Share Your view/ News Content With Us
Name:
Contact Number:
Email ID:
Content:
Upload file:

हाईस्कूल में 52 बच्चों में 44 प्रथम श्रेणी में अव्वल

रुद्रप्रयाग। अगस्त्यमुनि क्षेत्र के विद्याालयों ने उत्तराखण्ड बोर्ड परीक्षा में बेहतर प्रदर्शन करते हुए मेरिट में स्थान बनाकर क्षेत्र का नाम रोशन किया है। विजयनगर स्थित गौरी मेमोरियल का परीक्षा फल 85 प्रतिशत रहा। विद्यालय की छात्रा आयशा रावत ने 98$4 प्रतिशत अंक प्राप्त कर न केवल विद्यालय स्तर पर बल्कि, प्रदेश पहला स्थान प्राप्त किया। मेघा रावत ने 97 प्रतिशत अंक प्राप्त कर विद्यालय स्तर पर दूसरा एवं प्रदेश स्तर पर चौथा स्थान प्राप्त किया है। हाईस्कूल में कुल 52 बच्चों में से 44 की प्रथम श्रेणी एवं पांच की द्वितीय रेणी आई है, जबकि एक छात्र असफल रहा है। इण्टर स्तर पर विद्यालय का परीक्षा परिणाम 96 प्रतिशत रहा। गुंजन भण्डारी ने 80 प्रतिशत अंक प्राप्त कर विद्यालय में प्रथम स्थान प्राप्त किया है। कुल 28 बच्चों में से 14 प्रथम श्रेणी में तथा 13 द्वितीय श्रेणी में उत्तीर्ण हुए हैं। विद्यालय के परीक्षा परिणाम पर संतोष जताते हुए विद्यालय के प्रबन्धक रमेश चमोला, प्रधानाचार्या रूचिता चमोला, शिखक मनीष गोस्वामी आदि ने छात्र छात्राओं को बधाई दी है।

अगस्त्य पब्लिक स्कूल में हाईस्कूल बोर्ड परीक्षा में चार छात्रों का मेरिट में स्थान प्राप्त करने पर विद्यालय परिवार ने हर्ष जाहिर करते हुए छात्र-छात्राओं को बधाई देते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य के लिए शुभकामनायें प्रेषित की हैं। विद्यालय के प्रबन्धक महावीर रमोला ने बताया कि विद्यालय में हाईस्कूल में कुल 37 छात्र पंजीकृत थे, जिनमें से 35 प्रथम श्रेणी में एवं दो द्वितीय श्रेणी में उत्तीर्ण हुए हैं। विद्यालय के छात्र आशुतोष पुरोहित ने 95$2 प्रतिशत अंकों के साथ न केवल विद्यालय में टॉप किया है, बल्कि प्रदेश में 14 वां स्थान भी प्राप्त किया है। प्रिया राणा ने 94$4 प्रतिशत अंकों के साथ विद्यालय स्तर पर द्वितीय एवं प्रदेश स्तर पर 19 वीं रैंक हासिल की है। अक्षिता ने 93$2 प्रतिशत अंकों के साथ प्रदेश स्तर पर 24 वीं एवं आयुश नेगी ने 93 अंकों के साथ 25 वीं रैंक हासिल की है।

चिल्ड्रन एकेडमी इण्टर कॉलेज की छात्रा नेहा मैठाणी ने उत्तराखण्ड बोर्ड परीक्षा में इण्टर में 90$4 प्रतिशत अंकों के साथ प्रदेश स्तर पर 20वां स्थान प्राप्त किया है, जबकि अभिषेक राणा ने 93$2 प्रतिशत अंकों के साथ हाई स्कूल में प्रदेश स्तर पर 24 वां स्थान प्राप्त किया है। विद्यालय के प्रधानाचार्य शिशुपाल सिंह कण्डारी ने बताया कि पशुपालन विभाग में फार्मासिस्ट के पद पर कार्यरत डीआर मैठाणी की पुत्री नेहा मैठाणी ने इण्टर परीक्षा में प्रदेश स्तर पर 20 वां स्थान प्राप्त कर विद्यालय का नाम रोशन किया है। जबकि हाई स्कूल में सिंचाई विभाग में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी के पुत्र अभिषेक राणा ने 24 वां स्थान प्राप्त कर न केवल अपने माता पिता का बल्कि विद्यालय एवं क्षेत्र का नाम रोशन किया है। विद्यालय का हाई स्कूल एवं इण्टर का परीखा फल 92 प्रतिशत रहा। हाईसकूल में कुल 53 छात्र पंजीकुत थे जिनमें से 49 उत्तीर्ण हुए जबकि इण्टर में कुल 103 छात्रों में से 95 सफल रहे। छात्र छात्राओं की इस सफलता पर पूर्व विधायक शैलारानी रावत, विक्रम नेगी, प्रधानाचाय्र शिशुपाल कण्डारी, शर्मिला साहनी, प्रेमसिंह रावत, त्रिभुवन नेगी, हीरा नेगी, नागेन्द्र कण्डारी आदि ने बधाई देते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की है। 

जनपद के छात्रों ने किया प्रदेश में टॉप

रुद्रप्रयाग। उत्तराखण्ड बोर्ड परीक्षा में इस बार दूरस्थ क्षेत्रों के विद्यालयों ने मेरिट में स्थान बनाकर शहरी क्षेत्रों को खासी टक्कर दी है। इस बार रुद्रप्रयाग जिले से हाईस्कूल में न केवल टॉपर निकले हैं, बल्कि मेरिट में चौथी, छठी, 11वें, 23वें एवं 24 वें स्थान पर आकर जनपद का नाम रोशन किया है। जनपद के कुल 12 छात्र-छात्रायें मेरिट में स्थान पाने में सफल हुए हैं। इन छात्रों की पृष्ठभूमि बहुत ही साधारण है। इन्होंने साबित किया है कि यदि इन्हें भी सुविधा मिले तो ये इससे भी बढक़र परिणाम दे सकते हैं। विजयनगर स्थित गौरी मेमोरियल पब्लिक इण्टर कालेज की छात्रा आयशा ने 98 $4 प्रतिशत अंकों के साथ प्रदेश स्तर पर पहला स्थान प्राप्त किया तो मेघा रावत ने 97$ 4 अंको के साथ चौथी रैंक हासिल की है। विद्या मन्दिर बेलणी रूद्रप्रयाग की छात्रा निकिता ने भी 97$4 अंकों के साथ चौथा स्थान हासिल किया।

राइंका भीरी के छात्र मयंक राणा ने 97 प्रतिशत अंकों के साथ छठी रैंक हासिल की है। गुप्तकाशी के छात्र मोहित रावत एवं विद्या मन्दिर बेलणी रूद्रप्रयाग की छात्रा शिवांगी भट्ट ने 96 अंक प्राप्त कर 11वां स्थान हासिल किया। अगस्त्य पब्लिक स्कूल गंगानगर अगस्त्यमुनि के छात्र आशुतोष पुरोहित ने 95$2 अंक हासिल कर 14वां स्थान, प्रिया राणा ने 94$ 2 अंकों के साथ 19 वां स्थान, अक्षिता ने 93$ 4 आंकों के साथ 23 वां, चिल्ड्रन एकेडेमी के छात्र अभिषेक राणा ने 93$2 प्रतिशत अंकों के साथ 24 वां तथा अगस्त्य पब्लिक स्कूल के छात्र आयुश नेगी ने 93 अंकों के साथ 25 वां स्थान हासिल कर जनपद का नाम रोशन किया है। छात्र छात्राओं की इस सफलता पर केदारनाथ विधायक मनोज रावत, पूर्व विधायक शैलारानी रावत, नगर पंचायत अध्यक्ष अशोक खत्री, व्यापार संघ अध्यक्ष माहन रौतेला, ब्लॉक प्रमुख जगमोहन रौथाण आदि ने उन्हें बधाई देते हुए भविष्य के लिए शुभकामनायें प्रेषित की हैं।
 

शराब की तीन दुकाने महिलाओं के नाम

नई टिहरी। जिले की 16 अंग्रेजी शराब की दुकानों में से 15 दुकानों का डीएम सोनिका की अध्यक्षता में लॉटरी प्रक्रिया से आंवटन किया गया। 15 दुकानों के लिए कुल 895 आवेदन प्राप्त हुए। सबसे अधिक आवेदन चमियाला दुकान के लिए किए गए, तीन दुकान महिलाओं के नाम रही। मंगलवार को बहुद्देशीय हॉल में टिहरी जिले की 15 अंग्रेजी शराब की दुकानों का डीएम की अध्यक्षता व कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच आंवटन किया गया। 15 दुकानों में से तीन दुकानों की लॉटरी महिलाओं के नाम रही।

जिले की 16 दुकानों से वित्तीय वर्ष के लिए 56 करोड़ रुपये राजस्व प्राप्ति का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। 15 दुकानों के आवेदन पत्रों की बिक्री से दो करोड़ 23 लाख 75 हजार रुपये राजस्व प्राप्ति हुई है। चंबा नगर की दुकान के लिए कोई आवेदन नहीं मिला। इस मौके पर एसएसपी विमला गुंज्याल, एडीएम डॉ. एसके बरनवाल, एसडीएम चतर सिंह चौहान, सीओ एचएस रौथाण, जिला आबकारी अधिकारी संजय कुमार आदि मौजूद थे।

10वीं में फेल होने पर छात्रा ने जहर खाया, हालत गंभीर

हरिद्वार।  10वीं में फेल होने पर हरिद्वार के श्यामपुर क्षेत्र निवासी छात्रा ने जहरीले पदार्थ का सेवन कर लिया। छात्रा की हालत बिगडऩे पर परिजनों को इस बात का पता चला। आनन-फानन में छात्रा को जिला अस्पताल ले जाकर भर्ती कराया गया।

मंगलवार दोपहर उत्तराखंड बोर्ड का रिजल्ट जारी हुआ था। 10वीं की छात्रा के ताऊ के बेटे ने मोबाइल पर रिजल्ट देखा। जानकारी के अनुसार छात्रा के 193 नंबर आये थे। छात्रा के फेल होते ही सभी निराश हो गए। रिजल्ट पता चलने के कुछ देर बाद गुमशुम छात्र घर के अंदर चली गई और काफी देर तक किसी से बात नहीं की। घर के अंदर ही उसने मक्खी मारने वाली दवा का सेवन कर लिया। थोड़ी देर बाद उसकी तबीयत बिगडऩे पर घरवालों को इसका पता चला। उन्होंने छात्रा को जिला अस्पताल में भर्ती कराया है।

बोर्ड परीक्षा परिणामों में दुर्गम स्कूलों के छात्र चमके

देहरादून। उत्तराखंड बोर्ड के हाईस्कूल व इंटरमीडिएट परीक्षा परिणाम में दुर्गम स्कूलों के छात्र चमके हैं, जबकि सुगम के स्कूल फिसड्डी साबित हुए। संसाधन और शिक्षकों की भारी फौज के बावजूद मैदानी जिले रिजल्ट में कुछ खास कमाल नहीं दिखा पाए हैं। पहाड़ी जनपद इनके मुकाबले कई बेहतर स्थिति में दिखाई पड़ते हैं। मैदानी जनपदों में सरप्लस शिक्षक और तमाम संसाधनों के बावजूद परिणाम निराश करने वाला है।
 

खासतौर से देहरादून, ऊधमसिंहनगर व हरिद्वार की बात करें तो तमाम शिक्षक यहां स्थानांतरण के लिए जी जान लगाए रहते हैं। लेकिन इनका रिजल्ट उस मुताबिक दिखाई नहीं दिया। बल्कि अल्मोड़ा, बागेश्वर, पिथौरागढ़, टिहरी, चमोली व उत्तरकाशी आदि जिले कई ज्यादा बेहतर स्थिति में दिखाई पड़ते हैं। खराब परीक्षा परिणाम ने इन जिलों के स्कूलों में तैनात शिक्षक ही नहीं बल्कि शिक्षा महकमे को भी कठघरे में खड़ा कर दिया है। विभाग की फौज सालभर दून में डटी रहती है, लेकिन दून का भी प्रदर्शन लचर रहा। सुगम में तैनाती के लिए यहां एक-एक स्कूल में कई-कई दावेदार हैं। लेकिन इसके बावजूद रिजल्ट में सुधार नहीं दिख रहा। परीक्षा में छात्र-छात्राओं के पास प्रतिशत पर आकलन किया जाए तो टॉप थ्री में एकतरफा पहाड़ी जनपदों का वर्चस्व है। जबकि दून, हरिद्वार व ऊधमसिंहनगर अंतिम पायदान पर खड़े हैं।

पेयजल स्रोतो के सर्वे व मैपिंग कार्य को तेजी से करने के निर्देश : सीएम

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मंगलवार को सचिवालय में कैबिनेट मंत्री प्रकाश पंत के साथ उनके विभागों पेयजल एवं स्वच्छता तथा गन्ना विकास विभाग की समीक्षा की। मुख्यमंत्री ने ग्रीष्मकाल के दौरान पेयजल की कमी वाले क्षेत्रों में विभाग द्वारा की जा रही वैकल्पिक व्यवस्था की जानकारी ली। बताया गया कि इस वर्ष कुल 316 बस्तियों में पेयजल की समस्या आई है। जिसमें 151 टैंकरो से पेयजल आपूर्ति की जा रही है। जबकि गत वर्ष इसी समय में 474 बस्तियों में समस्या आई थी, जिनके लिए 191 टैंकरों का उपयोग किया गया था। मुख्यमंत्री ने देहरादून सहित प्रदेश के विभिन्न भागों में घटते पेयजल स्रोतों और भू-जल स्तर पर चिंता व्यक्त की।

मुख्यमंत्री ने प्रदेश में सभी पेयजल स्रोतो के नये सर्वे और मैपिंग के कार्य को तेजी से करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि स्वच्छता समितियों, मंगल दलों और स्कूली छात्र-छात्राओं को भी जल स्रोतो की अवस्था व देख-रेख के बारे में जागरूक किया जाए। उन्होंने छोटे-छोटे जलाशयों को बनाकर ग्राउण्ड वॉटर रिचार्ज और पेयजल आपूर्ति करने हेतु ठोस कार्ययोजना बनाने के निर्देश भी दिए। उन्होंने कहा कि भू-जल स्रोतो के सर्वे के लिए रिमोट सेंसिंग तकनीकि की भी मदद ली जा सकती है। मुख्यमंत्री ने पेयजल की उपलब्ध के साथ-साथ पेयजल की गुणवत्ता पर भी ध्यान देने के निर्देश दिए। उन्होंने जल संस्थान को पानी की टंकियो की नियमित सफाई कराने के निर्देश दिए। उन्होंने जल संस्थान को मीटर लगाने का काम भी तेज करने को कहा जिससे लोगों में जल के अपव्यय की प्रवृत्ति पर रोक लगे। 

बैठक में बताया गया कि प्रदेश के कुल 92 नगरो में 26 में सीवर की व्यवस्था की गई है। सभी नगरो में सीवरेज प्रणाली और सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट लगाने के लिए 4229 करोड़ रूपये की आवश्यकता है। प्रदेश के 21 नगरो में 135 एलपीसीडी(लीटर परकैपिटा डे), 39 नगरो में 70 से 135 एलपीसीडी, 20 नगरो में 40 से 70 एलपीसीडी और 12 नगरो में 40 एलपीसीडी से कम की दर से पेयजल उपलब्ध कराया जा रहा है। कुल ग्रामीण 39209 बसावटों में 21776 बसावटों में पूर्ण रूप से जलापूर्ति हो रही है और 17433 बसावटों में आंशिक रूप से पेयजल आपूर्ति हो रही है। 3042 बस्तियों के लिए विभिन्न कार्यक्रमों में योजनाएं स्वीकृत है। शेष 14391 बस्तियों में नई योजनाएं शुरू करने के लिए 3402 करोड़ रूपये की जरूरत पडेगी। चारधाम यात्रा मार्ग में पेयजल की सभी पोस्ट चालू कर दी गई है। केदारनाथ धाम में 72 जल कनैक्शन दिये जा चुके है।

  गन्ना विकास विभाग की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री ने सरकारी चीनी मिलों के बढ़ते घाटे पर चिंता व्यक्त करते हुए उन्हें घाटे से उबारने और आत्मनिर्भर बनाने की आवश्यकता पर बल दिया। किसानो के बकाया गन्ना मूल्य भुगतान के विषय पर मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को वित्त विभाग के साथ बैठक कर रिपोर्ट देने के निर्देश दिए। बैठक में बताया गया कि नादेही और बाजपुर चीनी मिलों के आधुनिकीकरण की कार्यवाही कर दी गई है और इन मिलों में को-पॉवर जनरेशन के लिए यूजेवीएनएल द्वारा अनुबंध भी किया जा चुका है। बाजपुर में 22 मेगावाट एवं नादेही में 16 मेगावाट की योजना प्रस्तावित है।

विगत पैराई सत्र 2016-17 में राज्य में गन्ना का कुल क्षेत्र फल 84956 हेक्टेयर रहा। जिसे इस वर्ष एक लाख हेक्टेयर रखे जाने का लक्ष्य रखा गया है। राज्य के लगभग 1$74 लाख गन्ना किसान 14 सहकारी समितियों एवं एक चीनी मिल समिति के द्वारा राज्य की कुल 8 चीनी मिलों को गन्ने की आपूर्ति करती है। वर्ष 2016-17 में 350$60 लाख कुन्तल गन्ना पैराई में प्रयुक्त हुआ और 34$56 लाख चीनी का उत्पादन हुआ। बैठक में सचिव पेयजल अरविंद सिंह ह्यांकी, सचिव मुख्यमंत्री राधिका झा, अपर सचिव डॉ$राघव लांगर, अपर सचिव गन्ना श्री प्रदीप रावत सहित अन्य विभागीय अधिकारी उपस्थित रहे।

सीएम ने किया उत्तरांचल प्रेस क्लब के बहुउद्देशीय भवन का शिलान्यास

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने हिंदी पत्रकारिता दिवस के मौके पर आज उत्तरांचल प्रेस क्लब के बहुद्देशीय भवन का शिलान्यास किया। उन्होंने निर्माण कार्य के लिए एक करोड़ रूपये देने की घोषणा की। साथ ही उत्तराखंड राज्य आंदोलन में सक्रिय भूमिका निभाने वाले पत्रकारों को चिह्नि आंदोलनकारी का दर्जा देने का भी ऐलान किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि जनता अखबार में छपे हर समाचार को सच मानती है और भरोसा करती है। इसलिए पत्रकारों को चाहिए कि वह जो भी समाचार प्रकाशित करें उसमें उतनी सच्चाई होनी चाहिए, जितना भरोसा जनता अखबार पर करती है।
 

उत्तरांचल प्रेस क्लब की ओर से पत्रकारिता दिवस के मौके पर पत्रकारिता के क्षेत्र में लंबे समय से योगदान देने वाले वरिष्ठ पत्रकारों को सम्मानित भी किया गया। सुबह मुख्यमंत्री ने क्लब परिसर में आचार्य सुभाष जोशी के मंत्रोच्चार के बीच विधिवत पूजा-अर्चना के साथ नए भवन का शिलान्यास किया। नए भवन में क्लब कार्यालय, अतिथि गृह, बड़ी लाइब्रेरी, कांफ्रेंस रूम के साथ ही पहले से अधिक दर्शक क्षमता के बहुद्देश्यीय हॉल का निर्माण प्रस्तावित है। शिलान्यास के पश्चात क्लब के डॉ$ पीतांबर दत्त बड़थ्वाल सभागार में उपस्थित पत्रकारोंं को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने क्लब के बहुद्देशीय भवन के निर्माण के लिए एक करोड़ रूपये देने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि राजधानी के इस प्रेस क्लब भवन को सभी सुविधाओं से लैस बनाने में धन की कमी आड़े नहीं आने दी जाएगी। उत्तरांचल प्रेस क्लब कार्यकारिणी और देहरादून के मेयर/विधायक विनोद चमोली की मांग पर मुख्यमंत्री ने यह भी घोषणा की कि राज्य आंदोलन में सक्रिय तौर पर भागीदारी निभाने वाले उत्तराखंड के पत्रकारों को चिह्नित आंदोलनकारी का दर्जा दिया जाएगा। मुख्यमं़त्री ने कहा कि उत्तराखंड आंदोलन में पत्रकारों का अहम योगदान रहा है। पत्रकारों ने अपनी लेखनी के माध्यम से जनजागरण कर अलग राज्य के निर्माण में अहम भूमिका निभाई है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि क्यों कि वह खुद एक पत्रकार रहे है और वह पत्रकारों की समस्याओं से भली भांति परिचित हैं। उन्होंने कहा कि उनके स्तर से जो भी बन पायेगा वह पत्रकारों के लिए करेंगें। कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि वरिष्ठ पत्रकार गिरीश गुरूरानी ने पत्रकार और पत्रिकारिता को समाज का पथ प्रदर्शक बताया। उन्होंने कहा कि जो कस्बाई पत्रकार है और स्टींगर है उनकी सामाजिक सुरक्षा के लिए सरकार को फिक्रमंद होना चाहिए। उन्होंने कहा कि आज के दौर में पत्रकार के भेष में जो निजी स्वार्थों की पूर्ति कर रहे हैं और जो ईमानदारी के साथ पत्रकारिता कर रहे हैं, सरकार को उनका भी चिन्हिकरण कर भेद करना चाहिए। इससे पूर्व कार्यशाला में बतौर विशिष्ट अतिथि महापौर और धर्मपुर के विधायक विनोद चमोली, राजपुर के विधायक खजानदास, राष्ट्रीय सहारा के स्थानीय संपादक जितेंद्र नेगी, मुख्य सचिव एम$ रामास्वामी, पुलिस महानिदेशक एमए गणपति और क्लब अध्यक्ष नवीन थलेड़ी ने दीप प्रज्जवल्लित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। कार्यक्रम की शुरूआत भातखंडे संगीत महाविद्यालय के छात्र-छात्राओं ने सरस्वती वंदना से की।

समारोह में मुख्यमंत्री ने वरिष्ठ पत्रकार जगमोहन सेठी, चारूचंद्र चंदोला, सोमवारी लाल उनियाल, क्लब के संस्थापक अध्यक्ष डॉ$ देवेंद्र भसीन, वरिष्ठ पत्रकार डीएस कुंवर, रमेश प्रसाद पुरी, आईपी उनियाल, एलएम जखवाल को पत्रकारिता के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान के लिए प्रेस क्लब की ओर से शॉल और स्मृति चिह्न भेंट कर सम्मानित किया। इसके साथ ही अपर निदेशक सूचना अनिल चंदोला और कांगे्रस के पूर्व विधायक राजकुमार को क्लब के लिए दिए गए विशेष योगदान और स्मारिका प्रकाशन में महत्वपूर्ण योगदान के लिए सुबोध भट्ट को भी सम्मानित किया गया।

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए क्लब अध्यक्ष नवीन थलेड़ी ने सभी का आभार व्यक्त किया। उन्होंने क्लब की ओर से मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को स्मृति चिह्न और शाल भेंट किया। क्लब के वरिष्ठ उपाध्यक्ष एल$एम$ जखवाल, कनिष्ठ उपाध्यक्ष राजेश बड़थ्वाल, कोषाध्यक्ष प्रदीप गुलेरिया, संयुक्त मंत्री संजीव कंडवाल व प्रवीन बहुगुणा, सम्पे्रक्षक रश्मि खत्री के साथ ही कार्यकारिणी सदस्य अनूप गैरोला, चेतन गुरूंग, देवेन्द्र नेगी, प्रवीण डंडरियाल, मंगेश कुमार, वीरेन्द्र दत्त गैरोला, सुभाष गुन्ता, गीता मिश्रा ने अतिथियों को बुके देकर स्वागत किया। संचालन महामंत्री भूपेंद्र कंडारी ने किया। कार्यक्रम में प्रेस क्लब कार्यकारिणी के साथ ही वरिष्ठ पत्रकार विकास धूलिया, पूरन बिष्ट, विजेन्द्र रावत, दर्शन सिंह रावत, दिनेश शास्त्री, संजय घिल्डियाल, रविंद्र बड़थ्वाल, रमेश कुडियाल, रविंद्रनाथ कौशिक, देवेंद्र सती, जितेंद्र अंथवाल, विपिन बनियाल, अनुपम त्रिवेदी, दीप जोशी, चंद्रशेखर बुड़ाकोटी, वीरेंद्र डंगवाल पार्थ, आशीष उनियाल, राजीव उनियाल, राकेश शर्मा, केएस बिष्ट, मोहम्मद खालिद, दिलीप राठौर, कैलाश जोशी, गिरिधर शर्मा, अभिषेक मिश्रा, समेत काफी संख्या में पत्रकार और गणमान्य व्यक्तियों में मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार रमेश भट्ट, उप निदेशक सूचना के$एस$ चौहान, डॉ0 अतुल शर्मा, डॉ0 सुशील उपाध्याय, योगम्बर बड़थ्वाल आदि मौजूद रहे।

उत्तराखंड बोर्ड में बेटियों ने लगातार सातवें साल लहराया परचम

देहरादून।  लगातार बदलती सोच और खुद को साबित करती बेटियों के आगे समाज में लड़कियों की शिक्षा पर असर दिखने लगा है। स्कूलों से कॉलेजों तक लड़कियां अपना दबदबा कायम कर रही हैं। यही दबदबा उत्तराखंड बोर्ड के परीक्षा परिणाम में भी दिखाई दिया। लड़कियों ने हर बार की तहत इस बार भी रिजल्ट में कामयाबी के झंडे गाड़े हैं। हाईस्कूल व इंटर के परिणाम में वह लडक़ों से कई आगे हैं।

लगातार कामयाबी के झंडे गाड़ रही लड़कियों का करिश्मा उत्तराखंड बोर्ड में भी बरकरार रहा है। हाईस्कूल-इंटर के रिजल्ट में लड़कियां लडक़ों पर भारी पड़ी हैं। इंटर में लड़कियों का पास प्रतिशत 82.07 है, जबकि लडक़ों का 75.56 प्रतिशत। हाईस्कूल में 78.51 छात्राएं जबकि 68.76 छात्र उत्तीर्ण हुए हैं। इस स्थिति में यह कहना भी गलत नहीं होगा कि पास प्रतिशत की कसौटी पर भी संतुलन कायम कर उन्होंने विभाग की नाक भी बचाई है। मसलन दसवीं में लडक़ों का पास प्रतिशत महज 68.76 है। लड़कियों के पास प्रतिशत के बूते ही औसत में सुधार दिखा है। यही स्थिति इंटर की भी है।
हाईस्कूल
पास प्रतिशत
जनपद---------छात्र--------छात्राएं
हरिद्वार-------65----------75.21
देहरादून--------63.70-----81.06
उत्तरकाशी-----64.46----75.76
टिहरी----------66.29-----73.63
पौड़ी-----------76.03-----82.90
चमोली--------71.74-------78.56
रुद्रप्रयाग------72.45-------85.59
पिथौरागढ़----76.42-------83.64
चंपावत-------73.32--------81.15
अल्मोड़ा------61.93--------75.85
बागेश्वर------77.61---------79.26
नैनीताल-----65.27----------81.69
ऊधमसिंहनगर-72.22-------76.96
इंटर
पास प्रतिशत
जनपद--------छात्र---------छात्राएं
हरिद्वार-------64.56--------80.38
देहरादून--------73.44--------80.19
उत्तरकाशी-----71.65--------71.90
टिहरी गढ़वाल---73.01-----76.07
पौड़ी गढ़वाल----78.85------81.66
चमोली---------80.70--------89.37
रुद्रप्रयाग-------87.94--------85.74
पिथौरागढ़------80.19--------85.45
चंपावत--------83.10--------88.77
अल्मोड़ा-------74.95--------82.51
बागेश्वर--------89.49--------86
नैनीताल-------81.39-------89.03
ऊधमसिंहनगर----74.67---80.65
लगातार आगे रहीं छात्राएं
हाईस्कूल
वर्ष--------बालक----बालिका
2011--------62.55---74.78
2012-------64.97----76.10
2013-------66.68----76.66
2014-------61.53----73.66
2015-------65.08----76.49
2016-------70.48----76.54
इंटर
वर्ष-----बालक--------बालिका
2011------71.52-------80.95
2012-----73.84--------83.44
2013-----75.61--------84.36
2014-----63.27--------77.64
2015-----70.47--------78.81
2016-----73.55--------83.14

संदिग्ध परिस्थितियों में विवाहिता की मौत

हरिद्वार। ज्वालापुर कोतवाली क्षेत्र निवासी एक विवाहिता की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई है। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भेज दिया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार तपोवन नगर ज्वालापुर निवासी संगीता (28) पत्नी विपिन गुप्ता ने सोमवार की दोपहर जहरीला पदार्थ निगल लिया। परिजनों ने इसका पता विवाहिता के मुंह से निकलती झाग को देखकर लगा।

आनन-फानन में परिजनों ने विवाहिता को ज्वालापुर के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया। देर रात विवाहिता की उपचार के दौरान मौत हो गई। मामले की जानकारी अस्पताल ने पुलिस को दी। सूचना मिलते ही उपनिरीक्षक गजेंद्र कुमार मौके पर पहुंच गए। विवाहिता के शव को जिला अस्पताल में पोस्टमार्टम के लिए भेजा है। ज्वालापुर कोतवाली निरीक्षक अमरजीत सिंह ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मौत की असली वजह पता चल पाएगी।
 

हरिद्वार के होटल में हुआ किशोरी से दुष्कर्म

हरिद्वार। दुष्कर्म के एक मामले में होटल की शिनाख्त करने के लिए महाराष्ट्र पुलिस ने हरिद्वार में डेरा डाला हुआ है। मंगलवार को पुलिस ने कई जगह होटलों में पहुंचकर जानकारी जुटाई। पुलिस के साथ पीडि़त किशोरी भी साथ आई है। बीते 16 अप्रैल को महाराष्ट्र के नया गांव थानाक्षेत्र से किशोरी का अपहरण कर एक युवक फरार हो गया था। पुलिस ने आरोपी की कॉल लोकेशन के आधार पर बीते दिनों आरोपी को महाराष्ट्र से ही गिरफ्तार किया है। पूछताछ में सामने आया है कि किशोरी को अपहरण कर हरिद्वार के एक होटल में रखा गया था।

यहां किशोरी से दुष्कर्म भी किया गया। पुलिस आरोपी को जेल भेजने के बाद किशोरी को लेकर हरिद्वार पहुंची है। पुलिस होटल की शिनाख्त कर रही है, जहां किशोरी से दुष्कर्म किया गया है। मंगलवार को महाराष्ट्र पुलिस ने नगर कोतवाली पुलिस की मदद से श्रवणनाथ नगर, रेलवे स्टेशन, बस अड्डे, सप्तऋषि, भोपतवाला, हरकी पैड़ी सहित आसपास के कई होटलों में जांच पड़ताल की । लेकिन किशोरी अभी होटल को पहचान नहीं पा रही है। महाराष्ट्र पुलिस ने हरिद्वार में ही डेरा डाला हुआ है। नगर कोतवाली निरीक्षक अनिल जोशी ने बताया कि महाराष्ट्र पुलिस हरिद्वार में रूकी हुई है। होटल की तलाश की जा रही है।

इंटरनेट की स्लो स्पीड ने बढ़ाया छात्र-छात्राओं का इंतजार

हरिद्वार। उत्तराखंड बोर्ड की ओर से मंगलवार को हाईस्कूल और इंटर का रिजल्ट घोषित होने के बाद इंटरनेट की स्लो स्पीड ने छात्र-छात्राओं को खासा परेशान किया। बहादराबाद क्षेत्र में नेट की स्लो स्पीड के चलते छात्र-छात्राओं को रिजल्ट जानने के लिए काफी देर इंतजार करना पड़ा।मंगलवार सुबह 11 बजते ही बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर रिजल्ट अपलोड कर दिया गया था।

ग्रामीण क्षेत्रों में रिजल्ट जानने के लिए छात्र-छात्रायें साइबर कैफे पर पहुंचे। लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में कनेक्टिविटी न होने के कारण छात्र- छात्राओं को परीक्षा परिणाम जानने के लिए लंबा इंतजार करना पड़ा। कई अभिभावकों ने अपने बच्चों का रिजल्ट जानने के लिए क्षेत्र से बाहर रहने वाले रिश्तेदारों से संपर्क साधा।

पतंजलि के 40प्रतिशत प्रोक्डट्स लैब टेस्ट में फेल

हरिद्वार। योग गुरु बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि के करीब 40 प्रतिशत प्रोडक्ट हरिद्वार की एक लैब में क्वालिटी टेस्ट में फेल हो गए हैं। आरटीआई के अनुसार 2013 से 2016 के बीच 82 सैंपल लिए गए थे, जिसमें से 32 उत्पाद की क्वालिटी मानकों पर खरी नहीं उतरी है। इसमें पतंजलि आंवला दिव्य जूस और शिवलिंगी बीज भी शामिल है। आपको बता दें कि पिछले महीने सेना की कैंटीन ने भी पतंजलि के आंवला जूस पर बैन लगा दिया था, क्योंकि यह पश्चिम बंगाल की पब्लिक हेल्थ लैब की जांच में फेल पाया गया था। उत्तराखंड की स्टेट गर्वनमेंट लैब रिपोर्ट के मुताबिक, आंवला जूस की वैल्यू तय मानक से नीचे पाई गई वैल्यू सात से नीचे होने पर एसिडिटी और अन्य मेडिकल परेशानियां हो सकती हैं।

वहीं आरटीआई खुलासे के अनुसार शिवलिंगी बीज में 31.68 फीसदी विदेशी तत्व पाए गए हैं। रामदेव के सहयोगी और पतंजलि के ष्टश्वह्र आचार्य बालकृष्ण ने लैब की रिपोर्ट को गलत बताया है और कहा कि यह पतंजलि ब्रांड की छवि को धूमिल करने का प्रयास है। उन्होंने कहा कि शिवलिंगी बीज प्राकृतिक है, उसमें हम कैसे मिलावट कर सकते हैं?

