Share Your view/ News Content With Us
Name:
Contact Number:
Email ID:
Content:
Upload file:

सहवाग का खुलासा- ऑस्ट्रेलिया सीरीज के बीच में ही मुझे बिना बताए टीम से निकाला था

 

नई दिल्ली 31 दिसंबर(एन.एन.आई)। सितंबर में रिटायरमेंट ले चुके वीरेंद्र सहवाग ने एक और खुलासा किया है। उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा, "2013 में ऑस्ट्रेलियाई टीम भारत दौरे पर आई थी। सीरीज के बीच में ही अखबारों में खबर आई कि मुझे टीम से निकाल दिया गया है, जबकि इस बारे में मैं कुछ नहीं जानता था। मुझे बिना बताए ही बाहर का रास्ता दिखा दिया गया। मैं काफी दुखी हुआ था।"
वीरू क्यों ले सकते थे 2013 में ही रिटायरमेंट...
- सहवाग ने एक चैनल को बुधवार रात दिए इंटरव्यू में कहा, ''मैंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दो टेस्ट में अच्छा परफॉर्म नहीं किया। मुझे आखिरी दो टेस्ट में मौका मिलता तो वापसी कर सकता था।''
- ''हां, यदि तब भी मैं सभी की उम्मीदों पर खरा नहीं उतरता तो मुझे बाहर कर दिया जाता।''
- ''यदि सिलेक्टर मुझसे दो टेस्ट खेलकर रिटायरमेंट लेने को कहते तो इस पर जरूर सोचता।''
बीसीसीआई पर क्या लगाए आरोप?
सहवाग ने कहा, "सिलेक्टर्स और बीसीसीआई मैनेजमेंट को मुझसे बात करनी चाहिए थी, लेकिन उन्होंने कभी किया नहीं।"
क्यों नहीं कर सके वापसी?सहवाग ने कहा, "हां, ये सही है कि टीम से बाहर किए जाने के बाद डोमेस्टिक लेवल पर मैंने अच्छा परफॉर्म नहीं किया। टीम में लिया जाता तो मिडल ऑर्डर में भी नहीं खेल सकता था, क्योंकि सचिन, विराट, धोनी और पुजारा टीम में थे। पुजारा तीसरे, सचिन चौथे और विराट पांचवें नंबर पर खेलते थे। सचिन को तीसरे और पांचवें नंबर पर खेलने के लिए नहीं कहा जा सकता था। ऐसे में, मेरे लिए जगह ही नहीं थी।"

नवाज ने कहा- दुश्मनी भुलानी चाहिए, सरताज बोले- इंटरनेशनल प्रेशर के चलते आए मोदी

इस्लामाबाद 31दिसंबर। पाकिस्तान के फॉरेन एडवाइजर सरताज अजीज ने कहा है कि नरेंद्र मोदी का लाहौर दौरा अचानक नहीं हुआ। इंटरनेशनल प्रेशर के चलते उन्हें पाकिस्तान आना पड़ा। क्योंकि दुनिया चाहती है कि दोनों देशों के बीच बातचीत शुरू हो। वहीं, शरीफ ने कहा कि दोनों देशों के दुश्मनी भुलाकर आगे बढ़ना चाहिए।
शरीफ ने कहा- दोस्ताना रवैया समस्याओं को खत्म कर देगा...
- शरीफ ने बुधवार को कहा है कि अब भारत-पाकिस्तान के रिश्तों को नया मोड़ देने का वक्त आ गया है।
- शरीफ ने कहा, ‘भारतीय प्रधानमंत्री लाहौर आए। हमारे साथ कुछ वक्त बिताया। यह दुश्मनी को भुलाकर नई शुरुआत का वक्त है। भारत और पाकिस्तान के बीच बातचीत फिर शुरू करने पर रजामंदी हुई। बाइलेट्रल टॉक के लिए बातचीत पॉजिटिव तरीके से आगे बढ़ी है।’
- बलूचिस्तान में जर्नलिस्ट के सवाल पर नवाज ने कहा, ‘दोस्ताना रवैया कई बार समस्याओं को खत्म कर देता है।’
अजीज ने क्या कहा सांसदों से...
- अजीज मंगलवार को पाकिस्तानी संसद में सांसदों के सवालों के जवाब दे रहे थे। यह स्पेशल मीटिंग मोदी के दौरे पर चर्चा के लिए बुलाई गई थी।
- अजीज ने कहा, ‘मोदी की इस यात्रा के बहुत ज्यादा मायने न निकाले जाएं। लेकिन यह 2013 में बंद हो चुकी बातचीत को तेजी से आगे बढ़ाने और सभी मुद्दों को हल करने में मददगार साबित होगी।’
- हालांकि, विपक्ष इससे संतुष्ट नहीं हुआ। सीनेट में विपक्ष के नेता ऐतजाज अहसान ने कहा कि पाकिस्तान सरकार की जानकारी अधूरी है।
नवाज की नातिन की शादी अटेंड करने नहीं गए थे मोदी
- अजीज ने कहा, ‘मोदी पीएम शरीफ को बर्थडे की बधाई देने आए थे। उनके दौरे का शरीफ की नातिन मेहरुन्निसा की अगले दिन होने वाली शादी से कोई संबंध नहीं था।’
72 घंटे का वीजा हुआ था जारी
- अजीज ने बताया, ‘मोदी के साथ करीब 100 इंडियन रीप्रजेंटेटिव बिना वीजा के लाहौर हवाई अड्डे पर उतरे थे। हवाई अड्डे पर ही मोदी और उनके पर्सनल स्टाफ के 11 मेंबर्स के लिए 72 घंटे का वीजा जारी किया गया था। इस मामले में पूरे प्रोटोकॉल माना गया।’
- अजीज ने बताया, ‘भारतीय पीएम ने शरीफ को फोन कर पाकिस्तान आकर जन्मदिन की शुभकामनाएं देने की इच्छा जताई थी। शरीफ ने इसे मान लिया और बताया कि वे लाहौर में हैं। इसलिए मोदी लाहौर में उतरे।’
काठमांडू में मीटिंग से इनकार
अजीज ने कहा, ‘मोदी और शरीफ के बीच काठमांडू में कोई सीक्रेट मीटिंग नहीं हुई थी। इंडियन जर्नलिस्ट की लिखी किताब में दी गई सीक्रेट मीटिंग जानकारी में कोई सच्चाई नहीं है।’ बता दें कि नेपाल में दोनों देशों के पीएम की मीटिंग होने की बात की जाती रही है। मीटिंग कारोबारी सज्जन जिंदल ने कराई थी(एन.एन.आई)

ऐसा साल, हर खबर में था एक हीरो, ड्यूटी निभाने के लिए नेताओं से भी भिड़ गए

जोधपुर 31 दिसंबर(एन.एन.आई)। आज वर्ष के अंतिम दिन उन्हीं को खबर बनाया, घटनाओं को कवर कर चुके हमारे रिपोर्टरों ने ताकि... छपी-छपाई खबरें फिर से पढ़ने की बजाय, आपकी आंखों के सामने साहस के वे प्रतीक हों, जो नए साल में हमे प्रेरित कर सकें। खास बात यह है कि जिन खबरों से ये किरदार उभरे वे थीं भी बहुत ही असाधारण।ड्यूटी निभाने के लिए नेताओं से भी भिड़ गए...- हरिसिंह राठौड़ घंटाघर को दिया खुलापन
आरएएस हैं, पर राज्य के अन्य शहरों में आईएएस अफसरों को जोधपुर में हुए कामों की मिसाल दी जाती है। मामला घंटाघर काे वापस हेरिटेज लुक देने का हो, अतिक्रमण हटने का या फिर यूडी टैक्स वसूल करने का। वे खुद जुट जाते हैं, तभी उनका काम हर जगह दिखा भी।
वो कहते हैं- मैं या तो शून्य करता हूं या शत-प्रतिशत। जो काम हाथ लिया, पूरा होने तक शांत नहीं बैठ सकता। ड्यूटी के दौरान मैंने ऐसा टफ टाइम देखा है कि कोई और होता तो आत्महत्या कर लेता, पर इसी टफ टाइम से मैंने काम करना सीखा। फिर ये मेरा शहर है, फिर मैं कैसे अपनी ड्यूटी से पीछे हट सकता हूं। अब पहली प्राथमिकता शहर में सफाई की है। जोधपुर के लोग भी यही चाहते हैं। यहां तक कि वे खर्च करने को भी तैयार हैं। अब मेरी ड्यूटी है कि स्वच्छ जोधपुर हो।

घटनाएं जो 2015 में हरियाणा में रही असरदार, आप भी जानें

पानीपत 31 दिसंबर(एन.एन.आई)।यह बीते वर्ष की घटनाएं याद कराने की कोशिश नहीं, बल्कि उन घटनाओं से रूबरू करा रहे हैं, जिन्होंने प्रदेश पर असर डाला। जिनका सीधा असर हमारे ऊपर पड़ा। व्यवस्था की दिशा तय की। नए नियम-कानून बने। कई ऐसे पल रहे जिन पर हम गर्व कर सकते हैं...
गीता-सरस्वती गाय-योग का संगम
सरस्वती की खोज, गीता का जश्न 
स्कूलों में गीता पढ़ाने का एजेंडा भले सरकार इस साल लागू न कर सकी हो, लेकिन गीता की 5152वीं जयंती से पूरा प्रदेश जरूर गीतामयी कर दिया। पहला मौका रहा, जब सभी जिलों में गीता जयंती पर तीन दिन कार्यक्रम हुए। सरकार ने 3 करोड़ का बजट भी जारी किया। कुरुक्षेत्र में एक कार्यक्रम में जोश में आकर शिक्षामंत्री रामबिलास शर्मा ने कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय का नाम गीता विश्वविद्यालय करने की बात उठा दी। तुरंत विरोध भी शुरू हो गया। पहले बंसीलाल और ओमप्रकाश चौटाला ने भी नाम बदलने का असफल प्रयास किया था। सदियों से लुप्त सरस्वती नदी को ढूंढने के सरकारी दावे भी साल भर चले। सरकार ने 50 करोड़ की ग्रांट मंजूर की। सरस्वती के उद्गम स्थल आदिबद्री तक स्पेशल बस चलाई गई। सरकार की कोशिश गीता-सरस्वती को पर्यटन से जोड़ने की है।
50वां साल स्वर्णिम हरियाणा का सुनहरा वर्ष

1 नवंबर 1966 को पंजाब से अलग होकर बने हरियाणा ने इस साल पचासवें साल में प्रवेश कर लिया। यह पूरा साल स्वर्ण जयंती वर्ष के तौर पर मनाया जाएगा। इन 50 सालों में खेती, खेल और बोली के दम पर प्रदेश को बहुत से गौरवमयी क्षण मिले। कई मामलों में तो हरियाणा अपने पितृ प्रदेश पंजाब से भी आगे है।
शर्तों का ‘पंच’ पढ़ी-लिखी गांव व नगर की सरकारें

राजस्थान के बाद हरियाणा देश का दूसरा राज्य बना, जिसने पंचायत चुनाव लड़ने के लिए पांच शर्तें लगाई। सबसे ज्यादा अहम शर्त थी, पढ़ाई की शर्त। विरोध करने वाले सुप्रीम कोर्ट तक पहुंचे लेकिन सरकार के फैसले पर शीर्ष कोर्ट ने भी मुहर लगा दी। सरकार ने अब स्थानीय निकायों में पार्षद बनने के लिए भी यह शर्तें लागू कर दी हैं। ऐसा करने वाला देश का दूसरा राज्य बना।
सामाजिक परिवर्तन... खापों के बदले ख्याल

खापों का नाम आते ही लोगों के जहन में किसी सख्त फैसले लेने वाली संस्था दृश्य बनता है। लेकिन अब खापें अनी छवि बदल रही हैं। समय के हिसाब से वह आधुनिक हो रही हैं और अपने फैसलों में भी नरमी ला रही हैं। हाल ही में हुए कुछ फैसलों ने ऐसे संकेत दिए...

600 साल पुरानी परंपरा तोड़ी हिसार में नारनिंद गांव में सतरोल खाप ने अपनी 600 साल पुरानी परंपरा को तोड़ते हुए अपने अधीन आने वाले 42 गांवाें में अंतर्जातीय विवाह की मंजूरी दी। प्रधान इंद्र सिंह के अनुसार हरियाणा में बिगड़ते लिंगानुपात की वजह से यह फैसला लिया गया।

दहेज और फिजूल खर्ची पर रोक हरियाणा की अखिल भारतीय रोड़ खाप ने विवाह में दहेज न लेने, रिंग सेरेमनी न करने, डीजे आदि पर पाबंदी लगा दी।

दो बेटी वालों का सम्मान
जींद में 76 गावों की बूरा खाप ने दो बेटियों के बच्चे न पैदा करने वालों को सम्मानित करने, शादी में 21 बाराती ले जाने का फैसला किया।
 

SP महासचिव की स्टेज पर खुल गई धोती, CM भी नहीं रोक पाए हंसी

आगरा 31दिसंबर।मॉडल्स और एक्ट्रेस के oops moment की तस्वीरें और किस्से अक्सर सामने आते हैं। ऐसा ही कुछ मंगलवार को आगरा में हुआ, लेकिन इस बार यह एक नेता जी के साथ हो गया। समाजवादी पार्टी के महासचिव राम जी लाल सुमन की धोती स्टेज पर खुल गई। यह देख सभी लोग हंस पड़े। सीएम अखिलेश भी चुटकी लेते नजर आए। आगे पढ़ें, कब हुआ वाकया, कैसे संभले नेता जी...
आगरा के ताज नेचर वॉक में स्किल डेवलपमेंट को लेकर कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। स्टेज पर सीएम सहित कई नेता थे तो सामने सैकड़ों दर्शक। दीप जलाने के बाद सभी अतिथि अपनी जगह पर बैठने लगे। सीएम के बगल में बैठने जा रहे राम जी लाल सुमन कुछ हड़बड़ा गए। उनकी धोती पैरों में फंसकर खुल गई। सभी लोग हंस पड़े। राम जी लाल तुरंत कुर्सी पर बैठ गए। मुस्कुराते हुए बैठे-बैठे धोती बांधी।
कौन हैं राम जी लाल सुमन
आगरा में अखिलेश के चाचा के नाम से मशहूर राम जी लाल सुमन मुलायम सिंह के स्टूडेंट लाइफ के दोस्त हैं। दोनों ने राजनीति की शुरुआत आगरा से की थी। इसलिए राम जी लाल सीएम अखिलेश को डांटने का मौका नहीं छोड़ते। भाषण के बीच में बात करने पर वो सीएम को टोक देते हैं। मंगलवार को भी मंच से उन्होंने सीएम अखिलेश की कुर्सी को पिता की देन बताया(एन.एन.आई)

महिला कॉलेज से पीएचडी कर रहे दो छात्र

बेंगलुरू,31दिसंबर। क्या महिला कॉलेज से कोई पुरुष छात्र पीएचडी कर सकता है? बेंगलुरू में तो ऐसा ही चौंकाने वाला मामला सामने आया है। बेंगलुरू यूनिवर्सिटी के एक महिला कॉलेज में दो छात्र तीन साल से पीएचडी कर रहे है। अब खुलासा हुआ तो अधिकारी मामले को दबाने में लगे हैं। एक अंग्रेजी अखबार की खबर के मुताबिक, इनमें से एक छात्र ने 2012 में प्रवेश परीक्षा पास की थी, वहीं दूसरे छात्र ने 2013 में प्रवेश लिया था। यूनिवर्सिटी ने दोनों ने महारानी कॉलेज फॉर वूमन के श्रीमती वीएचडी सेंट्रल इंस्टिट्यूट ऑफ होम साइंस से अपनी पीएचडी करने की अनुमति दी। दोनों की पहचान उजागर होने के बाद अब अधिकारी यह विचार कर रहे हैं कि दोनों छात्र कोर्स जारी रख सकते हैं या नहीं? वहीं छात्रों पर भी तीन साल की मेहनत बेकार जाने की खतरा मंडरा रहा है। एक छात्र का नाम सीएस शिवकुमार बताया गया है। मामला यूनिवर्सिटी की सबसे बड़ी बॉडी को भेज दिया गया है। रोज बैठकें कर सवाल उठाए जा रहे हैं कि आखिर ऐसा कैसा हो सकता है? वहीं कॉलेज की अध्यक्ष का कहना है कि छात्र अपनी पीएचडी लगभग पूरी कर चुके हैं। इसलिए अभी उन पर कोई कार्रवाई नहीं की जाए(एन.एन.आई)।
 

सबसे अधिक बातें करते हैं ट्वीटर पर पीएम मोदी

 

नई दिल्ली,31दिसंबर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ट्विटर पर जिस तरह से एक्टिव रहते हैं उससे इस बात का अंदाजा आसानी से लगाया जा सकता है कि वह आम आदमी से किस कदर जुड़े हैं। हाल ही में आए आंकड़े भी इसी ओर इशारा करते हैं। इनके मुताबिक करीब 34 लाख ट्वीट के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत में टॉप पर हैं।सोशल मीडिया के इन आंकड़ों को ब्लूओशियन मार्केट इंटेलीजेंस ने जारी किया है।  इन आंकड़ों की मानें तो पीएम मोदी ने इस पर अपनी बादशाहत कायम करते हुए बॉलीवुड के बड़े नामों को भी पीछे छोड़ दिया है। एक ओर मोदी के जहां 34,16,000 ट्वीट हैं वहीं बॉलीवुड एक्टर सलमान खान इसमें 27,29,000 ट्वीट के साथ दूसरे नंबर पर हैं। इसके अलावा वर्ल्ड कप में खेले गए भारत पाक मैच को 17 लाख ट्वीट, आईपीएल को 15 और इंटोलरेंट के मुद्दे पर करीब आठ लाख ट्वीट किए गए(एन.एन.आई)। 

नए साल में क्या होंगे बदलाव

नई दिल्ली,31दिसंबर। एक जनवरी, 2016 को कैलेंडर की तारीख ही नहीं बदल रही है बल्कि हमारे जीवन में भी कई मामलों में बदलाव लाने जा रही है। ये ऐसे बदलाव हैं, जिनसे कुछ काम आसान होंगे तो कुछ से परेशानी भी हो सकती है। इस कड़ी में नववर्ष के आगमन पर एक जनवरी से जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में होने जा रहे परिवर्तनों पर एक नजर लाल किले की प्राचीर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घोषणा की थी कि एक जनवरी से केंद्र सरकार की अराजपत्रित नौकरियों में साक्षात्कार व्यवस्था समाप्त हो जाएगी। उसी के तहत कार्मिक विभाग ने सभी केंद्रीय मंत्रालयों को पत्र लिखकर कहा है कि एक जनवरी, 2016 से निचली श्रेणी के पदों पर नियुक्ति के लिए साक्षात्कार नहीं लिया जाएगा। यह नियम सभी केंद्रीय मंत्रालयों, विभागों और सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों में ग्रुप ‘सी’ और ग्रुप ‘बी’ के अराजपत्रित पदों पर लागू होगा।प्रदूषित दिल्ली की आबोहवा को बचाने के लिए तारीखों के आधार पर गाड़ियों के चलने का सम-विषम फॉर्मूला एक जनवरी से लागू होने जा रहा है। इसी तरह नोएडा में ट्रैफिक कंजेशन की समस्या से निपटारे के लिए भी स्कूलों, फैक्ट्रियों के खुलने-बंद होने में परिवर्तन किया गया। स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में एक जनवरी से लॉकर लेने और बैंक अकाउंट मेंटनेंस का खर्च बढ़ जाएगा। दोपहिया वाहन लोन, कार लोन, आवास लोन, बिल कलेक्शन पर सर्विस चार्ज बढ़ाए जाने की भी तैयारी है। एसबीआइ से लोन लेने पर प्रोसेसिंग फीस भी अब ज्यादा चुकानी होगी। पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय ने फैसला किया है कि जनवरी से सालाना 10 लाख से अधिक आय वालों को एलपीजी गैस सब्सिडी नहीं मिलेगी। इसके लिए जनवरी से ग्राहकों को एक घोषणा पत्र देना होगा। अभी हर परिवार को साल में सब्सिडी वाले 12 सिलेंडर दिए जाते है। सभी ईपीएफओ अकाउंट धारकों के लिए यूनिवर्सल अकाउंट नंबर (यूएएन) को जरूरी बना दिया गया है। यानी पीएफ क्लेम के लिए अब यूएनएन नंबर होना अनिवार्य होगा। सुप्रीम कोर्ट ने एक जनवरी से मार्च तक दिल्ली में 2000 सीसी से ज्यादा इंजन वाली कारों की रजिस्ट्री और नई डीजल कारों को बेचने पर रोक लगा दी है। दिल्ली राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में बढ़ते प्रदूषण के मद्दे नजर ऐसा आदेश कोर्ट ने दिया है। एक जनवरी से यदि आपकी कॉल बीच में ही कट जाती है तो मोबाइल ऑपरेटर की ओर से आपको एक रुपये की भरपाई की जाएगी। ऑपरेटर को कॉल ड्रॉप होने के चार घंटे के भीतर ग्राहक को मैसेज के जरिये सूचना देनी होगी। प्रीपेड और पोस्टपेड दोनों तरह के ग्राहकों को एक दिन में अधिकतम तीन कॉल ड्रॉप का तीन रुपये हर्जाना देना होगा। कैशलेस लेन-देन को बढ़ावा देने के लिए पैनकार्ड के उपयोग के संबंध में कुछ बदलाव किए गए हैं। एक जनवरी से दो लाख रुपये से ज्यादा के किसी भी सामान की खरीद और बिक्री पर पैनकार्ड विवरण देना अनिवार्य होगा। इसी तरह कैश कार्ड या प्री-पेड कार्ड से साल में 50 हजार रुपये से ज्यादा की खरीदारी पर भी अब पैनकार्ड का विवरण जरूरी कर दिया गया है। इसी तरह अब किसी भी तरह का बैंक अकाउंट खोलने पर पैनकार्ड की जानकारी देना जरूरी होगा। हालांकि जनधन अकाउंट खोलने के लिए पैन नंबर देना अनिवार्य नहीं होगा। 10 लाख रुपये से ज्यादा की प्रॉपर्टी की खरीद पर । पोस्ट ऑफिस और एनबीएफसी में 5 लाख रुपये से ज्यादा के जमा पर। विदेश में 50 हजार रुपये से ज्यादा खर्च करने पर। 50 हजार रुपये से ज्यादा की विदेशी करेंसी खरीदने पर। 1 साल में 50 हजार रुपये से ज्यादा के जीवन बीमा प्रीमियम देने पर। 2 लाख रुपये से ज्यादा की शॉपिंग या नगदी लेन-देन पर। कैश कार्ड या प्री-पेड कार्ड से 50 हजार रुपये से ज्यादा की खरीदारी पर। जनधन को छोड़कर किसी भी तरह का बैंक खाता खोलने पर। नए साल में 'साथ' का तोहफा पहली जनवरी से बुजुर्ग दंपती एकसाथ सफर करने की सुविधा पाएंगे। रेलवे सीनियर सिटिजन का कोटा दो से बढ़ाकर चार करने जा रहा है। अब दोनों को अलग-अलग बर्थों पर सफर नहीं करना पड़ेगा। अभी सीनियर सिटिजन के लिए अलग-अलग श्रेणी में दो बर्थ आरक्षित होती हैं। ऐसी स्थिति में बुजुर्ग दंपती को एकसाथ बर्थ नहीं मिल पाती है। नए साल में 1 रुपये के नोट की भी वापसी हो रही है। ये अकेला नोट होता है, जिसे रिजर्व बैंक नहीं बल्कि भारत सरकार छापती है और जारी करती है(एन.एन.आई)।

जम्मू-कश्मीर: पुलवामा में आर्मी ने मार गिराए 2 आतंकी

श्रीनगर,31दिसंबर। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में बुधवार शाम से चल रहा एनकाउंटर गुरुवार तड़के खत्म हो गया। सुबह 5 बजे के करीब आतंकियों ने भागने की कोशिश की। लेकिन आर्मी की फायरिंग में दोनों मारे गए। इनमें से एक लश्कर-ए-तैयबा का था। शक है कि वह पाकिस्तानी है और बॉर्डर पार से आया था। आर्मी को जानकारी मिली थी कि पुलवामा में घुसपैठ कर चुके आतंकी कुछ लोकल टेररिस्ट के साथ मिलकर देश में हमला करने की फिराक में हैं। इसके बाद बुधवार शाम आर्मी और पुलिस ने इलाके को घेर लिया। रातभर दोनों तरफ से फायरिंग हुई। मारे गए एक आतंकी की पहचान मंजूर अहमद के तौर पर हुई है, जो कि लोकल बताया जा रहा है। दूसरे आतंकी की पहचान नहीं हो सकी है। बताया जा रहा है कि वह पाकिस्तानी है।  कश्मीर के किश्तवाड़ की पाडर तहसील में आतंकी ठिकाने का पता चला है। डिफेंस मिनिस्ट्री के स्पोक्सपर्सन ने बताया कि राष्ट्रीय राइफल्स के जवानों और जम्मू-कश्मीर पुलिस ने हाचोट के जंगलों में सर्च ऑपरेशन चलाया था। एक एके-56 राइफल के साथ चार मैगजीन, एक एसएलआर और 150 कारतूस मिले हैं। यहां चीन में बने 12 ग्रेनेड, आठ यूबीजीएल ग्रेनेड, दो वायरलेस और एक दूरबीन भी मिली है(एन.एन.आई)।

दिल्ली-एनसीआर को दिया मोदी ने नए साल का तोहफा

 


नोएडा,31दिसंबर। दिल्ली-डासना-मेरठ एक्सप्रेस-वे का शिलान्यास करने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हर संकट को अवसर में बदल देने मेरी सरकार का स्वभाव है। मेरठ को 1857 की क्रांति की वजह से याद किया जाता है। अब दिल्ली-डासना-मेरठ एक्सप्रेस-वे पर अब रफ्तार की गति नहीं रुकेगी। उनके मुताबिक, पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजयेपी जी ने विकास की जो गति दी थी, उसे आगे बढ़ाने की दिशा में एक बहुत बड़ा अभियान इस सरकार ने उठाया है। वाजपेयी को गांवों की चिंता थी। उन्होंने गांवों का बदलाव लाने के लिए योजना की शुरुआत की थी। देश को जोड़ने के लिए उन्होंने स्वर्णिम चतुर्भुज योजना भी शुरू की थी। वह भारत को वैश्विक स्तर पर लाना चाहते थे। मोदी ने कहा कि एक्सप्रेस-वे विकास का बहुत बड़ा कारण बनेगा। मेरठ का विकास दिल्ली से भी तेज होगा। अब सड़कें हर मौसम  के अनुकूल बनेंगी। वीकेंड टूरिज्य नए व्ययवसाय के रूप में सामने आएगा। पश्चिम उत्तर प्रदेश में विकास की योजनाएं जारी रहेंगी। विकास से जुड़ने के लिए पक्की सड़कें जरूरी हैं। इस दौरान मोदी ने पहली जनवरी से नौकरियों में साक्षात्कार खत्म करने का भी जिक्र किया। जिनको जनता ने ठुकरा दिया, वह संसद नहीं चलने दे रहे हैं। नितिन गडकरी ने कहा कि दिल्ली में ट्रैफिक और प्रदूषण का मसला गंभीर है, हम इस पर काम कर रहे हैं। उनके मुताबिक, दिल्ली से मेरठ की दूरी 40-45 मिनट में तय होगी। इस मौके पर उनके साथ नितिन गड़करी, महेश शर्मा, हर्षवर्धन, उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक सहित कई नेता मौजूद थे। पीएम मोदी को सुनने के लिए भारी भीड़ थी। 7566 करोड़ की लागत से बनने जा रहे दिल्ली-डासना-मेरठ एक्सप्रेस-वे बनाने से आगामी 10 साल में दिल्ली-मेरठ लगभग एक हो जाएंगे।
1. हर संकट को अवसर में बदल देने मेरी सरकार का स्वभाव है।
2. जिनको जनता ने ठुकरा दिया, वह संसद नहीं चलने दे रहे हैं।
3. एक जनवरी से केंद्र सरकार की ग्रुप सी और डी की भर्तियों में साक्षात्कार नहीं होगा।
4. उत्तर प्रदेश के सीएम अखिलेश यादव से अनुरोध है कि वे भी नौकरियों में साक्षात्कार खत्म करें।
5. दिल्ली-डासना-मेरठ एक्सप्रेस-वे पर विकास का बड़ा कारण बनेगा, अब रफ्तार की गति नहीं रुकेगी(एन.एन.आई)।

नए साल की पूर्व संध्या पर दुनियाभर में जश्न

 

