Share Your view/ News Content With Us
Name:
Contact Number:
Email ID:
Content:
Upload file:

UTTARAKHAND DISASTER RESCUE & RELEIF OPERATIONS UPDATE

Till now, Matli, Bhatwari, Maneri, Harshil have been fully evacuated.

Rescue operations are ongoing in Badrinath but are being hampered due to inclement weather.
105606 stranded people rescued till date.
More than 19 helicopters are in Service today.
Food material and other civil supplies along with medical supplies are being air dropped by choppers in Rudraprayag,       Chamoli, Uttarkashi, Bageshwar and Pithoragarh Districts.
For providing relief, base camps have been set up at Gauchar, Matli and Joshimath. From these points the relief material will be distributed by air to all the affected villages.
In the next 03 days it will be ensured that there will be no food shortage in any affected village.
Till road connectivity is restored, the District Magistrates have been provided with helicopters to ensure that connectivity to affected villages is ensured.  These choppers will take supplies to the affected villages and also airlift ill or old people requiring medical attention.  They will also airlift all those people who have some important commitments like, interview, examination etc.
Army and civilian helicopters will operate for the next one month to give air connectivity to affected villages.  
All the District Magistrates have been instructed to start distributing GR (Gratuitous Relief) as new.
 
All the District Magistrates have been directed to make sure that HSD, Kerosene Oil and LPG are in sufficient quantity in the respective areas.
All the Secretaries of various departments and District Magistrates have been instructed to assess the damage caused to the public infrastructure and start reconstruction on top most priority.
In one week, IOC will carry out sorties in all the affected villages and provide oil and gas in these areas.
More than 5152 vehicles have been arranged by Transport department to ferry stranded people.
Free train tickets and Bus Tickets are being given to rescued people to reach their destinations.
All State Govt. Guest houses and Tourist Houses have been provided free of cost to stranded people.
Relief camps have been set up all across the state where food, medical and other amenities are being provided.
Cremation of dead bodies has started in Kedarnath.
Request letter has been to the Chief Secretaries of all the States to verify the details of the missing person from their states who had recently visited Uttarakhand.
Free access is being arranged for stranded pilgrims at various places where mobile /landline connectivity is available as to contact their next of kin.
Efforts have been geared up to ensure that the friends and relatives of those missing/affected get updated information regarding the situation on the ground. Every information is immediately being updated on the state website ( uk.gov.in ).
Efforts have also been intensified to have exact details of the missing persons and the facilities has been created in the state website so that the friends / relatives can upload details/photographs of their near and dear ones.
313 Doctors along with 4977paramedics have been employed to provide medical facilities. Medical team is doing DNA sampling of the dead bodies at Kedarnath. 
 
 
PWD has opened 1103 roads, deploying 364 heavy machinery and employing 5775 personnel.
Joshimath,Uttarkashi, Yamnotri and Guptkashi roads opened.
 
Electricity has been restored in 3283 affectedhamlet/habitations.  
Water supply restored in Badrinath, Pandukeshwar, Govinghat, Ghangria, Joshimath, Gopeshwar, Gauchar, Rudraprayag, Phata, Agaytsamuni, Srinagar, Uttarkashi and various other places.  More than 2300 personnel from the water supply department are working day and night to restore water supply in all the affected areas. More than 816 water supply schemes have been restored.
2379 MT of Wheat and 2875 MT of Rice has been sent to affected areas. There is no shortage of food in any affected area. Badri Kedar Temple Committee in Badrinath is running a langar and DM has provided all the necessary supplies.  Apart from the above hard hit districts, wheat stock of 13659.403 MT, rice stock of 12056.782 MT, sugar of 1242.964 MT is available. In addition to this 699.968 kilo litres of kerosene and 41845 LPG cylinders are available at district level.
9.4 lakh litres of Diesel and 4.76 lakh litres of petrol made available to affected areas.
Sufficient ATF has been sent to all affected areas.
103 crores released form State for relief operations.  DMs have been given a free hand to incur expenditure on rescue and relief operations.
2000 additional police personnel, 800 PRD Jawans of State government and 6500 army and para military people are engaged in rescue and relief operations.
 

ट्रस्ट ने कंधो पर ली 50 गांव की जिम्मेदारी

देहरादून। बीएसएफ  के बाद अब हिमालयन इंस्टीटयूट हॉस्पिटल ट्रस्ट ने भी आपदा प्रभावित 50 गांव की जिम्मेदारी अपने कंधो पर लेने की घोषणा की। 
पत्रकारों से रूबरू होते हुए ट्रस्ट के चेयरमैन डा. विजय धस्माना ने कहा कि पूर्व में भी १६५ गांवों में ट्रस्ट की ओर से पीने का पानी उपलब्ध कराया गया था और इनमें से २८ गांवों में पेयजल की लाईने ध्वस्त हो गई है और इन २८ गांवों में फिर से पेयजल की सुविधा मुहैया कराई जायेगी और टूटे हुए पाईपलाइनों की मरम्मत की जायेगी। उनका कहना है कि इस आपदा से प्रदेश ही नहीं देश के लोगों ने यह त्रासदी देखी है और इस आपदा ने घरो, दुकानों, होटलों, सडकों, वाहनों, पुलों का नामोनिशान मिटा दिया और देश एवं राज्य के अन्य भागों से संपर्क को काट दिया जिससे सरकार, सेना एवं अन्य नागरिकों द्वारा चलाये जा रहे बचाव अभियानों को भी चुनौतियो का सामना करना पड रहा है। .
 
आपदा का सर्वाधिक प्रभाव केदारनाथ धाम व उसके समीपवर्ती क्षेत्रें पर पडा है जहां सैकडों श्रद्धालुओं ने अपने प्रांण गंवा दिये। उनका कहना है कि हिमालयन अस्पताल ने २५० बेडो को आपदा पीडि़तों क े लिए विशेष रूप से चिन्हित किया है जहां आपदा पीडितों को उपचार भोजन एवं दवाईयां निशुल्क उपलब्ध कराई जा रही है और पीडितों की २४ घंटे सहायता को लोक संपर्क अधिकारी भी नियुक्त किये गये है। संस्थान द्वारा सिर की चोट व दिल के दौरे से पीडित मरीजों को गहन चिकित्सा केन्द्र व गंभीर चिकित्सा केन्द्र में भर्ती करवाया गया है। उनका कहना है कि आपदा से प्रभावित क्षेत्रों से बरामद किये जा रहे क्षत विक्षित व अन्य शवों की पहचान की जांच अस्पताल के न्याय विधि शास्त्र के विभागाध्यक्ष संजय दास को मृतकों की पहचान के उददेश्य से डीएनए के नमूने प्राप्त करने हेतु सरकार के साथ प्रभावित क्षेत्रों में हाथ से हाथ मिलाकर कार्य करने के लिए भेजा गया है इस उददेश्य के लिए संस्थान ने २००० डीएनए नमूना किट उपलब्ध कराये है और संस्थान न उन परिवारों जिनके कमाऊ सदस्य आपदा में मारे गये है उनके बच्चों की इंटर या उससे अधिक की शिक्षा के लिए छात्रवृत्ति देने का निर्णय लिया है और यह छात्रवृत्ति विद्यालय स्तरीय शिक्षा के अतिरिक्त योग्यवानों की व्यवसायिक शिक्षा के लिए भी उपलब्ध रहेगा। वार्ता में डाप्रकाश, डा. सुनील सैनी आदि मौजूद थे। 
 

Indian Air Force (IAF) recue helicopter crashes; eight dead

Dehradun : An Air Force helicopter crashed in Uttarakhand this evening, killing all eight people on board. There were three civilians and five crew members on the Airforce Mi-17. The Airforcen however, continued the rescue operations as normal withing minutes of the mishap.

The helicopter that crashed this evening had been sent on a rescue mission from the town of Gauchar, serving as a hub of relief and rescue operations, to Guptakashi and Kedarnath, the epicentre of the devastation caused by torrential rains in the hilly state.  
 
60 air force helicopters are being used along with some privately-owned ones. The risk under which the Air Force is  flying through treacherous terrain, air-lifting pilgrims and air-dropping commandos and soldiers to temporary camps was on display all day today.  Each time the rain let up, or the cloud cover improved, helicopters would head out.  
 
More than 90,000 people have been evacuated so far in efforts led by the military.  
 
On Monday, a private helicopter had crashed in Gaurikund and was on fire when an Air Force helicopter on a rescue mission nearby rescued the pilot.

FACT SHEET: Uttarakhand rescue and relief operations

• Despite bad weather which partially affected the air evacuation operations, the Army, ITBP, NDRF and BRO continued to press ahead with the relief and rescue activities. 

Army: • The Army evacuated 1375 persons today of which 368 were from Harsil and rest from Badrinath. • Tracks have been created from Harsil to Uttar Kashi to enable persons who are physically fit to walk down to Uttar Kashi and then proceed on vehicles. IAF: • IAF did 115 sorties from Dharasu and 20 from Shimla to evacuate 1095 persons from Harsil. However, due to bad weather the operations were severely affected. 

ITBP: • The ITBP evacuated 450 persons from Badrinath and 267 from Gangotri Maneri area. • The ITBP combed the Bhairon Chetti area and ensured that there are no survivors there. 

NDRF: • The NDRF rescued 120 persons today from Harsil. Dead bodies recovered in Kedarnath area were handed over to the local police. • NDRF also confirmed that there are no survivors left in Kedarnath, Bhairon Chetti area. 

BRO: • The BRO continued its operations to clear the passages between Tilwara and Rudra Prayag. • The access between Gupt Kashi to Tehri was also cleared. 

Petroleum: • The supplies of ATF, LPG and other commodities are comfortable to meet the requirements of the IAF as well as of the local population. 

Telecommunications: • The BSNL has restored all its towers except four which are in Kedarnath, Dharchula, Augustya Muni and Narayan Bagar. • Out of 72 telephone exchanges that were down 44 have been restored. • 75 satellite phones are in use. Another 25 are being imported from Hong Kong for use by the agencies involved in rescue work. • BSNL helpline numbers have received number of calls seeking information on location of missing persons. • The private telecom operators have also set up similar helplines. 

Railways: • Railways is running a train from Haridwar to Delhi at 2200 hrs. today. 

