Share Your view/ News Content With Us
Name:
Contact Number:
Email ID:
Content:
Upload file:

Queen of Hills: Home for several celebrities

Mussoorie: Mussoorie has been home to several celebrities from the world over and has been known to attract many who visit its charming environs to the extent that they set up their home here. Over the years, the list of people who have fallen in love with the Queen of Hills has been long.
 
Whether it was John Lang, the Australian writer and lawyer, freedom fighter Abbas Tyabji (known as Chotta Gandhi) or Dr Amarnath Jha , the professor of English from Allahabad University (who was later the V-C of the University) all of them belong to this list. Renowned writer Ruskin Bond decided to leave the world behind and settle down in a cottage in Landour from where he could always view the majestic Himalayan peaks with which he has always been in love.Another great personality who once fell in love with this hill station and decided to live here was Mahapundit Rahul Sankrityayan for whom it was always difficult to settle down in one place. He was a wanderer and travelled extensively in India and abroad. But Mussoorie’s charm won him over and he spent quite a few years here at a cottage (Hern Lee Cottage) in picturesque Happy Valley with his wife, Dr Kamala Sankrityayan, a well-known Nepali and Hindi writer, who recently passed away in Darjeeling at “Rahul Niwas” in 2009.
 
This exceptionally brilliant couple spent a lot of time here in Happy Valley before the great scholar fell ill and died in Darjeeling.Today, the Hern Lee Cottage is not to be seen. It was broken down and now a building there houses a dispensary being run Tibetans. One of the most widely-travelled scholars of India, philanthropist and renowned scholar Sankrityayan was born on April 9, 1893 to a Bhumihar Brahmin family at Kanaila Village in Azamgarh district, Uttar Pradesh. His father, Govardhan Pandey, was a religious-minded farmer, a typical profession of Bhumihar Brahmins, from the village Kanaila of Azamgarh district in Uttar Pradesh. His original name was Kedarnath Pandey.Later in life, he was enamoured of Mussoorie’s climate and found the place ideal for creating his works. “The house was given to him by a lady, Kamlendu Mati Shah,who belonged to the royal family of Tehri. Kamlendu became friends with his wife Kamala and was greatly impressed by the couple”, says Gopal Bhardwaj, chronicler of Mussoorie.The premises, where the Sankrityayans lived in the fifties has no sign of their existence there.
 
The road in Happy Valley that was named after Rahul Sankrityayan several decades ago has been renamed thrice since”, says Bhardwaj.Darjeeling, however, has a small monument at the place where this Buddhist scholar was cremated in 1963.The Mussoorie years were some of the few happy times Sankrityayan spent with his wife and two little children, Jaya and Jeta. Soon after, he was invited by Sri Lanka Vidyalankara University as a professor of Buddhism. He fell ill there and lost his memory for two years before he died, at the age of seventy. He had married Kamala quite late in life. It has never been easy for anyone to describe Sankrityayan in words. His personality encompassed such a variety of attributes, all quite strong and impressive. He wrote 125 works, published in five languages—Hindi, Sanskrit, Pali, Tibetan and Bhojpuri. He was an Indologist, a Marxist theoretician, a Buddhist scholar, a travel writer and a creative author. The subjects of his works range from sociology, history and philosophy to Buddhism, Tibetology and Lexicography.
 
Volga se Ganga is one of his most well known collections of short stories.He has been described as a “polyglot and world traveler”, “a lover of Himalayas who went beyond Himalayas and became one with those ranges’ and “a liberal humanist. Seeking knowledge was an insatiable quest for him. In his autobiography titled Meri Jivan Yatra, he quotes the lines: Sair kar duniya ki gaafil zindgani phir kahan/zindagi gar kuchh rahi tau naujavani phir kahan?” (Oh! ignorant, go and travel all over the world You will not get this life again. Even if you live long, youth will never return.)These lines caught his imagination when he read them in primary school while learning Urdu.And these lines were the essence of his life and soul. He went to Tibet four times. He travelled to Nepal, Sri Lanka, Russia, and some other countries. A small museum to showcase the works of Rahul and Kamala Sankrityayan and their life story is the least that authorities in Mussoorie can do to pay tribute to these scholars who once lived and worked in Queen of Hills. 

Appreciation from the World Bank team

Dehradun: Five members of World Bank team, who were on tour to Uttarakhand since April 25, appreciated the work that was being carried out in the State under the world Bank project while interacting with Uttarakhand Chief Secretary Subhash Kumar on Friday at Secretariat. During meeting Chief Secretary also appraised the works being undertaken under Uttarakhand Rural Potable Water and Sanitation Project.
 
World Bank team included Smita Mishra, Dr S Satish, S Krishnamurthy, Dheerendra Kumar and Piyush Dogra. The key of its success could be community participation, team informed adding that overwhelming response of people was witnessed during the visit of villages. Keeping in mind of its encouraging success, the team informed, the project had been extended to June 2014.Chief Secretary informed the meeting that the novel project of making potable water available in the villages were being prepared and implemented by the panchyats. With the cooperation of community participation, supply of drinking water and construction of private toilets were being ensured in the villages. Contribution `600 from the general family and `300 from the families of SC/ST were being taken for the project. Plan of the scheme, estimate of the cost and implementation was being shouldered by the Gram Panchayats.
 
Pey Jal Nigam, Jal Sansthan and Swajal agencies had been engaged with the project for technical support. Target of saturating 8,270 habitates with drinking water, private toilets, water conservation and recharge of water resources had been fixed, he informed. In the year 2010-11, as many as 1,431 habitates with the expenditure of `261.54 had been provided drinking water and sanitation. ‘Uttarakhand Rural Potable Water and Sanitation Project is an innovative project under which Panchayats has been entrusted with the right of preparing and implementing the project’ CS observed. Other states like Maharastra and Andhra were also planning to implement such project in their states, he said. 


 

One-day strike by advocates


Dehradun: Advocates of Uttarakhand called one-day strike in support of ex-chairwoman of Bar council, Razia Beig, who was allegedly intimidated by a Cabinet Minister Matbar Singh Kandari on Friday.Court complexes in Uttarakhand including CJM premises of Dehradun were deserted in support of Razia Beg, member of Bar council. Beig alleged that she was threatened by Kandari on April 16. The Minister asked Beig to support him to delegate the economic power of Waqf Board to its chairman. Otherwise be ready to face dire consequences, Beig added. She had complaint at SSP office immediately but police is least bothered about the complaint and has not registered FIR against the Minister so far. Police has shown callous approach in this case and alleged that police are working under pressure of the Minister.
 
Kandari unnecessary pressurised her for delegating economic power of Waqf Board to its Chairman Sharafat Ali under Waqf Board Act 27c, added Beig, who is also a member of board. Six out 10 member of the board are opposing the proposal of the Cabinet Minister but the Minister is trying hard to delegate economic power to the chairman, who is facing a contempt of court case in Uttarakhand High Court. Advocates of Dehradun Bar Association have also urged the Government to look into the matter and a memorandum was given to the Government on April 25 in this case but yet to see any progress in this regard. 




Indefinite strike of junior high school teachers continues

Haldwani: The classes of 6th, 7th and 8th standards have remained virtually disrupted on Friday due to indefinite strike of junior high school teachers in the State.The agitating teachers who have been on the street since April 18, demanding their promotion in LT grade asserted that they would continue their agitation unless the State Government considers their one point demand.Their assertion only got emboldened, when former cabinet minister and senior Congress leader also came in their support here on Friday. She called on the strikers at the dharna site and assured them that she would take up their matter with the Government and try to resolve the issue very soon.
 
Expressing concern over loss of studies of the students, she stated that discrimination with teachers would not be tolerated at any cost. In the meantime, the strikers alleged that three rounds of talks have already been taken place with the Government’s representatives during the past few days. But all the meetings remained inclusive, saidGirish Chandra Dani, preisdent of Junior High School Teachers Union (JHSTU), Haldwani unit, while talking to The Pioneer said. It seems the State Government is not serious about our demand. Neither we are demanding any pay-hike nor any other benefit.We are already getting the LT pay scale. So our demand is to accommodate us in LT grade, the union members said. Even the Chief Minister had assured us earlier in this regard.
 
The Chief Minister at the annaul convention of the junior high schools teachers in December through his representative gave us assurances that the Government would consider their demand. But it has been so long and since there is no positive response from the Government. This is nothing but backtracking on part of the government. So we have taken to the street, Dani further said. Some of the teachers who were on the dharna included BC Padlia, Ashish Bisht, Kishan Chandra Baila, Mohan Singh Bisht, Jeewan Singh and others. 



NFDB and ICAR to set up fish processing centre in Patlikuhal

Dehradun: With a view to increase the Trout fish production by more than five times in the Himalayan region the National Fisheries Development Board (NFDB) in collaboration with Indian Council of Agricultural Research (ICAR) has decided to set up a fish processing centre in Patlikuhal. The centre will exclusively work for processing the fish at industrial level to preserve it for longer time as fresh as original. “This is the first center in the periphery of 1,000 km area in the Kullu district of Himalayan region. It has a potential to increase the income of farmers several times by multiplying the fish production and will also ensure consistent supply to the market in non-season days,” said Dr PC Mahanta, Director of Coldwater Fisheries Research (DCFR), Bhimtal, Uttarkhand.

NFDB has initially allocated `2.1 crore budget for the project and the proposed centre will work to empower the Trout fish farmers in two ways, first by preserving the fishes for months it will trail the way for fish export from the State and second will maintain profitable prices of the fishes for the farmers throughout the year. Generally the prices fall abruptly during the rainy season when production is high and so the supply in the market but becomes beyond the reach of commonman in dry seasons like winter and summer. Another eminent institute of ICAR is fisheries technology, Central Institute of Fisheries Technology (CIFT), Chennai is also assisting DCFR through its expertise in this project. The centre will produce three products, chilled whole gutted trout for domestic market, individually quick frozen whole gutted trout for export market and fish silage from waste-shelf life 6 months.

Fish production is the major source of income for the farmers in the Himalayan region. According to the data with Himachal Pradesh Government is currently producing one lakh kg of Trout fish per annum. The experts have estimated that after the completion of the project the fisheries production will increase more than 5 lakh per annum in the State.

Measures to ensure proper arrangements for the pilgrims

Joshimath: The Char Dham Yatra is slated to resume in a few days considering which the authorities have started taking measures to ensure proper arrangements for the pilgrims.
 
However, the ground reality exposes the inefficiency of departments because most of the claims made by the authorities have been limited to official announcements on paper. Though Joshimath is the last major stop before Badarinath, people living here continue to face different problems. People living near the Narsingh temple are facing the problem of water shortage which will also faced by pilgrims visiting here. Telecommunication and banking facilities are also often disrupted in the town. Both locals and visitors are unable to use telephones and unable to make bank transactions through ATMs. The condition of the highway has not improved as required since it was damaged by heavy rains and landslides last year. The damaged roads are posing problems to both the pilgrims and local residents. The authorities have held many rounds of meetings which are still continuing, in order to redress the different problems of the area.
 
According to the District Magistrate PS Gusain, all the arrangements will be finalised by May 5. However, it remains to be seen whether the authorities are able to ensure effective and timely execution of plans in order to prevent inconvenience to pilgrims and locals during the Yatra season.  


15 percent increase in bus fares: Char Dham Yatra

Haridwar: The annual pilgrimage to Chardham will be more costly this year in the State.
 
The Joint Rotation Yatra Committee has decided to increase bus fare for Char Dham yatra by 15 per cent. Due substantial increase in the rates of petrol, diesel, third party insurance and spare parts of buses over the past one year the committee officials has took this decision. The Joint Rotation Yatra Committee, which consists of a total of nine transportation companies, has begun preparing for the annual Chardham Yatra scheduled to begin from May 6. This year, ordinary 3X2 buses along with luxury push back 2X2 buses will be put in the service for Chardham pilgrims like every year. The fare of these buses this year, however, has been hiked by 15 per cent. Per passenger fare for Chardham yatra on a 3X2 bus this year, will be `1,890. Last year this was `1,640. Similarly, fare of Chardham yatra on 2X2 luxury push back bus this year has been fixed at `2, 870 per passenger.
 
Last year, one Chardham yatra passenger travelling by 2X2 luxury bus had to pay fare of `2, 490. This year pilgrims boarding an ordinary 3X2 bus from Rishikesh will have to pay `800 for Badrinath, `1,070 for Badrinath-Kedarnath, `1,650 for Badrinath-Kedarnath-Gangotri and `1,890 for Badrinath-Kedarnath-Gangotri-Yamunotri. The fare for a 2X2 push back luxury bus for the four pilgrimages has been fixed at `1,220, `1,630, `2,520 and `2,870 respectively. “The fare has been hiked considering a substantial increase in the rates of petrol, diesel, third party insurance and spare parts of buses over the past one year. The increased fare, however, is still less in comparison to the fare of Uttarakhand Roadways buses,” President of Joint Rotation Yatra Committe, Mahaveer Singh Rawat, said.
 
The annual pilgrimage to Chardhams in the hill State will begin from May 6 with the reopening of portals of Gangotri and Yamunotri temples on the auspicious occasion of Akshya Tritiya. Portals of other two shrines, Kedarnath and Badrinath, will be thrown open to the faithful on May 8, 9 respectively.



Directions to remove the plastic waste lying on the route to Kedarnath

Rudraprayag: Rudraprayag District Magistrate SA Murugesan has directed officials to remove plastic waste lying on the route to Kedarnath since the previous year. He issued this direction while inspecting the 14 km long trekking route from Gaurikund to Kedarnath along with officials of departments related to the Yatra facilities.

Besides this, he warned officials to ensure that work required for the Yatra should be completed before the Kedarnath shrine is reopened to the public.While inspecting the facilities on the route to Kedarnath from Gaurikund onwards, the DM stressed that officials should fulfill their respective responsibilities to ensure necessary facilities for the pilgrims. He expressed dissatisfaction at the fact that plastic waste from the previous year had been dumped on the banks of the Mandakini River at Gaurikund equine-stop and directed the Zila Panchayat to remove the garbage without further delay.

He directed the Medical and Health department to remove the plastic waste lying at the Kedarnath equine-stop while directing the Kedarnath Nagar Panchayat to ensure civic sanitation in the area.He directed the Public Works Department to undertake repair of damaged embankments on the pedestrian route to Kedarnath and waiting rooms for pilgrims very soon. He also stressed to take measures for improving the structural strength of bridges on the route while also removing landslide debris from the previous year, erecting milestones and signboards along the route.

The DM further said that the Kedarnath Nagar Panchayat executive officer to accord special focus towards ensuring civic sanitation in response to which the EO informed him that 25 workers have been deployed for cleaning and removing snow from the route. Murugesan said that considering the fact that people have started arriving in Kedarnath, the electricity department should activate the streetlights on the Gaurikund-Kedarnath pedestrian route without any delay.

Dancing: best form of exercise

Dehradun: Dancing is the only rational amusement wherein the man of business can wholly forget the manifold cares of an active business life, according to Irish Professor AC. Wirth. While research leads to strengthening corroborative evidence on the health benefits of dancing, many places in the country held maiden celebrations on International Dance Day to popularise 'Dancing in the Open' on Friday.
 
However, despite it being the land of some very unique social dance forms like Pandva Nritya and Barada Nati, in Uttarakhand the event passed largely unobserved.Artists while expressing chagrin at public disinterest in dance underscored lack of Government support and networking among native artists as key concerns. “Today is a very special day for me, clearly one that I feel to be my own more than even my birthday. And I'm sure it is just the same for every professional dancer. However, unfortunately in Uttarakhand, there's still a lot of public unawareness on making dance a way of life rather than a niche art form.
 
Community dance is restricted chiefly to the rural areas and those folk forms too are losing their favor to Bollywood beats,” said danseuse Sharmila Bhartari on Friday. Advocating pro-action, she suggested that music and dance performers of all disciplines across the State should congregate at a common place annually to celebrate our own very form of the grand Spring Festival in Paris. “It is time to set plans afoot for a magnificent original festival of Uttarakhand next year wherein talent from remote villages unite with urban performers in Dehra Dun to revel in a splendid night-long show of dance and music,” she added. With the Ministry of Tourism hailing Uttarakhand as India's preferred tourist destination, the dance fest could be pitched as a unique selling proposition, opined senior artist, Roshan Dhasmana. A place for the artists to meet regularly, a federation of performing artists in the State, fusion of folk forms with a modern dance inventions and popularising dance in primary and higher education were the priorities cited by most artists and experts.The Pioneer spoke to Garhwal and Kumaon boast of a legacy of exclusive dance forms, striking in their novelty. Notable are Tehri's Langvir Nritya, an acrobatic dance practiced by men in which below a long and anchored bamboo pole, musicians play the 'Dhol' and 'Damana' while a dancer acrobat rotates at the top participating in feats using his hands and feet. Then, there is the surviving Chholiya.
 
Over a thousand years old, this dance originated with the battling Khasiya Kingdom of Khasdesh, when marriages were performed at sword point. Sustaining tradition, the Rajputs perform it as part of the marriage procession proper. Flashing swords and shield in pairs, to the Dhol, Turi and Ransingwar, they give the impression of a group advancing to attack. The trained dancers hail from Champawat and Almora. Chancheri, Chhapeli, Shotiya are other exhilarating manifestations of the exquisite mountain culture of Uttarakhand. But, like theatre, these dances are on an evident decline.A 21-year study published in the New England Journal of Medicine has indicated that dancing can reduce the risk of Alzheimer's disease and other forms of dementia in the elderly.
 
According to National Heart, Lung and Blood Institute, America says that dancing potentially lowers risk of coronary heart disease, decreases blood pressure, helps weigh management and strengthens the bones of legs and hips.Further, doctors say that not only does the physical aspect of dancing increase blood flow to the brain, but also the social aspect of the activity leads to less stress, depression and loneliness. it requires memorizing steps and working with a partner, both of which provide mental challenges that are crucial for brain health.“Off late, many people who have come to me are those who have undergone negative changes in their lives.
 
Many times it is after a divorce, untimely death of a spouse or when they have suffered a period of depression. They are still coming in, and I observe a big change. They are more confident, happier, healthier and positive. It's that bright sunny expression that lights up their personalities. Doon based Salsa and ballroom dance trainer Ashley. He added that dancing requires using muscles that one may not even be conscious of having. “For instance, in the foxtrot, you're taking long, sweeping steps backwards which is very different from doing the treadmill. Similarly, Ballroom dancing exerts thigh and buttock muscles differently from several other exercise.” 


Three dozen jhuggies caught fire

Haldwani: Nearly three dozen jhuggies were gutted into fire at Lalkuan area here this afternoon. Though no casualty has been reported,many of the affected people ended up losing even their daily household items in the blaze.
 
The incident occurred at Baripara, near Gola gate. The police was informed around noon about the incident. The fire was so strong that it engulfed about 30 jhuggies in no time. The cause of fire is yet to be ascertained.However, preliminary investigation carried out by the local Lalkuan police suggested that it caught fire during cooking food in a jhuggie. It seems as it is launch time perhaps during cooking food it caught fire in a jhuggi, said B S Brijwal, SI Lalkuan police station.Since all the jhuggies were are made of grass and other light materials so it easily caught fire. Increasing temperature only helped fire engulf all the surrounding jhuggies as well.In the meantime, Brijwal informed three fire tenders were pressed into service. 


Strike at Urja Bhavan continues for the fifth consecutive day

Dehradun: The ongoing strike by contractual employees of all three power corporations entered on fifth consecutive day on Friday with agitators warned to intensify agitation in the near future. The agitators have decided to hold torch rally on Saturday in support of their pending demands. After reaching at dharna spot, UKD leaders have extended their support to agitators and threatened to start massive agitation in the near future to fulfill their pending demands.
 
More than 1,500 contractual employees from all the 13 districts of the State had gathered at infront of Urja Bhawan in Dehradun on Friday in support of their pending demands. After expressing his concern over the callous approach of the State Government for not fulfilling their pending, agitators have decided to intensify their agitation from coming week. Later on, UKD leaders have also extended their support to ongoing agitation. While addressing the gathering, AP Amoli, President, Urja Kamgar Sangathan, said that memorandum was given many times to officials but steps are yet to be initiated by the government for fulfilling their year long pending demands.
 
After having meeting with members, agitators have decided to hold torch rally on Saturday in support of their pending demands and will intensify their agitation from next week onwards. “We are determined to carry our agitation till our pending demands are met by the state government,” said agitators, adding that regularization of contractual employees, equal pay and perks to all contractual workers like regular employees, night allowance, timely release of salary, sanctioning allowance to next to kin if any mishaps happened to contractual employees, dearness allowance and medical facility to employees are among the few pending demands of association.Yogandra Vishal, Manoj Pant, Aarti Ahuja, Banshidhar, Dhanshyam Sharma, Sunil Negi, Vijay Singh, Gajandra Negi, Mahesh Rawat, Sunil Chauhan, Malti Kapoor and Deepak Negi were present. 


Three day Indo-German workshop on RBF organised

Dehradun: Collaboration among nations on important technologies like River Bank Filtration can substantially improve the condition of potable water supply in Uttarakhand.
 
The State Potable Water and Planning Minister Prakash Pant said this while speaking as the chief guest at the inauguration of a three day Indo-German workshop on RBF for sustainable drinking water organised jointly by the Uttarakhand State Council for Science and Technology (UCOST), Department of Science and Technology, GoI, Division of Water Science, University of Applied Sciences Dresden, Germany, National Institute of Hydrology, Roorkee, Uttarakhand Jal Sansthan and the Uttarakhand Environment Protection and Pollution Control Board.Pant said, “The RBF technology is being adopted in many developed nations and can also prove highly beneficial in a State like Uttarakhand.” Presiding over the workshop, the Doon University vice chancellor Girijesh Pant that the old technologies used here should be modernised in order to ensure regular and adequate supply of potable water. He stressed on the need for developing technologies which can ensure supply of clean drinking water to even the remotest villages in Uttarakhand.
 
