Share Your view/ News Content With Us
Name:
Contact Number:
Email ID:
Content:
Upload file:

Delhi-based factory owner commits suicide

Haridwar: A Delhi-based factory owner allegedly committed suicide by hanging himself in a hotel room on Tuesday. The victim Sudesh Pal has been identified as resident of Sangam Vihar New Delhi. Though no suicide note was recovered from the place, police suspected that Pal may have taken the extreme step because of huge losses he suffered due to a major fire which broke out in his factory premises in Delhi earlier this month.
 
According to police, Pal had reached Haridwar on Monday afternoon. In the evening, he rented a room in hotel Amber Palace near Chitra Talkies. Hotel staff said that Pal did not come out of his room even once till Tuesday evening. Around 8 pm on Tuesday a hotel staffer went to Pal’s room to take his order for the dinner. No one responded from inside, despite knocking at the door for several hours. Following this, the hotel staffer informed the hotel manager, who in turn intimated the city police.Police team reached the hotel room and broke the door to find Pal hanging from a ceiling fan inside the room. Pal was immediately rushed to District hospital, where medicos declared him brought dead. Police recovered cash of Rs 12,000 and a gold ring from Pal’s body. His identity was established with the help of some documents found in his belongings.
 
Police later informed Pal’s relatives in Delhi and sent his body for post-mortem.Superintendent of Police (Haridwar city), KL Shah, said, “The victim’s relatives have told us that Pal was tensed after incurring huge losses in a major fire that broke out in his factory premises recently. At this point of time, this seems to be the reason that provoked Pal to take the extreme step. Our investigations into the case are on and more facts will come up soon.” Meanwhile Pal’s body was handed over to his relatives, who had reached Haridwar on Wednesday. Police are waiting for the victim’s post-mortem report to ascertain the actual cause of his death.
 
Meanwhile a complaint of accidental death has been registered in Haridwar Kotwali Police station and further investigations into the case are on. 

State Education Department to set up 13 SITs

Dehradun: State Education Department is going to set up 13 SITs (Statellite Interactive Terminal) in collaboration with Uttarakhand Space Application Center (USAC) and Indian Space Research Organisation (ISRO) in its schools.
 
State Project Rashtriya Madhyamik Shiksha Abhiyan (RMSA) Assistant Director Avanindra K Barthwal said this while talking on Wednesday. Barthwal said that the Ministry of Human Resource and Development (MHRD) has sanctioned Rs 98.76 lakh (Rs 7.6 lakh per school) for installation of SIT (Satellite Interaction Terminal) in 13 different schools (one school in each district) of the State and USAC has been given responsibility for installing SIT in the selected schools. The SIT will be operational through EDUSAT. The EDUSAT (Education Satellite) hub is functional in Doon University with the help of USAC ISRO provides two types terminals in EDSAT Network-SIT (Satellite Interactive Terminology) and ROT (Receive only Terminal). In addition to this the education department has already made E-content CD for SIT.He further said that the 13 SITs will be installed in those schools, wherein there is a room with capacity to accommodate 25 to 50 students and have one attached room also. These schools are equipped with sufficient number of computers and generator back up.The name of the selected schools are Government Girls Inter College (GGIC) Rajpur Road, GGIC Gopeshwar, GGIC Champawat, GIC Almora, GIC Bageshwar, GGIC Jwalapur (Haridwar), GIC Bhimtal (Nainital), GIC Pauri, GIC Pithoragarh, GIC Rudraprayag, 0GIC Bauradi (Tehri), AN Jha GIC Rudrapur, GIC Uttarkashi.The students will be directly linked with the experts and questions can be put during the interactive session. It expected that SIT will be operational by 2012 in the State.
 
EDUCATE, a satellite specially designed for facilitating distance education in India has been launched in September 2004. This satellite uses Ku band and covers the whole country. ISRO has setup this satellite based interactive network, to meet the requirements of various users in education sector. The teacher at teaching end uses PC based multimedia system for delivering a lecture. The live lecture is telecast using suitable cameras or recorded progremme transmitted by other means. The Satellite Interactive Terminal ( SIT ) is simply a small satellite dish, similar to that for satellite TV but with a RF (Radio Frequency) module in front, which receives (LNB-Low Noise amplifier and Block down-converter) and transmits (BUC=Block Up-Converter and high power amplifier). 


 

Flagging-in ceremony held on successful completion of expedition

Dehradun: An expedition of ITBP successfully scaled Mt Rajramba in Kumaon division of Uttarakhand.
 
On completion of successful expedition, a flagging-in ceremony was held at Seemadwar based ITBP campus in Dehradun on Wednesday.Speaking on the occasion, chief guest IG MC Bhatt, Inspector General, ITBP, said that ITBP provides unique opportunities to officers and jawans to exhibit their skills in mountaineering and other adventure sports. He also urged from the gathering to come forward for participating in various expeditions being organised by ITBP across the State.
 
According to him, adventure is just another way of life in the para-military forces and ITBP is the forerunner in adventure activities in the country. The exploits are broad ranging from mountaineering; sky diving, bungee jumping, sailing around the world to white river rafting etc. “Adventure activities are enduring and challenging and besides invigorating a spirit of adventure they help in honing the attributes of team spirit and camaraderie,” he maintained, adding that participating in such adventure activities will surely help them to build self-confidence, espirit-de-corps, facing adverse situation and finally help them to increase their motivation level. He told that such expeditions will continue in the near future as ITBP officers and jawans have earned distinction in various expeditions held from time to time. It is to be noted that ITBP regularly organises various adventure expeditions round the year. A total of 51 men which includes four officers and three inspectors were also part of the team. The expedition was flagged off on June 1 and successfully scaled the mountain situated at an altitude of 6,537 metre in a given time frame.
 
The expedition leader was Commandant KMT Sharma and guide was Commandant Vishal Anand. Sharma told that the team successfully claimed the peak without any casualty and also determined to hold such expeditions in the near future. The expedition was known as “Subhankar-2011”. DIG (Bareilly) RS Negi, DIG (Dehradun) KC Kapoor, Commandant MS Mamgain, PRO Sanjay Bose were also present. 


Supply of potable in the sub-urban areas to improve

Dehradun: After realising that residents living in the sub-urban areas of the State have been reeling under the acute shortage of potable water, the department has decided to further strengthen supply of potable water in those areas.

Well placed sources revealed that crores were sanctioned by the State Government to repair damaged pipelines and to renovate sewerage lines in the different cities of the State. Officials claimed that those living in far flung areas would be among the main beneficiaries after the completion of various projects in the near future. Heavy downpour and inclement weather experienced by State has also come with couple of problems not only for residents but also for department as various potable pipelines were badly damaged in the last year. Besides, those living in the higher areas of the State have to traverse several kilometres to have bucket of water. However, department officials claimed that potable water has been regularly supplied to sub-urban areas through water tankers in the length and breadth of the State. The department figures clearly highlighted that `25 crore was sanctioned by the Government for laying pipelines in the different areas of the State. A total of Rs two crore was sanctioned for Jamnipur pumping project under Dehradun district and subsequently, Rs one crore three lakh was sanctioned for remote areas of the State.

Additionally, `5.25 lakh was also sanctioned for Saraswatipuram-Lower Tunnwala for laying pipeline in the locality. A total of `14 crore 57 lakh was also sanctioned for repairing sewerage lines in Haridwar district and Rishikesh, Dehradun district of the state. One of the department sources, who wished anonymity told The Pioneer that more than 35 lakh was also sanctioned by the Government for repairing pipelines which includes Harsil, Bagoori, Dunda, Veerpur and Gudanful under Uttarakashi district, Laldhang under Haridwar district, Sujja Mohalla and Nagurnath under Udham Singh Nagar district and Malari and Bampa under Chamoli district of the State. He further told that next year is the deadline to complete different projects in the State.

Special instructions have been regularly released to officials to complete all pending works in the given time frame, said SK Gupta, secretary (administration) Jal Sansthan while talking to The Pioneer, adding that most of the damaged pipelines were already repaired by the department. He claimed that no part of the state is reeling under the acute shortage of potable water.

Work undertaken to install a hand pump at halt: Uttarakhand forest department

Dehradun: The Uttarakhand forest department has stopped work being undertaken for boring a hole and installing a hand pump near an old mazaar in Ramnagar forest division.

According to official sources, the hand pump was being installed in the reserve forest area in violation of the Forest (Conservation) Act, without the forest department being informed. With at least 30 tigers believed to be present in the division, the area is important because according to the latest tiger survey conducted by the Wildlife Institute of India, it is one of the few places in India where the tiger population has increased outside protected areas.

According to the Ramnagar Divisional Forest Officer Ravindra Juyal, the water corporation started excavations near an old mazaar in the forests of Ringora in Kosi range. The site was being excavated for boring a hole and installing a hand pump approved by a district-level committee headed by the DM. However, when the department came to know about this it got this work stopped as it was in violation of the Forest (Conservation) Act.According to information provided by reliable sources, the Ringora mazaar is an old shrine located near Ranikhet Road with even the forest department unsure about the time the tomb was made. Located in a reserve forest area, the shrine presently consists of a tomb and a tin shed covering the site. For quite some time now the department has been facing considerable political pressure for allowing construction of a pucca structure to replace the tin shed.So far, the department has held its ground and not allowed any construction on this site. Some wildlife activists alleged that the Ramnagar MLA, Diwan Singh Bisht, is eager to develop the shrine.

However, while talking to The Pioneer, Bisht stressed that he wouldn’t recommend a pucca construction at the site because the forest department will not allow it. It should be noted here that the Ramnagar forest division is important not only for its healthy tiger population but also because the area has been used as a corridor by many generations of elephants.

One held for interrogation in Dey's murder case

Haldwani: Pithoragarh police on Wednesday took into custody a person for interrogation in connection with procurement of weapons from Kathgodam in the Jyotirmoy Dey murder case. The suspect, identified as Ganesh alias Hani, was arrested from Suwalekh village and is allegedly associated with Prakash Pandey, a known criminal.“Ganesh was brought here for interrogation only this morning,” Pithoragarh superintendent of police NS Bharne told the media. “After interrogation, he was allowed to leave on condition that he would recalled to the police station if the need arose. The gram pradhan would supervise his movements in the village.” When asked what would be the next course of action of the local police, the SP said that since the case belongs to Mumbai police, it is up to them to take the call. If the Mumbai police have any evidence against Ganesh in connection with providing weapons to the murderers of Dey, they would take steps accordingly.“Verification of charges is of prime importance without which we cannot arrest anyone,” Bharne said.
 
Following Mumbai police’s revelation of the fact that the weapon to kill Dey was procured from Kathgodam, Ganesh became the prime suspect for security agencies. Since the arrest of Prakash Pandey alias PP and his associates Bhupi and Satish Pandey, Ganesh has been allegedly active in Kumaon region strengthening its crime network.Old hands in Kumaon affairs here are also of the view that Ganesh is engaged in supplying weapons smuggled from Nepal to criminals. His family is based in Tanakpur, Champawat, though he has been living in the small village of Pithoragarh for the past few years.A team of Kathgodam police is still in Tanakpur probing this lead. SP, Haldwani City, JS Bhandari, who is investigating the case, said that a few more people have been interrogated but no headway has been made. 


Advent of monsoon, risk of different ailment

Dehradun: The advent of the monsoon has also increase the risk of different ailments, especially for children and aged persons. The number of children being afflicted with jaundice, allergies, asthma, vomiting and diarrhea has increased since the start of the rains. Doctors recommend that one should take dietary precautions to avoid being affected by such disorders. One should avoid eating fast food especially from unhygienic outlets and roadside stalls. As contaminated water is a major cause for disease, one should either filter or boil the water before consuming it. 



UKD to support any organisation fighting against corruption

Dehradun, The Uttarakhand Kranti Dal’s central head Trivendra Singh Panwar has said that the party will support any organisation which fights against corruption.

Addressing mediapersons in Dehradun, Panwar alleged that both the BJP and Congress State Governments had encouraged large scale corruption in Uttarakhand which has prevented the State from achieving the desired level of development.He alleged that those who had not participated in the Statehood movement had been identified as Statehood activists by the State Government. Stressing that the UKD had always fought against corruption, Panwar added that the party will stand with any organisation which fights against corruption.

Congress MLA toured areas affected by waterlogging

Dehradun: Congress MLA  Dinesh Agrawal toured locations affected by waterlogging between the Niranjanpur wholesale vegetable market and Morowala along with officials of various departments. He directed the officials to speed up the construction of drains in affected areas while expressing hope that this will go a long way in preventing waterlogging.The MLA said that many areas in his constituency are situated in the lower part of Dehradun which causes waterlogging in absence of proper drainage. He said that the Cantonment Board should take steps to prevent waterlogging in its areas because last year many areas in Clementown had faced waterlogging. Officials of ADB, NHA, PWD, Jal Sansthan and MCD also accompanied the MLA on his inspection tour.


Sal Forest Tortoise rescued, released in Rajaji National Park

Dehradun: A highly endangered Sal Forest Tortoise rescued by two youth from a ditch in the city will be released in Rajaji National Park.

Indresh Nagar residents Tarun and Devendra had resuced the tortoise and contacted People For Animals following which the PFA member secretary Gauri Maulekhi informed the Lakshman Chowk police station and took the animal in her custody. The youth handed over the endangered reptile to PFA rejecting a substantial offer made by a person wanting to buy the animal. The PCCF (Wildlife) and Chief Wildlife Warden Srikant Chandola was also informed by email by PFA and expert advise from Wildlife Institute of India was sought to provide appropriate care for the tortoise. According to Maulekhi, the male tortoise which weighs nearly two kg is in a healthy state and will be released in the Rajaji national park within a few days.

Varinder Pandhi took over as new Executive Director of BHEL

Haridwar, An electrical engineer, Varinder Pandhi (58) took over as the new Executive Director, of Heavy Electrical Equipment Plant, BHEL Haridwar on Wednesday. Pandhi took over the charge from outgoing Executive Director, DK Mody, who is due for superannuation in July 2011.Prior to his recent transfer to BHEL Haridwar, Pandhi was working as the Executive Director, Industry Sector, New Delhi.
 
On Wednesday, while meeting the top brass of HEEP, BHEL Haridwar, Pandhi stressed on the importance of team spirit in progress and development of the organisation.Pandhi had joined BHEL in January, 1975. He has extensive experience in the erection and commissioning of power plants. He has worked in the marketing, proposal engineering of captive power plants in various capacities. He has been one of the key persons in marketing of gas turbines for BHEL.Pandhi has also served as Director on the Board of joint venture of BHEL and GE (BGGTS). He has earlier worked at BHEL Haridwar as General Manager (Fabrication) from June 2004 to July 2005.
 
Thereafter he was entrusted with the responsibility of heading the Transportation Business, where he was instrumental in reviving the Electric Loco manufacturing and also development and introduction of IGBT based Propulsion and Control Systems. Pandhi is also Chairman of BHEL Electrical Machines Ltd., a joint venture of BHEL and Govt of Kerala. 



Disaster relief groups to reach affected areas without delay: Akshat Gupta

Dehradun: In view of the landslides and other disasters occurring in the monsoon season, the Uttarkashi District Magistrate Akshat Gupta has directed disaster relief groups to reach affected areas without delay to conduct relief work. He directed officials to accord top priority to disaster management works.
 
The DM also directed officials concerned to provide potable water and food to people stuck on the roads blocked due to landslides. Directing officials to ensure presence of staff in disaster control room round the clock, Gupta said that disaster control rooms should also be established in each Tehsil while assistance centres should be established at the Nyay Panchayat level. The Border Roads Organisation and National Highway Division were also instructed to take swift action in case roads are blocked for traffic due to landslide or other disasters.
 
The DM said that roads under the BRO should be made free of pot holes within the next 10 days and culverts should also be constructed without delay. He also directed the police to ensure no traffic is allowed on the roads from 7 pm to 6 am in view of landslides and the risk of accidents. He said that the six teams formed for disaster management should be ready for action at short notice round the clock. 


Request to allocate part of the parade ground for staging protests: Vinod Chamoli

Dehradun: The district administration is planning to allocate a part of the Parade Ground to citizens for staging protests. This option is being considered after Dehradun Mayor Vinod Chamoli wrote a letter to the Dehradun District Magistrate, Sachin Kurve, seeking assistance in preventing political events and protests in Gandhi Park in addition to facilitating police presence.
 
The Mayor approached the district administration because two years after the Municipal Corporation of Dehradun Board banned protests at Gandhi Park and a week after a platform used for such activities in the park was demolished, political events and protests have continued to mar the ambience of the park.In view of the deterioration of the Gandhi Park being caused by regular protests and political events, the MCD Board had approved a proposal banning such activities in the park in 2009. The Mayor had then written to the DM, SSP and Mussoorie Dehradun Development Authority informing them about the decision to ban protests in the park. However, due to lack of resources, the MCD was unable to implement this ban due to which political events and protest demonstrations have continued to this day in the park. In the past the corporation had employed security guards from a private firm who abandoned the task as they found it impossible to prevent the motley protestors and mischievous elements visiting the park from spoiling the ambience.
 
Recently, the Mayor wrote to the Dehradun DM seeking the assistance of the district administration and police in preventing political events and protest demonstrations in the park. In addition to this the Mayor has also sought police presence in the park to deter anti-social elements from misusing the park for objectionable activities. Official sources state that the district administration is planning to allocate a part of the Parade Ground for such activities. 



UMCEU protests at the Collectorate

Dehradun: To put pressure on the State Government in support of their pending demands, Uttarakhand Ministerial Collectorate Employees Union continued protest at the Collectorate in Dehradun and later locked up the Janadhar office on Wednesday.
 
Meanwhile, a large number of protesters gathered within the premises of the Collectorate and shouted slogans against the State Government for not fulfilling pending demands.Later the agitators locked the various offices in Collectorate including Janadhar office, Land record office, Registry office, Mining department, excise department, Tehsildar office, Entertainment department and others. Though, the protesters claimed that they have successfully locked the offices for two hours in Collectorate. Moreover, Dehradun DM Sachin Kurve called up police to break the lock of the Janadhar office. The lock of Janadhar office was broken about 12.30 pm, but the works started after 1.30 pm. The people who had reached there agitated before DM as officials of Janadhar reached after half an hour.
 
UMCEU State President Rajendra Semwal said that we have protesting for fulfillment of our demands for the last many days, but the State Government has turned a deaf ear. Despite submitting memorandum containing fulfillment of pending demands including ten per cent reserve seats for Collectorate employees in the post of Nayab Tehsildar, reformation of Collectorate and others to the higher officials, the State Govternment has not yet responded
 
Among those present in the protest were Surendra Kumar Yadav, Atar Singh, Devendra Kumar Sundriyal, Rajendra Rawat, CP Uniyal, Ashish Joshi, Rekha Rana, Anil Kumar, Dugesh, Jagdish Mishra, Harish Pandey and hundred of other protests. 


UMCEU on hunger strike from July 4

Haldwani: Disappointed with the indifferent attitude of the Government towards their demands, the Uttarakhand Ministerial Collectorate Employees Union members, who have been on dharna since June 1, are going on hunger strike in front of the State Legislative Assembly from July 4.“

After consulting a majority of the strikers across the State, we have decided to go on hunger strike in front of the Vidhan Sabha,” asserted SC Kandpal, the State general secretary and district president of UMCEU while talking to The Pioneer. He further informed that the employees had already gone on hunger strike in their respective districts. “Now in a bid to intensify our stir we are compelled to sit on hunger strike at the Vidhan Sabha from the first week of July,” he said.The indefinite strike of the Collectoate employees for nearly a month has made an adverse impact on the routine official works. The common people are facing a tough time, as they have not been able to get their necessary work done at the Collectorate. The people who have to come to the Collectorate to get some of their works done from the long distance and villages are the worst sufferers.“We understand the predicament of the common man. But we also have certain issues which remain unresolved for years”, said the union member.“We are on agitation for nearly a month. But the Government seems reluctant about our one point demand of restructuring of Collectorate.

Earlier we met the State Revenue Minister, Diwakar Bhatt, and other Ministers including Banshidhar Bhagat and Prakash Pant and senior officials on this issue but nothing came out of no use,said Kandpal. But till now Government has shown no interest in our grievances. So we are now left with nothing but to intensify our agitation,” said a striker.The primary demand of the Collectorate employees across the State is to restructure the Collectorate. There has been no reshaping of the Collectorate that runs all the administrative activities of a District, while almost all the Government departments have been restructured over a period of time, the strikers said.

Rishikesh-Gangotri national highway reopened after 36 hours

Haridwar: The Rishikesh-Gangotri national highway was reopened to traffic on Wednesday evening after clearing debris of landslides triggered by heavy rains on Monday night. The highway was closed for nearly 36 hours following heavy landslides between Dharasu and Nalupani in Uttarkashi district. Uttarkashi District Magistrate Akshat Gupta said, “The national highway was reopened to traffic on Wednesday evening. Meanwhile, we are still monitoring the area, which is vulnerable to more landslides.
 
As a precautionary measure, we have decided to close the highway for traffic after 8pm.”Thousands of people were stranded as landslides triggered by heavy rains blocked vehicular traffic on national highway between Dharasu and Nalupani in the district since Monday night. Long queues of vehicles were seen on both sides of the road.Border Road Organisation personnel, along with policemen, were put on duty to clear the debris and reopen the road to vehicular traffic. The highway was finally reopened on Wednesday evening.The Rishikesh-Gangotri national highway was closed due to heavy landslides at three places between Devidhar and Badethi, leaving thousands stranded. The Yamunotri highway was also blocked about 11 pm on Monday and could be cleared only at 10 am on Tuesday. Heavy rains on Monday night blocked the Rishikesh-Gangotri highway at Badethi, Bhattinala and Nalupadi.
 
Traffic was repeatedly halted due to several incidents of road caving in near Nalupadi. Several vehicles were buried under the debris. A resident of Pratapnagar, a 10-year-old Robin Dobhal, was hit by rocks while trying to cross a landslide-prone area near Nalupani. Dobhal was rushed to Uttarkashi district hospital from where he was referred to Dehradun. The boy, however, died while being taken to Dehradun. The continuous avalanches in the hills could not allow free movement of traffic. Thousands of tourists, mostly the Char Dham Yatra pilgrims, were caught amid traffic jams leading to inconveniences.


Heavy rainfall expected in next 24 hours

Dehradun: Moderate to rather heavy rainfall is expected to occur in the next 24 hours in many parts of the State.
 
Uttarakhand Meteorological Centre Director Dr Anand Sharma said this while talking to The Pioneer on Wednesday. Sharma said that the western disturbance in Jammu and Kashmir along with Punjab adjacent areas including low pressure areas of eastern Uttar Pradesh advanced into parts of Uttarakhand bringing moderate to rather heavy rains in various parts of the Uttarakhand including Dehradun, Uttarkashi, Chamoli and Nainital districts. The forecast for the next 24 hours says that rather heavy to heavy rainfalls may occur at isolated places in Uttarakhand, especially Uttarkashi, Chamoli and Champawat districts. The rainfalls bringing much needed relief after days humid conditions, sending the maximum temperature plummeting. The rainfall recorded in the State capital during 8.30 am to 20.30 pm was 13.7 mm. The showers in the Dehradun brought down the minimum temperature to 23.5 degrees Celsius, six degrees below normal. Sharma warned the people especially who are living in low line areas of the State should be prepared themselves as on account of rather heavy to heavy rainfall many occur.
 
The pilgrims of Charm Dham Yatra should avoid passing through landslide pronged areas. Sharma said that Dehradun had received 26.6 mm rainfall. 


Women blinded and looted

Dehradun: A woman was blinded by a taxi driver near Dat Kali Temple on Wednesday.
 