पतंजलि उत्पादों के अलावा आर्युवेदिक दवाओं के 18 नमूनों जैसे कि अविपटट्टिका चूर्ण, तलसदाय चूर्ण, पुष्नलुगा चिकना, लवन भास्कर चूर्ण, योगराज गुग्गुलु, लक्शा गग्गुलू भी क्वालिटी मानकों पर कमजोर पाए गए हैं। पिछले कुछ सालों में उत्तराखंड आर्युवेद उत्पादों के प्रमुख केंद्र के रूप में उभरा है। हरिद्वार और ऋषिकेश में 1,000 से ज्यादा डीलर, निर्माता और आर्युवेद दवाओं के आपूर्तिकर्ता हैं।

निर्माताओं में से एक, माइनर फॉरेस्ट प्रोडक्शन प्रोसेसिंग एंड रिसर्च सेंटर (एमएफपी-पीआरसी) ने कहा कि दवाओं को उत्तराखंड आयुष विंग की मंजूरी के बाद ही आपूर्ति की गई थी। आयुष मंत्री हरक सिंह रावत ने कहा कि उनका विभाग उत्पाद की गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए अधिक नियमित परीक्षण करने की प्रक्रिया में है। उन्होंने कहा, हमारे पास नमूनों का परीक्षण करने के लिए हरिद्वार में एक प्रयोगशाला है लेकिन इसमें आवश्यक कर्मचारियों की कमी है। हमने पांच नए केमिस्ट्स नियुक्त किए हैं और भर्ती की प्रक्रिया में हैं।

तंबाकू धीमा जहर है, इससे बचना होगा

पिथौरागढ़। तंबाकू धीमा जहर है, इससे बचना होगा। तंबाकू दिवस की पूर्व संध्या पर हुई गोष्ठी में यह बात वक्ताओं ने कही।उन्होंने कहा कि सभी को इस जहर से बचना होगा। मंगलवार को भारती सदन में हुई गोष्ठी में डॉ तारा सिंह ने कहा कि भारत में 40 लाख से अधिक लोग कैंसर से पीडित हैं। उन्होंने कहा कि इसमें तीस प्रतिशत लोग तंबाकू की आदतों के कारण इस रोग की चपेट में आए हैं।

सिंह ने महिलाओं से भी इस बुराई के खिलाफ आगे आने को कहा। देवकी कोरंगा ने कहा कि वे तंबाकू के खिलाफ महिलाओं को जागरूक करेंगी। कवि ललित शौर्य ने कहा तंबाकू धीमा जहर है। महिलाओं को इससे परिवार को बचाने के लिए प्रयास करने होंगे। इस दौरान जानकी खड़ायत, अदिति उप्रेती,चित्रा बिष्ट, सोनू अकोटी, नीतू सिंह, मेघा पंत, भावना धामी, जसोदा देवी, श्रेया कापड़ी, किरनण सोराड़ी,भागीरथी सिंह , सुरेश चन्द्र सती, चंचल सिंह, राजीव, प्रियांशी राठौर, ईश्वर सिंह सहित कई लोग शामिल रहे।

रोडवेज बस की चेपट में बुजुर्ग की मौत

रूडक़ी। नेशनल हाईवे पर नारसन चेकपोस्ट के पास रोडवेज बस की चपेट में आने से बुजुर्ग की दर्दनाक मौत हो गई। बुजुर्ग अपने परिवार वालों के साथ चारधाम यात्रा पर आ रहा था। पुलिस के अनुसार सोमवार देररात नारसन चेक पोस्ट के पास एक बस में सवार यात्री लघु शंका के लिए उतरे। बताया जाता है कि इसी बीच मेरठ की ओर से तेजगति से आई उत्तराखंड रोडवेज की बस ने एक यात्री को चपेट में ले लिया। घटना के बाद चालक बस लेकर भाग गया। पुलिस को घटना की सूचना मिलने पर मंगलौर कोतवाली गेट पर बस को रोक लिया।

घायल को उपचार के लिए सिविल अस्पताल रुडक़ी में भर्ती कराया गया। जहां चिकित्सकों ने बुजुर्ग को मृत घोषित कर दिया। कोतवाली प्रभारी जवाहर लाल ने बताया बुजुर्ग यूपी के चित्रकूट जिले के राजापुर निवासी प्रेम पुत्र बद्री था। इंस्पेक्टर ने बताया वह अपने परिजनों के साथ चार धाम यात्रा के लिए आ रहा था। बताया कि रोडवेज बस को कब्जे में ले लिया गया है। साथ ही शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। घटना को लेकर अभी तहरीर नहीं आई है।

फाटक न खोलने पर रेलवे कर्मचारी का सिर फोड़ा

रूडक़ी। खड़ंजा में रेलवे फाटक नहीं खोलने से नाराज युवकों ने फाटक की मरम्मत कर रहे रेलवे कर्मचारी पर हमला कर दिया। सूचना पर पहुंची पुलिस को देखकर युवक भाग गए। घायल रेलवे कर्मचारी ने मेडिकल कराने के बाद पुलिस को तहरीर दी है। पुलिस आरोपी युवकों की धरपकड़ की कोशिश कर रही है। खड़ंजा कुतुबपुर गांव के बीचोबीच रेलवे क्रासिंग बना हुआ है। मंगलवार को क्रासिंग में अचानक तकनीकी खराबी आ गई, जिसके चलते रेलवे के मैकेनिक राजेश कुमार उसकी मरम्मत में लगे हुए थे।

मरम्मत के चलते काफी देर तक फाटक नहीं खुला तो वहां खड़े गांव के लडक़ों ने मरम्मत कर रहे कर्मचारी को गालियां देनी शुरू कर दी। कर्मचारी ने ऐतराज किया तो उन्होंने बैल्ट निकालकर मैकेनिक पर हमला कर दिया। मारपीट में बैल्ट की चोट से मैकेनिक राजेश का सिर फट गया और वह बेहोश होकर गिर पड़ा। इसी दौरान दूसरे कर्मचारी की सूचना पर लक्सर पुलिस मौके पर पहुंची तो आरोपी युवक फरार हो गए। इसके बाद पुलिस घायल कर्मचारी को लेकर लक्सर के सरकारी अस्पताल आई तथा उसका इलाज कराया। कर्मचारी ने मेडिकल कराने के बाद पुलिस को तहरीर दी है। कोतवाल नवीनचंद्र सेमवाल ने बताया कि आरोपी युवकों की धरपकड़ के लिए दबिश दी जा रही है।
 

लक्सर के निशांत व सोनाली इंटर की वरीयता सूची में

रूडक़ी। इंटर की बोर्ड परीक्षा में इस बार भी लक्सर के दो बच्चों ने अपने परिवार और क्षेत्र का नाम रोशन किया है। इनमें से एक ने पूरे प्रदेश की वरीयता सूची में बीसवां तो दूसरे ने 25वां स्थान प्राप्त किया है। लक्सर के रायसी निवासी डॉ. कुंवरपाल सिंह और उनकी पत्नी प्रभा देवी रायसी में एक डिग्री कॉलेज चलाते हैं। उनके छोटे बेटे निशांत ने इस साल रायसी के ही हर्ष विद्या मंदिर इंटर कॉलेज से इंटर की परीक्षा दी थी। परीक्षा में निशांत को 500 में से 452 अंक (90.4 प्रतिशत) मिले हैं। प्रदेश की रैंकिग में निशांत का स्थान बीसवां आया है।

निशांत का कहना है कि वह बीटेक करके इंजीनियर बनना चाहता है। वहीं लक्सर के मोहल्ला न्यू शिवपुरी निवासी प्रमोद कुमार और सुषमा देवी की बेटी सोनाली ने प्रदेश की वरीयता सूची में 25 वां स्थान हासिल किया। केवी इंटर कॉलेज की छात्रा सोनाली को 500 में से 447 (89.4 प्रतिशत) अंक मिले हैं। उसके पिता रेलवे स्टेशन पर चाय पकौड़ी बेचते हैं जबकि मां गृहिणी हैं। सोनाली की छोटी बहन हिमांशी ने इस साल हाईस्कूल की परीक्षा प्रथम श्रेणी से पास की है। सोनाली स्नातक करने के बाद बैंकिंग सेवा में जाने की इच्छा रखती है। अपनी सफलता का श्रेय परिवार और गुरुजनों को देती है।

भाजपा के दर्जनों बडे नेताओं के रडार पर बहुगुणा कैम्प

देहरादून। उत्तराखण्ड में विधानसभा चुनाव से पूर्व कांग्रेस से दस पूर्व विधायकों ने भाजपा का दामन पकडने के लिए जब कदम आगे बढाये थे तो प्रदेश के आधा दर्जन बडे नेताओं ने इसका विरोध किया था लेकिन भाजपा हाईकमान ने इन नेताओं को आईना दिखाते हुए कांग्रेस से आये बहुगुणा कैम्प के सभी पूर्व विधायकों को भाजपा में शामिल कराया था। विधानसभा चुनाव में मात्र एक पूर्व विधायक को छोडकर सभी विधायक चुनाव जीते और भाजपा हाईकमान ने इनका पार्टी में बडा कद करते हुए तीन विधायकों को कैबिनेट मंत्री व एक विधायक को राज्यमंत्री का दर्जा दिलाया।

भाजपा सरकार में बहुगुणा कैम्प के विधायकों के मंत्री बनने से पार्टी के चंद दिग्गज नेताओं में खलबली मची रही लेकिन वह इसका विरोध नहंी कर पाये। वहीं चंद समय पूर्व जैसे ही कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत ने उत्तराखण्ड की ब्यूरोक्रेसी पर हमला कर सरकार को कटघरे में खडा किया तब से भाजपा के चंद दिग्गजों की रडार पर बहुगुणा कैम्प आ रखा है? चर्चाएं यहां तक हैं कि भाजपा के एक दिग्गज नेता के इशारे पर पार्टी के दो दर्जन नेताओं ने राजपुर में एक अज्ञात स्थान पर बैठक कर कांग्रेस से भाजपा में आकर मंत्री बनने वालों के खिलाफ मोर्चा खोलने की रणनीति बनाई है? हालांकि यह नेता अपने मिशन में कामयाब हो पायेंगे ऐसा नहीं दिख रहा क्योंकि बहुगुणा कैम्प पर भाजपा हाईकमान का भी आर्शीवाद है ऐसे में चंद भाजपा नेताओं की बगावत की रणनीति अंजाम तक पहुंच पायेगी यह असम्भव नजर आ रहा है।

उल्लेखनीय है कि पूर्व सरकार के मुखिया हरीश रावत के खिलाफ विधानसभा के बजट सत्र में भाजपा विधायकों के साथ कांग्रेस के नौ विधायकों ने भी बगावत का झण्डा उठाकर सरकार को अस्थिर कर दिया था और उसके बाद यह मामला काफी तूल पकडा और राज्य में राष्ट्रपति शासन तक लगा था। कांग्रेस का दामन छोडकर बहुगुणा कैम्प के नौ पूर्व विधायकों ने भाजपा का दामन थाम लिया था हालांकि इन पूर्व विधायकों के भाजपा में आने से पार्टी के चंद नेताओं की नींद उड गई थी और उन्हें अपने राजनीतिक भविष्य पर भी ग्रहण लगता हुआ नजर आ रहा था। भाजपा हाईकमान ने पार्टी नेताओं को दरकिनार कर कांग्रेस से भाजपा में आये सभी पूर्व विधायकों को चुनाव मैदान में उतार दिया था। इन विधायकों को टिकट मिलने से पार्टी के अन्दर भी बडा भूचाल मचा था लेकिन सभी नेता नरेन्द्र मोदी की लहर में जीत गये लेकिन केदारनाथ की पूर्व विधायक शैलारानी रावत चुनाव हार गई थी। उत्तराखण्ड में भाजपा सरकार के आने के बाद विजय बहुगुणा कैम्प के हरक सिंह रावत, सुबोध उनियाल व कांग्रेस से नाता तोडकर आये यशपाल आर्य व रेखा आर्य को कैबिनेट व राज्यमंत्री का दर्जा दिया गया।

त्रिवेन्द्र सरकार में कांग्रेस से आये पूर्व विधायकों को मंत्री पद से नवाजे जाने का पार्टी के अन्दर कोई खुलकर विरोध नहीं कर पाया लेकिन चर्चा है कि भाजपा के चंद दिग्गज विधायकों में मंत्री न बनने का बडा रंझ है लेकिन वह अपनी पीड़ा किसी से नहीं दिखा पाये। कुछ समय पूर्व जब कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत ने सरकार को कटघरे में खडा करते हुए कहा कि राज्य में ब्यूरोक्रेसी हावी है और राज्य का निर्माण ही गलत हुआ है तो उससे सरकार में बैठे व भाजपा के दर्जनों दिग्गज नेताओं के माथे पर बल पड गये और चर्चा है कि कांग्रेस से भाजपा में आकर मंत्री पद पाने वालों के खिलाफ पार्टी के एक बडे नेता ने लगभग दो दर्जन नेताओं को पर्दे के पीछे से बगावत के लिए उकसाया है?

चर्चा यहां तक है कि चंद भाजपा नेताओं को बहुगुणा कैम्प से अब डर सताने लगा है जिसके चलते भाजपा हाईकमान को संदेश देने की कोशिश की जा रही है कि इनके कारण पार्टी के अन्दर असंतोष पनप रहा है जिससे कि एक दो मंत्रियों को हटवाकर भाजपा के चंद दिग्गजों को मंत्री पद पर आसीन किया जा सके? अब देखना है कि पर्दे के पीछे से बगावत का शुरू हुआ यह खेल क्या गुल खिलायेगा।
 

अब धनसिंह नाराज

देहरादून। उत्तराखण्ड में हरीश रावत राज में उन्हीं के नेता आरोप लगाते थे कि वे एकल नीति पर सरकार चला रहे हैं और इसकी गूंज दिल्ली तक भी गंूजती थी। अब राज्य में भाजपा की सरकार है तो त्रिवेन्द्र रावत के खिलाफ भी पार्टी के अन्दर आवाज उठनी शुरू हो गई है कि वे चंद मंत्रियों को साथ लेकर ही आगे बढ़ रहे हैं तथा चंद मंत्रियों के साथ उनका तालमेल देखने को नहीं मिल रहा है।

भाजपा में कद्दावर नेता सतपाल महाराज हैलीकाप्टर न मिलने से नाराज हुए तो उन्होंने सरकार के मुखिया को अपनी पीडा का खत लिख दिया वहीं स्वतंत्र प्रभार संभाले राज्यमंत्री को जब दिल्ली में प्रोटोकॉल नहीं मिला तो चर्चा है कि वह भी नाराज हो गये लेकिन सवाल उठता है कि अगर इन दिग्गजों की नाराजगी उत्तराखण्ड के विकास को लेकर होती तो आवाम भी उन्हें दिल में बिठा लेता लेकिन यहां नेता हैलीकॉप्टर व प्रोटोकॉल न मिलने से नाराज हो रहे हैं तो उससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि चंद नेता विकास की नहीं बल्कि अपने सम्मान की राजनीति करने में लगे हुए हैं?

उत्तराखंड में मंत्रियो का छोटी छोटी बातों पर नाराज होने का सिलसिला मानो एक के बात एक जारी हो गया है ।सतपाल महाराज ने सीएम को पत्र लिख कर चॉपर ना मिलने और कार्यक्रम स्थल तक ना पहुचाये जाने को लेकर अपनी नाराजगी जाहिर की गई है ।इसके साथ ही दिल्ली में प्रोटोकॉल मंत्री धन सिंह रावत प्रोटोकॉल ना मिलने से नाराज हो गए है

अपने आपको खाँटी संघी नेता कहने वाले नेताओं की नाराजगी अपने विधान सभा मे विकाश ना होने को लेकर नही बल्कि अपनी अपनी सुविधाओ को लेकर है ।सतपाल महाराज ने सीएम को एक पत्र लिखा है जिसमे कहा गया है कि उन्हें कार्यक्रम में दुरुणागिरी जाना था लेकिन पायलेट उन्हें चमोली छोड़ कर चले गए ।ऐसा ही उनके साथ एक हफ्ते में दो बार हो चुका है । इसके साथ ही धन सिंह रावत भी दिल्ली में नाराज होकर बैठ गए है ।इन सब को लेकर जब सीएम त्रिवेंद्र से पूछा गया कि क्यों एक के बाद एक आपके मंत्री नाराज हो रहे है तो उनका कहना था कि कोई भी मंत्री नाराज नही है और पर्यटन मंत्री सतपाल की नाराजगी है वो कहबं से नाराजगी थी ।सीएम ने साफ कह दिया है कि चॉपर की सावधनी टेकऑफ और लेंडिंग पर हम किसी पर दबाव नही डाल सकते है इस तंरह से सीएम ने पायलेट का समर्थन करते हुए अपनी बात को विराम दे दिया।

दवाई विक्रेता रहे हड़ताल पर

देहरादून। डिस्ट्रिक्ट कैमिस्टस एसोसिएशन ने दवाओं जैसे संवेदनशील विषय के लिए ई पोर्टल न सिर्फ अव्यवहारिक है अपितु उपचार के विकल्प बीमारी से भी बदत्तर है और केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के प्रस्ताव को पूरी तरह से अव्यवहारिक करार दिये जाने के खिलाफ देशव्यापी हड़ताल पर रहे और दून में भी केमिस्ट की दुकानें पूर्ण रूप से बंद रही और उन्होंने केन्द्र सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर धरना दिया।
 

डिस्ट्रिक्ट कैमिस्टस एसोसिएशन से जुडे हुए दवा विक्रेता एमकेपी न्यू रोड स्थित जैन मेडिकल शॉप में इकटठा हुए और वहां पर केन्द्र सरकार की जन विरोधी नीति के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए धरना दिया और दुकानें बंद रखी। दवाओं जैसे संवेदनशील विषय के लिए ई पोर्टल न सिर्फ अव्यवहारिक है अपितु उपचार के विकल्प बीमारी से भी बदत्तर है और केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के प्रस्ताव को पूरी तरह से अव्यवहारिक करार दिये जाने के खिलाफ देशव्यापी हड़ताल पर रहे और दून में भी केमिस्ट की दुकानें पूर्ण रूप से बंद रही और उन्होंने केन्द्र सरकार के खिलॉ प्रदर्शन कर धरना दिया। इस अवसर पर वक्ताओं ने कहा कि स्वास्थ्य मंत्रालय को इस प्रस्ताव को खारिज कर दिया गया है और दवाओं की बिक्री के नियंत्राण के लिए ई पोर्टल बनाने की बात कही गई है।

भारत में आईटी के अपर्याप्त संसाधनों को देखते हुए अधिकतर स्टॉकिस्ट, ड्रगिस्ट और केमिस्ट के लिए नियत समय पर बिक्री की जानकारी ई पोर्टल पर अपलोड करना मुश्किल और परेशान करने वाला होगा। इससे देश में दवाओं की कमी हो जायेगी। भारत में न केवल एमसीआई या स्टेट मेडिकल काउंसिल, डेंटल काउंसिल आदि के रजिस्टर्ड डाक्टर्स बल्कि एलोपैथी से इतर होम्योपैथी, आयुर्वेद और यूनानी क्षेत्रों से संंबंध रखने वाले डाक्टर्स भी एलौपैथी प्रेक्टिस में लगे है और प्रिस्क्रिप्शन देते है तो क्या ऐसे प्रिस्क्रिप्शन पर दवा नहीं दी जाये यह एक गंभीर समस्या और ऐसे प्रिस्क्रिप्शनस पर दवायें देने से मना किया जाता है तो ग्रामीण इलाकों के लोग दवाओं से वंचित रह जायेंगें और कैमिस्टस को उनके गुस्से का सामना करना पडे और ऐसी परिस्थितियां बन सकती है जिससे कानून व्यवस्था दांव पर लग जाये और इस बारे में प्रस्तावित नोटिस में विचार नहीं किया गया है। इस अवसर पर अनेक दवा विक्रेता मौजूद थे।
 

जनक्रांति विकास मोर्चा कार्यकर्ताओं का प्रदर्शन

देहरादून। जनक्रांति विकास मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने राज्य में व्याप्त भ्रष्टाचार, जनता के शोषण एवं नागरिक अधिकारों की मांग को लेकर रैली निकालकर जिलाधिकारी कार्यालय पर प्रदर्शन कर जिला प्रशासन के जरिये मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत को ज्ञापन प्रेषित करते हुए कार्यवाही किये जाने की मांग की।
मोर्चा के कार्यकर्ता केन्द्रीय अध्यक्ष अमित जैन के नेतृत्व में शहीद स्थल में इकटठा हुए और वहां पर सरकार के खिलाफ रैली निकालकर जिलाधिकारी कार्यालय में प्रदर्शन किया। इस अवसर पर वक्ताओं ने कहा कि राज्य के नागरिकों की विभिन्न समस्याओं का तत्काल प्रभाव से हल किये जाने की आवश्यकता है लेकिन अभी तक इस ओर किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं की गई है।

 राज्य निर्माण के 16 वर्षो में भ्रष्ट नेताओं एवं अधिकारियों के गठजोड ने अपने भ्रष्ट आचरण व स्वार्थपूर्ण नीति से देवभूमि की गरिमा को गिराने का कार्य करते हुए जन भावनाओं के विपरीत कार्य किया है। राज्य में निजाम बदलते रहे भ्रष्टाचार व लूट बढती रही और इन परिस्थ्ाििितयों में राष्ट्र प्रेम के जगाने, राज्य के स्वाभिमान की रक्षा करने एवं नागरिक अधिकारों के लिए संघर्ष करने हेतु मोर्चा का उदय किया गया है और जनता की समस्याओं का समय रहते हुए निदान नहीं किया गया तो इसके लिए जनांदोलन को और तेज किया जायेगा। इस अवसर पर मोर्चा के अनेक पदाधिकारी व कार्यकर्ता मौजूद थे।

जिला किसान सभा कार्यकर्ताओं का डीएम कार्यालय पर प्रदर्शन

देहरादून। उत्तराखंड किसान सभा के आव्हान पर किसान दिवस के अवसर पर जिला किसान सभा ने जिले के किसानों की समस्याओं के समाधान के लिए जिलाधिकारी कार्यालय पर प्रदर्शन करते हुए मुख्यमंत्री को ज्ञापन प्रेषित करते हुए इस ओर कार्यवाही करने की मांग की है। जिला किसान सभा से जुड़े हुए कार्यकर्ता जिलाधिकारी कार्यालय में इकटठा हुए और वहां पर उत्तराखंड किसान सभा के आव्हान पर किसान दिवस के अवसर पर जिला किसान सभा ने जिले के किसानों की समस्याओं के समाधान के लिए जिलाधिकारी कार्यालय पर प्रदर्शन करते हुए मुख्यमंत्री को ज्ञापन प्रेषित करते हुए इस ओर कार्यवाही करने की मांग की है। इस अवसर पर वक्ताओं ने कहा क जंगली जानवरों बंदर, सुअर, हाथियों से किसानों की फसलों और जानमाल की रक्षा के लिए उचित प्रबंध किये जाये व जनहानि होने पर मोटर प्रतिकर की तरह कानून बनाकर उचित मुआवजे की व्यवस्था की जाये।

सार्वजनिक वितरण प्रणाली गेहूं, चावल के बढे दाम तुरन्त वापस लिये जाये व सभी उपभोक्ताओं को सस्ते दाम पर राशन उपलब्ध कराया जाये और सरकारी ग्राम समाज वन भूमि एवं चाय बागानों में वर्षों से काबिज लोगों को मालिकाना हक दिया जाये। ग्रामीण क्षेत्र में रह रहे भूमिहीन परिवारों को आवासीय पटटे दिये जाये और वर्ष 1976 में आवंटित वर्ग तीन के पटटों का नियमितीकरण किया जाये और वन अधिकार अधिनियम के अंतर्गत जिले में रह रहे वन गुर्जरों को भूमि उपलब्ध कराई जाये तथा बरसाती नदी नालों मुख्य रूप से शिवालिक से निकलने वाले नाले जो की मलबा आने से गांव , बस्तियों से ऊ ंचे होकर प्रतिवर्ष बाढ की स्थिति पैदा कर देते है उनकी सफाई कर बाढ सुरक्षा के उपाये किये जाये और किसानों के समस्त कृषि ऋण को माफ किया जाये। मनरेगा मजदूरी को दो सौ दिन काम व तीन सौ रूपये प्रतिदिन मजदूरी दी जाये तथा रूके भुगत का नियमानुसार पन्द्रह दिन में भुगतान किया जाये। वक्ताओं ने कहा कि शुगर मिल डोईवाला पर रूके गन्ना मूल्य का तुरंत संपूर्ण भुगतान किया जाये तथा भविष्य में नियमानुसार पन्द्रह दिन में भुगतान सुनिश्चित किया जाये। इंदिरा आवास से वंचित बीपीएल सूची अनुसार सभी पात्र व्यक्तियों एवं छोटे पात्र व्यक्तियों को आवास उपलब्ध कराये जाये तथा 2013 से आवास के अधूरे भुगतान की जांच कराकर दोषी अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही की जाये।

वक्ताओं ने कहा कि समाज कल्याण विभाग द्वारा छात्रवृत्ति गौरा देवी कन्या धन योजना में रूके हुए पात्र छात्रों को तुरंत भुगतान किया जाये एवं छात्रवृत्ति योजना में गबन की उच्च स्तरीय जांच की जाये और 60 वर्ष हो चुके सभी वृद्घों को वृद्घा पेंशन दी जाये व आधार से जोडने के नाम पर रूकी पेंशन भुगतान कर विभाग की कार्यशैली में पारदर्शिता लाई जाये। इस अवसर पर अन्य वक्ताओं ने विचार रखे। इस अवसर पर किसान सभा के अनेक कार्यकर्ता मौजूद थे।

आदित्य घिल्डियाल रहे 12वी के टपर 95 प्रतिशत अंक प्राप्त किये

देहरादून। उत्तराखंड विद्यालयी शिक्षा परिषद का परिणाम घोषित हो गया। हाईस्कूल का परिणाम 73$ 67 फीसदी रहा। इसमें बालकों में 68 व बालिकाओं में 78$89 फीसद पास हुए, इसमें एमपी इंटर कलेज विजयनगर रुद्रप्रयाग की आइशा गौरी ने 98$ 40 फीसदी अंक हासिल कर प्रदेश में टप किया है और इसमें छत्राओं के 82$07 और लडक़ों का 75$ 56 फीसद रहा। दूसरे नंबर पर जसपुर के हर्षवर्धन वर्मा रहे।

मंगलवार को उत्तराखंड विद्यालयी शिक्षा परिषद के हाई स्कूल एवं इंटरमीडिएट के परिणाम घोषित कर दिया गया है। इंटरमीडिएट का परिणाम 78 फीसद रहा। इसमें हरिद्वार के श्रीकोट गंगनाली स्कूल के आदित्य घिल्डियाल ने 95 फीसद अंक हासिल कर प्रदेश में टॉप किया। दूसरे नंबर पर जसपुर के आकाशदीप बंसल ने 94 फीसद अंक हासिल किए।  इस अवसर पर हाईस्कूल में इस बार कुल 2,87,231 परीक्षार्थी पंजीत थे। जिसमें से 2,81,763 परीक्षार्थियों ने ही परीक्षा दी। इसमें हाईस्कूल के 1,53,814 में से 1,50,573 एवं इंटर में 1,33,417 परीक्षार्थी में से 1,31,190 परीक्षार्थियों ने परीक्षा दी। परीक्षा के लिए विभिन्न जिलों में 1319 परीक्षा केंद्र बनाए गए थे। 17 मार्च से इंटर व 18 मार्च से हाईस्कूल की परीक्षा हुई थी। परीक्षा के बाद 17 अपै्रल से दो मई तक 30 केंद्रों में मूल्यांकन कार्य चला। वहीं दूसरी ओर परिणाम आने पर परिणामों में इस बार भी छात्राओं ने बाजी मारी है।

गौमाता की हत्या करने पर निकाली शवयात्रा

देहरादून। विहिप , बजरंग दल गौ रक्षा दल द्वारा केरल मे यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ताओं द्वारा गौमाता की हत्या और वामपंथी संगठनों द्वारा आयोजित गौमांस की पार्टी के विरोध मे इन सभी राजनीतिक पार्टियों की शव यात्रा निकालकर प्रदर्शन किया। इसी बीच कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस भवन के बाहर पहुंचकर प्रदर्शन किया और वहां से कनक चौक पहुंचे जहां पर शवयात्रा का दाह संस्कार किया गया। कांग्रेस भवन में पुलिस का काफी बंदोबस्त किया गया था।

कनक चौक पर हिन्दूवादी संगठनों से जुड़े हुए कार्यकर्ता घंटाघर स्थित संविधान निर्माता डा$ भीम राव अंबेडकर की प्रतिमा के समक्ष विकास वर्मा के नेतृत्व में इकटठा हुए और वहां से राजनैतिक दलों की शवयात्रा निकालकर कांग्रेस भवन पहुंचे और वहां पर प्रदर्शन किया। इस अवसर पर वक्ताओं ंने कहा यह जघन्यत्य सम्पूर्ण हिन्दू समाज की आस्था पर चोट और धार्मिक भावनाओं को कुचलने वाली है और संगठन व हिन्दू समाज इसका पुरजोर विरोध करता है और दोषियो के खिलाफ फांसी या उम्र कैद की अपील केन्द्र सरकार से करते है।

