक्षण धर्म के पांचवे धर्म उत्तम शौच पर प्रवचन देते हुए कहा कि शौच के मतलब लोभ यानी मन मे किसी भी प्रकार का लोभ आना या किसी के भी प्रति आना ये भी बड़े दु:ख का कारण है। लोभ को पाप का बाप बताया गया है और ये सच भी है। सारे पापों की जड़ ये लालच ही है ये लोभ ही है लालची जीव किसी भी अवस्था मे सुखी नही रह सकता। संतुष्ट नहीं हो सकता असन्तुष्ट  जीव की आशायें अपेक्षाएं का संसार कभी खत्म नहीं होता।
 
  जो व्यक्ति लालची लोभी होगा वह अपनी विषय पूर्ति के लिए समय आने पर चोरी  मायाचारी छल कपट हिंसा परिग्रह बेर भाव आदि करता रहेगा। लोभ से बचने के लिए हमे समभाव व संतोष रूपी जल से इस लोभ रूपी मल को धोना है तभी हमारा जीवन सार्थक होगा। आत्मा की शुद्घि निर्मलता ही मोक्ष का मार्ग है। दोपहर के समय  महावीर  कन्या पाठशाला इंटर कलेज में एक वाद विवाद प्रतियोगिता की गई जिसमें  नारी शिक्षा समाज के उत्थान में सहयोगी कार्यक्रम पर चर्चा की गई। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि  एस बी जोशी मुख्य शिक्षा अधिकारी देहरादून और दीप प्रज्वलन श्रीमति ऋतु जैन थे। इस मौके पर मंजू जैन, नरेश चंद जैन, ममलेश जैन व स्कूल की प्रधानाचार्य श्रीमति रेणु , मंजू जैन प्रवीण जैन,  बीना जैन, कल्पना जैन संजय जैन सिम्मी जैन आदि उपस्थित रहे। 

कोऑपरेटिव बैंक की पहली महिला शाखा का शुभारम्भ

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने बुधवार को टी एस्टेट बंजारावाला में देहरादून के पहले महिला जिला सहकारी बैंक की शाखा का उद्घाटन किया। 
सहकारिता विभाग उत्तराखंड को बधाई देते हुए मुख्यमंत्री  त्रिवेंद्र ने कहा कि यह प्रसन्नता की बात है कि एक बैंक सिर्फ विशेषरुप से महिलाओं द्वारा संचालित होगा। निश्चित रुप से इसके अच्छे परिणाम आएंगे। सहकारिता का भविष्य उज्ज्वल है। आज पूरी दुनिया कोऑपरेटिव या कॉर्पोरेट की ओर जा रही है। हमारी खेती भी कोरपोरेट या कोऑपरेटिव हो रही है। छोटी-छोटी जोत तथा लोगों द्वारा खेती छोडऩे के कारण कोऑपरेटिव फार्मिंग का प्रचलन बढ़ रहा है। राज्यवासियों का आह्वान करते हुए मुख्यमंत्री  त्रिवेंद्र ने कहा कि हमें अपनी खेती-बाड़ी की परंपरा को बनाए रखना होगा। खेती को कॉर्पोरेट, कॉन्ट्रैक्ट या कोऑपरेटिव किसी भी माध्यम से जिंदा रखना होगा। खेती छोडऩे से पर्यावरण को भी हानि होती है। हमारे पूर्वज उन्नत व मेहनती किसान थे। जिन्होंने विषम पर्वतीय क्षेत्रो तथा तेज ढालो पर खेत बनाएं। 
 
 
राज्य के कुछ जिलों में लिंगानुपात कम होने पर चिंता व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री  त्रिवेंद्र ने कहा कि यदि मां ताकतवर है तो बच्चियों की हत्या नहीं होगी। यह अत्यंत चिंता का विषय है कि एक और हम महिला बैंक, महिला आरक्षण तथा महिला सशक्तिकरण की बात करते हैं तो दूसरी और कुछ जिलों में लिंगानुपात कम हुआ है। देवभूमि उत्तराखंड तथा यहां के देव स्थानों का देश और दुनिया में अत्यंत सम्मान व गौरव है। हमारा यह दायित्व है कि हम उत्तराखंड की पहचान को बनाकर रखें। इसके साथ ही मुख्यमंत्री  त्रिवेंद्र ने कहा कि सहकारिता मात्र बैंकिंग क्षेत्र के लिए ही नहीं है बल्कि हमें अपने गांवो, देवी देवताओं, रीति रिवाजो और परंपराओं से भी जुड़े रहना होगा। यह भी एक सामाजिक सहकारिता है। 
 
मुख्यमंत्री ने महिला जिला सहकारी बैंक बंजारावाला के सभी महिला अधिकारियों व कर्मियों को उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि अब आप को सिद्ध करना है कि आप सर्वोत्तम है। हम चाहते हैं कि हर पंचायत, ब्लॉक, तहसील तथा नगर में महिला बैंक हो। 
इस अवसर पर सहकारिता मंत्री डॉक्टर धन सिंह रावत ने कहा कि मुख्यमंत्री  त्रिवेंद्र के निर्देश पर सरकार द्वारा 45 करोड़ रुपए सहकारिता हेतु दिए गए हैं। हमने 1000 करोड़ रुपए अनुसूचित बैंकों में रखने का निर्णय लिया है। सहकारी बैंकों द्वारा एक लाख तक का ऋण 2 प्रतिशत ब्याज पर प्रदान किए जाएंगे। आर्थिक रुप से कमजोर छात्रों को अच्छी शिक्षा हेतु 8 प्रतिशत ब्याज पर शिक्षा ऋण उपलब्ध करवाया जाएगा। 
विधायक मेयर  विनोद चमोली ने कहा कि सहकारी बैंक आपका अपना बैंक है। मुख्यमंत्री  त्रिवेंद्र के नेतृत्व में राज्य सरकार सहकारिता क्षेत्र को मजबूती प्रदान करने के लिए हर संभव मदद करेगी। 
 
इस अवसर पर अध्यक्ष उत्तराखंड राज्य सहकारी संघ  प्रमोद कुमार सिंह, अध्यक्ष उत्तराखंड राज्य सहकारी बैंक  राम सिंह रावत, सचिव सहकारिता  मीना सुंदरम, निबंधक डी एम मिश्रा तथा अन्य गणमान्य उपस्थित थे। 

मोटोरोला ने नए मोटो जी5एस और जी5एस प्लस का अनावरण किया

देहरादून। मोटोरोला पर हम काफी तीळ्रता से इनोवेशन करते हैं, ताकि हम ग्राहकों को सर्वश्रेष्ठ विशेषताएं प्रदान कर सकें। मोटो जी सीरीज़ हमेषा सबसे हॉट नई टेक््रॉलॉजी लेकर आती है और यह सभी लोगों को उपलब्ध कराती है। यही कारण है हमने अपने मोटो जी परिवार में निरंतर सुधार किया, जो न केवल आपकी जरूरत की हर चीज़ से सुसज्जित है, बल्कि अपने सेगमेंट में प्रीमियम भी है। पेष है, मोटो जी 5एस और मोटो जी 5एसप्लस। मोटो जी5 और मोटो जी5 प्लस में सुधार करते हुए ये दो नई डिवाईस आपकी जरूरत की चीजों में कई अपग्रेड पेश करती हैं।

 मोटो जी 5एस: अधिक मेटल, ज्यादा बैटरी, ज्यादा के लिए बना मोटो जी5 एस एक स्मार्ट और तीळ्र फोन है, जो ज्यादा के सिद्घांत पर बनाया गया है। इसमें ऑल-मेटल यूनिबॉडी डिज़ाईन है, जो सिंगल पीस हाई-ग्रेड एलुमीनियम से बना है तथा पहले से अधिक मजबूत है। इसमें जबरदस्त बैटरी लाईफ, टर्बो चार्जर के साथ रैपिड चार्जिंग है, जो केवल 15 मिनट की चार्जिंग में 5 घंटों तक की बैटरी लाईफ प्रदान करती है। मोटो जी5एस में फेज़ डिटेक्शन ऑटोफोकस (पीडीएएफ) के साथ हाई रिज़ॉल्यूशन 16 मेगापिक्सल का कैमरा है, जो आपको परफेक्ट पिक्चर प्रदान करता है। इसमें 13$2 सेमी$ (5$2) फुल एचडी डिस्प्ले 1080 पी के साथ मनोरंजन को जीवंत बना देता है। यह 1$4 गीगाहटर््ज़ क्वालकोम स्नैपड्रैगन ऑक्टाकोर प्रोसेसर’’ पर चलता है। मोटो जी5एस में नाईट डिस्प्ले और क्विक रिप्लाई जैसे लेटेस्ट मोटो अनुभव भी हैं।

 

केदारनाथ पहुंचे सुशांत-सारा, फिल्म की कामयाबी के लिए मांगी दुआ

रुद्रप्रयाग। केदारनाथ फिल्म की शूटिंग के लिए लोकेशन रेकी के तहत बालीवुड अभिनेता सुशांत राजपूत और सारा अली खान बुधवार को केदारनाथ पहुंचे। यहां मंदिर में दर्शन के बाद निदेशक अभिषेक कपूर के साथ दोनों ने केदारनाथ के अनेक स्थानों का भ्रमण किया। वह भैरवनाथ भी पहुंचे। केदारनाथ पर पहली बार हिंदी में तैयार की जा रही फिल्म की शूटिंग को लेकर बालीवुड कलाकार बुधवार को केदारनाथ पहुंचे। हेलीकॉप्टर से सुबह 7 बजे केदारनाथ पहुंची फिल्म टीम ने पहले बाबा केदार के दर्शन किए। इसके बाद उन्होंने तीर्थपुरोहितों ने उनके साथ सेल्फी और फोटोग्राफी की। हालांकि उन्होंने अपने फिल्मी कार्यक्रम की फोटो से सभी को दूर रहने के लिए कहा। फिल्मी कलाकारों को देखने और उनके साथ फोटो खिंचवाने के लिए केदारनाथ में कई लोग उत्सुक दिखे।युवा तीर्थपुरोहित राहुल सेमवाल ने बताया कि तीर्थपुरोहितों द्वारा सुशांत राजपूत की केदारनाथ मंदिर में पूजा कराई गई और इसके बाद उन्होंने केदारनाथ की सुंदरता की जमकर तारीफ की। कहा कि केदारनाथ की खूबसूरती और यहां के धार्मिक माहौल से वह अभिभूत हो गए। इधर सारा अली खान ने भी केदारनाथ धाम की सुंदरता की प्रशंसा की। इधर फिल्म के निदेशक अभिषेक कपूर ने केदारनाथ में फिल्म के लिए लोकेशन रेकी की।

 भैरवनाथ भी पहुंचे और यहां से कई पहाडिय़ों को देखा। उन्होंने स्थानीय व्यापारी, पुलिस और तीर्थपुरोहितों से कई जानकारियां ली। इस बीच वह लोगों से अपने फिल्म से रिलेटेड फोटोग्राफी से बचते रहे। करीब ढ़ाई घंटे केदारनाथ में रुकने के बाद वह हेलीकॉप्टर से ही वापस लौट गए।इस फिल्म की लागत करीब 40 करोड़ रुपये आंकी गई है। रुद्रप्रयाग के सीतापुर पहुंची टीम ने लोकेशन रेकी का काम शुरू कर दिया है। 4 सितम्बर से चयनितस्थानों पर कड़ी सुरक्षा के बीच शूटिंग शुरू होगी। फिल्म के निर्देशक अभिषेक कपूर और लाइन प्रोड्यूसर अमित मेहता हैं।  कठिन परस्थितियों में केदारघाटी के कठिन स्थानों तक पहुंचते हुए 100 दिनों तक इस फिल्म की शूटिंग की जाएगी। फिल्म में कोई गतिरोध और व्यवधान न हो इसके लिए कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई है। सुरक्षा के बीच फिल्मी कलाकारों से मिलना भी बेहद मुश्किल होगा।

फिल्म की शूटिंग के लिए हालांकि त्रियुगीनारायण, गौरीकुंड, चोपता और केदारनाथ को पहले से ही चयनित किया गया है, किंतु इन स्थानों पर कहां-कहां शूटिंग होनी है इसके लिए मंगलवार से लोकेशन रेकी का काम शुरू हुआ। फिल्म के अभिनेता सुशांत सिंह, सारा अली खान समेत 250 से अधिक लोगों की टीम केदारघाटी की सुंदरता से अभिभूत है। इन दिनों वह सीतापुर के शिवालिक होटल में रहने के साथ-साथ कड़ी सुरक्षा के बीच गोपनीय तरीके से यहां की सुंदरता और धार्मिक महत्व का आनंद ले रहे हैं। फिल्म के लाइन प्रोड्यूसर मूल रूप से उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले के भट्टी गांव निवासी अमित मेहता ने बताया कि इस फिल्म को तैयार करने में करीब 30 से 40 करोड़ रुपये का खर्चा आएगा जबकि शूटिंग का काम पूरा करने में करीब 100 दिन लगेंगे। काम में किसी तरह का व्यवधान न हो इसके लिए कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई है। केदारनाथ पर पहली बार बन रही हिन्दी फिल्म को लेकर स्थानीय लोग काफी खुश है।

 

गौरीकुंड के प्रधान राकेश गोस्वामी ने बताया कि इससे केदारघाटी को नई पहचान मिलेगी और यहां के लोग कारोबार और आर्थिक रूप से संपंन होंगे। वरिष्ठ तीर्थपुरोहित श्रीनिवास पोस्ती ने बताया कि यहां की अलौकिक सुंदरता का वर्णन फिल्म के माध्यम से पहुंचने से यहां का और भी विकास होगा। यह हम लोगों के लिए गौरव की बात है। रुद्रप्रयाग के डीएम मंगेश घिल्डियाल का कहना है कि उत्तराखंड के लिए यह बड़ी उपलब्धि है कि हिन्दी फिल्म की शूटिंग यहां होने लगी है। विशेषरूप से केदारनाथ पर फिल्म बनने से यहां और भी यात्री-पर्यटक आएंगे जिससे यहां का चहुंमुखी विकास होगा। प्रशासन फिल्म टीम को पूरा सहयोग देगी।

विधायक ने किया डाक्यूमेंट्री फि़ल्म का विमोचन

 देहरादून। मसूरी विधायक गणेश जोशी जी ने डॉ विजय नौटियाल के द्वारा किये गये कार्यों को सराहते हुवे आज उनके द्वारा दिव्यांग जन प्रेरणा 2017 केदारनाथ यात्रा पर दिव्यांग यात्रा 2017 फिल्म डॉक्यूमेंट्री का बिमोचन भी किया और आगे भी इन कार्यों को आगे बढ़ाने को कहा उन्होंने यह भी कहा कि इस तरह के कार्य करने में जो भी मदद कर पाएंगे उस पर पूरा सहयोग करेंगे बताते चलें कि दिब्यांग ब्यक्ति को भले ही लोग हीन भावना से देखते है।
 
लेकिन डॉक्टर विजय नोटियाल ऐसे शाररिक दिब्यांग के लिए सहारा बन रहे है। कृत्रिम अंगो के सहारे सब कुछ किया जा सकता है। बस जरुरत है इन्हे शाररिक पुनर्वास के साथ मानसिक रूप से सुदृढ़ करने करने की। कृत्रिम अंग  प्रोस्थेटिस्थ डॉक्टर नोटियाल एक घटना का जिक्र करते हुए कहते है।जो मेरे गुरूजी के साथ हुई थी जिसने मेरी राह ही बदल दी। बात स्कूली समय की है मेरे गुरूजी की रीढ़ की हड्डी में फैक्चर होने के कारण हड्डी की नस कट गई जिस कारण उनका निचला हिस्सा सुन्न हो गया कृत्रिम उपकरणों की जानकारी का आभाव एवम् नजदीक ब्यवस्था न होने के कारण उन्हें व्हील चेयर पर ही चलना पडा। लेकिन गुरूजी हमें पढ़ाने व्हील चेयर में ही आने लगे उनकी स्थिति और हिम्मत देख,इसी दौरान मुझे पहाड़ की बिषम भौगोलिक परिस्थिति के कारण मरीजो का चिकित्सा सुबिधा से बंचित होने वाली लोगो की पीड़ा याद आई उनके धनाभाव के कारण पीडि़त तक सुबिधा न मिल पाने का वास्तविक अनुभव हुआ। जिससे प्रेरणा लेकर मैने दिब्यांग जन की सेवा करने का संकल्प लिया।
 
 इस घटना ने मेरी राह ही बदल दी। कई सालो से इन दिब्यांगों के लिए कार्य कर रहा हूँ डॉक्टर नोटियाल बताते है की  2011 में मन में एक बिचार आया की क्यों न इन दिब्यांगो से ऐसा कार्य करवाया जाय जो इनका मनोबल ऊँचा करने के साथ समाज एवम अन्य दिब्याङ्गो के लिए प्रेरणा बने। कृत्रिम पैर की सहायता से भारत में पहली बार हेमकुंड साहिब की इन दिब्याङ्गो ने 41 किलोमीटर की पैदल यात्रा की। फिर  सिलसिला चलता गया इस साल 2017 में भी जिन दिब्यांग जनो पर कृत्रिम अंग लगाये गए थे उन्हें भी बाबा केदारनाथ  कपाटोत्सव के अवसर पर पैदल ही ले गए।डॉक्टर नोटियाल बताते है कि इन  दिब्यांग ने अत्यन्त दुर्गम खड़ी चढ़ाई सामान्य जन की तरह चढक़र यात्रा की यह अपने आप में अविश्मरणीय अनुभव रहा।वे कहते है की शारारिक दिब्यांग ब्यक्ति को शाररिक पुनर्वास के साथ मानसिक रूप से सुदृढ़ करने की भी आश्यकता है।
 

दुष्कर्म के आरोपी को 10 साल की सजा

रुद्रपुर।  किशोरी से दुष्कर्म के आरोपी युवक को विशेष न्यायाधीश पॉक्सो बृजेंद्र सिंह की अदालत ने 10 साल की सजा सुनाई है। साथ ही 90 हजार रुपये के अर्थदंड से भी दंडित किया है।शासकीय अधिवक्ता एनएस धामी ने बताया कि 24 फरवरी 2017 को किच्छा निवासी व्यक्ति ने पुलिस को सौंपी तहरीर में कहा था कि 17 फरवरी की रात उसकी नाबालिग पुत्री अपने कमरे में सोई हुई थी। अगले दिन वह कमरे में नहीं मिली।
 
 तलाश करने पर भी जब वह नहीं मिली तो उसने बरेली के थाना बहेड़ी निवासी गुरमेज सिंह पर उसे बहला फुसलाकर भगा ले जाने का आरोप लगाते हुए मुकदमा दर्ज कराया था। मामले में कार्रवाई करते हुए पुलिस ने किशोरी को बरामद कर लिया। मेडिकल रिपोर्ट में दुष्कर्म की पुष्टि हुई। पुलिस ने आरोपी गुरमेज को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। इधर, मंगलवार को विशेष न्यायाधीश पॉक्सो बृजेंद्र सिंह की  अदालत ने दुष्कर्म के आरोपी को 10 साल की सजा सुनाई।
 

युवक ने तमंचे से खुद को गोली मारी

 उधमसिंह नगर। एक युवक ने खुद को गोली मार आत्महत्या कर ली। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव का पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भिजवाया। आत्महत्या के कारणों का पता नहीं चल पाया है।

 
ग्राम झगड़पुरी निवासी 20 वर्षीय सुरेंद्र सिंह पुत्र महेंद्र सिंह ने सुबह करीब छह बजे तमंचे से खुद के सीने में गोली मार ली। गोली चलने की आवाज से परिजनों में हडक़ंप मच गया। ग्रामीणों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। परिजनों ने बताया कि सुरेंद्र सिंह सुबह करीब चार बजे बाइक से कही गया था। करीब 2 घंटे बाद वह घर लौटा और सीधे अपने कमरे में चला गया। थोड़ी देर बाद उसके कमरे से गोली चलने की आवाज सुनाई दी। 
 
गोली की आवाज से परिजनों में हडक़ंप मच गया। जब उन्होंने दरवाजा खोला तो सुरेंद्र खून से लथपथ जमीन पर पड़ा था। सीने में गोली लगी हुई थी और उसकी मौत हो चुकी थी। सूचना पर सीओ बीएस चौहान व थानाध्यक्ष ललित मोहन जोशी पुलिस दल के साथ घटना स्थल पर पहुंचे और परिजनों से जानकारी ली। पुलिस ने घटना स्थल से 315 बोर का तमंचा कब्जे में ले लिया है। हालांकि परिवार वाले कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है, लेकिन पुलिस मामला प्रेम प्रसंग से जोडक़र जांच कर रही है।

फ्यूला नारायण धाम के कपाट शीतकाल के लिए हुए बंद

 जोशीमठ। जोशीमठ विकासखंड के उर्गम क्षेत्र की कल्पघाटी में स्थित प्रसिद्ध फ्यूला नारायण धाम के कपाट शीतकाल में श्रद्धालुओं के लिए बंद कर दिए गए हैं। वैदिक मंत्रोच्चार और धार्मिक विधि विधान से मंदिर के कपाट बंद किए गए। इस दौरान श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी रही। चमोली जिले के जोशीमठ स्थित भगवान फ्यूला नारायण धाम के कपाट शीतकाल के लिए बंद कर दिए गए हैं।
 
 यह मंदिर समुद्रतल से करीब 9000 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। 16 जुलाई को भगवान फ्यूला नारायण के कपाट श्रद्धालुओं के लिए खोले गए थे। जिसके बाद आज विशेष विधि विधान से पूजा-अर्चना कर कपाट शीतकाल के लिए बंद कर दिए गए हैं। इस अवसर पर उर्मग घाटी के र्भेटा, भर्की, पिल्खी, ग्वाणा अरोशी गांव के सैकड़ों ग्रामीण मौजूद रहे। उन्होंने भगवान की विशेष पूजा-अर्चना कर उनका आशीर्वाद लिया।

आपदा किट में हुए घोटाले के जांच की मांग

हल्द्वानी। आपदा किट में हुए घपले की जांच को लेकर ग्राम प्रधानों ने जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा। उन्होंने कहा कि घोटाले की जांच कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की गई तो वह आंदोलन को मजबूर होंगे। बुधवार को हवालबाग विकास खंड के ग्राम प्रधान डीएम दफ्तर पहुंचे। इस दौरान उन्होंने जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपकर आपदा किट में हुए घोटाले के जांच की मांग की।

  उन्होंने कहा कि प्रशासन स्तर पर गांवों को खरीदकर दिए गए आपदा किट में बड़ा घोटाला किया गया है। ग्राम प्रधान स्तर पर मुहैया किए गए किट तय दरों से अधिक में खरीदे गए हैं। सप्लायर और अधिकारियों की मिलीभगत से यह घोटाला किया गया है। जिसकी जांच कर दोषियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जानी चाहिए।

समस्याओं को लेकर ग्रामीणों ने किया चक्का जाम

 पिथौरागढ़। विभिन्न मांगों को लेकर मदकोटवासियों ने मदकोट में चक्का जाम कर धरना प्रदर्शन किया। इस दौरान उन्होंने शासन-प्रशासन पर गंभीर आरोप लगाए। कहा कि अगर शीघ्र ग्रामीणों की मांगें नहीं मानी गई तो वे उग्र आंदोलन को बाध्य होंगे। बुधवार को प्रधान संगठन अध्यक्ष हरीश उप्रेती, महिला मंगल दल अध्यक्ष दीपा देवी और व्यापार मंडल अध्यक्ष सुरेंद्र सोरागी ने नेतृत्व में ग्रामीण मदकोट बाईपास रोड़ पर एकत्र हुई। यहां उन्होंने बीआरओ और शासन-प्रशासन के खिलाफ नारे लगाकर प्रदर्शन किया। इसके बाद उन्होंने चक्का जाम किया।

ग्रामीणों ने कहा कि क्षेत्र में बारिश से कई मकानों को खतरा पैदा हो गया है। जिसकी कई बार शासन-प्रशासन को सूचना दी गई। लेकिन अब तक कोई भी प्रशासनिक अधिकारी ग्रामीणों की सुध लेने नहीं पहुंचा। जिस कारण ग्रामीण स्वयं को ठगा सा महसूस कर रहे हैं। कहा कि वर्ष 2013 में आई आपदा में क्षेत्र की सडक़ ध्वस्त हो गई थी। जिसके बाद ग्रामीणों ने सडक़ बनाने के लिए अपनी जमीन दी थी। जिसका ग्रामीणों को अब तक मुआवजा नहीं दिया गया है और न ही इस सडक़ में डामरीकरण किया गया है। कहा कि अगर शीघ्र ग्रामीणों की मांगों को अमल में नहीं लाया गया तो वे उग्र आंदोलन को बाध्य होंगे। इस मौके पर गोविंद सिंह धामी, डिगर सिंह, लक्ष्मण सिंह दानू, प्रेम सिंह धामी, छत्तर सिंह कोरंगा, हरेंद्र पंवार, त्रिलोक सिंह पंवार, त्रिलोक सिंह मर्तोलिया, गंगोत्री रावत, हीरा मर्तोलिया, भवानी देवी और कमला देवी समेत दर्जनों ग्रामीण मौजूद रहे। 

 
 
विधायक के आश्वासन के बाद माने ग्रामीण
ग्रामीणों के मदकोट बाईपास के समीप चक्का जाम करने की सूचना के बाद स्थानीय विधायक हरीश धामी वहां पहुंचे। इस दौरान उन्होंने दूरभाष के माध्यम से प्रशासन से बातचीत की और ग्रामीणों की समस्याओं का निराकरण करने का आश्वासन दिया। जिसके बाद ग्रामीणों ने जाम खोला। ग्रामीणों ने कहा कि अगर उनकी मांगों को अनदेखा किया गया तो वे पुन: उग्र आंदोलन को बाध्य होंगे। तीन घंटे से अधिक समय तक फंसे रहे 20 से अधिक वाहन: ग्रामीणों के प्रदर्शन के चलते जौलजीबी-मुनस्यारी सडक़ में मदकोट बाईपास के समीप जाम लग गया। जिससे क्षेत्रों में 20 से अधिक वाहन तीन घंटे से अधिक समय तक फंसे रहे। जिस कारण लोगों को आवाजाही करनी में खासी परेशानी का सामना करना पड़ा। जाम से सबसे अधिक परेशानी लंबी दूरी के यात्रियों को हुई। जिसके चलते यात्रियों में खासी नाराजगी देखने को मिली।

गन्ना मूल्य की मांग को किसानों ने किया प्रदर्शन

 हल्द्वानी। गन्ना मूल्य के भुगतान की मांग को लेकर किसानों ने सहकारी गन्ना समिति में तालाबंदी कर प्रदर्शन किया। उन्होंने चेतावनी दी कि यदि किसानों के गन्ना मूल्य का भुगतान नहीं किया गया तो वह आंदोलन को मजबूर होंगे। बुधवार को तमाम किसान सहकारी गन्ना समिति के दप्तर में जमा हुए। जहां उन्होंने समिति के दफ्तर में तालाबंदी कर प्रदर्शन किया।

उन्होंने बताया कि सरकार ने तमाम दावों के बावजूद किसानों को गन्ना मूल्य का भुगतान अभी तक नहीं दिया है। वर्तमान सरकार ने 15 दिन के भीतर गन्ना मूल्य का भुगतान करने का दावा किया था। जिसपर भी अबतक अमल नहीं हुआ है। जिसके चलते किसान आंदोलन को मजबूर हुए हैं। इस दौरान किसानों ने एसडीएम के माध्यम से राज्यपाल को ज्ञापन भेजकर गन्ना किसानों को भुगतान कराए जाने की मांग की।