Professor Thomas Grischek from the Department of Hydrology, University of Applied Sciences, Dresden, Germany said that though the water of the Ganga is pure in the mountainous regions, the water in both Ganga and Yamuna in the plains is as contaminated as some rivers in Germany. By making adaptations in RBF for tackling the effects of monsoons and floods, the technology which is feasible for plains can also be used in the mountainous regions. About 16 per cent of potable water is supplied through RBF in Germany and the technology can also be used on riverbanks with adequate sand and gravel in the mountainous regions of Uttarakhand. Director of Water Mission, Department of Science and Technology Sanjay Bajpai spoke of the steps being taken by the Indian Government at the national and international level to ensure supply of clean drinking water to the public.
 
State Planning Commission director HP Uniyal spoke of the works undertaken by the Uttarakhand Jal Sansthan in collaboration with the University of Applied Sciences, Dresden. NIH Roorkee director RD Singh, Uttarakhand Jal Sansthan CGM DD Dimri and senior UCOST scientist Dr DP Uniyal also addressed the gathering.




Joint survey with local ITBP officials: Terai East forest division

Haldwani: In view of increasing encroachment on the important Tanakpur-Dehradun elephant corridor or the Gola elephant corridor, the ITBP base camp located along this corridor at Haldwani's Bindukhatt/Lalkuan area will be relocated, sources said on Friday.

The Terai East forest division has launched a joint survey with the local ITBP officials on how the base camp of the paramilitary security force could be repositioned so that a free pass could be ensured for elephants on this stretch. The forest division authorities had earlier urged the Government to relocate the ITBP base camp from its present position as it has come to block the said corridor.“We have started a joint survey with the ITBP officials in this regard for relocation of the ITBP camp,” said PK Patro, divisional forest officer, Terai-East forest division. He further informed that though it would be clear only after completion of the joint survey in this regard, the prevailing opinion is that the camp may be shifted about some distance away from its present position.The Terai-East forest division has transferred the requisite piece of land to the ITBP.

After completing the survey a detailed study report would be submitted to the Government of India through the State Government. So how the relocation process will move forward will be decided only after that.When asked is there any plan to relocate the Indian Oil depot that has also come up on the periphery of the same corridor, Patro maintained that there is as such no plan.The matter of concern is that like the ITBP base camp several vital installations including the Indian Oil establishment, industries and illegal colonies have come up along this vital elephant corridor. Increasing commercial activities like collection of river bed materials from the Gola have only come as a major setback for wildlife conservationists as far as revival of the Gola corridor is concerned.

Compounding camps to be held on a monthly basis

Dehradun: The Mussoorie Dehradun Development Authority collected `46.84 lakh in compounding charges from 69 persons who attended the fourth compounding camp organised in the authority office in Dehradun on Friday.
 
MDDA secretary Vinod Kumar Suman directed the proceedings of the compounding camp along with Town Planner RG Singh, assistant engineers Sunil Parashar, Anand Ram, Devendra Singh, GC Bhatt and junior engineers of the unauthorised constructions cell of the MDDA.Considering the demand of the public, the MDDA vice chairman Ramesh Kumar Sudhanshu had ordered that compounding camps should be held on a monthly basis. The authority organised compounding camps this year during January, February and March with 52, 63 and 69 persons attending these camps respectively. The next and fifth compounding camp of the year will be held on May 26. Applications submitted by May 10 will be processed in this camp. Those who are facing action taken by the MDDA against unauthorised construction can make the constructions legitimate by paying compounding charges for the same. The MDDA is not taking up disputed cases in these compounding camps to avoid controversy. Applicants must submit an application for compounding, documents related to land ownership and four copies of the map of the building to be compounded among other documents. 
 


Measures takenfor animal welfare: Uttarakhand Government

Dehradun: The chairman of the Animal Welfare Board of India, Major General (Retd) RM Kharb, called for measures to stop the abuse of equines used to transport pilgrims on the Char Dham Yatra routes.
 
Though Uttarakhand Government is taking measures for animal welfare, he expressed regret that even today in Dev Bhumi countless animals are slaughtered in the name of religion. Kharb said this while speaking at the inauguration of a two-day State level workshop on animal welfare sponsored by the Animal Welfare Board of India, Ministry of Environment and Forests, organised in Dehradun by the Uttarakhand Animal Welfare Board. He pointed out that though animals have been facilitating human welfare since the start of civilization, humans goaded by greed end up abusing the animals in a shameful manner. All the grants provided by the AWBI for animal welfare works in Uttarakhand will be released through the UAWB.
 
Point at the growing conflict between humans and animals, he stressed that the district units of the Society for Prevention of Cruelty to Animals (SPCA) need to be activated in Uttarakhand instead of being limited to official entities as the SPCA plays a vital role in preventing abuse of animals. According to the World Health Organisation executing the Animal Birth Control (ABC) programme is essential for controlling the population of stray dogs which are estimated to number more than 30 million in the nation. Every year more than 20,000 persons die in India from rabies but both this and the abuse faced by stray dogs can be reduced by effectively undertaking the ABC programme, he stressed. State Agriculture and Animal Husbandry minister Trivendra Singh Rawat who is also the chairman of the State Animal Welfare Board said that though the State has enacted laws to protect cattle and facilitate animal welfare, problems at different levels are preventing the effective implementation of these laws. He stressed on the need for more work towards ensuring effective implementation of animal welfare laws in Uttarakhand. There is a constant fight going on between those who smuggle and illegally slaughter bovines on the one side and the State Government and animal welfare organisations on the other side.
 
Referring to the continued smuggling of cattle for illegal slaughter, Rawat said that those involved in smuggling the animals adopt different methods to avoid being caught by the authorities. In recent times, there has been rise in cattle and smaller animals being drugged and smuggled in jeeps and other small passenger vehicles for illegal slaughter. Speaking on the medicinal and other value of products derived from cows including Panch Gavya and separate uses for these five materials, Rawat said that while the use of Panch Gavya medicines is being encouraged in the State, biogas from cow dung is being used to generate about 18 kilowatts of electricity.




Cases involving technology still pending

Dehradun: Case files pertaining to matters involving technology are gathering dust in the cupboards of Uttarakhand police. Two cases involving fake mails generated by using the Chief Minister's Office e-mail and a fax sent using fake signature of the Secretary to the CM have been registered with Dehradun police. But there has been no progress in investigations in these cases.
 
One-and-a-half years since its registration, police have failed to sort out the case of fake e-mail sent from the Office of the Chief Minister to then Managing Director of Uttarakhand Jal Vidyut Nigam Limited seeking confidential information about ongoing and disputed hydro power projects. Police had conducted a raid on the house of then DGM of UJVNL Vinay Gupta in January 2010 and claimed that the e-mail was generated using his telephone line. Gupta's laptop was sent to the Central Forensic Science Laboratory, Chandigarh. The file is gathering dust in Vasant Vihar police station ever since. Police lack expertise required to handle high-tech cases, SSP Dehradun GS Martolia said. A case was registered in Vasant Viahr police station in December 2009 by the then MD of UJVNL.
 
In case of the fax involving the fake signature of Dr Umakant Panwar, Secretary to Chief Minister, police are still groping in dark. Somebody had issued a Government order using his fake signature to resume construction work on a hydel power project in Srinagar. To send the Government order, the person had used the fax of the secretary's office as well and the GO was later circulated in Srinagar. However, police claimed that fax originated in Srinagar and was circulated there. Police are yet to nab the accused.Meanwhile, police claimed that the investigating officer has visited the site twice. The case might be transferred to Srinagar, SSP Martolia said. Panwar had lodged an FIR in Kotwali police station on April 4 this year. Interestingly, police claim that it was an outcome of local politics in Dhari Devi temple complexes which might become submerged due to increase in height of the hydel project. 



Kashipur also included in the category of cities with IIM

Dehradun: Human Resource Development Minister Kapil Sibal and Uttarakhand Chief Minister Dr Ramesh Pokhriyal Nishank on Friday laid the foundation stone of Indian Institute of Management, Kashiput, proposed to be built in an area of 200 acre at Escort Farm with a cost of `800 crore on Friday. It was also attended by ND Tiwari, former Chief Minister.
 
Speaking on the occasion, Sibal said that it would be the first IIM in the country which is being opened in the suburban area. Mere opening of the institute is not enough; developing it into an 'institution of excellence' would be the real achievement. So, the Board of Directors should accept the challenge and develop the institute into an 'Institution of Excellence', Sibal added. He gave emphasis on academic freedom for achieving the above end. The HRD Minister said that about 8 lakh children did not go to schools even today and only 14 percent school-going children reached universities, whereas, about 60 to 70 percent children in the developed countries went to the universities. He also directed the officers of the Institute to dispose-of the problems after studying the situation of the state.
 
Congratulating people of the state for having the premier management institute, Sibal said students from this part of the country would also be able to make their state proud through their achievements. "Uttarakhand is fast emerging as an education hub in the country and the Centre is committed to extend full support to the hill state in this regard," Sibal added. He said that intellectual assets would be the "real asset" for any country and assured to extend his full co-operation on the part of the Union government in developing Uttarakhand as an 'educational hub'. He also assured to open Central Schools in the state if the norms permitted.Presiding over the function, Chief Minister Nishank said that the State Government is making all possible efforts to develop Uttarakhand as a 'model State' in the field of education. IIMs made significant contributions in non-industrial social sector in addition to management studies. Researches carried out in the Institutes always proved to be directives for the government in the fields of agriculture, rural-development, power, health, education, and Public Distribution System.
 
Kashipur had also fallen in the category of Ahmedabad, Bengaluru, Kolkata, and Lucknow, where IIMs were established. He demanded opening of an adventure-sports university in the state so that the children of the State get recognition at the international level. Despite all resources, the State has to combat with adverse circumstances. He added that most of the school-buildings in the state were damaged during the recent natural disaster that hit the state. He demanded for a package from the Union government for reconstruction of such school-buildings. He also put forth his demand for opening of a Central School each at Kashipur, Rudrapur, Gairsain, and Thalisain before the HRD Minister.The Chairman of the Board of Directors Dhruv M. Sahni said that the first session of the IIM would start from July with 60 students. MP KC Singh Bawa and MLA Harbhajan Singh Cheema also spoke on the occasion. 



एछाडीएफसी बौक ने अपनी 2000वीं शाखा खोली

देहरादून। भारत में निजी क्षेत्र में दूसरा सबसे बड़ा बौक, एछाडीएफसी बौक, ने आज एक नया मील का पत्थर पार करत्ो हुए अपनी 2000वीं शाखा को खोलने का एलान किया। इस नई क्षाखा का उद्घाटन श्री भरत शाह, ग्रुप हैड, एछाडीएफसी बौक ने किया।
 
बौक की नई ब्रांछा ग्राहकों को विश्वस्तरीय बौकिग सेवाएं एक ही जगह पर प्रदान करती है, जिनमें बोसिक सर्विसेज और विशेष सर्विसेज शामिल हैं। बोसिक सर्विसेज में सेविंग एकाउंट, फिक्सड डिपॉजिट, करंट एकाउंट, म्युचूअल ंड्स, लॉक्र्स, एनआरआई सर्विसेज, डीमैट शामिल है जबकि अन्य विशेष सेवाओं में बौकिंग छौनल्स तक सीधी पहुंछा जैसे एटीएम, फोन बौकिंग, नेट बौकिंग और एछाडीएफसी बौक इंटरनेशनल क्रेडिट कार्ड और डेबिट कार्डस आदिशामिल है। इस नई ब्रांछा के उद्घाटन के मौके पर भरत शाह, ग्रुप हैड, एछाडीएफसी बौक ने कहा कि यह कोई भाग्यवश मिला मौका नहीं है कि हम अपनी 2000वीं शाखा का उद्घाटन कर रहे हैं। यह हमारे प्रबंधन के श्प्ष्ट दृष्टिकोण का परिणाम है जो कि देश के समस्त भागों में रहने वाले करोंड़ों भारतीयों की पहली छांसद का बौक बन चुका है।
 
बीत्ो 16 वर्ष में बौक प्रबंधन और कर्मियों ने अत्याधिक मेहनत और समर्पण से एकजुट होकर काम किया है और ग्राहकों में हमारे विश्वास ने हमें सकारात्मक प्रितकि्रया दी है। यह एक ऐसा मील का पत्थर है, जिस पर हम सभी को गौरव है। हम अपनी इस सफलता को अपने ग्राहकों को समर्पित करत्ो हैं जो कि इस सफर के दौरान हम पर निरंतर भरोसा बनाए रहे। नवीन पुरी, कंट्री हैड, ब्रांछा बौकिंग, एछाडीएफसी बौक ने मंुबई से बताया कि मैं यह ऐलान करत्ो हुए अत्याधिक हर्षित हूं कि बौक अपनी 2000वीं ब्रांछा को एक ग्रामिण क्षेत्र में खोल रहा है। इस छोटे से गांव में हमारी उपस्थित से यह भी प्रदर्शित होता है कि हम बौकिग सेवाओं को देश के आतंरिक भागों में वंचित वगोंर्ं तक भी पहुंचाना चाहत्ो है।
 
देश के ग्रामीण क्षेत्रों में बौकिंग सेवाओं की अत्याधिक जरुरत है और हम वहां पर उपस्थित दर्ज करवा रहे हैं। यह हम सभी के लिए गौरव का एक पल है। हम अपने सभी ग्राहकों का धन्यवाद करत्ो हैं जो कि हमें लगातार अपना समर्थन प्रदान करत्ो आए हैं और हमारे में भरोसा बनाए हुए हैं। उनके सहयोग के बिना हम इस मील के पत्थर तक नहीं पहुंछा सकत्ो थे। 

चौहान े लिये उक्रांद ने निकाली महिला शक्ति सम्मान रैली

देहरादून। उत्तराखण्ड क्रांति दल ने कानूनी लड़ाई में जिला पंचायत अध्यक्ष मधु चौहान की जीत े बाद महिला शिक्त सम्मान रैली निकाली । कार्यकर्ताओं ने जीत े बाद दून आगमन पर मधु चौहान का स्वागत किया। 
 
कोर्ट द्वारा मधु चौहान को पुनः जिला पंचायत पद पर बहाल करने े आदेश े बाद उक्रांद कार्यकर्ताओं ने महिला सम्मान रैली निकाली। रैली में दल े ेंद्रीय महामंत्री शीशपाल बिष्ट ने मधु चौहान का स्वागत किया। इस अवसर पर मधु चौहान ने कहा कि यह सिर उनकी नही बल्कि समस्त नारी शिक्त, न्याय और सच की जीत है। उन्होने कहा कि यदि आप सही हो तो मुश्किल डगर में भी जीत सच की ही होगी। उन्होने सभी महिलाओं से चुनौतियों का डटकर सामना करने का अनुरोध किया। 
 
रैली में शीशपाल बिष्ट ने कहा कि सरकार और मधु चौहान े बीच कानूनी लड़ाई में जीत सच की हुई है। मधु चौहान े हक में कोर्ट े फैसले ने एक बार फिर सरकार को कटघरें में खड़ा कर दिया है। इस पूरे मामलें में सरकार का दिखावटी नकाब सबे सामने आया है। रैली में मुन्ना सिंह चौहान, जिलाध्यक्ष एने गुंसाई, आशा भण्डारी, प्रशांत झकमोला आदि मौजूद थे।

महिला ने लगाया ससुरालियों पर लगाया उतपीडन का आरोप

देहरादून। महिला ने पति सहित ससुरालियों पर उसका उत्पीड़न एवं जेवर हड़पने का आरोप लगाया है। 
 
जानकारी े अनुसार पीडित महिला का विवाह वर्ष 2008 में आनंद चौक निवासी विशाल उनियाल के साथ हुआ था। शादी के बाद उसे पता लगा कि उसका पति शारीरिक रूप से अक्षम है जिसके बारे मे घर के लोगों को पहले से ही पता था लेकिन उसके परिवार को धोख्ो में रख कर शादी कर दी गयी। इसी बात को लेकर परिवार में तनाव में उत्पन्न होने लगा। सविता ने पति से तलाक लेने के लिए अदालत का सहारा लिया। 
 
सविता ने ससुरालियों से दहेज में िदए गए जेवर एवं अन्य सामान वापस मांगा लेकिन सविता का आरोप है कि अब उसके ससुराली उसके स्त्री धन को वापस नहीं दे रहे हैं। सविता की शिकायत पर उसके पति सहित तीन अन्य लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी एवं स्त्री धन हड़पने की शिकायत दर्ज की गयी है।


उत्तराखण्ड ग्रामीण पेयजल एवं स्वच्छता परियोजना शुरू

देहरादून 29 अपै्रल। सामुदायिक सहभागिता के आधार पर राज्य में उत्तराखण्ड ग्रामीण पेयजल एवं स्वच्छता परियोजना शुरू की गई है। इस परियोजना के जरिये गांव में पीने का पानी मुहैया कराया जा रहा है। साथ ही गांव में स्वच्छता के लिए शौचालयों का भी निर्माण कराया जा रहा है।
 
योजना के निर्माण, संचालन और उनके देख-रेख की पूरी जिम्मेदारी पंचायतों को दी गई है। इस नायाब योजना में आगणन बनाने से लेकर उनके क्रियान्वयन तक का दायित्व ग्राम पंचायतों को दिया गया है। जिस गांव में पेयजल की समस्या है, वहां प्रित परिवार 600 रुपये सामान्य के लिए और 300 रुपये अनुसूचित जाति और जनजाति के लिए अंशदान जमा करना होता है। इसके बाद परियोजना के अन्तर्गत गांव का सवेर कराया जाता है। गांव की जरूरत के मुताबिक पानी स्त्रोत का रिचार्ज, मरम्मत या अन्य माध्यम से पेयजल सुविधा उपलब्ध कराई जाती है।
 
इस सम्बन्ध में सुश्री स्मिता मिश्रा के नेतृत्व में विष्व बौक टीम के सदस्यों द्वारा राज्य का 25 अप्रैल से 29 अप्रैल, 2011 तक भ्रमण किया गया। भ्रमण के बाद विष्व बौक टीम के सदस्यों ने शुक्रवार को सचिवालय में मुख्य सचिव सुभाष कुमार को प्रगित की जानकारी दी। विष्व बौक की टीम में डॉ एस सतीष, एस कृष्णामूतिर्, धीरेन्द्र कुमार एवं पीयूष डोगरा षामिल थे। विष्व बौक टीम ने अपने उत्तराखण्ड भ्रमण में पाया कि पंचायतों द्वारा बनाई गई और उन्हीं के द्वारा छालाई जा रही इस परियोजना से गांव में उल्लेखनीय कार्य हुआ है। टीम ने मुख्य सचिव को बताया कि इस नायाब योजना के उत्साहजनक परिणाम को देखत्ो हुए इसे वर्ष 2014 तक के लिए बढ़ा दिया गया है। विष्व बौक की टीम के सदस्यों ने प्रबन्ध निदेषक पेयजल निगम, मुख्य महाप्रबन्धक जल संस्थान, निदेषक स्वजल परियोजना के साथ छार्चा कर परियोजना की अब तक की प्रगित और आगे की रणनीति तय की।

निशंक सरकार अल्पसंख्यक विरोधीःलताफत हुसैन

देहरादून। उत्तरायाण्ड क्रांति दल ने सूबे की सरकार को अल्पसंख्यक विरोधी बताते हुये चेतावनी दी है कि यदि सरकार ने अपनी कायै प्रणाली में जन भावनाओं का आदर करते हुये परिचर्त नही किया तो कुछ समय बाद उनका दल सरकार े खिलाफ व्यापक आन्दोलन छेउ देगा । 
 
पत्रकारवार्ता में ेंद्रीय महामंत्री लताफत हुसैन ने कहा कि राज्य सरकार मुस्लिम समाज े हितों पर कोई ध्यान नही दे रही है। मिशन 2012 े नजदीक आते ही राज्य सरकार मुस्लिम हितैषी होने का ढोंग कर रही है। उन्होने कहा कि सरकार को मुस्लिम कानून का ज्ञान नही है। अगर सरकार वाकई मुस्लिम हितैषी है मुस्लिम विभागो में मुस्लिम अधिकारीयों की नियुक्ति करे। उन्होने कहा कि सरकार पहले इस बात का जवाब दे कि आिखर क्या वजह है कि हज समिति और वक्फ बोडर में विवादित व्यिक्तयों को अध्यक्ष पद का भार सौंपा गया है। उन्होने सरकार से मुस्लिम समुदाए े हित में कार्य करने की मांग की। 
इस अवसर पर वशीर अहमद, मनमोहन नेगी, फुरकान अहमद आदि मौजूद थे।


बीएसएनएल कर्मचारीयों की हडताल तीसरे दिन भी जारी

हद्विर । बीएसएनएल कैजुअल एण्ड कॉट्रेक्टर वर्कर्स यूनियन की अनिश्चितकालीन हडताल तीसरे दिन भी जारी रही। हडताली कर्मचारी आज केन्द्रीय कृषि एवं खाद्य प्रसंस्करण राज्यमंत्री से वातार करने का मन बना रहे हैं ।
 
यूनियन के सचिव वीरेन्द्र्र यादव के नेतृत्व में निगम प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गयी। यूनियन के सदस्यों को कहना है कि पिछले माह से मानदेय का भुगतान नहीं किया गया है। यूनियन सचिव वीरेन्द्र यादव ने कहा कि मानदेय भुगतान की मांग को लेकर कई बार निगम प्रशासन से वातार हुयी और मानदेय भुगतान का भरोसा भी दिया गया, लेकिन अभी तक मानदेय का भुगतान नहीं किया गया है। इससे कर्मचारी स्वयं को ठगा सा महसूस कर रहा है। हडताल पर बौठे कर्मचारियों का साफ कहना था कि जब तक उनकी मांगे नहीं मानी जाती तब तक हडताल जारी रहेगी। इस मौके पर एससी काला, इसम सिंह, सतोन््रद सिंह, राजेश खण्डूरी, सचिन शर्मा, रामनरेश, हर्षलाल, सूरजमल आदि मौजूद थे। 