According to police, the driver attacked her, stole her jewellery, cash and baggage and threw her out of the running car.  The woman has been identified as Anju, a resident of Biharigarh, Uttar Pradesh. She had hiked a lift in a car from Roorkee.  A motorcyclist found her lying on the roadside and took her to Mahant Indresh hospital, City SP Ajay  Joshi said. A rape attempt has not been ruled out, police said. 


Anti - hijack mock drill conducted at Jolly Grant airport

Dehradun: With an intention to cope up with incident like hijacking of place, an anti - hijack mock drill was conducted at Jolly Grant airport on Wednesday. Security personnel along with staff of airport were sent to alert during the mock drill. Mock drill of hijacking an aircraft was conducted at Jolly Grant airport where top Police officials including DGP of Uttarakhand JS Pandey and officials of Central Industrial Security Force were present.
 
Earlier, Airport Authority sounded an alert to its officials and informed that an aircraft coming from Delhi has been hijacked by two hijackers and they want to land the aircraft at the airport. A bus which was used, as in the place of aircraft was full of passengers and two hijackers who demanded RS 5 crore for the release of Passengers were also boarded in the aircraft.In the meantime Commandos of CISF and Police personnel who were treated as Commandos, National Security Guards surrounded the aircraft sneakily so that hijackers could not notice them.
 
Hijackers were asked to wait for arrival of central team from Delhi and allowed the passengers to take tea. After getting the nod of hijackers Airport Authority sent Commandos of NSG, disguised as waiter who gunned down both hijackers. However three passengers were also killed during the gun battle. 

13 पेटी अवैध शराब के साथ एक गिरफ्तार

पिथौरागढ़। वाहन में रखकर अवैध रूप से लाई जा रही 13 पेटी शराब पुलिस ने जब्त की है। इस मामले में आबकारी अधिनियम के तहत एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। जबकि वाहन को सीज कर दिया है। 
 
चौकी प्रभारी मंगल सिंह के नेतृत्व में जब पुलिस ने गंगोलीहाट की ओर आ रहे मैक्स वाहन की तलाशी ली तो उसमें से 13 पेटी शराब की बरामद हुई। पुलिस ने शराब को जब्त कर वाहन को सीज कर दिया। शराब के साथ पकड़े गए बनकोट क्षेत्र के हितेश नामक युवक को आबकारी एक्ट के तहत गिरफ्तार किया गया। चौकी प्रभारी ने बताया कि इस युवक के शराब की तस्करी में लिप्त होने की बार-बार शिकायत आ रही थी। उन्होंने बताया कि शराब तस्करी को रोकने के लिए विशेष चेकिंग अभियान चलाया गया है। शराब पकड़ने वाली टीम में संतोष डोबाल, जगदीश प्रसाद, अमर सिंह शामिल थे। 

वन संरक्षण के लिए नहीं बनी ठोस नीति

रुद्रप्रयाग। वृक्ष मित्र अभियान के संस्थापक डॉ. त्रिलोक चन्द्र सोनी ने वनों के संरक्षण के लिए अभी तक कोई ठोस नीति न बनाए जाने के लिए सरकार की उदासीनता को जिम्मेदार ठहराया है। 
 
विभिन्न जिलों का भ्रमण करने के पश्चात वृक्ष मिश्र अभियान जिला मुख्यालय पहुंचा। इस अवसर पर अभियान के संस्थापक श्री सोनी ने बताया कि सरकार प्रत्येक जिलों में लाखों रुपए खर्च कर पौधरोपण अभियान चला रही है और तमाम प्रजाति के पौधों का रोपण किया जा रहा है, लेकिन इसके बावजूद भी धरातल पर आज भी वनों की कमी बनी हुई है। कहा कि जंगल में आग लगने से कई प्रजाति के पेड़ पौधों का अस्तित्व संकट में आ गया है। डॉ. सोनी ने कहा कि वनों से ही पहाड़ के लोगों का पशुपालन का व्यवसाय चलता है, लेकिन वनों के संरक्षण के प्रति लोगों मेंजागरूकता के लिए कोई रणनीति नहीं बनी है। 
 
उन्होंने बताया कि वृक्ष मित्र अभियान पर्यावरण जन जागरुकता अभियान है। इसके माध्यम से गांव-गांव जाकर लोगों को वनों के महत्व को समझाकर संरक्षण और वनों को लगाने के लिए प्रेरित किया जाएगा। डा. सोनी ने शासन से ग्रामीणों को फलदार पौधे देने की मांग की है जिससे वे खाली स्थान पर उन पौधों का रोपण कर सके तथा अपनी आर्थिक स्थिति को मजबूत कर सके। अभियान में अन्य कई लोग मौजूद थे।

छात्र हितों को लेकर संयुक्त छात्र परिषद करेगी संघर्ष

श्रीनगर गढ़वाल । छात्रहितों को लेकर गढ़ंवाल विवि संयुक्त छात्र परिषद के बैनर तले संघर्ष किया जाएगा। छात्र नेताओं ने बिड़ला परिसर में बैठक कर परिषद का गठन किया, जिसमें बिड़ला परिषद के सभी छात्रसंघ पदाधिकारियों सहित विभिन्न छात्र संगठनों के प्रतिनिधि भी शामिल हुए। 
 
बैठक में छात्र नेताओं ने कहा कि छात्रों की समस्याओं का समाधान समय रहते किया जाना चाहिए। गढ़वाल विवि की वार्षिक परीक्षा का रिजल्ट भी शीघ्र घोषित किये जाने की मांग की गयी। उन्होंने कहा कि नए प्रवेश लेने वाले छात्रों और पुराने छात्रों की समस्याओं के समाधान के लिए परिषद प्रयास करेगी। छात्र समस्याओं के समाधान को लेकर एकजुट होकर सभी छात्र नेता संघर्ष करेंगे।
 
बिड़ला परिसर छात्रसंघ अध्यक्ष निशांत प्रताप कंडारी, उपाध्यक्ष अनुराग चमोली, विवि प्रतिनिधि वर्गीश बमोला, कोषाध्यक्ष रोहित कन्याल, विद्यार्थी परिषद के सवेर्श चौधरी, मनवीर सिंह, एनएसयूआई के दान सिंह नेगी, मनीष नौटियाल, आर्यन ग्रुप से संजय बिष्ट और अंकित कपरवाण, विकास कठैत छात्र नेता संयुक्त छात्र परिषद कमेटी में शामिल किए गए हैं। 



भांजे ने की थी मामा-मामी की हत्या

कालागढ़/कोटद्वार।पुलिस ने कालागढ़ में हुए दोहरे हत्याकांड का खुलासा करते हुए मृत दंपती के भांजे को गिरफ्तार किया है। पुलिस का दावा है कि सहायक अभियंता व उनकी पत्नी की हत्या उनके रिश्ते के भांजे ने की। खुलासा किया कि हत्यारोपी शारीरिक रूप से कमजोर है और दंपती उसका मजाक उड़ाते थे। इससे क्षुब्ध होकर उसने हत्या की घटना को अंजाम दिया। आरोपी को दिल्ली से गिरफ्तार किया गया। 
 
19 जून की अर्द्धरात्रि को रामगंगा बांध खंड कार्यालय में अज्ञात बदमाशों ने मूल रूप से सिविल लाइंस (बदायूं) निवासी फूल सिंह व उनकी पत्नी राजबेटी की धारदार हथियारों से हत्या कर दी थी। श्री सिंह रामगंगा बांध में सहायक अभियंता पद पर कार्यरत थे। 
 
बुधवार को पुलिस अधीक्षक अरूण मोहन जोशी ने मामले का खुलासा करते हुए बताया कि पडवा-सिविल लाइन (बदायूं) निवासी जगवीर पुत्र जनरैल सिंह ने ही दंपती की हत्या को अंजाम दिया। जगवीर रामगंगा बांध में बतौर सुरक्षाकर्मी तैनात था और फूल सिंह के भाई आश्चर्य कुमार के साथ नई कॉलोनी (कालागढ़) में रहता था। श्री जोशी ने बताया कि दो-तीन माह पूर्व जगवीर के मामा फूल सिंह व मामी राजबेटी को यह पता चला कि वह शारीरिक रूप से कमजोर है, जिसके बाद से वे उसका मजाक बनाने लगे। फूल सिंह के साथ उनके दो भतीजे मोहित व सचिन रहते थे, जो घटना वाले दिन घर पर नहीं थे और यह जानकारी उसके अलावा आश्चर्य कुमार को भी थी। 19 जून की सुबह जगवीर फूल सिंह के घर पहुंचा, जहां उसका काफी मजाक बनाया गया। इससे क्षुब्ध होकर उसने मामा-मामी को मारने की योजना बना दी। इसके तहत उसने आश्चर्य कुमार को स्टाफ में शादी होने की बात कही और घर से पाटल लेकर रात करीब दस बजे फूल सिंह के घर पहुंच गया और वहीं एक कमरे में सो गया। रात्रि में करीब साढ़े बारह बजे जगवीर पाटल लेकर फूल सिंह के कमरे में पहुंचा और दोनों की हत्या कर दी। मामले को चोरी का रंग देने के लिए पाटल से कमरे में पड़े एक ब्रीफकेश को तोड़ दिया। इसके बाद घर में ताला लगा दिया और फरार हो गया। पुलिस ने पाटल व खून सने कपड़ों को वहीं बगीचे से बरामद कर लिया। श्री जोशी ने बताया कि जगवीर ने बदायूं में फांसी लगाकर आत्महत्या का प्रयास किया। 
 
उधर, मृत दंपती के परिजनों ने मामले की सीबीआइ जांच कराने की मांग की है। 
 
टीम को नगद ईनाम की घोषणा 
 
पुलिस अधीक्षक अरूण मोहन जोशी ने बताया कि पुलिस महानिदेशक व उप महानिदेशक ने पुलिस टीम को नगद इनाम देने की घोषणा की गई है। साथ ही उनके स्तर से भी टीम को इनाम दिया जाएगा।

साधारण व विनम्र बन गई ब्यूटी

श्रीनगर। यूनिवर्सिटी यूथ क्लब के एक माह की प्रशिक्षण कार्यशाला के समापन अवसर पर तीन दिवसीय नाट्य महोत्सव का आयोजन किया गया। महोत्सव में हिन्दी व अंग्रेजी के कई नाटकों का मंचन किया जा रहा है। 
 
गढ़वाल विवि के चौरास परिसर में नाट्य महोत्सव का उद्घाटन प्रो. डीआर पुरोहित ने किया। उत्सव के पहले दिन अंग्रेजी नाटक ब्यूटी इज ए बीस्ट का मंचन किया गया। कथानक के अनुसार नाटक की मुख्य पात्र ब्यूटी अत्यंत सुंदर और आकर्षक है, जिसके कारण वह अत्यंत घमंडी और निरंकुश हो जाती है। कथानक के अन्य पात्रों ऑनर, निक, किंग और एंड्रेस के संपकर में आकर किस तरह वह साधारण और विनम्र लड़की बनती है, इसे दर्शकों के सामने रखा गया। 
 
दीक्षा, श्रुति, शोभित, प्रदीप मुयाल, संजय, नरेंद्र, पूनम, वंदना, पूजा, साक्षी, नीलम, उमंग, मनोज, अंजली, अक्षांश, अनुराग, गौरव, मीहिका, जाह्नवी, अन्वेषा, सौम्य, आयुष समेत अन्य कलाकारों ने शानदार अभिनय कर दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया। नाटक की मंच सज्जा व परिकल्पना अजीत पंवार और निदेर्शन दीपक बिष्ट ने किया। नृत्य संयोजन विनायक राणा का रहा। कार्यत्र्कम का संचालन सुजाता वशिष्ठ ने किया। कार्यत्र्कम के संचालन में इंद्रेश मैखुरी, अनूप बहुगुणा, डॉ. राकेश भंट्ट, श्रीश डोभाल, डॉ. संजय पांडे, जयकृष्ण पैन्यूली, नीरज नैथानी, शैलेंद्र तिवाड़ी, दीपक गौड़, प्रदीप रौथाण आदि ने सहयोग दिया।


वन विभाग ने पूरी की पौधरोपण की तैयारियां

हल्द्वानी। बरसात शुरू होते ही वन विभाग ने पौधरोपण की तैयारियां पूरी कर ली हैं। इसके तहत जहां गौला नदी के किनारे से लगे क्षेत्रों में बकायदा बीज बोये जाने की प्रित्र्कया चालू है, वहीं पौधरोपण के लिए तराई पूर्वी वन प्रभाग ने विभिन्न क्षेत्रों में गड्ढे खोद लिये गये हैं।
 
तराई पूर्वी वन प्रभाग के डीएफओ पीके पात्रो ने बताया कि इस बार मिश्रित प्रजाति के वनों के क्षेत्रफल बढ़ाए जाने पर ज्यादा जोर दिया जायेगा। इसके तहत तराई भावर में पाये जाने वाले वृक्षों की प्रजातियों को ही लगाए जाने एवं विकसित करने की योजना है। कहा कि तराई पूर्वी वन प्रभाग के विभिन्न क्षेत्रों में लगभग 821 हेक्टेअर में पौधरोपण एवं बीज रोपण करने का लक्ष्य रखा गया है। वहीं उप वनाधिकारी बीएस शाही ने बताया कि गौला नदी से सटे इलाकों में बीज रोपण का कार्य शुरू कर दिया गया है। गौला रेंज, डौली रेंज आदि वन क्षेत्रों में ज्यादातर शीशम और खैर वृक्ष के बीजों को बोया गया है। श्री शाही ने बताया कि जुलाई के प्रथम सप्ताह से पौधरोपण कार्य भी शुरू हो जायेगा। इसके लिए वन प्रभाग के जिन क्षेत्रों में अच्छी मिट्टी है वहां गड्ढे खोद लिये गये हैं। 



होम्योपैथिक निदेशक की नियुक्ति को हाईकोर्ट में चुनौती

नैनीताल। राज्य के नवनियुक्त होम्योपैथिक निदेशक डॉ.जेके लखेड़ा की नियुक्ति को हाईकोर्ट में चुनौती दी गयी है। इस पर सुनवाई करते हुए खंडपीठ ने डॉ. लखेड़ा को दस्ती नोटिस जारी कर नोटिस तामील होने के बाद मामले की सुनवाई के निदेर्श दिए हैं। 
 
होम्योपैथिक विभाग में उपनिदेशक पद पर तैनात डॉ.भगवत सिंह कनवासी एवं अन्य ने हाईकोर्ट में याचिका दाखिल कर कहा कि डॉ.लखेड़ा पूर्व में सिक्किम में तैनात थे और उनका कैडर भी वहीं का था। याचिकाकर्ता के मुताबिक राज्य सरकार ने बगैर विज्ञिप्त निकाले डॉ. लखेड़ा की नियुक्ति कर दी जो नियम विरुद्ध है। याचिका कर्ताओं ने बताया कि सरकार द्वारा उन्हें पूर्व से अधिक वेतनमान दिया गया है। उनका यह भी कहना था कि वह डा.लखेड़ा से वरिष्ठ हैं और उनका कैडर भी उत्तराखंड का है। 
मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति बारिन घोष व न्यायमूर्ति सवेर्श कुमार गुप्ता की खंडपीठ ने सुनवाई के बाद होम्योपैथिक विभाग के निदेशक डॉ.जेके लखेड़ा को दस्ती नोटिस जारी करते हुए नोटिस तामिली करने के तुरंत बाद मामले की सुनवाई के लिए रख लिया है। 


वंचित अभ्यर्थियों को राहत

नैनीताल। हाईकोर्ट ने आवेदन पत्र विलंब से पहुंचने पर शिक्षक प्रात्रता परीक्षा (टीईटी) में शामिल होने से वंचित अभ्यर्थियों को राहत दे दी है। कोर्ट ने इसे डाक विभाग की लापरवाही मानते हुए शिक्षा बोर्ड रामनगर को याचीगणों के आवेदन फार्म स्वीकार करने तथा उन्हें परीक्षा में सिम्मलित करने का आदेश दिय है। 
 
याचीगण अर्चना जोशी एवं रश्मि गहतोड़ी ने हाईकोर्ट में याचिका दाखिल कर कहा कि उन्होंने 27 मई को हल्द्वानी डाकघर से आवेदन पत्र निर्धारित तिथि से काफी पूर्व भेजे थे। किन्तु डाक विभाग की लापरवाही से फार्म समय पर नहीं भेजा गया। नियमों के तहत स्पीड पोस्ट तीन दिन के भीतर पहुंच जानी चाहिए थी। न्यायमूर्ति सुधांशु धूलिया की एकलपीठ ने मामले को सुनने के बाद शिक्षक प्रात्रता परीक्षा में अभ्यर्थियों के प्रार्थना पत्र में देरी के लिए डाक विभाग की लापरवाही मानी है। कोर्ट ने शिक्षा बोर्ड रामनगर को याचीगणों के आवेदन फार्म स्वीकार कर उन्हें परीक्षा में सिम्मलित करने के निदेर्श दिए।

इंदौर का पर्यटक दंपति घायल

नैनीताल। सरोवर नगरी की सैर कर वापस लौट रहे सैलानियों की कार बुधवार को समीपवर्ती सड़ियाताल के समीप दुर्घटनाग्रस्त हो गई। हादसे में इंदौर निवासी दंपति घायल हो गया। 
 
इंदौर (मध्य प्रदेश) निवासी जितेंद्र चौहान अपनी पत्नी अंतिका चौहान व अन्य पारिवारिक सदस्यों के साथ नैनीताल घूमने आए थे। बुधवार दोपहर को वापस लौटते वक्त कार एमपी-49-सी-1044 के शहर से लगभग पांच किलोमीटर दूर सड़ियाताल के पास ब्रेक फेल हो गया। इस पर वाहन चला रहे जितेंद्र चौहान ने सूझबूझ से कार को सड़क किनारे दीवार से टकरा दिया। इस दौरान जितेंद्र व उसकी पत्नी घायल हो गई। उन्हें इमजेर्सी 108 सेवा बीडी पांडे अस्पताल पहुंचाया गया। प्राथमिक उपचार के बाद दंपति को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। कार सवार अन्य लोग बाल-बाल बच गए। 

डॉ.प्रदीप मेहता नेसो के दूत बने

नैनीताल। उच्च शिक्षा के प्रचार-प्रसार के लिए नीदरलैंड सरकार ने स्थानीय निवासी डॉ.प्रदीप मेहता को भारतीय शाखा (नीदरलैंड शिक्षा सहायक कार्यालय) नेसो का दूत बनाया है। नेसो उन भारतीयों का चयन करता है जिन्होंने नीदरलैंड में शिक्षा प्राप्त की हो।
 
डॉ.प्रदीप मेहता ने इसी वर्ष नीदरलैंड के मास्त्रिक्ट स्कूल ऑफ मैनेजमेंट से उच्च शिक्षा की डिग्री हासिल की है। नेसो ने भारत में शिक्षा के प्रचार-प्रसार के लिए दूत चयनित किए हैं। इनका कार्यकाल एक वर्ष का होगा। भारत में नीदरलैंड सरकार का चेन्नई व अहमदाबाद में कार्यालय है, जहां से नीदरलैंड की उच्च शिक्षा का प्रसार होता है। नीदरलैंड सरकार विकासशील देशों में उच्च शिक्षा के प्रचार-प्रसार के लिए प्रयासरत है और मेधावी छात्रों को छात्रवृत्ति भी प्रदान करती है। 


होम डिलीवरी के नाम पर हड़पी जा रही है रकम

हल्द्वानी। रसोई गैस की कालाबाजारी कोई नई बात नहीं है। इस पर हजार हो-हल्ला होने के बाद भी प्रशासन अब तक नकेल नहीं कस पाया। एजेंसियां पदेर के पीछे भी काली कमाई कर रही है। इस ओर न तो उपभोक्ता ध्यान दे रहे हैं और न ही प्रशासनिक अमला। आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि अकेले हल्द्वानी, काठगोदाम व लालकुआं की गैस एजेंसियां होम डिलीवरी के नाम पर सालाना पौने सात लाख रुपयों की काली कमाई कर रही हैं। 
 
उपभोक्ता अपना तेल व पसीना जला कर घंटों लाइन में लगने की मशक्कत के बाद सिलेंडर पाकर खुश हो जाता हैं, लेकिन उसकी इसी परेशानी के बीच एजेंसियां व ठेकेदार 8 रुपए प्रति सिलेंडर की बचत कर लेते हैं। इसी 8-8 रुपए को जोड़कर आंकड़ा सालाना 6 लाख 72 हजार रुपए हो जाता है। हल्द्वानी में इंडेन गैस की एक, भारत की दो तथा हिंदुस्तान गैस की एक एजेंसी है। इसी प्रकार काठगोदाम व लालकुआं में इंडेन गैस की एक-एक एजेंसियां हैं। इसमें से अधिकांश एजेंसियों के उपभोक्ता गोदाम व एजेंसी कार्यालयों से सिलेंडरों की आपूर्ति ले रहे हैं। जबकि प्रति सिलेंडर उनसे 8 रुपए की वसूली की जा रही है। इस बात का खुलासा सूचना अधिकार अधिनियम के तहत मिली जानकारी में हुआ है।
 
जिला पूर्ति अधिकारी कार्यालय ने आरटीआई कार्यकर्ता एवं व्यापार मंडल के वरिष्ठ उपाध्यक्ष डॉ. प्रमोद अग्रवाल गोल्ड़ी को जो जानकारी उपलब्ध कराई है, वह चौंकाने वाली है। आपूर्ति कार्यालय बताता है कि इन तीनों शहरों के पंजीकृत सभी 93557 उपभोक्ताओं को होम डिलीवरी मिल रही है। जबकि सच्चाई क्या है, यह पूरा शहर और एक-एक उपभोक्ता जानता है। 


एसओजी ने हनी को दबोचा

हल्द्वानी/ पिथौरागढ़। पत्रकार जेडे हत्याकांड के लिए काठगोदाम से हथियार जाने का खुलासा होने पर कुमाऊं भर की पुलिस असलहा तस्करी से जुड़े लोगों की धरपकड़ में जुट गयी है। बुधवार को पिथौरागढ़ पुलिस ने गणेश सोराड़ी उर्फ हनी को उसकी ससुराल से हिरासत में लेकर घंटों पूछताछ की। फिलहाल हनी को हिदायतों के साथ छोड़ दिया गया है। पुलिस उस पर कड़ी निगाह रख रही है। इधर पुलिस की सित्र्कयता के बाद हल्द्वानी में कई लोग भूमिगत हो गए है। 
 
पिथौरागढ़ जिला मुख्यालय से लगभग 20 किलोमीटर दूर अपनी ससुराल पंगरौली में रह रहे हनी को बुधवार की सुबह पुलिस टीम पूछताछ के लिए पिथौरागढ़ कोतवाली ले आई, पूछताछ के लिए लाने से पूर्व पुलिस टीम को ग्रामीणों का भारी विरोध झेलना पड़ा। कोतवाली में पुलिस उपाधीक्षक अमित श्रीवास्तव, कोतवाल डीआर आर्या, आईबी, एलआईयू और स्पेशल ब्रांच ने तीन घंटे तक अलग-अलग पूछताछ की। पुलिस उपाधीक्षक ने बताया कि हनी से कुछ सूचनाएं मिली हैं, जिनकी जांच की जा रही है। 
 
हत्या में प्रयुक्त रिवाल्वर की डिलीवरी हनी द्वारा होने की पुष्टि पूछताछ में नहीं हुई, अलबत्ता पुलिस हनी के मोबाइल और उसके रिश्तेदारों के मोबाइल की कॉल डिटेल खगालने में जुट गई है। हनी ने पुलिस को बताया कि वह पिछले तीन वर्षो से गांव से बाहर नहीं गया है। पुलिस इसकी पुष्टि कर रही है। पूछताछ के बाद हनी को गांव न छोड़ने की हिदायत के साथ छोड़ दिया गया। पुलिस उपाधीक्षक ने बताया कि हनी पर निगाह रखी जा रही है। 
 
