Share Your view/ News Content With Us
Name:
Contact Number:
Email ID:
Content:
Upload file:

12 Women applicants get liquor liscence

Dehradun: The Dehradun excise department lottery system to allot liquor shop licences for the financial year 2011-12 has proved lucky for 12 women applicants on Tuesday evening. Dehradun district excise officer TC Pant said that more than 1,700 women out of 7,471 applicants had applied to acquire license for liquor shops in the district.  During the lottery process, as many as 12 out of 66 liquor shop licences have fallen into the kitty of women in the district. Pant said that a total of 66 licenses for liquor shops including IMFL and country made liquor shops have been issued through lottery system in the district.  The department has received 7471 applications for liquor shop licenses. The applicants were charged Rs 13, 400 as form fees which is non refundable. In addition to this, 10 percent of license fees are also being charged from the applicants, which is refundable. This year, the department has earned Rs 10 crore for selling the application forms.

Two sisters murdered by younger brother

Dehradun: Two sisters were allegedly murdered by their younger brother with the help of a relative for property in Kuanwala under Doiwala police station limits on Wednesday morning. Police have arrested one person in this connection.

The sisters, identified as Jagvanti Devi (48) and Bhagvanti Devi (42), both residents of Kuanwala, were brutally killed by Ratan, their younger brother and a resident of Selaqui, with the help of his son-in-law, Satyawan, who lives in Rajasthan.  The decapitated bodies of the duo were found lying in the house. Satyawan has allegedly confessed his role in the murder. A police team led by Special Operation Group in-charge Mukesh Tyagi arrested him from his native place. Satyawan told police that he committed the crime with help of an accomplice early on Wednesday morning. The youngest sister, Satyavanti, who had been sleeping at the time of the incident, woke up to find the bodies of her sisters. She alerted neighbours who called the police. Police have recovered two machetes from the spot which were used by the murderers to commit the crime. The bodies have been sent to the hospital for autopsy.  After committing the crime, both accused had fled from the spot. However, senior police officials including SSP Dehradun GS Martolia, SP (City) Ajay Joshi and Circle Officer, Nehru Colony, Navneet Singh immediately rushed to the site.  Based on Satyavanti's account of events leading to the murder and prima facie evidence, police believe that a dispute over a piece of land near Haridwar by-pass is the reason behind the incident.  SSP Martolia said the two bought land from Ratan in 1991 at Rs 1.1 lakh. Over time the price of land soared and it was proposed for acquisition by the Government for the construction of a four-lane highway.  The accused, Ratan, wanted the land back from the deceased. He is currently at large. SSP Martolia claimed that the mastermind in the double murder case will be arrested very soon.

Two arrested for attacking one

Dehradun: Police has arrested two persons allegedly responsible for attacking a resident of Dobhalwala area in the last week. Police has also recovered a pistol with one live and used cartridge with them. SSP Dehradun GS Martolia said that two persons named Satyendra Kumar Tyagi, a resident of Saharanpur and Sunil Kumar Sharma who hails from Meerut were arrested along with a pistol with one live and one used cartridge. A police team led by Kotwali SI Devendra Gaurav and five other constables arrested both of the accused from Stya Vihar near Vijay Park. Satyendra confessed the crime at SSP office in presence of mediapersons. He admitted that an altercation took place between him and Pradeep Singh, a resident of Dobhalwala who permanently belong to Saharanpur at the night of December 31 at Saharanpur. However, both were inebriated when the altercation took place. Triggered by taking revenge from Pradeep, main accused fired indiscriminately along with his friend Sunil on March 17.  Gaurav and Pritam were targeted by the miscreants instead of Pradeep. Following the incident, a police team visited their ancestral village at Saharanpur and recorded the statements of relatives of Gaurav Sharma a second year law student of DAV College and Pradeep Singh,a property dealer. Although, criminals had come to target Pradeep Rana but mistakenly bullets hit the Gaurav and Pritam, a domestic helper of Gaurav. In addition, police had also scrutinise the call details of said three people. Meanwhile, both of the accused have been sent to the jail.

Sanskrit will now be seen

Haridwar: More than a year after the Uttarakhand Government declared Sanskrit as the second official language of the State; the ancient language will soon be visible in Haridwar, if all goes as per the plans.

The Uttarakhand state unit of non profit organisation Samskrit Bharati has decided to rope in people in the city to use Sanskrit as display language in all major business establishments, institutes and other offices in the city.  Not only this, even the name plates outside public and private properties will be displayed in Sanskrit."The State Government has already declared Sanskrit as its second official language and Haridwar a Sanskrit city. But none of the government departments take the language seriously. Considering this, we have now proposed to popularise Sanskrit in the city by roping in common people. The scheme aims at using Sanskrit as display language (along with Hindi) on boards and name plates outside all private and public establishments in the city," Uttarakhand State organising secretary of Samskrit Bharati, Narender Pandey, said. "We propose to have all notice boards in Har Ki Pauri, all major business establishments in the city, schools and colleges and all private properties to be displayed in Sanskrit along with Hindi. After completing the work in Haridwar, we aim to do the same in Rishikesh too," Pandey added. The State Government had in January last year declared Sanskrit as the second official language of the State. It may be noted here that Uttarakhand is the only state in the country to have taken such a step in order to promote the ancient language. The Government had instructed thatall the boards outside all the government offices and the name-plates and the notice boards in Haridwar district should to be displayed in Sanskrit too, along with Hindi.  Similar instructions were given for Rishikesh too. The government had also decided to appoint Sanskrit translators in all the collectorates in the state. Directions were also given to the Public Works Department (PWD) to get all signboards along the Char Dham routes displayed in Sanskrit along with Hindi. No initiative in this regard, was however, taken for private properties in the district. 

The presence of Van Gujjars in national parks discussed in Vidhan Sabha

Dehradun: The anomalies in the relocation of Van Gujjars from the Rajaji National Park have elicited attention once again after the issue was raised by the Opposition in the Vidhan Sabha.  State Parliamentary Affairs and Potable Water Minister Prakash Pant informed that the State Chief Minister had ordered the State Principal Chief Conservator of Forests to conduct an inquiry in to the alleged anomalies in August 2010. However, wildlife activists State that considering the fact that this inquiry report has not yet been submitted to the Government, irregularities and delay in the relocation of people from forest areas will continue to have a negative impact on the wildlife and environment of the State unless effective measures are taken without delay to ensure their proper relocation.  

The presence of Van Gujjars and other villagers continues to be a major factor responsible for deterioration of environment, wildlife and increase in human-wildlife conflict especially in the Rajaji and Corbett national parks. The PCCF (Wildlife) and Chief Wild Life Warden Shrikant Chandola and RNP director SS Rasaily have stressed repeatedly that the Van Gujjars need to be relocated out of the national park because humans and wildlife cannot coexist in the same habitat. The damage caused by human encroachments in Corbett had elicited national focus recently when a tiger was shot dead after the feline killed five persons in the Sunderkhal and neighbouring areas. Sunderkhal and two other settlements in this region bordering Corbett are encroachments which need to be relocated like the 90 plus Van Gujjar families still living in Rajaji. According to the PCCF (Wildlife) and CWLW Shrikant Chandola the task of relocating Van Gujjars from RNP had been started in the eighties but has not been completed so far. The State needs to re- align its policies and facilitate swift and adequate relocation of people in order to protect environment, wildlife and ensuring public welfare. Replying to a question raised by the opposition regarding the relocation of people from the RNP, the State Parliamentary Affairs minister said that Rs 9.57 crore had been allocated for the relocation of 1,390 Van Gujjar families from this national park. The PWD and Rural Engineering Services had been given the task of constructing homes and other facilities for Van Gujjar families relocated since 1998. However, the government received complaints that the allocated funds were misused for making sub-standard buildings for the relocated families. Following this the CM ordered the PCCF to conduct an inquiry into these allegations in August 2010. However, wildlife activists point out that delay in presentation of the inquiry report will only allow anomalies in relocation to continue which in turn will damage the environment, wildlife and result in continued human-wildlife conflict. Relocating the humans has become all the more important considering the tiger population in Uttarakhand which has increased to 227 according to the latest tiger census.

The construction of the Auli-Narsinh temple nullah below quality standards

Joshimath: The construction of the Auli-Narsinh temple nullah has been mired in dispute since before the start of work on this project. In the past, the local contractors had undertaken an agitation due to dispute in the tender process. Now the local have alleged that the work being undertaken below the required quality standard.

The District administration has said that it will conduct an inquiry. But locals are of the opinion that tedious official procedures will most likely delay effective action in this regard. It should be noted that the construction of the nullah is being undertaken nowadays with funds provided for repairing the damage caused by heavy rains and natural disasters. However, local residents have alleged that the quality of this construction work is far below the required standard. This project is being undertaken with Rs 4.75 crore but the sub-standard quality of work has become a cause for discontentment for the local public. The Member of Parliament representative Umesh Shah has alleged that there are major financial and quality related anomalies in the construction of this nullah.  The Joshimath Sub District Magistrate Devanand Sharma has said that an inspection of the construction work will be undertaken by the District administration. It remains to be seen as to what conclusions are reached by the administration in its inquiry, but observers warn that sub-standard work in construction of nullah and other civic facilities could be a threat to Joshimath in the future if steps are not taken soon to redress the anomalies. 

People furious over shortage of water

Dehradun: Furious over the scarcity of the potable water at remote areas of the district, residents protested at Jal Bhawan in Dehradun on Tuesday. Agitators further threatened to intensify their agitation, if concrete steps were not taken by the department to supply adequate amount of potable water to the area in the coming days. Hundreds of residents from village Bangarwala, Chaktunwala and adjoining places staged protest at Nehru colony based Jal Bhawan in Dehradun on Tuesday.  They lamented that the entire area is reeling under the acute shortage of potable water and officials seem not interested to address their problem. The agitators raised anti-department slogans during the procession.  Hema Purohit, Zila Panchyat member (Miyanwala) said that the supply of potable has been badly disrupted for the last couple of days but the department is not taking any effective steps to overcome the situation. Memorandum highlighting their demands which includes increase in width of pipeline to four-inch was also submitted to officials and also threatened to intensify their agitation if their pending demand was not fulfilled in the given time frame.  "Even though memorandum was submitted several times to top officials but no concrete steps were taken so far by the department to fulfill their pending demands," she said, adding that residents have to traverse several kilometers to have one bucket of water for day-to-day work. After listening to them, Er PC Kimothi, Secretary (Appraisal) assured that officials would be instructed to sort out their problem.  Soniya Sharma, Davander Chowdhury, Gulab Singh, Jagdish Prasad, Sudha Pant, Nirmala, Seema Devi, Satya Thapa, Praveen Purohit and Sunar Lal Maurya were present.

More than 60 villagers duped by three

Haridwar: More than 60 villagers were duped to the tune of more than `3 lakh allegedly by three youth, who impersonated as agents of a well known private insurance company.  The incident took place in village Jasodpur near Laksar about a year ago.

A complaint in this regard, was, however, filed on Monday.  According to the police, a resident of Mandawali in Bijnor, Sajid along with his two other accomplices,—a resident of Karitpur in Bijnor, Adil Rashid and a resident of Nazibabad, Abrar—, had come to village Jasodpur in January last year. "The trio posed as agents of a well known private insurance company and told villagers about a company's scheme, under which a sum of ` 5,500 deposited in the company's account shall become ` 25,000 in a year's time," Laksar police inspector, P C Mathpal, said. Lured by this, more than 60 villagers handed over `5,500 each to the trio. Police said that the villagers were even given receipts of the same.  After a year, when the villagers tried contacting the trio for their money, they remained evasive. Enraged by this, the villagers went to the insurance company's office in Nazibabad. Upon inquiring about the trio, the villagers found out that none of them used to work there and also that the insurance company had never launched any such scheme. Ultimately, the villagers on Monday contacted Laksar police. Based on a complaint filed by a resident of village Mohammed Akram, Laksar police booked the trio on charges of cheating and forgery. "A complaint has been registered and further investigations into the case are on," Laksar police inspector, P C Mathpal said.

Badarinath Kedarnath Temple Committee (BKTC) proposed a budget of 26.53 crore

Rishikesh: The Badarinath Kedarnath Temple Committee (BKTC) has proposed a budget amounting to ` 26.53 crore for the new financial year for improving the facilities for pilgrims in Kedarnath and Badarinath. The proposed budget was presented during a Badarinath Kedarnath Temple Committee meeting held here to review preparations for the Char Dham Yatra slated to start in a couple of months.  The meeting was presided over by the committee chairman, Anusuya Prasad Bhatt. Bhatt informed those attending the meeting that the proposed budget amounting to ` 26.53 crore for the new financial year comprises of special allocations to be used for improving the facilities for the pilgrims visiting Badarinath and Kedarnath.  The budget is proposed to be used for construction of Dharmshalas providing free accommodation to pilgrims, community kitchen, installation of machine dispending warm potable water, implementation of the Badrish Van Yojna and conservation of medicinal and aromatic herbs, production of Ayurvedic medicines, ration facility for poor pilgrims, polythene eradication and publicity of Sanskrit schools among other tasks. The Badarinath Kedarnath Temple Committee CEO Pravesh Chandra Dandariyal informed that the portals of the Kedarnath temple will be reopened to the public on May 8 while the doors of the Badarinath shrine will be reopened on May 9.  All necessary facilities for the convenience of pilgrims will be spruced up before the shrines are reopened to the public. He further informed that Badarinath Kedarnath Temple Committee teams will reach Badarinath and Kedarnath in the second week of April in order to ensure timely completion of preparations.

Shushila Tiwari Medical College has been sanctioned 27 seats

Haldwani: The Government Shushila Tiwari Medical College, has finally been sanctioned as many as 27 seats to run the post graduate medical studies from the coming academic session. It may recalled that it had applied for a total of 30 seats. With this the aforementioned medical college has become the first Government post graduate medical college in the hill State. The aforementioned college had recommended for 30 seats given availability of requisite basic infrastructure like faculties and other facilities. But it has to settle for 27 seats. However, the college administration has expressed satisfaction over the number of seats granted to it. "We are quite happy with the number of seats being granted to us, said NS Jyala, principal and dean of the Government Shushila Tiwari Medical College, describing it as a big achievement. "The fact that 27 seats have been sanctioned for the first time is not at all bad. Most of the time, as has been experienced , colleges have to begin with even seven or eight seats, the principal maintained. So we hope that as things would proceed we would be able to get more seats in due course of time . Its a continuous process, he further said. At the same time the principal maintained that had certain other measures like strengthening faculty positions and other requisite basic facilities been taken in time , perhaps we would have got more seats. As the norms laid down norms suggest, out of the total seats allotted to the Government Shushila Tiwari Medical College, Haldwani, 50 per cent of the total seats would go to the State and Central Governments. So out of the total 27 seats Uttarakhand is getting 14 sets and rest as many as 13 seats would go to the Centre, the principal further informed. The aforesaid medical college administration had applied for about 30 seats in different medical courses at the post graduate level. These medical courses include general medicine, ENT, eye, anesthesia, radiology, biochemistry, gynaecology, surgery, orthopedic, pathology, community medicines, forensic science and microbiology to name a few. But the college could not get clearance in a few other subjects like orthopedics. The new academic session of the medical college is supposed to be begin from April end.

All The Best Boys!

Dehradun. 29th March, 2011. The Chief Minister of Uttarakhand Dr. Ramesh Pokhriyal ‘Nishank’ has extended his greetings to the Captain of Indian Cricket team Mahendra Singh Dhoni and the Indian Cricket team for success in the forthcoming Semi-Final match to be played against Pakistan on 30th March, 2011 at Mohali.

In his message, Dr. Nishank said that he firmly believes that the son of Uttarakhand and the Captain of Indian Cricket team Mahendra Singh Dhoni along with his team will scale new heights of success and the Indian team will reach Finals of the World Cup Tournament.

शुरू हो गया घड़ा व सुराही का निर्माण

देहरादून। गर्मी की शुरू हो चुकी है दस्तक। शीतल पेय से सज चुकी हैं दुकानें। फि्रज की बित्र्की भी हो चुकी है शुरू। इन सभी चुनौतियों के बीच गांव-गांव तैयार होने लगा है गरीबों का भी फि्रज। मिंट्टी का यह फि्रज सुराही, मटके व घड़ा के रूप में बाजार की रौनक तो बनने लगा है किन्तु इसकी मांग काफी कम होने से कुम्हार निराश नजर आ रहे हैं। गर्मी में शीतल व स्वच्छ जल मिंट्टी के बर्तन में ही सबसे अधिक उपयोगी माना जाता है। हालांकि आज के समय में फि्रज ने घर-घर अपनी जगह बना ली है लेकिन यह गरीबों की पहुंच से अब भी काफी दूर है। ऐसे में गरीब तबके का फि्रज मिंट्टी के बर्तन के रूप में ही कुम्हारों से मिलता है। हालांकि इसकी भी मांग अब पहले जैसी नहीं रही। इसके चलते यह पुश्तैनी धंधा अब मंदा हो चला है। हालांकि बुजुर्ग तबका अब भी इसका उपयोग करता है। बावजूद इसके लगातार घटती मांग के चलते कुम्हार परिवार के युवा वर्ग इस धंधे से मुंह मोड़ परदेश की ओर रुख कर रहे हैं। काफी कुछ हद तक परिवार के बुजुर्ग लोगों ने अभी भी इस कला को जीवंत रखा है किन्तु उन्हें उनकी मेहनत तक का पारिश्रमिक ठीक तरह से नसीब नहीं हो पाता। इस व्यवसाय से जुड़े रामलाल प्रजापति का कहना है कि वह चालीस वर्ष से इस पुश्तैनी कार्य में लगे हुए हैं। पहले इसी के सहारे उनके घर का खर्च चलता था लेकिन आज की तारीख में अब लागत तक ठीक तरह से नहीं निकल पाती। वह मिंट्टी के कुल्हण ही बनाते हैं लेकिन गर्मी में मटका, सुराही भी बनाकर इसे बाजार में बेचते हैं। 

महंगाई व घोटालों के खिलाफ भाजयुमो का जुलूस

उधमसिंहनगर। बढ़ती महंगाई के लिए केंद्र की यूपीए सरकार को जिम्मेदार बताने के साथ घोटालों के विरोध में भाजपा कार्यकर्ताओं ने जुलूस निकाला। बाद में तहसीलदार के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन भेजा।भाजयुमो जिलाध्यक्ष विकास शर्मा के नेतृत्व में कार्यकर्ता रामलीला मैदान पर एकत्र हुए। वहां से जुलूस की शक्ल में खटीमा व जेल कैंप रोड होते हुए तहसील पहुंचे। वे कांग्रेस के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर रहे थे। तहसील पर प्रदर्शन के बाद तहसीलदार विवेक प्रकाश को राष्ट्रपति को संबोधित ज्ञापन दिया गया। इसमें कहा गया कि केंद्र की यूपीए सरकार महंगाई रोकने में असफल रही है, जबकि जनता में महंगाई से त्राहि-त्राहि मची है। केंद्र सरकार के कार्यकाल में घोटालों की बाढ़ का आरोप लगाते हुए कहा गया कि कॉमनवेल्थ गेम, आदर्श सोसायटी व 2जी स्पेक्ट्रम जैसे बड़े घोटालों ने देश के आर्थिक विकास की गति धीमी कर दी है। आरोप लगाया गया कि केंद्र सरकार देश का काला धन वापस लाने में असमर्थ रही है। यदि वह धन वापस आ जाये तो देश की आर्थिक स्थिति मजबूत हो सकती है। इस मौके पर भाजपा मंडल अध्यक्ष राकेश त्यागी, अनुसूचित जाति मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष खूब सिंह विकल, कमल जिंदल, राधेश्याम, विपिन मित्तल, विवेक राय, पंकज गहतोड़ी, नरेन्द्र सिंह निक्का, वरुण अग्रवाल, जानकी देवी, जया जोशी, धर्मा देवी, भगवान सिंह भंडारी आदि मौजूद थे। 
 

भाजपाइयों पर रजिस्ट्री छीनने का आरोप

उधमसिंहनगर। ग्राम पिपलिया पिस्तौर की जनजाति की विधवा ने एसएसपी व सीओ को सौंपे शिकायती पत्र में सितारगंज के दो भाजपा नेताओं व आरएसएस के पदाधिकारी पर जमीन की रजिस्ट्री के कागजात छीनने व सादे स्टाम्प पर जबरन हस्ताक्षर कराने का आरोप लगाया है। विधवा योगेश्वरी देवी पत्नी स्व.दिनेश सिंह राणा ने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक व क्षेत्राधिकारी सौंपे शिकायती पत्रों में कहा है कि 26 मार्च को उसे आरएसएस के पदाधिकारी का फोन आया। फोन में उसे भाजपा नेत्री के सितारगंज स्थित घर पर बुलाया गया। योगेश्वरी का आरोप है कि जब वह भाजपा नेत्री के घर पहुंची तो उसके साथ ही पति व आरएसएस के पदाधिकारी ने जमीन व रजिस्ट्री के कागजात छीन लिये। यह भी आरोप है कि तीनों ने डरा धमका कर सादे स्टाम्प पेपर पर हस्ताक्षर कराये व जान से मारने की धमकी दी। योगेश्वरी ने जातिसूचक शब्दों का प्रयोग करने का आरोप भी लगाया। उसका कहना है कि वह किसी तरह जान बचाकर भागी। उसने आरोपियों के खिलाफ कार्यवाही पर जोर दिया। योगेश्वरी ने थाने में भी मामले की शिकायत की। थानाध्यक्ष इंद्र सिंह राणा ने महिला कांस्टेबल के साथ उसे सितारगंज कोतवाली भेज दिया। 