नए साल के उपलक्ष्य में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बड़े ही मनमोहक कार्यक्रम प्रस्तुत किए जाएंगे। इस अवसर पर चीन से लेकर अमेरिका तक में जश्न की शानदार तैयारियां की गई है।
चौथे बेवर्ली हिल्स चीनी नव वर्ष कार्यक्रम में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बेहतर आकर्षण का केंद्र होगा। बीजिंग परफॉर्मेंस एंड आर्ट ग्रुप की प्रस्तुति लोगों का मन मोहेगी तो चाइना नेशनल एक्रोबेटिक ट्रुप के सदस्य अपनी कलाबाजी दिखाएंगे। ख्याति प्राप्त चेन जुन्हुआ के पेकिंग ओपेरा के साथ अन्य बेजोड़ नृत्य एवं संगीत की प्रस्तुति देखने को मिलेगी। बीजिंग फॉरेन कल्चर एक्सचेंज सेंटर की ओर से लगनेवाली कला प्रदर्शन मेहमानों के लिए आनंददायी होगी।
फिलाडेल्फिया मेंमर्स परेड नए साल पर अनोखी वेशभूषा से सुसज्जित होगी ? 31 दिसंबर को शाम 6 बजे आतिशबाजी के साथ फिलाडेल्फिया ने उन्हेंा भी कवर किया है। 
नए साल का फ्री आउटडोर जश्न  मनाने के लिए झरनों के किनारे एकत्र होने वाले हजारों लोगों के साथ जुटेंगे जहां 31 दिसंबर की शाम 6 बजे कलात्मिक आतिशबाजी का नजारा होगा।
नए साल की पूर्व संध्याड पर जश्ने के लिए लास वेगास सबसे अच्छेा पार्टी स्थरल हैं। लोग अपने प्रियजनों के साथ नए साल और नई शुरुआत के स्वाझगत में पूरी रात सडकों पर बिताते हैं।
नए साल की संध्याे एक निर्णायक क्षण होती है, जब किसी के पास साल की शुरुआत उत्स व और नई ऊर्जा के साथ करने का मौका होता है।  ब्रसेल्स के पास हर किसी के मिजाज को भाने वाले अवसरों की भरमार है। खुशहाल ब्रसेल्स  ऐसे ऑफर्स पाने का मौका देता है कि कोई इन सारी संभावनाओं का एक शानदार पार्टी से अगली शानदार पार्टी में जा कर पता लगा सके और इन सबसे से ऊपर हमेशा नई खोजों से भरा रहने का। 
40 साल से बोस्टन की  'फर्स्ट नाइट' शहर के लिए एक पोषित परंपरा और मुख्यर आयोजन है। यह कलात्मक प्रदर्शन के साथ नए साल की पूर्व संध्या का बहुत ही सफल जश्न, मौसम का चमत्काकर और नए साल की शुरुआत रहा है। यह उत्सव निशुल्कि और सभी के लिए खुला होगा। कोप्लेस्क्वायर और बोस्टन कॉमन में विशेष आयोजन और मनोरंजन पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा। फर्स्टश नाइट की सदाबहार परंपराओं को इस में बनाए रखा जाएगा जिनमें आइस स्काल्पाचर और लाइट डिस्ले।ं   शामिल होंगे। इसके अलावा, कार्यक्रम के हृदय स्थमल के आसपास अंदर एवं बाहर ढेर सारी कला-संगीत की मनमोहक प्रस्तु्तियां भी होंगी।
नेवी पियर, शिकागो 

शिकागो के एकमात्र लेक फ्रंट मध्यरात्रि आतिशबाजी शो से लेकर ऐतिहासिक ग्रैंड बॉल रूम और क्रिस्टल गार्डन में सबसे अच्छीय एवं सबसे बडी पार्टी,  साथ ही डाइनिंग क्रूजेज जिनकी खासियत मनोरंजन और शैंपेन टोस्टि होंगे, आप चाहते हैं नेवी पियर में नए साल के जश्नक में झूमना ! म्यूमजिक सिटी के नए साल की पूर्व संध्याच पर आयोजित कार्यक्रम बैश ऑन ब्रॉडवे दुनिया भर में नए साल के जश्न  में होनेवाली सबसे अच्छीच पार्टी का रूप ले चुका है। यह एक निशुल्कं पार्टी है जहां आप अद्भुत संगीत और अपने करीबी दोस्तों सहित हजारों लोगों के साथ नए साल के जश्नह में झूम सकते हैं।
सजे-धजे हांगकांग कल्चझरल सेंटर (एचकेसीसी) के व्युईंग डेक में 31 दिसंबर 2015 को कार्यवाहक समारोह का आयोजन किया जाएगा। कार्यक्रम पाइरोटेक्निक्सज और आतिशबाजी के सम्मिश्रण और थीम संगीत, प्रकाश व्येवस्थार से परिपूर्ण होगा। इसकी शुरुआत विक्टोररिया हार्बर और वान चाई की छह इमारतों की छतों से होगी। नौसेना विभाग प्रतिष्ठित हांगकांग कन्वें्शन एंड एग्जिबिशन सेंटर (एचकेसीईसी) के साथ आठ मिनट के ''पाइरोम्यू्जिकल'' पर ऑर्केस्ट्रा5 करेगा, जिसका केंद्रीय भाव और थीम ''लव एंड जॉय'' होगा, खुश मुखाकृति और हृदय के आकार वाली आतिशबाजी विक्टोकरिया हार्बर पर छोड़ी जाएगी। एचकेसीईसी के फेकेड पर विशालकाय एलईडी स्क्रीजन पर कई भाषाओं में ''2016'' के अभिवादन और अवकाश का संदेश प्रदर्शित होगा।
नए साल का स्वागत फूलों की शक्ति के साथ, पासाडेना में यह प्रतिष्टित परेड आधे शहर का वार्षिक वन-टू पंच है, जिसमें परेड के साथ फुटबॉल भी शामिल है। परेड में चलते-फिरते प्रदर्शनों की तिकडी आकर्षण है। दुनिया के कुछ सर्व श्रेष्ठा मार्चिंग बैंड,  इसमें बीच में अश्वनरोही प्रदर्शन और इन में रंगीन हस्तभनिर्मित फूलों का प्रवाह, जिन पर पैटर्न और डिजाइन बनाने के लिए लाखों पंखुडियां चिपकाई गई हों । अति लोकप्रिय परेड में हजारों लोग शामिल होते हैं। रात के वक्ती लोग प्राय: परेड के रूट पर पहले से ही आकर डेरा जमा लेते हैं ताकि उन्हेंं परेड अच्छी तरह से देखने का अवसर मिल सके। यदि आपके पास परेड के किनारे बैठने (शिविर का) का स्थान नहीं है तो 70,000 ग्रॅन्ड स्टॅन्ड सीटों में से एक खरीदने पर विचार करें।

सलमान की 'मिनी इंडिया' फैमिली, पिता मुस्लिम, मां हिंदू और क्रिश्चियन

 मुंबई 29 दिसंबर,( एन.एन .आई)। 50 साल के हो चुके बॉलीवुड सुपरस्टार सलमान खान का परिवार बी-टाउन के सबसे चर्चित खानदान में से एक है। सलमान अपनी फैमिली को मिनी इंडिया मानते हैं। दरअसल, वे ऐसा इसलिए कहते हैं, क्योंकि उनके परिवार में हिंदू, मुस्लिम और क्रिश्चियन सभी धर्मों के लोग हैं और सभी एक ही छत के नीचे रहते हैं। उनके पिता मुस्लिम हैं तो मां हिंदू। वहीं, दूसरी मां हेलन क्रिश्चियन तो छोटे भाई अरबाज की पत्नी मलाइका और सोहेल खान की पत्नी सीमा पंजाबी हैं।


खुद की जाति इंडियन बताते हैं सलमान

इसी साल अप्रैल में जोधपुर कोर्ट में सलमान ने अपनी जाति इंडियन बताई थी। दरअसल, वे 1998 के आर्म्स एक्ट मामले की सुनवाई के लिए जोधपुर कोर्ट पहुंचे थे। इस दौरान जज ने जब सलमान से उनकी जाति पूछी तो सलमान ने कहा, मैं भारतीय हूं। जवाब सुनने के बाद जज ने कहा, भारतीय तो सभी हैं तो सलमान बोले, "दरअसल, मेरे पिता मुस्लिम और मां हिंदू हैं, इसलिए मैं खुद को इंडियन मानता हूं।"

Image result for salman khan family photo

Image result for salman khan family photo
 

1964 में हुई थी सलीम और सुशीला की शादी

सलमान के पिता और स्क्रिप्ट राइटर सलीम खान ने साल 1964 में सुशीला चरक से शादी की थी। सुशीला का जन्म मराठी हिंदू परिवार में हुआ था। सलीम खान से शादी के लिए उन्होंने इस्लाम कुबूल करते हुए अपना नाम सलमा रख लिया था। सलीम ने दूसरी शादी एक्ट्रेस हेलन से की, जो क्रिश्चियन हैं। वैसे, सलमान के पिता ही नहीं, उनके भाई-बहनों की शादी भी अलग धर्म में हुई है।

 

दो पूर्व पाक क्रिकेटरों में हुई गाली-गलौच, बात बढ़ी

 दिल्ली 29 दिसंबर।पाकिस्तान में दागी गेंदबाज मोहम्मद आमिर के मुद्दे को लेकर यह बहस जारी है कि पीसीबी को इस तेज गेंदबाज को फिर से राष्ट्रीय टीम में शामिल करने की अनुमति देनी चाहिए कि नहीं। इस मुद्दे को लेकर एक टीवी शो के दौरान दो पूर्व क्रिकेटरों रमीज रजा और मुहम्मद यूसुफ के बीच कड़ी जुबानी जंग हो गई।दोनों ने एक-दूसरे के खिलाफ बेहद निजी और गैर-शालीन टिप्पणियां की।

मोहम्मद आमिर को लेकर भिड़े दो पूर्व पाक क्रिकेटर

यूसुफ ने तो यह तक कह डाला कि रमीज को क्रिकेट के बारे में कुछ पता नहीं है, वह सिफारिशी थे।रमीज ने भी यूसुफ के बारे में कहा कि वह फर्जी है जिसने पाकिस्तान क्रिकेट के लिए परेशानियां खड़ी की हैं।� इसके बाद सोशल मीडिया पर इस तकरार को लेकर बड़ी चर्चा छिड़ गई। पूर्व क्रिकेटरों, क्रिकेट प्रेमियों और आलोचकों ने इसे बेहद निराशाजनक और दुर्भाग्यपूर्ण बताया। पाकिस्तान के पूर्व कप्तान राशिद लतीफ ने कहा कि जो हुआ वह नहीं होना चाहिए। यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। दोनों खिलाड़ियों की क्रिकेट प्रेमी बेहद कद्र करते हैं लेकिन इससे किसी को सही संदेश नहीं जाएगा।रमीज ने आमिर को राष्ट्रीय शिविर में बुलाए जाने पर कहा था कि समय ही बताएगा कि पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड का यह निर्णय सही है या नहीं।पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने डोपिंग टेस्ट में फेल हुए लेग स्पिनर यासिर शाह मामले की जांच शुरू कर ली है। इससे पहले सोमवार को पीसीबी चेयरमैन शहरयार खान ने कहा कि बोर्ड यासिर मामले को चिकित्सकीय और कानूनी दोनों पहलुओं से परख रहा है।यासिर अपनी स्थिति को स्पष्ट करने के लिए बोर्ड के मेडिकल पैनल के सामने हाजिर हुआ था। उन्होंने कहा कि जब हमें आईसीसी से पूरी रिपोर्ट मिल जाएगी तो हम अपने अगले कदम के बारे में फैसला लेंगे( एन.एन .आई)

प्रमोशन के लिए 'बिग बॉस' के घर पहुंचे सनी, देरी हुई तो बीच में छोड़ी शूटिंग

29 दिसंबर,( एन.एन.आई)। बॉलीवुड एक्टर सनी देओल इन दिनों अपनी अपकमिंग फिल्म ‘घायल वन्स अगेन’ के प्रमोशन में बिजी हैं। इसी सिलसिले में वो टीवी रियलिटी शो ‘बिग बॉस’ के घर भी पहुंचे, लेकिन जब सही समय पर शूट शुरु नहीं हुआ तो वो गुस्से में सेट से बाहर चले गए।

Image result for sunny deol to promote movie in big boss
दरअसल सनी को इस शूट के लिए 4.30 बजे बुलाया गया था। मगर शूटिंग शुरू होने में देर हो गई, जिसकी वजह बना एक कैमरा जो सही समय पर चालू नहीं हो सका। हालांकि, बाद में सनी ने ये शूट कम्पलीट कर लिया।

Image result for sunny deol to promote movie in big boss
बाद में सनी ने सलमान के साथ इस शूट की एक फोटो भी अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर की। इसके साथ उन्होंने लिखा, "Big Boss.. Big Boss " get ready for a rockin Sunday”
बता दें कि सनी इस फिल्म में एक्टिंग के साथ-साथ डायरेक्शन भी कर रहे हैं। ये फिल्म अगले साल 15 जनवरी को रिलीज होगी।

बढ़त के साथ खुला शेयर बाजार

नई दिल्ली,29दिसंबर। एशियाई बाजारों में आ रही  गिरावट और घरेलू बाजारों से मिल रहे कमजोर आर्थिक संकेतों के बावजूद आज शेयर बाजार ने बढ़त के साथ शुरुआत की। शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स और निफ्टी में अच्छी बढ़त देखने को मिल रही है। मिडकैप और स्मॉलकैप शेयरों में अच्छी खरीदारी का माहौल है। निफ्टी का मिडकैप 100 इंडेक्स 0.3 फीसदी की बढ़त के साथ 13,390 के स्तर पर पहुंच गया है। वहीं, बीएसई का स्मॉलकैप इंडेक्स 0.4 फीसदी बढ़कर 11,830 के स्तर पर पहुंच गया है।फिलहाल, बीएसई का 30 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 100 अंक यानि 0.4 फीसदी की मजबूती के साथ 26,087 के स्तर पर कारोबार कर रहा है। वहीं, एनएसई का 50 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी 11.5 अंक यानी.15 फीसदी बढ़कर 7,936.5 के स्तर पर कारोबार कर रहा है(एन.एन.आई)।

आठ जनवरी को हड़ताल करेंगे बैंक कर्मचारी

 


 


वडोदरा,29दिसंबर। ऑल इंडिया बैंक एम्प्लॉईज एसोसिएशन ने आठ जनवरी को देशव्यापी हड़ताल का आह्वान किया है। यह हड़ताल श्रम विरोधी नीतियों तथा भारतीय स्टेट बैंक  के पांच सहयोगी बैंकों के कर्मचारी सेवा समझौतों के उल्लंघन को लेकर बुलाई गई है। एसबीआइ के पांच सहयोगी बैंकों में स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर, स्टेट बैंक ऑफ मैसूर, स्टेट बैंक ऑफ पटियाला, स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद और स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर शामिल हैं। एआइबीईए के महासचिव सीएच वेंकटचलम ने बताया कि इंडियन बैंक्स एसोसिएशन (आईबीए) और एआईबीईए के बीच मई में एक करार पर हस्ताक्षर हुए थे। इसमें बैंक में काम करने वाले अलग-अलग वर्ग के कर्मचारियों की ड्यूटी और पारिश्रमिक को परिभाषित किया गया था। एसबीआइ के पांच सहयोगी बैंक इस करार का हिस्सा हैं। भारतीय स्टेट बैंक ने कर्मचारियों के लिए सेवा की अलग शर्तें बनाई हुई हैं, जो प्रबंधन और यूनियन के बीच करार पर आधारित हैं। ये अन्य बैंकों पर लागू नहीं होती हैं। हालांकि, सहयोगी बैंकों का प्रबंधन एसबीआई की सेवा शर्तों को लागू कर रहा है। यह गैरकानूनी है। यह करार का उल्लंघन है(एन.एन.आई)।

अब निजी बैंक से रेलवे टिकट बेचने की तैयारी

लखनऊ,29दिसंबर। आने वाले समय में रेलवे टिकट भी बैंक से मिल सकेगा। रेलवे निजी क्षेत्र के बैंकों के साथ डाक विभाग की तर्ज पर रेलवे टिकट बेचने की योजना नए साल में लागू करने जा रहा है। पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर रेलवे ने एक निजी बैंक से करार भी कर लिया है। इसे अगले साल पेश होने वाले रेल बजट में घोषित किया जा सकता है। रेलवे ग्रामीण क्षेत्रों तक अपने आरक्षित टिकट बेचने के लिए डाकघरों को पहले ही शामिल कर चुका है। अब बड़े शहरों में रेलवे निजी बैंकों के साथ टिकट बेचने की तैयारी कर रहा है। रेलवे बोर्ड के पैसेंजर मार्केटिंग विभाग के एक उच्च अधिकारी के मुताबिक पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर रेलवे ने जिस निजी बैंक के साथ करार किया है, उसे हर टिकट के बदले 10 रुपये अतिरिक्त दिए जाएंगे। बैंक को अपना कर्मचारी नहीं तैनात करना होगा। यात्री एटीएम की तरह कियॉस्क एटीएम से अपना आरक्षित टिकट बनवा सकेंगे। दरअसल, चारबाग स्टेशन सहित देश के बड़े रेलवे स्टेशनों पर एटीएम लगाने वाले बैंकों को पहले ही कियॉस्क वाले एटीएम लगाने के आदेश दिए गए थे। इसके बावजूद इन बैंकों ने कियॉस्क वाले एटीएम नहीं लगाए थे। अब रेलवे निजी क्षेत्र के बैंकों के साथ अपनी इस योजना को नए सिरे से लागू करने जा रहा है। इस पॉलिसी पर रेलवे अफसर अभी कुछ भी बोलने को तैयार नहीं हैं, लेकिन उनका मानना है कि रेल बजट 2016-17 में रेलमंत्री इस महत्वाकांक्षी योजना की घोषणा कर सकते हैं। रेलवे की इस पॉलिसी को अमलीजामा पहनाने का काम मंडल रेल मुख्यालय स्तर पर किया जाएगा। मंडल मुख्यालय ही यह तय करेंगे कि किस शहर में किस निजी बैंक की शाखा को इस सेवा से जोड़ा जाएगा। इसके लिए एक जेएजी ग्रेड अधिकारियों की कमेटी भी बनेगी, जो कि स्थानीय स्तर पर नियम व शर्तें तय करेंगी(एन.एन.आई)।

सोने के प्रति निवेशकों की बेरुखी

 

नई दिल्ली,29दिसंबर। सोने के प्रति निवेशकों की बेरुखी दूर होने का नाम नहीं ले रही है। लगातार तीसरे साल 2015 के दौरान निवेशक गोल्ड ईटीएफ (एक्सचेंज ट्रेडेड फंड) में विशुद्ध रूप से बिकवाल ही बने रहे। इस दौरान उन्होंने गोल्ड ईटीएफ से 845 करोड़ रुपये निकाले। हालांकि विशेषज्ञों के अनुसार, गोल्ड ईटीएफ से पैसा निकालने की रफ्तार में चालू वर्ष के दौरान खासी कमी आई है। एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड (एम्फी) के ताजा आंकड़ों के मुताबिक, चालू वर्ष के दौरान जनवरी से नवंबर तक गोल्ड ईटीएफ में शुद्ध रूप से 845 करोड़ रुपये की निकासी की गई। हालांकि निकाली गई राशि में कमी आई है। पिछले पूरे वर्ष 2014 के दौरान कुल 1651 करोड़ रुपये की निकासी की गई थी। वर्ष 2013 के दौरान गोल्ड ईटीएफ से विशुद्ध रूप से 1815 करोड़ रुपये की निकासी की गई थी। इससे पहले 2012 ऐसा वर्ष था, जब निवेशकों ने विशुद्ध रूप से लिवाली की थी। उस साल दौरान निवेशकों ने 1826 करोड़ रुपये निवेश किया था। आंकड़ों के मुताबिक, आलोच्य वर्ष में खुदरा निवेशकों ने शेयर और कर्ज आधारित म्यूचुअल फंडों में ज्यादा पैसा लगाया। शेयर और शेयर आधारित बचत योजनाओं में निवेशकों ने 87000 करोड़ रुपये निवेश किया, जबकि कर्ज आधारित फंडों में 43,656 करोड़ रुपये निवेश किया। पिछले कुछ वर्षों के दौरान सोने की चमक फीकी पड़ी है, जबकि निवेशकों को शेयरों में बेहतर आय होने की उम्मीद दिखाई दे रही है। आलोच्य अवधि के दौरान बैंचमार्क बीएसई संवेदी सूचकांक करीब छह फीसदी गिर गया। निचले मूल्य स्तर पर शेयर आकर्षक होने से निवेशकों की दिलचस्पी बढ़ी। गोल्ड ईटीएफ में निवेशकों की बिकवाली के चलते इस साल नवंबर में इसकी कुल परिसंपत्ति 5830 करोड़ रुपये रह गई, जबकि दिसंबर 2014 में इसकी कुल परिसम्पत्ति 7188 करोड़ रुपये थी। म्यूचुअल फंड सेक्टर में 14 गोल्ड ईटीएफ यानि सोना आधारित योजनाएं उपलब्ध हैं। इन स्कीमों की शुरुआत 2006-07 के दौरान हुई थी(एन.एन.आई)।

मोदी-स्मृति को लेकर अापत्तिजनक बयान देने वाले कांग्रेस नेता ने जताया खेद

नई दिल्ली,29दिसंबर।  नरेंद्र मोदी और स्मृति ईरानी को लेकर आपत्तिजनक कमेंट करने पर असम के पूर्व कांग्रेस मंत्री नीलमणि सेन डेका ने खेद जताया है। बीजेपी और सोशल मीडिया पर कड़े एतराज के बीच डेका ने सोमवार को कहा कि वह अपने शब्द वापस लेते हैं। बीजेपी के जनरल सेक्रेटरी राम माधव ने बयान को शर्मनाक बताया है। वहीं, असम बीजेपी ने कहा है कि सोनिया गांधी को इस मुद्दे पर माफी मांगनी चाहिए। मोदी-स्मृति के पर अापत्तिजनक बयान देने वाले असम के कांग्रेस नेता डेका और रूप ज्योति कुर्मी से पार्टी ने पल्ला झाड़ लिया है। राज्य के मुख्यमंत्री तरुण गोगोई ने भी नेताओं के इस बयान की निंदा की है।
कांग्रेस नेताओं के खिलाफ केस दर्ज
रंगिया के कमलापुर थाने में बेणुधर नाथ ने कांग्रेस नेताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है। असम बीजेपी ने आपत्तिजनक बयान देने वाले कांग्रेस नेताओं की गिरफ्तारी की मांग की है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सर्वानंद सोनोवाल ने कांग्रेस नेताओं के खिलाफ मानहानि का केस करने की बात कही थी। रविवार को असम में एक पब्लिक मीटिंग के दौरान कांग्रेस नेता नीलमणि सेन डेका और विधायक रूप ज्योति कुर्मी ने मोदी और स्मृति पर कमेंट किया। साथ ही एचआरडी मिनिस्टर की एजुकेशनल डिग्री पर भी सवाल उठाए। असम में अलगे साल चुनाव के मद्देनजर सोमवार को स्मृति ईरानी ने एक रैली की।राम माधव ने ट्वीट कर कहा, "क्या एक महिला की अगुआई वाली कांग्रेस लीडरशिप इस तरह का बयान देने वाले नेता को बचा रही है?असम में बीजेपी प्रेसिडेंट और केंद्रीय मंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने कहा कि दोनों नेताओं का बयान कांग्रेस की सोच को दिखाता है। दोनों पर कांग्रेस प्रेसिडेंट सोनिया गांधी फौरन कड़ी कार्रवाई करें(एन.एन.आई)।

नए साल से सभी यूनिवर्सिटीज में होंगे ऑनलाइन एडमिशन,

बैंगलुरू,29दिसंबर। देश की सभी यूनिवर्सटीज और एजुकेशन इंस्टीटयूट्स में अब एडमिशन प्रोसेस ऑनलाइन होगी। यूनिवर्सिटी ग्रांटस कमीशन (यूजीसी) ने इसके ऑर्डर दिए हैं। जून-जुलाई 2016 के एजुकेशनल सेशन एडमिशन प्रोसेस को पूरी तरह से ऑनलाइन हो सकती है। यूजीसी ने तैयारी शुरू कर दी है। यूजीसी चेयरमैन वेद प्रकाश ने सभी यूनिवर्सटीज और एजुकेशन इंस्टीटयूट्स को भेजे सर्कुलर में कहा कि अगले साल जनवरी में होने वाली मीटिंग में ऑनलाइन एडमिशन प्रोसेस का रिव्यू भी किया जाएगा।ऑनलाइन प्रोसेस से एडमिशन में ट्रांसपेरेंसी आएगी। पेरेंट्स और स्टूडेंट्स को एडमिशन लेने में आसानी होगी। इसके अलावा पसंदीदा सबजेक्ट चुनने में भी हेल्प मिलेगी। इससे इंस्टीटयूट्स बेहतर ढंग से और तेजी से काम कर पाएंगे। अभी कई यूनिवर्सिटीज में ऑनलाइन एडमिशन प्रोसेस लागू तो यह लेकिन वह कम है। अब जरूरत है कि एडमिशन प्रोसेस को पूरा तरह ऑनलाइन कर दिया जाए।  सभी यूनिवर्सिटीज और इंस्टीटयूट इस बारे में वे जल्द से जल्द जरूरी कदम उठाकर एक प्लान तैयार करें। उन्होंने ऑनलाइन सिस्टम शुरू कर चुके इंस्टीटयूट से यूज किए जा रहे सॉफ्टवेयर का ब्यौरा भी मांगा है, ताकि उसे उनको दिया जा सके, जो अभी तक ऑफलाइन एडमिशन दे रहे हैं। यूजीसी के मुताबिक, देश में 757 यूनिवर्सिटीज हैं, लेकिन इनमें से 15 से 16% यूनिवर्सिटीज में ही एडमिशन प्रोसेस पूरी तरह से ऑनलाइन हो पाई है।
जबकि करीब 30 % यूनिवर्सिटीज में पार्शली ऑनलाइन प्रोसेस शुरू हो पाई है(एन.एन.आई)।

सीएनजी कारों को ऑड ईवन फार्मूले से छूट

 

नई दिल्ली,29दिसंबर। दिल्ली में प्रदूषण कम करने की मुहीम को लेकर दिल्ली में 1 जनवरी से ऑड ईवन फार्मुला लागू हो रहा है। लेकिन सीएनजी कारों को इस फार्मूले से छूट मिली हुई है। लेकिन ये छूट सिर्फ उन्हीं कारों को मिलेगी जिनके विंड स्क्रीन पर इंद्रप्रस्थ गैस लिमिटेड यानी आईजीएल का स्टीकर लगा होगा उन पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।ये स्टीकर आज से सभी सीएनजी स्टेशनों पर मिलेगा और ये स्टीकर सिर्फ उन्हीं लोगों को दिया जाएगा, जिनके रजिस्ट्रेशन सर्टीफिकेट पर सीएनजी लिखा होगा। स्टीकर में होलोग्राम के साथ कुछ छिपी हुई जानकारी भी होगी जिसे अधिकारी एक खास डिवाइस के जरिए पढ़ा जा सकेगा। दिल्ली सरकार के मुताबिक जो फर्जी स्टीकर लगाकर रोड़ पर गाड़ी चलाते हुए पाए जाते हैं। उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी साथ ही साथ उनपर धोखाधड़ी का भी मामला दर्ज किया जाएगा। आपको बता दें कि दिल्ली में 95 सीएनजी स्टेशन हैं वहीं नोएडा और गाजियाबाद में 7-7 और ग्रेटर नोएडा में 5 सीएनजी स्टेशन है(एन.एन.आई)।
 