इधर हल्द्वानी में अवैध असलहा कारोबार से जुड़े लोगों की धरपकड़ के बाद पुलिस के डर से कई लोग भूमिगत हो गए हैं। पुलिस ने असलहा कारोबार से जुड़े संदिग्ध लोगों की कुंडली खंगालनी शुरू कर दी है। अलबत्ता पुलिस को अब तक कोई ठोस सबूत नहीं मिले हैं। 
 
एक महीने पहले भी आयी थी सूचना 
 
सूत्रों की मानें तो एक महीने पहले जिला पुलिस को काठगोदाम व हल्द्वानी क्षेत्र से देशी-विदेशी अवैध असलहों की तस्करी होने की सूचना मिली थी। अलबत्ता पुलिस उस समय सूचनाओं पर गंभीर नहीं हुई। लेकिन जेडे हत्याकांड में काठगोदाम से असलहा जाने का खुलासा होने पर पुलिस हरकत में आ गयी हैं। सूत्रों के मुताबिक असलहा कारोबार से जुड़े लोगों की कुंडली निकालने के लिए एसओजी सहित अफसरों ने खास तेज-तरार्र पुलिसकर्मियों को लगा दिया गया है। इधर एसएसपी मोहन सिंह बनग्याल का कहना है कि देशी-विदेशी असलहों की खरीद-फरोख्त की सूचनाओं पर पुलिस टीमें लगी हैं। जांच में जो संदिग्ध लोगों के नाम पुलिस के पास आए हैं, उनके बारे में जानकारियां जुटायी जा रही हैं। 


राशन की दुकान पर छापा, निलंबित

हल्द्वानी। आपूर्ति विभाग की टीम ने रानीबाग स्थित सहकारी समिति की सस्ते गल्ले की दुकान पर छापा मारा। जांच के दौरान कालाबाजारी समेत कई गंभीर अनियमितताएं पकड़ीं गई। उक्त दुकान को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया। 

उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों अटल चौपाल में अधिकारियों के सामने क्षेत्रीय जनता ने रानीबाग की कोटे की दुकान से केरोसिन न मिलने तथा बीपीएल कोटे का राशन कम देने की शिकायत की थी। इसके बाद हरकत में आये आपूर्ति विभाग ने छापेमारी की। जिला पूर्ति अधिकारी राहुल शर्मा ने बताया कि जांच में प्रथम दृष्टया यह आरोप तय हो गया है कि उक्त दुकान से उपभोक्ताओं को कभी- कभी ही केरोसिन का वितरण किया गया। दुकानदार कोटे के केरोसिन की कालाबाजारी करने का दोषी पाया गया है। इसी प्रकार बीपीएल उपभोक्ताओं को 35 किलो राशन देने के बजाए महज 30 किलो बांटा गया।
 
शेष राशन गायब कर दिया गया। इस मामले में दुकान को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया। इस दुकान से जुड़े उपभोक्ताओं को कविता बत्रा सस्ते गल्ले की दुकान से जोड़ दिया गया है। श्री शर्मा ने बताया कि आरोपों के बाबत निलंबित दुकान के संचालक से स्पष्टीकरण तलब किया गया है। संतोषजनक जवाब न मिलने पर दुकान को निरस्त करने की कारर्वाई की जाएगी। 

लेक बि्रज धांधली: सभासदों से पूछताछ करेगी सीबीआई

नैनीताल। लेक बि्रज चुंगी टैक्स ठेके के आवंटन में धांधली प्रकरण पर अब सीबीआई पालिका सदस्यों से पूछताछ करेगी। इस मामले में सभी निर्वाचित व मनोनीत सभासदों को सूचना दे दी गई है। इधर सीबीआई के सवालों का सामना होने की इत्तला मिलते ही तमाम सभासद सकते में हैं। वहीं उनका रुख क्या रहेगा, यह भी अहम सवाल है। 
 
याद रहे बीते वित्तीय वर्ष में लेक बि्रज टैक्स का ठेका 2.10 करोड़ में पहले रुड़की के नवबहार अली के नाम हुआ था। मगर तय समयावधि में औपचारिकताएंपूरी न हुई तो पालिका प्रशासन ने उसकी 10 लाख की धनराशि जब्त कर नए सिरे से टेडर आमंत्रित कर दिए। इसके बाद ठेका स्थानीय फर्म के नाम हो गया। 
 
मगर नवबहार अली ने टेंडर में धांधली का आरोप लगाते हुए हाईकोर्ट की शरण ली। याचिका पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने मामले की जांच सीबीआई को सौंपते हुए नवबहार को ब्याज सहित धरोहर राशि लौटाने का आदेश पालिका प्रशासन को दिया। इधर हाईकोर्ट के फैसले को पालिका ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी पर कोई राहत नहीं मिली। 
 
हालिया देहरादून से नैनीताल पहुंची सीबीआई की टीम ने इस प्रकरण पर पत्रावलियों का अध्ययन कर ईओ पालिका व कर अधीक्षक समेत दो कर्मचारियों से पूछताछ की। एक कर्मचारी को बाकायदा देहरादून भी बुलाया गया। अब सीबीआई ने जांच को आगे बढ़ाते हुए सभासदों से पूछताछ का निर्णय लिया है। 
 
पालिका कार्यालय ने सभासदों से दो जुलाई को पूछताछ के लिए पहुंचने को कहा है। सूत्रों के अनुसार सभासदों से अलग-अलग पूछताछ की जाएगी।

अब ई-बुक्स की बढ़ेगी मांगः डॉ.कुमार

नैनीताल। दिल्ली विश्वविद्यालय के डॉ.शैलेंद्र कुमार के मुताबिक अब दौर इंटरनेट व कम्प्यूटर का है, इसलिए आने वाले समय में ई-बुक्स की मांग बढ़ना तय है। उन्होंने कहा किताबों के इलेक्ट्रानिक संस्करण की महत्ता को देखते हुए लाइब्रेरी से जुड़े लोगों को इंटरनेट व ई-बुक्स संबंधी जानकारी को पूरी तरह अपडेट रखना होगा। 
 
डॉ.कुमार कुमाऊं विवि के यूजीसी एकेडमिक स्टाफ कॉलेज में लाइब्रेरी साइंस एंड इनफॉमेर्शन के रिफ्रेशर कोर्स में भाग ले रहे प्रतिभागियों को संबोधित कर रहे थे। पंजाबी विवि पटियाला के डॉ.जगतार सिंह ने टाइम मैनेजमेंट एंड कलेक्शन के बारे में जानकारी दी। इस दौरान बीआर अंबेडकर विवि लखनऊ के प्रो.सत्यनारायण व अलीगढ़ मुस्लिम विवि के प्रो.शबाहत हुसैन ने भी व्याख्यान दिया।
 
कार्यत्र्कम में एकेडमिक स्टाफ कॉलेज के सहायक निदेशक डा.रितेश साह, एसके पांडे, अब्दुल कादिर, अजय कुमार, अनामिका, अंजुम सिद्दीकी, अर्चना सक्सेना, आशा पांडे, भूपेंद्र उत्तम, जयमाला प्रभाकर, कुंवर संजय, मुरलीधर, प्रतिमा शर्मा, प्रीति गोयल, राजकुमार, रजनी मिश्रा, राजीव जैन आदि मौजूद थे। 

सर्पदंश से किशोर की मौत

रामनगर। घर में घुस आए सांप ने किशोर को डस लिया। उसे आनन फानन में अस्पताल ले जाया गया मगर उसने कुछ ही देर बाद दम तोड़ दिया। 
 
ग्राम क्यारी निवासी पूरन तिवारी का पुत्र लकी पवलगढ़ निवासी नानी के घर गया था। रात में सभी लोग सोने की तैयारी कर रहे थे। तभी घर के अंदर आए सांप ने लकी को डस लिया। हालत बिगड़ने पर उसे रात में ही उपचार के लिए बैलपड़ाव ले जाया गया मगर उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। 


मोबाइक स्वामी पर पांच लाख का जुर्माना

हल्द्वानी। मोटरसाइकिल की टक्कर से चोटिल युवक की मौत के मामले में मोटर वाहन दुर्घटना क्लेम अधिकरण/एडीजे फास्ट ट्रैक कोर्ट ने मोबाइक स्वामी को पांच लाख रुपए क्षतिपूर्ति के आदेश दिए हैं। साथ ही चालक के पास वैध लाइसेंस न होने पर इसे बीमा शर्तो का उल्लंघन मानते हुए बीमा कंपनी को प्रतिकर दायित्व से मुक्त किया। 
 
मामला सितंबर 2009 में लालकुआं का है। राजीवनगर बंगाली कालोनी, लालकुआं निवासी बैजू शाह (22) रुद्रपुर से लालकुआं की आया। यहां टेलीकॉम की दुकान में वह किसी कार्य के लिए रुका था। तभी मोटरसाइकिल संख्या यूए 06ए 2083 के चालक ने तेजी व लापरवाही से बैजू को टक्कर मार दी। इससे बैजू के सिर व शरीर पर गंभीर चोटें आई। बेस अस्पताल में उपचार के दौरान बैजू की मौत हो गई। इस पर दूसरे ही दिन चालक के खिलाफ लालकुआं थाने में आईपीसी की धारा 279 व 304 ए के तहत मुकदमा दर्ज कराया गया। यहां से क्षतिपूर्ति के लिए याचिका न्यायालय एमएसीटी/एफटीसी एडीजे में दायर की गई। इसमें मृतक आश्रितों ने मोबाइक स्वामी सूरत सिंह पुत्र गुरुचरन निवासी चीमा पेपर मिल, बाजपुर रोड काशीपुर, चालक जीवन सिंह पुत्र चंदन सिंह निवासी संजयनगर, बिंदुखत्ता तथा रिलायंस जनरल इंश्योरेंस कंपनी (लखनऊ) को पक्षकार बनाया।
 
बीमा कंपनी की ओर से अधिवक्ता एसके गुप्ता ने पैरवी की। उन्होंने दो दृष्टांत पेश करते हुए कहा कि वाहन हालांकि कंपनी से बीमित था, लेकिन दुर्घटना के समय चालक के पास वैध व प्रभाव चालन अनुज्ञिप्त नहीं थी। वहीं वाहन स्वामी व चालक कोई दस्तावेज न्यायालय में प्रस्तुत नहीं कर सके। मामले के सभी पक्षों का तकर सुनने के बाद एमएसीटी/एडीजे राजेंद्र जोशी ने वाहन स्वामी सूरत सिंह को उत्तरदायी ठहराते हुए पांच लाख क्षतिपूर्ति का भुगतान एक माह के भीतर करने का आदेश सुनाया। आदेश में मृतक बैजू की पत्नी गुड़िया देवी को दो लाख, नाबालिग पुत्री निशा व पुत्र लक्की कुमार को बचत पत्र के रूप में एक-एक लाख तथा व विधवा माता कविता देवी को एक लाख रुपए मय छह प्रतिशत ब्याज भुगतान करन

बेसोगलानी विद्यालय का हो उच्चीकरण

विकासनगर। बेसोगलानी क्षेत्र के ग्रामीणों ने राजकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय बेसोगलानी का उच्चीकरण किए जाने की मांग की है। ग्रामीणों ने इस संबंध में जिला पंचायत अध्यक्ष को एक ज्ञापन सौंपा है। 
 
ग्रामीणों का कहना है कि क्षेत्र में एक भी इंटरमीडिएट कॉलेज न होने से छात्रों को ग्यारहवीं व बारहवीं की पढ़ाई के लिए 15 से 30 किमी दूर जीआईसी साहिया या फिर जीआईसी कालसी जाना पड़ता है। छात्रों का काफी समय आने-जाने में ही बर्बाद हो जाता है, जिस कारण उनकी पढ़ाई प्रभावित होती है। इंटर कॉलेज दूर होने के कारण छात्र-छात्राएं समय पर विद्यालय नहीं पहुंच पाते हैं, जिस कारण खासकर परीक्षाओं के समय छात्रों के परेशानियों का सामना करना पड़ता है।
 
राजकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय बिसोगलानी में गोथान, मथेऊ, जोशीगांव, बसाया, कोप्टी, समाया, खतार, बिजऊ, खणी, भंद्रोटा, भागना, कोटी, भौंदी, भुकतार, बाइथा, थैना, काहा-नेहरा-पुनाह समेत तीन दर्जन से अधिक गांवों के छात्र पढ़ाई करने के लिए आते हैं। ग्रामीणों का कहना है कि इस विद्यालय के उच्चीकरण की मांग पिछले काफी समय से की जा रही है, लेकिन अभी तक विभाग ने इस दिशा में कोई कारर्वाई नहीं की है। विद्यालय का उच्चीकरण न किए जाने से अभिभावकों में रोष है। जिला पंचायत अध्यक्ष को सौंपे गए ज्ञापन पर ग्राम प्रधान प्रमिला रावत, प्रताप तोमर, उपप्रधान सोबन सिंह, स्थानीय ग्रामीण संजय सिंह, मोहन सिंह, मुन्ना सिंह, सरदार सिंह, महेंद्र सिंह, अमर सिंह व मोहन सिंह आदि के हस्ताक्षर हैं।

लकड़ी चोर धरे, टाटा मैजिक सीज

देहरादून। वन विभाग की रायपुर रेंज में वन तस्करों ने बीती रात शीशम के दो पेड़ों पर आरी चला दी। सुबह दोनों पेड़ों को उड़ाने की तैयारी थी, लेकिन इससे पहले ही वन विभाग की टीम ने मौके पर पहुंचकर न सिर्फ चोरों को दबोच लिया, बल्कि लकड़ी समेत वाहन को भी कब्जे में ले लिया। इस मामले में चार लोगों पर जुर्म तय कर दिया गया है। 
 
जानकारी के अनुसार देहरादून वन प्रभाग की रायपुर रेंज के भोपालपानी कक्ष संख्या-8 में चोरों ने शीशम के दो उखड़े हुए पेड़ों पर आरी चला दी। इनमें एक पेड़ सूखा हुआ था। इस संबंध में मुखबिर से मिली सूचना पर आरओ जेपी कुकरेती मय टीम मौके पर पहुंचे और रायपुर से दो किमी नीचे रायपुर-खादर मार्ग पर घेराबंदी कर दी गई। इसी बीच जैसे ही कुछ लोग टाटा मैजिक में लकड़ी लेकर वहां पहुंचे वनकर्मियों ने उन्हें घेर लिया। 
 
आरओ श्री कुकरेती ने बताया कि गाड़ी मालिक शकील अहमद पुत्र शरीफ अहमद (मेहूंवाला माफी) समेत दो मजदूर अय्यूब अली पुत्र रशीद अहमद (लक्खीबाग) व ताजदीन पुत्र करीमदीन (घिसरपड़ी-हरभजवाला) को हिरासत में ले लिया गया। श्री कुकरेती के अनुसार पूछताछ में मजदूरों ने सहसपुर निवासी ठेकेदार जहीर के लिए काम करने की बात कही। गाड़ी को सीज कर सीजर रिपोर्ट डीएफओ को भेज दी गई है। उन्होंने बताया कि सहसपुर में जहीर की तलाश भी की गई, लेकिन वह हाथ नहीं आया। हिरासत में लिए तीनों व्यक्तियों को मुचलके पर छोड़ दिया गया। गुरुवार को तीनों रेंज कार्यालय में हाजिरी देंगे। 


वाडिया के उत्कृष्ट वैज्ञानिक और कर्मचारी सम्मानित

देहरादून। वाडिया हिमालय भूविज्ञान संस्थान के 43वें स्थापना दिवस पर वाडिया के उत्कृष्ट वैज्ञानिक और कर्मचारी सम्मानित किया गया। इस दौरान वैज्ञानिकों को क्षेत्र, भाषा, धर्म आदि से ऊपर उठकर देश हित में कार्य करने की सीख दी गई। आइआइटी खड़गपुर के पूर्व निदेशक व सोसाइटी फॉर साइंटिफिक वैल्यूज के अध्यक्ष प्रो. केएल चोपड़ा ने वैज्ञानिकों व इंजीनियर्स के सैद्घांतिक मुद्दों पर प्रकाश डाला। 
 
बुधवार को वाडिया सभागार में स्थापना दिवस कार्यत्र्कम का शुभारंभ प्रो. केएल चोपड़ा ने किया। उन्होंने कहा कि वैज्ञानिक और अभियंताओं को नीतिपरक मूल्यों व आचरण संहिता का पालन करना चाहिए। तभी वे समाज को बेहतर दिशा दे सकते हैं। उन्हें क्षेत्रवाद, जातिवाद, धर्म जैसी चीजों से ऊपर उठकर कार्य करना चाहिए। चोपड़ा ने शोधपत्र के लिए बेस्ट अवार्ड के रूप में तीन हजार रुपये का नकद इनाम डॉ. प्रदीप श्रीवास्तव को दिया। वाडिया संस्थान के निदेशक प्रो. एके गुप्ता ने प्रो. चोपड़ा के जीवन पर प्रकाश डालते हुए बताया कि प्रो. चोपड़ा ने भौतिक विज्ञान के क्षेत्र में देश को अहम सेवाएं दी हैं। कई महत्वपूर्ण पेटेंट व शोध पत्रों का श्रेय उन्हें जाता है। इसके बाद प्रो. गुप्ता ने दिनेश चंद्र व सीपी शर्मा को डायरेक्टर्स स्पेशल अवार्ड से नवाजा। इनाम के तौर उन्हें ढाई-ढाई हजार रुपये दिए गए।
 
बेस्ट वकर्र का अवार्ड राकेश कुमार, तेजिंदर आहुजा, रविंद्र कौर, एमएम बड़थ्वाल, ओपी आनंद, एसएस बिष्ट, विवेकानंद खंडूड़ी, राम खिलावन, सत्य प्रकाश, सुरेंद्र सिंह, कमला मनराल को दिया गया। इस अवसर पर संस्थान के वैज्ञानिक व जन संपकर अधिकारी डॉ. एके पार्चा व डॉ. वीसी तिवारी आदि उपिस्थत थे। 

राजरंभा चोटी को फतह करने में कामयाबी

देहरादून। भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल के अभियान दल ने 21447 फीट ऊंचाई वाली राजरंभा चोटी को फतह करने में कामयाबी हासिल की है। 
 
58 सदस्यीय आइटीबीपी का पर्वतारोहण दल एक जून को राजरंभा अभियान पर निकला था। विकट मौसमी हालातों व विपरीत परिस्थितियों के बावजूद पर्वतारोहण अभियान दल ने 13 जून को राजरंभा चोटी पर राष्ट्रीय ध्वज फहराने में कामयाबी हासिल की। अभियान की इस सफलता पर 14वीं वाहिनी भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल के सीकेएमटी शर्मा ने उन्हें शुभकामनाएं दी हैं। भविष्य में इस प्रकार के और अधिक अभियान दल संचालित किए जाएंगे।
 
इस अवसर पर महानिरीक्षक उत्तरी सीमांत एमसी भट्ट, उपमहानिरीक्षक आरएस नेगी, उपमहानिरीक्षक केसी कपूरी ने अभियान दल को शुभकामनाएं दीं।


अवैध निर्माण पर नोटिस जारी

हरिद्वार। शिवलोक कॉलोनी में अवैध निर्माण के मामले में हरिद्वार विकास प्राधिकरण ने कांग्रेस नेत्री को नोटिस जारी किया है। प्राधिकरण जल्द अवैध निर्माण को सील करने की कारर्वाई करेगा। 
 
उत्तराखंड जनचेतना मंच के अध्यक्ष डीआर बलूनी ने जिलाधिकारी को पत्र लिखकर कांग्रेस नेत्री संतोष कश्यप पर शिवलोक कॉलोनी में अवैध रूप से छत में निर्माण का आरोप लगाया था। जिलाधिकारी ने प्राधिकरण को कारर्वाई के लिए कहा था। प्राधिकरण के सहायक अभियंता एचसीएस राणा ने बताया कि कांग्रेस नेत्री को नोटिस जारी कर दिया गया है। जल्द अवैध निर्माण को सील करने की कारर्वाई की जाएगी। 


किताब में संजोयी निगमानंद की यादें

हरिद्वार। गंगा रक्षा को प्राणों की आहुति देने वाले संत स्वामी निगमानंद की यादें किताब में भी संजोई गई हैं। मातृ सदन ने प्राणोपासना नामक पुस्तक प्रकाशित की है। इस पुस्तक में स्वामी निगमानंद के लेखों को संकलित किया गया है। किताब स्वामी निगमानंद के बौद्धिक और आध्यात्मिक ज्ञान को दर्शाती है। 
 
मातृसदन की स्थापना से काफी पहले ही स्वामी शिवानंद सरस्वती ने निगमानंद को अपना शिष्य घोषित कर दिया था। वर्ष 1995 में वृंदावन में स्वामी शिवानंद ने निगमानंद को शिष्य घोषित किया गया। इसके बाद मातृ सदन की स्थापना वर्ष 1997 में हुई और मातृसदन में निगमानंद संन्यासी जीवन यापन करते रहे। गंगा रक्षा को लेकर मातृसदन से सबसे पहले वर्ष 1998 में दो संतों ने अनशन किया गया था। अनशन करने वाले संत स्वामी निगमानंद और गोकुलानंद थे। 
 
स्वामी निगमानंद समय-समय पर गुरू स्वामी शिवानंद सरस्वती से वेदों और धार्मिक ग्रंथों की जानकारी हासिल करते थे। इन तमाम जानकारियों को स्वामी निगमानंद लिखकर संकलित करते रहे। इनमें वेदों के गूढ़ रहस्यों समेत गंगा के आध्यात्मिक महत्व को विस्तार से बताया गया है। उपासनों का भी विस्तार से जित्र्क इन लेखों में शामिल है। प्राणोपासना को सबसे श्रेष्ठ उपासना बताया गया है। 
 
गंगा रक्षा के लिए लंबे अनशन के चलते 12 जून को स्वामी निगमानंद ब्रह्मलीन हो गए। इसके बाद मातृसदन ने स्वामी निगमानंद के लिखे गए लेखों को संकलित किया गया और मातृसदन की साधना वैदिक प्राणोपासना नामक पुस्तक प्रकाशित की। इस पुस्तक में स्वामी निगमांनद के लिखे गए सभी लेखों को शामिल किया गया है। यह पुस्तक समस्त अखाड़ों को भी वितरित की गई है और स्वामी निगमानंद को श्रद्घांजलि देने मातृसदन पहुंच रहे प्रत्येक नागरिक को भी यह किताब मुहैया कराई जा रही है। मातृसदन के परमाध्यक्ष स्वामी शिवानंद सरस्वती बताते हैं कि जब भी मैं वेद-उपनिषद आदि धार्मिक ग्रंथों के बाबत जानकारी देता था निगमानंद को कोरे कागज लिख लेता है। इन्हीं सब लेखों को पुस्तक में शामिल किया गया है। 
 
एक जुलाई को होगी षोडषी 
 
मातृसदन के ब्रह्मलीन संत स्वामी निगमानंद की षोडषी एक जुलाई को होनी है। इसके लिए तैयारियां चल रही हैं। सभी अखाड़ों को बुलावा भेजा गया है और आमजन भी इसमें शामिल होगा। मातृसदन के परमाध्यक्ष स्वामी शिवानंद सरस्वती ने बताया कि षोडषी के दिन अखाड़ा परंपरा के तहत 16 संतों को सम्मानित किया जाएगा और भंडारे का आयोजन कर प्रसाद वितरण किया जाएगा। 
 