वक्ताओं का कहना है कि ऐसे जघन्य अपराा करने वाले व सामाजिक वैमनस्य टकराव को बढावा देने वाले है जिससे समाज मे विघटन को बल मिलता है।  गौमाता के प्रति उनकी निष्ठा और एक अक्षम्य अपराध पर उनका समर्थन की वह भी गौ भक्त है साथ ही गौमूत्र का सामूहिक पान कर वह इसका संदेश दे यह वही कांग्रेस पार्टी है जिसका चुनाव चिन्ह गाय बछडा रहा है और आज उन्हीं के द्वारा गौ हत्या को बढावा दिया जा रहा है यह चिन्ताजनक और हिन्दू समाज मे आक्रोश को बढाने वाला है जिससे हिंसा को बल मिलता है। 

हम चाहते है महानगर कांग्रेस पार्टी की और से भी केरल मे अपने कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर स्वयं से मृत्युदंड अथवा उम्रकैद के लिये आगे आये पूरा हिन्दू समाज इस घृणितकार्य का आक्रोशित स्वर मे विरोध करते है। इस अवसर पर प्रदर्शन मे महानगर विश्व हिन्दू परिषद , बजरंग दल , दुर्गा वाहिनी, गौ रक्षा दल व सैकड़ों की संख्या मे गौ भक्तों ने भाग लिया।

शराब की नीलामी को रोके जाने को किया प्रदर्शन

देहरादून। प्रदेश सरकार द्वारा राज्य शराब ठेके नीलामी की नीति के विरोध उत्तराखंड महिला मंच के कार्यकर्ताओं ने जिलाधिकारी कार्यालय पर प्रदर्शन किया और कहा कि प्रदेश में पूर्णरूप से शराबबंदी की जानी चाहिए, इसके लिए जनांदोलन चलाया जायेगा। इस अवसर पर जिला प्रशासन के जरिये मुख्यमंत्री को ज्ञापन प्रेषित किया गया। मंच के कार्यकर्ता जिला संयोजक निर्मला बिष्ट के नेतृत्व में जिलाधिकारी कार्यालय में इकटठा हुए और वहां पर उन्होंने प्रदेश सरकार द्वारा राज्य शराब ठेके नीलामी की नीति के विरोध उत्तराखंड महिला मंच के कार्यकर्ताओं ने जिलाधिकारी कार्यालय पर प्रदर्शन किया और कहा कि प्रदेश में पूर्णरूप से शराबबंदी की जानी चाहिए, इसके लिए जनांदोलन चलाया जायेगा।

इस अवसर पर वक्ताओं ने कहा कि प्रदेश में पूर्ण रूप से शराब बंदी की जानी चाहिए, लेकिन प्रदेश की सरकार ने इस ओर किसी भी प्रकार की कोई नीति तैयार नहीं की है।  राज्य की जनता मुख्यत: महिलायें वर्षों से उत्तराखंड को नशा मुक्त बचाने के लिए लगातार संघर्षरत है और जनता के द्वारा अप्रत्याशित बहुमत दिये जाने के बाद भी वर्तमान सरकार सेवा में आई है और जनता को उम्मीद थी की प्रदेश में शराबबंदी होगी लेकिन प्रदेश की सरकार इस ओर किसी भी प्रकार का कोई निर्णय नहीं ले पाई है। प्रदेश में चिपको आंदोलन से लेकर नशा नहीं रोजगार चाहिए आंदोलन व फिर राज्य प्राप्ति आंदोलन में महिलाओं की अग्रिम भागीदारी रही है और आज भी इस पर्वतीय राज्य की महिलाओं की बड़ी पीडा शराब है लेकिन फिर भी महिलाओं भी लगातार नशे के व्यापार को बढाया जा रहा है यह चिंता का विषय है। शराब की नीलामी को तत्काल प्रभाव से रोका जाना चाहिए।

यह नीलामी ऐसे समय पर हो रही है जिस समय सुप्रीम कोर्ट का भी स्पष्ट फैसला है कि नेशनल हाईवे और स्टेट हाईवे के निकट कोई भी शराब की दुकान न खुले लेकिन इस सब के बावजूद भी प्रदेश सरकार ने तत्काल कैबिनेट बैठक बुलाकर स्टेट हाई वे को जिला मार्ग घोषित कर शराब के माफियाओं व व्यापारियों के पक्ष में अपना फैसला देते हुए शराब के खिलाफ लंबे समय से संघर्षरत महिलाओं व जनता की उपेक्षा व अनदेखी की गई, जिसे किसी भी दशा में सहन नहीं किया जायेगा। इस अवसर पर मंच के अनेक पदाधिकारी व कार्यकर्ता मौजूद थे।

शराब की 35 दुकानों की नीलामी हुई

अल्मोड़ा।  कलक्ट्रेट में जिले की कुल 44 शराब की दुकानों में से मंगलवार को 35 की नीलामी लॉटरी हो सकी। नीलामी प्रक्रिया डीएम सविन बंसल व एसएसपी पी रेणुका देवी की मौजूदगी में हुई। इस वर्ष शासन ने जिले की शराब की दुकानों के लिए 79 करोड़ का लक्ष्य तय किया था। 35 दुकानों ने 56 करोड़ नौ लाख 80 हजार का राजस्व मिलेगा। शेष नौ बची दुकानों की नीलामी बुधवार को होगी।डीएम सविन बंसल ने बताया कि नीलामी प्रक्रिया में पूरी तरह पारदर्शिता बरती गई। तीन महिलाओं के नाम भी दुकान आवंटित हुई हैं।

शेष 32 दुकानों का आवंटन पुरुषों के नाम हुआ। सभी दुकानों के लिए कुल 988 आवेदन विभाग को मिले थे। इनमें 111 आवेदन महिलाओं ने किए थे। 14 देशी-विदेशी मिश्रित शराब की दुकानों, 12 विदेशी मदिरा, 8 देशी मदिरा व एक बियर शॉप की भी नीलामी हुई।आवंटन प्रक्रिया के लिए लॉटरी निकाली गई। शेष बची नौ दुकानों की नीलामी बुधवार को होगी। आवंटन प्रक्रिया के समय एसएसपी पी रेणुका देवी, एडीएम कैलाश ङ्क्षसह टोलिया, आबकारी अधिकारी विवेक सोनकिया, वरिष्ठ कोषाधिकारी विक्रम ङ्क्षसह जंतवाल सहित विभागीय अधिकारी मौजूद रहे।

12 दुकानों से 28 करोड़ राजस्व मिलेगा

बागेश्वर। जिला कार्यालय सभागार में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच जिले की 12 शराब की दुकानों की लाटरी पद्धति के जरिए नीलामी हुई। नीलामी प्रक्रिया शांतिपूर्वक संपन्न होने पर प्रशासन ने राहत की सांस ली है। मंगलवार को जिले की 6 विदेशी, 5 देशी तथा 1 मिश्रित मदिरा के दुकानों की लाटरी पद्धति से नीलामी हुई। जिले की 12 मदिरा की दुकानों से 28 करोड़ का राजस्व निर्धारित किया गया है। इस बार पिछले बार की उपेक्षा 4 करोड़ अधिक का राजस्व प्राप्त होगा। पिछले बार राजस्व लक्ष्य 24 करोड़ था। जिले में शराब की 12 दुकानों के लिए कुल 503 आवेदन पत्र प्राप्त हुए थे। जिसमें 83 महिला और 420 पुरुषों ने आवेदन किया था। तीन देशी शराब की दुकानों के लिए एक-एक आवेदन पत्र प्राप्त हुए। बागेश्वर की विदेशी दुकान के लिए कुल 75 आवेदन पत्र प्राप्त हुए यहां 13 महिलाओं ने आवेदन किया था।

गरुड़ विदेशी मदिरा की दुकान के लिए कुल 21 आवेदन पत्र प्राप्त हुए यहां 7 महिलाओं ने आवेदन किया। इस अवसर पर एसपी मुकेश कुमार, एसडीएम बागेश्वर श्याम ङ्क्षसह राणा, एसडीएम कपकोट रविन्द्र ङ्क्षसह, पुलिस उपाधीक्षक कपकोट महेश जोशी, जिला आबकारी अधिकारी प्रशांत कुमार, प्रशासनिक अधिकारी दिनेश खेतवाल आदि मौजूद थे। शराब के विरोध में आंदोलन की आशंका को देखते हुए नीलामी प्रक्रिया को लेकर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई थी। कलक्ट्रेट सभागार के चारों ओर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए थे। नीलामी के दौरान किसी प्रकार की कोई गड़बड़ी नही होने से प्रशासन की सांस ली।
 

सडक़ से संसद तक उठाएं लोगों की पीड़ा

चम्पावत । कांग्रेस के नवनिर्वाचित प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह मंगलवार को लोहाघाट पहुंचे। यहां पहुंचने पर कार्यकर्ताओं ने उनका गर्मजोशी के साथ स्वागत किया। उन्होंने कार्यकर्ताओं से सडक़ से लेकर संसद तक लोगों की पीड़ा उठाने का आह्वान किया। एक पैलेस हाल में आयोजित कार्यक्रम में प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि राज्य में भाजपा की सरकार बने दो महीने से अधिक का समय हो गया है, लेकिन विकास का पहिया एक इंच भी नहीं घूम पाया है। ऐसा लग ही नहीं रहा है कि राज्य में कोई सरकार भी बनी है। लोग अब खुद को ठगा महसूस करने लगे हैं।

इस नाकामी को हर कांग्रेस कार्यकर्ता घर-घर ले जाएंगे। धारचूला के विधायक हरीश धामी ने कहा कि अन्याय के खिलाफ उनकी लड़ाई जारी रहेगी। अध्यक्षता करते हुए जिलाध्यक्ष ओंकार सिंह धौनी ने सभी कार्यकर्ताओं का स्वागत किया। पार्टी को और अधिक मजबूत बनाने पर बल दिया। संचालन करते हुए कविराज मौनी ने सभी के प्रति आभार जताया। सभा को जिला पंचायत अध्यक्ष खुशाल सिंह अधिकारी, भगीरथ भट्ट, हरगोविंद बोहरा ने संबोधित किया। इस मौके पर सुशीला बोहरा, उत्तम देव, पुष्कर बोहरा, भवानी टम्टा भोला बोहरा, निर्मल नाथ, पुष्कर बोहरा, खीमा बिनवाल, भुवन चौबे, प्रकाश माहरा आदि मौजूद थे।

पिथौरागढ़ ने हाईस्कूल में बनाया नया रिकार्ड

पिथौरागढ़। उत्तराखंड बोर्ड परीक्षाओं में इस वर्ष जिले के विद्यार्थियों ने शानदार प्रदर्शन किया। हाईस्कूल में पांच विद्यार्थियों ने प्रदेश की योग्यता सूची में स्थान हासिल किया है। इंटरमीडिएट में सीमांत धारचूला के एक विद्यार्थी को मेरिट सूची में स्थान मिला है। इंटरमीडिएट स्तर पर इस वर्ष 8002 विद्यार्थी परीक्षा में शामिल हुए। इनमें से 6631 विद्यार्थी उत्तीर्ण रहे। 12 वीं कक्षा का परीक्षाफल 82.79 प्रतिशत रहा। हाईस्कूल में 8270 बच्चों ने परीक्षा दी। इसमें से 6623 विद्यार्थी सफल रहे। हाईस्कूल का परीक्षाफल 80.08 प्रतिशत रहा।

पिछले वर्ष हाईस्कूल व इंटर का परीक्षाफल 80 प्रतिशत से नीचे रहा था। इस वर्ष हाईस्कूल स्तर पर पांच विद्यार्थियों ने मेरिट सूची में स्थान हासिल किया है। जबकि इंटरमीडिएट स्तर पर एक विद्यार्थी ने मेरिट सूची में स्थान बनाया है। हालांकि जिले से बीते वर्ष की तुलना में इस बार कम छात्र मेरिट सूची में शामिल हैं। प्रदेश की योग्यता सूची में स्थान बनाने वाले सभी विद्यार्थी पब्लिक स्कूलों के हैं। सरकारी स्कूल का एक भी विद्यार्थी योग्यता सूची में स्थान नहीं बना सका है। इस वर्ष जिले की सबसे बड़ी उपलब्धि यह रही कि प्रदेश में हाईस्कूल का परीक्षाफल सबसे अधिक रहा।

संगीनों के साए में शराब दुकानों का आवंटन

चम्पावत ।  जिला मुख्यालय में संगीनों के साए में शराब की नौ दुकानों का आवंटन लाटरी सिस्टम से हुआ। इन दुकानों से राजस्व के नाम पर 22.42 करोड़ की आमदनी होगी।कलक्ट्रेट सभागार में डीएम डॉ.अहमद इकबाल की अध्यक्षता और जिला आबकारी अधिकारी दीपाली साह के संचालन में लॉटरी की प्रकिया पूरी हुई।

नौ दुकानों के लिए 40 महिलाओं सहित 326 पुरुषों ने आवेदन किया था। महिलाओं द्वारा शराब की दुकानों का विरोध किए जाने के कारण कलक्ट्रेट में भारी सुरक्षा बल तैनात रहा। हालांकि आवंटन के दौरान शाति बनी रही। लाटरी प्रक्रिया निपटाने में एडीएम हेमंत वर्मा, एसडीएम सीमा विश्वकर्मा, सीओ प्रयाग सिंह कफलिया सहित आबकारी व राजस्व विभाग के तमाम कर्मी जुटे रहे।

280 होनहारों ने पाए 75 फीसद से ज्यादा अंक

चम्पावत। उत्तराखंड बोर्ड परीक्षा में जिले में इस बार हाईस्कूल व इंटर में 280 विद्यार्थियों ने 75 फीसदी से ज्यादा अंक प्राप्त किए हैं। इस बार भी बोर्ड परीक्षा परिणाम में बालिकाओं का दबदबा है। जिले में हाईस्कूल का परीक्षाफल 77.22 फीसदी व इंटर का परीक्षाफल 86.03 फीसदी रहा।मुख्य शिक्षा अधिकारी ने बताया कि हाईस्कूल की बोर्ड परीक्षा में इस बार पंजीकृत 4867 में से 4799 ने परीक्षा दी। हाईस्कूल का परीक्षाफल 77.22 फीसदी रहा। जिसमें उत्तीर्ण बालकों का प्रतिशत 73.32 और उत्तीर्ण बालिकाओं का प्रतिशत 81.15 रहा।

हाईस्कूल में 75 प्रतिशत से ज्यादा अंक प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों की संख्या 209 है। हाईस्कूल में प्रथम श्रेणी में 986, द्वितीय श्रेणी में 1843 और तृतीय श्रेणी में 668 ने परीक्षा उत्तीर्ण की।इंटरमीडिएट में इस बार पंजीकृत 3900 में से 3308 विद्यार्थी परीक्षा में बैठे। इंटर का परीक्षाफल प्रतिशत 86.03 रहा। जिसमें उत्तीर्ण बालकों का प्रतिशत 83.10 फीसद और उत्तीर्ण बालिकाओं का प्रतिशत 88.77 रहा। इंटर में 75 प्रतिशत से ज्यादा अंक प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों की संख्या 71 है। इंटर में प्रथम श्रेणी में 690, द्वितीय श्रेणी में 2066 और तृतीय श्रेणी में 475 विद्यार्थियों ने परीक्षा उत्तीर्ण की है।

समस्याओं के निस्तारण की मांग को लेकर दिया ज्ञापन

अल्मोड़ा। अखिल भारतीय किसान सभा के पदाधिकारियों ने छह सूत्रीय मांगों को लेकर डीएम को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन दिया। जिसमें कहा गया कि लगातार खेती को जंगली जानवर नुकसान पहुंचा रहे हैं। इसके बाद भी प्रशासन इनसे निपटने के लिए कारगर उपाय नहीं कर रहे। जिससे किसान अत्यधिक परेशान हो चुके हैं। किसान सभा के जिला संयोजक राजेंद्र प्रसाद जोशी ने दिए गए ज्ञापन में मांग की कि जंगली जानवरों से किसानों की खेती की सुरक्षा के उपाय किए जाएं। साथ ही नुकसान का मुआवजा दिलाया जाए।

सार्वजनिक वितरण को बहाल कर उपभोक्ताओं को सस्ते दाम पर राशन उपलब्ध कराया जाए। उन्होंने कहा कि सरकारी ग्राम समाज व वनभूमि पर वर्षों से काबिज लोगों को मालिकाना हक दिया जाए। ज्ञापन में मांग की गई कि किसानों के पशु व्यापार अधिकार की रक्षा की जाए। बंद पड़े पशु व्यापार को दोबारा खोला जाए। साथ ही ओलावृष्टि से प्रभावित किसानों को राहत प्रदान की जाए। ज्ञापन देने वालों में मुख्य रूप से सरस्वती देवी, गोङ्क्षवद बल्लभ, आरपी जोशी, यूसुफ तिवारी, सुनीता पांडेय, सचिन व दिनेश पांडेय मौजूद रहे।

हाईस्कूल में जसपुर, इंटर में काशीपुर का डंका

काशीपुर । उत्तराखंड रामनगर बोर्ड के परीक्षा परिणामों में यूएस नगर के जसपुर और काशीपुर के छात्र-छात्राओं का हर बार की तरह इस बार भी डंका बजा है। हाईस्कूल के रिजल्ट में अकेले जसपुर के 15 बच्चों ने मेरिट में जगह बना क्षेत्र का नाम पूरे प्रदेश में रोशन किया है। इंटरमीडिएट के परिणामों में काशीपुर के छह बच्चों ने मेरिट लिस्ट में जगह बनाई है। मंगलवार को सुबह 11 बजे घोषित हुए हाईस्कूल बोर्ड के परीक्षा परिणामों में जसपुर की छात्र-छात्राओं का दबदबा रहा। जसपुर के रिकॉर्ड 15 बच्चों ने मेरिट लिस्ट में जगह बनाई।

इनमें सर्वाधिक 11 बच्चे जसपुर के रामलाल सिंह चौहान इंटर कॉलेज के शामिल रहे। बाकी चार छात्र-छात्राएं पंडित पूर्णानंद तिवारी इंटर कॉलेज व अन्य स्कूलों के रहे। वहीं काशीपुर के भी दो बच्चों ने हाईस्कूल की मेरिट लिस्ट में जगह बनाई। इंटरमीडिएट परीक्षा परिणामों की बात करें तो काशीपुर के छह बच्चों ने मेरिट में जगह बनाकर क्षेत्र का नाम रोशन किया है। इनमें तुलाराम राजाराम इंटर कॉलेज के दो, तारावती सरोजनी देवी इंटर कॉलेज की दो छात्राएं एवं उदयराज हिंदू इंटर कॉलेज व गोबिंद बल्लभ पंत इंटर कॉलेज के एक-एक छात्र को मेरिट में जगह मिली। जबकि जसपुर के रामलाल सिंह चौहान इंटर कॉलेज के पांच छात्रों ने भी मेरिट लिस्ट में जगह बनाई।

प्रदेश में दवा विक्रेता रहे हड़ताल पर

हल्द्वानी । ऑनलाइन दवा बिक्री के विरोध में मंगलवार को हल्द्वानी सहित कुमाऊं भर के दवा विक्रेता हड़ताल पर रहे। कुमाऊं भर में करीब 800 से अधिक दवा की दुकानें बंद रहीं, हल्द्वानी में करीब 200 दुकानें बंद रहीं। इससे मरीजों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा। हालांकि सरकारी अस्पतालों की फार्मेसी खुली रहीं। एसोसिएशन के सदस्य सुरेंद्र जोशी ने बताया कि केंद्र सरकार दवा व्यापार को प्रभावित करना चाहती है।

ऑनलाइन कारोबार करने से सीधा असर खुदरा दवा व्यापारियों पर पड़ेगा। इसके अलावा इस निर्णय से दवा व्यवसायी से जुड़े लाखों लोग बेरोजगार हो जाएंगे। इसी के विरोध में हड़ताल की जा रही है। जेनेरिक स्टोर ने दी मरीजों को राहत देशभर में दवा विक्रेताओं की हड़ताल के बीच जेनेरिक दवा सेंटर खुले रहे। एसटीएच के जेनेरिक दवा केंद्र पर मरीजों के लिए दवा उपलब्ध रही। इसके अलावा जिले में सभी जेनेरिक केंद्र हड़ताल से दूर रहे।

जूस वाले के बेटे ने किया कमाल, इंटर में हासिल किए 89.2 फीसदी अंक

हल्द्वानी। उत्तराखंड बोर्ड की इंटर की परीक्षा में गन्ने का जूस बेचने वाले के बेटे ने कमाल किया है। उसने 89.2 फीसदी अंक हासिल कर परिवार का नाम रोशन किया। हल्द्वानी के राजेन्द्र नगर निवासी योगेन्द्र गुप्ता के चार बच्चों में सबसे छोटे सचिन गुप्ता इंटर बोर्ड में 446 अंक प्राप्त कर प्रथम स्थान पर आए है। सचिन के पिता शहर के ओके होटल के पास गन्ने के जूस का ठेला लगाते हैं।

सचिन के बड़े भाई ने बीटेक किया है और वह दिल्ली में जॉब कर रहे हैं। बहन पंत नगर से बीटेक कर रही हैं। एक और बहन एमबीपीजी कॉलेज से बीएससी कर रही है। सचिन हाईस्कूल में मेरिट लिस्ट में था।

12वीं में आदित्य और 10वीं में आइशा ने किया टॉप

रामनगर। मंगलवार को  उत्तराखंड बोर्ड के हाईस्कूल व इंटर के परीक्षार्थियों का रिजल्ट घोषित कर दिए गया। इसमें 12वीं में आदित्य घिल्डिय़ाल और 10वीं में कुमारी आईशा गौरी ने टॉप किया। मंगलवार सुबह माध्यमिक शिक्षा निदेशक आरके कुंवर ने उत्तराखंड विद्यालयी शिक्षा परिषद के सभागार में विभागीय अधिकारियों के साथ प्रात:11 बजे रिजल्ट घोषित किया।

निदेशक आरके कुंवर ने बताया कि हाईस्कूल का परीक्षाफल 73.67 रहा, जिसमें बालकों का प्रतिशत 68.66 तथा बालिकाओं का प्रतिशत 78.51 रहा। हाईस्कूल में कुमारी आइसा एमपीसी विजयनगर रुद्रप्रयाग ने 500 में से 492 अंक लेकर टॉप किया है, जबकि दूसरे स्थान पर आरएलएस चौहान जसपुर ऊधमसिंहनगर ने 500 में से 491 अंक लेकर दूसरे स्थान पर रहे। वहीं, इंटर में एसवीएमाइसि श्रीकोट गंगनालि पौड़ी के आदित्य घिल्डियाल 500 में से 475 अंक लेकर टॉप पर रहे, जबकि आरएल एस चौहान जसपुर के अक्षदीप वत्सल 500 में से 474 अंक लेकर दूसरे स्थान पर रहे।

हेमकुंड साहिब आयी महिला और युवती की गला रेतकर हत्या

जोशीमठ। उत्तराखंड के चमोली जिले में स्थित श्री हेमकुंड साहिब यात्रा के मुख्य पड़ाव गोविन्दघाट में एक होटल में ठहरी महिला और युवती की गला रेतकर हत्या कर दी गई। जबकि, उनके साथ आया व्यक्ति लापता है। पुलिस ने कमरे का ताला तोडक़र दोनों के शव बाहर निकाले। कार के नंबर और होटल के रजिस्टर पर दर्ज पते के आधार पर तीनों के अंबाला निवासी होने की संभावना जताई जा रही है।  पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार सोमवार शाम लगभग पांच बजे एक सिख यात्री कार से गोविन्दघाट पहुंचा वहां उसने एक होटल में कमरा लिया और होटल क रजिस्टर में अपना नाम पता दर्ज किया। उसके साथ एक महिला, जिसकी उम्र लगभग 36 वर्ष तथा एक किशोरी, उम्र लगभग 17 वर्ष है, थी। उसने यहां एक होटल में अपना नाम जसवीर सिंह पुत्र विचित्र सिंह निवासी 599/9 सेक्टर ए अंबाला तथा महिला को पत्नी एवं किशोरी को बेटी बताकर एक कमरा किराये पर लिया।

हालांकि उसने होटल में कोई आईडी नहीं दी उसने होटल कर्मचारियों को बताया कि मेरे पैर में चोट है और मै कमरे में जाकर पहले गोली खा लेता हूं तब बैग से आई दे दूंगा। इसके बाद वह कमरे में चला गया। कुछ देर बाद उसने कमरे में पानी मंगाया और खाने का आर्डर दिया। रात का खाना सभी ने साथ में ही खाया। सुबह लगभग चार बजे वह आदमी अपनी कार स्टार्ट कर कहीं जाने लगा तो होटल के एक कर्मचारी के पूछने पर उसने बताया कि किसी काम से जा रहा है। इसके बाद कर्मचारी अपने कामों में लग गये। सुबह दस बजे तक जब होटल का कमरा नहीं खुला तो आखिर में कमरे का दरवाजा तोडऩा पड़ा । वहां दोनों महिलाओं के शव पड़े हुए थे।

दोनों की गला रेत कर हत्या की गयी थी और पूरे कमरे में व बिस्तर पर खून सना हुआ था। घटना की जानकारी पुलिस को होटल मैनेजर ने दी। सूचना पर गोविन्द घाट पुलिस मौके पर पहुंची और शव को कब्जे में लेकर पूछताछ की।  चमोली की एसपी तृप्ति भट्ट ने बताया कि हत्यारे और हत्या के कारणों का पता लगाया जा रहा है। उधर, गोविन्दघाट के दारोगा प्रदीप राठौर ने बताया कि अभी तक की जांच में पता चला है कि मृतक महिला का नाम जसविन्दर कौर एवं युवती का नाम सिमरन है। ये सभी हेमकुंड साहिब की यात्रा पर आए थे। हालांकि देर शाम उस व्यक्ति की कार पुलिस ने गौचर से बरामद कर ली है। घटना की जानकारी के बाद राज्य के बाहर जाने वाले सभी रास्तों की पुलिस को एलर्ट कर दिया गया है।
 

नकाबपोश बदमाशों ने सेल्समैन से 1.30 लाख लूटे

 रुद्रपुर। रुद्रपुर में बाइक सवार बदमाशों ने देसी शराब के ठेके में काम करने वाले एक सेल्समैन से 1 लाख 30 हजार रुपए लूट लिए। वह यह रकम बैंक में जमा करने जा रहा था। जानकारी के मुताबिक आवास विकास निवासी लोकेश सनवाल अटरिया रोड स्थित ठेके में काम करता है। वह सुबह 10. 30 बजे आवास विकास में कॉर्पोरेशन बैंक में रकम जमा करने जा रहा था। जैसे ही वह बैंक के पास ई-रिक्शा से उतरा तो बाइक सवार 3 बदमाशों ने उसके हाथ से बैग छीनने का प्रयास किया।

विरोध करने पर उन्होंने रिवाल्वर से उसे धमकाकर बैग छीन लिया। जिसके बाद वह मौके से फरार हो गए। घटना की जानकारी मिलने पर एएसपी देवेंद्र पींचा मौके पर पहुंचे। जिसके बाद उन्होंने वहां मौजूद लोगों से घटना की जानकारी हासिल। पुलिस ने बदमाशों की तलाश में नाकाबंदी कर दी है। सीसीटीवी फुटेज से भी लुटेरों का सुराग लेने की कोशिश की जा रही है।

पांच लड़कियां फुटबाल प्रतियोगिता में लेंगी हिस्सा

 देहरादून। फुटबाल एकैडमी की 5 गल्र्स उत्तराखंड की टीम से अपना जलवा बिखेरेंगे जुनियाली रावत, अंजना थापा, खुशी गुरूंग, शिवानी बिष्ट, प्रीति रावत डीएफए के फाउंडर प्रेसीडेंट हैड कोच वी एस रावत उत्तराखंड की टीम को शुभकामनाएं दी है। आठ जून से 14 जून तक चंडीगढ़ के भारतीय तिब्बत सीमा पुलिस (आइटीबीपी) की ओर से ऊर्जा फुटबल टैलेंट हंट 2017 का आयोजन किया जा रहा है। इसमें पंजाब के लडक़े-लड़कियां भाग लेंगे। इसका शुभारंभ कप्तान सिंह सौलंकी (राज्यपाल हरियाणा) करेंगे। यह जानकारी अरविंद कुमार (आइजी आइटीबीपी) ने दी। आइजी अरविंद कुमार ने बताया कि आठ अक्टूबर से 28 अक्टूबर 2017 के दौरान 17 साल से कम आयु वर्ग का फीफा विश्व कप का आयोजन भारत में किया जा रहा है।

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बच्चों व उनके अभिभावकों को फुटबल के फीफा विश्व कप 2017 को प्रोत्साहित करने की अपील की है। इस अपील को देखते हुए केन्द्रीय सशस्त्र बलों को श्ऊर्जा फुटबल टैलेंट हंट 2017 का आयोजन करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। फुटबल प्रतियोगिता का पहला पड़ाव देश के राज्यों की सभी राजधानियों में संपन्न हो चुका है। दूसरा पड़ाव छह केन्द्रीय सशस्त्र बलों को पूरा करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। उनका कहना है कि प्रतियोगिता में देश के छह राज्यों चंडीगढ़, पंजाब, हरियाणा, उत्तराखंड, राजस्थान व दिल्ली की टीमें शिरकत करेंगी। विजेता टीमें (लडक़े- लड़कियां) फाइनल चरण के लिए क्वालीफाई करेंगी। इस दौरान कुल 10-10 मैचों का आयोजन चंडीगढ़ में किया जाएगा।

अतिथि शिक्षकों का शिक्षा निदेशालय में धरना व प्रदर्शन

 देहरादून। स्थायी नियुक्ति की मांग को लेकर अतिथि शिक्षक  शिक्षा निदेशालय पर प्रदर्शन करते हुए धरने पर बैठ गए।रिमझिम बारिश के बीच निदेशालय परिसर में बैठे अतिथि शिक्षकों ने सरकार से ठोस कार्रवाई की मांग की है।  अतिथि शिक्षक संगठन के प्रदेश उपाध्यक्ष हरीश आर्य ने कहा कि अतिथि शिक्षकों ने दो साल तक पूरी ईमानदारी के साथ स्कूलों में शिक्षा के उत्थान के लिए काम किया। दुर्गम के जिन स्कूलों में  स्थायी शिक्षक  नहीं जाते थे, वहां दिन रात रह कर काम किया। अब सरकार को चाहिए कि हमारे भविष्य के लिए ठोस व्यवस्था करे।

संविदा पर अतिथि शिक्षकों को ही प्राथमिकता से सेवा में लिया जाए। सरकार विभाग में रिक्त पांच हज़ार से ज्यादा पदों पर सीधी भर्ती शुरू करे। इस भर्ती में अतिथि शिक्षकों को उनके सेवाकाल के आधार पर वेटेज दिया जाय। यदि  सरकार ने जल्द उचित कार्र्रवाई न की तो एक जून से बड़ा आंदोलन शुरू कर दिया जाएगा। मालूम हो कि 31 मार्च को अतिथि शिक्षकों की सेवाएं समाप्त हो चुकी हैं। हाईकोर्ट ने भी सरकार को अस्थायी की जगह स्थायी व्यवस्था लागू करने के आदेश दिए हैं।

