Share Your view/ News Content With Us
Name:
Contact Number:
Email ID:
Content:
Upload file:

The officers not carrying out their duties with commitment and sincerity would not be spared : Bahuguna

Dehradun : Chief Minister Vijay Bahuguna reviewed the Law and Order situation and development works in the state at his residence on Thursday and instructed the officers to work without any pressure. He, however, said that the officers not carrying out their duties with commitment and sincerity would not be spared.  Describing corruption the main obstacle in the path of development, he said that Vigilance Cell would be set up in all the departments. Laying emphasis on better coordination amongst the various departments, he asked the officers to resolve problems of general public on priority basis at local levels.

 
Chief Minister Bahuguna asked the senior officers of Police and Adminsitration to review the works to bring improvement in the performance of their respective departments. He advocated completing the works related to the public interest in stipulated time frame. He asked them to be present in their offices and carryout their duties with honesty. The Chief Minister asked the Police Department to increase extra vigilance to check entry of criminals from other states by deputing capable and committed officers. He announced to provide additional Mobile Communication vehicles to Police Department.
 
Chief Minister Bahuguna asking the officers to give special attention to the Flagship Programs of Centre and State Government said that the works should be seen in the ground level so that general public feel improvement in the Government and Administration functionaries. He asked them to give top priority to the problems pertaining to Scheduled Class, Scheduled Tribes, Minorities, Women and elderly persons. He asked them to expedite the process initiated to end slackness in the Administration. He stressed on simplifying formalities and processes related to the general public. He said that District Magistrates should keep an eye on the development works and ensure that quality in the works was not compromised. He also emphasized on checking leakage in all resources of revenue through capacity building.
 
For this he asked the officers to give special attention to mining, transportation, power and stamp duty. Mr. Bahuguna asked all the District Magistrates to prepare the lists of cases pending since a long time and submit them in the Chief Minister Office.
 
Mr. Bahuguna also issued instruction to ensure maximum participation of local youths in the development works. Taking in consideration the possible drinking water problem in summer season, he asked the concerned officers to prepare special work plan for it. He said that possibilities of support from the private medical institutions could be explored to meet the shortage of doctors in remote places. He said that works related to public welfare be publicized so as to ensure that every person availed of them.
 
Describing Char Dham Yatra important for economy of the state, Chief Minister Bahuguna asked the officers to ensure better facilities of water, medical and public lavatories for tourists.
 
He asked the District Magistrates to personally inspect the road construction works at Yatra routes. Mr. Bahuguna instructed the officers to conduct Alcohol Test on drivers in different locations to prevent road accidents. He asked them to remain prepared with a work plan to meet any eventuality. He said that the visitors should return with a good image of the state from here.
 
The meeting was attended by Chief Secretary Subhash Kumar, Additional Chief Secretary Aloke Kumar Jain, Principal Secretary Culture Vinita Kumar, Principal Secretary Home DK Kotia, Principal Secretary to Chief Minister Utpal Kumar Singh,
 
Secretary to Chief Minister SS Sandhu, DGP Vijay Raghav Pant, Commissioner Garhwa Region Kunal Sharma, Commissioner Kumaon Region Hemlata Dhaundiyal and other officers of Adminsitration and Police Department.

India successfully launches RISAT - 1 Spy Satellite

New Delhi : India’s first indigenous all-weather Radar Imaging Satellite (RISAT-1), whose images will facilitate agriculture and disaster management, was launched successfully on board the PSLV-C19 from Sriharikota in the early hours on Thursday. It was powered by the Polar Satellite Launch Vehicle (PSLV) from Sriharikota at 5.47 am this morning. India already has another spy satellite RISAT-2 acquired from Israel which was launched in 2009 and RISAT-1 is the heaviest satellite ever launched by India and weighs 1858 Kg.

 
The satellite carries a C-band Synthetic Aperture Radar (SAR) payload, operating in a multi-polarisation and multi-resolution mode to provide images with coarse, fine and high spatial resolutions and took around ten years to be made. The total cost of mission is about Rs. 500 crores. While the cost of the rocket is about Rs. 120 crores, the satellite costs around Rs. 380 crores and none of them are insured.
 
RISAT-1 will help in crop monitoring and flood forecasting. It will give India the ability for continuous surveillance.

अवकाश के दिनों में करनी होगी अतिरिक्त ड्यूटी

देहरादून। आने वाले दिनों में पुलिस कार्यालयों में तैनात कर्मचारी संडे या अन्य अवकाशों की छुट्टी को भूल जाएं यानी अब इनके आराम फरमाने के दिन लद चुके। वे अब अपने आप को मानसिक रूप से तैयार कर लें। रविवार समेत अन्य अवकाशों पर उन्हें भी वर्दी पहनकर फील्ड स्टाफ की तरह चौराहों पर दस घंटे ड्यूटी बजानी पड़ सकती है।
 
पुलिस कार्यालयों में विशेष जांच प्रकोष्ठ (एसआइएस), सम्मन सेल, जनसूचना अधिकार सेल, सिटीजन चार्टर, अभियोजन कार्यालय, आंकिक शाखा आदि विभागों में लगभग सौ इंस्पेक्टर, सब इंस्पेक्टर, हेड कांस्टेबल और कांस्टेबल तैनात हैं। इन पुलिसकर्मियों की ड्यूटी तभी होती है जब कार्यालय खुले होते हैं। सभी सरकारी कार्यालयों में जब अवकाश होते हैं तो इन पुलिसवालों की भी छुट्टी रहती है। यहां तक कि रविवार को भी ये लोग छुट्टी पर रहते हैं जबकि थानों-पुलिस चौकियों में तैनात पुलिसवालों को रविवार अथवा अन्य अवकाश की छुट्टियां नहीं मिलती हैं। इन छुट्टियों पर ड्यूटी के बदले पुलिसवालों को अतिरिक्त पैसे मिलते हैं।
 
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार गुप्ता ने बताया कि शासन के नए दिशा-निर्देशों के अनुसार अब सभी कार्यालयों में तैनात पुलिसवालों को थाने, चौराहों और अन्य स्थानों पर छुट्टी वाले दिन ड्यूटी करनी होगी। इस रविवार को इन कार्यालयों में तैनात छह पुलिस उपनिरीक्षक, तीन हेड कांस्टेबल और 31 सिपाहियों की ड्यूटी कोतवाली क्षेत्र में लगाई गई थी। अगले रविवार को सिविल लाइंस क्षेत्र में लगाई जाएगी। शासन के नए आदेश से कार्यालयों में तैनात पुलिस कर्मियों के आराम के दिन लद गए हैं।
 

Yamunotri and Gongotri Shrines open for Pilgrims | Char Dham Yatra

Dehradun: The pilgrimage to the Char Dhams, known as Char Dham Yatra begun today, tuesday, April 24, 2012. Traditionally, the yatra is done from west to east, starting from Yamunotri, then proceeding to Gangotri and finally to Kedarnath and badrinath. 

The six-month long pilgrimage season will begin with the opening of Yamunotri and Gangotri Shrines today and the shrine of Badrinath will open for the devotees on April 28, while the shrine of Kedarnath will open on April 29. 
 
It is being claimed by the Badrinath Kedarnath Temple Committee that accomodation arrangements have been made properly for the pilgrims and over 50 lakh pilgrims are expected this year. The administration also claims to have made elaborate and tested security arrangements for the pilgrims which include deployment of security personels, guiding guards, fire fighting and safety procedures and a good connectivity of CCTV cameras. 
 