प्रज्ज्वलित है अखंड जोत 
 
ब्रह्मलीन संत निगमानंद के समाधि स्थल पर अखंड जोत प्रज्ज्वलित है। समाधि स्थल पर हर रोज भोग लगाकर प्रसाद वितरण का त्र्कम भी जारी है। यह त्र्कम षोडषी तक चलता रहेगा। 

भर्ती में आरक्षण की मांग पर किया प्रदर्शन

हरिद्वार। आर्टीजन भर्ती परीक्षा में किसान विस्थापित आश्रितों को 25 प्रतिशत आरक्षण दिए जाने की मांग को लेकर किसान संघर्ष समिति ने भेल फाउंड्री गेट पर प्रदर्शन किया। समिति ने भेल प्रबंधन पर किसान विस्थापितों की उपेक्षा करने का आरोप लगाया। 
 
समिति के अध्यक्ष बलवंत सिंह चौहान ने कहा कि भेल की आर्टीजन भर्ती में 25 प्रतिशत आरक्षण भेल विस्थापितों को दिया जाना चाहिए। साथ ही शेष भर्तियां स्थानीय बेरोजगारों के लिए होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि भेल प्रबंधन विस्थापितों और स्थानीय बेरोजगारों की उपेक्षा कर रहा है। इसका हर स्तर पर विरोध किया जाएगा। भेल के जुल्म और शोषण का भेल विस्थापित एकजुट होकर मुकाबला करेंगे। 
 
महामंत्री संजय शर्मा ने कहा कि समिति की मांगें नहीं मानी गई तो भर्ती का विरोध किया जाएगा। आर्टीजन भर्ती किसी भी कीमत पर नहीं होने दी जाएगी। 
 
उन्होंने कहा कि भेल में ठेकेदारी प्रथा को तुरंत खत्म किया जाना चाहिए। मजदूरों का शोषण बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। प्रचार मंत्री फुरकान अली ने कहा कि खाली पड़ी भूमि किसानों को खेती के लिए दी जानी चाहिए। प्रदर्शनकारियों ने सांकेतिक उपवास रखा व भेल प्रबंधन का पुतला भी फूंका। प्रदर्शन करने वालों में मेहर सिंह, अब्दुल वहाब, सुशील चौहान, विनोद चौहान, बिरमपाल चौहान, तासीन अहमद, गंगा देवी, जयवती, संतोष चौहान, हमीदा, मुस्तकीम, गुलफाम, नरेंद्र, मांगीराम, नीटू, वसीम आदि शामिल थे।

क्लास में बंक करने वालों पर कसेगा शिकंजा

हरिद्वार। एसएमजेएन कॉलेज प्रबंधन उपिस्थति के मामले में छात्र-छात्राओं को ढिलाई देने के मूड में नहीं है। 75 फीसदी से कम उपिस्थति पर परीक्षा देने से रोकने की तैयारी है। छात्रों को सत्र के शुरू में ही इस बारे में बता दिया जाएगा। 
 
शहर के सबसे बड़े कॉलेज एसएमजेएन का हाल भी दूसरे कॉलेजों से अलग नहीं है। कक्षाओं के बजाय परिसर में टहलना छात्र ज्यादा पसंद करते हैं। 75 प्रतिशत उपिस्थति दूर की कौड़ी रही है, लेकिन इस बार कॉलेज प्रबंधन ऐसे छात्रों पर शिकंजा कसने के मूड में है। 75 फीसदी उपिस्थति के नियमों का पालन करने के लिए प्रबंधन तैयारी में है। सत्र के शुरू में ही इस बारे में छात्र-छात्राओं को बता दिया जाएगा। ताकि परीक्षा के समय उपिस्थति कम होने से रोके जाने पर कोई विवाद न हो। वहीं, शैक्षिक कैलेंडर के मुताबिक कक्षाएं चलाने को लेकर प्रबंधन भी पूरी तरह आश्वस्त नहीं है। 180 दिन के शैक्षिक कैलेंडर के विपरीत 100 से 110 दिन ही कक्षाएं चल पाती हैं। इस बार भी कैलेंडर के मुताबिक कक्षाएं चलने की उम्मीद कम है। ऐसे में कोर्स पूरा करने के लिए अतिरिक्त कक्षाएं चलाई जाएंगी
 
। कॉलेज के परीक्षा प्रभारी डा. सुनील कुमार बत्रा ने बताया कि अतिरिक्त कक्षाएं चलाने के साथ शिक्षा की गुणवत्ता पर विशेष जोर होगा। पढ़ाई में कमजोर छात्रों के लिए उपचारात्मक कक्षाएं भी चलेंगी। कोर्स पूरा कराना कॉलेज की प्राथमिकता होगी। 


पीएसी की मौजूदगी में दो पक्षों में पथराव

हरिद्वार। पुरानी रंजिश के चलते दो पक्षों में पीएसी की मौजूदगी में जमकर पथराव हुआ। पथराव में तीन लोग गंभीर रूप से घायल हो गये। घायलों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया।
 
पुलिस के अनुसार गांव बुढे़हेड़ी के पूर्व प्रधान रियासत व उसके पड़ोसी साबिर अली के बीच पुरानी रंजिश चली आ रही है। इस रंजिश के चलते पुलिस अधिकारियों ने पीएसी की बटालियन गांव में तैनात की हुई है। मंगलवार की देर रात दोबारा से दोनों पक्षों में विवाद हो गया। दोनों पक्षों के लोगों ने घर से निकलकर एक-दूसरे पर हमला कर दिया। दोनों पक्षों में जमकर संघर्ष हुआ। सूचना पाकर सीओ जीआर जोशी, थानाध्यक्ष एसएस नेगी मय फोर्स सहित मौके पर पहुंचे। पुलिस ने दोनों पक्षों को समझाने का प्रयास किया, लेकिन मामला शांत नहीं हुआ। कुछ देर बाद दोनों पक्षों ने एक-दूसरे पर पथराव कर दिया। इससे लोग तितर बितर हो गए। इस पथराव में तीन लोगों को गंभीर चोटें आई। सूचना पर भारी मात्रा में पुलिस फोर्स को बुलाया गया। पुलिस ने दोनों पक्षों को अलग-अलग कराया। घायलों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया।
 
सीओ जीआर जोशी ने बताया कि घायलों में शामिल पूर्व प्रधान रियासत अली एवं दूसरे पक्ष के साबिर अली और उसके बेटे इरशाद अली को अस्पताल में उपचार दिलाया गया। दोनों पक्षों ने एक-दूसरे पर आरोप लगाकर तहरीर दी है। गौरतलब है कि इस गांव में पुरानी रंजिश के चलते गोलीबारी और रंजिशन मारपीट के मामले सामने आते रहे हैं। इसमें एक व्यक्ति की मौत भी हो चुकी है। सीओ ने बताया कि मौके पर पुलिस बल की तैनाती की गई है। 



प्लाट कब्जाने को लेकर दबंगों ने फायरिंग की

हरिद्वार। प्लाट कब्जाने को लेकर दबंगों ने फायरिंग तक कर डाली। विरोध करने पर महिला को जान से मारने की धमकी दी। मामला ज्वालापुर कोतवाली का है, जहां एक महिला ने पांच दबंगों पर जातिसूचक शब्द, फायरिंग कर जान से मारने की धमकी देने का आरोप लगाया है। कोर्ट के आदेश पर पांचों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। 
 
पुलिस के अनुसार देवीपुरा निवासी उषा देवी पत्नी बाबूराम का गांव के समीप प्लाट है। आरोप है कि इस प्लाट को कब्जाने के लिए 22 फरवरी वर्ष 2011 को सुनील अरोड़ा अपने साथियों के साथ गांव पहुंचा था। आरोप है कि हथियारों से लैस होकर आधा दर्जन से अधिक लोग प्लाट पर पहुंचे और प्लाट पर कब्जा करने का प्रयास किया था। सूचना पाकर महिला उषा देवी परिजनों समेत मौके पर पहुंची। महिला का आरोप है कि दबंगों ने हवा में फायरिंग कर उसे जान से मारने की धमकी दी। महिला के विरोध करने दबंगों ने जातिसूचक शब्दों का प्रयोग किया। धमकी मिलने पर महिला ने ज्वालापुर कोतवाली पहुंचकर शिकायत दर्ज कराई, लेकिन पुलिस ने शिकायत पर कारर्वाई नहीं की। कोई सुनवाई न होने पर महिला ने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया। कोर्ट ने ज्वालापुर पुलिस को आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के आदेश दिये।
 
कोतवाली निरीक्षक जेएस पुंडीर ने बताया कि सुनील अरोड़ा, पंकज गुप्ता, दिनेश कोचर, ज्योति, मनीष अरोड़ा, अजय के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है। 


श्रीकृष्ण की लीलाएं देख हुए अभिभूत

हरिद्वार। देव संस्कृति विवि में महाकवि भास की रचना संस्कृत नाटक बालचरितम का जीवंत मंचन किया गया। नाट्य मंचन में भगवान श्रीकृष्ण के जन्म, बाल लीलाओं से लेकर कंस वध कर जीवंत मंचन किया गया। 
 
देव संस्कृति विवि के सभागार में बालचरितम नाटक का मंचन श्रीकृष्ण के जन्म के साथ शुरू हुआ। इसी दौरान वहां नारद मुनि पहुंचकर श्रीकृष्ण का दर्शन करते हैं। श्रीकृष्ण को लेकर मथुरा से बाहर निकलते समय वासुदेव के मार्ग में यमुना का जल स्तर का कम होने लगता है और इसी वक्त शंख, चत्र्क, गरुड़ आदि श्रीकृष्ण भगवान की वंदना करते हैं और वसुदेव श्रीकृष्ण को लेकर गोकुल पहुंचते हैं। गोकुल में बालक श्रीकृष्ण पर संकट मंडराने लगते हैं। यहीं श्रीकृष्ण भगवान पूतना नामक राक्षसी और अरिष्ठ वृषभ नामक दैत्य का वध करते हैं। अंत में श्रीकृष्ण कंस का वध कर देते हैं। नाटक का निदेर्शन संस्कृत विवि कालड़ी (केरल ) के नाटक विभाग के अध्यक्ष प्रोफेसर सुरेश बाबू ने किया। 
 
इस मौके पर मुख्य अतिथि महामंडलेश्वर स्वामी हरिचेतनानंद महाराज ने कहा कि उत्तराखंड संस्कृत अकादमी देववाणी संस्कृत के विभिन्न नाट्य मंचन कर पूरे मनोयोग के साथ प्रचार-प्रसार कर रही है। उन्होंने कहा कि बालचरितम नाट्य मंचन के जरिए सत्य की जीत का संदेश दिया। उन्होंने कहा कि प्रतिभागी कलाकारों ने बेहतर मंचन कर अपनी प्रतिभा का भी प्रदर्शन किया। उत्तराखंड संस्कृत अकादमी के सचिव डॉ. बुद्धदेव शर्मा ने अकादमी के नाट्य प्रशिक्षण कार्यत्र्कमों और प्रदेश में प्रस्तावित नाट्य यात्रा का विवरण दिया। 
 
अभिनय पक्ष में श्रीकृष्ण की भूमिका में भुवन चंद्र सुयाल, नारद की भूमिका में दीपक सिरवान और वासुदेव की भूमिका में निपिन थे। इसी प्रकार से बसंत बल्लभ चौबे से कंस का अभिनय किया, जबकि त्रिलोचन जोशी ने गरुड़ और सेवक का अभिनय किया। संचालन उत्तराखंड संस्कृत अकादमी के शोध अधिकारी डॉ. हरीश गुरुरानी और संयोजन देवसंविवि के संयुक्त निदेशक राम महेश मिश्र ने किया।
 
इस मौके पर राधेश्याम चतुवेर्दी, डॉ. बृजमोहन गौड़, डॉ. ज्ञान मिश्र, डॉ. हरिगोपाल शास्त्री, डॉ. प्रेमचंद्र शास्त्री, डॉ. ओम प्रकाश भट्ट, कांता प्रसाद बडोला, प्रो. श्याम नारायण मिश्र, उदय राम मिश्र, ओमवीर सिंह, डॉ. देवी प्रसाद उनियाल, राजेंद्र भंडारी आदि उपिस्थत थे। 

पुलिस ने सीबीआइ को कागजात उपलब्ध कराए

हरिद्वार। हरिद्वार पुलिस ने सीबीआइ को आचार्य बालकृष्ण के पासपोर्ट मामले में जरूरी जानकारी और प्रमाण बुधवार को उपलब्ध करा दिए। सीबीआइ ने पुलिस मुख्यालय से इस बाबत अनुरोध किया था। 
 
पिछले कई दिनों से पतंजलि योगपीठ ट्रस्ट के महामंत्री आचार्य बालकृष्ण का पासपोर्ट सुर्खियों में है। आरोप है कि आचार्य बालकृष्ण ने तथ्यों को छुपाते हुए गलत जानकारी देकर अपना पासपोर्ट बनवा लिया था। 
 
बाबा के करीबी आचार्य को वर्ष 1997 में जारी पासपोर्ट के 2006 में रिन्युअल के समय सरकारी एजेंसी ने उनके भारतीय होने पर संहेद जताया था। इतना ही नहीं एजेंसी ने इन परिस्थितियों में पासपोर्ट जारी न करने की सलाह दी थी, बावजूद इसके उन्हें पासपोर्ट जारी कर दिया गया। नगर पालिका द्वारा 1997 और 2006 में जारी उनके जन्म प्रमाण पत्रों में आचार्य बालकृष्ण के अनुरोध पर उनके पिता जयवल्लभ की नागरिकता त्र्कमश। भारतीय और नेपाली दर्शाए जाने की बात सामने आने पर भी उक्त पासपोर्ट जारी किया गया। 
सीबीआइ लखनऊ कार्यालय के निदेर्श पर सीबीआइ कादेहरादून कार्यालय इस मामले की जांच कर रहा है। इसी कड़ी में सीबीआइ ने उत्तराखंड के पुलिस मुख्यालय के माध्यम से एसएसपी हरिद्वार को पत्र भेज कर आचार्य बालकृष्ण के पासपोर्ट प्रकरण के संदर्भ में स्थानीय पुलिस और स्थानीय गुप्तचर शाखा द्वारा की गई जांच के निष्कषोंर और उनसे संबंधित प्रमाण मांगे थे। बुधवार को एसएसपी ने ये उपलब्ध करा दिए। एसएसपी केवल खुराना ने इसकी पुष्टि की।

रामदेव और बालकृष्ण के बीच घंटों मंत्रणा

हरिद्वार। दिल्ली से लौटकर बाबा रामदेव कालेधन और भ्रष्टाचार को लेकर अगली रणनीति की तैयारी में जुटे हुए हैं। पतंजलि में रामदेव व उनके निकट सहयोगी आचार्य बालकृष्ण की घंटों मंत्रणा हुई। माना जा रहा है कि अगली रणनीति पर चर्चा के साथ पतंजलि की आंतरिक स्थिति पर भी दोनों में चर्चा हुई। बाबा रामदेव मीडिया से दूर ही रहे। 
 
एक जुलाई से पतंजलि योगपीठ में निशुल्क योग शिविर शुरू होगा। कालेधन और भ्रष्टाचार के मामले में बाबा रामदेव योग साधकों तक अपनी बात पहुंचाएंगे। पतंजलि की ओर से बताया गया कि देश भर के दस से बारह हजार लोग योग शिविर में शिरकत करने पहुंचेंगे। दिल्ली में केंद्र पर हमला कर बाबा रामदेव अपना नजरिया रख चुके हैं। योग शिविर की तैयारियों से लेकर आगे की रणनीति को लेकर बाबा रामदेव ने बुधवार को दोपहर बाद अपने निकटतम सहयोगी आचार्य बालकृष्ण के साथ घंटों बंद कमरे में मंत्रणा की। माना जा रहा है कि भविष्य की रणनीति के साथ पतंजलि की आंतरिक स्थिति पर भी चर्चा हुई। पतंजलि व बाबा के अन्य ट्रस्टों के कामों को कैसे आगे बढ़ाया जाए इस पर दोनों ने बातचीत की।
 
आधिकारिक तौर पर इस मामले में कोई कुछ भी बोलने को राजी नहीं है। वहीं, बाबा रामदेव ने दिल्ली से लौटने के बाद मीडिया से दूरी बनाए रखी है। वे अपने नजदीकी रणनीतिकारों से भविष्य की योजनाओं पर चर्चा में जुटे हैं। पिछले दिनों तेजी से बदले घटनात्र्कम के बाद बाबा के रणनीतिकार तमाम मामलों में कोई भी कदम बढ़ाने से पहले हर पहलू पर गहरी नजर रख रहे हैं। 


चतुर्थ श्रेणी कर्मियों के सम्मेलन में रखी मांगे

रुड़की। उत्तर प्रदेश चतुर्थ श्रेणी राज्य कर्मचारी महासंघ के सम्मेलन में कर्मचारी संगठनों की एकता एवं नौ सूत्रीय मांगों को उठाने पर जोर दिया गया। सम्मेलन में पुरानी कार्यसमिति को भंग कर नई कार्यसमिति का गठन किया गया। 
 
चतुर्थ श्रेणी राज्य कर्मचारियों के सम्मेलन में प्रांतीय संरक्षक राम लखन सिंह ने कहा कि कर्मचारियों की मांगों पर यूपी सरकार ध्यान नहीं दे रही है। जिस कारण छठे वेतन मान को अभी तक लागू नहीं किया जा सका है। कर्मचारियों का वेतन 5200 से 20200 और ग्रेड पे 1800 रुपए सितंबर 2010 से स्वीकृत किया जा चुका है, लेकिन इसका लाभ अभी तक नहीं मिला है। उन्होंने कहा कि आउटसोर्सिग द्वारा भर्ती को बंद किया जाए व चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों की भर्ती से रोक हटाई जाए साथ ही 31 दिसंबर 2010 से पहले कार्यरत दैनिक वेतनभोगी एवं वकर्चार्ज कर्मचारियों को नियमित करने संबंधी आदेश दिया जाए। इंटर उत्तीर्ण कर्मचारियों को टंकण श्रेणी में प्रोन्नत किया जाए या इसके समकक्ष उपलब्ध विभागों में तृतीय श्रेणी के अन्य पदों पर प्रोन्नति करने हेतु नियमावली में संशोधन किया जाए। कर्मचारी महासंघ ने केंद्रीय कर्मचारियों की तरह भत्तों में समानता देने, कर्मचारियों की सेवानिवृत्ति 60 से बढ़ाकर 62 वर्ष व साइकिल देने की मांग की।
 
प्रांतीय अध्यक्ष टीएन मिश्रा ने कहा कि मांगे नहीं मानी गई तो विभिन्न विभागों के कर्मचारी एकजुट होकर हड़ताल करेंगे। सम्मेलन के दूसरे सत्र में पुरानी कार्यसमिति को भंग कर नई कार्यसमिति बनाई गई। जिसमें राजनारायण पाठक को मेरठ मंडल का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है।

ब्यूटी पार्लर गई युवती लापता

हरिद्वार। रहस्यमय परिस्थितियों में ब्यूटी पार्लर गई युवती लापता हो गई। काफी खोजबीन के बाद भी युवती का पता नहीं चल पाया। परिजनों ने युवती की गुमशुदगी दर्ज कराई है। 
 
पुलिस के अनुसार न्यू रामनगर कॉलोनी ज्वालापुर निवासी दिनेश की पुत्री 28 जून को इस्लामनगर में बने ब्यूटी पार्लर पर गई थी। सायं होने के बाद भी युवती घर नहीं लौटी। परिजनों ने युवती की सहेलियों एवं रिश्तेदारों से भी संपकर किया, लेकिन युवती का पता नहीं चल पाया। इधर-उधर संपकर करने के बाद भी कोई जानकारी नहीं मिलने पर परिजनों की चिंताएं बढ़ने लगीं। थक-हारकर परिजन ज्वालापुर कोतवाली पहुंचे और पुलिस को मामले की जानकारी दी। पुलिस ने युवती की गुमशुदगी दर्ज कर ली है। 


लोगों ने बैंक प्रबंधक के खिलाफ दिया धरना

विकासनगर। स्थानीय पीएनबी शाखा प्रबंधक पर परेशान करने का आरोप लगाते हुए क्षेत्रीय लोगों ने बैंक के सामने धरना दिया। 
स्थानीय लोग भाजपा नेता भीमदत्त वर्मा के नेतृत्व में बैंक पहुंचे, जहां शाखा प्रबंधक के खिलाफ नारेबाजी करते हुए धरने पर बैठ गए। उनका आरोप था कि प्रबंधक जनता को कृषि ऋण के लिए चक्कर कटाते हैं। इस संबंध में क्षेत्रवासियों ने बैंक के मंडल प्रमुख को ज्ञापन भी भेजा। जिसमें प्रबंधक के स्थानान्तरण की मांग की गई। इस मौके पर माया, संजय राय, मोहर सिंह, प्रेमलाल व कपिल चौहान आदि मौजूद थे। 

गढ़वाल स्पोर्टिग ने इंदिरा क्लब को 2-1 से हराया

देहरादून। गढ़वाल स्पोर्टिग ने रोमांचक मुकाबले में इंदिरा क्लब को 2-1 से हराकर लाला नेमीदास मेमोरियल जिला फुटबाल लीग में पूरे अंक हासिल किए। दूसरे मैच में दून वैली व बजरंग क्लब ने गोलरहित ड्रा खेलकर अंक बांट लिए। 
 
पवेलियन मैदान में चल रही प्रतियोगिता में बुधवार को गढ़वाल स्पोर्टिग व इंदिरा क्लब के बीच मैच खेला गया। बारिश के चलते मैदान में पानी भरा होने के बावजूद दोनों टीमों ने तेज खेल दिखाया। सातवें मिनट में ही गढ़वाल स्पोर्टिग के फारवर्ड शिवम ने विपक्षी डी में मिले पास को गोल में तब्दील कर टीम को 1-0 की बढ़त दिलाई। मध्यांतर के बाद इंदिरा क्लब ने बराबरी पर आने के प्रयास तेज कर दिए। 38वें मिनट में इंदिरा क्लब के फारवर्ड वासु ने गोल दाग मैच 1-1 से बराबरी पर ला दिया। 58वें मिनट में गढ़वाल स्पोर्टिग के फारवर्ड वित्र्कम ने गोल दागकर टीम को 2-1 से जीत दिला दी। 
 
दून वैली व बजरंग क्लब के बीच खेला गया दूसरा मैच संघर्षपूर्ण रहा। दोनों टीमों ने तेज खेलते हुए कई मूव बनाए, लेकिन किसी को भी सफलता नहीं मिली। मध्यांतर के बाद दून वैली को गोल दागने का सुनहरा मौका मिला, लेकिन फारवर्ड तरुण असवाल का लगाया हैडर विपक्षी गोलपोस्ट के करीब से निकल गया। निर्धारित समय तक स्कोर 0-0 रहा। 

आठ घंटे बंद रहा कालसी-चकराता मार्ग

विकासनगर। जौनसार-बावर की लाइफ लाइन कहा जाने वाला कालसी-चकराता मोटर मार्ग पर छह स्थानों पर मलबा आने से करीब आठ घंटे ठप रहा। इसके साथ ही चकराता-माक्टी मोटर मार्ग भी बंद होने से मसूरी जाने वाले यात्रियों की भी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। मार्ग बंद होने से दर्जनों वाहन रास्ते में ही फंसे रहे। जेसीबी से धीमी गति से मलब हटाने से खफा लोगों ने हंगामा किया। 
 