तैयारी से ज्‍यादा उम्‍मीदों पर टिकी सम-विषम फार्मूले की बुनियाद

नई दिल्ली,29दिसंबर। दिल्ली सरकार की मुकम्मल तैयारी या फिर दिल्ली की जनता से बड़ी उम्मीदे। सरकार भले ही कहे कि उसने सम-विषम फार्मूला को लागू करने की सारी कसरत पूरी कर ली है, लेकिन फार्मूले की सफलता का सारा गणित अभी भी दिल्ली सरकार द्वारा जनता से की जा रही उम्मीदों पर टिका है। आखिर दिल्ली सरकार की वह कौन-कौन सी उम्मीदें हैं, जिसके चलते वह इस फार्मूले की सफलता की दुहाई दे रही है। इस फार्मूला के लागू होने की उलटी गिनती शुरू हो चुकी है। ऐसे में दिल्ली सरकार की उन उम्मीदों पर एक पड़ताल करना जरूरी हो जाता है, जो उसकी व्यवस्था और लोगों से जुड़ी है। यह उम्मीद परिणामों को लेकर भी है। उम्मीदों की पड़ताल करती यह रिपोर्ट। दिल्ली सरकार का सारा गणित अभी उम्मीदों पर टिका है। सरकार को उम्मीद है कि यातायात के लिए कार से चलने वालों की पहली प्राथमिकता कार पुलिंग है। परिवहन मंत्री का मानना है कि लोग कार पुलिंग के जरिए अपनी समस्याओं का समाधान कर लेंगे। उन्होंने कहा कि दूसरे नंबर पर लोग मेट्रो का इस्तेमाल कर सकते हैं और तीसरे नंबर पर वह आटो का इस्तेमाल करें। इस तरह से नियमित रूप से कार चलाने वालों को गंत्ब्य तक पहुंचने के लिए दिक्कत का सामना नहीं करना पड़ेगा। लोगों को यातायात में दिक्कत नहीं हाे इसके लिए दिल्ली सरकार ने पहले छह हजार बसों को सड़क पर उतारने का फैसला किया था, लेकिन अब उसने अपने ही फैसले को पलटते हुए तीन हजार बसों को ही चलाने का नया ऐलान किया है। हालांकि इस बाबत परिवहन मंत्री गोपाल राय का कहना है कि यह बदलाव दो पहिया वाहनों को नंबर नियम में छूट देने के कारण लिया गया है। इस मामले में डीटीसी के प्रबंधकों का कहना है कि लगभग 50 लाख दो पहिया वाहनों को छुट मिलने के बाद छह हजार बसों को सड़कों पर उतारना एक मुश्किल भरा काम है। स्टिकर की समस्या सरकार के लिए लिए चिंता का सबब बन सकती है। लेकिन दिल्ली सरकार का दावा है कि जल्द ही इस समस्या पर समाधान पा लिया जाएगा। इस बाबत अभी दिल्ली सरकार और आईजीएल के अफसरों के बीच बैठकों को दौर जारी है। यह योजना भी सरकार की उम्मीदों पर ही टिकी है। यानी सरकार को उम्मीद है कि एक जनवरी तक स्टिकर की समस्या को सुलझा लिया जाएगा। सरकार को उम्मीद है कि यह योजना सही रूप में अमल में आई तो दिल्ली की सड़कों पर करीब दस लाख कारे घट जाएंगी। एक साथ इतनी कारों को कम होने से निश्चित रूप से दिल्ली की आबोहवा पर इसका अनुकूल असर पड़ेगा।इस फार्मूले का दिल्ली की आबोहवा पर क्या असर पड़ रहा है, इसका नियमित बुलेटिन जारी किए जाने का प्रावधान रखा गया है। इस बाबत प्रदूषण नियंत्रण समिति दिल्ली में करीब दो सौ जगहों पर हवा की गुणवत्ता की जांच करेगी और इसका बुलेटिन जारी किया जाएगा। इससे दिल्ली जनता इसका प्रत्यक्ष असर देख सके(एन.एन.आई)।

अब इंदिरा आवास योजना का नाम बदलेगी मोदी सरकार

 

 


नई दिल्ली,29दिसंबर(एन.एन.आई)। मोदी सरकार ने नेहरू और इंदिरा परिवार से जुड़ी एक और योजना का नाम बदलने की कवायद शुरू कर दी है। सूत्रों के मुताबिक, इंदिरा आवास योजना का नाम बदलकर प्रधानमंत्री आवास योजना किया जाना है। इसके लिए विचार किया जा रहा है।  केंद्र सरकार इंदिरा आवास योजना का नाम बदलकर अब प्रधानमंत्री आवास योजना करेगी। इस योजना में और भी कई बदलाव किए जा सकते हैं।  इंदिया आवास योजना के तहत गरीबों के लिए घर बनाए जाते हैं। इस कारण वोट बैंक के लिए भी सरकार के लिए यह काफी अहम है। ग्रामीण विकास मंत्रालय ने इस योजना में संशोधन पेश किया है। इसके तहत बनने वाले घरों को बड़ा और महंगा बनाने का भी प्रस्ताव है। हर घर की लागत सवा लाख रुपये हो जाएगी, जबकि इसके लिए मौजूदा आवंटन 75,000 रुपये प्रति महीना का है। पिछले तीन साल में इंदिरा आवास योजना के तहत बन रहे मकानों की संख्या में गिरावट आई है।गौरतलब है कि मोदी सरकार इससे पहले भी राजीव गांधी के नाम से जुड़ी दो योजनाओं के नाम बदल चुकी है। इनमें से एक योजना का नाम सरदार पटेल के नाम पर रखा गया है, जबकि दूसरी योजना में दीनदयाल उपाध्याय का नाम शामिल किया गया है।

 

कर्नाटक बन रहा है आईएस का गढ़

 

दिल्ली,29दिसंबर। आईएसआईएस के कर्नाटक में तेजी से पैर पसारने का अलर्ट है। पुलिस 40 ऐसे लड़कों पर नजर रखे हुए है जिनका आतंकी संगठन की तरफ झुकाव माना जा रहा है। इन लड़कों की उम्र 16 से 22 साल है। दें कि खुफिया एजेंसियां पहले ही कह चुकी हैं कि साउथ इंडिया में आईएस एक्टिव हो रहा है। इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक, साउथ कन्नड़, उडुपी, चिकमगलूर, हुबली-धारवाड़, बेलगावी और गुलबर्ग जैसे जिलों में IS आतंकी संगठन का असर माना जा रहा है। खासकर सोशल मीडिया के जरिए यहां के कई यंगस्टर्स के आईएसआईएस के नेटवर्क से जुड़ने का खतरा है। हालांकि, पुलिस अफसरों का दावा है कि पिछले छह महीने में उन्होंने ऐसे 20 लड़कों को सुधारा है जिनका झुकाव आईएस की तरफ हो गया था। अाईएस के सपोर्ट में ट्वीट करने वाले मेहदी मसरूर बिस्वास की पिछले साल बेंगलुरु से गिरफ्तारी हुई थी। इसके बाद पुलिस ने यहां सोशल मीडिया अकाउंट्स पर निगरानी बढ़ा दी है। जो आईएसआईएस की तरफ झुकाव रख रहे हैं, उनकी जांच के लिए स्पेशल सेल बनाई गई है। होम मिनिस्टर राजनाथ सिंह ने रविवार को दावा किया था कि भारत में जिंदगी जीने के उसूल ऐसे हैं कि आईएसआईएस जैसे आतंकी संगठन पैर नहीं पसार सकते। लखनऊ में मौलाना आजाद यूनिवर्सिटी के एक प्रोग्राम में उन्होंने कहा था,'' दुनिया में आजकल आईएस की खूब चर्चा हो रही है। मैं अखबारों में पढ़ता हूं कि आईएस ने यह कर दिया, वह कर दिया।’‘सीरिया में हमले हो रहे हैं, तमाम चीजें हो रही हैं, लेकिन मैं कहना चाहता हूं कि हिन्दुस्तान दुनिया का अकेला मुल्क है कि अगर कहीं कोई बच्चा सिरफिरा हो रहा होता है तो उसे रोकने का काम अगर कोई करता है तो हिन्दुस्तान के मुस्लिम लोग ही करते हैं। इस्लाम को मानने वाले करते हैं।'' इस साल 79 लड़के बने आंतकी राज्यसभा में सरकार की तरफ से दी गई जानकारी के मुताबिक, इस साल नवंबर तक 79 लड़कों ने आंतकी संगठनों को ज्वाइन किया है।पिछले साल इसी पीरियड में यह आंकड़ा 60 था। इनमें से ज्यादातर ने आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन को ज्वाइन किया है(एन.एन.आई)।

 

लश्कर के निशाने पर मोदी, पार्लियामेंट और आर्मी हेडक्वार्टर

 

नई दिल्ली,29दिसंबर। नरेंद्र मोदी टेररिस्ट के निशाने पर हैं। यह इनफॉर्मेंशन आईबी ने जारी की है। खुफिया एजेंसी के मुताबिक पार्लियामेंट, आर्मी हेडक्वार्टर, डिफेंस मिनिस्ट्री की इमारत भी आतंकियों के निशाने पर है। बताया जा रहा है अटैक के लिए पाकिस्तान से लश्कर-ए-तैयबा के 15-20 आतंकी रवाना भी हो चुके हैं। इंफॉर्मेंशन के मुताबिक पाकिस्तान बेस्ट बैन्ड टेररिस्ट ग्रुप लश्कर-ए-तैयबा न्यू ईयर पर भारत में हमले की प्लानिंग कर रहा है। इससे पहले आईबी ने अगस्त में इंडिपेंडेंट डे के मौके पर सुरक्षा एजेंसियों को चेताया था कि लश्कर के आतंकी एयर इंडिया की काबुल- दिल्ली फ्लाइट को निशाना बना सकते हैं। ऐसा पहली बार नहीं है जब मोदी को लेकर सिक्युरिटी एजेंसियों ने अलर्ट जारी किया है। 6 दिसंबर को दिल्ली पुलिस की एक एफआईआर में भी खुलासा हुआ था कि लश्कर दिल्ली में हमले की साजिश रच रहा है। उसके निशाने पर मोदी के अलावा कई वीवीआईपी हैं।  एजेंसियों के मुताबिक, पीओके में बैठे लश्कर कमांडर आतंकियों को ऑर्डर दे रहे हैं। दिल्ली पुलिस ने इस बारे में 1 दिसंबर को एफआईआर दर्ज की थी। आतंकियों के घुसने की रिपोर्ट शनिवार को एंटी टेरर कोर्ट को सौंपी गई(एन.एन.आई)।

इस्लामाबाद में होगी भारत-पाक सचिव स्तर की वार्ता

नई दिल्ली 28 दिसंबर।भारत और पाकिस्तान के बीच विदेश सचिव स्तर की वार्ता इस्लामाबाद में होगी। पाकिस्तान ने इसके लिए भारत के समक्ष 15 जनवरी की तारीख सुझाई है। इस बातचीत में दोनों देशों के बीच समग्र वार्ता का एजेंडा तय किया जाएगा।समग्र वार्ता का दौर अगले साल मार्च महीने में शुरू हो सकता है। वार्ता का मुख्य केंद्र आतंकवाद होगा। पाकिस्तान इसके लिए राजी है। आतंकवाद के अलावा भारत कश्मीर पर भी बातचीत के लिए तैयार है।माना जा रहा है कि इससे पहले द्विपक्षीय व्यापार बढ़ाने सहित रिश्तों में नरमी लाने के लिए दोनों देश कई महत्वपूर्ण कदम उठाएंगे। इनमें एक-दूसरे के यहां कैद लोगों की रिहाई का मामला भी प्रमुख होगा।

15 जनवरी को तय है बातचीत

मार्च महीने में शुरू हो सकता समग्र वार्ता का दौर

मार्च महीने में शुरू हो सकता समग्र वार्ता का दौर

सरकारी सूत्रों के मुताबिक भारत ने पाकिस्तान की ओर से विदेश सचिव स्तर की वार्ता के लिए सुझाई गई तारीख पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। हालांकि उसे इस तारीख पर कोई एतराज नहीं है। भारत ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के पाकिस्तान दौरे में ही विदेश सचिव स्तर की वार्ता इस्लामाबाद में होने पर सहमति दे दी थी।सूत्रों ने बताया कि समग्र बातचीत में किसी तीसरे पक्ष की भूमिका नहीं होगी और इसमें मुख्य एजेंडा आतंकवाद होगा। मुख्य और विवादास्पद मुद्दों पर चर्चा से पहले दोनों देश रिश्तों में नरमी लाने के लिए कुछ मानवीय फैसले ले सकते हैं। इसमें दोनों देशों के बीच आवागमन को आसान बनाने के अलावा कैदियों की रिहाई का मामला प्रमुख है।पाकिस्तान की ओर से पीओके और कश्मीर के बीच व्यापार की संभावना तलाशने पर जोर दिया जा रहा है। समग्र बातचीत में इस मामले का हल निकालने की कोशिश हो सकती है( एन.एन .आई)।

देश को मिल सकता है नया संसद भवन, स्पीकर ने दिया सुझाव

नई दिल्ली 28 दिसंबर।देश को नवीनतम तकनीकी सुविधाओं से लैस एक नया संसद भवन मिल सकता है। लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने इस बारे में शहरी विकास मंत्री एम वेंकैया नायडू को पत्र लिखा है। दरअसल महाजन के अनुसार वर्तमान संसद भवन भविष्य में बढ़ने वाली जरूरतों को पूरा करने में सक्षम नहीं है।इसलिए उन्होंने नई संसद के निर्माण पर विचार करने के लिए कहा है। माना जा रहा है कि शहरी विकास मंत्रालय स्पीकर के पत्र पर कैबिनेट के लिए एक नोट तैयार कर सकता है, जहां इस पर विचार होगा। संसद भवन 88 साल पुराना है और महाजन के मुताबिक इसकी सीमित क्षमताओं के कारण दिक्कतें पेश आने लगी हैं।उन्होंने नई बिल्डिंग के पक्ष में कई तर्क दिए हैं और इसमें सबसे प्रमुख है मौजूदा भवन में बैठने की सीमित जगह होना। भारतीय संविधान की धारा 81 के एक्सप्लेनेशन टू क्लॉज (3) के अनुसार संसद में अंतिम जनगणना की आबादी के अनुसार प्रतिनिधित्व होना चाहिए।

मिल सकता है नया संसद भवन

अगली जनगणना 2021 में हो सकती है और इसके अनुसार 2026 के बाद लोकसभा में सीटों की संख्या बढ़ने की उम्मीद है। वर्तमान में सदन में 550 लोग बैठ सकते हैं और अब इसमें बढ़ोतरी की कोई संभावना नहीं है। महाजन ने लिखा है कि संसद भवन पुराना हो गया है, जबकि इसमें गतिविधियां बढ़ गई हैं।1927 में जब भवन में कामकाज शुरू हुआ, तब सुरक्षाकर्मियों और कर्मचारियों की संख्या, मीडिया के लोगों तथा संसदीय गतिविधियां सीमित थीं। समय के साथ इन चीजों में इजाफा हुआ है।वैसे करीब एक साल पहले संसद की बजट समिति की बैठक में भी इसी तरह का सुझाव आया था।

महाजन ने नए भवन के लिए सुझाईं दो जगहें

महाजन ने नए भवन के लिए सुझाईं दो जगहें स्पीकर ने नए संसद भवन के लिए दो जगहें भी सुझाई हैं। इनमें से एक जगह वर्तमान संसद परिसर में ही है। यहां नया भवन बनाने पर कुछ सुविधाओं और सेवाओं को स्थानांतरित करना पड़ेगा। दूसरी जगह राजपथ के दूसरी तरफ है।

यहां कमोबेश अधिक जगह है इसलिए नया भवन बनाते समय डिजाइन को लेकर अधिक स्वतंत्रता मिल सकती है। महाजन ने यह सुझाव भी दिया है कि राजपथ के दूसरी तरफ नए भवन और वर्तमान भवन को अंडरग्राउंड जोड़ा भी जा सकता है।

महाजन के सुझावों पर अमल होता है तो नए संसद भवन में आधुनिकतम तकनीकी सुविधाएं होंगी। सांसदों को नवीनतम गैजेट से लैस किया जाएगा और कोशिश होगी कि संसद का कामकाज पेपर लेस हो।

संसद का वर्तमान भवन हेरिटेज ग्रेड-1 की श्रेणी में शामिल है। इस वजह से इसके रख रखाव और नए निर्माण की कुछ सीमाएं हैं। महाजन ने इसलिए भी नए भवन की वकालत की है( एन.एन .आई)।

रेलवे पुलिस की कारस्तानी, युवकों के साथ बंद कर दी युवती

शामली 28 दिसंबर।ट्रेन में रविवार को मारपीट कर रहे दोनों पक्षों को जीआरपी थाने ले आई, जहां एक पक्ष ने पुलिस के साथ ही मारपीट कर दी। जिससे गुस्साई जीआरपी ने उन्हें लॉकअप में बंद कर दिया, इस पर उनके साथ आई युवती ने विरोध जताया तो जीआरपी ने आपा खो दिया और सारे नियम कानून ताक पर रखकर उसे भी पुरुष लॉकअप में बंद कर दिया।

शामली रेलवे स्टेशन पर खड़ी ट्रेन में किसी बात पर दो पक्षों में मारपीट हो गई। इस बीच पहुंची जीआरपी दोनों पक्षों को थाने ले आई। यहां पर एक पक्ष के फौजी जितेंद्र व उसके साले दीपक ने पुलिसकर्मियों के साथ मारपीट शुरू कर दी।

इस दौरान दीपक की बहन ने भी पुलिसकर्मियों के साथ मारपीट की। बाद में पुलिस ने जितेंद्र और दीपक को लॉकअप में डाल दिया। जिस पर दीपक की बहन ने विरोध जताया, तो पुलिस ने उसे भी लॉकअप में बंद कर दिया।

पुलिस ने एक न सुनी

पुलिस ने एक न सुनी

पिटाई से गुस्साई जीआरपी पुलिस ने सब नियम कानून ताक पर रख दिए और युवती को उसके जीजा व भाई के साथ पुरुष लॉकअप में बंद कर दिया।

इस दौरान फौजी जितेंद्र ने पुलिसकर्मियों को कानून का पाठ भी पढ़ाया, लेकिन गुस्साए पुलिसकर्मियों ने उसकी एक न सुनी। काफी देर तक युवती को उनके साथ लॉकअप में रखा गया।

बाद में मीडियाकर्मी वहां पहुंचने लगे, तो उन्हें देख पुलिस ने तुरंत युवती को लॉकअप से बाहर निकाला। युवती ने पुलिसकर्मियों पर कपड़े फाड़ने का भी आरोप लगाया, लेकिन पुलिस युवती द्वारा खुद कपड़े फाड़ने की बात कह रही है।

जल्द ही फिर से मिलेंगे पीएम मोदी और नवाज शरीफ

नई दिल्ली 28 दिसंबर।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके पाकिस्तानी समकक्ष नवाज शरीफ के बीच अगली मुलाकात बहुत जल्द होगी। उम्मीद है कि दोनों नेता स्विट्जरलैंड के दावोस में 20 से 23 जनवरी तक चलने वाले वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम के दौरान मिल सकते हैं। दोनों देशों के वरिष्ठ अधिकारियों ने इस बारे में पुष्टि कर दी है। इसके अलावा मार्च अंत तथा अप्रैल के शुरू में अमेरिका में होने वाला परमाणु सुरक्षा सम्मेलन भी दोनों नेताओं की मुलाकातों का सबब बन सकता है।

स्विट्जरलैंड में हो सकती है मुलाकात

सूत्रों के मुताबिक मोदी जब शरीफ से लाहौर में मिले थे तो उनके बीच केवल कश्मीर और द्विपक्षीय वार्ता बहाल करने पर ही बात नहीं हुई थी। दोनों नेताओं ने अपनी अगली मुलाकात पर भी चर्चा की थी। इस मुलाकात का मकसद नियमित तौर पर आमने-सामने की बातचीत करना और अपने देश में वार्ता फिर से शुरू करने के व्यक्तिगत वादे का संकेत देना था। जनवरी में प्रस्तावित भेंट इसी का नतीजा है। इसके अलावा मोदी-शरीफ के पास मिलने का एक और मौका होगा। वाशिंगटन में 31 मार्च से परमाणु सुरक्षा पर सम्मेलन होना है। अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कार्यक्रम के लिए दोनों नेताओं को आमंत्रित किया है।

वहीं, भारत और पाकिस्तान के बीच विदेश सचिव स्तर की वार्ता इस्लामाबाद में होगी। पाकिस्तान ने इसके लिए भारत के समक्ष 15 जनवरी की तारीख सुझाई है। भारत को भी इस तारीख पर कोई एतराज नहीं है। इस बातचीत में दोनों देशों के बीच समग्र वार्ता का एजेंडा तय किया जाएगा। समग्र वार्ता का दौर अगले साल मार्च में शुरू हो सकता है। माना जा रहा है कि इससे पहले द्विपक्षीय व्यापार बढ़ाने सहित रिश्तों में नरमी लाने के लिए दोनों देश कई महत्वपूर्ण कदम उठाएंगे।

शरीफ ने पहनी मोदी से उपहार में मिली गुलाबी पगड़ी

शरीफ ने पहनी मोदी से उपहार में मिली गुलाबी पगड़ी

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ अपनी नातिन मेहरुनिशां की शादी में गुलाबी रंग की राजस्थानी पगड़ी में नजर आए। यह पगड़ी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को अपनी लाहौर यात्रा के दौरान शरीफ को उपहार में दी थी।

सूत्रों के अनुसार शरीफ का यह पगड़ी पहनना दर्शाता है कि वह मोदी के उपहार की कीमत समझते हैं और उन्हें भारतीय पीएम की ओर से की गई दोस्ती की पहल की कद्र है।

मेहरुनिशां की शादी जाने-माने उद्योगपति चौधरी मुनीर के बेटे राहिल मुनीर से हुई है। रविवार को वलीमा में करीब दो हजार मेहमान आए थे। इनमें से कई वीवीआईपी सऊदी अरब से भी थे।

अपने ही मुखपत्र में कांग्रेस की फजीहत, नेहरू-सोनिया पर सवाल

नई दिल्ली 28 दिसंबर। कांग्रेस के 131वें स्थापना दिवस के मौके पर कांग्रेस के खिलाफ उनके ही एक मुखपत्र ने विवादित लेख छापते हुए पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू और सोनिया गांधी के नेतृत्व पर सवाल उठाया। मुंबई इकाई से छपने वाले इस मुखपत्र ने लिखा है कि अगर नेहरू ने पूर्व गृहमंत्री वल्लभभाई पटेल की बात मानी होती तो आज कश्मीर, चीन और तिब्बत जैसी समस्याएं देश के सामने नहीं होती।

मिड डे ऑनलाइन के मुताबिक कांग्रेस के मुखपत्र 'कांग्रेस दर्शन' ने पार्टी के नेतृत्व पर सवाल उठाते हुए साफ तौर पर कहा है कि नेहरू को स्वतंत्रता संग्राम सेनानी और पूर्व गृहमंत्री सरदार पटेल की बात माननी चाहिए थी। मुखपत्र ने लिखा कि 'विदेश विभाग पं नेहरू का कार्यक्षेत्र था, लेकिन कई बार उप प्रधानमंत्री होने के नाते कैबिनेट की विदेश विभाग समिति में उनका जाना होता था। उनकी दूरदर्शिता का लाभ यदि उस समय लिया जाता तो अनेक वर्तमान समस्याओं का जन्म न होता।'

मुखपत्र ने यह भी लिखा कि 1950 में ही सरदार पटेल ने एक पत्र लिखकर तिब्बत के प्रति चीन की नीति से नेहरू को अवगत कराया था। उन्होंने लिखा था कि चीन का रवैया कपटपूर्ण और विश्वासघाती है। अगर चीन तिब्बत पर कब्जा कर लेता है तो इससे नहीं समस्याओं का जन्म होगा।

सोनिया पर भी साधा निशाना

सोनिया पर भी साधा निशाना

मुखपत्र ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी पर भी निशाना साथा। लेख के मुताबिक सोनिया का सपना था कि वो एयर होस्टेस बनें। लेख ने सोनिया के पिता को फासिस्ट सेना का सिपाही बताया जिसकी दूसरे विश्व युद्ध के दौरान मौत हो गई थी। लेख में सोनिया गांधी के पार्टी अध्यक्ष बनने पर भी सवाल उठाया। मुखपत्र ने लिखा, 'सोनिया गांधी 1997 में कांग्रेस की प्राथमिक सदस्य तौर पर शामिल हुई और महज 62 दिनों में कांग्रेस की अध्यक्ष बन गईं।'

इस विवादित लेख के छपने के बाद कांग्रेस ने इस पर कड़ा विरोध जताया है। कांग्रेस नेता और पूर्व सांसद संजय निरुपम ने इस आलोचना की और मुखपत्र में दोबारा ऐसे लेख न छपे इसके लिए कड़ी कार्रवाई करने की बात कही( एन.एन .आई)।

पंचायत चुनाव: मंत्रियों, विधायकों के बेटे भी मैदान में

panchayat election in himachal pradesh.
शिमला 28 दिसंबर।हिमाचल में इस बार पंचायतीराज चुनावों की जंग बेहद रोचक हो गई है। कहीं भाई-भाई आमने-सामने हैं तो कहीं नजदीकी रिश्तेदार एक-दूसरे के खिलाफ चुनावी ताल ठोक रहे हैं। कई मौजूदा एवं पूर्व मंत्रियों, विधायकों के पुत्र-पुत्रियां भी चुनावी दंगल में कूद गए हैं। 

किसी नेता का बेटा चुनाव लड़ रहा है तो किसी की बेटी। किसी की पत्नी चुनाव मैदान में दमखम दिखा रही है। ऐसे में कई दिग्गज नेताओं की प्रतिष्ठा भी दांव पर लग गई है। पंचायत चुनाव के जरिये कई नेताओं के बच्चे राजनीति में पदार्पण कर रहे हैं। 

स्वास्थ्य मंत्री कौल सिंह की बेटी, वन मंत्री ठाकुर सिंह भरमौरी के बेटे जिला परिषद का चुनाव लड़ रहे हैं। पूर्व मंत्री एवं वर्तमान में विधायक गुलाब सिंह ठाकुर का बेटा और महेंद्र सिंह की बेटी भी चुनाव मैदान में हैं। बिलासपुर के डंगार वार्ड से पूर्व मंत्री रंगीलाराम राव के भांजे कमल राव चुनाव लड़ रहे हैं। 

वन मंत्री ठाकुर सिंह भरमौरी के बेटे अमित भरमौरी बकाण जिला परिषद वार्ड से मैदान में हैं। कुल्लू जिले में दो दिग्गज भाइयों के बेटे आमने-सामने हैं। हिलोपा विधायक महेश्वर सिंह के बेटे हितेश्वर सिंह रैला वार्ड में आयुर्वेद मंत्री कर्ण सिंह के पुत्र आदित्य विक्रम सिंह से टक्कर ले रहे हैं। 

कुल्लू के बल्ह वार्ड में पूर्व मंत्री सत्यप्रकाश ठाकुर की पत्नी प्रेमलता ठाकुर चुनाव मैदान में हैं। मंडी जिले के धनियारा वार्ड में कौल सिंह की पुत्री चंपा ठाकुर भी चुनाव लड़ रही हैं। मंडी सदर के कोट वार्ड से चंपा जिला परिषद सदस्य हैं। गोपालपुर विकास खंड के सज्याओपिपलू वार्ड में पूर्व मंत्री महेंद्र सिंह की बेटी वंदना गुलेरिया चुनावी जंग में उतरी हैं। 

वह वर्तमान में इस वार्ड से सदस्य हैं। जोगिंद्रनगर के नेरघरवासड़ा वार्ड से पूर्व मंत्री गुलाब सिंह के बेटे सोमेंद्र ठाकुर जिप सदस्य का चुनाव लड़ रहे हैं। करसोग से पूर्व विधायक मस्तराम की पत्नी निर्मला चौहान भी बगशाड़ वार्ड से मैदान में हैं। 

हमीरपुर में बड़सर के बणी वार्ड से पूर्व विधायक मनजीत डोगरा की पत्नी अरविंद कौर डोगरा फिर से जिप चुनाव लड़ रही हैं। ये भी सिटिंग मेंबर हैं। शिमला के ठियोग में देवरीघाट वार्ड में पूर्व विधायक राकेश वर्मा की पत्नी इंदु वर्मा भी मैदान में हैं(एन.एन.आई)