 

Char Dham was the back bone of tourism in Uttarakhand : Bahuguna

Dehradun : Chief Minister Vijay Bahuguna today said that Char Dham was the back bone of tourism in Uttarakhand. He said that it was the Char Dham due to which the state was known worldwide.

Chief Minister said this after flagging off Char Dham Yatra at Rishikesh. He said that tourism would be made the main source of revenue generation in the state for which both State Government and the Centre were jointly drafting Master Plan. He said government’s endeavour would be to provide maximum job opportunities to the youths through tourism. Stating that there were other tourist spots beside Char Dham, he said a solid work plan was being chalked out to develop these spots. “River Rafting will be encouraged so that more employment opportunities generate from it,” he said.

He called on the local public, government employees and traders to behave in such a manner that the tourists take fond memories from Uttarakhand. He said that conditions of roads were being improved giving priorities to the Yatra routes. “ The basic facilities are also being developed in remote, difficult hill and border areas,” he revealed. 
 
Chief Minister Bahuguna said that the water flow of River Ganga would be brought back in Triveni Ghat again and very soon the construction works of ‘Astha Path’ would be completed. He said that lavatories with modern facilities would be constructed. Mr. Bahuguna said besides completing works on sewerage at Shishamjhari, Mayakund and Chandrabhaga, an additional Rs. 3.50 crore would be granted for sewerage treatment work underway at Rishikesh. “The State Government is preparing action plan to provide relief to the local residents from elephant menace,” he said.
 
Transport Minister Surendra Rakesh said that better transportation facilities were being arranged for the pilgrims of Char Dham Yatra. He said the state government would provide all possible support to transporters. Meanwhile, he asked the officers of Transport Department to provide best facilities to the pilgrims so that they return with good message from the state.
 
Education Minister Mantri Prasad Naithani said that the state would head towards prosperity under the leadership of Chief Minister Bahuguna. Also present on the occasion were MLAs Subodh Uniyal, Vikram Singh Negi, Dinesh Dhaney, Prem Chand Agarwal, former minister Shurveer Singh Sajwan and Rishikesh Nagar Palika Chairman Deep Sharma.
 
Later, Chief Minister Bahuguna reached Shaheed Sthal located at Haridwar Road and paid his tribute to martyrs. He said that the state would be developed as per the dreams of statehood agitationists. “The State Government is committed to resolve problems pertaining to them”. He also announced to pay the due amount of electricity bill of Shaheed Smarak from Chief Minister Discretionary Fund. 
The Chief Minister also visited Sanatan Dharm Mandir and paid his obeisance. 

तंबाकू कारोबार पर मंडराने लगे हैं संकट के बादल

देहरादून। तंबाकू कारोबार पर संकट के बादल मंडराने लगे हैं। खाद्य सुरक्षा एवं मानक अधिनियम 2011 लागू होने के बाद अधिनियम की धारा 1, 2 व 3 को सख्ती से लागू किया गया तो तंबाकू गुटखा की बिक्री ठप हो जाएगी। नए अधिनियम में तंबाकू गुटखा का उत्पादन करने वाली फैक्ट्रियों तथा थोक व फुटकर विक्रेताओं को लाइसेंस देने पर रोक लगा दी गई है। साथ ही पुराने लाइसेंसों का नवीनीकरण भी नहीं होगा। गढ़वाल मण्डल व राजधानी में हर महीने तंबाकू गुटखा का करीब एक अरब रुपये का कारोबार होता है। इसके बंद होने से कारोबारियों और इसके आदी लोगों को तगड़ा झटका लगेगा। प्रदेश में खाद्य सुरक्षा एवं मानक अधिनियम 2011 लागू हो गया है। भारत सरकार ने इसे संशोधन करके लागू किया है। खाद्य सुरक्षा विभाग के अधिकारियों के अनुसार खाद्य सुरक्षा एवं मानक अधिनियम 2011 की धारा 1, 2 व 3 के अनुसार तंबाकू की बिक्री और उत्पादन पूरी तरह प्रतिबंधित माना गया है। एक्ट में व्यवस्था है कि तंबाकू बनाने वालों और इसका कारोबार करने वालों को भी लाइसेंस नहीं दिया जाएगा। पुराने लाइसेंस या रजिस्ट्रेशनों को नवीनीकृत करने की व्यवस्था भी खत्म कर दी गई है। अगर एक्ट की इस व्यवस्था को यहां भी लागू किया गया तो कुमाऊं में रोजाना हो रहा करीब तीन करोड़ रुपये का तंबाकू बिक्री का कारोबार खतरे में पड़ जाएगा। कारोबारियों के अनुसार यहां कानपुर आदि से माल आता है। अकेले नैनीताल जिले में ही गुटखा के पांच सौ से अधिक थोक विक्रेता हैं,जबकि फुटकर विक्रेताओं की तो कोई गिनती ही नहीं है। इस कारोबार की व्यापकता को समझने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट ही काफी है, जिसमें हर तीसरे व्यक्ति को इसका शौकीन माना गया है। 

बिक्री ही नहीं कालाबाजारी भी : तंबाकू गुटखा बेचने पर भले ही प्रतिबंध लग गया हो, पर यहां धड़ल्ले से इसकी बिक्री हो रही है। इतना ही नहीं, इसको प्रिंट रेट से अधिक पर बेचा जा रहा है। दो रुपये का पाउच तीन रुपये में मिलता है। अन्य तंबाकू पाउच की बिक्री का भी यही हाल है। खाने वाले इसे अच्छी तरह जानते हैं, अधिकारियों को भी इसकी भनक है, लेकिन इसे रोकने के लिए आज तक कार्रवाई नहीं की गई है।

 सख्ती से लागू करेंगे : खाद्य सुरक्षा के लिए जिम्मेदार अधिकारियों का कहना है कि साधारण गुटखा बेचने पर कोई दिक्कत नहीं है, पर तंबाकू युक्त गुटखा बेचने का लाइसेंस देने पर पहले भी प्रतिबंध था और अब इसे ज्यादा सख्ती से लागू करने को कहा गया है। फिर भी कोई बिना लाइसेंस तंबाकू गुटखा का कारोबार करता है तो वह गैरकानूनी है और उसके खिलाफ कार्रवाई करने का प्रशासन को पूरा अधिकार दिया गया है।
 

पर्यटन प्रदेश के लिए मिलजुल कर काम करना होगा: अमृता

देहरादून। उत्तराखण्ड में पर्यटन विकास की व्यापक संभावनाऐं होते हुये भी इस क्षेत्र में हुये कार्यों की प्रगति अत्यन्त धीमी है। पर्यटन के क्षेत्र में उत्तराखण्ड में बहुत कुछ किये जाने की आवश्यकता है। उत्तराखण्ड को पर्यटन प्रदेश के रूप में प्रतिष्ठापित करने के लिये इस क्षेत्र में व्यापक पैमाने पर कार्य किये जाने हैं। उत्तराखण्ड की आर्थिकी, रोजगार सृजन, पलायन रोकने, विदेशी करैन्सी की प्रान्ति के लिये पर्यटन सैक्टर महत्वपूर्ण साबित हो सकता है बशर्ते कि यहां सामान्य, धार्मिक आध्यात्मिक, शैक्षिक, साहसिक, ऐतिहासिक एवं स्वास्थ्य वद्र्घक योगा जैसे पर्यटन के क्षेत्रों को व्यापक रूप दिया जा सके। 
 