पुलिस ने अधिकारियों व कर्मचारियों को नहीं निकालने दी रैली

 देहरादून। उत्तराखंड विद्युत अधिकारी कर्मचारी संयुक्त मोर्चा की सचिवालय तक निकाली जाने वाली रैली को पुलिस व प्रशासन ने निकलने नहीं दिया और सभी की परेड ग्राउंड में घेराबंदी कर दी और अधिकारी एवं कर्मचारी अपनी मांगों के समाधान को लेकर वहीं पर सभा करते रहे। इस बीच सिटी मजिस्ट्रेट सी एस मार्तोलिया ने परेड ग्राउंड पहुंचकर मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन लिया।

 
उत्तराखंड विद्युत अधिकारी कर्मचारी संयुक्त मोर्चा ने अपनी पन्द्रह सूत्रीय मांगों के समाधान के लिए परेड ग्राउंड से सचिवालय तक रैली निकालनी थी, लेकिन सचिवालय तक निकाली जाने वाली रैली को पुलिस व प्रशासन ने निकलने नहीं दिया और सभी की परेड ग्राउंड में घेराबंदी कर दी और अािकारी एवं कर्मचारी अपनी मांगों के समाधान को लेकर वहीं पर सभा करते रहे। इस बीच सिटी मजिस्ट्रेट सी एस मार्तोलिया ने परेड ग्राउंड पहुंचकर मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन लिया। इस दौरान कर्मचारियों ने वहां पर सभा की और इसके बाद वहां से चले गये। इस अवसर पर संयोजक इंशारूल हक ने कहा है कि अपनी पन्द्रह सूत्रीय मांगों के समाधान के लिए 29 मई को परेड ग्राउंड से सचिवालय तक रैली निकाली जानी थी लेकिन पुलिस व प्रशासन ने रैली को निकालने की अनुमति नहीं दी जिसके कारण यहीं पर सभा करने के बाद रैली को समाप्त कर दिया गया है।
 
 पिछले लंबे समय से पन्द्रह सूत्रीय मांगों के समाधान के लिए आंदोलन किये गये है और बीते रोज ऊर्जा सचिव व मुख्यमंत्री की सचिव राधिका झा के साथ बैठक की गई और उन्होंने सकारात्मक कार्यवाही करने का आश्वासन दिया गया था लेकिन अभी तक किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं की गई जो चिंता का विषय है। उनका कहना है कि आज तक सातवें वेतन आयोग का वेतनमान आज तक प्रदान नहीं किया गया है और इसके लिए संघर्ष कर रहे है। उनका कहना है कि इसी प्रकार चतुर्थ श्रेणी में कार्यरत कार्मिकों को पदोन्नति के अवसर प्रदान नहीं किये जा रहे है जो चिंता का विषय है। उनका कहना है कि ऊर्जा निगमों में निजीकरण की कार्यवाही पर तत्काल रोक लगाई जाये और सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों को आवश्यक संशोधनों के साथ तीनों निगमों में तत्काल प्रभाव से लागू किया जाये। सभा के बाद रैली को वहीं परेड ग्राउंड में समाप्त कर दिया गया। इस अवसर पर प्रदेश भर से आये हुए अधिकारी व कर्मचारी मौजूद थे।

मोर्चा ने की घोटालों की सीबीआई जांच की मांग

 देहरादून। जन संघर्ष मोर्चा अध्यक्ष एवं जीएमवीएन के पूर्व उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी ने कहा कि 74 भूमि मुआवजा घोटाले की सरकार द्वारा सीबीआई जॉंच की संस्तुति कर फिर यू-टर्न लेने वाली भाजपा सरकार ने जनता के साथ धोखा किया है। नेगी ने कहा कि कुमाऊॅं कमिश्नर श्री पांडियन की जॉंच में सब कुछ स्पष्ट होने के बावजूद भी 300-400 करोड के इस मुआवजा घोटाले की सीबीआई जॉंच न होना व सीबीआई द्वारा केन्द्र सरकार के दबाव में आकर मामला  न करना बडा गम्भीर विषय है।

आलम यह है कि यह वही है, जो कि मात्र राजनैतिक हथियार के रूप में इस्तेमाल होकर मात्र स्टिंगबाजों, जालसाजों व दागियों के कहने पर विश्वास करती है तथा अपना काम शुरू करती है। नेगी ने हैरानी जतायी कि प्रदेश के महामहिम राज्यपाल इस मामले में धृतराष्ट्र की भूमि निभा रहे हैं, जबकि स्टिंगबाजों व दागियों के मात्र कहने भर से ही इन्होंने जॉंच की शिफारिश स्टिंग प्रकरण में करी थी। जनसंघर्ष मोर्चा शीइा्र ही एनएच$74 घोटाले की सीबीआई जॉंच कराने को लेकर  न्यायालय का दरवाजा खटखटायेगी। मोर्चा महासचिव आकाश पंवार, दिलबाग सिंह, ओपी राणा, डॉ ओपी पंवार आदि मौजूद रहे।

 

दून नगर निगम के 250 वर्ष होने पर हो समारोह

 देहरादून। देहरादून नगर निकाय के 250 वर्ष होने पर समाजसेवी बुद्घिनाथ मिश्रा ने मेयर विनोद चमोली को पत्र लिखकर विशेष समारोह मनाने की मांग की। उन्होंने कहा कि देहरादून के विस्तृत इतिहास के बारे में जानकारी लेते हुए ज्ञात हुआ कि नगर पालिका की स्थापना 1867 में हुई थी। उस समय यह छोटा-सा नगर ब्रिटिश साम्राज्य के अंतर्गत यूनाइटेड प्रविन्सेस के गढ़वाल जनपद का महत्वपूर्ण अंग था। इस प्रकार यह वर्ष 2017 देहरादून नगर पालिका की स्थापना का 250 वां वर्ष है , जिसे बड़े पैमाने पर मनाकर हम अपनी समृद्घ विरासत की ओर सम्पूर्ण राष्ट्र का ध्यान आष्ट कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि भारतीय संस्ति में शरद ऋतु को वर्ष का प्रधान मानते है,क्योंकि वर्षा के दिनों में षि-कार्य में व्यस्त रहने के बाद देव-पितर की पूजा-अर्चना और शुभकार्यों का श्रीगणेश इसी ऋतु में होता है।

 

यह वर्ष महात्मा गाँधी के चम्पारण सत्याग्रह का शताब्दी समारोह भी है, इसलिए नगर का एक जागरूक साहित्यकार होने के नाते, मेरा आपसे अनुरोध है किया कि वर्ष 2017 के अक्टूबर मास में नगर निगम तथा उत्तराखंड सरकार की ओर से राष्ट्रीय स्तर का एक सप्ताह का समारोह आयोजित किया जाए। समारोह का शुभारम्भ 2 अक्टूबर को गाँधी जयन्ती के दिन किया जाए,जिसका उद्घाटन राष्ट्रपति या प्रधान मंत्री करें और जिसमें राज्य के राज्यपाल व मुख्य मंत्री के अलावा समस्त मंत्री मंडल और सभी दलों के विधायक गण आमंत्रित हों। सप्ताह के दौरान देश के समस्त नगरों के महापौरों का एक सम्मेलन आयोजित किया जाए, जिसका उद्घाटन लोकसभा-अध्यक्ष करें।

 

उन्होंने मांग कि नगर के 80 वर्ष पार करनेवाले सभी वृद्घजनों को श्चिरायुष्य सम्मान श् से सम्मानित किया जाए और उनकी उपलब्धियों तथा  अनुभवों का डक्युमेंटेशन किया जाए ,जो भावी पीढ़ी के लिए प्रेरणा-स्रोत बने। सप्ताह के दौरान  नगर के इतिहास की फोटो प्रदर्शनी, विंटेज कार रैली, मैराथन दौड़, गढ़वाली-कुमायूँ -हिंदी-संस्त-उर्दू-पंजाबी-मैथिली-नेपाली  का रात्रि-व्यापी  बहुभाषी कवि सम्मेलन (प्रसार भारती  के सहयोग से) आयोजित हो। जिससे यह उत्सव ऐतिहासिक बन जाए। 

स्वस्थ समाज के निर्माण के लिये सभी आए आगे : अग्रवाल

 देहरादून। विधान सभा अध्यक्ष निर्वाचित होते ही प्रेमचन्द्र अग्रवाल ने उत्तराखण्ड विधान सभा परिसर में धूम्रपान, पान, गुटखा अथवा तम्बाकू पर पूर्ण तरह से  प्रतिबन्ध लगाने के  बाद अतंराष्ट्रीय तम्बाकू निषेध दिवस के मनाने जा रही है। उन्होंने इस दिन के लिए सभी को तैयार करते हुए कहा कि स्वस्थ समाज के निर्माण के लिये हम सब लोगों का आगे आना चाहिए। इस दिन हम संकल्प लें कि तम्बाकू का सेवन करने वाले लोगों को जागरूक कर, उन्हें तम्बाकू के सेवन छोडऩे के लिए प्रोत्साहित करेंगे।   

 
 
अग्रवाल ने अंतराष्ट्रीय तम्बाकू निषेध दिवस के अवसर पर  तम्बाकू के सेवन से होने वाली बिमारियों के सम्बन्ध में 31 मई को विधानसभा सभागार में सेमीनार का आयोजन किया जा रहा है, जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में प्रदेश के मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द्र सिंह रावत उपस्थित रहेंगे।  उन्होंने कहा कि विधान सभा अध्यक्ष निर्वाचित होते ही  उत्तराखण्ड विधान सभा परिसर में पहले ही धूम्रपान, पान, गुटखा अथवा तम्बाकू पर पूर्ण प्रतिबन्ध लगा दिया था, इसी परिपेक्ष्य में आगामी 31 मई को अतंराष्ट्रीय तम्बाकू निषेध दिवस के अवसर पर विधान सभा में कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि ऋषिकेश विधान सभा क्षेत्र में भी अंतराष्ट्रीय तम्बाकू निषेध दिवस पर 31 मई को शाम को कार्यक्रम आयोजित होगा। श्री अग्रवाल ने कहा है कि तम्बाकू या इसके उत्पादन के उपयोग पर रोक लगाने या इस्तेमाल करने को कम करने के लिये जनता को जागरूक एवं प्रोत्साहन दिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा है कि तम्बाकू के सेवन से होने वाली घातक बिमारियों से बहुत कम लोग परिचित हैं।
 
 
तम्बाकू का सेवन करने वाले लोग इसके प्राणघातक बिमारियों के बारे में विधान सभा में होने वाले सेमीनार में जानकारी प्राप्त कर सकेंगे, ताकि तम्बाकू के प्रयोग व धूम्रपान सम्बन्धी उत्पादकों के बुरे प्रभावों को रोका जा सके। विधान सभा अध्यक्ष प्रेम चन्द अग्रवाल ने जानकारी देते हुए बताया तम्बाकू से होने वाली दर्दनाक मौतों से विवश होकर सम्पूर्ण विश्व ने 31 मई 1987-88 को विश्व तम्बाकू निषेध दिवस घोषित कर दिया। उन्होंने कहा है कि विश्व भर में अमेरिका तथा चीन बड़े पैमाने पर तम्बाकू का उत्पादन करता है, जबकि हमारा देश भी तम्बाकू उत्पादन में तीसरे स्थान पर है। श्री अग्रवाल ने कहा है कि तम्बाकू के इस्तेमाल से सम्पूर्ण विश्व में लाखों लोगों की मौत हो जाती है, जबकि एक अनुमान के अनुसार तम्बाकू का सेवन करने वाले दस व्यक्तियों में से एक व्यक्ति की मौत हो जाती है। श्री अग्रवाल ने कहा कि स्वस्थ समाज के निर्माण के लिये हम सब लोगों का प्रयास होना चाहिए कि 31 मई को अंतराष्ट्रीय तम्बाकू निषेध दिवस के दिन हम संकल्प लें कि हम तम्बाकू का सेवन करने वाले लोगों को जागरूक करें व उनको तम्बाकू के सेवन छोडऩे के लिए प्रोत्साहित करें।  

गुरु अर्जुन देव के शहीदी दिवस पर लगाई छबील

 देहरादून।  शहीद भगत सिंह जत्थे एंव गुरूद्वारा अंगद देव महाराज के तत्वाधान में गुरू अर्जुन देव जी के शहीदी दिवस के अवसर पर छबील का आयोजन किया गया। गुरूद्वारा अंगद देव महाराज के प्रधान सुरजीत सिंह ने बताया कि इस दिन को प्रकाश पर्व के रूप में मनाया जाता है। सभी सेवादारो ने सुबह छबील का आयोजन किया और शाम को लंगर का आयोजन किया जाएगा।

इस दौरान सैकड़ो की संख्या में सिक्ख संगतो ने मत्था टेक कर प्रसाद ग्रहण किया। सुरजीत सिहं प्रधान, हेम सिंह, राजीव सिंह, सुरजीत सिंह, विशाल, विजय सिंह, राजु सिंह, गुलशल सिंह , करन सिंह समेत कई लोग मौजूद थे। 

 

सूबे में विकास योजनाओं का खाका तैयार करने में जुटे सीएम

 देहरादून। देश में जीएसटी आने के बाद कुछ ही समय के अन्तराल में व्यापार के क्षेत्र में बहुत कुछ बदल जाएगा और इसी के साथ व्यापारियों को उसका खासा लाभ भी मिलने लगेगा। विभिन्न राज्यों में यह कानून जहां काम भी करने लगा है तो वहीं उत्तराखण्ड में त्रिवेन्द्र सरकार भी, जो अपनी सरकार का प्रथम बजट अगले माह ही लाने जा रही है वह इस दृष्टि से बड़ा महत्वपूर्ण हो सकता है। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत इन प्रयासों में जुटे दिखाई दे रहे हैं कि उनकी सरकार का पहला बजट धमाकेदार हो। 

   
राज्य में त्रिवेन्द्र सरकार को प्रदेश की बागडोर मिले हुए 70 दिन का समय हो चुका हैं। इन 70 दिनों में इस सरकार ने बहुत कुछ अहम फैसले लिए है। कैबिनेट बैठकें करके सरकार ने प्रदेश की कई जनकल्याणकारी योजनाओं को घरातल पर उतारने के भी प्रयास किये है। साथ ही भ्रष्टाचार को भी जड़ से समाप्त करने के लिए सभी विभागों के अफसरो व कर्मचारियों को कड़े दिशा-निर्देश पहले ही दिये जा चुके है। मुख्य बात यह है कि त्रिवेन्द्र सरकार का मुख्य फोकस अपनी सरकार के पहले बजट पर है। इसी बजट को सरकार इतना अधिक चमकदार एवं लचीला बनाने में लगी हुई है ताकि उससे राज्य के अन्दर भाजपा सरकार की छवि खासी चमकदार बने। सूबे की त्रिवेन्द्र सरकार के इस बजट की तैयारियों के लिए मुखिया ने नौकरशाही को भी खास निर्देश दिये हैं। यहां यह गौरतलब है कि त्रिवेन्द्र सरकार के जो दो माह का समय पूरा हो चुका है उसको सरकार की कोई खास उपलब्धि नहीं माना जा रहा है।
 
अपने इस 60 दिनों के कार्यकाल में मुख्यमंत्री रावत सिर्फ भ्रष्टाचार के खिलाफ ही मुख्य रूप से आग उगलते हुए देखे गये। हालांकि उन्होंने कुछ जनता दरबार लगाकर लोगों की समस्याएं भी सुनी। लेकिन सीएम जनता दरबार में कुछ ही समस्याग्रस्त लोगों की फरियादें सुन पाए। उत्तराखण्ड में त्रिवेन्द्र के सामने आगामी बजट को लेकर बड़ी चिंता फिलहाल बनी हुई है। जून के प्रथम सन्ताह के बाद शुरू होने वाले राज्य सरकार के बजट पर राज्य के न सिर्फ सभी लोगों की नजरें लगी रहेंगी तो वहीं मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस भी सरकार के इस बजट को लेकर खासी बेचैन दिखाई दे रही है। 
 

नितिन का खत वायरल

 देहरादून। उत्तराखण्ड का सचिवालय हमेशा चर्चाओं में रहता रहा है और उसके चलते सरकार का दिल कहे जाने वाले सचिवालय की गरिमा पर सवाल उठते रहे हैं। हैरानी वाली बात है कि सरकार में चंद भेदिये हमेशा ऐसा खेल खेलते रहे हैं जिसे सरकार पर संकट आकर खडा हो जाये? एनएच-74 के घोटाले की जांच मुख्यमंत्री ने सीबीआई से कराने का उत्तराखण्ड की जनता के सामने ऐलान किया और उनके इस कदम से आवाम भी उन्हें दबंग मानने लगा लेकिन इसी बीच केन्द्रीय परिवहन मंत्राी ने एनएच-74 घोटाले की जांच सीबीआई से न कराने को लेकर मुख्यमंत्री को पत्रा लिखा और एक साजिश के तहत यह पत्रा कैसे सचिवालय से वायरल हो गया यह सरकार की मंशा पर भी बडे सवाल खडे कर रहा है?

सवाल खडे हो रहे हैं कि क्या सरकार के अन्दर किसी भेदिये ने इस खत को वायरल किया या पिफर सचिवालय में किसी बडे अपफसर ने इस खत को एक रणनीति के तहत वायरल कर दिया था? सचिवालय से इस खत का लीक होना सापफ संकेत दे रहा है कि वहां कोई न कोई ऐसा विभीषण मौजूद है जो आने वाले समय में सीएम के लिए एक बडा खतरा पैदा कर सकता है।

उल्लेखनीय है कि एनएच-74 घोटाले की जांच सीबीआई से कराने को लेकर मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत ने दम भरा था लेकिन इसी बीच पांच अप्रैल को केन्द्रीय परिवहन मंत्राी नितिन गडकरी ने मुख्यमंत्री को पत्रा लिखकर इस मामले की जांच सीबीआई से न कराने को लेकर खत लिखा। नितिन गडकरी का मुख्यमंत्री को लिखा खत कैसे वायरल हो गया यह सचिवालय प्रशासन पर बडा सवाल खडा कर गया। सवाल खडे हो रहे हैं कि क्या सचिवालय में कोई बडा अपफसर ऐसा विभीषण है जो सरकार के मुखिया के नाम लिखे इस खत को वायरल करने के लिए गोपनीय रूप से आगे आ गया? सवाल खडे हो रहे हैं कि जिस सचिवालय में प्रदेशभर की योजनाओं को लेकर मंथन व रोडमैप तैयार होता है वहां के गोपनीय खत अगर वायरल किये जा रहे हैं तो उत्तराखण्ड सरकार के लिए यह बहुत बडा खतरा ही कहा जा सकता है।

कांग्रेस का हल्ला बोल

 देहरादून। उत्तराखण्ड के बजट सत्र की तैयारियों को लेकर जहां सरकार के मुखिया अपना खाका तैयार कर रहे हैं वहीं कांग्रेस ने भी बजट सत्र में एनएच-74 घोटाले व शराब नीति पर सरकार पर हल्ला बोलने के लिए पूरी रणनीति तैयार कर ली है और एनएच-74 के घोटाले की जांच सीबीआई से कराने को लेकर कांग्रेस सडक़ व सदन में सरकार की घेराबंदी के लिए मैदान में उतरेगी जिससे तय माना जा रहा है कि विधानसभा का बजट सत्र हंगामेंदार होगा।

उल्लेखनीय है कि आठ जून से विधानसभा का बजटसत्र शुरू होने जा रहा है जहां सरकार बजटसत्र को दून में कराने के लिए आगे आई है तो वहीं कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने सरकार को कटघरे में खडा करते हुए कहा है कि बजट सत्र गैरसैंण में ना कराये जाने को लेकर वह सदन के बाहर धरना देंगे। पूर्व मुख्यमंत्री के इस ऐलान से भाजपा नेताओं में हलचल मची हुई है वहीं कांग्रेस ने विधानसभा का बजट सत्र हंगामेदार करने को लेकर पूरा खाका तैयार कर लिया है और वह बजट सत्र में सरकार पर कई मुद्दों को लेकर हल्ला बोलने के लिए बंद कमरे में प्लान तैयार कर चुकी है।
 
कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह का खुला आरोप है कि केन्द्र के एक मंत्री के दबाव में उत्तराखण्ड सरकार एनएच-74 घोटाले की सीबीआई जांच कराने से पीछे हट गई है और कांग्रेस इस मुद््दे पर खामोश नहीं रहेगी और आठ जून से होने वाले विधानसभा के बजट सत्र में एनएच-74 के घोटाले की सीबीआई जांच को लेकर सडक़ से लेकर सदन तक सरकार को घेरा जायेगा क्योंकि उत्तराखण्ड में यह घोटाला बहुत बडा है इसलिए सीबीआई जांच होने तक कांग्रेस खामोश नहीं रहेगी। उन्होने कहा कि खुद मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत ने इस घोटाले की जांच सीबीआई से कराने के लिए ऐलान किया था लेकिन अब केन्द्र के मंत्री के दबाव में घोटाले की जांच सीबीआई से ना कराने पर कांग्रेस चुप नहीं बैठेगी। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने स्टेट हाई-वे से 500 मीटर की दूरी पर शराब ठेकों को खोलने का आदेश दिया था लेकिन सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश को ही हवा में उडाकर गांव-गांव, गलियों में शराब के ठेके खुलवा दिये और पर्वतीय क्षेत्रों में शराब बेचने की समय सीमा कम करना साफ दर्शा रहा है कि शराब का काम माफियाओं के हाथों में देने का खेल किया गया है।
 
 
उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड के पांच पहाडी जिलों में राज्य बनने के बाद से कभी भी देशी शराब की बिक्री के लिए किसी सरकार ने अपने कदम आगे नहीं बढाये लेकिन त्रिवेन्द्र सरकार ने पांच जनपदों में देशी शराब बेचने का ऐलान कर सीधे तौर पर राज्यवासियों के साथ धोखा किया है और पहाडी जनपदों में समय सीमा कम किये जाने से शराब माफियाओं के हाथों में राज्य को देने का काम भाजपा सरकार ने किया है जिसके खिलाफ कांग्रेस सडक़ से लेकर सदन तक सरकार के खिलाफ हल्ला बोलेगी। कांग्रेस के रूख से साफ हो गया है कि वह मित्र विपक्ष के रूप में सदन के अन्दर नहीं दिखेगी और हर मुद्दे पर वह सरकार को घेरने के लिए आगे रहेगी।

झमाझम बारिश से मौसम सुहावना

 देहरादून। देहरादून में सोमवार को लोगों के दिनचार्या की शुरुआत बारिश के साथ हुई। सुबह पांच बजे से हल्की बारिश हो रही थी, जो सुबह नौ बजे के करीब झमाझम बरसने लगी। इससे देहरादून और आस-पास का मौसम सुहावना हो गया है। बारिश से तापमान में गिरावट दर्ज की गई, जिससे गर्मी से राहत मिली है।

 
वैसे तो रविवार को भी शाम होते होते मौसम ने करवट बदल ली थी। हालांकि दिनभर तेज धूप और गर्मी से लोग बेहाल रहे। सोमवार सुबह बारिश होने से तापमान में पांच डिग्री सेल्सियस की गिरावट बताई जा रही है। उधर, उत्तराखंड के पर्वतीय इलाकों में भी बारिश हुई। मौसम विभाग ने सोमवार और मंगलवार को उत्तराखंड के कई इलाकों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। साथ ही प्रदेश के अधिकांश क्षेत्रों में बादल छाए रहेंगे। हल्की से मध्यम वर्षा की संभावना भी है। 
 

ओएनजीसी में कर्मचारियों के हित के लिए उठी आवाज

 देहरादून। ओएनजीसी स्टाफ यूनियन कर्मचारियों के हित को आया आगे दर्जनों चर्तुथ श्रेणी कर्मचारियों के नियमितीकरण की मांग उठाई ओएनजीसी में दर्जनों चर्तुथ श्रेणी कर्मचारी अपने नियमितीकरण का इंतजार कर रहे हैं। कई ऐसे कर्मचारी हैं जिन्हें पिछले 20-22 सालों से लगातार काम करने के बावजूद रेगुलर नहीं किया गया है। इस मामले में अब कर्मचारी संगठन ओएनजीसी स्टाफ यूनियन ने मोर्चा संभाला है। संगठन ने संस्थान के तकरीबन 60 चर्तुर्थ श्रेणी कर्मचारियों को तत्काल प्रभाव से नियमित किए जाने की मांग की है। मान्यता मिलने के बाद ओएसयू एक्शन में संस्थान के अतंर्गत कॉरपोरेट इंडस्ट्रियल रिलेशन से मान्यता मिलने के बाद ओएनजीसी स्टाफ यूनियन (ओएसयू) अपने पूरे एक्शन में है।

 

26 जनवरी को कर्मचारी संगठन को मान्यता प्रदान की गई। मान्यता मिलने के बाद से ही कर्मचारियों को दी जाने वाली सुविधाओं को लेकर ओएसयू में बैठकों का दौर शुरू हो चुका है। सोमवार को भी इस बाबत ओएनजीसी परिसर में बैठक का आयोजन कर कई मुद्दों व समस्याओं पर चर्चा की गई। कर्मचारी संगठन ओएसयू के अध्यक्ष अजय शर्मा ने कहा है कि संगठन ने संस्थान के विभिन्न कार्यालयों में लंबे समय से खराब पड़े आरओ को मुरम्मत करवाकर कर्मचारियों को शुद्ध पीने के पानी की व्यवस्था करवाई है। उच्च अधिकारियों से चर्तुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों को जल्द रेगुलर किए जाने का प्रस्ताव भी पारित किया गया है।

 

योग दिवस पर 21 जून को योग कार्यक्रम जगह-जगह आयोजित किए जाएं

 देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि अन्र्तराष्ट्रीय योग दिवस पर 21 जून को योग कार्यक्रम मात्र देहरादून में ही केन्द्रित नहीं होने चाहिए बल्कि सम्पूर्ण राज्य के प्रत्येक जिले तथा स्थान-स्थान पर आयोजित किए जाय।ं इस सम्बन्ध में जिलाअधिकारियों को निर्देशित किया जाय। योग दिवस के अवसर पर उत्तराखंड के ऐसे पर्यटन महत्व के धार्मिक एवं सांस्कृतिक स्थल जो विश्व पटल पर अािक प्रचारित नहीं है, उन स्थलों पर योगा कार्यक्रम आयोजित करवाए जाएगें। 

इसके साथ ही गोविन्द घाट, त्रिवेणी घाट, हेमकुण्ड साहिब, मंदिर परिसरों, धार्मिक स्थलों आदि पर योग कार्यक्रम आयोजित किए जायंगे। वक फर योगा आयोजित किया जायेगा जिसमें, मंत्री व शासन-प्रशासन के अधिकारियों की भागीदारी हो। राज्य के सभी सरकारी एवं निजी संस्थानों की भागीदारी योग कार्यक्रमों में सुनिश्चित की जाय। 15 जून से योग सप्ताह के रूप में मनाया जायेगा। नागरिकों द्वारा 21 जून को योग संकल्प लिया जाय जिसके अन्र्तगत शपथ लेने वाला अपने जीवन में रोज योगा करने का प्रण लेगा। जेलों तथा अनाथालयों में भी योग कार्यक्रम आयोजित करवाए जाय। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने 21 जून योग दिवस की तैयारियों की जानकारी लेते हुए सम्बंधित अािकारियों को उक्त निर्देश जारी किए। सोमवार को सचिवालय में 21 जून योग दिवस की तैयारियों की अद्यतन स्थिति की जानकारी लेते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि हमें योग दिवस पर तथा भविष्य में योगा को फैशन में लाना होगा। मुख्यमंत्री के निर्देशों के अनुसार योग कार्यक्रम राज्य के प्रत्येक स्थान पर आयोजित करने होंगे, यह आयोजन मात्र देहरादून तक सीमित नही रहना चाहिए राज्य के सभी प्रसिद्घ धार्मिक, सांस्कृतिक एवं पर्यटक स्थलों के अतिरिक्त गंगा आरती जैसी विश्व प्रसिद्घ आयोजनों के समय भी योगा कार्यक्रम आयोजित करवाये जाय। साथ ही ऐसे अनएक्सपलोरड टूरिस्ट स्थल जिनका विश्व पटल पर समुचित प्रचार नहीं हुआ है पर योगा कार्यक्रम आयोजित किए जाए। जिससें इन पर्यटन स्थलों का भी प्रचार हो पाएगा।  
 
मुख्यमंत्री  की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में राज्य भर की योग सी जुड़ी सस्थांए, परमार्थ निकेतन, गुरूकुल कांगड़ी, शांति कुंज,  पुलिस विभाग, एनसीसी, एनएसएस, सचिवालय प्रशासन, शिक्षण संस्थानों तथा अन्य महत्वपूर्ण संस्थानों के पदाधिकारियों से योग दिवस के अवसर पर उनके द्वारा दिए जाने वाले योगदान विषय में मुख्यमंत्री जानकारी ली। उल्लेखनीय है कि राज्य सरकार का आयुष विभाग योग दिवस आयोजन हेतु नोडल विभाग है। बैठक में दी गई जानकारी के अनुसार योग दिवस आयोजन हेतु आयुष विभाग द्वारा योग से जुड़ी सभी विभागों व संस्थाओं से समन्वय किया जाएगा। 21 जून योग दिवस पर राज्य सरकार के सभी विभागों, विशेषकर आयुष, पर्यटन, संस्कृति, पुलिस विभाग, सचिवालय अािकारियों एव कार्मिकों, राज्य भर में राष्ट्रीय कैडेट कोर, मेडिकल एवं नर्सिग शिक्षण संस्थानों के छात्रों, विभिन्न विश्वविद्यालयों के छात्रों, योग से जुड़ी विभिन्न संस्थानों द्वारा देहरादून तथा अन्य जिलों योग कार्यक्रम आयोजित करने में विशेष योगदान दिया जाएगा। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि देहरादून में योग दिवस के अवसर पर वर्षा का मौसम देखते हुए आयोजन स्थल परेड ग्राउन्ड पर उचित व्यवस्था की जाए। वाटर प्रूफ टेन्ट की भी व्यवस्था की जाए। आयोजन स्थल परेड ग्राउन्ड के अतिरिक्त वैकल्पिक प्रबन्ध पूर्व में ही सुनिश्चत कर लिया जाय।
 
 
मुख्यमंत्री जी ने निर्देश दिए कि योग दिवस के अवसर पर योगा आयोजन स्थलों पर दूर-दराज क्षेत्रो से पहुंचने वाले प्रतिभागियों हेतु परिवहन सुविधा सुनिश्चित की जाय। योग दिवस की तैयारियों को गम्भीरता से लेते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि योग दिवस आयोजन के प्रति जन जागरूकता पर विशेष बल देना होगा। उन्होंने कहा कि इस प्रचार प्रसार में मीडिया की भूमिका महत्वपूर्ण होगी। बैठक में पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज, अपर मुख्य सचिव ओम प्रकाश, रणवीर सिंह, प्रमुख सचिव डा0 उमाकान्त पंवार, मनीषा पंवार आदि उपस्थित रहे।