दान में मिली जमीनों को बेचने का हक मांग रहे साधु-संत

शिमला 28 दिसंबर। हिमाचल में कुछ साधु-संत एवं धार्मिक संस्थाएं अब दान में मिली जमीन को बेचने की तैयारी में हैं। इसके लिए प्रदेश सरकार से कुछ संस्थाएं अनुमति मांग रही हैं। हाल में एक नामी धार्मिक संस्था ने इसके लिए प्रदेश सरकार के पास आवेदन किया है। इस संस्था के पास प्रदेश में 150 बीघा से ज्यादा जमीन है। इसमें कुछ जमीन को यह संस्था अब बेचना चाह रही है।जमीन से मिलने वाली रकम को धार्मिक कार्यों और श्रद्धालुओं के लिए सुविधाएं जुटाने की बात आवेदन में कही गई है। आवेदन के बाद विभागीय स्तर पर इस बारे मंथन शुरू हो गया है। वर्ष 1971 के सीलिंग एक्ट में प्रावधान था कि हिमाचल में कोई भी व्यक्ति 150 बीघा से ज्यादा जमीन अपने पास नहीं रख सकता। जिस व्यक्ति के पास इससे ज्यादा जमीन थी, उस वक्त यह जमीन सरकार के नाम की गईं।धार्मिक संस्‍थाओं के पास अरबों की संपत्ति
धार्मिक संस्‍थाओं के पास अरबों की संपत्ति
वर्ष 2013 में सीलिंग एक्ट में संशोधन किया गया। इसमें धार्मिक संस्थाएं 150 बीघा से ज्यादा जमीन अपने पास रख सकतीं हैं, लेकिन जमीन बेचने का उन्हें अधिकार नहीं है। एक्ट के संशोधन में चाय के बगीचे, बिजली प्रोजेक्ट और उद्योग को राहत दी गई थी।
धार्मिक संस्‍थाओं के पास अरबों की संपत्ति
हिमाचल में धार्मिक संस्था के पास अरबों-खरबों की सैकड़ों बीघा जमीनें हैं। यह जमीनें संस्थाओं को लोगों ने दान में दी हैं। शिमला, हमीरपुर, कांगड़ा, बिलासपुर, ऊना और कुल्लू जिले में कई संस्थाओं ने दान या सरकार से मिली जमीन पर निर्माण भी किया है।'सीलिंग एक्ट में दान की जमीन को बेचा नहीं जा सकता है। सरकार को पहले एक्ट में संशोधन करना होगा और फिर केंद्र सरकार से अनुमति लेनी होगी। अभी मामला मेरे ध्यान में नहीं है। जैसे ही फाइल आएगी, इस पर क्या करना है, सोचा जाएगा(एन.एन.आई)

कई संस्‍थाओं ने सरकार को किया आवेदन'

पंचायत चुनाव: शिमला के इस वार्ड में है कांटे की टक्कर

six candidate fighting election in karyali ward for zila parishad.
शिमला 28 दिसंबर।जिला परिषद के बसंतपुर विकास खंड के करयाली वार्ड में चुनाव रोचक दौर में पहुंच गया है। चुनावी अखाड़े में छह प्रत्याशी किस्मत अजमा रहे हैं। नौ पंचायतों में घूम-घूम कर अपने पक्ष में वोट देने की अपीलें हो रही हैं। दूसरे वार्डों की अपेक्षा यहां कम प्रत्याशी हैं। लिहाजा मुकाबला रोचक है। वोट मांगते समय एक दूसरे के साथ प्रत्याशियों का आमना-सामना भी हो रहा है।

प्रत्याशी एक-दूसरे से वोट एंड स्पोर्ट की अपील कहकर अपने-अपने रास्ते निकल रहे हैं। मतदान की तारीख नजदीक होने से प्रत्याशियों के दिलों की धड़कने भी तेज हो रही हैं। नौ पंचायतों में घर-घर तक पहुंचना आसान नहीं। बसंतपुर विकास खंड के करयाली जिला परिषद वार्ड में छह उम्मीदवारों के बीच रोचक मुकाबला बना हुआ है। लंबे अंतराल के बाद इस बार वार्ड की सीट ओपन हुई है।

इन छह उम्मीदवारों में प्रेमलाल, देवराज, रति राम शांडिल, लेखराम कौंडल, रमेश शर्मा और गिरधारी लाल मौजूद है। विस्तृत क्षेत्र के बावजूद सारे प्रत्याशी गांव गांव पहुंचकर घर-घर जाकर अपने लिए जनता से वोट की अपील कर रहे हैं। भले ही करयाली वार्ड में सिर्फ नौ पंचायतें हैं लेकिन इस वार्ड का एरिया मशोबरा विकास खंड के सटी पंचायतों से शुरू होकर ठियोग विधानसभा क्षेत्र के साथ लगती पंचायतें धरोगड़ा और बाग पंचायतों तक फैला है।

सारे उम्मीदवार ज्यादातर पैदल चलकर और जहां हो सके गाड़ियों में मतदाताओं तक पहुंच कर कम से कम एक बार हाथ जोड़कर अपील करने पहुंच रहे हैं। सभी प्रत्याशी अपनी-अपनी जीत का दावा कर रहे हैं। भाजपा की ओर से समर्थित प्रत्याशी के खिलाफ भी भाजपा के ही एक कार्यकर्ता ने ताल ठोंक रखी हैं तो दूसरी ओर कांग्रेस से जुड़े दो कार्यकर्ता एक दूसरे के खिलाफ चुनावी मैदान में डटे हैं। कुल मिलाकर मुकाबला रोचक मोड़ पर है और प्रत्याशियों की किस्मत की चाबी मतदाताओं के हाथ में हैं। जीत का सेहरा किसके सिर पर सजेगा यह भविष्य के गर्भ है। अब सब को चुनाव का इंतजार है।

करयाली वार्ड में हैं ये नौ पंचायतें

करयाली वार्ड के तहत नौ पंचायतों में मझिवड़, खटनोल, देवला, बाग, धरोगड़ा, करयाली, डुमैहर, ओगली और हिमरी के करीब 11500 के करीब मतदाताओं के हाथों में इन सारे प्रत्याशियों की किस्मत का फैसला होना है(एन.एन.आई)

जंगल में लटका मिला युवक का शव, शिनाख्त नहीं

youth commit suicide at baddi.
बद्दी (सोलन) 28 दिसंबर।बद्दी के कोटला गांव के जंगल में एक युवक ने पेड़ से फंदा लगाकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली है। युवक की शिनाख्त नहीं हो सकी है। पुलिस को उसके पास से कोई भी पहचान संबंधी दस्तावेज नहीं मिला है। पुलिस धारा 174 के तहत कार्रवाई कर रही है। पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक कोटला गांव के कुछ लोग रविवार सुबह जंगल में लकड़ी लेने गए।जंगल में लोगों ने युवक को लटका देखा। इसकी तुरंत बरोटीवाला पुलिस स्टेशन में सूचना दी गई। सूचना मिलते ही थाना प्रभारी दयाराम और एएसआई नसीब खान मौके पर पहुंचे। मृतक ने सफेद कपड़े से फंदा लगाया था। पुलिस ने लोगों की मदद से उसे पेड़ से नीचे उतारा। मृतक की शिनाख्त के लिए पुलिस ने जांच की लेकिन मौके पर कुछ नहीं मिला।वहीं इसकी सूचना डीएसपी को भी दी गई। डीएसपी खजाना राम मौके पर पहुंचे और घटनास्थल का जायजा लिया। उन्होंने बताया कि शरीर पर कोई चोट का निशान नहीं है। प्रारंभिक जांच से अंदेशा आत्महत्या का लगाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि शव को शिनाख्त के लिए नालागढ़ शव गृह में शिनाख्त के लिए रखा गया है। 72 घंटे के बाद शव का अंतिम संस्कार किया जाएगा। एसपी बिशेर सिंह ने मामले की पुष्टि करते हुए बताया कि पुलिस हर पहलू को ध्यान में रखकर जांच कर रही है(एन.एन.आई)

अच्छी खबरः पंचायतों को भी मिलेगी ये सुविधा

street lights facility to panchayats in himachal.

परंपराः वोट के लिए मतदाताओं को खिलाए जाते हैं चावल

राजगढ़ (सिरमौर)28 दिसंबर। पंचायत चुनाव में मतदाताओं को रिझाने के लिए जिला सिरमौर में देवता के चावल खिलाने की अनूठी परंपरा है। जिले में इस प्रथा का प्रभाव लूण लोटा प्रथा से भी ज्यादा कारगर माना जाता है। इस अनोखी परंपरा के मुताबिक देवता के घणिता (गूर) से उम्मीदवार आशीर्वाद के रूप में चावल लेता है। फिर गांव में लोगों को अपने पक्ष में मतदान करने की कसम खिलाकर उन्हें चावल के थोड़े-थोड़े दाने खाने के लिए देता है।

देवता के चावल खाने के बाद यदि मतदाता अपने वादे के अनुसार वोट नहीं डालता है तो कहा जाता है कि उसे देव दोष लगता है। प्रत्याशी इस कारगर हथियार का प्रयोग करते अकसर देखे जा सकते हैं। वैसे यह प्रयोग उस गांव में ज्यादा किया जाता है, जिस गांव का प्रत्याशी होता है। ऐसे में उस गांव के सभी लोगों का ईष्ट देवता एक होता है। उसके प्रति प्रत्याशी और मतदाताओं की श्रद्धा होती है।प्रत्याशी दूसरे गांव में इसका प्रयोग करते हैं तो उस गांव में अपने समर्थक के माध्यम से देवता के चावल बांटे जाते हैं। ये सामूहिक बांटे जाते हैं। सभी के सामने इन्हें साबुत निगला जाता है। इसे ज्यादा महत्व वाला बनाने के लिए कई बार जिस व्यक्ति में देवता की हवा आती है यानी जो घणिता (गूर) होता है, उसी के माध्यम से चावल बांटे जाते हैं।

जिले में लूण लोटा की प्रथा में प्रत्याशी अपने पक्ष में मतदान के लिए मतदाता को लोटे में नमक डालकर कसम खाने को कहता है, लेकिन देवता के चावल का भय ग्रामीण क्षेत्रों में बहुत अधिक है। लोग देवी-देवताओं को काफी मानते हैं। देव दोष का भय भी मानते हैं। ऐसे में देवता के चावल लूण लोटा से ज्यादा प्रभावी माने जाते हैं।

राजगढ़ क्षेत्र में शिरगुल देवता, बिजट देवता, पालू देवता, नरसिंह देवता और विष्णु देवता आदि के मंदिर बड़ी संख्या में हैं। इन्हीं देवताओं के चावल खिलाने की प्रथा है। रेणुका में भंगाईणी माता, रेणुका माता आदि की भी मान्यता है।

सिरमौर में चल रही है ये परंपरा

बीएसएनएल ने 12500 फीट ऊंचाई पर लगाया टावर

bsnl establish mobile tower at spiti valley.
शिमला 28 दिसंबर।समुद्रतल से 12500 फीट (3800 मीटर) की ऊंचाई पर चीन सीमा से सटी स्पीति वैली में बीएसएनएल ने अपना मोबाइल टावर (बीटीएस) स्थापित किया है। करीब दो फीट बर्फ के बीच बीएसएनएल के कर्मचारियों ने स्पीति वैली के माने गांव में मोबाइल टावर स्थापित किया।

अगले साल स्पीति वैली में कालचक्र महोत्सव होना है जिसके चलते प्रदेश सरकार की मदद से बीएसएनएल ने यहां मोबाइल टावर स्थापित किया है। बीएसएनएल ने स्पीति के माने गांव में सोलर पैनल की मदद से सेटेलाइट के जरिये चलने वाला मोबाइल टावर स्थापित किया है।

करीब दस लाख रुपये खर्च कर मोबाइल टावर के लिए सोलर पैनल स्थापित करने प्रदेश सरकार ने बीएसएनएल की मदद की है। टावर लगने के बाद स्पीति के माने योंगमा, माने गोंगमा, ढंकार, सुशना, सिलयुक, सचिलिंग और देम्यूल में जहां लैंड लाइन फोन तक नहीं लगे थे, अब मोबाइल सिग्नल आ गए हैं। लाहौल स्पीति जिला में बीएसएनएल के बीस 2जी और एक 3जी टावर चल रहा है।

सोलर पैनल टावर स्थापित करने में शिमला देश में नंबर वन

सोलर पैनल से मोबाइल टावर संचालित करने में शिमला दूरसंचार जिला देश भर में अव्वल रहा है। शिमला दूरसंचार जिला के तहत स्पीति वैली के माने गांव सहित कुल 31 स्थानों पर सोलर पैनल से मोबाइल टावर चलाए जा रहे हैं। यह आंकड़ा देश के अन्य दूरसंचार जिलों के मुकाबले सबसे अधिक है। सोलर पैनल की मदद से भारी बर्फबारी अथवा किसी अन्य कारण से बिजली आपूर्ति बाधित होने पर भी मोबाइल टावर का संचालन कर दूरसंचार सेवाएं बहाल रखी जा सकती है।

स्पीति वैली के माने गांव में बीटीएस स्थापित करने को बीएसएनएल ने एक मिशन की तरह लिया। फील्ड स्टाफ सहित अन्य अधिकारियों और कर्मचारियों के साझे प्रयासों से ऑपरेशन माने पूरा हो सका। लगातार मॉनीटरिंग कर स्पीति में कालचक्र महोत्सव से पहले बीटीएस स्थापित करने में कामयाबी मिल पाई।

रेलवे में 2864 नई नौकरियां, दो जनवरी से करें आवेदन

लखनऊ 28 दिसंबर।रेलवे ने विभिन्न पदों के लिए 2864 नई नौकरियां निकाली हैं। किसी भी विषय में साधारण स्नातक अभ्यर्थी इन नौकरियां के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।आवेदन करने की अंतिम तिथि 25 जनवरी है। दो जनवरी से आवेदन प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। रेलवे भर्ती बोर्ड, इलाहाबाद इन पदों के लिए नियुक्तियां करेगा।सभी पद नॉन टेकिभनकल श्रेणियों के हैं। इसलिए किसी टेकिभनकल डिप्लोमा की जरूरत इन नौकरियों के लिए नहीं पड़ेगी।2864 पदों में कॉमर्शियल अप्रेंटिस, ट्रैफिक अप्रेंटिस, इंक्वायरी कम रिजर्वेशन क्लर्क, गुड्स गार्ड, जूनियर एकाउंट असिस्टेंट कम टाइपिस्ट, सीनियर क्लर्क कम टाइपिस्ट, सहायक स्टेशन मास्टर और सीनियर टाइम कीपर के पद शामिल हैं।दो जनवरी से इन पदों के लिए वेबसाइट www.allahabad.rrbonlinereg.in पर आवेदन होंगे। 25 जनवरी 2016 आवेदन की अंतिम तिथि है।रेलवे भर्ती बोेर्ड के सदस्य सचिव संजय कुमार बंसल ने बताया कि कुल 2864 पदों के लिए नौकरियां निकाली गई हैं। जल्द ही परीक्षा करारकर परिणाम घोषित कर दिए जाएंगे।

आवेदन की अंतिम तिथि 25 जनवरी

कीर्ति पर भाजपा में और बढ़ सकती है तकरार

नई दिल्ली 28 दिसंबर। भाजपा से निलंबित किए गए सांसद कीर्ति आजाद पर पार्टी में तकरार बढ़ने की आशंका दिख रही है। पार्टी आलाकमान ने माफी नहीं मांगने पर कीर्ति को बाहर का दरवाजा दिखाने का मन बना लिया है।वहीं पार्टी को भेजे अपने जवाब में सवालों की बौछार करने वाले कीर्ति पूरे मामले में फिलहाल हथियार डालने के मूड में नहीं हैं। इसके अलावा पार्टी के बुजुर्ग नेताओं को पहले ही कीर्ति के खिलाफ की गई कार्रवाई बेहद नागवार गुजरी है।पार्टी के अतिविशिष्ट सूत्र के मुताबिक कीर्ति द्वारा कारण बताओ नोटिस पर दिया गया जवाब आलाकमान को बेहद नागवार गुजरा है। नेतृत्व ने करीब-करीब तय कर लिया है कि अगर कीर्ति पूरे मामले में माफी नहीं मांगते तो उन्हें पार्टी से बर्खास्त कर दिया जाएगा।पार्टी को दिए जवाब में कीर्ति ने डीडीसीए को गैर सरकारी संस्था बताते हुए कहा था कि ऐसी संस्था में व्याप्त भ्रष्टाचार के मामले को उठाना पार्टी लाइन का उल्लंघन कैसे हो गया। इसके अलावा पार्टी के कड़े रुख के बावजूद वह अपना रवैया नरम करने को तैयार नहीं दिख रहे।भाजपा के बुजुर्ग नेताओं के रुख के कारण भी विवाद बढ़ सकता है। कीर्ति के निलंबन के एक दिन बाद पार्टी के वरिष्ठ नेताओं लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, शांता कुमार और यशवंत सिन्हा ने बैठक की थी।इसमें कीर्ति के निलंबन की प्रक्रिया पर सवाल उठे थे। तय किया गया था कि इस मामले में आडवाणी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखेंगे। ऐसी स्थिति में अगर नेतृत्व कीर्ति को बर्खास्त करने का फैसला करता है तो सबकी नजरें एक बार फिर से बुजुर्ग नेताओं पर होंगी।

बुजुर्ग नेताओं के कारण भी बढ़ सकता है विवाद

परीक्षा की कॉपी घर लेती गई महिला अभ्यर्थी

इलाहाबाद 28 दिसंबर।रविवार परीक्षाओं का दिन रहा। अलग-अलग आयोग की तीन बड़ी भर्ती परीक्षाएं हुईं। इनमें तकरीबन 30 हजार अभ्यर्थी शामिल रहे। इसका नतीजा रहा कि शहर में हर तरफ परीक्षार्थियों की भीड़ दिखाई दी।एक महिला अभ्यर्थी के उत्तर पुस्तिका घर ले जाने को छोड़ दें तो कहीं से गड़बड़ी की कोई शिकायत नहीं है। उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग की सहायक अभियोजन अधिकारी (एपीओ-2015) मुख्य परीक्षा में एक महिला अभ्यर्थी उत्तर पुस्तिका लेकर घर चली गई।मेरी लूकस केंद्र पर दूसरी पाली में छात्रा ने कापी जमा नहीं की। हालांकि 40 मिनट बाद वापस आई छात्रा ने उत्तर पुस्तिका जमा कर दी, लेकिन उसके खिलाफ एफआईआर लिखाई गई है। कॉपी भी सील कर दी गई है। इलाहाबाद और लखनऊ में हुई परीक्षा में 7574 अभ्यर्थी पंजीकृत थे। इनमें से 7194 शामिल हुए।इलाहाबाद में 4124 और लखनऊ में 3070 अभ्यर्थी उपस्थित हुए। परीक्षा नियंत्रक प्रभुनाथ ने बताया कि कहीं और से गड़बड़ी की कोई शिकायत नहीं है। एपीओ की परीक्षा सोमवार को भी उन्हीं केंद्रों पर होगी।रविवार को आयोजित यूजीसी नेट में भी तकरीबन 80 फीसदी उपस्थिति रही। इलाहाबाद में कुल 36 केंद्रों पर तकरीबन 26 हजार अभ्यर्थी पंजीकृत थे। अभ्यर्थियों को परीक्षा कक्ष में ही पेन तथा अन्य जरूरी वस्तुएं उपलब्ध कराई गईं।परीक्षार्थियों को घर से कुछ भी नहीं लाना था। खास यह कि परीक्षा के बाद उनसे पेन तथा उपलब्ध कराए अन्य सामान वापस भी ले लिए गए। रविवार को रेलवे की भर्ती परीक्षा भी हुई(एन.एन.आई)
रेलवे की भी हुई परीक्षा

'चीन की तर्ज पर बने देश में जनसंख्या नीति'

मुंबई 28 दिसंबर।देश में जनसंख्या विस्फोट को विकास में सबसे बड़ी बाधा बताते हुए केंद्रीय लघु व मध्यम उद्योग राज्यमंत्री गिरिराज सिंह ने एक बार फिर जनसंख्या नीति बनाए जाने पर जोर दिया है। उन्होंने कहा है कि अगर हम विकसित राष्ट्र बनना चाहते हैं, तो जनसंख्या पर नियंत्रण के लिए चीन की तर्ज पर कानून बनाकर उसे लागू करना चाहिए।जो इस नीति को नहीं मानते हैं। उनका वोटिंग का अधिकार खत्म कर उन पर आर्थिक प्रतिबंध लगाया जाना चाहिए। मुंबई दौरे पर आए गिरराज सिंह ने कहा कि चीन ने यदि सन 1979 में जनसंख्या नियंत्रण के लिए कानून नहीं लाया होता, तो आज वह इतनी तेजी से विकास नहीं कर रहा होता।गिरिराज ने कहा कि यदि हम विकसित राष्ट्र बनना चाहते हैं और सामाजिक समरसता कायम रखना चाहते हैं, तो जनसंख्या नीति बहुत जरूरी है। उन्होंने कहा कि यूरोपीय देशों के अलावा मुस्लिम बाहुल्य देश मलयेशिया और इंडोनेशिया में जब जनसंख्या पर कानून बना सकता है तो भारत में ऐसा कानून क्यों नहीं बनाया जाए। इस पर बहस होनी चाहिए।सिंह ने कहा कि यह मैंने एक मंत्री नहीं, बल्कि भारतीय होने के नाते महसूस किया है।
जनसंख्या को व्यवस्थित किए बगैर विकास संभव ही नहीं है।गिरिराज सिंह ने कहा कि देश में अल्पसंख्यक की परिभाषा तय होनी चाहिए। देश के किसी जिले में दो फीसदी तो किसी जिले में 72 फीसदी मुस्लिम हैं।उन्होंने कहा कि बिहार में अराजकता बढ़ रही है। हत्या, डकैती और अपहरण की घटनाएं शुरू हो गई हैं। सिंह ने कहा कि हम चुनाव में जो कह रहे थे वही दिखने लगा है। बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार तो मुखौटा हैं असली मुख्यमंत्री तो लालू प्रसाद यादव ही हैं(एन.एन.आई)।

बिहार में नीतीश मुखौटा, लालू असली सीएम

प्रधानमंत्री सभी समस्याओं को सुलझाने में जुटे

नई दिल्ली,27दिसंबर। प्रधाानमंत्री नरेंद्र मोदी की अचानक हुई पाकिस्तान यात्रा पर हो-हल्ला कर रही कांग्रेस पर आज केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने तंज कसते हुए कहा है कि पहले वह कहते थे कि पाक से बात होनी चाहिए। पाकिस्तान से बात क्यों नहीं करते हैं या कब बात होंगी। अब जब बात हुई है तो कांग्रेस इस वार्ता पर सवाल खड़े कर रही है और पूछ रही है कि बात क्यों की। सिंह ने कहा कि मोदी की पाकिस्तान यात्रा को विश्व के सभी नेताओं ने सराहा है। सभी का कहना है कि पीएम मोदी ने दोनों देशों के बीच संबंधों को सुधारने में यह सही कदम उठाया है। लेकिन कांग्रेस इस पर सवाल उठा रही है। जम्मू कश्मीर के हालातों पर पूछे गए एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री की पहली प्राथमिकता में जम्मू कश्मीर और वहां पर रहने वाले लोग शामिल हैं। उनकी प्राथमिकता है कि सीमा से सटे लोग सुरक्षित और खुशहाली के साथ अपने जीवन का निर्वाह कर सकें। प्रधानमंत्री सभी समस्याओं को सुलझाने में जुटे हुए हैं। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अचानक हुई इस पाक यात्रा ने सभी नेताओं को हैरत में डाल दिया है। कांग्रेस इस यात्रा के बाद से ही पीएम मोदी पर सवाल खड़े कर इसको एक गलत कदम बता रही है। पूर्व केंद्रीय मंत्री आनंद शर्मा ने इस बाबत कहा कि विदेश नीति कोई बच्चों का खेल नहीं होती है। उन्होंने कहा कि पीएम का यह कदम सरासर गलत है। वहीं दूसरी आेर भाजपा नेता और पूर्व वित्तमंत्री यशवंत सिन्हा ने इसको अच्छा कदम मानते हुए सरकार को बीते अनुभव के आधार पर सतर्क रहने की सलाह भी दी है(एन.एन.आई)। 
 

पीएम मोदी 16 जनवरी को करेंगे 'स्‍टार्ट अप इंडिया' की शुरुआत

नई दिल्ली,27दिसंबर।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज रेडियो कार्यक्रम 'मन की बात' के जरिए भारत की विविधताओं की बात की। इसके अलावा उन्होंने देशवासियों को क्रिसमस को अौर नववर्ष की भी शुभकामनाएं दी। इसके अलावा अपने संबोधन में उन्होंने स्टार्ट अप इंडिया योजना का भी जिक्र किया। इसकी शुरुआत वह 16 जनवरी को करेंगे।देशवासियों को नववर्ष की शुभकामनाएं देते हुए उन्होंने कहा कि वह आशा करते हैं कि आने वाला वर्ष देश और देशवासियों के लिए खुशहाली लेकर आएगा। इसके अलावा यह वर्ष आतंक के खात्मे का वर्ष भी होगा। पीएम ने अपने संबोधन में कहा कि विविधताओं से भरे इस भारत में अलग-अलग त्योहार मनाए जाते हैं। यह त्योहार आर्थिक तौर पर पिछड़े लोगों को संबल देता है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार देशवासियों के उत्थान के लिए काम कर रही है। सरकार देशवासियों बेहतर सुविधाएं देने के लिए वचनबद्ध है। हर शख्स आज एक नई खोज में जुड़ा है। देशवासियों के सहयोग से ही आज हम एक उभरती हुई अर्थव्यवस्था हैं। कई लोग होते हैं जो हादसे के शिकार होने के कारण अपना कोई अंग गवां देते हैं, कुछ को जन्मजात ही कोई क्षति रह जाती है, लेकिन ऐसे लोगों में अतिरिक्त शक्ति जरूर होती है। उन्होंने नरेंद्र मोदी ऐप के जरिए यूथ फेस्टिवल के लिए लोगों से सुझाव भी मांगे। उन्होंने कहा कि इसमें करीब 10,000 युवा जुटेंगे और यह लघु भारत की तरह नजर आएगा। इसका शुभारंभ 12 जनवरी को स्वामी विवेकानंद की जयंती से शुरु होगा और 16 जनवरी तक चलेगा। इसका आयोजन छत्तीसगढ़ में होना है। इसका थीम इंडिया यूथ स्किल एंड हार्मनी है।  स्टार्ट अप इंडिया का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि इसकी चर्चा उन्होंने इस वर्ष 15 अगस्त को लाल किले से की थी। ‘स्टार्टअप इंडिया’, ‘स्टैंडअप इंडिया’ युवा पीढ़ी के लिए एक बहुत बड़ा अवसर बताया। अपनी याेजनाओं का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि भारत सरकार, राज्य सरकारों ने जब से गांवों में बिजली पहुंचाने का संकल्प लिया है तब से गांव में बिजली पहुंचने की ख़बर आती रहती है। अपने संबोधन में उन्होंने एक बार फिर से स्वच्छता पर दिया। उन्होंने इसमें सहभागिता निभाने के लिए देशवासियों का धन्यवाद भी अदा किया। मन की बात में पीएम ने कहा कि 'पुणे से गणेश सावलेशवारकर ने लिखा है कि ये समय टूरिस्ट का सीज़न होता है। बड़ी मात्रा में देश-विदेश के टूरिस्ट आते हैं। उन्होंने कहा है कि टूरिस्ट डेस्टिनेशन, टूरिस्ट प्लेस, यात्रा धाम, प्रवास धाम, पर स्वच्छता के संबंध में विशेष आग्रह रखना चाहिये। गौरतलब है कि पीएम मोदी ने इससे पहले 29 नवंबर और उससे पहले 25 अक्टूबर को 'मन की बात' की थी। 'मन की बात' आकाशवाणी पर प्रसारित किया जाने वाला एक कार्यक्रम है, जिसके जरिये पीएम मोदी देश के नागरिकों को संबोधित करते हैं। इस कार्यक्रम का पहला प्रसारण तीन अक्टूबर, 2014 को किया गया था(एन.एन.आई)।

भारत, पाक और बांग्‍लादेश मिलकर बनाएंगे अखंड भारत, राम माधव

नई दिल्ली,27दिसंबर। प्रधानमंत्री मोदी लाहौर और अफगानिस्तान के दौरे से लौटे ही हैं और इधर भाजपा नेता राम माधव अखंड भारत का सपना सजाने लगे हैं। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव ने एक बयान में कहा है कि भारत,पाक और बांग्लादेश एक होकर फिर से अखंड भारत का निर्माण करेंगे। खबरों के अनुसार उन्होंने यह बयान अंतरराष्ट्रीय न्यूज चैनल अल-जजीरा को दिए एकइंटरव्यू में दिया है। उन्होंने यह भी कहा कि अखंड भारत का निर्माण आपसी रजामंदी से बिना किसी जंग के मुमकीन है। उन्होंने अपने इंटरव्यू में कहा, आरएसएस अब भी मानता है कि ऐतिहासिक कारणों से 60 साल पहले जो हिस्से अलग हो गए थे वो एक दिन अपनी सद्भावना के दम पर साथ आएंगे और अखंड भारत का निर्माण करेंगे।' हालांकि, उन्होंने इस दौरान यह साफ किया की वो आरएसएस के एक सदस्य के रूम में यह सोचते हैं। राम माधव ने आगे कहा, 'इसका कतई मतलब नहीं है कि इसे हासिल करने के लिए किसी देश के साथ युद्ध करेंगे या उस पर कब्जा कर लेंगे, बिना जंग के आपसी सहमति से यह संभव है(एन.एन.आई)।'