मंगलवार रात मूसलाधार बारिश के कारण असनाड़ी, ककाड़ी व जजरेड खड्ड के पास छह स्थानों पर पहाड़ दरकने से मलबा कालसी-चकराता-साहिया मोटर मार्ग पर आ गया। इसके चले बुधवार तड़के करीब तीन बजे बंद हुआ मार्ग करीब 11 बजे खुल पाया। मार्ग बंद होने से करीब पांच दर्जन से अधिक वाहन फंस गए। मार्ग खोलने के लिए कार्यदायी संस्था लोनिवि देहरादून द्वारा मलबा हटाने के लिए जेसीबी मशीन लगाई गई। जेसीबी द्वारा धीमी गति से कार्य से नाराज स्थानीय लोगों ने हंगामा करना शुरू कर दिया। लोगों का आरोप था कि जेसीबी चालक ज्यादा घंटे बनाने के चक्कर में धीमी गति से कार्य कर रहा है। स्थानीय ग्रामीण सूरत सिंह, महावीर सिंह, भगत सिंह, नीरज, यशपाल व सुरेंद्र आदि के हंगामा करने के बाद जेसीबी चालक ने तेजी से मलबा हटाया। वहीं, चकराता-नागथात-मसूरी मोटर मार्ग पर माक्टी के पास मलबा आ गया। मार्ग बंद होने से मसूरी जाने वाले यात्रियों को दिक्कतों का सामना करना पड़ा। इस रूट पर चलने वाले वाहनों को साहिया होकर विकासनगर की ओर आना पड़ा। 
 
समय पर मंडी नहीं पहुंची नगदी फसलें 
 
मोटर मार्गो के बंद रहने से किसान नगदी फसलें टमाटर, आलू, धनिया आदि समय पर मंडी नहीं पहुंचा पाए। जिससे किसानों को अपनी फसल के वाजिब दाम नहीं मिल पाए। काश्तकार दयाराम व कलम सिंह आदि का कहना है कि विकासनगर मंडी में सुबह नगदी फसलें नहीं जा पाई हैं, जिससे टमाटर खराब होने के डर से औने-पौने दाम पर बेचने पड़े। 


अंतिम दिन मुफ्त में राफ्टिंग

ऋ षिकेश। राफ्टिंग कावर्ष 2010-11 सत्र आज समाप्त हो रहा है, जिस पर राफ्टिंग कंपनियों ने पर्यटकों को एक दिन मुफ्त में राफ्टिंग कराने की घोषणा की है। इसके अलावा रक्तदान शिविर व कौडियाला से खारास्त्रोत समाप्ति बिंदु तक गंगा तटों पर स्वच्छता अभियान भी चलाया जाएगा। 
 
कौडियाला-ऋषिकेश के बीच गंगा में राफ्टिंग का 2010-11 सत्र आज से समाप्त हो रहा है, जिसके बाद नया सत्र एक सितंबर 2011 से आरंभ होगा। सत्र समाप्ति के अंतिम दिन सभी राफ्टिंग कंपनियां पर्यटकों को मुफ्त में राफ्टिंग कराएंगी। साहसिक पर्यटन संघर्ष समिति के अध्यक्ष दीपक भट्ट ने बताया कि सुबह सात से दोपहर बारह बजे के बीच जो भी पर्यटक राफ्टिंग करना चाहे राफ्टिंग कार्यालयों से सीधे संपकर कर मुफ्त में राफ्टिंग कर सकते हैं। इसके अलावा कंपनियां कौडियाला से खारास्त्रोत मुनिकीरेती के बीच गंगा तटों पर स्वच्छता अभियान चलाएंगी। दोपहर 12 से दो बजे तक गंगा रिजॉर्ट तपोवन में रक्तदान शिविर लगाया जाएगा। शाम के समय सभी 131 कंपनियों की सामूहिक बैठक होगी, जिसमें बीते सत्र की उपलिब्धयों, कमियों के साथ आने वाले सत्र की तैयारियों पर भी चर्चा की जाएगी। 
 
साढ़े तीन लाख से अधिक ने की राफ्टिंग 
 
राज्य में राफ्टिंग का कारोबार किस तेजी से फल फूल रहा है, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि 2010-11 के सत्र में साढ़े तीन लाख से अधिक पर्यटकों ने राफ्टिंग का लुत्फ उठाया जो बीते वर्ष की तुलना में करीब दो गुना है। साहसिक पर्यटन संघर्ष समिति के अध्यक्ष दीपक भट्ट ने बताया कि बीते सत्र में करीब डेढ़ से दो लाख लोगों ने ही राफ्टिंग का लुत्फ उठाया था, मगर इस बार यह आंकड़ा तीन लाख की संख्या को पार कर गया है। यह क्षेत्र में तेजी से फल फूल रहे साहसिक पर्यटन की संभावनाओं की जानकारी देता है। उन्होंने बताया कि इसमें राफ्टिंग के साथ बंजी जंपिंग, पर्वतारोहण व ट्रैकिंग आदि गतिविधियां भी शामिल है। 


नौ अगस्त को संसद घेरेगी भाजयुमो

डोईवाला। भारतीय जनता युवा मोचेर के प्रदेश अध्यक्ष विनोद कंडारी ने कहा कि देश में बढ़ती महंगाई, भ्रष्टाचार व अराजकता के लिए केंद्र सरकार पूरी तरह जिम्मेदार है। केंद्र की जनविरोधी नीतियों से देश व जनता आर्थिक गर्त में जा रही है। उन्होंने कहा कि इन मुद्दों को लेकर भाजयुमो नौ अगस्त को संसद का घेराव करेगी। 
 
ब्लॉक सभागार में भाजयुमो के जिला स्तरीय सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि आज देश की जनता कांग्रेस की घातक नीतियों को समझ चुकी है। भाजपा जिलाध्यक्ष गोविंद अग्रवाल ने कहा कि देश में जब भी कांग्रेस की सरकार बनी, महंगाई आसमान को छूने लगती है। भाजयुमो के प्रदेश मंत्री मनोज जखमोला ने कहा कि महंगाई ने गरीब जनता की कमर तोड़ दी है।
 
कार्यत्र्कम की अध्यक्षता करते हुए भाजयुमो जिलाध्यक्ष कमलेश उनियाल ने कहा कि महंगाई के मुद्दे पर कांग्रेस का रवैया सही नहीं है। कांग्रेस पूंजीपतियों की पार्टी बन चुकी है। इसके खिलाफ अभियान चलाया जाएगा। सुभाष बड़थ्वाल, पार्वती नेगी, मंशा गैरोला, मोहन सिंह असवाल व मनोज जैन ने कहा कि केंद्र से कांग्रेस सरकार का पतन निश्चित है। आने वाले विधानसभा चुनाव में भाजपा पुन। सत्तासीन होगी। भाजयुमो के जिला स्तरीय सम्मेलन में नौ अगस्त को दिल्ली चलो, संसद घेरो अभियान पर तैयारियों को लेकर संयोजक भी बनाए गए।
 
भाजयुमो के जिला महामंत्री अमित शाह के संचालन में आयोजित कार्यत्र्कम में मनीष चैथानी, राजेंद्र तड़ियाल, मुकेश चौधरी, देवानंद बडोनी, संदीप नेगी, भारतेंदु शंकर पाण्डे व राकेश पारछा आदि उपिस्थत थे।

पैसेंजर ट्रेन में यात्रियों ने युवक को धुना

देहरादून। देहरादून-सहारनपुर पैसेंजर ट्रेन में एक महिला के पर्स, मोबाइल व नकदी पर हाथ साफ कर रहे युवक की यात्रियों ने पिटाई कर दी। युवक चलती ट्रेन से कूदकर माल सहित भाग निकला। 
 
प्राप्त जानकारी के अनुसार, प्रेमनगर बाजार निवासी कैलाश के पिता की डोईवाला चौक पानी की टंकी के पास जूते-चप्पल की दुकान है। उन्होंने बुधवार सुबह अपनी सास रामकली, पत्नी बबीता व साली मनीषा को लक्सर जाने के लिए ट्रेन में बिठा दिया। टिकट लेकर जैसी ही वह लोग ट्रेन पर बैठे, इसी बीच एक युवक ने अचानक उनके पर्स, दो मोबाइल और 24 सौ रुपये नगदी पर झपट्टा मारकर भागने लगा। शोरगुल होने पर कुछ यात्रियों ने युवक को पकड़ लिया और जमकर धुनाई कर दी। इस बीच वह किसी तरह बचकर चलती ट्रेन से कूद गया। पीड़ित परिवार ने मामले की शिकायत स्थानीय प्रशासन व रेलवे विभाग से की। क्षेत्र में टप्पेबाजी की घटनाएं बढ़ने से लोगों में आत्र्कोश देखा जा रहा है। 


 

खेल विभाग उठाएगा रश्मि के इलाज का खर्च

देहरादून। खेल मंत्री खजान दास ने खेल विभाग के अधिकारियों को गोल्ड मैडल विजेता रश्मि के इलाज में आने वाला खर्च वहन करने के निदेर्श दिए हैं। खेल मंत्री दून लौटने पर रश्मि से मुलाकात भी करेंगे। बुधवार को रश्मि को अस्पताल प्रबंधन ने वीआइपी वार्ड में शिफ्ट कर दिया। 
 
उड़ीसा में हुई राष्ट्रीय किक बॉक्सिंग प्रतियोगिता में सोने का तमगा जीतकर सूबे का नाम रोशन करने वाली रश्मि को विगत दिनों अचानक तबियत बिगड़ जाने पर श्रीमहंत इंद्रेश अस्पताल में भर्ती कराया गया था। परिजनों का आरोप था कि सरकार रश्मि की सुध नहीं ले रही है। बुधवार को रश्मि के अस्वस्थ होने की खबरें अखबारों की सुर्खियों में रही तो सरकार भी हरकत में आ गयी। खेल मंत्री खजान दास ने रश्मि के मामले को गंभीरता से लेते हुए उसके इलाज में आने वाला खर्च वहन करने की बात कही है। इसके लिए खेल विभाग को निदेर्श जारी किए गए हैं। वहीं, खेल मंत्री के निदेर्श पर प्रमुख सचिव खेल राकेश शर्मा एवं जिला त्र्कीड़ा अधिकारी डॉ.धमेर्न्द्र भट्ट ने रश्मि से मिलकर स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली। 
 
दूसरी तरफ, अब श्रीमहंत इंद्रेश अस्पताल प्रशासन भी हरकत में दिख रहा है। अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. वेदप्रकाश का कहना है कि रश्मि के इलाज में धन की कमी आड़े नहीं आने दी जाएगी। न्यूरोसर्जन डॉ. पंकज अरोड़ा की देखरेख में रश्मि का इलाज चल रहा है। उसकी सीटी स्कैन रिपोर्ट नॉर्मल है। बुधवार को रश्मि को वीआइपी वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया। चिकित्सक उसके स्वास्थ्य पर बराबर नजर बनाए हैं। रश्मि के ताऊ सोहन लाल भदूला ने रश्मि के उपचार पर संतोष जताया। 

सीपीआइएम ने किया सीएम आवास कूच

देहरादून। सभी परिवारों को दो रुपये प्रति किलो की दर से 35 किलो अनाज दिए जाने, जाति व मूल निवास प्रमाणपत्र प्रित्र्कया सरल किए जाने, मनरेगा के तहत सौ दिन का काम समेत नौ सूत्री मांगों को लेकर भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (माकर््सवादी) के कार्यकर्ताओं ने सीएम आवास कूच किया। भारी बारिश के बावजूद रैली के रूप में सीएम आवास जाते कार्यकर्ताओं को पुलिस ने हाथीबड़कला में रोक दिया। उन्होंने मांगों को लेकर सीएम को ज्ञापन भेजा। 
 
बुधवार की दोपहर भारी बारिश के बावजूद सीपीआइएम कार्यकर्ता लोकल बस स्टैंड में एकत्र हुए और रैली के रूप में मुख्यमंत्री आवास कूच किया। रैली को हाथीबड़कला में बैरिकेडिंग पर रोक लिया गया। पार्टी के प्रदेश सचिव विजय रावत ने कहा कि सीपीआइएम लंबे समय से राज्य की समस्याओं को लेकर आंदोलन कर रही है, लेकिन सरकार ने इस ओर पहल नहीं की। उन्होंने कहा कि राज्य के सभी परिवारों को सस्ता अनाज मिलना चाहिए। साथ ही मूल निवास व जाति प्रमाणपत्र बनाने की प्रित्र्कया सरल की जानी चाहिए। उन्होंने बियोंग-फाटा और सिंगोली-भटवाड़ी जल विद्युत योजनाओं को बंद करने, दोषी कंपनियों के विरुद्ध कारर्वाई करने और विरोध करने वाले ग्रामीणों के मुकदमें वापस लेने की भी मांग की। कामरेड बच्चीराम कौंसवाल ने कहा कि मनरेगा के तहत 100 दिन का काम सुनिश्चित किया जाना चाहिए। शक्ति फार्म में विस्थापित बंगाली परिवारों की भूमि सूदखोरों से मुक्त कराने और पर्वतीय फसल व फल उत्पादों के लाभकारी समर्थन मूल्य घोषित किए जाएं।
 
इसके साथ ही उन्होंने डीजल, रसोई गैस व मिंट्टी तेल से वैट पूरी तरह समाप्त करने की मांग की। सीपीआइएम ने मांगों को लेकर मुख्यमंत्री को ज्ञापन प्रेषित किया। इस मौके पर सुरेंद्र सजवाण, गंगाधर नौटियाल, राजेंद्र नेगी, भगवान सिंह राणा, वीरेंद्र भंडारी, इंदु नौडियाल, लेखराज, अमित जोशी, राजाराम सेमवाल आदि मौजूद थे।


डोईवाला में अंधेर नगरी चौपट राजा का मंचन

डोईवाला। नटराज आर्ट्स गु्रप एवं रिया संगीत कला केंद्र के तत्वावधान में आयोजित अंधेर नगरी चौपट राजा नाटक के माध्यम से कलाकारों ने राजकाज की लचर व्यवस्था पर तीखे तंज कसे। नाट्य प्रस्तुति के जरिये संदेश दिया गया कि राजा के गलत फैसले का दंड प्रजा को भुगतना पड़ता है। 
 
देहरादून रोड डोईवाला स्थित शक्ति भवन मंदिर सभागार में कलाकारों ने अंधेर नगरी चौपट राजा नाटक का शानदार मंचन किया। कलाकार यह दर्शाने में पूरी तरह सफल रहे कि किस प्रकार राजा के विवेक शून्य होने पर इसका प्रभाव शासन, सत्ता व जनता पर पड़ता है। नाटक के माध्यम से कलाकारों ने संदेश दिया कि राजा को बुद्धि विवेक का खुद इस्तेमाल करना चाहिए। इससे पूर्व, भाजपा के करन वोहरा, पूर्व ब्लॉक प्रमुख प्रभुलाल बहुगुणा व गुरदीप सिंह ने दीप प्रज्वलित कर कार्यत्र्कम का उद्घाटन किया।
 
रिया कला केंद्र की रेशल सिंह की अध्यक्षता व नरेंद्र नेगी के संचालन में आयोजित कार्यत्र्कम में सुषमा जोशी, प्रेरणा सिंह, विनीत जोशी व अशोक चौहान आदि उपिस्थत थे। 


अटल चौपाल में 153 शिकायतें निपटाने का दावा

ऋषिकेश। ग्रामीण अभियंत्रण सेवा परिषद के उपाध्यक्ष कैलाश पंत ने दावा किया कि यमकेश्वर व द्वारीखाल की आठ न्याय पंचायतों में अटल चौपाल के दौरान सामने आई 187 शिकायतों में से 153 शिकायतों का मौके पर ही निस्तारण कर दिया गया है। 
 
लोनिवि निरीक्षण भवन ऋषिकेश में आयोजित पत्रकार वार्ता में ग्रामीण अभियंत्रण सेवा परिषद के उपाध्यक्ष कैलाश पंत ने कहा कि अटल चौपाल का उद्देश्य जनता की शिकायतों को मौके पर जाकर दूर करना है। अटल चौपाल के माध्यम से जनता की छोटी-छोटी शिकायतों को सुना जा रहा है और उनका स्थायी समाधान किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि यमकेश्वर क्षेत्र में बिजली, पानी व सड़क की समस्या सबसे प्रमुख है, जिसे प्राथमिकता के स्तर पर निपटाया जा रहा है। जो शिकायतें उनके कार्यक्षेत्र से बाहर है, उसे मुख्यमंत्री के पास भेज दिया गया है।
 
इस अवसर पर भाजपा बौद्धिक प्रकोष्ठ के सह संयोजक चंद्रप्रकाश लखेड़ा ने कहा कि यमकेश्वर व द्वारीखाल प्रखंड में कई पंपिंग योजनाओं पर कार्य शुरू होने जा रहा है। सड़कों का मुद्दा वन एवं पर्यावरण मंत्रालय के पास है, जिसमें सरकारी स्तर पर पत्राचार जारी है। उन्होंने कहा कि नीलकंठ महादेव मंदिर में आने वाले श्रद्घालुओं के लिए जल्द ही पाकिंर्ग व बाईपास निर्माण का कार्य पूरा कर लिया जाएगा। 




नव नियुक्त डीएम ने संभाला कार्यभार

गोपेश्वर । चमोली के नये जिलाधिकारी बृजेश कुमार संत ने कार्य भार ग्रहण कर कई विभागों का औचक निरीक्षण किया । 
नव नियुक्त जिलाधिकारी बृजेश कुमार संत ने अपने कार्यालय पहुंचकर कार्यभार ग्रहण किया। उसके बाद जिलाधिकारी ने जिला कोषागार के साथ ही पूरे जिले कार्यालय का निरीक्षण कर कर्मचारियों को आवश्यक दिशा निदेर्श भी दिये। इस मौके पर अपर जिलाधिकारी आशीष भटगांई ने कोषाधिकारी तंजीम अली, परियोजना निदेर्शक जुगल किशोर तिवाडी, उप जिलाधिकारी राम जी शरण शर्मा सहित कई अधिकारी मौजूद थे ।


बारिश से चकराता क्षेत्र के कई मार्ग बंद

चकराता। लगातार बीस घंटे से चल रही बारिश के कारण क्षेत्र के कई मार्ग मलबे से अवरुद्ध हो गए। जिससे लोगों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। 
 
मूसलाधार बारिश के कारण चकराता-मसूरी, लाखामंडल-चकराता, पुरोड़ी-रावना-डामटा व मिडाल मार्ग जगह-जगह मलबा आने पर अवरुद्ध हो गए। चकराता मसूरी मार्ग पर चिलमिरी नामक स्थल पर देवदार का पेड़ गिरने से आवागमन घंटों यातायात बंद रहा। दावापुल के पास मलबा आने से घंटों तक लाखामंडल-चकराता मोटर मार्ग अवरुद्ध रहा। हालांकि लोनिवि की सात घंटे मशक्कत के बाद ये दोनों मार्ग तो खुल गए, लेकिन पुरोड़ी-डामटा व मिडाल मार्ग अभी भी बंद हैं। उधर, लोनिवि चकराता के अधिशासी अभियंता नवनीत पांडे का कहना है कि बरसात में पहाड़ दरकने से मार्ग बंद होने की हालत में जगह- जगह जेसीबी मशीनों की व्यवस्था की गई है, संबंधित सहायक अभियंताओं को मलबे से बंद मार्ग को तत्काल खोलने के निदेर्श दिए गए हैं। 


लोगों ने बैंक प्रबंधक के खिलाफ दिया धरना

विकासनगर। स्थानीय पीएनबी शाखा प्रबंधक पर परेशान करने का आरोप लगाते हुए क्षेत्रीय लोगों ने बैंक के सामने धरना दिया। 

स्थानीय लोग भाजपा नेता भीमदत्त वर्मा के नेतृत्व में बैंक पहुंचे, जहां शाखा प्रबंधक के खिलाफ नारेबाजी करते हुए धरने पर बैठ गए। उनका आरोप था कि प्रबंधक जनता को कृषि ऋण के लिए चक्कर कटाते हैं। इस संबंध में क्षेत्रवासियों ने बैंक के मंडल प्रमुख को ज्ञापन भी भेजा। जिसमें प्रबंधक के स्थानान्तरण की मांग की गई। इस मौके पर माया, संजय राय, मोहर सिंह, प्रेमलाल व कपिल चौहान आदि मौजूद थे। 


भारी बारिश के कारण नहीं हो सकी चौपाल

विकासनगर। भारी बारिश के चलते न्याय पंचायत बेगी में आयोजित अटल चौपाल स्थगित कर दी गई। कोटी-कनासर पहुंची उत्तराखंड समाज कल्याण बोर्ड अध्यक्ष निरुपमा गौड़ व भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष मूरतराम शर्मा ने लोगों की समस्याएं सुन पाए। 
बताते चलें कि सरकार जनता के द्वार कार्यत्र्कम के तहत इन दिनों विकासखंड चकराता के नौ न्याय पंचायत में अटल चौपाल आयोजित कर लोगों की समस्याओं का निस्तारण किया जा रहा है।
 
पूर्व निर्धारित कार्यत्र्कम के तहत न्याय पंचायत बेगी में आयोजित अटल चौपाल में पहुंचे दूर दराज के ग्रामीणों को बैंरग लौटना पड़ा। सुबह से सायं तक बरसे बदरा ने ग्रामीणों को निराश कर दिया। कोटी-कनासर पहुंची उत्तराखंड समाज कल्याण बोर्ड अध्यक्ष व भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष ने क्षेत्र के लोगों की समस्याएं सुनी और जल्द निस्तारण करने का भरोसा दिलाया। श्री शर्मा ने कहा भाजपा सरकार ने राज्य का चहुमुखी विकास किया है। इसके चलते समूचे प्रदेश में भाजपा ग्राफ काफी तेजी से बढ़ रहा है।
 
इस मौके पर प्रदेश मंत्री गीताराम गौड़, भाजपा चकराता मंडल अध्यक्ष पान सिंह राणा व पूर्व प्रधान जगतराम नौटियाल आदि उपिस्थत थे।

27 जुलाई से मौन तोड़ो हल्ला बोलो आंदोलन

विकासनगर। भ्रष्टाचार के खिलाफ अभाविप मौन तोड़ो हल्ला बोलो आंदोलन के तहत 27 जुलाई को देशभर में जिला मुख्यालयों पर धरना-प्रदर्शन किया जाएगा। 
 
जीआईसी लोहाघाट में आयोजित अभाविप के चार दिवसीय प्रांतीय अभ्यास वर्ग में भाग लेने के बाद वापस लौटे अभाविप के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य गुरुप्रीत सिंह हैप्पी ने यहां एक होटल में आयोजित पत्रकार वार्ता के दौरान कहा कि अभ्यास वर्ग में भ्रष्टाचार, शिक्षा का बाजारीकरण व सूचना अधिकार अधिनियम पर मुख्य रूप से चर्चा हुई। अभ्यास वर्ग में भ्रष्टाचार के खिलाफ कठोर कानून बनाए जाने, बड़े नोटों के प्रचलन को रोकने व विदेशी बैंकों में जमा कालेधन को वापस भारत लाए जाने की मांग की गई। यह अभ्यास वर्ग 25 जून को शुरू हुआ था, जो कि 28 जून तक चला। अभ्यास वर्ग में विकासनगर के मुकेश कुमार को परिषद का पछवादून जिले का सहसंयोजक नियुक्त किया गया। उन्होंने कहा कि %मौन तोड़ो हल्ला बोलो% आंदोलन के तहत 27 जुलाई को देश भर में परिषद के 10 लाख कार्यकर्ता सड़कों पर उतरेंगे। उन्होंने कहा कि पछवादून जिले में अभाविप ने पांच हजार सदस्यता का लक्ष्य रखा है।
 