परेड ग्राउंड में मोदी फेस्ट शुरू, मंत्री मदन कौशिक ने किया उद्घाटन

 देहरादून। प्रदेश के शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने सोमवार को परेड ग्राउंड में आयोजित मोदी फेस्ट में मुख्य अतिथि के रूप में शिरकत की, उनके साथ इस अवसर पर भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट भी मौजूद रहे। उन्होंने मोदी फेस्ट मे उपस्थित जन समूह एवं कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए केन्द्र सरकार के विकास कार्यों की चर्चा करते हुए कहा कि केन्द्र में नरेन्द्र मोदी प्रधानमंत्री भारत सरकार के तीन साल पूर्ण होने पर परेड ग्राउंड में मोदी फेस्ट शुरू हुआ है। उन्होंने कहा कि सरकार ने बीते तीन सालों में उल्लेखनीय कार्य किये हैं। इससे नये भारत के नव निर्माण की नींव पड़ी है। उन्होंने समारोह में कहा कि केन्द्र सरकार की डिजिटल इण्डिया, मेक इन इण्डिया, स्किल इण्डिया योजनाओं, स्वच्छ भारत अभियान तथा तमाम ऐसी 104 योजनओं को प्रदर्शित किया गया है। इस फेस्ट के माध्यम से उक्त योजनाएं बहुत तेजी से जनता में पहुचेगी। कार्यकर्ता इन योजनाओं का बारीकी से अध्ययन कर अपने-अपने वार्डों एवं बूथों पर पहुचाने का कार्य करें। 

 
उन्होंने इस अवसर पर कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा देश का कोई क्षेत्र एवं समुदाय नहीं छोड़ा है, जिस क्षेत्र के लिए योजना न बनी हो। ये योजनाएं धरातल पर पहुँच रही हैं। प्रधानमंत्री द्वारा खुद उक्त योजनाओं की समीक्षा की जा रही है। विगत तीन वर्षों में जो योजनाए एवं परियोजनायें भारत सरकार ने दी हैं। उनसे पूरे देश का हर क्षेत्र लाभान्वित होगा। इन योजनाओं का सघन प्रचार-प्रसार कार्य कर्ताओं के माध्यम से मौहल्ला बूथ एवं वार्डों मे बतायेंगे तथा योजनाओं की प्रक्रिया से अवगत कराते हुए लाभार्थियों को फार्म भरते हुए व्यक्तियों को लाभान्वित करेंगे। प्रत्येक व्यक्ति के चेहरे पर मुस्कान लाने का कार्य मोदी सरकार कर रही है। उन्होंने इस अवसर पर कहा कि देश कि सरकार ने सेना को पूर्ण अधिकार दिये हैं, कि वह अपने विवेक से कार्य करें।  भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट ने भी अपने विचार व्यक्त करते हुए कार्यकर्ताओं से आहवान किया कि मोदी फेस्ट में प्रदर्शित योजनाओं को आम जनता एवं आम जन मानस तक पहुचाने में अपना सकारात्मक सहयोग करें। जिससे मोदी जी द्वारा जो योजनाएं हर क्षेत्र के व्यक्ति के लिए बनाई गयी हैं उसका उन्हें लाभ मिले। उक्त योजनाएं घर-घर तक पहुचनी चाहिए। मोदी फेस्ट के उत्तराखण्ड समन्वयक नरेश बसंल ने इस अवसर पर कहा कि पूरे देश में चार लाख कार्यकर्ता मोदी सरकार की उपलब्धियों को लेकर कार्य कर रहे हैं।
 
मोदी फेस्ट के 900 कार्यक्रम पूरे देश में हो रहे हैं। उन्होंने कार्यकर्ताओं से सारी योजनाओं की जानकारी ले कर जनता को लाभान्वित करें। उन्होंने कहा कि पं0 दीन दयाल उपाध्याय के दर्शन पर चलकर ईमानदारी एवं भ्रष्टाचार मुक्त बनाने का कार्य सरकार द्वारा किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड के 22 शहरों में मोदी फेस्ट कार्यक्रम एवं 13 जगह सबका साथ सबका विकास कार्यक्रम चल रहा है। समारोह का संचालन महानगर अध्यक्ष भाजपा उमेश अग्रवाल द्वारा किया गया। इस अवसर पर भाजपा प्रवक्ता विनय गोयल, महिला मोर्चा की प्रदेश अध्यक्ष नीनू सहगल, व्यापारी नेता मृदुल कौशिक, भगवत प्रसाद मकवाना, राजेन्द्र ढीलो, बलजीत सोनी, मण्डल अध्यक्ष भाजपा एवं कार्यकर्ता मौजूद रहे।

पुल पर सेल्फी ले रही युवती गंगा में गिरी, लापता

 हरिद्वार।  हरिद्वार में हरकी पैड़ी के पास हाथी पुल पर खड़े होकर सेल्फी ले रही युवती गंगा में गिर गई। सूचना पर पहुंची जल पुलिस की टीम ने युवती की तलाश शुरू कर दी है। युवती लापता है। 

 
जानकारी के अनुसार झूलन कॉलोनी रामपुर यूपी निवासी 20 वर्षीय युवती अपने परिजनों के साथ हरिद्वार घूमने आई थी। सोमवार दोपहर युवती हरकी पैड़ी के समीप हाथी पुल पर खड़े होकर सेल्फ़ी ले रही थी। तभी अनियंत्रित होकर गंगा में गिर गई। परिजनों और आसपास के लोगो ने शोर मचाया। वहां पहुंचे जल पुलिस के जवान भी गंगा में उतर गए। युवती की तलाश जारी है। युवती का अभी कुछ पता नहीं चल पाया है।
 

राज्यपाल ने की शिवलिंग की पूजा

 हरिद्वार। राज्यपाल डॉ. केके पॉल ने सोमवार को उत्तरी हरिद्वार स्थित परमार्थ आश्रम के वार्षिकोत्सव कार्यक्रम में शिरकत करते हुए शिवलिंग की पूजा-अर्चना की। इस दौरान गंगा की स्वच्छता पर जोर देते हुए कहा कि इसमें सभी की भागीदारी जरूरी है। लोगों को भावनात्मक रूप से गंगा से जुडऩा होगा, तभी गंगा पूरी तरह से स्वच्छ हो सकेगी।

 
कार्यक्रम को संबोधित करते हुए राज्यपाल ने कहा कि संत-समाज हमारे देश की प्राचीन परम्परा को आगे बढ़ा रहा है। देश और समाज के लिए गंगा की स्वच्छता बेहद जरूरी है। इसमें यह नागरिक को योगदान देना होगा। सरकारें अपनी ओर से प्रयास कर रही हैं। कई योजनायें चलाई जा रही हैं। वहीं लोगों का गंगा से भावनात्मक लगाव जरूरी है। बड़ों के साथ बच्चों को भी शुरुआत से ही गंगा का महत्व समझाने की जरूरत है। ताकि वह खुद भी गंगा को साफ रखें और दूसरों को भी इसके लिए प्रेरित करें। 
 

आश्रम में जबरन घुसने वाले अधिकारियों के खिलाफ कोर्ट जाएगा मातृसदन

 हरिद्वार। हरिद्वार के मातृसदन में बीते रविवार को हुए हंगामे से आश्रम के संत नाराज़। उनका कहना है कि आश्रम में जबरन घुसने वाले अधिकारियों के खिलाफ कोर्ट में केस दायर करेंगे। मातृसदन के स्वामी शिवानंद ने सोमवार को पत्रकारों से वार्ता करते हुए आरोप लगाया कि ईंधन के कटर से उनके गेट को काटकर पूरे कमरे में धुआं कर दिया गया था। आरोप लगाया कि उन्हें कमरे के अंदर ही दम घोटकर मारने का प्रयास किया गया। स्वामी शिवानंद का आरोप हैं सीएम और डीएम के आदेश पर ही अधिकारियों ने आश्रम में जबरन प्रवेश किया था।

 
बता दें कि हरिद्वार में मातृसदन के स्वामी शिवानंद का तप समाप्त कराने को लेकर रविवार शाम से लेकर देररात तक मातृसदन में हंगामा हुआ। कई घंटों की वार्ता के बाद भी कोई हल नहीं निकला। देररात तक अधिकारी मातृसदन के बाहर डटे हुए थे। स्वामी शिवानंद को मनाने के लिए रविवार शाम पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों ने आश्रम में जबरन प्रवेश किया। मेनगेट के आसपास लगी तारबाड़ के बाद स्वामी शिवानंद के कक्ष के गेट को भी कटर से काटा गया। इस बात से गुस्साई स्वामी शिवानंद अपना मौन व्रत तोड़ते हुए अधिकारियों पर बरस पड़े। इसका परिणाम भुगतने तक की चेतावनी भी दी। हालांकि अधिकारी लगातार हाथ जोडक़र उनसे तप समाप्त करने का आग्रह करते रहे। 
 
वहीं स्वामी शिवानंद का कहना था कि गंगा में खनन पूरी तरह गलत है। हरिद्वार में कोई भी पत्थर बोल्डर ऊपर से बहकर नहीं आता। उनका कहना था कि गंगा में खनन पर रोक के बाद ही वह अपना तप समाप्त करेंगे। इस पर प्रशासनिक अधिकारियों का तर्क था कि गंगा में खनन शासन के आदेश पर हो रहा है। इसी मुद्दे पर दोनों पक्षों के बीच काफी देर तक वार्ता चलती रही, लेकिन देररात तक चली वार्ता के बाद भी कोई हल नहीं निकला। स्वामी शिवानंद का कहना था कि गंगा में खनन पर पूर्ण रोक लगने के बाद ही वह तप समाप्त करेंगे।
 

शराब की दुकानों की नीलामी का करेंगे विरोध

 कर्णप्रयाग।  कर्णप्रयाग तहसील में शराब विरोधी संघर्ष समिति का 34वें दिन भी धरना-प्रदर्शन जारी रहा। इस मौके पर धरने पर डटे आंदोलनकारियों ने कहा कि 30 मई को जिला मुख्यालयों पर शराब की दुकानों की होने वाली नीलामी प्रक्रिया का विरोध किया जाएगा। सोमवार को धरने में संघर्ष समिति अध्यक्ष अंशी देवी, भुवन नौटियाल, इंद्रेश मैखुरी, राजेश्वरी देवी, भागीरथी देवी, राजेन्द्र सिंह आदि मौजूद थे।

वहीं देवाल में अंग्रेजी शराब की दुकान खोले जाने की सूचना पर महिला मंगल दल और प्रधान संगठन ने मुख्य बाजार में जुलूस प्रदर्शन कर आबकारी विभाग के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर खराब की दुकान खोलने जाने का विरोध किया। इस मौके पर ब्लॉक परिसर में आयोजित बैठक में वक्ताओं ने कहा कि देवाल को शराब मुक्त बनाये जाने के लिए बीते 54 दिन से क्षेत्र के लोग आंदोलनरत हैं। जुलूस प्रदर्शन में उर्मिला बिष्ट, हीरा पांगती, पुष्कर सिंह, हीराराम, आलम सिंह, कलावती, पार्वती देवी, कंचन, भजन सिंह सहित अन्य लोग मौजूद थे।

रेल मार्ग का निर्माण पहाड़ के लिए खतरनाक। शंकराचार्य

 जोशीमठ।  ज्योतिष एवं द्वारिका-शारदा पीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती महाराज ने कहा कि पहाड़ों में रेल लाइन का निर्माण खतरनाक है। पहाड़ पहले ही भूस्खलन की मार झेल रहे हैं। ऐसे में रेल लाइन के लिए पहाड़ों पर सुरंग बनाने से स्थिति और भी विकट हो जाएगी।  जोशीमठ के ज्योतिर्मठ महिमा महोत्सव में शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती ने कहा कि पहाड़ों में पहले से ही जल-विद्युत परियोजनाओं के निर्माण के दौरान सुरंगें बनाई गई हैं। अब रेल लाइन बिछाने के लिए भी सुरंगों का निर्माण होगा।

 इससे भूस्खलन में और बढ़ोत्तरी होने से पहाड़ के लोग तेजी से पलायन करेंगे। यह चिंताजनक स्थिति होगी। हाथी पहाड़ पर हो रहे भूस्खलन के लिए उन्होंने जेपी कंपनी की विष्णुप्रयाग परियोजना को जिम्मेदार ठहराया। कहा कि बड़ी परियोजनाएं पहाड़ के लिए ठीक नहीं है। शंकराचार्य ने कहा कि जिस प्रकार आद्य गुरु शंकराचार्य ने बदरीनाथ धाम की पैदल यात्रा कर यहां जगह-जगह चट्टियों, मंदिर व मठों की स्थापना करवाई थी। उनका अनुसरण करते हुए एक बार फिर चारधाम के लिए पैदल यात्रा प्रारंभ कराई जानी चाहिए।

 

फूलों की घाटी तक मार्ग खुला

 जोशीमठ । विश्व धरोहर फूलों की घाटी को पर्यटकों के लिए खोलने की कवायद तेज हो गई है। रविवार को फूलों की घाटी पैदल मार्ग से हिमखंड को काटकर रास्ता तैयार कर दिया गया। अब एक जून से घाटी में पर्यटकों की आवाजाही शुरू हो जाएगी। नंदा देवी राष्ट्रीय पार्क के अधिकारियों के नेतृत्व में मजदूरों ने बामणधौड़ समेत फूलों की घाटी तक पैदल मार्ग पूरी तरह दुरुस्त कर दिया है।

बामणधौड़ के तकरीबन 500 मीटर क्षेत्र में भारी-भरकम हिमखंड पैदल मार्ग की राह रोके हुए थे। मजदूरों ने कड़ी मशक्कत के बाद हिमखंड को काटकर घाटी तक रास्ता तैयार कर दिया। नंदा देवी राष्ट्रीय पार्क के डीएफओ चंद्रशेखर जोशी ने बताया कि रविवार को घाटी तक का पैदल मार्ग पूरी तरह से खोल दिया गया। इसके अलावा हनुमानचट्टी से कुंडखाल होते हुए भी घाटी के लिए पैदल मार्ग को खोला जाएगा। इसके लिए मजदूरों को कुंडखाल ट्रैक पर भेज दिया गया है। बताया कि दोनों ट्रैक से इस वर्ष पर्यटकों की आवाजाही कराने की योजना पार्क प्रशासन की है।

 

जून 2013 की आपदा से लिया जा रहा सबक

 रुद्रप्रयाग। आपदा जैसी घटनाओं की सही समय पर जानकारी उपलब्ध कराने को लेकर पुलिस तंत्र को मजबूत किया जा रहा है। इसके लिए पुलिस जवानों को वॉकी-टॉकी सेट उपलब्ध कराये जा रहे हैं, जो खराब मौसम, जाम लगने और सडक़ मार्ग के बंद होने पर शीइा्र जानकारी उपलब्ध करायेंगे। जिससे समय पर राहत-बचाव का कार्य किया जा सके।  दरअसल, आपदा की सही समय पर जानकारी उपलब्ध न होने के कारण राहत बचाव कार्यों में देरी हो जाती है। ऐसे में यात्रियों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। जून 2013 में आई आपदा के समय सही समय पर जानकारी उपलब्ध न होने के कारण हजारों लोगों की मौत हुई थी। उस दौरान अगर सही जानकारी मिल जाती तो यात्रियों की जान बचाई जा सकती थी, लेकिन उस समय प्रशासन और पुलिस तंत्र के साथ ही आपदा विभाग भी मजबूत नहीं था।

ऐसे में संसाधनों की कमी के कारण आपदा आने पर कोई तेजी नहीं दिखी। ऐसे में आपदा से सबक लेते हुए हर वर्ष केदार यात्रा में नये प्लान तैयार किये जा रहे हैं, जिससे पुलिस और प्रशासन की ओर से यात्रियों को सुविधाएं मिल सकें और यात्रियों को किसी भी समस्या से ना जूझना पड़े। इस बार भी पुलिस तंत्र को मजबूत किया जा रहा है और पुलिस जवानों को वॉकी-टॉकी सेट उपलब्ध कराये जा रहे हैं। जिससे जो खराब मौसम, जाम लगने और सडक़ मार्ग के बंद होने पर जल्द से जल्द सूचना उपलब्ध कराई जा सके और शीइा्र समस्या का समाधान किया जा सके। पुलिस अधीक्षक प्रह्लाद नारायण मीणा ने बताया कि अल्टरनेट कनेक्टविटी के ऑपशन के तौर पर पुलिस के जवानों के पास वायरलेस सेट हैं, जिनके माध्यम से संपर्क किया जाता है। लेकिन कभी ऐसी स्थिति आ जाती है कि मौसम खराबी के चलते ये सेट काम नहीं कर पाते हैं।

ऐसे में सही समय पर जानकारी उपलब्ध नहीं हो पाती है। उन्होंने बताया कि मौसम को देखते हुए यात्रा पर कोई प्रभाव न पड़े, इसके लिए तैयारियां की गई है। जिलाधिकारी की ओर से दस वॉकी-टॉकी सेट उपलब्ध कराये गये हैं। इन सेटों को जवानों को दिया जायेगा, जो पांच-पांच किमी के दायरे पर रहेंगे और डेंजर जोन, ब्लाइंग जोन, हाइवे जोन पर कोई परेशानी होने पर शीइा्र जानकारी देंगे। इसके अलावा मौसम की भी जानकारी उपलब्ध करायेंगे। यात्रा मार्ग के सोनप्रयाग से केदारनाथ धाम तक यह सेट पुलिस के जवानों को दिये गये हैं। रास्ते में यात्रियों को कोई परेशानी होने पर राहत बचाव के कार्य में ये वॉकी-टॉकी सेट मदद्गार साबित होंगे। उन्होंने बताया कि इन सेटों पर मौसम कनेक्टिविटी का कोई फर्क नहीं पड़ता है। यात्रा मार्ग पर खराब मौसम, जाम लगने और सडक़ व पैदल मार्ग के बंद होने की स्थिति में शीइा्र जानकारी दी जा सकती है। 

दोपहर बाद धाम में हो रही है हर दिन बारिश

 रुद्रप्रयाग। भारी बरसात में बाबा के दर्शनों के लिए लाइन में लगने वाले तीर्थ यात्रियों की सुरक्षा को लेकर प्रशासन ने नई तरकीब निकाली है। इसके लिए जिला प्रशासन ने तीन हजार छातों की डिमांड भेजी है, जो जल्द ही धाम पहुंच जायेगी और बरसात होने पर यात्रियों को सौंपे जायेगी, जबकि बरसात बंद होने पर पुन: यात्रियों को छाते वापस करने होंगे।  दरअसल, बाबा केदार के धाम में हर दिन बारिश होती है। ऐसा भी होता है कि भारी बरसात के साथ ओले भी गिरने लगते है। जिससे तीर्थयात्रियों की परेशानियां बढ़ जाती है। अकसर इस समस्या से तीर्थ यात्रियों को जूझना पड़ता है। खासतौर पर मई और जून माह में यात्रा के परवान चढऩे और बरसाती सीजन होने से तीर्थयात्री परेशान रहते हैं।

वर्षों से केदारधाम से सरस्वती नदी तक रेन शेड निर्माण की मांग की जा रही है, मगर तीर्थ पुरोहितों और यात्रियों की इस मांग पर आज तक अमल नहीं हो पाया है। केदारनाथ में इन दिनों हजारों की संख्या में श्रद्घालु बाबा के दर्शनों के लिए पहुंच रहे हैं और सुबह ही श्रद्घालु लाइन में लगकर अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं। बाबा के दर्शनों के लिए यात्रियों की कतार सीधे पांच सौ मीटर सरस्वती नदी तक लग रही है। ऐसे में दूर लाइन में खड़े यात्रियों का नम्बर सीधे दोपहर या सांय तक ही आ रहा है, लेकिन तब तक धाम में बारिश का आगमन हो रहा है। ऐसे में तीर्थयात्रियों को बारिश में भीगकर बाबा के दर्शनों का इंतजार करना पड़ता है, लेकिन अब प्रशासन ने यात्रियों की सुरक्षा का रास्ता निकाल लिया है। केदारधाम में बारिश होने के बाद पीआरडी जवान तेजी से लाइन में लगे तीर्थयात्रियों को छाते उपलब्ध करायेंगे, जिससे उन्हें ठंड और बारिश में भीगना ना पड़े। साथ ही उन तीर्थयात्रियों को भी यह सुविधा उपलब्ध कराई जायेगी, जो अपने साथ छाते लेकर न आये हों और धाम में इधर-उधर घूमना चाहते हैं।

जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने बताया कि यात्रियों की सुरक्षा को लेकर प्रशासन कमर कसे हुए है। बरसात में तीर्थयात्रियों को कोई परेशानी का सामना न करना पड़े, इसके लिए तीर्थयात्रियों को छाते उपलब्ध कराये जा रहे हैं। जिला प्रशासन की ओर से तीन हजार छातों की व्यवस्था की जा रही है, जो लाइन में खड़े तीर्थयात्रियों के बचाव का काम करेंगे। इसके अलावा अन्य तीर्थयात्रियों को भी छाते दिये जायेंगे। यात्रियों को इन छातों का उपयोग करने के बाद वापस लौटाना होगा, जिससे अन्य यात्री भी इनका उपयोग कर सकें। उन्होंने बताया कि धाम में रेन शेड निर्माण को लेकर शासन को प्रस्ताव भेजा गया था, जिस पर स्वीकृति प्राप्त हो गई है। इस यात्रा सीजन में यह शेड नहीं बन पायेगा, लेकिन अगले यात्रा सीजन में शेड बनकर तैयार हो जायेगा। जिसके बाद यात्रियों की परेशानियां खत्म हो जायेंगी। 

रुडक़ी शहर के 38 एटीएम में नगदी नहीं

 रूडक़ी।शहर में फिर से नगदी का संकट खड़ा हो गया है। नगदी की कमी के चलते एसबीआई के शहर में लगे 38 एटीएम पूरी तरह ठप हो गए हैं जबकि कुछ प्राइवेट बैंकों की भी यही हालत है। इससे लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।  नोटबंदी के बाद से शुरू हुआ नगदी का संकट दूर होने का नाम नहीं ले रहा है। बार बार बैंकों में नगदी की कमी हो रही है। अन्य बैंकों से नगदी एकत्र कर किसी तरह काम चलाया जा रहा है। रविवार को कई एटीएम नगदी की कमी के चलते ठप हो चुके थे। रही सही कसर सोमवार को पूरी हो गई।

शहरभर में लगे एसबीआई के 38 एटीएम में नगदी खत्म हो गई। इसके साथ ही कुछ प्राइवेट बैंकों के एटीएम दिखावे के लिए खुले रहे। वहां पहुंचे ग्राहकों को भी सिर्फ बैलेंस चेक करने की सुविधा मिली। नगदी निकालने की आस लिये पहुंचे लोग बैरंग लौटने को मजबूर हुए। बैंकों के सूत्रों ने बताया कि कर्मचारियों के खाते वाले बैंकों में ही नगदी का संकट आ रहा है। वहां से नगदी निकल रही है जबकि जमा के लिए लोग नहीं आ रहे हैं। ऐसे में इन बैंकों में नगदी का संकट खड़ा हो रहा है जबकि व्यापारियों के खातों वाले बैंकों में नगदी का संकट नहीं है। उधर, एसबीआई के स्पेशल असिस्टेंट वीके गुप्ता ने बताया कि नगदी के संकट के चलते ही एटीएम बंद हुए हैं। एसबीआई मुख्य ब्रांच से जुड़ी अन्य बैंकों को पांच पांच लाख रुपये देकर काम चलाया जा रहा है।  

व्यापारी से लूट का खुलासा, सभी छह बदमाश गिरफ्तार

 रूडक़ी। लक्सर गांव के व्यापारी से करीब दो महीने पहले हुई लूट का सोमवार को पुलिस ने खुलासा कर दिया। पुलिस ने लूट करने वाले सभी छह बदमाशों को गिरफ्तार कर उनके पास से दो तमंचे, कारतूस, चाकू के अलावा व्यापारी से लूटी गई काफी रकम और बही खाते आदि बरामद कर लिए गए हैं। बदमाशों के सरगना पर रुडक़ी के अलावा मुंबई में भी लूट के मामले दर्ज हैं। सोमवार को एसपी देहात मणिकांत मिश्रा ने लक्सर कोतवाली में प्रेस वार्ता कर बताया कि बीती रात छह बदमाश पुराकाजी रोड पर बनी दुकानों के पीछे एकत्र होकर खानपुर क्षेत्र के एक ज्वैलर से लूट की योजना बना रहे थे। मुखबिर की सूचना पर एसओ खानपुर ने पुलिस के साथ दबिश देकर सभी छह बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया। तलाशी में उनके पास से दो देशी तमंचे, कारतूस और एक चाकू बरामद हुआ।

उनसे थाने लाकर पूछताछ की गई तो पता चला कि इसी गैंग ने दो महीने पहले लक्सर गांव के व्यापारी से सुल्तानपुर क्षेत्र में 61 हजार रुपये की लूट की थी। इसके बाद पुलिस ने बदमाशों की निशानदेही पर लूटी गई रकम में से 16 हजार रुपये व सारे खाते बही बरामद कर लिए। एसपी देहात ने बताया कि गैंग इससे पहले पथरी थाना क्षेत्र में एक ज्वैलर्स, मोबाइल दुकानदार और फाइनेंस व्यापारी को भी लूट चुका है। गैंग का सरगना लूट के एक मामले में करीब साढ़े तीन साल मुंबई जेल में रहा है। उसके खिलाफ रुडक़ी में भी लूट का एक मामला दर्ज है। खुलासा करने वाली टीम में एसओ खानपुर राजीव चौहान, एसआई भगत दास, एचसीपी यशवंत सिंह के अलावा सिपाही पवन कुमार, हरीश राणा, नरेश जोशी, चेतन व कुलदीप शामिल हैं। टीम को एसएसपी ने ढाई हजार का इनाम देने की घोषणा की है।

गुमशुदा छात्रा के परिजनों ने जताई हत्या की आशंका

 रूडक़ी। खड़ंजा से संदिग्ध परिस्थिति में लापता हुई छात्रा का बीस दिन बाद भी पता नहीं चल सका है। छात्रा के परिजनों ने अब मुंडाखेड़ा खुर्द गांव के दो युवकों पर छात्रा का अपहरण कर हत्या करने का संदेह जताते हुए पुलिस को तहरीर दी है। दोनों युवक भी घटना के दिन से ही गायब बताए जा रहे हैं। लक्सर के खड़ंजा कुतुबपुर गांव की एक किशोरी पास के मुंडाखेड़ा कलां गांव में स्थित राजकीय बालिका इंटर कॉलेज में कक्षा नौवीं की छात्रा है। इसी 8 मई को वह संदिग्ध परिस्थिति में अपने घर से गायब हो गई थी। तलाश के बावजूद पता न चलने पर परिजनों ने 11 मई को लक्सर कोतवाली में उसकी गुमशुदगी दर्ज कराई थी।

लेकिन पुलिस अभी तक किशोरी का कोई पता नहीं लगा सकी है। सोमवार को किशोरी के परिजनों ने फिर से लक्सर कोतवाल नवीनचंद्र सेमवाल से मुलाकात की। परिजनों ने मुंडाखेड़ा खुर्द के दो युवकों पर किशोरी का अपहरण करके हत्या किए जाने का संदेह भी जताया। उनका कहना था कि दोनों युवक किशोरी की गुमशुदगी वाले दिन से ही गायब हैं। गुमशुदगी की जांच कर रहे दारोगा को भी इसकी जानकारी दी गई थी। मामले में हत्या की संभावना जताए जाने के बाद पुलिस ने इसके खुलासे के लिए भागदौड़ तेज कर दी है। कोतवाल सेमवाल ने बताया कि किशोरी के साथ ही दोनों युवकों की भी तलाश की जा रही है।

चौ.चरण सिंह को किया याद

 रूडक़ी। नारसन में किसानों के मसीहा और पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह की पुण्यतिथि पर हवन कर उन्हें भावपूर्ण श्रद्धाजंलि दी गई।पुहाना मार्ग पर रालोद नेताओं ने पार्टी के कार्यालय पर चौधरी चरण सिंह की पुण्यतिथि पर हवन का आयोजन किया। साथ ही उनके चित्र पर पुष्पाजंलि अर्पित कर उन्हें श्रद्धाजंलि दी।

वक्ताओं ने कहा कि दल के लोग चौधरी साहब के आदेशों पर चलकर किसान मजदूर वर्ग के हित में लगातार आवाज उठाते रहें, तभी उन्हें सच्ची श्रद्धाजंलि होगी। इस मौके पर रालोद जिलाध्यक्ष संजीव कुमार, जयकुमार मुखिया, रविन्द्र सिंह, चौधरी आदित्य सिंह, हरमीत, प्रवीण, हरेन्द्र, रामपाल,आदि लोग मौजूद थे। इसके अलावा किसानों ने आरएमपी कॉलेज मे लगी चौधरी चरण सिंह की मूर्ति पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धाजंलि दी गई।

महिला की मौत के मामले में पति गिरफ्तार

 रूडक़ी। पांच दिन पहले संदिग्ध हालत में हुई महिला की मौत के मामले में पुलिस ने आरोपी पति को गिरफ्तार किया है। अभी भी इस मामले में आठ आरोपी पुलिस पकड़ से बहार हैं।भगवानपुर चंदनपुर में 24 मई की रात में विवाहिता रुखसार की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी। गले पर फांसी का निशान मिलने से मृतका के मायके वालों ने हत्या का आरोप लगाते हुए हंगामा काटा था।

पुलिस ने मृतका के पिता अनवार निवासी भैंसरेड़ी की तहरीर पर पति, सास, ससुर, देवर समेत 9 लोगों के खिलाफ दहेज हत्या का मुकदमा दर्ज किया था। चौकी प्रभारी संजीव चौहान ने बताया कि सोमवार को आरोपी पति शाहनवाज पुत्र मनसब को गिरफ्तार किया गया है। उनका कहना है कि शीघ्र इस मामले में फरार चल रहे आरोपित लोगों की गिरफ्तारी की जाएगी।

अवैध खनन में दो ट्रैक्टर ट्राली सीज

 विकासनगर। कार्यालय संवाददातातिमली रेंज क्षेत्र के अंतर्गत अवैध खनन की निकासी कर रही दो ट्रैक्टर ट्रालियों को वन विभाग की टीम ने पकड़ा है। दोनों ट्रैक्टर ट्रालियों के चालक मौके से फरार हो गये। वन विभाग ने दोनों ट्रैक्टर ट्रालियों को सीज कर अज्ञात के खिलाफ वन अधिनियम में मुकदमा दर्ज कर दिया है।तिमली रेंज क्षेत्र के अंर्तगत यमुना नदी में अवैध खनन कर दो ट्रैक्टर ट्रालियां खनन सामग्री की निकासी कर रहे थे। मुखबिर की सूचना पर वन विभाग की टीम ने हरबर्टपुर पांवटा रोड पर छापेमारी कर दोनों ट्रैक्टर ट्रालियों को पकड़ लिया। इस बीच दोनों ट्रैक्टर चालक मौके से फरार हो गये।

वन विभाग की टीम ने दोनों ट्रैक्टर ट्रालियों को रेंज कार्यालय धर्मावाला में सीज कर दिया है। रेंज अधिकारी आनंद सिंह रावत ने बताया कि दोनों ट्रैक्टर ट्रालियों के अज्ञात चालकों के खिलाफ वन अधिनियम में मुकदमा दर्ज कर दिया है। बताया कि आरोपी चालकों की तलाश में उनके ठिकानों पर दबिश दी जा रही है। वन विभाग की टीम में वनारक्षी प्रदीप चौहान, संतराम, अतरसिंह,जमनसिंह, नरेंश व वीरेंद्र आदि शामिल रहे।

 