संसद में कानून बनाकर अयोध्या में राम मंदिर बनवाएं मोदी

जबलपुर,27दिसंबर,। विश्व हिंदू परिषद के अंतरराष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण पर सीधे पीएम नरेंद्र मोदी के दखल की मांग कर डाली। उन्होंने कहा कि कानूनी प्रक्रिया की बजाए भाजपा को सीधे संसद में कानून बनाकर मंदिर निर्माण का रास्ता प्रशस्त करना चाहिए। जिस दिन ऐसा होगा वो खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की विजय गाथा ध्वज लेकर गांव-गांव तक पहुंचाएंगे। डॉ.प्रवीण तोगड़िया विहिप के कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। अग्रसेन मंडपम्‌ में आयोजित कार्यक्रम में डॉ.तोगड़िया ने कहा कि राम मंदिर निर्माण के महानायक स्वर्गीय अशोक सिंघल का अधूरा स्वप्न रह गया है। इसे पूरा करना हर हिंदू का धर्म है। रामलला को झोपड़ी नहीं मानव निर्मित महल में रखना है। अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष राघव रेड्डी ने भी मजबूती के साथ एकजुट रहने का आह्वान किया। कार्यक्रम में विदेश विभाग के प्रमुख अशोक चौगले, अंतर्राष्ट्रीय महामंत्री चंपत राय, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मीना ताई, कैलाश गुप्ता, गोविंद शेंडे मौजूद रहे। डॉ.प्रवीण तोगड़िया ने मंदिर निर्माण के एजेंडे पर भाजपा के ही 1986 में पारित प्रस्ताव का हवाला दिया। उन्होंने कहा कि पालमपुर में संसद में कानून बनाकर मंदिर बनाने प्रस्ताव पारित हुआ। उस पर अमल का वक्त आ चुका है। 1984 में सोमनाथ मंदिर का जीर्णोद्वार जिस तरीके से सरदार पटेल ने करवाया था। मुस्लिमों से कोई चर्चा नहीं की। न्यायिक प्रक्रिया में नहीं गए। उसी तरह राम मंदिर निर्माण में संसद सीधे दखल करे। देश के हिंदू को समृद्घ और शिक्षित बनाना है। मार्डन शिक्षा का विरोधी नहीं है। जींस पहनने वालों का भी विरोध नहीं। सिर्फ वे मंदिर में जाएं। मॉ-बाप के चरण स्पर्श करें। कुल मिलाकर संस्कारित रहें। विश्व भर में हिंदुओं पर अत्याचार हो रहा है। दादरी में कोई घटना होती है तो लोग चिल्लाते हैं, लेकिन कश्मीर में हिंदुओं का नरसंहार होता है तो कोई क्यों नहीं बोलता  भारत की धरती पर गाय कटने नहीं देंगे। जो इसका विरोध करेगा उसके लिए भारत भूमि नहीं। केंद्र सरकार को गोहत्या बंदी कानून बनाना होगा। जब नेपाल में ये कानून बन सकता है तो भारत में क्यों नहीं। कश्मीर में हर शुक्रवार आइएस के झंडे लहरा रहे हैं। समझौते की राजनीति नहीं चलेगी। घर वापसी पर कोई शर्म नहीं। गर्व है कि जिन्हें मारकर ले गए उन्हें सम्मान से वापस ला रहे हैं। मंदिर निर्माण से हिंदुओं की प्रतिष्ठा जुड़ी है। आइएस के झंडे हमेशा के लिए जमीन में गाड़ना है। सम्मेलन में संत गिरीशानंद महाराज ने प्रदेश सरकार की नीयत पर सवाल खड़े कर दिए। उन्होंने कहा कि गैर भाजपा वाले प्रदेशों में तो मंदिर अधिग्रहण हो ही रहा है मप्र में भी अब ये होने लगा है। चित्रकूट के कामथगिरी मंदिर को सरकार अधिग्रहित करने में लगी है। सरकार को नारायण से मतलब नहीं है बल्कि 'लक्ष्मी' से है। परिसर के चारों तरफ पुलिस सुरक्षा के व्यापक इंतजाम दिखे। बड़ी-बड़ी इमारतों के ऊपर सुरक्षा कर्मी निगरानी करते रहे। डॉ.तोगड़िया 27 दिसंबर को भी प्रन्यास मंडल की बैठक में शामिल होंगे(एन.एन.आई)।

सलमान ने फार्महाउस पर मनाया फार्महाउस, फैमिली-फ्रेंड्स के साथ काटा केक

मुंबई 27 दिसंबर।सुपरस्टार सलमान खान 50 साल के हो गए हैं। शनिवार रात इस मौके को उन्होंने पनवेल स्थित फार्महाउस पर सेलिब्रेट किया। सूत्रों के अनुसार, "सलमान ने फैमिली और फ्रेंड्स के साथ बर्थडे केक काटा। इस दौरान इंडस्ट्री के कई सेलेब्स वहां मौजूद रहे।"
मीडिया को बुलाया
अपने बर्थडे पर सलमान ने मीडिया को भी इनवाइट किया। इतना ही नहीं, सलमान ने मीडिया से अपने 'हिट एंड रन' केस को लेकर भी बात की। जब उनसे पूछा गया कि मामला यदि सुप्रीम कोर्ट में जाता है तो वे क्या करेंगे। तब सलमान ने जवाब दिया, "यदि मामला सुप्रीम कोर्ट में जाता है तो मैं वहां जवाब देने के लिए तैयार हूं( एन.एन .आई)।

 फैमिली और फ्रेंड्स के साथ केक काटते सलमान खान"

सूरत में बना 400 फीट का केक, देखें कैसे सलमान का जन्मदिन मना रहे फैन्स

मुंबई 27 दिसंबर। सुपरस्टार सलमान खान के 50वें बर्थडे पर न केवल उनके फैमिली मेंबर्स और फ्रेंड्स एक्साइटेड हैं, बल्कि उनके फैन भी अपने तरीके से उनका जन्मदिन सेलिब्रेट कर रहे हैं। सूरत में उनके एक फैन ने 400फीट का केक बनाकर सलमान का जन्मदिन मनाया। इस केक की फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है।
बड़ोदरा में फैन ने बनाईं 50 पेंटिंग
सलमान के बर्थडे को बड़ोदरा में उनके एक फैन ने खास अंदाज में मनाया। इस फैन ने उनके 50 स्केचेज और पेटिंग बनाईं। फैन की मानें तो इन्हें बनाने में उसे पूरे 6 महीने का वक्त लगा।
गैलेक्सी के बाहर लगा फैन्स का तांता
शनिवार रात सलमान के घर गैलेक्सी अपार्टमेंट के बाहर फैन्स का तांता देखने को मिला। वे सभी अपने चहेते स्टार को जन्मदिन शुभकामनाएं देने इकट्ठे हुए थे( एन.एन .आई)।

 सलमान के बर्थडे पर सूरत के एक फैन द्वारा बनाया गया 400 फीट का केक।
 

50 साल के हुए सलमान खान, हिट एंड रन पर बोले- अब सुप्रीम कोर्ट में दूंगा जवाब

मुंबई 27 दिसंबर।एक्टर सलमान खान रविवार को 50 साल के हो गए। बर्थडे की एक शाम पहले जहां जश्न की तैयारी हो रही थी, वहीं सलमान के दिमाग में अभी भी 2002 का हिट एंड रन केस है। मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा -अगर सुप्रीम कोर्ट में मामला जाता है तो वह उसका वहां जवाब देंगे।
हाईकोर्ट ने कर दिया है बरी
10 दिसंबर को बॉम्बे हाईकोर्ट ने इस मामले में सलमान को बरी कर दिया था। सेशंस कोर्ट ने उन्हें 5 साल जेल की सजा दी थी।बॉम्बे हाईकोर्ट ने 13 साल पुराने इस मामले में कहा था कि प्रॉसिक्यूशन सलमान के खिलाफ कोई भी आरोप साबित नहीं कर पाया।महाराष्ट्र सरकार ने पिछले दिनों कहा था कि वह इस मामले को जनवरी में सुप्रीम कोर्ट ले जाएगी।
सलमान ने और क्या कहा?
एक अंग्रेजी वेबसाइट की खबर के मुताबिक शनिवार शाम सलमान ने कहा, ''यह (केस) मेरे पेरेंट्स पर एक बड़ा बोझ है...सरकार का हक है कि वह इसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जाए। हम भी सुप्रीम कोर्ट में लड़ेंगे।अपने दोस्तों और फैमिली के साथ पनवेल स्थित घर लौटते वक्त उन्होंने रुक कर मीडिया से बातचीत की।
क्या है मामला?
28 सितंबर, 2002 की आधी रात पार्टी कर घर लौट रहे सलमान खान की लैंड क्रूजर हिल रोड पर अमेरिकन एक्सप्रेस बेकरी में घुस गई थी।सलमान ने सुबह सरेंडर किया था। पुलिस स्टेशन से ही उनकी जमानत हो गई।
अक्टूबर 2002 में सलमान पर आईपीसी की धारा 302-II (गैर इरादतन हत्या) लगाई गई।घटना में नुरुल्ला शरीफ की मौत हो गई थी। अब्दुल शेख, मुस्लिम शेख, मुन्नू खान और मुहम्‍मद कलीम घायल हो गए थे। ये सब बेकरी के बाहर फुटपाथ पर सो रहे थे।अब्‍दुल शेख के परिवार ने कहा था कि उन्‍हें कोर्ट के फैसले से कोई मतलब नहीं है। उन्‍हें तो बस 10 लाख रुपए का मुआवजा मिल जाए।इस केस में बॉम्बे की सेशन्स कोर्ट ने सलमान को पांच साल की सजा सुनाई। बाद में बॉम्बे हाईकोर्ट ने सलमान की सजा पर रोक लगा दी( एन.एन .आई)।

सलमान खान का आज जन्मदिन

नई दिल्ली,27दिसंबर। बॉलीवुड के 'दबंग' सलमान खान का आज जन्मदिन है। वह आज 50 साल के हो गए हैं। सलमान का जन्म 27 दिसंबर 1965 को मध्यप्रदेश के इंदौर में हुआ था। सलमान के लिए ये जन्मदिन कई मायनों में खास है। सल्लू मियां को जन्मदिन से पहले ही कई बेहतरीन गिफ्ट मिल चुके हैं। सलमान को पिछले दिनों हिट एंड सन केस में बॉम्बे हाईकोर्ट से बरी कर दिया गया। वहीं सुनने में आ रहा है कि सलमान अपनी कथित गर्लफ्रेंड लूलिया वंतूर के सामने शादी का प्रपोजल भी रखने जा रहे हैं।सलमान खान ने अपने करियर की शुरुआत साल 1988 में फिल्म 'बीवी हो तो ऐसी' से की थी। इस फिल्म में वह सपोर्टिंग रोल में थे। लेकिन सलमान का बतौर लीड एक्टर डेब्यू हुआ सूरज बड़जात्या की फिल्म 'मैंने प्यार किया' से। 1989 में आई इस फिल्म ने सलमान को रातोंरात स्टार बना दिया। वह घर-घर में 'प्रेम' के नाम से पहचाने जाने लगे। यहां से सलमान की जो रोमांटिक हीरो वाली इमेज बनी वो 'सनम बेवफा', 'पत्थर के फूल', 'साजन' और 'हम आपके हैं कौन' जैसी फिल्मों में भी देखने को मिली।सलमान के करियर में एक ऐसा दौर भी आया जब लगा कि अब वो शायद ही वापसी कर पाएं। लेकिन साल 2010 के बाद उनके करियर में वो फेस आया, जो उन्हें सफलता की बुलंदियों तक ले गया। इस साल उनकी फिल्म 'दबंग' रिलीज हुई, जिसे जबरदस्त सफलता मिली। इसके बाद आई उनकी फिल्में 'रेडी', 'बॉडीगार्ड', 'एक था टाइगर' और 'दबंग 2' बॉक्स ऑफिस पर सफलता के कई रिकॉर्ड कायम किए। साल 2010 में ही सलमान ने 'चिल्लर पार्टी' से फिल्म प्रोडक्शन की फील्ड में भी कदम रख दिए। इस साल रिलीज हुई सलमान खान की फिल्मों 'बजरंगी भाईजान' और 'प्रेम रतन धन पायो' ने बॉक्स ऑफिस पर बेहतरीन कलेक्शन किया। इसके साथ ही सलमान ऐसे पहले बॉलीवुड एक्टर बन गए, जिनकी फिल्मों ने एक साल में 500 करोड़ रुपये की कमाई की है। इससे पहले किसी भी बॉलीवुड एक्टर की फिल्मों ने एक ही साल में 500 करोड़ रुपये का कलेक्शन नहीं किया था। सलमान को इस साल लगभग तेरह साल पुराने हिट एंड रन केस में बॉम्बे हाईकोर्ट से भी राहत मिल गई। कोर्ट ने सलमान को बरी कर दिया है। ये केस सलमान के मन पर एक बोझ की तरह था, जो अब उतर गया है। कोर्ट का ये फैसला सलमान के लिए सबसे बड़ा बर्थडे गिफ्ट साबित हुआ है। सुनने में आ रहा है कि अब सलमान लाइफ में आगे बढ़ने के बारे में सोच रहे हैं। वह अगले साल शादी के बंधन में बंध सकते हैं। खबर है कि सलमान अपनी कथित गर्लफ्रेंड लूलिया वंतूर से शादी करने की योजना बना चुके है(एन.एन.आई)।

बिग बॉस के घर में सलमान का बर्थडे सेलिब्रेशन

मुंबई,27दिसंबर। बॉलीवुड में 'प्रेम और दबंगई' का अनूठा कॉम्बो लेकर आए सलमान खान का 50वां जन्मदिन बिग बॉस में बिग सेलिब्रेशन के साथ मनाया गया। सलमान के जन्मदिन पर बिग बॉस के हर एक प्रतियोगी ने उन्हें स्पेशल गिफ्ट दिया। सलमान खान ने जैसे ही बिग बॉस के घर में एंटर किया उन्हें एक सरप्राइज मिला। इस दौरान बिग बॉस ने घर के प्रतियोगियों के साथ घर के अंदर सलमान के लिए एक ट्रीजर हंट रखा और सलमान ने दिए गए क्लू के हिसाब से उस जगह पर जाकर अपना बर्थडे गिफ्ट लिया।सलमान के लिए पहला क्लू ढूंढना काफी मुश्किल रहा जो बाथरूम में था। यहां उन्हें एक कैप मिली जिसमें फ्रैंड लिखा हुआ था।दूसरा क्लू किचन की सिंक के पास प्रिया ने एक भूत देखा। इस क्लू में सलमान को प्रोटीन शेक मिला। तीसरे क्लू की जगह स्काई लॉन्ज थी जहां पर घरवाले प्लानिंग करते हैं। यहां सल्लू को उनकी फिल्मों और उनके हसीन पलों की एक कोलाज फोटो मिली। चौथे क्लू की जगह कन्फेशन रूम थी जहां बहुत बड़े निर्णय लिए जाते हैं इस जगह पर सलमान को व्हाइट कैनवास मिला जिसे उन्हें पेंट करना था। सलमान ने कुछ ही देर में यीशु की एक तस्वीर पेंट कर दी जिसे उन्होेंने घर वालों को गिफ्ट कर दी। नौरा और प्रिंस की पहली डेट जिस जगह पर हुई थी पांचवां क्लू वहां पर था, इसमें सलमान को प्रोटीन बार्स मिला। इसके बाद लिविंग एरिया में बिग बॉस में सलमान का सफर दिखाया गया जिसे देखकर सलमान खुश दिख रहे थे। तो वहीं घरवाले सलमान के लिए बर्थडे सॉन्ग गा रहे थे। छठा क्लू उस जगह था जहां घरवालों का राशन रहता है, स्टोर रूम...यहां सैंटा बनकर आईं लड़कियां सलमान के लिए केक लेकर आईं। इसके बाद घरवालों ने उन्हें अपने हाथों से बनाए ग्रीटिंग कार्ड्स गिफ्ट किए जिसे उन्होंने पहले ही बना लिया था(एन.एन.आई)।

ऐसी दिखने लगी थीं साधना...

मुंबई 26 दिसंबर। वेटरन एक्ट्रेस साधना का 74 साल की उम्र में निधन हो गया है। मुंबई के हिंदुजा हॉस्पिटल में शुक्रवार को उन्होंने आखिरी सांस ली। 60-70 के बीच साधना फिल्म इंडस्ट्री की स्टाइल आइकॉन मानी जाती थीं। उन्होंने बॉलीवुड में बतौर एक्ट्रेस 1960 में आई डायरेक्टर आर के नायर की फिल्म 'लव इन शिमला' से कदम रखा था। फिल्म के सेट पर उन्हें डायरेक्टर से प्यार हुआ और फिर दोनों ने शादी कर ली। 1995 में अस्थमा के चलते आर के नायर की मौत हो गई थी।
साधना ने अपना करियर बतौर चाइल्ड एक्ट्रेस शुरू किया था और वे सबसे पहले राज कपूर की फिल्म 'श्री 420' के गीत 'मुड़-मुड़के न देख मुड़-मुड़के' में एक कोरस गर्ल के रूप में नजर आई थीं। 'हम दोनों' (1961), 'एक मुसाफिर एक हसीना' (1962), 'असली नकली' (1962), 'वो कौन थी' (1964), 'मेरा साया' (1966), 'इंतकाम' (1969), 'एक फूल दो माली' (1969), 'आप आए बहार आए' (1971), 'गीता मेरा नाम' (1972), 'अमानत' (1975) और 'तुलसी' (1985) जैसी फिल्मों में उन्होंने काम किया। वैसे, कभी अपनी खूबसूरती और हेयरस्टाइल के लिए पॉपुलर हुईं साधना के लुक में समय के साथ काफी बदलाव आए। ऊपर फोटो में आप देख ही सकते हैं कि 2015 तक साधना का लुक कितना बदल गया था(एन.एन.आई)

 फाइल फोटो: साधना।

साधना का हुआ अंतिम संस्कार, सलीम खान समेत पहुंचे कई बॉलीवुड सेलेब्स

मुंबई 26 दिसंबर। बॉलीवुड की मशहूर वेटरन एक्ट्रेस साधना का शुक्रवार को निधन हुआ। 74 साल की साधना ने मुंबई के हिंदुजा हॉस्पिटल में आखिरी सांस ली। शनिवार को उनकी अंतिम यात्रा सांता क्रूज स्थित उनके घर से निकाली गई। सलीम खान, हेलन, पूनम सिन्हा, हीरू जौहर, रजा मुराद समेत बॉलीवुड के कई सेलेब्स ने साधना को अंतिम विदाई दी।
कभी थीं टॉप एक्ट्रेस
- 2 सितंबर 1941 को कराची में जन्मीं साधना ने 22 साल के करियर में 35 फिल्में की थीं।
- 1960 और 1970 के बीच वे बॉलीवुड की टॉप एक्ट्रेसेस में शुमार थीं।
- 'श्री 420' उनकी पहली मूवी थी।
- 'वो कौन थी', 'मेरा साया', 'मेरे मेहबूब', 'आरजू', 'राजकुमार', 'लव इन शिमला', 'एक मुसाफिर-एक हसीना', 'असली- नकली' जैसी फिल्मों में भी उन्होंने काम किया था।
- हेयरकट की वजह से साधना कभी स्टाइल आइकॉन थीं। उनके हेयरकट को ‘साधना कट’ कहा जाता था।
-लड़कियों में चूड़ीदार सलवार कमीज़ पहनने के ट्रेंड साधना ने शुरू किया था। हल्के रंग के शरारा, गरारा और कानों में बड़े झुमके, बाली उनकी खास पहचान रही(एन.एन.आई)

 (बायीं ओर) साधना का पार्थिव शरीर, (दांयीं ओर) हेलन और सलीम खान।
 

अंडरटेकर से लड़ने को तैयार है ये इंडियन, खली के बाद बनेगा दूसरा डब्ल्यूडब्ल्यूई रेसलर

सोनीपत(हरियाणा)26 दिसंबर।सोनीपत का एक पहलवान पहलवानी की पहचान को उस अंदाज में दुनिया को दिखाने जा रहा है जिसकी धमक अभी तक दि ग्रेट खली के रूप में ही नजर आई थी। लेकिन अब सतेंद्र डागर बड़े-बड़े फाइटरों से लड़ते हुए नजर आएंगे। तीन बार हिंद केसरी बन चुके सतेंद्र अब दिल्ली में 15 जनवरी को होने वाली वर्ल्ड रेसलिंग एंटरटेनमेंट (डब्ल्यूडब्ल्यूई) की फाइट में चुनौती पेश करेंगे।
आयोजकों की ओर से मंगलवार को उनके नाम को हरी झंडी दिखाई गई। जून से लेकर अभी तक सतेंद्र अमेरिका में खुद को इस फाइट के लिए तैयार कर रहे थे।
किसी से भी हो जाए फाइट मैं तैयार हूं
मेरी ट्रेनिंग पूरी हो चुकी है। हालांकि, मुकाबले में यह अभी तय नहीं हुआ कि मेरी फाइट किससे होगी, लेकिन मैं किसी से भी मुकाबले के लिए तैयार हूं, फिर सामने चाहे चैंपियन अंडरटेकर ही क्यों न हो,(एन.एन.आई)

जब सनी लियोनी को देख बोलीं प्रियंका, इसके साथ तो फोटो मत लो

मुंबई 26 दिसंबर।स्टार गिल्ड अवॉर्ड्स 2015 में प्रियंका चोपड़ा पोर्न स्टार से एक्ट्रेस बनीं सनी लियोनी के साथ रेड कारपेट पर पोज देती नजर आई थीं। बुधवार रात ऑर्गनाइज इस अवॉर्ड सेरेमनी में प्रियंका ने कुछ ऐसा कह दिया, जिसे सुन सनी हैरान रह गईं। हुआ कुछ यूं कि प्रियंका चोपड़ा के तुरंत बाद सनी लियोनी ने रेड कारपेट पर एंट्री की। फोटोग्राफर्स ने दोनों एक्ट्रेसेस को एक साथ पोज करने के लिए कहा। ऐसे में प्रियंका झट से फोटोग्राफर्स को बोलीं, "इसके साथ तो फोटो मत लो यार।"
यह सुन सनी सन्न रह गईं! हालांकि, प्रियंका हंस पड़ी और उनके साथ पोज देती दिखाई दीं। बता दें, इन दिनों सनी लियोनी एडल्ट कॉमेडी फिल्म 'मस्तीजादे' और प्रियंका फिल्म 'जय गंगाजल' में बिजी हैं(एन.एन.आई)

जब सनी लियोनी को देख बोलीं प्रियंका, इसके साथ तो फोटो मत लो

जब क्रिकेटर को पड़ोसी से हुआ प्यार, 2 साल की डेटिंग के बाद की थी शादी

26 दिसंबर। सचिन तेंडुलकर के बाद टेस्ट में डेब्यू करने वाले सबसे यंग इंडियन क्रिकेटर हैं पीयूष चावला। घरेलू मैच में सचिन तेंडुलकर के विकेट को अपने करियर का बेस्ट विकेट बताने वाले पीयूष पर्सनल लाइफ में अपनी पड़ोसी से बोल्ड हो गए थे। पीयूष और उनकी पत्नी अनुभूति चौहान कभी पड़ोसी हुआ करते थे।
24 दिसंबर को अपना 27वां बर्थडे सेलिब्रेट करने वाले पीयूष चावला ने 29 नवंबर, 2013 को अनुभूति चौहान से शादी की थी।
पीयूष चावला की लव स्टोरीः
* मुरादाबाद में पीयूष और अनुभूति पड़ोसी थे। दोनों लंबे समय से एक दूसरे को जानते थे और यहीं से दोस्ती प्यार में बदली।
* शादी से पहले दो साल तक डेटिंग की। जुलाई 2013 में सगाई और इसी साल नवंबर में शादी की।
* दोनों को जिमिंग और मूवी देखने का शौक है।
* अनुभूति MBA ग्रेजुएट हैं और शादी के वक्त एक कंपनी में बतौर एचआर काम करती थीं।
* पीयूष नॉन-वेजिटेरियन हैं और अनुभूति वेजिटेरियन। पीयूष को अनुभूति के हाथ की कई वेजिटेरियन डिशेज पसंद हैं।
पीयूष​ चावला के लाइफ फैक्ट्स
* 17 साल और 75 दिन की उम्र में 2006 में इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट डेब्यू।
* 16 साल की उम्र में घरेलू टूर्नामेंट में सचिन तेंडुलकर को आउट किया। उसी को अपने करियर का बेस्ट विकेट मानते हैं।
* अब तक कई वर्ल्ड कप का हिस्सा रहे। 2006 में अंडर-19 वर्ल्ड कप खेला, 2007 में टी20 वर्ल्ड कप, 2010 टी20 वर्ल्ड कप, 2011 वनडे वर्ल्ड कप में खेले।
* भारत के लिए 3 टेस्ट, 25 वनडे और 7 टी20 मैच खेले,(एन.एन.आई)

अनुभूति सिंह और पीयूष चावला।


 

आजादी के बाद पाकिस्तान जाने वाले चौथे पीएम हैं मोदी

नई दिल्ली 26 दिसंबर।आजादी के बाद पाकिस्तान का दौरा करने वाले नरेंद्र मोदी चौथे प्रधानमंत्री हैं। 11 साल पहले अटल बिहारी वाजपेयी पाकिस्तान जाने वाले अंतिम भारतीय प्रधानमंत्री थे। इससे पहले छह दशक के अधिक समय में सिर्फ तीन प्रधानमंत्रियों ने ही पाकिस्तान का दौरा किया था।सबसे पहले पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू आजादी के छह साल बाद 1953 में पाकिस्तान की यात्रा की थी। 1960 में वह दोबारा सिंधु जल संधि पर हस्ताक्षर करने पाकिस्तान गए थे।नेहरू के पोते राजीव गांधी भी दिसंबर 1988 और जुलाई 1989 में दो बार पाकिस्तान गए। अपनी पहली पाकिस्तान यात्रा पर राजीव गांधी ने पाकिस्तानी प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो के साथ एक दूसरे के परमाणु सामग्री और प्रतिष्ठानों पर हमला नहीं करने संबंधी महत्वपूर्ण समझौते पर हस्ताक्षर किए।राजीव गांधी की तर्ज पर प्रधानमंत्री अटल बिहार वाजपेयी ने भी दो बार पाकिस्तान की यात्रा की। फरवरी 1999 में पहली यात्रा के बाद ही करगिल युद्ध हुआ। दूसरी बार वाजपेयी जनवरी 2004 में 12वें सार्क सम्मेलन में शामिल होने पाकिस्तान गए थे।यह आश्चर्य जनक संयोग है कि मोदी और पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ जिस दिन बातचीत कर रहे हैं उस दिन वाजपेयी 91 साल के हो रहे हैं।भाजपा के वयोवृद्ध नेता वाजपेयी के दौरे ने समग्र वार्ता प्रक्रिया को बढ़ावा दिया था। उस समय तत्कालीन पाकिस्तानी राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ ने यह आश्वासन दिया था कि पाकिस्तान नियंत्रण वाले क्षेत्र का प्रयोग आतंकवाद को समर्थन देने के लिए नहीं किया जाएगा(एन.एन.आई)

मोदी हैं चौथे पीएम

'बाबरी विध्वंस को लेकर राव और आरएसएस में हुई थी डील'