यह बातें विधान भवन में पर्यटन मंत्री अमृता रावत ने एक बैठक के अवसर पर पर्यटन विभाग की गतिविधियों के सम्बन्ध में प्रस्तुतीकरण के अवसर पर कहीं। उन्होंने कहा कि विदेशी एवं देसी पर्यटकों की हमेशा से शौचालयों में व्यान्त गन्द्गी, बिना दरवाजे के शौचालयों व मूत्रालय, आधारभूत सुविधाओं का अभाव, पेयजल इत्यादि की कमी की शिकायत रही है जो वास्तविक है। इस स्थिति में तुरन्त व्यापक सुधार, स्थान-स्थान पर शौचालयों का निर्माण, पेयजल की व्यवस्था, स्वच्छता इत्यादि की व्यवस्था के निर्देश पर्यटन मंत्री ने विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को दिये। उन्होंने विभागीय कार्यों की प्रगति के प्रति अत्यन्त असन्तोष व्यक्त करते हुये कहा कि पर्यटक आवासगृहों में गन्द्गी व्यान्त है, कक्षों का रख रखाव न होने से कमरे रहने योग्य नहीं हैं जिन्हें तुरन्त ठीक करके के निर्देश दिये गये। उन्होंने कहा कि ट्रेनिंग मार्गों से सुधार, पयर्टन सम्बन्धी महत्वपूर्ण मार्गों का रख-रखाव किया जाना चाहिए। ध्यान केवल चारधाम यात्रा मार्गों पर ही केन्द्रित न रखते हुये व्यापक कार्ययोजना के तहत धन के सदुपयोग, पारदर्शिता, समयबद्घता के साथ कार्य किये जायें। उन्होंने कहा कि  विभिन्न स्थानों से हैलिकाप्टर सेवा, जौलीग्रान्ट हवाई अड्डे के समीप उच्चस्तरीय सुविधाजनक होटल निर्माण, यात्रा मार्गों पर होटल, मोटल सहित मौलिक सुविधाऐं मुहैया कराने से पर्यटकों की संख्या में प्रतिवर्ष बढोत्तरी होगी और पर्यटन वर्षभर चलता रहेगा। उन्होंने एडवेन्चर टूरिज्म को व्यापक स्तर पर बढाने, स्कूल कालेजों सहित सामान्य जन को एडवैन्चर टूरिज्म में कोर्स संचालित करने एवं प्रशिक्षण की व्यवस्था के निर्देश भी दिये।
 
पर्यटन मंत्री ने कहा कि लक्ष निर्धारित करके कार्य पूर्ण किये जायें और एक साथ कई कार्य हाथ में न लिये जायें। उन्होंने टिहरी झील के पर्यटन की दृष्टि से चहुमुखी विकास, पैराग्लाइडिंग, पैरा सेलिंग, रीवर राफ्टिंग, वोटिंग आदि की कार्य योजना पर कार्य करने निर्देश देते हुये कहा कि गोवा तथा अन्य प्रदेशों की तर्ज पर पर्यटनोपयोगी क्षेत्रों को विकसित कर सुविधाऐं मुहैया करायी जायें। पर्यटकों को उत्तराखण्ड की गौरवशाली संस्कृति, हस्तशिल्प, भोजन व खान-पान-व्यंजन से रूबरू कराया जाना पर्यटन को बढावा देगा। विभिन्न स्थानों पर रोपवे निर्माण, पर्यटन क्षेत्र में सार्वजनिक सहभागिता से भी पर्यटन बढेगा। 
 
बैठक में बताया गया कि वर्ष 2000 में पर्यटकों की संख्या 111$36 लाख से बढकर वर्ष 2011 में 268$09 लाख हुयी है जिससे राजस्व में भी बढोत्तरी हुयी हैं। जिला, राज्य, केन्द्र पोषित, बाह्य सहायतित योजनाओं में वर्ष 2011-12 में मार्च 2012 तक कुल 11500$6 लाख की योजनाओं के सापेक्ष 5243$77 लाख रूपये जारी हुये और 5110$08 लाख रुपये व्यय किये गये। केन्द्र पोषित मेगा पर्यटन सर्किट, पर्यटन सर्किट, टूरिस्ट डोस्टिनेशन, फूड, क्राफ्ट संस्थान की योजनाओं के लिये भारत सरकार से क्रमश: 50 करोड, 25 करोड, 8 करोड एवं 5 करोड की राशि उपलब्ध करायी जाती है। एशियन डेवलपमैन्ट बैंक की सम्बन्धित योजना के लिये पहली बार 396 करोड की राशि के लिये सैद्घान्तिक सहमति दी गयी है। 13 वां वित्त आयोग के अन्तर्गत पर्यटन योजना के तहत 12 पर्यटक ग्रामों में हार्डवेयर/साफ्ट वेयर प्रोजैक्ट्स के क्रियान्वयन हेतु भारत सरकार से क्रमश: 50 लाख एवं 20 लाख की वित्तीय सहायता दी जाती है। यह योजना सारी (देवरियाताल) , त्रियुगीनाराण, माणा, कोटी इन्द्रोली, पत्यूड, अगोडा, मोटाड, आदि कैलाश, नानकमत्ता, पदमपुरी, चौकोनीबोरा, कसारदेवी, जागेश्वर में संचालित की जा चुकी है। नये रोपवे पीपीपी मोड पर देने के लिये जानकीचट्टी-यमुनोत्री, देहरादून-मसूरी, ठुलीगाड-पूर्णागिरी, रामबाडा-केदारनाथ, ऋषिकेश-नीलकण्ठ पर कार्रवाई चल रही है। सालिडवेस्ट मैनेजमैन्ट के अन्तर्गत जानकीचट्टी, सोनप्रयाग, जोशीमठ में हाईड्रोलिक काम्पैक्टर संयत्र स्थापित किये गये हैं और कर्णप्रयाग, गौचर, गंगोत्री, गोविन्दघाट में संयंत्र स्थापना की कार्रवाई प्रारम्भ की गयी है। राज्य में पर्यटन को बढावा देने के लिये गत वर्ष उत्तर मध्य क्षेत्र के पर्यटन मंत्रियों का सम्मेलन, 8 वीं नेशनल राटिंग चैम्पियनशिप का मोरी में आयोजन, देहरादून में आईस स्केटिंग कार्निवाल, एडवैन्चर टूअर, योगा महोत्सव, विभिन्न प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। साहसिक पर्यटन में 2007-08 में 1445 प्रतिभागी से बढकर वर्ष 2011-12 में 2223 प्रतिभागी सम्मिलित हुये।इन वर्षों में कुल 117$87 लाख रुपये व्यय किये गये। प्रस्तावित कार्यक्रमों में ग्रामीण पर्यटन सेमिनार का 21 व 22 अप्रैल 2012 को आयोजन, रीवर राफ्टिंग नियमावली, ट्रैवल ऐजैन्सी/टूअर आपरेटर्स/एडवैन्चर टूरिज्म प्रशिक्षण, व्यापक प्रचार-प्रसार, टैवल मार्ट प्रतियोगिताऐं, अन्तर्राष्ट्रीय व राष्ट्रीय स्तर पर विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन आदि सम्मिलित हैं।
 