बस के ऊपर गिरा हाईटेंशन तार, दो की मौत

अल्मोड़ा। राज्य में लगातार हो रहे हादसों के बाद बुधवार को जिले में फिर से एक हादसा हो गया। काशीपुर-बुआंखाल हाईवे पर दर्दनाक हादसा हुआ है। यहां बिजली के तार टूटकर बस पर गिर गई। हादसे में दो लोगों की जान चली गई है। बस में 25 यात्री सवार बताए जा रहे हैं। बस सुबह 7 बजे रवाना हुई थी। हादसा सुबह करीब 9 बजे हुआ। बस गढ़वाल मोटर्स की बताई जा रही है। 
 
 
गौलिखाल (पौड़ी गढवाल) से बस रामनगर (नैनीताल) जा रही थी। बिजली की लाइन टूटने से बस में करंट दौड़ गया, जिससे दो यात्रियों की मौत हो गई। गढ़वाल मोटर्स की बस ( यूए12 3887) गौलिखाल पौड़ी से रामनगर जा रही थी। यात्रियों से भरी बस नैनीताल और अल्मोड़ा जिले की सीमा स्थित मरचूला पहुंची ही थी कि अचानक 11 हजार वोल्ट की हाईटेंशन लाइन का तार टूटकर बस के ऊपर पर जा गिरा। 
 
इससे बस में करंट दौड गया। वाहन में बैठे तीन यात्रियों ने मौके पर ही दम तोड दिया। बस में सवार कुछ यात्रियों ने कूदकर जान बचाई। बस में लगभग 25 यात्री सवार थे। इस हादसे में ऊर्जा निगम की बड़ी लापरवाही सामने आई है। मौके पर प्रशासन की टीम पहुंच गई है। हादसे में प्रीति (22 वर्ष) पुत्री बलदेव ग्राम भंडार का करंट लगने से एक पैर सुन्न हो गया है। युवती खड़े होने में असमर्थ है। रामनगर अस्पताल पहुंचाया जा रहा है।
 

डीएम ने गांव में जाकर योजना का लिया जायजा

रुद्रप्रयाग। जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने नगरासू और कोटेश्वर पेयजल योजना का निरीक्षण किया। नगरासू ग्राम सभा के अन्तर्गत ग्राम नगरासू-भट्गांव में बनी पेयजल योजना एवं टैकों का स्थलीय निरीक्षण किया। जिलाधिकारी ने गांव को पानी सप्लाई करने वाले टैंक का ढक्कन खोलकर निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान ग्रामीणों द्वारा बताया गया कि गांव मेें पानी पर्यान्त मात्रा में है, मगर गांव के ऊपरी हिस्से में पानी की आपूर्ति नहीं हो पा रही है। बताया कि स्रोत से विभाग द्वारा सीधी पाइप लाइन आ जाती तो गांव के ऊपरी हिस्से को भी पानी मिल सकता है। ग्रामीणों द्वारा अवगत कराया गया कि गांव की सिंचाई नहर में पानी नहीं आ रहा है तथा कई जगह पर नहर बन्द पड़ी है। जिससे खेतो में रोपाई का कार्य नही हो पा रहा है। नगरासू के ग्रामीणों द्वारा नलकूप विभाग द्वारा बनाई गई पम्पिंग योजना खराब होने की शिकायत की गई कि पम्पिंग योजना से भरपूर पानी की आपूर्ति नहीं हो पा रही है। इस पर जिलाधिकारी नगरासू पंम्पिग योजना का स्थलीय निरीक्षण भी किया गया।
 
 
नगरासू के ग्रामीणों ने बताया गया कि सिंचाई नहर पर पानी नही आ रहा है। इस पर जिलाधिकारी ने मौके पर सहायक अभियन्ता सिंचाई विभाग को बुलाकर एक महीने के अन्तर्गत सिंचाई नहर पानी सुचारू रूप से आपूर्ति करने के निर्देश दिये। इसके पश्चात जिलाधिकारी ने जलसंस्थान द्वारा कोटेश्वर पेयजल योजना के तहत निर्मित टैंक का निरीक्षण किया। टैंक का ढक्कन खोलकर पानी की सप्लाई का जायजा लिया। जिलाधिकारी नेपानी के टैक पर पेन्ट नहीं किये जाने पर नाराजगी व्यक्त की गयी। इस अवसर पर सहायक अभियन्ता जल संस्थान अनीश पिल्लई, अवर अभियन्ता रेवत सिंह रावत, सहायक अभियन्ता ंिसचाई एम$पी$ मलेठा, ग्रामीण गिरधारी सिंह नेगी, बीरवल सिंह नेगी, महिपाल सिंह रावत, गंगा सिंह बिष्ट सहित ग्रामीण उपस्थित थे। 

बेहतर तरीके से कार्य करने पर मिलेगी नई पहचान : मंगेश

रुद्रप्रयाग। दीनदयाल अन्तोदय योजना राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अन्तर्गत स्वयं सहायता समूहों का एक दिवसीय अभिमुखीकरण प्रशिक्षण कार्यशाला विकासखण्ड ऊ खीमठ सभागार में सम्पन्न हुआ। प्रशिक्षण कार्यशाला में प्रोजेक्टर के माध्यम से स्वयं सहायता समूह को जानकारी दी गयी। इस अवसर पर जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने कहा कि प्रशिक्षक का मुख्य उद्देश्य स्वयं सहायता समूहों को मजबूत करना है। कहा कि स्वयं सहायता समूह यदि बेहतर तरीके से कार्य करें तो आने वाले समय में स्वरोजगार की दिशा में नई पहचान बना सकते हैं। 
 
 
कार्यशाला में उपस्थित स्वयं सहायता समूह को सम्बोधित करते हुए जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने कहा कि जनपद में मिशन के तहत विकासखण्ड ऊ खीमठ को चयनित किया गया था। कहा कि सरकार का मुख्य फोकस स्वयं सहायता समूूहों को यह बताना है कि किस तरह से वे अपनी आजीविका को मजबूत कर सकते हंै। कहा कि समूह से कई प्रकार के फायदें हैं। छोटी रकम से बड़े-बड़े कार्य किए जा सकते है और समूह में ही शक्ति और बचत भी है। कहा कि जो जमीन बंजर है उसे उपज के लिए स्वयं सहायता समूहों को उपजाऊ के लिए सब्जी, मुर्गी पालन, नर्सरी फलदार पेड़ उगाने से लाभ होगा। स्वयं सहायता समूह द्वारा नर्सरी में उगाये गये फलदार पौधों को उद्यान विभाग खरीदेगा। इसलिए नर्सरी के जरिये भी अपनी आजीविका को और अधिक बेहतर किया जा सकता है।
जिलाधिकारी ने कहा कि समूह द्वारा बैक में जमा किये गये पैंसे का उपयोग समूह का हर सदस्य कर सकता है।
 
यदि किसी को बच्चों की पढ़ाई या फिर अन्य कार्य के लिए पंैसे की आवश्यकता है तो वह समूह का सदस्य होने के नाते इस पैंसे का उपयोग कर सकता है, जिसे वह धीरे-धीरे किश्त द्वारा जमा करेगा। इस अवसर पर क्षेत्रीय विधायक मनोज रावत ने कहा कि जिले में तमाम प्रकार के स्थानीय उत्पाद है, लेकिन आज भी वह लोगों की आजीविका से नहीं जुड़ पाए। माल्टा, बुरांश का जूस, मडुआ, चौलाई सहित कई ऐसे उत्पाद है जो समूहों केा अच्छा स्वरोजगार दे सकते हैं, लेकिन अभी तक इस ओर बेहद कम दिलचस्पी दिख रही है। उन्होंने कहा कि समूह स्थानीय उत्पादों के जरिए अपनी आजीविका को मजबूत करें और जिले के विकास में अहम योगदान दें। इस अवसर पर प्रमुख संतलाल शाह, ज्येष्ठ प्रमुख विष्णुकांत, उप जिलाधिकारी गोपाल सिंह चौहान, मुख्य कृषि अधिकारी आरपीएस रावत, खण्ड विकास अधिकारी उखीमठ बीसी शुक्ला सहित स्वयं सहायता समूहों के पदाधिकारी व सदस्य मौजूद थे।    

ग्याहरवें दिन भी कमलबंद हड़ताल जारी

रुद्रप्रयाग। पैक्स कैडर सचिवों की सात सूत्रीय मांगों को लेकर ग्यारहवें दिन भी कलमबंद हड़ताल व धरना-प्रदर्शन जारी रहा। आक्रोश जताया गया कि सचिव परिषत के सात सूत्रीय मांगों पर विभाग द्वारा कोई सकारात्मक निर्णय नहीं लिया जा रहा है। ऐसे में कैडर सचिवों में रोष बढ़ता जा रहा है। 
दरअसल, सातवां वेतनमान, ग्रेड वेतन सहित अन्य मांगों को लेकर पैक्स कैडर सचिव हड़ताल पर हैं। सचिव परिषद के संरक्षक कृष्णानंद डमरी ने कहा कि मांगों पर कार्रवाई न होने से कैडर सचिवों में आक्रोश बना हुआ है।
 
 बृहस्पतिवार को कैडर सचिव देहरादून के लिए कूच करेंगे और एक सितम्बर को परेड ग्राउंड में एकत्रित होकर सचिवालय तक विशाल रैली व प्रदर्शन किया जायेगा। इस मौके पर सुरेन्द्र सिंह राणा, सुरेन्द्र प्रसाद, सुरेश लाल, नरेश गौड़, संजय कुमार, नरेन्द्र बुटोला, राजपाल सिंह नेगी, भूप सिंह कप्रवाण, गोपाल दत्त सकलानी सहित कईं मौजूद थे। कैडर सचिवों की हड़ताल को जिला पंचायत अध्यक्ष लक्ष्मी राणा, केदारनाथ विधायक मनोज रावत, पूर्व विधायक आशा नौटियाल ने भी समर्थन दिया।

जनपद स्तर पर शिक्षकों की काउंसिङ्क्षलग की

 उत्तरकाशी। शिक्षा विभाग ने जनपद के विभिन्न प्राथमिक स्कूलों में शिक्षकों की कमी को दूर करने के लिए जनपद स्तर पर शिक्षकों की काउंसिङ्क्षलग की। इसमें 35 शिक्षकों का चयन सुगम स्थान से दुर्गम स्थान के लिए किया गया। दुर्गम और अति दुर्गम स्थानों पर कोई भी शिक्षक जाने तैयार नहीं होते हैं। इस कारण जनपद में विभिन्न ब्लॉकों के प्राथमिक स्कूल शिक्षकों की कमी से जूझ रहे हैं।

 शिक्षकों की कमी को दूर करने के लिए जनपद स्थान पर शिक्षकों की काउंसिङ्क्षलग की। इसके बाद जिला शिक्षा अधिकारी (बेसिक) आरएस रावत ने उपखंड शिक्षा अधिकारी के माध्यम से चार ब्लॉकों में 35 शिक्षकों की तैनाती कर दी है। जिला शिक्षाधिकारी (बेसिक) आरएस रावत ने बताया कि मोरी ब्लॉक में 13, नौगांव में 12, पुरोला में तीन और चिन्यालीसौड़ में सात शिक्षकों की तैनाती कर दी गई है। 30 सितंबर तक जनपद के जूनियर हाईस्कूल में सहायक अध्यापकों को प्रोन्नति के आधार पर नियुक्त किया जाएगा।

बैठक में छाए रहे बदहाल स्वास्थ्य व मोटर मार्गो के मुद्दे

कर्णप्रयाग। क्षेत्र पंचायत कर्णप्रयाग की बैठक में बदहाल स्वास्थ्य व मोटर मार्गो के मुद्दे छाए रहे। सदस्यों ने कहा कि चिंता का विषय है कि पिछली बैठकों में हुई कार्यवाही का वाचन तो किया जा रहा है, लेकिन समस्याओं का संतोषजनक जवाब देने को जिम्मेदार अधिकारी बैठक में नहीं आते। ऐसे में बीडीसी का आयोजन महज खानापूर्ति बन गया है। इस पर डीपीओ आनंद सिंह ने बताया कि जिलास्तरीय अधिकारी सीएम के प्रस्तावित दौरे के चलते नहीं पहुंचे हैं और समस्याओं का निदान समय रहते किया जाएगा। चर्चा के दौरान कनिष्ठ उपप्रमुख सुभाष रावत ने कहा कि बीडीसी बैठकों में स्वास्थ्य महकमे से जुड़ा कोई भी अधिकारी मौजूद नहीं होना, विभागीय कार्यशैली को दर्शा रहा है। वर्षाकाल के दौरान अस्पतालों में आए दिन मरीज पहुंच रहे हैं, लेकिन सीएचसी में तैनात चिकित्सक ओपीडी छोड़ ड्यूटी समय में अपने निजी क्लीनिक में बैठते हैं। विभागीय अधिकारियों ने बताया कि व्यवस्था के तहत चिकित्सक को ऐलोपैथिक अस्पताल नौटी से यहां अटैच पर रखा गया है। सीएचसी से आए चिकित्सक डॉ. हरीश चंद्र थपलियाल ने बताया कि मामला उच्चाधिकारियों से जुड़ा है।

 इस मामले में वे कुछ नहीं कह सकते। ग्राम प्रधान थापली सुमन डिमरी, प्रधान संघ अध्यक्ष खिलदेव, प्रधान कालेश्वर हरीश चौहान, गिरीश चंद्र,दलवीर सिंह, दुलर्भ सिंह ने कहा कि ग्रामीण अंचल में मोटर मार्ग निर्माण कार्य कर रही पीएमजीएसवाई की कार्यप्रणाली सबसे दयनीय है। सदस्यों ने जंगली जानवरों से फसलों का बीमा करने, कीटनाशकों का छिडक़ाव न होने से कालेश्वर में बीमारी फैलने, गांव में बने एएनएम सेंटरों में ताले लटके रहने, राइंका जयपुर-कोल्सों में शौचालय निर्माण न होने, वर्षो से लंबित घतौड़ा बैंड-कोटी, चूला-गबनी, पैठाणी-जाख-नौटी, नौटी-चौंड़ली, सीरी-सलियाणा, झिरकोटी-चट्टवापीपल, रतूड़ा-बेनीताल, सिदोली, कालूसैंण, सुंदरगांव मोटर मार्ग, कर्णप्रयाग-नैनीसैंण, कंडारा-सोनला, सिमली-शैलेश्वर मोटर मार्गो के निर्माण में हो रहे विलंब, मार्ग निर्माण के दौरान विस्फोटकों के प्रयोग से दो आवासीय भवनों को क्षति पहुंचने के मामले में दलवीर सिंह ने कहा कि लगातार लोनिवि गौचर से इस बारे में फरियाद की जा रही है, लेकिन विभाग अनसुना कर रहा है। लोनिवि के सहायक अभियंता मनवर सिंह ने जल्द सुरक्षा दीवार लगाने की बात कही। इस मौके पर एसडीएम केएन गोस्वामी खंड शिक्षा अधिकारी एमएन भट्ट, प्रमुख राधा देवी, कनिष्ठ प्रमुख सुभाष रावत, गौतम मिंगवाल, लघु सिंचाई विभाग के सहायक अभियंता विष्णुदत्त बेंजवाल, खंड शिक्षा अधिकारी बीपीएस बिष्ट, युवा कल्याण अधिकारी वरद जोशी सहित तहसीलस्तरीय अधिकारी मौजूद थे।

सीएमआइ अस्पताल में भर्ती हुए पूर्व सीएम हरीश रावत

 देहरादून।  उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत को सीएमआइ अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पूर्व सीएम को पांव में ब्लड क्लोटिंग की वजह से भर्ती किया गया है। राजधानी देहरादून के सीएमआइ अस्पताल में पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत को भर्ती किया गया है। 24 से 48 घंटे तक के लिए पूर्व सीएम को ऑबजर्वेशन में रखा गया है। हरीश रावत को पांव में ब्लड क्लोटिंग की वजह से अस्पताल में भर्ती किया गया है।

  डॉक्टरों का कहना है कि अगर क्लोटिंग दिल तक पहुंचती है तो खतरा बढ़ सकता है। इसलिये उन्हें ऑब्जर्वेशन में रखा गया है। आपको बता दें कि मेडिकल साइंस में इस बीमारी को डीप वेन थ्रोंबोसिस कहा जाता है। 

वहीं पूर्व सीएम के मुख्य प्रवक्ता सुरेंद्र कुमार ने बताया कि पिछले कुछ दिनों से पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत के पैर में दर्द की शिकायत थी। जिसके बाद उन्होंने दून अस्पताल में दिखाया। दोबारा सीएमआई अस्पताल में दिखाया तो परीक्षण के लिए चिकित्सकों ने उन्हें भर्ती किया है। परिक्षण के नतीजे के बाद ही चिकित्सकों ने पैर दर्द का इलाज शुरू करने की सलाह दी है। उन्होंने यह भी बताया कि चिंता की कोई बात नहीं है। परिक्षण के बागद ही चिकित्सक उनके दर्द के निवारण की कार्रवार्इ करेंगे।  

सम्मान समारोह 6 नवम्बर को

देहरादून। उत्तराखण्ड फिल्म विकास परिषद की मंगलवार को सूचना भवन रिंग रोड स्थित सभागार में 6वीं बैठक सम्पन्न हुई। बैठक में उपाध्यक्ष हेमंत पांडेय, जय श्रीकृष्ण नौटियाल के साथ ही परिषद के सदस्यगण उपस्थित थे। बैठक में विभिन्न विषयों पर चर्चा की गई। मंगलवार को सम्पन्न हुई बैठक में निर्णय लिया गया कि 6 नवम्बर को देहरादून में एक सम्मान समारोह आयोजित किया जायेगा। इस सम्मान समारोह में शार्ट फिल्म फेस्टिवल हेतु आमंत्रित फिल्मों में से प्रथम, द्वितीय और तृतीय विजेताओं को सम्मानित किया जायेगा। इसके साथ ही उत्तराखण्ड की गढ़वाली व कुमांऊनी बोली में बनाई गई बडे पर्दे की फिल्मों के फिल्म निर्माताओं को भी सम्मानित किया जायेगा।
 
 सम्मान समारोह आयोजन हेतु एक समिति का गठन किया गया है, जिसमें जे.पी.पंवार, एस.पी.एस. नेगी, शिव पैन्यूली, बाबू राम शर्मा, के.राम नेगी आदि सम्मिलित है। इसके अतिरिक्त वन विभाग से संबधित प्रकरणों के निस्तारण हेतु श्री सतीश शर्मा, श्री शिव पैन्यूली तथा श्री एस.पी.एस.नेगी की एक उप समिति गठित की गई है। बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि फिल्म नीति को और अधिक आकर्षक बनाया जायेगा। प्रदेश में मिनी थियेटर के कान्सेप्ट पर विचार किया जायेगा, इससे रोजगार के अवसर भी बढेंगे। उपाध्यक्ष हेमंत पाण्डेय ने कहा कि परिषद के माध्यम से क्षेत्रीय सिनेमा को पहचान मिले, इसके लिए ठोस प्रयास करने की आवश्यकता है। उन्होंने बताया कि जी.एस.टी. लागू होने के कारण राज्य सरकार द्वारा फिल्मों को मनोरंजन कर में छूट प्रदान में कठिनाई आ रही है, इसको देखते हुए उन्होंने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी, वित्त मंत्री भारत सरकार को पत्र प्रेषित कर उत्तराखण्ड की विषम भौगोलिक परिस्थिति को दृष्टिगत रखते हुए जी.एस.टी. से छूट प्रदान करने का अनुरोध किया है।
 
बैठक में नवनियुक्त उपाध्यक्ष श्री जय श्रीकृष्ण नौटियाल का सभी सदस्यगणों द्वारा स्वागत किया गया। श्री नौटियाल ने कहा कि उनका प्रयास होगा कि परिषद के कार्यों को अधिक गति प्रदान की जाय। उन्होंने कहा कि हम सभी को मिलकर परिषद को मॉडल के रूप में प्रदर्शित करना होगा। परिषद राज्यहित में काम करे, यही हम सबकी भावना होनी चाहिए।
बैठक में परिषद के सदस्यगण शिव पैन्यूली, सतीश शर्मा, मनोज पांगती, जय प्रकाश पंवार, विक्की योगी, कांता प्रसाद, सुदर्शन शाह, चन्द्रदत्त तिवारी, महेश प्रकाश, कुंवर राम सिंह नेगी, श्रीमती संयोगिता ध्यानी, श्रीमती मीना राणा, बाबू राम, एस.पी.एस.नेगी, उप सचिव पर्यटन अतुल कुमार सिंह, उप सचिव वित्त एच.एस.बसेड़ा, चन्दन सिंह उपायुक्त मनोरंजन कर, अपर निदेशक डॉ. अनिल चन्दोला, उप निदेशक के.एस.चैहान आदि उपस्थित थे। 

उत्तराखंड परिवर्तन पार्टी के महाधिवेशन में पारित हुए कई प्रस्ताव

 देहरादून। उत्तराखंड परिवर्तन पार्टी के चतुर्थ द्विवार्षिक महाधिवेशन में पार्टी ने कई अहम प्रस्ताव पारित किये हैं। पार्टी के केन्द्रीय प्रधान महासचिव एपी जुयाल ने बताया कि राज्य गठन के पश्चात अब तक सत्तासीन रही सभी सरकारों ने बाहरी माफियाओ एवं स्थानीय प्रभावशाली एवं भ्रष्ट राजनेताओं के साथ मिलकर राज्य के प्रातिक संसाधनों की बुरी तरह से लूट की व राज्य को कंगाल बनाने का कार्य किया है। 

   
महाधिवेशन में कहा गया कि सरकार इस प्रकार की लूट खसोट पर अविलम्ब रोक लगाए तथा अब तक किये गए घोटालों की निष्पक्ष जांच की जाए। उनका कहना है कि राज्य गठन के 17 साल पूर्ण होने को हैं परन्तु अभी तक उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड के बीच अभी तक परिसम्पतियों का न्यायोचित बँटवारा नहीं हो पाया है। केंद्र, उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड सभी जगह भाजपा की सरकार होने के बावजूद अभी तक न्यायोचित बँटवारा नहीं हुआ। इसके विपरीत लाभ की परिसम्पतियां उत्तर प्रदेश के अधिकार में हैं, जबकि घाटे की परिसम्पतियाँ उत्तराखंड को सौंपी गई हैं। अत: अविलम्ब बंटवारे में की गई विसंगतियों को दूर करते हुए उत्तराखंड को उसका स्वाभाविक अधिकार दिया जाये। अब तक सत्तासीन रही सरकारों ने भूमाफिओं, खनन व शराब माफियाओं के साथ गठजोड़ कर राज्य की परिसम्पतियों, जमीनों, खनिजों का दोहन कर राज्य को आर्थिक रूप से कंगाल कर दिया है। अत: अब तक के सभी प्रकरणों की निष्पक्ष जांच की जाये। वक्ताओं ने कहा कि वर्तमान सरकार ने भ्रष्टाचारियों को संरक्षण प्रदान कर भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने का  ही काम किया है जबकि पूर्व मुख्यमंत्री भुवनचंद्र खंडूरी की सरकार में लोकायुक्त का श्रेय लेने वाली भाजपा ने लोकायुक्त को ठंडे बस्ते में डाल दिया है।
 
 
  अत: अविलम्ब राज्य में एक सशक्त लोकायुक्त की स्थापना की जाये। राज्य में शिक्षा व्यवस्था चौपट है। पिछले 17 वर्षों में कोई भी सरकार ठोस शिक्षा नीति नहीं बना पाई। अत: इंटरमीडिएट स्तर तक सामान, पारदर्शी शिक्षा नीति बनाई जाए तथा छोटे से राज्य में बेतहाशा निजी विश्वविद्यालयों पर रोक लगाईं जाये। विद्यालयों को मान्यता देने से पूर्व यह सुनिश्चित किया जाये कि वह संस्था आवश्यक संसाधनों व कर्मचारियों को निर्धारित वेतन आदि के मानक पूरे करते हों, इसकी समीक्षा की जाये। राज्य में स्वास्थ्य व्यवस्था बुरी तरह से चरमरा चुकी है।  चिकित्सालयों में पर्यान्त डक्टर नहीं है और दवाई व अन्य आवश्यक मशीनों व उपकरणों का अत्यंत अभाव है। डक्टर मरीजों को अपने कमीशन के चलते ब्रांडेड दवाई लिखते है जबकि जेनेरिक दवाई लिखने के निर्देश हैं। चिंता जताई गयी कि करोड़ों रूपये व्यय करने के बावजूद राज्य में डक्टरों की आज भी कमी है। मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत जारी किये गए हेल्थ कार्ड भी निष्प्रभावी है। किसी भी अस्पताल में इस योजना का लाभ मरीजों को नही मिल पा रहा है। अत: सरकार इसकी समीक्षा कर शीइा्र ही प्रभावकारी कार्यवाही करे तथा स्वास्थ्य सेवाओं के व्यापारीकरण पर प्रतिबंध लगायें।
 
पर्वतीय क्षेत्रों में षि व्यवस्थाएं बुरी तरह चरमराई हुई हैं। जंगली जानवरों, आवारा पशुओं, सुअरों व बंदरों के आतंक के चलते किसान गाँव छोडक़र शहरों की और पलायन कर रहे हैं। अत: सरकार चकबंदी के माध्यम से किसानों को प्रशिक्षित कर ठोस पहल करे जिससे किसानों को लाभ हो तथा पलायन पर रोक लग सके। हिमालय क्षेत्र में बड़े बांधों का निर्माण अत्यंत संवेदनशील तथा खतरनाक है, जिसके चलते लाखों लोगों को अपने घर बार छोडक़र पलायन को मजबूर होना पड़ता है। टिहरी बाँध हमारे समक्ष एक ज्वलंत उदाहरण है, जिसके विस्थापितों को अभी तक भी विस्थापन की सुविधा, पुनर्वास व अन्य सुविधाएं प्रान्त नहीं हुई है। अत: पंचेश्वर में जबरन बनाए जा रहे बड़े बाँध का हम पुरजोर विरोध करते है। यह उत्तराखंड की जनभावनाओं का घोर अपमान है। अत: हम मांग करते हैं कि पंचेश्वर बाँध के निर्माण की प्रक्रिया अविलम्ब बंद की जाये। कंडी मार्ग उत्तराखंड के कुमाऊं-गढ़वाल को जोडऩे वाला प्रमुख मार्ग है। इसके बनने के फलस्वरूप लगभग 80 किमी$ की दूरी कम होगी। यात्रा समय में 3 घंटे की कमी होगी, व्यापारियों को उत्तर प्रदेश से होकर नहीं जाना पड़ेगा जिससे उन्हें कई प्रकार के करों से राहत मिलेगी तथा लाखों रूपये के डीजल, पेट्रोल की बचत होगी। 

पुस्तक मेले में उमड रहे दूनवासी

 देहरादून। राजधानी में उच्च शिक्षा विभाग एवं नेशनल बुक ट्रस्ट के तत्वावधान में चल रहे पुस्तक मेले में बड़ी संख्या में पुस्तक प्रेमी  बडी संख्या में पहुंच रहे है और पुस्तकों को खरीदा। दूसरी ओर, स्कूली बच्चों के लिए कार्यशाला आयोजित भी की गई। परेड ग्रांउड में पांच सितम्बर तक चलने वाले पुस्तक मेला उच्च शिक्षा विभाग एवं नेशनल बुक ट्रस्ट के तत्वावधान में चल रहे पुस्तक मेले में बडी संख्या में पुस्तक प्रेमियों ने पुस्तकों को खरीदा। इस अवसर पर मेले की नोडल अधिकारी डा$ हर्षवंती बिष्ट ने कहा है कि मेले में 111 प्रकाशकों के पुस्तकों के स्टॉल लगाये गये हैं और यहां पर दून की जनता पुस्तकों की खरीददारी भी कर रही है। उनका कहना है कि पुस्तक मेले में छूट प्रदान की जा रही है और दूनवासी पुस्तकों के बारे में भी जानकारी हासिल कर रहे है। उन्होंने कहा कि पुस्तक मेले में पुस्तक लेने वालों के लिए 10 प्रतिशत की छूट दी जायेगी।