Rescue and Relief Operation by NDRF and ITBP in Uttarakhand

National Disaster Response Force (NDRF) teams today screened out the areas of Kedarnath, Jungle Chatti, Gaurikund, Guptkashi, Sonprayag, Bhairav Chatti and Gaddi in Uttarakhand and rescued 59 persons. Besides this, the teams of NDRF and Indo Tibetan Border Police (ITBP) recovered Rs.1,14,83,360 from plunderers. NDRF used Unmanned Aerial Vehicle (UAV) to screen the whole area of Kedarnath axis to rule out the presence of survivors in the inaccessible places. 

 
Till now, NDRF has rescued 5941 persons and retrieved 125 dead bodies by search and rescue operations besides helping civil administration in distributing relief materials. 
 
More than 200 ITBP expert mountaineers have constructed a rope bridge on Alakananda river at Lambagad with three ropes. This has tripled the number of victims being evacuated through rope. By 1200 hrs. today, ITBP has evacuated about 500 yatris through this rope bridge.

Uttarakhand State Government Disaster Relief operations update

1. Officer’s postings and mobilization:-

a. Government has appointed 5 senior IAS officers for disaster relief works.  
b. Mr.  Umakant Pawar, (Senior Secretary to Govt. of UK) has been made the nodal officer for all air relief and rescue operations.  
c. Dr. Pankaj Kumar Pandey, IAS, has been appointed as the nodal officer for co-ordination works in Badrinath, Chamoli.  
d. Mr.  Ravinath Raman, IAS, has been appointed nodal officer for Guptakashi, Rudraprayag.  
e. Shri. Sachin Kurve, IAS has been appointed as nodal officer for evacuation and relief works in Gangotri, Uttarkashi. 
f. Shri. Deepak Rawat, IAS,  has been posted in Dharchula, Pithoragarh for the necessary coordination.  
g. Shri Ranjit Sihna, IAS, who is presently posted as Upadhyaksh, HDA has been assigned with the duty of evacuation of people in Haridwar and arranging all logistics to arrange their transport to their respective home towns.  He is also to arrange a relief camp for people to avail medical facilities along with food.  
h. Shri Gunwant, PCS has been posted as SDM, Rudraprayag to give an extra hand to the existing machinery along with Shri. Harak Singh Rawat, PCS who has been posted as ADM. 
i. Shri Hansadutta pandey, PCS is posted to Gangotri, Shri. Shrish kumar, PCS to Harshil, uttarkashi, Shri Ashok Kumar Joshi, SDM, to Fata, Rudraprayag, Shri. Trilok Singh, SDM, to Gupta kashi, Rudraprayag, and Shri. Bharath lal firmal, PCS to Dharchula to oversee rescue and relief in these areas.
j. 1640 Patwaris, 152  Kanungoes, 95 Naib tehsildars, 79 tehsildars are actively doing the relief works in the districts coordinating and using the help received from various quarters.
k. DGP Police has posted additional men for relief operations.  The DIG of Garhwal is in Rudraprayag monitoring the rescue operations.  Neelesh Barane, IPS has been posted in Rudraprayag for evacuation works, as he had served earlier in the district as S.P.  One commandant has been posted in Kedarghati in Rudrprayag along with the S.P of (SCRB).  Around 20 senior and middle level officers along with 2000 additional police force has been deployed for  relief operations.
 
2. Transportation facilities:-
a. The state government is providing each evacuated person with Rs. 2000 cash for any exigencies on their way back.  Arrangements have been made for free railway tickets for the pilgrims back home along with provision of extra 2 extra railway coaches in the regular trains.
b. Till now 94,000 stranded pilgrims have been evacuated till date from Rudrprayag, Chamoli, Uttarkashi, Tehri and Pithoragarh.   The state government has deployed More than 1000 public transport vehicles for taking the rescued people to their hometowns.
c. Free bus and train ticket are being issued to all stranded people for their respective destinations. For this special counters have been established in Dehradun and Haridwar.
d. More than 35 Helicopters have been deployed by the State government, army and airforce.
e. Sufficient quantities of ATF has already been sent to Joshimath, Gauchar , Bageshwar and Pithoragarh to ensure that relief operations take place smoothly.
 
3. Roads:-
a. PWD has opened 549 roads for movement and has deployed 364 heavy machinery and 5775 employees for this work. 
b. After opening of important roads till 23nd June 82,000 people have been evacuated from Guptkashi, Phata in Rudraprayag and from Chinyalisaur, Nalupani in Uttarkashi District and they have been safely taken to Haridwar and Dehradun. BRO has  deployed sufficient manpower and machinery to open their closed roads. Following roads have been opened :
i. Joshimuth-Karnprayag-Gauchor-Rudraprayag-Srinagar-Devprayag-Rishikesh (Via Srinagar Bypass – Chauras/Gangadarshan)
ii. Pauri – Devprayag
iii. Pauri-Srinagar
iv. Pauri-Dugadda-Najibabad
v. Guptkashi-Mayali-Chirbatiya-Tehri
vi. Uttarkashi-Chinyalisaur
vii. Karnprayag-Ranikhet-Kathgodam
viii. Dharasu-Barkot-Damta-Dehradun
ix. Mayali-Tilvara-Rudraprayag
x. Ghansali-Tipri-New Tehri
xi. Ghansali-Tipri-Devprayag
xii. Tehri-Chamba-Rishikesh
xiii. Chamba-Mussoorie
xiv. Chinyalisaur-Suvakholi-Mussoorie-Dehradun
xv. Tyuni-Chakrata-Sahiya-Kalsi-Dehradun
xvi. Almora-Ghat-Pithoragarh
xvii. Pithoragarh-Aslkot-Joljivi-Baluvakot
xviii. Bageshwar-Almora
xix. Barkot- to Yamunotri (6 Kms)
xx. Lumbgaon – Pipaldali-Tehri 
Senior Officers of PWD Department are tracking daily progress of these roads.
 
4. Civil supplies through PDS system:- 
a. The following material has been made available by the food and civil supplies department at the following places:- 
i. Chamoli
1. Wheat-452 MT
2. Rice-549 MT
ii. Rudraprayag
1. Wheat- 315 MT
2. Rice -238 MT
iii. Bageshwar
1. Wheat-401.250 MT
2. Rice-522 MT
iv. Pithoragarh
1. Wheat- 1210.432
2. Rice-1566 MT
b. Apart from the above hard hit districts, a wheat stock of 13704.89 MT, rice stock of 10563.671 MT, sugar of 2514.935 MT is available.  In addition to this 510.385 kilo litres of kerosene and 48,325 LPG cylinders are available at district level.
c. On special request of the state government the oil companies have made available 9.4 lakh litres of Diesel and 4.76 lakh litres of Petrol to the districts.
d. Sufficient food packets have been air dropped and distributed till now. Food packets are being sent to all the affected areas. Apart from that DMs have also started relief camps where food, shelter and other help is being provided.  The state government has ensured that there is no shortage of food and medicines in the affected areas.
 
5. Medical facilities:-
a. The government has posted 150 doctors and 2500 paramedics have been deployed in the affected areas for immediate medical attention to the injured.   Adequate medicines are made available in the camps.  1,00,000 chlorine tablets are sent along with bleaching powder for preventing contagious diseases.  The state government has mobilized 17 teams of doctors from Fortis and Gangaram hospital for assistance in the affected districts.
b. Many medical teams have been dispatched to remote areas and every medical team has 5 members in it.
 
6. Water supply arrangements:-
a. The water supply schemes of Chamoli in Badrinath, Pandukeshwar, Govindghat, Ghanghria, Joshimath, Gopeshwar, Karnaprayag, Gauchar has been temporarily restored.  
b. In Rudraprayag, the damaged water supply schemes of Rudraprayag town, Fata, Agasthmuni, Rampur and Seetapur, and Ukhimath has been restored successfully.  
c. In Pauri, Shrinagar and Shrikot water supply lines have been restored. 
d. In Uttarkashi, the Uttarakashi town water supply scheme, Badkot water supply scheme, Gangotri water supply scheme and Yamunotri water supply scheme along with Netala scheme of Harshil has been restored.  For the maintenance of these supply lines and for provision of water through tankers 2320 personnel have been deployed in the site.
7. Power lines:-
a. For reinstating the power lines 30 officers and 200 employees of the power department have been working day and night to restore power in the affected areas.
8. Fund Realease:-
a. SDRF has sanctioned 103 crores for Relief operations.  The state government has ensured that there is no shortage of funds for the rescue operations.
 
 
 
9. Other deployments:-
a. 600 PRD (Prantiya Rakshak Dal) personnel and near about 800 gram praharis  have been deployed for relief works in various affected regions.   PRD has mobilized the Mahila mangal dals and Yuva mangal dals for the relief works.  The volunteers trained under District Disaster Management have been deployed in the affected areas.  2000 police personnel who have been specially trained in rescue operations during disaster have been mobilized and deployed.
b. 500 people from forest department have been deployed for assistance in evacuation works.
 
10. Evacuation works:-
a. All people evacuated from Kedarnath and Jangal cahtti areas.
b. The 5000 pilgrims stranded in Badrinath have been provided with food packets, medicines as per requirement and stay arrangements have been made for them.  
c. A team of Indian Navy along with divers has been deployed.
d. The total number of people so far evacuated by air is around 10,000.
e. All the stranded people in Gangotri and Ganghria have been evacuated. 
f. All the stranded tourists have been allowed free access to all state guest houses as well as tourist rest houses of the state govt.
g. Special communication centers have been opened in Gaurikund, Gauchar, Uttarkashi, Phata, Rudraprayag, Chamoli.
h. Efforts are on to establish the mobile and landline connectivity in affected areas.
i. Senior Officers are overseeing day to day relief and rescue operations.  In Garhwal area Garhwal Commissioner and DIG are overlooking field operations in close collaboration with Army, ITBP, NDRF whereas in Kumaon region Kumaon Commissioner and DIG are overlooking the relief and rescue operations.
j. Senior officers of State Government are present 24 hours at State Disaster, Management and mitigation centers to coordinate all rescue and relief efforts.
k. Special help line has been established and their numbers are:
i. State Disaster Management Centre 0135-2710334, 2710335, 2718401-04.
ii. Fax- 2718400, 6555523, 6555524, 
iii. Others : 09755444486, 09808151240, 09837134399, 999779124, 9451901023, 9456755206, 9634535758
iv. For more information please see the website where details are available http://uk.gov.in
v. Email ID : relief-uk@nic.in
vi. Haridwar Control Room Numbers:-01334-233727, 01334-265876, 01334-223999. 01334-226849.  Contact Person- Dr. Naresh Chaudhary- 9837352202
vii. Police Control room numbers -0135-2716201, 2710925