पूछताछ में कई अहम जानकारियां मिली

देहरादून। मनी लांड्रिंग घोटाले में लिप्त यूपीएसआईडीसी के निलंबित मुख्य अभियंता अरूण कुमार मिश्रा को सीबीआई ने बुधवार की देर शाम गिरफ्तार करने की पुष्टि की थी। बीती रोज मेडिकल के बाद उन्हें कोर्ट में पेश किया गया।
 
सीबीआई के अनुरोध पर कोर्ट ने अरूण कुमार को सात िदनों की सीबीआई रिमाण्ड पर भेजने का आदेश िदया था। सूत्रों की माने रिमाण्ड अवधि में सीबीआई उससे कई अनसुलझे सवालों पर सवाल कर रही है। अपुष्ट सूत्रों की माने तो पूछताछ में कई अहम जानकारियां मिली हैं। पिछले िदनों हुई सीबीआई पूछताछ में अरूण कुमार की राजपुर रोड में रहने वाली महिला मित्र के बारे में व अन्य कई राजदारों के नाम पते चले थे। अब मिश्रा की महिला मित्र कहीं गायब हो गई है। संभावना जताई जा रही कि वह दून में ही कहीं है। इस महिला के नाम पर मिश्रा ने एक निजी कंपनी व हॉस्टल खोला हुआ है। सीबीआई पूछताछ के दौरान अहम बातों में यह भी है कि अरूण मिश्रा के संबंध यूपी के सेदपोशों व दून के एक ज्यातिषाचार्य से जुड़े हुए हैं। यह भी खुलासा हो गया है कि मामले की सीबीआई जांच न करवाने के लिए अरूण से लाखों रूपए लिए गए और सीबीआई पर राजनैतिक दबाव बनाने का प्रयास भी किया गया।
 
सफेदपोशों व ज्योतिषाचार्य से अरूण मिश्रा के संबंध उजागर होने के बाद यह मामला अब और भी हाईप्रोफाइल हो गया है। सीबीआई पूछताछ के बाद अरूण मिश्रा ने एक के बाद एक कई राजों को खोला तो है किन्तु सूत्रों की माने तो जितना उसने बताया है उससे कहीं अधिक राज तो अभी उसके सीने में ही कैद हैं। सीबीआई रिमाण्ड अवधि में अरूण से पूछताछ करते हुए इन्हीं राजों को उगलवाने का प्रयास करेगी। सीबीआई अधिकारियों से इस बारे में कोई जानकारी नहीं मिल सकी है।

हर की पौडी पर भिखारियों की शामत,पुलिस ने डेढ दर्जन को लिया हिरासत में

हरिद्वार । हरिद्वार में तीर्थ यात्रियों े साथ-साथ आम जनता े लिये भिखारी परेशानियों का सबव बनने लगे हैं । पुलिस को निरन्तर इस प्रकार की शिकायते मिल रही थी । जिसे बाद पुलिस विभाग में हर की पौडी क्षेत्र में अभ्यान चलाकर लगभग डेढ दर्जन भिकारियों को हिरासत में लिया ।
 
बतात्ो छाले कि चारधाम यात्रा को यान में रखत्ो हुए हरकी पौंड़ी चौकी पुलिस ने क्षेत्रा से भिखारियों के खिलाफ अभियान छालाया गया। जिससे भिखारियों में हड़कम्प मछा गया और उन्हें छिपत्ो हुए देखा गया। लेकिन पुलिस ने 18 भिखारियों को पकड़कर नगर मजिस्टे्रट न्यायालय में पेश किया, जिनको मजिस्टे्रट ने उन्हें भिक्षुक गृह भोज दिया। बतात्ो छाले कि हरकी पौड़ी क्षेत्र में भिखारियों की बढती संख्या से न केवल यात्री बल्कि स्थानीय नागरिक भी काफी परेशान व हैरान थे जिसके सम्बध में प्रशासन को अवगत करात्ो हुए क्षेत्र को भिखारियों की बढती संख्या पर अकुंश लगाने की गुहार लगायी जा चुकी है। उसके बाद पुलिस द्वारा समय-समय पर भिखारी पकड़ो अभियान छालाकर उनके खिलाफ कार्यवाही करत्ो हुए उन्हें भिक्षुक गृह भोजना का कार्य करत्ो आये है। इसी कड़ी में आज पुलिस ने कार्यवाही करत्ो हुए भिखारियों को पकड कर भिक्षुक गृह भोजा।

सीनियर सिटिजन के लिए हेल्पलान शुरू

हद्विर । उत्तराखण्ड की मित्र पुलिस अब हरकी पौडी पर स्नान करने वाले बुजुगोर और बीमार व्यिक्तयों की भी मदद करेगी। जिसे धर्मनगरी में हरकी पौडी पर सीनियर सिटिजन हेल्पलाइन डेस्क खोली गयी है। यह डेस्क मेले के अलावा भीडभाड में बिछडे लोगों को अपनो से मिलवाएगी। एसएसपी केवल खुराना ने डेस्क की शुरूआत की। इसमें चार कांस्टेबल चौबीसों घण्टे तौनात रहेगें। एसएसपी केवल खुराना ने बातचीत े दौरान बताया कि जो वृद्घ भीडभाड में अपनो से बिछड जात्ो है उन्हें मिलवाने का काम यह हेल्पलान डेस्क करेगी। जो वृद्घ या बिमार मजबूर लोग गंगा में स्नान करने यहां आयेगें यह डेस्क उनकी भी मदद करेगी। उन्होने यह भी बताया की यह डेस्क 24 घण्टे खुाली रहेगी। इस डेस्क में एस उपनिरीक्षक, दो कांस्टेबल, दो महिला कांस्टेबल तौनात रहेंगें। इस मौके पर एसपी सिटी डॉ केएल शाह, सीओ पंकज भट्ट, कोतवाल प्रीतपाल रौतोला मौजूद रहें। 


भाजपा ारकार भ्रष्टाचार की गिरफ्त में : चौहान - राज्य सरकार का पुतला फूंक जताया आक्रोश


हद्विर । बिजली-पानी की कटौती एवं गैस की काला बाजारी से परेशान जनपद की जनता ने शहर कांग्रेस कमेटी के नेतृत्व में देवपुरा से शिवमूतिर तक विशाल जुलूस निकाला तथा कुम्भ के भ्रष्टाचारियों के विरोध में नारे लगात्ो हुए भगवान शिव की की मूर्ति े समक्ष जाकर मुख्यमंत्री निशंक के पुतले को मुखागि्न दी । 
 
शिवमूतिर चौक पर भाजपा सरकार में बढ़ रही जनता की परेशानियों का पुलंदा खोलत्ो हुए शहर कांगे्रस कमेटी के अयक्ष ओ0पी0 चौहान ने कहा कि भाजपा भ्रष्टाचारियों का गिरोह है जो बोलगाम नौकरशाही के मायम से जनाधिकारों की अनदेखी कर दोनों हाथों से ध्न बटोरने में लगी हुई है । हरिद्वार में यात्रा सीजन प्रारम्भ हो गया है यहॉ जनता और तीर्थयात्री बिजली-पानी को तरस रहे हैं गैस की कालाबाजारी छारम पर है भाजपा के नेता और अधिकारी मिलकर कालाबाजारी कर गैस एजेन्सी मालिकों को संरक्षण प्रदान कर बन्दरवांट कर रहे हैं । भाजपा को सत्ता सौंपकर जनता पछता रही है बिजली-पानी की किल्लत झेल रहे तीर्थ यात्रियों का देवभूमि से मोहभंग हो रहा है इसीलिए आम जनता ने कांग्रेस के साथ मिलकर कुम्भ और बाढ़ राहत खाने वालों के विदाई समारोह की तौयारियाँ पूर्ण कर ली हैं ।
 
सांसद प्रितनिधि सत्यनारायण शर्मा ने भाजपा सरकार द्वारा किए गए घोटालों की परत्ों खोलत्ो हुए कहा कि मुख्यमंत्री निशंक एवं नगर विकास मंत्री द्वारा चार साल के अन्दर खरीदी गई अछाल सम्पित्तयों की सीबीआई जांछा कराई जायेगी और चुनाव से पूर्व प्रदेश की जनता को दोनों भ्रष्टाचारियों की काली करतूतों से अवगत करा दिया जायेगा । युवक कांग्रेस नेता आशीष गोस्वामी ने कहा कि बिजली, पानी और कुकिंग गैस जनता की मूल आवश्यकता है लेकिन राज्य सरकार और उसके प्रशासनिक अधिकारी कानून और व्यवस्था संभालने में भी पूर्णतया असफल हो रहे है । महिला कांग्रेस की पूर्व शहर अयक्ष अंजू द्विवेदी ने कहा कि तीर्थ स्थल की व्यवस्था चौपट है, जगह-जगह जाम लगे रहत्ो हैं और पुलिस उनसे उगाही करने में मस्त है । इससे पूर्व सभी कांग्रेस कार्यकतार देवपुरा चौक पर एकत्र हुए और भाजपा सरकार के विरुद्घ नारेबाजी करत्ो हुए शिवमूतिर पहुॅछो जहॉ पुतला दहन से पूर्व एक सभा का आयोजन किया गया ।
 
इस अवसर पर शंकरपाल तोमर, मधुाकान्त गिरि, पुरुषोत्तम शर्मा, डा0 संजय पालीवाल, जगत सिंह रावत, सुरेन्द्र विश्वास, अम्बिका पाण्डेय, बीना कपूर, सुमन अग्रवाल, बबीता डडरियाल, ग्रेस कश्यप, सुनीता सैनी, अशोक उपायाय, पी0एल0 कपिल, कैलाश प्रधान, महेन्द्र अरोड़ा, राजेन्द्र जाटव, राजीव शर्मा, रोशन कालियान, सुभाष घई, जगमोहन शर्मा, अनिल चौध्री, शहजाद, अकरम, सद्दीक, अकरम चौध्री, मौ0 जपफर, आशीष चौधरी, वीरेश वालिया, संदीप सैनी, तथा हरिओम बंसल, इत्यादि उपस्थित थे। 


कुड़ेदान बन रहे लोगों का सिरददर

देहरादून। घर-घर जाकर कुड़ा उठाने के लिए निगम ने बीते िदनों जोरशोर से अभियान चलाने की घोषणा की थी किन्तु इस अभियान पर गर्मी की शुरूआत से ही पानी फिरता िदखाई पड़ रहा है। राजधानी के कई मोहल्लों में कुड़ेदान निगम की टीम ने रख्ो हुए हैं। गर्मी की शुरूआत हो चुकी है, कुड़ेदानों को तो अपशिष्ठ पदाथोंर से भरा देखा ही जा रहा है साथ ही बाहर भी कुड़े के ढेर बिखरे देख्ो जा रहे हैं। हालांकि कर्मचारी कुड़ा उठाने में िदलचस्पी तो ले रहे हैं किन्तु कई जगहों पर कुड़ेदानों के पास पड़ी गन्दगी कुछ और ही कहानी बयां कर रही है। घनी आबादी के बीचोंबीच रख्ो कुड़ेदानों ने निकलती दुर्गंध के कारण वहां रहने लोगों का जीना मुहाल होता जा रहा है। 
 
इस पर अब गर्मी अपनी चरम पर पहुंचने वाली है। कुड़ेदानों के आसपास बिखरी गंदगी संक्रामक रोगों में कारक बन सकती है। कई जगह तो लोग ही नासमझ बनते हुए घर से निकले अपशिष्ठ को कुड़ेदान के बाहर फेंक इतिश्री कर लेते हैं। निगम की सफाई व्यवस्था करने की योजना गर्मियों के िदनों में दम तोड़ती नजर आई हैं। सभी वाडोंर में कुड़ेदान रखने की योजना निगम कर्मचारियों की लापरवाही के चलते अब तक कामयाब नहीं हो सकी है। सभी कुड़ेदानों को निगम कर्मचारी हमेशा ही साफ रखने की कार्रवाई नहीं कर पाते हैं। इस कारण घनी आबादी में रख्ो कुड़ेदानों में रखा कुड़ा सड़ने लगता है और आसपास के लोगों का सड़े कुड़े से निकला दुर्गंध जीना मुहाल कर देता है। शहर के गांधी रोड़, तहसील चौक, कांवली रोड, खुड़बुड़ा सहित कचहरी रोड, हरिद्वार रोड, आर्यनगर, डीएल रोड आिद जगहों पर कुड़ेदानों के बाहर बिखरी गंदगी कभी भी महामारी का सबब बन सकती है।


जेवर वापस न करने पर मुकदमा

देहरादून। शहर कोतवाली में महिला ने कुछ लोगों पर जेवर वापस न करने का मुकदमा दर्ज करवाया है। पुलिस ने बताया कि धोखाधड़ी व अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है। पुलिस के अनुसार गिरफ्तारी के लिए दबिशें दी जा रही हैं। खबर लिखने तक इससे अधिक जानकारी नहीं मिल सकी थी। 
 
माजरा निवासी सविता पुत्री एसआर पंत ने आनन्द चौक में रहने वाली विशाल उनियाल, विजय उनियाल, बीना उनियाल आिद के खिलाफ गम्भीर आरोप लगाते हुए तहरीर दी है। पुलिस को महिला ने बताया कि उक्त लोगों ने एकराय होकर षड़यंत्र रचते हुए पीड़िता के पति की शारीरिक क्षमता को छुपाया। उसके जेवर आिद भी उन्होंने अपने पास रख लिए और वापस नहीं कर रहे हैं। 

--

वकीलों की हडताल से वदकारियों ने उठाई परेशानियां

देहरादून। शुक्रवार को सूबे े सभी वकील अपनी मांगों को लेकर हडताल पर चले गये । जिस कारण राज्य े हजारों वादकारियों को दिक्कतों का सामनार करना पडा ।   
 
वक्फ बोडर की सदस्य एवं अधिवक्ता रजिया बेग को एक कैबिनेट मंत्री द्वारा धमकी दिए जाने े मामलें में   वकीलो ने आर-पार की लड़ाई का ऐलान किया है। वकील इस प्रकरण में कोई कार्यवाही न होने पर खासे नाराज है। 
 
विदित हो कि 16 अप्रैल को अधिवक्ता रजिया बेग को कैबिनेट मंत्री मातबर सिंह कण्डारी द्वारा धमकी दी गई। 20 मई को मामलें की शिकायत एसएसपी को दी गई। मामलें में अभी तक कोई कार्यवाही न होने पर आक्रोशित वकीलों ने आज प्रदेश व्यापी हड़ताल की। वकीलो ने चेतावनी दी यदि जल्द से जल्द धमकी देने वाले मंत्री े खिलाफ कार्यवाही नही की गई तो वह अपना आंदोलन उग्र करेंगे। वही बार एसोसिएशन े सदस्यों ने भी एक वकील को धमकी देने की कड़ी निंदा की और वकीलों की हड़ताल को अपना समर्थन दिया। 
 
अधिवक्ता रजिया बेग ने कहा कि एक वकील प्रदेश भर में मंत्रियों द्वारा गुण्डाराज कायम है। उने मुताबिक जब एक वकील को मंत्री द्वारा धमकी दी जा रही है तो आम आदमी े साथ किस तरह की गुण्डागर्दी की जाती होगी। उन्होने मंत्री े खिलाफ कार्यवाही न होने तक आंदोलन जारी रखने का आह्वान किया। 
 
इस अवसर पर पृथ्वी राज चौहान, अल्पना थापा, जसप्रीत वालिया, गंभीर चौहान, अनीता चौहान, योगेन्द्र तोमर, अनिल पंडित, सत्य डोगरा आदि मौजूद थे। 

 


जागरूकता शिविर का आयोजन

देहरादून। राज्य समाज कल्याण बोडर और अरूणाचल महिला जाग्रती संस्था ने संयुक्त रूप से जागरूकता शिविर का आयोजन किया। शिविर में महिलाओं को उने अधिकारों े प्रति जागरूक करने की रणनीति तैयार की गयी । 
 
शिविर का उद्घाटन करते हुए मुख्य अतिथि समाज सेवी कुंवर सिंह ने कहा कि सरकार महिलाओं े उत्थान े लिए कई योजनाएं चला रही है। हर क्षेत्र में महिलाओं े लिए पचास प्रतिशत का आरक्षण ने उने विकास े मार्ग खोले है। परिणाम स्वरूप आज ग्रामीण क्षेत्र की महिलाएं भी जागरूक है। उन्होने कहा कि वर्तमान में भारत की महिलायें विकास े क्षेत्र में महा शक्ति बनकर उभर रही हैं उनसे प्रेरणा लेकर अन्य महिलायें भी अपनी तरेक्की का मार्ग प्रशस्त कर सकती हैं । 
 
इस अवसर पर संस्था े अध्यक्ष अरूण सिंह ने कहा कि आज महिलाए पुरूषों े साथ ंधे से ंधा मिलाकर चल रही है। महिलाओं की सफलता से देश को नई दिशा व नई पहचान मिली है। इतना ही नही आज की महिलाए अपने पर हो रहे अत्याचारों े खिलाफ आवाज उठानें में भी पीछे नही है। उने अंदर का डर विकास की दौड़ े साथ खत्म हो गया है। जो सशक्त समाज े निर्माण े लिए शुभ सेंत है। शिविर में महिलाओं को सामाजिक समस्यों को चुनौती े रूप में स्वीकार करने और आगे बढ़ने े लिए प्रेरित किया गया। इस अवसर पर सोनिया, माला, रीना, अनिता आदि मौजूद थे। 

केमिस्टों में न बेची जाए नशे की गोलियां

चकराता। छावनी परिषद अध्यक्ष व कमांडेंट भारत भूषण ने शुत्र्कवार को छावनी बाजार का निरीक्षण कर शीघ्र पाकिंर्ग बनाने व मार्गो पर अतित्र्कमण न होने देने के निदेर्श अधिनस्थों को दिए। इस दौरान उन्होंने केमिस्टों की दुकान पर जाकर किसी भी हालत में नशे की गोलियां न बेचने की चेतावनी दी।
 
कमांडेंट भूषण ने बाजार के मार्ग पर फेरी लगाकर सामान बेचने वालों को हटा कर भविष्य में अतित्र्कमण न करने की चेतावनी दी। उन्होंने गलियों में गंदगी देख जहां नाराजगी प्रकट की, वहीं छावनी परिषद को टूटी नालियों का निर्माण करने के निदेर्श दिए। कमांडेंट ने वाइन स्टोर के निरीक्षण के बाद केमिस्टों की दुकान पर जाकर नशे की गोलियां न बेचने को कहा। उन्होंने बाजार को बंद रखने व आवारा पशुओं का प्रवेश रोकने के लिए फाटक लगाने के निदेर्श दिए। निरीक्षण में छावनी परिषद उपाध्यक्ष पंकज जैन, स्वास्थ्य निरीक्षक पीएस रावत आदि मौजूद रहे


एसडीएम का आइसत्र्कीम फैक्ट्री में छापा

विकासनगरा। एसडीएम इलागिरी ने शुत्र्कवार को बरोटीवाला में आइसत्र्कीम फैक्ट्री में छापा मारकर वर्ष 2008 का रंग व अन्य सामान पकड़ा। साथ ही बरोटीवाला में लगी पैठ से दुकानों के पास से पॉलीथिन जब्त की। छापेमार कारर्वाई के दौरान ढकरानी घाट से जहां अवैध खनन से भरे तीन ट्रक पकड़े, वहीं बाजार में अतित्र्कमण हटवाया।
 
तहसील प्रशासन का शुत्र्कवार काफी व्यस्त बीता। एसडीएम ने आइसत्र्कीम खाकर बच्चे बीमार होने की लगातार मिल रही शिकायत पर बरोटीवाला में आइसत्र्कीम फैक्ट्री पर छापा मारा, जहां एसडीएम को वर्ष 2008 का रंग व अन्य सामान मिला। वैसे फैक्ट्री संचालक ने यह कहकर एसडीएम को संतुष्ट करने की कोशिश की कि पुराना सामान इस्तेमाल नहीं किया जा रहा है, लेकिन एसडीएम को दाल में कुछ काला लगा। एसडीएम के अनुसार शनिवार को किसी विशेषज्ञ को साथ लेकर छापामार कारर्वाई की जाएगी। यहां से छापे के बाद बरोटीवाला में लगी पैठ में पॉलीथिन का प्रयोग देख एसडीएम ने ईओ एसपी जोशी को पॉलीथिन जब्त करने के निदेर्श दिए।
 
एसडीएम ने अवैध खनन पर अंकुश के लिए जहां ढकरानी घाट पर छापेमारी कर अवैध खनन से भरे तीन ट्रक पकड़े, वहीं बाजार में घूमकर फुटपाथ पर सामान फैलाने वाले दुकानदारों से सामान अंदर रखवाया, कहा कि फुटपाथ पर अतित्र्कमण न कर बेहतर यातायात के लिए सहयोग दें। 

प्रतिबंधित दवा का स्टॉक किया जब्त

देहरादून। जिसके इलाज का आश्वासन दिया वह तो दुनिया से चल बसा। अब बारी दूसरे वादे की है। जो घरवालों को आर्थिक सहायता प्रदान करने का था।
 
केदारनाथ के ग्राम डूंगर, तहसील उखीमठ निवासी भरतलाल के इंतकाल के बाद अब उसके परिजन सीएम को इसी दूसरे वादे की याद दिलाने पहुंच रहे हैं। उम्मीद यह कि गरीबी का दंश झेल रहे इस परिवार की कुछ मदद हो सके। दून अस्पताल में 27 अप्रैल को जनरल वार्ड में मुख्यमंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ने एक गरीब व बीमार व्यक्तिको देखा। सीएम ने रोगी व घर वालों से बातचीत की। घर की माली हालात जानकर मुख्यमंत्री ने रोगी को इलाज के साथ ही आर्थिक सहायता देने का वादा किया। मुख्यमंत्री के जाने के तकरीबन एक घंटे बाद इस व्यक्तिकी मृत्यु हो गई। इसी वार्ड में अन्य मरीज के तीमारदारों ने छह हजार रुपये एकत्र कर इसका दाह संस्कार किया। पेशे से दर्जी भरतलाल की माली हालात बहुत खराब है। वह अपने पीछे पत्नी और दो छोटे बच्चों को छोड़ गया है। ऐसे में अब उसके ससुर देवदास उसके परिजनों को लेकर सीएम से उनका वादा याद दिलाने आए हैं।