 उनका कहना है कि मेले में भाग लेने वाले छात्र-छात्राओं जिनके पास आई कार्ड होगा उन्हें 20 प्रतिशत की छूट प्रदान की जायेगी। उन्होने कहा कि इस मेले में प्रदेश के सभी शिक्षण संस्थाओं के छात्र-छात्राओं को शामिल किया जायेगा, जिसमें 10 बजे से 12 बजे तक हाईस्कूल के बच्चों का कार्यक्रम आयोजित किये जा रहे है तथा 12 से 02 बजे तक इन्टरमीडिएट के बच्चों का कार्यक्रम संचालित किया जा रहा है और प्रतिदिन सांय 05 बजे बजे तक डिग्री कालेज विश्वविद्यालयों के बच्चों का कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है।

शराब की दुकान खोले जाने के खिलाफ धरना

 देहरादून। रायपुर मुख्य बाजार व आवासीय क्षेत्र में शराब की दुकान खोले जाने के विरोध में क्षेत्रवासियों ने जमकर प्रदर्शन करते हुए आज भी ारना दिया। क्षेत्रवासियों ने कहा कि यहां पर किसी भी दशा में शराब की दुकान नहीं खुलने दी जायेगी। यहां पर धरने के आज 101 दिन पूरे हो गये हैं। बाजार में क्षेत्रवासी बडी संख्या में इकटठा हुए और वहां पर शराब की दुकान खोले जाने के विरोध में प्रदर्शन कर धरना दिया।

 उनका कहना है कि आज 101 दिन होने के बाद भी कोई कार्यवाही नहीं की गई है। इस अवसर पर वक्ताओं ने कहा कि यहां पर स्कूल, कालेज एवं अन्य शैक्षणिक संस्थानों के साथ ही मंदिर है और जो शराब की दुकान यहां पर खोली जा रही है उसके सामने ही मंदिर है और यहां पर किसी भी दशा में शराब की दुकान नहीं खोलने दिया जायेगा और इसका पूर्ण रूप से विरोध किया जायेगा। उनका कहना है कि  यहां पर आवासीय क्षेत्र है और लगातार प्रशासन को अवगत कराये जाने के बाद भी आज तक इस ओर किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है और इस क्षेत्र में किसी भी स्थान पर शराब की दुकान नहीे खुलने दी जायेगी।

डीएवी में छात्रसंघ के प्रत्याशियों ने किया शक्ति प्रदर्शन

देहरादून। डीएवी पीजी कालेज में 31 अगस्त को होने वाले छात्र संघ चुनाव के चलते हुए प्रत्याशियों व उनके समर्थकों ने जुलूस निकालकर शक्ति प्रदर्शन किया। आतिशबाजी एवं ढोल की थाप पर विभिन्न छात्र संगठनों के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं ने शक्ति प्रदर्शन किया।
    राजधानी में डीएवी कालेज में सुबह से ही प्रत्याशियों के समर्थकों की भीड़ दिखाई दी और वह शक्ति प्रदर्शन करते हुए अपने प्रत्याशी के पक्ष में प्रचार-प्रसार करते हुए दिखाई दिये। अभाविप के अयक्ष पद के प्रत्याशी शुभम सिमल्टी ने समर्थकों के साथ जुलूस निकालकर शक्ति प्रदर्शन किया। इस दौरान एनएसयूआई के विकास नेगी ने भी जुलूस निकालकर अपना नामांकन किया। वहीं एनएसयूआई के विद्रोही सौरभ ममगांई ने भी अयक्ष पद पर अपना शक्ति प्रदर्शन किया, इससे पूर्व कालेज परिसर में अपना जुलूस निकालकर शक्ति प्रदर्शन किया।
 
 वहीं, राजधानी में अनेक स्थानों से निकाले गये जुलूस व शक्ति प्रदर्शन को लेकर कई जगहों पर जाम की स्थिति बनी रही और लोगों को परेशानियों का सामना करना पडा। वहीं दूसरी ओर कालेज के मुख्य चुनाव अधिकारी डा$ डीके त्यागी ने कहा कि कालेज में किसी भी प्रकार की गड़बडि़यों को सहन नहीं किया जायेगा, और लिंगदोह समिति की सिफारिशों का पूर्णतया पालन किया जायेगा। उनका कहना है कि चुनाव व मतगणना तक पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था की गई है, शरारती तत्वों से निपटने के लिए हरसंभव प्रयास किये गये है। इस दौरान प्रत्याशियों ने पम्पलेट छात्र-छात्राओं के बीच बांटे। उनका कहना है कि कालेज की समस्याओं के साथ ही साथ कालेज में बेहतर शैक्षणिक माहौल बनाने के लिए हरसंभव प्रयास किये जायेंगे और सभी को साथ लेकर कार्य किया जायेगा। माहौल खराब करने वाले युवाओं से सख्ती से निपटा भी जायेगा।

हॉकी के जादूगर ध्यानचन्द को किया गया याद

 देहरादून। नेताजी संघर्ष समिति के पदाािकारियों ने आज अपने कार्यालय कांवली रोड पर खेल दिवस के अवसर पर हॉकी के खिलाडी स्वर्गीय मेजर ध्यानचन्द को याद किया तथा श्रद्घांजलि अर्पित की। खेल दिवस स्वर्गीय ध्यान चन्द की स्मृति में मनाया जाता है।

 इस अवसर पर समिति के उपाध्यक्ष प्रभात डंडरियाल ने कहा कि प्रदेश की सरकार को चाहिए कि वह उभरते हुए खिलाडियों को प्रोत्साहित करें ताकि वह अपने खेल का जौहर दिखा कर प्रदेश का नाम रोशन करें। श्रद्घांजलि देने वालों में अरविन्द गुप्ता, आरिफ हुसैन वारसी, प्रभात डंडरियाल, राजकुमार बतरा, प्रदीप कुकरेती, प्रवीन शर्मा, अरूण खरबंदा आदि शामिल थे।

मांगें न माने जाने से आशा कार्यकत्रियों में रोष

 देहरादून। उत्तराखंड आशा स्वास्थ्य कार्यकत्री यूनियन ने अपनी समस्याओं के समाधान के लिए प्रदेश सरकार के खिलाफ पांचवें दिन भी गरजते हुए प्रदर्शन करते कर धरना दिया और कहा कि शीघ्र ही समस्याओं का समाधान नहीं किया गया तो आंदोलन को तेज किया जायेगा। उनका कहना है कि लगातार उनके हितों की अनदेखी की जा रही है जिसे किसी भी दशा में बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। उनका कहना है कि जल्द ही समस्याओं का हल नहीं किया गया तो सचिवालय कूच किया जायेगा। यूनियन के बैनर तले आशा स्वास्थ्य कार्यकत्रियां धरना स्थल पर प्रांतीय अध्यक्ष शिवा दुबे के नेतृत्व में इकटठा हुई और वहां पर अपनी समस्याओं के समाधान के लिए प्रदेश सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए धरना दिया और कहा कि शीइा्र ही समस्याओं का समाधान नहीं किया गया तो आंदोलन को तेज किया जायेगा। इस अवसर पर वक्ताओं ने कहा कि अन्य स्कीम वर्करों की भांति आशाओं को भी न्यूनतम वेतन व मानदेय दिया जाना चाहिए, लेकिन अभी तक सरकार की ओर से किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं की गई है। वक्ताओं का कहना है कि सन 2012-13, 2013-14, 2015-16, 2016-17 चारों की पांच हजार रूपये प्रति वर्ष प्रोत्साहन राशि को एक मुश्त भुगतान अविलंब किया जाये।

 उनका कहना है कि सरकार अभी तक इस दिशा में गंभीर नहीं दिखाई दे रही है। उनका कहना है कि आशा कार्यकत्रियों को बोनस का भुगतान तत्काल प्रभाव से किया जाये और 45वें श्रम सम्मेलन के फैसले के अनुसार, आशा कार्यकत्र्रियों को कर्मकार घोषित किया और वर्तमान समय में बढती हुई महंगाई को देखते उनके भत्तों में महंगाई के अनुरूप बढोत्तरी की जाये। पूर्व में मुख्यमंत्री, स्वास्थ्य मंत्री एवं स्वास्थ्य महानिदेशक को अवगत कराये जाने के बाद भी आज तक समस्याओं का समाधान नहीं हो पाया है जिससे उनमें रोष बना हुआ है। उनका कहना है कि उनके हितों के लिए किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है। इस अवसर पर शिवा दूबे, सुनीता चौहान, बीरा भंडारी, मंजु ठाकुर, नीरू जैन, हन्सी देवी, शिवदेई नैथानी, हेमलता, कलावती, कलावती चंदोला, अनिता अग्रवाल, बीना, शीतल, राधा देवी, मधु शर्मा, मधुबाला, सीमा देवी, प्रमिला, हेमलता आदि मौजूद थे।

ऊर्जा संरक्षण के प्रति किया जागरूक

 देहरादून। पैट्रोलियम कन्सर्वेशन रिसर्च एसोसिएशन (पीसीआरए ) द्वारा अधिकृत ‘स्वयं संस्था’ द्वारा ऊर्जा संरक्षण विषय पर ईको क्लब के सदस्य छात्र व छात्राओं को जागरुक करने के उेश्य से दस घरेलू कार्यशालाओं का आयोजन देहरादून, हरिद्वार, रूडक़ी मे किया गया। घरेलू कार्यशाला का समापन आज राजकीय इंटर कालेज नथुआवाला मे किया गया। 

 
 
   इस अवसर पर संस्था की उपाध्यक्षा मंजु सक्सेना ने बताया कि इसके अंतर्गत माह जुलाई व अगस्त मे विभिन्न विद्यालयों केएल डीएवी इंटर कालेज रूडकी, राजकीय इंटर कालेज नथुवावाला, तेग बहादुर सिंह इंटर कालेज बुग्गावाला, बीएसएम इंटर कालेज रूडकी, श्री गुरु राम राय इण्टर कालेज भाउवाला देहरादून, राजकीय इंटर कालेज ऋषिकेश ,राजकीय इंटर कालेज मालदेवता ,सविमं कन्या इंटर कालेज ढालवाला ,श्री गुरु राम राय इण्टर कालेज सहसपुर, श्री गुरु राम राय इण्टर कालेज नेहरूग्राम देहरादून आदि मे आयोजित कर ऊर्जा संरक्षण की आवश्यकता व महत्व की जानकारी दी गई। सभी विद्यालयो में घरेलू कार्यशालाओं का उद्घाटन विद्यालयों के प्रधानाचार्यो द्वारा किया गया। सभी विभिन्न विद्यालयों मे जाकर छात्र व छात्राओं को ऊर्जा संरक्षण की जानकारी दी गयी। उन्होने बताया कि ईंधन के प्रयोग में लायी जाने वाली गैस का सही प्रकार से प्रयोग कर हम गैस की बचत कर सकते हैं। मोटे अनाज को भिगोकर बनाना, खाना ढक कर पकाना, गैस के बर्नर को साफ रखना आदि छोटे उपाय गैस की बचत मे बहुत सहायक होते हंैं। इसी प्रकार वाहन प्रयोग करते समय गति, टायर में हवा का दवाब, लुब्रिकेंट, तेल आदि का ध्यान रखकर हम पैट्रोल की बचत कर सकते हैं। 
   
उन्होंने कहा कि पैट्रोल बचाने के लिए हमे सार्वजनिक वाहन तथा कार पूलिंग का प्रयोग करना चाहिए। इनसे न केवल  पैट्रोल की बचत होगी बल्कि प्रदूशण भी कम होगा, जो कि स्वास्थ्य के लिए भी हानिकारक है। श्रीमती सक्सेना ने पीसीआरए के गठन के उद्देश्य की जानकारी भी दी, तथा उन्होने ईको क्लब के सदस्य छात्र व छात्राओं को पैट्रोलियम पदार्थो की बढ़ती हुई मांग को देखते हुए मितव्ययी होने का संदेश दिया। 
 
उन्होंने बताया कि भारत तेल खपत का तीन चौथाई आयात करता है तथा मात्र एक चौथाई अपने देश मे उत्पादन पर निर्भर रहता है अत: हमे तेल के प्रयोग में मितव्ययता अपनानी चाहिए। उन्होने ईको क्लब के सदस्य छात्र व छात्राओं को संबोधित करते हुए कहा कि बिजली की बचत के लिए हमे आरम्भ से ही जरुरत न होने पर बल्ब, टयूब लाइट व पंखे न चलाने की आदत डालनी चाहिए। यदि कमरे मे रोशनी है तो बिजली नही जलानी चाहिए। घर के सभी लोगों को एक समय पर एक स्थान पर बैठकर खाना खाना व टीवी$ देखना चाहिए । उन्होंने यह भी कहा कि बिजली की बचत  के लिए सौर ऊर्जा से चलने वाले संयन्त्रों का भी प्रयोग किया जा सकता है। उनका कहना है कि यह सभी बातें बिजली की बचत मे मदद करती हैं।
 
ऊर्जा की बचत से हम इन संसाधनो का लम्बे समय तक प्रयोग कर सकते हैं तथा इस ऊर्जा से अधिक उद्योग स्थापित किए जा सकते है।ं इससे युवाओं को रोजगार के अवसर प्रान्त होंगे। ंघरेलू कार्यशाला मे ईको क्लब के सदस्य छात्र व छात्राओं ने बहुुत रुचि दिखायी तथा सक्रिय भाग लिया। इस अवसर पर कार्यक्रम के अन्त मे क्विज प्रतियोगिता आयोजित की गई। इस अवसर पर कंप्यूटर के माध्यम से ऊर्जा बचत के उपाय बताए गये। इन कार्यक्रमों मे फूलचन्द नारी शिल्प मंदिर इंटर कालेज की प्रधानाचार्य डा$ कुसुम रानी नैथानी, मंजु सक्सेना, विरमानी, कौशल्या डोभाल, नितिन, इन्दु , मोना बाली शर्मा, नेहा व विद्यालय के शिक्षक शिक्षिकाएं एवं ईको क्लब के सदस्य उपस्थित थे।  

कौशिक ने ली शहरी विकास विभाग की समीक्षा बैठक

देहरादून। प्रदेश के शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने सचिवालय स्थित सभाकक्ष में बैठक लेते हुए स्वच्छता विषय पर आयोजित दो दिवसीय कार्यशाला में मिली जानकारी का लाभ अपने कार्य के दौरान सामने लाएं। स्वच्छता को सर्वोच्च प्राथमिकता दें तथा सर्वप्रथम अपने कार्यालय को साफ सुथरा रखें। उन्होंने कहा कि स्वच्छता किसी एक कर्मचारी, अधिकारी अथवा नागरिक के प्रयासों से सम्भव नहीं है। इसलिए स्वच्छता के लिए हमें टीम भावना से काम करना होगा। 
इस सम्बन्ध में उन्होंने नगर आयुक्त एवं अधिशासी अधिकारी को निर्देश दिया कि सुबह-सुबह स्वच्छता की स्थिति के जानकारी के लिए भ्रमण पर निकलें। उन्होंने कार्मिकों का मनोबल बढ़ाते हुए कहा कि कार्मिकों के हित का पुरा ध्यान रखा जायेगा। प्रमोशन, वेतन वृद्घि की फाईल दौड़ेगी।
 
प्रदेश के स्वच्छता की स्थिति की समीक्षा के लिए शासनस्तर पर मासिक बैठक लेने का निर्देश दिया। मासिक बैठक में स्वच्छता मिशन के अन्तर्गत ओडीएफ की स्थिति, व्यक्तिगत- सार्वजनिक   शौचालय की स्थिति, ठोस अपशिष्ट प्रबन्धन की  स्थिति, डोर टू डोर कूड़ा निस्तारण की स्थिति, यूजर चार्जेज के आरोपण की स्थिति तथा थूकने के प्रवृति रोकने से अधिनियम पर कार्यवाही की स्थिति का विशेष रूप से समीक्षा की जाय तथा अमृत योजना एवं  प्रधानमंत्री आवास योजना पर भी फोकस रखा जाय। इस अवसर पर सचिव आवास राधिका झा, निदेशक शहरी विकास विनोद सुमन, एमडीडीए उपाध्यक्ष विनय शंकर पाण्डेय, सचिव एमडीडीए पीसी दुमका, समस्त नगर आयुक्त एवं समस्त अधीशासी अधिकारी स्थानीय निकाय इत्यादि उपस्थित थे। 

राष्ट्रीय खेल दिवस पर खिलाड़ी हुए सम्मानित

 देहरादून।  राष्ट्रीय खेल दिवस पर उत्तराखंड के खिलाडिय़ों को सम्मानित किया गया। विधानसभा अध्यक्ष प्रेम चंद अग्रवाल और खेल मंत्री अरविंद पांडेय ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बॉडी बिल्डिंग और कुश्ती प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक प्राप्त करने वाले खिलाडिय़ों और उनके कोचों को सम्मान से नवाजा।

राष्ट्रीय खेल दिवस पर विधानसभा में आयोजित एक समारोह में खिलाडियों को सम्मानित करते हुए स्पीकर अग्रवाल ने कहा कि राज्य में अनेक ऐसे खिलाडी हैं, जो राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रदेश का नाम रोशन कर रहे हैं। उन्होंने कहा बस जरूरत है इन खिलाडिय़ों को अच्छा प्रशिक्षण और सुविधा उपलब्ध कराने की।
 
 
इन खिलाडिय़ों को मिला सम्मान
समारोह में अमेरिका में संपन्न हुए वर्ल्ड पुलिस प्रतियोगिता में बॉडी बिल्डिंग के क्षेत्र में स्वर्ण पदक प्राप्त करने वाले पुलिस कांस्टेबल तजेंद्र सिंह, श्रीलंका में आयोजित स्टूडेण्ट इंटर नेशनल गेम 2017 में फ्री स्टाइल कुश्ती प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक प्राप्त करने वाले सुमित पंवार और श्रीलंका में ही स्टूडेंट ओलंपिक गेम्स में 120 किग्रा कुश्ती प्रतियोगिता में पाकिस्तान के पहलवान को हराकर स्वर्णपदक जीतने वाले  करने वाले लाभांसु शर्मा को भी सम्मानित किया गया। इसको साथ ही तीनों खिलाडिय़ों के कोच नरेंद्र गिरी, पवन शर्मा, राज मिढ़ास को भी सम्मान से नवाजा गया। 
सरकार देगी खिलाडिय़ों को बेहतर सुविधा 
इस अवसर पर प्रदेश के खेलमंत्री अरविंद पांडेय ने कहा कि सरकार खिलाडिय़ों को बेहतर सुविधा उपलब्ध कराने के लिए वचनबद्ध है। उन्होंने खिलाडिय़ों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि भविष्य में खिलाडिय़ों से और बेहतरीन प्रदर्शन की उम्मीद है। सरकार खिलाडिय़ों की  बेहतरी के लिए कोई भी कसर नहीं छोड़ेगी।

चंडीगढ़ रूट की सभी बस सेवाओं का संचालन शुरू

 देहरादून। पंचकूला हिंसा के बाद ठप पड़ी चंडीगढ़ रूट की सभी बस सेवाओं का संचालन शुरू हो गया है। मंगलवार को वॉल्वो और हाईटेक बसों का भी निगम ने संचालन शुरू कर दिया है। बसों का संचालन शुरू होने से यात्रियों को राहत मिली है।

डेरा सच्चा सौदा प्रमुख के यौन शोषण के आरोप में दोषी ठहराए जाने के बाद पंचकूला समेत इससे लगे शहरों में भडक़ी हिंसा से देहरादून आईएसबीटी से चंडीगढ़, पंजाब, हरियाणा, हिमाचल, फरीदाबाद और गुडगांव जाने वाली बसों का संचालन ठप हो गया था। हालात सामान्य होने के बाद निगम ने धीरे-धीरे इन रूटों पर बसों का संचालन शुरू किया।
 
 
सोमवार तक निगम सिर्फ साधारण बस सेवाएं भेज रहा था, लेकिन मंगलवार से वॉल्वो और हाईटेक बसों का संचालन भी शुरू कर दिया है। निगम के उप महाप्रबंधक सीपी कपूर ने बताया कि हिंसा के चलते देहरादून आईएसबीटी से दस सेवाएं प्रभावित हुई थी। उधर से भी हिमाचल, हरियाणा और पंजाब की बसें भी नहीं आ पा रही थी, लेकिन अब हालात सामान्य होने के बाद सभी बसों का संचालन शुरू हो गया है। बसों को संचालन शुरू होने से यात्रियों को राहत मिली है। उन्हें आईएसबीटी से समय पर बसें मिल रही है।

आंदोलनकारियों का राज्य सम्मेलन 31 को

 देहरादून। चिंहित राज्य आंदोलनकारी समिति का राज्य स्तरीय सम्मेलन 31 अगस्त को उधमसिंह नगर में आयोजित किया जाएगा। समिति के केंद्रीय अध्यक्ष जेपी पांडे ने यहां जारी एक बयान में कहा है कि नौ अगस्त को मुख्यमंत्री आवास कूच के दौरान मुख्यमंत्री ने उन्हें वार्ता के लिए आश्वासन दिया था। लेकिन आज तक कोई कार्रवाई नहीं की गई। पांडे ने कहा है कि राज्य आंदोलनकारी अब अपना आंदोलन तेज करेंगे।

 जिसके तहत एक दिसंबर को खटीमा कूच, दो को मसूरी कूच, 17 सितंबर को जनपद उत्तरकाशी के रवाई घाटी में समिति अपना 27वां प्रदेश स्तरीय सम्मेलन करेगी। उन्होंने कहा कि 2 अक्तूबर को राज्य के प्रत्येक जिले में काला दिवस मनाया जाएगा। उधमसिंह नगर में सम्मेलन के दौरान संगठनों का विलय करने वालों और सदस्यता ग्रहण करने वालों का प्रदेश अध्यक्ष कैप्टन शेर सिंह दिगारी और प्रदेश महामंत्री भगवान जोशी स्वागत करेंगे। इसके बाद समिति विधानसभा कूच की रूप रेखा तैयार करेगी।

हल्की बारिश से मौसम हुंआ सुहावना

 देहरादून। देहरादून में मंगलवार सुबह हल्की बारिश हुई। इससे मौसम सुहावना हो गया है। तापमान में भी कमी आई है। बीते सोमवार को भी मौसम अन्य दिनों के अपेक्षा ठंडा रहा। उसम ने भी कम परेशान किया और हल्की बारिश के बीच मौसम सुहाना रहा। मौसम विज्ञान केंद्र ने मंगलवार को कुछ देर बारिश होने का अनुमान लगाया था। 

 
 
सोमवार को दून का मौसम सुबह से ही कुछ ठंडा था। अधिकतम तापमान तीन डिग्री गिर कर 28 डिग्री रहा। जो सामान्य से एक डिग्री कम था। वहीं न्यूनतम तापमान 22.9 डिग्री रहा। मंगलवार को तापमान 31 डिग्री तक जायेगा, लेकिन न्यूनतम में एक डिग्री की गिरावट आयेगी और तापमान 21 डिग्री रहेगा। वहीं शहर में हल्की हल्की बारिश होने की संभावना है।

फॉरेस्ट गार्ड की भर्ती पर अभी नहीं लगी रोक

 देहरादून। उत्तराखंड वन विभाग में फॉरेस्ट गार्ड भर्ती प्रक्रिया पर अभी रोक नहीं लगी है। सोशल मीडिया पर वन मंत्री हरक सिंह रावत के बयान के आधार पर रोक की खबर फैल गई थी। वन मंत्री हरक सिंह रावत का कहना है कि इसके लिए नियमावली में संसोधन किया जा सकता है। कहा कि जब तक संसोधन नहीं होता तब तक भर्ती प्रक्रिया रोकने का आश्वासन उन्होंने बेरोजगारों के प्रतिनिधिमंडल को दिया था। इसे लेकर मुख्य सचिव को निर्देश दिए गए हैं। हालांकि अभी इसका परीक्षण चल रहा है। 

 
 
राज्य में वन विभाग के 1218 पदों पर भर्ती प्रक्रिया चल रही थी। इसके लिए  पिछली सरकार ने शैक्षणिक योग्यता इंटर साइंस रखी थी और आयु की सीमा भी कम थी। इसे लेकर राज्य के युवाओं में आक्रोश था। भाजपा मुख्यालय में पत्रकारों से बातचीत में वन मंत्री हरक सिंह रावत ने कहा कि आयु सीमा और शैक्षणिक योग्यता में बदलाव को लेकर फैसला किया जाएगा। जब तक नियमावली में संसोधन नहीं हो जाता, तब तक भर्ती प्रक्रिया पर रोकी जाएगी। वन विभाग के इस फैसले से कहीं न कहीं युवाओं को भी राहत मिल सकती है। हालांकि मुख्य सचिव स्तर पर अभी रोक की प्रक्रिया चल रही है। अभी रोक नहीं लगी है। 

सीएम के आदेश का पालन करने में जुटे मंत्री

 देहरादून। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के निर्देशों के बाद अब उनकी कैबिनेट के मंत्री सीएम रावत की आदेशों का पालन करने में लग गए हैं। इसी सिलसिले में मंगलवार को वन एवं पर्यावरण मंत्री हरक सिंह रावत ने बीजेपी कार्यालय में बैठकर आम जनता और बीजेपी कार्यकर्ताओं की समस्याएं सुनी। सोमवार को भी हरक सिंह रावत ने बीजेपी कार्यालय में जनता और कार्यकर्ताओं की समस्याओं को सुना था।

सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अपनी कैबिनेट के तमाम मंत्रियों को यह आदेश दिए हैं कि वह सप्ताह के एक या दो दिन कार्यालय में बैठकर आम जनता की समस्याओं को सुनें। सोमवार से शानिवार तक हर रोज सभी मंत्री बीजेपी कार्यालय में बैठेंगे। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने मंत्रियों के बीजेपी कार्यालय में बैठने का वक्त कुछ इस तरह से तय किया है।

सोमवार को सुबोध उनियाल।
मंगलवार को हरक सिंह।
बुधवार को प्रकाश पंत।
गुरुवार को यशपाल आर्य।
शुक्रवार को सतपाल महाराज।
शनिवार को धन सिंह रावत।

एडीजीपी ने ली पुलिस अधिकारियों की बैठक

 देहरादून। अपर पुलिस महानिदेशक अपराध एवं कानून व्यवस्था अशोक कुमार ने अपने कार्यालय कक्ष में दीपम सेठ पुलिस महानिरीक्षक, अपराध एवं कानून व्यवस्था, पुष्पक ज्योति पुलिस उपमहानिरीक्षक गढ़वाल परिक्षेत्र, निवेदिता कुकरेती वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून के साथ जनता के मय पुलिस की छवि को और बेहतर करने के उद्देश्य से विभिन्न बिन्दुओं पर एक कार्ययोजना तैयार किये जाने के सम्बन्ध में गहन विचार-विमर्श किया। 

 
 
उन्होंने कहा कि यातायात व्यवस्था में सुधार लाया जाए और सी0पी0यू0 की कार्यक्षमता में वृद्घि की जाए। ड्रग्स के कारोबार को जड़ से उखाडऩे की दिशा में कार्य किया जाए। भ्रष्ट पुलिस कर्मियों पर कड़ी कार्यवाही अमल में लाई जाए। एडीजीपी ने कहा कि प्रदेश के सभी थानों पर एक बोर्ड के माध्यम से भ्रष्टाचार सम्बन्धी शिकायत करने हेतु एक सम्पर्क नम्बर प्रदर्शित करने के निर्देश दिये जा रहे हैं। बैठक के उपरान्त अशोक कुमार ने बताया कि उपरोक्त बिन्दुओं के सम्बन्ध में एक विस्तृत कार्ययोजना लगभग एक सप्ताह में तैयार कर ली जायेगी। उन्होंने बताया कि इन बिन्दुओं के सम्बन्ध में जनता से भी उनके सुझाव आमन्त्रित किये गये हंै। जनता अपने सुझाव उत्तराखण्ड पुलिस के फेसबुक पेज, पुलिस मुख्यालय की ई-मेल, व्हाट्सएप्प नम्बर-9897023456 पर प्रेषित कर सकते हैं, जनता से प्राप्त अच्छे सुझावों को भी कार्ययोजना में सम्मिलित किया जायेगा।