बड़ों की लड़ाई में छोटे भी कूदे

हरिद्वार। बड़ों के बीच चल रही लड़ाई में छोटे भी कूद पड़े हैं। चेक वितरण विवाद को लेकर भाजपा-कांग्रेस में चल रही जंग में एनएसयूआइ और अभाविप भी कूद पड़ी हैं। रविवार को हुए चेक वितरण विवाद के बाद भाजपा और कांग्रेस आमने-सामने हैं। दोनों सड़कों पर उतरकर एक दूसरे के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। अब इस लड़ाई में एनएसयूआइ व अभाविप भी कूद गए हैं। एनएसयूआइ ने शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक के खिलाफ प्रदर्शन किया। एनएमजेएन कॉलेज छात्रसंघ अध्यक्ष गौरव शर्मा के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने रानीपुर मोड़ में प्रदर्शन किया। छात्रसंघ अध्यक्ष ने कहा कि भाजपाई विधानसभा चुनाव में निश्चित हार से घबरा गए हैं। प्रदर्शनकारियों में सिद्घार्थ भारद्वाज, आशीष राघव, शुभम अग्रवाल, रवि बाबू शर्मा, अरशद अली, गगन बाली, पि्रयंका मिश्रा आदि मौजूद थे। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की बैठक में रविवार को हुई घटना के लिए कांग्रेस को दोषी ठहराया गया। विभाग संयोजक वरुण वालियान ने कहा कि एनएसयूआइ जनता को भ्रमित करने का प्रयास कर रही है। बैठक में नगर प्रमुख सतविंदर सिंह, नितिन पंडित, हर्षित गुप्ता, आदर्श कुमार, प्रवीण कुमार आदि मौजूद थे। 
 

सूबे की बेहतरी को उत्र्कांद का संघर्ष रहेगा जारीः पंवार

नई टिहरी। कांग्रेस, भाजपा की पोल खोल यात्रा के तहत टिहरी पहुंचे उत्र्कांद (पी) के केन्द्रीय अध्यक्ष त्रिवेन्द्र सिंह ने कहा कि दोनों ही पार्टियों ने जनभावनाओं की अनदेखी की है। दस सालों में भी राज्य में विकास की ठोस नींव नहीं रखी पायी हैं। जिस उद्देश्य राज्य की परिकल्पा की गई थी वह धरातल पर नजर नहीं आ रहा है। नई टिहरी नगरपालिका चुनाव के लिए निर्दलीय प्रत्याशी मुकेश सेमवाल का समर्थन किया है। मंगलवार को यहां पत्रकारों से बातचीत में उत्र्कांद के केन्द्रीय अध्यक्ष श्री पंवार ने कहा कि पृथक राज्य बनने के पीछे खुशहाल व भ्रष्टाचार मुक्त राज्य की परिकल्पना थी लेकिन आज राज्य में भ्रष्टाचार अपनी चरम पर है। उत्र्कांद ने पहले राज्य की लड़ाई लड़ी है अब से भ्रष्टाचार मुक्त राज्य बनाने की लड़ाई लड़ेगा। प्रदेश में दोनों की पार्टियां जनता को बरगला रही है। यहां के सांसदों ने भी कभी भी उत्तराखंड के हित की बात नहीं की है। दोनों पार्टियों पोल खोलने के लिए ही उत्र्कांद ने पोल खोले यात्रा शुरू की है जिसका समापन 3 गैरसैण में समापन होगा। आंदोलन जनता का भी पूरा सहयोग मिल रहा है। इस अवसर पर उत्र्कांद के केन्द्रीय मीडिया प्रवक्ता वीरेन्द्र मोहन उनियाल, रमेश रतूड़ी, रामलाल नवानी, तिलकराम चमोली, वित्र्कम तोपवाल, करण डोभाल, सुरेन्द्र डबराल व शांति प्रसाद मिश्रा आदि मौजूद रहे। 

गुलदार ने हमला कर किया बालिका को घायल

रुद्रप्रयाग। बांगर पट्टी के अन्तर्गत ग्राम पंचायत चोपड़ा में सोमवार शाम गुलदार ने एक बालिका पर हमला कर बुरी तरह जख्मी कर दिया। बालिका के उपचार के लिए बेस चिकित्सालय श्रीनगर लाया गया, लेकिन हालत गंभीर देखते हुए डाक्टरों ने उसे जॉलीग्रांट हॉस्पिटल देहरादून के लिए रेफर कर दिया है। घटना के बाद से क्षेत्र में दहशत का माहौल बना हुआ है। ग्राम पंचायत चोपड़ा में गत सोमवार शाम छह बजे तीन वर्षीय सलोनी पुत्री बलवीर सिंह बागवान अपनी मां के साथ रसोई घर में बैठी हुई थी। इसी बीच अचानक गुलदार रसोई में घुस गया और बच्ची पर हमला कर आंगन में फेंक दिया। इस बीच बच्ची के पिता व माता ने शोर मचाकर किसी तरह गुलदार को वहां से भगा दिया। जिसके बाद घायल बालिका को उपचार के लिए सीधे बेस चिकित्सालय श्रीनगर लाया गया, लेकिन यहां प्राथमिक उपचार के बाद चिकित्सकों ने हालत गंभीर देखते हुए उसे जॉलीग्रांट हॉस्पिटल देहरादून के लिए रेफर कर दिया है। वहीं इस घटना के बाद से क्षेत्र में दहशत का माहौल बना हुआ है। ग्राम प्रधान भरत सिंह कैंतुरा ने गुलदार के आतंक से निजात दिलाने के लिए वन विभाग से ठोस कदम उठाने की मांग की है। बताया कि अभी तक गुलदार कुरछोला, धरियांज व किरोड़ा गांव में भी कई मवेशियों को अपना शिकार बना चुका है। उन्होंने पीड़ित परिवार को उचित मुआवजा देने की अपील भी की है। 
 

शराब की दुकानों को लेकर फूटा गुस्सा

उत्तरकाशी। उत्तराखंड महिला मंच से जुड़ी महिलाओं ने मंगलवार को शराब की दुकानों के आवंटन पर तीखा विरोध जताया। जिला कार्यालय सभागार में घुसने की कोशिश में महिलाओं को रोकने की कोशिश में पुलिस सख्ती से पेश आई और कुछ महिलाओं पर लाठियां भांज डाली। जिलाधिकारी से मुलाकात के बाद महिलाओं ने अपनी शराब विरोधी मुहिम को जारी रखने का ऐलान किया है। 
 
मंगलवार को जिला कार्यालय सभागार में जिलाधिकारी डा.हेमलता ढौंडियाल की मौजूदगी में जनपद में अंग्रेजी शराब की दुकानों की आवंटन प्रित्र्कया चल रही थी। करीब साढ़े ग्यारह बजे महिला मंच की केंद्रीय प्रवक्ता पुष्पा चौहान, माहेश्वरी भट्ट, महिला पंचायत अध्यक्ष मंगला राणा आदि के नेतृत्व में दर्जनों महिलाएं कलक्ट्रेट परिसर में पहुंची। महिलाओं ने नारेबाजी करते हुए सभागार में घुसने की कोशिश की तो पुलिस ने गेट पर उन्हें रोक लिया। इस दौरान पुलिस की महिलाओं से काफी धक्का मुक्की और नोंक झोंक हुई। पुलिस ने कुछ महिलाओं पर लाठियां भी भांज डाली जिससे महिलाओं ने कड़ा ऐतराज जताया। जिलाधिकारी के सभागार से बाहर न आने तक महिलाएं गेट पर ही नारेबाजी करती रहीं। बाद में जिलाधिकारी ने प्रित्र्कया पूरी कर अपने कक्ष में महिलाओं से मुलाकात की। महिलाओं ने जनपद में शराब की नई दुकानों को रद्द करने और जिला मुख्यालय व आस पास के क्षेत्र में शराब पर पाबंदी लगवाने की मांग की। प्रदर्शनकारियों में यशोदा तड़ियाल, विनीता भट्ट, सुरती राणा, हेमा चौहान, निर्मला असवाल, विमलेश्वरी भट्ट, गीता गैरोला, सरिता नौटियाल सहित दर्जनों महिलाएं शामिल थीं। 
महिलाओं के विरोध प्रदर्शन के दौरान एक महिला पुलिसकर्मी ने गीता गैरोला नाम की महिला को थप्पड़ मार दिया जिस पर महिलाओं का विरोध और उग्र हो गया। बाद में जिलाधिकारी के सामने महिलाओं ने इस मामले को भी उठाया। जिस पर जिलाधिकारी ने एसपी को जरूरी कार्यवाही के निदेर्श दिये। 
ब्लाक मुख्यालय हिंडोलाखाल में शराब का ठेका बंद करवाने को लेकर मंगलवार को महिला मोर्चा अध्यक्ष रजनी जोशी की अगुवाई में त्र्कमिक अनशन शुरू कर दिया गया। ब्लाक कार्यालय परिसर में शुरू हुए इस त्र्कमिक अनशन में यहां कांडी बागड़ी, पौंसाड़ा, कनियाड़ी, डांडा, सजवाण कांडा, धनाऊ आदि क्षेत्रों से शराब का विरोधी करने में लोग पहुंचे थे। मंगलवार को त्र्कमिक अनशन में कौंशा भट्ट, सरिता नेगी, शाकांबरी, उर्मिला देवी, परमेश्वरी, विद्याता देवी, ज्योति कैंतुरा, सुरेंद्र राणा, बसपा ब्लाक अध्यक्ष विजय पंवार, रामदास शामिल हुए। 
 

अनाज बैंक दूर करेगा खाद्यान संकट

उत्तरकाशी। संयुक्त राष्ट्र विश्व खाद्य कार्यत्र्कम के तहत उत्तराखंड खाद्य आपूर्ति विभाग, ग्रामीण क्षेत्रों में अनाज की कमी दूर करने को लेकर चकराता, थत्यूड़, नौगांव, मोरी व पुरोला में ग्रामीणों के सहयोग से 55 गांव में अनाज बैंक की स्थापना करेगा, ताकि आपदा व खाद्यान्न संकट के समय गांव के गरीब व जरूरतमंद लोगों को दुकानों पर निर्भर न रहना पडे़। मंगलवार को अनाज बैंक हस्तान्तरण प्रित्र्कया सम्बन्ध में विस्तृत जानकारी देने को डब्लूएफ पी परियोजना की ओर से पुरोला में एक कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला में विश्व खाद्य कार्यत्र्कम के जिला समन्वयक डॉ. रविन्द्र वर्मा ने कहा कि अनाज बैंक कार्यत्र्कम ग्रामीणों के सहयोग व सहभागिता से टिहरी के थत्यूड़ 15, चकराता 10, नौगांव, पुरोला व मोरी के 10-10 गांव में संचालित किया जा रहा है तथा एक वर्ष में प्रत्येक चयनित परिवार को अनाज ऋण व लोन की सुविधा के तहत एक कुंतल अनाज दिया जायेगा तथा ऋणदाता को 3 से 6 महीने के अन्दर ब्याज वापस करना होगा। वर्मा ने किया ब्याज के रूप में लेन देन केवल अनाज के रूप में ही किया जायेगा। ग्रामीण बैंकों में अनाज उत्तराखड खाद्य आपूर्ति विभाग के गढ़वाल विकास बैंक नैनबाग से सप्लाई किया जायेगा। कार्यशाला में हिमालयी आजीविका संस्था के प्रबन्धक कमलेश गुरानी ने अनाज बैंक संचालन में स्वयंसेवी सस्थाओं व ग्रामीणों की भूमिका की जानकारी दी। इस अवसर पर गढ़वाल विकास केन्द्र सचिव परेन्द्र सकलानी, विपिन सिंह चौहान, अरूणा गैरोला, रमेश राणा, सुमन शर्मा, रघुवीर सिंह रावत, रेखा चौहान, जयप्रकाश, सुन्दला देवी, विमला देवी, निर्मला देवी, बरदेव नेगी, विहार लाल, मनोज कोठारी आदि अन्य मौजूद रहे। 
 

सातवीं के छात्र से दुष्कर्म का प्रयास, गिरफ्तार

हरिद्वार। ज्वालापुर थानांतर्गत कक्षा सातवीं कक्षा के छात्र से दुष्कर्म का प्रयास कर रहे किराएदार को मकान मालिक समेत कई लोगों ने जमकर पीटा। सूचना पर पहुंची पुलिस ने मामला दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के अनुसार कोठराबाद निवासी एक व्यक्ति ने ऊधमसिंह नगर निवासी एक छात्र को किराए पर मकान दिया था। सोमवार की रात मकान मालिक का कक्षा सात में पढ़ने वाला छात्र अचानक गायब हो गया। इस दौरान किराएदार के कमरे से बच्चे के चिल्लाने की आवाज सुनाई दी। परिजनों के दरवाजे खटखटाने पर छात्र ने काफी देर से दरवाजा खोला। दरवाजा खुलते ही परिजनों ने पाया कि छात्र सहमा हुआ है और उसके कपड़े भी शरीर में नहीं हैं। छात्र ने परिजनों को आपबीती सुनाई। इस पर किराएदार भागने लगा, लेकिन परिजनों ने शोर मचा दिया। इस पर आसपास के लोग मौके पर एकत्र हो गए। लोगों ने युवक को घेर लिया और जमकर पीटा। सूचना पर पहुंची पुलिस ने युवक को ज्वालापुर कोतवाली लेकर आई। परिजनों ने कोतवाली निरीक्षक आरके चमोली को मामले की जानकारी दी। पुलिस ने युवक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर चालान कर दिया। 
 

गुरुद्वारा की स्थापना के लिए आरपार की लड़ाई का ऐलान

हरिद्वार। ज्ञान गोदड़ी गुरुद्वारा को लेकर फिर सिख धर्म के अनुयायियों की भृकुटि तन गई हैं। हरकी पैड़ी में ज्ञान गोदड़ी गुरुद्वारा निर्माण की मांग को लेकर सिख धर्मावलंबियों ने आरपार की लड़ाई लड़ने का मन बना लिया है। इस सिलसिले में 16 अप्रैल को बैठक कर आंदोलन की रणनीति तय की जानी है। 
 
मंगलवार को प्रेस क्लब में मीडिया से बातचीत करते सर्व प्रदेश गुरुद्वारा प्रबंधन कमेटी के अध्यक्ष जगदीश सिंह ढिंडा ने कहा कि सत्तर के दशक से पहले हरकी पैड़ी में ज्ञान गोदड़ी गुरुद्वारा था। उसे बाद में ध्वस्त कर दिया और वर्तमान में ज्ञान गोदड़ी गुरुद्वारा की जमीन पर स्काउट व गाइड कार्यालय संचालित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि लंबे समय से सिख धर्मावालंबी ज्ञान गोदड़ी गुरुद्वारा के निर्माण की मांग को लेकर समय-समय पर आंदोलन करते आ रहे हैं। ढिंडा ने कहा कि प्रशासन ज्ञान गोदड़ी गुरुद्वारा निर्माण को लिए अन्य जगहों के विकल्प प्रस्तुत कर रहा है, जो सिख धर्मावलंबियों को मंजूर नहीं है। उन्होंने हरकी पैड़ी में ज्ञान गोदड़ी गुरुद्वारा होने के पुख्ता प्रमाण प्रस्तुत करने का दावा भी किया। उन्होंने कहा कि इस मसले पर राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग भी संज्ञान ले चुका है, लेकिन मामले का निराकरण नहीं हो पाया है। इस त्र्कम में 16 अप्रैल को हरिद्वार में बैठक कर आंदोलन की रणनीति तय की जाएगी। बैठक में 22 राज्यों से सिख धर्म की कमेटियां के प्रधान भाग लेंगे। उन्होंने बताया कि इस मसले को लेकर प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ने वार्ता का न्योता दिया है, वार्ता अप्रैल माह के पहले सप्ताह में होनी है। उन्होंने कहा कि वार्ता में ठोस निर्णय नहीं होने पर आरपार की लड़ाई लड़ी जाएगी। इस दौरान सर्व प्रदेश गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के महामंत्री इंद्रजीत सिंह चुघ और मीडिया प्रभारी कमलजीत सिंह आदि उपिस्थत थे। 

सभी का चहेता, भारत बने विजेता

पौड़ी गढ़वाल। भारत और पाकिस्तान के मैच के लेकर शहर में दिनभर चर्चाओं का बाजार गर्म रहा। दर्शक हर हाल में इंडिया की जीत चाहते हैं। युवाओं में तो मैच को लेकर खासा उत्साह है। इधर पुलिस अधीक्षक ने व्यवस्था चाक-चौबंद करने के आदेश सभी थानाध्यक्षों को दिए हैं। त्रि्ककेट के इस महाकुंभ के महामुकाबले को लेकर सबकी नजरे मोहाली के मैच पर टिकी हुई हैं। विश्व कप त्रि्ककेट के इस माहौल में कुछ युवाओं से बातचीत की गई तो युवाओं में शत प्रतिशत विश्वास नजर आया कि भारत, पाकिस्तान को हर हाल में हराएगा। युवा मुकेश रावत कहते हैं भारत के पास न सिर्फ अच्छे बल्लेबाज हैं, बल्कि गेंदबाजी भी कमाल की है और ऐसे में जीत की भारत होगी। मुकेश ने बुधवार को भारत की जीत तय मानते हुए दोस्तों को पार्टी का न्यौता दिया है। 
 
युवा राहुल कहते हैं कि उन्हें बुधवार ढाई बजे का बेसब्री से इंतजार है। वे कामकाज छोड़कर सिर्फ मैच देखेंगे। त्रि्ककेट विश्वकप के सेमीफाइनल मैच में भारत-पाकिस्तान के बीच खेले जा रहा मैच अत्यंत रोचक होगा और ऐसा अवसर कभी नहीं खो सकते। शुभम कहते हैं कि उनका पूरा परिवार मैच का शौकीन है और बुधवार को घर के सारे काम जल्द निबटा कर मैच का लुत्फ लेंगे। नवीन रावत कहते हैं कि भारत विश्वकप में पाकिस्तान से एक भी मैच नहीं हारा और बुधवार को भी विजयश्री का सेहरा भारत के सिर ही बंधेगा। दूसरी ओर पुलिस अधीक्षक पुष्पक ज्योति ने सभी थानाध्यक्षों को निदेर्श दिए हैं कि मैच के दौरान और बाद में पुलिस की अतिरिक्त गश्त के साथ ही हर क्षेत्र में पैनी नजर रखें ताकि शांति भंग न हो। 

स्वैच्छिक रक्तदान है सबसे बड़ा दानः विजया

गोपेश्वर। स्वैच्छिक रक्तदान विषय पर आयोजित कार्यशाला को संबोधित करते हुए जिला पंचायत अध्यक्ष विजया रावत ने कहा कि स्वैच्छिक रक्तदान जीवन में सबसे बड़ा दान है। प्रत्येक व्यक्ति को रक्तदान कर समाज में अपनी भूमिका निभानी चाहिए। जिला पंचायत सभागार में आयोजित एक दिवसीय कार्यशाला में श्रीमती रावत ने कहा कि रक्तदान के लिए जनता को जागरूक करने की जरुरत है। उन्होंने ग्रामीण क्षेत्रों में रक्तदान शिविर आयोजित कर ग्रामीणों को रक्तदान के लिए प्रेरित करने पर बल दिया। कार्यशाला में सीएमएस डॉ. डीएल शाह ने कहा कि जिला चिकित्सालय में रक्तकोष संचालित किया जा रहा है। पैथोलौजिस्ट डॉ. एके तिवारी ने स्वैच्छिक रक्तदान व रक्तदान करने के दौरान होने वाली औपचारिकताओं पर प्रकाश डाला। उत्तराखंड एड्स नियन्त्रण सोसाइटी की जयंती पाण्डे ने कहा कि बुधवार से नगर के गुरुराम राय व आदर्श विद्या मंदिर इंटर कॉलेज में बच्चों को व्याख्यान देकर जागरूक करेंगी। कार्यशाला में डिप्टी सीएमओ डॉ. बीएस पाल, राकेश सिंह, मदन सिंह, मनवर सिंह, विजय प्रसाद आदि शामिल रहे। कार्यत्र्कम का संचालन बीसी डिमरी ने किया। 

टीम इंडिया की जीत को दुआओं का दौर शुरू

देहरादून। बुधवार को होने वाले वर्ल्ड कप सेमीफाइनल मुकाबले में टीम इंडिया की विजय सुनिश्चित करने के लिए मंगलवार को श्री पृथ्वीनाथ महादेव मंदिर में विशेष प्रार्थना हुई। इस मौके पर खेल प्रेमियों ने कहा कि हमें इस महामुकाबले में खेल भावना का परिचय देते हुए शांति एवं सौम्यता का परिचय देना चाहिए। यही दून का कल्चर भी रहा है। इस मौके पर दिगंबर भागवतपुरी, दिगंबर दिनेशपुरी, रोहित गुप्ता, मनीष गुप्ता आदि ने शिरकत की। 
 

जारी रहेगा वन निगम कर्मचारियों का धरना

देहरादून। स्केलर संवर्ग के उच्चीकरण समेत विभिन्न मांगों को लेकर आंदोलित उत्तराखंड वन विकास निगम ने फिलहाल आंदोलन को शिथिल करने का निर्णय लिया है। अलबत्ता, यहां निगम मुख्यालय पर धरना-प्रदर्शन जारी रहेगा। वन विकास निगम के अध्यक्ष और भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष से हुई वार्ता के बाद संगठन ने यह निर्णय लिया है। संगठन के प्रदेश अध्यक्ष संतोष रावत के मुताबिक संगठन के शिष्टमंडल के साथ हुई वार्ता में निगम के अध्यक्ष ज्योति प्रसाद गैरोला ने मांगों के निराकरण के मद्देनजर दो-तीन दिन के भीतर सरकार व शासन के साथ त्रिपक्षीय वार्ता कराने का भरोसा दिलाया। इसके अलावा भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बिशन सिंह चुफाल ने भी शीघ्र ही सीएम से वार्ता कराकर मांगों का निस्तारण कराने का आश्वासन दिया है। उन्होंने बताया कि संगठन की प्रांतीय कार्यकारिणी की बैठक में निगम और भाजपा अध्यक्षों के आश्वासन को देखते हुए 22 मार्च से चल रहे आंदोलन को फिलहाल शिथिल करने का निर्णय लिया गया। अलबत्ता 31 मार्च तक निगम मुख्यालय के सम्मुख धरना-प्रदर्शन जारी रखा जाएगा। उधर, निगम मुख्यालय के समक्ष जारी धरने में विनोद बहुगुणा, सुभाष पुंडीर, राजेंद्र सिंह आर्य, संजय पांडे, मोहन सिंह चौहान, एमएस गैड़ा, कुंवर सिंह बिष्ट, दिवाकर दत्त बलूनी, जगत सिंह आदि थे। 