पंखे से लटक आत्महत्या का प्रयास

ऋषिकेश । गौहरीमाफी में गृहक्लेश से तंग आकर एक व्यक्ति ने पंखे से लटककर आत्महत्या करने का प्रयास किया, परिजनों ने सही समय पर पहुंचकर उसे बचा लिया। उसे राजकीय चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है।
 
प्राप्त जानकारी के अनुसार, रायवाला के गौहरीमाफी निवासी विनोद (45) पुत्र गोविंद सिंह ने शुत्र्कवार दोपहर घर में ही छत की खूंटी पर लटककर आत्महत्या का प्रयास किया। परिजन सही समय पर वहां पहुंच गए और उसे बचा लिया। युवक के गर्दन पर अधिक दबाव पड़ने के कारण उसकी हालत खराब हो गई, जिसके बाद उसे ऋषिकेश राजकीय चिकित्सालय में भर्ती कराया गया। पुलिस ने घटना की वजह पारिवारिक कलह बताया है। 


प्रतिबंधित दवा का स्टॉक किया जब्त

देहरादून। जिसके इलाज का आश्वासन दिया वह तो दुनिया से चल बसा। अब बारी दूसरे वादे की है। जो घरवालों को आर्थिक सहायता प्रदान करने का था।
 
केदारनाथ के ग्राम डूंगर, तहसील उखीमठ निवासी भरतलाल के इंतकाल के बाद अब उसके परिजन सीएम को इसी दूसरे वादे की याद दिलाने पहुंच रहे हैं। उम्मीद यह कि गरीबी का दंश झेल रहे इस परिवार की कुछ मदद हो सके। दून अस्पताल में 27 अप्रैल को जनरल वार्ड में मुख्यमंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ने एक गरीब व बीमार व्यक्तिको देखा। सीएम ने रोगी व घर वालों से बातचीत की। घर की माली हालात जानकर मुख्यमंत्री ने रोगी को इलाज के साथ ही आर्थिक सहायता देने का वादा किया। मुख्यमंत्री के जाने के तकरीबन एक घंटे बाद इस व्यक्तिकी मृत्यु हो गई। इसी वार्ड में अन्य मरीज के तीमारदारों ने छह हजार रुपये एकत्र कर इसका दाह संस्कार किया। पेशे से दर्जी भरतलाल की माली हालात बहुत खराब है। वह अपने पीछे पत्नी और दो छोटे बच्चों को छोड़ गया है। ऐसे में अब उसके ससुर देवदास उसके परिजनों को लेकर सीएम से उनका वादा याद दिलाने आए हैं।


प्रतिबंधित दवा का स्टॉक किया जब्त

देहरादून। दून अस्पताल के जेनेरिक स्टोर में प्रतिबंधित दवाओं की मौजूदगी को लेकर मचे बवाल के बाद विभाग के ड्रग इंस्पेक्टर ने टीम के साथ स्टोर पर छापा मारकर प्रतिबंधित दवाओं को जब्त किया। साथ ही स्टोर को सख्त हिदायत दी गई कि किसी भी प्रतिबंधित दवा को न बेचा जाए। गुरुवार को जनऔषधि केंद्र द्वारा चिकित्सकों को दी गई सूची में निमुस्लाइड सिरप का नाम सामने आने पर मचा था हड़कंप। 
 
स्वास्थ्य विभाग ने कुछ माह पूर्व निमुस्लाइड सिरप को प्रतिबंधित कर दिया था। इस बीच तमाम स्टोर से सेंपल भर इसकी जांच भी की गई थी। गुरुवार को दून अस्पताल के चिकित्सकों के टेबल पर जनऔषधि केंद्र से जेनेरिक दवाओं की सूची पहुंची तो इसमें प्रतिबंधित सिरप का नाम भी शामिल था। सूची जारी होने के बाद मामले को लेकर हंगामा मच गया। शुत्र्कवार को मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. आरके पंत के निदेर्श पर ड्रग निरीक्षक जीएस भंडारी ने टीम के साथ जनऔषधि केंद्र पर छापा मारा और प्रतिबंधित सिरप का स्टॉक जब्त किया। सीएमओ डॉ. पंत का कहना है कि जनऔषधि केंद्र को सख्त हिदायत दी गई है कि भविष्य में किसी भी प्रतिबंधित दवा का स्टॉक न रखें, अन्यथा सख्त कार्यवाही की जाएगी। वहीं, स्टोर संचालकों का तकर था कि स्टॉक बेचने के लिए नहीं रखा गया था।


एलके सिंघानिया व पेसलवीड कॉलेज जीते

देहरादून। 23वें ऑल इंडिया डब्ल्यूसी कश्यप मेमोरियल इंटर स्कूल बास्केटबाल टूर्नामेंट में एलके सिंघानिया गोटन राजस्थान व पेसलवीड कॉलेज ने अपने-अपने मैच जीते। पेसलवीड कॉलेज में चल रहे टूर्नामेंट में शुत्र्कवार को तीन मैच खेले गए। पहले मैच में एलके सिंघानिया गोटन राजस्थान ने राजा राममोहन राय अकेडमी को 42-31 से शिकस्त दी। एलके सिंघानिया के लिए मंजीत ने 12 व राजा राममोहन राय अकेडमी के लिए नितिन ने सर्वाधिक 13 अंक जुटाए। दूसरे मैच में पेसलवीड कॉलेज ने कड़े संघर्ष में आर्यन स्कूल को 43-42 से हराया। इसके अलावा तीसरे मैच में आर्यन स्कूल ने आरआइएमसी को 42-33 से शिकस्त दी।


प्रतिबंधित दवा का स्टॉक किया जब्त

देहरादून। दून अस्पताल के जेनेरिक स्टोर में प्रतिबंधित दवाओं की मौजूदगी को लेकर मचे बवाल के बाद विभाग के ड्रग इंस्पेक्टर ने टीम के साथ स्टोर पर छापा मारकर प्रतिबंधित दवाओं को जब्त किया। साथ ही स्टोर को सख्त हिदायत दी गई कि किसी भी प्रतिबंधित दवा को न बेचा जाए।
 
गुरुवार को जनऔषधि केंद्र द्वारा चिकित्सकों को दी गई सूची में निमुस्लाइड सिरप का नाम सामने आने पर मचा था हड़कंप। स्वास्थ्य विभाग ने कुछ माह पूर्व निमुस्लाइड सिरप को प्रतिबंधित कर दिया था। इस बीच तमाम स्टोर से सेंपल भर इसकी जांच भी की गई थी। गुरुवार को दून अस्पताल के चिकित्सकों के टेबल पर जनऔषधि केंद्र से जेनेरिक दवाओं की सूची पहुंची तो इसमें प्रतिबंधित सिरप का नाम भी शामिल था। सूची जारी होने के बाद मामले को लेकर हंगामा मच गया। शुत्र्कवार को मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. आरके पंत के निदेर्श पर ड्रग निरीक्षक जीएस भंडारी ने टीम के साथ जनऔषधि केंद्र पर छापा मारा और प्रतिबंधित सिरप का स्टॉक जब्त किया। सीएमओ डॉ. पंत का कहना है कि जनऔषधि केंद्र को सख्त हिदायत दी गई है कि भविष्य में किसी भी प्रतिबंधित दवा का स्टॉक न रखें, अन्यथा सख्त कार्यवाही की जाएगी। वहीं, स्टोर संचालकों का तकर था कि स्टॉक बेचने के लिए नहीं रखा गया था।


नौ को दून में होंगे भाजयुमो के राष्ट्रीय अध्यक्ष

देहरादून। भारतीय जनता युवा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अनुराग ठाकुर नौ मई को देहरादून आएंगे। वे यहां पार्टी की ओर से आयोजित कार्यत्र्कम एक दौड़ भ्रष्टाचार के खिलाफ को हरी झंडी दिखाकर रवाना करेंगे।
 
भाजयुमो के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राघव लखन पाल व प्रदेश अध्यक्ष विनोद कंडारी ने गुरुवार को कार्यत्र्कम की तैयारियों को लेकर गढ़वाल मंडल के पदाधिकारियों के साथ बैठक की। कंडारी ने बताया कि पार्टी की ओर से देहरादून में एक दौड़ भ्रष्टाचार के खिलाफ, है दम तो बढ़ाओ कदम कार्यत्र्कम का आयोजन किया जा रहा है। इसमें गढ़वाल मंडल से बड़ी संख्या में युवाओं के भाग लेने की उम्मीद है। बैठक में भाजयुमो के सह-प्रदेश प्रभारी एमएस डंग के अलावा प्रदेश महामंत्री वीरेंद्र वल्दिया, महामंत्री मनोज जखमोला, प्रदेश महामंत्री नरेंद्र भंडारी, प्रदेश मंत्री अनूप सेमवाल व जसविंदर आदि मौजूद थे।


संविदा कर्मचारियों का अनशन व धरना चौथे दिन भी जारी

देहरादून। संविदा कर्मचारियों का अनशन व धरना शुत्र्कवार को चौथे दिन भी जारी रहा। कर्मचारी नेता योगेंद्र विश्राल व विनोद चमोली ने अनशन जारी रखते हुए कहा कि जब तक संविदा कर्मचारियों की मांगे मान नहीं ली जाती, धरना प्रदर्शन जारी रहेगा। आमरण अनशन के चौथे दिन यूपीसीएल, पिटकुल व उज्जवल के सैकड़ों संविदा कर्मचारियों ने निगम के खिलाफ नारेबाजी की। कर्मचारियों ने कहा कि पिछले छह वर्षो से उनका शोषण किया जा रहा है।
 
प्रदेश सरकार संविदा कर्मचारियों की हड़ताल को प्रभावित करने के लिए प्रयासरत है। यही वजह है कि विभिन्न जिलों से ऊर्जा भवन आने वाले कर्मचारियों के धर्मशालाओं में ठहरने पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है। शुत्र्कवार के धरने में यूकेडी के केंद्रीय महामंत्री शांति प्रसाद भट्ट भी समर्थन देने पहुंचे। उन्होंने कर्मचारी नेताओं को आश्वासन दिया कि यूकेडी का हर कार्यकर्ता संविदा कर्मचारियों के साथ खड़ा मिलेगा। संविदा कर्मियों ने एलान किया कि शनिवार को गांधी पाकर से घंटाघर तक करीब एक हजार संविदा कर्मी मशाल जुलूस निकालेंगे। जुलूस शाम सात बजे निकलेगा।
 
धरने में मनोज पंत, देवेंद्र कन्याल, लाल सिंह गुसाई, पूजा, विजय नेगी, भगवती बोरा, रजनी रावत, राम प्रकाश, सुनील गैरोला, अर्जुन चौहान व जयपाल भंडारी समेत सैकड़ों अन्य कार्यकर्ता शामिल हुए। 


संविदा कर्मचारियों का अनशन व धरना चौथे दिन भी जारी

देहरादून। संविदा कर्मचारियों का अनशन व धरना शुत्र्कवार को चौथे दिन भी जारी रहा। कर्मचारी नेता योगेंद्र विश्राल व विनोद चमोली ने अनशन जारी रखते हुए कहा कि जब तक संविदा कर्मचारियों की मांगे मान नहीं ली जाती, धरना प्रदर्शन जारी रहेगा। आमरण अनशन के चौथे दिन यूपीसीएल, पिटकुल व उज्जवल के सैकड़ों संविदा कर्मचारियों ने निगम के खिलाफ नारेबाजी की। कर्मचारियों ने कहा कि पिछले छह वर्षो से उनका शोषण किया जा रहा है।
 
प्रदेश सरकार संविदा कर्मचारियों की हड़ताल को प्रभावित करने के लिए प्रयासरत है। यही वजह है कि विभिन्न जिलों से ऊर्जा भवन आने वाले कर्मचारियों के धर्मशालाओं में ठहरने पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है। शुत्र्कवार के धरने में यूकेडी के केंद्रीय महामंत्री शांति प्रसाद भट्ट भी समर्थन देने पहुंचे। उन्होंने कर्मचारी नेताओं को आश्वासन दिया कि यूकेडी का हर कार्यकर्ता संविदा कर्मचारियों के साथ खड़ा मिलेगा। संविदा कर्मियों ने एलान किया कि शनिवार को गांधी पाकर से घंटाघर तक करीब एक हजार संविदा कर्मी मशाल जुलूस निकालेंगे। जुलूस शाम सात बजे निकलेगा।
 
धरने में मनोज पंत, देवेंद्र कन्याल, लाल सिंह गुसाई, पूजा, विजय नेगी, भगवती बोरा, रजनी रावत, राम प्रकाश, सुनील गैरोला, अर्जुन चौहान व जयपाल भंडारी समेत सैकड़ों अन्य कार्यकर्ता शामिल हुए। 


राजस्व पुलिस ने अज्ञात में दर्ज किया मुकदमा

चकराता। क्षेत्र की कानून व्यवस्था का जिम्मा संभाले तहसील प्रशासन चकराता का भी क्या कहना। राजस्व पुलिस चकराता ने पुरोड़ी स्थित जल निगम कार्यालय में सरकारी कार्य में अवरोध पैदा करने पर नामजद लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने बजाए अज्ञात में मामला दर्ज कर दिया। निगम ने इस मामले में दो तहरीरें दी थी, जिसमें पहली तहरीर में किसी के नाम नहीं खोले गए थे और दूसरी तहरीर में सात लोगों को नामजद किए गए थे। उस दौरान तहसीलदार ने सात लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज होने का खुलासा किया था, लेकिन बाद में नामजद रिपोर्ट न दर्ज कर पहली तहरीर पर अज्ञात में मामला दर्ज कर लिया है। कुछ लोगों द्वारा पुरोड़ी स्थित जल निगम कार्यालय में निगम कर्मियों के साथ बदसलूकी करने और सरकारी कार्य में खलल डालने के आरोप में निगम कर्मियों ने पहली तहरीर गत 23 अप्रैल को अज्ञात लोगों के खिलाफ राजस्व पुलिस को दी थी। इसके बाद आरोपियों की पहचान होने पर निगम कर्मियों ने गत 26 अप्रैल को सात लोगों को नामजद करते हुए दूसरी तहरीर राजस्व पुलिस की दी। उस दौरान तहसीलदार ने नामजद रिपोर्ट दर्ज करने का खुलासा किया, लेकिन शुत्र्कवार को पता चला कि रिपोर्ट पहली तहरीर पर दर्ज हुई है।
 
राजस्व पुलिस चकराता ने नामजद रिपोर्ट पर कारर्वाई करने के बजाए पहली तहरीर के आधार पर अज्ञात के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर दिया। बताया जा रहा है कि राजस्व पुलिस ने यह कारर्वाई भारी राजनीतिक दबाव के चलते की है। निगम कर्मियों द्वारा दी गई नामजद रिपोर्ट पर कारर्वाई क्यों नहीं हुई, इस बात का राजस्व पुलिस चकराता के पास कोई सटीक जबाव नहीं है। 


मासूम बालिका से दुराचार

देहरादून। पांच साल की मासूम बच्ची से दुराचार का मामला सामने आया है। आरोप है कि मां के प्रेमी ने बच्ची को हवस का शिकार बनाया। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
 
मामला शुत्र्कवार को नेहरू कालोनी थाना क्षेत्र में सामने आया। एक संस्था से जुड़ी कुछ महिलाएं एक पांच वर्षीय बच्ची को लेकर थाने पहुंची। एक महिला ने बताया कि वह बच्ची की चाची है। आरोप है कि बच्ची अपने माता-पिता के साथ सरसावा रोड चिलकाना सहारनपुर में रहती थी। इस बीच उसके माता-पिता का तलाक हो गया और मां बेटी को लेकर देहरादून में रहने लगी। पिछले हफ्ते उसकी मां, अपने प्रेमी व उसे लेकर सहारनपुर गई। गुरुवार को वे वापस लौटे। मां ने बेटी को चाची के पास छोड़ दिया और खुद प्रेमी के साथ फरार हो गई। बच्ची ने चाची को बताया कि सहारनपुर में मां के साथ गए युवक ने उसे हवस का शिकार बनाया।
 
शुत्र्कवार को यह मामला पुलिस के सामने लाया गया। जहां पुलिस ने बच्ची का मेडिकल करा चाची के सुपुर्द कर दिया। पुलिस ने मां व उसके प्रेमी के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर लिया है। चूंकि, घटनास्थल सहारनपुर है। इसलिए मामला वहां ट्रांसफर किया जा रहा है।


इंजीनियरिंग छात्रों ने किया प्रदर्शन कर ज्ञापन दिया

देहरादून। दून कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी के छात्रों ने कुछ लोगों पर कॉलेज की छवि धूमिल करने का आरोप लगाया। इसके विरोध में स्टूडेंट्स ने जिलाधिकारी को ज्ञापन भी दिया।
 
शुत्र्कवार को कॉलेज छात्रों ने एक न्यूज चैनल पर संस्थान के खिलाफ अनर्गल प्रचार का आरोप लगाते हुए प्रदर्शन किया। छात्र-छात्राओं ने कॉलेज प्रबंधन के साथ मिलकर जिलाधिकारी से मुलाकात की। उन्होंने डीएम को ज्ञापन देकर चैनल के खिलाफ एक्शन लेने की मांग की। संस्थान के अध्यक्ष चौ. दरियाव सिंह ने कहा कि दून ग्रुप ऑफ कॉलेज पिछले 20 सालों से राज्य में शिक्षा के क्षेत्र में कार्य कर रहा है। संस्थान के अंतर्गत तीन कॉलेज चलाए जाते हैं। इसमें तीन हजार से अधिक छात्र-छात्राएं पढ़ते हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि एक न्यूज चैनल निजी स्वाथोंर के लिए संस्थान की बनी बनाई छवि को खराब करने का प्रयास कर रहा है। प्रबंधन ने कहा कि ऐसे चैनल के खिलाफ सख्त एक्शन की जानी चाहिए। जिलाधिकारी ने उन्हें आश्वासन दिया कि जल्द आवश्यक कारर्वाई की जाएगी। 


चौड़ीकरण में बाधा बन रहे पेड़ों े कटान का मामला भेजा

देहरादून। दर्शन लाल व लैंसडौन चौक के जिन 15 पेड़ों को काटने के लिए सवेर किया गया था, उनकी संस्तुति वन विभाग की जगह एफआरआइ व केंद्रीय लोनिवि देगा। प्रभागीय वनाधिकारी ने इसको लेकर संबंधित महकमों को पत्र लिखा है।
 
गुरुवार को वन विभाग के फॉरेस्टर ने लैंसडौन व दर्शनलाल चौक के इर्द-गिर्द खड़े पेड़ों का सवेर किया था। उन्होंने पाया था कि 15 पेड़ चौक चौड़ीकरण में बाधा बन रहे हैं। इनके कटान के लिए फॉरेस्टर ने शुत्र्कवार को डीएफओ को सवेर रिपोर्ट दी, लेकिन डीएफओ मीनाक्षी जोशी ने पेड़ों के कटान की संस्तुति देने से यह कहते हुए इनकार कर दिया कि मामला अन्य विभाग से जुड़ा है। उन्होंने कहा कि चौक चौड़ीकरण को लेकर पहले भी एफआरआइ व केंद्रीय लोनिवि विभाग को नोटिस भेज चुके हैं। जिसमें कहा कि बिना अनुमति के उनके दायरे वाले पेड़ न काटे जाएं। पेड़ों के पातन की अनुमति के लिए एफआरआइ के निदेशक व सीपीडबल्यूडी के एसई को पत्र लिखा गया है। अनुमति के बाद ही पेड़ कट पाएंगे। 


30 को दून में प्रदर्शन करेगी रोडवेज इम्पलाइज

पिथौरागढ़। कार्यशाला कर्मियों की वेतन विसंगति दूर करने सहित विभिन्न मांगों को लेकर उत्तराखंड रोडवेज इम्पलाइज यूनियन 30 अप्रैल को देहरादून में प्रदर्शन करेगी। प्रदर्शन में सीमांत जिले से बड़ी संख्या में लोग भागीदारी करेंगे। प्रदर्शन को सफल बनाने के लिए गुरुवार को यूनियन की जिला इकाई की बैठक हुई।
 
बैठक में वक्ताओं ने कहा प्रबंधन लम्बे समय से कर्मचारियों की उपेक्षा कर रहा है, जिसे अब बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। इसी उपेक्षा से खिन्न होकर यूनियन ने 30 अप्रैल को देहरादून में प्रदर्शन का निर्णय लिया है। प्रदर्शन में सीमांत जिले से बड़ी संख्या में कर्मचारी भाग लेंगे। बैठक में प्रांतीय पदाधिकारी राजेन्द्र सिंह महर, लक्ष्मण च्याला, मोहन देव भट्ट, विजय सिंह, विजय पंत, ललित सौन, जितेन्द्र शर्मा, आरके शर्मा, बीसी पांडे सहित तमाम कर्मचारी मौजूद थे।


सीएम के कार्यत्र्कम में जुटे भाजपाई

पिथौरागढ़। मुख्यमंत्री के जनपद भ्रमण कार्यत्र्कम को सफल बनाने के लिए गुरुवार को कार्यकर्ताओं को जिम्मेदारियां सौंपी गई।गुरुवार को पेयजल मंत्री प्रकाश पंत की अध्यक्षता में हुई बैठक में मुख्यमंत्री के जनपद भ्रमण कार्यत्र्कम को लेकर विचार विमर्श किया गया। पेयजल मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री मोस्टामानूं में बेस चिकित्सालय की नींव रखेंगे। बेस चिकित्सालय का निर्माण होने से क्षेत्र के लोगों को बेहतर सुविधाएं मिलेंगी।
 