 

राहत सामग्री संग्रह केन्द्र स्थापित

देहरादून। जिलाधिकारी देहरादून बीवीआरसी पुरूषोतम द्वारा आपदा प्रभावितों के लिए राहत सामग्री संग्रह केन्द्र ट्रांसपोर्ट नगर फेज-2 अजय गुप्ता के गोदाम में स्थापित किया गया है जिसमें जनपद के दो अधिकारियों श्याम मोहन शर्मा एवं आनन्द राम सहायक अभियन्ता एमडीडीए को  नियुक्त किया गया है।
 
उन्होने अवगत कराया है कि आज आपदा ग्रस्त प्रभावित क्षेत्रों हेतु जनपद के नागरिकों द्वरा उपलब्ध कराई गई राहत सामग्री सग्रंह केन्द्र से आपदा प्रभावित क्षेत्र  गुन्तकाशी  के लिए 4 गाडि़या 407 महिन्द्रा मैक्स से राहत सामग्री वितरण हेतु प्रेषित की गयी जिसमें आपदा प्रभावितों के लिए  5 क्विंटल आटा, 1 क्विंटल दाल, 3 क्विंटल चावल, 50 किलो नमक, 45 पेटी पानी, 33 पेटी बिस्कुट, 4 टीन घी, 34 पेटी रस, 2 पेटी साबुन, 22 पेटी फ्रूटी जूस, 6 बंडल काटन, 2 पेटी नमकीन, 4 नग डिस्पोसल, 50 किलो चाय पत्ती, 35 किलो चीनी, 1 बैग मसाला, 20 नग कम्बल, 1 थैला मेडिकल सामग्री, 1 पेटी रिफाइन्ड तेल, 1 बैग पोलीथीन, 4 क्विंटल आलू, 3 पेटी कुरकुरे, 3 ड्रम डीजल, 4 नग लाउडस्पीकर, 30 कार्टून 100 नग सोलर लालटेन उक्त वाहनों द्घारा भेजी गई है। 
 

मदद को सरकारी महकमे भी हाथ बढ़े : एक-एक दिन का वेतन

रुडक़ी। जहां आपदा पीडि़तों के लिए अनेक संस्थाएं सामने आई है तो वही सरकारी महकमे भी हाथ बढ़े हैं। चकबंदी समेत कई विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों ने एक-एक दिन का वेतन आपदा पीडि़तों की मदद के लिए दिए जाने का निर्णय लिया है।
 
जिला बंदोबस्त अधिकारी टीएस चौहान ने पर्वतीय क्षेत्र में आई दैवीय आपदा में पीडि़त लोगों को मदद करने का आह्वान चकबंदी विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों से किया। जिस पर चकबंदी अधिकारी, सहायक चकबंदी अधिकारी, चकबंदीकर्ता, लेखपाल व अन्य सभी कर्मचारियों ने एक-एक दिन का वेतन दैवीय आपदा से पीडि़तों की मदद को दिए जाने का निर्णय लिया। शहर में राहत सामग्री जुटाने को लगाए गए शिविरों में भी सहयोग करने की बात चकबंदी विभाग ने की है। विनियमित क्षेत्र, खाद्य आपूर्ति कार्यालय के अधिकारियों व कर्मचारियों ने भी आपदा पीडि़त परिवारों की मदद के लिए एक-एक दिन का वेतन देने का निर्णय लिया है। क्षेत्रीय खाद्य आपूर्ति अधिकारी एमएस रावत ने बताया है कि कई राशन डीलर भी आपदा पीडि़त क्षेत्रों के लिए मदद करने को आगे आ रहे हैं।

UD Minister to donate salary for flood affected people of Kinnaur and Uttrakhand

Shimla : Urban Development and Town & Country Planning Minister Shri Sudhir Sharma has announced to donate his one month salary to the Chief Minister's Relief Fund to help the flood affected people of the Kinnaur district in hour of distress. 

 
Shri Sudhir Sharma has also announced to contribute one month salary towards PMRF for the flood affected people of Uttrakhand. 
 
He has urged the people of the State to come forward to contribute generously for the welfare of flood affected people, which would be true service to the suffering humanity. 

ऋषिकेश में गंगा किनारे शव बरामद

ऋषिकेश। पहाड़ में आपदा का कहर इस कदर टूटा है कि लक्ष्मणझूला पुलिस को बैराज स्थित गंगा नदी किनारे से चार दिनों के भीतर ही पांच पुरूषों के शव बरामद हो चुके है। हालांकि अभी तक किसी भी शव की शिनाख्त नही हो पाई है। पुलिस का मानना है कि पहाड़ में हुई त्रासदी के बाद ही यह शव पानी के सहारे नीचे बहकर आये है। पुलिस ने सभी शवों का पंचनामा भर दिया। साथ ही शवों की शिनाख्त के लिए भरसक प्रयास भी किये जा रहे है। आसपास के थाना क्षेत्रों के साथ ही जिलों की पुलिस को भी इस बाबत सूचित किया जा चुका है। लेकिन अभी तक एक भी शव की शिनाख्त नही हो पाई है। पुलिस लगातार उक्तों की शिनाख्त को लेकर प्रयासरत है। उधर इस सम्बंध में थाना पुलिस ने जानकारी देते हुए बताया कि चार दिनों में पांच शव बरामद हो चुके है। बताया कि शिनाख्त के प्रयास जारी है।  
 

चारधामों के तीर्थयात्रियों और स्थानीय लोगों की मदद के लिए टीएचडीसी भी आई आगे

ऋषिकेश। उत्तराखण्ड में बादल फटने व भारी वर्षा के चलते उत्पंन हुई भीषण आपदा से प्रभावित चारधामों के तीर्थयात्रियों और स्थानीय लोगों की मदद के लिए टीएचडीसी इंडिया लिमिटेड ने कारगर कदम उठाते हुए विगत १९ जून से राहत शिविर लगाया हुआ है। जो कि वर्तमान में चल रहा है।

 
यॉत्रिक वर्कशॉप कोटी कॉलोनी, टिहरी में लगे टीएचडीसीआईएल के आपदा राहत शिविर में गुप्तकाशी में फंसे असहाय दस हजार (१००००) से अधिक तीर्थयात्रियों, जिन्हें टिहरी होते हुए बाहर निकला गया व राहत पहुंचाई गई। उन्हें भोजन, चिकित्सा सहायता के साथ ही दवाईयां भी उपलब्ध कराई गयी।ऋषिकेश जाने की जल्दी में जो तीर्थयात्री थे उन्हें टीएचडीसी द्वारा भोजन के पैकेट्स बांटे गये। शिविर में यात्रियों के ठहरने की व्यवस्था भी की गई है। साथ ही विभिन्न स्थानों पर अटके हुए तीर्थयात्रियों के बचाव के लिए जिला प्रशासन को ५ बसें, १० छोटी गाडिय़ां के साथ ही ४ पानी के टैंकर उपलब्ध कराये गये। तीर्थयात्रियों सहित स्थानीय लोगों के सुगम पारगमन के लिए भी टीएचडीसी ने जिला प्रशासन को भूस्खलन की सफाई के लिए भारी अर्थमूविंग मशीनें भी उपलब्ध कराई है। इसके अतिरिक्त जिला प्रशासन को घनसाली, टिहरी में असहाय तीर्थयात्रियों व प्रभावित ग्रामों में वितरित करने के लिए १ हजार ४ सौ लीटर दूध भी उपलब्ध कराया गया है। उधर टीएचडीसी के उपप्रबंधक (केन्द्रीय संचार) कपिल देव प्रसाद दूबे ने बताया कि  ४-५ दिनों से भोजन व चिकित्सा सुविधाओं से वंचित तीर्थयात्रियों, जिन्होंने राहत शिविर में इन सुविधाओं का लाभ उठाया, ने टीएचडीसी द्वारा इस व्यापक राहत के आयोजन में की गई व्यवस्थाओं की सराहना भी की है। बताया कि प्रशासन ने इस गंभीर स्थिति में टीएचडीसी द्वारा उपलब्ध कराई गई सहायता और राहत की सराहना की है। उल्लेखनीय है कि टिहरी बांध जलाशय हरिद्वार वऋषिकेश जैसे मैदानी इलाकों के लिए एक वरदान साबित हुआ है, क्योंकि विगत १६-१७ जून को हुई भयंकर वर्षा व बादल फटने के परिणाम स्वरूप भागीरथी का जल प्रवाह लगभग ७००० क्यूमेक्स था। इसमें से केवल ५०० क्यूमेक्स जल टिहरी जलाशय से छोड़ा गया और ६५०० क्यूमेक्स जलाशय में रोका गया। यदि इतना जल जलाशय में न रोका जाता तो मैदानी इलाकों में भारी तबाही होती। साथ ही टिहरी व कोटेश्वर परियोजना में बिजली का भरपूर उत्पादन वर्तमान में भी जारी है। 
 

Except Kinnaur, other tourists destination open to tourists: CS

Shimla : Chief Secretary, Shri S. Roy has made an appeal to the tourists to visit Himachal without any fear as apart from tribal district of Kinnaur and few parts of Spiti, other important tourists destination of the State were open for tourism. He however advised the tourists not to visit Kinnaur and few areas of Spiti as the access was not possible due to landslips and blockades of roads whereas they were welcome to other areas. Otherwise also, Kinnaur was more than 200 kilometers far from Shimla, the State capital, he added.

 
Meanwhile, Director Tourism, Shri. Subhashish Panda in a communiqué said that the tourism was not facing any problem in other areas of the State. He said that tourists were visiting in numbers to Kullu and Manali and the corporation had earned Rs six lakh on Wednesday and Rs 5.50 lakh on Thursday on account of bookings of Hotels and Corporation Buses. Besides, the tourism had to hire buses to accommodate the tourists. He said that the tourists were visiting in large numbers to Chamba and Kangra districts also.
 
However, the tourism department would be glad to provide guidance and any type of assistance to the visitors, he said. The department on the request of the tourists was changing their itinerary, who earlier had bookings of various tourist destinations of Kinnaur to the places as desired by them. He said that for further advice or guidance the tourists could send their queries on shimla@hptdc.in, tourismin-hp@nic.in and marketing@hptdc.in, as well as on 0177-2652561 and 0177-2658302.
 
There was no problem with rest of the State and normal conditions were prevailing for the visit.