रामपुर 26 दिसंबर। उत्तर प्रदेश के नगर विकास मंत्री आजम खां ने बाबरी विध्वंस को लेकर कांग्रेस और आरएसएस पर साधा निशाना। उन्होंने सेना पर भी आरोप लगाए। कहा कि जब बाबरी गिराई जा रहा थी, उस वक्त सेना ने भी कार्रवाई नहीं की थी। वहां आर्मी मौजूद थी। आर्मी ने कहा था कि सड़क पर टायर जल रहे थे, इसलिए वे आगे नहीं बढ़ सके।अपने आवास पर शुक्रवार को पत्रकारों से बातचीत के दौरान आजम खां ने कहा कि 1992 में तत्कालीन प्रधानमंत्री पीवी नरसिम्हा राव और आरएसएस के बीच डील हुई थी। बाबरी मस्जिद की शहादत के तीन दिन बाद तक चबूतरा बनता रहा।जब चबूतरा बन गया तब प्रदेश की भाजपा सरकार को बर्खास्त किया गया। ये एक इतिहास है। सुप्रीम कोर्ट का आदेश था, हाईकोर्ट का स्टे था, एकता परिषद का रेज्यूरेशन था और मुख्यमंत्री का हलफनामा था। इसके बावजूद न सिर्फ बाबरी मस्जिद गिरी, बल्कि वहां चबूतरा भी बना, मंदिर भी बना।उन्होंने कहा कि जब हमने मान लिया है तो अब किसी को मानने से इनकार क्यों है। इस डील का खामियाजा आज तक कांग्रेस को यूपी में भुगतना पड़ रहा है। आजम खां ने कहा कि अयोध्या का मामला सुप्रीम कोर्ट में है। जब तक फैसला नहीं आ जाता।दोनों पक्षों को संयम बरतना चाहिए। शिवसेना ने बाबरी मस्जिद को तोड़ने की शुरुआत की थी। अब ताजमहल को तोड़ने के लिए भी वो आगे बढ़े। मैं सहयोग करूंगा उसमें, साथ चलूंगा।प्रदेश के मनोरंजन कर सलाहकार ओमपाल नेहरा के बयान पर आजम ने कहा कि उन्होंने न सिर्फ जुर्म किया है, बल्कि राजनीतिक पाप किया है। किसी व्यक्ति को मंत्री स्तर का दर्जा मिला हुआ है। उसके बाद वो न्यायालयों फैसलों का इस तरह उल्लंघन करे। ये बात बहुत ही निंदनीय है। पार्टी को इन बातों से नुकसान पहुंचता है(एन.एन.आई)

डील का खामियाजा कांग्रेस भुगत रही है


 

'सत्ता की तड़प में संसद नहीं चलने दे रही हैं कांग्रेस'

वृंदावन 26 दिसंबर। बिन पानी के मछली जिस प्रकार तड़पती है उसी प्रकार बिना सत्ता के आज कांग्रेस तड़प रही है। इसी तड़प में कांग्रेस संसद को चलने नहीं दे रही है। भाजपा सांसद स्वामी सच्चिदानंद हरि साक्षी महाराज ने इन शब्दों के साथ कांग्रेस पर प्रहार किया।शुक्रवार को यूपी के वृंदावन में परिक्रमा मार्ग स्थित अपने आश्रम में पत्रकारों से रूबरू साक्षी महाराज ने कहा कि संसद चलाने के लिए जहां सभी विपक्षी दल राजी थे, वहीं कांग्रेस ने संसद नहीं चलने दी क्योंकि कांग्रेस बहस से बचना चाहती थी।साक्षी महाराज ने बताया कि संसद में शीतकालीन सत्र के दौरान सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव और राम गोपाल यादव से उनकी वार्ता हुई, दोनों का कहना था कि उत्तर प्रदेश सरकार का ठाकुर बांकेबिहारी मंदिर के अधिग्रहण का कोई इरादा नहीं है।आगामी विधानसभा चुनावों पर बोले कि लोकसभा चुनावों में प्रदेश से 73 सांसद जीतकर आए। उसे देखते हुए पार्टी नेतृत्व को अभी से ही इन सभी सांसदों पर जिम्मेदारी तय करते हुए अपने-अपने क्षेत्र के संभावित प्रत्याशियों की जीत की जिम्मेदारी सुनिश्चित करनी चाहिए।साक्षी ने कहा कि पंचायत चुनावों में भाजपा का प्रदर्शन अच्छा रहा और अब संगठन चुनावों को लेकर कार्यकर्ता हर्षित नजर आ रहे हैं। जिसके चलते यूपी में भाजपा 2017 में दो-तिहाई बहुमत से सरकार बनाएगी।डीडीसीए के मुद्दे पर अरुण जेटली को पाकसाफ बताते हुए कहा कि कीर्ति आजाद के पीछे कोई तीसरे व्यक्ति का हाथ था जो इस मुद्दे को बेवजह हवा दे रहा था(एन.एन.आई)
कीर्ति के पीछे तीसरे व्यक्ति का हाथ

नेशनल हेराल्ड की जमीन पर थी बैंक बनाने की तैयारी

 मुंबई 26 दिसंबर। नेहरु-गांधी परिवार से जुड़ी मेसर्स एसोसिएट जर्नल्स कंपनी के अखबार नेशनल हेराल्ड के लिए मुंबई के पश्चिम उपनगर बांद्रा में दी गई जमीन पर महाराष्ट्र का सबसे बड़ा को-ऑपरेटिव बैंक बनाने की योजना थी। इसके लिए स्वरूप ग्रुप ऑफ इंडस्ट्रीज ने 10 लाख रुपये भी दिए थे। सूचना के अधिकार के माध्यम से यह जानकारी सामने आई है।इस करार से पता चलता है कि अखबार, पुस्तकालय व अनुसंधान केंद्र के लिए सरकार से हासिल की गई जमीन के व्यवसायिक इस्तेमाल की पहले से ही योजना थी।आरटीआई कार्यकर्ता अनिल गलगली ने बताया कि मुंबई उपनगर जिलाधिकारी कार्यालय ने स्वरूप ग्रुप ऑफ इंडस्ट्रीज से मेसर्स एसोसिएट जर्नल्स कंपनी के करार का खुलासा किया है।स्वरूप ग्रुप ने तीन दिसंबर 2003 को मुंबई उपनगर के जिलाधिकारी को पत्र भेजा था। जिसमें उसने दावा किया था कि सॉफ्टवेयर और इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट क्षेत्र में कार्यरत ग्रुप ने मेसर्स एसोसिएट जर्नल्स कंपनी के साथ रिसर्च के लिए लाइब्रेरी और महाराष्ट्र की सबसे बड़ी को-ऑपरेटिव बैंक बनाने के लिए करार किया है।उन्हें सुझाव दिया गया है कि जमीन की शेष रकम अदा करे इसलिए 10 लाख रुपये का चेक भेज रहे हैं। बकाया राशि की जानकारी दें ताकि उसे किश्तों में अदा किया जा सके। गलगली ने बताया कि स्वरूप ग्रुप का चेक कुछ कारणों से स्वीकार नही किया गया। उसके बाद कंपनी ने पुन: 24 मई 2004 को 10 लाख रुपये का चेक भेजकर पुराना चेक मुंबई उपनगर जिलाधिकारी कार्यालय से वापस लिया।मुंबई उपनगर जिलाधिकारी ने पांच फरवरी 2005 को मेसर्स एसोसिएट जर्नल्स कंपनी के अध्यक्ष को पत्र भेजकर कहा था कि 99 लाख 71 हजार 894 रुपये अदा करे या उतने ही रकम की बिना शर्त बैंक गारंटी दे। मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने सूबे के अतिरिक्त� मुख्य सचिव गौतम चटर्जी की अध्यक्षता में नेशनल हेराल्ड मामले की जांच का आदेश दिया है(एन.एन.आई)

सूचना के अधिकार के माध्यम से सामने आई बात

औचक नहीं पूरी पूरी तैयारी के बाद पाक गए थे मोदी!

नई दिल्ली 26 दिसंबर।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भले ही पाकिस्तान जाकर सबको चौंका दिया हो, मगर हकीकत यह है कि इस यात्रा का तानाबाना पहले ही बुना जा चुका था।पीएम के अफगानिस्तान जाने पर अंतिम मुहर लगने के बाद ही बीते हफ्ते पाक यात्रा पर गंभीर विचार विमर्श हुआ था।सूत्रों के मुताबिक पूर्व घोषणा न होने के कारण भले ही पीएम मोदी का पाकिस्तान दौरा अचानक और तत्काल लिया गया फैसला लगता हो, मगर सच्चाई इससे अलग है।प्रधानमंत्री की रूस और अफगानिस्तान यात्रा का कार्यक्रम तय होने के बाद पाक यात्रा पर लंबा विचार विमर्श हुआ था। इस दौरान शीर्ष स्तर पर दोनों देशों के बीच समग्र वार्ता पर सहमति बन जाने के बाद माहौल को खुशनुमा बनाने के लिए पीएम मोदी के पाकिस्तान जाने पर मुहर लगी।तय हुआ कि मोदी अफगानिस्तान से भारत लौटने के क्रम में कुछ समय पाकिस्तान में बिताएंगे। शुक्रवार को ही पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ का जन्म दिन और इसके ठीक एक दिन बाद उनकी नातिन की शादी होने के कारण दोनों देशों की कूटनीति में पारिवारिक आयाम भी शामिल हो गया।नवाज के परिवार के सदस्य भी मोदी के प्रशंसकों में शामिल हैं, खासतौर से उनकी मां। मोदी ने उनके लिए तोहफे में शॉल भेजी थी(एन.एन.आई)।

पहले ही बुना जा चुका था ताना बाना

बरेली: आग में जिंदा जल गए मासूम भाई बहन

बरेली 25 दिसंबर।बिजली के तारों से निकली चिंगारी ने एक परिवार की खुशियां छीन लीं। चिंगारी से पहले दीवार पर टंगे कलेंडर में आग लगी और कलेंडर बिस्तर पर गिरा तो रजाई के अंदर सो रहे मासूम भाई-बहन जिंदा ही जल गए। घरवालों को जब तक आग लगने का पता लगा तब-तक सबकुछ खत्म हो चुका था।बृहस्पतिवार को सुबह साढ़े छह बजे सुभाष नगर की शांति विहार कालोनी के विकास नगर में हुए इस अग्निकांड के बारे में जिसने सुना उधर ही दौड़ पड़ा। विक्रम सिंह सिक्योरिटी गार्ड हैं और विकास नगर में उनका अपना मकान है।रात में वह रोज की तरह अपने बच्चों को खूब प्यार करके ड्यूटी पर गए। क्रिसमस पर गिफ्ट दिलाने का वादा भी किया। पत्नी सत्या रघुवंशी, पांच साल की बेटी निहारिका सिंह और ढाई साल का बेटा शौर्य प्रताप सिंह जब सोए तो सब कुछ ठीक था।सुबह सत्या सोकर उठने के बाद बर्तन धोने चली गईं। अंदर कमरे में बेड पर निहारिका और शौर्य रजाई में सो रहे थे। उनके सिरहाने के ऊपर ही दीवार पर कलेंडर टंगा था और उसके नीचे बिजली के नंगे तार झूल रहे थे।नंगे तार कलेंडर के हिलने से टकराए तो उसमें आग लग गई। जलता कलेंडर बेड पर सो रहे मासूमों की रजाई पर गिर गया। इससे रजाई में भी आग लग गई। आग से केजी में पढ़ने वाली निहारिका की बिस्तर में ही मौत हो गई।उधर आग की जलन महसूस होने पर जागकर शौर्य प्रताप बिस्तर से उठकर भागा, लेकिन कमरे में अंधेरा और धुआं होने के कारण उसे दरवाजा नजर नहीं आया। वह अलमारी में छिप गया। मगर आग से अलमारी के अंदर ही उसकी भी मौत हो गई।धुआं निकलते देख बराबर में ही मकान के दूसरे हिस्से में रह रहे विक्रम के छोटे भाई जसपाल ने शोर मचाया तो आसपास के लोग भी एकत्र हो गए। बर्तन धो रही सत्या भी भाग कर कमरे की तरफ पहुंचीं, लेकिन यहां धुएं की घुटन के कारण कोई अंदर जाने का साहस नहीं जुटा पाया। इसी बीच विक्रम घर आ गया।आसपास के लोगों के सहयोग से घरवालों ने कमरे में पानी डाला तो धुआं कम हुआ। हादसे की सूचना पर एसओ जेपी यादव भी पहुंच गए। पुलिस ने अंदर जले पड़े दोनों मासूमों के शव बाहर निकाले तो कोहराम मच गया। बच्चों की अर्थी उठी तो हर आंख छलक उठी(एन.एन.आई)।

चिंगारी से रजाई में लगी आग

द लॉर्ड ऑफ द रिंग्स के कलाकार पहुंचे ताज नगरी

आगरा 25 दिसंबर,(एन.एन.आई)।द लॉर्ड ऑफ द रिंग्स’ से युवाओं के दिलों पर छाए हॉलीवुड अभिनेता ऑरलैंडो ब्लूम सुरक्षा घेरे में शाम लगभग साढ़े चार बजे अमर सिंह,उमेश कुमार हेड एडिटर एंड चीफ ऑफ़ समाचार प्लस (उत्तराखंड एंड उत्तर प्रदेश) के साथ ताजमहल देखने पहुंचे। वह जैसे ही स्मारक पहुंचे तो कुछ पर्यटकों ने उन्हें पहचान लिया। ब्लूम के साथ फोटो खिंचवाने के लिए जद्दोजहद करने लगे। मगर, सुरक्षाकर्मियों ने आसपास नहीं फटकने दिया।सूरज ढलने को था। सर्द हवाएं ठिठुरन बढ़ाने लगी थीं। सफेद शर्ट और नीली जींस में ‘द लॉर्ड ऑफ द रिंग्स’ के हीरो ऑरलैंडो ब्लूम बस एक टक संगमरमरी ताजमहल को निहारे जा रहे थे। समय बार-बार ताज से बाहर जाने के लिए दस्तक दे रहा था। मगर, इस संगमरमरी इमारत के दीदार से ब्लूम का मन नहीं भर पाया था। उनके कदम कुछ दूर चलने के बाद रुक जाते और पलटकर इसे फिर निहारते।ब्लूम ने लगभग एक घंटे तक ताज का दीदार किया। इधर, अंधेरा भी घिरने लगा था। ऐसे में सुरक्षाकर्मियों और अमर सिंह ने ब्लूम को चलने के लिए कहा। वह चलते-चलते बस इतना ही बोले ‘अमेजिंग’। बता दें कि हॉलीवुड अभिनेता के भ्रमण का पूरा बंदोबस्त जिला प्रशासन की ओर से किया गया था। क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी ने उन्हें भ्रमण कराया।इस दौरान अमर सिंह ने कहा कि ताजमहल को किसी प्रचार की आवश्यकता नहीं है, लेकिन ब्लूम के आने से यहां पर्यटन को बढ़ावा जरूर मिलेगा। प्रदेश सरकार के निर्देश पर जिला प्रशासन द्वारा की गईं व्यवस्थाओं की अमर सिंह ने तारीफ की। कहा कि युवा मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को धन्यवाद देता हूं। यह बंदोबस्त करके उन्होंने पर्यटन को बढ़ावा देने का काम किया है।अमर सिंह ने कहा कि ब्लूम मेरे अच्छे दोस्त जरूर हैं, लेकिन उनके बारे में मुझसे ज्यादा अखिलेश यादव जानते हैं। क्योंकि वह (अखिलेश यादव) युवा हैं और उन्होंने ब्लूम की सारी फिल्में देखी हैं। अमर सिंह ने कहा कि ऑरलैंडो ब्लूम ने ताज को सराहा है। वे उत्तर प्रदेश पर्यटन के दूत बनेंगे, ऐसा मेरा मानना है।

संभल: आतंकी सेल खोलेंगी आईबी और स्पेशल ब्रांच

25 दिसंबर।अलकायदा नेटवर्क से संभल का जुड़ाव उजागर होने के बाद सुरक्षा और खुफिया एजेंसियों ने संभल का नाम हाई रिस्क सूची में शामिल कर लिया है। आसिफ की गिरफ्तारी के बाद संभल में खुफिया तंत्र को दुरुस्त करने की कवायद एजेंसियों ने शुरू कर दी है।आईबी अमरोहा के बाद अब संभल में भी अपनी स्पेशल यूनिट खोलने का फैसला कर चुकी है। वहीं क्षेत्रीय अभिसूचना इकाई को भी मजबूती देने के लिए स्पेशल ब्रांच ने यहां अपना जेडओ स्तर का अधिकारी पोस्ट करने की कवायद शुरू की है।आसिफ की गिरफ्तारी के बाद खुफिया एजेंसियां संभल में हरकत में हैं। आसिफ से पूछताछ के बाद एजेंसियों को संभल में अलकायदा और दूसरे आतंकी संगठनों के स्लीपिंग सेल्स के बारे में ठोस जानकारियां मिली हैं।खुफिया एजेंसियों को जानकारी मिली है कि अलकायदा संभल में अपने स्लीपिंग माड्यूल्स का बड़ा नेटवर्क खड़ा कर चुका है।

इस खुफिया इनपुट के बाद राज्य और केंद्र की सुरक्षा एजेंसियों में बेचैनी है।सुरक्षा एजेंसियों का पूरा जोर इस बात पर है कि संभल में किसी तरह खुफिया तंत्र को चुस्त दुरुस्त किया जाए ताकि अलकायदा और दूसरे आतंकी संगठनों के एक - एक स्लीपिंग सेल को ट्रेस कर उसे ध्वस्त किया जा सके।प्रदेश व केंद्र सरकार अपने-अपने खुफिया तंत्र को स्थानीय स्तर से लेकर प्रदेश स्तर तक पुख्ता कर रहीं हैं। लखनऊ में जहां एनआईए की यूनिट तैनात की जा रही है वहीं संभल समेत पश्चिमी यूपी के सभी जिलों में भी आईबी और स्पेशल ब्रांच के सेटअप को रिव्यू किया जा रहा है।

संभल में स्पेशल सेल के जोनल अधिकारी की तैनाती का विचार किए जाने के संबंध में शासन स्तर पर विचार किए जाने की खबर है। जिला स्तर पर जगह की तलाश की जा रही है। ऐसी जगह जहां पर स्पेशल सेल का अपना आफिस बन सके।स्पेशल सेल अभी तक अपर पुलिस अधीक्षक के कार्यालय में संचालित है। यहां पर निरीक्षक स्तर के अधिकारी की नियुक्ति है। अगर संभल में स्पेशल सेल का खुफिया तंत्र और मजबूत करने की बात आएगी तो निश्चित रूप से सीओ स्तर का अधिकारी, जोनल अफसर बनकर आएगा। जैसा कि शासन में विचार हो रहा है।जोनल अफसर सीधे लखनऊ में एडीजी इंटेलीजेंस को रिपोर्ट करता है। जिले में खुफिया सूचनाएं एकत्र करने के लिए उसके पास निरीक्षक और उपनिरीक्षक से लेकर कांस्टेबिल और हेडकांस्टेबिल स्तर तक के कर्मचारी भी होते हैं।संभल जिले में स्पेशल ब्रांच का कार्यालय पहले से से संचालित है। इसमें निरीक्षक स्तर के अधिकारी की तैनाती है।

उनके साथ स्टाफ भी तैनात है। यह स्टाफ लगातार सूचनाएं जुटाने में लगा है लेकिन अब हालात बदले हैं।खुफिया एजेंसियों और दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के खुलासे पर यकीन करें तो कम से कम आठ लोग संभल के संदिग्ध हैं और लापता चल रहे हैं। जिनकी तलाश खुफिया एजेंसियों को है। इन एजेंसियों की छानबीन चल रही है।इसी बीच संभल के निवासी मोहम्मद आसिफ और जफर मसूद की गिरफ्तारी हो गई है। दोनों के कनेक्शन किससे थे? किससे इनकी बातचीत होती थी? इन बातों पर छानबीन की जा रही है। वहीं राज्य सरकार अपना खुफिया तंत्र मजबूत करने की कवायद में जुट गई है।यहां की संवेदशीलता और जरूरत को सरकार ने महसूस किया है। पुलिस अधीक्षक अतुल सक्सेना ने बताया कि स्पेशल ब्रांच की यूनिट तो संभल में है। यदि शासन स्तर से कोई निर्णय होता है तो जरूरत के हिसाब से भवन और जमीन की उपलब्धता कराई जाएगी(एन.एन.आई)।

आसिफ की गिरफ्तारी के बाद हाई रिस्क सूची में संभल

वॉयस कॉलिंग के बाद वॉट्सऐप पर वीडियो कॉलिंग की सुविधा

नई दिल्ली 25 दिसंबर।लोकप्रिय इंस्टेंट मैसेजिंग सर्विस वॉट्सऐप पर वॉयस कॉल के बाद अब वीडियो कॉल की भी सुविधा जल्द मिलने वाली है। ताजा रिपोर्ट के मुताबिक वॉट्सऐप जल्द ही अपने यूजर्स को वीडिया कॉलिंग की सुविधा मुहैया करने वाला है। जर्मन वेबसाइट के अनुसार, यूजर्स को वीडियो कॉल के लिए दोनों कैमरों को चुनने का विकल्प मिलेगा।वॉट्सऐप के एक्टिव यूजर्स की संख्या 90 करोड़ पार कर चुकी है। यह एप्लिकेशन अब अपनी मूल कंपनी फेसबुक जितना ही बड़ा रूप में है। फेसबुक मैसेंजर पर पहले से ही वीडियो कॉल की सुविधा मौजूद है, इसलिए वॉट्सऐप पर भी नई सुविधाओं को जोड़ने की जरूरत है।जर्मन वेबसाइट ने वॉट्सऐप के स्क्रीनशॉट साझा किए हैं जो कथित तौर पर वीडियो कॉल के हैं। इन स्क्रीनशॉट के आधार पर कहा जा सकता है कि वॉट्सऐप के वीडियो कॉल फीचर का इंटरफेस बहुत हद वॉयस कॉल सपोर्ट के इंटरफेस जैसा ही है।स्क्रीनशॉट में यह भी दिख रहा है कि यूजर को म्यूट करने का विकल्प मिलेगा और वीडियो कॉल के दौरान कैमरा भी स्विच किया जा सकेगा यानि फ्रंट और रियर दोनों का इस्तेमाल कर सकते हैं।रिपोर्ट के मुताबिक, वॉट्सऐप के 2.12.16.2 आईओएस वर्जन को आंतरिक तौर पर टेस्ट किया जा रहा है। इस वर्जन में ही कथित तौर पर वीडियो कॉल सपोर्ट मौजूद है।हालांकि वीडियो कॉल सपोर्ट को लेकर वॉट्सऐप की ओर से कोई आधिकारिक घोषणा नहीं की गई है, लेकिन कयास लगाए जा रहे हैं कि इसे अगले साल की शुरुआत में रोलआउट किया जाएगा।वॉट्सऐप वीडियो कॉल का मोबाइल इंटरनेट पर कैसा प्रदर्शन होगा यह� देखने दिलचस्प होगा। मुफ्त वॉट्सऐप वॉयस कॉल ने शुरुआत में यूजर्स का काफी ध्यान आकर्षित किया है, लेकिन जल्द ही लोगों ने इसे नजरअंदाज करना शुरू कर दिया है, खासकर भारत में, जहां 3 जी नेटवर्क के बिना बातचीत करना लगभग असंभव है(एन.एन.आई)।

वॉट्सऐप वीडियो कॉलिंग

मोदी ने अफगानिस्तान में किया 600 करोड़ की संसद का उद्घाटन

 नई दिल्ली 25 दिसंबरप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अफगानिस्तान दौरे पर हैं। इस दौरान उन्होंने भारत की सहायता से काबुल में निर्मित अफगानिस्तानी संसद का उद्घाटन किया। उद्घाटन के बाद मोदी ने संसद को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने दोनों देशों की दोस्ती की सराहना की। उन्होंने कहा कि दोनों देशों की दोस्ती को इतना अहम बनाने के पीछे पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी का सराहनीय योगदान रहा है।उन्होंने कहा कहा, 'वाजपेयी के वाजपेयी की याद करते हुए कहा कि अफगानिस्तानी संसद का उद्घाटन हमारे देश के महान नेता के जन्मदिन के अवसर पर हुआ। अटल बिहारी वाजपेयी ने दोनों देशों के संबंध को मजबूत करने के लिए कई अहम कदम उठाए।' भाषण के दौरान उन्होंने महाभारत काल को याद करते हुए अफगानिस्तान को 'गांधार' के नाम से जोड़ा। उन्होंने कहा अफगानिस्तान विकास की ओर बढ़ रहा है और भारत इसमें हर संभव मदद करेगा।उन्होंने अफगानिस्तान क्रिकेट टीम की चर्चा करते हुए भारत की ओर से की जा रही मदद की बात कही। उन्होंने हाल ही में अफगानिस्तान अंडर 19 टीम को जिम्मबाब्वे के ऊपर मिली जीत के लिए उन्हें बधाई दी। मोदी ने अफगानिस्तानी छात्रों पढ़ाई की दिशा में और अच्छा करने के लिए भी प्रेरित किया। उन्होंने कहा कि भारत कई तरह से स्कॉलरशिप प्रोग्राम के तहत भारत में उनके लिए पढ़ाई को बेहतर बनाने की दिशा में काम करेगा। भारत 5000 अफगानी छात्रों की स्कॉलरशिप मुहैया कराएगा। उन्होंने गफ्फार खान का जिक्र करते हुए कहा कि आजादी में अफगानों का अहम योगदान रहा।संसद के उद्घाटन के दौरान अफगानिस्तान के राष्ट्रपति मोहम्मद अशरफ गनी भी वहां मौजूद थे। दोनों देशों के नेताओं ने एक साथ फिता काटकर संसद का उद्घाटन किया। इसके बाद मोदी ने विजिटर्स डायरी में अपने हस्ताक्षर किए। अफगानिस्तान संसद के मुख्य ब्लॉक को 'अटल ब्लॉक' नाम दिया गया है।अफगानिस्तान के संसद का निर्माण कार्य भारत ने ही करवाया है। साल 2007 में शुरू हुए इस संसद के निर्माण के काम में करीब 600 करोड़ रुपये की लागत आई। संसद का निर्माण दोनों देशों के संबंधों को और ज्यादा मजबूत करने के लिए कराया गया था।हालांकि, कई कारणों की वजह से इसके निर्माण में करीब दो साल की देरी भी हुई लेकिनशुक्रवार को इसका उद्घाटन हो गया। मोदी ने अफगान संसद को किया संबोधित

किसी तरह उसकी बाहों से छुड़ाकर भागीं प्रियंका चोपड़ा

24 दिसंबर।प्रियंका चोपड़ा की जिंदगी में एक बेहद काला दिन आ चुका है। तब वह प्रतिष्‍ठित हीरोइन बन चुकी थीं। तब भी किसी ने उनके साथ की ऐसी हरकत, जिसे आज भी याद कर वह सिहर जाती हैं।प्रियंका चोपड़ा की फिल्म 'जय गंगाजल' का ट्रेलर रिलीज हो गया है। इस फिल्म में वो पुलिस अफसर की भूमिका में हैं। फिल्म में वो अपराधियों को सबक सिखाती नजर आएंगीं। लेकिन उनके साथ निजी जिंदगी में भी ऐसा हुआ है जब वो बुरी तरह से डर गईं थी। यहां तक कि उन्होंने उस शख्स से बचने के लिए उसे थप्पड़ जड़ा और वहां से भागीं।इंडियन एक्सप्रेस में छपी खबर के मुताबिक प्रिंयका चोपड़ा ने कहा कि ये पांच साल पुरानी बात है जब वो फिल्म 'अंजाना-अंजानी' की शूटिंग कर रही थीं। शूटिंग पूरी करने के बाद वो घर जाने के लिए निकली तो एक शख्स खुद को उनका फैन कहते हुए उनके पास आ गया प्रिंयका चोपड़ा का कहना है कि फैंस के साथ फोटो खिंचाने से या ऑटोग्राफ देने से उन्हें कोई परेशानी नहीं हैं। इसलिए उन्होंने उस शख्स को अपने पास आने दिया।लेकिन पास आने के बाद उस आदमी ने प्रियंका का हाथ पकड़ लिया और इस तरह से उनके पास आने लगा कि प्रियंका बेहद असहज हो गईं। जब प्रिंयंका के साथ वो बिल्कुल ही गलत व्यहवार पर उतर आया। तो प्रिंयका गुस्से में आ गईं।प्रियंका ने बताया कि उन्होंने उस शख्स को कॉलर से पकड़ लिया और उसको तमाचा रसीद कर दिया। लेकिन उसको थप्पड़ मारने के बाद प्रिंयका भी घबरा गईं।प्रिंयंका ने बताया कि वो इसके बाद वहां से भाग गईं। इस घटना के बाद वो बेहद डर गईं।प्रियंका ने कहा कि कई बार ना चाहते हुए भी आपको सख्त होना पड़ता है। क्योंकि लोग आपकी नरमी का गलत फायदा उठाने लगते हैं।प्रिंयका चोपड़ा ने 'जय गंगाजल' के अपने पुलिस अफसर के किरदार पर कहा कि अमरिका शो 'क्वांटिको' में एफबीआई और इसमें भारतीय पुलिस के रोल साथ-साथ होने का उन्हें फायदा मिला। उन्होंने आसानी से दोनों रोल किए (एन.एन.आई)।