बैठक का संचालन करते हुए जिला प्रवक्ता गोपू महर ने मुख्यमंत्री के जनपद भ्रमण कार्यत्र्कम को सफल बनाने के लिए व्यापक तैयारियां की गई है। उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि मुख्यमंत्री के भ्रमण कार्यत्र्कम की जानकारी अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचायें। जिला पंचायत उपाध्यक्ष वीरेन्द्र सिंह बोहरा ने कहा जनपद भ्रमण के दौरान मोस्टामानूं क्षेत्र की विभिन्न समस्याओं से मुख्यमंत्री को अवगत कराया जायेगा। इसके साथ ही मंदिर के सौन्दर्यीकरण, मोस्टामानूं मेले के लिए आर्थिक सहायता दिये जाने की मांग रखी जायेगी। उन्होंने कहा कि क्षेत्र के लोग मुख्यमंत्री का जोरदार स्वागत किया जायेगा। बैठक में जिला महामंत्री गणेश भण्डारी सहित तमाम लोग मौजूद थे। 

पालिकाध्यक्ष के खिलाफ मुकदमे की निंदा

रुद्रपुर। संस्कार भारती कार्यकर्ताओं की बैठक में पालिकाध्यक्ष के विरुद्ध एससी-एसटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज करने की निंदा की गई। वक्ताओं ने कहा कि पालिकाध्यक्ष मीना शर्मा के प्रयासों से शहर का चहुंमुखी विकास हुआ है। उनके खिलाफ बिना तथ्यों की जांच किए मुकदमा दर्ज करना निंदनीय है। बैठक में नगराध्यक्ष राजेश श्यामपुरिया, त्रिलोचन सिंह, विमल मेहरा, रश्मि रस्तोगी, महेश कठेरिया, ताराचंद्र अग्रवाल, विजय साहनी, योगेंद्र उप्रेती, राजेश गुप्ता, शैली बंसल आदि मौजूद थे। 


पिता-पुत्र समेत तीन के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा

रुद्रपुर। खाते से 16 लाख रुपए उड़ाने के मामले में पुलिस ने पिता-पुत्र समेत तीन लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज किया है। इधर पिता-पुत्र को गिरफ्तार कर उनसे 13.50 लाख बरामद कर लिए गए। पुलिस तीसरे आरोपी की गिरफ्तारी को दबिश दे रही है।
 
आवास विकास निवासी पुष्पा रानी पत्नी श्याम सुंदर ने दर्ज कराई रिपोर्ट में कहा है कि उसका काशीपुर बाईपास रोड स्थित एसबीआई बैंक में खाता है। खाते में 16.48 लाख रुपए करीब बैलेंस था। 26 अप्रैल को जब उसका पुत्र बैंक पहुंचा तो पता चला कि एकाउंट में मात्र 48419 रुपए बैलेंस है। जानकारी करने पर पता चला कि रकम पंजाब नेशनल बैंक रुद्रपुर की शाखा में विवेक गुप्ता पुत्र रामजी गुप्ता के खाते में 23 अपै्रल को ट्रांसफर हो गई थी। आरोप है कि प्रीत विहार निवासी राकेश मिश्रा, जो उनके पुत्र का मित्र है, ने चेक नंबर 733446 चुराकर विवेक गुप्ता के खाते में जमा कर 16 लाख रुपये निकाल लिए। तहरीर के आधार पर पुलिस ने तीनों आरोपियों के खिलाफ धारा 420, 467, 468, 471, 379, 120-बी व 34 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया। बाद में एसएसआइ संजय पांडे व बाजार चौकी इंचार्ज मनोज कुमार कोठारी ने त्वरित कारर्वाई कर विवेक गुप्ता व उसके पिता रामजी गुप्ता को गिरफ्तार कर 13.50 लाख बरामद कर लिए और दोनों को जेल भेज दिया। तीसरे आरोपी राकेश मिश्रा की गिरफ्तारी को पुलिस दबिश दे रही है।


समझौते के बाद सफाई कर्मी काम पर लौटे

रुद्रपुर। बीते 11 दिनों से चली आ रही सफाई कर्मियों की काम बंद हड़ताल एसडीएम की मध्यस्थता में हुई समझौता वार्ता के बाद समाप्त हो गई। वार्ता में यह भी तय हुआ कि हड़ताल की अवधि का संविदा कर्मियों का वेतन नहीं काटा जाएगा।
 
पालिका के स्थायी व संविदा सफाई कर्मी बीती 18 अपै्रल से कामबंद हड़ताल पर थे। इससे शहर में सफाई न होने से गंदगी के ढेर लग गए थे। लोग भी बेहद परेशान थे। इधर एसडीएम वीर सिंह बुदियाल की मध्यस्थता तथा अखिल भारतीय वाल्मीकि परिषद के जिलाध्यक्ष ओमप्रकाश की पहल पर हुई समझौता वार्ता के बाद गुरुवार को हड़ताल समाप्त हो गई। इस दौरान यह तय किया गया कि पालिका प्रशासन व संघ के अधिकारियों से वार्ता के बाद सहमति होने की दशा में 30 सफाई संविदा कर्मियों को ही लगाया जाएगा तथा उनका हड़ताल अवधि का वेतन नहीं काटा जाएगा। मांग के अनुसार 100 संविदा सफाई कर्मियों की नियुक्ति तथा उनको 200 रुपये प्रतिदिन पारिश्रमिक देने का बोर्ड का प्रस्ताव शासन को भेजा जाएगा। स्थायी सफाई कर्मियों का भी हड़ताल की अवधि का वेतन न काटकर अवकाश में समायोजित किया जाएगा। वार्ता में तय हुआ कि पालिकाध्यक्ष पर लगाए गए एससी-एसटी के मुकदमे को वापस लेने के साथ भविष्य में बिना वैधानिक नोटिस के कामबंद जैसी हड़ताल नहीं की जाएगी।
 
हड़ताल के दौरान पूर्व से चल रहे 93 संविदा कर्मियों का वेतन भी नहीं काटा जाएगा। इस दौरान पालिकाध्यक्ष मीना शर्मा, ईओ नरेंद्र कुमार, सफाई निरीक्षक जगदीश चंद्रा, सफाई कर्मचारी संघ अध्यक्ष शंभूलाल, मंत्री किशन लाल, मुकेश, बबलू, खेमपाल, महावीर सरकनिया, विधायक प्रतिनिधि अनिल शर्मा, सभासद रामकृष्ण कनौजिया, ललित मिगलानी, साबिर अहमद, इंद्रजीत सिंह, जगदीश तनेजा, शीला कक्कड़, गोविंद राय, राजेश सिंह, शंभू मौर्या, हरिकृष्ण अग्रवाल आदि मौजूद थे। पालिकाध्यक्ष मीना शर्मा ने बताया कि जिन मुद्दों पर वार्ता में सहमति बनी है उन पर हड़ताल से पूर्व ही सहमति बन चुकी थी, लेकिन कुछ नेताओं के गुमराह करने पर सफाई कर्मी हड़ताल पर चले गए। आखिरकार सच्चाई की जीत हुई। उन्होंने शहर के समग्र विकास के प्रति प्रतिबद्धता दोहराई।


मारपीट में दो के खिलाफ मुकदमा

रुद्रपुर। बीच-बचाव को गए दो भाइयों को पीटकर घायल कर दिया गया। घटना की तहरीर पर पुलिस ने दो युवकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है।रम्पुरा निवासी ओमप्रकाश ने पुलिस को दी तहरीर में कहा कि बीते दिन उनके मुहल्ले में कुछ लोगों का झगड़ा हो रहा था। वह भाई के साथ बीच-बचाव को गया तो मुहल्ले के ही ओमप्रकाश व चंद्रपाल ने साथियों के साथ लाठी-डंडों से उन पर हमला कर घायल कर दिया। इधर पुलिस ने तहरीर के आधार पर दोनों हमलावर युवकों के खिलाफ धारा 323, 324, 504 व 506 के तहत मुकदमा दर्ज कर दिया।


यहां तो बाड़ ही खा गई खेत

नई टिहरी। जब बाड़ ही खेत को खा जाए तो रखवाली कौन करेगा। यह कहावत विकासखंड थौलधार के राजकीय उच्चतर माध्यामिक विद्यालय मंजकोट नगुण पर सटीक बैठती है। यहां के तत्कालीन प्रधानाचार्य ने विद्यालय में दो कमरे व बरामदा निर्माण के लिए करीब ढ़ाई लाख तो बैंक से निकाल लिए, पर न तो कमरे बनें और न ही बरामदा बना।
 
एसडीएम और तहसीलदार की जांच रिपोर्ट में गबन का खुलासा होने के बाद भी प्रधानाचार्य आराम से दूसरे विद्यालय में डि्यटी बजा रहे हैं और जांच रिपोर्ट सरकारी कार्यालयों में धूल फांक रही है। वर्ष 2007 में उक्त विद्यालय में दो कमरे व बरामदा निर्माण के लिए पांच लाख विभाग से स्वीकृत हुए थे। इनमें से तत्कालीन प्रधानाचार्य ने 2.55 लाख रुपये 2007 में निकाल लिए। इस मामले में चौंकाने वाली बात यह है कि प्रधानाचार्य ने विद्यालय मदों के खाते थौलधार विकासखंड मुख्यालय छाम में बैंक होने के बावजूद वहां न खोलकर फकोट विकासखंड के खाड़ी स्थित जिला सहकारी बैंक शाखा में प्रधानाचार्य के नाम से खाता खोला। साथ ही निर्माण के लिए विभाग से मिली पहली किश्त तीन लाख सत्तर हजार रुपये इसमें जमा किए गए। इसमें से उन्होंने 2.55 लाख निकाले और मंजकोट के ही स्थानीय व्यक्ति बिजेंद्र प्रसाद को टीम लीडर बनाकर निर्माणाधीन स्थल पर समतलीकरण कार्य प्रारंभ करवा दिया। टीम लीडर ने स्थल समतलीकरण कुछ निर्माण एवं कुछ सरिया खरीद कर कार्य किया। बिजेंद्र का कहना है कि उसने करीब सत्तर हजार का कार्य किया। इसमें भी प्रधानाचार्य ने उसे सिर्फ बीस हजार रुपये दिए। पचास हजार उसके स्वयं के खर्च हो गए उनका अभी तक भुगतान नहीं हुआ।


आशा वकर्र यूनियन की धारचूला इकाई का गठन

पिथौरागढ़। एक्टू से सम्बद्ध आशा वकर्र यूनियन की धारचूला इकाई का गुरुवार को गठन किया गया। नई इकाई ने आशा वकर्रों के शोषण के खिलाफ संघर्ष की घोषणा की है। ब्लाक इकाई के लिए नंदा गण्डी को अध्यक्ष और लीला बिष्ट को सचिव चुना गया। इसके अलावा प्रेमा बिष्ट को उपाध्यक्ष, कमला बोरा को संगठन सचिव, चन्द्रा रौतेला को कोषाध्यक्ष चुना गया। इसके अलावा ब्लाक कमेटी के लिए सुमित्रा दरियाल, इन्द्रा रायपा, पार्वती वर्मा, विजय ठगुन्ना, पार्वती कुंवर को सदस्य चुना गया।
 
इस अवसर पर वक्ताओं ने कहा कि सरकार ने आज तक बिना मानदेय के कार्य करवाकर शोषण एवं अन्याय की हदें तोड़ दी हैं, आशा वकर्रों से स्वास्थ्य विभाग बुनियादी कार्य करवाता है,लेकिन उन्हें मानदेय के नाम पर एक रुपया भी नहीं दिया जाता है। वकर्रों ने छ हजार रुपये मासिक मानदेय के लिए संषर्ष छेड़ने का निर्णय लिया। बैठक में प्रत्येक चिकित्सालय में आशा विश्राम गृह बनाने, बीमा करने, 21 दिन का अवकाश देने, स्वास्थ्य विभाग के पदों में 50 प्रतिशत आरक्षण देने, राजकीय कर्मचारी घोषित करने की मांग उठाई गई। बैठक में मागों को पूरा करवाने के लिए एकजुट होकर संघर्ष करने का भी निर्णय लिया गया।


मुख्यमंत्री आगमन की तैयारियां शुरू

पिथौरागढ़। प्रदेश के मुख्यमंत्री डा.रमेश पोखरियाल तीन मई को प्रातः 10.50 बजे मोस्टामानूं हेलीपैड पर उतरेंगे। सूचना विभाग से जारी कार्यत्र्कम के मुताबिक मुख्यमंत्री प्रातः 9.40 बजे देहरादून हेलीपैड से प्रस्थान करेंगे। 10.50 बजे वे मोस्टामानू में बनाये गये हेलीपैड में उतरेंगे। 11 बजे से 11.15 बजे तक वे लोकार्पण और शिलान्यास करेंगे। 11.15 बजे से 1.30 बजे तक वे जनता से संवाद करेंगे। 2.10 बजे वे मोस्टामानू से देहरादून के लिए प्रस्थान करेंगे। प्रशासन ने मुख्यमंत्री के कार्यत्र्कम की तैयारियां शुरू कर दी हैं। 


गंगावली जिला बनाओ संघर्ष समिति गठित

पिथौरागढ़। पृथक गंगावली जिले की मांग जोर पकड़ती जा रही है। इसके लिए गंगोलीहाट, बेरीनाग और गणाई क्षेत्रवासियों ने जिला बनाओ संघर्ष समिति का गठन भी कर लिया है। समिति ने व्यापक जनांदोलन छेड़ने का एलान किया है।
 
क्षेपंस गणेश बोरा की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में जगदीश भंडारी को अध्यक्ष, मनोहर पंचपाल, हयात सिंह, देवसिंह गैड़ा, गोविन्द भारती और कल्याण धानिक को उपाध्यक्ष, गणेश बोरा, महेश पंत, श्याम सिंह पथनी को महामंत्री, चंदन वाणी व रामसिंह बिष्ट को सचिव, बृजेश तिवारी को कोषाध्यक्ष, मोहन कार्की संयुक्त कोषाध्यक्ष, बहादुर मेहता को संयुक्त सचिव, चन्द्रबल्लभ उप्रेती, जगत मेहरा, डीआर आर्या और अनिल चंदोला को विधिक सलाहकार, लाल सिंह बाफिला व नाथलाल साह, मुन्नी बिष्ट को संरक्षक बनाया गया। जबकि सुरेश सिंह, धमेर्न्द्र मेहरा, लालू बोरा, किशन सिंह, भगवत रौतेला, हयात सिंह, पुष्कर सिंह, बलवंत सिंह सदस्य बनाए गए। इस मौके पर सभी पदाधिकारियों ने कहा कि जिले की मांग को लेकर पूरे क्षेत्र के लोगों को एक मंच पर आना होगा। इसको लेकर जन संपकर अभियान चलाने पर भी विचार विमर्श हुआ। बाद में इस संबंध का एक ज्ञापन प्रशासन को भी सौंपा गया। 


देवलथल तहसील की मांग जारी

पिथौरागढ़। देवलथल को तहसील बनाने की मांग को लेकर संघर्ष समिति का त्र्कमिक अनशन 57वें दिन भी जारी रहा। संघर्ष समिति ने प्रदेश सरकार की उपेक्षा के खिलाफ उग्र आंदोलन छेड़ने की चेतावनी दी है। गुरुवार को त्र्कमिक अनशन में संजय कुमार, शंकर कुमार, राजेश कुमार, सुनील कुमार, एचएन जोशी बैठे।

इस मौके पर आयोजित बैठक में वक्ताओं ने कहा कि कुछ लोग आंदोलन को तोड़ने का कुत्सित प्रयास कर रहे हैं। इसे बर्दास्त नहीं किया जाएगा। संघर्ष समिति के उपाध्यक्ष सुरेन्द्र बसेड़ा और पुष्पा जोशी ने कहा कि जो लोग आंदोलन को बल नहीं दे पा रहे हैं उन्हें अनर्गल बयानबाजी से बाज आना चाहिए। मुख्यमंत्री की आइटीआइ बनाने की घोषणा का स्वागत करते संघर्ष समिति ने कहा कि पूर्ण तहसील का दर्जा मिलने तक आंदोलन जारी रहेगा। बताया गया कि शीघ्र ही एक प्रतिनिधिमंडल सीएम से मिलेगा। इस प्रतिनिधिमंडल में किसी भी राजनीतिक दल के लोगों को शामिल नहीं किया जाएगा। 



गौला गेटों पर मिली लचर सुरक्षा व्यवस्था

हल्द्वानी। उप प्रभागीय वन अधिकारी गौला डॉ. बीएस शाही ने गौला नदी के विभिन्न गेटों का औचक निरीक्षण कर खनन व चुगान कार्य की समीक्षा की। इस दौरान उन्हें सुरक्षा व्यवस्था लचर मिली। इस पर उन्होंने मातहतों को समस्याओं के निराकरण व अन्य व्यवस्थाएं दुरुस्त करने के निदेर्श दिए। श्री शाही प्रात सात बजे अचानक शीशमहल, राजपुरा, टनकपुर व इंदिरा नगर गेट जा पहुंचे। ढीली व्यवस्था मिलने पर उन्होंने प्रत्येक गेट पर दो अतिरिक्त सुरक्षा बलों की तैनात के निदेर्श दिए। वहीं कुछ बुग्गी वालों के निर्धारित के बजाय दूसरे रास्तों से प्रवेश पर पूरी तरह प्रतिबंधित कर दिया। उधर वन विकास निगम कर्मियों ने हर गेट मार्ग पर जल का छिड़काव किया ताकि धूल से बचा जा सके।


उच्चीकृत वेतनमान को वीडीओ का धरना जारी

चम्पावत। अपनी मांगों को लेकर ग्राम विकास अधिकारी एसोसिएशन का आंदोलन नौवें रोज जारी रहा। गुरुवार को भी विकास भवन में धरना प्रदर्शन किया गया।

विभिन्न संगठनों से जुड़े लोगों ने एसोसिएशन के आंदोलन का समर्थन करते हुए मांगों पर शीघ्र अमलीजामा पहनाने वकालत की है। नौवें रोज महामंत्री एलएल वर्मा के संचालन में हुई सभा में वेतन विसंगति दूर कर उच्चीकृत वेतनमान देने के अलावा रिक्त पदों पर विज्ञिप्त जारी करने को कहा गया। शीघ्र सार्थक कारर्वाई न होने पर उग्र आंदोलन की धमकी दी गई। हड़ताल के चलते लोगों को कामकाज निपटाने में दिक्कतें उठानी पड़ रही हैं। प्रदर्शन करने वालों में जीवन गिरी, तपन गड़कोटी, भगवत पाटनी, चंद्रशेखर भट्ट, नवीन आर्या, अशोक अधिकारी, जगदीश कार्की, नारायण कार्की, कैलाश गड़कोटी, हेमा जोशी, महेश परगाई आदि शामिल थे।


टैलेंट सर्च त्रि्ककेट स्टेडियम के नाम

हल्द्वानी। स्पोर्ट्स स्टेडियम में चल रहे टैलेंट सर्च त्रि्ककेट प्रतियोगिता के अंडर 17 फाइनल में स्पोर्ट्स स्टेडियम ने बीर शीबा को 68 रन से शिकस्त देकर ट्राफी पर कब्जा कर लिया।

मयूर नागर कोटी ने सर्वाधिक 91 रन की पारी खेली। फाइनल मुकाबला 25-25 ओवर का आयोजित किया गया। मैच का उद्घाटन एआरटीओ प्रशासन डीसी पांडेय ने किया। पहले बल्लेबाजी करते हुए स्टेडियम ने निर्धारित ओवर में तीन विकेट खोकर 221 रन का स्कोर खड़ा किया। मयूर नागरकोटी ने 60 गेंद पर 91 रन, कल्याण सिंह 34 गेंद पर 62 रन, सागर मेहरा ने 42 रन बनाये। विशाल स्कोर का पीछा करने उतरी बीर शीबा की टीम 153 रन पर ही सिमट गयी। भरत कुंवर 37, चिराग 27, नीरज खाती ने 35 रन का सर्वाधिक योगदान किया। अम्पायर प्रदीप बसेरा, मुकेश मुखिया, स्कोरर अक्षय मेहता रहे। विजेता और उप विजेता टीम को उद्योग व्यापार मंडल के प्रदेश महामंत्री नवीन वर्मा ने पुरस्कृत किया। त्रि्ककेट प्रशिक्षक संजीव पंत ने कहा कि प्रतियोगिता का मूल उद्देश्य राज्य में त्रि्ककेट को बढ़ावा देना है। प्रतिभागियों को तराश कर उन्हें सफल खिलाड़ी बनाना है। 

त्रि्ककेट प्रशिक्षक संजीव पंत ने बताया कि टैलेंट सर्च त्रि्ककेट के अंडर 14 का फाइनल शुत्र्कवार को खेला जाएगा। बीर शीबा और स्पोर्ट्स स्टेडियम के बीच मुकाबला होगा। 


तीसरे दिन भी जारी रही संविदा कर्मियों की हड़ताल

देहरादून। एक सूत्रीय मांग ‘नियमितिकरण’ को लेकर पिछले दो िदनों से हड़ताल पर बैठे विद्युत संविदा कर्मियों ने आज तीसरें िदन भी हड़ताल जारी रखी। कांवली रोड स्थित ऊर्जा भवन कार्यालय में संविदा कर्मचारी काफी संख्या में जुटे रहे।
 