सदस्यता अभियान 1 जुलाई से शुरू होगा। 15 जुलाई तक सदस्यता अभियान इंटर कॉलेजों में चलेगा और उसके पश्चात 31 जुलाई तक सदस्यता अभियान डिग्री कॉलेजों में चलेगा। पत्रकार वार्ता के दौरान अभाविप के जिला संयोजक सुरेंद्र सिंह चौहान, छात्रसंघ अध्यक्ष नितेश पुंडीर, मोहित जैन व शिवचरण भी मौजूद थे।

कार खाई में गिरी, युवती की मौत, तीन घायल

विकासनगर। पड़ोसी राज्य हिमाचल प्रदेश के जुब्बल से त्यूणी आ रही एक इंडिका कार उत्तराखंड के मझोग गांव के पास अनियंत्रित होकर खाई में जा गिरी। हादसे में एक युवती सहित तीन लोग गंभीर घायल हो गए। स्थानीय लोगों ने घायलों को निजी वाहन से हिमाचल के रोहडू अस्पताल में भर्ती कराया। जहां चिकित्सकों ने एक युवती को मृत घोषित कर दिया, जबकि घायलों की हालत गंभीर होने पर हायर सेंटर शिमला रेफर दिया। उधर, नायब तहसीलदार त्यूणी ने राजस्व उपनिरीक्षक को दुर्घटना की जांच के आदेश दिए हैं। 
 
राजस्व पुलिस त्यूणी के मुताबिक, मंगलवार को इंडिका कार संख्या एचपी-10बी-0488 हिमाचल के जुब्बल से त्यूणी को चली। इस दौरान इंडिका कार त्यूणी के मझोग गांव के पास करीब तीन बजे अनियंत्रित होकर सौ मीटर गहरी खाई में जा गिरी। हादसे में निशा पुत्री नाजर(19) व डिंपल पुत्री रामेश्वर(19) निवासीगण शेखड़-हाटकोटी हिमाचल और वाहन चालक रोश पिरटा पुत्र गीताराम(27) व भूपेंद्र सिंह पुत्र गोवर्द्धन सिंह(24) निवासीगण बड़ाल-जुब्बल हिमाचल गंभीर घायल हो गए। वाहन को दुर्घटनाग्रस्त होते देख आसपास के लोगों ने मौके पर पहुंचकर बचाव कार्य में जुटे। स्थानीय लोगों ने घायलों को खाई से बाहर निकालकर निजी वाहन से हिमाचल के रोहडू स्थित अस्पताल पहुंचाया। जहां चिकित्सकों ने डिंपल को मृत घोषित कर दिया, जबकि अन्य तीन घायलों की हालत नाजुक होने पर हायर सेंटर शिमला रेफर किया गया। राजस्व पुलिस त्यूणी के मौके पर पहुंचने से पहले ही लोग घायलों को ले जा चुके थे।
 
नायब तहसीलदार केडी जोशी ने बताया कि डीएसपी रोहडू से संपकर करने पर पता चला कि डिंपल नामक युवती की मौत हो गई है। नायब तहसीलदार ने राजस्व उपनिरीक्षक नेपाल सिंह को दुर्घटना की जांच के निदेर्श दिए हैं। 



 

जलभराव े कारण मलेरिया व डेंगू का खौफ

देहरादून। मानसूनी बरसात शुरु हो चुकी है। नगर में जगह-जगह हो रहे जलभराव व गंदगी से मच्छर जनित रोग मलेरिया व डेंगू का खौफ मंडराने लगा है। सफाई व्यवस्था में सुधार नहीं हुआ, तो जलजनित रोग फैल सकते हैं। 
सभी प्रकार के मच्छरों से रोग नहीं होता। मलेरिया मादा एनाफिलीज मच्छर, डेंगू एडीज एजिप्टाई मच्छर तथा जापानी इन्सेफेलाइटिस (मस्तिष्क ज्वर) क्यूलैक्स विश्नोई समूह के मच्छरों से फैलता है। यह सभी साफ पानी में ही पैदा होते हैं। इडीज एजिप्टाई मच्छर के काटने से होने वाला डेंगू बुखार गंभीर रोग है। जिला मलेरिया अधिकारी बताते हैं कि मलेरिया व डेंगू का प्रसार जुलाई माह से नवम्बर के बीच अधिकता में होता है। इसमें डेंगू अधिक खतरनाक होता है। डेंगू का मच्छर केवल दिन के समय ही काटता है। डेंगू बुखार का वायरस एक प्रभावित व्यक्ति से दूसरे को फैलता है। रोगी के शरीर मे मुंह, नाक, मलद्वार, तथा मूत्रद्वार अथवा योनि से रक्त स्त्राव होने लगता है। इसे डेंगू हीमैरेजिक बुखार कहते है। यह डेंगू की दूसरी अवस्था होती है। तीसरी खतरनाक दशा डेंगू शॉक सिंडोम की होती है। इसमें मरीज कोमा में पहुंच जाता है। सीएमएस बताते है कि जापानीज इंसेफेलाइटिस यानि मस्तिष्क ज्वर को भी एक खतरनाक रोग माना जाता है। इस रोग के अरबों वायरस है। यह रोग विश्नोई ग्रुप की संत्र्कमित मादा क्यूलेक्स मच्छर द्वारा जानवर अथवा जलीय पक्षियों के काटने से मनुष्य को होती है। मलेरिया की जांच के लिए रक्त पिट्टकाएं बनाई जाती है, जबकि मस्तिष्क ज्वर की पुष्टि सीरोलोजिकल टेस्ट से की जाती है। मस्तिष्क ज्वर के सामान्य परीक्षण टीएलसी, डीएलसी, ईएसआर, सीएसएफ आदि चिकित्सालय में ही हो जाते है। 

कांवड़ मेले की तैयारी में जुटा रेलवे

देहरादून। मध्य जुलाई से सावन मेला शुरू हो रहा है। मेले में कांवरियों की भीड़ बढ़ जाएगी। रेल प्रशासन ने कांवरियों की सहूलियत को बरेली शक्तिनगर के बीच चलने वाली त्रिवेणी एक्सप्रेस को हरिद्वार तक चलाने की योजना बनाई है। इसके अलावा पैसेंजर ट्रेनों में अतिरिक्त कोच लगाने की तैयारी है। रेलवे के वाणिज्य विभाग ने परिचालन विभाग को इस आशय का पत्र भेजा है। इसमें साफ किया है कि कि 16 जुलाई से 13 अगस्त तक चलने वाले सावन मेले में हर साल की तरह इस साल भी हरिद्वार जाने वाले कांवरियों की भीड़ उमड़ेगी। वाणिज्य विभाग ने पिछले साल सावन मेला के दौरान किस-किस ट्रेन में कावंरियों की भीड़ रही और होने वाली आय का विवरण भी भेजा है। परिचालन विभाग ने कांवरियों की सुविधा के लिए शक्ति नगर से बरेली के बीच चलने वाली त्रिवेणी एक्सपे्रस को हरिद्वार तक चलाने की तैयारी की है। योजना के अनुसार 16 जुलाई से 13 अगस्त के बीच पड़ने वाले शुत्र्कवार से रविवार तक त्रिवेणी एक्सप्रेस बरेली से दोपहर 2.30 बजे चलकर शाम सात बजे हरिद्वार पहुंचेगी। हरिद्वार से रात 12 बजे चलकर सुबह पांच बजे बरेली पहुंचेगी। कांवरियों के लिए हरिद्वार से दिल्ली, मुरादाबाद, अंबाला की ओर जाने वाली सभी पैसेंजर ट्रेनों में तीन से चार अतिरिक्त कोच लगाने की योजना है। मंडल रेल प्रशासन ने प्रस्ताव बनाकर मुख्यालय को भेज दिया है।

पांच से ठप होंगी डाक सेवाएं

देहरादून। केंद्र की आर्थिक उदारीकरण और विभाग के निजीकरण की नीतियों के खिलाफ डाक विभाग की संयुक्त संघर्ष समिति ने पांच जुलाई से देशव्यापी बेमियादी हड़ताल का एलान कर दिया है। इधर, डाक अधिकारी हड़ताल के दौरान ग्राहक सेवाओं के संचालन की नीति तैयार करने में जुट गए हैं। डाक कर्मियों के केंद्रीय संगठन एनएफपीइ और एफएनपीओ की संयुक्त संघर्ष समिति ने आंदोलन का बिगुल बजाया है। स्थानीय स्तर पर पोस्टल इम्पलाइज यूनियन और नेशनल यूनियन्स आफ पोस्टल इम्पलाइज ने हड़ताल में शामिल होने का एलान किया है। डाक कर्मचारी नेता भूपाल सिंह व महेशवीर गिरी ने बताया कि डाक सेवाओं के संचालन के लिए विदेशी कंपनी को सलाहकार बनाया गया है। इसके अलावा सार्टिग पोस्टमैन के पद समाप्त करने के साथ आरएमएस के तीन सौ से अधिक केंद्रों को हब बनाकर 77 केंद्र करने की योजना बनाई गई है। ग्रामीण डाक सेवक के साथ मृतकाश्रितों की भर्ती भी दस फीसदी कर दी गई है। उन्होंने बताया कि पांच जुलाई से बेमियादी राष्ट्रव्यापी हड़ताल शुरू कर दी जाएगी।


हड़ताली कर्मचारियों ने कलैक्ट्रेट एवं जनाधार में ताले ठोंके

देहरादून। 29 िदन से चली आ रही मिनिस्ट्रीयल कर्मचारियों की हड़ताल के तहत आज हड़ताली कर्मचारियों ने कलैक्ट्रेट एवं जनाधार में ताले ठोंक िदए। इस दौरान पुलिस से हल्की नोंक-झोंक भी हुई। कर्मचारियों ने चेतावनी दी है कि यिद प्रशासन ने ताले खोलने का प्रयास किया तो कर्मचारी इसका पुरजोर विरोध करेंगे। 
उत्तरांचल मिनिस्ट्रीयल संघ की हड़ताल आज अपने 29वें िदन में पहुंची गयी है। हड़ताल के कारण कलैक्टै्रट मे पहले से ही काम काज ठप्प है। हड़ताली कर्मचारियों ने आज कलैक्ट्रेट में पूर्ण तालाबंदी कर दी। साथ ही कर्मचारियों ने जनाधार में भी ताले ठोंक िदए और कहा कि जब तक शासन उनकी मांगों को लेकर शासनादेश जारी नहीं करेगा तब तक कलैक्टे्रट एवं संबंधित विभागों में कार्य करने नहीं करने िदया जाएगा। इधर हड़ताल के कारण लंबे समय से लोग परेशान रहे हैं। समूह ग सहित अन्य परीक्षाओं के लिए चरित्र प्रमाण पत्र एवं स्थायी निवासी प्रमाण पत्र बनाने वाले लोगों को अभी तक प्रमाण पत्र मुहैया नहीं हो पाए हैं।

घर में घुसे चोर को घर के ही लोगों ने दबोचा

देहरादून। चोरी करने के प्रयास में घर में घुसे चोर को घर के ही लोगों ने दबोच लिया और जमकर उसकी धुनाई करने के बाद उसे पुलिस को सौंप िदया। पुलिस आरोपी से पूछताछ कर रही है। पुलिस का कहना है कि पकड़े गए चोर से कुछ पुरानी चोरियों का भी खुलासा हो सकता है। वहीं वाहन चोरों ने भी कार चोरी कर लिया है। 
डालनवाला क्षेत्र नई बस्ती बलबीर रोड निवासी रामदरेश के घर एक चोर घुस आया। चोर के आने के साथ ही इस बात की भनक घर के लोगों को लग गयी। हल्ला होने पर चोर को दबोच लिया गया। पूछताछ करने पर चोर ने अपना नाम दीपक निवासी प्राईमरी स्कूल दीपनगर बताया। चोर की उम्र सोलह साल की है और बताया जा रहा है कि इससे पूर्व भी इसने कुछ स्थानों पर चोरी की घटनाओं को अंजाम िदया है। उधर एक अन्य घटना में अजबपुर निवासी अभिषेक अवस्थी की कार कर्जन रोड से अज्ञात चोरों ने गायब कर दी है। 

नेपाल जाएगी पुलिस हनी को तलाशने

देहरादून। मुंबई के पत्रकार जेडे हत्याकांड में हनी का नाम आने े बाद पुलिस टनकपुर पिथौरागढ में डेरा जमा उसको तलाश रही है। हनी तक पहुंचने े लिए मुंबई उत्तराखंड पुलिस से सहयोग मांग रही है लेकिन उत्तराखंड पुलिस खुद ही लंबे समय से हनी तक पहुंचने के प्रयास में है जिसमें अब तक यहां की पुलिस को असफलता ही हाथ लगी है। दूसरी ओर कयास लगाए जा रहे हैँ कि हनी व पीपी की प्रेयसी पिछले एक सप्ताह से अचानक लापता हैं। 
पिथौरागढ में पिछले दस सालों से अपना डेरा जमाए गणेश सोराडी उर्फ हनी इस समय मुंबई पुलिस की हिट लिस्ट में है। जानकारी है कि वरिष्ठ पत्रकार जेडे हत्याकांड में प्रयोग किया गया रिवाल्वर काठगोदाम से भेजा गया था। पुलिस ने अपने नेटवकर से जो जानकारियां जुटाई उसके बाद हनी पर हथियार सप्लाई करने की बातें सामने आई हैं। वहीं जेडे हत्याकांड के तार जुडे होने के साथ ही उत्तराखंड पुलिस भी सकि्रय हो गयी है लेकिन गणेश उर्फ हनी अब पुलिस के कब्जे से बहुत दूर निकल चुका है। 
सूत्रों की मानें तो हत्याकांड में हरी का नाम सामने आने के साथ ही हनी के अब उत्तराखंड की सीमाओं से निकल जाने की भी बातें सामने आ रही हैं। हनी अधिकांशतः पिथौरागढ के सीमांत क्षेत्रों को ही अपना ठिकाना बनाया जिससे कि किसी भी प्रकार की परिस्थिति में वह तत्काल सीमाएं पार कर देश से बाहर निकल जाए। यूं भी उत्तराखंड पुलिस भी हनी को कई मामलों में तलाश रही थी लेकिन उस तक पुलिस के हाथ नहीं पहुंच पाए। हनी लंबे समय तक मुंबई भी रहा। छोटा राजन गिरोह के लिए काम करने वाले हनी के संपकर पीपी ने अंडरवर्ल्ड से कराए थे। इसी के बाद से ही हनी को हथियारों की सप्लाई के लिए जाना जाने लगा था, लेकिन उत्तराखंड पुलिस कभी भी उसके हथियारों की खोप तक नहीं पहुंच पाई। 
जेडे हत्याकांड में हनी मुंबई पुलिस के लिए एक बेहद महत्वपूर्ण कड़ी माना जा रहा है। हनी के सामने आने के बाद कम से कम उन कड़ियों का तो पता चल सकेगा जो मुंबई पुलिस को परेशान किए हुए है, लेकिन हनी इस हाई प्रोफाईल हत्याकांड के बाद उत्तराखंड में रूकेगा इसकी संभावनाएं कम ही नजर आ रही हैं। 

संदिग्ध बोर्ड बांट रहे फर्जी डिग्री

देहरादून। राजधानी में नकली जाति प्रमाण पत्र ही नहीं मिल रहे, बल्कि समानांतर नकली शिक्षा बोर्ड े भी कई ऐसे कार्यालय हैं जो कि ेल परीक्षार्थियों को पास कर रहे हैं। बोर्ड ऑफ हायर सेकेंडरी एजुकेशन, दिल्ली े नाम की धड़ल्ले से ऐसी माकर्शीट बांट रही है जिनका कोई मूल्य नहीं है। फर्जी बोर्ड ने अपनी वेबसाइट भी बनाई हुई है, जिस पर फोन नंबर और बोर्ड कार्यालय का पता दर्शाया हुआ है। लेकिन छानबीन के दौरान न तो बोर्ड का कार्यालय पता चला है और न ही फोन करने पर वेबसाइट पर दिए दिल्ली के नंबर लग रहे हैं। यह स्थिति तब है जब सरकारी महकमों को इस बारे में पता है लेकिन कारर्वाई के बजाय वे जिम्मेदारी एक-दूसरे के ऊपर डाल रहे हैं। 
आपको बता दें कि दिल्ली राज्य का अपना कोई बोर्ड नहीं है, इसलिए सीबीएसई के तहत ही सरकार के स्कूलों को भी मान्यता मिली है। इस बारे में देश भर के सरकारी शिक्षा बोर्डो के संगठन काउंसिल ऑफ बोर्ड्स ऑफ स्कूल एजुकेशन (कोबसे) के संयुक्त सचिव पूरनचंद बताते हैं कि 45 शिक्षा बोर्ड कोबसे के सदस्य हैं। ये वे बोर्ड हैं, जो केंद्र सरकार और राज्य सरकारों द्वारा मान्यता प्राप्त हैं। पूरनचंद का कहना है कि बोर्ड ऑफ हायर सेकेंडरी एजुकेशन दिल्ली और उच्चतर माध्यमिक शिक्षा परिषद दिल्ली नाम से फर्जी बोर्ड चल रहे हैं। इन बोर्ड का कहीं कोई क्षेत्रीय कार्यालय नहीं है, और न ही परीक्षा आयोजित करने के लिए इनके पास स्कूल हैं। जिन स्कूलों का नाम वेबसाइट पर दर्शाया गया है, वे भी फर्जी हैं। पूरनचंद का कहना है कि उनके यहां इन नकली बोर्ड की फर्जी माकर्शीट और प्रमाण पत्रों की फाइल तैयार है। मानव संसाधन विकास मंत्रालय और दिल्ली सरकार को भी वह कई बार कारर्वाई के लिए कह चुके हैं। नियम के अनुसार मानव संसाधन मंत्रालय के तहत काम करने वाले कोबसे का काम पाठ्यत्र्कम की रूपरेखा तैयार कराना, ग्रेडिंग प्रणाली के बारे में बोर्ड को अवगत कराना और शिक्षा पद्धति में सुधार के प्रति सुझाव देना है। कारर्वाई कराने की जिम्मेदारी केंद्र व राज्य सरकार की है। 
पंजाब से चल रहा है दिल्ली का बोर्ड? 
इस बारे में वेबसाइट पर जारी पंजाब के एसबीएस नगर के बंगा स्थित उच्चतर माध्यमिक शिक्षा परिषद, दिल्ली के प्रशासनिक कार्यालय में संपकर किया गया। वेबसाइट (डब्लूडब्लूडब्लू. बीएचएसई.को.इन) पर एक मोबाइल नंबर 09592878500 दिया था, जिसे हरभजन सिंह नाम के शख्स ने उठाया। पूछने पर उसने बताया कि वह बोर्ड का सचिव है। उसने कहा कि उसका बोर्ड मान्यता प्राप्त है। यह पूछने पर कि कहां से तो उसने कहा कि उसे अभी मालूम नहीं है। जब उससे पूछा कि उसके बोर्ड का ऑफिस दिल्ली में क्यों नहीं है, जवाब में उसने कहा कि यह जरूरी नहीं है। जबकि कोबसे के अनुसार दिल्ली बोर्ड के लिए दिल्ली में क्षेत्रीय कार्यालय होना जरूरी है। बोर्ड ऑफ हायर सेकेंडरी एजुकेशन, दिल्ली की वेबसाइट (डब्लूडब्लूडब्लू. बीएचएसईडेल्ही.को. इन) पर जारी सभी नंबर बंद हो चुके हैं। बोर्ड के क्षेत्रीय केंद्र का पता डी-281, कम्युनिटी सेंटर, शाहदरा-93, दिल्ली बताया गया है, लेकिन छानबीन में यहां कोई कार्यालय नहीं मिला। वेबसाइट में दिल्ली स्थित आनंद विहार में दर्शाया गया स्कूल भी कहीं नहीं मिला। यहां की मार्कसीट और सर्टिफिेट धड़ल्ले से कुछ लोग यहां उपलब्ध करवा रहे हैं।

मौसम में बदलाव के साथ पीलिया की दस्तक

देहरादून। कभी बारिश तो कभी तेज धूप निकलने से होने वाली उमस भरी गर्मी से हर कोई परेशान है। इससे लोगों का खान-पान, रहन-सहन सब बिगड़ गया है। मौसम के इस बदलाव से संत्र्कामक बीमारियां अपना पैर पसारने लगी हैं। अस्पतालों में पीलिया, डायरिया, मलेरिया जैसे रोगियों की संख्या में काफी इजाफा हुआ है। शहर के अस्पतालों में दर्जनों की संख्या में पीलिया के मरीज भर्ती हैं। जबकि सैकड़ों मरीज निजी चिकित्सालयों में इलाज करा रहे हैं। 
इन दिनों इलाज कराने के लिए हर अस्पताल में प्रतिदिन 15 से 20 पीलिया के मरीज आ रहे हैं। उन्हें डॉक्टर दवा लिखकर आराम करने की सलाह देते हैं। जबकि एसआरएन और काल्विन अस्पताल में दो दर्जन मरीज भर्ती किए गए हैं। बेली अस्पताल में भी गंभीर मरीजों को भर्ती करने के लिए वार्ड बनाया गया है। डॉक्टरों का कहना है इस समय खान-पान पर विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है। दून अस्पातल े सीएमएस का कहना है कि खान-पान में लापरवाही के कारण ही पीलिया रोग होता है। इस समय फिल्टर या उबला हुआ पानी पिएं, तली चीजों का सेवन कम करें। अगर किसी को पीलिया होने का अंदेशा है या कमजोरी महसूस हो रही हो तो तत्काल विशेषज्ञ डॉक्टर को दिखाएं। अपने मन से कोई दवा न लें।

काम पर लौटे चतुर्थ श्रेणी कर्मी

चम्पावत । जनवरी-06 से एरियर का भुगतान देने और योग्यताधारी कर्मचारियों को समायोजित करने की मांग को लेकर आंदोलनरत चतुर्थ श्रेणी कर्मियों की हड़ताल समाप्त हो गई है। शीघ्र शासनादेश निर्गत करने के आश्वासन पर काम पर लौट गए हैं। 
महासंघ के जिलाध्यक्ष हिम्मत सिंह अधिकारी ने इसे कर्मचारियों के संघर्ष की जीत बताते हुए कहा कि जनपद में प्रांतीय आह्वान पर कर्मचारी पिछले 16 दिनों से बेमियादी हड़ताल कर रहे थे। आंदोलन को उग्र रूप देने के लिए 30 जून को देहरादून के अलावा जिला मुख्यालय में टीआरसी से लेकर कलेक्ट्रेट तक जोरदार रैली निकालने का एलान किया गया था। मंगलवार की देर रात देहरादून में मुख्यमंत्री के सचिव उमाकांत पवार के साथ प्रांतीय पदाधिकारियों की चली लंबी वार्ता के बाद एरियर का भुगतान करने व एसीपी का लाभ 2008 से दिए जाने के आश्वासन पर सहमति बनी और शीघ्र शासनादेश निर्गत करने का भरोसा दिलाया गया। जिसके बाद हड़ताल समाप्त करने की घोषणा कर दी गई। बुधवार से सभी चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी काम पर लौट आए हैं। इस मौके पर मांगों को पूरा किए जाने पर कर्मचारियों ने जिला महामंत्री अनिल उप्रेती के संचालन में एक सभाकर सूबे की सरकार का आभार जताया। इस मौके पर गिरधारीनाथ, विपिन कुमार, लक्ष्मण नाथ, अर्जुन चंद, भुवन उप्रेती, सोहन डसीला, मुरलीधर भट्ट, जीवन कुमार, सुरेंद्र जीना, मुकेश तिवारी, गणेश गिरी, अशोक तिवारी, दत्तराम, शीषराम भट्ट, रमेश नाथ, सुखलाल, दिनेश बिनवाल, देव सिंह, शिवदत्त जोशी, भैरव भंडारी, देवीदत्त पंत, दयाराम, चंदनसिंह, प्रदीप सिंह, लीला देवी, पार्वती देवी, नंदी देवी, चनी देवी, सरोज, सरस्वती भट्ट, रेनू भट्ट, नारायण राम, चंद्रशेखर, भवानीजोशी, जगदीश जोशी, जगदीश लाल, केशवी देवी, माया देवी सहित तमाम कर्मचारियों ने खुशी का इजहार किया।