केदारनाथ घाटी में फंसे यात्रियों के वाहनों को ऋषिकेश तक पहुंचाया जा रहा

नई टिहरी। रूद्रप्रयाग जनपद के केदारनाथ घाटी में फंसे यात्रियों के वाहनों को मयाली-घनसाली टिहरी होतेे हुये उन्हें हल्के वाहनों के माध्यम से ऋषिकेश तक पहुंचाया जा रहा है, इस आशय की जानकारी देते हुये जिलाधिकारी नितेश कुमार झा ने बताया कि इस मार्ग पर आने वाले यात्रियों के जनपद में तीन स्थानों पर प्रशासन द्वारा राहत कैम्प लगाये गये है,  जंहा पर यात्रियों के प्राथमिक चिकित्सा सुविधाये दवा आदि की व्यवस्था के साथ ही भोजन, पेयजल आदि की पर्याप्त सुविधायें की गई।
 
जिलाधिकारी श्री झा स्वयं ही सभी व्यवस्थाओं पर स्वयं नजर बनाये हुये है। उन्होंने बताया कि गुरूवार को प्रात: ५.०० बजे से ही जनपद की सीमा से यात्री वाहनों का आना शुरू हो गया हैं समाचार लिखे जाने तक ५०० वाहनों को उनके गन्तव्य की ओर भेजा जा चुका है, तथा ५०० और वाहनों के आने की सम्भावना है। यात्री वाहनों के लिये आवश्यकता होने पर घनसाली में १० हजार लीटर डीजल एंव पेट्रोल की व्यवस्था की गई। इसके अलावा घनसाली में पिलखी, तथा टिहरी में खाड़खाला व कोटी कालोनी में राहत कैम्प बनाये गये । जिला प्रशासन के हवाले से बताया गया कि दिल्ली जाने वाले यात्रियोंं के लिये राज्य सरकार की ओर से ऋषिकेश में ४० बड़े वाहनों की व्यवस्था की गई है। उन्होंने बताया कि बंगाल राज्य सरकार ने बंगाली यात्रियों के लिये ऋषिकेश से विशेष रेलगाड़ी चलाने की व्यवस्था की है। जिलाधिकारी ने बताया कि टिहरी प्रशासन के द्वारा जनपद में बनाये गये राहत कैम्प तब तक काम करते रहेगें जबकि सभी वाहन जिन्हें यहां से होकर जाना है। राज्य सरकार की ओर से गुप्तकाशी में ४० छोटे वाहनों की व्यवस्था पृथक से की गई जिनका उपयोग उन यात्रियों के लिये किया जायेगा जिनके पास, कोई संसाधन जाने का नहीं हैं। जिलाधिकारी ने सभी अधिकारियों को अलग-२ दायित्व सौपे है जिनकी वे स्वयं दूरभाष के माध्यम से समीक्षा कर रहे है। यहां बनाये गये राहत केन्द्रों पर पुलिस व सुरक्षा के भी पुख्ता इंतजाम किये गये हैं ताकि किसी प्रकार की अव्यवस्था न फैलने पायें । इस मौके पर स्वयं जिलाधिकारी यात्रियों की स्थिति की जानकारी ली। 
 
इस दौरान जनपद के पुलिस अधीक्षक जन्मेजय खण्डूरी, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा० एस.पी. अग्रवाल सहित जिला पूर्ति अधिकारी निधि रावत, कोषाधिकारी हिमानी स्नेही, जिला चिकित्सालय के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक बी.एस. सामान्त सहित सभी अधिकारी एंव कर्मचारी राहत कार्य में सहयोग प्रदान कर रहे है। 
 

 

लाशों के लुटेरे नेपाली बाबा गिरफ्तार, चार फरार

रूद्रप्रयाग। पुलिस ने लाशों के लुटेरों को करोड़ों रूपये और जेवरात के साथ गिरफ्तार किया है। चार बाबा फरार होने में सफल रहे है। बताया जा रहा है इनके तार नेपाल से जुड़े हुए हैं। हालांकि कुछ का कहना है कि ये पाकिस्तानी हैं। 
 
प्रदेश में हर तरफ तबाही का मंजर है। दिल दहला देने वाली सुनामी के बीच कुछ सौदागर लूटपाट करने पर तुल गये हैं। ऊखीमठ में सात बाबाओं को गिरफ्तार उनके पास से तीन करोड़ रूपये, सोने-चांदी के जेवरात व कीमती सामान बरामद किया गया है।  बचाव व राहत कार्य में लगी आर्मी की शिकायत पर फाटा पुलिस ने इन नेपाली बाबाओं को गिरफ्तार किया है। 
 
आपदा की इस घड़ी में एक और जहां हर कोई मानवता का संदेश देते हुए प्रभावितों की मदद के लिए आगे आ रहा है। वहीं कुछ ऐसे लोग भी हैं इस आपदा की घडी में लाशों और प्रभावितों से खिलवाड़ करने से भी नहीं चूक रहे हैं। राहत कार्यों में लगे आर्मी के जवानों को कुछ स्थानीय लोगों ने बताया कि कुछ नेपाली बाबा मरे लोगों की जेवों और सामान पर हाथ साफ कर रहे हैं। इस दौरान सेना के एक जवान ने भी एक बाबा को एक मृतक के पास से कुछ कागज और रूपये निकालते देखा तो टोकने पर यह भाग निकला। इस सेना के जवानों ने मामले की जानकारी वहां राहत में लगी स्थानीय पुलिस को दी। सूचना पर फाटा पुलिस ने सात नेपाली बाबाओं को गिरफ्तार किया है। इन पर आरोप है कि इन्होंने केदारघाटी से गौरीकुण्ड के बीच तबाह हुई दुकानों और प्रभावितों से लूटपाट करने के साथ स्थानीय लोगों को डरा धमका कर उनसे भी लाखों लूट लिये हैं। गिरफ्तार करने के बाद जब पुलिस ने इन बाबाओं की तलाशी ली तो इनके पास से तीन करोड़ रूपये, सोने-चांदी के जेवरात व कीमती सामान बरामद हुआ है। आशंका जतायी जा रही है कि ये पैसा इन बाबाओं ने केदारघाटी में तबाह हुई दुकानों और प्रभावितों से लूटा है।  कई स्थानीय लोगों ने भी फाटा पुलिस को इन बाबाओं के खिलाफ शिकायत दर्ज करायी है। स्थानीय लोगों का कहना है कि इन बाबाओं ने अफरा-तफरी के माहौल में दुकानों में लूटपाट करने के साथ-साथ मृतकों का सामान भी लूटा है। आपदा की इस घड़ी में इन बाबाओं के अमानवीय कृत्य ने इंसानियत को शर्मसार किया है।
 

Relief and Rescue operations in Kinnaur district on war footing

Shimla : The Relief and Rescue operations in tribal district of Kinnaur were being undertaken on war-footing and it was being ensured that all the stranded people were evacuated as soon as possible.

 
This was stated by Chief Secretary, Sh S. Roy while presiding over a meeting of the high powered committee to ascertain the situation that has arisen after the natural havoc which had struck district Kinnaur on account of incessant rains, landslips and snow bringing life to a standstill.
 
Chief Secretary apprised that as many as 400-500 people were still stranded in different parts of Kinnaur and 69 people were airlifted today to Rampur. In all 278 people had been airlifted since yesterday.
 
He directed the Indian Oil authorities and other agencies to ensure availability of aviation fuel and asked them to stock sufficient quantity of the fuel, adding that arrangements were made to ensure the supply of Kerosene and diesel and LPG refills to different parts of Kinnaur. Shri Roy also directed that the schedule of the sorties involved in evacuation should be strictly followed on the basis of registration and the ill, weak, elderly, students and children should be given preference.
 
He said that arrangements of refueling had been made at Rampur and Annadale helipad in Shimla to meet any exigency.
 
He asked the PWD authorities to speed up the work on opening of link roads in the district so that at least mobility and supply of essential commodities be made available to the people. He stressed upon making the link roads jeepable if not fully operational till the transportation and communication was fully restored. This would enable trans-shipment of passengers as a short term measure.
 
Three HAS officers have been deputed in affected areas of the district to assist in relief, rescue and rehabilitation efforts. Besides, Rs. 10 crore has been released by the State Government for carrying out immediate relief operations and assistance to the people. 
 
Chief Secretary said that there was no shortage of edible items and efforts were afoot to restore the electricity. 
 
He informed that so far 14 deaths had been reported more than 150 houses have been fully damaged and 55 partially damaged, besides a loss of more than Rs 50 crore has been assessed in agriculture and Horticulture sector respectively, clarifying that these were preliminary estimates.
 
Brig S.K Kataria, Chief Engineer, Project Deepak informed that assistance was being sought from Private Hydel Projects in terms of men and machinery to restore the Indo-Tibetan Border Road. He said that logistics were being arranged from Chandigarh Western Command Headquarters and task force deployed on Manali- Sarchu highway. He said that endeavors were afoot to open the main highway within a week’s time. 
 
The State Government is fully committed to put in all its efforts and resources to restoration of normalcy at the earliest. The situation is being monitored at regular intervals by senior officers. 
 
For the information of tourists visiting Himachal Pradesh, except Kinnaur district, the roads leading to major tourist destinations were through and there was no inconvenience to the tourists/visitors throughout the state except Kinnaur district.

Alternative Photo documents for voting

Shimla : Shri Narinder Chauhan, Chief Electoral Officer said here today that all the electors of 2-Mandi Parliamentary Constituency who had been issued with their Electors Photo Identity Cards (EPICs) shall have to produce these cards to exercise their franchise when they come to the polling stations for voting on 23 June, 2013. He clarified that identity cards issued by the Electoral Registration Officer of another assembly constituency shall be taken into account while establishing the identity of Electors. 

 
Shri Chauhan said that if any electoral fails to produce his/her EPIC than such electors shall have to produce any of the alternative photo documents for establishing their identity which include Passports, Driving License, Income Tax Identity (PAN) Cards, Service Identity Cards with photograph issued to its employees by State/Central Government, Public Sector Undertakings, Local Bodies or Public Limited Companies, Passbooks with photograph issued by Public Sector Banks/Post Office and Kisan Passbooks (accounts opened on or before 30 April, 2013), Freedom Fighter Identity Card, with photograph, SC/ST/OBC Certificates with Photograph issued by competent authority on or before 30 April, 2013, Certificate of Physical Handicap having photograph issued by the competent authority on or before 30 April, 2013. Arms Licenses having photograph issued on or before 30 April, 2013, Job cards issued under the NREGA scheme with photograph issued upto 30 April, 2013, Property Documents such as Pattas, Registered Deeds, etc. with photograph, Pension Document such as ex-servicemen's Pension Book /Pension Payment Order, ex-servicemen's Widow/Dependent Certificates, Old Age Pension Order, Widow Pension Order with photograph issued on or before 30 April, 2013, Health Insurance Scheme Smart Cards with photograph (Ministry of Labour's Scheme, issued upto 30 April, 2013, Smart Cards issued by RGI under the scheme of Nation Population Register (NPR) and Aadhaar Card issued by UIDAI. 
 