आज प्रदेश के अलग-अलग जगहों से सैकड़ों की संख्या में विद्युत संविदाकर्मी कांवली रोड के ऊर्जा भवन कार्यालय पहुंचे थे। वक्ताओं के अनुसार विगत 6 वर्षों से संविदा कर्मियों के भविष्य की अनदेखी की जा रही है जोकि अब बदार्स्त नहीं की जाएगी। कमीशनखोरी के लालच में प्रबंधन पर आरोप लगाया गया कि वह ठेकेदारी प्रथा को विभाग में लागू करने पर तुली हुई है। नियमितिकरण की मांग को लेकर उत्तराखण्ड पावर कारपोरेशन लिमिटेड, उत्तराखण्ड जल विद्युत निगम व पावर ट्रांसमिशन कारपोरेशन ऑफ उत्तराखण्ड लिमिटेड के विद्युत संविदा कर्मियों की प्रदेश व्यापी हड़ताल आज तीसरे िदन भी जारी रही।
 
संविदा कर्मियों ने फिर एक स्वर में कहा कि उन्हें हर हाल में नियमितिकरण चाहिए। मांग को लेकर संविदा कर्मियों का आमरण अनशन जारी रहा। इस दौरान राजेश भट्ट, सुखदेव सिंह, प्रेम सिंह, राकेश पुरोहित, ललित अधिकारी, महिमन भट्ट, संतोष चन्द्र, मनोज पाण्डे, विक्रम रावत, बंशीधर सहित अन्य संविद कर्मचारी मौजूद थे।


पुलिस े हत्थे चढ़ा शराबी

देहरादून। ऋषिकेश पुलिस ने क्षेत्र में स्थित रेड चिली रेस्टोरेंट के बाहर खड़े सूरज निवासी नटराज चौक को अवैध शराब के साथ गिरफ्तार किया है। सिपाही आनन्द व गजेन्द्र गश्त के दौरान देर रात उधर से गुजर रहे थे। इस दौरान 23 वर्षीय सूरज को शक के आधार पर कब्जे में लिया गया। उससे दो पेटी देशी शराब बरामद होने का दावा पुलिस ने किया है।


फर्जीवाड़े े एक ओर मामलें ने पुलिस को किया परेशान

देहरादून। राजधानी में जमीनी मामलों में फर्जीवाड़े लगातार सामने आ रहे हैं। पीड़ितों ने हर दफा इंसाफ के लिए पुलिस का दरवाजा खटखटाया है। रायपुर क्षेत्र में भी ऐसा ही एक मामला कल शाम प्रकाश में आया है। पीड़ित व्यिक्त ने रायपुर थाने में आरोपी के खिलाफ इंसाफ की गुहार लगाते हुए रिपोर्ट दर्ज कराई है।
 
रायपुर पुलिस के अनुसार कंडोली गांव में रहने वाले विक्रम सिंह के साथ फर्जीवाड़ा होने की शिकायत मिली है। उन्होंने पुलिस को बताया कि कंडोली में ही उनका अपना एक जमीन का टूकड़ा है। पिछले िदनों उन्हें पता चला कि नेहरू कालोनी के डी ब्लॉक में रहने वाले स्वामी गंगादास चेला ने कूट रचना करते हुए दस्तावेज बनाए और उक्त जमीन को अपने नाम कर लिया। धोखाधड़ी व अन्य कुछ धाराओं में मुकदमा दर्ज कर पुलिस ने छानबीन शुरू कर दी है। एसआई कुशलपाल सिंह मामले की विवेचना कर रहे हैं। 


कांग्रेस की नई कार्यकारिणी में 108 शामिल

देहरादून। महानगर कांग्रेस कमेटी ने 108 लोगो की जम्बो कार्यकारिणी घोषित की। इस अवसर पर कार्यकर्ताओं को मिशन 2012 े लिए धरातल से कार्य करने का संकल्प दिलाया गया। नई कार्यकारिणी घोषित करते हुए महानगर अध्यक्ष हरीश विरमानी ने कहा कि कमेटी का उद्देश्य संगठन को ग्रामीण स्तर से मजबूत करने से है। जिसमें कार्यकर्ता जनहित े मुद्दो को लेकर कार्य करेंगे। उन्होने कहा कि प्रदेश सरकार जनता की भावनाओं से खिलवाड़ कर रही है।
 
राज्य े ग्रामीण क्षेत्रो पर निगाह दौड़ाए तो विकास े नाम पर दस प्रतिशत भी काम नही हुआ है। उन्होने सभी कार्यकर्ताओं को पार्टी को मजबूत बनाने, जनहित में कार्य करने और मिशन 2012 को सफल बनाने का संकल्प दिलाया। कमेटी की नई कार्यकारिणी में 108 लोगो को शामिल किया गया। जिसमें 26 उपाध्यक्ष, 49 को महासचिव और 33 को सचिव का कार्यभार सौंपा गया। बनाई गई कार्यकारिणी प्रत्येक नागरिक को प्रदेश सरकार की जनविरोधी नीतियों से रूबरू करने े लिए वाडर स्तर पर कार्यक्रमों का आयोजन करेंगे। संगठन मिशन 2012 में कर्मठ कार्यकर्ताओं की मदद से ऐतिहासिक जीत हासिल कर सत्ता में आएगा। इस अवसर पर दीप वोहरा, जुगल किशोर, सिंदर परवेज, पंकज भट्ट, बंशी लाल, राहुल वालिया आदि मौजूद थे। 

मुजफ्फरनगर से लापता परिचालक का शव मिला

हरिद्वार। मुजफ्फरनगर के लापता परिचालक का शव पुलिस ने पथरी में झाल से बरामद कर लिया। शव को पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंप दिया गया। 

रविवार को मुजफ्फरनगर के मोहल्ला लद्घावाला निवासी शेर सिंह पुत्र जुगवेन्द्र सिंह ट्रक के साथ सिडकुल में माल लेकर आया था। बताते हैं कि माल उतारने के बाद ट्रक चालक व परिचालक ने भेल के बैरियर नंबर छह के पास ट्रक खड़ा कर दिया। इस बीच शेर सिंह चालक को यह कहकर चला गया कि वह बहादराबाद में सामान लेने के लिए जा रहा है, लेकिन जब वह देर रात तक नहीं लौटा तो चालक ने उसकी इधर-उधर तलाश करने के बाद उसके घर वालों से शेर सिंह के बारे में पूछा। पता चला कि वह घर भी नहीं पहुंचा तो ट्रक चालक ने रानीपुर कोतवाली में शेर सिंह की गुमशुदगी दर्ज करा दी थी। बुधवार देर रात पुलिस को सूचना मिली कि एक युवक का शव पथरी पावर हाउस में अटका है। सूचना पर पुलिस ने मौके पर पहुंचकर लापता शेर सिंह का फोटो मिलाया तो उसकी पहचान शेर सिंह के रूप में होने पर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया था। थानाध्यक्ष दरबान सिंह पंवार ने बताया कि उसके परिजनों ने भी शव की पहचान कर ली। उन्होंने बताया कि उसकी मौत डूबने से हुई है। 



रीठासाहिब में 15 मई से शुरू होगा एतिहासिक जोड़ मेला

चम्पावत। एतिहासिक तीर्थ स्थल गुरूद्वारा श्री रीठासाहिब में होने वाले जोड़ मेले की तैयारियां युद्धस्तर पर शुरू हो गयी हैं। इस वर्ष मेले में देश विदेश के करीब एक लाख तीर्थ यात्रियों के भाग लेने की उम्मीद जताई जा रही है। मेला 15 मई से शुरू होगा। 
 
मेले की बुनियादी जरूरतों को लेकर गुरूद्वारा प्रबन्धक कमेटी केअध्यक्ष बाबा श्याम सिंह ने डीएम डा. पंकज पाण्डेय से मुलाकात कर उनसे विद्युत, पेयजल, स्वच्छता, चिकित्सा, सुरक्षा आदि जरूरतें पूरी करने की मांग की। उन्होंने मेले के दौरान लगने वाले विशाल लंगर हेतु रसोई गैस, चीनी आदि की अतिरिक्त व्यवस्था करने की गुजारिश भी की। डीएम ने जिला प्रशासन की ओर से मेले की व्यवस्थाओं में पूरा सहयोग दिये जाने का भरोसा दिलाया। बाद में बाबा श्याम सिंह पुलिस अधीक्षक से भी मिले। तथा उन्हें रीठा साहिब आने का न्यौता दिया। गुरूद्वारा प्रबंधक ने बताया किमेले में अकाल तख्त के जत्थेदार के आने की सहमति मिल चुकी है। इधर, तीन दिनी मेले को लेकर कार सेवकों द्वारा गुरूद्वारा परिसर की विशेष सफाई शुरू कर दी है। मेले को लेकर क्षेत्रवासियों में भी उत्साह बना हुआ है।


निर्वाचक नामावलियों का पुनर्निरीक्षण कार्य दो से

नई टिहरी। राज्य निर्वाचन आयोग की ओर से स्थानीय निकाय एवं उत्तराखंड के 12 जनपदों के त्रिस्तरीय पंचायतों (हरिद्वार को छोड़कर) निर्वाचक नामावलियों का पुनर्निरीक्षण का कार्य 2 मई से शुरू किया जाएगा। 
 
यह जानकारी देते हुए जिलाधिकारी एवं जिला निर्वाचन अधिकारी राधिका झा ने बताया कि आयोग ने निर्वाचक नामावलियों मतदाता सूचियों के पुनर्निरीक्षण के लिए निर्धारित कार्यत्र्कम के अंर्तगत निर्वाचन नामावलियों का प्रकाशन 2 मई, निरीक्षण 3 मई से 7 मई तक नामावलियों के संबंध में दावे एवं आपित्तयां 8 मई से 19 मई तथा प्राप्त किए जा सकेंगे। प्राप्त दावों एवं आपित्तयों पर सुनवाई 20 मई से 27 मई तथा निस्तारण 28 मई से 31 तक निर्वाचक नामावलियों की पूरक सूचियों का मुद्रण 1 जून से 10 जून तक किया जाएगा। निर्वाचक नामावलियों का अंतिम प्रकाशन 15 जून को किया जाएगा। जिलाधिकारी ने सभी स्थानीय निकाय के निर्वाचक नामावलियों के संबंध में जानकारी नगर पालिका, नगर पंचायत, तहसील कार्यालयों के सूचना पट्टों पर तथा पंचायतों की निर्वाचक नामावलियों का ग्राम पंचायत, क्षेत्र पंचायत, जिला पंचायत, तहसील कार्यालय, जिलाधिकारी कार्यालय के सूचना पट्टों पर जनसामान्य की जानकारी के लिए प्रदर्शित करने के निदेर्श संबंधित अधिकारियों को दिए हैं।
 
जिलाधिकारी ने त्रिस्तरीय पंचायतों की निर्वाचक नामावलियों के पुनर्निरीक्षण कार्य के लिए प्रत्येक विकासखंड के लिए दो-दो सहायक निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी एवं समन्वयक एवं नियंत्रक अधिकारी के रूप में 18 खंड विकास अधिकारी एवं सहायक विकास अधिकारियों को दायित्व सौंपा गया है। इसी तरह नगरपालिका परिषद के नगर पंचायत स्थानीय निर्वाचक नामावलियों के पुर्ननिरीक्षण कार्य अपर जिलाधिकारी जीएस रावत को जिला निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी का दायित्व दिया गया तथा टिहरी, चम्बा के लिए एसडीएम टिहरी को निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी, एसडीएम नरेंद्रनगर को तथा एसडीएम कीर्तिनगर को निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी तथा संबंधित तहसीलदार एवं नायब तहसीलदार को सहायक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी बनाया गया। 


सड़क दुर्घटना में चालक व हैल्पर गंभीर घायल

नई टिहरी। बस को बचाने के चक्कर में एक ट्रक सड़क से 60 मीटर नीचे गिर गया, जिसमें उसमें सवार चालक व हैल्पर घायल हो गए। 
कीर्तिनगर-बडियारगढ़ मोटर मार्ग के नैनीसैण में गुरुवार को को बस (यू07 5510) डेली सर्विस बडियारगढ की ओर जा रही थी। इसी दौरान विपरीत दिशा से आ रहा मिकि्सग प्लाट का ट्रक बस को बचाने के चक्कर में सड़क से नीचे गिर गया। इससे उसमें सवार चालक नीतिन ग्राम नैथाणा चौरास व हैल्पर अमनदीप निवासी पंजाब गंभीर रूप से घायल हो गए। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और घायलों को 108 सेवा से बेस चिकित्सालय श्रीकोट में भेजा गया।


अलकनंदा में बहे पर्यटक का शव मिला

देवप्रयाग। देवप्रयाग में अलकनंदा के किनारे एक रिसोर्ट से बहे पूर्व आइएएस के बेटे का शव पुलिस ने व्यासघाट में गंगा से बरामद कर लिया। पौड़ी में शव का पोस्टमार्टम करने के बाद परिजनों को सौंप दिया गया। 
 
बीते शनिवार को देवप्रयाग स्थित एक रिसोर्ट में दिल्ली से पहुंचा आठ सदस्यीय पर्यटकों का दल ठहरा था। इसमें 32 वर्षीय अविनाश नंदन शर्मा अपनी पत्नी अंजली व बेटी शिया के साथ था। शनिवार देर रात वह अचानक अलकनंदा नदी में बह गया। बाह बाजार पुलिस व रिसोर्ट कर्मचारियों ने उसकी काफी तलाश की, लेकिन उसका पता नहीं चला था। बाद में छह सदस्यीय गोताखोर दल ने उसकी तलाश शुरू की। गुरुवार को देवप्रयाग से 15 किमी आगे व्यासघाट में शव को उतराते हुए देखा गया। इस पर थाना बाह बाजार प्रभारी विजय सिंह, सुरेश रतूड़ी पुलिस टीम सहित वहां पहुंचे। बाद में युवक के परिजनों ने व्यासघाट पहुंचकर गंगा से निकाले गए शव की पहचान अविनाश नंदन शर्मा के रूप में की। मूल रूप से बरेली निवासी अविनाश नंदन शर्मा पूर्व आयुक्त एके शर्मा का बेटा बताया गया था। अविनाश नंदन शर्मा दिल्ली में व्यवसाय करता था और अपने परिजनों व मित्रों के साथ देवप्रयाग घूमने आया था। 


समस्याओं का निराकरण न होने से ग्रामीणों में रोष

रुद्रप्रयाग। ब्लॉक जखोली के अंतर्गत घणतगांव की लंबित विभिन्न समस्याओं का निराकरण न होने से ग्रामीणों में रोष व्याप्त है। आरोप लगाया कि कई बार जिला प्रशासन से गुहार लगाने के बाद भी घोर उपेक्षा की जा रही है। 
 
गत वर्ष बरसात के सीजन में ग्राम पंचायत घणत दैवीय आपदा की चपेट में आ गया था। गांव के नीचे भू-धंसाव होने से एक दर्जन से अधिक ग्रामीणों के आवासीय भवन व गोशालाएं को क्षति पहुंची थी। इसके साथ ही अन्य ग्रामीणों के भवनों में दरारें पड़ गई थी। ग्रामीण जिला प्रशासन से विस्थापन के साथ ही नष्ट हुई भूमि का मुआवजा देने की मांग कर रहा है, लेकिन अभी तक कोई कारर्वाई नहीं हुई। इसी को लेकर ग्रामीणों ने बैठक आयोजित कर प्रशासन पर घोर उपेक्षा का आरोप लगाया। बैठक में हर्षवर्धन, जयकृत सिंह, देवेन्द्र सिंह, गोविन्द लाल, मदन लाल व मासंतु लाल सहित कई ग्रामीण मौजूद थे।


कार्यत्र्कम पार्टी का, सेवा सरकारी अध्यापकों की

चम्पावत। कांग्रेस ने भाजयुमो की मैराथन दौड़ में सरकारी विद्यालयों के शिक्षकों की सेवा लेने पर कड़ी आपित्त जताते हुए इसे सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग करार दिया है। उनका कहना है कि जब कार्यत्र्कम पार्टी का था तो निजी विद्यालयों व प्रशिक्षित बेरोजगारों की सेवा ली जानी चाहिए थी। 
 
जिला उपाध्यक्ष उत्तम देऊ की अध्यक्षता और प्रवक्ता दीपक लारा के संचालन में हुई बैठक में कांग्रेसियों का कहना था कि भाजयुमो की भ्रष्टाचार के खिलाफ मैराथन दौड़ कर मात्र नौटंकी कर रही है, जबकि अपने कार्यत्र्कम में सरकारी अध्यापकों की सेवा लेकर खुद सत्ता का दुरुपयोग करने से पीछे नहीं है। इस दौड़ में सेवारत शिक्षकों की बजाय निजी विद्यालयों में कार्यरत व बीपीएड प्रशिक्षित बेरोजगारों का सहयोग लिया जाना चाहिए था। भाजयुमो भ्रष्टाचार पर केंद्र सरकार को जिम्मेदार ठहरा तो रही है, लेकिन वह पहले सूबे की निशंक सरकार के गिरेबां में झांके। कुंभ मेला, ऋ षिकेशस्टर्डिया जमीन घोटाले जैसे मामलों पर पर्दा डाला जा रहा है। लोकपाल विधेयक लागू करने के लिए केंद्र की यूपीए सरकार ने समिति का गठन कर रखा है। भ्रष्टाचार के दोषियों को सलाखों के पीछे भेजा जा रहा है। जबकि भाजपा शासित प्रदेशों में भ्रष्टाचारियों को बचाने की कवायद हो रही है।
 
बैठक में महामंत्री रवींद्र तड़ागी, कोषाध्यक्ष उमेश खकर्वाल, सांसद प्रतिनिधि डा. महेश ढेक, अमन तड़ागी, अशोक जोशी, मोहन जोशी, दिनेश तड़ागी, नरेश जोशी, प्रदीप साह, सुरेश खकर्वाल, कै. बिंदुसिंह मौनी, मनोज जोशी, तारादत्त जोशी, गणेश महराना, राकेश बिष्ट, नंदन तड़ागी, भुवन नाथ, प्रयाग राय, हरीश चौधरी, विकास साह, सुंदर तड़ागी, मोहन खोलिया आदि मौजूद थे। 


कनिष्ठ अभियंताओं की मुराद पूरी हुई

देहरादून। ग्रामीण अभियंत्रण सेवा विभाग के कनिष्ठ अभियंताओं की मुराद पूरी हो गई। विभाग के 152 जेई को अपर सहायक अभियंता बनाया गया है। उम्मीद है कि शुत्र्कवार को सिंचाई विभाग के पदोन्नत कनिष्ठ अभियंताओं की भी घोषणा कर दी जाएगी। डिर्पामेंटल प्रमोशन कमेटी (डीपीसी) में शामिल आरईएस के मुख्य अभियंता बीएस कैड़ा, अधीक्षण अभियंता, देहरादून वीइडी पांडे व एक अधिशासी अभियंता ने कनिष्ठ अभियंताओं की पदोन्नति की। अपर सहायक अभियंता का पद राजपत्रित अधिकारी की श्रेणी में आता है। पदोन्नत कर्मियों का वेतनमान 9300-34800 व ग्रेड पे 4800 होगा। डिप्लोमा इंजीनियर्स संघ के प्रांतीय अध्यक्ष नवीन कांडपाल ने इसे संगठन के आंदोलन की जीत बताया। उधर, सिंचाई विभाग के लगभग 225 कनिष्ठ अभियंताओं की डीपीसी भी हो चुकी है। शुत्र्कवार को इनके नामों की घोषणा संभव है।


वैष्णो धाम आश्रम का विवाद पहुंचा हाईकोर्ट

हरिद्वार। वैष्णो धाम आश्रम की संपित्त का विवाद गहरा गया है। स्थानीय पुलिस की ओर से कोई कारर्वाई न किए जाने पर निवर्तमान महंत की बेटी ने मामले को लेकर हाईकोर्ट में याचिका दायर की। इस मामले में कोर्ट ने पुलिस से चार मई तक पूरी रिपोर्ट मांगी है। पूर्व महंत की बेटी मीनाक्षी ने एक होटल में पत्रकारों से बातचीत में यह जानकारी दी।
 
मीनाक्षी ने बताया कि उसके पिता महंत अवध बिहारी के नाम से प्लाट नंबर-6 में वैष्णोधाम आश्रम है। 25 फरवरी को बांबे में महंत अवध बिहारी की हार्टअटैक होने से मौत हो गई थी। पीड़ित का कहना है कि आश्रम में पिता के साथ माता मुकेश वर्मा भी रहती थी। आरोप है कि पिता के देहांत के बाद दर्शन सिंह निवासी मार्ग दर्शक मंडल देवपुरा आश्रम, रामाधाचार्य निवासी भूपतवाला, रामेश्वर निवासी रामेश्वर धाम आश्रम संन्यासी रोड, मोहनदास चेला भरत दास निवासी रामहनुमान मंदिर इंदौर ने आश्रम को कब्जाने के लिए उसकी मां को बंधक बना लिया है। उसकी मां को किसी से मिलने नहीं दिया जा रहा है। आरोप लगाया कि दर्शन सिंह ने मोहनदास को गलत तरीके से गद्दी का महंत बना दिया है। आरोप है कि इसकी शिकायत नगर कोतवाली एवं पुलिस अधिकारियों को की गई, लेकिन कोई कारर्वाई नहीं हुई।
 
इस मामले में उसने हाईकोर्ट में रिट दायर की थी, जिसमें नगर कोतवाली पुलिस से कारर्वाई की रिपोर्ट प्रस्तुत करने के आदेश जारी किये हैं। पीड़ित ने मां को मुक्त कराने एवं आश्रम को कब्जाने की कोशिश कर रहे चार लोगों के खिलाफ कारर्वाई किये जाने की भी मांग की है। 