कायस्थ महासभा युवाओं को देगा स्वरोजगार में मदद

 देहरादून । अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के प्रांतीय सम्मेलन में नई पीढ़ी को समाज के महापुरूषों की जानकारी देने व युवाओं को स्वरोजगार की तरफ प्रेरित करने का संकल्प लिया गया। गांधी रोड स्थित जैन धर्मशाला में समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष एके श्रीवास्तव ने कहा कि, कायस्थ समाज के अधिक से अधिक प्रचार-प्रसार की जरूरत है। कई आईएएस, आईपीएस अफसर देने के बावजूद समाज की भागीदारी राजनैतिक रूप से बहुत कम है। समाज के महापुरूषों की जीवनी नई पीढ़ी तक पहुंचाने के लिए वाचनालय, पुस्तकालयों की स्थापना की जानी चाहिए। युवाओं को स्वरोजगार से जोडऩे के लिए महासभा की ओर से बैंक खोलने पर विचार हो रहा है ताकि स्वरोजगार से जुडऩे की इच्छा रखने वालों को लोन की सुविधा दी जा सके।

 

राष्ट्रीय महासचिव शरद सक्सेना ने संगठन की मजबूती पर बल देते हुए कहा कि हरेक शहर में सक्रिय समाज के पदाधिकारियों को बोर्ड के जरिए समाज के लोगों अपने नाम, नम्बर की जानकारी देनी चाहिए। ताकि जरूरत पडऩे पर काम आ सके। राष्ट्रीय संयोजक मनीष श्रीवास्तव ने कहा कि स्वामी विवेकानंद भी कायस्थ समाज का गौरव हैं। इसलिए समाज हर प्रदेश में उनकी कांसे की कम से कम दो प्रतिमा लगाने की योजना बना रहा है। उन्होंने नई दिल्ली में दो अक्तूबर को महासम्मेलन आयोजन की जानकारी देते हुए बताया कि इसमें करीब पांच लाख लोगों की भागीदारी की उम्मीद है। समाज के सामने ये समय राजनैतिक रूप से अपना हक जताने का है। संस्था की ओर से सीबीएसई परीक्षा परिणाम में 95 प्रतिशत अंक लाने वाली एसजीआरआर की छात्रा प्राची श्रीवास्तव को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। मौके पर प्रदेश अध्यक्ष अंशु सक्सेना, प्रदेश महासचिव विवेक श्रीवास्तव, कोषाध्यक्ष अजय भटनागर, महिला शाखा अध्यक्ष अनिता सक्सेना, संजय श्रीवास्तव, शिव भटनागर, बृजलाल भटनागर, साधना सिंह, डीएन सक्सेना, रजत श्रीवास्तव मौजूद थे।

 

बाल आयोग के तीन सदस्यों ने कार्यभार ग्रहण किया

 देहरादून। उत्तराखंड राज्य बाल संरक्षण आयोग के नवनियुक्त तीन सदस्यों ने सोमवार को विधिवत कार्यभार ग्रहण कर लिया है। सरकार की ओर से कुल पांच सदस्य नामित किए गए थे, जिनमें तीन सोमवार को आयोग कार्यालय पहुंचे।

सोमवार सुबह आयोग कार्यालय में योगदान देने वालों में नवनियुक्त सदस्य सुमाड़ी, रुद्रप्रयाग निवासी वाचस्पति सेमवाल, गुरुद्वारा रोड, करनपुर देहरादून निवासी शारदा त्रिपाठी और अंसारी मार्ग देहरादून निवासी सीमा डोरा शामिल रहे। इन्होंने बाल अधिकारों को लेकर लोगों को जागरूक करने और आयोग के दायरे को बढ़ाने में अहम भूमिका निभाने की प्रतिबद्धता जाहिर की। इस मौके पर भाजपा नेता हरीश नारंग, संतोख नागपाल, विनय कोहली, संजीव विज, दिनेश रावत, उषा रावत, अभिनव डोरा, ऋचा डोरा, वैशाखी डोरा, रविंद्र मंद्रवाल समेत अन्य मौजूद रहे।

सीएम ने सतपाल महाराज के विभागों की समीक्षा की

 देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सोमवार को सचिवालय में कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज के साथ उनके विभागों सिंचाई, लघु सिंचाई, जलागम, पर्यटन और संस्कृति की समीक्षा की। बैठक में जहां एक ओर मुख्यमंत्री ने विभागों को विभिन्न योजनाओं पर मार्गदर्शन एवं सुझाव दिए वही दूसरी ओर उनके द्वारा किये गये कार्यों पर कई कड़े प्रश्न भी पूछे। सिंचाई, लघु सिंचाई और जलागम द्वारा खेती और किसानों को क्या लाभ मिल रहा है, इसका सीधा-सीधा विवरण विभागों से तलब किया जाए। पर्यटन विभाग को प्रत्येक जनपद में एक नया इको फ्रेंडली डेस्टीनेशन विकसित करने के साथ ही अपेक्षाकृत कम प्रसिद्घ पर्यटन स्थलो का प्रचार-प्रसार करने के निर्देश भी दिए गए। संस्कृति विभाग को थीम पार्क की तर्ज पर उत्तराखण्ड की समग्र संस्कृति, चारधाम एवं अन्य मंदिर, प्रसिद्घ पर्यटन स्थल, वास्तुशिल्प एवं लोककला को एक स्थान पर प्रदर्शित करने के लिए वृहद योजना बनाने के निर्देश दिए गए। 

 
सिंचाई विभाग की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री ने प्रदेश की नदियों और झीलों के पुनर्जीवन को सिंचाई विभाग की प्रथमिकताओं में शामिल करने के निर्देश दिए। बैठक में बताया गया कि सिंचाई विभाग ने कोसी नदी के पुनर्जीवन के लिए तीन वर्षों हेतु लगभग 53 लाख रूपये की योजना बनाई है। इसी प्रकार भीमताल एवं नौकुचियाताल के लिए भी योजना बनाई जा रही है। नैनी झील के बारे में बताया गया कि अभी तक इसकी देखरेख लोक निर्माण विभाग के अन्तर्गत है, जिस पर मुख्यमंत्री ने नैनीताल के पुनर्जीवन एवं जल संग्रहण को बढ़ाने के लिए इसे सिंचाई विभाग को सौंपने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने देहरादून में रिस्पना व बिंदाल नदियों के पुनर्जीवन के लिए भी सिंचाई विभाग को ठोस कार्ययोजना बनाने के निर्देश दिए। यह भी निर्णय लिया गया कि पंचेश्वर बाँध से सम्बंधित सभी विभागों की मीटिंग मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में हर महीने होगी। उन्होंने पूछा कि सिंचाई विभाग ने अचानक नदियों का जल स्तर बढऩे या किसी प्राकृतिक कारण से नदियों में झील बनने को मॉनीटर करने की क्या व्यवस्था की है। सिंचाई विभाग को इस दिशा में आधुनिक तकनीकि का प्रयोग करने के निर्देश दिए गए। उन्होंने पिथौरागढ़ में प्रस्तावित थारकोट झील को जल संरक्षण के साथ ही जलापूर्ति के लिए उपयोग करने के निर्देश भी दिए। पौड़ी में खैरासैंण रिजर्वायर के लिए शीइा्र अध्ययन कर रिपोर्ट बनाने को कहा।
 
मुख्यमंत्री ने सिंचाई विभाग को गंगा नदी के जल का गौमुख से हरिद्वार तक विभिन्न स्थलों पर प्रयोगशाला परीक्षण करने के निर्देश भी दिए। सिंचाई
विभाग द्वारा बताया गया कि वर्तमान में निर्माणाधीन 361 परियोजनाओं की अवशेष लागत 801 करोड़ रूपये है। केन्द्र सहायतित 61 परियोजनाओं में भारत सरकार से 380 करोड़ रूपये अवमुक्त किये जाने की मांग की जानी है। गंगा मैनेजमेंट बोर्ड का प्रस्ताव भारत सरकार को प्रेषित कर दिया गया है। फ्लड प्लेन जोनिंग एक्ट के अन्तर्गत हरिद्वार व उत्तरकाशी के लिए अधिसूचना जारी हो चुकी है। लघु सिंचाई विभाग द्वारा बताया गया कि पूरे प्रदेश में 5$24 लाख हेक्टेयर सिंचन क्षमता विकसित की गई है। इन सिंचाई योजनाओं में गूल, हौज, हाईड्रम, बोरिंग पम्पसैट, नलकूप, आर्टीजन वैल सभी शामिल है। वर्ष 2016-17 में लघु सिंचाई विभाग का बजट 900$3 करोड़ रूपये था और 6 हजार हेक्टेयर सिंचन क्षमता लक्ष्य के सापेक्ष 6 हजार 455 हेक्टेर क्षमता विकसित की गई। मुख्यमंत्री ने लघु सिंचाई और जलागम की सभी परियोजनाओं के नियमित परीक्षण एवं जियो टैगिंग के निर्देश भी दिए। जिससे कार्यों की पारदर्शिता में वृद्घि हो। जलागम विभाग को किसानो के लिए चारा विकास योजना को बढावा देने के निर्देश दिए गए। 
 
पर्यटन एवं संस्कृति विभाग की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री ने सभी 13 जनपदो में 13 नये पर्यटन स्थल विकसित करने का टारगेट दिया। इसके साथ ही वर्तमान पर्यटक स्थलों में पर्यटक एवं अन्य आवश्यक अवस्थापना सुविधाओं का अध्ययन कराकर आवश्यक सुधार करने के निर्देश भी दिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि गांवों से पलायन को रोकने के लिए लोगो को पर्यटन आधारित रोजगार उपलब्ध कराया जाए। होम स्टे योजना की बुकिंग को जीएमवीएन व केएमवीएन के पैकेजों में सम्मिलित किया जाए। उत्तराखण्ड के स्थानीय उत्पादों चौलाई, मंडुवा व झंगोरा से बनने वाले प्रसाद को प्रोत्साहित किया जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि एक समय सीमा निर्धारित कर ईलायची दाना के प्रसाद को पूरी तरह से स्थानीय उत्पादों से बनने वाले प्रसाद से रिप्लेस कर दिया जाए।
उन्होंने अपेक्षाकृत कम प्रसिद्घ धार्मिक एवं पर्यटन स्थलों की जानकारी का प्रचार-प्रसार करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने स्थानीय व्यंजनों को प्रोत्साहित करने के लिए डॉकुमेंटेशन (अभिलेखीकरण) के निर्देश भी दिए। बैठक में बताया गया कि केदारनाथ रोपवे निर्माण हेतु कार्यवाही गतिमान है। बैठक में मुख्य सचिव एस$रामास्वामी, प्रमुख सचिव डॉ$उमाकांत पंवार, सचिव मुख्यमंत्री राधिका झा, अपर सचिव पर्यटन ईवा आशीष, एम$डी जीएमवीएन अतुल गुन्ता, एमडी केएमवीएन धीराज गब्र्याल, निदेशक संस्कृति बीना भट्ट सहित शासन एवं विभागों के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित रहे।

सीएम ने पत्रकारिता दिवस पर पत्रकारों को शुभकामनाएं दी

 देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने हिन्दी पत्रकारिता दिवस पर मीडिया प्रतिनिधियों विशेषकर हिन्दी मीडिया के लोगों को शुभकामनाएं दी है। हिन्दी पत्रकारिता दिवस की पूर्व संध्या पर जारी अपने संदेश में मुख्यमंत्री ने कहा कि भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में हिन्दी पत्रकारिता का विशेष योगदान रहा है। हिन्दी पत्रकारिता सदैव मिशनरी भाव की पर्याय रही है।

आज भी हिन्दी पत्रकारिता देश के एक विशाल जन मानस को आधुनिक युग के अवसरो एवं चुनौतियों के लिये तैयार एवं शिक्षित करती है। लोकतंत्र के चतुर्थ स्तम्भ पत्रकारिता ने देश की राजनीति के साथ ही आर्थिक, सामाजिक, सांस्तिक आदि विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय भूमिका निभाई है। उत्तराखण्ड में हिन्दी पत्रकारिता का स्वर्णिम इतिहास रहा है और यहां के पत्रकारों ने आजादी के आन्दोलन से लेकर उत्तराखण्ड राज्य प्राप्ति आन्दोलन में भी अपनी लेखनी से जनजागरण का महान कार्य किया है। 

सीडीएस की तैयारी कर रहे युवक स्मैक तस्करी में गिरफ्तार

देहरादून। बरेली के दो तस्कर दबोचने के बाद पुलिस ने दून में एजेंट के रूप में स्मैक बेचने वाले दो और युवकों को क्लेमनटाउन पुलिस ने गिरफ्तार किया है। दोनों युवक कैंट क्षेत्र में सीडीएस की तैयारी कर रहे थे। उनके पास 40 ग्राम स्मैक बरामद हुई है। बाजार भाव में स्मैक की कीमत दो लाख रुपये आंकी गई है। राजधानी में नशे के खिलाफ चलाये जा रहे पुलिस के अभियान के दौरान क्लेमनटाउन पुलिस को 24 घंटे के भीतर दूसरी सफलता मिली है। शुक्रवार को पुलिस ने आशिफ व अरबाज निवासी फतेहगंज बरेली को चार लाख रुपये की स्मैक के साथ गिरफ्तार किया था। दोनों को जेल भेजने के बाद शुक्रवार रात को सुभाष रोड़ में चेकिंग के दौरान दो युवक संदिग्ध रूप से घूमते हुए पकड़े। पूछताछ में आरोपियों ने अपना नाम फिरोज निवासी शांति विहार नींबूवाला कैंट तथा सचिन कुमार मंडावाली बिजनौर बताया।

चेकिंग करने पर उनके पास अलग-अलग पुडिया में करीब 40 ग्राम स्मैक मिली। पूछताछ में बताया कि यह स्मैक वह बरेली से खरीदकर दून में अलग-अलग कॉलोनी में रहने वाले एजेंटों और युवकों को देने जा रहे थे। इससे पहले भी वह आशिफ से स्मैक की मोटी खेप दून पहुंचा चुके हैं। क्लेमनटाउन एसओ दिलवर सिंह बिष्ट ने बताया कि आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। कोर्ट में पेश करने के बाद आरोपियों को जेल भेज दिया है। दोनों कैंट क्षेत्र में सीडीएस की तैयारी कर रहे थे। फिरोज पहले भी जेल जा चुका है। इधर, एसपी सिटी प्रदीप राय ने क्लेमनटाउन पुलिस को 15 सौ रुपये ईनाम देने की घोषणा की है।

45 नशेडिय़ों के नम्बर मिले एसओ दिलवर बिष्ट ने बताया कि आरोपियों के मोबाइल की कॉल डिटेल खंगाली तो उसमें करीब 45 ऐसे लोगों की डिटेल मिली, जो इनसे हर माह स्मैक खरीदते थे। इनमें इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने वाले युवाओं की संख्या ज्यादा है। पुलिस जल्द इन युवकों को थाने में बुलाकर पूछताछ करेगी। पहले खरीदते थे और अब बेच रहे पुलिस ने बताया कि स्मैक तस्करी में कुछ ऐसे युवकों के नाम सामने आए हैं, जो पहले पीने के लिए खरीदते थे, मगर अब पैसों के लालच में धंधे में शामिल हो गए हैं। नशे की लत लगने तथा खर्चा चलाने के लिए वह ऐसा काम कर रहे हैं। इन युवकों को सूचीबद्ध कर पुलिस सुधार के लिए अभिभावकों से संपर्क करेगी।

जमीन फर्जीवाड़े में साढ़े 13 लाख रुपये ठगने का मुकदमा

देहरादून। पटेलनगर पुलिस ने जमीन के नाम पर साढ़े 13 लाख रुपये की ठगी करने वाले दंपति के खिलाफ फर्जीवाड़े और अमानत में ख्यानत का मुकदमा दर्ज किया है। एसआईटी की जांच रिपोर्ट मिलने के बाद पुलिस ने यह मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस जल्द फर्जीवाड़े के आरोपियों से पूछताछ करेगी। पटेलनगर कोतवाली के प्रभारी इंस्पेक्टर रितेश साह ने बताया कि अजबपुर बहुगुणा कॉलोनी निवासी पुरुषोत्तम प्रसाद बहुगुणा और देहराखास टीएचडीसी निवासी देवेश गुप्ता आपस में परचित थे।

आरोप है कि पुरुषोत्तम प्रसाद से देवेश गुप्ता और उनकी पत्नी पारुल ने सात लाख रुपये उधार लिए थे। उधार न चुकाने पर आरोपियों ने जमीन देने का वायदा किया। जमीन की कीमत करीब साढ़े 13 लाख रुपये होने पर पुरुषोत्तम प्रसाद ने अतिरिक्त रकम भी आरोपियों को दी गई। इस पर जल्द रजिस्ट्री कराने का भरोसा दिया गया। टाल-बराई करने पर मामला एसआईटी पहुंचा। जहां जांच करने पर आरोप सही पाए गए। एसआईटी ने पटेलनगर पुलिस को रिपोर्ट भेजी। इंस्पेक्टर साह ने बताया कि एसआईटी की रिपोर्ट पर पारुल गुप्ता और उनके पति देवेश गुप्ता के खिलाफ फर्जीवाड़ा, षड्यंत्र रचने तथा अमानत में ख्यानत का मुकदमा दर्ज कर लिया है। उन्होंने बताया कि आरोपियों से पूछताछ के बाद कार्रवाई की जाएगी।

ओएनजीसी के पहले कॉरपोरेट दल ने फतह किया एवरेस्ट

देहरादून। ओएनजीसी के 11 सदस्यीय कॉरपोरेट अभियान दल ने दुनिया के सबसे ऊंचे शिखर एवरेस्ट पर चढऩे में सफलता प्राप्त की है। अभियान दल के टीम लीडर पद्मश्री लवराज धर्मशतु समेत ओनएनजीसी के तीन सदस्य योगेन्द्र गबरियाल, एन जागोई व राहुल जमगल भी शनिवार सुबह एवरेस्ट पर सफलतापूर्वक कदम रखा। समूचा ओएनजीसी परिवार दल की इस सफलता को लेकर बेहद खुशी है। अभियान दल को ये सफलता पद्मश्री पर्वतारोही लवराज धर्मसत्तु के निर्देशन में मिली है। जो पहले भी छह बार एवरेस्ट फतह कर चुके हैं। लवराज व योगेन्द्र ने सुबह छह बजकर दस मिनट पर शिखर पर चढऩे में कामयाबी पाई। इसके बाद जागोई व राहुल सात बजकर 45 मिनट पर एवरेस्ट पर चढऩे में कामयाब रहे। सभी सदस्य दस बजकर पैंतालिस मिनट पर सुरक्षित कैम्प संख्या चार में लौट आए। सभी पूरी तरह स्वस्थ हैं और इस अभियान को सफलतापूर्वक पूरा करने के बाद पूरे जोश में हैं। लवराज बीएसएफ के असिस्टेंट कमांडर हैं और इस समय देहरादून के डोईवाला में तैनात हैं।

इस सफलता के साथ ओएनजीसी पहला ऐसा कॉरपोरेट अभियान दल हो गया है जो दुनिया के सबसे ऊंचे शिखर (8848 मीटर) तक चढऩे में कामयाब रहा है। ओएनजीसी ने 11 सदस्यीय अपने अभियान दल को दो हिस्सों में बांटा था। जिसमें पहली पहले ग्रुप के चार सदस्यों को ये कामयाबी मिली है। इस अभियान से जुड़े सभी सदस्यों को ओएनजीसी ने विशेष तौर पर एक अभियान चलाकर चुना था। सभी को इंडियन माउंटेनियरिंग फेडरेशन(आईएमएफ) के द्वारा गहन प्रशिक्षण सत्रों से गुजारा गया। अभियान को पेट्रोलियम व प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने 27 मार्च को नई दिल्ली से हरी झंडी दिखाकर रवाना किया था। अप्रैल पहले हफ्ते में अभियान दल नेपाल पहुंचा था। इसके बाद अभियान की शुरूआती तैयारी के तहत नेपाल की 6119 मीटर लोबुचे ईस्ट पर चढ़ाई की गई। टीम संख्या एक के सदस्य 25 मई को भी एवरेस्ट शिखर के बेहद नजदीक पहुंच चुके थे। लेकिन खराब मौसम के कारण उन्हें कैम्प टू में आना पड़ा। इसके बाद एक बार फिर उन्होंने अपने दूसरे प्रयास में सफलता प्राप्त की। आईएमएफ प्रेजीडेंट कर्नल एचएस चौहान के मार्गदर्शन में दल ने अपनी तैयारियों को अंजाम दिया। ओएनजीसी के चीफ कॉरपोरेट कम्यूनिकेशन पल्लव भट्टाचार्य ने दल के सदस्यों को बधाई दी है।

पिछले कई माह से क्षतिग्रस्त पड़ा है लैंसडाउन चौक का नाला

देहरादून। राजधानी में जगह-जगह कई ऐसे मंजर अथवा दृश्य देखने को मिल जाएंगे जो कि सरकार व शासन-प्रशासन  एवं सम्बंधित विभाग की कार्यशैली पर सवालिया निशान तो लगा ही रहे हैं साथ ही ये सभी ऐसी दुर्दशाओं के लिए शायद जनता के दरबार में कहीं न कहीं दोषी भी है। अधिकतर ऐसी समस्याएं आम तौर पर ज्यों की त्यों पड़ी रहती हैं लेकिन जब कोई वीआईपी/वीवीआईपी का भ्रमण या फिर कार्यक्रम होने को आता है तो वहां की समस्या को निपटाने में अफसरान कतई देरी नहीं करते और वह समस्या फौरन ही हल हो जाती है। राजधानी के मुख्य स्थान परेड ग्राउण्ड में लैंसडाउन चौक के समीप एक नाले के लम्बे समय से क्षतिग्रस्त पड़े होने का मामला भी कुछ ऐसा ही है।
   

लैंसडाउन चौक के पास किनारे पर नाले का निर्माण न होने के कारण न सिर्फ राजधानी की खूबसूरती के दावों में ग्रहण लगा हुआ है बल्कि उसका लम्बे समय से क्षतिग्रस्त होने से दुर्घटनाओं को न्यौता भी दे रहा है। हैरानी की बात तो यह है कि इसी मुख्य चौराहे के पास उत्तरांचल प्रेस क्लब है और वहां पर आगामी 30 मई को ही आयोजित एक कार्यक्रम में मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत को शिरकत करनी है। ऐसे में नगर निगम, प्रशासन एवं अन्य अफसरों के हाथ-पांव फूले हुए नजर आ रहे है तथा वे इस क्षतिग्रस्त पड़े नाले व सडक़ की मरम्मत करने में जुटे हुए हैं। देखना यह है कि क्या निर्धारित समय से पहले तक इस समस्या का समाधान कर लिया जाएगा?

उच्च शिक्षण संस्थानों में क्वालिटी एजुकेशन सुनिश्चित की जाए: सीएम

देहरादून। उच्च शिक्षण संस्थानों में क्वालिटी एजुकेशन सुनिश्चित की जाए। सरकारी महाविद्यालयों व विश्वविद्यालयों के छात्रों के कैरियर ट्रैकिंग की व्यवस्था बनाई जाए। शनिवार को सचिवालय में उच्च शिक्षा विभाग की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने उक्त निर्देश देते हुए कहा कि ऐकडमिक कैलंडर का कड़ाई से पालन किया जाय। उच्च शिक्षा चयन बोर्ड का गठन किया जाए। राज्य निजी विश्वविद्यालय नियामक प्राधिकरण स्थापित किया जाएगा। उच्च शिक्षण संस्थानो में ड्रेस कोड को लागू किया जाय। 26 निर्माणाधीन कॉलेज पूर्ण करने के लिए 22 करोड़ रूपये दिये जायेंगे।
मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि उच्च शिक्षण संस्थानों में शिक्षा का वातावरण बनाने में कुलपतियों व प्राचार्यों की सर्वाधिक जिम्मेवारी होती है। क्वालिटी एजुकेशन के लिए वातावरण विकसित किया जाय। कॉलेज और विश्वविद्यालय सिर्फ सर्टिफिकेट और डिग्री बाँटने के लिए नहीं है। शिक्षा प्राप्त करने वाले के जीवन में तथा समाज में क्या सुधार हुआ, ये भी देखना होगा। छात्रों के कैरियर ट्रेकिंग की व्यवस्था बनाई जाए।

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि शिक्षण संस्थानों में ऐकडेमिक कैलंडर का कड़ाई से पालन किया जाय। 25 जून को शैक्षिक कैलेंडर घोषित किया जाए। 45 दिन में परीक्षाएँ पूरी कराई जाए। सभी महाविद्यालयों में ई-लाईब्रेरी(ऑन-लाइन लाइबरेरी) की व्यवस्था की जाय। जहाँ कनेक्टीविटी नहीं है, वहाँ एजुसैट जैसी वैकल्पिक व्यवस्था का उपयोग किया जाए। उच्च शिक्षण संस्थानो में ड्रेस कोड को लागू किया जाय। अध्यापकों की कमी को दूर करने के लिए उच्च शिक्षा चयन बोर्ड का गठन किया जाएगा। राज्य के विश्वविद्यालयों में कुलसचिव व उपकुलसचिव के पदों का पृथक संवर्ग गठित किया जाए।

मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि उच्च शिक्षण संस्थाओं के विद्यार्थियों द्वारा कम्यूनिटी सर्विस के माध्यम से शत प्रतिशत साक्षरता के लक्ष्य को पाने का प्रयास किया जाय। सामुदायिक सेवा को अनिवार्य किया जाय। कम्यूनिटी सर्विस के माध्यम से युवा शक्ति को गाँवों की प्रति व्यक्ति आय बढ़ाने की दिशा में प्रोत्साहित किया जाय। इस दिशा में ग्रामीणों को रोजगार परक प्रशिक्षण दिया जा सकता है , उनके जीवन सुधार के लिए शोध किए जा सकते हैं। शिक्षा का समाज को लाभ मिलना चाहिए। विश्वविद्यालय स्वामूल्यांकन करें कि उनका ‘‘सोशियो इकोनॉमिक इम्पैक्ट’’ क्या है।
मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में एक कॉरपस फंड गठित कर प्रत्येक वर्ष 100 विद्यार्थियों को रिसर्च स्कॉलरशिप प्रदान की जाएगी। कॉलेजों में शुल्क जमा करने के लिए पीओएस काउंटर स्थापित कर कैशलैस अर्थव्यवस्था को लागू किया जाएगा। विद्याा वीरता अभियान के अंतर्गत पीवीसी, विक्टोरिया क्रास प्राप्त सैनिकों के छायाचित्रों को ‘‘वॉल ऑफ हीरोंज’’ के रूप  में उच्च शिक्षण संस्थानों में स्थापित किया जाएगा।

बैठक में जानकारी दी गई कि उच्च शिक्षा में सकल नामांकन अनुपात (जीईआर) में उाराखण्ड देश में दूसरे स्थान पर है। यहां कुल नामांकन अनुपात 33$1 प्रतिशत, छात्राओं का नामांकन अनुपात 34 प्रतिशत व छात्रों का नामांकन अनुपात 32$3 प्रतिशत है। राज्य में 29 स्नातकोार महाविद्यालय व 71 स्नातक स्तर के महाविद्यालय हैं। यहां एक केंद्रीय विश्वविद्यालय व राज्य के उच्च शिक्षा विभाग के अंतर्गत 5 विश्वविद्यालय, 3 डीम्ड विश्वविद्यालय व 12 निजी विश्वविद्यालय हैं। राज्य में 4 राष्ट्रीय महत्व के केंद्रीय संस्थान हैं। उच्च शिक्षा पर वर्ष 2016-17 में कुल व्यय 366$99 करोड़ रहा जबकि वर्ष 2017-18 के लिए कुल प्रस्तावित व्यय 410$75 करोड़ रूपए है। उाराखण्ड में नैक द्वारा एक्रेडिटेड 25 महाविद्यालयों में से 19 सरकारी और 6 अनुदानित महाविद्यालय हैं। बैठक में उच्च शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) धनसिंह रावत, अपर मुख्य सचिव डा$ रणवीर सिंह, अपर सचिव डा$राघव लांघर, विभिन्न विश्वविद्यालयों के कुलपति व अन्य विभागीय अधिकारी उपस्थित रहे।

सहकारिता विभाग क्लस्टर आधारित ऋण नीति अपनाएं: सीएम

देहरादून। सहकारिता विभाग क्लस्टर आधारित ऋण नीति अपनाएं। सब्जी, फल, दूध, मशरूम, एरोमैटिक प्लांट्स आदि के लिए गांवों के क्लस्टर विकसित किये जाएं। शनिवार को सचिवालय में मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने सहकारिता विभाग की समीक्षा करते हुए प्रदेश की सभी 759 प्राथमिक कृषि ऋण सहकारी समितियों के कम्प्यूटीकरण के निर्देश दिए। इसके साथ ही सभी जिला सहकारी बैंको को सीबीएस प्रणाली के अन्तर्गत आपस में जोडऩे के लिए भी आवश्यक कदम उठाने जाएं।

मुख्यमंत्री ने विभागीय अधिकारियों से जानकारी मांगी कि अभी तक उनके द्वारा दिए गए ऋणों से किसानों ने क्या लाभ उठाया है। उन्होने कहा कि सहकारिता विभाग का मुख्य लक्ष्य ऋण एवं तकनीकी सलाह के माध्यम से किसानों को आर्थिक रूप से सशक्त बनाने का होना चाहिए। इस दिशा में जिला सहकारी बैंको की भूमिका महत्वपूर्ण है। सचिव सहकारिता आर$मीनाक्षी सुन्दरम द्वारा बताया गया कि प्रदेश में 10 जिला सहकारी बैंक, 05 केन्द्रीय उपभोक्ता भण्डार, 07 जिला सहकारी संघ, 83 जिला सहकारी विकास संघ लि0 सहित कुल 115 केन्द्रीय सहकारी संस्थाए है। इसी प्रकार 759 प्राथमिक कृषि ऋण सहकारी समितियों (पैक्स) सहित 3054 प्राथमिक सहकारी समितियां है।

उन्होने बताया कि वर्ष 2017-18 में अब तक 5135 लाख का अल्पकालिन ऋण व 55 लाख के मध्यकालिन ऋण के साथ ही 1230 मीट्रिक टन उर्वरक वितरित किया गया है। इसी अवधि में 6015 लाख रूपए के सहकारी ऋण की वसूली की गई है। सहकारी सहभागिता योजना में प्रदेश के कृषको को ब्याज राहत स्वरूप 862$31 लाख की धनराशि आवंटित की गई है। सहकारी बैंको द्वारा अपने 68 एटीएम स्थापित किए गये है व 1,20,000 कृषको को रूपे डेबिट कार्ड वितरित किए गये है। बैठक में सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डा$ धनसिंह रावत व विभागीय अधिकारी उपस्थित रहे।

आधार कार्ड बनाने के लिए गांव में शिविर लगाएं

नई टिहरी। टिहरी विधायक धन सिंह नेगी गेंवली पाव क्षेत्र का भ्रमण किया। इस दौरान ग्रामीणों ने विधायक के समक्ष आधार कार्ड नहीं बनने की समस्या रखी। विधायक ने मौके से ही सीडीओ को फोन कर आधार कार्ड बनाने के लिए शिविर लगाने को कहा है। ग्रामीणों ने विधायक के समक्ष नहरों की समस्याएं भी रखीं। बताया कि गांव की कृषि भूमि को सिंचित करने वाली नहरें आपदा में क्षतिग्रस्त हो गई थी।