Chief Electoral Officer said that if any of the above mentioned documents that was available only to the head of the family may be used for identifying the other members of the family provided all the members come together and were identified by the head of the family. He further clarified that ration cards are not a valid document for establishing identity before voting.

Gujarat CM announces Rs. two crore assistance to Uttarakhand relief

New Delhi: Gujarat Chief Minister Shri Narendra Modi spoke to Uttarakhand Chief Minister Shri Vijay Bahuguna today and offered assistance and help in rescue and relief operations to overcome the situation created by floods and landslides. A large number of people from Gujarat who have gone to the hill state for Char Dham Yatra have been stranded with many of them lost their belongings and are in need of assistance. Shri Modi also discussed with Uttarakhand CM about Gujarati pilgrims/tourists

Shri Modi further announced an assistance of Rs. two crore from the Chief Minister Relief Fund as a contribution from people of Gujarat for relief operations in Uttarakhand which has seen large-scale damage due to torrential rains and flash floods over the last few days.

Government of Gujarat and its people are ready to render any assistance to enable the people and administration of Uttarakhand to overcome this situation, Shri Modi assured adding that well equipped disaster management teams from Gujarat can be requisitioned any time in the flood-hit state.

A team of senior officers from Gujarat Government, namely, Shri P. K. Parmar, Shri S. C. Pant, Shri Sandeep Kumar and Shri Ashwani Kumar will be visiting Uttarakhand to help the people of Gujarat who are stranded in various parts of Uttarakhand and coordinate their return to Gujarat.

Gujarat Chief Minister also requested the Union Railways Minister Shri Mallikarjun Kharge, to immediately start emergency counters and helplines at Haridwar, Dehradun and New Delhi railway stations for people who are rescued from the flood-hit areas.  

He also requested the Union Minister of Railways to provide additional coaches in various trains or start special trains so that people rescued can travel to their homes. He also stated that berths and food free of cost should be given to the affected people as many of them have lost their belongings and their travel plans have gone haywire and they are left with no money. It is reported that many vehicles have washed away and people don’t have means for travel back to their home.

Yesterday, during his visit to Delhi for Annual Plan discussion, Gujarat Chief Minister had asked the Resident Commissioner, Government of Gujarat, Shri Bharat Lal to contact Uttarakhand authorities and coordinate the efforts to reach to pilgrims from Gujarat. Accordingly, RC Office has deputed Shri Bhavin Pandya, Chief Administrative Officer (Cell No. 099999 87909) and Shri Madhukar Shukla, Assistant Resident Commissioner (Cell no. 099537 10024) as Coordinators. RC Office is continuously contacting and reaching out to pilgrims from Gujarat, who are stuck up in various parts of Uttarakhand. The Office of the Resident Commissioner is in constant touch with the authorities in Uttarakhand.

At New Delhi, a 24 hours helpline (011 – 4627 8700/ 4627 3200) at Gujarat Bhavan has been set up for any help and information.  

Team constituted to redress problem of orchardists

 Shimla : A team of senior officers of Horticulture Department has been constituted to look into the problem being faced by orchardists in the cherry orchards particularly in Baghi and Kotkhai area of Shimla district. This was stated by Spokesman of the Horticulture Department here today. 

He said that expert team had been sent to these areas to redress the problem which would submit its report to the Director, Horticulture for necessary action and suitable advice to orchardists of the area. 

Haryana announces Rs 10 crore for flood relief work in Uttarakhand

Chandigarh: Haryana government on Tuesday night announced Rs 10 crore for relief work in Uttarakhand, hit by heavy rains and landslides. This has been the biggest disaster caused by heavy rains in the hill state.

 
Chief Minister Bhupinder Singh Hooda spoke to his Uttarakhand counterpart Vijay Bahuguna and said that the relief amount would be given to the state on Wednesday, an official spokesman said.
 
Hooda assured all help to the hill state in carrying out relief and rescue works.
 
Over a hundred people were killed in the flash floods triggered by incessant rains in Uttarakhand, while the toll in the calamity is likely to rise manifold as 500 people are still reported to be missing.
 
The famous Kedarnath shrine was virtually submerged in mud and slush where 50 people died in the unprecedented flash floods. The shrine, one of the four holy dhams, in Rudraprayag district of Uttarakhand bore the brunt of torrential rains.
 
About 500 people, including several pilgrims, are said to be missing in the area.
 
Rudraprayag district was the worst hit with 20 people dead and 73 buildings, including 40 hotels, along the banks of the Alaknanda swept away in the swirling water of the river.

Yamuna crosses danger flowing mark; breaks record of 35 years

New Delhi: Following the heavy rains in Uttarakhand, the water level of the Yamuna is likely to touch 208 metres, the highest the river has touched in last 35 years. 

Over 1,700 people have been evacuated from low-lying areas in East Delhi and have been provided shelter in relief camps that have been specially set up.
 
On Tuesday, the Yamuna river crossed the danger mark in the national capital, creating panic among residents and galvanising authorities into action. 
 
The water level of the Yamuna had reached 204.98 metres on Tuesday, flowing above the danger mark of 204.83 metres. 
 
A total of 8.06 lakh qsecs of water from Haryana was released on Monday at the Hathnikund barrage and an additional 3.38 cusecs of water was released on Tuesday morning. 
 
The Old Railway Bridge in central Delhi may be closed for traffic if the river's water rises over 206 metres on Wednesday. 
 
The government has set up around 900 tents and has arranged for food in all the seven districts of Delhi for people displaced by floods. 
 
Anticipating a flood-like situation, the government on Monday began evacuating people from low-lying areas along the banks of the Yamuna. 
 
While 62 boats have been stationed at the Boat Club for rescue operations, district magistrates have been directed to identify more low-lying areas in view of unprecedented rise in water level. 
 
The question here is that this is being faced on the onset of monsoons and we have good 60 days on the season to go. Is the government prepared?

Rs. 10 crore sanctioned for relief and restoration works

Shimla : An amount of Rs. 10 crore has been sanctioned under State Disaster Relief Fund to provide immediate relief and carrying out restoration works in six districts of Himachal Pradesh which suffered heavy losses due to incessant rains and incidents of cloud bursts during past 2-3 days. 

 
A spokesperson of the State Government told here today that Rs. 3.50 crore had been sanctioned for Kinnaur district which had suffered the heaviest losses, Rs. 1.50 crore each for Mandi, Sirmaur, Kullu and Chamba districts while Rs. 50 lakh had been sanctioned for Lahaul-Spiti district. 

हजारों यात्री फंसे, चारों ओर त्राही-त्राही

चमोली।  लगातार हो रही बारिश से चमोली जिले के पांडुकेश्वर, गोविंदघाट, बिरही, क्षेत्रपाल में भारी तबाही मची। बदरीनाथ हाइवे पर पातालगंगा के पास भूस्खलन की चपेट में आने से एक बाइक सवार यात्री की मौत हो गई है, जबकि दो मलबे में लापता है। चार घायलों को जिला चिकित्सालय में उपचार के लिए लाया गया है। गोविंदघाट में श्रीकृष्णा एविएशन का हेलीकाप्टर सहित पार्किंग में खड़े 200 छोटे-बड़े वाहन बह गए हैं। गोविंदघाट में घोड़ा खच्चर का व्यवसाय करने वाले तीन भाइयों के भी लापता होने की सूचना आपदा प्रबंधन कार्यालय को मिली है। गोविंदघाट, पांडुकेश्वर, पुलना व भ्यूंडार गांवों को अति संवेदनशील मानते हुए इन्हें खाली करा दिया गया है। ग्रामीणों के पास गांव में ही खुले आसमान के नीचे प्रकृति का तांडव देखने के अलावा कोई विकल्प भी नहीं है।

गोविंदघाट में पांच मकान, गुरुद्वारा, गोविंदघाट पार्किंग में खड़े 150 मोटरसाइकिलें में 50 से अधिक बड़े वाहन, श्रीकृष्णा एविएशन का हेलीकाप्टर अलकनंदा में बह गए हैं। पांडुकेश्वर में सरकारी अस्पताल भी अलकनंदा के प्रवाह में बह गया, जबकि पुलिस चौकी का आधा हिस्सा भी अलकनंदा में समा गया है। श्री बदरीनाथ धाम की शीतकालीन गद्दी स्थली योगध्यान बदरी मंदिर भी पूरी तरह से जलमग्न हो गया है। लामबगड़ में चार दुकानें, पुलना में आठ मकान, बदरीनाथ हाइवे पर बिरही में गढ़वाल मंडल विकास निगम का गेस्ट हाउस व क्षेत्रपाल में एक बहुमंजिला निजी होटल, अलकापुरी में संपर्क मोटर मार्ग के साथ तीन भवन भी अलकनंदा में समा गए हैं। उर्गम घाटी में कल्पगंगा पर बना भर्की पुल, हेलंग के निकट थाला पुल, भेंटा भर्की को जोडऩे वाला ग्वालमंगरा पुल भी अलकनंदा के प्रवाह में बह गया है। वहीं थराली मैन मार्केट में मोटल पुल क्षतिग्रस्त हो गया। देवाल में लिंगड़ी गांव में बोरागाड पुल, ओडर गांव में झूलापुल भी टूट गया। ऐसे में उर्गम घाटी के 12 गांवों के लोग कैद हो गए हैं। नीती गांव के पास मलारी हाइवे 20 मीटर जमींदोज हुआ है। भर्की के निकट गाड़भीतर पुल टूटने से गांव के 12 लोग जंगल में दूसरी छोर पर फंसे हुए हैं। थराली-देवाल पुल पर दरार आने से आवाजाही बाधित हो गई है। थराली में पिंडर नदी के तेज प्रवाह से नासीर बाजार समेत अन्य स्थानों पर 18 दुकानें बह गई हैं। नारायणबगड़ में जीत सिंह मार्केट तक पिंडर नदी का जलप्रवाह आने से इस बाजार की सडक़ टूट गई है। साथ ही यहां चार दुकानें बह गई हैं। सिमली में दो आवासीय मकान पिंडर में बह गए हैं। देवाल में पांच मेगावाट की लघु जल विद्युत परियोजना भी जलमग्न हो गई है। नंदप्रयाग में नंदाकिनी नदी के तेज प्रवाह में झूला पुल बह गया है।

