Share Your view/ News Content With Us
Name:
Contact Number:
Email ID:
Content:
Upload file:

Four Engineering colleges and 2 Polytechnics will be developed as center of excellence

Dehradun : Four Engineering colleges and 2 Polytechnics of the state will be developed as center of excellence. An MOU regarding this was signed by the Uttrakhand Government, PTC and DCS at Bijapur Guest House in the presence of Chief Minister Harish Rawat.

 
The MOU was signed by Additional Secretary Technical Education Shailesh Bagoli on the behalf of Uttrakhand Government, Vice President Subhash Nambiyar on the behalf of PTC and Director Rahul Naidu on the behalf of DCS.
 
Speaking on the occasion, the CM Harish Rawat said that there is a need of giving priority to skill development in the state. He said that there is a strong need to train the youth of the state as per the need of the market. The state government has also started taking effective steps towards the direction. He expressed hope that the students of these selected institutes will benefit and get better placements.
Additional Secretary Technical Education Shailesh Bagoli said that under Corporate Social Responsibility, both companies will invest Rs 800 crore to develop 4 Engineering Colleges and 2 Polytechnic colleges as centers of excellence. The state government will only have to provide area of of 5-6 thousand square feet.
 
Engineering colleges of Dwarhaat, Pauri, Pant Nagar and Pitthoragarh and polytechnics of Kaladhungi and Hardwar will be developed based on modern techniques. Both, the teachers and students will be trained.
Present on the occasion were Additional Chief Secretary Rakesh Sharma, Principal Secretary SS Sandhu and other officers.
 

दून हाईवे के लुटेरे चढे पुलिस की गिरफ्त में

देहरादून : डोईवाला-देहरादून मार्ग पर पिछले कुछ समय से लुटेरों का एक गिरोह सक्रिय है। गिरोह अब तक कई घटनाओं को अंजाम दे चुका है। अब तक पुलिस इन घटनाओं का खुलासा कर पाने में कामयाब नहीं हो पा रही थी लेकिन इस बार डोईवाला पुलिस ने गिरोह के दो बदमाशों को दबोच ही लिया और इनके पास से लूटा गया सामान बरामद किया है। डोईवाला पुलिस के अनुसार गिरोह अब तक सात घटनाओं को अंजाम दे चुका है जबकि गिरोह मे शामिल यह बदमाश पहले भी चेन लूट जैसी वारदातों में जेल जा चुके हैं। 

राजमार्ग ७२ के सूनसान क्षेत्र में लूट की वारदातों को अंजाम देकर उडऩ छू जाने वाला गिरोह आखिर हाथ लग ही गया। आतंक का पर्याय बना यह गिरोह इस मार्ग से गुजरने वाले लोगों को डरा-धमका कर या फिर उनका सामान छीन कर चंपत हो जाता था। डोईवाला से लेकर भानियावालना तक यह गिरोह अपनी वारदातों को अंजाम देता आ रहा था। अब तक इसी मार्ग पर कई घटनाएं अंजाम देने वाला यह गिरोह आखिर कल पुलिस के हाथ लगा तो कई घटनाओं का खुलासा होता चला गया। प्रभारी निरीक्षक अनिल जोशी ने बताया कि गिरोह द्वारा १६ फरवरी को भी कुंवावाला डिवाईडर के पास तीन लुटेरों ने श्रीमती दीक्षा रावत पत्नी सत्यपाल सिंह निवासी बड़ोवाला जौलीग्रांट का पर्स छीन लिया था। श्रीमती दीक्षा रावत अपने वाहन से लौट रही थीं कि इसी दौरान पल्सर बाईक पर आए इन तीन बदमाशों ने उसका पर्स झपट लिया और फरार हो गए। पर्स में पैन कार्ड, दो एटीएम, सोने की अंगूठी, दो हजार रूपए थे। १६ फरवरी को ही पीडिता ने इस मामले की सूचना डोईवाला पुलिस को दी जिस पर पुलिस ने इस मार्ग पर सादे कपड़ों में गश्त एवं संदिग्धों की तलाश शुरू की। 