सीपीयू ने 13 कछुए किए बरामद

 रुद्रपुर। सिटी पैट्रोलिंग यूनिट (सीपीयू) के दारोगा ने एक रिक्शे से विलुप्त प्रजाति के 12 किलो वजन के कछुए समेत 13 कछुओं को बरामद किया है। बरामद कछुओं में एक मृत है, बाकी जिंदा हैं। अलबत्ता कछुओं को ले जा रहा व्यक्ति रिक्शा रुकते ही सीपीयू को गच्चा देकर भागने में कामयाब हो गया।

सीपीयू के उपनिरीक्षक हयात सिंह व कांस्टेबिल मानवेंद्र सिंह महाराजा पैलेस के पास चेकिंग कर रहे थे। इस दौरान एक रिक्शे में दो बोरे देखकर सीपीयू ने रिक्शा रोका। उन्हें शक हुआ कि रिक्शे से अवैध शराब ले जाई जा रही होगी। जैसे ही रिक्शा रुका तो रिक्शे में सवार व्यक्ति भीड़ में भाग गया। सीपीयू के जवानों ने जब बोरे खोले तो उसमें कछुए निकले जो तस्करी करके ले जाए जा रहे थे। इनमें 12 किलो वजन का एक विलुप्त प्रजाति का कछुआ भी था। सीपीयू के जवान बरामद कछुओं को कोतवाली ले आई। जहां कछुओं को पानी के ड्रम में रखा है। बरामद 13 कछुओं में एक मृत निकला। इस बीच पुलिस ने कछुओं की तस्करी करने वालों की तलाश तेज कर दी है।

रन फॉर उत्तराखण्ड के लिए दौड़ा दून

 देहरादून। राष्ट्रीय खेल दिवस ‘रन फॉर उत्तराखण्ड‘ के लिए देहरादून के युवा ने दौड़ लगाई। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने मंगलवार को गाँधी पार्क में राष्ट्रीय खेल दिवस के अवसर पर आयोजित ‘रन फॉर उत्तराखण्ड‘ का हरी झण्डी दिखाकर शुभारम्भ किया। इस अवसर पर सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि राष्ट्रीय खेल दिवस एक ऐसे खिलाड़ी, मेजर ध्यान चंद कीे याद में मनाया जाता है जिसने देश की आन बान और शान के लिये जीतोड़ मेहनत की और भारत को हॉकी का सरताज बना दिया। कभी हार न मानना, मुश्किलों में बहाना नहीं बनाना, जुझारूपन, लीडरशिप क्वालिटी जैसी बातें हम मेजर ध्यान चंद के जीवन से सीख सकते हैं। ‘रन फॉर उत्तराखण्ड‘ में नौजवानों एवं बड़ी उम्र के लोगों को भाग लेते हुए देख कर बहुत खुशी हो रही है। हम राज्य के विकास के लिये दौड़ें, हम जो भी करें राज्य के लिये करें, हमारे लिये राज्य का विकास ही सर्वोच्च होना चाहिए। आप लोगों के मजबूत इरादे, जोश और खेल भावना को देखकर ही इस रैली को ‘रन फॉर उत्तराखण्ड‘ नाम दिया गया है।

 
 
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि वर्ष 2018 में उत्तराखण्ड में राष्ट्रीय खेल होने हैं। उसकी तैयारियों के लिये आज एक महत्वपूर्ण शुरूवात हुयी है। इसके लिये हम आयोजन स्थलों को भी तैयार कर रहे हैं। बच्चों को बेहतर खेल सुविधाएं मिलें, इस पर सरकार गम्भीरता से काम कर रही है। समय-समय पर ऐसे आयोजन होते रहेंगे, ताकि राज्य राष्ट्रीय खेलों में सर्वोच्च स्थान प्राप्त कर सके। इस वर्ष यह दौड़ उत्तराखण्ड के लिये हो रही है, अगले वर्ष यह दौड़ देश के लिये होगी। इस अवसर पर खेल मंत्री अरविन्द पाण्डे, कृषि मंत्री सुबोध उनियाल, विधायक गणेश जोशी, हरबंस कपूर, खजानदास, उमेश शर्मा काऊ एवं शूटिंग ट्रेनर जसपाल राणा सहित बड़ी संख्या में स्कूल-कॉलेजों के छात्र-छात्राएं और एनसीसी कैडेट्स उपस्थित थे।

यूपी में समूह ख, ग और घ की नौकरियों में इंटरव्यू खत्म

 लखनऊ। योगी सरकार ने कैबिनेट की बैठक में सात अहम बिंदुओं पर फैसला लिया है। जिसमें राजपत्रित नौकरियों में 'समूह ग' और 'घ' और समूह ख के नॉन गजटेड की नौकरियों में सरकार ने इंटरव्यू का चरण खत्म कर दिया है। साथ ही राज्य के ऊर्जा विभाग में काम करने वाले कर्मचारियों को सातवें वेतन आयोग का लाभ भी देने का फैसला किया गया है।

 
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में सात अहम बिंदुओं पर सरकार ने फैसला किया है। जिसमें जिलों के सीमा विस्तार और धान खरीद को लेकर क्रय केंद्र खोलने से लेकर मानसरोवर भवन के निर्माण तक के फैसले शामिल हैं। 
 
समूह  'ख', 'ग' और 'घ' में इंटरव्यू समाप्त
गौरतलब है कि भाजपा ने यूपी विधानसभा चुनाव से पहले पार्टी द्वारा जारी संकल्प पत्र में वादा किया था कि वो इन पदों पर होने वाली भर्तियों के लिए इंटरव्यू प्रक्रिया खत्म करेगी। लिहाजा आज कैबिनेट की बैठक में सरकार ने इस पर अहम फैसला लिया है। 
सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थ नाथ सिंह ने बताया कि नियुक्ति और कार्मिक विभाग ने समूह ख के नॉन गजेटेड और समूह ग और घ के सभी पदों पर इंटरव्यू खत्म करने का प्रस्ताव तैयार कर वित्त और न्याय विभाग की राय ली थी। इनकी सहमति मिलने के बाद प्रस्ताव राज्य लोक सेवा आयोग को भेजा गया था। इसके बाद इसे कैबिनेट की मंजूरी के लिए रखा गया। इस फैसले के बाद इंटरव्यू के नाम पर की जाने वाली मनमानी पर रोक लग सकेगी।
 
ऊर्जा विभाग में सातवां वेतन आयोग लागू
सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा कि राज्य के ऊर्जा विभाग में सातवें वेतन आयोग को लागू करने के लिए सरकार ने फैसला किया है। इससे राज्य पर 32 करोड़ प्रति माह का बोझ विभाग पर पड़ेगा।
इसके अलावा यूपी कैबिनेट ने फैसला किया कि प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 8.75% रेट पर 15 साल के लिए 1000 करोड़ लोन लिया जाएगा। इससे अफोर्डेबल हाउस बनाए जाएंगे। इससे एक लाख हाउस बनाने का निर्णय लिया गया है।
साथ ही ग़ाज़ियाबाद में कैलाश मानसरोवर भवन का निर्माण का फ़ेसला लिया गया। इसके लिए पहले हज हाउस के पास निर्धारित जमीन को बदल कर इंद्रा नगर इलाके में 42.94 करोड़ की लागत से मानसरोवर भवन का निर्माण कराया जाएगा है।
अलीगढ़ का सीमा विस्तार करते हुए 19 गांवों को शामिल किया गया और कौशाम्बी के नगर पंचायत भरवारी का सीमा विस्तार के प्रस्ताव पर कैबिनेट ने मोहर लगाई है।
 
धान खरीद के लिए खुलेंगे क्रय केंद्र
सरकार ने गेहूं ख़रीद के तर्ज़ पर प्रदेश में धान ख़रीदी जाएगी। इसके लिए प्रदेश में धान ख़रीद के लिए 3000 हज़ार क्रय केन्द्र खोले जाएंगे। 72 घंटे के अंदर किसान को भुगतान किया जाएगा।

कोटखाई गैंगरेप-मर्डर केस में आईजी समेत 8 गिरफ्तार

 शिमला। कोटखाई में छात्रा से गैंगरेप और हत्या मामले में नया मोड़ आ गया है। अब मामले की जांच कर रही सीबीआई ने पहले जांच के लिए गठित हिमाचल पुलिस की एसआईटी से भी पूछताछ की, जिसके बाद इस टीम में शामिल आईजी समेत 8 पुलिस कर्मचारियों को गिरफ्तार कर लिया।
सीबीआई ने कोटखाई हत्याकांड मामले में पुलिस जांच पर सवाल उठाए थे और कोर्ट में अपनी स्टेट्स रिपोर्ट में पुलिस जांच पर आरोप लिखित में दिए थे। कोर्ट ने पुलिस व सीबीआई से जांच को लेकर एफिडेफिट मांगा था। सीबीआई ने अपनी रिपोर्ट दिल्ली हेड क्वाटर्र को भेजी थी, इसी आधार पर सीबीआई ने बीते सप्ताह पूछताछ के लिए डीएसपी और एएसआई को दिल्ली बुलाया था।

सीबीआई ने इसी जांच को आगे बढ़ाते हुए मंगलवार सुबह पुलिस एसआईटी को पूछताछ के लिए शिमला सीबीआई ऑफिस बुलाया था और देर शाम तक पूछताछ करने के बाद आईजी समते 8 पुलिस कर्मचारियों को गिरफ्तार कर लिया गया। जिसमें एसआईटी प्रमुख आईजी जहूर जैदी और डीएसपी ठियोग मनोज जोशी का नाम शामिल है।

 सीबीआई ने एसआईटी को जिला अदालत में पेश किया, जहां से कोर्ट ने सभी को 4 सितंबर तक सीबीआई रिमांड पर भेज दिया। सीबीआई के प्रवक्ता आरके गौड़ का कहना है कि कोटखाई प्रकरण मामले में गिरफ्तार आरोपी नेपाली सूरज की पुलिस लॉकअप में हत्या के मामले में पुलिस के आईजी व डीएसपी समेत 8 पुलिसकर्मियों को गिरफ्तार किया गया है । उधर, सीबीआई एक संदिग्ध को मंगलवार को आईजीएमसी अस्पताल लाई जहां पर उसका मेडिकल करवाया गया है। सूचना है कि इस मामले में अभी तक 23 संदिग्धों के सैंपल लिए गए हैं। जिनको जांच के लिए फॉरेंसिक लैब में भेजा गया है। अगर इन सैंपल का मिलान होता है तो सीबीआई छात्रा के असल कातिलों तक पहुंच सकती है। आपको बता दें कि सीबीआई ने पकड़े गए आरोपियों के नार्को टेस्ट कराने की मांग भी की थी जिसपर 30 अगस्त को लोअर कोर्ट में फैसला आएगा।

गुरमीत सिंह के उत्तराधिकारी को लेकर अटकलों का बाजार गर्म

चंडीगढ़। अदालत से मुजरिम करार दिये गये डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह का उत्तराधिकारी कौन होगा- आज इस बात पर अटकलों का बाजार गर्म रहा तथा उनके बेटे जसमीत, दत्तक पुत्री हनीप्रीत और डेरा की अध्यक्ष विपासना इंसान के नामों की चर्चा चलती रही। हालांकि डेरा सूत्रों ने कहा कि डेरा प्रबंधन की ओर से अबतक ऐसी कोई पहल नहीं की गयी है। फिलहाल डेरा की प्राथमिकता विशेष सीबीआई अदालत द्वारा सोमवार को सुनायी गयी सजा के विरुद्ध उच्च न्यायालय में अपील करना है। पचास वर्षीय गुरमीत राम रहीम सिंह को दो अनुयायियों के साथ बलात्कार करने के जुर्म में 20 साल की सजा सुनायी गयी है।

 

 जसमीत की उम्र 30 साल के आसपास है। उसकी शादी पंजाब के पूर्व कांग्रेस विधायक हरमिंदर सिंह जस्सी की बेटी से हुई है। यदि जसमीत को राम रहीम का उत्तराधिकारी नियुक्त किया जाता है तो यह डेरा की उस परंपरा से हटना होगा जिसमें किसी भी उस व्यक्ति को डेरा प्रमुख नहीं बनाया जाता है जो इस संप्रदाय के वर्तमान प्रमुख के परिवार से संबंधित हो। हनीप्रीत इंसान को भी डेरा के संभावित उत्तराधिकारी के रूप में देखा जा रहा है। वह अपने आप को पापा का एंजेल, परोपकारी, निर्देशक, संपादक और अभिनेत्री के तौर पर पेश करती हैं। विपासना इंसान डेरा सच्चा सौदा की अध्यक्ष हैं और डेरा प्रबंधन में शीर्ष पद पर हैं। डेरा प्रबंधन कृषि, समाज कल्याण, फैक्ट्रियों, शैक्षणिक संस्थानों जैसे कई गतिविधियां संभालता है।

जब डेरा प्रमुख को दोषी ठहराये जाने पर पंचकूला और सिरसा में हिंसा फैली थी तब विपासना ने ही वीडियो संदेश के मार्फत लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की थी। जब विपासना से पूछा गया तब उन्होंने कहा कि नये डेरा प्रमुख नियुक्त करने की कोई पहल नहीं है। उन्होंने कहा, ‘‘उत्तराधिकार की कोई पहल नहीं हो रही। अनुयायियों को गुरुजी पर पूरा विश्वास है।’’

उन्होंने कहा कि फिलहाल डेरा के सभी शिक्षण संस्थान और फैक्ट्रियां बंद कर दी गयी हैं। गुरमीत को 23 सितंबर, 1990 को 23 साल की उम्र में डेरा सच्चा सौदा का तीसरा प्रमुख नियुक्त किया गया था। इस संप्रदाय की स्थापना 29 अप्रैल, 1948 को सिरसा में मस्ताना महाराज ने मानवता के उत्थान एवं सुंदर विश्व के वास्ते लोगों के बीच आध्यात्मिक जागरुकता फैलाने के लिए की थी। मस्ताना महाराज मूलत: बलूचिस्तान के थे। सन् 1960 में मस्ताना महाराज ने डेरा की जिम्मेदारी अपने उत्तराधिकारी शाह सतनाम सिंह को सौंपी थी। डेरा अपना लाखों अनुयायी होने का दावा करता है। वह शिक्षण संस्थान, अस्पताल, कृषि, विनिर्माण गतिविधियां चलाता है। उसके प्रशासन, राजनीति, युवा फेडरेशन, समाज कल्याण, मेडिकल, शैक्षणिक और आईटी जैसी कई शाखाएं हैं।

सीबीआई ने खंगाले बालकृष्ण के दस्तावेज

 देहरादून। आचार्य बालकृष्ण के पासपोर्ट मामले की जांच कर रही सीबीआई की एक टीम सोमवार को हरिद्वार नगर निगम पहुंची। टीम ने मुख्य नगर स्वास्थ्य अधिकारी और एक लिपिक से आचार्य बालकृष्ण के जन्म प्रमाण पत्र मामले में गहन पूछताछ की। प्रमाण पत्र से जुड़े दस्तावेज भी टीम ने खंगाले। 
आचार्य बालकृष्ण ने 1997 में हरिद्वार नगर निगम से जन्म प्रमाण पत्र बनवाया था। प्रमाण पत्र बनवाने में फर्जी दस्तावेजों का इस्तेमाल करने के आरोप में उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था। मामले की जांच सीबीआई कर रही है। वर्ष 2011 में पहली बार सीबीआई की टीम ने हरिद्वार नगर निगम पहुंचकर गहन तफ्तीश की थी। लेकिन आचार्य बालकृष्ण के जन्म प्रमाण पत्र से सम्बंधित दस्तावेज की पूरी फाइल ही गायब पाई गई थी। इसके बाद सीबीआई की टीम ने तत्कालीन निगम अधिकारियों और करीब छह लिपिकों से भी पूछताछ की थी। लेकिन उसके बाद पूरा मामला ठंडे बस्ते में चला गया था।
 

 अब छह वर्ष बाद सोमवार को अचानक सीबीआई के दो अधिकारी नगर निगम हरिद्वार पहुंचे। दोपहर करीब 12 बजे नगर आयुक्त कार्यालय में पहुंचकर मुख्य नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रवीण कुमार व वर्तमान में जन्म मृत्यु प्रमाण पत्र कार्यालय में कार्यरत लिपिक आदेश यादव से पूछताछ की। सीबीआई ने करीब एक घंटे तक दोनों से उक्त प्रकरण में पूछताछ की। कुछ दस्तावेजों की जानकारी भी जुटाई। पड़ताल पूरी करने के बाद टीम वापस लौट गई। मुख्य नगर स्वास्थ्य अधिकारी हरिद्वार डॉ. प्रवीण कुमार का कहना है कि सोमवार को सीबीआई टीम के दो सदस्य नगर निगम पहुंचे थे। उन्होंने आचार्य बालकृष्ण के जन्मप्रमाण पत्र सम्बंधित पत्रावली की जानकारी मांगी थी। अधिकारियों ने यह भी पूछा की दस्तावेज मिले या नहीं। हमने बताया कि उक्त पत्रावली नहीं मिली है।

डीजीपी ने दी खिलाडिय़ों को बधाई

 देहरादून । अनिल के रतूड़ी, पुलिस महानिदेशक उत्तराखण्ड से विगत दिनों शूटिंग प्रतियोगिता में पदक प्राप्त करने वाली उत्तराखण्ड पुलिस की टीम ने भेंट की। रतूड़ी ने खिलाडिय़ों को बधाई देते हुये आगामी प्रतियोगिताओं में इसी प्रकार अच्छे प्रर्दशन करने की शुभकामनायें दी। उक्त अवसर पर अशोक कुमार, सचिव पुलिस स्पोर्टस कण्ट्रोल अथॉरिटी एवं नारायण सिंह राणा, अध्यक्ष उत्तराखण्ड राज्य राईफल संघ उपस्थित रहे। अशोक कुमार ने बताया कि शूटिंग टीम को सघन अभ्यास कराने व आधुनिक उपकरण उपलब्ध कराकर अन्तर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं जैसे कामनवेल्थ गेम्स आदि के लिये खिलाडिय़ों को तैयार करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

 उल्लेखनीय है कि जसपाल राणा शूटिंग रेंज पौंधा प्रेमनगर देहरादून में गत 17 से 24 अगस्त तक आयोजित हुई 16वीं उत्तराखण्ड राज्य स्तरीय ओपन शूटिंग चौम्पियनशिप 2017 में राज्य की विभिन्न शूटिंग क्लबों/स्कूलों की टीमों द्वारा प्रतिभाग किया जिसमें उत्तराखण्ड पुलिस शूटिंग टीम द्वारा प्रथम स्थान अर्जित कर ओवरऑल चैम्पियनशिप ट्राफी जीत कर उक्त प्रतियोगिता में उत्तराखण्ड पुलिस शूटिंग टीम द्वारा 24 गोल्ड, 16 सिल्वर, 07 ब्रान्ज सहित कुल 47 मैडल जीते।

अब सभी जगह दौडग़े ई रिक्शा

देहरादून । पूर्व में परिवहन संभागीय विभाग देहरादून द्वारा ई रिक्शा के संचालन के आदेश के विरोध में आज ई रिक्शा एसोसिएशन उत्तराखंड के अध्यक्ष अनुज जैन, ई-रिक्शा चालक संघ के उपाध्यक्ष मारूफ राव एंव नवीन तेश्वर प्रधान बंजरगी ई रिक्शा यूनियन हरिद्वार के नेतृत्व में देहरादून, हरिद्वार एंव रूडक़ी के सभी डीलरों तथा चालको ने  संभागीय परिवहन अधिकारी माननीय सुधांशु गर्ग से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने 25 अगस्त को जारी आदेश के निरस्त करने की मांग करते हुए अपना पक्ष रखा। संघ से जुड़े पदाधिकारियों ने कहा कि यह भारत सरकार द्वारा गरीब एंव बेरोजगारो के लिए स्व रोजगार योजना के तहत चलाया गया एक अभियान है।  इसके तहत केन्द्र द्वारा कोई भी रूट व परमिट की बाध्यता नहीं है।
 
  उन्होंने यह भी कहा कि विगत दिनों में आटीओ विभाग द्वारा ई रिक्शा के पंजीकरण पर अस्थाई रोक लगा दी गई थी तत्पश्चात 25 अगस्त को उनके द्वारा रूट निर्धारित करते हुए वाहनों के पंजीकरण के सबंध में आदेश पारित किए गए थे। इन आदेशो के तहत ई रिक्शा चालकों के लिए रूट निर्धारित किए गए, जो ई रिक्शा चालको पर पूरी तरह से असर डाल रहे थे। जिसे देखते हुए ई रिक्शा एसोसिएशन द्वारा इसका विरोध जताया गया। तत्पश्चात  संभागीय विभाग ने अपने पत्रांक संख्या 3523/आरटीए/दस-298/2017 के तहत पूर्व की  भांति सभी मार्गो पर ई रिक्शा को संचालित करने के निर्देश जारी किए हैं। इस दौरान एसोसिएशन के उपाध्यक्ष विश्वतोश सिंह, उपाध्यक्ष चन्दर सिंह नेगी, सुरेन्द्र तिवारी, सहसचिव मदन जैन, रोहित चुग, दीपक रावत, डा गोविन्द सिंह, गुरदीप सिंह, मौहम्मद खालिद समेत कई लोग मौजूद थे।

कब्जाधारकों के पुनर्वासन एवं विस्थापन को लेकर मंत्री ने ली बैठक

 देहरादून। प्रदेश के वन एवं पर्यावरण मंत्री हरक सिंह रावत ने राजपुर रोड स्थित वन मुख्यालय के मंथन सभागार में वन विभाग, नेशनल कार्बेट पार्क, जनपद पौड़ी के जिलाधिकारी एवं उत्तर प्रदेश के सिंचाई विभाग के अधिकारियों के साथ पौडी जनपद के कालागढ में नेशनल कार्बेट पार्क की भूमि पर कब्जा किये हुए कब्जाधारकों के पुनर्वासन एवं विस्थापन के सम्बन्ध में बैठक कर आवश्यक दिशा- निर्देश दिये। रावत ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के कालागढ क्षेत्रान्तर्गत नेशनल कार्बेट पार्क की भूमि से कब्जाधारकों को हटाये जाने सम्बन्धी आदेश के बाद पद्रेश सरकार ने उत्तराखण्ड पुनर्वास नीति- 2007 के तहत वहां के कब्जाधारकों के पुनवार्सन का निर्णय लिया था। उन्होंने वन विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि कालागढ कार्बेट नेशनल पार्क के कब्जाधारकों में से जिन कब्जाधारकों ने उत्तराखण्ड पुनर्वास नीति- 2007 के तहत एफिडेविट दे दिया है उनके पुनर्वास की प्रक्रिया आरम्भ कर दी जाय। 

 उन्होंने कहा कि जिन कब्जाधारकों द्वारा एफिडेविड उपलब्ध करा दिये गये हैं उनकी सूची राजस्व विभाग को भी उपलब्ध करा दी जाय ताकि सम्बन्धित अधिकारियों द्वारा आवश्यक कार्यवाही की जा सके। श्री रावत ने उत्तर प्रदेश सिचांई विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि उनके द्वारा कालागढ नेशनल पार्क क्षेत्रान्तर्गत जो अवैध रुप से तार बाढ की गयी है वे उसे शीघ्र ही हटाने का कार्य करें ताकि उस ़क्षेत्र में वन्य जीवों की आवाजाही प्रभावित न हो। डायरेक्टर कार्बेट नेशनल पार्क सुरेन्द्र मेहरा ने बताया कि वन विभाग द्वारा सन् 1968 में कालागढ में नेशनल कार्बेट पार्क की भूमि उत्तर प्रदेश सिंचाई विभाग को डैम बनाये जाने हेतु इस शर्त पर दी गयी थी कि डैम बन जाने के बाद शेष भूमि पुन: नेशनल कार्बेट पार्क को वापस कर दी जायेगी किन्तु उत्तर प्रदेश के सिंचाइ विभाग द्वारा कार्बेट नेशनल पार्क को शेष भूमि वापस नहीं की गयी और उस शेष भूमि पर अन्य लोगों द्वारा कब्जा कर लिया गया। मामला सुप्रीम कोर्ट गया जिस पर सुप्रीम कोर्ट ने कब्जाधारकों को नेशनल पार्क की भूमि से हटाये जाने के आदेश दिये। इस आदेश का पालन करवाने की जिम्मेदारी एनजीटी को दी गयी। मेहरा ने बताया कि कालागढ क्षेत्रान्तर्गत कार्बेट नेशनल पार्क में 964 कब्जाधारक हैं जिनमें से 401 कब्जाधारकों द्वारा उत्तराखण्ड पुनर्वास नीति- 2007 के तहत एफिडेविड उपलब्ध करा दिये गये हैं। जिनमें से 540 कब्जाधारकों द्वारा एफिडेविड उपलब्ध नहीं कराये गये हैं जबकि शेष कब्जाधारकों ने हाईकोर्ट से स्टे लिया हुआ है। बैठक में मुख्य सचिव एस रामास्वामी, प्रमुख वन संरक्षक आरके महाजन, मुख्य वन जीव प्रतिपालक डीबीएस खाती, जिलाधिकारी पौडी सुशील कुमार, उत्तर प्रदेश सिंचाई विभाग से एके राणा व शेर सिहं आदि उपस्थित थे।

राज्य सरकार पर भडक़ी आशा कार्यकत्रियां, धरना-प्रदर्शन जारी

 

देहरादून। उत्तराखंड आशा स्वास्थ्य कार्यकत्री यूनियन ने अपनी समस्याओं के समाधान के लिए प्रदेश सरकार के खिलाफ चौथे दिन भी गरजते हुए प्रदर्शन किया और राज्य सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए धरना भी दिया। उन्होंने कहा कि कहा कि शीइा्र ही समस्याओं का समााान नहीं किया गया तो आंदोलन को तेज किया जायेगा। 

 उनका कहना है कि लगातार उनके हितों की अनदेखी की जा रही है जिसे किसी भी दशा में बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। जल्द ही समस्याओं का हल नहीं किया गया तो सचिवालय कूच किया जायेगा। आशा स्वास्थ्य कार्यकत्र्रियां धरना स्थल पर प्रांतीय अध्यक्ष शिवा दुबे के नेतृत्व में इकटठा हुई और वहां पर अपनी समस्याओं के समाधान के लिए प्रदेश सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए धरना दिया और कहा कि शीइा्र ही समस्याओं का समाधान नहीं किया गया तो आंदोलन को तेज किया जायेगा। इस अवसर पर वक्ताओं ने कहा कि अन्य स्कीम वर्करों की भांति आशाओं को भी न्यूनतम वेतन व मानदेय दिया जाना चाहिए, लेकिन अभी तक सरकार की ओर से किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं की गई है।

वक्ताओं का कहना है कि सन 2012-13, 2013-14, 2015-16, 2016-17 चारों की पांच हजार रूपये प्रति वर्ष प्रोत्साहन राशि को एक मुश्त भुगतान अविलंब किया जाये। उनका कहना है कि सरकार अभी तक इस दिशा में गंभीर नहीं दिखाई दे रही है। उनका कहना है कि आशा कार्यकत्र्रियों को बोनस का भुगतान तत्काल प्रभाव से किया जाये और 45वें श्रम सम्मेलन के फैसले के अनुसार, आशा कार्यकत्र्रियों को कर्मकार घोषित किया और वर्तमान समय में बढती हुई महंगाई को देखते उनके भत्तों में महंगाई के अनुरूप बढोत्तरी की जाये। उन्होंने कहा कि पूर्व में मुख्यमंत्री, स्वास्थ्य मंत्री एवं स्वास्थ्य महानिदेशक को अवगत कराये जाने के बाद भी आज तक समस्याओं का समाधान नहीं हो पाया है जिससे उनमें रोष बना हुआ है। उनका कहना है कि उनके हितों के लिए किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है। धरने पर शिवा दूबे के साथ सुनीता चौहान, बीरा भंडारी, मंजु ठाकुर, नीरू जैन, हन्सी देवी, शिवदेई नैथानी, हेमलता, कलावती, कलावती चंदोला, अनिता अग्रवाल आदि मुख्य रूप से मौजूद रहीं।