 कर्णप्रयाग में कृष्णा पैलेस होटल की एक मंजिल, पेट्रोल पंप कर्णप्रयाग के निकट एक मकान, सेमी देवतोली में दो मकान अलकनंदा नदी के जल से जलमग्न हो गए हैं। टंगणी पातालगंगा में बदरीनाथ हाइवे पर भूस्खलन के मलबे में दबकर मनदीप (18 वर्ष) पुत्र संतोष सिंह निवासी जिला कुरुक्षेत्र हरियाणा की मौत हो गई है। दो अन्य यात्री अभी भी मलबे में दबे हुए हैं। भूस्खलन की चपेट में आने से मनोज शर्मा पुत्र उमेश दत्त शर्मा निवासी उजवाणा बनाल जिला करनाल हरियाणा, बलजिंदर पुत्र महेंद्र सिंह ग्राम रामगढ रोड़ जिला कुरुक्षेत्र हरियाणा, कुलदीप सिंह पुत्र पलवेंद्र सिंह ग्राम गढीलंगरी जिला कुरुक्षेत्र हरियाणा व रविंद्र सिंह पुत्र हरनाम सिंह जिला उधमसिंह नगर घायल हो गए। घायलों का इलाज जिला चिकित्सालय गोपेश्वर में किया जा रहा है।
 

मलवे में दबने से आठ की मौत, लाखों की क्षति

नई टिहरी। टिहरी जनपद में विभिन्न स्थानों पर हुए भूस्खलन के मलबे में दबने से आठ की मौत हो गई, जबकि देवप्रयाग क्षेत्र में पहाड़ी से गिर रहे पत्थरों की चपेट में आकर वाहन चालक की मौत हो गई। मूसलाधार बारिश से जिले में करीब 60 मकान और 30 से अधिक दुकानें क्षतिग्रस्त हो गई है। कई भवन खतरे की जद में आ गए हैं। खतरे को देख प्रभावित क्षेत्रों के लोगों ने मकान खाली कर सुरक्षित स्थानों को चले गए हैं।
 
प्रतापनगर प्रखंड के गड़ गांव में सुबह भूस्खलन होने से शूरवीर लाल का मकान दब गया। इसमें सो रही शूरवीर की माता 60 वर्षीय बुरांशी देवी तथा पुत्र 14 वर्षीय संतोष व सात वर्षीय पुत्री अंकिता की दबकर मौत हो गई। पटवारी मोहन लाल ने घटना स्थल पर पहुंचकर मौका मुआयना कर पंचनामे के बाद शव को परिजनों को सौंप दिया।
 
जौनपुर के समीप ग्राम कस्टा में रविवार रात्रि को एक मकान में भारी मलबा घुस आया। कमरे में सो रहे पिटारू 46 वर्ष, उसकी पत्नी व दो बच्चों की मलबे में दबने से मौत हो गई। वहीं, मायाराम किसी तरह मलबे से बच निकला उसे काफी चोटें आई है। वहीं नैनबाग क्षेत्र के द्वारगढ़ में मकान में मलबा घुसने से गुड्डू के 11 वर्षीय बालक मनेश की मौत हो गई। वहीं मरोड़ मतें प्यारेलाल के रविवार रात्रि करीब 11 बजे मलबा घुस आया, लेकिन परिवार ने किसी तरह भाग कर जान बचाई। भिलंगना प्रखंड के पट्टी केमर के ग्राम कुंडी में भूस्खलन से भागदेई पत्नी जमन सिंह व ममता पत्नी विक्रम सिंह मलबे व पानी के तेज बहाव के साथ में बह गए, ग्रामीणों ने किसी तरह उन्हें बचाया गया।
 
वहीं, देवप्रयाग क्षेत्र में श्रीनगर-देवप्रयाग राजमार्ग पर मुल्यागांव के समीप बदरीनाथ से आ रहे वाहन पर पत्थर गिरने से चालक 45 वर्षीय सुरेन्द्र सिंह पुत्र मुरली सिंह निवासी पलेठी देवप्रयाग बुरी तरह घायल हो गया। उसे देवप्रयाग चिकित्सालय लाया गया जहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई।
बारिश से जिले के विभिन्न स्थानों पर हुए भूस्खलन से लोगों के खेत व भूमि, पुलिया बह गए। देवप्रयाग में नदी खतरे के निशान से काफी ऊपर बह रही है। इससे भागीरथी पुल पर आवाजाही बंद कर दी गई। सबसे अधिक नुकसान भिलंगना प्रखंड में हुआ है।
 
नैनबाग के स्यालसी गांव में बारिश व बादल फटने से 20 भवन क्षतिग्रस्त हो गए हैं। परोगी गांव में भूस्खलन से 12 मकान बह गए है। खतरे का आभास होते ही ग्रामीणों ने पहले ही मकान छोड़ दिए थे। वहीं छनाण गांव के छापला तोक में भूस्खलन के कारण 12 गौशालाएं दब गई। इससे 60 मवेशियों की दबकर मौत हो गई है।
 
वहीं घनसाली बाजार में तीन मकान, घुत्तू में 10 दुकानें, बूढ़ाकेदार में छह दुकानें क्षतिग्रस्त हो गई है। कई जगहों पर बाढ़ की स्थिति बनी हुई है। भिलंगना व नैनबाग के कई गांवों में विद्युत आपूर्ति व संचार सेवा भी ठप पड़ी है।
 
गांव हुए खाली
 
दैवीय आपदा की दृष्टि से सबसे संवेदनशील पिंसवाड़ गांव के ऊपर भारी दरार आने से लोगों ने गांव खाली कर दिया गया। इस गांव में 130 परिवार निवास करते हैं। इसके अलावा मेड, मरवाड़ी के ग्रामीणों छानियों की ओर रुख कर रहे हैं।
 
चार सौ लोगों ने छोड़े घर
 
खतरे को देखकर जिले में करीब चार सौ लोगों ने अपने घर छोड़ कर सुरक्षित स्थानों पर शरण ली है। इनमें सबसे अधिक भिलंगना प्रखंड में है।
स्थान लोगों की संख्या
भिलंगना 300
घनोल्टी क्षेत्र 60
चम्बा 20 
 

Counselling postponed due to inclement weather

Shimla : The counselling of students of Scheduled Tribes and its sub categories scheduled for 17 June, 2013 has been postponed keeping in view the inclement weather and snowfall in the tribal area.

 
Director, Technical Education, Vocational and Industrial Training informed today that the counselling had been postponed with an apprehension that students of tribal areas would not be able to participate in the counselling due to bad weather conditions.
 
He said that the counselling would now be held on 29th June, 2013 at Government Polytechnic, Sundernagar.

Uttarakhand faces continuous rainfall; panic situations created

Dehradun : Uttarakhand is witnessing continuous rainfall for the last 48 hours which has caused havoc in different parts of the state. According to the reports, over 15 people are feared dead and more than 50 are believed to be missing.

 
Three persons of a family were killed when a house caved in at New Mithi Beri in Prem Nagar area of Dehradun on Sunday morning, Prem Nagar SHO Vikas Rawat said. A 30-year-old man, his 26-year-old wife and 10-year-old child were killed, he said.
    
Five persons were killed and six injured after being hit by landslips in Rudrapayag district, disaster management officer Meera Kenthura said. Four of them were killed near Bhim Gali at Rambara on Kedarnath pedestrian route while one was hit by a landslide near Gaurikund which is on way to the Himalayan shrine, she said.
    
Five stationary buses were also swept away by the relentless downpour which continues in the district, six persons injured in these landslips have been rushed to Gaurikund hospital, she said.
    
Both Mandakini and Alaknanda, major tributaries of the Ganga, are flowing over the danger mark and the bridge connecting Rudraprayag and Gaurikund has been damaged leading to its closure, she said.
    
Kedarnath yatra has been suspended in view of bad weather, the officer said. Thousands of pilgrims headed for the Himalayan shrines of Gangotri and Yamunotri got stranded as the routes had to be closed due to landslips at various points including Pipalmandi, Baraki and Nalupani.
    
Hotels and dharamshalas in Uttarkashi district are bursting at the seams with char dham yatris occupying their lounges due to non-availability of rooms. State Disaster Management and Rehabilitation Minister Yashpal Arya said the administration is on alert to deal with any emergency.
    
Stranded pilgrims and people living in areas close to the rivers in spate like the Ganga and Bhagirathi are being evacuated to safer places, he said. The BRO is also busy repairing the roads damaged by rains, he said, adding that the state government has also sought the assistance of ITBP to clear the roads blocked due to landslides.
    
He also advised people not to travel to Uttarakhand until the weather clears up. The state government has also announced Rs 1.5 lakh as compensation to the kin of those killed in the house collapse incident in Dehradun.
    
A report from Uttarkashi, which has suffered the most due to rains, said that incessant rains during the last 36 hours swept away pillars of Tiloth bridge cutting off hundreds of villages including Tilot and Mandav from the district headquarters.
    
Gangotri highway had to be closed at five points leading to suspension of the yatra, District Magistrate R Rajesh Kumar said. 2,200 pilgrims are stranded at Gangotri and 1,500 at Yamunotri, he said. The stranded devotees have all been shifted to govt houses and relief camps.
    
Choppers will be pressed into service to ferry stranded passengers to safe places when the weather clears up, he said adding about 80 affected families have been evacuated to safer places already.
    
All arrangements are in place to deal with any emergency, he said adding ITBP's help is also being taken in restoration work being hampered by continuing rains.