बैठक में एसएस सन्धु सचिव पर्यटन, नितेश कुमार झा अपर सचिव पर्यटन, एके सिंह, एके द्विवेदी संयुक्त निदेशक पर्यटन, चन्द्रसेन उप निदेशक पर्यटन, श्याम सिंह चौहान अनुसचिव पर्यटन, संजय के ठाकुर प्रधानाचार्य आईएसएच देहराूदन, योगेन्द्र कुमार गंगवार क्षे0प0अ0 देहरादून, शैलेन्द्र कुमार श्रीवास्तव महाप्रबन्धक निर्माण कुमाऊं मण्डल नैनीताल, सीएस मर्तोलिया महाप्रन्धक केएमवीएन, राहुल शर्मा महाप्रबन्धक निर्माण जीएमवीएन, राजेश नैथानी महाप्रबन्धक उद्योग जीएनवीएन, आदि उपस्थित थे।
 

बजट का असर दिखने लगा है सब्जियों पर

देहरादून। बजट का असर अब सब्जियों पर भी दिखने लगा है। सब्जियों के भाव बढऩे से आम आदमी की जेब तो कट ही रही है घर का बजट भी गड़बड़ाने लगा है। बड़ी मंडियों में सब्जियों की कृत्रिम किल्लत और जमाखोरी के कारण पैदा हुई इस स्थिति से छोटे दुकानदार भी परेशान हैं। लोग बजट संभालने के लिए हाथ रोककर खर्च कर रहे हैं। हालांकि स्थानीय मंडियों में आसपास के इलाकों से पहुंचने वाली सब्जियों ने स्थिति को कुछ हद तक नियंत्रित कर रखा है। नए वित्तीय वर्ष 2012-13 का बजट पेश होने के साथ ही आम आदमी की जेब पर बोझ बढऩे की आशंका जताई जा रही थी। 1 अप्रैल से शुरू हुए वित्तीय वर्ष में उपभोक्ता वस्तुओं के दाम बढऩे के साथ इसकी शुरुआत भी हो चुकी है। हालांकि आम आदमी के लिए सबसे अधिक परेशानी सब्जियों के बढ़े दाम ने पैदा कर दी है। पिछले कुछ दिनों में आलू, प्याज और हरी सब्जियों के दामों में डेढ़ से दो गुनी तक वृद्धि हुई है। स्थानीय बाजार में आलू अब 12 रुपए से 15 रुपए किलो तक बिक रहा है। जबकि पहले यह 7-8 रुपए किलो था। इसी प्रकार प्याज के दाम पहले की अपेक्षा दो से तीन रुपए किलो तक बढक़र 15 रुपए तक पहुंच चुके हैं। वहीं हरी सब्जियों में लौकी, गोभी और कद्दू के दाम डेढ़ गुने तक बढ़े हैं। हालांकि टमाटर के दाम कुछ मंडियों में स्थिर हैं तो कुछ में गिरावट भी दर्ज की गई है। ऐसा स्थानीय मंडियों में आसपास के इलाकों से फसल पहुंचने से हुआ है। परवल और लहसुन के दाम भी फिलहाल स्थिर बने हुए हैं। हालांकि आगे इनके बढऩे का अंदेशा बरकरार है। सब्जी विक्रेता संघ के अध्यक्ष बताते हैं कि बड़े शहरों की अपेक्षा यहां अभी स्थिति नियंत्रण में है। क्योंकि स्थानीय बाजारों में आसपास के इलाकों से तैयार फसल पहुंचने लगी है। फिर भी शहर की कुछ मंडियों में आलू, प्याज और हरी सब्जियों के दाम बढ़े हैं। सब्जी विके्रता विनोद कुमार के मुताबिक अहमदाबाद से आने वाला टमाटर तो महंगा है लेकिन स्थानीय टमाटर बाजार में पहुंचने से इसके दाम भी नियंत्रित हो रहे हैं। वहीं थोक विक्रेता महेश बताते हैं कि सब्जियों में महंगाई का असर शहर की मंडियों तक ही सीमित है।
 

नौ माह की बेटी को रात के अंधेरे में बाहर फेंका

लालकुऑ । ये कहानी नौ माह की अपनी अबोध बेटी को रात के अन्धेरे में घर से उठा कर बाहर फेंक कर आने वाले कलयुगी पिता की है। घोड़ानाला निवासी गिरीश चन्द्र जोशी जो रविवार रात्रि को करीब आठ बजे अपने घर नशे की हालत में धुत होकर पहुॅचा और अपनी मात्र नौ माह की बेटी रिया को घुमाने के बहाने घर से बाहर ले गया उस वक्त उसकी पत्नी चंपा पड़ोस में ही गेहॅू कटाई के लिए गयी थी और जब घर पहुॅचने के बाद उसने अपनी बेटी को घर पर नही पाया तो उसने अड़ोस-पड़ोस में उसकी खोजबीन की तब पता चला की रिया के पिता उसे बाहर घुमाने ले गये हैं।
 
उस अबोध बच्ची को क्या पता था कि उसके पिता जो उसे घुमाने ले गये हैं। वे उसे वापस घर ले जायेंगें भी या नही। हत्यारा पिता जब अद्र्घरात्रि को पुन: नशे में घुत घर लौटा तो वह खाली हाथ ही आया और उस नन्हीं सी जान को पता नही कहा छोड़ कर वापस घर आ गया। घरवालों के पूछनें पर वह बात को टालता रहा और कहता रहा की वह उसे घर लाना भूल गया। और रात भर उस नन्हीं सी जान की मॉ और उनके पड़ोसी उस बच्ची को रात भर तलाशते रहें। सुबह होने पर भी हत्यारा पिता झूठ बोलता रहा कि वह बच्ची को रात में कहीं भूल गया बार-बार बर्गलाने पर घरवालों ने पुलिस को इस घटना की सूचना दे दी। पर वह हत्यारा पिता पुलिस को भी आज तक यहीं कह कर बर्गलाता रहा कि वह नशे में था और बच्ची को कहीं रखकर भूल गया तथा इसी तरह कई तरह के जवाब देता रहा। गॉव में यह भी चर्चा थी कि उसने उस बच्ची का सौदा कर दिया होगा। 
 
आज प्रात: कुछ ग्रामीणों ने घोड़ानाला के सेंचुरी नाले में एक बच्ची की लाश तैरते हुए देखा। यह लाश और किसी की नही उसी बच्ची की लाश थी जिसका पिता उसे इस नाले में रात के अंधेरें में फेंक आया था। बच्ची के घुम हो जाने से परेशान दु:खी मॉ को जैसे ही पता चला कि उसकी नन्हीं सी जान अब इस दुनिया में नही रही उस पर मानो जैसे दु:खों का पहाड़ टूट पड़ा। 
 
लाश मिलने की सूचना मिलते ही कोतवाल वी सी पंत दल बल के साथ घटना स्थल में पहुॅच गये। लाश का मुवायना करने पर पता चला कि लाश के सिर पर गंभीर चोटो के निशान थे बच्ची को नाले में फेंकने से पहले उसे किसी भारी वस्तु से मारा गया था। कोतवाल वी सी पंत ने लाश का पंचनामा भर उसे पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया और हत्यारोपी पिता को पुलिस हिरासत में ले लिया गया हैं।  
 
यह करतूत हर मॉ की ममता को छलनी कर देने वाली हैं। कुछ दुष्ट लोग आज भी बेटों की चाह में अपनी प्यारी सी बेटीयों को मौत के मुॅह में धकेल रहे हैं। आज भी हमारा देश इस अंधविश्वास में जी रहा हैं कि बेटे ही माता पिता के लिए सहारा होते हैं पर आज के समय में बेटियों ने साबित कर दिया हैं कि वे बेटे से कम नही हैं।     

Airtel launches 4G Services

After being succesfull in its campaign, 'Har ek friend Zarori Hota Hai', Bharti Airtel took a step ahead of other operators by  launching Broadband Wireless Access (BWA) services in Kolkata, becoming the first company to offer 4G services in India. The services will also be available in other Metro cities soon.