प्रधान पर हमले के आरोपी की रिमांड मंजूर

काशीपुर । करीब एक माह पहले ग्राम प्रधान को गोली मार कर घायल करने के आरोप में अतिरिक्त मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में एक आरोपी की पुलिस कस्टडी रिमांड मंजूर की गयी। न्यायिक सूत्रों के अनुसार 24 फरवरी को ग्राम चनकपुर निवासी ग्राम प्रधान सुखविंदर सिंह उर्फ सुक्खा पर कुछ लोगों ने फायर झोंक दिया था। इस मामले में कुलविंदर सिंह पुत्र रक्षपाल सिंह ने अभियुक्त रघुवीर सिंह सागर पुत्र जगरुप सिंह सागर निवासी ग्राम रसूलपुर, टांडा जिला रामपुर समेत दो अन्य को नामजद किया था। अतिरिक्त मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट राजीव लोहान की अदालत में आरोपी के पुलिस कस्टडी रिमांड के प्रार्थना पत्र पर सुनवाई हुई। अदालत ने आरोपी की मंगलवार दोपहर बारह बजे से बुधवार दोपहर बारह बजे तक पुलिस अभिरक्षा रिमांड पर सौंपने का आदेश दिया। जांच अधिकारी रमेश तनवार ने बताया कि आरोपी की निशानदेही पर पिस्टल बरामद कर ली गयी है। 

सड़कों पर कूड़ा फेंकना बनी परम्परा

देहरादून। शहर में प्रतिदिन चार ट्रैक्टर से अधिक कूड़ा जमा होता है जिसे नगर निगम के सफाईकर्मियों द्वारा शहर के ही किसी निचले इलाके में फेंक दिया जाता है। कूड़ा फेंकने का नियत स्थान नहीं होने के कारण सड़कों पर कूड़ा जमा किए जाने की परम्परा वर्षो से चली आ रही है। प्रत्येक दिन सफाई कर्मियों की इस दिनचर्या के बाद भी दिन-दोपहर सड़कों पर कूड़ा देखा जा सकता है। इसका एक मात्र कारण आमलोगों में शहर को स्वच्छ रखने की मानसिकता विकसित नहीं होना है। आबादी वाले इलाके में आम लोग सड़कों पर कूड़ा फेंक कर अपने घर को साफ रखने का दायित्व पूरा कर लेते हैं। जिस कारण सड़कों पर कूड़ा फेंकने की परम्परा बदस्तूर जारी है। फिलवक्त शहर में कूड़े निष्पादन की योजना जैसे-तैसे चल रही है। आम लोगों का सहयोग नहीं मिलने के कारण कूड़े निष्पादन की समस्या शहर के हर गली-मुहल्ले में बढ़ती जा रही है। 

कांग्रेस प्रभारी का उत्तराखंड दौरा 10 को

देहरादून। उत्तराखंड के कांग्रेसी नेताओं से दिल्ली में मुलाकात के बाद अब उत्तराखंड कांग्रेस के नवनियुक्त प्रभारी चै. विरेन्द्र सिंह पर्वतीय प्रदेश का दौरा करंेगे। इस दौरान वह पीसीसी सदस्यों की बैठक लेने के साथ ही कार्यकर्ताओं से भी मुलाकात करेंगे। विदित हो कि उत्तराखंड कांग्रेस में व्याप्त गुटबाजी को समाप्त करवाने में नाकाम कांग्रेस के दिग्गजों में शामिल आर.के. धवन से उत्तराखंड का प्रभार लेने के बाद कांग्रेस हाईकमान ने यह जिम्मेदारी चै. विरेन्द्र सिंह को सौंपी। गुटबाजी समाप्त करते हुए मजबूत सांगठनिक ढांचा तथा आगामी चुनावों में सफलता के उद्देश्य को लेकर गत दिनों दिल्ली में नवनियुक्त प्रदेश प्रभारी चै. सिंह ने उत्तराखंड के कांग्रेसी नेताओं के साथ बैठक की तथा उन्होंने जरूरी दिशा-निर्देश दिये।दिल्ली में इस मुलाकात के बाद अब प्रदेश प्रभारी चै. विरेन्द्र सिंह ने उत्तराखंड का दौरा करने का निर्णय लिया है। आगामी 10 अप्रैल को पर्वतीय प्रदेश में पहुंच रहे चै. सिंह जहां कांग्रेस मुख्यालय में पीसीसी की बैठक लेंगे, वहीं कार्यकर्ताआंे से भी मुलाकात कर उनकी भावनाओं से रूबरू होंगे। बैठक मंे एआईसीसी के सचिव व प्रदेश के सह प्रभारी भक्तचरण दास भी शिरकत करेंगे। कांग्रेस प्रवक्ता राजीव महर्षि ने बताया कि बैठक में कांगे्रस के वर्तमान व पूर्व सांसद, वर्तमान व पूर्व विधायक, पीसीसी सदस्य व सभी जिलाध्यक्ष अपनी उपस्थिति को सुनिश्चित करेंगे। बैठक में आगामी रणनीति पर विचार-विमर्श किया जाएंगा। 

राष्ट्रीय सेवा योजना के अर्तगत आपदा प्रबन्धन पर शिविर का आयोजन

देहरादून। राष्ट्रीय सेवा योजना के अंतरर्गत ग्राफिक एरा विश्वविद्यालय ने सात दिवसीय शिविर का आयोजन किया। इस शिविर का प्रमुख उद्देश्य स्थानीय निवासियों को जल संरक्षण एवं आपदा प्रबन्धन की जानकारी देना है। इस योजना के अंतर्गत कुल 50 छात्र छात्रायें कैंप कर रहे हैं। इस शिविर का उद्घाटन उत्तराखण्ड एन.एस.एस. सम्पर्क अधिकारी डाॅ. आनंद उनियाल ने किया। इस शिविर में 25 छात्र व 25 छात्रायें भाग ले रही हैं।
 
एन.एस.एस. के सदस्य छात्र-छात्राओं ने शिविर स्थल पर तो सफाई की ही साथ ही आस पास के गांवों में जाकर भी सफाई अभियान चलाया। सात दिन तक चलने वाले इस शिविर के जरिए आस पास के कई गावों में जाकर स्थानीय निवासियों को जल संरक्षण और अपादा प्रबंधन की जानकारी दी जानी है। शिविर में भाग ले रहे छात्र छात्रायें भारतीय संस्कृति का प्रसार भी कर रहे हैं। इसी क्रम में  छात्र-छात्रायें और शिक्षक रोजाना योग करके अपने दिन की शुरूआत कर रहे हैं। दिन भर आस पास के गांवों का दौरा कर वो कभी सफाई अभियान चलाते हैं तो कभी आपदा प्रबधन और जल सरंक्षण की जानकारी नुक्क्ड़ नाटक के जरिए देने की कोशिश करते हैं। आपदा प्रबंधन स्थानीय लोगों को जानकारी देने के लिए उत्तराखंड सरकार के आपदा प्रबंधन विभाग के सुश्री भावना कार्की एवं सुश्री अनीता सलारिया पूरी मदद कर रही हैं। इसमें सबसे ज्यादा जरूरी तकनीक सिखाने पर ही ये टोली सबसे काम कर रही है।  शिविर के अन्र्तगत छात्र-छात्राआंे की टोली ने महर-का-गांव के जूनियर हाई स्कूल में जाकर, वहां के बच्चो को श्रमदान एवं रोजगार परख शिक्षा के प्रति जागरूक किया। ग्राफिक एरा विश्वविद्यालय एन.एस.एस. अधिकारी ए. एस. शुक्ला, प्रशासनिक अधिकारी-जीईयू डी. एस. रावत, प्रो.आनन्द मित्तल, अभिशेक अग्रवाल, पारूल मदान एवं तनुश्री मित्तल सहित तमाम कार्यकर्ता इस कैंप  शिविर की योजनाओं मे उत्साह पूर्वक भाग ले रहें है।
 

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल ने उत्तराखण्ड के राज्यपाल से की मुलाकात

देहरादून। पश्चिम बंगाल के राज्यपाल एम.के.नारायणन के आज राजभवन आगमन पर उत्तराखण्ड की राज्यपाल श्रीमती माग्र्रेट आल्वा ने पुष्प गुच्छ भेंट कर उनका स्वागत किया। अनौपचारिक मुलाकात के दौरान नारायणन ने श्रीमती आल्वा के पति निरंजन आल्वा सहित उनके अन्य परिजनों के साथ भी मुलाकात की। राज्यपाल नारायणन ने आज लाल बहादुर शास्त्री प्रशासनिक अकादमी, मसूरी में अखिल भारतीय प्रशासनिक सेवा के 2010 बैच के प्रशिक्षु अधिकारियों के व्यावसायिक पाठ्क्रम के प्रथम सत्र को सम्बोधित किया, जिसके लिए वे कल ही मसूरी पहुॅच चुके थे। राज्यपाल श्रीमती माग्र्रेट आल्वा ने नारायणन को स्मृति चिन्ह के रूप में पवित्र धाम श्री बद्रीनाथ मंदिर की प्रतिकृति भेंट की। 

विवाहिता से घर मंे घुसकर सामूहिक बलात्कार

देहरादून। कालसी क्षेत्र में घर मंे घुसकर एक विवाहित महिला से बलात्कार करने का मामला प्रकाश में आया है। पति ने द¨ ल¨ग¨ं के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस के अनुसार द¨नांे आरोपी अ ी फरार हैं। पुलिस मामले की जांच कर रही है।
 
कालसी थाना क्षेत्र में एक महिला के साथ सामूहिक बलात्कार किया। क¨टी काॅल¨नी इछाड़ी निवासी सुरेश ने पुलिस क¨ दी गयी शिकायत में बताया कि कल दिन में हाईडिल कर्मचारी मदन एवं उसका साथी ूपेश उसके घर में घुस आए अ©र इन ल¨ग¨ं ने उसकी पत्नी क¨ अकेला देख कर उसके साथ छेड़छाड़ शुरू कर दी। बाद में द¨न¨ं ने उसके साथ बलात्कार किया एवं इस बात की जानकारी किसी क¨ देने के एवज में देख लेने एवं जान से मारने की धमकी दी। इधर पत्नी ने अपने पति सुरेश वर्मा क¨ इस घटना की जानकारी दी। सुरेश की शिकायत पर पुलिस ने मदन एवं ूपेश के खिलाफ बलात्कार एवं जान से मारने की धमकी देने का मामला दर्ज किया है। वहीं कालसी पुलिस का कहना है कि पूरे मामले की जांच की जा रही है। फिलहाल आरोपिय¨ं की गिरफ्तारी नहीं हो पाई है। पुलिस मामले क¨ आपसी रंजिश से ी ज¨ड़ कर देख रही है।

एनएसयूआई ने भारत की जीत के लिए गंगा में किया दुग्धाभिषेक

ऋषिकेश। एनएसयूआई के छात्रों ने भारत पाकिस्तान के बीच होने वाले सेमीफाइनल में भारत की जीत की कामना को लेकर गंगा जी में 11 किलो दूध का अभिषेक किया एनएसयूआई के नगर अध्यक्ष दिवाकर गुप्ता के संचालन में आयेाजित कार्यक्रम के दौरान उन्होने कहा कि सच्चा भारतीय देशभक्ती के कारण हमेशा भारत की जीत की मंगल कामना करता रहा है इसी के चलते संगठन ने क्रिकेट को भी भारत के आत्मसम्मान से जोड़ा है इसी कामना को लेकर गंगाजी में 11 किलो दूध का अभिषेक किया गया है इस अवसर पर आनन्द नकोटी, योगेश नैथानी, जसवीर नकोटी, सुभाष चैहान, मनोज थपलियाल,भूपेन्द्र, सुरेन्द्र रावत, सुनील थापा, कविन्द्र जोशी, ऋषिराज नीरज, अजय शिवामोहन, पंकज उनियाल आदि उपस्थित थे।

जहरखुरानी घटना के विरोध में निगम महाप्रबन्धक को ज्ञापन सौंपा

ऋषिकेश। जिला युवा काग्रेंस टिहरी गढ़वाल द्वारा रोडवेज परिवहन निगम के महाप्रबन्धक को एक ज्ञापन देकर बसों में सक्रिय जहरखुरानी गिरोह के प्रति सक्रिय रहने का आहवान किया कमलेश पैन्यूली व अरविन्द भटट द्वारा सयुंक्त रूप् से दिये गये ज्ञापन मंे कहा गया है कि उतराखण्ड डिपो में ऋषिकेश आने वाले यात्रियों के साथ आये दिन बस में बेहोश  कर लूटपाट करने वाला गिरोह सक्रिय रहता है जिससे जान व माल से यात्रियों को हाथ धोना पड़ता है जिसमें रोडवेज कर्मियों की भूमिका भी सदिग्ध लग रही है क्योंकि कर्मी मुफ्त के भोजन के चक्कर में बसों को ऐसे ढाबो मंे रोक रहे हैं जहां यात्रियों को ढाबे के कर्मचारियों द्वारा जहर दिया जा रहा है जिसे खाकर वह बेहोश हो जाते हैं और बस में पहले से सवार लूटेरे यात्रियों का माल साफ कर रफुचक्कर हो जाते है। ज्ञापन में कहा गया है कि यदि इसी प्रकार यात्रियों का सामान लूटा जाता रहा तो रोडवेज की साख तो गिरेगी ही साथ ही मरने वालो का आकंडा भी बढ़ जायेगे। उक्त घटनाओ को न रोका गया तो युवा काग्रेंस को आन्दोलन के लिए बाध्य होना पड़ेगा। ज्ञापन देने वालो मे ंरविन्द्र ब्रहमचारी ,दिवाकर गुप्ता, सेानू चैहान, आनन्द नकोटी, जितेन्द्र सिहं जसवीर नकोटी विनोद खण्डूरी नितिन सक्सेना, सुरेन्द्र रावत आदि लोग थे।

हरियाणा की आठ महिलाओ को पकड़ा

ऋषिकेश। संदिग्ध परिस्थितियों में  लक्ष्मणझूला थाना पुलिस ने चोरी की आशंका के मददेनजर घुमते हुए  हरियाणा की आठ महिलआो केा हिरासत मे ंलिया है। पुलिस के मुताबिक उनसे पूछताछ चल रही हैं। पुलिस के मुताबिक दो दिन पहले स्वर्गाश्रम क्षेत्र मे ंएक आश्रम में चल रही भागवत कथा के दौरान दिल्ली की एक श्रद्धालु महिला के गले से चेन चोरी हो गई थी। इस मामले मे कथा पंडाल में संदिग्ध नजर आ रही आठ महिलाओ को शक के आधार पर हिरासत में लिया है। लक्ष्मणझूला थानाध्यक्ष ने बताया कि सभी महिलाएं जमुनानगर हरियाणा की रहने वाली है। उनसे गहनता से पूछताछ चल रही है।
 

मन्दिर से गायब दानपात्र खेत में खाली मिला

ऋषिकेश। अज्ञात चोरों ने ग्राम सभा प्रतीत नगर स्थित सोमेश्वर मंदिर में रखा दानपात्र चुरा लिया। सुबह मंदिर के गेट का ताला टूटा देख ग्रामीण भौंचक्के रह गए। हालाकिं मंदिर में रखी मूर्तियां ,घंटे सहित धातु के सामान सुरक्षित थे लेकिन वहां रखा दानपात्र गायब मिला। जिसकी सूचना वार्ड सदस्य महेश्वरी देवी ने ग्राम प्रधान और स्थानीय थाने में दी। खोजबीन करने पर दानपात्र मंंिदर के निकट एक खेत में पडा मिला। दानपात्र का ताला टूटा था और वह खाली थी। दानपात्र में रखी धनरााशि का सही आकलन नहीं हो पाया। वहीं पुलिस ने क्षेत्र में चोरी की किसी घटना से इंकार किया है। ग्रामीणो के अनुसार पहले भी इस मंदिर मे ंचोरी की घटनाएं हो चुकी है।

साढे छब्बीस करोड़ का रखा प्रस्तावित बजट

ऋषिकेश। मई माह में प्रारम्भ होने वाली विश्वविख्यात गढ़वाल स्थित बदरी-केदार  यात्रा की तैयारी को लेकर श्री बदरीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति की बैठक में दोनो धामांे के लिए नए वित्तीय वर्ष में यात्री सुविधाएं जुटाने के साथ  26 करोड़ ,53 लाख 94 हजार का प्रस्तावित बजट रखा गया है।
 
मंदिर समिति के स्थानीय प्रचार कार्यालय से समिति अध्यक्ष अनुसूया प्रसाद भटट की अध्यक्षता में हुई बैठक में 26करोड 53 लाख 94 हजार 864 रूपये का प्रस्तावित बजट पेश किया गया। जिसमें श्री बदरीनाथ धाम केे लिए अनुमानित बजट का प्रस्ताव रखा गया बैठक में समिति अध्यक्ष अनुसूया प्रसाद भटट ने बताया कि बजट में दोनो धामो में यात्री सुविधाएं बढ़ाने का विशेष प्रावधान रखा गया है। तीर्थयात्रियों के लिए निशुल्क रैन बसेरा और धर्मशालाओ का निर्माण भंडारा गर्म पेयजल की मशीने लगाने बद्रीश वन योजना जड़ी बूटी संरक्षण ,आयुर्वेदिक दवाओं का उत्पादन गरीब यात्रियों के राशन की व्यवस्था ,संस्कृत विद्यालयों का प्रचार प्रसार पाॅलीथीन उन्मूलन आदि प्रस्ताव शमिल हैं समिति के मुख्य कार्यधिकारी प्रवेशचंद्र डंडरियाल ने बताया कि इस वर्ष श्री बदरीनाथ धाम के कपाट नौ मई और श्री केदारनाथ धाम के कपाट आठ मई को खुलेगें। उन्होेन बताया कि कपाटोदधाटन से पूर्व सभी व्यवस्थाएं दुरूस्त करा दी जांएगी । बताया कि अपै्रल माह के दूसरे सप्ताह में दोनो धामो में समिति के अग्रिम दल पहुच जाएंगे। बैठक में उप मुख्य कार्याधिकारी जगदंबा प्रसाद नंबूरी, कार्याधिकारी अनिल शर्मा, विशेष कार्याधिकारी जनसंपर्क एएस नेगी, हरीश गौड़, समिति के सदस्य हरीश डिमरी, सतीश जोशी, मधु भटट अनीता जीना, सुनीता शुक्ला, बचन सिंह रावत, राजेंद्र डबराल, केशव थपलियाल, गुलाब ंिसह, दयाराम पुरोहित, प्रचार अधिकारी एनपी जमलोकी, एई गजेंद्र रावत ,अनिल ध्यानी, गिरीश देवली, विपिन तिवारी, राजन नैथानी, डा0 हर्षवर्धन बेंजवाल आदि मौजूद थे।
 

सबका सपना विश्व कप हो अपना

देहरादून। विश्व कप त्रि्ककेट का जुनून सभी पर सर चढ़ कर बोल रहा है। गली कूचे से लेकर कार्यालयों तक में भारत व पाकिस्तान के बीच सेमी फाइनल मुकाबले को लेकर चर्चाएं आम हैं। क्या बच्चे क्या बूढ़े, सभी की आंखों में भारत को विश्व कप का ताज पाते देखने का सपना है।
 
भारत की विजय को लेकर सट्टा व्यापारियों का बाजार भी खासा गर्म है। चौके छक्के से लेकर खिलाड़ियों के हरफनमौला प्रदर्शन को लेकर कयास लगाए जा रहे हैं। विश्व कप को लेकर हर वर्ग े लोगो की जब अलग-अलग राय पूछी गई तो सभी की आंखे जोश से भरी जवाब दे रही थी । गृहणी मीनाक्षी का कहना है कि विश्व कप के लीग मुकाबलों में भारतीय खिलाड़ियों का प्रदर्शन सराहनीय रहा है। सेमी फाइनल मुकाबले में सचिन अपना शतकों का शतक पूरा करेंगे। वही अतुल जो पेशे से व्यापारी है कहते है कि भरतीय बल्लेबाजों को त्र्कीज पर जम कर खेलना चाहिए। दबाव में न आकर वे बड़ा स्कोर बनाएं। खिलाड़ियों को क्षेत्र रक्षण में उम्दा प्रदर्शन कर रन लेने का अवसर न दें। समाजसेवी रोहित बिजल्वाण कहते है कि भारतीय खिलाड़ियों के पास विश्व कप जीतने का यह सुनहरा अवसर है। अपनी गृह पिचों पर भारतीय खिलाड़ियों का प्रदर्शन हमेशा उत्कृष्ट रहा है। भारत सेमीफाइनल मुकाबला जरूर जीतेगा। हर देश प्रेमी की ख्वाहिश है कि विश्व कप अपने देश आए।
 