बन्नाखेड़ा ने जीता उद्घाटन मैच

बाजपुर। विचपुरी के शहीद भगत सिंह स्टेडियम में आयोजित नाईसर त्रि्ककेट चैंपियनशिप का शुभारंभ भाजपा प्रदेश मंत्री रविंद्र बजाज ने रिबन काटकर किया। उद्घाटन मैच युवक मंगल दल बन्नाखेड़ा व नूरपुर त्रि्ककेट क्लब के बीच हुआ। टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए बन्नाखेड़ा की टीम ने 16 ओवरों में 195 रन बनाये। रमेश रतूड़ी ने सर्वाधिक 47, झिरमिल ने 30, महावीर ने 25 व सोनू ने 21 रनों का योगदान दिया। जवाब में नूरपुर की पूरी टीम 102 रनों पर ऑल आउट हो गयी। 30 रन व चार विकेट लेकर झिरमिल सिंह मैन ऑफ द मैच रहे। इससे पूर्व उद्घाटन मैच का शुभारंभ करते हुए बजाज ने कहा कि प्रदेश सरकार खेलों व खिलाड़ियों के प्रोत्साहन व विकास के लिए कार्य कर रही है।
 
इस मौके पर प्रवीन कंबोज, सचिन, उदयपाल सिंह, चरनजीत शर्मा, रंजीत सिंह, सतपाल सिंह बाजवा, किशन सिंह आदि मौजूद थे। स्वर्गीय नराताराम गर्ग मेमोरियल त्रि्ककेट टूर्नामेंट का आयोजन एक मई से बेरिया दौलत में होगा। टूर्नामेंट आयोजक ओमप्रकाश गर्ग व अध्यक्ष राजेंद्र सिंह संधू ने बताया कि विजेता टीम को 11 हजार व उप विजेता को 5100 रुपये व ट्रॉफी प्रदान की जायेगी। श्रेष्ठ खिलाड़ियों को भी पुरस्कृत किया जायेगा। 


पत्राचार बीएड बेरोजगारों का आमरण अनशन शुरू

रुड़की। विशिष्ट बीटीसी के अंतर्गत नियुक्ति की मांग को लेकर 18 अप्रैल से जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान (डायट) पर चल रहा पत्राचार बीएड बेरोजगार संघ का धरना अब आमरण-अनशन में तब्दील हो गया है।
 
चंद्रशेखर चौक पर दो बेरोजगार आमरण अनशन पर बैठे। साथ ही ऐलान किया कि इसके बाद आत्मदाह किया जाएगा। गुरुवार को पत्राचार बीएड बेरोजगार संघ की अध्यक्ष इन्दू रानी के नेतृत्व में पत्राचार बीएड बेरोजगार सिविल लाइंस स्थित चंद्रशेखर आजाद चौक पर पहुंचे। यहां पर उन्होंने सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। इसके बाद संघ की अध्यक्ष इन्दू रानी व कांग्रेस श्रम प्रकोष्ठ के प्रदेश सचिव देवेन्द्र शर्मा आमरण-अनशन पर बैठ गए। इस दौरान पदाधिकारियों ने कहा कि प्रदेश की भाजपा सरकार अफसरों के हाथ की कठपुतली बनकर रह गई है।
 
सरकार की नाइंसाफी से ही उनको सड़कों पर उतरना पड़ा है। उनकी मांगों को जल्द नहीं माना तो वह उग्र आंदोलन करेंगे। इस मौके पर योगेन्द्र पाल सिंह, सिद्ध गोपाल सैनी, मनोज शर्मा, मुकेश शास्त्री, अमिता, सीमा वर्मा, प्रवीण राणा, ऋषिपाल, जितेश शास्त्री, पवन रेखा, शिखा शर्मा, सुशीला सैनी, विनय भाटिया आदि ने विचार व्यक्त किए।


बच्चों को बांटी पाठय सामग्री

ऋ षिकेश। इनरव्हील क्लब द्वारा आयोजित कार्यत्र्कम के दौरान स्कूली बच्चों को पाठ्य सामग्री वितरित की गई। वीरभद्र स्थित सरस्वती विद्या निकेतन स्कूल में आयोजित कार्यत्र्कम के दौरान मुख्य अतिथि अनीता वशिष्ठ ने बच्चों को पाठ्य सामग्री वितरित की। उन्होंने क्लब के प्रयासों को सराहनीय बताते हुए कहा कि जरूरतमंदों की मदद करने से ही समाज विकसित हो सकता है। इनरव्हील क्लब ने स्कूल के 50 गरीब बच्चों को कापी, पेन व पेंसिल सहित अन्य जरूरी वस्तुएं प्रदान कीं। इस अवसर पर क्लब अध्यक्ष सीमा जेटली, प्रधानाचार्य श्रीमती विमला रावत, गीता पांडे, सलोनी, कुलविंदर व गोविंद राम आदि उपिस्थत थे। 


सौंग नदी पर खनन को मिली मंजूरी

देहरादून। नेशनल वाइल्ड लाइफ बोर्ड की स्टैंडिंग कमेटी की बैठक में दून की सौंग-एक व दो में खनन पर स्वीकृति की मुहर लगा दी है। अब इसका कार्यवृत्त मिलते ही राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से स्वीकृति ली जाएगी। उम्मीद जताई जा रही है कि इन दोनों नदियों में करीब पांच सौ हेक्टेयर क्षेत्र में एक सप्ताह के भीतर खनन कार्य शुरू हो जाएगा। इस सिलसिले में उत्तराखंड वन विकास निगम ने तैयारियां भी शुरू कर दी हैं। 
 
वन एवं पर्यावरण मंत्रालय ने पिछले दिनों दूनघाटी में सौंग एक व दो में रेत-बजरी खनन को सशर्त हरी झंडी दी थी। इस सिलसिले में जरूरी औपचारिकताएं पूरी करने के बाद राज्य सरकार ने इसे नेशनल वाइल्ड लाइफ बोर्ड की स्टैंडिंग कमेटी को भेजा। 25 अपै्रल को हुई बोर्ड की बैठक में सौंग एक व सौंग दो में खनन की स्वीकृति दे दी गई। इस बीच राज्य सरकार ने दूनघाटी में नदियों में खनन पर लगे स्टे को भी हाईकोर्ट से वैकेट कराने में सफलता हासिल कर ली। अब सिर्फ राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से स्वीकृति लेनी बाकी है। 
 
उत्तराखंड वन विकास निगम के प्रभागीय प्रबंधक (खनन) एसके चतुवेर्दी के मुताबिक केंद्र से सौंग-एक में 225 हेक्टेयर और सौंग-दो में 273 हेक्टेयर क्षेत्र में खनन की इजाजत मिली है। उन्होंने बताया कि नेशनल वाइल्ड लाइफ बोर्ड की बैठक की मिनट्स आते ही राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से स्वीकृति ली जाएगी। उम्मीद है कि एक हफ्ते के भीतर दोनों नदियों में निगम खनन कार्य शुरू करा देगा। इस संबंध में निगम ने तैयारियां भी शुरू कर दी हैं। कर्मचारियों की तैनाती हो चुकी है। अब सिर्फ इलेक्ट्रॉनिक तौल कांटे लगने हैं, जिसके ऑर्डर दिए जा चुके हैं और ये भी एक-दो दिन में लग जाएंगे। सौंग एक व दो में खनन शुरू होने का लाभ इस सीजन में दो माह ही मिल पाएगा। हालांकि, केंद्र से इनमें खनन को दस साल की अनुमति मिली है, लेकिन इस सीजन में 30 जून तक ही लोगों को रियायती दर पर रेत-बजरी मिल सकेगी।


मानदेय भुगतान को बीएसएनएल कर्मचारी मुखर

हरिद्वार। मानदेय भुगतान की मांग को लेकर बीएसएनएल कैजुअल एंड कांट्रेक्टर वकर्र्स यूनियन की अनिश्चितकालीन हड़ताल दूसरे दिन भी जारी रही। हड़ताली कर्मचारी शुत्र्कवार को केंद्रीय कृषि एवं खाद्य प्रसंस्करण राज्यमंत्री से वार्ता करेंगे। 
 
गुरुवार को यूनियन के सचिव वीरेंद्र यादव के नेतृत्व में निगम प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की गई। यूनियन के सदस्यों का कहना है कि पिछले माह से मानदेय का भुगतान नहीं हो रहा है। यूनियन सचिव वीरेंद्र यादव ने कहा कि मानदेय भुगतान की मांग को लेकर कई बार निगम प्रशासन से वार्ता हुई और मानदेय भुगतान का भरोसा भी दिया गया, लेकिन आज पूरे माह बीत जाने के बाद मानदेय का भुगतान नहीं किया जा रहा है। इससे कर्मचारी स्वयं को ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं। हड़ताली कर्मचारियों ने फिर दोहराया कि मांग पूरी होने के बाद ही हड़ताल खत्म की जाएगी।
 
यूनियन के सचिव वीरेंद्र यादव ने बताया कि मानदेय भुगतान की मांग को लेकर शुत्र्कवार को जीएमवीएन के कार्यालय में केंद्रीय कृषि एवं खाद्य प्रसंस्करण राज्यमंत्री से वार्ता की जाएगी। इस मौके पर एससी काला, इसम सिंह, सतेंद्र सिंह, राजेश खंडूड़ी, सचिन शर्मा, रामनरेश, हर्षलाल, सूरजमल आदि मौजूद थे।


सप्ताहभर पूर्व फार्म हाउस से युवक गायब

बाजपुर। सप्ताहभर पूर्व एक फार्म हाउस पर कार्यरत कर्मचारी अचानक कहीं गायब हो गया। उसके परिजनों ने फार्म स्वामी पर उसे गायब करने का आरोप लगाते हुए तहरीर दी। वहीं फार्म स्वामी ने भी गायब युवक द्वारा उससे पांच हजार रुपए व साइकिल ले जाने व इस बाबत परिजनों से पूछने पर झूठे केस में फंसाने की धमकी देने का आरोप लगा तहरीर दी।
 
ग्राम रानी नागल निवासी प्रेमपाल पुत्र जौहरीराम जाटव ने कोतवाली में तहरीर देकर कहा कि उसका भाई नरेश सीता कालोनी गुलड़िया के जगतार पुत्र मस्सा सिंह के फार्म हाउस पर मजदूरी का कार्य करता था। वह 22 अप्रैल से फार्म से लापता है। इसके बारे में जब फार्म हाउस स्वामी से मालूमात की गई तो उसने दो-चार दिन में आने की बात कही। कई दिन बीतने के बाद भी जब भाई नहीं लौटा तो वह दोबारा से फार्म स्वामी से जानकारी लेने पहुंचा। आरोप है कि फार्म स्वामी ने गाली-गलौज करते हुए जातिसूचक शब्दों से उसे अपमानित किया। तहरीर में फार्म स्वामी पर भाई को गायब करने की आशंका जताते हुए न्याय की गुहार लगाई। वहीं दूसरे पक्ष के जगतार सिंह पुत्र मस्सा सिंह ने विगत दिवस कोतवाली में तहरीर देकर कहा कि नरेश पुत्र जौहरी ने कार्य करने से पूर्व 20 अप्रैल को पांच हजार रुपये व साइकिल बतौर एडवांस लिये और 24 अप्रैल से बिना बताए फार्म से चला गया।
 
आरोप है कि जब इसकी जानकारी उसके घर वालों से लेनी चाही तो वे पहले तो आनाकानी करने लगे और फिर नरेश से उनका कोई संबंध न होने की बात कहते हुए किसी झूठे केस में फंसाने की धमकी दी। रात तक किसी भी पक्ष की ओर से मुकदमा दर्ज नहीं हुआ था। पुलिस दोनों पक्षों की तहरीरों पर जांच में जुटी है।


आग से पांच झोपड़ियां राख

गदरपुर। ग्राम केशवगढ़ में आग से चार झोपड़िया जलकर राख हो गई। इससे झोपड़ियों में रखी 70 हजार की नगदी, चांदी के जेवरात सहित लाखों रुपये का सामान भी राख हो गया। आग से पांच बकरियां सहित दो बच्चे भी झुलस कर मर गये। आग लगने का कारण शार्ट सकिर्ट बताया गया है।
 
गुरुवार दोपहर ग्राम केशवगढ़ में एक झोपड़ी में बिजली की स्पाकिर्ग हुई और और आग ने विकराल रूप धारण कर लिया। गांव के लोग आग बुझाने लगे। फायर बिग्रेड के पहुंचने तक चार झोपड़ियां जलकर राख हो गई। आग से अंगद पुत्र कन्हैया, दिनेश पुत्र नारायण, उर्मिला पत्नी संजय, प्रमिला पत्नी दिनेश की झोपड़ियों में रखी करीब 70 हजार की नगदी, एक किलो चांदी, 10 कुंतल गेहूं, तीन कुंतल धान, एक कुंतल लाही सहित लाखों रुपये का सामान जलकर राख हो गया। आग से झोपड़ियों में बंधी पांच बकरियां व उनके दो बच्चे भी झुलस कर मर गये। झोपड़िया जलने से इन परिवारों के पास तन के ही कपड़े बच पाये। खाने के लिए राशन भी नहीं बचा है। सूचना पाकर पहुंचे तहसीलदार सुंदर सिंह तोमर व समाजसेवी जरनैल सिंह काली ने नुकसान का जायजा लिया। उन्होंने बताया कि मवेशी सहित करीब तीन लाख का नुकसान हुआ है।
 
ग्राम प्रधान धर्मवीर सिंह, सुरेन्द्र सिंह, पूरनलाल कश्यप, भजन लाल, अशोक कुमार, सोनू, बलजिंदर सिंह ने तहसीलदार से शीघ्र मुआवजा दिये जाने की मांग की। इधर दलपुरा ढाई नंबर में भी झोपड़ी में आग लगने से बृजकिशोर पुत्र नथनी का घरेलू सामान सहित करीब नौ हजार रुपये का नुकसान हुआ। मौके पर पहुंचे नायब तहसीलदार प्रहलाद राम ने नुकसान का जायजा लिया।


हिजामं बीमार गायों का कराएगा उपचार

नैनीताल। हिन्दू जागरण मंच के कार्यकर्ताओं की बैठक में गौ रक्षा का संकल्प लेते हुए आवारा व बीमार गायों के उपचार का भी निर्णय लिया गया। मंच के नगर अध्यक्ष गिरीश सनवाल ने कहा गौशाला निर्माण को शीघ्र ही मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजा जाएगा। जल्द ही सूखाताल, आलूखेत, हनुमानगढ़ी आदि क्षेत्रों का दौरा कर बीमार गायों का उपचार किया जाएगा।
 
इस अवसर पर दिलीप सिंह, कुंदन रौतेला, सुमित जोशी, नरेश कुमार, नितिन सिंह, हिमांशु, विवेक जोशी, प्रमोद, नवीन, मोहन, पारस, अजय, पंकज शर्मा, रवि कुमार, अभिषेक पांडे, विजय, अंकित आदि मौजूद थे।


खटीमा में खुलेगी एडीजे कोर्ट

खटीमा। उत्तराखंड हाईकोर्ट के न्यायाधीश (प्रशासन) न्यायमूर्ति बीएम वर्मा ने खटीमा में एडीजे कोर्ट खोलने को हरी झंडी दिखा दी है। उन्होंने शनिवार को फैमली कोर्ट का कैंप लगाने का भी आश्वासन अधिवक्ताओं को दिया। अधिवक्ताओं को चैंबर आवंटन के लिए उन्होंने प्रस्ताव बनाकर देने को कहा, जिससे वह सभी समस्याओं का समाधान करा सकें।
 
न्यायमूर्ति वर्मा गुरुवार को जिला जज जयदेव सिंह व रजिस्ट्रार निबंधक प्रशांत जोशी के साथ खटीमा के लोनिवि विश्राम गृह पहुंचे। उन्होंने मुंसिफ कोर्ट पहुंचकर न्यायिक कार्यो का निरीक्षण किया और कोर्ट भवन व परिसर का मुआयना किया। बाद में अधिवक्ताओं ने बार कक्ष में न्यायमूर्ति का स्वागत किया। वहां न्यायमूर्ति वर्मा ने दीप प्रज्ज्वलित किया। बार अध्यक्ष विनोद सक्सेना, वरिष्ठ अधिवक्ता केडी भट्ट, मो. रजा, होशियार सिंह बोरा, हरजिंदर कलसी आदि ने न्यायमूर्ति को समस्याएं गिनाई। उन्होंने एडीजी कोर्ट बनवाने पर जोर दिया। गरीब लोगों को खटीमा में ही न्याय दिलाने के लिए उन्होंने फैमली कोर्ट कैंप लगाने की मांग की। अधिवक्ताओं ने चैंबर की बेहद आवश्यकता बताई। इस पर न्यायमूर्ति वर्मा ने कोर्ट भवन के सेकेंड फ्लोर पर एडीजे कोर्ट बनवाने, चैंबर के लिए प्रस्ताव भेजने व फैमली कोर्ट कैंप लगवाने का आश्वासन दिया। उन्होंने कहा कि समस्याओं को शीघ्र दूर करने के लिए वह चीफ जस्टिस से वार्ता करेंगे। साथ ही खटीमा में सीनियर डिवीजन कोर्ट को भी खुलवाएंगे।
 
जिला जज जयदेव सिंह ने अधिवक्ताओं से न्याय का साथ देने को कहा। उन्होंने सुदूरवर्ती क्षेत्रों में लगाए जा रहे विधिक शिविरों में सहयोग कर लोगों को जागरूक करने का आह्वान किया। इस मौके पर न्यायिक मजिस्ट्रेट अरुण बोहरा, उप जिलाधिकारी बीएस चलाल, सीओ डीसीएस रावत, कोतवाल केएन आर्या, शासकीय अधिवक्ता मनोज तिवारी, बीसी तिवारी, सूरज राना, हरीश अधिकारी, बीएस धामी, अशोक वर्मा, नरेश चौहान, प्रकाश ढेला, मो. जफर, हरीश बिष्ट, इकबाल अहमद, अकील अहमद, रामवचन, हरीश वर्मा, आरके मित्तल आदि मौजूद थे। संचालन बार सचिव यशंवत बोरा ने किया। 


विद्युत कटौती से जिलेभर में उबाल

काशीपुर। नगर में बिना शेड्यूल बिजली कटौती के विरोध में व्यापारी भड़क उठे। व्यापारियों ने विद्युत विभाग के ईई का घेराव कर रोस्टिंग शेड्यूल घोषित करने की मांग की।
 
गुरुवार को प्रांतीय उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल के नगराध्यक्ष दीपक वर्मा के नेतृत्व में व्यापारियों ने विद्युत विभाग ईई शिशिर श्रीवास्तव का घेराव किया। व्यापारियों ने आरोप लगाया कि विभाग द्वारा क्षेत्र की उपेक्षा कर बिना शेड्यूल के विद्युत कटौती की जा रही है। ईई श्रीवास्तव ने बताया कि प्रदेश में प्रतिदिन 29 मिलियन विद्युत की जरूरत है, जबकि उत्पादन 11-12 मिलियन यूनिट हो रहा है। कुछ कोटे से मिल जाती है। पांच मिलियन यूनिट खरीदनी पड़ती है। कीमत अधिक होने से दो यूनिट खरीद कर पाते है। शेष रोस्टिंग करनी पड़ती है। रोस्टिंग शेड्यूल घोषित करने के लिए उच्चाधिकारियों को अवगत करा दिया गया है। नियामक आयोग से संस्तुति मिलने पर शीघ्र शेड्यूल घोषित किया जाएगा। व्यापारियों ने शीघ्र रोस्टिंग शेड्यूल घोषित न होने पर आंदोलन की चेतावनी दी। इस मौके पर व्यापार मंडल उपाध्यक्ष मधुप अग्रवाल, महामंत्री अनिल चौहान, पवन यादव, विजय खन्ना, प्रवीन अरोरा आदि मौजूद थे।


वरिष्ठ अधिकारियों के न आने पर नाराजगी

सितारगंज। क्षेत्र पंचायत समिति की बैठक में वरिष्ठ प्रशासनिक व विभागीय अधिकारियों के न आने पर प्रधान व बीडीसी सदस्यों ने खासा रोष जताया। इस दौरान बाढ़ सुरक्षा के कार्यो में गुणवत्ता के अभाव के साथ बिजली व पानी की समस्यायें जोर-शोर से उठीं।
 
विकासखड सभागार में ब्लाक प्रमुख संगीता कौर की अध्यक्षता में हुई बैठक में प्रधानों व क्षेत्र पंचायत सदस्यों का कहना था कि वरिष्ठ प्रशासनिक व विभागीय अधिकारियों के न आने से समस्याओं का समाधान नहीं हो पाता। यही कारण है कि प्रधान व बीडीसी मेंबरों ने भी बैठकों में आना कम कर दिया है। अधिकारियों के बैठक में न आने पर खासा रोष जताया। इस दौरान कई जगह बाढ़ सुरक्षा के कार्य न किये जाने व जहां चल भी रहे हैं वहां गुणवत्ता के अभाव का आरोप लगाया गया। ज्येष्ठ उप प्रमुख गोमती राणा ने कहा कि ग्राम टुकड़ी में नदी पर बनाई गई ठोकरें टेढ़ी हो गई हैं।
 
वक्ताओं ने गांवों में घंटों बिजली गुल रहने, हैंडपंप खराब पड़े होने, कोटे की दुकानों से राशन न मिलने जैसी तमाम जनसमस्यायें उठाते हुये निदान पर जोर दिया। बैठक में इंदिरा आवास, मनरेगा, लोनिवि, समाज कल्याण, बाल विकास, पशु चिकित्सा, वन विभाग, नलकूप, जल निगम, चीनी मिल, कृषि आदि विभागों से संबंधित समस्यायें भी उठीं। जिला विकास अधिकारी आरसी आर्य ने समस्याओं के समाधान का आश्वासन दिया। संचालन खंड विकास अधिकारी कओर विश्वकर्मा ने किया। इस मौके पर खटीमा विधायक गोपाल सिंह राणा, उप जिलाधिकारी कैलाश चंद्र टोलिया, जिला पशु चिकित्सा अधिकारी केके जोशी, प्रभारी चिकित्साधिकारी हर्ष सिंह ऐरी, प्रधान कृष्णचंद्र कांबोज, महेन्द्र सिंह, मधुसूदन सरकार, संजीव, मनीषा जोशी, सपना, भागीरथी, सुनीता, कैलाश कौर, कृपाल सिंह आदि मौजूद थे। 