 
Airtel has taken assistance from a Chinese telecom equipment maker ZTE to plan, design, supply and deploy its BWA network in Kolkata. It has potential to provide download speeds of around 100 Megabits per second when an user is on the move, and can go up to 1 Gigabits per second at a fixed location. 
 
The telecom major has appointed Nokia Siemens Networks (NSN) for building and operating network in the Maharashtra circle using TD-LTE -- one of the 4G technologies. 
 
With the launch in Kolkata, Airtel will become the first company to start 4G wireless services in the country. The company had won BWA spectrum in 2010 for four telecom circles -- Kolkata, Maharashtra, Punjab and Karnataka and had paid Rs 3,314.36 crore. 
 
The services were launched by telecom Minister Kapil Sibal.

चारधाम यात्रियों का रजिस्ट्रेशन होंगा तीर्थनगरी में

ऋषिकेश। चारधाम यात्रा में इस बार यात्रा पर जाने वाले यात्रियों का पंजीकरण ऋषिकेश नगरपालिका द्वारा ही किया जाएगा। इससे नपा के राजस्व में वृद्धि होने सहित यात्रियों पहुंचने के प्रतिशत सहित अन्य कई लाभ प्राप्त होंगे। 

उत्तराखण्ड शासन यात्रा प्रशासन संगठन द्वारा इस बार यात्रा को और अधिक सुलभ बनाने को लेकर एक नई पहल की गयी है। चारधाम यात्रा पर जाने वाले सभी यात्रियों का अब पंजीकरण यात्रा के प्रारम्भ होने से दो दिन पहले ऋषिकेश नगरपालिका द्वारा संयुक्त यात्रा बस स्टैण्ड पर ही किया जायेगा। इस नई पहल से नगरपालिका को खासा राजस्व लाभ होने के पूरे आसार दिख रहे है। साथ ही यात्रियों का पूरा डाटा अब यहीं आसानी से उपलब्ध हो पायेगा। यात्रा पर जाने वाले यात्रियों के साथ यदि इस दौरान कोई दुघर्टना घटित होती है तो इसी पंजीकरण से उनके शिनाख्त होने सहित अन्य कई लाभ भी प्राप्त होंगे। चारधाम यात्रा को हर तरह से सुलभ बनाने के लिए शासन की ओर से भरसक प्रयास किये जा रहे है। पिछले बार की कुछ गलतियों से सबक लेकर इस बार कुछ नई व्यवस्थाएं बनायी जा रही है जिससे यात्रा पर पहुंचने वाले यात्रियों को इसका खासा लाभ प्राप्त होगा। सभी यात्रियों के यहां पंजीकरण किये जाने पर नगरपालिका पर थोड़ा भार अवश्य पड़ सकता है, लेकिन इससे नपा के राजस्व में बढत भी दर्ज होने लाजमी है। शासन की ओर से चारधाम यात्रा को सुरक्षित व अन्य नई पहलों से सुलभ बनाने के लिए प्रयास किये जा रहे है। जिसका निश्चित तौर पर यहां पहुंचने वाले यात्रियों को लाभ मिलेगा। इस सम्बंध में जानकारी देते हुए यात्रा प्रशासन संगठन उत्तराखण्ड शासन के निजि सचिव एके श्रीवास्तव ने बताया कि इस बार सभी चारधाम यात्रा पर पहुंचने वाले यात्रियों का पंजीकरण नपा द्वारा यहीं किया जाना तय किया गया है। जिससे काफी लाभ मिलने की आशंका जतायी जा रही है। 

 

नीलकंठ पैदल मार्ग पर मिला महिला का शव, शिनाख्त नही

ऋषिकेश। नीलकंठ पैदल मार्ग पर एक ३० वर्षीय अज्ञात महिला का शव देख गश्त कर रहे वनकर्मियों ने तत्काल इसकी सूचना पुलिस को दी। मौके पर पहुंची ने शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया है। अभी तक उक्त मृतक महिला की शिनाख्त नही हो पायी थी।

लक्ष्मणझूला थाना अन्तर्गत क्षेत्र के बैराज बाइपास के समीप नीलकंठ पैदल मार्ग पर दोपहर २ बजे गश्त कर रहे वनकर्मियों ने एक अज्ञात महिला का शव पड़े होने की सूचना पुलिस को दी। सूचना मिलते ही तत्काल मौके पर पहुंची पुलिस ने अज्ञात ३० वर्षीय उक्त महिला के शव को अपने कब्जे में लिया। पुलिस ने शव का पंचनामा भर उसे पोस्टमार्टम के लिए चिकित्सालय भिजवा दिया है। पुलिस ने मृतका की शिनाख्त किये जाने को लेकर भरसक प्रयास किए लेकिन समाचार लिखे जाने तक पुलिस के हाथ कोई सफलता नही लग पायी थी। इस सम्बंध में थाना प्रभारी बीएस भागुनी ने जानकारी देते हुए बताया कि उक्त मृतका महिला की उम्र लगभग ३० वर्ष है। प्रथम दृष्टया यह आत्महत्या का मामला प्रतीत हो रहा है। शिनाख्त अभी नही हो पायी है। साथ ही उन्होंने बताया कि शव की पीएम रिपोर्ट आने के बाद ही स्थिति स्पष्ट हो पायेगी। 

 

गौरीकुंड घोड़ा पड़ाव में अब जाम से नहीं जूझेंगे यात्री

रुद्रप्रयाग। हर बार की तरह इस बार भगवान केदारनाथ के दर्शनों के लिए आने वाले श्रद्धालुओं को गौरीकुंड घोड़ा पड़ाव में जाम व गदंगी की समस्या से नहीं जूझना पड़ेगा। प्रशासन इस बार यात्रियों के लिए अलग रूट निर्धारित करेगा। इसके साथ ही अन्य व्यवस्थाएं भी जुटाई जाएंगी।
 
विश्व प्रसिद्ध धाम भगवान केदारनाथ की यात्रा शुरू होते ही गौरीकुंड पड़ाव स्थल पर रोजाना हजारों की संख्या में देशी-विदेशी श्रद्धालुओं की भीड़ जमा रहती है। अब हर बार यात्राकाल सीजन में यहां घोड़ा पड़ाव पर जाम की सबसे विकट समस्या पैदा होती है। इसके पीछे मुख्य वजह घोड़ा पड़ाव का पैदल मार्ग से सटा होना है और यहां से ही श्रद्धालु अपने घोड़े व खच्चरों की बुकिंग करते हैं, जिसके चलते पैदल मार्ग पर भी घोड़े खच्चरों का जमावड़ा लग जाता है। ऐसे में पैदल चलने वाले तीर्थ यात्रियों को जहां जाम की समस्या से जूझना पड़ता है, लेकिन इस बार पैदल आवाजाही करने वाले यात्रियों को अलग रूट उपलब्ध कराए जाएंगे। इसके लिए डायवर्जन का निर्माण किया जा रहा है। इसके साथ ही यहां रास्ते पर लाउड स्पीकर भी लगाएं जाएंगे, जिससे यात्रियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए जाएंगे।
 