भारतीय टीम में हाल में खेले गए मैचों में जोरदार प्रदर्शन किया है। बुधवार को होने वाले सेमीफाइनल मुकाबलों में एक बार टीम अपना जौहर दिखाएगी। उनका कहना है कि भारतीय खिलाड़ियों को पाकिस्तान की हर कमजोरी का लाभ उठाना चाहिए। बल्लेबाजी, गेंदबाजी व क्षेत्ररक्षण में सभी को अव्वल प्रदर्शन करना होगा। शिक्षक े पद पर कार्य करने वाले मनोज कहते है कि सेमीफाइनल मुकाबले में जीत का दारोमदार मध्य त्र्कम के बल्लेबाजों पर होगा। भारतीय गेंदबाजों को अधिक रन नहीं देने चाहिए। सचिन की मौजूदगी में भारत विश्व कप पर अपना परचम लहराएगा। भारतीय खिलाड़ी उत्साह से लबरेज है। खिलाड़ियों का जुनून विश्व कप हासिल करकेही शांत होगा। करोड़ों देशवासियों की दुआएं भारतीय खिलाड़ियों के साथ है। मोहाली का मैदान भारतीयों के लिए काफी सफल रहा है। सेमीफाइनल मुकाबला भारत की झोली में होगा।क्योकि धोनी के नेतृत्व में खिलाड़ियों मे गजब का उत्साह है। लक्ष्य हासिल करने के लिए जोश व जुनून की खिलाड़ियों में कमी नही है। 
 

पुनः नियुक्ति पर शिव सेना में उबाल

देहरादून। एड्स समिति के बखार्स्त अधिकारी का दोबारा नियुक्ति देने के विरोध में शिव सेना का एक शिष्ट मण्डल एड्स समिति से मिला और ज्ञापन िदया। 
 
शिव सेना के अनुसार उक्त अधिकारी द्वारा हल्द्वानी जनपद नैनीताल में सार्वजनिक रूप से अपने धर्म की मिशनरी रणनीति के तहत हिन्दू देवी देवताओं का अपमान किया गया। उस समय भी शिव सेना ने प्रबल विरोध किया था। शिव सैनिकों के अनुसार यह सब ईसाई मिशनरी द्वारा चलाया जा रहा कुत्सित प्रयास है। ज्ञापन देने वालों में देवेन्द्र सिंह, विरेन्द्र रावत, नितान्त गुप्ता, राहुल चौहान, पंकज चांदना, रोहित बेदी, शुभम गौर, संदीप चौधरी सहित अन्य शामिल थे। 
 

प्रशिक्षित बेरोजगार की धमकी से फूले हाथ-पांव

देहरादून। बीएड-बीपीएड प्रशिक्षित बेरोजगार संगठन के कार्यकर्ताओं में शामिल बीएड प्रशिक्षित मनवीर रावत, मुरलीधर डंगवाल, राकेश नौटियाल ने मांगो को लेकर बन्नू कालोनी में पानी की टंकी पर चढ़कर पिछले शुक्रवार की रात से ही बवाल मचाया हुआ है। सुबह राकेश नौटियाल ने ऊपर से धमकी दे डाली कि मांगे पूरी न होने की दशा में वह दोपहर को टंकी से कूद जाएगा। सुरक्षा के मद्देनजर पुलिस ने टंकी के नीचे जाल लगा िदया। उन्हें नीचे उतारने की कवायदें खबर लिख्ो जाने तक जारी थी। 
 
प्रदेश के विभिन्न स्थानों से आए प्रशिक्षित बेरोजगारों ने भी बन्नू कालोनी में मौके पर ही धरना देना जारी रखा हुआ है। ऊपर चढ़े बेरोजगारों को नीचे उतारने का प्रयास करने के लिए एसएसपी, एसडीएम, सीओ सिटी, मौके पर ही मौजूद थे। सुबह ही शिक्षामंत्री गोविन्द सिंह बिष्ट भी मौके पर पहुंचे। पुलिस ने टंकी के नीचे का हिस्सा अपने कब्जे में ले लिया है। इधर बीएड-बीपीएड प्रशिक्षित बेरोजगारों के संगठन ने कहा कि विशिष्ट बीटीसी के आठ हजार पदों पर वर्ष 2006 के शासनादेश के अनुसार विज्ञिप्त का शासनादेश जल्द जारी किया जाए। मांगों को लेकर टंकी पर चढ़े कार्यकर्ताओं को आज पांचवा िदन है। टंकी के नीचे आमरण अनशन पर बैठे बेरोजगारों में प्रदेश अध्यक्ष बलदेव भण्डारी, दीपक चौहान, जोध सिंह मनोला, अंकित शर्मा, अमित कश्यप आिद शामिल थे। महिला बेरोजगारों ने भी आंदोलन को समर्थन िदया है। िदया हटवाल, शांति सेमवाल, पुष्पा पंवार, सुलोचना उनियाल, आरती रावत, सरस्वती रावत, चन्द्रमा देवी तथा सुनिता काला सहित अन्य महिला कार्यकर्ता भी मौके पर ही धरने पर बैठी हुई थीं। 

पूर्व अभियंन्ता के घर हुई लूट का खुलासा : शातिर नौकर सहित 2 गिरफ्तार

देहरादून। डालनवाला क्षेत्र के तेगबहादुर रोड पर बीती 16 फरवरी की शाम को हुई लूट की घटना से पदार हटाते हुए पुलिस ने वारदात को अंजाम देने वाले मुख्य आरोपी शंकर सहित एक अन्य को गिरफ्तार कर लिया है। घटना के बाद से ही पुलिस आरोपियों को गिरफ्तार को लेकर सुरागकसी में जुटी हुई थी।
 
मोबाइल सर्विलांस की मद्द से डालनवाला पुलिस ने आरोपियों को शिकंजे में लेने में कामयाबी हासिल की है। पिछले िदनों ही सुभाष रोड में अब तक की सबसे बड़ी मोबाइल चोरी में डालनवाला पुलिस ने नौ शातिर चोरों को गिरफ्तार कर अपनी काबिलियत का परिचय िदया था। तेग बहादुर रोड में सागर चन्द गुप्ता पीडब्ल्यूडी विभाग से अधीक्षण अभियंता के पद से सेवानिवृत्त होने के बाद पत्नी कांता गुप्ता के साथ मकान में रह रहे थे। उनका एक बेटा िदल्ली व दूसरा विदेश में नौकरी करते हैं। मात्र ग्यारह िदनों पहले ही सागर दंपति ने नेपाल के रहने वाले शंकर उम्र 21 वर्ष को घरेलू कार्यों के लिए नौकरी पर रखा हुआ था। 16 की शाम बेटे मनीष ने घर पर फोन न उठने पर किराएदार को सूचना दी। किराएदार ने नीचे कमरे में सागर दंपति को बेहोश देखा। उन्हें सीएमआई अस्पताल में भरती कराया गया था। डालनवाला पुलिस भी मौके पर पहुंची और जांच में पाया गया कि शंकर ने उन्हें दोपहर के भोजन में नशीला पदार्थ खिला िदया। बेहोश होने के बाद शंकर अपने साथी के सहयोग से कीमती जेवरात व नकदी लेकर भाग निकला। पुलिस सूत्रों की माने तो लूट को अंजाम देकर शंकर कुछ िदन दून में ही छिपा रहा। मकान मालिक के पास शंकर को फोटो, मूल पता आिद न होने के चलते पुलिस को जांच में बाधाएं आई। किन्तु मौके पर मिले कुछ महत्वपूर्ण सुरागों को आधार बनाकर पुलिस ने शातिर लुटेरों को गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल कर ही ली। सीओ डालनवाला परमेंद्र सिंह डोबाल तथा एसओजी प्रभारी मुकेश त्यागी के नेतृत्व में थाना पुलिस व खुफिया इकाई के बलों ने यह कामयाबी हासिल की है। शाम को आरोपियों को कोर्ट में पेश किया जा सकता है। 
 

बाईक में ढोई जा रही थी शराब

देहरादून। पटेलनगर पुलिस ने शराब तस्करी करते दो युवकों को गिरफ्तार किया है। तस्करी में लिप्त दुपहिया सीज कर दोनों आरोपियों को कोर्ट में पेशी के बाद जेल भेज िदया गया। सिपाही संदीप व डबल सिंह लाल पुल के पास थे। बाईक संख्या यूए07ए-8715 में दो युवकों को आता देख संदेह होने पर उन्हें रूकवाया गया। तलाशी में वाहन में अवैध शराब का जखीरा बरामद हुआ। युवकों की पहचान पुलिस ने अर्जुन कुमार पुत्र प्रेम सिंह तथा गौरव पुत्र अशोक निवासी निरंजनपुर चक्की टोला पटेलनगर के रूप में की है। 

गौ तस्करी में 1 गिरफ्तार, 2 फरार

देहरादून। लोडर वाहन में गाय का बच्चा लदा देख पुलिस ने वाहन रूकवा लिया। चालक को हिरासत में लिया गया, वाहन सवार दो युवक पुलिस की सुरक्षा दीवार तोड़कर भागने में कामयाब रहे। डोईवाला पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार करने के बाद फरार युवकों की तलाश में तेजी िदखानी शुरू कर दी है। दून में जानवर चोरी की बढ़ती घटनाएं चिंतनीय होती िदखाई पड़ रही हैं। पुलिस ने भी जानवर चोरों को दबोचने के लिए कठोरता बरतनी शुरू की हुई है। बीती रात डोईवाला आईटीआई के निकट लोउर संख्या यूए07-1386 में गाय का बच्चा लदा देख पुलिस ने वाहन को रूकवा लिया। चालक मंगल सिंह उम्र 28 पुत्र मोहन सिंह निवासी डोईेह्लाला को गिरफ्तार कर लिया गया। इस दौरान मोहम्मद इलियास तथा फरमान भागने में कामयाब रहे। पुलिस ने बताया कि सड़क पर से गाय के बच्च्ो को चोरी से उठाकर ये लोग जानवरों के हॉट में बेचने के लिए ले जा रहे थे। गौवंश संरक्षण अधिनियम की धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज करने के बाद पुलिस ने आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है। 

लोडर चालक पर हत्या का मुकदमा

देहरादून। लोडर की टक्कर से महिला गम्भीर रूप से घायल हो गई थी। अस्पताल में उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई थी। पीड़ित परिजनों ने लोडर चालक के खिलाफ बसंत विहार थाने में गैर इरादतन हत्या का मुकदमा दर्ज करवा िदया है। पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। घटना बल्लीवाला चौक के पास बीती 21 मार्च की देर शाम को हुई थी। कांवली रोड में रहने वाली बीना पत्नी विक्रम सिंह को चौक पर सड़क पार करते समय छोटा हाथी वाहन ने तेजी व लापरवाही से वाहन चलाते हुए अपनी चपेट में ले लिया था। वाहन चालक मौका पाकर भाग निकला था। सिपाही हरदयाल सिंह व संजीत सिंह ने घायल हालत में बीना को सीएमआई अस्पताल में भरती कराया था। उपचार के कुछ मिनटों में ही बीना की मौत हो गई थी। प्रयासों के बाद भी अब तक आरोपी चालक की पहचान नहीं हो सकी है। 
 

घर के सामने से बाईक चोरी

देहरादून। कैंट क्षेत्र में वाहन चोरों ने दस्तक दी है। अनारवाला निवासी विजय बहादुर गुरूंग पिछले िदनों क्षेत्र के ग्राम प्रधान के घर गया था। प्रधान के मकान के बाहर खड़ी उसकी बाईक चोरों ने उड़ा ली है। पुलिस में दर्ज कराए मुकदमें में विनय ने बताया कि बाईक संख्या यूपी07एच-1753 लेकर वह ग्राम प्रधान के पास किसी कार्य से गया था। लौटने पर गेट के ठीक सामने खड़ी बाईक गायब पाई गई। लोगों से पूछे जाने पर भी चोरी गई बाईक के विषय में कुछ पता नहीं चल सका। 
 
दूसरी तरफ बसंत विहार क्षेत्र के आदर्शनगर स्थित चोरखाला के पास से मोहम्मद हुसैन निवासी डाकरा बाजार की बाईक संख्यायूए07क्यू-3707 को चोर ले उड़े हैं। दोनों ही मामलों में संबंधित पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है। 
 

चरस तस्करी करता युवक शिकंजे में

देहरादून। डोईवाला पुलिस ने नशे के सामान की तस्करी करते युवक को गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की है। एसआई दयाल सिंह की तरफ से थाने में उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाया है। कोर्ट में पेशी के बाद आरोपी को जेल भेज िदया गया है। पुलिस के जवान सोहन सिंह व इक्तिकार तेलीवाला स्थित रेलवे पाटक के पास गश्त पर थे। इस दौरान संदेह होने पर वहां खड़े युवक को कब्जे में लिया गया। तलाशी में उसके पास 120 ग्राम चरस अलग-अलग पुड़ियाओं में बरामद हुई। थाने लाकर हुई पूछताछ में उसने अपना नाम हंसोवाला निवासी अनिल कुमार पुत्र चिरंजीलाल बताया। पुलिस ने बताया कि बरेली व अन्य स्थानों से नशीला पदार्थ लाकर वह क्षेत्र में लोगों को सप्लाई करने में लिप्त रहा था। पूछताछ में गिरोह के अन्य नामों के बारे में भी पता चला है। पुलिस इस तरफ दबिशें दे रही है। 
 

बाईक सवारों ने फिर छीनी चेन

ऋषिकेश । राजधानी के अलग-अलग स्थानों में चेन छीनने का सिलसिला जारी है। ऋषिकेश थाना क्षेत्र के अंतर्गत युवती से चेन छीनने की घटना को अंजाम देकर बाईक सवार युवक आसानी से भाग निकले। हालांकि घटना के समय लोगों ने उनका पीछा किया, किन्तु हाई स्पीड बाईक के आगे उनकी नहीं चल सकी।
 
पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। गंगानगर गुलाटी प्लाट में रहने वाले सुशील सिंह की पुत्री श्वेता बीते रोज किसी कार्य से तिलक रोड गई थी। इस दौरान पीछे से आते लाल रंग की पल्सर बाईक सवार दो युवकों ने पीछे से उसके गले पर झपट्टा मारकर सोने की चेन खींच ली। शोर मचाने पर कुछ युवकों ने बाईक सवारों का पीछा किया। गलियों में होते हुए बदमाश कहीं गुम हो गए। वायरलेस पर प्रसारित सूचना के बाद थाना पुलिस के जवान मौके पर पहुंचे। बैरियरों में वाहनों की चेकिंग का अभियान छेड़ा गया। सुशील सिंह की तहरीर पर पुलिस ने अज्ञात युवकों के खिलाफ संबंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज कर आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है। बताना है कि चंद िदनों पहले ही डालनवाला क्षेत्र के बहल चौक पर लाल रंग की बाईक सवार दो युवकों ने ठीक इसी तरह पोस्टऑफिस कर्मचारी महिला से चेन छीनने की घटना को अंजाम िदया था। 

छात्र संघ सचिव के विरुद्ध भी रिपोर्ट दर्ज

रुद्रपुर। प्रवेश पत्र को लेकर बीते दिन छात्रों में हुई मारपीट के मामले में पुलिस ने दूसरे पक्ष की तरफ से भी प्राथमिकी दर्ज कर ली है। इसमें छात्र संघ सचिव व दो अन्य साथियों पर मारपीट कर जान से मारने की धमकी देने का आरोप लगाया गया है। मलिक कालोनी निवासी पूर्व छात्र नेता सुशील गावा ने पुलिस को दी तहरीर में कहा था कि वह सोमवार को परिजनों का प्रवेश पत्र लेने महाविद्यालय गए थे। उसी बी छात्र संघ सचिव पारस चुघ व उसके दो अन्य साथियों से उनके साथ मारपीट की और उन पर चाकू से हमला कर दिया। साथ ही जान से मारने की धमकी भी दी। तहरीर के आधार पर पुलिस ने पारस चुघ व दो अन्य पर धारा 323, 324, 504 व 506 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया। इधर सोमवार को छात्र संघ सचिव पारस चुघ की तहरीर पर छात्र संघ अध्यक्ष सुरेद्र सिंह छिंदा, पूर्व छात्र नेता सुशील गावा व लखवीर सिंह लक्खा के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज किया गया था। 

मुख्यमंत्री डा. रमेश पोखरियाल निशंक भारतीय नेपाली ब्राहमण समिति की रजत जयंती कार्यक्रम में शामिल हुए

मुख्यमंत्री डा. रमेश पोखरियाल निशंक मंगलवार को गोर्खाली सुधार सभा गढ़ी कैन्ट, देहरादून में आयोजित भारतीय नेपाली ब्राहमण समिति की रजत जयंती कार्यक्रम में शामिल हुए। 

इस अवसर पर मुख्यमंत्री डाॅ. निशंक ने कहा कि नेपाली ब्राह्मण समाज ने उत्तराखण्ड के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। उन्होंने कहा कि किसी भी सामाजिक संगठन का मुख्य दायित्व अपने सदस्यों के कल्याण के साथ ही समग्र समाज, राज्य एवं राष्ट्र का सर्वांगीण विकास होना चाहिए। उत्तराखण्ड देश का तेजी से विकसित होता हुआ राज्य है, जिसने अपनी स्थापना के एक दशक में विभिन्न क्षेत्रों में सफलता के नये कीर्तिमान स्थापित किये हैं। राज्य जहां पर्यावरण संरक्षण में देश का नम्बर 1 राज्य है, वहीं शिक्षा के क्षेत्र में यह तेजी से देश-दुनिया में अपनी पहचान शिक्षा हब के रूप में बना रहा है। उन्होंने कहा कि हमने स्नातक तक की शिक्षा निशुल्क कर दी है। सरकार ने समाज के सभी वर्गो के लिए विभिन्न कल्याणकारी योजनाएं शुरू की है। मुख्यमंत्री डाॅ. निशंक ने कहा कि अटल खाद्यान्न योजना के अन्तर्गत गरीबों को दो रुपये किलो गेहूं और तीन रुपये किलो चावल तथा एपीएल परिवारों को चार रुपये किलो गेहूं और छः रुपये किलो चावल दिया जा रहा है। गांवों के विकास के लिए हम प्रत्येक न्याय पंचायत में अटल आदर्श ग्राम की स्थापना कर रहे हैं। स्वास्थ्य के क्षेत्र में हमारी 108 आपातकालीन सेवा ने जहां एक ओर सफलता के नये रिकार्ड बना लिये हैं, वहीं दूसरी ओर सरकार ने डाॅक्टरों की कमी को दूर करने के लिए कई नये मेडिकल कालेज खोलने का निर्णय लिया है। पैरामेडिकल स्टाफ की कमी को दूर करने के लिए नये नर्सिंग कालेज खोले जा रहें है। सरकार प्रदेश के युवाओं के हाथ में रोजगार देने के लिए प्रतिबद्ध है। 
इस अवसर पर भाजपा नेता सुभाष शर्मा, गोर्खाली सुधार सभा के पदाधिकारीगण आदि उपस्थित थे। 
 

जबरन काट ली गेहूं की फसल

उधमसिंहनगर। बिगराबाग गांव में आधा दर्जन से अधिक लोगों ने आठ बीघा भूमि में लगी गेहूं की कच्ची फसल जबरन काट ली। पीड़ित महिला ने अधपकी फसल काटकर भूमि पर कब्जा करने का आरोप लगाते हुए आधा दर्जन लोगों के खिलाफ नामजद तहरीर दी है। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। 
 
बिगराबाग की गोरी देवी ने पुलिस को बताया कि उसके पति की मृत्यु हो चुकी है। उसके ससुर ने उसे आजीविका चलाने के लिए आठ बीघा भूमि वसीयत की थी। उस आठ बीघा भूमि पर वह 25 वर्षो से खेती किसानी कर रही है। सोमवार को सुबह आधा दर्जन से अधिक लोग खेत में लगी गेहूं की खड़ी फसल को कटवा रहे थे। जब वह गेहूं काटने का विरोध करने लगी तो उन्होंने धमकाते हुए जान से मारने की धमकी दी। और उसकी कच्ची फसल को उसके आंखों के सामने काट डाली। पीड़ित महिला ने पुलिस को तहरीर देकर आरोपियों के खिलाफ कारर्वाई की मांग की। जिस पर प्रभारी कोतवाल आरएस डांगी ने दोनों पक्षों से शांति व्यवस्था बनाए रखने की हिदायत दी। पुलिस क्षेत्राधिकारी डीसीएस रावत ने कहा कि पीड़ित महिला की तहरीर पर जांच कराई जा रही है। दोषी पाए जाने वालों के खिलाफ सख्त कारर्वाई की जाएगी। इस मौके पर सुदेशपाल चौधरी, रमेश राना आदि मौजूद थे। 

गंगा में डूबे छात्र का नही लगा सुराग

ऋ षिकेश। गंगा में डूबे एमबीए के छात्र का दूसरे दिन भी कुछ पता नहीं चल पाया है। उधर, छात्र के पिता ने हत्या की आशंका जताते हुए पुलिस को तहरीर दी है। 
 