जल्द ही पुलिस को अपने इस अभियान के परिणाम भी मिल गए और एक पल्सर में सवार दो युवकों को रोक कर जब इनसे पूछताछ की गयी तो सारा माजरा सामने आ गया। श्री जोशी के अनुसार पकडे गए लुटेरों के नाम नवल एवं अरूण निवासी नवादा हैं जबकि इनके तीसरे साथी का नाम नितेश थापा है। यह लोग चोरी की पल्सर बाईक में लूट की वारदात को अंजाम देते थे और उसके बाद फरार हो जाते थे। इन लोगों से अब तक कुल सात लूट की वारदातों का खुलासा किया गया है। पिछली घटनाओं में नेहरू कॉलोनी में भी इन बदमाशों ने पर्स लूट की वारदात को अंजाम दिया था जबकि इनका एक फरार साथी नितेश थापा पूर्व मेंं चेन लूट के मामले में जेल जा चुका है। पुलिस के अनुसार कुछ ऐसी घटनाएं भी सामने आई हैं जिनमें पीडितों ने शिकायत ही दर्ज नहीं कराई। पकडे गए बदमाशों से पूछताछ की जा रही है जबकि इनके फरार साथी नितेश थापा की तलाश की जा री है।

 

Dehradun BAR council boycotts work on the first day of a two day long strike

Dehradun : The BAR counsil of Uttarakhand has called for a two day long strike and the lawyers of Dehradun avoided work in support of the protest. The same is against the attack by villagers on lawyers in Haridwar on Feb 7th.

At the start of the two-day long strike Bar Council of Uttarakhand, lawyers in Dehradun boycotted their work on Wednesday in protest against the attack on the lawyers by villagers on February 7 in Haridwar. In the attack, many lawyers were injured and their chambers were broken. The protesters alleged that the police had remained mute and took no action on the spot. The protesters demand transfer of Haridwar Senior Superintendent of Police without delay.

Uttarakhand Director General of Police BS Sidhu upon intervention said that in connection with this case, police had lodged FIR and counter FIR after receiving complaints from both the parties involved in the incident. Police are investigating the case on priority basis and action will be taken based on report submitted by the investigating officer, he added. Meanwhile, many people who reached the court compound had to return empty handed due to the work boycott by advocates.

Rahul Gandhi to visit Dehradun on 23rd Feb; Security tight

Dehradun : Congress is all set to welcome vice-president Rahul Gandhi to conduct a rally on February 23 on the Parade Ground in the State capital. All the security arrangements have been made for peaceful conduct of the rally from the hellipad to the ground. The rally is being discussed as an answer to the Shankhnaad Rally of Modi that was conducted in December last year. 

The newly appointed SSP Dehradun Mr. Ajay Rautela is all set to make the security arrangements perfect. He said that additional police force will be deployed at key areas in and around the ground. He said that security has already been installed and around the ground and visitors entering the ground will be properly checked at three different gates by the police. People who have planned to attend the rally should avoid carrying food, water bottles and mobile phones to the venue, he added.

The SSP inspected the Parade Ground and reviewed security measures with police officers. At the rally venue, mine detectors will be used to detect any landmine and even ground penetrating radar will be used to ensure there are is no underground explosive. CCTV cameras will be installed at various places in the Parade Ground. Special cameras at the venue will be installed to take photos of entrants at the main gate.

Bomb disposal squads, dog squad, quick response teams and others will be deployed at the venue of rally, he added. Rautela further said, “In order to ensure smooth flow of traffic in the state capital, barricading will be placed at various places apart from deployment of traffic police adequately at important places in the city. Some traffic routes will be changed in the state capital.”

According to him, additional police force including inspectors, sub-inspectors, head constables, constables, Local Intelligence Unit staff and others will be deployed for peaceful conduct of this rally in the State capital.

अजय रौतेला को सौंपी दून एसएसपी की कमान

देहरादून : राजधानी के पूर्व एसएसपी को रविवार को हटाए जाने के बाद आज आखिर गुरूवार को जिले को नया कप्तान मिल ही गयी। शासन ने प्रोन्नत आईपीएस अधिकारी अजय रौतेला को देहरादून जनपद की पुलिस बागडोर सौंपी है। अजय रौतेला इससे पूर्व दून में पुलिस अधीक्षक नगर भी रह चुके हैं। 