जिलाधिकारी चंद्रेश कुमार ने बताया कि इस बार घोड़ा पड़ाव पर जाम की समस्या पैदा नहीं होने दी जाएगी। साथ ही अन्य समस्याओं के निस्तारण के लिए भी पूरे प्रयास किए जाएंगे। इसके लिए रणनीति के तहत कार्य किया जा रहा है।

 

सीवर लाइन चोक, सडक़ पर बह रही है गंदगी

रुद्रप्रयाग। ऊखीमठ में सीवर लाइन चोक होने से गंदगी सडक़ पर बह रही है। इससे वहां से गुजरने वाले लोगों को खासी परेशानी हो रही है। लोगों ने संबंधित विभाग से क्षतिग्रस्त सीवर लाइन को ठीक करने की मांग की है।

ब्लॉक व तहसील मुख्यालय ऊखीमठ बाजार से कुछ दूरी पर स्थित मनसूना मोटरमार्ग पर बनी सीवर लाइन कुछ दिनों से चोक हो रखी है। इससे सीवर का पानी सडक़ पर बह रहा है। इससे स्थानीय लोगों को वहां से गुजरने में भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

व्यापार संघ अध्यक्ष आनंद सिंह रावत ने बताया कि कुछ वर्ष पूर्व बनी इस सीवर लाइन का उचित रखरखाव नहीं किया गया। इससे पूरी सीवर लाईन मिट्टी से भर गई है। इसके साथ ही तहसील मार्ग पर सीवर लाईन क्षतिग्रस्त हो रखी है। उन्होंने इसके लिए लोक निर्माण विभाग की जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कहा कि सीवर लाइन को सर्वे तो किया गया, लेकिन अभी तक कार्य नहीं हुआ है। इससे बाजार में गंदगी फैली हुई है।
 
वहीं, स्थानीय निवासी महेश बत्र्वाल, कुलदीप धर्मवाण, मनवर नेगी व जगदीश नेगी का कहना है कि इस संबंध में विभाग से कई बार शिकायत की गई, लेकिन स्थिति में कोई सुधार नहीं किया गया। सडक़ पर गंदगी फैली रहती है, जिससे लोगों को वहां से गुजरने में खासी दिक्कत हो रही है। उन्होंने विभाग से शीघ्र समस्या के निराकरण की मांग की है।
 

वनरक्षकों की भर्ती प्रक्रिया ने पकड़ा तूल, स्वागती कक्ष रहा घंटों बंद

रामनगर। कार्बेट नेशनल पार्क में वनरक्षकों की भर्ती प्रक्रिया को निरस्त किये जाने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। पार्क प्रशासन के व्यवहार से आहत अभ्यर्थियों ने आज अपने परिजनों के साथ मिलकर पार्क के स्वागती कक्ष को करीब 6 घंटे व कार्यालय को दो घंटे तक बंद करवाये रखा। सैलानियों को इससे भारी दुश्वारियों से गुजरना पड़ा, लेकिन पार्क प्रशासन ने आंदोलन की पूर्व घोषणा होने के चलते वैकल्पिक व्यवस्था कर रखी थी जिससे सैलानियों को कुछ घंटे के व्यवधान के बाद पार्क में प्रवेश दिया गया। अभ्यर्थियों की सबसे ज्यादा नाराजगी पार्क के उपनिदेशक से थी जिसकी खुन्नस उन्होने आज उनका घेराव कर निकाली। इसी के साथ वत्सल फाउन्डेशन की सचिव श्वेता मासीवाल सहित अनेक राजनेतिक संगठनों ने आज आंदोलन स्थल पर पहुंचकर अभ्यर्थियो की मांगों का समर्थन किया। अपने पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार आज कार्बेट पार्क की भर्ती प्रकिया को निरस्त किये जाने से प्रभावित अभ्यर्थियों ने अपने परिजनो के साथ मिलकर आज कार्बेट नेशनल पार्क के स्वागती कक्ष को प्रात: 6 बजे ही बंद करा दिया। इस दौरान हंगामा करते हुये अभ्यर्थियों ने आरोप लगाया कि उनके शान्तिपूर्ण आंदोलन के बाद भी पार्क प्रशासन ने उनकी लगातार अनदेखी कर रहा है। भर्ती प्रक्रिया को निरस्त किये जाने से उनका न केवल मानसिक उत्पीडऩ हुआ है बल्कि आर्थिक रुप से उन्हे हानि हुई है। वत्सल फाउन्डेशन की सचिव श्वेता मासीवाल ने अभ्यर्थियों को अपना समर्थन देते हुये कहा कि भर्ती प्रक्रिया को निरस्त करके पार्क प्रशासन निर्धन परिवारों के अभ्यर्थियों के शोषण पर उतारु है जिसे  किसी भी सूरत में सहन नही किया जायेगा। इस दौरान आज कार्बेट नेशनल के बिजरानी, ढिकाला, झिरना, दुर्गादेवी आदि पर्यटन जोन में प्रवेश के लिये जाने वाले सैलानियों को भारी दिक्कत का सामना करना पड़ा।

घंटो की कवायद के बाद पार्क प्रशासन द्वारा उनके लिये वैकल्पिक व्यवस्था की गयी जिससे उनका पार्क में प्रवेश हो सका। बाद में अभ्यर्थियों ने कार्बेट नेशनल पार्क के मुख्य कार्यालय को भी नही खुलने दिया। इसी दौरान अपने कार्यालय पहुचे पार्क के उपनिदेशक सीके कविदयाल को आंदोलन कर रहे अभ्यर्थियों ने घेरकर उनके खिलाफ जबरदस्त नारेबाजी की। भर्ती प्रक्रिया को निरस्त किये जाने का कारण बार-बार पूछने पर भी उपनिदेशक श्री कविदयाल ने गेंद निदेशक के ही पाले में डाले रखी। इस दौरान आंदोलन करने वालों में ऋतु बेलवाल, हेमचंद्र तिवारी, गोपाल बिष्ट, संतोष बिष्ट, यशवंत रौतेला, अरविन्द प्रसाद, कुलदीप सिंह, हरेन्द्र नेगी, बबीता सती, सरिता आर्य, यशोद सिंह, महेश नागिला, विवेक चन्द्र, हेमलता आदि मौजूद रहे, जबकि पालिकाध्यक्ष हाजी मौ0 अकरम, सभासद हफीजा बेगम, विमला रावत, नईम चौधरी, जितेन्द्र बिष्ट, उपपा के प्रभात ध्यानी, कांग्रेस की हेमा बेलवाल, अमिता लोहनी, तारा सती, विमला आर्य, गीता बिष्ट, परेश्वरी रौत, ललितमोहन बिष्ट आदि ने अभ्यर्थियों की मांगों को जायज बताते हुये उनका समर्थन किया। 