गौरतलब है कि रविवार सायं गाजियाबाद स्थित एक संस्थान के एमबीए के छह छात्रों का दल ऋ षिकेश घूमने पहुंचा था। लक्ष्मणझूला के निकट नीम बीच पर गंगा में नहाते समय दुगई स्टेट भवाली नैनीताल निवासी ध्रुव भट्ट (21) पुत्र हेमचंद्र भट्ट गंगा में डूब गया था। काफी खोजबीन के बाद भी उसका कुछ पता नहीं चल पाया। ध्रुव एमबीए द्वितीय वर्ष का छात्र था। सूचना पाकर रविवार देर रात ध्रुव के पिता लक्ष्मणझूला थाने पहुंचे। सोमवार को उन्होंने लक्ष्मणझूला पुलिस को तहरीर देते हुए मामले को नया मोड़ दे दिया। तहरीर में कहा गया है कि ध्रुव के दोस्तों से पूछताछ में उन्हें जो जानकारी दी गई, उससे संदेह हो रहा है। उन्हें बताया गया कि ध्रुव अपने दोस्त के साथ 27 मार्च को ऋ षिकेश आया था। वह एक स्थानीय होटल में रुके, जहां उनकी मुलाकात अन्य साथियों से हुई। उन्हें बताया गया कि 28 मार्च को धु्रव कुछ साथियों को छोड़ने रायवाला भी गया था। इसके बाद वह फिर लक्ष्मणझूला पहुंचा और एक निर्जन स्थान पर गंगा में नहाते समय डूब गया। उन्हें यह बताया गया था कि धु्रव का मोबाइल भी गंगा में डूब गया, जबकि घटनास्थल से बरामद धु्रव के कपड़े व अन्य सामान के साथ मोबाइल फोन भी था। उन्होंने बताया कि राफ्टिंग कर रहे लोगों व उसके दोस्तों ने धु्रव के मोबाइल पर फोन किया तो फोन किसी अनजान व्यक्ति ने उठाया। मंडी समिति हरिद्वार के यूनियन सचिव हेमचंद्र भट्ट ने धु्रव के साथियों पर हत्या की आशंका जताते हुए पुलिस से कारर्वाई की मांग की। समाचार लिखे जाने तक मामले में मुकदमा दर्ज नहीं हो पाया था। हेमचंद्र ने संस्थान की भूमिका पर भी संदेह जताया है। 

वर्ल्ड कप में भारत की जीत की दुआए मांगी

देहरादून। 30 मार्च को होने वाले वर्ल्ड कप सेमीफाइनल मुकाबले में भारत की जीत सुनिश्चित करने के लिए माता वैष्णो देवी गुफा मंदिर में सोमवार को विशेष पूजा अर्चना हुई। इस मौके पर तीन दर्जन से अधिक बच्चों को खेल सामग्री भी बांटी गई। मंदिर के अधिष्ठाता आचार्य बिपिन जोशी के सानिध्य में भारत की विजय के लिए यज्ञ का आयोजन हुआ। इस मौके पर मंडी समिति के पूर्व सभापति उपेंद्र थापली, जिला पंचायत सदस्य गोदावरी थापली, विपुल नौटियाल, ओमप्रकाश सती, सुमित कुकरेती, दीपक बिजल्वाण, दीपेंद्र नौटियाल, खिमानंद जोशी आदि मौजूद रहे। 

दून मेडिकल कॉलेज का जल्द होगा निर्माण

देहरादून। राज्य सरकार दून मेडिकल कॉलेज का जल्द से जल्द निर्माण करना चाहती है। इसके चलते दून अस्पताल प्रशासन भी तेजी दिखाने पर मजबूर हो गया। यही वजह है कि अस्पताल की तीसरी मंजिल को शुरू करने के लिए दून अस्पताल प्रशासन ने हाथ पैर मारने शुरू कर दिए है। अधिकारियों की मानें तो अप्रैल में तीसरी मंजिल को प्रारंभ करने की योजना है। दून अस्पताल की तीसरी मंजिल लगभग डेढ़ साल से बनकर तैयार है, लेकिन किन्हीं कारणों के चलते यह शुरू नहीं हो पाई। हाल ही में अस्पताल प्रशासन ने इस दिशा में प्रयास किए तो तीसरी मंजिल को शुरू करने के लिए स्टाफ की स्वीकृति मिल गई। अब जब दून मेडिकल कॉलेज के निर्माण की घोषणा हो चुकी है तो दून अस्पताल पर भी तीसरी मंजिल को जल्द प्रारंभ करने का दबाव है। इसी का नतीजा है कि दून अस्पताल प्रशासन ने स्टाफ संबंधी कार्यो में तेजी दिखानी शुरू कर दी है। अस्पताल के सीएमएस डॉ. बीसी पाठक के अनुसार अप्रैल तक तीसरी मंजिल पर स्वास्थ्य सुविधाएं देनी शुरू हो जाएंगी। 
 

मंदिर से नकदी व घंटियां चोरी

नैनीताल। बरेली रोड के गायत्री नगर स्थित लिपटेश्वर महादेव मंदिर में बीती रात चोरों ने सेंध लगा दी। चोर मंदिर से हजारों की नकदी व घंटियां ले उड़े। 
 
नैनीताल राष्ट्रीय राजमार्ग में गायत्री नगर में लिपटेश्वर महादेव का मंदिर है। बीती रात चोर मंदिर परिसर से दान पात्र में रखे करीब पांच सौ रुपये व लगभग 25 हजार रुपये कीमत की घंटियां उड़ा ले गए। सोमवार सुबह करीब चार बजे पुजारी जय भवानी के पहुंचने पर घटना का खुलासा हुआ। ग्राम प्रधान रश्मि दुम्का की सूचना पर लालकुआं पुलिस ने मौका-मुआयना कर घटना की जानकारी ली। पुलिस ने चोरों की तलाश शुरू कर दी है। इधर देवालय में हुई इस वारदात से क्षेत्रवासियों में रोष व्याप्त है। 

आरटीई पर कार्यशाला का आयोजन

विकासनगर। चकराता में शिक्षा का अधिकार अधिनियम (आरटीई) पर कार्यशाला आयोजित की गई। कार्यशाला में बीईओ ने कहा कि शिक्षा का अधिकार अधिनियम के प्रति जागरूक होने की आवश्यकता है। वहीं, कालसी में छात्र-छात्राओं के लिए विभिन्न प्रतियोगिताएं आयोजित की गई। 
 
कार्यशाला में बीईओ बीपी सिंह ने कहा कि आरटीई के तहत विद्यालय के शैक्षिक सत्र शुरू होने के छह माह तक प्रवेश लेने का हक होगा, उसके बाद दाखिला मांगे जाने पर मना नहीं किया जाएगा। विद्यालय में प्रवेश लिए बालक को किसी भी कक्षा में न रोका जाएगा और नहीं प्रारंभिक शिक्षा पूर्ण करने तक निष्कासित किया जाएगा। ब्लॉक समन्वयक सर्व शिक्षा मोहन लाल शर्मा ने कहा कि आरटीई के तहत प्रारंभिक शिक्षा पूर्ण करने तक बच्चों की बोर्ड परीक्षा नहीं ली जा सकेगी। कार्यशाला में प्रधान, बीडीसी सदस्य, जिला पंचायत सदस्य, शिक्षक, भूतपूर्व शिक्षकों व विद्यालय प्रबंधन समिति के सदस्यों ने भाग लिया। इस दौरान प्रधान संगठन के अध्यक्ष कुंवर सिंह चौहान, एबीआरसी कुशलमणि, देवीराम पांडे, केशर चौहान, संजय चौहान, सुचिता जोशी आदि मौजूद थे। वहीं, कालसी में आयोजित चित्रकला प्रतियोगिता में कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय कोरुवा की सीमा प्रथम, प्रावि कालसी जंगलात के नरेश थापा द्वितीय, सुमित दास तृतीय व राहुल वर्मा चतुर्थ स्थान पर रहे। सपनों की उड़ान नृत्य नाटिका में अंजलि चौहान प्रथम, पि्रयंका तोमर द्वितीय व रजनी चौहान तृतीय स्थान पर रही। वाद-विवाद प्रतियोगिता में अंजलि प्रथम व मीना चौहान द्वितीय रही। विद्यालय प्रबंधन समिति नगऊ को सर्वश्रेष्ठ प्रबंधन समिति का पुरस्कार प्रदान किया गया। समिति के अध्यक्ष महानंद जोशी ने पुरस्कार प्राप्त किया। खंड शिक्षा अधिकारी एनके हल्दियानी ने प्रतियोगिता के विजेता छात्र-छात्राओं को पुरस्कृत किया। इस मौके पर उत्तरांचल सांस्कृतिक फिल्म विकास समिति ने शिक्षा का अधिकार अधिनियम पर आधारित नुक्कड़ नाटक प्रस्तुत किया। इस मौके पर ब्लॉक समन्वयक एसएसए बासुदेव रावत, प्रकाश डबराल, हरिप्रसाद खुकशाल, मधु वर्मा, हैप्पी, पि्रयंका, आकृति, मनीष, सतीश व सौरभ आदि मौजूद थे। 

यातायात नियमों का उल्लंघन करना कई को भारी पड़ा

विकासनगर। यातायात नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहन चालकों पर सोमवार भारी गुजरा। परिवहन विभाग की टीम ने विकासनगर, कालसी, साहिया व चकराता क्षेत्र में यातायात नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहन चालकों के खिलाफ अभियान चलाया। इस दौरान 20 वाहनों का चालान व तीन सीज किए गए। 
 
यह अभियान एआरटीओ एके जायसवाल के नेतृत्व में चलाया गया। टीम ने कालसी-चकराता, साहिया-पजिटिलानी, पाटन-समाल्टा, कोटी-इच्छाड़ी, हरिपुर-चकभूड़, कालसी-बैराटखाई व कालसी-लखवाड़मोटर मार्गो पर चेकिंग अभियान चलाया। सीज किए गए वाहनों में यूटीलिटी संख्या यूके-07सीए-0166, वित्र्कम संख्या यूके-07टीए-3961 व छोटा हाथी संख्या यूके-07सीए-1471 शामिल हैं। सीज किए गए वाहन चालकों के पास गाड़ी का लाइसेंस व फिटनेस कागजात नहीं थे, जबकि चालान ओवरलोडिंग के चलते किया गया। अधिकांश वाहनों में क्षमता से अधिक सवारी बैठी मिली। टीम में सुरेश चौधरी, कमल नयन, नत्थीलाल भट्ट, सुधीर व आदर्श कुमार शामिल थे। 

अनियंत्रित ट्रक ने तोड़ी बिजली की तारें

हरिद्वार। ग्राम बोंगला में अनियंत्रित होकर पलटे दस ट्रायरा ट्रक ने बिजली की तारें तोड़ दी। इससे आधा दर्जन गांवों में अंधेरा छा गया। 
 
सोमवार सुबह साढ़े तीन बजे के लगभग ग्राम बोंगला के समीप स्थित पेट्रोल पंप के पास एक दस टायरा ट्रक अनियंत्रित होकर पलट गया। ऊंचाई अधिक होने के कारण ट्रक ने बिजली की तारें तोड़ दीं। चिंगारी उठने के बाद बोंगला, रुहालकी, सहदेवपुर अहमदपुर आदि में बत्ती गुल हो गई। सड़क पर गिरे ट्रक की सूचना पुलिस को दी गई। सूचना पाकर पुलिस टीम मौके पर पहुंची। पुलिस ने पाया कि मौके पर चालक व क्लीनर आदि कोई नहीं है। रात होने के कारण पुलिस लौट आई। सोमवार को मार्ग पर जाम लग गया। अधिकारियों के निदेर्श पर त्र्केन बुलवाई गई और ट्रक को किनारे किया गया। इस कारण एक घंटे तक जाम की स्थिति रही। उधर, बिजली जाने से गांवों में लोगों को समस्याओं का सामना करना पड़ा। 

ट्रक ने युवक का पैर कुचला

हल्द्वानी। एसटीएच में भर्ती बहन को देखने जा रहा युवक शहर की ओर आ रहे ट्रक की चपेट में आ गया। हादसे में ट्रक का टायर चढ़ने से युवक का पैर कुचल गया। गंभीर रूप से जख्मी युवक को एसटीएच में भर्ती कराया गया है। जख्मी युवक के भाई की तहरीर पर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। 
 
मल्ला गोरखपुर के विकासपुरी गली नंबर एक में रहने वाले प्रताप सिंह टकवाल की बहन तुलसी कुॅवर एसटीएच में भर्ती है। रविवार शाम करीब साढ़े आठ बजे प्रताप अपनी बहन को देखने अस्पताल की ओर पैदल जा रहे थे। अस्पताल गेट के सामने ही शहर की ओर आ रहे ईटों से लदे ट्रक ने प्रताप को टक्कर मार दी। हादसे में प्रताप का पैर टायर चढ़ने से कुचल गया। इसके बाद रिश्तेदारों व लोगों की मदद से प्रताप सिंह को एसटीएच में भर्ती कराया गया। प्रताप सिंह के भाई उत्तम सिंह की तहरीर पर पुलिस ने ट्रक चालक के विरुद्ध मामला दर्ज कर लिया है। 

बांध से सौ मेगावाट बिजली उत्पादन शुरू

नई टिहरी। कोटेश्वर बांध परियोजना की चार सौ मेगावाट की प्रथम इकाई से सौ मेगावाट विद्युत उत्पादन शुरू कर दिया गया है। इस यूनिट को उत्तरी गि्रड के साथ जोड़ दिया गया है। सोमवार को कोटेश्वर में टीएचडीसी से निर्मित चार सौ मेगावाट की परियोजना की पहली 100 मेगावाट की इस यूनिट को शुरू करके टीएचडीसी ने 11 वीं योजना में सौ मेगावाट की क्षमता का अतिरिक्त योगदान दिया है। इस यूनिट के कमीशनिंग करने की तिथि पहले दिसम्बर 2010 को प्रस्तावित थी, लेकिन विषम परिस्थितियों में नियत तिथि के तीन माह बाद यह लक्ष्य पूरा किया गया। प्रथम यूनिट मैकेनिकल स्पिनिंग 31 जनवरी 2011 को पूरा किया गया इसके उपरांत परीक्षण व कमीशनिंग कर प्रथम यूनिट की मशीन उत्तरी गि्रड के साथ जोड़ दी गई है। बता दें कि यह टिहरी बांध की ही संघटक परियोजना है। टिहरी पॉवर कम्पलेक्स 24 सौ मेगावाट के संघटकों में टिहरी बांध 1000 मेगावाट व पीएसपी 1000 मेगावाट शामिल हैं। इसके अलावा कोटेश्वर में चार सौ मेगावाट के बाद 24 सौ मेगावाट की यह पूरी परियोजना है। कोटेश्वर में अन्य तीन इकाईया भी शीघ्र पूर्ण हो जाएंगी। इस संबंध में अपर महाप्रबंधक कोटेश्वर परियोजना एके श्रीवास्तव ने बताया कि परियोजना की 100 मेगावाट की दूसरी यूनिट भी जल्द ही अप्रैल के पहले सप्ताह उत्पादन करना शुरू कर देगी। 
 

अनशकारियों को उठाकर अस्पताल में कराया भर्ती

नई टिहरी। जनपद की 25 सूत्रीय मांगों को लेकर अनशन पर बैठे कांग्रेस कार्यकर्ताओं को प्रशासन ने उठाकर जिला चिकित्सालय में भर्ती करा दिया है। उनकी जगह चार अन्य कार्यकर्ता अनशन पर बैठ गए हैं।
 
सोमवार करीब 12 बजे एसडीएम नासिर खान के नेतृत्व में भारी पुलिस बल अनशन स्थल पर पहुंचा। जहां उन्होंने कांग्रेस कार्यकर्ताओं के भारी विरोध के बावजूद अनशन पर बैठे तीन अनशनकारियों दिनेश उनियाल, नरेंद्र राणा और प्रभात उनियाल को वाहन में बिठाकर जिला चिकित्सालय बौराड़ी में भर्ती करवा दिया, जबकि चौथे अनशनकारी रणवीर रौतेला को रविवार अनशन स्थल से उठा दिया गया था। उनकी जगह पर युवा कांग्रेस के जिला उपाध्यक्ष विनोद डबराल, राजेश बिजल्वाण, दिनेश नेगी और दर्मियान सिंह अनशन पर बैठ गए हैं। इस दौरान कांग्रेसियों ने अनशनकारियों को उठाने का विरोध किया, लेकिन पुलिस बल अधिक होने के कारण कांग्रेस कार्यकर्ताओं की एक न चली। अनशन कारियों को उठाने के बाद कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने अनशन स्थल पर प्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष जोत सिंह बिष्ट, नगर पंचायत अध्यक्ष सूरज राणा, महावीर खरोला आदि ने कहा कि सरकार के दबाव में प्रशासन कार्यकर्ताओं का उत्पीड़न कर रहा है। वह किसी भी तरह की कार्यवाही से पीछे नहीं हटेंगे और अब आंदोलन को उग्र रूप दिया जाएगा। इस मौके पर शहर अध्यक्ष दर्मियान सजवाण, प्रमुख जाखणीधार जगदंबा रतूड़ी, शांति भट्ट, दर्मियान चंद रमोला, अनिल बडोनी, नवजोत तड़ियाल, नरेश पैन्यूली, शक्ति जोशी, सुनील यादव, दिनेश थपलियाल सहित कई लोग मौजूद थे। 
 

जिंदगी की नब्ज में रुकता खून

रुद्रप्रयाग। जिंदगी की नब्ज में अगर रक्त दौड़ना बंद कर दे, तो जिंदगी की उम्मीद करना बेमानी ही होगा। कुछ ऐसा ही हो रहा है जिला मुख्यालय में निर्मित ब्लड बैंक में। ब्लड बैंक का भवन तो तैयार कर दिया गया, लेकिन उसका संचालन अब तक नहीं किया गया। ऐसे में रक्त के जरुरतमंद मरीजों के सामने विकट स्थिति उत्पन्न हो जाती है।
 
जिला चिकित्सालय में वर्ष 2007 में लगभग साढे पांच लाख की लागत से बनाया गया ब्लड बैंक का संचालन अब तक नहीं किया गया है। विभाग की ओर से इसके लिए भवन निर्माण तो किया गया, लेकिन इस पर अब तक ताला लटका हुआ है। ब्लड बैंक शुरू न होने के पीछे मुख्य समस्या स्टाफ की बनी हुई है। अभी तक यहां ब्लड स्टोरेज संचालित करने तक के लिए स्टाफ उपलब्ध नहीं है। इसके लिए एक डॉक्टर पैथोलोजिस्ट, एक लैब टैक्नीशियन व एक नर्स के साथ ही एक वार्ड ब्वाय की आवश्यकता है। इसके साथ ही बैंक के संचालन के लिए स्वास्थ्य महानिदेशालय से लाइसेंस भी नहीं मिल पाया है। ब्लड बैंक न होने से मरीजों को खून नहीं मिल पाता है और ऐसे में उन्हें श्रीनगर बेस चिकित्सालय पर भी निर्भर रहना पड़ता है। उत्र्कांद के वरिष्ठ नेता सुभाष मौंगा, व्यापारी राजेश सेमवाल, युवा नेता दीपाशु भट्ट का कहना है कि ब्लड बैंक जिला मुख्यालय में काफी जरुरी है, दुर्घटना के समय मरीजों को खून की आवश्यकता पड़ती है। सीएमएस जिला चिकित्सालय अनिल कुमार का कहना है कि ब्लड बैंक के संचालन के लिए स्टाफ की आवश्यकता है, यदि स्टाफ उपलब्ध होता है, तो तत्काल ही बैंक संचालित कर दिया जाएगा। विभाग पूरी तरह प्रयासरत है और फिलहाल ब्लड स्टोरेज शुरू करने पर विचार किया जा रहा है। 
 

उत्कृष्ट कार्य को किया सम्मानित

कोटद्वार। साप्ताहिक पत्रिका दुंदुभि के तत्वावधान में आयोजित कार्यत्र्कम में विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य करने वाले लोगों को सम्मानित किया गया। इस मौके पर दुंदुभि स्मारिका प्रयास का भी विमोचन किया गया।
 
मालवीय उद्यान में आयोजित कार्यत्र्कम का शुभारंभ पूर्व काबीना मंत्री सुरेंद्र सिंह नेगी व कांग्रेस नेता सूर्यकांत धस्माना ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया। कार्यत्र्कम में विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य करने वाले लोगों को सम्मानित किया गया। सम्मान पाने वालों में महेंद्र सिंह (स्वच्छता), छोटे हाजी (सामाजिक), धीरेंद्र कंडारी (खेल), महर्षि कण्वा विद्यालय निकेतन की प्रधानाचार्या सिंधु कोठारी (शिक्षा), वन कर्मी आरएस रमोला (पर्यावरण), जीके हिंदवान (ग्रामीण सूचना प्रौद्योगिकी) व उदय सिंह को सम्मानित किया गया। कार्यत्र्कम के दौरान प्रयास का भी विमोचन किया गया। पत्रिका संपादक सुधींद्र नेगी ने आमंत्रित सदस्यों का आभार जताया।पालिकाध्यक्ष शशि नैनवाल की अध्यक्षता में आयोजित कार्यत्र्कम में देवेंद्र काला, कुंवर सिंह नेगी कर्मठ, सत्यप्रकाश थपलियाल, डॉ.गणेशमणि त्रिपाठी, रूपन नेगी, अख्तर अली, ईशपाल सिंह रावत, ग्राम प्रधान लक्ष्मी खंतवाल (मगनपुर), पुष्पा शाह (झंडीचौड़), विमला चमोली, कृष्णा बहुगुणा, दिलबर सिंह, नरेंद्र सिंह आदि मौजूद रहे। संचालन जनार्दन बुड़ाकोटी ने किया। 