अभी तक नहरों का पुनर्निर्माण नहीं हो पाया है। इस कारण खेती बंजर होने की कगार है। विधायक ने ग्रामीणों की समस्या को गंभीरता से लेते हुए नहरों को जिला प्लान रखने का आश्वासन दिया। इस दौरान विधायक गेंवली गांव में लता की शादी में भी शामिल हुए और मांगटीका भेंट किया। विधायक के साथ ब्लॉक प्रमुख बेबी असवाल, ग्राम प्रधान रोमा देवी, बलवीर सिंह गुसाईं, उदय रावत, सुमेर चंद आदि शामिल रहे।

बीमारियों की रोकथाम को करें उपाय: डीएम

नई टिहरी। मानसून के मद्देनजर डीएम सोनिका ने डेंगू, मलेरिया और अन्य बीमारियों से बचाव के लिए संभावित क्षेत्रों में उपाय करने के अधिकारियों को निर्देश जारी किया। डीएम ने डायरिया से बचाव के लिए जिंक टेबलेट एवं ओआरएस पैकेट बांटने के सीएमओ को निर्देश दिए। जिला सभागार में आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए डीएम ने सीएमओ डॉ. योगेंद्र थपलियाल व अन्य विभागीय अधिकारियों को नगरीय क्षेत्रों में मच्छर पनपने वाले संभावित स्थानों पर फॉगिंग, डीडीटी, पेट्रोल, केरोसीन का छिडक़ाव के साथ ही विभिन्न मार्गों पर बने गड्डों को मिट्टी से भरवाने के निर्देश दिए हैं।

उन्होंने स्वास्थ्य विभाग को प्राथमिक स्वास्थ्य व एएनएम केंद्रों में जन जागरूकता कार्यक्रम चलाए जाने को कहा है। सीएमओ ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा जल स्रोत्रों तथा पेयजल की गुणवत्ता बनाए रखने के लिए ग्राम स्तर पर गठित ग्राम स्वास्थ्य पोषण समिति को उक्त कार्य के लिए प्रतिवर्ष दस हजार रूपये दिए जाते है। डीएम ने राष्ट्रीय स्वच्छता मिशन के तहत जिले के सभी ब्लॉकों के बच्चों का टीकाकरण करवाने के निर्देश भी दिए।

कांग्रेसियों ने पंडित नेहरू को किया याद

नई टिहरीे। भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पं. जवाहर लाल नेहरू की पुण्य तिथि पर कांग्रेस कार्यकार्ताओं ने उनके चित्र पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। इस मौके पर कांग्रेसियों ने उनके कार्यों को भी याद किया। शनिवार को पूर्व प्रधानमंत्री पंडित नेहरू की 53वीं पुण्य तिथि पर जिला कांग्रेस कमेटी कार्यकार्ताओं ने पार्टी कार्यालय में उनके चित्र पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। कांग्रेस जिलाध्यक्ष सूरज राणा ने कहा कि पं. नेहरू आधुनिक भारत के निर्माता थे। वह महान लोकतांत्रिक मूल्यों वाले व्यक्ति थे। उन्होंने भारत में धर्म निरपेक्ष ढांचे की नींव रखी।

भाखड़ा नांगल जैसे बांधों की नींव उनके कार्यकाल में पड़ी है। इस मौके पर शहर अध्यक्ष देवेन्द्र नौडियाल, पूर्व जिला अध्यक्ष शांति भट्ट, नरेन्द्र चंद रमोला, राजेश्वर बडोनी, महिला जिलाध्यक्ष दर्शनी रावत, जगदम्बा रतूड़ी, राकेश राणा, पंकज रतूड़ी, साहब सिंह सजवाण, संपत लाल शाह, राजेन्द्र डोभाल, सौरभ तडिय़ाल, विक्रम तोपवाल, विजयवीर पंवार, संगीता नौटियाल, मोहनी रावत, सरिता रावत, गिरजा दास, हरिओम भट्ट, मुसदी लाल आदि उपस्थित थे।

टमाटर की फसल खराब होने से किसान परेशान

नई टिहरी। चंबा ब्लॉक के नागणी क्षेत्र में टमाटर की फसल खराब होने से किसानों को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है। उन्होंने उद्यान विभाग से मुआवजे की मांग की है। नागणी क्षेत्र में नगदी फसलों का उत्पादन करने वाले किसानों की टमाटर की फसल खराब हो रही है, इससे उनके सामने आर्थिक संकट पैदा हो गया है। किसान चतर सिंह, मुसदीलाल, धीरेन्द्र सिंह आदि का कहना कि उद्यान विभाग ने उन्हें पांच माह पूर्व टमाटर की बुवाई के लिए टमाटर के बीच सब्सिडी पर दिए थे।

कास्तकारों की मेहनत के बाद जब टमाटर की फसल पकने का समय आया तो टमाटर की पैदावार गुणवत्ता के अनुरूप नहीं हो पा रही है, साथ टमाटर के पौधों पर बहुत कम मात्र में टमाटर लग रहे हैं। टमाटर के पौधे भी सूख रहे है। कहा कि टमाटर की फसल खराब होने से किसानों के सामने आर्थिक संकट उत्पन्न हो गया है। बीज बचाओ आंदोलन के प्रणेता विजय जड़धारी, किसान धनपाल, उत्तम सिंह, राजवीर सिंह, बुद्धि सिंह ने उद्यान विभाग से मुआवजे की मांग की है।

खैट पर्वत पर सुविधाएं जुटाने को आमरण अनशन

नई टिहरी। खैट पर्वत पर तीर्थाटन और पर्यटन को बढ़ावा देने और मूलभूत सुविधाएं जुटाने की मांग को लेकर खैट पर्वत मंदिर समिति के संस्थापक प्रेमदत्त नौटियाल ने आमरण शुरू कर दिया है। उन्होंने मांगे पूरी होने पर अनशन तोडऩे का ऐलान किया है। खैट पर्वत पर अनशन पर बैठे प्रेमदत्त नौटियाल ने बताया कि खैट पर्वत तीर्थाटन और पर्यटन की दृष्टि से महत्वपूर्ण स्थान है।

इसे परियों का देश भी कहा जाता है, लेकिन मूलभूत सुविधाओं के अभाव में यहां लोग नहीं आ रहे हैं। बताया कि कई दशकों से खैट पर्वत पर पानी पहुंचाने की मांग की जा रही है। सीएम, पेयजल मंत्री और पर्यटन मंत्री से भी इसकी मांग की गई, लेकिन सरकार इस पर्वत के विकास पर कोई ध्यान नहीं दे रही है। चेतावनी दी कि जब तक खैट पर्वत पर पानी पहुंचाने के साथ ही यहां के विकास के लिए ठोस योजना नहीं बनती है तब तक आमरण अनशन जारी रखेंगे। उनके समर्थन में कुंवर सिंह पंवार, पदम सिंह पंवार, रमेश पंवार, राकेश पेटवाल, रोशन आदि लोग भी धरने पर बैठे रहे।

ट्रक से टकराई मोटर साइकिल, युवक की मौत

रुद्रप्रयाग। रुद्रप्रयाग-गौरीकुंड राष्ट्रीय राजमार्ग पर रामपुर में मोटर साइकिल के दुर्घटनाग्रस्त होने से एक युवक गंभीर रूप से घायल हो गया। घायल युवक को जिला अस्पताल रुद्रप्रयाग में भर्ती किया गया, जहां प्राथमिक उपचार के बाद उसे बेस अस्पताल रेफर किया गया। डाक्टरों ने युवक की गंभीर हालात को देखते हुए देहरादून के लिए रेफर किया, जहां देवप्रयाग के समीप उसकी मौत हो गई। पुलिस द्वारा शव का पंचनामा भरकर परिजनों को सौंप दिया गया है।

बीते शुक्रवार शाम साढ़े सात बजे के करीब विपिन गोस्वामी (26) पुत्र मायाराम गोस्वामी निवासी गौरीकुंड मोटर साइकिल से अगस्त्यमुनि की तरफ रवाना हुआ, मगर तिलवाड़ा से करीब दो किमी आगे रामपुर में मोटर साइकिल अनियंत्रित होकर सडक़ के नीचे की तरफ किनारे खड़े ट्रक से जा टकराई, जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गया। स्थानीय लोगों ने हादसे की सूचना तिलवाड़ा चौकी व घायल के परिजनों को दी और 108 आपातकाली सेवा से जिला अस्पताल रुद्रप्रयाग लाये।

जहां युवक की गंभीर हालात को देखते हुए सीधे बेस अस्पताल श्रीनगर रेफर किया गया। वहां, चिकित्सकों ने घायल की अति संवेदनशील स्थिति को देखते हुए तत्काल देहरादून रेफर कर दिया गया। परिजनों द्वारा उसे उपचार के लिए देहरादून ले जाया जा रहा था, मगर देवप्रयाग के निकट ही घायल ने दम तोड़ दिया। मृतक के सिर, छाती और हाथ-पैर पर गंभीर चोंटे आई थी। मृतक अगस्त्यमुनि के सिल्ली में संचालित आईटीआई में संविदा पर शिक्षक के पद पर तैनात था।

अधिकारियों एवं कर्मचारियों की राजधानी में रैली 29 को

देहरादून। उत्तराखंड विद्युत अधिकारी कर्मचारी संयुक्त मोर्चा के संयोजक इंशारूल हक ने कहा है कि अपनी पन्द्रह सूत्रीय मांगों के समाधान के लिए 29 मई को परेड ग्राउंड से सचिवालय तक रैली निकाली जायेगी। इसके लिए सभी प्रकार की तैयारियां आरंभ कर दी गई है।

परेड ग्राउंड स्थित उत्तरांचल प्रेस क्लब में पत्रकारों से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि पिछले लंबे समय से पन्द्रह सूत्रीय मांगों के समाधान के लिए आंदोलन किये गये है और बीते रोज ऊर्जा सचिव व मुख्यमंत्री की सचिव राधिका झा के साथ बैठक की गई और उन्होंने सकारात्मक कार्यवाही करने का आश्वासन दिया और 29 मई की रैली को स्थगित करने का आहवान किया। उनका कहना है कि रैली को हर हाल में निकाली जायेगी, इसके लिए तैयारी की गई है।

 

उनका कहना है कि आज तक सातवें वेतन आयोग का वेतनमान आज तक प्रदान नहीं किया गया है और इसके लिए संघर्ष कर रहे है। उनका कहना है कि इसी प्रकार चतुर्थ श्रेणी में कार्यरत कार्मिकों को पदोन्नति के अवसर प्रदान नहीं किये जा रहे है जो चिंता का विषय है। उनका कहना है कि उर्जा निगमों में निजीकरण की कार्यवाही पर तत्काल रोक लगाई जाये और सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों को आवश्यक संशोधनों के साथ तीनों निगमों में तत्काल प्रभाव से लागू किया जाये।

उनका कहना है कि छठे वेतनमान की विसंगतियों को तत्काल दूर किया जाना चाहिए और उत्तराखंड शासन की भांति तीनों निगमों ने शासन की भांति कार्मिकों को प्रदान किया जाये लेकिन अभी तक इस ओर किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं हो पाई है। इस अवसर पर विभिन्न मोर्चों के पदाधिकारी व कार्यकर्ता मौजूद थे।
 

नि:शुल्क दिव्यांग सेवा शिविर कल

देहरादून। समदृष्टि क्षमता विकास एवं अनुसंधान मंडल (सक्षम) के तत्वावधान में नि:शुल्क दिव्यांग सेवा शिविर का आयोजन आर्य समाज करनपुर में 29 मई प्रात: नौ बजे से दोपहर एक बजे तक किया जायेगा।
 

जानकारी देते हुए कार्यक्रम संयोजक निशा गुप्ता ने बताया कि एनआईवीएच के सहयोग से भारत सरकार की ऐडप योजना के अंतर्गत शिविर में कान व सुनने की मशीने, वैशाखी एवं चश्मे मुफ्त वितरित किये जायेंगें। निज व्यक्तियों के पास की नजर कमजोर है एवं उम्र 42 वर्ष से अधिक है उन्हें जांच कर पास की नजर का चश्मा मुफ्त प्रदान किये जायेंगें। जिन व्यक्तियों को कम सुनाई देता है उनकी जांच कर कान की मशीन निशुल्क प्रदान की जायेगी। इस शिविर में राशन कार्ड, आधार कार्ड की फोटो कापी लाना अनिवार्य है।
 

जल भराव व सफाई व्यवस्था को किया प्रदर्शन

देहरादून। राजधानी के अनेक हिस्सों में जल भराव एवं कुछ स्थानो पर सफाई व्यवस्था ठीक कराये जान की मांग को लेकर यूथ क्लब के कार्यक्र्ताओं ने नगर निगम में प्रदर्शन करते हुए मेयर व विधायक विनोद चमोली को ज्ञापन सौंपकर शीघ्र ही कार्यवाही किये जाने की मांग की है। यहां यूथ क्लब के अध्यक्ष शिवा वर्मा के नेतृत्व में कार्यकर्ता नगर निगम में इकटठा हुए और वहां पर उन्होंने राजधानी के अनेक हिस्सों में जल भराव एवं कुछ स्थानो पर सफाई व्यवस्था ठीक कराये जान की मांग को लेकर यूथ क्लब के कार्यक्र्ताओं ने नगर निगम में प्रदर्शन करते हुए मेयर व विधायक विनोद चमोली को ज्ञापन सौंपकर शीघ्र ही कार्यवाही किये जाने की मांग की है। इस अवसर पर वक्ताओं ने कहा कि वर्षा ऋतु के आगमन से पूर्व शहर के कुछ जल भराव वाले क्षेत्रों को ठीक किये जाने की आवश्यकता है साथ ही पुरानी ड्रेनेज व्यवस्था को ठीक किये जाने की आवशकता है।

वक्ताओं ने कहा कि विभिन्न क्षेत्रों में आए पर्यान्त सफाई कर्मचारी न होने के कारण हो रही दिक्कतों की ओर भी ध्यान दिये जाने की जरूरत है। वक्तओं ने कहा कि पर्वतीय गांाी इंद्रमणि बड़ोनी की घंटाघर स्तिथ स्थापित प्रतिमा के निकट जल भराव की विकट समस्या है। इसका तत्काल प्रभाव से हल किये जाने की जरूरत है और शीइा्र ही कार्यवाही नहीं की गई तो आंदोलन किया जायेगा। इसी प्रकार से प्रिंस होटल स्थित श्रदेय महाराजा अग्रसैन की प्रतिमा के निकट जल भराव की भीषण समस्या रहती है । यहां पर भी तत्काल प्रभाव से कार्यवाही किये जाने की जरूरत है। इसी प्रकार  सन 1997 में नगर पालिका के अध्यक्ष रहते हुए जल भराव की समस्या के निदान के लिए दर्शन लाल चौक से कचहरी रोड की और जाने वाली मुख्य सडक़ पर एक नाले का निर्माण करके जाल लगवाए गए थे जिससे इस समस्या का निदान हो गया था किंतु आज यह नाला कूड़े से भरा होने के कारण अपने उददेश्य को पूरा नही कर पा रहा है।

घोसी गली की ड्रेनेज व्यवस्था चरमराई हुई हैं जिस कारण सभी नाली भरी रहती हैं, विशेष तौर से पलटन बाजार से गांधी रोड तक की नालियां कूडे से भरी पडी है।
 इस ओर शीघ्र ही कार्यवाही किये जाने की आवश्यकता है। इसी प्रकार इलाहाबाद बैंक के निकट बनी रिहाइशी कम्पोउंड में भी यही समस्या विद्यमान हैं , घंटाघर स्थित अमन मार्किट (चाट वाली गली) की नालियां, पलटन बाजार स्तिथ लुनिया मौहल्ला जंगम शिवालय मंदिर के पीछे की नालियां चिंता जनक स्थिति में हैं। मेयर व विधायक विनोद चमोली ने इस ओर शीइा्र ही कार्यवाही करने का भरोसा दिया है। इस अवसर पर अनेक यूथ क्लब के अनेक पदाधिकारी व सदस्य मौजूद थे।

महाराणा प्रताप की जयंती पर सम्मेलन आज

देहरादून। रूद्राक्ष अभ्युदय नवचेतना संस्थान की सचिव अनुराधा सिंह ने कहा है कि 28 मई को मेवाड शिरोमणि महाराणा प्रताप की 478 वीं जयंती को हर्षोल्लास के साथ मनाया जायेगा और इस अवसर पर एक सम्मेलन व रक्तदान शिविर का आयोजन भी किया जायेगा। इसके लिए सभी प्रकार की तैयारियां आरंभ कर दी गई है। परेड ग्राउंड स्थित उत्तरांचल पे्रस क्लब में पत्रकारों से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि सांई निवास गेस्ट हाउस जीएमएस रोड पर कल 28 मई को मेवाड शिरोमणि महाराणा प्रताप की 478 वीं जयंती को हर्षोल्लास के साथ मनाया जायेगा।

उनका कहना है कि इसके लिए सभी प्रकार की तैयारियां आरंभ कर दी गई है। इस अवसर पर ट्रांसपोर्टनगर में बागडियां समाज का भी सम्मेलन आयोजित किया जायेगा। बागडिया समाज उन्हीं वीरों के वंशज है जिन्होंने महाराणा प्रताप का साथ दिया था और इस बार का सम्मेलन ऐतिहासिक रहेगा क्योंकि इस दौरान गाडिया, लौहार समाज के लोग देशहित में रक्तदान भी किया जायेगा। यह निर्णय समाज के लोगों ने महाराणा प्रताप के बलिदान एवं मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत द्वारा इस समाज के लोगों के लिए दून में एक सौ आवास बनाने की घोषणा को समर्पित करते हुए लिया है। इस रक्तदान शिविर में देहरादून, रूडक़ी, हरिद्वार, बाहदराबाद, ऋषिकेश आदि क्षेत्रों से समाज के लोग भागीदारी करेंगें। 

रक्तदान शिविर को सफल बनाने के लिए इन्दिरेश हास्पिटल के चिकित्साकें की एक टीम हिस्सा लेगी। उनका कहना है कि सम्मेलन में समाज के लोगों को उनके गौरवमयी इतिहास के बारे में बताया जायेगा और साथ ही उनकी समस्याओं को प्रमुखता के साथ उठाया जायेगा व सरकार से उनकी समस्याओं के समाधान की मांग की जायेगी। उनका कहना है कि सम्मेलन में विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचन्द अग्रवाल मुख्य अतिथि होंगें। इस अवसर पर अनेक सदस्य मौजूद थे।

एमयूएलटीआई टीएएसकेआईएनजी परीक्षा रद्द

देहरादून। नोडल अधिकारी परीक्षा-अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व वीर सिंह बुदियाल ने अवगत कराया है कि कर्मचारी चयन आयोग नई दिल्ली के ई-मेल द्वारा जारी पत्र के क्रम में अवगत कराया है कि 28 मई, 4 जून एवं 11 जून को जनपद में आयोजित होने वाली एमयूएलटीआई टीएएसकेआईएनजी 2016 को आगामी तिथि तक रद्द किया गया है। आयोग द्वारा परीक्षा से जुड़ी सामग्री को नष्ट करने के निर्देश दिये गये हैं।

उपरोक्त के क्रम नोडल अधिकारी परीक्षा/अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व द्वारा परीक्षा हेतु निर्धारित किये गये परीक्षा केन्द्रो के प्रधानाचार्यों को निर्देश दिये हैं कि तत्काल परीक्षा से जुड़ी गोपनीय सामग्री नष्ट करते हुए कर्मचारी चयन आयोग के साथ-2 इस कार्यालय को भी अवगत करायें।

पेंशन के लिए शतप्रतिशत आधार नंबर पंजीकरण को चलेगा विशेष अभियान

देहरादून। जिलाधिकारी एस$ए मुरूगेशन ने बताया कि समाज कल्याण विभाग द्वारा प्रदत्त की जा रही वृद्घावस्था, विकलांग, किसान, एवं विधवा पेंशन के लाभार्थियों के आधार नम्बर प्रान्त करने के सम्बन्ध में आयोजित बैठक में जारी निर्देशों के क्रम में जनपद के शत्-प्रतिशत् आधार पंजीकरण सुनिश्चित किये जाने हेतु विशेष अभियान चलाये जाने हैं।  जिलाधिकारी ने जनपद के अन्तर्गत कार्यरत समस्त आधार पी$ई$सी एवं आधार कार्ड पंजीकरण हेतु नामित सी$एस$सी को निर्देशित किया है कि वे 1 जून से 28 जून 2017 तक रोस्टवार जनपद के चयनित स्थानों पर कैम्प का आयोजन करना सुनिश्चित करें, आयोजित किये जाने वाले कैम्प में नागरिकों के आधार कार्ड पंजीकरण, संशोधन, आधार कार्ड प्रिन्टिंग का कार्य पूर्ण करेंगे। उन्होने सम्बन्धित तहसीलदार एवं खण्ड विकास अधिकारियों-प्रभारी बाल विकास परियोजना अधिकारी शिविर के प्राधानाचार्य/प्रधानाध्यापक सम्बन्धित पी0ई0सी/सी0ए0सी0 से समन्वय स्थापित कर अभियान को सफल बनाने के साथ ही यह भी सुनिश्चित करेगें कि आधार कार्ड पंजीकरण किये जाने वाले नागरिकों के दस्तावेज पूर्ण से सही हों तथा पंजीकरण स्लिप भी अपने पास रखेगें।

उन्होने निर्देश दिये कि अपुपयुक्त पाये जाने वाले नागरिकों के आधार कार्ड का पंजीकरण न किया जाये। जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि सम्बन्धित ग्राम पंचायत विकास अधिकारी एवं राजस्व उप निरीक्षण  आधार कार्ड पी$ई$सी/सी$एस$सी संचालक को आवश्यक सहयोग प्रदान करते हुए अपने-2 क्षेत्रान्तर्गत नागरिकों को आधार कार्ड पंजीकरण किये जाने हेतु प्रत्साहित करने के साथ ही सम्बन्धित ग्राम प्रधानों, क्षेत्र पंचायत सदस्यों , जिला पंचायत सदस्यों को भी ससमय अवगत करायेगें व शिविर के दौरान शान्ति एवं कानून व्यवस्था बनाये रखना सुनिश्चित करेंगे। उन्होने जिला समाज कल्याण अधिकारी, जिला प्रोबेशन अधिकारी, प्रभारी  बाल विकास परियोजना अधिकारी देहरादून-जिला कार्यक्रम अधिकारी एवं बाल विकास अधिकारी देहरादून के माध्यम से आधार कार्ड पंजीकरण प्रगति की नियमित सूचना जिलाधिकारी-मुख्य विकास अधिकारी कार्यालय को प्रस्तुत करेंगे।

उन्होने जिला समाज कल्याण अधिकारी, जिला प्रोबेशन अधिकारी, जिला परियोजना अधिकारी बाल विकास अधिकारी देहरादू अपने स्तर से रोस्टर अनुसार पंजीकरण हेतु छूटे हुए लाभार्थियों का पंजीकरण कराना सुनिश्चित करेंगे। उन्होने सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिये कि जो पी$ई$सी शिविर में प्रतिभाग न कर रहे हों उनकी सूची  भी जिलाधिकारी-मुख्य विकास अधिकारी  कार्यालय को प्रेषित करेंगे , जिसके उपरान्त उनके लाईसेंस निरस्त की कार्यवाही की जायेगी।

नेहरू के नेतृत्व में देश के विकास को एक नई दिशा मिली: हरीश रावत

देहरादून। उत्तराखण्ड प्रदेश कांगे्रस मुख्यालय में देश के प्रथम प्रधानमंत्री स्व पंडित जवाहर लाल नेहरू जी की पुण्यतिथि पर कांगे्रस कार्यकर्ताओं ने अपने प्रिय नेता को भावभीनी श्रद्वासुमन अर्पित किये। इस अवसर पर पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने स्व नेहरू के जीवन पर बोलते हुए कहा कि नेहरू सच्चे देश भक्त थे उनके नेतृत्व में देश ने नये आयाम कामय किये।  रावत ने कहा कि नेहरू जी के नेतृत्व में देश के  विकास को एक नई दिशा मिली। उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी और पंडित जवाहर नेहरू जी के नेतृत्व में पूरा देश आजादी के लिए संघर्ष कर रहा था और दूसरी तरफ ब्रिटिश सेना द्वारा उनके आन्दोलन को कुचलने काम किया जा रहा था। परन्तु उनके सूझबूझ से देश आजादी के रास्ते में अग्रसर हुआ। उन्होंने कहा आज देश विकसति देशों का मुकाबला रहा रहा है जो नेहरू जी देन है।

  रावत ने कहा नेहरू जी की सोच विकास की सोच थी उन्होंने देश को एक नई दिशा देने का काम किया। सर्वपल्ली राधाकृणन जी ने कहा था जवाहरलाल नेहरू हमारी पीढ़ी के एक महानतम व्यक्ति थे। वह एक ऐसे अद्वितीय राजनीतिज्ञ थे, जिनकी मानव-मुक्ति के प्रति सेवाएं चिरस्मरणीय रहेंगी। स्वाधीनता-संग्राम के योद्वा के रूप में वह यशस्वी थे और आधुनिक भारत के निर्माण के लिए उनका अंशदान अभूतपूर्व था। उन्होंने कहा स्वतंत्रता के इतिहास में नेहरू जी का अपना एक विशेष स्थान है। उन्होंने कांग्रेस कार्यकर्ताओं का आह्वान करते हुए कहा कि आज देश नाजुक स्थिति से गुरज रहा है और आज कुछ लोग पंडित नेहरू जी द्वारा स्थापित संस्थाओं को समाष्त करना चाहते है परन्तु उन्हें यह नही भूलना चाहिए कि पंडित नेहरू ने भारत को तीसरी शक्ति के रूप में खड़ा करने का काम किया था।

गुट निरपेक्ष आन्दोलन की स्थापना एक अद्वितीय मिशाल है। पंचवषीर्य योजनाओं को लागू करके विकास का एक मांडल प्रस्तुत करने का काम पंडित जी ने किया था। आज भी पंडित जी के पंचशील के सिद्वान्त को पूरा विश्व मानता है। हमारा दायित्व बनता है कि एक-एक कांग्रेस के कार्यकर्ता को जनता के बीच में जाकर कांगे्रस के नेताओं एवं उनकेे इतिहास को जन-जन तक पहुॅचाने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि दुर्भाग्य से देश की कमान ऐसे हाथों में है जो देश को जाति धर्म के नाम पर बॉटने का काम कर अपना राजनीतिक स्वार्थ सिद्व करना चाहते है।

इस अवसर पर प्रदेश कांगे्रस कमेटी के उपाध्यक्ष जोत सिंह बिष्ट, शंकर चन्द रमोला, मुख्य प्रवक्ता मथुरा दत्त जोशी, राजेन्द्र भण्डारी, प्रदेश प्रवक्ता गरिमा दसौनी, डॉ आर पी रतूड़ी, प्रदीप भट्ट, पूर्व महानगर अध्यक्ष लाल चन्द शर्मा, महानगर अध्यक्ष पृथ्वीराज चौहान, दीप बोहरा, कमलेश रमन, अजय ंिसह, विवेक शर्मा, कै बलवीर सिंह रावत, भरत शर्मा, मोहन काला, सुनित राठौर, जितेन्द्र बिष्ट, महेश जोशी, टीका राम पाण्डे, कुंवर सिंह यादव, सावित्री कपूर, परवीन त्यागी आदि सैकड़ों कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

उत्तरकाशी में आकाशीय बिजली का कहर

उत्तरकाशी। उत्तरकाशी जिले की मोरी तहसील के चांगशील ट्रैक के जंगल में आकाशीय बिजली गिरने के कारण सात लोग घायल हो गए हैं। हालांकि तीन लोगों के मरने की भी सूचना है, लेकिन प्रशासन इसकी पुष्टि नहीं कर रहा है। घायलों को रेस्क्यू कर इलाज के लिए हेलीकॉप्टर से सीएचसी पुरोला लाया गया है।
उत्तरकाशी जिला प्रशासन के अनुसार हादसा शुक्रवार शाम को हुआ।

घटनास्थल बेहद दुर्गम होने के कारण राहत दल शनिवार को मौके पर पहुंच सका। इसके बाद हेलीकॉप्टर के जरिए घायलों को पुरोला लाया जा गया है, जहां इनका इलाज चल रहा है। प्रशासन के अनुसार चांगशील ट्रैक पर मोरी के स्थानीय लोग दुकान लगाने के लिए गए थे। ये लोग यहां टेंट लगाकर रह रहे थे। शुक्रवार शाम को मौसम खराब होने के कारण अचानक आकाशीय बिजली कडक़ी। इसमें सात लोग झुलस गए। कुछ ग्रामीणों ने इसकी सूचना प्रशासन को दी।

सूचना मिलने पर शाम छह बजे पुलिस, एसडीआरएफ और स्वास्थ्य विभाग की टीम मौके के लिए रवाना हो गई थी। घटनास्थल दूर होने के कारण राहत और बचाव दल को पहुंचने में मशक्कत करनी पड़ी। शनिवार सुबह टीम ने घायलों को अस्पताल पहुंचाने के लिए हेलीकाप्टर मंगवाया। इसके बाद प्रशासन ने दोपहर बाद हेलीकॉप्टर भिजवाया। इससे पहले तीन घायलों को लाया गया, उसके बाद चार अन्य घायलों को पुरोला अस्पताल पहुंचाया गया। हादसे में तीन लोगों के मरने की भी सूचना है, लेकिन प्रशासन का कोई भी अधिकारी अभी इसकी पुष्टि नहीं कर रहा है।

बच्चों को प्राईवेट विद्यालयों में पढाने के लिए मजबूर अभिभावक : पाण्डेय

देहरादून। प्रदेश के शासकीय विद्यालयों में शिक्षा की गुणवत्ता को सुदृढ एवं सुव्यवस्थित करने के लिए शिक्षा मंत्री अरविन्द पाण्डेय द्वारा उत्तखण्ड प्रदेश के सभी जनपदों के मुख्य शिक्षा अधिकारियों, जिला शिक्षा अधिकारियों, खण्ड शिक्षा अधिकारियों, उप खण्ड शिक्षा अधिकारियों एवं शिक्षा विभाग के अधिकारियों के साथ सचिवालय सभा कक्ष में समीक्षा बैठक आयोजित की गयी। इस अवसर पर शासकीय विद्यालयों में शिक्षा की गिरती गुणवत्ता में सुधार लाने के लिए उपस्थित अधिकारियों से  सुझाव भी लिये गये।  बैठक में उपस्थित अधिकारियों को सम्बोधित करते हुए मा शिक्षा मंत्री ने कहा कि शासकी विद्यालय में जो शिक्षा की गुणवत्ता जो घटती जा रही है, जिस कारण अभिभावक अपने बच्चों को शासकी विद्यालय में न पढाकर प्राईवेट विद्यालयों में पढाने के लिए मजबूर है यह एक चिन्तनीय एवं गम्भीर विषय है इसमें शिक्षा विभाग के अधिकारियों की जिम्मेदारी सुनिश्चित की जानी चाहिए एवं जिन कारणों से बच्चों की संख्या शासकी विद्यालयों में कम हो रही है उसके लिए सभी को निष्ठा एवं ईमानदारी  से कार्य करने की आवश्यकता है।