Priyanka Chopra recalls slapping fan

गैंगरेप के बाद छात्रा की गला घोंटकर हत्या

हरदुआगंज-अलीगढ़ 24 दिसंबर।अनेक प्रयासों के बावजूद बलात्कार की घटनाएं थम नहीं रही हैं। बुधवार की सुबह 11 वीं की एक छात्रा उस वक्त कुछ सिरफिरों की दरिंदगी का शिकार बन गई जब वह साइलकिल से हरदुआगंज टयूशन के लिए जा रही थीं। बदमाश उसे सड़क से खींच कर गन्ने के खेत में ले गए और गैंगरेप के बाद गला घोंटकर हत्या कर दी।इस घटना से भड़के ग्रामीणों ने मौके पर देरी से पहुंचे पुलिस कर्मियों को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा। इस दौरान एसओ की निजी गाड़ी को भी निशाना बनाया गया। बाद में एसएसपी के मौके पर पहुंचने पर ग्रामीण शांत हुए। इस संबंध में चार अज्ञात युवकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। एसएसपी ने ग्रामीणों को आरोपियों के खिलाफ ठोस कार्रवाई का भरोसा दिया है।हरदुआगंज के पास के एक गांव की किसान परिवार से ताल्लुक रखने वाली 11वीं की 17 वर्षीय छात्रा रोजाना की तरह साइकिल से ट्यूशन जाने के लिए घर से निकली। बताते हैं, करीब पौने आठ बजे जैसे ही वह गांव गुरसिखरन और डसन्ना के बीच ईंट भट्ठे के पास पहुची, एक पैशन प्रो बाइक पर सवार चार युवक उसे घसीटकर ईख के खेत में ले गए।जहां उससे सामूहिक दुष्कर्म के बाद उसकी चुन्नी से गला घोंटकर हत्या कर दी गई। इस बीच छात्रा के पीछे-पीछे गांव से ट्यूशन जा रहे अंकुश नामक एक किशोर ने सारा माजरा देख लिए। अपनी साइकिल वहीं छोड़कर वह अपने गांव भागता हुआ पहुंचा और गांव वालों को सारी कहानी बताई।इसके बाद शोरशराबा करते हुए बड़ी संख्या में ग्रामीण मौके पर पहुंचे। तब तक देरी हो चुकी थी। घटना को अंजाम देने के बाद बादमाश वहां से भाग गए थे। घटनास्थल पर अंकुश और छात्रा की साइकिल पड़ी मिली। जबकि ईंख के खेत में किशोरी का शव पड़ा मिला। एक पैर में उसकी जींस पेंट फंसी थी और उसकी चुन्नी से गला घोंटा हुआ था।घटना की जानकारी मिलने पर जब करीब नौ बजे थाने के एक एचसीपी व दो सिपाही मौके पर पहुंचे, तो उन्हें देखते ही ग्रामीण भड़क उठे। उन्होंने पुलिस कर्मियों की गन्नों से पीटाई कर वहां से दौड़ाकर भगा दिया। ग्रामीण, पुलिस वालों के देरी से पहुंचने से भड़के हुए थे।इसी बीच वहां एसओ भी अपनी निजी जीप से पहुंचे, जिन्हें भी ग्रामीणों ने नहीं बख्शा। उनकी जीप पर पथराव कर उसके शीशे तोड़ डाले। खबर मिलने पर वहां कई थानों की पुलिस, पीएसी एवं एसपीआरए, एसडीएम व सीओ बुला लिए गए। इस बीच लोग डीएम-एसएसपी के मौके पर बुलाने की मांग पर अड़ गए।करीब सवा ग्यारह बजे एसएसपी जे रविंदर गौड़ के मौके पर पहुंचने के बाद ही ग्रामीण शांत हुए। फिर घटनास्थल से शव हटाया गया। एसएसपी ने किशोरी की अंत्येष्टि तक आरोपियों पर ठोस कार्रवाई का आश्वासन दिया है।फारेंसिक जांच में दुष्कर्म की पुष्टि हो गई है। आरोपियों तक पहुंचने के लिए अन्य साक्ष्य जुटाए जा रहे हैं। इस संबंध में किशोरी के ताऊ के बेटे ने दुष्कर्म व हत्या की धारा में अज्ञात लोगों पर मुकदमा दर्ज कराया है(एन.एन.आई)।

सनसनीखेज घटना से भड़के ग्रामीण

कुर्सी के लिए सिर फुटौव्वल, मोदी के गढ़ में घमासान

वाराणसी 24 दिसंबर।अनुशासन का दंभ भरने वाली भाजपा में कुर्सी के लिए सिर फुटौव्वल जारी है। बुधवार को राजर्षि मंडल के अध्यक्ष के चुनाव में खुलेआम गालीगलौज और मारपीट हुई।मामला इस कदर बिगड़ गया कि दोनों पक्ष थाने तक पहुंच गए। दो दिन के अंदर यह दूसरा मौका रहा जब सांगठनिक चुनाव में पार्टी का अनुशासन तार-तार होता दिखा।प्रधानमंत्री मोदी के संसदीय क्षेत्र में संगठन में बढ़ती अनुशासनहीनता से न केवल पार्टी की किरकिरी हो रही है बल्कि संघ के नेता भी खासे नाराज हैं।बुधवार को देर रात चौक पुलिस ने एक पक्ष की तहरीर पर मामला पंजीकृत करने के बाद दूसरे पक्ष के प्रार्थना पत्र पर कार्रवाई की तैयारी में थी। उधर, यह सब देखने के बाद चौक के अड़ीबाजों में यह चर्चा रही कि गजब हैं मोदी जी और गजब है उनकी पार्टी का अनुशासन।यही हाल रहा तो आगामी विधानसभा चुनाव में बन चुकी बीजेपी की सरकार।
मंडल अध्यक्ष के चुनाव में दो पक्ष भिड़े

दोनों तरफ से थाने में तहरीर
मालूम हो कि नीचीबाग स्थित महानगर कार्यालय पर बुधवार को राजर्षि मंडल के अध्यक्ष पद का चुनाव था। आरोप है कि इसी दौरान एक पक्ष के कुछ लोगों ने दूसरे पक्षकी पिटाई कर दी। इस मामले में भाजपा के ही एक विधायक पर मंडल अध्यक्ष के चुनाव में विघ्न डालने का आरोप लगा।वर्तमान मंडल अध्यक्ष के साथ ही विधायक की शह पर कुछ अन्य लोगों ने भी अध्यक्षी का परचा भर दिया। अचानक विधायक और विरोधी गुट के लोग आपस में तकरार करने लगे। बात इतनी बिगड़ गई की मारपीट शुरू हो गई। सूचना पर पुलिस भी पहुंची।
दोनों पक्ष में हुई मारपीट में कुछ पदाधिकारियों को चोट भी आई हैं। इंस्पेक्टर चौक अजीत कुमार मिश्र ने इस संबंध में बताया कि भाजपा कार्यालय में मारपीट की सूचना मिली थी। दोनों पक्ष से तहरीर आई है। मामला दर्ज कर न्यायोचित कार्रवाई की जाएगी (एन.एन.आई)।

नए साल में सस्ता हो सकता है सोना

नई दिल्ली 24 दिसंबर ।नए साल में सोने के आभूषण सस्ते होने के आसार हैं,क्योंकि सरकार बजट या इससे पहले ही सोने के आयात शुल्क में 8 फीसदी तक की कटौती कर सकती है। अभी आयात शुल्क 10 फीसदी है।वाणिज्य मंत्रालय पिछले कई महीनों से वित्त मंत्रालय के समक्ष सोने के आयात शुल्क में कटौती की दलील दे रहा है। अब सोने के आयात में लगातार गिरावट और चालू खाते के घाटे को नियंत्रण में देखते हुए वित्त मंत्रालय सोने के आयात शुल्क में कटौती कर सकता है।वाणिज्य मंत्रालय के मुताबिक इस साल अक्टूबर में सोने के आयात में पिछले साल अक्टूबर के मुकाबले 51.51 फीसदी तो नवंबर में पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले 36.48 फीसदी की गिरावट रही। चालू वित्त वर्ष 2015-16 की पहली तिमाही में चालू खाते का घाटा सकल घरेलू उत्पाद का 1.2 फीसदी था जबकि पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में यह घाटा 1.6 फीसदी था।आभूषण कारोबारियों व निर्यातकों के मुताबिक आयात शुल्क में कटौती से आभूषण सस्ता होने के साथ सोने की स्मगलिंग में भी कमी आएगी। जेम्स व ज्वैलरी निर्यातक पंकज पारीख कहते हैं, वर्ष 2013 में सोने का आयात शुल्क 10 फीसदी होते ही सोने की स्मगलिंग बढ़ गई। हमलोगों ने कई बार सरकार का ध्यान इस ओर दिलाया है। उन्होंने कहा कि सोने का आयात शुल्क 2 फीसदी होने पर स्मगलिंग बंद हो जाएगा और देश में आभूषण की लागत भी कम हो जाएगी। घरेलू आभूषण कारोबारियों के कारोबार में होगी बढ़ोतरी
घरेलू आभूषण कारोबारियों के कारोबार में होगी बढ़ोतरी

ऑल इंडिया जेम्स एंड ज्वैलरी ट्रेड फेडरेशन (जीजेएफ) के निदेशक अशोक मीनावाला कहते हैं, वाणिज्य मंत्रालय पूरी तरह से आयात शुल्क को दो फीसदी करने के पक्ष में है और उम्मीद है बजट में सरकार ऐसा कर देगी। वाणिज्य मंत्रालय सूत्रों के मुताबिक सब कुछ अब वित्त मंत्रालय पर निर्भर है। कोशिश की जा रही है कि बजट से पहले ही शुल्क कटौती की घोषणा कर दी जाए।वर्ष 2012 व 2013 की दो साल की अवधि में सोने के आयात शुल्क को 2 फीसदी से बढ़ाकर 10 फीसदी कर दिया गया था। आभूषण कारोबारियों के मुताबिक आयात शुल्क में 8 फीसदी तक की कटौती से सोने के भाव पर काफी फर्क पड़ेगा और इससे उनकी बिक्री में इजाफा होगा। जीजेएफ के मुताबिक सोने के आभूषण की बिक्री में बढ़ोतरी से सिर्फ आभूषण कारोबारियों को ही फायदा नहीं होगा बल्कि इससे सैकड़ों कामगारों के लिए रोजगार भी निकलेंगे। देश में लगभग 6 करोड़ लोग जेम्स व ज्वैलरी के कारोबार में प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष तौर पर जुडे़ हैं। आभूषण के घरेलू कारोबारी पिछले एक साल से सोने के आयात शुल्क में कटौती की मांग कर रहे हैं।सोने के भाव में उतार-चढ़ाव का सिलसिला जारी है। अमेरिकी फेडरल बैंक की तरफ से ब्याज दरों में बढ़ोतरी के बाद सोने के भाव में प्रति 10 ग्राम 100-150 रुपये तक की मामूली गिरावट दर्ज की गई, लेकिन फिर से सोने के भाव में मजबूती शुरू हो गई थी। बुधवार को सोने का भाव 140 रुपये की गिरावट के साथ 25610 रुपये प्रति ग्राम रहा(एन.एन.आई)।

आप भी जान लीजिए ऑड-ईवन का पूरा प्लान

नई दिल्ली 24 दिसंबर। सम-विषम नंबर के वाहन वाली दिल्ली सरकार की योजना से आज पर्दा उठ जाएगा। सरकार ने इसके लिए ब्लू प्रिंट फाइनल कर लिया है।बृहस्पतिवार को कैबिनेट मीटिंग के बाद सरकार ऐलान कर देगी कि किसे छूट मिलेगी और किसे नहीं। जुर्माने की राशि का भी ऐलान कर दिया जाएगा। लेकिन हम आपको इस ऐलान से पहले ही इस फॉर्मूले की खास बातें बताने जा रहे हैं।इस फॉर्मूले में लगभग 20 श्रेणियों में आने वाली गाड़ियों को सम-विषम फॉर्मूले से छूट दी जाएगी। इसके ब्लू प्रिंट को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल खुद पेश करेंगे। एक जनवरी से इस योजना को अमली-जामा पहना दिया जाएगा।यह नियम सुबह 8 बजे से रात 8 बजे तक हफ्ते के छह दिन लागू होगा। रविवार को इस नियम से छूट मिलेगी। बताया ये भी जा रहा है कि इस नियम के उल्लंघन पर 2000 रुपए तक का जुर्माना भरना होगा।

जानिए किन गाड़ियों को मिलेगी छूट

जानिए किन गाड़ियों को मिलेगी छूट
गौरतलब है कि इस नियम में जो चलान जारी किया जाएगा वो एलजी से ऑथराइज्ड होगा। आइए अब जान लेते हैं कि सूत्रों के अनुसार कौन-कौन सी गाड़ियों को सम-विषम फॉर्मूले से छूट मिलने वाली है।

-सभी दो पहिया वाहन।
-सीएनजी वाहन और उन्हें भी सर्टिफिकेट दिखाना होगा।
-बिजली से चलने वाले और हाईब्रिड गाड़ियां।
-महिला चालक वाली गाड़ियां जिनमें पुरूष यात्री की आयु 12 साल से कम हो।
-राष्ट्रपति, उप राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, राज्यों के गवर्नर, लोकसभा व राज्यसभा के सभापति व उप सभापति की गाड़ियां। इसके साथ ही केंद्रीय मंत्रियों, संसद में विपक्ष के नेता, चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया की गाड़ियां। दिल्ली को छोड़कर अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों की भी गाड़ियों को इस फॉर्मूले से छूट दी गई है। हाईकोर्ट के जज और लोकायुक्त को भी इसमें शामिल किया गया है।
-इसके साथ ही आवश्यक वाहनों को भी इस छूट में शामिल किया जा सकता है। पुलिस, आर्मी, एंबुलेंस, अशक्त चालकों को इससे छूट मिल सकती है।
-बाहरी वाहन यानी एनसीआर से दिल्ली में प्रवेश करने वाले वाहनों को इससे छूट नहीं मिलेगी।
हालांकि अंतिम निर्णय बृहस्पतिवार को मुख्यमंत्री के ब्लू प्रिंट पेश करने के बाद ही पता चलेगा कि किसे छूट मिलती है और कौन इसकी जद में होंगे।

4 कहानियां, जो बताती हैं नाबालिग अपराधियों की क्रूरता

मेरठ 24 दिसंबर।वेस्ट यूपी में नाबालिग अपराधियों को कमतर समझना ही सबसे बड़ी भूल है। इन मासूम से चेहरों के पीछे कितनी क्रूरता है, इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि हत्या करना तक इनके बाएं हाथ का खेल बन गया है।वेस्ट यूपी के चर्चित प्रकरणों पर गौर करें तो बुधवार को दिल्ली की कोर्ट में नाबालिग अपराधियों द्वारा गोलियां बरसाने से एक बार फिर साफ हो जाता है कि जरायम के बड़े खिलाड़ियों को मात दे रहे इन नाबालिगों में थोड़ा नहीं बहुत सुधार की गुंजाइश है।सिपाही को पीट-पीटकर मार डाला था किशोर संप्रेक्षण गृह मेरठ के 25 किशोरों को 11 दिसंबर 2014 को गाजियाबाद से पेशी के बाद मेरठ लाया जा रहा था। इन किशोरों ने गाजियाबाद से लेकर मेरठ तक के रास्ते में हूटिंग, आती-जाती महिलाओं पर अश्लील कमेंट्स और गालीगलौज करने में कोई कसर नहीं छोड़ी थी।इनकी सुरक्षा में मौजूद पुलिसकर्मियों ने इन्हें डांटा था तो उल्टा संप्रेक्षण गृह पहुंचने पर उन्हें अंजाम भुगतने की धमकी दे दी गई थी। दुर्भाग्यपूर्ण यह रहा था कि पुलिसकर्मी इनके इरादे नहीं भांप पाए थे।संप्रेक्षण गृह पहुंचने पर गाड़ी से उतरते ही किशोरों ने पुलिसकर्मियों पर हमला बोल दिया था। इस दौरान सिपाही ओमप्रकाश को पीट-पीटकर मार डाला गया था जबकि जानलेवा हमले में आरआई समेत 12 पुलिसकर्मी घायल हुए थे।

11 सितंबर 2013 को घर से ट्यूशन के लिए निकले मोहल्ला सुभाष नगर निवासी 12 साल के करन कौशिक की हत्या कर शव कब्र में दफन कर दिया गया था। करन मथुरा के पुजारी राकेश कौशिक का इकलौता चिराग था।हत्या नाबालिग आरोपी ताज मोहम्मद, शोएब और सरताज ने अंजाम दी थी। सांप्रदायिक तनाव की तपिश से शहर जलने से बचा था। राकेश इंसाफ के लिए लगातार लड़ रहे हैं। दो साल में वह आरोपियों को जिला जेल में भिजवा पाए हैं।

16 फरवरी 2015 को शामली जिले के गांव बहावड़ी निवासी सागर मलिक ने भरी अदालत में कुख्यात विक्की त्यागी को गोलियों से भून डाला था। सोची-समझी साजिश के तहत वह अदालत में वकील के वेश में फाइल में पिस्टल छिपाकर पहुंचा था।इससे पहले सागर ने 11 जुलाई 2013 को भरी कचहरी में ही मुकदमे की तारीख पर आए बहावड़ी गांव के प्रधान पति देवेंद्र मलिक की हत्या कर सनसनी फैला दी थी।उस समय उसके साथ उसका हमउम्र भाई नाबालिग अजय भी मौजूद था। फिलहाल वाराणसी की जेल में बंद सागर की उम्र को लेकर पेंच ही फंसा रहा।सूरजकुंड (मेरठ) स्थित किशोर संप्रेक्षण गृह को किशोरों ने सुधार गृह के बजाए जरायम की पाठशाला बना डाला। एक समय तो नोएडा और गाजियाबाद के किशोरों ने यहां ऐसा आतंक मचाया था कि आसपास रहने वाले लोग त्राहि-त्राहि कर चुके थे।

सिपाही को पीटकर मारा

संप्रेक्षण गृह की छत पर चढ़कर आसपास रहने वाली महिलाओं पर कमेंट्स कसना, गालीगलौज करना, रात को तेज आवाज में डीजे बजाना उनका रोजाना का शगल था।यही नहीं, ये नाबालिग संप्रेक्षण गृह से बाजार जाकर शराब और नशीले पदार्थ खरीदकर लाते थे। रोजाना पार्टी होती थी। अपने दोस्तों की कार की टेस्ट ड्राइव तक लेते थे।थोड़ी सी सख्ती होने पर संप्रेक्षण गृह को सिलेंडर से उड़ाने तक की कोशिश कर डालते थे। पुलिस और प्रशासनिक अफसरों को अंजाम भुगतने की खुलेआम धमकी देते थे। इन्हें नाबालिग समझना ही बड़ी भूल ही थी कि संप्रेक्षण गृह ब्रेक कर एक साथ 92 किशोर फरार हो गए थे ( एन.एन .आई)

कीर्ति आजाद ने कहा 'हार नहीं मानूंगा, रार नई ठानूंगा'

नई दिल्ली 24 दिसंबर।पार्टी से निलंबित किए जाने के बाद सांसद कीर्ति आजाद ने भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई जारी रखने की बाद कही। उन्होंने कहा कि मुझे यह नहीं पता कि किस बात को मुद्दा बनाकर मुझे पार्टी से निलंबित किया जा गया।उन्होंने इस मुद्दे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी हस्तक्षेप करने की मांग की। दिल्ली और जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) में हुए भ्रष्टाचार के खिलाफ पिछले नौ साल से मेरी लड़ाई जारी है और आगे भी जारी रहेगी।गुजरात के अहमदाबा में पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए। कीर्ति आजाद ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की कविता 'हार नहीं मानूंगा, रार नई ठानूंगा' के तर्ज पर इस जंग को आगे बढ़ाने की बात कही। उन्होंने कहा कि मैंने पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के सामने सारी बातें साफ-साफ रख दी थी बावजूद इसके उन्होंने मुझे निलंबित करने का फैसला लिया।

आडवाणी की दी मिसाल

कारण बताओ नोटिस का जवाब मांगे जाने के बारे में उन्होंने कहा कि पार्टी अध्यक्ष मुझे निलंबित करने की कम से कम वजह तो बताएं तब तो मैं उन्हें ठीक जवाब दे पाऊंगा। इसका जवाब देने के लिए बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी उनकी मदद करेंगे।पार्टी के प्रति अपनी निष्ठा दिखाते हुए कीर्ति ने कहा, 'मैंने 22 साल पार्टी में गुजारे। मेरी इस जंग का पार्टी से कोई लेना देना नहीं है। यह क्रिकेट में हुए भ्रष्टाचार को खत्म करने की जंग है और किसी भी पार्टी को इसे व्यक्तिगत रूप से नहीं लेना चाहिए।'आम आदमी पार्टी को लेकर सवाल पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि आप नई पार्टी है और यह मुद्दा करीब 10 साल पुराना। उन्होंने पार्टी के सलाहकार समिति के नेताओं लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी से भी इसमें हस्तक्षेप करने की मांग की। उन्होंने कहा कि आडवाणी पर भी जब आरोप लगे थे तो उन्होंने इस्तीफा देकर पहले जांच करावाया उसके बाद वापस आए थे( एन.एन .आई)

 

मुलायम की छोटी बहू ने कहा- यूपी में नहीं घुस पाएगा निर्भया केस का आरोपी

लखनऊ/उन्नाव 23 दिसंबर। निर्भया केस का नाबालिग आरोपी रिहा हो चुका है। समाजवादी पार्टी (सपा) सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव का कहना है कि आरोपी भले ही छुट गया हो, लेकिन उसे यूपी में घुसने नहीं दिया जाएगा। अपर्णा ने कहा, "मैं आरटीआई के जरिये दिल्ली सरकार और दिल्ली पुलिस से आरोपी का नाम पता और फोटो देने को कहूंगी, ताकि प्रदेश की जनता के बीच उसे चिह्नित कराया जा सके।"
अपर्णा ने कहां दिया बयान?
मंगलवार को ये बातें अपर्णा यादव ने उन्नाव में दिया। वो यहां हसनगंज प्राइमरी स्कूल में स्टूडेंट्स को स्वेटर बांटने आई थीं।
और क्या कहा अपर्णा यादव ने?
- अपर्णा यादव ने कहा- मेरी संस्था के सदस्य आम जनता और समाजसेवी संगठनों के सहयोग से इस कांड के दोषी को यूपी के बॉर्डर पर एंट्री नहीं करने देंगे।
- इसके लिए 24 दिसंबर को लखनऊ में काले झंडे लेकर हजारों लोग काले गुब्बारे छोड़ कर विरोध प्रदर्शन करेंगे। 
- उन्होंने लोगों से अपील की है कि वह बी-अवेयर संस्था के मोबाइल नंबर 7275996221 पर एसएमएस कर बताएं कि यह सही है या गलत है। 
- अपर्णा ने कहा कि उनकी संस्था इसके लिए कानून में संशोधन किए जाने की मांग करेगी।
जुवेनाइल जस्टिस बिल पास कराने के लिए राज्यसभा को थैंक्स
अपर्णा यादव ने जुवेनाइल जस्टिस बिल पास कराने के लिए राज्यसभा का शुक्रिया अदा किया है। उन्होंने कहा, "निर्भया गैंगरेप के नाबालिग दोषी के रिहा होने से लोगों में आक्रोश है। इसके विरोध में जगह-जगह प्रदर्शन जारी था। महिलाओं को सशक्त बनाने वाली सामाजिक संस्था बी-अवेयर फाउन्डेशन भी इसका विरोध करेगा।

"निर्भया जैसी घटना समाज के लिए कलंक
उन्होंने कहा कि इस बिल के पास होने की वजह से समाज में महिलाओं के प्रति हो रही हिंसात्मक गतिविधियों में व्यापक पैमाने पर कमी आएगी। यह कानून महिलाओं को सशक्त बनाने का कारगर माध्यम होगा। कानून के अस्तित्व में आने से महिलाओं के प्रति हिंसात्मक रूख रखने वाले लोगों के मन में भय व्याप्त होगा। निर्भया जैसी घटना हमारे समाज के लिए कलंक हैं। उसे न बचा पाना हमारे लिए बेहद अफसोसजनक बात है। फिर भी हमारा संघर्ष तब तक जारी रहेगा, जब तक निर्भया को न्याय न मिल जाए।
राज्‍यसभा में जुवेनाइल जस्टिस बिल पास
बताते चलें, मंगलवार को राज्‍यसभा में जुवेनाइल जस्टिस बिल को पास किया गया। बिल में जघन्‍य अपराधों में आरोपी नाबालिग की उम्र 18 से घटाकर 16 साल कर दी गई है। फिलहाल, अभी बिल पर राष्‍ट्रपति की मुहर लगने की देर है। काननू के पूरी तरह से अस्तित्‍व में आने के बाद नाबालिग को जघन्य अपराधों में मौत की सजा या फिर उम्र कैद की सजा नहीं दी जा सकेगी(एन.एन.आई)।
समाज सेविका अपर्णा यादव ने जुवेनाइल जस्टिस बिल पास होने पर जताई खुशी।

वरुण धवन होस्ट करेंगे टेलीविजन डांस शो?

मुंबई 23 दिसंबरअर्जुन कपूर ('खतरों के खिलाड़ी’ का आगामी सीजन) के बाद अब युवा सितारे वरुण धवन भी अपना टीवी डेब्यू कर सकते हैं।
सुनने में आया है कि सोनी चैनल एक नया डांस शो लॉन्च करने वाला है। अभी चैनल पर कोई ऐसा शो नहीं है। "बूगी वूगी’ पिछला था।
"झलक दिखला जा’ के चार सीजन भी इस पर आ चुके हैं। सूत्रों के मुताबिक चैनल जो डांस शो प्लान कर रहा है वो आम लोगों के लिए होगा, इसमें सेलेब्रिटी प्रतियोगी नहीं होंगे।
बताया गया है, "वरुण धवन को शो होस्ट करने के लिए पूछा गया है। वे नई पीढ़ी के बेस्ट डांसर्स में गिने जाते हैं। एक बार वरुण हां करते हैं तो शो पर काम शुरू हो जाएगा। ये अगले साल के मध्य से प्रसारित हो सकता है।’

वरुण धवन होस्ट करेंगे टेलीविजन डांस शो?