हिमालय के बिना जड़ी-बूटी की अवधारणा अपूर्ण : वीसी

श्रीनगर गढ़वाल। जड़ी-बूटी शोध एवं विकास संस्थान के संयुक्त तत्वावधान में तीन दिवसीय प्रशिक्षण कार्यत्र्कम सोमवार से शुरू हुआ। इसमें काश्तकारों को जड़ी-बूटी से जुड़ी विभिन्न जानकारियां प्रदान की जाएगी। गढ़वाल विश्वविद्यालय के हैप्रेक सभागार में आयोजित प्रशिक्षण कार्यत्र्कम का उद्घाटन कुलपति प्रो. श्रीकृष्ण सिंह ने किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि हिमालय के बिना जड़ी-बूटी की अवधारणा पूरी नहीं हो सकती। जैव विविधता से परिपूर्ण क्षेत्र में इनके विकास एवं संव?र्द्धन की सबसे अधिक संभावनाएं हैं। उन्होंने विलुप्ति के कगार पर पहुंच चुकी कई जड़ी-बूटियों पर चिंता व्यक्त करते हुए इनके संव?र्द्धन की आवश्यकता व्यक्त की। उन्होंने कहा कि जड़ी-बूटी, वन पर्यावरण और वनस्पतियों से जुड़े शोधों का समाज तक पहुंचना जरूरी है। हैप्रेक के निदेशक प्रो. एआर नौटियाल ने कहा कि 32 वर्ष पूर्व स्थापित केंद्र का उद्देश्य हिमालयी क्षेत्र में उपिस्थत वनस्पतियों पर शोध करना है। केंद्र के डॉ. राजेंद्र चौहान ने कुटकी, कुठ, जटामांसी, अतीस और मीठा के कृषिकरण तकनीकों, डॉ. केशव गैरोला ने रेजमेरी एवं गेंदा के कृषिकरण, उत्पादन व बाजार व्यवस्था, बीना पठानियां ने औषधीय एवं संगंध पादपों की कृषि तकनीक के संयोजक अंगों और वैद्य राजा राम पोखरियाल ने परपंरागत औषधीय प्रणाली में उपयोग किए जाने वाले उच्च शिखरीय पादप प्रजातियों की पहचान एवं उपयोग की जानकारी दी। वरिष्ठ वैज्ञानिक अधिकारी डॉ. विजय कांत पुरोहित ने किसानों को तेजपात की खेती, जड़ी-बूटी कृषिकरण में जैविक खादों के महत्व की विस्तृत जानकारी प्रदान की। कार्यत्र्कम में वीर सिंह नेगी, रतन सिंह शाह, कुलदीप सिंह, देवी सती, मस्तान सिंह, राकेश बड़ोनी समेत प्रदेश के विभिन्न हिस्सों के किसान शामिल हुए। 

मेले में पारम्परिक व्यंजन रहे आक र्षण का केन्द्र

उत्तरकाशी। मोरी में ब्लॉक संसाधन केंद्र पर बाल शोध मेले का आयोजन किया गया। अजीम प्रेमजी फाउंडेशन की ओर से आयोजित शोध मेले में छात्र-छात्राओं की ओर से विभिन्न मॉडल प्रस्तुत किये गये। क्षेत्र के 26 विद्यालयों की ओर से सोमवार को आयोजित किये गये बाल शोध मेले में स्थानीय उत्पाद आकर्षण का केंद्र रहे। छात्रों ने स्थानीय उत्पादों पर आधारित व्यंजन, जड़ी बूटी, रिगांल की टोकरियां, लकड़ी से बने सामान तथा पुराने बर्तन आदि के स्वयं के शोध से तैयार किये गये मॉडल प्रस्तुत किये। शोध मेले में स्थानीय पारम्परिक पकवान फेडई, मडवे के डिडके, सीडे़, बाड़ी, सांवले, उड़द के पकौड़े आदि 75 प्रकार के पकवान प्रस्तुत किये गये। दूसरी ओर, पुराने कांस के बर्तन, डोरिया, चीलम, डाखरी तथा लकड़ी से तैयार हल, सामाई व रिंगाल से तैयार टोकरी गिल्टा, बेसाई, सुपा आदि के मॉडल प्रदर्शित किये गये। मेले के संबंध में जानकारी देते हुये बीआरसी प्रेम सिंह रावत ने बताया कि बाल शोध मेले में अभिभावकों व अध्यापकों का सहयोग सराहनीय है। मेले में बीओ ईवश्वर दयाल रस्तोगी, बीडीओ एसएस कुमांई, जिला समन्वयक जगमोहन कठैत, सोवन नेगी, केशर सिंह राय, प्रेम चन्द, संजीव बिजल्वाण, मनमोहन रावत, लक्षीराम, कृपाल सिंह, चंदराम, सुखवीर असवाल, झुलू देवी अरूणा देवी, सोनादेवी, दिनेश चौहान आदि अध्यापक मौजूद रहे। 
 

शराब के खिलाफ महिलाएं मुखर

अल्मोड़ा। लमगड़ा सहित ग्रामीण क्षेत्रों में शराब की दुकानें बंद करने को लेकर लमगड़ा, ताकुला क्षेत्र की महिलाओं ने जिला मुख्यालय में जुलूस निकालकर डीएम को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में विकासखण्ड लमगड़ा, ताकुला सहित तमाम ग्रामीण क्षेत्रों से शराब की दुकानें हटाने की मांग की। महिलाओं ने कहा कि शराब के कारण ग्रामीण क्षेत्रों के लोग तमाम दिक्कतों से दो-चार हो रहे हैं। शराब बंद करने के लिए कई बार ज्ञापन, धरना, प्रदर्शन के जरिए अपनी पीड़ा से महिलाएं अवगत करा चुकी हैं। बावजूद इसके प्रशासन महिलाओं की नहीं सुन रहा है। प्रदर्शनकारी महिलाओं का कहना है कि शराब के कारण अपराध, घरेलू हिंसा, छोटे-छोटे बच्चों में बढ़ रही शराब की लत, क्षेत्र में अशांति, अराजकता की ओर कई बार ध्यान आकर्षित कर चुके हैं। ऐसे में महिला सशक्तिकरण की सरकार की बात कोरी जान पड़ती है। महिलाओं ने ज्ञापन में कहा है कि शीघ्र ही ग्रामीण क्षेत्रों से शराब की दुकानों को हटाया जाए। पांच सूत्रीय ज्ञापन में लमगड़ा, ताकुला, बसौली आदि क्षेत्रों में नए वर्ष के मांगे गए टेंडरों को निरस्त किए जाने, आबकारी अपराधों को गैरजमानती बनाए जाने, राजनीतिक दलों के लिए अपनी शराब नीति को स्पष्ट करने की अनिवार्यता, शराब के धंधेबाजों को शासन-प्रशासन व समाज के किसी स्तर पर सामाजिक मान्यता न देने की मांग को प्रमुखता से शामिल किया गया है। यही नहीं शराब पीकर ड्यूटी में आने वाले, सार्वजनिक स्थानों पर हुड़दंग करने वाले तत्वों को दंडित करने के विशेष प्रावधान की मांग की गई है। इस दौरान शराब विरोधी संघर्ष समिति की पुष्पा सिजवाली, परिवर्तन पार्टी के प्रदीप गुरूरानी, विशन सिंह, राजेंद्र गैड़ा, माधवी देवी, कमला देवी, गीता बिष्ट, चंपा देवी, मधुली देवी, चंदन सिंह, दीवान सिंह बिष्ट, बसंती देवी, अमरप्रकाश, चंदन सिंह, पीसी तिवारी, गोविंद लाल वर्मा, ईश्वरी जोशी, किरन आर्या सहित अनेक महिलाएं शामिल थी। 

जिलासू मोटर पुल का लांचिग पैड नदी में गिरा

कर्णप्रयाग। लोनिवि गौचर के अंतर्गत अलकनंदा नदी पर निर्माणाधीन लंगासू-जिलासू-गिरसा मोटर पुल के लिए बनाये जा रहे स्पोटिंग गाडर के तार झूलने से पुल निर्माण के लिए बनाये जा रहे लॉचिंग पैड अलकनंदा नदी में जा गिरा है।उल्लेखनीय है कि लोनिवि गौचर के अंतर्गत इस पुल का निर्माण लंबे समय से हिलवेज कंसट्रक्शन कंपनी द्वारा किया जा रहा था और आज अपराह्न बाद आयी आंधी-तूफान से पुल निर्माण के लिए बिछाये जा रहे लांचिंग पैड के तार खिसकने से गाडर नदी में जा गिरे, हालांकि इस दौरान निर्माण कर रहे मजदूरों को कोई नुकसान नही हुआ। इस बाबत लोनिवि के अधिशासी अभियंता मनोज भट्ट ने बताया कि 3 करोड़ 85लाख रुपये की लागत से बनाये जा रहे इस पुल निर्माण का प्रथम चरण हिलवेज कंपनी द्वारा किया जा रहा था और आज दोपहर तीन बजे बाद चली आंधी से गाडरों को कसने वाले तार के ढीले पड़ने से यह हादसा हुआ है। 
 

पालिका कर्मियों ने किया प्रदर्शन

हरिद्वार। लिखित समझौते के बावजूद मांगों का निस्तारण न होने पर नगरपालिका कर्मचारी संयुक्त मोर्चा ने पालिका में प्रदर्शन कर धरना दिया। आत्र्कोशित कर्मियों ने शीघ्र मांगों का निस्तारण न होने पर आंदोलन तेज करने चेतावनी दी है। उत्तरांचल स्वच्छकार कर्मचारी संघ के महामंत्री राजेश छाछर ने कहा कि गत 21 जनवरी को छठे वेतनमान के 20 प्रतिशत एरियर भुगतान समेत 13 मांगों को लेकर मोर्चा पदाधिकारियों व ईओ के मध्य लिखित समझौता हुआ था। इसमें सप्ताहभर के भीतर मांगों के निस्तारण का आश्वासन दिया गया था। विडंबना है कि अब तक तेरह में केवल एक मांग मानी गई है। इससे कर्मचारियों में भारी रोष व्याप्त है। नगर निकाय कर्मचारी महासंघ के महामंत्री इंद्र सिंह रावत ने कहा कि पालिका में संविदा पर कार्यरत कर्मचारियों को दैनिक कर्मचारी मानने पर ईओ व पालिकाध्यक्ष से मिली स्वीकृति के बावजूद अब तक कोई कारर्वाई नहीं हो पाई है। उन्होंने बताया कि इसे लेकर तीन दिन पूर्व ईओ व चेयरमैन को मांग पत्र सौंपा गया था। महासंघ अध्यक्ष राधेश्याम छाछर ने कहा कि यदि शीघ्र मांगों का निस्तारण न हुआ तो आंदोलन को तेज किया जाएगा। इसकी पूर्ण जिम्मेदारी पालिका प्रशासन की होगी। सभा को मोर्चा नेता सुनील राजौर, प्रदीप चुटैला, रामचंद्र सिंह, देशराज राठौर, ईश्वरचंद, सुधाकर भट्ट आदि ने भी संबोधित किया। उधर, राष्ट्रीय सफाई मजदूर कांग्रेस के शहर अध्यक्ष अरविंद चंचल, पालिका सभासद संजय शर्मा और जगधीर सिंह ने भी धरने को अपना समर्थन दिया। इस दौरान रूपेश कुमार, सलीम, संजय सेठी, सचिन, वसीम, सोनू, राजेश आदि उपिस्थत थे। 

आक्रोशित लोगों ने राज्य सरकार का पुतला फूंका

डोईवाला। गैरसैंण को राजधानी बनाने संबंधित विधेयक पर कांग्रेस व भाजपा विधायकों की चुप्पी साधे जाने की उत्र्कांद कार्यकर्ताओं ने कड़े शब्दों में भ?र्त्सना की है। कार्यकर्ताओं ने विरोध स्वरूप विपक्षी विधायकों का डोईवाला चौक पर पुतला फूंका। उत्र्कांद (पंवार) के जिला महामंत्री केंद्रपाल तोपवाल के नेतृत्व में कार्यकर्ता एकत्र हुए और कांग्रेस व भाजपा को राज्य विरोधी बताते हुए विधायकों का पुतला फूंका। श्री तोपवाल ने कहा कि गैरसैंण को राजधानी बनाने के मामले में जब उनके विधायक ने सदन में संस्तुति प्रस्ताव पारित किया तो विपक्षी विधायकों ने चुप्पी साध ली जो दुर्भाग्यपूर्ण है। इससे प्रदेश की जनभावनाओं को ठेस पहुंचती है। हरपाल सिंह सैनी व स्वयंवर कंडवाल ने कहा कि जब तक गैरसैंण में राजधानी नहीं बनेगी, पहाड़ का विकास नहीं हो सकेगा। पुतला फूंकने वालों में वित्र्कम रावत, नरेंद्र सिंह नेगी, अमर उनियाल, रवि चौहान, शांत प्रसाद व देवेंद्र आदि उपिस्थत थे। 

नही सुधर पा रही पानी की किल्लत

डोईवाला। अठूरवाला ग्राम सभा के मोलधार क्षेत्र में गर्मी शुरू होते ही पेयजल संकट छाने लगा है। शिकायत के बावजूद समस्या निस्तारण पर ध्यान न दिए जाने से लोगों में रोष है। अठूरवचाला के मोलधार निवासी श्रीमती लतेश्वरी नेगी ने बताया कि क्षेत्र में टिहरी बांध विस्थापित निवास करते है। यहां पर कई सालों से पेयजल का संकट बना हुआ है। इस मामले में पेयजल मंत्री को ज्ञापन देकर पेयजल समस्या का निस्तारण किए जाने की मांग की गई थी। उन्होंने उत्तराखड ग्रामीण पेयजल एवं स्वच्छ परियोजना विभाग को पत्र लिखा था, लेकिन इसके बावजूद पेयजल व्यवस्था दुरुस्त नहीं हो पाई है। इसे लेकर क्षेत्रवासियों में विभाग व सरकार के खिलाफ आत्र्कोश पनप रहा है। 

 

समस्याओं से आजिज किसान बिफरे

उधमसिंहनगर। गेहूं की खरीद सुचारु रूप से करने व जलाशयों की जमीन पर काबिज किसानों को पट्टें दिये जाने जैसी तमाम मांगों को लेकर अखिल भारतीय किसान सभा की जिला इकाई ने तहसील पर प्रदर्शन किया। सभा में वक्ताओं ने कहा कि यह कार्यत्र्कम शहीद भगत सिंह व उनके साथियों के संघर्ष की याद में किया जा रहा है। कहा गया कि शहीदों ने साम्राज्यवाद व अन्याय के खिलाफ ताउम्र लड़ाई लड़ी। कांग्रेस के पीसीसी सदस्य कांता प्रसाद सागर ने पूर्व एयर मार्शल दलइंदरजीत सिंह की जमीन पर कब्जे का मामला उठाते हुये पुलिस व प्रशासन पर उनकी मदद न करने का आरोप लगाया। बाद में तहसीलदार विवेक प्रकाश के माध्यम से प्रदेश के राज्यपाल को भेजे ज्ञापन में एक अपै्रल से गेहूं की सरकारी खरीद शुरू करने, पंजाब व हरियाणा की तर्ज पर खरीद करने, पर्वतीय क्षेत्र के फल व सिब्जयों के लिए मंडी की व्यवस्था करने, बैंकों में ऋण सुविधा का सरलीकरण, किसानों को मुफ्त बिजली, डामों की जमीनों पर किसानों को पट्टें व वर्ग चार की भूमि पर भूमिधरी अधिकार की मांग की गई। इस मौके पर सभा के प्रदेश उपाध्यक्ष जगीर सिंह, जिलाध्यक्ष त्रिलोचन सिंह, सीटू के पूर्व जिलाध्यक्ष जगदेव सिंह, परितोष विश्वास, अवतार सिंह, रणजीत कौर, दलविन्दर कौर, सुखविन्दर कौर, देवेन्द्र कौर, मीना देवी, दलीप सिंह आदि मौजूद थे। 
 

दिनदहाड़े हजारों का माल पार

उधमसिंहनगर। मुड़िया पिस्तौर में विवाह समारोह के दौरान मौके का फायदा उठाकर चोर अलमारी में रखी करीब तीन हजार रुपए की नगदी व सोने-चांदी के आभूषण उड़ा ले गये। घटना की खबर से वहां बड़ी संख्या में लोग एकत्र हो गए। सूचना पाकर पहुंची पुलिस ने घटनास्थल का निरीक्षण किया। वार्ड पांच मुड़िया पिस्तौर निवासी मोहम्मद शाहिद पुत्र शकूर अहमद के ससुराल वाले पड़ोस में ही रहते हैं। सोमवार को शाहिद के साले इरफान पुत्र शगूर अहमद की शादी मोहल्ले में ही साबिर की पुत्री रानी के साथ हो रही थी। शाहिद व परिजन बारात के कार्यो में लगे थे। उसी बीच चोरों ने शाहिद के घर की अलमारी में रखी नाक की एक तोला सोने की नथनी, चांदी की चार चूड़ियां व तीन हजार रुपए की नगदी उड़ा ली। चोर कलर टेलीविजन भी ले गये। घटना का पता तब चला जब घर की ही महिला परवीन बच्चे के कपड़े बदलने भीतर गई। घटना की सूचना पर वहां बड़ी संख्या में लोग जमा हो गए। सूचना पाकर पहुंची पुलिस ने घटनास्थल का निरीक्षण किया। रात तक घटना की तहरीर नहीं दी गई थी। पुलिस ने चोरों की तलाश में वाहन चेकिंग अभियान चला रखा था। 
 

हादसे के बाद जागे जनप्रतिनिधि

उधमसिंहनगर। रम्पुरा शाकर के निकट मानव रहित रेलवे त्र्कॉसिंग पर हुए हादसे में ट्रैक्टर सवार चार महिलाओं की मौत की घटना के बाद जनप्रतिनिधियों ने वहां फाटक लगाने की मांग उठाई है। इस मांग को लेकर भाजयुमो कार्यकर्ताओं ने पूर्वोत्तर रेलवे (इज्जत नगर) के मंडल प्रबंधक को संबोधित ज्ञापन प्रभारी स्टेशन मास्टर को सौंपा गया।सोमवार को भाजयुमो जिला महामंत्री राजेश कुमार के नेतृत्व में अन्य नेता रेलवे स्टेशन पर पहुंचे। उन्होंने अपनी मांग से संबंधित ज्ञापन प्रभारी स्टेशन मास्टर सुभाष चौधरी को सौंपा। नेताओं ने कहा कि दुर्घटना की पुनरावृत्ति भविष्य में न हो इसके लिए इस मानव रहित रेलवे त्र्कासिंग पर फाटक लगाया जाना अति आवश्यक है। ज्ञापन सौंपनें वालों में मनोज राजहंस, टिंकू यादव, वसीम खान, यतेंद्र कुमार, जानी राजहंस, रवि, नीरज गुप्ता, सुरजीत, अजय, लवी, गौतम, अबुल, महेश, अर्जुन बिष्ट व राजू पंडित शामिल थे। 
 

गांव-गांव पहुंचाई जाए रोजगारपरक शिक्षा

काशीपुर। कम्यूनिटी डेवलपमेंट पॉलीटेक्निक योजना सलाहकार समिति की बैठक में योजना की जानकारी देकर गांव-गांव तक रोजगारपरक शिक्षा पहुंचाने पर बल दिया गया। सोमवार को राजकीय पॉलीटेक्निक सभागार में हुई बैठक में प्राचार्य व चीफ कोऑर्डिनेटर आरपी गुप्ता ने योजना के तहत संचालित केंद्रों व पाठयत्र्कमों के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा संचालित योजना का मुख्य उद्देश्य रोजगारपरक शिक्षा को गांव-गांव तक पहुंचाकर रोजगार दिलाना है। साथ ही ग्रामीणों को पल्स पोलियो, रक्तदान, एड्स आदि के प्रति जागरूक करना है। वर्ष 2010-11 में योजना के तहत तीन कोर्स संचालित किए गए। इनमें टैक्सटाइल डिजाइनिंग के पहले सत्र में 32 व दूसरे सत्र में 40 छात्र-छात्राओं ने प्रतिभाग किया, जिनमें 53 छात्र-छात्राओं को रोजगार मिल चुका है। वर्ष 2011-12 में 10 केंद्रों में 600 छात्र-छात्राओं को प्रशिक्षण देने का लक्ष्य रखा गया है। समिति चेयरमैन उद्यमी योगेश जिंदल ने कहा कि योजना के तहत रोजगार उपलब्ध कराने के लिए उद्योगों की आवश्यकता का सवेर होना चाहिए। उन्होंने टैक्सटाइल, स्टील, स्पीनिंग आदि में उद्योग में ट्रेनिंग व रोजगार उपलब्ध कराने की बात कही। सभासद अलका पाल ने योजना के तहत महिलाओं को भी रोजगार उपलब्ध कराने को कहा। बैंक प्रतिनिधि संजय कुमार ने कहा कि जब तक गांव के लोगों को वित्तीय सहायता नहीं मिलती तब तक ग्रामीण देश की मुख्यधारा में शामिल नहीं हो पाएगा। उन्होंने प्रशिक्षण के बाद रोजगार शुरू करने के लिए वित्तीय योजनाओं की जानकारी देने पर बल दिया। उद्यमी देवेंद्र अग्रवाल ने समाज व क्षेत्र के निर्धन लोगों का सामाजिक व आर्थिक स्तर ऊंचा उठाने के लिए शुरू की गई योजना को लाभप्रद बताया। उन्होंने अधिक से अधिक लोगों से योजना का लाभ लेने को कहा। इस मौके पर ब्लाक प्रमुख सरस्वती नाग्याल, राकेश सिंह, पी नाथ, एए हाशमी, पिंकी सिंह, रेखा यादव, जगजीत सिंह आदि मौजूद थे। 
 