स्वच्छता सर्वेक्षण में प्रथम तीन स्थान पाने वाले नगरनिकाय होंगे पुरस्कृत: मुख्यमंत्री

 देहरादून। स्वच्छ भारत मिशन कार्यक्रम में स्वच्छता सर्वेक्षण में प्रथम तीन स्थान पाने वाले नगर निगम/नगर पालिका को क्रमश: 75, 50 एवं 25 लाख रूपये का पुरस्कार दिया जाएगा। यह घोषणा एक स्थानीय होटल में स्वच्छ भारत मिशन के अन्तर्गत नगरीय ठोस अपशिष्ट प्रबन्धन तकनीकी एवं स्वच्छता सर्वेक्षण 2018 विषय पर दो दिवसीय राज्य स्तरीय कार्याशाला में मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने की।

 मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि यह कार्यशाला उत्तराखण्ड में स्वच्छता कार्यक्रम के अभियान को मजबूती देगी। यह हमारे लक्ष्यों को पूर्ण करने में मदद्गार होगी। उन्होंने कहा कि स्वच्छता कार्यक्रम के लिए मानसिंकता में बदलाव की आवश्यकता, आम व्यक्ति की जागरूकता एवं सहभागिता से यह लक्ष्य आसानी से प्रान्त किया जा सकता है। ठोस अपशिष्ठ एवं प्रबन्धन की दिशा में आधुनिक तकनीक और शोध की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि तकनीकी के माध्यम से हम बडा से बडा लक्ष्य प्रान्त कर सकते है। सरकारी स्तर पर स्वच्छता कार्यक्रम की महत्ता को दर्शाते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वच्छता के प्रयासों को कर्मचारियों के वार्षिक प्रवृष्टि में अंकित किया जायेगा।

नगर विकास मंत्री मदन कौशिक ने कहा कि स्वच्छता कार्यक्रम में नवीन तकनीकी के प्रयोग हेतु स्थानीय निकायों को अपनी आमदनी बढाने के प्रयासों पर बल देना होगा। शहरी विकास मंत्री ने कहा कि मार्च 2018 तक शत-प्रतिशत शौचायल ओडीएफ, डोर-टू-डोर कलेक्शन का लक्ष्य प्रान्त कर लिया जायेगा। इसके अतिरिक्त शत-प्रतिशत एलईडी का लक्ष्य प्रान्त किया जायेगा। उन्होंने कहा कि नगर निगम कि कार्य संस्कृति से अन्य नगर पालिका प्रभावित होती है। इसलिए नगर निगम की जिम्मदारी स्वच्छता के सन्दर्भ में अधिक है। सचिव शहरी विकास राधिका झा ने कहा कि प्रदेश सरकार स्वच्छता के कार्यक्रम को लेकर संवेदनशील है। जिलाधिकारियों को सान्ताहिक नगर आयुक्त एवं अधिशासी अधिकारियों, नगर निगम के साथ समीक्षा बैठक करने के निर्देश दिये गये है। राज्य स्तरीय कार्यशाला में स्वच्छता विषय पर शपथ ली गई एवं स्वच्छता कार्यक्रम की एक मार्गदर्शिका पुस्तिका का भी विमोचन किया गया।

कार्यक्रम के दौरान स्वच्छता विषय के इनोवेटिव टेक््रोलॉजी के प्रयोग सम्बन्धी देशभर के विशेषज्ञों द्वारा आयोजित प्रदर्शनी लगायी गयी है। 
कार्यशाला में सचिव भारत सरकार, निदेशक स्वच्छ भारत मिशन वी$के$जिन्दल, निदेशक शहरी विकास विनोद सुमन, स्थानीय निकाय के मेयर, नगर आयुक्त, अध्यक्ष, अधिशासी अधिकारी एवं सेनेटरी इस्पेक्टर थे।

दस दिवसीय पुस्तक मेले का शुभारम्भ

 

 देहरादून। राज्यपाल डॉ कृष्ण कांत पाल ने कहा कि अच्छी किताबें, चरित्र निर्माण व व्यक्तित्व विकास में सहायक होती हैं। ज्ञान व सूचना के अंतर को समझना आवश्यक है। इंटरनेट व सोशल मीडिया से केवल सूचना मिलती है जबकि किताबों से ज्ञान मिलता है। राज्यपाल, देहरादून के परेड़ ग्राउन्ड में आयोजित पुस्तक मेले के शुभारम्भ अवसर पर बतौर मुख्य अतिथि सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि हिंदी साहित्य को वैश्विक पहचान दिलाने के लिए इसके अंग्रेजी व अन्य भाषाओं में अनुवाद पर विशेष ध्यान देना होगा। 

 राज्यपाल ने कहा कि आईटी व इंटरनेट के दौर में हर तरफ से तमाम तरह की सूचनाएं मिल रही हैं। परंतु बहुत सी सूचनाएं प्रामणिक नहीं होती है। इस तरह की भ्रामक सूचनाओं से बचना हमारे लिए बड़ी चुनौति है। किताबें इसमें हमारे लिए सहायक हो सकती हैं। राज्यपाल ने कहा कि ज्ञान किताबों से ही मिलता है। किताबें न केवल हमें ज्ञान प्रदान करती हैं बल्कि इनसे अच्छे विचार व अच्छी आदतें बनती हैंं। जिससे चरित्र निर्माण व व्यक्तित्व विकास होता है। राज्यपाल ने कहा कि इंटरनेट के युग में बच्चों को भ्रमक जानकारियों से बचाते हुए अच्छी किताबों से जोडऩे का दायित्व अध्यापकों पर है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘‘मन की बात’’ पुस्तक रूप में उपलब्ध है। यह बच्चों व युवाओं के लिए प्रेरणास्पद हो सकती है। राज्यपाल ने उच्च शिक्षा मंत्री डॉ$ धन सिंह रावत को देहरादून में स्तरीय पुस्तक मेले के आयोजन के लिए बधाई दी। राज्यपाल ने कहा कि हमारे देश में उच्च स्तरीय हिंदी साहित्य का सृजन हुआ है। परंतु इसके अनुरूप विश्व स्तर पर इसे मान्यता नहीं मिल पाती है। हिंदी साहित्य को वैश्विक पहचान मिले, इसके लिए कि हिंदी साहित्य का अंग्रेजी व अन्य विदेशी भाषाओं में अनुवाद बहुत जरूरी है। राज्यपाल ने रवींद्र नाथ टैगोर का उदाहरण देते हुए कहा कि उनका काव्य संग्रह गीतांजलि मूल रूप से बंगाली भाषा में था। उन्होंने इंग्लैंड की यात्रा के दौरान इस काव्य संग्रह का अंगे्रजी अनुवाद किया। जब वे इंग्लैंड पहुंचे तो उनके एक अंगे्रज मित्र ने इसे पढ़ा और इसका अंग्रेजी अनुवाद प्रकाशित कराया। इसके अगले वर्ष ही रवींद्र नाथ टैगोर को गीतांजलि के लिए नोबेल पुरस्कार मिला। 

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि पुस्तकों के बगैर जीवन अधूरा है। ज्ञान जितना बांटो, उतना ही बढ़ता है। छात्र, पुस्तकों से दोस्ती करें। इनकी दोस्ती जीवन में सदैव काम आती है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी किताबें पढऩे पर बहुत बल देते हैं। वे कहते हैं कुछ न कुछ करते रहना चाहिए। अगर करने को कुछ भी नहीं है तो पुस्तकें पढ़ें। हमें संकल्प लेना चाहिए कि अपना कुछ समय किताबें पढऩे के लिए अवश्य निर्धारित करें। पुस्तकें मात्र छपी सामग्री ही नहीं है बल्कि यह ज्ञान का स्रोत है। यदि हम पुस्तकों का महत्व समझें तो यह हमारे जीवन में सुख का आधार है। उन्होंने छात्रों से कहा कि यदि उन्हें दोस्ती करनी है तो पुस्तकों से करें। पुस्तकें ऐसी मित्र है जो कभी साथ नहीं छोड़ती। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी भी पढऩे की आदत पर विशेष बल देते हैं। आज आई टी, ई-लाइब्रेरी, डिजिटल बुक्स के लोकप्रिय होने से तकनीकी क्षेत्र में संक्रमण काल चल रहा है। हमारे समक्ष चुनौती है कि हमें डिजिटल भी होना है तथा पुस्तकों का महत्व बनाए रखना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हम संकल्प ले सकते हैं कि एक घंटा धार्मिक, सांस्तिक, तकनीकी, विज्ञान, ललित कला आदि से संबंधित पुस्तकें पढ़ें। उन्होंने पंचायत स्तर पर पुस्तक मेले आयोजित करने की बात कही।

उच्च शिक्षा मंत्री डॉ$ धन सिंह रावत ने कहा कि ‘‘पढ़ेगा उत्तराखण्ड तो बढ़ेगा उत्तराखण्ड’’ थीम पर दिनंाक 28 अगस्त से 5 सितम्बर तक नेशनल बुक ट्रस्ट के सौजन्य से देहरादून के परेड़ ग्राउन्ड में पुस्तक मेले का आयोजन किया जा रहा है। इसमें छात्रों की लेखन प्रतियोगिता, बौद्घिक कार्यक्रम, साहित्यकारों व लेखकों की परिचर्चाएं भी आयोजित की जाएंगी। पुस्तक मेले में देश भर के 111 प्रकाशक प्रतिभाग कर रहे हैं। पुस्तकें खरीदने पर छात्रों को 20 प्रतिशत जबकि अन्य लोगों को 10 प्रतिशत छूट दी जा रही है। डॉ$ रावत ने बताया कि नेशनल बुक ट्रस्ट से उाराखण्ड में पंचायतों का पुस्तक मेला आयोजित किए जाने पर भी सहमति मिली है। अब उच्च शिक्षा विभाग के प्रत्येक कार्यक्रम में फूलों की जगह अच्छी किताबें भेंट की जाएंगी। इससे पूर्व राज्यपाल डॉ$ कृष्ण कंात पाल, मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, उच्च शिक्षा मंत्री डॉ$ धन सिंह रावत ने दीप प्रज्वलित कर पुस्तक मेले का विधिवत शुभारम्भ किया। राज्यपाल ने मेले में विभिन्न प्रकाशकों के स्टॉलों पर जाकर पुस्तकों का अवलोकन भी किया। कार्यक्रम में नेशनल बुक ट्रस्ट के अध्यक्ष बलदेव भाई शर्मा, विधायक खजानदास, मेयर विनोद चमोली, पद्मश्री लीलाधर जगूड़ी सहित अन्य गणमान्य उपस्थित थे।

दुष्कर्मी बाबा को बीस साल का सश्रम कारावास व 30 लाख जुर्माना

  चंडीगढ़। सिरसा स्थित डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम रोया, गिड़गिड़ाया, लेकिन कोर्ट ने उसके जघन्य अपराध को देखते हुए रहम नहीं किया। कोर्ट ने सोमवार को दो साध्वियों के यौन शोषण के दोषी सिद्ध हो चुके राम रहीम को दोनों केसों में दस-दस साल के सश्रम कारावास की सजा सुनाई। दोनों सजाएं एक साथ चलेंगी। उस पर 15-15 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है।

 इस राशि में से 14-14 लाख दोनों पीडि़ताओं को मिलेंगे। पंचकूला में सीबीआइ की स्पेशल कोर्ट ने 25 अगस्त को राम रहीम को भारतीय दंड संहिता (आइपीसी) की तीन धाराओं 376 (दुष्कर्म), 506 (डराने-धमकाने) और 509 (महिला की अस्मत से खिलवाड़) के तहत दोषी ठहराया था। वहीं बताया जा रहा है कि डेरा प्रमुख के जेल जाने के बाद राम रहीम का बेटा जमसीत इन्सां डेरे की कमान संभाल सकता है। डेरा प्रमुख की पत्नी ने जममीत इन्सां को डेरा सच्चा सौदा का प्रतिनिधि नियुक्त करने की इच्छा जाहिर की है। डेरा सच्चा सौदा की ओर से मंगलवार को इसपर फैसला लिये जाने की संभावना है।

एसजीआरआर कॉलेज में एनएसयूआई का क्लीन स्वीप

 देहरादून। एमकेपी के बाद एसजीआरआर पीजी कॉलेज के छात्रसंघ चुनाव में भी भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन(एनएसयूआई) ने अपना परचम लहराया है। अध्यक्ष पद पर एनएसयूआई के शुभम रावत ने एबीवीपी के प्रमोद को पराजित किया। जबकि महासचिव पद पर आर्यन के आशीष भट्ट को हराकर एनएसयूआई के अजय नेगी विजेता रहे। 

 बुधवार को एसजीआरआर पीजी कॉलेज में छात्रसंघ चुनाव के लिए सुबह 10 बजे से एक बजे तक मतदान हुआ। सुबह बारिश के चलते मतदान थोड़ा हल्का रहा, लेकिन करीब 11:30 बजे बाद बारिश रुकते ही मतदाताओं की संख्या बढऩे लगी। एक बजे तक चली मतदान प्रक्रिया शांतिपूर्वक संपन्न हुई। छात्रसंघ चुनाव में 16 प्रत्याशी अपना भाग्य आजमा रहे थे। इस साल कॉलेज में 45.24 प्रतिशत मतदान हुआ।
ढाई बजे से मतगणना शुरू हुई और साढ़े तीन बजे तक परिणाम घोषित कर दिए गए। चुनाव अधिकारी मेजर प्रदीप सिंह ने विजेता प्रत्याशियों की घोषणा की। सभी पदों पर एनएसयूआई ने क्लीन स्वीप करते हुए छात्रसंघ पर कब्जा जमाया। परिणाम घोषित होते ही सभी नवनिर्वाचित पदाधिकारियों को शपथ दिलाई गई और उन्हें प्रमाण पत्र भी सौंपे गए। चुनाव नतीजे घोषित होते ही विजेता प्रत्याशियों ने समर्थकों ने जश्न मनाया।

शराब की दुकान खोले जाने के विरोध में किया प्रदर्शन

देहरादून। रायपुर मुख्य बाजार एवं आवासीय क्षेत्र में अंग्रेजी व शराब की दुकान खोले जाने के विरोध में क्षेत्रवासियों ने जिलाधिकारी कार्यालय पर जमकर प्रदर्शन किया। क्षेत्रावासियों ने कहा कि यहां पर किसी भी दशा में शराब की दुकान नहीं खुलने दी जायेगी और तत्काल प्रभाव से यहां से इस दुकान को शिफ्ट किया जाये, अन्यथा आंदोलन को तेज किया जायेगा। इस अवसर पर जिलाधिकारी के जरिये मुख्यमंत्री को ज्ञापन प्रेषित किया।
इस अवसर पर वक्ताओं ने कहा कि यहां पर ओएलएफ, ओएफडी, सीक्यूएआई, आईआरडीई, तथा केन्द्रीय विद्य़ालय, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, महाराणा प्रताप

 स्पोर्टस कालेज, जौलीग्रांट एयरपोर्ट का मुख्य मार्ग है। स्कूल, कालेज एवं अन्य शैक्षणिक संस्थानों के साथ ही मंदिर है और जो शराब की दुकान यहां पर खोली जा रही है उसके सामने ही मंदिर है और यहां पर किसी भी दशा में अंग्रेजी व देशी शराब की दुकान नहीं खोलने दिया जायेगा और इसका पूर्ण रूप से विरोध किया जायेगा। उनका कहना है कि यहां पर आवासीय क्षेत्र है और लगातार प्रशासन को अवगत कराये जाने के बाद भी आज तक इस ओर किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है और इस क्षेत्र में किसी भी स्थान पर शराब की दुकान नहीे खुलने दी जायेगी। इस दुकान को अन्यत्र शिफ्ट किया जाना चाहिए।

उनका कहना है कि लगातार शराब की दुकान खोलने का हाईकोर्ट ने जिस प्रकार से हाईवे से शराब की दुकाने हटाने के निर्देश दिये गये है और अब शराब माफिया आवासीय क्षेत्रों की ओर रूख कर रहे है जो पूर्ण रूप से गलत है। उनका कहना है कि यहां ही नहीं अन्य आवासीय क्षेत्रों में भी शराब की दुकाने खोलने का प्रयास किया जा रहा है, जो पूर्ण रूप से गलत है। इसका लगातार विरोध किया जायेगा। उनका कहना है कि अंग्रेजी व देशी शराब की दुकानों के होने के कारण मार्ग चौबीस घंटे अवरूद्घ रहता है व शराबियों द्वारा रायपुर के सामाजिक माहौल को ध्वस्त कर महिलाओं व लडकियों से अभद्रता की जाती है, पूर्व में जिला प्रशासन की ओर से कई बार आश्वासन दिये गये लेकिन आज तक किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं की गई है और जब तक अंग्रेजी व देशी शराब की दुकानें शिफ्ट नहीं की जाती तब तक आंदोलन को जारी रखा जायेगा। इस अवसर पर एनके गुसांई, अजय डोभाल, अंजली उनियाल, प्रमिला शाह, मंजू पाल, अनिल क्षेत्री, अमित वर्मा, महेश रतूडी सहित अनेक क्षेत्रवासी मौजूद थे।

सीएम ने किया सूचना निदर्शनी का विमोचन

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से बुधवार को सचिवालय में सूचना एवं लोक संपर्क विभाग द्वारा प्रकाशित ’सूचना निदर्शनी’ का विमोचन किया।
 
 इस अवसर पर में कैबिनेट मंत्री प्रकाश पंत, मदन कौशिक, सतपाल महाराज, यशपाल आर्य, अरविन्द पाण्डे, सुबोध उनियाल, मुख्य सचिव एस$रामास्वामी, सचिव सूचना चन्द्रशेखर भट्ट व महानिदेशक सूचना पंकज कुमार पाण्डेय उपस्थित रहे। 

राज्य कैबिनेट ने सडक़ सुरक्षा कोष गठन को दी मंजूरी

देहरादून। राज्य कैबिनेट की बैठक में कई अहम फैसले लिए गए। अब सप्ताह में सभी मंत्री विधानसभा में बुधवार और गुरूवार को दो दिन बैठेंगे। बैठक में उत्तराखंड सडक़ सुरक्षा कोष का गठन और नियमावली को मंजूरी दी गई। परिवाहन और पुलिस से वसूल की गई जुर्माना राशि के 25-25 फीसद को कोष में जमा किया जाएगा।  सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत की अध्यक्षता में आयोजित राज्य कैबिनेट की बैठक में मंत्रियों से मिलने के लिए दिन तय किये गए हैं। सभी मंत्री हफ्ते में 2 दिन बुधवार और बृहस्पतिवार को 12 बजे बाद  विधान सभा में बैठेंगे। प्रेस ब्रीफिंग करते हुए कैबिनेट द्वारा लिए गए फैसलों की जानकारी देते हुए शासकीय प्रवक्ता मदन कौशिक ने बताया कि दुर्घटनाओं को रोकने के लिए सडक़ सुरक्षा कोष बनेगा, जो भी काम होगा वो इस कोष से खर्च होगा। मुख्यसचिव की अध्यक्षता में कमेटी बनेगी। असम रायफल पूर्व सैनिक कल्याण को रायपुर में भूमि आवंटित की गई।
 
असम राइफल को दी जमीन के बदले जो पैसा मिलना था उसे कैबिनेट ने माफ किया है। सराय एक्ट में बदलाव किया गया है। पर्यटन से सम्बंधित नए होटल उत्तराखंड टूरिज्म डेवलमेंट बोर्ड में रजिस्ट्रेशन कराएंगे। सराय एक्ट में जो रजिस्ट्रेशन हैं, वो भी इसमें रजिस्टर्ड हो जाएंगे। वाणिज्य कर विभाग का नाम बदलकर राज्य कर विभाग किया गया है। मनोरंजन कर विभाग राज्य कर विभाग में समायोजित किया गया है। मिड डे मील योजना में 4 जिले में देहरादून, हरिद्वार, नैनीताल, उधमसिंह नगर 37 सौ स्कूल 3 लाख 60 हजार बच्चों को भोजन अक्षय पत्र फउंडेशन के जरिये होगा। हर जिले में एक जगह ही बनेगा भोजन। यहीं से 40 किलोमीटर के दायरे में स्थित स्कूलों में जायेगा भोजन। पर्यटन की गतिविधियों को नियंत्रित किया जाएगा। ऋषिकेश से कौडियाला तक सडक़ के दोनों ओर 1 किलोमीटर का क्षेत्र हरिद्वार विकास प्राधिकरण में सम्मिलित किया जाएगा। राफ्टिंग, कैम्पिंग जोन में नियम का पालन हो इसके लिए तैयारी है। एनजीटी के नियम भी पालन करने के लिए सरकार ने की तैयारी।
 

 

स्कूल प्रबन्धक पर लगाया अश्लील हरकत का आरोप

देहरादून । देहरादून के नेहरूग्राम स्थित द इंडिया एकेडमी स्कूल के प्रबन्धक सुरेंद्र सिंह खंडूरी पर कक्षा छ: की तीन छात्राओं ने अश्लील हरकत करने का आरोप लगाया है। देहरादून के थाना रायपुर द स्थित इंडियन एकेडमी जिसके प्रबंधक सुरेंद्र खंडूरी पर छात्राओं के साथ अश्लील हरकत करने का आरोप है।
देहरादून के थाना रायपुर स्थित द इंडियन एकेडमी के प्रबंधक सुरेंद्र खंडूरी पर स्कूल में पढऩे वाली कक्षा छरू की तीन छात्राओं ने अश्लील हरकत करने का आरोप लगाया है।
 
 छात्राओं का आरोप है कि प्रबंधक सुरेंद्र खंडूरी उन्हें अपने कार्यालय में बेवजह बुलाता था और किसी न किसी बहाने से उनके साथ अश्लील हरकत करता था। खबर लिखें जाने तक स्कूल में छात्राओं के परिजन के साथ ही पुलिस भी मौजूद है। स्कूल प्रशासन मामले को दबाने की हर संभव प्रयास कर रहा है। अभी तक आरोपी प्रबंधक सुरेंद्र खंडूरी के खिलाफ मुकदमा दर्ज नहीं किया गया है। थाना रायपुर पुलिस मौके पर आरोपी प्रबंधक, परिजनों से वार्ता कर रही है।

रोडवेज और ट्रक की भिड़ंत में आठ घायल-

देहरादून । देहरादून के डोईवाला थाना क्षेत्र में लालतप्पड़ के पास रोडवेज की बस और ट्रक की आमने-सामने की भिड़ंत में आठ यात्री घायल हो गए।
जानकारी के अनुसार बुधवार सुबह 7: 30 थाना डोईवाला को सूचना मिली कि हाइवे रोड नियर डीलाइट होटल, लालतप्पड़ के पास एक रोडवेज की बस और ट्रक की आमने सामने टक्कर हो गयी है। उक्त सूचना पर चौकी प्रभारी लालतप्पड़ मय पुलिस बल के तत्काल मौके पर पहुँचे। उक्त दुर्घटना में रोडवेज बस के ड्राइवर को ज्यादा चोटें आई है, अन्य 08 सवारीयो को हल्की चोटें आयी थी। पुलिस द्वारा बस ड्राइवर को उपचार हेतु तत्काल जोलीग्रांट अस्पताल तथा शेष सवारीयो को डोईवाला चिकित्सालय ले जाया गया। दुर्घटना में अभी तक किसी प्रकार की कोई जनहानि नही हुई है।
 
 मौके से ट्रक व बस को हटाकर यातायात को सुचारू किया गया। वहीं दूसरी ओर थाना मसूरी क्षेत्र में सुबह तीन बजे थाना मसूरी को एक डैथ मेमो प्राप्त हुआ, जिसमें बताया गया कि कम्युनिटी हॉस्पिटल मसूरी में एक व्यक्ति की दौराने उपचार मृत्यु हो गई है। सूचना पर पुलिस बल मौके पर पहुंचा। जानकारी करने पर ज्ञात हुआ की मृतक नवनीत सिंह सैनी पुत्र बृजेश सैनी निवासी विकासपुरी,बुडेलागांव, नई दिल्ली उम्र 24 वर्ष, दिल्ली से अपने साथी सचिन सैनी पुत्र केदार सिंह सैनी निवासी 637ध्2 पटेलनगर, गुडग़ांव (चचेरा भाई) तथा विशाल चौहान पुत्र जयदेव सिंह निवासी वजीरपुर गुडग़ांव के साथ धनौल्टी घूमने आया था। रात्रि में अचानक तबियत खराब होने के कारण 108 के माध्यम से मसूरी उपचार हेतु लाया गया। जहाँ दौराने उपचार उसकी मृत्यु हो गई। पूछताछ उसके दोस्तों द्वारा बताया गया कि मृतक को पूर्व में किडनी और लीवर में संक्रमण की परेशानी थी। आज उसके द्वारा अपने दोस्तों के साथ ज्यादा मात्रा में शराब का सेवन किया गया था, जिसके पश्चात उसकी तबीयत खराब हो गयी। पुलिस द्वारा मृतक के परिजनों को सूचित किया गया है। परिजनों के आने के पश्चात पंचायतनामे व पोस्टमार्टम की कार्यवाही की जाएगी।

बस्तियों में चल रहा देह व्यापार का धंधा

 देहरादून । महानगर की बस्तियों से लेकर हाई प्रोफाइल कालोनियों तक में देह व्यापार का धंधा चल रहा है। देह व्यापार के धंधे में लगी महिलाएं दूरदराज के शहरों से भी कॉल गर्ल बुलाती हैं। हालांकि हाल में ही पुलिस ने दो कालोनियों में सेक्स रैकेट चलाने वाले दो गिरोह की धरपकड़ की है, लेकिन अभी ऐसी तमाम कालोनियां हैं जहां यह धंधा फल फूल रहा है।गौरतलब है कि कल पुलिस ने कई  कालोनी में सेक्स रैकेट चलाने वाले गिरोह को पकड़ा था। इससे पहले पटेल नगर  कालोनी में भी सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ हुआ था। यह तो दो ऐसे मामले हैं जहां कानून के हाथ पहुंच चुके हैं, लेकिन महानगर की बस्तियों में भी सेक्स रैकेट चल रहे हैं। कालोनियों में किराए के मकान लेकर रह रहीं महिलाएं बाहर से कॉल गर्ल बुलाती हैं तथा जिस्म फरोशी का धंधा कराती हैं। यह महिलाएं अक्सर ऐसा मकान तलाश करती हैं, जहां मकान मालिक नहीं रहते, ताकि उनका धंधा निर्वाध गति से चलता रहे।

 यह महिलाएं खुद को सिडकुल में काम करने वाली बता कर मकान किराए पर हासिल करती हैं।जब उन्हें यह एहसास होता है कि उनकी करतूत सामने आने लगी है तो वह अपना ठिकाना ही बदल डालती हैं। हर कालोनी में मोहल्ले के लोग इन गतिविधियों से अंजान नहीं हैं, लेकिन उनकी जानकारी गली मोहल्ले के नुक्कड़ों तक होने वाली चर्चा तक ही सीमित है। सूत्रों का कहना है कि यहां हल्द्वानी, रामपुर, बरेली, पीलीभीत,बिहार नेपाल असम  दिल्ली तक से कॉल गर्ल बुलाई जाती हैं। जिस्मफरोशी के इस धंधे में मोबाइल का अहम रोल रहता है। पूरा धंधा मोबाइल के जरिए ही संचालित होता है।जिस्मफरोशी के इस धंधे में सफेदपोश भी शामिल हैं। हमेशा जब सैक्स रैकेट पकड़े जाते हैं तो उनके मोबाइल से राज खुलने की बात कही जाती है, लेकिन मोबाइल से आज तक कोई राज नहीं खुला। महानगर की अनेक बस्तियों में सैक्स रैकेट चल रहे हैं। हाईप्रोफाइल रिहायशी इलाकों में भी अनैतिक गतिविधियां चलने की खबर है, लेकिन वहां तक पुलिस के हाथ नहीं पहुंच पा रहे हैं। सूत्र तो यहां तक बताते हैं कि कई गैस्ट हाउसों में भी कॉल गर्ल बुलाई जाती हैं, जो एक रात ही मेहमान होती हैं। यदि पुलिस अपने मुखबिर तंत्र को मजबूत करे तो जिस्मफरोशी के धंधों का पर्दाफाश हो सकता है।