नही झुकेगा पार्क प्रशासन
 
आंदोलन कर रहे अभ्यर्थियों के दवाब में पार्क प्रशासन बिल्कुल नही आयेगा। और यदि इनका यही रवैया रहा तो पार्क प्रशासन इस मामलें में पुलिस की सहायता लेने से भी नही हिचकेगा। यह विचार आज पार्क के उपनिदेशक सीके कविदयाल ने आंदोलन के मामलें में पार्क प्रशासन का पक्ष जानने पर व्यक्त किये। इस दौरान उन्होने बताया कि नियमानुसार पार्क निदेशक को भर्ती प्रक्रिया को निरस्त किये जाने का पूरा अधिकार है जिसपर कोई उंगली नही उठाई जा सकती है। इसके साथ ही उन्होने बताया कि भर्ती प्रक्रिया को पुन: मई माह में आरम्भ किया जा सकता है जिसकी सूचना समय रहते दी जायेगी।  
 

दिनदहाड़े हथियारों की नोंक पर अस्सी हजार की लूट

देहरादून। दून में कानून व्यवस्था पूरी तरह से छिन्न-भिन्न हो चुकी है। पुलिस अधिकारी हाथ पर हाथ धरे बैठे हैं और बदमाश अब बेखौफ अपनी हरकतों को अंजाम दे रहे हैं। कोतवाली क्षेत्र में आज दो बदमाशों ने आढती को निशाना बना कर अस्सी हजार रूपए लूट लिए और फरार हो गए। सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने आढती से पूछताछ की तो उसने बताया कि बदमााशों की संख्या दो थी जो कि दुकान में घुसे और माल दिखाने को कहा। 
 
मित्र पुलिस की लचर कानून व्येह्लस्था एक और नायाब उदाहरण आज देखने को मिला। बड़ी-बड़ी डीगे हांकने वाली दून पुलिस को दो बदमशों ने धूल चटा दी। व्यस्ततम क्षेत्र आढत बाजार में लक्खीबार चौकी से चंद कदमों की दूरी पर ही आढती से हथियारों की नोंक पर अस्सी हजार रूपए लूट लिए गए। घटनाक्रम के अनुसार आढत बाजार में धर्मप्रकाश शिवकुमार का आढती का काम है। आज दिन में दुकान में भान प्रकाश बैठा हुआ था जबकि दुकान के अन्य लोग लंच के लिए गए हुए थे। इसी समय दुकान में दो व्यक्ति आए जिन्होंने भान प्रकाश को सामान दिखाने को कहा। भान प्रकाश ने कुछ देर प्रतीक्षा करने को कहा और कहा कि बाबूजी आने वाले हैं वही सामान का सौदा भी करेंगे। दोनों बदमाशों ने भान प्रकाश को एक व्यक्ति का नाम लेकर कहा कि उनके कहने पर वह इस दुकान में माल खरीदने के लिए आएं। इस पर भान प्रकाश उन्हें माल दिखाने के लिए अंदर ले गया। अंदर ही एक बदमाश ने भान प्रकाश पर तमंचा लगा दिया और गल्ले की चाबी मांगी। हल्ला मचाने की सूरत में जान से मारने की धमकी दी।
 
डरे-सहमे भान प्रकाश ने गल्ले की चाबी इन लोगों को दे दी। इनमें से एक बदमाश ने गल्ला खोला और उसमें रखी अस्सी हजार की नगदी लेकर चंपत हो गए। बदमाशों के जाने के बाद भान प्रकाश ने हल्ला मचाया जिस पर कुछ ही देर में कई आढती वहां पहुंचे। कुछ देर बाद सीओ कोतवाली प्रमेंद्र डोबाल, कोतवाल दिनेश चंद्र बौंठियाल सहित अन्य पुलिस कर्मी वहां पहुंचे। पूछताछ करने पर भान प्रकाश ने बताया कि इन बदमाशों की उम्र ३० से ३५ वर्ष की थी। भान प्रकाश की जानकारी के बाद तत्काल बदमाशों की तलाश में चैकिंग अभियान शुरू किया गया तो हमेशा की ही तरह फ्लॉप शो साबित हुआ। दिनदहाड़े चौकी से चंद कदमों की दूरी पर हुई हजारों की लूट के बाद व्यापारियों में पुलिस के प्रति रोष बना हुआ है।
 

यशपाल ने सुनी जनता की समस्यायें

गदपुर। प्रदेश के राजस्व आपदा प्रबन्धन,सिचंाई मंत्री यशपाल आर्य ने अपने तुफानी दौरे के अन्तर्गत उन्होंने ग्राम साडखेडा जैतपुर डकिया नं0 3,नुरपूर महतावन,लक्ष्मीपुर,बाजवाला,गुलजारपुर,गंाधीनगर,जुडका नं0 2,मुकुंदपुर,अजीतपरु तथा महुआखेडागंज, कुण्डेष्वरी ,प्रतापपुर,खरमासा,खरमासी आदि क्षेत्रों में भ्रमण कर क्षेत्रवासियों को उन्हें निर्वाचन में विजयी बनाने पर बधाई दी तथा जनसमस्यायें सुन उनके निराकरण के लिये मौके पर मौजूद अधिकारियों को समस्याओं के निराकरण किये जाने के निर्देष दिये । जगह-जगह आयोजित स्वागत समारोहों को सम्बोधित करते हुये श्री आर्य ने कहा कि बाजपुर के साथ ही समग्र प्रदेष के विकास के लिये संकल्पित है । बाजपुर में जनजाति के छात्रों के लिये एकलव्य विद्यालय स्थापित किया जायेगा। इसके लिये भूमि की तलाष की जा रही है। इस विद्यालय की स्थाना के लिये लगभग 10 एकड भूमि की आवष्यकता होगी । उन्होंने स्पष्ट किया किया कि सरकार पूरे 5 साल कार्य करेगी। बाजपुर विधान सभा क्षेत्र में भ्रमण पर पहुंचे आर्य का कुण्डेष्वरी मार्ग स्थित सगुन गार्डन में कार्य कर्ताओं व पूर्व राज्य मंत्री सोहन सिंह के नेतृत्व में जोरदार स्वागत किया गया। श्री आर्य ने कहा कि बाजपुर चीनी मिल से निकलने वाली राख से निजात दिलाने के लिये मिल का जीर्णोद्घार किया जायेगा तथा मिल का नवीनीकरण भी किया जायेगा। उन्होंने कहा कि एकलव्य विद्यालय में छात्रों की पढाई ,भेाजन व कपडों की व्यवस्था सरकार करेगी। इसके अलावा बाजपुर में जनजाति बजट से आईटीआई की स्थापना भी की जायेगी। आर्य के भ्रमण कार्यक्रम में विमल गुडिया,माजिद अली,अनूप अग्रवाल,देवेन्द्रपाल,उपेन्द्र चौधरी,आनन्द पाल सिंह,बंटी सक्सेना,मुक्ता सिंह,उमेष जोषी ,मनु पाठक, सौरभ विजयपाल सिंह आदि मौजूद थे। ग्राम अजीतपुर के लोगों ने कोसी नदी की बाढ से हरसाल हो रहे कटाव की जानकारी दी। आर्य ने नदी का कटाव रोकने के लिये तटबंध बनाये जाने का आष्वासन दिया। 

 