शराब की दुकान हटाने को महिलाओं ने लगाया जाम

श्रीनगर गढ़वाल। शहर के मध्य स्थित शराब की दुकान हटाने की मांग को लेकर महिला विकास सामाजिक संगठन के बैनर तले महिलाओं ने सोमवार को शराब ठेके के बाहर धरना दे कर राष्ट्रीय राजमार्ग पर जाम लगाया। बाद में मौके पर पहुंच कर तहसीलदार हरिदत्त जोशी ने आंदोलनकारी महिलाओं को लिखित आश्वासन दिया कि शराब की दुकान हटाया जाएगा। इसके बाद महिलाओं ने जाम खोला। इस मैके पर पालिका सभासद बीना चौधरी ने कहा कि तीन दिन के अंदर यदि शराब की दुकान नहीं हटी तो आंदोलनकारी महिलाएं शराब ठेके पर तालाबंदी कर देंगी। चक्काजाम के दौरान महिलाओं की पुलिस अधिकारियों के साथ नोंकझोंक भी होती रही। सोमवार को बीना चौधरी, अरुणा राणा के नेतृत्व में बड़ी संख्या में महिलाओं ने शराब ठेके की दुकान के बाहर धरना देते प्रदर्शन किया। प्रदर्शन करने वालों में निर्मला राणा, अरुणा राणा, अनीता रावत, सत्या काला, उमा जोशी, शकुन्तला थपलियाल, मुन्नी पांडे, लक्ष्मी जैन, जरीना खातून, बीना चौधरी और पालिका सभासद सुधांशु नौडियाल, हाजी शफीक सहित बड़ी संख्या में महिलाएं शामिल थीं। 
 

मारपीट का आरोपी गिरफ्तार

उधमसिंहनगर। ग्राम बमनपुरी में डनलप को लेकर उपजे विवाद में हुई मारपीट के एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है। शनिवार को ग्राम बमनपुरी डनलप को खड़ा करने को लेकर उपजे विवाद के बाद मारपीट हो गई थी। राजेन्द्र पुत्र गोरख प्रसाद ने कोतवाली में दर्ज कराई प्राथमिकी में कहा था कि गणेश व नरेश पुत्रगण वेदप्रकाश, सुनीता, मातेश्वरी ने उसकी पत्??नी शांति, लक्ष्मी पत्??नी चंचल पाल, कलावती पत्??नी बाबूलाल, रुद्रप्रसाद व उसकी पत्??नी ममता को मारपीट कर घायल कर दिया। पुलिस ने चारों आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया था। अब गणेश को गिरफ्तार कर लिया गया है। शेष तीन आरोपी पुलिस की पकड़ से बाहर है। 

रुपये जमा कराने गया मुनीम लापता

हरिद्वार। बैंक में रुपये जमा कराने गया एक मुनीम रहस्यमय परिस्थितियों में लापता हो गया। ट्रांसपोर्ट कंपनी के मालिक ने इसकी सूचना पुलिस को दी। पुलिस मुनीम की तलाश में जुट गई है। पुलिस के अनुसार शहजाद पुत्र बुंदू की बोंगला बहादराबाद में जगन धोलपुर ट्रांसपोर्ट कंपनी है। 21 मार्च को शहजाद ने मुनीम प्रमोद उर्फ बंटू पुत्र मुरारीलाल निवासी धोलपुर राजस्थान को बैंक में ट्रकों का भाड़ा जमा कराने के लिए बुलाया था। इस दौरान शहजाद ने डेढ़ लाख का चेक दिया था, जबकि एक लाख तीन हजार रुपये नगद दिये थे। रुपये लेकर मुनीम एचडीएफसी बैंक हरिद्वार के निकला था। काफी देर तक मुनीम नहीं लौटा। इस पर शहजाद ने मुनीम को खोजा, लेकिन कोई जानकारी नहीं मिली। 

ट्रक की टक्कर से कार सवार घायल

हरिद्वार। शनिदेव मंदिर के समीप ट्रक की चपेट में आने से कार सवार तीन लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। घायलों को 108 की मदद से अस्पताल भर्ती कराया गया। घायल के भाई ने ट्रक चालक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है। पुलिस के अनुसार हाथीखाना अपर रोड हरिद्वार निवासी विवेक अपने दोस्त टिंकू व अन्य के साथ रुड़की से हरिद्वार की ओर आ रहे थे। शनिदेव मंदिर के समीप सामने से आ रहे ट्रक ने कार को सामने से टक्कर मार दी। इस दुर्घटना में तीन लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। इसकी सूचना पर पहुंची 108 की मदद से घायल को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। घायल विवेक के भाई विकास वालिया पुत्र सतीश वालिया ने अज्ञात में ट्रक चालक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। 
 

दामाद पर बेटी से मारपीट का आरोप

उधमसिंहनगर। बरहैनी निवासी चंद्रपाल ने पुलिस चौकी में तहरीर देकर लगभग एक वर्ष से बरहैनी में ही किराये के मकान में रह रहे अपने दामाद आनन्द सिंह पुत्र नन्हूं पहलवान निवासी फिरोजपुर काशीपुर पर शराब पीने के लिए रुपए न देने पर अपनी पत्??नी बिन्दा देवी के साथ मारपीट करने का आरोप लगाया है। तहरीर में उसने कारर्वाई की मांग की है। 

पहाड़ विरोधी रहे हैं राष्ट्रीय दल : पंवार

टिहरी गढ़वाल। उत्तराखंड त्र्कांति दल के केंद्रीय अध्यक्ष त्रिवेंद्र पंवार ने कहा कि राष्ट्रीय दल हमेशा से ही उत्तराखंड के पहाड़ के वाशिंदों के विरोधी रहे हैं। इस कारण राज्य निर्माण के बाद भी यह पहाड़ी क्षेत्र पिछड़ा हुआ है और उत्तराखंड की आम जनता बुनियादी सुविधाओं से महरूम है। उन्होंने राज्य निर्माण के प्रेरणा स्त्रोत स्व.इंद्रमणी बडोनी की मूर्ति मुख्य बाजार घनसाली में स्थापित करने की मांग की है।सोमवार को यहां उत्तराखंड त्र्कांति दल के केंद्रीय अध्यक्ष ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि उत्र्कांद भाजपा कांग्रेस की पोलखोल यात्रा चला रहा है जिसमें गांव-गांव में जाकर ग्रामीण अंचलों में लोगों को भाजपा तथा कांग्रेस की जन विरोधी नीतियों तथा भ्रष्टाचार के खिलाफ लोगों को एकजुट किया जाएगा। उन्होंने घनसाली विधानसभा क्षेत्र का भ्रमण कर कहा कि इन दोनों राष्ट्रीय दलों ने हमेशा पहाड़ की बुनियादी सुविधाओं से मुंह फेरकर राज्य का सारा धन मैदानी क्षेत्र हरिद्वार, देहरादून और उधम सिंह नगर में खर्च किया है और पहाड़ी क्षेत्र की जनता आज भी बुनियादी समस्याओं की बाट जोह रही है। उन्होंने कहा कि पाला मनेरी परियोजना के बंद होने से यहां के युवा रोजगार से वंचित हो गए हैं। श्री पंवार ने कहा कि जब तक प्रदेश क्षेत्रीय दल की सरकार नहीं आती तब तक बुनियादी समस्याओं का समाधान नहीं हो सकता है। उत्तराखंड त्र्कांति दल आगामी विधानसभा चुनाव को फतह करने के प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में पंद्रह हजार सदस्य बना रही है साथ ही 70 विधानसभा सीटों पर दल अपने सभी प्रत्याशियों को चुनाव लड़ाएगी। इस अवसर केंद्रीय महामंत्री आरएल नवानी, लोकेंद्र जोशी, देवेंद्र पैंथोला, भगीरथ राणा आदि लोग मौजूद थे। 
 

चयन प्रित्र्कया में धांधली का आरोप

रुद्रप्रयाग । बेरोजगार डिप्लोमा फामेर्सिस्टों ने आरोप लगाया कि पशुपालन विभाग में फामेर्सिस्टों का चयन मनमाने ढंग से किया जा रहा है। उन्होंने जिला प्रशासन से तत्काल मामले की जांच की मांग की है। उन्होंने कहा कि यदि शीघ्र ही मामले की जांच नहीं की जाती है, तो आंदोलनात्मक कदम उठाया जाएगा। जिला मुख्यालय में आयोजित बेरोजगार डिप्लोमा फामेर्सिस्ट एसोसिएशन की बैठक में वक्ताओं ने पशुपालन विभाग पर मनमाने ढंग से फामेर्सिस्टों की चयन प्रित्र्कया करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि सरकार, एक ओर जहां प्रशिक्षित बेरोजगारों को वर्षवार अतिरिक्त प्रशिक्षण व नियुक्तियां दे रही है, वहीं बेरोजगार डिप्लोमा फामेर्सिस्टों के साथ सौतेला व्यवहार किया जा रहा है। यदि विभाग की ओर से चयन प्रित्र्कया में मनमानी की जाती रही, तो उन्हें मजबूरन आंदोलन के लिए बाध्य होना पड़ेगा। बैठक में संरक्षक विजय सती, अध्यक्ष सते सिंह रावत, महासचिव उपेन्द्र पंवार, कोषाध्यक्ष कुलदीप विष्ट, हरिऔध बगवाडी, संदीप, प्रमोद, सुनील, अंकित समेत कई फामेर्सिस्ट बेरोजगार उपिस्थत थे। 

शराब की दुकान बंद करने की मांग

उत्तरकाशी। धौंतरी में शराब की दुकान के विरोध में अब महिलाओं के साथ मद्य निषेध समिति भी आगे आ गई है। शराब की दुकान की नीलामी के विरोध में मद्य निषेध समिति मंगलवार को बाजार बंद करने व धरना प्रदर्शन करने की चेतावनी दी है। मद्य निषेध समिति ने धौंतरी में शराब की दुकान को बंद करने के साथ ही नीलामी को निरस्त करने की जिलाधिकारी से मांग की है। गौरतलब है कि शराब की दुकान को बंद करवाने की मांग को लेकर गाजणा क्षेत्र की महिलाओं ने 26 मार्च को धरना प्रदर्शन भी किया है। समिति के संरक्षक धन सिंह पंवार, मीना नौटियाल व प्रधान राजू दास ने बताया कि शराब की दुकान के विरोध में मंगलवार को बाजार बंद करवाया जायेगा और महिलाओं के साथ धरना प्रदर्शन किया जाएगा। मांग ना माने जाने पर 1 अप्रैल से धौंतरी में धरना प्रदर्शन किया जायेगा। 
 

2 विभागों में फंसा 1 बेवा का हक

हल्द्वानी। ताउम्र देश की सेवा में अपना जीवन समर्पित करने वाले एक सैनिक की 63 वर्षीय विधवा को अपने जायज हक के लिए दो विभागों की जलालत झेलनी पड़ रही है। उसका कसूर सिर्फ इतना ही है कि उसके पति ने पहले देश के दुश्मनों की निगहबानी की और बाद में सेना से सेवानिवृत होने पर वन विकास निगम में नौकरी कर ली। अब दो विभागों के फेर में पेंशन का मामला फंस गया है। इससे उसकी पत्नी भुखमरी की कगार पर पहुंच गई। जीवकोपार्जन के लिए उसने हल्द्वानी में अपने एक रिश्तेदार के घर शरण ले रखी है।अल्मोड़ा के थामफुली (जैती) गांव निवासी धनुली देवी के पति स्व. बची सिंह भारतीय सेना के बंगाल इंजीनियर्स में कार्यरत थे। 15 वर्ष की सेवा के उपरांत जब वे सेवानिवृत हुए तो उत्तराखंड वन विकास निगम में नौकरी कर ली। निगम में चौकीदार के पद कार्य करने के बाद वे यहां से 31 अगस्त 2001 को सेवानिवृत हो गये। इस दौरान वर्ष 2008 में उनकी मौत हो गई। दिलचस्प बात यह है कि उन्हें दोनों ही विभागों ने नियमानुसार पेंशन दी, लेकिन उनकी मृत्यु के बाद उक्त पेंशन उनकी पत्नी को जारी रहनी चाहिए थी। दुर्भाग्य से दोनों ही विभागों ने पत्नी की पेंशन पर रोक लगा दी। दुर्गम पहाड़ के गांव में रहने वाली धनुली के भरण-पोषण का एक मात्र जरिया पति की पेंशन ही थी, वह भी नहीं मिल रही है। वह तीन साल से सेना व वन विकास निगम के अधिकारियों की चौखट पीट रही है, लेकिन सुनने वाला कोई नहीं है। हल्द्वानी के मानपुर पिश्चम निवासी एसएस राणा ने उसे सहारा दिया है। 

ग्रामीणों ने डीएफओ को घेरा

अल्मोड़ा। विकासखंड हवालबाग के ग्राम रौन-डाल, सैनार, चाण व खूंट के सैकड़ों ग्रामीण आदमखोर बाघ को मारने की मांग को लेकर सड़कों पर उतर आए। आत्र्कोशित ग्रामीणों ने डीएफओ का घेराव कर आदमखोर बाघ से तत्काल निजात दिलाने की मांग की। उनका कहना था कि सोमवार से धरना-प्रदर्शन के माध्यम से ग्रामीण यह जानना चाहते हैं कि अब तक लगभग आधा दर्जन मानव जीवन आदमखोर बाघ समाप्त कर चुका है। अभी तक वन विभाग व जिला प्रशासन की ओर से कोई ठोस पहल नहीं की गई, जिससे ग्रामीण दहशत में हैं। यदि शीघ्र ही बाघ को मारने के आदेश जारी नहीं किय गए तो ग्रामीण परिवार सहित जिला मुख्यालय में धरना देने को मजबूर होंगे।ज्ञापन में मांग की गई है कि आदमखोर बाघ को पकड़कर दूसरी जगह ले जाया जाए या मारने के आदेश दिए जाएं। क्षेत्र की ग्राम पंचायतों में बैरीकेटिंग कराकर जंगली जानवरों को आबादी क्षेत्र में न आने दिया जाए। मारे गए मवेशियों का तत्काल मुआवजा दिया जाए। शौचालयों के लिए धनराशि आवंटित की जाए। ज्ञापन देने वालों में पूर्व विधायक कैलाश शर्मा, ग्राम प्रधान बची राम, मोहन सिंह चौहान, रमा देवी, पुष्पा चौहान, दुर्गा देवी, पार्वती देवी, मोहन रामदास, महेंद्र सिंह, पदमा देवी, हिरूली देवी, गोविंद सिंह, गोपाल सिंह, खीम सिंह, मदन राम, नवीन कुमार, भूपाल सिंह, त्रिलोक सिंह, चंदन सिंह, आनंद सिंह सहित सैकड़ों ग्रामीण शामिल थे। 

एलपीजी की कालाबाजारी पर अंकुश की मांग

 

उधमसिंहनगर। क्षेत्र में बनी रसोई गैस की किल्लत को समाप्त करने व कालाबाजारी को रोकने की मांग को लेकर यूकेडी कार्यकर्ता गैस एजेंसी जा पहुंचे। जहां गैस प्रबंधक को ज्ञापन सौंपकर कारर्वाई की मांग की।सोमवार को कार्यकर्ता यूकेडी (दिवाकर गुट) में किसान प्रकोष्ठ के केंद्रीय अध्यक्ष नन्दलाल कंबोज के नेतृत्व में एकत्रित होकर गैस एजेंसी जा धमके जहां प्रबंधक दयाराम आर्या को ज्ञापन सौंपा गया। ज्ञापन में कहा गया है कि बाजपुर में आये दिन गैस की किल्लत बनी रहती है, इसके अलावा बिजली चले जाने पर उपभोक्ताओं को गैस की पर्ची नहीं मिल पाती है जिसके चलते क्षेत्रवासियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।
 
ज्ञापन में गैस एजेंसी पर जनरेटर की व्यवस्था करवाने व क्षेत्र में गैस की कालाबाजारी रुकवाने की मांग की गई है। साथ ही 15 दिन के अंदर जनरेटर की व्यवस्था न होने पर गैस प्रबंधक कार्यालय में तालाबंदी करने की चेतावनी दी। ज्ञापन देने वालों में जितेंद्र सागर, मंदीप सूरी, चन्दन पाल, शशीकांत कौशिक, संजय जिंदल, गुरदयाल सिंह, इकबाल सिंह, पलविंदर सिंह, मो.शुहेब, राजकुमार, हरि सिंह, बलकार सिंह, विजय कुमार, पवन, अजय व दीपक शामिल थे। 
 

 

भवाली में राष्ट्रीय विधि विवि की स्थापना का रास्ता साफ

नैनीताल। उत्तराखंड न्यायिक एवं विधिक अकादमी भवाली (नैनीताल) में उत्तराखंड राष्ट्रीय विधि विवि की स्थापना का रास्ता साफ हो गया है। विधान सभा में विधेयक को मंजूरी मिलने के बाद शासन ने बाकायदा 50 लाख की टोकन मनी जारी कर दी है। उधर गृह विभाग ने नैनीताल में अग्निशमन विभाग के भवन निर्माण को भी स्वीकृति दे दी है।बताते चलें कि मुख्यमंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ने हाईकोर्ट की 10वीं वर्षगांठ पर भवाली में राष्ट्रीय विधि विवि की स्थापना की घोषणा की थी। विधायक खड़क सिंह बोहरा ने बताया, विधि विवि की स्थापना भवाली स्थित उजाला अकादमी के समीप कुमाऊं मंडल विकास निगम की औद्योगिक इकाई यूपी डिजीटल्स की भूमि (जो पर्यटन विभाग के प्रशासनिक नियंत्रण व सैनिक स्कूल घोड़ाखाल के अध्यासन में है) में की जाएगी।
 
जरूरत पड़ी तो उजाला अकादमी में उपलब्ध सुविधाओं का उपयोग किया जाएगा। श्री बोहरा के मुताबिक गृह विभाग ने नैनीताल में जीर्ण शीर्ण हो चुके अग्निशमन विभाग के भवन निर्माण को भी मंजूरी प्रदान कर दी है।दूसरी ओर भाजपा कार्यकर्ताओं ने विधि विवि की स्थापना पर मुहर को बड़ी उपलिब्ध बताते हुए मुख्यमंत्री डॉ. निशंक, शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह बिष्ट, क्षेत्रीय विधायक खड़क सिंह बोहरा के प्रयासों को सराहनीय बताया। इसी सिलसिले में हुई बैठक में भाजपा नेता किशन पांडे, गोपाल रावत, जिला मंत्री हरगोविंद रावत, नगर महामंत्री जगमोहन बिष्ट, भाजयुमो जिलाध्यक्ष अरविंद पडियार, उपाध्यक्ष कुंदन बिष्ट, प्रमोद पंत, गिरीश फुलारा आदि मौजूद थे। 

राजस्व कर्मियों की हड़ताल चौथे दिन भी जारी

देहरादून। आरोपित अधिवक्ताओं े खिलाफ कानूनी कार्यवाही न होने से आक्रोशित राजस्व कर्मचारी महासंघ की हड़ताल आज चौथे दिन भी जारी रहा। संघ े कर्मचारियों की हड़ताल से लोगों को मायूस ही घर लौटना पड़ रहा है। मालूम हो कि 23 मार्च को कुछ अधिवक्ताओं द्वारा जनाधार ेंद्र में कार्य कर रहे प्रदीप कुमार े साथ मारपीट और बदतमीजी का मामला प्रकाश में आया था। जिसे बाद कर्मचारियों ने जिलाधिकारी से वार्ता कर अधिवक्ताओं े खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया। लेकिन मामलें में पुलिस द्वारा अभी तक कोई कार्यवाही न होने पर गुस्साएं कर्मचारियों ने आंदोलनरत रहने की ठान ली है। इस अवसर पर संघ े अध्यक्ष गोविन्द सिंह नेगी ने कहा कि जनाधार में कर्मचारियों पर दबाव बनाना सरकारी कार्य में बाधा डालने से कम नही है, और इसे लिए कानून में सजा का प्रावधान है। उन्होने कर्मचारी े साथ मारपीट करने वाले अधिवक्ताओं की गिरफ्तारी की मांग की है। इस अवसर पर राजेन्द्र प्रसाद सेमवाल, नन्दन सिंह, राजपाल सिंह, खोमसिंह नेगी, राजेन्द्र प्रसाद, राधेश्याम पैन्युली, महिधर धस्माना, देवेन्द्र आदि मौजूद थे। 

सिंचाई संघ ने किया सचिवालय कूच

देहरादून। सिंचाई संघ ने अपनी छह सूत्रीय मांग को लेकर रैली निकाली और सचिवालय कूच किया। कार्यकर्ताओं ने सरकार पर उपेक्षा का आरोप लगाते हुए आंदोलनरत रहने की चेतावनी दी। कार्यक्रमानुसार संघ े कार्यकर्ता गांधी पार्क में एकत्रित हुए। कार्यकर्ताओं ने राज्य सरकार े खिलाफ नारेबाजी की और सचिवालय कूच किया। सचिवालय े नजदीक पहुंचते ही पुलिस ने बैरिेडिंग लगाकर प्रदर्शनकारियों को रोक दिया। इस पर प्रदर्शनकारियों और पुलिस े बीच नोंक झोंक भी हुई। इस अवसर पर प्रान्तीय अध्यक्ष शेषनाथ यादव ने कहा कि अंशकालीन नलकूप चालकों े नियमितिकरण की मांग को सरकार लगातार अनदेखी कर रही है। इतना ही नही ग्रामीण क्षेत्रों में कार्यकरत नलकूप चालकों को विभाग में भोजकर उने स्थानों पर नई भर्तीया करने की दिशा में भी शासन-प्रशासन की ओर से कोई पहल नही की जा रही है। उन्होने कहा कि राज्य सरकार की अनदेखी का दंश आज राज्य े समस्त संगठनों को झेलना पड़ रहा है। वर्तमान में हर विभाग े कर्मचारी राज्य सरकार े खिलाफ सड़कों पर उतर कर अपने हितों की आवाज उठा रहे है। उन्होने अपनी मांगो े न माने जाने पर कार्यकर्ताओं ने आंदोलनरत रहने का आह्वान किया। इस अवसर पर पानसिंह बिष्ट, भीम बहादुर खत्री, विजय कुमार भटट, नरेशपाल शर्मा, सतीश मित्तल, बालकिशन, जगदीश पाल आदि मौजूद थे। 
 