विद्यार्थी परिषद ने निकाली शोभायात्रा


लोहाघाट। लोहाघाट में पहली बार आयोजित अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद का राज्य स्तरीय अभ्यास वर्ग उम्मीदों के अनुरूप सफल होने पर परिषद कार्यकर्ताओं ने नगर के मुख्य मार्गो से होते हुए देशभक्ति के नारों के साथ शोभा यात्रा निकाली। वर्ग की समुचित व पुख्ता व्यवस्था के मद्देनजर स्थानीय कार्यकर्ताओं व पदाधिकारियों की मेहनत से राज्य भर से आये तीन सौ से अधिक कार्यकर्ताओं को किसी भी परेशानी का सामना नहीं करना पड़ा। इतने बड़े कार्यत्र्कम के सफल आयोजन का स्थानीय कार्यकर्ताओं के लिए यह पहला अनुभव था। 
वर्ग के समापन के बाद उत्साहित कार्यकर्ताओं ने देश भक्ति से ओत-प्रोत गगनचुंबी नारों के साथ नगर में शोभा-यात्रा निकाली। बाद में स्वतंत्रता संग्राम सेनानी कालू सिंह माहरा चौराहे में सभा का आयोजन कर वक्ताओं ने देश में बढ़ रहे भ्रष्टाचार तथा भ्रष्टाचार के खिलाफ उठ रही आवाज को बल पूर्वक दबाने के लिए केन्द्र सरकार व कांग्रेस के खिलाफ जमकर भड़ास निकाली। सभा को संबोधित करते हुए संगठन के प्रदेश मंत्री बृजेश बनकोटी ने कहा कि छात्र शक्ति को देश के अस्तित्व के लिए खतरा बने लोगों को पहचानना होगा। विद्यार्थी परिषद ने इसकी मुहिम शुरू कर दी है। इस दौरान सैकडों कार्यकर्ता मौजूद थे जिनमें एक दर्जन से अधिक ने अपने विचार रखे। वर्ग के सफल संचालन में मुकेश साहू, जगदीश ओली, मान बहादुर पाल, लक्ष्मण चन्द, नितिन मंगला, मोहित, प्रदीप जोशी, मुकेश जोशी, महेन्द्र ढ़ेक, गुड़िया, शिवानी, देवेन्द्र बोहरा, 
श्याम ढ़ेक, महेश पुनेठा, प्रकाश बिनवाल, विनय भट्ट, विनोद बगौली, संजय, मुकेश नाथ, सुनील जोशी, संजीव गड़कोटी, मनोज, बसन्त जोशी,राकेश तिवारी ने सहयोग किया।


घोड़े की लात से नेपाली युवक की मौत

गोपेश्वर। हेमकुंड साहिब यात्रा के मुख्य पड़ाव भ्यूड़ार गांव में घोडे़ की लात से एक नेपाली युवक की मौत हो गयी। शव देर शाम पोस्टमार्टम के लिए जिला चिकित्सालय लाया गया । 
मिली जानकारी अनुसार भ्यूड़ार गांव में यात्रियों को घोड़े-खच्चरों पर बैठाकर हेमकुंड साहिब ले जा रहे नेपाली युवक कमल थापा को घोड़े ने लात मार दी। इस पर वह नीचे गिरकर छटपटाने लगा। इसे स्थानीय लोगों ने तत्काल जोशीमठ चिक्तिसालय पहुंचाया। जहां चिक्तिसकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

संदिग्ध लोगों की बढ़ती संख्या से ग्रामीण दहशत में

गोपेश्वर । चमोली जिले में संदिग्ध परिस्थितियों में घूम रहे बाहरी लोगों की बढ़ती संख्या से ग्रामीण क्षेत्रों में लोग भय खाने लगे हैं।अब जबकि स्कूल खुलने में महज दो दिन ही बचे हैं तो ग्रामीणों की चिंता और भी बढ़ गई है कि वह अपने नौनिहालों को अकेले स्कूल कैसे भेजें। 
काबिले गौर है कि बीते एक माह से चमोली जिले में बच्चा चोर गिरोह को लेकर गहमागहमी है। प्रशासन जहां इन बातों को महज अफवाह मान रहा है वहीं ग्रामीण भयभीत हैं। खैनोली गांव के पूर्व प्रधान गजपाल सिंह ने बताया कि पच्चीस जून को जब एक स्थानीय युवती अपने बगीचे में काम कर रही थी तो वहां साधू के वेश में पहुंचे बदमाश ने लड़की को उठाने का प्रयास किया गनीमत रही कि लड़की के हो हल्ला करने पर वह संदिग्ध वहां से भाग निकला। उनका कहना है कि क्षेत्र घुरखेत, घनियालीसैंण, भेला, अंगोठ, सहित दर्जनों गांवों में लोग बाहरी लोगों की संदिग्धता से सहमे हुए हैं। उन्होंने इस आशय का पत्र जिलाधिकारी को भी देकर जिले में बढ़ रहे संदिग्ध व बाहरी लोगों के खिलाफ कार्यवाही की मांग की है।

बर्फीले क्षेत्रों में छूट पर मिलेगी बिजली!

गोपेश्वर। अगर विद्युत विभाग की पहल रंग लायी तो जल्द ही चमोली जिले के बर्फीले क्षेत्रों में विद्युत दरों पर आधे की छूट मिलेगी। विद्युत विभाग ने जिला प्रशासन से हिमपात वाले गांवों की सूची मांगी है, लेकिन प्रशासन निर्वाचन कार्यालय की सूची को ही फिलहाल आधार मान रहा है। इससे चमोली के दर्जनों गांवों को यह सुविधा पात्रता के बाद भी नहीं मिलेगी। 
चमोली जिले में कुल 56 हजार विद्युत उपभोक्ता हैं, अगर हिमपात वाले गांवों का सही सवेर हुआ, तो पांच हजार से अधिक उपभोक्ताओं को इस छूट का लाभ मिलेगा। इस दायरे में न केवल घरेलू, बल्कि कॉर्मिशियल उपभोक्ता भी हैं। ऐसे में लघु उद्योगों को तो दूरस्थ क्षेत्र में यह सुविधा किसी संजीवनी से कम साबित नहीं होंगी। हालांकि, इससे विद्युत विभाग को मोटे राजस्व की हानि उठानी पडे़गी । विद्युत विभाग द्वारा प्रशासन से मांगी गयी सूची में प्रशासन निर्वाचन सवेर को ही आधार मान रहा है, अगर यही मानक लागू हुए तो जोशीमठ व कर्णप्रयाग के गांवों को छोड अन्य प्रभावितों को लाभ से वंचित होना पड़ेगा, हालांकि अब प्रशासन भी इस खामी को मानते हुए स्नो लाइन के ऊपर के गांवों का पृथक सवेर की बात कर रहा है। 
सूची में शामिल गांव 
जोशीमठ के सुरांई ठोटा, पगरासू, सुभाई, डुमक, कलकोट, माणा, नीति, घमसाली, कैलाशपुर , झेलम, कोसा, जुम्मा, द्रोणागिरी, मलारी, भरकी, पुल्ना, उर्गम ,ल्यारी थैणा क्षेत्र के गांव। कर्णप्रयाग विकासखण्ड में बरतोली, दुआ, सकंड गांव है। 
-थराली, घाट, दशोली, नारायण बगड़, गैरसैंण, पोखरी के दर्जनों गांव हैं हिमाच्छादित 
उपखंड अधिकारी विद्युत विरतण खण्ड चमोली अनूप सिंह, का कहना है कि नियामक आयोग के निदेर्शों पर हिमाच्छादित क्षेत्र के उपभोक्ताओं के लिए विद्युत दर में छूट है। इसे त्रि्कयान्वित करने के लिए डीएम से स्नोबाउण्ड एरिया के गांवों की सूची मांगी गई है। जिसके आधार पर उपभोक्ताओं को 35 से 50 प्रतिशत की बिलों में छूट दी जायेगी। 
अपर जिलाधिकारी चमोली आशीष भटगांई, का कहना है कि प्रशासन के पास हिमाच्छादित गांवों की सूची है, मिनिस्ट्रीयल कर्मियों की हड़ताल खत्म के बाद यह सूची विद्युत विभाग को सौंप दी जायेगी। प्रशासन ने चुनाव को लेकर हिमप्रभावित क्षेत्रों का सवेर किया है। 

भाड़ा न मिला तो नहीं उठाएंगे राशन

गोपेश्वर । सरकारी सस्ता गल्ला वित्र्केता संगठन ने प्रशासन पर वादाखिलापी का आरोप लगाते हुए जुलाई से राशन का उठान न करने का निर्णय लिया। 
जिला मुख्यालय पर संपन्न हुई, सस्ता गल्ला वित्र्केता संघ की बैठक में वक्ताओं ने कहा कि पूर्व में प्रशासन की ओर से नारायणबगड, ग्वालदम, थराली, देवाल के गोदामों के गल्ला वित्र्केताओं के साथ हुई वार्ता के अनुरूप उन्हें माह फरवरी मार्च तक तथा दूरस्थ स्थानों के गल्ला वित्र्केताओं का भाड़ा जून तक देने पर सहमति बनी थी, लेकिन प्रशासन ने इस समझौते का उल्लंघन कर आज तक भी गल्ला वित्र्केताओं को किसी भी प्रकार का भाड़ा नहीं दिया। उन्होंने प्रशासन पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए कहा कि अगर जल्द ही उनका भुगतान न किया गया तो, वे जुलाई से राशन का उठान बंद करने को मजबूर होंगे। इस मौके पर संगठन के जिला उपाध्यक्ष सत्य प्रसाद सेमवाल, लक्षमण सिंह, सम्पूर्णानंद डिमरी, लखपत सिंह, राजेन्द्र सिंह, हरेन्द्र सिंह, सुरेन्द्र सिंह, जगत सिंह सहित कई गल्ला वित्र्केता मौजूद थे।

चावल की कालाबाजारी करने वाले गिरफ्त से बाहर

सितारगंज । सार्वजनिक वितरण प्रणाली के सौ िक्वंटल चावल को कालाबाजारी कर बेचने ले जाने वाले तीन कोटाधारकों व ट्रक चालक पर मुकदमा दर्ज होने के सप्ताह भर बाद भी गिरफ्तारी नहीं हो सकी। उनकी तलाश में दबिशें जारी हैं। 
तहसीलदार विवेक प्रकाश ने 23 अपै्रल को सरकारी सस्ते गल्ले के चावल की कालाबाजारी की सूचना पर बिज्टी रोड पर छापा मारा था। उन्होंने वरिष्ठ विपणन निरीक्षक के गोदाम से सस्ते गल्ले की दुकान के लिए ले जाये जा रहे चावल से लदे ट्रक को बिज्टी रोड स्थित रवि राइस मिल के पास पकड़ा। ट्रक यूपी06सीए/1268 में सौ िक्वंटल चावल लदा था। उसे कब्जे में ले लिया गया था। 
उसी दिन पूर्ति निरीक्षक टीएस रावत ने कोतवाली में ट्रक चालक अमरीक सिंह सरकारी सस्ता गल्ला वित्र्केता मटीहा मान सिंह, देवकली के विजय कुमार व सिद्घा नवदिया के नरेन्द्र सिंह के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया। पुलिस ने आवश्यक वस्तु अधिनियम 1955 की धारा 3/7 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया था। मुकदमा दर्ज हुये एक सप्ताह बीत चुका हैं, लेकिन किसी भी आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हुई हैं। कोतवाल केवलानंद ने बताया कि आरोपियों की तलाश में दबिशें दी जा रही हैं। 

दहेज हत्या के आरोपी पति की जमानत निरस्त

रुद्रपुर । जिला जज जयदेव सिंह की अदालत में दहेज हत्या के आरोपी पति की जमानत याचिका खारिज की गयी। 
पीलीभीत महाराजपुर निवासी राम सकल ने दर्ज रिपोर्ट में कहा था कि उसकी पुत्री का विवाह जून 2010 में खटीमा निवासी सुनील कुमार से हुआ था। शादी के बाद से वह उसकी पुत्री चंद्रवती के साथ दहेज को लेकर मारपीट करता रहा। दहेज की मांग पूरी न होने पर 25 फरवरी 2011 को उसकी पुत्री को जलाकर मार डाला गया। इधर, बुधवार को जिला जज की अदालत में आरोपी पति की जमानत याचिका खारिज कर दी गयी।


सीटू से जुड़ी भोजनमाताओं व अन्य संगठनों ने किया मुख्यमंत्री आवास कूच

देहरादून। भ्रष्टाचार, महंगाई व श्रम कानूनों के उल्लंघन के विरोध में सीटू से जुड़ी भोजनमाताओं व अन्य संगठनों से जुड़ें कार्यकर्ताओं ने स्थानीय गांधी पाकर से मुख्यमंत्री आवास कूच किया। इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने जिला प्रशासन के माध्यम से सरकार को 12 सूत्रीय मांगपत्र प्रेषित किया। 
बुधवार को सीटू से जुड़ें दर्जनों कार्यकर्ता स्थानीय गांधी पाकर में एकत्र हुए जहां से उन्होंने सरकार के खिलाफ जुलूस निकालते हुए मुख्यमंत्री आवास कूच किया। पुलिस प्रशासन ने उनके जुलूस को आधे रास्ते में ही रोक िदया। जहां प्रदर्शनकारियों ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारियों का कहना था कि संगठन लंबे समय से प्रदेश के मजदूर एवं आम जनता के मुद्दों को लेकर विभिन्न स्तरों पर एवं मंचों पर लड़ाई लड़ रहा है लेकिन प्रदेश की भाजपा एवं केंद्र सरकार का रवैया ठीक इसके विपरीत है। जनता के ऊपर अधिक से अधिक बोझ डालने की सरकार की नीति रही है। इसी वजह से लगातार महंगाई एवं गैस, डीजल , पेट्रोल के दाम बढ़ाये जा रहे है एवं भ्रष्टाचार के मुद्दें पर राज्य एवं केंद्र सरकार रवैया एक जैसा है। 
प्रदर्शन का नेतृत्व सीटू के प्रांतीय महामंत्री एवं यूनियन के संरक्षक वीरें भण्डारी, मेडिकल रिप्रेजेन्टटिव यूनियन के अध्यक्ष दीपक शर्म, सीटू के जिलाध्यक्ष कृष्ण गुनियाल, सीटू के वरिष्ठ नेता का. महावीर शर्मा ने किया और आम सभा को संबोधित किया और यूनियन द्वारा मुख्यमंत्री को संबोधित अपनी समस्याओं का 4 सूत्रीय मांगपत्र िदया और आगह किया कि यिद मांगों पर यथाशीघ्र समाधान नहीं किया गया तो यूनियन और व्यापक स्तर पर पूरे प्रान्त में ब्लाक, जिला एवं प्रांत स्तर पर धरना, प्रदर्शन, गिरफ्तारी देने के लिए विवश होगी। 
भोजनमाता कामगार यूनियन की मांगों में मुख्य रूप उक्त योजना वर्ष 2002 से चल रही है तथा उन्हें वर्ष में 11 माह का वेतन िदया जाता था किंतु वर्तमान में उनको मात्र 10 माह का वेतन िदया जाने का प्रस्ताव है जिसमें माह मई का वेतन नहीं िदया जायेगा, जबकि विद्यालय 24 मई तक चलते हैं। इसलिए उनको पूर्व की भांति 11 माह का वेतन िदया जाए, उत्तराखण्ड सरकार अपनी ओर से माह जून का भी वेतन देने की घोषणा करें, क्योंकि उक्त कर्मचारी मात्र 1000 रूपये प्रतिमाह मानदेय पर कार्य करते हैं, उक्त कर्मचारियों के लिए किसी प्रकार का कोई सामाजिक सुरक्षा नहीं है, विद्यालयों मे छात्रों के पानी की व्यवस्था सुचारू की जाए। 







शहीद गुलाटी की प्रतिमा स्थापित

देहरादून। नक्सली हमले में हुए शहीद जतीन गुलाटी को श्रद्घासुमन अर्पित करते हुए नगर निगम ने सवेर चौक स्थित विकास भवन के निकट उनकी प्रतिमा का लोकार्पण किया। लोकार्पण नगर निगम मेयर चमोली ने शहीद जतीन गुलाटी के माता पिता की उपिस्थति में किया। 
नक्सली हमले में हुए शहीद जतीन गुलाटी को श्रद्घासुमन अर्पित करते हुए नगर निगम मेयर विनोद चमोली ने विकास भवन के निकट उनकी प्रतिमा का लोकार्पण किया। लोकार्पण समारोह में नगर निगम मेयर विनोद चमोली ने कहा कि देहरादून के रहने वाले जतीन गुलाटी ने देश के लिए अपने प्राण न्यौछावर कर िदये। उन्होंने कहा कि उन्हें गर्व है कि ऐसे योद्घा को श्रद्घासुमन अर्पित करने का उन्हें मौका मिला। जतीन गुलाटी को पूरा देश सदैव याद रखोगा कि इतनी कम उम्र में भी उन्होंने अपने देश के लिए प्राण देने से पीछे कदम नहीं हटाये। 29 जून 2010 को छत्तीसगढ़ में शहीद हुए जतीन गुलाटी को पंजाबी महासभा और नगर निगम के अधिकारी कर्मचारियों ने श्रद्घाजंलि दी। उनके पिता श्याम गुलाटी और माता उमा गुलाटी ने अपने बेटे की प्रतिमा स्थापना के समय भावुक होकर कहा कि उन्हें गर्व है कि उनके बेटे ने देश के लिए अपनी कुर्बानी दी है। इस अवसर पर मुख्य रूप से नगर निगम मुख्य नगर अधिकारी सुशील कुमार, नेता प्रतिपक्ष अशोक वर्मा, रवि पांडे, पी.एस.कोचर, हरीश नारंग, हरजीत सिंह, संतोख नागपाल, शैल टंडन, राजकुमार, गोविंद मोहन, बबीता सहोत्रा, सहित नगर निगम के अनेक पार्षद उपिस्थत थें।ं 


पादर्शी ढंग से हो आंदोलनकारियो का चिन्हिकरण

देहरादून। उत्तराखंड राज्य निर्माण आंदोलन के आंदोलनकारियों के चिन्हिकरण की मांग को लेकर उत्तराखंड पूर्व सैनिक अर्द्धसैनिक संयुक्त संगठन से जुड़ें पूर्व सैनिकों ने जिला मुख्यालय में प्रदर्शन कर जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा। 
उत्तराखंड पूर्व सैनिक अर्द्धसैनिक संयुक्त संगठन से जुड़ें दर्जनों पूर्व सैनिक संगठन के उपाध्यक्ष पी.सी.थपलियाल के नेतृत्व में जिला मुख्यालय परिसर में एकत्र हुए जहां उन्होंने उत्तराखंड राज्य निर्माण आंदोलनकारियों के चिन्हिकरण की मांग को लेकर शासन प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारियों की सभा को संबोधित करते हुए संगठन के उपाध्यक्ष पी.सी.थपलियाल ने कहा कि समय-समय पर आंदोलनकारियों की गोष्ठियां हुई और इस बीच कुछ मापदंड़ों के साथ चिन्हिकरण की प्रिक्रया शुरू भी हुई। अपने प्राणों की आहूति देने वाले शहीदों और कारागार की सजा भुगतने वाले आंदोलनकारियों के चिन्हिकरण के आदेश हुए। राजनीतिक पार्टियों की तरफ से सम्मान परिषद भी बनायें गयें। इसके बावजूद इस विषय पर कोई स्पष्ट नीति नहीं बन पायी और चिन्हिकरण का विषय भी एक आंदोलन बन गया। उन्होंने कहा कि शीघ्र ही सिक्रय आंदोलनकारियों का चिन्हिकरण किया जायें। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में भी जनमानस ने बढ़चढ़कर राज्य निर्माण आंदोलन में भाग लिया परंतु इन ग्रामीण लोगों का चिन्हिकरण नहीं हो पाया। श्री थपलियाल ने कहा कि सभी चिन्हित आंदोलनकारियो को स्वतंत्रता सेनानियों जैसा दर्जा मिलें तथा जो असहाय, वृद्ध हो उन्हें पेंशन व आर्थिक सहायता मिले। उन्होंने कहा कि आंदोलनकारियों के परिवारों से बच्चों को शिक्षण तथा प्रशिक्षिण संस्थानों में आरक्षण िदया जायें।ं तथा सरकारी अस्पतालों एवं प्राईमरी स्वास्थ्य केंद्रों में मुफ्त ईलाज की सुविधा दीं जायें। प्रदर्शन के उपरांत उन्होंने जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन देने वालो में मुख्य रूप से राजेंद्र प्रसाद कोटनाला, माधवानंद बंदोनी, सुरेंद्र सिंह, डी.एस.पंवार, सुरेंद्र प्रसाद, चंद्रमणि बंदोनी, िदवान सिंह वोहरा, राम सिंह राणा, कांता प्रसाद जोशी, अजीत सिंह रावत, चंद्रसिंह रावत, रामदत्त पांडें़, आिद शामिल थें। 

महानगर की बैठक में होगी रणनीति तैयार

देहरादून। आने वाले समय में जन समस्याओं के लिए संघर्ष करने की ठोस नीति तैयार करने के साथ ही विधानसभा चुनावों को लड़ने के संबंध में विचारविमर्श करने के लिए समाजवादी पार्टी महानगर ईकाई ने प्रदेश कार्यालय में बैठक का आयोजन करने का निर्णय लिया है। कल होने वाली इस बैठक में अनेक महत्वपूर्ण बिंदु रख्ों जायेंगें। 
उक्त आशय की जानकारी देते हुए समाजवादी पार्टी के महानगर अध्यक्ष सुभाष पंवार ने बताया कि संगठन की मजबूती व भावी रणनीति को तैयार करने के लिए कल सपा के प्रदेश मुख्यालय में पदाधिकारियों की बैठक आयोजित की जा रही है। उन्होंने बताया कि इस बैठक में मुख्य रूप से विधानसभा चुनावों के संबंध में विचार विमर्श करना शामिल रहेगा। इसके अलावा बैठक में केंद्र सरकार द्वारा बढ़ाई गयी महंगाई के संबंध में चरणबद्ध तरीके से आंदोलन शुरू करने की रणनीति तैयार की जायेगी। इसके साथ ही विधानसभा चुनावों के संबंध में ब्लॉक स्तर तक कमेटियां भी गठित करने के लिए पदाधिकारियों से विचार विमर्श किया जायेंगा। श्री पंवार ने कहा कि समाजवादी पार्टी आज जनता के मुद्दों को पुरजोर ढंग से उठा रही है। भाजपा हो या कांग्रेस दोनो ने जनता के साथ छलावा किया है। जबकि सपा की कथनी करनी में कोई अंतर नहीं है। राज्य में जनता दोनों के कार्यकाल को देख चुकी है। किसी ने भी जनता के हितों को तवज्जों नहीं दी। समाजवादी पार्टी विधानसभा चुनावों में विकल्प के रूप में उभरकर सामने आयेगी।