प्रदेश के मुख्यमंत्री हरीश रावत के शपथ ग्रहण के अगले रोज रविवार को ही दून के एसएसपी का तबादला कर दिया गया था। आईपीएस अधिकारी केवल खुराना को रविवार को ही पुलिस मुख्यालय में रिपोर्ट करने के आदेश दिए गए थे। बताया गया था कि केवल खुराना अपने एसएसपी रहने के समय हरीश रावत समर्थकों के फोन नहीं उठाते थे जिसके बारे में समर्थकों ने कई बार हरीश रावत से भी शिकायत की थी। इधर शनिवार को बीजापुर गैस्ट हाऊस में एक पूर्व विधायक ने केवल खुराना को चंद घंटों में कप्तानी से हटाने की भी चेतावनी दी थी जो कि अगले दिन ही सत्य साबित हुई। इधर रविवार को एसएसपी केवल खुराना को उनके पद से हटा दिया गया और पुलिस मुख्यालय से अटैच कर दिया गया।

इधर दून के नए कप्तान को लेकर कई नाम सामने आते रहे, लेकिन प्रोन्नत आईपीएस अधिकारी अजय रौतेला का नाम शुरूआत से ही इस दौड़ में आगे बना रहा। हालांकि दूसरे अन्य नामों के कारण अजय रौतेला के नाम की फाईल पर हस्ताक्षर करने में शासन में विलंब होता रहा। नए नामों में निलेश भर्ने, विम्मी सचदेवा, सदानंद दाते एवं बाद में स्वीटी अग्रवाल का नाम भी जुडऩे लगा था, लेकिन आज सुबह अजय रौतेला के नाम पर अंतिम निर्णय  ले लिया गया और उन्हें दून के एसएसपी की कमान सौंप दी गयी। अजय रौतेला इससे पूर्व उधमसिंह नगर में ४६ पीएसी में सेनानायक के पद पर तैनात थे। इसके अलावा हरिद्वार में आयोजित हुए महाकुंभ में उन्हें एसएसपी कुंभ की भी अहम जिम्मेदारी सौंपी गयी थी।

 

राज्यपाल ने श्री हरीश रावत को मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई

देहरादून : उत्तराखण्ड के राज्यपाल डा0 अज़ीज़ कुरैशी ने आज सायं प्रदेश के 8वें मुख्यमंत्री के रूप में श्री हरीश रावत को राजभवन के प्रांगण में पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। 

राजभवन के प्रांगण में आयोजित शपथ ग्रहण समारोह में राज्यपाल ने मुख्यमंत्री की सलाह पर प्रदेश सरकार में मंत्री पद हेतु नियुक्त किये गये डा0 ;श्रीमतीद्ध इंदिरा हृदयेशए श्री यशपाल आर्यए डा0 हरक सिंह रावतए श्री सुरेन्द्र सिंह नेगीए श्री प्रीतम सिंहए श्रीमती अमृता रावतए श्री दिनेश अग्रवालए श्री मंत्री प्रसाद नैथानीए श्री प्रीतम सिंह पंवारए श्री हरीश चन्द्र दुर्गापाल एवं श्री सुरेन्द्र राकेश को मंत्री पद की शपथ दिलाई। 

सायं 6ः00 बजकर 40 मिनट पर प्रारम्भ हुए शपथ ग्रहण समारोह के प्रारम्भ में मुख्य सचिव श्री सुभाष कुमार ने महामहिम राज्यपाल से अनुमति प्राप्त कर माननीय मुख्यमंत्री का नियुक्ति पत्र पढ़ कर सुनाया। 

20 मिनट तक चले इस समारोह में सांसद सतपाल महाराजए कांग्रेस महासचिव एवं उत्तराखंड प्रभारी श्रीमती अंबिका सोनीए स्वास्थ्य मंत्री भारत सरकार श्री गुलाम नबी आजादए कांग्रेस महासचिव श्री जनार्दन द्विवेदीए सहप्रभारी उत्तराखंड श्री संजय कपूरए उत्तराखंड के निर्वतमान मुख्यमंत्री श्री विजय बहुगुणाए डा0 रमेश पोखरियाल निशंक एवं नेता प्रतिपक्ष श्री अजय भटट् सहित अनेक अनेक गणमान्य अतिथिए जनप्रतिनिधिए शासन.प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारीए अन्य अतिथिगण और भारी संख्या में मुख्यमंत्री के समर्थक भी उपस्थित थे। 

शपथ ग्रहण करने से पूर्व मनोनीत मुख्यमंत्री ने राज्यपाल से मुलाकात कर उन्हें स्वयं को कांग्रेस विधायक मंडल दल का नेता चुने जाने संबंधी अधिकारिक सूचना दी तत्पश्चात् राज्यपाल द्वारा उन्हें मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण करने हेतु आमंत्रण देने की औपचारिकताएं भी पूर्ण की गई।

.