पीआरडी हित संगठन की बैठक 5 को

बागेश्वर। पीआरडी जवान हित संगठन जनपद अल्मोड़ा की बैठक 5 अप्रैल को विकासखंड कार्यालय के परिसर में बुलाई गई है। इसमें पीआरडी जवानों को नियमित ड्यूटी दिये जाने एवं उनकी अन्य समस्याओं पर चर्चा होगी। संगठन के जिलाध्यक्ष चिंताराम आगरी ने ब्लाक कमांडर व हल्का सरदार सहित सभी प्रशिक्षित पीआरडी जवानों से बैठक में भागीदारी करने की अपील की है। 
 

आधुनिक तकनीक से करें खेती

बागेश्वर। गोविंद बल्लभ कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय पंतनगर के तत्वावधान में स्याल्दे विकासखंड मुख्यालय परिसर में सोमवार को किसान मेले का आयोजन किया गया। इस दौरान काश्तकारों को उन्नत एवं वैज्ञानिक खेती के तौर-तरीके बताये गये। साथ ही स्वयं सहायता समूहों को अनुदान पर कृषि यंत्र भी वितरित किये गये।
 
मेले का विधिवत शुभारंभ प्रमुख राधा रमण उप्रेती ने रिबन काटकर किया। उन्होंने इस तरह के आयोजन को काश्तकारों के लिये लाभदायक बताया। कहा कि हमें खेती को व्यवसाय के रूप में अपनाना होगा। संयुक्त निदेशक प्रसार डा. टीपी सिंह ने अपने संबोधन में वैज्ञानिक खेती के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा की। कहा कि वैज्ञानिक तरीके से खेती करने से लोगों की आमदनी बढ़ेगी तथा इससे गांवों से पलायन भी रूकेगा। इस अवसर पर डा. वीपी सिंह ने उन्नत सब्जी की खेती के बारे में बताया। डा. शिव दयाल ने चारा-फसल तथा डा. रूपाली शर्मा ने जैविक नियंत्रण के संबंध में विस्तार से जानकारी दी। कार्यत्र्कम का संचालन करते हुए डा. बीडी सिंह ने उन्नत प्रजातियों के बीजों के बारे में बताया। साथ ही विशेषज्ञों ने वैज्ञानिक कृषि यंत्रों के साथ ही बेहतर पशु प्रबंधन के उपायों पर चर्चा की। गोष्ठी को डा. आरके शर्मा, डा. राजेन्द्र कुमार व डा. जयंत सिंह ने भी संबोधित किया। इस मौके पर अनेक समूहों को 90 फीसदी अनुदान पर वैज्ञानिक कृषि यंत्रों के साथ ही उन्नत बीज भी वितरित किये गये। मेले में विभागों द्वारा विभिन्न स्टाल भी लगाये गये थे। अध्यक्षता प्रधान भगुली देवी द्वारा की गई। जबकि इस दौरान खंड विकास अधिकारी आरपी पंत, प्रधान रमेश उप्रेती, हंसी देवी, पुष्पा देवी, उर्बा दत्त, दीवान सिंह, पूरन सिंह, बलवंत सिंह, मोहन सिंह, कुन्दन लाल व गोविंद सिंह समेत बड़ी तादाद में काश्तकार मौजूद थे। 

सांप के काटने से युवक की मौत

बागेश्वर। बाजार से लगे गांव धुधलिया बिष्ट में सोमवार को एक युवक को सांप ने काट दिया, जिससे उसकी मौत हो गई। इससे परिवार में कोहरम मचा हुआ है।
 
धुधलिया गांव निवासी दयाल शर्मा(35) पुत्र देवीदत्त किसी काम से चौखुटिया बाजार गया था। दिन में करीब डेढ़ बजे घर लौटते समय वह गांव के पास खेत में पानी देखने चला गया, इसी दौरान जहरीले सांप ने उसे काट दिया। इसके बाद दयाल दौड़ कर बाजार की ओर गया। सूचना मिलने पर गांव के लोग भी पहुंच गए और उसे अस्पताल ले गये, कुछ ही देर में युवक ही हालत गंभीर हो गई। चिकित्सकों ने उसकी हालत गंभीर देख रानीखेत के लिए रेफर कर दिया। बाद में 108 वाहन से दयाल को रानीखेत ले जाया जा रहा था, लेकिन पान-बैरती के पास उसने दम तोड़ दिया। युवक की मौत से गांव में शोक की लहर दौड़ गई, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। दयाल शर्मा मेहनत मजदूरी कर परिवार का भरण-पोषण करता था। परिवार में उसकी पत्नी और तीन छोटे-छोटे बच्चे हैं। लोगों ने परिवार को आर्थिक सहायता दिये जाने की मांग की है। 

पुलिस को 15 दिन की मोहलत

अल्मोड़ा। विकासखंड हवालबाग के ग्राम महतगांव निवासी राजेंद्र सिंह मेहता के हत्या अभियुक्तों की एक माह बाद भी गिरफ्तारी न होने से ग्रामीणों का गुस्सा फूट पड़ा। उन्होंने जिलाधिकारी कार्यालय में प्रदर्शन कर शीघ्र गिरफ्तारी की मांग उठायी। ग्रामीणों ने पुलिस का 15 दिन की मोहलत देते हुए चक्काजाम करने की चेतावनी दी। 
 
उल्लेखनीय है कि 19 फरवरी को देवस्थल मंदिर के समीप महतगांव निवासी राजेंद्र सिंह की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी। राजेंद्र सिंह कोसी में मदिरा की दुकान में सेल्समैन था। घर लौटते वक्त घटना को अंजाम दिया गया। जिलाधिकारी को सौंपे ज्ञापन में ग्रामीणों ने कहा कि महतगांव निवासी राजेंद्र सिंह पुत्र नाथू सिंह के भाई बलवंत सिंह ने प्रथम सूचना 21 फरवरी को दर्ज कराई, क्योंकि शव मिलने की जानकारी उसी दिन हुई थी। ग्रामीणों ने पुलिस पर हत्या के मामले में कोई सित्र्कयता नहीं दिखाने का आरोप लगाया है। यही नहीं मृतक के पिता ने इस बाबत मुख्यमंत्री को भी एक प्रार्थना पत्र दिया। उस पर भी कोई अमल होता नहीं दिखा है। हत्या के मामले में पुलिस की नष्ति्रि्कयता से खिन्न ग्रामीणों को सड़क पर उतरना पड़ा है। ग्रामीणों ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट का जित्र्क करते हुए कहा कि राजेंद्र सिंह के गुप्तांग व सिर पर गंभीर चोट थी। जांघ पर गहरा जख्म होना बताया गया है। जिन परिस्थितियों में नदी के किनारे शव पाया गया, वह पूरी तरह हत्या का मामला दिखाई देता है। प्रदर्शन व ज्ञापन देने वालों में पूर्व विधायक कैलाश शर्मा, भाजपा के जिलाध्यक्ष अरविंद बिष्ट, गोकुल मेहता, मृतक राजेंद्र सिंह की पत्??नी जानकी देवी, महेश नयाल, जीवन सिंह मेहता, ग्राम प्रधान गणेश मेहता, बालम सिंह भाकुनी, प्रवीण सिंह, नरेंद्र सिंह, चंदन सिंह, सागर मेहता, चंपा देवी, हेमा देवी, मनोहर सिंह मेहता, पदम सिंह, लक्ष्मी देवी, आनंद सिंह, महिपाल सिंह, श्याम सिंह, नारायण सिंह सहित सौ से अधिक ग्रामवासी शामिल थे। 

Villagers of Chukam at Ramnagar demand rehabilation

Haldwani: Surrounded by river Koshi from one side and by a huge drain by other side, the people of village Chukam at Ramnagar may have been able to survive nautral disasters like flood for years, but now it seems their patience has only worn thin following alleged negligence on part of the State Government to rehabilitate them.

The agitating villagers on Monday took out a protest march demanding their rehabilitation following large scale damage to the lives and properties they have to face every year during monsoon season. 'We can no longer bear with this problem. Since 1993 we have beenfacing the flood and other natural disaster during monsoon season, alleged Jassi Ram, president of Chukum village rehabilitation committee and former pradhan of Chukum. Nearly two dozen villages were washed away by the devastating Koshi flood during the last monsoon season. More so, we had to face a large scale damage to our cultivable land and loss of cattle in this nature 's fury. But there is no step taken by the government so far to protect the villagers from this disaster, Ram regretted.

The agitating villagers took out the protest march from theirvillage to Dhangari gate and handed over a memorandum to the local administration demanding their early rehabilitaiton.They have been on dharna for nearly a week. If the Government fails to listen to our concerns, we would be compelled to intensifyour agitation, asserted Ganga Singh Negi, a senior member of the Chukum villalge rehabilitation committee. He further informed that during the recent years threat from the Koshi river during monsoon has only gone up. As many as 15 houses were washed away and loss of cattle and other properties was not less concerning during the last monsoon. More so, now with damage to a large scale land area, threat from the river during rainy days to our village has only gone up. Butnot even small steps like installing barricades on the periphery ofthe village against the course of river have been taken. There are about ninety families in this villages.During the rainy season when water flows in the said river above danger mark thevillage almost remains cut off with other parts of the area. The fact is that even during normal days the people of this village have to cross the river to approach the main motorable road end. 


3 days left for financial year end and funds still unspent

Dehradun: Though the financial year 2010-11 is about to end on March 31, but the Members of Legislative Assembly (MLA) of Dehradun district have failed to spend the funds, which were allocated to them by the State Government for the development of their constituencies.

As per the information provided by the Dehradun district development officials, the State Government has allocated `20.0 crore for MLAs in the district for the local area development in their constituencies for the year 20010-11.  Out of which `6.59 crore ie around 30 per cent has spent by MLAs so far. Uttarakhand Vidhan Sabha Speaker and Dehrakhas MLA Harbans Kapur has spent `88.89 lakh for the local development against the allocated amount of `two crore in his constituencies. Sahaspur MLA Raj Kumar spent `1.5 crore, Rajpur MLA Ganesh Joshi spent `46.30 lakh and Uttarakhand Agriculture Minister and MLA Doiwala Trivendra Singh Rawat spent `21.54 lakh and Dinesh Agrawal, MLA of Lakshman Chowk has spent `187.90 crore which is the maximum spent by any MLA in the Dehradun district. Shankar Negi, a resident of Sahastradhara Road said that it is unfortunate that MLAs could not utilize local area funds for the financial year 2010-11. Less spending means less development work and people are being forced to live without basic amenities.  A majority of MLAs have not even spent 50 per cent of their funds. It seems legislature made promises just for the sake of winning election and nothing else which is why they could not spare time to utilize the fund. It is pertinent to mention that MLA constituency fund was started in 1998 and each MLA was allotted ` 1.25 crore per year but it has been increased to Rs two crore in the financial year 2009-10. The MLA fund does not lapse at the close of the financial year and can be carried forward to the next year.

Aakrosh rally in Pauri on April 11

Pauri Garhwal: To put pressure over the State Government All India Shri Valmiki Young Man Association (AISVYMA) Garhwal Division is going to organise Aakrosh rally in Pauri on April 11.

The decision was taken in the meeting held in Pauri, which was presided by the Uttarakhand State President of the association Banarasi  Das Gaur. Mandal President Balram Bagwani and General Secretary Rajesh Parcha announced that All India Shri Valmiki Young Man Association Garhwal Mandal unit has decided to demonstrate Akrosh rally in support of their 11 point demand and problems of Valmiki.  In which Valmiki community from all part of the Garhwal Division will participate in this rally. State President Banarasi Das Gaur emphasized that this rally would show impact of unity of Valmiki community. The Mandal unit secretary Manoj Kumar expressed resentment on the apathy of Government in solving the genuine problems of the Valmiki.  A memorandum will be submitted to Commissioner Garhwal on April 11 regarding the pending demands of the association.  Their demands including, to issue the caste, permanent resident certificate to the Valmiki residing in the State, all the daily wages and contract base sweepers employees in the different Government department should be made permanent and to abolish the contract system in health and other departments, the poor family of Valmiki community be given BPL card.  The local bodies employee should be treated as Government employees and 20 per cent reservation be given in the Public School for free education to the child of Valmiki families.


Population of tigers in Uttarakhand has increased from 164 in 2006 to 227 in 2010

Dehradun: In spite of different problems like human-wildlife conflict and decreasing habitat for wildlife, the population of tigers in Uttarakhand has increased from 164 in 2006 to 227 in 2010 as per the report titled status of tigers in India -2011 based on the national level exercise for estimation of tiger population undertaken by the Dehradun-based Wildlife Institute of India. According to the Uttarakhand Principal Chief Conservator of Forests (Wildlife) and Chief Wild Life Warden Shrikant Chandola, the report submitted by WII also states that in addition to the increase in tiger population in the Corbett Tiger Reserve landscape in Uttarakhand the tiger population in the Shivalik-Gangetic plain- which also includes part of CTR, has increased from 297 to 353.

Uttarakhand is now ranked third after Karnataka and Madhya Pradesh in tiger population. The State CWLW said that increase in tiger population in Uttarakhand especially in the CTR landscape and Ramnagar Forest Division calls for fresh setting of priorities which focus on establishment of dedicated wildlife corridors to ensure connectivity between protected forest areas and effective measures for redressing the growing human-wildlife conflict. Considering the increased tiger population it is also vital to increase the compensation rates for those suffering damage from wild animals and speeding up payment of the same. Involving local residents more closely in wildlife conservation efforts, developing effective means of livelihood for locals, judicious and equitable relocation of villagers from forest areas also need to be facilitated in order to ensure a healthy population of tigers and other wildlife, added Chandola.

The State needs to re-align its policies for improved wildlife management and timely and proper relocation of people from protected areas as delays in such tasks cannot be afforded at this stage. The tiger population will increase further if these measures are effectively executed. The Uttarakhand CWLW stressed that as cubs were not counted in the estimation of the national tiger population, the tiger population in Uttarakhand is expected to increase in the future considering the fact that 34 cubs were counted in CTR. 30 per cent of the national tiger population resides outside protected areas, a fact substantiated by the increase in tiger population in the Ramnagar Forest division in the State.  Corbett National Park field director Ranjan Kumar Mishra said that sustaining a healthy tiger population is more important than the numerical values, because a healthy breeding population will naturally result in an increased population of tigers. The healthy and increased tiger population in Uttarakhand is an indicator of the favourable environment and factors like healthy prey base, he added. 

More than Rs. 17000/- loan on every individual residing in Uttarakhand

Dehradun: Incredible but true, each resident of Uttarakhand is having more than Rs 17,000 loan on his head. This was disclosed by the State Government while replying to the question of congress MLA Jot Singh Ghunsola during question hour on Monday. Replying to question, Parliamentary Affairs Minister Prakash Pant said that to repay the loan the State Government has made Rs 883 crore against the loan of Rs 17,029.45 crore since inception of Uttarakhand in the year 2000. He further said that to repay the loan the State has established investment in consolidated sinking fund of Uttarakhand and makes budget allocation in each financial year.  As per the data of investment in consolidated Sinking Fund of Uttarakhand State has paid Rs 883 crore including Rs 55 crore in 2001; Rs 20 crore in 2002; Rs 120 crore in 2003; Rs 65 crore in 2004; Rs 190 crore in 2005; Rs 75 crore in 2006; Rs 133 crore in 2007; Rs 60 crore in 2009 and Rs 165 crore in 2010. As per census 2001 State’s population is 84,89,349 so each resident of Uttarakhand having loan of Rs 20,060 and if we compare with current population which is around one crore then loan amount would be of Rs 17,029. Although State Government repays some installment time to time and has paid Rs 883 crore so far.

Government alleged of harassing the villagers

Dehradun: On the issue of burning of a leopardess to death in a village, Opposition members walked out of the Uttarakhand Assembly and alleged the Government of harassing the villagers. Raising the issue under 310 of vidhan sabha proceeding during the Zero Hour, Leader of the opposition Harak Singh Rawat said that State Government has converted Rikhnikhaal village into cantonment by deploying PAC and is harassing innocent villagers by registering cases against them. Due to this they are hiding into the forest and except Pradhan of the village most of the male people have left the village in search of safer place. The House had a discussion over the issue under 58 and later Speaker turned down the proposal.  Instead of registering case against the villagers they should register case against the forest and police official, who failed to disperse the crowd, ultimately leopardess lost her life. Parliamentary Affairs Minister Prakash Pant, however, said the leopard comes under schedule one under Wildlife Protection Act and its killing is a serious offence so action against the villagers is justified. He, however, said Government is planning to make a working plan so that the conflict between the human and wild animals can be minimised.


Corbett National Park to have a new entry gate

Dehradun: With an intention to give a fillip to wildlife tourism Uttarakhand Government has decided to set up a new entry gate at Kotdwar. An announcement in this regard made by Parlimentary Affair Minsiter Prakash Pant during question hour on Monday. Replying to a BJP MLA Shailendra Singh Rawat's question in the House, Parliamentary Affairs Minister Prakash Pant said work has already been started to open the new entry gate at Kotdwar in Pauri Garhwal district at a cost of `1.40 crore and the Government intends to open it for tourists by November 15 this year when the season for wildlife tourism begins. Construction of a reception centre, repair of roads, modernisation of lansedowne forest division, construction of a safety wall, beautification work and other facilities would be developed at Kotdwar as it has been done at Ramnagar entry point in Nainital district, Pant added. Jim Corbett National Park, which is being known for having one of the healthiest population of tigers, attracts thousands of tourists and wildlife lovers per year.

Wind energy project to be installed at Tehri's Bachelikhal village

Haldwani: The ambitious wind energy project to be installed at Tehri's Bachelikhal village, is likely to be delayed due to shortage of requisite funds. The estimated cost of this renewable energy power project was Rs 12 crore. But the concerned department, Uttrakhand Renewbale Energy Development Authority (UREDA) has so far received only Rs 50 lakh .More so, less budgetary allocation in the this year's Budget 2011-2012 by the State Government seems to have come only as a setback for the renewable energy sector. The State Government has made an allocation of Rs 3 crore in its Budget for the year 2011-2012 for this sector against a demand by the UREDA for Rs 21 crore. The generation of wind energy has not been so successful in the State given its hilly geographical terrain unlike southern States. Yet this small tiny village, Bachelikhal in Tehri, has emerged as a suitable place to run a wind energy project. If everything goes as scheduled, work on this ambitious wind energy project would be started by September or October but now shortage of funds is a cause of concern. To begin with it land acquiring process is on in the said area, said PC Sanwal, statics officer, UREDA. He added that the required land would be acquired in due course of time. At the same time once the land is acquired, tendering process would be done in April or May so that works on this project could be started in time, Sanwal further said. But he, added, we have so far received only Rs 50 lakh for this project. Since then there is no release of fund. We can only hope, he added.

2 minors arrested for stealing bikes

Dehradun: The police arrested two juveniles on Monday for allegedly stealing two bikes four days ago. The two boys will be produced in the juvenile court on Tuesday, said ASP Virenderjeet Singh.Two students aged 12-years and studying in class VII of Children's Academy on Chakrata Road were arrested by the police on Monday allegedly for vehicle theft. According to the police one of the boys lives at Cannaught Place while the other lives near Anand Chowk on Tilak Road. The two had allegedly stolen a couple of two-wheelers on Friday from the crowded site where the famous Jhanda fair was organised. They claimed that they had started both the two-wheelers with a key they found on a Royal Enfield motorcycle. Parents of the duo didn't know where their wards had brought two wheelers from. However, the father of one of the boys, who is employed at Children's Development Centre, Dehradun said that his son claimed that he had brought his friend's vehicle. The two confessed that they had stolen the bikes to enjoy riding the vehicles. 

उत्तराखण्ड पर्यावरण एवं वन्य जीव संरक्षण के लिए प्रतिबद्ध राज्य है: निशंक

देहरादून, 28 मार्च, 2011 (सू.वि.): मुख्यमंत्री डा. रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने राष्ट्रीय स्तर पर बाघों (ज्पहमते) की गणना (छंजपवदंस म्ेजपउंजपवद म्गबमतबपेम) में उत्तराखण्ड में बाघों की संख्या में वृद्धि पर संतोष व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री ने कहा है कि उत्तराखण्ड पर्यावरण एवं वन्य जीव संरक्षण के लिए प्रतिबद्ध राज्य है। मुख्यमंत्री ने विशेष रूप से जिम कार्बेट नेशनल पार्क में बाघों की संख्या में लगभग 39 प्रतिशत की वृद्धि पर हर्ष व्यक्त करते हुए पार्क प्रशासन को ओर अधिक समर्पण के साथ वन्य जीव संरक्षण में जुट जाने को कहा है।

प्रमुख वन संरक्षक डाॅ. आर.बी.एस. रावत ने बताया कि वर्ष 2006 में 164 बाघों के सापेक्ष जिम कार्बेट नेशनल पार्क में बाघों की वर्तमान संख्या 227 हो गई है। प्रदेश में कार्बेट नेशनल पार्क को सम्मिलित करने हुए शिवालिक- गंगा मैदान भू-भाग में 2006 में 297 बाघों के सापेक्ष वर्तमान में 353 बाघ हो गये हैं। उन्होंने बताया कि कार्बेट नेशनल पार्क जो कि इस वर्ष अपना प्लेटिनम जुबली वर्ष मना रहा है, के लिए यह एक उत्साह वर्द्धक तथ्य है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में टाइगर प्रोटेक्शन फोर्स का गठन कर दिया गया है। इसके साथ ही कार्बेट फाउन्डेशन ट्रस्ट की स्थापना भी कर दी गई है। सरकार वन्य जीव संरक्षण के लिए प्रतिबद्ध है और प्रसिद्ध क्रिकेट खिलाड़ी महेन्द्र सिंह धोनी को कार्बेट का मानद वाइल्ड लाइफ वार्डन नियुक्त किया गया है।

 

.