मूसलाधार बारिश से गंगा उफान पर, खतरे के निशान को पार किया

हरिद्वार। पहाड़ से लेकर मैदान में हो रही मूसलाधार बारिश से गंगा उफान पर आ गई। हरिद्वार में गंगा खतरे के निशान को पार कर गई। गंगा में पानी लगातार बढ़ रहा है। हरिद्वार के गंगा तटीय इलाकों के साथ पश्चिम यूपी में हाई अलर्ट जारी कर दिया है। जल स्तर पर लगातार नजर रखी जा रही है।
 
शनिवार शाम से लगातार हो रही बारिश के कारण गंगा लाल निशान के पार चली गई है। रविवार की सुबह छह बजे गंगा खतरे के निशान 294 मीटर के सापेक्ष 291.30 मीटर पर बह रही थी। अस्सी हजार क्यूसेक पानी का डिस्चार्ज हरिद्वार से किया गया। दिन में भी बारिश जारी रहने से गंगा का जलस्तर बढ़ता गया। पूर्वाह्न 11 बजे तीस सेंटीमीटर पानी और बढ़ गया। ढाई बजे गंगा का जलस्तर 293 मीटर पहुंचा। इसके साथ ही यूपी सिंचाई विभाग ने अलर्ट जारी कर दिया। हरिद्वार के गंगा तटीय इलाकों के साथ ही बिजनौर के प्रशासन को अलर्ट के संबंध में जानकारी दे दी गई। इसके बाद गंगा में तेजी से पानी बढ़ा। गंगा खतरे के निशान पर पहुंच गई। शाम पांच बजे गंगा खतरे के निशान 294 मीटर से करीब एक मीटर उपर बह रही थी।
 
देर शाम तक हरिद्वार से 2.50 लाख क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा था। यूपी सिंचाई विभाग व केंद्रीय जल आयोग लगातार गंगा पर नजर रखे हुए हैं। यूपी सिंचाई विभाग के एसडीओ विजय वीर सिंह ने बताया कि अभी पानी और बढऩे की संभावना है। लगातार नजर रखी जा रही है। प्रशासन को अलर्ट जारी कर दिया गया है।
 
अवकाश रद
 
गंगा का जलस्तर लगातार बढऩे से यूपी सिंचाई विभाग के बैराज रेग्यूलेशन के कर्मचारियों के अवकाश रद कर दिए। एसडीओ ने बताया कि कर्मचारियों को मुख्यालय पर ही रहने के आदेश दिए हैं। 
 

जलधाराओं के उफान से उत्तरकाशी में फिर तबाही शुरू

उत्तरकाशी। भागीरथी और असीगंगा सहित सहायक जलधाराओं के उफान से उत्तरकाशी में फिर तबाही शुरू हो गई है। लगातार हो रही बारिश से दोनों नदियों ने बाढ़ जैसा मंजर पैदा कर दिया है, इसके चलते संगमचट्टी क्षेत्र में अस्थायी पुल व संपर्क मार्ग ध्वस्त हो गए। उत्तरकाशी में एक छात्रावास व एक मकान बह गए। यमुना घाटी में यमुना नदी के जलप्रवाह में खरादी में पटवारी चौकी व एक आवासीय भवन बह गए। जिला प्रशासन ने हालात को को देखते हुए अलर्ट घोषित कर दिया।

शनिवार की रात से हो रही बारिश के चलते उत्तरकाशी पर रविवार भारी बीता। असीगंगा व भागीरथी के जलागम क्षेत्रों में अतिवृष्टि के कारण दोनों नदियों ने बाढ़ जैसे हालात पैदा कर दिए। असीगंगा के प्रवाह से संगमचट्टी क्षेत्र के सात गांवों को जोडऩे वाली सडक़ रवाड़ा से आगे ध्वस्त हो गई है, जबकि डिगिला, संगमचट्टी व सेकू गांव के संपर्क मार्ग पर बने अस्थाई पुल बह गए हैं। इससे क्षेत्र के सात गांवों का संपर्क जिला मुख्यालय से पूरी तरह कट गया है।

गंगोरी में बाढ़ सुरक्षा कार्यो में लगी तीन जेसीबी मशीनें व एक ट्रक भी असीगंगा के उफान में डूब गए। भागीरथी के जलप्रवाह से उजेली में संस्कृत महाविद्यालय छात्रावास और तिलोथ में शाहनवाज कुरैशी का दो मंजिला भवन ढह गए, जबकि तिलोथ पुल की ऐप्रोच के नीचे कटाव होने से पुल पर खतरा पैदा हो गया। इसके अलावा उत्तरकाशी व गंगोरी में हो रहे बाढ़ सुरक्षा कार्यो को भी नुकसान पहुंचा है। जिला प्रशासन ने तिलोथ पुल व जोशियाड़ा मोटर पुल से आवाजाही बंद करा दी है। दूसरी ओर यमुना घाटी में यमुना नदी के जल प्रवाह से खरादी कस्बे पर खतरा पैदा हो गया है। यमुना के उफान से कस्बे में पटवारी चौकी और शैलेंद्र सिंह के भवन बह गए। कस्बे के सात और मकान खतरे की जद में हैं।
 
12 राहत शिविर स्थापित 
 
असीगंगा व भागीरथी के जलप्रवाह को देखते हुए प्रशासन ने एहतियाती कदम उठाने शुरू कर दिए हैं। दोनो नदियों के तटवर्ती हिस्सों से अस्सी परिवारों को राहत शिविरों में शिफ्ट कर दिया गया है। राहत व बचाव के लिए आइटीबीपी व सेना की भी मदद ली जा रही है।
 
लगातार बारिश से दोनों नदियों का पानी बढ़ जाने से उत्तरकाशी में बाढ़ जैसे हालात पैदा हो गए हैं। इसे देखते हुए जिला प्रशासन ने नगर क्षेत्र व आस पास के स्कूल कॉलेजों का उपयोग कर 12 राहत शिविर स्थापित कर दिए हैं। खतरे की जद में आई तिलोथ कॉलोनी, बाल्मीकि बस्ती व उजेली क्षेत्र से 80 परिवारों को इन शिविरों में शिफ्ट कर दिया गया है। लोगों से नदी के तटवर्ती क्षेत्र में न जाने की भी अपील की जा रही है। जिलाधिकारी डॉ.आर राजेश कुमार ने बताया कि हालात पर लगातार नजर रखी जा रही है और राहत शिविरों में लोगों की मदद के लिए पर्याप्त साधन जुटाने के प्रयास किए जा रहे हैं।
 

मानसून की दस्तक से सहमे लोग

ऋषिकेश। मानसून की दस्तक के बाद से ही तीर्थनगरी व सटे आसपास केे ग्रामीण क्षेत्रों में भारी बारिश लोगों के लिए फिलहाल आफत बन गई है। क्षेत्र में गंगा से लेकर सौंग नदी तक का जलस्तर काफी बढ़ गया है, जिससे किनारे पर बसे लोग घबराए हुए है। साथ ही शहरी व ग्रामीण क्षेत्र में सडक़ों से लेकर लोगों के घरों तक में बारिश का पानी घुसने से भी लोगों की परेशानियों में इजाफा हुआ है। 

प्रदेश में मानसून के आते ही क्षेत्र में विगत शनिवार से हो रही तेज बारिश ने लोगों की मुश्किलें बढ़ा दी है। बारिश का यह सिलसिला रविवार को भी जारी रहा है, जिसके चलते गंगा व सौंग नदी का जलस्तर काफी उपर पहुंच गया है। शहर की चन्द्रभागा बरसाती नदी में भी पहाड़ी क्षेत्रों से पानी आ रहा है। बारिश की वजह से शहर की सडक़ें पूरी तरह पानी से लबालब हो गई और लोगों को जलभराव की समस्या से दो-चार होना पड़ा। साथ ही घरों में बारिश का पानी घुसने से भी लोगों को खासी परेशानियों का सामना करना पड़ा। ग्रामीण क्षेत्रों में भी सडक़ें तालाब में तब्दील हो गई। घरों में पानी घुसने से भी लोगों को काफी परेशानियों पेश आई। आलम यह रहा कि रायवाला स्थित नेशनल हाइवे पर कई स्थानों पर पानी भरने से बाजारवाािसयों के साथ ही वहां गुजरने वाले वाहन चालकों को भी परेशानियों का सामना करना पड़ा। बारिश की वजह से सबसे अधिक परेशान गौहरीमाफी ग्राम के लोग है। गंगा व सौंग नदी में बढ़ रहे लगातार पानी से किनारे पर बसे ग्राम के लोग काफी घबराए हुए है। गरमी के वक्त राहत पाने के लिए बारिश के लिए तरस रहे लोगों को मानसून ने दस्तक देते हुए पूरी तरह से पानी से सरोबोर कर दिया है और अब लोगों को यह बारिश आफत लग रही है। बारिश की वजह से लोगों को ठण्ड का भी अहसास हुआ। देर रात तक बारिश का यह सिलसिला जारी था।  

 

एक परिवार जिन्दा दफन

देहरादून। दैवीय आपदा के कारण राजधानी के विभिन्न क्षेत्रों में भारी जान-माल का नुकसान हुआ है। जहां एक ओर मिठ्ठी बेहड़ी में ढांग गिरने के कारण कन्हैया सहित उसकी पत्नी एवं बेटे की मौत हो गयी। मिठ्ठी बेहड़ी वासियों में शोक का माहोल है जिससे कन्हैया के पड़ोस में रह रहे सुरेन्द्र एवं कमल के परिवार ने भी भारी मलवा आने के कारण अपना घर छोड़ दिया है।

विधायक गणेश जोशी ने शोकाकुल परिवार हेतु प्रशासन से मृतकों को आर्थिक सहायता देने की भी मांग की। इसी प्रकार वार्ड 3 बाबूनगर में ढ़ाग गिरने से अनेक परिवारों को भारी माल नुकसान हो गया है जिसमें मुख्य रुप से महेन्द्र प्रसाद बडोला जिनकी रसोई सहित घर का एक कमरा टूट गया, दुर्गेश्वरी भट्ट एवं मधुबाला जिनके घर का एक कमरा पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया, मोहन राणा एवं त्रिलोक राणा के घर के अन्दर पानी आ गया व घर में अनेक स्थानों पर दरारें आ गई। इसी प्रकार थानीगांव में भी कई लोगों को अपने घरों से निकलकर बाहर आना पड़ा क्योंकि उनके घरों में पानी भर गया। इसी प्रकार टपकेश्वर में वैष्णों देवी मन्दिर की पूरी छत ढ़ाग गिरने के कारण ध्वस्त हो गयी। बद्रीनाथ कालोनी में अमित के घर में भी जलभराव के कारण काफी सामान का नुकसान हुआ। इसी प्रकार वार्ड 8 किशननगर के लौहारवाला में ओमप्रकाश के घर के पीछे का पुश्ता एवं योगेन्द्र त्यागी के घर के पास छोटी बिन्दाल नदी का पानी घुस गया जिसका कारण आरआईएमसी द्वारा पुश्ता ना लगाना बताया गया जिस पर विधायक गणेश जोशी ने तहसीलदार से तुरन्त दूरभाष पर बात कर लौहारवाला में हुऐ नुकसान में कारवाही करने को कहा। वार्ड 1 राजपुर में भी श्री जोशी ने आपदा से पीडि़त क्षेत्रों का दौरा किया जिसमें मुख्य रुप से ललिता के घर को भारी नुकसान हुआ है बताया गया कि भारी मलवा आने के कारण घर का सारा सामान दब गया एवं बहुत मसक्कत करने के बाद घर में फसे लोगों को भी बाहर निकाला गया। वही सपेरा बस्ती में महावीर के घर में पानी घुस जाने के कारण काफी सामान का नुकसान हो गया।