गोली से घायलों का सफल आपरेशन

हरिद्वार। बदमाशों की गोली से घायल सीतापुर गांव के प्रधानपति और प्रधान की देवरानी का जौली ग्रांट अस्पताल में सफल आपरेशन किया गया। आपरेशन में शरीर से निकाली गई गोली की पुलिस जांच करा रही है। इधर, पुलिस ने हमले में प्रयुक्त बाइक मालिक का पता लगा लिया है।
 
पिछले दिनों ज्वालापुर क्षेत्र की सुभाषनगर कालोनी में प्रधानपति व देवरानी को घर के बाहर तीन बदमाश दिनदहाड़े गोली मारकर फरार हो गये थे। दोनों का इलाज जौली ग्रांट अस्पताल डोईवाला में चल रहा था। डॉक्टरों ने दोनों को लगी गोली निकाल ली। इधर, पुलिस अभी तक उन बदमाशों का कोई सुराग नहीं लगा सकी है। पुलिस की एक टीम बदमाशों का पता लगाने के लिए हरियाणा में ही डेरा डाले हुए है। बदमाशों द्वारा छोड़ी गई बाइक का पुलिस पता लगा चुकी है, लेकिन अभी जिस मालिक की गाड़ी है वह भी पकड़े जाने के डर से फरार है। 


हमलावर को एक वर्ष की कैद

हरिद्वार। ज्वालापुर कोतवाली क्षेत्र में महिला से मारपीट करने वाले अभियुक्त को न्यायालय ने एक वर्ष की कैद व एक हजार रुपए जुर्माने की सजा सुनाई है।
 
अभियोजन अधिकारी एसएस तोमर ने बताया कि दस सितंबर 2001 को आरोपी संजय पुत्र तेलू निवासी भारापुर भोहरी ज्वालापुर ने जय सिंह की पत्नी रानी को लाठी से मारकर उसे गंभीर रुप से घायल कर दिया था। घटना की रिपोर्ट पुलिस ने न्यायालय के आदेश पर दर्ज की। रिपोर्टकर्ता जय सिंह ने संजय पर गाली गलौज करने का भी आरोप लगाया था। मुकदमे में वादी पक्ष की ओर से चार गवाहों के मौखिक बयान कराए गए। दोनों पक्षों को सुनने के बाद मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट संजीव कुमार ने संजय को उक्त मामले में दोषी पाते हुए एक वर्ष की कैद व एक हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई।


बुजुर्गो को स्नान भी कराएगी मित्र पुलिस

हरिद्वार। मित्र पुलिस अब हरकी पैड़ी में स्नान करने की ख्वाहिश रखने वाले बुजुर्ग या बीमार व्यक्तियों की भी मदद करेगी। इसके लिए हरकी पैड़ी के निकट सीनियर सिटिजन हेल्पलाइन डेस्क खोली गई है। यह डेस्क मेले के अलावा भीड़भाड़ में बिछड़े लोगों को अपनों से भी मिलवाएगी। एसएसपी केएल खुराना ने गुरुवार को डेस्क की शुरुआत की। इसमें चार कांस्टेबल चौबीस घंटे तैनात रहेंगे एसएसपी केवल खुराना ने बताया कि जो वृद्ध भीड़भाड़ में अपनों से बिछड़ जाते हैं, उन्हें मिलवाने का काम यह हेल्पलाइन डेस्क करेगी। जो मजबूर लोग होंगे, उन्हें यह डेस्क स्नान करवाने में भी मदद करेगी।
 
एसएसपी ने बताया कि यह डेस्क 24 घंटे खुली रहेगी। इस डेस्क में मुख्य रूप से एक उपनिरीक्षक, दो कांस्टेबिल, दो महिला कांस्टेबल तैनात रहेंगी। इस मौके पर एसपी सिटी डा. किरण लाल शाह, सीओ पंकज भट्ट, कोतवाल प्रीतपाल रौतेला मौजूद रहे। गौरतलब है कि पहले यह हेल्पलाइन सीनियर सिटिजन डेस्क केवल मेलों के दौरान ही खोली जाती थी, परंतु अब यह डेस्क बराबर लगी नजर आयेगी। इस बीच कोई वृद्ध अपनों से बिछड़ता है तो वह सीनियर सिटिजन डेस्क में पहुंच कर उनके बारे में जानकारी दे सकता है, ताकि शीघ्र लापता व्यक्ति अपनों से मिल सके। 


एसएस ने किया रेलवे कॉलोनी का निरीक्षण

हरिद्वार। स्टेशन अधीक्षक समरेंद्र गोस्वामी ने रेल कर्मियों के आवासों का निरीक्षण किया। कर्मियों ने उन्हें विभिन्न समस्याओं के बारे में जानकारी दी। रेलवे कॉलोनी में बने आवास जर्जर हो चुके हैं। पिछले साल आई बरसात ने आवासों को और नुकसान पहुंचाया है। थोड़ी सी बारिश में ही घरों में पानी भर जाता है। जिससे कर्मचारी बेहद परेशान रहते हैं। रेल कर्मी लंबे समय से जर्जर आवासों के मरम्मतीकरण की मांग करते आ रहे हैं। स्टेशन अधीक्षक समरेंद्र गोस्वामी को रेलवे कर्मियों ने पेयजल व अन्य समस्याओं के बारे में भी अवगत कराया।


मच्छरों से दुखी सभासद ने सौंपा ज्ञापन

हल्द्वानी। मच्छरों का प्रकोप बढ़ता जा रहा है। वनभूलपुरा में सफाई व्यवस्था खराब होने के चलते यहां स्थिति और ज्यादा खराब है। इस समस्या को लेकर पालिका सभासद शकील अहमद सलमानी ने अधिशासी अधिकारी को ज्ञापन देकर समस्या से निजात की मांग की है।
 
ज्ञापन में कहा कि वार्ड नंबर 25 में सर्वाधिक मच्छरों का प्रकोप है। इस वार्ड में कीटनाशक दवाइयों का छिड़काव भी नहीं हो रहा है। इससे संत्र्कामक रोगों के फैलने की आशंका से इंकार नहीं किया जा सकता है। इसके अलावा कबि्रस्तान परिसर में अत्यधिक समय से स्ट्रीट लाइटें बंद पड़ी है। अंधेरे का फायदा उठाते हुए अवांछनीय तत्व सित्र्कय हो रहे है। श्री सलमानी ने चेताया कि अगर इन समस्याओं को नजरअंदाज किया गया तो आंदोलनात्मक कदम उठाना पड़ेगा। ज्ञापन देने वालों में वकील अहमद, सलीम अहमद, लईक अहमद, साहिल सलमानी, सिमरन, इकरा, माया देवी, महरुन्निशा शामिल थे। इधर, नगर स्वास्थ्य अधिकारी डा.वीके सक्सेना का कहना है कि फांगिग कराने वाली मशीन ठीक होने गई है। जल्द आ जाएगी, उसके बाद फांगिग शुरू करा दी जाएगी।


दिल्ली से भागा बालक बहादराबाद में मिला

हरिद्वार। परिजनों की डांट से क्षुब्ध होकर बारह वर्षीय बालक घर से भाग आया। बहादराबाद क्षेत्र से पुलिस ने बालक को घूमते हुए पकड़ा। पुलिस ने परिजनों को सूचना दे दी है।
 
गुरुवार को बहादराबाद पुलिस को सूचना मिली कि एक बारह वर्षीय बालक रो रहा है। सूचना पाकर पहुंची बहादराबाद पुलिस ने बालक से मिलकर जानकारी ली। उसने अपना नाम राहुल पुत्र धरमियानी, दिल्ली बताया। बालक ने पुलिस को बताया कि दो दिन पूर्व उसके पिता ने उसे डांट दिया था। इसके चलते वह भागकर हरिद्वार आ रहा था। बीच रास्ते में वह उतर गया। थानाध्यक्ष रितेश शाह ने बताया कि बालक के रिश्तेदार शिवालिक नगर में रहते हैं। उसके रिश्तेदार एवं दिल्ली में रहने वाले पिता को सूचना दे दी है। रात तक परिजन बहादराबाद पहुंच जाएंगे। 


किसान रैली की सफलता को जनसंपकर

बाजपुर। अखिल भारतीय अनुसूचित जाति एवं शोषित वर्ग उत्थान समिति के राष्ट्रीय महासचिव डोरीलाल सागर के नेतृत्व में 30 अप्रैल को प्रस्तावित कांग्रेस की किसान महारैली को सफल बनाने के लिए जगह-जगह जनसंपकर अभियान चलाया जा रहा है और सभी वर्गो के लोगों से रैली में प्रतिभाग करने की अपील की जा रही है। अभियान में चंद्रभान, निसार अहमद, गुरमुख सिंह, हीरा लाल, दुर्गा सिंह, केदार सिंह, सियाराम सागर, संजय सागर, बबलू, करन सिंह, पप्पू सिंह, आशा राम, रामभरोसे लाल, अकील अहमद, शौकीन शाह आदि शामिल हैं।


पहले अपहरण, अब बेच दी युवती

रामनगर। मोहल्ला पूछड़ी से युवती का अपहरण करने के बाद आरोपियों ने उसे बेच दिया है। यह सनसनीखेज खुलासा अपहृत के परिजनों ने पुलिस के सामने किया। इधर मामले की गंभीरता को देखते हुए मुख्य आरोपी, उसके एक साथ व पत्नी के खिलाफ मुकदमा कायम कर लिया गया है। साथ ही फरार अपहरणकर्ताओं की धरपकड़ को दबिश दी जा रही है। बताते चलें कि पूछड़ी निवासी युवती का बीते दिनों अपहरण कर लिया गया था। वारदात तब हुई जब युवती की मां किसी काम से बाहर गई हुई थी। लौटने पर महिला को यह कहकर गुमराह किया गया कि वह मुरादाबाद निवासी जीजा के यहां गई है। मगर बाद में पता चला कि खताड़ी निवासी शाहिद उसे जबरन घर से उठा ले गया। महिला का आरोप था कि शाहिद के खताड़ी निवासी दोस्त बबलू ने युवती को अपने घर में कैद कर लिया है। इस मामले में पुलिस को नामजद तहरीर भी दी।
 
इधर गुरुवार को युवती के जीजा योगेश कुमार ने खुलासा किया कि अपहृत साली को अगवा करने के बाद शाहिद, उसके दोस्त बबलू व पित्न रूबी ने किसी व्यक्ति के हाथ बेच दिया है। पुलिस ने तीनों आरोपियों के खिलाफ अपहरण, युवती को कैद करने व जान से मारने की धमकी का मुकदमा कायम कर लिया है।


चार संदिग्ध पुलिस हिरासत में

हल्द्वानी। बनभूलपुरा क्षेत्र में बढ़ती चोरियों के खुलासे में जुटी पुलिस को कामयाबी मिलते दिख रही है। पुलिस ने क्षेत्र में हुई चोरियों के सिलसिले में चार संदिग्ध लोगों को हिरासत में लिया है।
 
उल्लेखनीय है कि पिछले कुछ दिनों से रात के समय घरों से मोबाइल व नकदी आदि समान उड़ाने वाला गिरोह काफी सित्र्कय हो गया है। बीते रोज भी पुलिस ने इंदिरानगर ठोकर निवासी एक फोटोग्राफर के घर से वीडियो व फोटो कैमरा, मोबाइल नकदी उड़ा ली थी। इसके अलावा फोटोग्राफर के पड़ोसी के घर से भी चोर मोबाइल व नकदी ले उड़े। पुलिस का मानना है कि वारदात को अंजाम देने वाले नशे के लती हैं। जो नशे करने के लिए रुपये जुटाने के लिए घरों में मोबाइल, नकदी आदि चोरियों को अंजाम दे रहे हैं। पुलिस सूत्रों के मुताबिक इस मामले में चार संदिग्ध युवक पुलिस के हत्थे चढ़े हैं। पुलिस इन संदिग्धों से पूछताछ में जुटी है।


युवा नेताओं का अभिनंदन

खटीमा। युवक कांग्रेस के ब्लाक अध्यक्ष पद पर बॉबी राठौर व अन्य पदाधिकारियों के निर्वाचित होने पर कांग्रेसियों ने उनका अभिनंदन किया। होटल बेस्टव्यू में कार्यत्र्कम के दौरान वक्ताओं ने कहा कि यूथ पदाधिकारियोंसे पार्टी को नई मजबूती मिलेगी, क्योंकि युवा ही पार्टी की रीढ़ हैं।
 
इस मौके पर नगर अध्यक्ष राजेंद्र गुंबर, पूर्व दर्जा राज्य मंत्री वहिदुल्ला खां, पूर्व मंडी चेयरमैन दलजीत गोराया, सांसद प्रतिनिधि देवेंद्र चंद, प्रकाश तिवारी, अरुण सक्सेना, महेश जोशी, अशोक बत्रा, भुवन कापड़ी, राजेश राणा, पंकज टम्टा, जगदीश प्रसाद, देवेंद्र कन्याल, नरेश राणा, मोहसिन बेग, ताहिर खां, ठाकुर महेंद्र सिंह मौजूद थे।


पहाड़ी के ट्रीटमेंट की मांग

हरिद्वार। मंशा देवी शिवालिक पर्वत माला का बरसात से पहले ट्रीटमेंट किए जाने की मांग को लेकर व्यापार सभा संघर्ष समिति ने पुरानी सब्जी मंडी चौक पर प्रदर्शन किया। व्यापारियों ने मांगों को लेकर जनांदोलन छेड़ने की चेतावनी दी है। व्यापार सभा के संयोजक संजय चोपड़ा ने कहा कि पिछले साल आयी भारी बारिश के बाद से हिल बाई पास मार्ग पूरी तरह बाधित है।
 
मंशा देवी शिवालिक पर्वत माला का ट्रीटमेंट न होने के कारण पर्वतमाला से सिल्ट और मिट्टी खिसकने का भय बना रहता है। इस दौरान व्यापारियों ने शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक पर शहर की उपेक्षा करने का आरोप लगाया। प्रदर्शन करने वालों में एपी लालवानी, दीपक मयूर, गोविंद शर्मा, भोला शर्मा, अवधेश कोठियाल, राजेश दुआ, बालकृष्ण सबरवाल, सुंदरलाल, मनीष गुप्ता, अन्नू गुप्ता, तरुण खुराना, बि्रजेश पुरी, श्याम सड़ाना, अमित गुप्ता, राजू राणा, मनोज शर्मा, सोनू वर्मा आदि शामिल रहे। 

बीए व बीकाम परीक्षा से 67 छात्र रहे अनुपिस्थत

हरिद्वार। एसएमजेन कालेज में बीए एवं बीकॉम की परीक्षा शांतिपूर्ण संपन्न हुई। इस दौरान 67 परीक्षार्थी अनुपिस्थत रहे।
 
छात्र-छात्राओं को बैठाने के लिए 18 कमरों की व्यवस्था की गई। परीक्षा कक्ष समेत लेक्चर थियेटर, साइंस ब्लाक एवं गर्ल्स कामन रूम में छात्र-छात्राओं ने परीक्षा दी। प्रथम पाली में बीए एवं बीकाम के लिए 741 छात्र-छात्राएं पंजीकृत थे। इसमें से 696 छात्र परीक्षा में बैठे। 45 परीक्षार्थी अनुपिस्थत रहे। द्वितीय पाली में 598 परीक्षार्थी पंजीकृत थे, जिसमें 588 छात्रों ने ही परीक्षा में उपिस्थति दर्ज कराई, 10 छात्र अनुपिस्थत रहे। तृतीय पाली में 601 छात्रों को परीक्षा में शामिल होना था, लेकिन 589 छात्र ही परीक्षा देने आए। 12 छात्र परीक्षा में नहीं बैठे। परीक्षा प्रभारी प्रो. सुनील बत्रा ने बताया कि शुत्र्कवार को परीक्षा में 1940 छात्र-छात्राएं पंजीकृत थे। इनमें से 1871 छात्र ही परीक्षा में शामिल हुए। उन्होंने बताया कि बीए में अंग्रेजी एवं बीकाम की प्रथम पाली में व्यवसायिक अर्थशास्त्र, दूसरी पाली में मुद्रा बैंकिंग एवं तीसरी पाली में इंडस्ट्रियल ला का पेपर था।


डीएम के आदेश पर रोक

नैनीताल। हाईकोर्ट ने टनकपुर निवासी पीयूष कुमार के ओबीसी प्रमाण पत्र जारी करने संबंधी प्रार्थना पत्र को निरस्त करने संबंधी डीएम चंपावत के आदेश पर रोक लगा दी है। साथ ही राज्य सरकार से तीन सप्ताह में जवाब दाखिल करने का आदेश दिया है। याचिकाकर्ता के अनुसार उसका जन्म उत्तराखंड में हुआ। उसके पिता स्थायी रूप से राज्य के निवासी हैं। आरोप लगाया था कि स्क्रूटनी कमेटी की झूठी शिकायत पर उसका प्रमाण पत्र निरस्त किया गया है। मामले की सुनवाई न्यायमूर्ति तरुण अग्रवाल की एकल पीठ में हुई। 


परीक्षा परिणाम घोषित करने का आदेश

नैनीताल। हाईकोर्ट ने हेमवती नंदन बहुगुणा केंद्रीय विवि प्रशासन को कृष्णा सेवा आश्रम समिति ऋषिकेश द्वारा संचालित बैचलर ऑफ फिजियोथेरेपी एवं बैचलर ऑफ मेडिकल लेबोट्री कोर्स के वर्ष 2009-10 का परीक्षा परिणाम घोषित करने का आदेश दिया है। साथ ही वर्ष 2010-11 के लिए याची संस्थान को उक्त कोर्स के संचालन की अनुमति प्रदान करने को कहा है।
 
न्यायमूर्ति तरुण अग्रवाल की पीठ के समक्ष याचिका प्रस्तुत की गई कि 29 मार्च 2010 को गढ़वाल विवि ने आदेश पारित कर संस्थान को यह कहते हुए यह कोर्स चलाने की अनुमति नहीं दी कि गढ़वाल विवि को अब केंद्रीय विवि का दर्जा मिल चुका है। याची के अधिवक्ता ने कहा संस्थान वर्ष 06 से मान्यता प्राप्त है और वर्ष 2009-10 की परीक्षा हो चुकी है। सुनवाई के बाद कोर्ट ने हेमवती नंदन बहुगुणा केंद्रीय विवि प्रशासन को आदेश दिया गया कि उक्त कोर्स के परिणाम घोषित करें।


बार व बेंच के तालमेल से न्याय में तेजी

रुद्रपुर। उच्च न्यायालय के न्यायाधीश (प्रशासन) न्यायमूर्ति ब्रह्म सिंह ने जिला एवं सत्र न्यायालय का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने अधिवक्ताओं की समस्याएं भी सुनीं।
 
न्यायमूर्ति सिंह शुत्र्कवार को जिला एवं सत्र न्यायालय पहुंचे। उन्होंने न्यायालय का भ्रमण किया। फिर जिला बार एसोसिएशन की ओर से बार भवन सभागार में उनका स्वागत किया गया। इस दौरान उन्होंने न्यायिक अधिकारियों और अधिवक्ताओं, दोनों को न्यायिक परिवार का हिस्सा बताते हुए कहा कि दोनों के सहयोग से ही वादकारियों को न्याय उपलब्ध कराया जा सकता है। उन्होंने न्यायिक अधिकारियों से अधिवक्ताओं की समस्याओं को गंभीरता से लेने को कहा। इस बीच एसोसिएशन की ओर से वकीलों के लिए चैंबर निर्माण की मांग उठाई गई। इस पर न्यायमूर्ति सिंह ने हरसंभव सहयोग करने का भरोसा दिलाया। इस मौके पर जिला एवं सत्र न्यायाधीश जयदेव सिंह, हाईकोर्ट के सहायक रजिस्ट्रार प्रशांत जोशी, बार एसोसिएशन अध्यक्ष एमपी तिवारी, नवीन चंदोला, शाबिर मोहम्मद, जुगल गोस्वामी, संजीव फौगाट, दिवाकर पांडे, राजेंद्र भट्ट, धमेर्द्र शर्मा, नीरज मौर्या, बीसी जोशी, जरनैल सिंह, भूपेंद्र सिंह आदि मौजूद थे।

अब कई गांवों को मिलेगा पानी

हल्द्वानी । सिंचाई मंत्री मातबर सिंह कंडारी व परिवहन मंत्री बंशीधर भगत ने शुत्र्कवार को ग्राम पनियाली में नलकूप का शिलान्यास किया। शिलान्यास समारोह में श्री कंडारी ने कहा कि राज्य सरकार जनता के हितों को ध्यान में रखकर कार्य कर रही है। कोशिश की जा रही है कि लोगों को ज्यादा से ज्यादा मूलभूत सुविधाएं मिल जाएं। उन्होंने परिवहन मंत्री बंशीधर भगत द्वारा क्षेत्र में कराए गए रिकार्ड विकास कार्यो की सराहना की और पीठ थपथपाते हुए कहा कि अन्य जनप्रतिनिधियों श्री भगत से प्रेरणा लेनी चाहिए।
 
परिवहन मंत्री बंशीधर भगत ने कहा कि इस नलकूप का लाभ पन्याली, बजूनियां हल्दू व नंदपुर के गांवों के लोगों को मिलेगा। संचालन मीडिया प्रभारी सुरेश तिवारी ने किया। नलकूप के लिए मदन सिंह देउपा ने भूमि दान की है। इस अवसर पर भाजपा प्रदेश प्रवक्ता गजराज बिष्ट, जिलाध्यक्ष हरेन्द्र दर्मवाल, ब्लाक प्रमुख शांति भंट्ट, सिंचाई विभाग के मुख्य अभियंता डीपी जुगरान, जिलाध्यक्ष दीपक मेहरा, ग्राम प्रधान मंजू भट्ट, नवीन भट्ट, बेला तौलिया, गुमान सिंह देउपा आदि उपिस्थत थे।


.