उन्होने सभी अधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि जो जिम्मेदारी एवं दायित्व व अधिकार उन्हे दिये गये हैं उनका पालन वह ठीक ढंग से नही कर पा रहे हैं, जिस कारण से शासकी विद्यालयों में शिक्षा की गुणवत्ता में कमी आ रही है। उन्होने सभी अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिये हैं कि जो अधिकार एवं कर्तव्य उन्हे दिये गये हैं। उनका वह ईमानदारी एवं निष्ठा पूर्वक निर्वहन करें, इसमें काई समस्या एवं परेशानी आती है तो वह उनके साथ खड़े हैं। उन्होने स्पष्ट किया है कि जो अधिकारी अपने दायित्वों का निर्वहन ठीक प्रकार से नही करेगा तथा कहीं से कोई शिकायत मिलने तथा उसकी पुष्टि होने पर सम्बन्धित के विरूद्ध दण्डात्मक कार्यवाही की जायेगी, जिसकी जिम्मेदारी सम्बन्धित अधिकारी की स्वंय की होगी।
   

बैठक की समीक्षा करते हुए उन्होने कहा कि शिक्षा का अधिकार अधिनियम के तहत शासनादेश जारी कर दिया गया है जिसमें प्रावधान किया गया है कि यदि किसी   प्राईवेट विद्यालयं द्वारा मनमाने ढंग से पुन: प्रवेश हेतु प्रवेश शुल्क/कॉशनमनी/अतिरिक्त शुल्क लिया जाता है तो उनके विरूद्ध कड़ी कार्रवाई की जायेगी। इसके लिए उन्होने सभी अधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि वे अपने-2 क्षेत्रों में औचक निरीक्षण करेगें एवं ऐसे विद्यालयों के विरूद्ध शासानदेश के अनुरूप आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित करायेगें। उन्होने यह भी निर्देश दिये कि जो कािर्मक/ शिक्षक  सबद्ध किये गये हैं ऐसे कार्मिकों एवं शिक्षकों के अपने मूल स्थान पर त्वरित कार्यमुक्त करने के निर्देश दिये। उन्होने यह भी निर्देश दिये कि जिन अधिकारियों एवं कर्मचारियों के स्थानान्तरण हो रखें हैं उन्होने अपना नये तैनाती स्थल पर अपना पदभार ग्रहण नही किया है ऐसे कार्मिकों सूची दो दिन के भीतर तलब करने के निर्देश दिये। उन्होने सम्बन्धित शिक्षकों/कार्मिकों निर्देशा जारी किया जाये यदि ऐसे कर्मचारी सोमवार 29 मई तक अपना कार्यभार ग्रहण नही करते हैं तो ऐसे कर्मिकों के विरूद्ध अनुशानात्मक कार्यवाही सुनिश्चित की जाये। 

उन्होने यह भी निर्देश दिये हैं कि शिक्षा विभाग में फर्जी प्रमाण पत्रों के आधार पर नियुक्त किये गये शिक्षकों एवं कार्मिकों की जांच कराई जाये तथा जो शिक्षक फर्जी प्रमाण पत्रों के आधार पर नियुक्त किये गये हैं उनके विरूद्ध आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित कराने के भी निर्देश दिये। उन्होने कक्षा 1 से 12 तक के लिए एन.सी.ई. आर.टी की पाठ्य पुस्तकों के संचालन करने के भी निर्देश दिये। उन्होने यह भी निर्देश दिये हैं कि जो कार्मिक अस्वस्थ एवं किन्ही कारणों से ठीक तरह से कार्य न ही कर पा रहे हैं तो ऐसे कार्मिकों की सूची भी तैयार करने के निर्देश दिये। बैठक में माननीय मंत्री द्वारा विद्यालयों में शिक्षा की गुणवत्ता को सुदृढ करने के लिए बैठक में उपस्थित अधिकारियों जो सुझाव दिये गये हैं उन पर आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित की जायेगी। बैठक में सुझाव दिया गया है कि स्कूलों का समय परिवर्तित किया जाये, जिसमें ग्रीष्मकाल में सुबह 7:15 के स्थान पर 8 बजे से 1 बजे तक संचालित करने के निर्देश दिये तथा शरद ऋ तु में 10 बजे से 4 बजे के स्थान पर सुबह 9:30 बजे से सांय 3:30 बजे तक संचालित करने के निर्देश दिये। शिक्षामंत्री द्वारा यह भी निर्देश दिये हैं कि कक्षा 1 से कक्षा 8 तक के छात्रों को सप्ताह में शनिवार के दिन बिना बस्ता के आने के निर्देश दिये तथा इस दिन सभी बच्चों को खेलकूद एवं अन्य प्रतियोगिता करवाई जाये।

उन्होने यह भी निर्देश दिये हैं कि स्कूलों में सभी शिक्षक 1 जुलाई से ड्रेस कोड में आयेंगे इसके लिए उन्होने सभी अधिकारियों से डेऊस कोड चिन्हित करने हेतु सुझाव देने के भी निर्देश दिये। उन्होने यह भी कहा कि प्रत्येक विद्यालयों में वार्षिक उत्सव का भी आयोजन किया जाना चाहिए। उन्होने कहा कि हाईस्कूल एवं इन्टरमीडिएट का परीक्षाफल 30 मई को घोषित होने जा रहा है, इसमें प्रथम दस वें स्थान प्राप्त करने वाले छात्र/छात्राओं एवं उनके गुरूजनो एवं उनके अभिभावकों को उनकी ओर से एक भोज दिया जायेगा तथा उसमें उनको सम्मानित किया जायेगा। उन्होने सभी अधिकारियों को यह भी निर्देश दिये हैं कि विकासखण्ड स्तर पर तैनात ऐसे शिक्षकों की सूची तैयार की जाये जो लम्बे समय से अपनी शिक्षा का आदान-प्रदान कर रहें है तथा उन्हे उचित सम्मान नही मिल रहा है उन्हे उनकी ओर से सम्मानित किया जायेगा। उन्होने यह भी निर्देश दिये हैं कि जो कई वर्षों से दुर्गम क्षेत्रों में अपनी सेवाएं दे रहे हैं ऐसे शिक्षकों को सुगम में लाने का प्रयास करेंगे। इस अवसर पर पूर्व सांसद नैनीताल बलराज पासी भी मौजूद थे उन्होने उपस्थित अधिकारियों से अपेक्षा की है कि जो दायित्व एवं जिम्मेदारी दी गयी है उसका निर्वहन बड़ी ईमानदारी से करने की जरूरत है, जो दायित्व उन्हे दिया गया है उनका निर्वहन निडरता पर्वक करने की आवश्यकता है। 

उन्होने कहा यह आपका सौभाग्य है कि समाज को कुछ देने के लिए आपको सौभाग्य प्राप्त हुआ है। सचिव शिक्षा चन्द्रशेखर भट्ट ने निर्देश दिये हैं कि मा मंत्री द्वारा जो निर्देश जिम्मेदारी उन्हे दी गयी है उसका वह अनुपालन सुनिश्चित करेंगे तथा उनके दिशा-निर्देशों के अनुरूप कार्य करने के निर्देश दिये।  अपर सचिव शिक्षा धीरेन्द्र दलाल, महानिदेशक शिक्षा कैलाश शेखर तिवारी, निदेशक माध्यमिक आर.के कुंवर, निदेशक शौध एवं परीक्षण सीमा जौनसारी, अपर निदेशक वीरेन्द्र सिंह रावत, अपर राज्य परियोयजना निदेशक डॉ मुकुल सती सहित सभी जनपदों के मुख्य शिक्षा अधिकारी, जिला शिक्षा अधिकारी, खण्ड शिक्षा अधिकारी, उप खण्ड शिक्षा अधिकारी सहित सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित थे।

ज्योतिका पांडे अध्यक्ष और पुष्पा महामंत्री बनीं

देहरादून। आंगनबाड़ी कार्यकत्री सेविका कर्मचारी यूनियन (रायपुर ब्लॉक) के वार्षिक सम्मेलन में नई कार्यकारिणी का गठन किया गया। नई कार्यकारिणी में ज्योतिका पांडे को अध्यक्ष, पुष्पा को महामंत्री, संगीता राणा, रेखा रावत और कांता भट्ट को उपाध्यक्ष, आशा नेगी, पूजा बुड़ाकोटी और नीलम पालिवाल को सचिव और ज्योति बाला को कोषाध्यक्ष चुना गया।

नई कार्यकारिणी ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और यूनियन के हित में कार्य करने का संकल्प लिया। शनिवार को रायपुर ब्लॉक में प्रदेश संयोजक जानकी चौहान की अध्यक्षता में नई कार्यकारिणी के चुनाव हुए। नवनिर्वाचित अध्यक्ष ज्योतिका पांडे ने प्रदेश सरकार पर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की उपेक्षा का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि सरकारी स्कूलों में गर्मी की छुट्टियां पड़ गई हैं लेकिन अभी तक आंगनबाड़ी केंद्रों की गर्मी की छुट्टी को लेकर प्रशासन ने कोई निर्णय नहीं लिया। ऐसे ही कार्यकर्ता लंबे समय से राजकीय कर्मचारी घोषित करने की मांग कर रही हैं लेकिन हर बार उन्हें कोरा आश्वासन दिया जाता है।

इसलिए इस बार इन सभी मांगों को लेकर 30 मई को सचिवालय कूच किया जाएगा। उन्होंने सभी कार्यकर्ताओं से एकजुट होकर सरकार पर अपनी आवाज पहुंचाने की अपील की है। इस मौके पर सुनीता, मंजू शाही, मंजीत, रजनी बाला, सरिता, कल्पना, हेमलता, सावित्री, पुष्पा, रीना, संतोष, उषा, आशा शाही, सीमा सहित अन्य कार्यकर्ता शामिल थे।

उत्तराखंड में रोजगार के अवसर बढ़ाने में एपिस इंडिया का योगदान

देहरादून। भारत में शहद के प्रमुख निर्यातक, निर्माता और शहद की आपूर्ति करने वाली एपिस इंडिया ने 1982 में अपनी शुरुआत के बाद से उत्तराखंड में रोजगार के अवसर बढ़ाए हैं। शहद के दूसरे सबसे बड़े निर्यातक एपिस इंडिया का नेतृत्व प्रबंध निदेशक विमल आनन्द और संयुक्त प्रबंध निदेशक अमित आनंद कर रहे हैं। एपिस इंडिया ने उत्तराखंड के रूडक़ी क्षेत्र में इस क्षेत्र की सबसे बड़ी निर्माता इकाई स्थापित की है और 500 स्थानीय लोगों को रोजगार मुहैया करवाया है। इसके देशभर में 500 सेल्सपर्सन हैं।

कंपनी के कर्मचारियों को निर्माण संयंत्रों पर भारत सरकार के मानदंडों के अनुसार सभी सुविधाएं मुहैया होती हैं। कंपनी ने बीते कई सालों में मधुमक्खी पालन करने वालों का देशभर में जाल बिछा दिया है। यह उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, बिहार, पश्चिम बंगाल और मध्य प्रदेश में फैला है जो शहद की मात्रा और गुणवत्ता की जरूरत को पूरा करता है। साल में 80 फीसदी से अधिक शहद (12,000 टन) अमेरिका, उत्तरी अमेरिका, लैटिन अमेरिका और मध्य एशिया को भेजा जाता है। एपिस इंडिया के पास विश्व स्तरीय प्रयोगशालाएं हैं जिसमें शहद की प्रोसेसिंग और फिल्टरेशन होता है। इसकी रूडक़ी में आधुनिक तकनीक से सुसज्जित निर्माता इकाई है जो सात एकड़ में फैली है और 100 टन रोजाना का उत्पादन करने में समर्थ है।

कंपनी का ध्येय रोजमर्रा के जीवन में इस्तेमाल होने वाले प्रातिक उत्पादों को मुहैया करवाना है। लिहाजा कंपनी चाय, बिस्कुट और क्वालिटी ब्रांडेड प्रोडक्ट के बाजार में भी उतर आई है। कंपनी एफएमसीजी उद्योग में भी अपनी जड़े जमा रही है। शुरुआती दौर में हैदराबाद में कीमीया छुआरे मुहैया करवा रही है, जल्द ही ये अन्य स्थानों पर भी मिलने लगेंगे। एपिस इंडिया विशेष शहद, अदरक, नींबू, आर्गेनिक, नट्स के साथ शहद और शहद के साथ अन्य चीजें भी मुहैया करवाती है जो कई अंतरराष्ट्रीय, उद्योग, सरकारी शहद निर्यात के पुरस्कार जीत चुकी है। एपिस इंडिया यूरोप और अंतरराष्ट्रीय मानदंडों को पूरा करने वाला जाना माना नाम है।  एग्रीकल्चर और प्रोसेस्ड फूड प्रोडक्ट्स एक्सपोर्ट डेवलपमेंट अथॉरिटी ने निर्यात के क्षेत्र में एपिस इंडिया को 2015-16 का कांस्य पदक पुरस्कार देने की घोषणा की है।

सरकारी कर्मचारियों के लिए अब पीएफ का पैसा निकालना आसान

देहरादून। सरकार ने कर्मचारियों को राहत देते हुए जीपीएफ की नियमावली में संशोधन कर दिया। कर्मचारी और अफसर अब 12 साल की सेवा के बाद जीपीएफ में जमा राशि का 75 फीसदी रकम निकाल सकेंगे।  पिछले दिनों कैबिनेट ने सामान्य भविष्य निधि (संशोधन) नियमावली को मंजूरी दी थी, जिसका अब सचिव (वित्त) अमित नेगी की तरफ से विधिवत आदेश हो गया है। अभी जीपीएफ से कर्मचारी फ्लैट, मकान निर्माण, बच्चों की शादी और पढ़ाई के लिए 15 साल की सेवा के बाद ही 75 फीसदी पैसा निकाल पाते थे, इस अवधि को घटाकर अब 15 की जगह 12 साल कर दिया है।

साथ ही निकाली गई इस राशि को वापस नहीं लौटाना होगा। इसी तरह नॉन रिफंडेबल एडवांस लेने के लिए अभी तक 12 साल की सीमा थी, जिसे अब दस साल कर दिया है। आपातकालीन एडवांस पहले वेतन के तीन माह के बराबर मिलता था, इसे छह माह के वेतन के बराबर कर दिया है। यही, नहीं अब सभी तरह के धार्मिक अनुष्ठानों के लिए जीपीएफ से एडवांस लिया जा सकता है। सरकार ने आश्रितों की श्रेणी में अविवाहित भाई-बहन को ही लिया था। अब माता-पिता भी इस श्रेणी में आएंगे। इसके अलावा नियमावली में कई संशोधन कर उसे शिथिल कर दिया है। सरकार के इस फैसले से कर्मचारियों को राहत दी गई है। 

लोक पंचायत यात्रा देगी सामाजिक सौहार्द का संदेश

विकासनगर। जौनसार बावर क्षेत्र में सामाजिक सौहार्द के उद्देश्य से लोक पंचायत यात्रा का शुभारंभ किया गया है। इसे उत्तराखंड फिल्म विकास परिषद के उपाध्यक्ष एवं अभिनेता हेमंत पांडे ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।

बाड़वाला स्थित शिव मंदिर से शनिवार सुबह 108 बाइकों पर सवार 216 लोग लोक पंचायत यात्रा का हिस्सा बने। लोक पंचायत यात्रा को उत्तराखंड फिल्म विकास परिषद के उपाध्यक्ष हेमंत पांडे और एसडीएम चकराता प्रत्युष सिंह ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इसके तहत कलाकार जगह-जगह नुक्कड़ नाटकों का मंचन भी करेंगे। दो दिवसीय यात्रा बाड़वाला से हनोल तक चलेगी। इसका आयोजन स्थानीय लोगों की ओर से ही किया जा रहा है। यात्रा का उद्देश्य लोक संस्कृति बचाना, सामाजिक सौहार्द बनाना, तीर्थाटन पर्यटन विकास को बढ़ावा देना और ग्रामीणों को स्वच्छता के प्रति जागरूक करना है।

लडक़ी को हरिद्वार में बेचकर घिनौने धंधे में धकेला

हरिद्वार। दिल्ली की नाबालिग लडक़ी को हरिद्वार लाकर उसकी अस्मत का सौदा किया गया। आरोपियों ने लडक़ी को बेचकर देह व्यापार के घिनौने धंधे में धकेल दिया। पुलिस ने लडक़ी से देह व्यापार कराने वाली महिला को पहले ही गिरफ्तार कर लिया था, अब उसे बचने वाले तीन आरोपी भी पुलिस के हत्थे चढ़ गए हैं।  नाबालिग लडक़ी को दिल्ली से उठाकर हरिद्वार में बेचने और देह व्यापार कराने के मामले में हरिद्वार पुलिस ने तीन आरोपियों को थाना मंडावली दिल्ली से गिरफ्तार किया है।

तीनों पर आरोप है कि उन्होंने नाबालिग लडक़ी को नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से उठाकर हरिद्वार में एक महिला को बेचा था। कनखल पुलिस ने 21 मई को जगजीतपुर में बच्ची मिली थी। साथ ही पुलिस ने लडक़ी से देह व्यापार कराने वाली महिला आरती उर्फ उर्मिला को गिरफ्तार किया था। शनिवार सुबह मामले का खुलासा करते हुए एसपी सिटी ममता बोहरा ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी सुनील सिंह निवासी गोला बाजार जिला गोरखपुर (यूपी), जावेद अंसारी निवासी बर इटोला बहादरपुर थाना गोविंदगंज जिला मुज्जफरपुर (बिहार) और सलीम निवासी बरिपुर थाना नरपत गंज जिला हडिय़ा (बिहार) हैं। आरोपियों ने नाबालिग को 55 हज़ार रुपये में हरिद्वार में बेचा था। आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज इन्हें कोर्ट में पेश किया जा रहा है।

लैंग्वेज टेस्ट पास कराने की कीमत दो लाख

 देहरादून। विदेश में पढ़ाई या नौकरी के लिए लैंग्वेज टेस्ट पास करना जरूरी होता है। इसी का फायदा कुछ शातिरों उठाने लगे हैं। ये ऐसे युवाओं को तलाशते हैं,  जिनकी अंग्रेजी कमजोर होती है। फिर मोटी रकम लेकर इनकी जगह दूसरे युवकों को परीक्षा में बैठाकर लैंग्वेज टेस्ट पास कराया जाता है।  देहरादून पुलिस ने बीते शुक्रवार को इस गिरोह का खुलासा किया था। गैंग के सरगना जसकरण और शैलेंद्र सिंह ने विदेश जाने की तैयारी कर रहे उन युवाओं की तलाश की जो अंग्रेजी में कमजोर होने के कारण यह परीक्षा पास नहीं कर पा रहे थे। दोनों ने ऐसे छात्रों से दो-दो लाख रुपये में डील की। इसके बाद उन्होंने ऐसे छात्रों का परीक्षा का एडमिट कार्ड लिया और परीक्षा के लिए अपने परिचित ऐसे दोस्तों को बुलाया, जिनके चेहरे आवेदकों से मिलते थे।

पुलिस के मुताबिक गिरफ्तार अधिकांश आरोपी विदेश जाने के लिए खुद लैंग्वेज परीक्षा पास कर चुके हैं। नेहरू कॉलोनी इंस्पेक्टर राजेश साह ने बताया कि जसकरण और शैलेंद्र पहले से ही परीक्षा प्रबंधक की रडार पर थे। दोनों पर पहले भी इस तहर की परीक्षा दिलाने का शक था। परीक्षा से पहले उन्हें पकड़ा जा सकता था। लेकिन आरोप पुष्ट हों, इसलिए परीक्षा पूरी होने के बाद उन्हें गिरफ्तार किया गया।  कई आरोपियों के पिता सरकारी नौकरी में हैं। लेकिन इसके बावजूद थोड़े से रुपयों के लालच में आकर आरोपी दूसरे की जगह परीक्षा देने बैठ गए। जबकि मोटी कमाई दोनों सरगनाओं ने की।

शौचालय में शराब, नशे में सरकार

देहरादून। उत्तराखण्ड में कार्य संस्कृति बदलने की बात करने वाली सरकार की स्थिति यह है कि कार्यालय, घर और फाइलों में ही नहीं बल्कि सचिवालय में सीएम के चौथे तल के नीचे बने शौचालय में भी शराब की बोतलें सुरक्षित हैं। सचिवालय के शौचालय में शराब की बोतलों का होना इस बात की गवाही दे रहा है कि कर्मचारी अफसर और आला निति निर्धारक होश में कम ही हैं? राज्य में शराब बंदी को लेकर महिलायें सडक़ों पर आन्दोलनरत हैं और सरकार शराब से दुगना राजस्व पाने की मजबूरी दिखाने में आगे खडी हुई है। सरकार राज्य में स्वच्छता व सुशासन के भले ही बडे-बडे दावे कर रही हो लेकिन यह भी सच है कि आज जब सरकार के मुखिया चौथे तल पर मंत्रियों के साथ बजट सत्र को लेकर गहन मंथन में लगे हुए थे वहंी उनके तल के नीचे के शौचालय में खाली शराब की बोतलों का जखीरा होना इस बात की ओर इशारा कर रहा है कि क्या सरकार भी नशे में है? उत्तराखण्ड के दिल में जिस तरह से शराब की बोतलों का जखीरा देखने को मिला उससे साफ नजर आ रहा है कि सरकार के मुखिया का सचिवालय के अफसरों व कर्मचारियों में डर नाम की कोई चीज देखने को नहीं मिल रही? मुख्यमंत्री तल से नीचे के शौचालय में शराब की बोतलें मिलना सरकार की कार्यशैली पर एक बडा ग्रहण लगा गया।

उल्लेखनीय है कि सरकार के मुखिया त्रिवेन्द्र रावत ने उत्तराखण्ड में अफसरों व कर्मचारियों को कार्य संस्कृति बदलने का पाठ पढाया था और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्वच्छता अभियान को आगे बढाने के लिए मुख्यमंत्री से लेकर कुछ मंत्रियों ने सडकों पर झाडू लगाकर स्वच्छता अभियान केा अंजाम तक पहुंचाने के बडे-बडे दावे किये थे। सरकार ने उत्तराखण्ड के दिल सचिवालय की सुरक्षा व्यवस्था एकाएक बढा दी और यह संदेश देने की कोशिश की कि किसी को भी बिना जांच पडताल के प्रवेश नहीं करने दिया जायेगा।

भाजपा नेत्री सुशीला बलूनी भी सचिवालय में प्रवेश बंद को लेकर दो बार सचिवालय के बाहर धरने पर बैठ चुकी हैं। सवाल खडे हो रहे थे कि आखिरकार सरकार को ऐसा क्या डर सताने लगा जिसके चलते अचानक सचिवालय की सुरक्षा चाक-चौबंद कर आवाम को सचिवालय के अन्दर प्रवेश करने से भी रोका जा रहा है? हैरानी वाली बात है कि उत्तराखण्ड में कार्य संस्कृति बदलने व स्वच्छता अभियान को अंजाम तक पहुंचाने के दावे करने वाले उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत आज सुबह जब सचिवालय में जब चौथे तल पर बजट सत्र को लेकर कुछ मंत्रियों के साथ मंथन करने में लगे हुए थे तो उनके निचले तल पर शराब के डिब्बे और खाली बोतलें शौचालय की शोभा बढा रही थी इतना ही नहीं शौचालय में शराब के गिलास व नमकीन के खाली पैकट ऐसे सजे हुए थे मानो वह सचिवालय का शौचालय नहीं बल्कि कोई बार हो। सचिवालय के शौचालय में फ्लश की सिस्टन में पानी की जगह शराब की खाली बोतलें भरी हुई थी। हैरानी वाली बात है कि दो दिन पूर्व तो मुख्यमंत्री ने सिस्टन में रेत से भरी पानी की बोतल से जल संचय करने का राज्यवासियों को बडा संदेश दिया था लेकिन सचिवालय के शौचालय में इस संदेश के मायने ही बदल दिये गये और वहां सिस्टन में पानी की जगह शराब की खाली बोतलें रखकर कहीं न कहीं सरकार के मुखिया के आदेशों का बडा माखौल उडाया गया है।

सीएम के दावों पर लगा ग्रहण

देहरादून। उत्तराखण्ड में एनएच-74 घोटाले पर सरकार के मुखिया ने आनन-फानन में सीबीआई को पत्र लिखकर मामले की जांच करने के लिए कहा था और दो पत्र रिमांडर के रूप में सीबीआई को भेजे गये थे इसी बीच केन्द्रीय सडक़ परिवहन मंत्री ने उत्तराखण्ड सरकार को चि_ी लिखकर एनएच-74 घोटाले की जांच सीबीआई से न कराने की बात कही थी वहीं सरकार के मुखिया मामले की जांच सीबीआई से कराने पर अडिग थे इसी बीच नितिन गडकरी व मुख्यमंत्री के बीच मुलाकात हुई और उसके बाद भी मुख्यमंत्री ने जांच सीबीआई से कराने का ही दम भरा था लेकिन दो दिन बाद ही सीएम के दावों की हवा निकल गई और इस मुद्दे को लेकर अह्म की लडाई में जीत नितिन गडकरी की हुई।

गौरतलब है कि पदभार संभालने के बाद ही राज्य के मुखिया ने दावा किया था कि एनएच-74 घोटाले की जांच सीबीआई से कराई जायेगी और उसे पत्र भी लिखा गया है लेकिन पांच अप्रैल को ही केन्द्रीय सडक़ परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने उत्तराखण्ड सरकार को मामले की जांच सीबीआई से न कराकर सरकारी एजेंसी से ही कराने के लिए कहा था इसके बाद दो दिन पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत मदन कौशिक के साथ नितिन गडकरी से मिले और बाद में दावा किया गया कि एनएच-74 की जांच सीबीआई ही करेगी लेकिन सीएम के यह दावे आज उस समय धडाम हो गये जब संसदीय कार्यमंत्री प्रकाश पंत ने खुलासा किया कि एनएच-74 घोटाले की जंाच सीबीआई नहीं बल्कि सरकार की एजेंसी ही करेगी। ऐसे में साफ हो गया है कि नितिन गडकरी व मुख्यमंत्री के बीच चल रही अह्म की लडाई में केन्द्रीय परिवहन मंत्री की जीत हुई है।

डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट में वायरल हैपेटाइटिस की चेतावनी

हल्द्वानी। विश्व स्वास्थ्य संगठन का आह्वान है कि जन स्वास्थ्य के लिए जोखिमकारी वायरल हैपेटाइटिस का सन् 2030 तक उन्मूलन किया जाए। विशेषज्ञों का कहना है कि लिवर की इस बीमारी के खात्मे के लिए सार्वजनिक एवं निजी क्षेत्र के स्वास्थ्य पेशेवरों को सम्मिलित प्रयास करने होंगे। गौर तलब है कि 2015 में वायरस हैपेटाइटिस की वजह से 13$40 लाख लोगों ने अपनी जान गंवाई। डब्ल्यूएचओ की ग्लोबल हैपेटाइटिस रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया कि 2015 में दुनिया भर में लगभग 32$50 करोड़ हैपेटाइटिस बी या सी वायरस संक्रमण के वाहक थे, जोकि एक दशक तक ’अलक्षणी’ रह सकते हैं। हर वर्ष हैपेटाइटिस सी संक्रमण के 17$50 लाख नए मामले होते हैं।

अगर इन लोगों को समय पर जांच एवं उपचार सुविधा न मिले तो उन्हें धीमे-धीमे लिवर की गंभीर बीमारी विकसित होने और यहां तक की मौत का भी जोखिम हो सकता है। बीएलके सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल में एचपीबी सर्जरी एवं लिवर ट्रांस्प्लांटेशन के वरिष्ठ सलाहकार और निदेशक डॉ (प्रो) संजय सिंह नेगी ने शनिवार को हल्द्वानी के सेंट्रल हॉस्पिटल के सहयोग से एक दिवसीय आउट पेशेंट डिपार्टमेंट (ओपीडी) कैम्प का आयोजन किया। इस ओपीडी कैम्प का उेश्य शहर के लोगों तक विश्व स्तरीय चिकित्सा सुविधाओं को लेकर आना था। डॉ नेगी ने कहा, ’’हैपेटाइटिस के बढ़ते मामले और हर पांचवे व्यक्ति के लिवर में जरूरत से ज्यादा चर्बी होना चिंताजनक है इसलिए हम सभी को जागरुक बन कर अपने लिवर की अच्छी देखभाल करनी चाहिए।’’

विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट का हवाला देते हुए डॉ नेगी ने कहा, ’’डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट ने स्पष्ट तौर पर इंगित किया है कि समय रहते जांच और इलाज से ही इस समस्या का समाधान किया जा सकता है और उत्तराखंड के लोगों को इस मुे पर तत्काल प्रतिक्रिया देनी चाहिए।’’
डॉ नेगी ने उत्तराखंड के स्थानीय लोगों से आग्रह किया कि अपने समग्र स्वास्थ्य एवं कल्याण के लिए वे अपनी जीवनशैली सांस्कृतिक परिवर्तन लाएं। उन्होंने लोगों के सलाह दी कि कुछ सरल देखभाल से अपने जिगर को सेहतमंद रखा जा सकता है जैसे कि बहुत ज्यादा शराब न पीना, स्वास्थ्यकर जिंद्गी जीना, रोजाना कसरत करना, नियमित रूप से निवारक स्वास्थ्य परीक्षण के लिए जाना - खास कर वे लोग मोटे या डायबिटिक हैं।

उन्होंने वे लक्षण भी बताए जो खतरे की घंटी हैं और जिन्हें अनदेखा नहीं किया जा सकता: पीलिया, पैरों व पेट में सूजन, थकान, उल्टी में खून आना। उत्तराखंड का चरम मौसम भी यहां के लोगों की अस्वास्थ्यकर जीवनशैली के लिए जिम्मेदार है जैसे धूम्रपान, तंबाकू चबाना, अत्यधिक शराब पीना, शारीरिक गतिविधि की कमी और ऐसी चीजें खाना जिनकी सलाह कम ही दी जाती है - इन सब वजहों से स्थानीय लोगों में बीमारियों का पैटर्न बढ़ रहा है।

बीस वर्ष पुराना चंदन का पेड़ काट ले गए चोर

रूद्रपुर। बरहैनी के नजदीक मंदिर परिसर से शुक्रवार रात बीस वर्ष पुराने चंदन के पेड़ को चोर काट ले गए। शनिवार सुबह जब पुजारी और ग्रामीणों को घटना की जानकारी हुई तो उनमें आक्रोश फैल गया। मंदिर के पुजारी ने वन विभाग और पुलिस को सूचना दी। ग्रामीणों ने मामले का जल्द खुलासा न करने पर आंदोलन की चेतावनी दी।

ग्राम बरहैनी के नजदीक बाजपुर-नैनीताल मुख्य मार्ग के किनारे वन क्षेत्र में स्थित प्राचीन वनखंडी शिव मंदिर लोगों की आस्था का केंद्र है। इसी मंदिर परिसर में करीब 20 वर्ष पुराना चंदन का पेड़ था जिसे चोरों ने पूर्व में अनेक बार काटने का प्रयास किया, लेकिन वह अपने मकसद में कामयाब नहीं हो पाए। शुक्रवार रात मौका पाकर चोर इस पेड़ को काटकर ले गए। पुजारी की तरफ से पुलिस चौकी कालाढूंगी व वन विभाग को तहरीर देकर कार्रवाई की मांग की गई। ग्रामीणों ने आरोपी की जल्द गिरफ्तार न होने पर आंदोलन की चेतावनी दी। माना जा रहा है कि शुक्रवार देर सायं आए तेज अंधड़ व बारिश का फायदा उठाकर चोरों ने घटना को अंजाम दिया होगा। पेड़ की कीमत हजारों रुपये बताई जा रही है।

.