जारी रहा बागमल का आमरण अनशन

देहरादून। जनपद चमोली विकासखण्ड घाट के अंतर्गत ग्राम पंचायत कुमजुग के धरगांव पैन्डाबस्ती में स्थित नवदुर्गा भगवती संगल्यानाथ मंदिर के सौंदर्यकरण के लिए वित्तीय सहायता स्वीकृत किए जाने सहित 9 सूत्रीय मांगों को लेकर आमरण अनशन कर रहे 84 वर्षीय वयोवृद्ध बागमल का कहना है कि उनके अनशन को आज तीसरा िदन हो चुका है। वह अनशन तब तक समाप्त नहीं करेगे जब तक राज्य सरकार उनकी सभी मांगों को पूरा नहंी कर देती। 
्र

सरकार व शासन की नियत ठीक नहीं: यूेडी

देहरादून। उत्तराखंड क्रांतिदल के केंद्रीय अध्यक्ष त्रिवेंद्र सिंह पंवार ने कहा कि राज्य में समूह ग की भर्ती को लेकर लंबे समय से विभिन्न प्रकार की विसंगतियां प्रकाश में आयी है। शारीरिक फिटनेस के अतिरिक्त साईकिल चलाना व घुड़सवारी का अनुभव जैसे हास्यप्रद मानक सरकार द्वारा निर्धारित किये गये थें तथा मुख्यमंत्री के आश्वासन व घोषणा के बावजूद अभ्यिर्थियों के लिए अधिकतम आयु सीमा जानबूझकर 35 वर्ष करना, 27 विभिन्न परीक्षाओं के लिए 500 रूपयें प्रति फार्म आवेदन शुल्क रखना पूर्व में ही शासन व सरकार की नीयत का खुलासा कर चुके हैं। 
श्री पंवार आज यहां पत्रकारों से बात कर रहे थे। उन्होंने कहा कि उक्रांद ने आंदोलन कर सरकार पर दबाव बनाया। तब जाकर सरकार ने समूह ग की भर्तियों में आयुसीमा बढ़ाकर 40 वर्ष कर दीं। उन्होंने कहा कि परंतु समूह ग की भर्ती में गढ़वाली, कुमाऊंनी, जौनसारी बोलियों की जानकारी रखने वाले अभ्यिर्थियों को प्राथमिकता िदये जाने वाला प्राविधान सरकार द्वारा चंद पहाड़ विरोधी तत्वों के विरोध में निरस्त कर िदया गया। जो कि सरकार के पहाड़ विरोधी होने का प्रमाण है। उन्होंने कहा कि उक्रांद इसका तीव्र विरोध करता है। श्री पंवार ने कहा कि जिस तरह अन्य राज्य पंजाब, बंगाल, महाराष्ट्र आिद राज्यों में स्थानीय बोली भाषाओं को मान्यता दी गयी है उसी तरह उत्तराखंड में भी स्थानीय बोलियों को मान्यता दी जायें। उन्होंने कहा कि उक्रांद ने 15 जून से गढ़वाल मण्डल में भाजपा कांग्रेस की पोल खोलों यात्रा के दौरान राज्य आंदोलनकारियों से सीधा संपकर किया और करीबन 6600 राज्य आंदोलनकारियों को सम्मान पत्र प्रदान किये। उन्होंने कहा कि सिक्रय आंदोलनकारियों का शासन द्वारा उपेक्षा की गयी है। जिसके कारण सिक्रय राज्य आंदोलनकारियों का चिन्हिकरण नहीं हो पाया है। उन्होंने कहा कि उक्रांद ने सभी सिक्रय राज्य आंदोलनकारियों को सम्मान पत्र प्रदान किये। उन्होंने कहा कि आगामी 2012 विधानसभा चुनाव में उत्तराखंड क्रांतिदल सभी सीटों पर अपने प्रत्याशी खड़ा करेंगा और भाजपा कांग्रेस को मुंहतोड़ जवाब देगा। श्री पंवार ने कहा कि जो सिक्रय आंदोलनकारी छुट गये है उन्हें अगले चरण पर ब्लॉक स्तर से लेकर न्याय पंचायत स्तर तक सम्मेलन आयोजित कर सम्मान पत्र प्रदान किये जायेंगें। उन्होंने कहा कि सरकार को खनन व चुगान की अनुमति देनी चाहिए। प्रैस वार्ता में केंद्रीय कार्यकारी अध्यक्ष ए.पी.जुयाल, केंद्रीय महामंत्री लताफत हुसैन, जिलाध्यक्ष एन.के.गुंसाई, आिद शामिल थें।ं 


काम पर वापस लौटे चतुर्थ वर्गीय कर्मचारी

देहरादून। विभिन्न मांगों को लेकर उत्तराखण्ड चतुर्थ वर्गीय राज्य कर्मचारी महासंघ से जुड़े कर्मचारियों ने सरकार द्वारा मांग पूरी होने के बाद आज हड़ताल समाप्त करने की विधिवत घोषणा की इसके साथ ही सभी कर्मचारी वापस काम पर लौट गए हैं। 
उत्तराखण्ड चतुर्थ वर्गीय राज्य कर्मचारी महासंघ के आहवान पर देहरादून जिले के 36 विभागों के चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर गये हुए थे जिसके कारण सरकारी मशीनरी पटरी से उतर गयी थी। अपनी मांगों को मनवाने के लिए कर्मचारियों ने कई बार सचिवालय कूच भी किया लेकिन उनकी मांगे जस की तस रही। चतुर्थ वर्गीय कर्मचारियो की हड़ताल के कारण जनता को जो परेशानी हुयी उसने शासन को भी हिला कर रख िदया। गत िदवस शासन स्तर पर महासंघ की वार्ता हुयी जिसमें कर्मचारियों की मांगों को पूरा करने का आश्वासन िदया गया। आश्वासन के बाद कर्मचारियों ने अपनी हड़ताल समाप्त करने का निर्णय लिया। महासंघ से जुड़े कर्मचारी गांधी पाकर में एकत्र हुए जहां उन्हें आभार सभा की। सभा को संबोधित करते हुए जिला सचिव केके शुक्ला ने कहा कि शासन ने महासंघ की सभी मांगों को मान लिया है जिसे देखते हुए हड़ताल समाप्त करने की घोषणा की जाती है। साथ ही उन्होंने सभी कर्मचारियों से आहवान किया कि वह लोग आज ही अपने-अपने काम पर वापस लौट जाएं। सभा को संबोधित करने वालो में मुख्य रूप से पूरण सिंह लिंगवाल, विरें दत्त बिजल्वाण, मनवर सिंह नेगी, के.के. शुक्ला, गिरजा शंकर रणाकोटी, विरें सिंह गुंसाई, धन सिंह रावत, राजें मंमगाई, अव्वल सिंह खत्री आिद शामिल थे।

वाल्मीकि महासभा ने िदया अनशनकारी को समर्थन

देहरादून। नौ सूत्रीय मांगों को लेकर आमरण अनशन कर रहे वयोवृद्ध बागमल को अखिल भारतीय वाल्मीकि सभा ने अपना समर्थन प्रदान करते हुए कहा कि देश मे अनुसूचित जाति के लोगो के जीवन में कोई बदलाव नहीं आया है। सरकार उनकी घोर उपेक्षा कर रही है। 
नौ सूत्रीय मांगों को लेकर 84 वर्षीय वयोवृद्ध बागमल स्थानीय गांधी पाकर में पिछले तीन िदनो से आमरण अनशन कर रहे हैं। आज अखिल भारतीय वाल्मीकि महासभा से जुड़े पदाधिकारी राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्रवण कुमार राजौरिया के नेतृत्व में गांधी पाकर पहुंचे जहां उन्होंने बागमल को अपना समर्थन देने की घोषणा की। बागमल को समर्थन देने वालो में मुख्य रूप से ओपी शौडियाल, पीसी ढीेंगिया, रमेश डलौर, प्रताप सिंह, लज्जा देवी, छायादेवी, कविता, शोभा आिद शामिल थे।


जनाधार ेन्द्र पर डाले गये ताले, सरकार ने जबरन खुलवाये

देहरादून। 29 िदनों से अनिश्चितकालीन हड़ताल कर कर्मिक अनशन करने वाले मिनिस्ट्रीयल कर्मी एकाएक अक्रामक हो गए और उन्होंने धरना स्थल से जुलूस निकालकर जनाधार कें में तालाबंदी की। कुछ लोगों ने जिलाधिकारी से तालाबंदी की शिकायत की। जिसके कारण जिला प्रशासन हरकत में आया और लगभग दो घंटे बाद जनाधार कें में डले तालो को तुड़वाया गया, इस दौरान जनाधार कें को पुलिस छावनी में तब्दील कर िदया गया था ताकि कर्मचारी ताले खुलने का विरोध न कर सकें। 
बताते चलें कि कलेक्ट्रेट पुर्नगठन की मांग को लेकर उत्तराखण्ड कलेक्ट्रेट मिनिस्ट्रीयल कर्मचारी संघ से जुड़े मिनिस्ट्रीयल कर्मचारी पिछले लम्बे समय से संघर्षरत हैं। आज उन्होंने धरना स्थल से जुलूस निकालकर कलेक्ट्रेट परिसर में स्थित खनिज कार्यालय, मनोरंजन कार्यालय, कोषागार कार्यालय, प्रोबेशन कार्यालय, सब रजिस्टार कार्यालय, भू-लेख कार्यालय, पंचस्थानीय कार्यालय, विशेष भूमि अध्यापित कार्यालय एवं चुनाव कार्यालय के साथ ही जनाधार कें में ताले जड़ िदए। जब कर्मचारी जनाधार कें में ताले लगा रहे थे उस समय वहां लोगों की लम्बी भीड़ लगी हुयी थी जो अपनी बारी का इंतजार कर रही थी। कर्मचारियों के जाने के बाद कुछ लोगों ने जिलाधिकारी से मुलाकात की और उन्हें बताया कि वह लोग प्रातः काल से जनाधार कें में अपनी बारी का इंतजार कर रहे थे और जब नम्बर आया तो कर्मचारियों ने वहां तालाबंदी कर दी। जिलाधिकारी ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए तत्काल पुलिस फोर्स को मौके पर बुलवा लिया और वहीं सिटी मजिस्टे्रट मेहरबान सिंह बिष्ट को निदेर्श िदये कि वह जनाधार कें में हुयी तालाबंदी को समाप्त कराये। जिलाधिकारी के निदेर्शों का पालन करते हुए जिला प्रशासन के अधिकारियों ने जनाधार कें के बाहर लगाये गए ताले को पुलिस की मौजूदगी में तुड़वा िदया लेकिन मुख्य गेट पर लगे इंटरनल लॉक को वह खुलवा न पाये। जिसके बाद सिटी मजिस्टे्रट ने कर्मचारी नेताओं से दूरभाष पर वार्ता कर उनसे मुख्य गेट की चाबी मंगवायी। दोपहर बाद जनाधार के में लगे ताले खुलवाये गए। जिला प्रशासन का कहना था कि कर्मचारी बेशक हड़ताल करते रहे लेकिन जनता को परेशान नहीं होने िदया जाएगा। 

हत्यारोपी की बेल खारिज

रुद्रपुर । जिला जज की अदालत में हत्या के आरोपी एक युवक की जमानत याचिका खारिज हो गयी। बरेली जसौली निवासी विकास गुप्ता ने दर्ज रिपोर्ट में कहा था कि 18 फरवरी 2011 को उसके पिता वीरेंद्र गुप्ता ट्रक से माल लादकर काशीपुर गए हुए थे। बाद में वह लापता हो गए थे। उनका ट्रक बिजनौर में लावारिश हालत में मिला था। एक मार्च को उसके पिता का शव जसपुर में मिला। साथ ही आरोप लगाया था कि उसके पिता की आदेश गुप्ता, रोहित, नमीता चौहान व राजकुमार ने अपहरण कर हत्या कर दी थी। इस मामले में मंगलवार को जिला जज जयदेव सिंह ने आदेश गुप्ता की जमानत याचिका खारिज कर दी 

जानलेवा हमले का एक आरोपी गिरफ्तार

रुद्रपुर । जानलेवा हमला करने के मामले में पुलिस ने तीन युवकों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है। इधर पुलिस ने एक युवक को गिरफ्तार किया है। 
नई बस्ती खेड़ा निवासी हरि शंकर ने पुलिस को सौंपी तहरीर में कहा है कि मंगलवार को उसका पुत्र संतोषी माता मंदिर के पास खड़ा था। इसी दौरान मुहल्ले के ही इसरार, शमीम व हैप्पी ने पुरानी रंजिश के चलते उसके सिर पर कांपा से हमला कर दिया। इससे रवि गंभीर रूप से घायल हो गया। इस मामले में पुलिस ने तीनों युवकों के खिलाफ धारा 307, 324 504 व 506 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है। इधर, एसआइ रमेश राणा ने एक आरोपी इसरार को गिरफ्तार कर लिया है। बाद में उसकी निशानदेही में खेड़ा स्थित एक खेत से हमले में प्रयुक्त कांपा भी बरामद कर किया। 


खाते से 9800 पार

काशीपुर । एक व्यक्ति के खाते से 9800 की नगदी पार हो गई। पीड़ित ने पुलिस को तहरीर सौंप दी है। 
मोहल्ला पक्काकोट निवासी करन सिंह पुत्र जयगोपाल सिंह का स्टेट बैंक आफ पटियाला में खाता है। बीते दस जून को उन्होंने एटीएम से 4000 हजार की नगद निकासी की। उसके बाद वे अपने घर चले गए। उन्हें बाद में जानकारी हुई कि उनके खाते से 9800 रुपए भी निकाले जा चुके हैं। उन्होंने इसकी शिकायत स्टेट बैंक आफ पटियाला से की। जहां से 4000 हजार के बाद ही 9800 रुपए निकाले जाने की जानकारी दी गई। मामले में बैंक द्वारा कोई कारर्वाई नहीं की गई। पीड़ित ने इसकी शिकायत पुलिस से की है


हाईकोर्ट जाएंगे इतिहास में अनुत्तीर्ण छात्र

काशीपुर । उत्तराखंड विद्यालयी शिक्षा परिषद के हाई स्कूल एवं इंटर के इतिहास विषय में फेल हुए विद्यार्थी हाईकोर्ट की शरण लेंगे। बच्चों के अभिभावकों ने इसके लिए एक कमेटी का गठन किया है। जो फेल हुए छात्रों का पूरा ब्यौरा एकत्र कर रही है। 
उत्तराखंड विद्यालयी शिक्षा परिषद की हाई स्कूल एवं इंटर की परीक्षा में इतिहास विषय में क्षेत्र कई विद्यालयों के सैकड़ों छात्र अनुत्तीर्ण हो गए थे। इसके बाद संबंधित स्कूलों पर छात्रों ने हंगामा किया था। साथ ही शिक्षा परिषद के रामनगर स्थित कार्यालय में शिकायत भी थी। इसके पश्चात विषय में अनुत्तीर्ण हुए छात्रों एवं उनके अभिभावकों ने बैठक एक कमेटी का गठन किया है। यह कमेटी बाजपुर, सुल्तानुपर पट्टी व काशीपुर क्षेत्र के फेल हुए छात्रों का ब्यौरा एकत्र करेगी। तीन जुलाई तक कमेटी के पास सभी छात्र अपने अंक पत्र जमा करेंगे। जिसके बाद कमेटी हाईकोर्ट में रिट दाखिल करेगी। 

आवेदन एक से 
काशीपुर । राजकीय राधे हरि स्नातकोत्तर महाविद्यालय में बीकाम, बीए व बीएसी प्रथम वर्ष के आवेदन पत्र एक जुलाई को मिलने प्रारंभ हो जायेंगे। उक्त जानकारी महाविद्यालय की प्राचार्या ललित प्रभा शर्मा ने दी है। 



तेरह साल बाद बन रहा महासंयोग

रुड़की। तेरह साल बाद तीन जुलाई को महासंयोग बनने जा रहा है। इस दिन जहां रवि पुण्य, स्वार्थ सिद्धि, गुप्त नवरात्र व पुरी धाम का शुभारंभ है, वहीं श्री जगन्नाथ रथ यात्रा भी तीन जुलाई को शुरू होने जा रही है। 
सीबीआरआइ के वैज्ञानिक एवं ज्योतिष गोपाल राजू ने बताया कि तीन जुलाई को सूर्योदय से लेकर रात नौ बजकर 45 मिनट तक रवि पुण्य योग रहेगा। यह अपने में स्वयं एक स्वार्थ सिद्धि योग है। दूसरे द्वितीय तिथि के कारण इस दिन चंद्र पूर्ण बलि होता है। बिना मुहूर्त के भी दिन में कोई भी शुभ कार्य किया जा सकता है। शनिवार की रात से गुप्त नवरात्र शुरू हो रहे हैं। ऐसे में तंत्र साधनाओं के लिए भी यह समय रिद्धि-सिद्धि दायक होगा। तीन जुलाई से नवमी के मध्य तक गृह उपयोगी वस्तुओं के साथ सोना-चांदी खरीदना शुभ होगा। दूसरी ओर आध्यात्मिक दृष्टि से देखा जाए तो भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा दिवस पर भगवान के दर्शनों का पुण्य लाभ मिलेगा। श्री राजू ने बताया कि इस तरह के योग-संयोग कम ही बन पाते हैं। इससे पूर्व यह योग छह जुलाई 1997 में आया था। 

पीटीए के भरोसे रहेगी शिक्षण व्यवस्था

रुड़की। जिले के तीन दर्जन से अधिक हाईस्कूल व इंटर कॉलेजों में इस बार भी शिक्षण व्यवस्था पीटीए शिक्षकों के भरोसे ही रहेगी। सरकार की ओर से इन स्कूलों में अभी तक शिक्षकों की भर्ती नहीं की गई है। स्कूलों में अब गिने-चुने शिक्षक ही रह गए हैं। मूलराज कन्या इंटर कॉलेज में तो मात्र प्रधानाचार्य ही नियमित है, शेष सभी पीटीए शिक्षक हैं। 
राज्य गठन के साथ ही जिले के तमाम सरकारी एवं सरकारी सहायता प्राप्त स्कूलों में नियमित शिक्षकों की भर्ती पर ब्रेक लग गया। पुराने शिक्षक तो स्कूल से सेवानिवृत्त होते रहे, लेकिन उनके स्थान पर नए शिक्षकों की तैनाती नहीं हो पाई। अकेले बीएसएम इंटर कॉलेज में दो दर्जन से अधिक नियमित शिक्षकों के पद खाली पडे़ हुए हैं। इसके अलावा केएलडीएवी इंटर कॉलेज में भी डेढ़ दर्जन पदों पर लंबे समय से शिक्षकों की तैनाती नहीं हुई है। मूलराज कन्या इंटर कॉलेज में तो स्थिति और भी ज्यादा खराब है। प्रधानाचार्य उषा कालरा के अलावा कोई भी शिक्षक नियमित नहीं है। सब पीटीए व्यवस्था के अन्तर्गत है। मैथोडिस्ट, एसडी इंटर कॉलेज, आर्य कन्या, बीडी इंटर कॉलेज भगवानपुर, आरएनआइ इंटर कॉलेज रुड़की, सीएमडी इंटर कॉलेज चुड़ियाला, राष्ट्रीय इंटर कॉलेज भलस्वागाज, चौधरी भरत सिंह डीएवी इंटर कॉलेज समेत कई बड़े स्कूलों में प्रबंधकीय व्यवस्था के अन्तर्गत ही शिक्षक काम कर रहे हैं। 
उत्तराखंड माध्यमिक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष डॉ. अनिल शर्मा ने बताया कि वास्तव में जिले के प्रबंधकीय व्यवस्था के अंतर्गत संचालित स्कूलों की स्थिति बेहद खराब है। सरकार इन स्कूलों में नियमित शिक्षकों की तैनाती नहीं कर रही है। सरकार को चाहिए कि वह तत्काल स्कूलों में नियुक्ति करें। 
दूसरी ओर अपर शिक्षा निदेशक गढ़वाल मंडल नरेन्द्र सिंह राणा ने बताया कि शासन स्तर से ही प्रबंधकीय स्कूलों में शिक्षकों की नियुक्ति पर रोक लगी है। जैसे ही नियुक्ति प्रित्र्कया को हरी झंडी देती है, हरिद्वार जिले में नियुक्ति शुरू हो जाएगी। उन्होंने बताया कि करीब आठ सौ पदों पर नियुक्ति होनी है। 

दस को चक्का जाम करेंगे गुरिल्ला प्रशिक्षित

उत्तरकाशी । गुरिल्ला संगठन ने अपनी मांगों को लेकर प्रदेश सरकार से योजना बना कर केंद्र सरकार को भेजने की मांग की है, ताकि जल्द ही गुरिल्लाओं की मांगों पर कारर्वाई हो सके। वहीं, 9 जुलाई का अल्टीमेटम देते हुए गुरिल्ला संगठन ने दस जुलाई को चक्काजाम की चेतावनी दी है। 
बुधवार को जिला मुख्यालय में गुरिल्ला संगठन की बैठक में संगठन के जिला उपाध्यक्ष चमन लाल शाह ने कहा कि प्रदेश सरकार लंबे समय से गुरिल्ला संगठन की मांगों पर कोई सकारात्मक कारर्वाई नहीं कर रही है। उन्होंने कहा कि ऐसे में प्रदेश सरकार केंद्र को योजना व नीति निर्धारण कर भेजे, जिसके हमारी तीन सूत्रीय मांगों पर जल्द कारर्वाई हो सके। 
वहीं, बैठक में गुरिल्ला संगठन ने प्रदेश सरकार को नौ जुलाई तक योजना बना कर केंद्र को भेजने की मांग की है। साथ ही मांग ना माने जाने पर दस जुलाई को चक्का जाम की चेतावनी भी दी। वहीं बैठक में तीन सूत्रीय मांगों को लेकर आंदोलन की नई रणनीति तैयार करने के लिए गुरिल्ला संगठन को दस जुलाई को ही चिन्यालीसौड़ में आम सभा का आयोजन करेगा। बैठक में सचिव महावीर सिंह रावत, रतन मणी सेमवाल, जगमोहन भंडारी, संतोषी सजवाण समेत अन्य मौजूद थे।


छात्र हितों को लेकर संयुक्त छात्र परिषद करेगी संघर्ष

श्रीनगर गढ़वाल । छात्रहितों को लेकर गढ़ंवाल विवि संयुक्त छात्र परिषद के बैनर तले संघर्ष किया जाएगा। छात्र नेताओं ने बिड़ला परिसर में बैठक कर परिषद का गठन किया, जिसमें बिड़ला परिषद के सभी छात्रसंघ पदाधिकारियों सहित विभिन्न छात्र संगठनों के प्रतिनिधि भी शामिल हुए। 
बैठक में छात्र नेताओं ने कहा कि छात्रों की समस्याओं का समाधान समय रहते किया जाना चाहिए। गढ़वाल विवि की वार्षिक परीक्षा का रिजल्ट भी शीघ्र घोषित किये जाने की मांग की गयी। उन्होंने कहा कि नए प्रवेश लेने वाले छात्रों और पुराने छात्रों की समस्याओं के समाधान के लिए परिषद प्रयास करेगी। छात्र समस्याओं के समाधान को लेकर एकजुट होकर सभी छात्र नेता संघर्ष करेंगे। बिड़ला परिसर छात्रसंघ अध्यक्ष निशांत प्रताप कंडारी, उपाध्यक्ष अनुराग चमोली, विवि प्रतिनिधि वर्गीश बमोला, कोषाध्यक्ष रोहित कन्याल, विद्यार्थी परिषद के सवेर्श चौधरी, मनवीर सिंह, एनएसयूआई के दान सिंह नेगी, मनीष नौटियाल, आर्यन ग्रुप से संजय बिष्ट और अंकित कपरवाण, विकास कठैत छात्र नेता संयुक्त छात्र परिषद कमेटी में शामिल किए गए हैं।

.