पूरी कॉलोनी में सड़क नजर नहीं आई गड्ढ़ों में

 देहरादून। राजधानी देहरादून में सड़कों पर पड़े जानलेवा गड्ढ़ों के खिलाफ  फेसबुक लाइव के माध्यम से उत्तराखण्ड प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष सूर्यकान्त धस्माना द्वारा चलाई जा रही मुहिम के नवें दिन आज देहरादून की एक और महत्वपूर्ण सड़क जीएमएस रोड स्थित पुष्पांजलि एन्क्लेव की सड़कों के हाल देख कर स्वयं श्री धस्माना भी हैरान रह गये। कॉलोनी की शुरूआत से आखिरी छोर तक कहीं भी सड़क का नामोनिशान दिखाई नहीं दे रहा था। आज के इस फेसबुक लाइव को हजारों लोगों ने देख कर लाइक किया व सड़कों की दुर्दशा पर शासन, प्रशासन, राज्य सरकार व स्थानीय जनप्रतिनिधियों पर तीखे सवाल दाग कर उनको इस दुर्दशा के लिए जिम्मेदार ठहराया। श्री धस्माना ने पुष्पांजलि एन्क्लेव कॉलोनी में पैदल चल कर लोगों को टूटी, खुदी हुई सड़क का नजारा दिखाया व कई जगह पर एक-एक, डेढ़-डेढ़ फुट के गड्ढ़े दिखाये तो लोगों की तीखी प्रतिक्रियायें, कमेन्ट्स के रूप में आई।

 बीच-बीच में स्थानीय कॉलोनीवासियों से भी श्री धस्माना ने सड़क की दुर्दशा के कारण पूछे तो लोगों ने बताया कि आये दिन इस सड़क पर कोई ना कोई दुर्घटना गड्ढ़ों व खुदी हुई सड़क के कारण होती है, बच्चे, महिलायें व बुजुर्ग अक्सर दुर्घटनाग्रस्त होते हैं। विदित हो इससे पूर्व श्री धस्माना पहले दिन कार्यक्रम की शुरूआत में राजपुर रोड के उन गड्ढ़ों  से अपना अभियान शुरू कर चुके हैं जहां 6 अगस्त को दो युवतियां वर्षा डंडरियाल और कनिका शर्मा गड्ढ़े में गिरने के कारण सड़क पर गिर गई थी और पीछे से आ रहे टैंकर ने उन्हें कुचल दिया, जिसके कारण उन दोनों की मौत हो गई थी।श्री धस्माना ने कहा कि उनका यह अभियान जनता को जागरूक कर अपनी लड़ाई लड़ने व सोये हुए सिस्टम, जिम्मेदार एजेन्सियों, जनप्रतिनिधियों व सरकार को जगाने के लिए है और यह जब तक जारी रहेगा जब तक सड़कों पर गड्ढ़ों को भरने का काम व सड़कों के जीर्णोद्धार का काम पूरा नहीं हो जाता।

जल्द आपके हाथ में होगा 200 का नया नोट, अधिसूचना जारी

 नई दिल्ली। भारतीय रिजर्व बैंक आगामी महीनों में 200 रुपये का नोट जारी करेगा। इसको लेकर सरकार ने अधिसूचना जारी कर दी है। बाजार में 200 का नोट आने के बाद लेनदेन में आसानी हो जाएगी।

 
 
वित्त मंत्रालय ने एक अधिसूचना में कहा कि रिजर्व बैंक के केंद्रीय निदेशक मंडल की सिफारिशों के मद्देनजर केंद्र सरकार 200 रुपये का बैंक नोट जारी करने की अनुमति देती है। पिछले साल नवंबर में नोटबंदी की घोषणा के बाद केंद्रीय बैंक ने 500 रुपये का नया नोट जारी किया था और साथ ही 2,000 रुपये का नोट पेश किया था। ऐसे में माना जा रहा है कि 200 रुपये का नोट आने के बाद लोगों को 2,000 रुपये की ऊंचे मूल्य की मुद्रा की वजह से जो दिक्कतें आ रही हैं उन्हें कम किया जा सकेगा। इसके अलावा रिजर्व बैंक ने 50 का नया फ्लोरेसेंट ब्लू नोट भी पेश किया है।
 
सितंबर में 200 रुपये का नोट ला सकता है RBI
सूत्रों की माने तो सितंबर के पहले हफ्ते में इसकी घोषणा की जा सकती है। पहले इन नोटों को जुलाई में जारी करने की बात कही गई थी। आपको बता दें कि हाल ही में RBI ने ऐलान किया था कि 50 रुपए का नोट भी आएगा।
8 नवंबर 2016 को हुई नोटबंदी
बता दें कि पिछले साल नवंबर में सरकार ने 500 और 1,000 का नोट बंद कर दिया था। रिजर्व बैंक ने इनकी जगह 500 और 2000 रुपये के नए नोट जारी किए। सूत्रों के अनुसार 2,000 रुपये के बड़े नोट की वजह से जो समस्याएं आ रही हैं उन्हें भी 200 का नोट लाकर दूर किया जा सकेगा। 

गुरु गोविंद सिंह ने जगाई देशभक्ति की अलख : मुख्यमंत्री

 हरिद्वार। सिखों के दसवें गुरू श्री गुरू गोविंद सिंह जी के 350वें जन्मदिन को सम्पूर्ण भारत में वर्ष भर प्र्रकाशोत्सव के रूप में मनाये जाने की श्रृंखला में मंगलवार को गायत्री परिवार शंातिकुंज के देवसंस्कृति विश्वविद्यालय, हरिद्वार के सभागार में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। प्रकाशोत्सव में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत एवं केंद्र सरकार के संसदीय कार्य एवं कृषि राज्यमंत्री एस.एस.अहलुवालिया ने राष्ट्र की एकजुटता और अखण्डता में विशेष योगदान देने वाले सिख समाज के संतों, आचार्यो तथा सेवादारों को सम्बोधित किया।

 
 
मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने कहा कि श्री गुरू गोविंद सिंह जी के 350वें जन्मदिवस को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की प्रेरणा से सम्पूर्ण देश में प्रकाश पर्व के रूप में मनाया जा रहा है। उत्तराखण्ड में इसकी शुरूआत मुख्यमंत्री आवास से की गयी है। उन्होंने गुरू गोविंद सिंह जी के बहादुरी और देश प्रेम से ओत-प्रोत जीवन पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि वे बहुप्रतिभा के धनी, कवि, वेदों के ज्ञाता, साधक, देश भक्तों थे, जिन्होंने देश में देशभक्ति का जन मानस के मन में रोपण किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि हम सभी को सुसंस्कृत एवं एकजुट राष्ट्र के अपने इतिहास को जानने के लिए गुरू गोविंद सिंह के जीवन को जरूर पढऩा चाहिए। किस प्रकार उनके आह्वान पर देश के अलग-अलग राज्यों एवं किस प्रकार अलग अलग समाज के लोगों ने अपने प्रियजनों का बलिदान दिया और पंच प्यारे कहलाये। ये प्रकाश पर्व एक माध्यम है गुरू गोविंद सिंह जी द्वारा देश हित के लिए किये गये योगदानों के महत्व को समझने का। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने कहा कि आज फिर से देश को एकजुट कर विश्वशक्ति के रूप में स्थापित करने का समय है। कई अवंाछनीय ताकतें देश को बांटने का प्रयास कर रही हैं, इसलिए हम सबको इन ताकतों के खिलाफ एकजुट होना है। संसदीय कार्य एवं कृषि राज्यमंत्री श्री एस.एस. अहलुवालिया ने भी उपस्थित जत्थेदारों को समागम में सम्बोधित किया। इस अवसर पर अध्यक्ष राष्ट्रीय सिख संगत संत गुरूवर्ण सिंह गिल, निर्मल पंचायती अखाड़ा के अध्यक्ष  ज्ञानदेव सिंह जी महाराज, तख्त  हरमिंदर साहब प्रमुख जत्थेदार ज्ञानी इकबाल सिंह, राष्ट्रीय सिख संगत के महामंत्री अविनाश जायसवाल, देव संस्कृति विश्वविद्यालय के कुलपति शरद पारधी, जिलाधिकारी दीपक रावत आदि उपस्थित थे।

कलयुगी पिता ने बेटी को बनाया हवस का शिकार

 देहरादून। देहरादून के बिंदाल पुल के समीप रहने वाले एक कलयुगी बाप ने अपनी ही बेटी के साथ बलात्कार किया। एसएसपी निवेदिता कुकरेती ने दून अस्पताल में बच्ची का हाल जानने के साथ ही घटना के बारे में जानकारी प्राप्त की। आरोपी बाप को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है।

देहरादून के बिंदाल पुल के पास रहने वाले एक कलयुगी बाप ने रिश्तों को तार-तार कर दिया। अपनी 10 साल मासूम बेटी को ही अपनी हवस का शिकार बना डाला। इस घटना का माँ को तब पता चला, जब सुबह खून से सनी बेटी ने रो-रो सारी आप बीती सुनाई। लडक़ी का उपचार दून अस्पताल में चल रहा है। एसएसपी निवेदिता कुकरेती ने बताया कि लडक़ी से घटना के बारे में जानकारी हांसिल की गई है और घटना स्थल से भी साक्ष्य जुटाए गए हैं।
 
  मिली जानकारी के अनुसार आज मंगलवार को थाना कोतवाली नगर को कन्ट्रोल रूम के माध्यम से सूचना प्रान्त हुयी कि चौकी धारा क्षेत्र में बिन्दाल बस्ती में एक व्यक्ति द्वारा अपनी नाबालिक पुत्री उम्र 10 वर्ष के साथ दुष्कर्म किया गया है। उक्त सूचना पर चौकी धारा से पुलिस बल तत्काल मौके पर पहुँचा तथा आरोपी अभियुक्त को मौके से गिरफ्तार किया गया। पुलिस द्वारा पीडि़त बालिका को तत्काल उपचार हेतु दून अस्पताल लाया गया। जहाँ वर्तमान में पीडि़त बालिका का उपचार चल रहा है। आरोपी अभियुक्त के विरूद्घ थाना कोतवाली नगर में मुअस 393/17 धारा 376/506 भादवि तथा 3/4 पोस्को अधिनियम का अभियोग पंजीत किया गया। अभियुक्त को माननीय न्यायालय के समक्ष पेश कर जिला कारागार भेजा गया।

सत्यार्थी ने भारत यात्रा शुरू करने का किया ऐलान

देहरादून। नोबल शांति पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी देश भर में बाल तस्करी और बाल यौन शोषण के खिलाफ लड़ाई का प्रसार करने के लिए ऐतिहासिक भारत यात्रा की शुरूआत कर रहे हैं। यह यात्रा ‘सुरक्षित बचपन-सुरक्षित भारत’ के प्रति उनके विश्वास का प्रतीक है। 35 दिनों की यह यात्रा 22 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों से होकर गुजरेगी, जिसमें 1500 किलोमीटर का सफर तय किया जाएगा। दक्षिण में यात्रा की शुरूआत कन्याकुमारी से होगी और इसमें पूरे पश्चिम भारत को कवर किया जाएगा। इसी तरह देश के पूर्वी हिस्से में यात्रा की शुरूआत गुवाहाटी से होगी, जबकि उत्तर भारत में श्रीनगर से इसकी शुरूआत होगी। यात्रा का समापन 15 अक्टूोबर को राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में होगा। 
कैलाश सत्यार्थी पिछले 36 वर्षों से दुनिया भर में बच्चों की आजादी, सुरक्षा और संरक्षा के लिए अभियान चला रहे हैं। उन्होंने 1998 में ऐतिहासिक ग्लोबल मार्च अगेंस्टग चाइल्ड लेबर की अगुआई की थी, जिससे प्रेरित होकर आईएलओ ने बाल मजदूरी की सबसे खराब स्थिति के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय कन्वेंशन पारित किया। इसके साथ ही 2001 में शिक्षा यात्रा का नेतृत्व किया, जिसके बाद भारत के संविधान में शिक्षा का अधिकार को मौलिक अधिकार के तौर पर शामिल किया गया। प्रेरणादायी वैचारिक नेता के तौर पर उन्होंने हमारे देश की सामाजिक और राजनीतिक नीतियों को प्रभावित करने में उत्प्रेरक भूमिका निभाई है। बच्चों के अधिकारों के लिए उनके अनथक प्रयासों और संघर्ष के लिए उन्हें नोबेल शांति पुरस्कार (2014) से सम्मानित किया गया। 1893 में शिकागो में महान नेता स्वामी विवेकानंद के भाषण की सालगिरह की याद में इस यात्रा को 11 सितंबर को कन्याकुमारी के विवेकानंद मेमोरियल से रवाना किया जाएगा।
पीडि़त बच्चों के माता-पिता के साथ भारत यात्रा की घोषणा करते हुए श्री कैलाश सत्यार्थी ने कहा, आज मैं बाल यौन शोषण और तस्करी के खिलाफ युद्घ का ऐलान करता हूं। आज मैं भारत यात्रा की घोषणा कर रहा हूं, जो कि बच्चों के लिए भारत को फिर से सुरक्षित बनाने के लिए इतिहास का सबसे बड़ा आंदोलन है। मैं यह स्वीकार नहीं कर सकता कि हमारे बच्चों की बेगुनाही, मुस्कराहट और आजादी छिनती रहे या उनका बलात्कार किया जा सके। यह साधारण अपराध नहीं है। यह एक नैतिक महामारी है जो हमारे देश को सता रही है।
 
 
पिछले चार दशकों के दौरान बच्चों की सुरक्षा के लिए कुछ सबसे बड़े नागरिक आंदोलन के शिल्प कार रहे सत्यार्थी का आजीवन मिशन बच्चों के खिलाफ सभी प्रकार के हिंसा को समाप्त करना है।  सत्यातर्थी और उनका फाउंडेशन कैलाश सत्यार्थी चिल्ड्रन्स फाउंडेशन सितंबर में इस यात्रा को शुरू करने के लिए कई महीनों से जमीन तैयार कर रहा है। इस सिलेसिले में श्री सत्यार्थी ने देश भर में यात्राएं कीं और नागरिकों, धार्मिक नेताओं, कर्मचारियों तथा कर्पोरेट्स, सांसदों, सामाजिक संगठनों आदि से मुलाकात की और सभी ने पूरे दिल से भारत यात्रा का समर्थन करने का वचन दिया और इसे हमारे देश के लिए एक आवश्यक लड़ाई करार देते हुए इस इस नेक कार्य की दिशा में काम करने की प्रतिबद्घता जताई। 
 
हाल ही में उन्होंने दिल्ली में सांसदों से मुलाकात कर बाल तस्करी और बाल यौन शोषण के मुद्दे पर जानकारी दी और इस खतरे के प्रति जागरूकता फैलाने में उनका समर्थन मांगा। पिछले महीने उन्होंने बेंगलुरू में लिंक्डइन के 500 से ज्यादा कर्मचारियों से बात की और लिंक्डइन जैसे कर्पोरेट्स को हमारे देश के भविष्य के लिए मजबूत रुख अपनाने की जरूरत के लिए प्रेरित किया और अगले कुछ महीनों तक यह कार्य जारी रहेगा। वह नई दिल्लीत में कई धर्मों के प्रमुखों के साथ भी बैठक कर रहे हैं, ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि इस लड़ाई में देश भर में समाज के सभी वर्गों का साथ मिले। दिल्ली में इस यात्रा से पर्दा उठाया गया जिसमें भारत यात्रा से संबंधित एक वीडियो जारी किया गया, जिसमें देश भर के बच्चों की स्वतंत्रता, सुरक्षा और संरक्षा के लिए एकजुट होने और लडऩे की अपील की गई है। इस अभियान के द्वारा देश के एक करोड़ लोगों तक पहुंचने की उम्मीद है।
 
 भारत यात्रा बच्चों का बलात्कार और बाल यौन शोषण के खिलाफ तीन साल के अभियान की शुरूआत है, जिसका उद्देश्य जागरूकता बढ़ाना और मामला दर्ज करने, चिकित्सा स्वास्थ्य और मुआवजा सहित सुनवाई के दौरान पीडि़तों और गवाहों के लिए सुरक्षा सुनिश्चित करना तथा बाल यौन शोषण के दोषियों को समयबद्घ सजा दिलाने के मामलों में तेजी लाने के लिए संस्थाकगत प्रतिक्रिया को सु²ढ़ बनाना है। इस लन्च में तस्करी और दुव्यवहार के शिकार बच्चों के परिवारों को भी दिखाया गया है, जिसमें उन्होंने बताया है कि कुछ लोगों के गलत व्यवहार की वजह से उन्हें किस तरह भावनात्मक और शारीरिक आघात का सामना करना पड़ा। परिवारों ने भी इस अभियान में समर्थन का वचन दिया और उम्मी द जताई कि यह क्रांति लाएगा और देश को बच्चों के शोषण के खिलाफ अपनी लड़ाई जारी रखने की जरूरत बताई।
 

सीएम ने किया सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले का स्वागत

देहरादून। तीन तलाक मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि आज के दौर में सभ्य समाज में इस तरह की प्रथाओं की कोई जगह नहीं है। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले का स्वागत किया। सीएम ने ट्वीट किया कि यह मुस्लिम बहनों के अधिकारों व सम्मान की लड़ाई थी। इस फैसले से उन्हें हक मिल सकेगा।
 
 उन्होंने कहा कि सभ्य समाज में इस तरह की प्रथाओं को कोई जगह नहीं है। मुख्यमंत्री ने यह भी ट्वीट किया कि इस मुद्दे  पर उत्तराखंड में काशीपुर की सहारा बानों की पहल कारगार साबित हुई। उन्होंने एक महिला समाज के लिए बड़ी जीत हासिल की। इसके लिए वह बधाई की पात्र हैं।  वित्त मंत्री प्रकाश पंत ने भी सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि तीन तलाक मसले से निजात दिलाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लाल किले से दिलाए गए विश्वास की यह जीत है।

आधुनिक समय में पुलिस की जिम्मेदारी बढ़ी: सीएम

देहरादून।  मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि पुलिस में महिलाओं की संख्या 11 प्रतिशत से ज्यादा  हो गई है, जबकि राष्ट्रीय औसत 7 प्रतिशत है। पुलिस फोर्स में महिलाओं की भागीदारी के क्षेत्र में उत्तराखण्ड देश के शीर्ष पांच राज्यों में सम्मिलित हो गया जिससे अब प्रदेश हर थाने में एक या उससे ज्यादा महिला पुलिस की तैनाती कर सकेगी। इससे महिला संबंधी अपराध की रोकथाम और उसके कुशल निवारण में भी मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि अपनी बेटियों को पुलिस की वर्दी में देखकर अपार प्रसन्नता होती है। आज उत्तराखंड राज्य में बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान खूब फल फूल रहा है। 
 
यह बात उन्होंने  पुलिस लाईन में उत्तराखण्ड पुलिस के ट्रेनी आरक्षियों(कांस्टेबल्स) के पासिंग आउट परेड की सलामी के दौरान कही। उन्होंने कहा कि आधुनिक समय में पुलिस की जिम्मेदारी बढ़ी है। पुलिस का काम पारम्परिक पुलिसिंग से आगे बढ़ कर बहुत से अन्य सामाजिक सरोकार से जुड गया है। पुलिस पर लोगों का भरोसा भी बढ़ा है। राज्य में जहां राजस्व पुलिस की व्यवस्था लागू है, वहां भी लोगों द्वारा रेगुलर पुलिस की मांग की जाने लगी है। उत्तराखण्ड पुलिस में महिलाओं की बढ़ती भागीदारी पर हर्ष व्यक्त किया और कहा कि  बेटियां इस राज्य का गौरव है और  उम्मीद है कि  सब पूरी ईमानदारी और लगन से पुलिस महकमे में अपनी अलग पहचान बनाऐंगी। 
 
 
मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी द्वारा दी गई स्मार्ट पुलिस की परिकल्पना को दोहराते हुए कहा कि उत्तराखण्ड पुलिस को भी स्ट्रिक्ट और सेंस्टिव, मॉरल और मोबाईल, एलर्ट और एकाउंटेबल, रिलाएबल और रिस्पॉन्सिबल और टेक््रोलॉजी सेवी होना पडेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि भ्रष्टाचार के विरूद्घ भी पुलिस की महत्वपूर्ण भूमिका है। उन्होंने कहा कि पुलिस का नशे के कारोबार के विरूद्घ एक कठोर अभियान चलाने में भी महत्वपूर्ण योगदान है।  
पुलिस महानिदेशक अनिल कुमार रतूड़ी ने बताया कि कुल 175 ट्रेनी आरक्षियों का प्रशिक्षण  रिक्रूट ट्रेनिंग सेंटर देहरादून में हुआ। कुल सीधी भर्ती के 141 महिला आरक्षियों एवं 34 पुरूष रिक्रूट आरक्षियों को 09 माह का आधारभूत प्रशिक्षण दिया गया, जिसमें प्रशिक्षण देने हेतु 27 पुलिस अधिकारी/कर्मी नियुक्त रहे। देहरादून के अतिरिक्त  रिक्रूट ट्रेनिंग सेंटर जनपद हरिद्वार, उधमसिंहनगर, चम्बा(टिहरी गढ़वाल), 31वीं वाहिनी पीएसी में भी कुल 792 प्रशिक्षु महिला आरक्षियों का प्रशिक्षण सम्पन्न कराया गया तथा इन सभी स्थानों पर भी पासिंग आउट परेड विभिन्न तिथियों में आयोजित की जा रही है। दीक्षांत परेड में प्रशिक्षण अवधि में सर्वांग-सर्वोत्तम श्रेणी में महिला आरक्षी कविता और अंजना बेलवाल और पुरूष आरक्षी अंकित बिष्ट को पुरस्कार भी प्रदान किया गया। इस अवसर पर एडीजी अशोक कुमार, आईजी दीपम सेठ सहित अन्य वरिष्ठ पुलिस अधिकारी भी मौजूद थे।

उत्तराखंड यूथ महोत्सव 25 से

देहरादून। अपना रोटी बैक चेरिटेबल ट्रस्ट के तत्वावधान में उत्तराखंड यूथ महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है। यह महोत्सव 25 से 27 अगसत को रेंजर्स ग्राउड में आयोजित किया जाएगा। यह जानकारी प्रेस क्लब में पत्रकारो से मुखातिब होते हुए उत्तराखंड यूथ फेस्टिवल के अध्यक्ष हिमाशु पुण्डीर ने दी। उन्होंने बताया कि महोत्सव में बतौर मुख्य अतिथि भारतीय जनता पार्टी के उपाध्यक्ष श्याम जाजू मौजूद रहेगे। कार्यक्रम में उन सभी प्रतिभावान लोगों के लिए आयोजित किया जा रहा है ताकि वह सभी आकर अपनी -अपनी प्रतिभा इस मंच में दिखा सके। इस महोत्सव के द्वारा कई सामाजिक मुददो को भी जागरूक करने का प्रयास किया जाएगा।
 
 बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओं से नो टू ड्रग्स और स्वच्छ भारत अभियान जैसे मुददो पर शॉर्ट फिल्म महोत्सव दिखाई जाएगी। उन्होंने बताया कि इस महोत्सव में बहुत सारी प्रतियोगिता का भी आयोजन किया जाएगा। महिलाओं के लिए नृत्य, गायिकी , कुंकिग, पैटिंग प्रतियोगिता, फ्रोटोग्राफी प्रतियोगिता समेत कई प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाएगा। प्रतियोगिता के दौरान कथक धरोहर समूह से सदानद नृत्य प्रस्तुत किया जाएगा। उन्होंने बताया कि इस दौरान कई यूथ आइकन का भी सम्मानित किया जाएगा। जिनमें प्रमुखता से निवेदिता कुकरेती का नाम प्राथमिकता के साथ रखा गया है। इस दौरान व्यवस्थापिका कंचन भटट, निंशात जैन, साहिबा जैन, समेत कई लोग मौजूद थे। 

दूनविश्वविद्यालय के कुलपति को भावभीनी विदाई दी

देहरादून। दूनविश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर वी$ के जैन को सम्मानित कर भावभीनी विदाई दी गई। प्रोफेसर जैन अपने मूल विभाग जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में कार्यभार ग्रहण करेंगें। प्रोफेसर जैन का दून विश्वविद्यालय में लगभग साढ़े पांच वर्षो तक कार्यकाल रहा, उनके अनुकरणीय कार्यो एवं योगदान की विश्वविद्यालय ने सराहना की, साथ ही उनके प्ररेणास्वरूप विश्वविद्यालय को आगे बढ़ाने का संकल्प लिया।
 
 विश्वविद्यालय परिवार द्वारा उनके उज्जवल स्वास्थ्य, जीवन एवं उत्तम लक्ष्य की कामना की। अब उनके कार्य दायित्व को जिम्मा नवनियुक्ति कुलपति (कार्यवाहक) प्रो कुसुम अरुणाचलम को सौंपी गई है जो कि विश्वविद्यालय की वरिष्ठ प्रोफेसर के पद पर नियुक्त हैं।

हड़ताल से बैंकों में करोड़ों का लेनदेन प्रभावित

देहरादून। सरकारी बैंकों के निजीकरण, कई बैकों को मिला कर बड़े बैंक बनाने के प्रस्ताव के विरोध में तथा अन्य कई मांगों को लेकर मंगलवार को सभी बैंक बंद रहे। हड़ताल में सरकारी बैंकों के साथ ही निजी बैंकों में भी ताले लटके रहे। हड़ताल के कारण करोड़ों का लेन देन प्रभावित हुआ, जिससे ग्राहकों को भारी परेशानी उठानी पड़ी।
 
 
स्टेट बैंक ऑफ इंडिया स्टाफ एसोसिएशन दिल्ली सर्किल के आंचलिक सचिव एवं स्थानीय बैंक कर्मचारी मंच के अध्यक्ष अजमेर सिंह बहल ने बताया कि यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन्स के आह्वान पर मंगलवार को सभी बैंकों में पूर्ण रूप से हड़ताल रही। उन्होंने बताया कि सरकारी बैंकों का निजीकरण करने की तैयारी की जा रही है, जिसका बैंक कर्मी विरोध कर रहे हैं। कहा कि उनका विरोध इस बात का भी है कि सरकार कई बैंकों को मिला कर एक बैंक बनाने की कोशिश कर रही है। उन्होंने कहा कि सरकार कारपोरेट घरानों के बड़े बड़े ऋणों को माफ कर रही है, जिससे बैंकों का एनपीए बढ़ रहा है।
 
एनपीए की पूर्ति ग्राहकों से चार्जेज लगाकर करने पर रोक लगनी चाहिए। उनकी मांग है कि संसदीय समिति की सिफारिशों को लागू किया जाए। बैंक बोर्ड ब्यूरो को भंग किया जाए। खराब हुए बड़े ऋणों के लिए बैंक प्रबंधक की जवाबदेही सुनिश्चित की जाए। जानबूझ कर बैंक ऋण चुकता न करने वालों को अपराध की श्रेणी में रखा जाए। साथ ही ग्रेच्युटी की सीमा सरकार के निर्देशों के अनुरूप ही लागू की जाए। उनकी मांग है कि बैंकों में भी अनुकंपा के आधार पर नियुक्तियां की जाएं। हड़ताली बैंक कर्मियों ने प्रदर्शन करके अपनी मांगों का समर्थन किया। प्रदर्शन में अजमेर सिंह के अलावा विनोद डोगरियाल, रविंद्र कुमार, हेमंत आर्या, एके विश्वा, भरत प्रकाश, जीवन लाल, ओमप्रकाश, वीएन सिंह, नारायण सिंह, जितेंद्र सती, गिरीश लाल, आरके छाबड़ा आदि शामिल थे।