युवती को नौकरी के नाम पर बीबी बना दिया

रुद्रपुर। एक युवती ने युवक पर नौकरी का झांसा देकर उससे २० हजार की नगदी और सादे कागज पर हस्ताक्षर करार धोखे से शादी करने का आरोप लगाते हुए पुलिस में रिपोर्ट दर्ज करायी है। युवती ने युवक पर अन्य स्थान पर शादी करने पर जान से मारने की देने का आरोप लगाया है। 

जानकारी के मुताबिक फ्रैन्डस इंक्लेव निकट रेलवे स्टेशन निवासी एक युवती ने पुलिस में दर्ज करायी रिपोर्ट में कहा है कि वह अपनी सहेली के पास नौकरी के तलाश में आयी हुई थी। इसी बीच उसकी मुलाकात जिला मुजफ्फरनगर के खतौली देहात निवासी अमित कुमार पुत्र सतीश कुमार से हुई थी और उसने नौकरी दिलाने का आश्वासन देने के बाद उससे २० हजार रूपये ले लिये। युवती का कहना था कि बाद में उससे एक सादे कागज पर हस्ताक्षर करा लिये। जब नौकरी न मिलने पर अमित से बात की गयी तो वह टालमटोल करता रहा। युवती का कहना था कि उसे पता ही नहीं चला कि अमित ने उससे कब शादी कर ली। जब १३ मार्च २०१२ को उसके पिता ने अमित से फोन पर बात की तब अमित ने नैनीताल शुक्रताल स्थित आर्य समाज मंदिर में शादी करने की बात कहकर धमकी दी कि अगर किसी अन्य जगह शादी की तो जान से मार दिया जायेगा। युवती का यह भी कहना था कि यह राज फोन करने के बाद उजागर हुआ। युवती ने अमित पर धोखाधड़ी कर उससे २० हजार की नगदी और सादे कागज पर हस्ताकर कराकर धोखे में शादी करने का आरोप लगाया है और पुलिस से कार्रवाई की मांग की है। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ विभिन्न धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कर ली है। इधर, सीओ सिटी पंकज भट्ट ने बताया कि पुलिस की जांच में नैनीताल में शुक्रताल स्थित आर्य समाज मंदिर नहीं पाया है। जांच की जा रही है आरोपी को शीघ्र गिरफ्तार किया जायेगा। उन्होंने बताया कि ठगी का शिकार हुई युवती जिला पिथौरागढ़ की निवासी है।

 

जल्द ही अस्तित्व में आ जाएगा फायर एक्ट

देहरादून। अभी तक उत्तर प्रदेश के एक्ट को लेकर खिसक रहे अग्रिशमन विभाग का शीघ्र ही कायाकल्प हो सकेगा। यह इसलिए संभव है कि प्रदेश में अग्निशमन विभाग का जल्द ही अपना फायर एक्ट बन जाएगा। इसके लिए विभागीय मुख्यालय को एक्ट का खाका तैयार करके भेजा गया है। शासन से मंजूरी मिलते ही एक्ट के तहत ही अग्निशमन विभाग के सारे कार्य होंगे। नैनीताल जनपद के प्रभारी जिला मुख्य अग्निशमन अधिकारी सुरेंद्र कुमार शर्मा ने  एक्ट का खाका तैयार करके भेजा है। प्रदेश में 32 नए फायर स्टेशन खुलने प्रस्तावित है। जिसमें जनपद में पांच व ऊधमसिंह नगर में छह फायर स्टेशन खुलने हैं। जमीन न मिलने के कारण फायर स्टेशन खुलने में दिक्कतें आ रही हैं। 14 से 20 अपै्रल तक अग्नि सुरक्षा सप्ताह मनाया जाएगा। इसके तहत बैंकों, स्कूलों व फैक्ट्रियों में लोगों को रैली व पंपलेट के माध्यम से अग्निशमन दुर्घटनाओं से बचाव के लिए जागरुक किया जाएगा। आग की अधिकांश घटनाएं लापरवाही के कारण ही होती हैं। सावधानी से काफी हद तक अग्निकांडों से निजात मिल जाएगी।

 

सावधान: आप आईसक्रीम की जगह जहर तो नहीं खा रहे हैं

देहरादून। अगर आप या आपका बच्चा गली-मोहल्ले में बिक रही आइसक्रीम को खरीदकर खा रहे हैं, तो जरा सावधान..। बिना मानक और जानकारी के अभाव में केवल पैसा कमाने की चाह के चलते धंधेबाजों द्वारा खुद बनाकर बेचा जा रहा यह स्वाद आपकी सेहत पर भारी भी पड़ सकता है। लापरवाही की स्थिति यह है कि गर्मियों को भुनाने के लिए बड़े स्तर पर किए जा रहे इस कारोबार की गुणवत्ता को परखने की अधिकारियों ने भी जरूरत महसूस नहीं की है। अभी भले मई-जून दूर है। लेकिन गर्मी शबाब पर पहुंच गई है। पानी और शीतल पेय की मांग भी तेजी से बढ़ गई है। ऐसे में आइसक्रीम की डिमांड इन सबमें अधिक है। मार्केट को भुनाने के लिए ब्रांडेड कंपनियों ने तो आइसक्रीम तैयार की ही हैं, स्थानीय स्तर पर भी पैसा कमाने की चाहत के चलते स्वाद का यह कारोबार तेजी पर है। लोकल स्तर पर इस कारोबार में कई कारोबारी ऐसे भी हैं जो घरों में ही माल तैयार कर साइकिलों और रिक्शों से गली-मोहल्ले में बिक्री करा रहे हैं। इन लोगों ने बाकायदा स्थान भी चिन्हित कर रखे हैं। स्कूल खुलने और बंद होने के समय आइसक्रीम के ज्यादातर रिक्शे और साइकिल स्कूल के आसपास खड़े मिलेंगे तो बाकी समय गली-मोहल्ले में घूमकर बेचते दिखेंगे। यह लोग केवल अनुभवी कारीगरों को रखकर माल तैयार कराते हैं। एक शुद्ध और गुणवत्ता युक्त आइसक्रीम का मानक क्या है? इसकी जानकारी न बनाने को वाले को न बनवाने वाले को। केवल खाने में अच्छी लगनी चाहिए, इसी मानक पर सारा कारोबार चल रहा है। सूत्रों का कहना है कि दूध की कमी को मिल्क पाउडर से दूर किया जा रहा है। इसे गाड़ा करने के लिए कस्टर्ड मिलाया जा रहा है। मीठा करने के लिए चीनी की जगह सैक्रीन मिला रहे हैं। इसी तरह मैंगो फ्लेवर, स्ट्राबेरी फ्लेवर, चॉकलेटी फ्लेवर ब्रांडेड के स्थान पर लोकल मिलाए जा रहे हैं। इसी तरह कस्टर्ड युक्त दूध में ब्रेड और अरारोट मिलाकर क्रीम तैयार की जा रही है। बिना एगमार्क रंगों का इस्तेमाल हो रहा है। यह आशंका इसलिए और है कि गत वर्ष स्वास्थ्य अधिकारी ने निरीक्षण के दौरान एक आइस फैक्ट्री पर एक्सपायरी डेट का ब्रेड पकड़ा था तो कस्टर्ड भी पाया गया। इतना ही नहीं जांच को भेजा गया आइसक्रीम का नमूना भी फेल निकला था।
 

.