 

अतिक्रमण के खिलाफ चला डंडा

देहरादून। अतिक्रमण के खिलाफ चले अभियान में पुलिस व नगर निगम के अमले ने अभी तक काफी संख्या में ऐसे लोगों पर कार्यवाही करते हुए कईयों का सामान जब्त किया। साथ ही दोबारा अतिक्रमण न करने की सख्त हिदायत भी दी थी। आज नगर कोतवाल के नेतृत्व में पुलिस ने पलटन बाजार से हटाए अतिक्रमण को जांचा तो दस लोगों द्वारा पुन: अतिक्रमण करना पाया। इन सभी दुकानदारों को पुलिस की ओर से कारण बताओ नोटिस जारी किए गए हैं। 
कोतवाल जयमल सिंह नेगी ने बताया कि पटलन बाजार में हटाए गए अतिक्रमण का निरीक्षण करने पर यहां दस दुकानदारों द्वारा दोबारा से फुटपॉथ पर सामान रखना पाया गया। इन दसों दुकानदारों को कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए दोबारा अतिक्रमण करने का कारण पूछा गया। भेजे नोटिस में लिखा गया कि जवाब न देने पर उनके खिलाफ विधि के अनुसार कार्रवाई की जाएगी। कोतवाल के अनुसार दो दुकानदारों का जवाब मिला है, जबकि आठ दुकानदारों के जवाब का इंतजार किया जा रहा है। जवाब न आने पर उनपर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी। 
 
जिन दो दुकानदारों के जवाब पुलिस को मिले हैं, उनमें एक मिठाई वाले ने जवाबी पत्र में पुलिस को लिखा कि 'मुझे माफ कर दो, गलती से कोई सामान बाहर रख दिया गया होगा।Ó दुकानदार ने आइंदा से सामान बाहर न रखने की बात कहते हुए कार्रेह्लाई न किए जाने की गुहार लगाई है। जबकि दूसरे दुकानदार के जवाब में लिखा है कि 'मेरी छोटी सी दुकान है और गलती से कोई सामान बाहर रख दिया गया होगा। इस दुकानदार ने भी आगे अतिक्रमण से तौबा करने की बात लिखी है। कोतवाल का कहना कि बाजार सहित क्षेत्र के अन्य जगह हटाए गए अतिक्रमण का निरीक्षण किया जा रहा है। सामान बाहर रखे होने पर संबंधित दुकानदारों को कारण बताओ नोटिस जारी किया जाएगा। 
 

पुलिस की नाक के नीचे चल रहा बाबाओं का कारोबार

देहरादून। नगर निगम गेट के सामने बैठे तथाकथित बाबाओं की दिनभर की करनी यदि गिनी जाए तो इनके द्वारा नशेडिय़ों को भांग बेचने की क्रिया अधिक होगी। कल दोपहर दून चौक पर यातायात संभाल रहे पुलिस कर्मचारियों को एक सज्जन ने बाबाओं द्वारा भांग की पुडिय़ा बेचने की सूचना दी तो पुलिस कर्मचारियों ने दीवार की आड़ में होकर यह नजारा देखा। बाबाओं को पुलिस की भनक लग गई और उन्होंने कंबल में भांग की पुडिय़ा लपेट ली।
 
पुलिस जवानों ने कंबल की तलाशी ली तो उसमें दो थैली भांग पाई गई। पुलिस ने वह थैली नाले में डाल दी। बाबाओं को बाज आने की चेतावनी दी गई। यह नजारा क्राइम पेट्रोल संवाददाता ने अपनी निगाहों से देखा। सूत्रों की माने तो दून अस्पताल और निगम गेट के बाहर डेरा जमाए तथाकथित बाबाओं द्वारा लंबे असरे से दून में नशे का कारोबार चलाया जा रहा है। दून चौक से थोड़ा आगे पुलिस अधिकारियों के कार्यालय हैं, इस सडक़ से पुलिस प्रशासनिक अधिकारियों का आए दिन गुजरना बना रहता है। हैरत कि अभी तक किसी की नजर इन तथाकथित बाबाओं की करनी पर नहीं पड़ सकी है। शहर की जनता में चर्चा है कि हर समय ये बाबा रूपी लोग यहां बैठे रहते हैं। ऐसे में इनके पास भांग रूपी नशा आखिर आता कहां से है। चर्चा तो ऐसी भी है कि एक गिरोह दून में सक्रिय है जो कि इन जगह बैठे बाबाओं को तडक़े या देर रात नशा पहुंचा रहा है। एक ओर तो दून को नशामुक्त करने के उद्देश्य से तमाम थाना पुलिस कठोर कार्यवाही पर उतरी हुई है। वहीं दूसरी ओर नगर में स्थित जिला अस्पताल के समीप हो रहे इस गोरखधंधे को लेकर चुप्पी साधी जा रही है। लगता है कि एलआईयू की भरीपूरी टीम को भी इसकी भनक नहीं है। 
 

मोटर मार्ग जगह जगह पर क्षतिग्रस्त

रूद्रप्रयाग। विगत दिनों हो रही भारी बरसात से विजयनगर तैला मोटर मार्ग जगह जगह पर क्षतिग्रस्त हो गया हे। जिससे पट्टी बड़मा सिलगढ़ के दर्जनों गांवों की जनता जान जोखिम मे डालकर आवाजाही करने को मजबूर हैं।

क्षेत्र के सामाजिक कार्यकर्ता कालीचरण रावत ने बताया कि मानसून पूर्व वर्षा से विजयनगर तैला मोटर मार्ग पर करकण्डी पुल के पास निर्माणाधीन तिमली किरोड़ा मोटर मार्ग का मलबा आने से आवाजाही बाधित हो रही है इस स्थान पर जान जोखिम में डालकर जनता आवाजाही कर रही है। वहीं मन्दणा बैंड पर सडक़ बुरी तरह क्षतिग्रस्त है। डंगवाल गांव एवं मुसाढ़ुंग के बीच सडक़ विगत एक वर्ष से खाई नुमा बनी हुई है। विभाग को बार बार अवगत कराने के बाबजूद मोटर मार्ग की मरम्मत नहीं की जा रही है। जिससे ग्रामीणों में रोष बना हुआ है।

इस मोटर मार्ग से ब्रांच लाइनें कटने से भी कई जगहों पर नये मोटर मार्गों का मलबा आ रहा है परन्तु ठेकेदारों द्वारा इस मलबे को नहीं हटाया जा रहा है। जिससे ग्रामीण इन क्षतिग्रस्त सडक़ों पर ही सफर करने को मजबूर हैं। इस मोटर मार्ग पर थाती बड़मा, मुन्ना देवल, धरियांज, जखोली, धणत गांव, स्वाड़ा, डंगवाल गांव, सेम, कोटी, किरोड़ातल्ला, मल्ला, मरोड़ा, उत्तर्सू, जखन्याल गांव सहित दर्जनों गांवों की जनता रोजाना सफर करती है। सामाजिक काय्रकर्ता कालीचरण रावत के साथ ही दीपक रावत, सत्यप्रसाद, गुड्डू आय्र, शिशुपालसिंह, रवीन्द्र सिंह, राजमोहन सिंह, द्गिम्बर सिंह, अजय सिंह, दुर्गा सिंह, राजेन्द्र सिंह आदि ग्रामीणों ने शासन से उकत मोटर मार्ग की दशा सुधारने की मांग की है। 

 

सडक़ हादसें में युवक की दर्दनाक मौत

देहरादून। मोथरावाला रोड पर से गुजर रही तेर रफ्तार कार की चपेट में आकर स्कूटी सवार युवक गम्भीर रूप से जख्मी हो गया। बाईपास चौकी पुलिस की मदद से जख्मी युवक को दून अस्पताल लाया गया। यहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। पुलिस ने पंचनामा भरकर शव को पीएम के लिए भेज दिया है। कार चालक भागने में कामयाब रहा, पुलिस उसकी तलाश कर रही है। 
 
पुलिस चौकी प्रभारी बाइपास ने बताया कि दुर्घटना की जिम्मेदार कार संख्या केए०१एमसी-५५५५ सीज कर दी गई है। पुलिस के अनुसार मूल रूप से थराली निवासी मनमोहन बहुगुणा उम्र २५ साल यहां मोथरावाला में रहते हुए एक फैक्ट्री में काम कर रहा था। मनमोहन दोपहर को स्कूटी में सवार होकर मोथरावाला रोड पर से गुजर रहा था। इस दौरान एक जगह सडक़ किनारे खड़े ट्रक को ओवरटेक करते समय तेज गति होने पर स्कूटी अनियंत्रित हो गई और सवार मनमोहन जमीन पर गिर गया। इसी दौरान सामने से आ रही उपरोक्त कार उसके पेट से होते हुए निकल गई। चालक ने थोड़ा आगे कार रोकी ओर निकलकर भाग गया। पुलिस ने बताया कि पेट बुरी तरह फट चुका था, लेकिन पीडि़त बोलचाल की हालत में था। दून अस्पताल पहुंचाए जाने पर चिकित्सकों ने उपचार शुरू किया, लेकिन उसे बचाया नहीं जा सका। पसलियां टूटने और अत्यधिक रक्तश्राव से मौत होना बताया गया। 
 

Pensioners urged to submit certificates

 Shimla : A spokesman of State Government said here today that all the pensioners and family pensioners had been urged to submit their Life Certificate, Re-marriage Certificate, Age Certificate (Family Pensioner), Re-employment/Non-employment or employment certificate and PAN Number in case of Pensioners falling in tax bracket in the nearest Treasury Office between 1st July, 2013 to 20th August, 2013 under H.P. Treasury Rules. 

.