शिक्षा में ऑडियो विजुअल का हो प्रयोग: राज्यपाल

 देहरादून। राज्यपाल डॉ$ कृष्ण कांत पाल ने कहा कि स्कूली शिक्षा को रोचक व आकर्षक बनाए जाने की जरूरत है। इसमें ई-लॄनग व मल्टीमीडिया उपयोगी हो सकते हैं। राज्यपाल मंगलवार को राजभवन में डिवाईन लाईट ट्रस्ट, मसूरी द्वारा आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होने कहा कि ई-लॄनग व ऑडिया-विजुअल लॄनग को स्कूली शिक्षा तक पहुंचाए जाने की आवश्यकता है। राज्यपाल ने कहा कि बच्चे कल का भविष्य हैं और इसे संवारने में शिक्षकों की महत्वपूर्ण भूमिका है।

 आधुनिक तकनीक, शिक्षको का स्थान तो नही ले सकती है परंतु क्वालिटी एजुकेशन में मल्टीमीडिया शिक्षकों के लिए सहायक हो सकता है। शिक्षा जितनी रोचक व आकर्षक तरीके से दी जाती है उतनी ही आसानी से बच्चे समझ पाते हैं। राज्यपाल ने कहा कि देहरादून, नैनीताल में विश्व प्रसिद्घ स्कूल हैं। प्राईवेट स्कूलों में दी जाने वाली सुविधाएं, सरकारी स्कूलों में भी उपलब करवानी होंगी। विशेष रूप से राज्य के दूरस्थ व पर्वतीय क्षेत्रों के स्कूलों में क्वालिटी एजुकेशन सुनिश्चित किए जाने की आवश्यकता है। मल्टीमीडिया का प्रयोग इसमें बहुत उपयोगी हो सकता है।  

मुस्लिम महिलाओं के लिए समानता के नए युग की शुरूआत: शाह

 भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि तीन तलाक पर उच्चतम न्यायालय का निर्णय मुस्लिम महिलाओं के लिए स्वाभिमान पूर्ण एवं समानता के एक नए युग की शुरूआत है और भाजपा मुस्लिम महिलाओं को मिले उनके अधिकारों और सम्मान को संकल्पवान ‘‘न्यू इंडिया’’ की ओर बढ़ते कदम के रूप में देखती है। अमित शाह ने अपने बयान में कहा, ''सर्वोच्च न्यायालय द्वारा आज तीन तलाक पर दिये गए ऐतिहासिक फैसले का मैं स्वागत करता हूं। यह फैसला किसी की जय या पराजय नहीं है। यह मुस्लिम महिलाओं के समानता के अधिकार और मूलभूत संवैधानिक अधिकारों की विजय है।शाह ने कहा कि संसार के बहुत सारे मुस्लिम देशों में तीन तलाक का कानून अस्तित्व में नहीं है। सर्वोच्च अदालत ने तीन तलाक को गैर संवैधानिक घोषित करके देश की करोड़ों मुस्लिम महिलाओं को समानता और आत्म सम्मान से जीने के साथ जीने का अधिकार दिया है।

  उन्होंने कहा, ''मैं अपने अधिकारों के लिये लड़ाई लड़ रही सभी पीड़ित महिलाओं के हक में आये इस फैसले का स्वागत करता हूं और उनका अभिनंदन करता हूं। मैं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा सरकार को मुस्लिम महिलाओं के पक्ष को विवेकपूर्ण और न्यायपूर्ण तरीके से उच्चतम न्यायालय में रखने के लिये धन्यवाद देता हूं।भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि आज से देश की मुस्लिम महिलाओं के लिये स्वाभिमानपूर्ण और समानता के एक नये युग की शुरूआत हुई है। पार्टी मुस्लिम महिलाओं को मिले उनके अधिकारों और सम्मान का स्वागत करती है और इसे संकल्पवान ‘‘न्यू इंडिया’’ की ओर बढ़ते कदम के रूप में देखती है। उल्लेखनीय है कि उच्चतम न्यायालय ने आज एक ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए कहा कि मुस्लिमों में एक बार में तीन बार तलाक बोलकर दिए जाने वाले तलाक की प्रथा ‘अमान्य’, ‘अवैध’ और ‘असंवैधानिक’ है। शीर्ष अदालत ने 3:2 के मत से सुनाए गए फैसले में इस तीन तलाक को कुरान के मूल तत्व के खिलाफ बताया। पांच जजों की संवैधानिक पीठ ने अपने 395 पन्नों के आदेश में कहा, ‘‘3:2 के बहुमत के जरिए दर्ज किए गए विभिन्न मतों को देखते हुए ‘तलाक-ए-बिद्दत’ तीन तलाक को दरकिनार किया जाता है।’’

गड्ढ़ों में खोजनी पड़ रही है सडक़: धस्माना

 देहरादून। राजधानी देहरादून की खस्ताहाल व जर्जर सडक़ों तथा सडक़ों पर गड्ढ़ों के खिलाफ उत्तराखण्ड प्रदेश कांग्रेस के उपाध्यक्ष सूर्यकान्त धस्माना द्वारा चलाये जा रहे जन अभियान के आठवें दिन धस्माना ने कैन्ट विधानसभा क्षेत्र के भूड़गांव-पंडितवाड़ी गांव की मुख्य सडक़ों की जर्जर व खस्ता हाल को फेसबुक लाइव के जरिये दर्शकों से साझा किया। सडक़ों के हाल इतने खराब थे कि श्री धस्माना ने वहां पहुंचते ही लोग घरों से बाहर आ गये व सडक़ के हालात पर अपना आक्रोश जताते हुए श्री धस्माना से पूरी सडक़ का निरीक्षण करने की मांग करने लगे, श्री धस्माना ने उनकी मांग के अनुसार पूरी सडक़ का लाइव हाल लोगों से साझा किया। एक स्थानीय नागरिक चेतन शर्मा ने सडक़ के हालात पर आक्रोश जताते हुए कहा कि हमने इस सडक़ का नाम नरक द्वार गली रख दिया है। स्थानीय महिला नितेश धीमान ने कहा कि हमारे घरों में पानी भर जाता है और रोज कोई ना कोई इस सडक़ पर गिर कर घायल हो रहा है। दुकानदार अमरेश गुन्ता ने कहा कि दर्जनों लोग इस सडक़ पर गिर कर घायल हुए हैं जिनको उन्होंने अस्पताल पहुंचाया है।

 
 
स्थानीय लोगों ने कहा कि उनकी क्षेत्र की पार्षद, मेयर, विधायक, सांसद सभी भाजपा के है और आठवीं बार विधायक बनने वाले व्यक्ति को हमारा दर्द नहीं दिख रहा है। श्री धस्माना ने पंडितवाड़ी भूड़गांव की इस सडक़ का महत्व बताते हुए कहा कि आई$एम$ए$, प्रेमनगर, सेलाकुई से लेकर विकासनगर चकराता तक के लोग इस मार्ग को सम्पर्क मार्ग के रूप मे इस्तेमाल करते हैं, हजारों की संख्यां में प्रेमनगर से आगे लॉ कॉलेज से लेकर पैट्रोलियम विश्वविद्यालय और उत्तराखण्ड तकनीकी विश्वविद्यालय के छात्र-छात्रायें इस मार्ग को इस्तेमाल करते हैं और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि जब भारतीय सैन्य अकादमी की वर्ष में दो बार पासिंग आउट परेड होती है तो मुख्य मार्ग बन्द होने पर इस मार्ग का उपयोग सम्पर्क मार्ग के रूप में किया जाता है। इस अवसर पर श्री धस्माना के साथ अभिषेक तिवारी, नरेश मियां, संजय शर्मा, नितिन रावत, विकेश शर्मा, सुमित खन्ना सहित दर्जनों स्थानीय निवासी चल रहे थे।

कुमाऊं में बनेगा एशिया का सबसे बड़ा पंचेश्वर बांध

 देहरादून। उत्तराखंड के इतिहास में एक और अध्याय जुडऩे जा रहा है। ये अध्याय कुमाऊं की महाकाली नदी पर बनने जा रहे एशिया के सबसे बड़े बांध के रूप में होगा। नेपाल से भारत की ओर बहती आ रही महाकाली नदी पर भारत और नेपाल सरकार दोनों एक विशालकाय बांध बनाने जा रहे हैं। कहा जा रहा है कि यह बांध टिहरी बांध से 5 गुना बड़ा होगा।

पंचेश्वर में महाकाली नदी के साथ चार अन्य नदियों गौरीगंगा, धौली, सरयू और रामगंगा का संगम होता है। कुल 5040 मेगावॉट की यह परियोजना  दक्षिण एशिया का सबसे बड़ा हाइड्रोपावर प्रोजेक्ट कही जा रही है। 311 फीट की ऊंचाई के साथ बनने जा रहे इस बांध को नाम दिया गया है पंचेश्वर बांध। हालांकि, भारत सरकार की इस महत्वकांक्षी योजना के तहत इस बांध को बनाने के लिए विरोध और समर्थन दोनों के स्वर अभी से सुनाई देने लगे हैं। 
 
टिहरी बांध के बनने से पहले भी फूटे थे विद्रोह से सुर
यह बात किसी से छुपी नहीं है कि जब भारत की प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी थीं तब साल 1965 में एशिया के सबसे बड़े टिहरी बांध को बनाने का काम शुरू हुआ था। शुरुआती दौर में जब यह बांध बन रहा था तब न जाने कितने आंदोलन हुए और विरोध के बीच समर्थन के स्वर भी उठे थे। कुछ लोगों का कहना था कि ये बांध उत्तराखंड के लिए काल साबित होगा लेकिन कुछ लोग इसे विकास की राह में मील का पत्थर बता रहे थे। 
तमाम विरोध और समर्थन के बीच साल 2006 में यह बांध बनकर तैयार हो गया। हालांकि, यह भी हकीकत है कि साल 2013 की आपदा हो या फिर उससे पहले की भीषण बरसातें टिहरी बांध में अपने अंदर पानी को समेट कर कई हजार लोगों की जिंदगी बचाई हैं।
गढ़वाल के बाद अब कुमाऊं में भी एक विशालकाय बांध तैयार हो रहा है। पंचेश्वर बांध को बनाने के लिए भारत सरकार और नेपाल सरकार साझा बांध योजना के तहत काम शुरू करने जा रही हैं। नेपाल सरकार इस बांध को बनाने के लिए 15.95 करोड़ रुपयों का योगदान कर रही है जबकि बाकी पैसा भारत सरकार लगाएगी। 
 
 
लगभग 20 हजार करोड़ रुपए की लागत से बनेगा बांध
बताया जा रहा है कि इस बांध को बनाने में लगभग 20 हजार करोड़ रुपए की लागत आने वाली है। 550 मेगावाट बिजली बनाने वाले इस बांध को लेकर भारत सरकार और नेपाल सरकार साल 1986 से योजना बना रही थीं लेकिन इस योजना को बल तब मिला जब कुछ समय पहले नेपाल के प्रधानमंत्री प्रचंड दहल भारत आए थे और अपनी भारत यात्रा में उन्होंने टिहरी बांध का दीदार किया था। उसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी पिछली नेपाल यात्रा के दौरान दोनों देशों के बीच बांध के लिए संधि पर हस्ताक्षर किये थे। 
 
अल्मोड़ा, चंपावत और पिथौरागढ़ के गांव आएंगे दायरे में
इस बांध को बनाने के लिए भारत सरकार को अल्मोड़ा, चंपावत और पिथौरागढ़ के लगभग 110 गांवों से ज्यादा की जल समाधि देनी पड़ेगी। कुमाऊं की पहचान रखने वाले अल्मोड़ा, चंपावत और पिथौरागढ़ जैसे जिलों के सालों साल पुराने गांव इस बांध को भरने के बाद हमेशा-हमेशा के लिए जल में समा जाएंगे। सरकार की प्राथमिक विस्तृत प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) में करीब 134 गांवों के 54,000 लोगों के विस्थापित होने की बात कही गई है।
 
बांध के विरोध में उतरे ग्रामीण
डीपीआर सामने के बाद इन तीनों ही जगहों के ग्रामीणों ने इस बात के खिलाफ अपने सुर तेज कर दिए हैं। ग्रामीणों का कहना है कि अधिकारी मुख्यालय में ही बैठकर जनसुनवाई कर रहे हैं जबकि इस बांध से सबसे ज्यादा प्रभावित वह गांव के लोग होंगे जो मुख्यालय तक आने में ही घंटों का सफर तय करते हैं। 
काम शुरू करने से पहले नतीजे का आंकलन ज़रूरी
टिहरी बांध के बनने से पहले भी उसके नतीजों का आंकलन किया गया था वैसे ही पंचेश्वर बांध बनने के बाद भविष्य में कैसे हालात हो सकते हैं इसपर बहस तेज है। ख़तरा इस बात का है कि जब टिहरी बांध के बनने के बाद 11 सालों के अंदर ही उसके दुष्परिणाम भी देखने के लिए मिल रहे हैं तो फिर पंचेश्वर बांध अगर बनता है तो वह भविष्य में किस तरह के हालात पैदा करेगा। 
 
टिहरी बांध के दुष्परिणाम भी आ रहे सामने
आज टिहरी बांध बनने के बाद लगभग 30 से ज्यादा गांव भूस्खलन की कगार पर हैं। 30 गांव के लोग अपनी पैतृक भूमि को छोडऩे पर मजबूर हैं। जिस वक्त टिहरी बांध बना था उस वक्त पुरानी टिहरी के लोगों को सरकार और टीएचडीसी ने मुआवजा तो दिया ही था साथ ही साथ उन्हें निचले इलाकों और टिहरी के दूसरे इलाकों में बसाया गया था।
 
भूकंप की दृष्टि से संवेदनशील हैं पिथौरागढ़ और चंपावत 
वैसे तो भारत सरकार ने जब इस बांध को बनाने का मन बनाया होगा तो तब सभी तरह के सर्वे करवाए होंगे लेकिन जानकार मानते हैं कि उत्तराखंड का कुमाऊं इलाका खासकर पिथौरागढ़ और चंपावत का जिला भूकंप की दृष्टि से जोन 4 में आता है। लिहाजा एक साथ इतने बड़े जल का भंडारण करना क्षेत्र के लिए भी सही नहीं होगा साथ ही निचले इलाकों में इस बांध के परिणाम देखने के लिए आगे मिल सकते हैं। इन्हीं सब बातों को देखते हुए स्थानीय लोग अब आंदोलन भी कर रहे हैं।
 
बिजली तो मिलेगी लेकिन ख़तरा बहुत है
इसी गंभीर मुद्दे को लेकर हमने वाडिया इंस्टिट्यूट के वैज्ञानिक संतोष राय से बात की। उनका कहना है कि इस विशालकाय बांध को बनने के बाद भारत और नेपाल दोनों ही देशों को बिजली का उत्पादन बड़ी मात्रा में मिल सकेगा लेकिन इस बांध को बनाने के लिए सरकार को कई हजारों लोगों के घरों को डुबाना होगा क्योंकि इतने बड़े बांध को बनाना कोई छोटी बात नहीं है। 
 
भूकंप आने का भी है बड़ा ख़तरा
लेकिन संतोष राय जो सबसे बड़ी बात कहते हैं वह ये है कि इतने बड़े बांध को जब बनाया जाता है तो उसके लिए भारी मात्रा में जलाशय इक_ा किया जाता है और जब एक साथ इतना पानी इक्कठा होता है तो भूकंप आने का भी खतरा रहता है क्योंकि जमीन पर इतना दबाव पानी का जमीन खेल नहीं पाती लिहाजा वह फटने लगती है। हालांकि, वो यह भी कहते हैं कि भारत सरकार ने इसका पूरा सर्वे जरूर करवाया होगा लेकिन पहाड़ों पर इतने बड़े बांध हमेशा खतरे से भरे होते हैं।
 
दूसरी व्यवस्था रखनी होगी तैयार
वैज्ञानिक संतोष राय कहते हैं कि भारत सरकार को बांध बनाते समय इस बात का भी ध्यान रखना होगा कि भविष्य में अगर कोई खतरा होता है तो हम दूसरी व्यवस्था तैयार रखें। यानी इतने बड़े जलाशय को दोबारा भी रोका जाए ऐसे व्यवस्था भी बनानी होगी। 
भविष्य के गर्भ में छिपे जवाब
संतोष राय कहते हैं कि पहाड़ों पर इतने बड़े बांधों को बनना नहीं चाहिए लेकिन जिस तरह से हमारी आबादी बढ़ रही है उसके बाद भारत सरकार हो या फिर कोई भी सरकार हो वो सोच में पड़ जाती है कि इस तरह से बांधों को बनाना भी जरुरी हो जाता है लेकिन सभी चीजों पर सरकार को सोचना चाहिए। सरकार को यह ध्यान रखना होगा कि उस बांध के आसपास और उसके नीचे इलाकों में ज्यादा बड़े शहरों को नहीं बसाया जाए।

सीएम ने दिए विधवा पेंशन जारी करने के निर्देश

 देहरादून। सोशल मीडिया आम लोगों से संवाद स्थापित करने और उनकी समस्याओं के निस्तारण में कितनी अहम भूमिका निभा सकता है इस बात पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत लगातार जोर देते रहते हैं। इसके लिए मुख्यमंत्री स्वयं तो सोशल मीडिया पर सक्रिय रहते ही हैं। उन्होंने सभी जिलाधिकारियों और पुलिस अधीक्षकों को भी सोशल मीडिया पर सक्रिय रहने को कहा है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र की अपील पर अल्मोड़ा की जिलाधिकारी श्रीमती ईवा आशीष श्रीवास्तव ने भी सोशल मीडिया का उपयोग करके लोगों की समस्याएं सुलझाने का बेहतरीन उदाहरण पेश किया है।

 
 
दरअसल अल्मोड़ा के चैखुटिया की रहने वाली अंबुली देवी को पिछले 6 महीन से समाज कल्याण विभाग द्वारा देय विधवा पेंशन नहीं मिली थी। ऐसे में नम्रता कांडपाल नाम की महिला ने ट्विटर के माध्यम से मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र को शिकायत लिखी। मुख्यमंत्री ने शिकायत को ट्विटर पर ही अल्मोड़ा की जिलाधिकारी को फॉरवर्ड करते हुए कार्रवाई के आदेश दिए। जिस पर डीएम ने तुरन्त संज्ञान लेते हुए कार्रवाई की। डीएम ने ट्विटर पर ही शिकायतकर्ता से श्रीमती अंबुली देवी के विवरण उपलब्ध कराने को कहा जिस पर आगे की कार्रवाई करते हुए जिलाधिकारी ने अगले ही दिन उनकी पेंशन का चेक जारी किया। जिलाधिकारी, अल्मोडा ने मुख्यमंत्री  त्रिवेंद्र और शिकायतकर्ता को ट्विटर पर टैग करते हुए चेक की फोटो एवं विधवा पेंशन की धनराशि जारी किये जाने का आदेश पोस्ट किये। 
 
मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने सभी जिलाधिकारियों से सोशल मीडिया पर सक्रिय रहकर इसी प्रकार जनता की समस्याओं के त्वरित निस्तारण की अपेक्षा की है। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए है कि जिन जनपदों में जिलाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षकों द्वारा सोशल मीडिया का उपयोग प्रारम्भ नही किया गया है वे तत्काल इसका उपयोग जन समस्याओं के निस्तारण और महत्वपूर्ण सूचनाओं के प्रसार हेतु करें।
 

 

राष्ट्रीय पदक धारियों को सम्मानित किया

  विकासनगर। शहीद संदीप सिंह रावत मेमौरियल समिति की ओर से आयोजित प्रतिभा सम्मान कार्यक्रम में राष्ट्रीय पदक धारियों को सम्मानित किया गया। मुख्य अतिथि उच्च शिक्षा एवं सहकारिता मंत्री डॉ धन सिंह रावत ने प्रतिभाओं को सम्मानित कर उन्हें आगे बढ़ाने की बात कही। कहा कि प्रदेश सरकार ग्रामीण क्षेत्रों में खेल और शिक्षा की मजबूती के लिए काम कर रही है। राजकीय इंटर कॉलेज छरबा में आयोजित सम्मान समारोह का शुभारम्भ मुख्य अतिथि डॉ धन सिंह रावत और विधायक मुन्ना सिंह चौहान ने दीप प्रज्जवलित कर किया। इस दौरान डॉ रावत ने ग्रामीण युवाओं की प्रतिभाओं को संवारने पर जोर दिया। कहा कि खेल और शिक्षा के क्षेत्र में सरकार ग्रामीण क्षेत्रों का प्रसार करने में हर संभव प्रयास कर रही है।

 विधायक मुन्ना सिंह चौहान ने कहा कि गुदड़ी के लाल हर क्षेत्र में कमाल कर रहे हैं। हमारे देश के छोटे-छोटे गांवों से खिलाडिय़ों ने हर क्षेत्र में परचम लहरा कर अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है। जोकि, हर देशवासी के लिए गर्व की बात है। इसके बाद मुख्य अतिथियों ने समिति की ओर से अंतर्राष्ट्रीय बॉक्सिंग विजेता पवन गुरुंग, एथलेटिक्स अन्नु कुमार, मार्शल आर्ट में आकाश राणा, साइकिलिंग में दीपक राही एवं अन्य खेलों में राष्ट्रीय पदक प्राप्त विवेक कुमार, ऋषभ, आरती, पल्लवी, राकेश, अमनदीप व अनीता रावत को स्मृति चिह्न भेंट कर सम्मानित किया। इस दौरान जागरूकता फैलाने वाले कई नुक्कड़ नाटक और सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन भी हुआ। इसमें कलाकारों का प्रदर्शन प्रशंसनीय रहा। इस मौके पर चेयरमैन सहकारी बैंक दान सिंह रावत, अर्जुन अवार्डी पद्म बहादुर मल्ल, ब्लॉक प्रमुख रंजीता तोमर, डॉ धर्मेन्द्र भट्ट, जीतेन्द्र नेगी, दिनेश रावत, सोमबाला, मेहर सिंह आदि शामिल रहे।

शिक्षकों की कमी से परेशान अभिभावकोंं ने शिक्षा निदेशक को घेरा

देहरादून। जौनसार बावर में शिक्षकों की कमी से परेशान अभिभावकों का गुस्सा आखिरकार फट पड़ा। सोमवार को नाराज अभिभावकों ने शिक्षा निदेशालय में प्रदर्शन करते हुए शिक्षा निदेशक आरके कुंवर का घिराव किया। करीब चार घंटे तक अभिभावक निदेशालय में डटे रहे।

25 अगस्त तक शिक्षकों की व्यवस्था करने और समय पर स्कूल न आने वाले शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई के आश्वासन पर ही वो शांत हुए।नवक्रांति स्वराज मोर्चा के नेतृत्व में स्थानीय लोग दोपहर एक बजे के करीब ननूरखेडा स्थित शिक्षा निदेशालय पहुंचे। निदेशक के आफिस में पहुंचकर उन्होंने शिक्षा विभाग के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। गजेंद्र जोशी, गंभीर सिंह चौहान, विपिन जोशी ने कहा कि जौनसार-बाबर में अधिकांश स्कूलों में शिक्षकों की काफी कमी है। यहां तैनात शिक्षक विकासनगर, देहरादून और ऋषिकेश में रहते हैं और रोजाना आना-जाना करते हैं। कई बार शिक्षक स्कूल आते ही नहीं है। इससे पढ़ाई व्यवस्था चौपट होती जा रही है।मुंधान इंटर कालेज में एक भी शिक्षक नहीं है।
 
 
हाजा जूनियर हाईस्कूल में 125 छात्रों पर एक ही शिक्षक है। बाढ़ो जूनियर हाईस्कूल में भी यही हाल है। शिक्षकों की कमी और शिक्षा अफसरों के रवैये से अभिभावक इतने नाराज थे कि बातचीत के दौरान कई बार माहौल गरमा भी गया। सूचना मिलने पर महानिदेशक-शिक्षा कैप्टेन आलोक शेखर तिवारी ने भी निदेशक और दून के सीईओ एसबी जोशी से फोन पर जानकारी ली और कार्रवाई के निर्देश दिए। अभिभावकों ने साफ ऐलान कर दिया कि जब तक ठोस कार्रवाई नहीं होगी, तब तक वो निदेशालय से जाने वाले नहीं है। मामला गरमाता देख निदेशक ने तत्काल सीईओ एसबी जोशी को बुलाया। उन्होंने वादा किया कि 25 अगस्त तक स्कूलों में शिक्षकों की नियुक्ति कर दी जाएगी। साथ ही स्कूल देर से आने वाले शिक्षकों पर शिकंजा कसा जाएगा। शाम पांच बजे अभिभावक लौट गए। गजेंद्र जोशी ने कहा कि यदि 25 अगस्त तक ठोस कार्रवाई न हुई तो नवक्रांति स्वराज मोर्चा आंदोलन छेड़ देगा।
 
इस मौके पर सचिन जोशी, रविन्द्र नेगी, जयपाल चौहान, अतर सिंह, राजवीर सिंह राठौर, श्याम सिंह राठौर, अजीत जोशी, विनय, सिकंदर, अभिषेक, जयवीर आदि भी मौजूद रहे। शिक्षकों पर कसा जाएगा शिकंजा देहरादून। तैनाती स्थल में रहने के बजाए विकासनगर, देहरादून और ऋ षिकेश से अपडाउन करने वाले शिक्षकों पर शिकंजा कसा जाएगा। दून के सीईओ एसबी जोशी ने बताया कि नियमित रूप से जांच अभियान चलाया जाएगा। इस बाबत अधिकारियों केा निर्देश दिए जा रहे हैँ। स्कूल से गैरहाजिर रहने वाले और समय पर न आने वाले शिक्षकों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। ऐसे शिक्षकों का अतिदुर्गम क्षेत्र के स्कूलों में तबादला करने के आदेश शासन पहले ही दे चुका है। इस पर कड़ाई से अमल कराया जाएगा।

छात्र संघ चुनाव के लिए 76 प्रत्याशियों नामांकन कराए

देहरादून। डीबीएस पीजी कॉलेज छात्र संघ चुनाव के लिए रिकार्ड 76 प्रत्याशियों नामांकन कराए हैं। सर्वाधिक 42 नामांकन विश्वविद्यालय प्रतिनिधि पद के लिए हुए हैं। कॉलेज में 26 अगस्त को चुनाव होने हैं। यहां अध्यक्ष पद एबीवीपी और जय बदरी जय केदार संगठन के बीच सीधा मुकाबला है।

मुख्य चुनाव अधिकारी डा.शैल वशिष्ठ ने बताया कि सोमवार को छात्र संघ के सभी पदों के लिए नामांकन हुए। कुल 88 नामांकन पत्र लिए गए थे, जिनमें 76 ने पर्चे दाखिल किए। नामांकन प्रक्रिया पूरी तरह शांतिपूर्ण रही।
 
 नामांकन के साथ ही कॉलेज में चुनाव प्रचार ने भी तेजी पकड़ ली है। यहां अध्यक्ष पद पर विद्यार्थी परिषद से योगेश घाघट और एनएसयूआई समर्थित जय बदरी जय केदार संगठन से अजय पुष्पवान ने नामांकन कराया है। सचिव पद के लिए मानसी और संध्या रौथाण ने नामांकन किया। कोषाध्यक्ष पद के लिए अमित, अंकित कोहली, अभिजीत और प्रेरणा नेगी ने नामांकन कराया है। कार्यकारिणी सदस्य के लिए एक भी पर्चा नहीं भरा गया। उपाध्यक्ष पद के लिए 14, संयुक्त सचिव पद के लिए 12 और विश्वविद्यालय प्रतिनिधि पद के लिए 42 नामांकन हुए हैं।

अवैध शराब के साथ तीन तस्कर गिरफ्तार

 पिथौरागढ़। सीमांत जिले पिथौरागढ़ में अवैध शराब तस्करी के मामले थम नहीं रहे हैं। सोमवार को पुलिस को जिले में लाई जा रही अवैध शराब पकडऩे में बड़ी सफलता मिली। पुलिस को एक टोयटा क्वालिस गाड़ी में छिपाकर लाई जा रही 408 बोतल अवैध शराब बरामद हुई। पकड़ी गई शराब प्रदेश से बाहर की है। इस मामले में पुलिस ने दिल्ली और हरियाणा के तीन तस्करों को गिरफ्तार किया है। एसओजी टीम को मुखबिर से जनपद में भारी मात्रा में अवैध शराब लाए जाने की सूचना मिली थी। इस सूचना पर एसओजी प्रभारी प्रकाश सिंह मेहरा, कांस्टेबल मनमोहन भंडारी, अशोक कालाकोटन, अनिल मर्तोलिया, राजकुमार की टीम ने घाट चौकी पर तैनात हेमंत पंत और दीपक फत्र्याल को साथ लेकर घाट क्षेत्र में वाहनों की जांच शुरू की। चेकिंग के दौरान वाहन संख्या डीएल-3 सीएएम-0110 टोयटा क्वालिस गाड़ी से 408 बोतल अवैध शराब बरामद की। वाहन की सीट और फ्लोर काटकर बनाए गए बाक्स में शराब को छिपाया गया था।

 एसओजी टीम ने वाहन चालक संदीप कुमार पुत्र राजवीर सिंह निवासी ग्राम मेहंदीपुर, हरियाणा, सूरज सिंह पुत्र स्व. मोहन सिंह निवासी गोपालनगर नजफगढ़ दिल्ली और सुमित राठी पुत्र स्व. हीरालाल निवासी दयानंदनगर जिला झज्जर हरियाण को गिरफ्तार कर लिया है। तीनों के खिलाफ आबकारी अधिनियम के तहत मुकदमा कायम कर लिया गया है। नेटवर्क का पता लगाने के लिए तस्करों से पूछताछ की जा रही है। पुलिस अधीक्षक अजय जोशी ने तस्करों को पकडऩे वाली टीम को 2500 रुपये का नकद पुरस्कार देन की घोषणा की है।

मांगों को लेकर आशाओं ने किया प्रदर्शन

देहरादून। सीटू से सम्बद्घ उत्तराखंड आशा स्वास्थ्य कार्यकत्री यूनियन ने दून महिला चिकित्सालय में धरना व प्रदर्शन कर मुख्य चिकित्साधिकरी ड$ मीनाक्षी जोशी को विभिन्न मांगों से सम्बन्धित ज्ञापन भेजा। इस अवसर पर मुख्यमंत्री के स्वास्थ्य सलाहकार को भी ज्ञापन दिया गया।
     इस पर यूनियन की प्रांतीय अध्यक्ष शिवा दुबे ने कहा की सरकार दुवारा आशाओं का शोषण किया जा रहा है जिसे आशय कभी बर्दास्त नही करेंगीं। उन्होंने बताया की हमारी वार्षिक प्रोत्साहन राशी का भुगतान तीन वर्षाे से नही किया गया है जिस पर आधिकारी कुंडली मर कर बैठे है। पिछली सरकार द्वारा आशाओं को 2000 रु$ मानदेय प्रति माह देने का जीओ पास किया गया था किन्तु इस सरकार दुवारा अभी तक भी उसे लागू नही किया गया है।
 
 आशाओं के बकाया सभी भुगतान शीघ्र करने, 45वें श्रम सम्मेलन की शिफरिशें लागू करने, आशाओं को सामाजिक सुरक्षा देने आदि मांगों को लेकर यह प्रदर्शन किया गया। उन्होंने कहा कि यदि मांगों पर कार्यवाही नही की जाती है तो वे व्यापक आन्दोलन करेंगीं। उन्होंने बताया कि वे एमआर टीकाकरण का बहिष्कार करेंगीं व 25 अगस्त से परेड ग्राउंड धरनास्थल पर अनिश्चित कालीन ारना देंगीं। इस अवसर पर सीटू के जिला महामंत्री लेखराज ने भी विचार व्यक्त करते हुये सरकार को आड़े हाथो किया। इस अवसर पर कलावती, लोकेश, अनीता अग्रवाल, सुनीता तिवारी, मंजू ठाकुर, हेमलता, अनीता भट्ट, सरिता नेगी, लक्ष्मी रावत, उर्मिला राणा, जमुना जोशी, रोशनी, रीता देवी आदि बड़ी संख्या में आशा वर्कर उपस्थित थी।

खगोलीय दूरबीन निर्माण कार्यशाला का समापन

 देहरादून। केंद्रीय विद्यालय हाथीबडक़ला में आयोजित पांच दिवसीय खगोलीय दूरबीन निर्माण कार्यशाला के समापन पर 20 टेलीस्कोप तैयार करने वाले छात्रों को प्रमाण पत्र भी दिए गए।

कार्यशाला में छात्रों ने फोकल लेंथ जांचना, उसके अनुसार ट्यूब काटना, ट्यूब के भीतरी एवं बहारी हिस्सों में पेंट करना और दूरबीन के अलग-अलग हिस्सों को जोडऩा सीखा। समापन कार्यक्रम में छात्रों ने आकर्षक सांस्कृतिक कार्यक्रम भी पेश किए। सोमवार को कार्यशाला के समापन कार्यक्रम की शुरुआत सरस्वती वंदना से हुई। इसके बाद केंद्रीय विद्यालय संगठन मुख्यालय के सहायक आयुक्त ताजुद्दीन शेक ने बतौर मुख्य अतिथि छात्रों को पुरस्कृत करते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की।
 
 
इसके साथ ही उन्होंने विज्ञान एवं तकनीकी के क्षेत्र में केंद्रीय विद्यालय संगठन द्वारा किए गए इस प्रयास की सराहना की7 केंद्रीय विद्यालय संगठन देहरादून संभाग के उपायुक्त सोमित श्रीवास्तव ने बताया कि कार्यशाला में 20 टेलीस्कोप दस देहरादून संभाग और 10 दिल्ली संभाग के छात्रों ने तैयार किए। इस मौके पर उन्होंने मेजबान विद्यालय को बधाई भी दी। इस मौके पर विनोद कुमार, अरविंद, प्रधानाचार्य डा. अंशुम शर्मा सहित अन्य लोग मौजूद थे।
146 महिला कांस्टेबल बनीं उत्तराखंड पुलिस का हिस्सा
 
नई टिहरी। चम्बा पुलिस लाइन के मैदान में एडीजी अशोक कुमार और एसएसपी विमला गुंज्याल के नेतृत्व में पासिंग आउट परेड का आयोजन किया गया, जिसके बाद 146 महिला कांस्टेबल उत्तराखंड पुलिस का हिस्सा बन गई हैं। बैंड की मधुर धुन के बाद महिलाओं ने भव्य परेड की। इसके बाद विभिन्न क्षेत्रों में बेहतर कार्य करने वाली महिला जवान को सम्मानित किया गया। एसएसपी विमला गुंज्याल ने रिक्रूट की ट्रेनिंग रिपोर्ट पेश की। पासिंग आउट परेड के बाद एडीजी अशोक कुमार ने महिला कांस्टेबलों को देश सेवा और कर्तव्यनिष्ठा की शपथ दिलायी साथ ही कहा कि अतिथि देवो भव: की तर्ज पर नागरिकों के साथ पेश आना है।

उत्तराखण्ड तकनीकी विश्वविद्यालय ने आमंत्रित किए प्रस्ताव

देहरादून। उत्तराखण्ड तकनीकी विश्वविद्यालय द्वारा एक ऐसा डिवाइस विकसित करने के लिए शोध प्रस्ताव आमंत्रित किए गए हैं जो कि वाहन चालक के निर्धारित मात्रा से अधिक अल्कोहॉल सेवन करने पर वाहन के इंजन को स्वत: ही बंद कर देगा। 

गौरतलब है कि हाल ही में राजभवन में विश्वविद्यालयों के कुलपतियों के साथ बैठक में राज्यपाल डॉ$ कृष्ण कांत पाल ने वाहन दुर्घटनाओं को रोकने के लिए ऐसे डिवाईस पर शोध करने के निर्देश दिए थे जिसे कि वाहन चालक की सीट के पास वाहन के इंजन सर्किट से जोड़ा जा सके। अगर वाहन चालक ने निर्धारित मात्रा से अधिक अल्कोहॉल का सेवन कर रखा हो तो यह डिवाईस इसका पता लगा लेगा और इंजन स्वत: ही बंद हो जाएगा। यदि ऐसी तकनीक विकसित हो जाती है तो वाहन दुर्घटनाओं पर काफी रोक लगेगी।
 
 राज्यपाल के निर्देशों के क्रम में उाराखण्ड तकनीकी विश्वविद्यालय ने ऐसे इनोवेशन के लिए इच्छुक छात्र-छात्राओं, रिसर्च स्कॉलर्स व फेकल्टी से शोध प्रस्ताव आमंत्रित किए हैं। प्रस्ताव में फ्लो-डाईग्राम सहित सम्पूर्ण प्रक्रिया, हार्डवेयर व साफ्टवेयर आवश्यकताओं व अनुमानित लागत का पूरा जिक्र होना चाहिए। प्रस्ताव दिनंाक 20 सितम्बर 2017 तक जमा कराया जा सकता है। विश्वविद्यालय द्वारा सबसे अधिक उपयुक्त प्रस्ताव का चयन कर इसे विकसित करने के लिए आवश्यक शोध एवं विकास (आर एंड डी) सहयोग प्रदान किया जाएगा।                                      
 

दोषियों के खिलाफ कार्रवाई न हुई तो यूकेडी करेगा आंदोलन: ध्यानी

 देहरादून। उत्तराखंड क्रांति दल के केन्द्रीय प्रवक्ता सुनील ध्यानी ने कहा है कि भाजपा एवं कांग्रेस की सरकारों में लगातार घोटाले हुए है और जांच आज तक लंबित है।  शीघ्र ही दोषियों के खिलाफ कार्यवाही नहीं की गई तो सडकों पर उतरकर जनांदोलन किया जायेगा। दल के केन्द्रीय कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत करते हुए ध्यानी ने कहा है कि सहकारिता किसी भी राज्य के विकास की अवधारणा के लिए रीढ मानी जाती है लेकिन सहकारिता में भी एक बडा घोटाला जो सन 2002  से अभी तक का हुआ है। निबंधक सहकारी समितियां उत्तराखंड ने उत्तराखंड राज्य सहकारी संघ लिमिटेड के साथ साथ सोयाबीन फैक्ट्री हल्दूचौड एवं सीडब्ल्यूएफ रानीखेत में व्यान्त अनियमितताओं की पुष्टि हुई है जो लगातार सन 2002 से अभी तक कांग्रेस व भाजपा के शासनकाल में हुए है। उनका कहना है कि ीूल्य समर्थन योजनान्तर्गत वर्ष 2009 से 2012 तक वारदाना, बोरों के भुगतान में अनियमितता पाई है जिसमें अधिकारी एवं कर्मचारी संलिन्त है।

 
 
उनका कहना है कि वर्ष 2004-05 से 2016 तक कोआपरेटिव ड्रग्स फैक्ट्री रानीखेत में आुयर्वेदिक दवाईयों की एवज में एजेंट कमीशन 17 करोड आठ हजार 5800 की अनियमितता पाई गई है। 2008-09 से 2016-17 तक उत्तराखंड स्टेट कोआपरेटिव मेडिसन्स एवं फार्मास्यूटिक्लस लितिटेड हल्दूचौड में 47 लाख से अधिक का घोटाला हुआ है और इस ओर सिकी भी प्रकार की अभी तक कोई कार्यवाही नहीं है और अजबपुर कला स्थित सहकारिता भवन निर्माण जो की उत्तर प्रदेश निर्माण निगम द्वारा बनाया गया है और उसकी गुणवत्ता व कार्य प्रणाली पर भी प्रश्न चिन्ह लगाये गये है। इस पूरे मामले की जांच की जानी चाहिए और नोटबंदी के दौरान सहकारी बैकों में जमा राशि की भी सपष्ट जांच करायी जाये और जल्द ही कार्यवाही नहीं की गई तो उक्रांद सडकों पर उतरकर आंदोलन करेगा। इस अवसर पर महानगर अध्यक्ष संजय क्षेत्री आदि भी मौजूद थे।

ढैंचा बीज घोटाला लोकायुक्त की राह में बना रोड़ा : नेगी

 देहरादून। जनसंघर्ष मोर्चा कार्यकर्ताओं की बैठक को सम्बोधित करते हुए जनसंघर्ष मोर्चा के अध्यक्ष एवं जीएमवीएन के पूर्व उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी ने कहा कि प्रदेश में प्रचंड बहुमत हासिल कर सत्ता में आयी भाजपा ने जनता से वादा किया था कि वह प्रदेश की जनता को एक शशक्त लोकायुक्त देंगे, लेकिन लोकायुक्त की राह में अड़चन डालकर टीएसआर सरकार ने दर्शा दिया है कि भाजपा में भ्रष्ट नेताओं की लम्बी फेहरिस्त है तथा इसके लागू होने से सबसे पहले प्रदेश के मुख्यमन्त्री (त्रिवेन्द्र सिंह रावत) और मन्त्री लपेटे में आ जायेंगे। 

 
 
उनका कहना है कि ऐसे में जब प्रदेश के मुख्यमन्त्री ही भ्रष्टाचार के घेरे में हैं तो कौन लायेगा लोकायुक्त, नेगी ने हैरानी जतायी कि तत्कालीन सीएम खण्डूरी ने जो लोकायुक्त  राष्ट्रपति से पास कराया था वो भी अत्याधिक मजबूत नहीं था, क्योंकि उनके लोकायुक्त में यह व्यवस्था की गयी थी कि मुख्यमन्त्री, मन्त्री और विधायक के खिलाफ तभी जॉंच प्रक्रिया लागू होगी जब लोकायुक्त समेत समस्त बैंच इस मामले में परमिशन देगी। प्रदेश सरकार ने आनन-फानन में शपथ ग्रहण के दिन ही घोषणा कर दी थी कि लोकायुक्त लायेंगे, लेकिन जैसे ही प्रदेश के मुखिया ने उसका अध्ययन किया तो उन्हें अहसास हुआ कि सबसे पहले वो ही लपेटे में (मुख्यमन्त्री त्रिवेन्द्र रावत) ढैंचा बीज घोटाले व अन्य मामलों में आयेंगे तथा उन्हें जेल की हवा खानी पड़ेगी।
 
उनका कहना है कि ढैंचा बीज घोटाले के जिन्न से घबराकर रावत ने उक्त मामले को विपक्ष की सहमति के बिना प्रवर समिति को सौंप दिया। प्रदेश में जिस तरीके से भ्रष्टाचार ने अपनी जड़े जमा ली हैं उसको उखाडऩे के लिए लोकायुक्त की अत्यन्त आवश्यकता है। मोर्चा महासचिव आकाश पंवार ने कहा कि प्रदेश के रोजाना नये-नये घोटाले हो रहे हैं तथा कई घोटालों से धूल छंट रही है, ऐसे में लोकायुक्त लागू न करना भाजपा सरकार की सबसे बड़ी नाकामी है। जनसंघर्ष मोर्चा सरकार के खिलाफ आन्दोलन करेगा। इस अवसर पर बैठक में डॉ0 ओ0पी0 पंवार, दिलबाग सिंह, ओ.पी. राणा, आशीष कुमार, चौधरी मामराज, चौधरी अमन, गजपाल रावत, हाजी जामिन, विक्रम पाल, इसरार, मौहम्मद इस्लाम, फते आलिम, विनोद गोस्वामी, विरेन्द्र सिंह, सचिन कुमार, इदरीश, मौहम्मद यासिन, जाबिर हसन, जयपाल सिंह आदि मौजूद थे।

बैंक की नौ यूनियन रहेंगी हड़ताल पर

 देहरादून। केन्द्र सरकार की जन विरोधी एवं बैकों के निजीकरण के खिलाफ बैंक अधिकारी एवं कर्मचारी 22 अगस्त को देशव्यापी हड़ताल पर रहेंगें, और यहां उत्तराखंड में भी एक दिवसीय हड़ताल की जायेगी और दो हजार शाखााओं के 15 हजार से अधिक अधिकारी एवं कर्मचारी शामिल होंगें।

उत्तरांचल बैंक इम्पलाइज यूनियन के कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत करते हुए एआईओबीए के सचिव प्रमोद कुकरेती ने कहा है कि इस हडताल में सार्वजनिक क्षेत्र एवं ग्रामीण बैकों के दस लाख अधिकारी एवं कर्मचारी शामिल होंगें। बैंक कर्मचारियों के समस्त पांच घटकों एवं अधिकारी संघों के चारों घटक इस हडताल में सम्मिलित है। उनका कहना है कि इस हडताल से पाच सौ करोड रूपये का कारोबार प्रभावित होने की संभावना है। उनका कहना है कि केन्द्र सरकार की हठधर्मिता एवं श्रम विरोधी नीतियां मुख्य रूप से इस हडताल के लिए जिम्मेदार है। उनका कहना है कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैकों का निजीकरण किसी भी दशा में नहीं किया जाना चाहिए और बैंकों का विलय एवं पुर्नगठन नहीं किया जाना चाहिए और देश के बडे घरानों को दिये गये ऋण जीएनपीए हो गये है उनको राईट ऑफ ना किया जाये।
 
 उनका कहना है कि जान बूझकर बैंक ऋणों को वापस न करना आपराधिक मामला समझा जाये और तदनुसार कार्यवाही की जाये। डूबे बैंक ऋणों की वसूली के संबंध में संसदीय समिति की सिफारिशों के अनुसार कार्यवाही किये जाने की आवश्यकता है। उनका कहना है कि बैंक के शीइा्र अधिकारियों को बुरे ऋणों के संबंध में जिम्मेदार बनाया जाये और उनकी जवाबदेही निश्चित की जाये। उनका कहना है कि बैंक बोर्ड ब्यूरो को समाप्त किया जाये और नोंटबंदी के दौरान बैकों पर पडे आर्थिक बोझ की भरपाई सरकार द्वारा की जाये और जीएसटी के नाम पर ग्राहकों से अतिरिक्त शुल्क की वसूली न की जाये और आठ लाख करोड रूपया अभी पूंजीपतियों के पास फंसा हुआ है और उसकी वसूली नहीं हो पा रही है। उनका कहना है कि नोटबंदी के दौरान बैंक कम्रचारियों व अधिकारियों के जो भी मामले हुए है उनको सुलझाया जाये और बैकों के कर्मचारी व अधिकारी निदेशकों की नियुक्ति तुरंत की जाये। अनुकंपा के अधिकार पर बैकों में नियुक्ति प्रारंभ की जाये और ग्रेच्युटी भुगतान अधिनियम 1972 के आधीन बैंक कर्मचारियों को दी जाने वाली ग्रेच्युटी की राशि को बढाया जाये और बढी राशि और छुटटाी के नकदीकरण की राशि को आयकर अधिनियम के अंतर्गत आयकर मुक्त रखा जायेगा।
 
उनका कहना हे कि पेंशन संबंधी नियमों में सुधार किये जाये और केन्द्र सरकार एवं रिजर्व बैंक में प्रचलित पेंशन नियमों को बैंकों में लागू किया जाये तथा साथ ही एनपीएस के स्थान पर सामान्य पेंशन योजना को बैकों में लागू किया जाये और सभी कैडरों में पर्याप्त भर्ती की जाये और इसके लिए कार्ययोजना तैयार की जानी चाहिए। इस अवसर पर वार्ता में चन्द्रकांत जोशी, बी पी सुंदरियाल, विनित कुमार, मुरारीलाल नौटियाल आदि उपस्थित थे। 

तीज उत्सव में बिखरे गोरखा लोक संस्कृति के रंग

देहरादून। गढ़ी कैंट स्थित शहीद जसवंत सिंह (महेन्द्रा) ग्राउंड में हाम्रो स्वाभिमान ट्रस्ट और गोर्खाली तीज उत्सव कमेटी की ओर से गोर्खाली महिला हरितालिका तीज उत्सव मेले में सांस्कृतिक कार्यक्रमों की धूम रही। बतौर मुख्य अतिथि आचार्य बालकृष्ण ने कार्यक्रम में शिरकत की। विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने कहा कि हरितालिका तीज उत्सव में गोर्खा समाज की भाषा, संस्कृति, परम्पराओं को देखकर वे अभिभूत हैं। वहीं आयोजकों ने मुख्य अतिथि समेत सभी विशिष्ट अतिथियों को साफा व स्मृति चिन्ह भेंट कर स्वागत किया।
 
 आयोजकों ने तीज वृद्धा सम्मान, तीज प्रिंसेज, तीज क्वीन, मेधावी छात्रों का भी सम्मान किया। निंबूवाला की अनुराधा, शीतल सेन ने शिव आराधना प्रस्तुत की। नया गांव के शालिनी ग्रुप के कलाकारों ने गोरखालैंड पर नृत्य किया। ठाकुरपुर के नीतू आले ग्रुप ने नेपाल की छोरी गीत पर मारूनी नृत्य किया। छह साल की अनुष्का थापा ने मैं तो मगर की छोरी..पर शानदार नृत्य किया। ठाकुरपुर की मोनिका थापा ग्रुप ने तीज को बेला मैइता आये कू, कौलागढ़ की स्वाति ग्रुप ने फुलबूटे सारि..गीत पर नृत्य किया। इसके अलावा अन्य गीतों में हामी त ह्वे गोर्खाली, तुलसी आंगन म रोपौला, नाई न भननू ल, जाऊ हे माया गीत प्रस्तुत किया। कार्यक्रम में सांसद माला राज्य लक्ष्मी शाह, मेयर विनोद चमोली, रजनी रावत, डा.सुशांत राज, आचार्य विपिन जोशी आदि भी मौजूद थे।

हड़ताल से चरमाई डाक सेवा

 देहरादून। अखिल भारतीय ग्रामीण डाक सेवक संघ के बैनर तले अनिश्चितकालीन हड़ताल पर बैठे ग्रामीण डाक सेवकों ने लगातार छठे दिन भी काम काज ठप्प रखा। इस दौरान डाक सेवकों ने जीपीओ परिसर में मांगों को लेकर प्रदर्शन किया। साथ ही विभाग के खिलाफ नारेबाजी भी की। जीडीएस के हड़ताल पर जाने से कई ब्रांच कार्यालयों में कामकाज प्रभावित हो रहा है। दून मंडल में करीब 252 ब्रांच कार्यालय हैं।

 यहां अधिकतर जीडीएस हड़ताल पर हैं। मौजूदा समय में हरिद्वार-दून यानी दून मंडल के करीब पांच सौ से अधिक जीडीएस हड़ताल पर हैं। ग्रामीण डाक सेवक विभागीयकरण और पेंशन लाभ देने की मांग कर रहे हैं। सोमवार को प्रदर्शन कर रहे ग्रामीण डाक सेवकों को संबोधित करते हुए दून मंडल के अध्यक्ष राजाराम पांडेय ने कहा कि जीडीएस लंबे समय से वित्तीय लाभ की मांग कर रहे हैं। लेकिन उनकी मांग पर कोई गौर नहीं किया जा रहा। उन्होंने कहा कि ग्रामीण डाक सेवक कमेटी की सिफारिशों को जल्द लागू किया जाए। आठ घंटे कार्य के साथ ऐसे कर्मचारियों का विभागीयकरण किया जाए। साथ ही लक्ष्य निर्धारण के नाम पर ग्रामीण डाक सेवकों का उत्पीडऩ रोका जाए। उन्होंने कहा कि जब तक उनकी मांग पूरी नहीं की जाती वह अपनी अनिश्चित कालीन हड़ताल जारी रखेंगे।

स्कूलों में एक से 15 सितंबर तक चलेगा स्वच्छता पखवाड़ा

 देहरादून। सरकारी स्कूलों में एक से 15 सितंबर तक स्वच्छता पखवाड़ा चलेगा। इस दौरान छात्रों को स्कूल को स्वच्छ रखने, नाखून काटने, जैविक-अवैविक कूड़े में अंतर, पौधारोपण आदि सिखाया जाएगा। इसके साथ ही स्वास्थ्य एवं स्वच्छता के क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले तीन स्कूलों को पुरस्कृत भी किया जाएगा।
 
  सर्व शिक्षा अभियान की जिला परियोजना अधिकारी हेमलता भट्ट ने बताया कि स्वच्छता पखवाड़े की शुरुआत छात्र स्वच्छता की शपथ लेकर करेंगे। इसके साथ ही पौघारापेण, जल संरक्षण, कूड़ा निस्तारण, पत्र लेखन आदि प्रतियोगिताएं करवाई जाएंगी। जबकि समापन के दिन सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले स्कूलों और छात्रों का सम्मान। उन्होंने बताया कि इसके निर्देश सभी खंड शिक्षा अधिकारी, उप शिक्षा अधिकारी और नगर शिक्षा अधिकारी को दे दिए गए हैं।

किरन व विमला को दी महिला कांग्रेस में जिम्मेदारी

देहरादून। देहरादून महानगर महिला कांगे्रस की अध्यक्ष कमलेश रमन ने बताया कि प्रदेश महिला कांगे्रस कमेटी की अध्यक्ष सरिता आर्य ने किरन सिंह को जिला महिला कांगे्रस अध्यक्ष हरिद्वार एवं महानगर महिला कांग्रेस कमेटी का अध्यक्ष विमला पाण्डे को नियुक्त किया है।

 निवर्तमान जिला एवं महानगर महिला कांगे्रस कमेटी की अध्यक्षा मोनिका जैन एवं अंजू द्विवेदी को प्रदेश महिला कांगे्रस कमेटी का सचिव नियुक्त किया है। प्रदेश अध्यक्षा सरिता आर्य ने नव नियुक्त पदाधिकारियों से अपेक्षा की है कि व तत्काल पदभार ग्रहण कर कांगे्रस पार्टी को मजबूत करने के लिए कार्य करें।   

लायंस क्लब देहरादून का शपथ ग्रहण समारोह आयोजित

देहरादून। लायंस क्लब देहरादून द्वारा एक लोकल होटल में प्रेजीडेंट चुनाव 2017-18 के लिए अधिष्ठापन कार्यक्रम आयोजित किया गया। एमजेएफ लायन सुधीर मित्तल को टीम के नये प्रेजीडेंट के रूप में नियुक्त किया गया। इस अवसर पर एमजेएफ लायन रमेश चंद जैन बतौर चीफ गेस्ट उपस्थित रहे। कार्यक्रम में मुख्य वक्ता एमजेएफ अमिता गुप्ता ने कहा कि, क्लब का उद्देश्य गरीब व जरूररतमंद बच्चों व महिलाओं के उत्थान के लिए कार्य करना है।
 
 
 नई टीम को पूर्व डिस्ट्रिक्ट गवर्नर व स्थापना अधिकारी सुनील कुमार जैन ने शपथ दिलाई व उन्हें उनके पदों पर अधिष्ठापित किया । क्लब के फॉर्मर प्रेजीडेंट व चीफ गेस्ट रमेश चंद जैन ने सदस्यों द्वारा दिये गयेे योगदान के प्रति आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर चेयरमैन समारोह जीजी गर्ग, सेक्रेटरी सौरभ जिंदल, चंद्रगुप्त विक्रम, गोपाल के गुप्ता सहित अन्य लोग उपस्थित रहे। लायंस क्लब दुनिया की सबसे बड़ी समाज सेवी संस्था है। इसमें 200 से अधिक देशों में लगभग 46 हजार क्लबों में 1$ 4 मिलियन से भी अधिक मेंबर्स हैं।

.