पीएम से मिले प्रदेश के चारों सांसद, उठाई ये मांग

himachal MP meeting with PM Modi.
मंडी 23 दिसंबर।हिमाचल के चारों सांसद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिले। उन्हें ज्ञापन सौंपकर शानन बिजली प्रोजेक्ट पर केंद्रीय टीम ने जो रिपोर्ट दी है, उस पर कार्रवाई करने की मांग की। सांसद रामस्वरूप शर्मा ने कहा कि कांगड़ा से शांता कुमार, शिमला से विरेंद्र कश्यप, हमीरपुर से अनुराग ठाकुर और मंडी से वह स्वयं प्रधानमंत्री से मिले। उन्हें शानन परियोजना की यथावत स्थिति पर ज्ञापन सौंपा।

इसमें कहा कि बरोट (जोगिंद्रनगर) में 110 मेगावाट की शानन परियोजना कांग्रेस सरकार की अनदेखी के कारण परेशानी बनी हुई है। इसका संचालन पंजाब राज्य विद्युत बोर्ड कर रहा है। इस बिजली घर का निर्माण लगभग 25 किमी परिक्षेत्र में जोगिंद्रनगर की ऊहल नदी के तट पर हुआ है। 1925 में ब्रिटिश सरकार की ओर से चालू की गई परियोजना का इकरारनामा मंडी के राजा जोगिंद्र सेन के साथ 99 वर्ष के लिए लीज पर हुआ।

इसकी समाप्ति 2024 में हो रही है। परियोजना को हिमाचल को सौंपा जाना था, मगर सब कुछ इसके विपरीत हुआ। इसे पंजाब सरकार को सौंप दिया गया। 15 वर्षों से पंजाब सरकार के बिजली बोर्ड ने परियोजना के रखरखाव पर ध्यान देना छोड़ दिया है। शानन और बरोट के बीच ट्राली सेवा बंद कर दी है। जीरो प्वाइंट से टनल तक बिछाई गई तीन किमी लंबी लाइन भी उखाड़ दी गई है।

उन्होंने मांग की कि हाल ही में ऊर्जा मंत्रालय की टीम उनके अनुरोध पर निरीक्षण करने शानन परियोजना गई थी। टीम ने केंद्रीय ऊर्जा मंत्री पीयूष गोयल को रिपोर्ट सौंप दी है। उस रिपोर्ट के आधार पर केंद्र सरकार तुरंत कार्रवाई करे और परियोजना को हिमाचल को हस्तांतरित करे।

मंत्री की बेटी ने कांग्रेस नेता पर कराया धोखाधड़ी का केस

शिमला 23 दिसंबर।जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष केहर सिंह खाची और उनके बेटे पर हिमाचल की सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य मंत्री विद्या स्टोक्स की बेटी ने थाना सदर में धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज करवाया है। पुलिस को दी शिकायत में सुधा पौर ने कहा कि केहर सिंह खाची ने उन्हें एक प्लाट जाखू में दिखाया। इस प्लाट के लिए उनकी मां ने उन्हें 97.70 लाख रुपये दिए। 

प्लाट की निशानदेही के दौरान उन्हें मालूम हुआ कि प्लाट से खसरा नंबर 1170/ 1339 मिसिंग है। शिकायत में सुधा पौर ने कहा कि केहर सिंह और उनके बेटे मनजीत ने जानबूझ कर किसी दूसरे प्लाट की रजिस्ट्री करवा दी। उस प्लाट की रजिस्ट्री नहीं कि जो उन्हें दिखाया गया था। 

इन्होंने 97.70 लाख रुपये की धोखाधड़ी की है। एसपी शिमला डीडब्ल्यू नेगी ने कहा कि सुधा पौर की शिकायत के आधार पर मुकदमा दर्ज किया गया है। एफआईआर में शिकायतकर्ता ने केहर सिंह खाची और उनके बेटे मनजीत को नामजद किया है।

मेरे परिवार को बदनाम करने की साजिश: खाची

मेरे परिवार को बदनाम करने की साजिश: खाची

मुझे और मेरे परिवार को बदनाम करने के लिए राजनीतिक विरोधी साजिश रच रहे हैं। पार्टी में मेरे बढ़ते कद और प्रभाव से विरोधी बौखला गए हैं और इस तरह के हथकंडे अपना रहे हैं। मुझे और मेरे बेटे को बदनाम करने के लिए चार साल पुराना मामला उठाया गया है।मामले में अगर थोड़ी सी भी सत्यता होती तो चार साल पहले ही एफआईआर दर्ज हो जानी चाहिए थी। मैं हर तरह की जांच के लिए तैयार हूं। जांच में दूध का दूध पानी का पानी हो जाएगा।

हिमाचल ले सकेगा 16 हजार करोड़ रुपये कर्ज

NABARD state credit seminar in shimla.
शिमला 23 दिसंबर।हिमाचल सरकार कृषि और ग्रामीण विकास कार्यों के लिए 16,125 करोड़ रुपये का कर्ज ले सकेगी। शिमला में स्टेट क्रेडिट सेमिनार में नाबार्ड ने नए वित्त वर्ष के राज्य ऋण योजना को हरी झंडी दे दी है। अगले वित्त वर्ष में प्राथमिक क्षेत्र में किसानों-बागवानों, गरीबों, छोटे उद्योगों, शिक्षा ऋण, ग्रामीण आवास आदि को लाभ पहुंचाने के लिए सरकार यह ऋण ले सकती है। 

वर्ष 2016-17 के लिए नाबार्ड ने हरी झंडी दे दी है। नाबार्ड ने यह आकलन सरकार के अधिकारियों के साथ शिमला में हुए स्टेट क्रेडिट सेमीनार में पेश किया। वित्त वर्ष 2015-16 में यह आकलन लगभग 13 हजार करोड़ का था। नाबार्ड ने वर्ष 2016-17 के लिए राज्य ऋण योजना प्रस्तुत करने के लिए 22 दिसंबर 2015 को होटल पीटरहॉफ में स्टेट क्रेडिट सेमिनार का आयोजन किया। 

इसका उद्घाटन सिंचाई एवं जनस्वास्थ्य मंत्री विद्या स्टोक्स ने किया। मुख्य महाप्रबंधक नाबार्ड डा. पी. राधाकृष्णन ने गणमान्य अतिथियों और विभिन्न हितधारकों का स्वागत करते हुए वर्ष 2016-17 के लिए जिला स्तर और राज्य स्तर पर ऋण योजनाएं तैयार करने की कार्यप्रणाली की जानकारी दी। 

वर्ष 2016-17 के दौरान दीर्घकालिक संभाव्यता, उपलब्ध बुनियादी सुविधाओं, सहायक सेवाओं, वित्तीय संस्थानों की स्थिति, ऋण उपयोग क्षमता आदि के आधार पर 16,125 करोड़ की कुल ऋण योजना का आकलन किया गया है। उन्होंने बताया कि स्टेट फोकस पेपर तैयार करने में संभवतया का आकलन करने और सामाजिक एवं कृषि इन्फ्रास्ट्रक्चर में अंतराल की पहचान करने पर जोर दिया गया है। 

मंत्री विद्या स्टोक्स, सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य और बागवानी विभाग ने स्टेट फोकस पेपर का विमोचन किया, जिसमें वर्ष 2016-17 की राज्य ऋण योजना का आकलन किया गया है। उन्होंने किसान क्लब कार्यक्रम, एसएचजी बैंक लिंकेज कार्यक्रम और जेएलजी फाइनेंसिंग कार्यक्रम में नाबार्ड से जुड़ी विभिन्न संस्थाओं को भी उनकी उत्कृष्ट उपलब्धियों के लिए सम्मानित किया। महाप्रबंधक नाबार्ड रविंद्र कुमार ने धन्यवाद ज्ञापन के साथ सेमीनार का समापन किया।

पंचायत चुनाव: एलएलबी और पीएचडी भी बनना चाहते हैं प्रधान

 मंडी  23 दिसंबर पंचायत की सरकार का हिस्सा बनने को यंग ब्लड भी मैदान में उतर गया है। पढ़ा लिखा युवा अपने तरीके से गांव की संसद चलाने की सोच रहा है। इस बार मैदान में स्नातक से लेकर पीएचडी धारक भी चुनौती पेश कर रहे हैं। पहली बार चुनाव मैदान में उतरे युवा चेहरे भी जिला परिषद, बीडीसी, पंचायत प्रधान पद पर किस्मत आजमा रहे हैं। सराज क्षेत्र की निहरी सुनाह पंचायत से प्रधान पद 25 वर्षीय संतोष कुमार पहली बार चुनाव मैदान में उतरे हैं। 
पखरैर पंचायत में प्रधान पर 26 वर्षीय वीरेंद्र पाल चुनाव जंग में खड़े हैं। पीएचडी धारक डा. प्रोमिला अभिलाषी पहले बार जिला परिषद के चलाह वार्ड से चुनाव मैदान में उतरी हैं। उन्होंने कहा कि चलाह वार्ड को विकास के मामले में सबसे आगे ले जाना उनकी प्राथमिकता रहेगी। 
चलाह जिप वार्ड की सभी पंचायतों की समस्याओं को दूर करके इस वार्ड को मॉडल बनाना उनका उद्देश्य है। बल्ह विकास खंड की सोयरा पंचायत से पीएचडी धारक डा. नर्वदा अभिलाषी प्रधान पद का चुनाव लड़ रही हैं। 
जिला परिषद कोट वार्ड से युवा कांग्रेस सरकाघाट के उपाध्यक्ष 26 वर्षीय सचिन वर्मा पहली बार चुनाव लड़ रहे हैं। जबकि पंचायत समिति चौरी वार्ड से कांग्रेस मंडी संसदीय क्षेत्र के उपाध्यक्ष 29 वर्षीय अनिल शर्मा (एमए) पहली बार चुनाव दंगल में उतरे हैं। नेरघरवासड़ा जिप वार्ड से युवा सोमेंद्र ठाकुर (स्नातक) पहला चुनाव लड़ रहे हैं। सोमेंद्र विधायक गुलाब सिंह के बेटे हैं।

एमए, एलएलबी मैदान में

एमए, एलएलबी मैदान में

मंडी में जोगिंद्रनगर के दलैड़ वार्ड से कुलदीप ठाकुर (कप्पू) एमए, एलएलबी जिला परिषद की दौड़ में हैं। ठाकुर का कहना है कि युवाओं को अब अपनी सोच बदलनी होगी। 
लॉ ग्रेजुएट जिप की दौड़ में-
 सोलन के स्यार वार्ड से प्रधान पद की रेस में हिंदी में पीएचडी डा. मुकेश शुक्ला हैं। जबकि, लॉ ग्रेजुएट रामकृष्ण शर्मा दाड़ला वार्ड से जिप के लिए लड़ रहे हैं। इसके अलावा मंझौली वार्ड से भी लॉ ग्रेजुएट विजय जिला परिषद से चुनावी मैदान में हैं। नादौन (हमीरपुर) के धनेटा-भदरुं बीडीसी सदस्य के लिए राजकुमार उर्फ राजू (एमए) ने भी चुनावी ताल ठोकी है। 
चाचा-भतीजे में जंग- 
सराज क्षेत्र की सुनाह लम्बाथाच पंचायत में प्रधान पद पर चाचा तेज सिंह तथा भतीजा चमन लाल ठाकुर चुनाव लड़ रहे हैं। भतीजे को बीजेपी का समर्थन हासिल है। पिछले चुनाव में चाचा और भतीजे की जंग उपप्रधान पद के लिए हुई थी। जिसमें भतीजे ने जीत हासिल की थी।

 

बेहतरीन डायलॉग्स से भरा है प्रियंका की 'जय गंगाजल' ट्रेलर

मुंबई 23 दिसंबर।"जब खाकी का रंग सही हो न, तो चाहे उसे मर्द पहने या औरत... तुम जैसे नामर्दों को चुटकी में औकात दिखा देते हैं।"कुछ ऐसे ही बेहतरीन डायलॉग्स से भरा है प्रियंका चोपड़ा स्टारर फिल्म 'जय गंगाजल' का ट्रेलर।
डायरेक्टर प्रकाश झा की इस फिल्म में वे भी करप्ट पुलिस ऑफिसर की भूमिका में दिखाई दे रहे हैं। वहीं, प्रियंका चोपड़ा एसपी के रोल में बोल्ड, ब्यूटीफुल और फीयरलेस नजर आ रही हैं। फिल्म अगले साल 4 मार्च को रिलीज होगी(एन.एन.आई)।

बेहतरीन डायलॉग्स से भरा है प्रियंका की 'जय गंगाजल' का Trailer

नीतीश ने यूपी में खेला बड़ा दांव, मुलायम को हो सकता है नुकसान

नई दिल्ली 23 दिसंबर  बिहार की तर्ज पर अब उत्तर प्रदेश में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने महागठबंधन बनाने की नींव रख दी है। नीतीश कुमार राष्ट्रीय लोक दल के साथ मिलकर संसद सत्र के बाद पश्चिमी उत्तर प्रदेश में महारैली कर सकते हैं। इस रैली में बिहार के मुख्यमंत्री महागठबंधन का एलान कर सकते हैं। 
नीतीश ने अजीत सिंह ही नहीं बल्कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं से भी इस संबंध में मुलाकात की है। जदयू और रालोद के बीच गठबंधन को लेकर सहमति बन गई है जबकि कांग्रेस के साथ गठबंधनकरने को लेकर निर्णायक बातचीत होना बाकी है। जदयू का कहना है कि महागठबंधन पश्चिमी उत्तर प्रदेश समेत पूरे राज्य में होगा। वहीं जदयू का पूरा जोर बिहार से जुड़े उत्तर प्रदेश के कई जिलों पर होगी।
सोमवार को जदयू अध्यक्ष शरद यादव के निवास पर पुस्तक विमोचन समारोह के दौरान नीतीश ने अजीत सिंह से अलग से एक घंटे बातचीत की थी। दोनों दलों में गठबंधन करने को लेकर सहमति बनी है। साथ ही कांग्रेस को भी इसमें शामिल करने की बात हुई है। 
जदयू के महासचिव के सी त्यागी ने अमर उजाला को कहा, हां नीतीश जी और चौधरी अजीत सिंह के बीच सौहादपूर्ण मुलाकात हुई है। हम लोग लोकदल और जनता दल में साथ साथ रहे हैं। हमें अजीत सिंह के साथ जाने में कोई दिक्कत नहीं है। हम लोग इकट्ठे होकर उत्तर प्रदेश की जनता खासकर किसानों की समस्यओं को सुलझा सकते हैं। 
यूपी में नीतीश का बड़ा दांव
कांग्रेस को भी इस गठबंधन में शामिल करने के मुद्दे पर त्यागी ने कहा कि रालोद के साथ कांग्रेस के संबंध अच्छे रहे हैं इसलिए हमें लगता है कि बिहार की तर्ज पर उत्तर प्रदेश में भी एक नया मोर्चा खड़ा किया जा सकता है। नीतीश कुमार ने जनता दल युनाइटेड के महासचिव के सी त्यागी को पश्चिमी उत्तर प्रदेश में रैली करने का आयोजन दिया है। जनता दल युनाइटेड की पूरी रणनीति भाजपा को उत्तर प्रदेश में झटका देने की है। जदयू के सूत्रों का कहना है कि रालोद को अगर जदयू का साथ मिलता है तो चौधरी अजीत सिंह का खोया जाट वोट बैंक वापस मिल सकता है। जाट आरक्षण और गन्ना किसानों की बदहाली को लेकर जाट जाति के लोग भाजपा से नाराज है। इसलिए समाजवादी पार्टी से ज्यादा भाजपा को नुकसान पहुंचना नीतीश कुमार का पहला मकसद है। सपा को इस महागठबंधन में शामिल करने को लेकर फिलहाल जनता दल युनाइटेड परहेज कर रहा है।

 

आज गाजियाबाद में दाऊद की कार में आग लगाएंगे चक्रपाणि

मुंबई 23 दिसंबर इस महीने की शुरुआत में नीलामी के दौरान अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम की कार खरीदने वाले दक्षिणपंथी हिंदू नेता स्वामी चक्रपाणि का कहना है कि वह बुधवार को दिल्ली के समीप गाजियाबाद में इस कार को सार्वजनिक रूप से आग लगा देंगे।राम जन्मभूमि केस के याचिकाकर्ताओं में से एक और खुद को ऑल इंडिया हिंदू महासभा का राष्ट्रीय अध्यक्ष बताने वाले चक्रपाणि ने कहा, ‘हमारे संगठन ने गाजियाबाद के इंदिरापुरम में दोपहर 1 से 2 बजे के बीच सार्वजनिक रूप से कार को आग लगाने का निर्णय लिया है।उन्होंने कहा कि कार को आग लगाना सांकेतिक रूप से आतंकवाद का अंतिम संस्कार होगा। मुंबई में 9 दिसंबर को आयोजित नीलामी हरे रंग की कार को महज 32 हजार रुपये में खरीदा गया था।

दाऊद की इस कार का कौन था मालिक?

स्वामी चक्रपाणि ने मी‌डिया को बताया कि यह कार हुंडई की एसेंट 2000 मॉडल है जो बेहद ही खराब हालत में है। उन्होंने आरटीओ ऑफिस में इस कार के मालिक के बारे में पूछा तो पता चला कि इसे ठाणे के रहने वाले रणधीर सिंह ने खरीदा था।उन्होंने कहा कि जब उन्होंने खरीदने के बाद इस कार को अपने नाम करवाने गए तो पता चला कि इसका रजिस्ट्रेशन ठाणे के आरटीओ में कराया गया था।उन्होंने बताया कि नीलामी के दौरान इस खरीदने वाला एक और शख्स था जो एक कबाड़ी था। कबाड़वाले ने कबाड़ के हिसाब से कार की बोली 32 हजार रुपए लगाई थी।

अयोध्या के मसले पर संसद में हंगामा, माया की सपा को नसीहत

नई दिल्ली 23 दिसंबर अयोध्या में विवादित स्थल पर शिला पूजन के मसले पर राज्यसभा में हंगामा हुआ। जेडी (यू), समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के सदस्यों ने इस मुद्दे पर अपना विरोध जताया।जेडी (यू) सांसद केसी त्यागी ने इस मसले को सबसे पहले उठाया। इस पर केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने सफाई देते हुए कहा कि शिला पूजन विवादित स्थल पर नहीं किया गया है और अदालत के आदेश का कोई उल्लंघन नहीं हुआ है। आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने विवादित स्थल पर किसी तरह के निर्माण पर पूरी तरह रोक लगा रखी है।इस बीच बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि अयोध्या के विवादित स्थल पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश का उल्लंघन ना हो इसकी जिम्मेदारी उत्तर प्रदेश की सपा सरकार की है।
उन्होंने कहा कि जब बसपा की सरकार थी तो उन्होंने अयोध्या में स्थिति बिगड़ने नहीं दी। उन्होंने केंद्र सरकार से भी आग्रह किया कि वो अपने लोगों को रोकें कि अयोध्या में किसी तरह की कोई अवैध गतिविधि ना हो।

 

 

रविवार को अयोध्या पहुंचे थे पत्थर

रविवार को अयोध्या पहुंचे थे पत्थर

बीते जून में पत्थर दान की घोषणा के बाद राजस्थान से इसकी पहली खेप रविवार को रामसेवकपुरम कार्यशाला पहुंची थी। श्रीराम जन्मभूमि न्यास के कार्याध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास ने पत्थरों का पूजन भी किया था।उन्होंने कहा था कि पत्थरों की तराशी करके हम राममंदिर निर्माण की अपनी तैयारी पूरी कर रहे हैं। बाकी फैसला तो सुप्रीम कोर्ट ही करेगा।विहिप के प्रांतीय मीडिया प्रभारी शरद शर्मा ने बताया था कि 2007 के बाद पत्थरों की आमद फिर से शुरू हुई है। राजस्थान से एक ट्रक में 15 टन पत्थर तीन बड़े टुकड़ों में कार्यशाला में लाए गए हैं(एन.एन.आई)।

 

आसाराम केस: एक महीने से लापता है मुख्य गवाह, गुमशुदगी दर्ज

लखनऊ 23 दिसंबर।आसाराम केस में अहम गवाह राहुल सचान 30 नवंबर से गायब है। राहुल सचान आसाराम और उनके बेटे नारायण साईं के खिलाफ जोधपुर, अहमदाबाद और सूरत में दर्ज कराए गए रेप के मामलों में मुख्य गवाह है। उस पर एक बार हमला भी हो चुका है। इसके बाद पुलिस ने गनर मुहैया कराया था।
कहां गया राहुल सचान?
सोमवार को राहुल की गुमशुदगी की रिपोर्ट लखनऊ के ठाकुरगंज थाने में दर्ज कराने वाले सिपाही और गनर विजय बहादुर ने पुलिस को बताया कि उसे 30 नवंबर को राहुल की सुरक्षा का जिम्मा सौंपा गया था। लेकिन जब वह दिए गए पते पर पहुंचा तो वहां राहुल नहीं था। उसका फोन भी स्विच्ड ऑफ है।बहादुर से पहले गनर अमित कुमार राहुल सचान को गार्ड कर रहा था।बहादुर ने बताया, "मुझे मालूम चला कि 26 नवंबर को राहुल अपने गनर अमित के साथ लखनऊ के कैसरबाग बस स्टैंड पर देखा गया था। राहुल ने गनर को वहां से वापस भेज दिया था। इसके बाद से वह गायब है।"अमित ने किया जानकारी से इनकार
आसाराम को जेल में शिफ्ट करती पुलिस (फाइल फोटो)।

राहुल का गनर रह चुके जब अमित से संपर्क किया गया तो उसने कहा, ''मेरी ड्यूटी दूसरी जगह लग गई है। मैं सिर्फ तीन चार दिन उनके साथ रहा था। इसलिए मुझे इस मामले की कोई जानकारी नहीं है।''
किराए पर रहता था राहुल
राहुल सचान मूल रूप से कानपुर का रहने वाला है। लखनऊ के ठाकुरगंज इलाके में वह अक्टूबर से किराए का मकान लेकर रह रहा था। हमले के बाद दी गई थी सिक्युरिटी
मई में राहुल सचान जोधपुर के कोर्ट में अपना बयान दर्ज कराने गया था। तब आसाराम के गुर्गों ने उसपर चाकू से हमला किया था। इसके बाद लखनऊ पुलिस ने उसे सिक्युरिटी दी थी। हमलावर को अरेस्ट कर लिया गया था।
क्या कहती है पुलिस?
लखनऊ के एसएसपी राजेश पांडेय ने बताया कि पुलिस लाइन के सर्किल ऑफिसर प्रताप गोपेंद्र यादव को मामले की जांच के लिए कहा गया है। वह राहुल के पहले गार्ड अमित कुमार से भी पूछताछ करेंगे, ताकि इसका पता चल सके कि उसने वाकई राहुल को कैसरबाग छोड़ा था या नहीं। वहीं, इस मामले में सीओ लाइन प्रताप गोपेंद्र ने कहा कि अभी जांच के लिए कोई लिखित आदेश नहीं आया है। आदेश मिलते ही जल्द से जल्द जांच कर रिपोर्ट एसएसपी को सौंपेंगे।
रेप केस में जेल में बंद हैं आसाराम
कथावाचक आसाराम पर एक नाबालिग लड़की के यौन शोषण का आरोप है। वह सितंबर 2013 से जेल में बंद हैं।इन गवाहों की जा चुकी जान आसाराम रेप केस के गवाह कृपाल सिंह की 12 जुलाई को बरेली में मौत हो गई थी। गवाह कृपाल सिंह को शाहजहांपुर में अज्ञात लोगों ने गोली मार दी थी। कृपाल ने अपनी जान का खतरा भी जताया था।इसके पहले जनवरी में मुजफ्फरनगर में आसाराम के रसोइए की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। 35 साल के अखिल गुप्ता को शहर के व्यस्त जनसठ चौराहे पर गोली उस वक्त मारी गई, जब वह अपने घर लौट रहा था। अखिल गुप्ता आसाराम का रसोइया और निजी सहयोगी था।आसाराम के खिलाफ गवाही देने वाले अमृत प्रजापति की 10 जून 2014 को मौत हो गई। उसपर घटना के 20 दिन पहले राजकोट में दो अज्ञात युवकों ने गोली चलाई थी। अमृत प्रजापति ने आसाराम पर आरोप लगाया था कि वे अफीम का सेवन करते थे। अमृत ने यह भी दावा किया था कि उन्होंने आसाराम को कई बार लड़कियों के साथ आपत्तिनजक हालत में देखा था और आसाराम उनसे कई तरह की सेक्सवर्धक दवाएं भी मंगवाया करते थे।

शिवपाल ने बीजेपी पर साधा निशाना-कहा जो वह कहती है कभी पूरा नहीं करती

बहराइच 23 दिसंबर। यूपी के पीडब्ल्यूडी और सिंचाई मंत्री शिवपाल यादव ने एक बार फिर बीजेपी पर जमकर निशाना साधा। श्रावस्ती फोरलेन सड़क का उद्घाटन करने पहुंचे शिवपाल यादव ने कहा,''बीजेपी ने कहा था कि अच्छे दिन लाएंगे। 15-15 लाख रुपए एकाउंट में देंगे। सीमाओं को कब्जे से मुक्त कराएंगे। मैं आप लोगो से पूछ रहा हूं कि बताओ कोई वादा पूरा किया है? ये जो कहते हैं वो कभी नहीं पूरा करते।''
सीएम अखिलेश यादव के साथ स्टूडेंट्स को लैपटॉप देते शिवपाल यादव।

शिवपाल यादव ने सपा सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए कहा, ''जब पहले आया था तो बहुत चक्कर लगाने पड़े थे। लेकिन अबकी बार सीएम के आदेश से आपके जनपद में सड़के भी बनी है। जो सड़कें दिल्ली, मुंबई में बना करती थी वो अब गोंडा, श्रावस्ती और बहराइच में बनी है। इसी तरह पूरे प्रदेश में बनेंगी।पहले पूरे प्रदेश की सड़को में गड्ढ़े थे, लेकिन अब कहीं नहीं,(एन.एन.आई)।''

बीएसएफ जवान की बेटी ने राजनाथ से पूछा- सिपाही की फैमिली क्यों रोती है?

नई दिल्ली 23 दिसंबर।प्लेन क्रैश में मारे गए बीएसएफ जवानों को होम मिनिस्टर राजनाथ सिंह श्रद्धांजलि देने पहुंचे। बुधवार को सफदरजंग एयरपोर्ट पर विक्टिम्स की फैमिली ने राजनाथ को घेर लिया। एक बीएसएफ जवान की बेटी ने उनसे से सवाल किया, ''हर बार सिपाही की फैमिली ही क्यों रोती है सर?'' मंगलवार को उड़ान भरते ही बीएसएफ का प्लेन क्रैश हो गया था जिसमें 10 की मौत हुई थी।
 

राजनाथ की भी आंखें नम हुईं श्रद्धांजलि देते वक्त होम मिनिस्टर की भी आंखें नम हो गईं।इस दौरान विक्टिम्स की फैमिली ने पूछा कि बीएसएफ को पुराने प्लेन क्यों दिए जाते हैं।इस दौरान दिल्ली के एलजी नजीब जंग भी श्रद्धांजलि देने पहुंचे थे।
कैसे जांच करेगा डीजीसीए?

 

दिल्ली में क्रैश हुए बीएसएफ के प्लेन के विक्टिम जवान की बेटी राजनाथ सिंह से सवाल करती हुई।

डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन (डीजीसीए) क्रैश मामले की जांच कर रहा है। (क्रैश की पुरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)बताया जा रहा है कि डीजीसीए पुराने प्लेन के एंगल से भी जांच कराएगा। बता दें कि जो सुपरकिंग प्लेन क्रैश हुआ था वह 30 साल पुराना बताया जा रहा है।रिपोर्ट्स के मुताबिक क्रैश हुए सुपरकिंग एयरक्राफ्ट के कनाडा बेस्ड मैन्यूफैक्चरर को भी जांच के दायरे में लाया जाएगा।बीएएसएफ इनक्वायरी प्लेन की उड़ान योग्यता के एंगल से भी जांच करेगी।
एफआईआर दर्ज
दिल्ली पुलिस ने इस मामले में धारा 304 ए (लापरवाही की वजह से मौत), 336, 337 के तहत एफआईआर दर्ज कर ली है। सूत्रों के मुताबिक, दिल्ली पुलिस आगे के एक्शन के लिए डीजीसीए जांच की डिटेल का इंतजार करेगी।

जला डाला आरटीआई सूचना में देने को बनाया रिकॉर्ड

शिमला  22,दिसंबर।प्रदेश के चंबा जिले के विकास खंड सलूणी की मौड़ा पंचायत कार्यालय में कुछ लोगों ने रिकॉर्ड को जला दिया। यह घटना रविवार देर रात को हुई। विभागीय जांच में सामने आया कि यह दस्तावेज आरटीआई सूचना देने के लिए तैयार किए गए थे। जिन असली दस्तावेजों से यह आरटीआई सूचना सत्यापित की गई थी, उन्हें भी जला दिया गया है। 

मामले की सूचना सुबह ग्रामीणों ने पंचायत प्रधान और सचिव को दी। इसके बाद पुलिस, पंचायतीराज अधिकारियों और बीडीओ ने घटनास्थल का जायजा लिया। पाया गया कि अज्ञात लोगों ने केवल उन्हीं दस्तावेजों को निशाना बनाया है, जिनके आधार पर मांगी गई आरटीआई सूचना का रिकॉर्ड बनाया गया था। 

पुलिस और विभाग मामले की जांच में जुटा है। बताया जा रहा है कि अज्ञात लोगों ने पहले पंचायत कार्यालय का दरवाजा तोड़ा। फिर कार्यालय में रखी अलमारी को तोड़कर उसमें से चुनिंदा दस्तावेज खंगाले। इनमें से कुछ को कार्यालय के बाहर ले जाकर सड़क की दूसरी ओर जला दिया है। घटना स्थल से पुलिस को कुछ सुराग मिले हैं। पंचायत की ओर से दर्ज शिकायत पर पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है।
 

घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस को सूचित कर दिया। जांच में सामने आया कि जानबूझ कर इस वारदात को अंजाम दिया गया है। मामले से जुड़े लोगों का हाथ इस घटना में हो सकता है।यह घटना बेहद निंदनीय है। यह सरासर भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने की करतूत है। पुलिस में मामला दर्ज करवा दिया गया है। रिकॉर्ड जलने से जो समस्या पेश आई है, उसका शीघ्र निदान ढूंढ लिया जाएगा।पुलिस ने घटनास्थल का निरीक्षण किया है। आपराधिक वारदात को अंजाम देने वालों को शीघ्र ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा। पुलिस मामले की छानबीन कर रही है।

शिमला में सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, 5 युवतियों सहित 10 ‌गिरफ्तार

शिमला  22,दिसंबर।शिमला में सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ हुआ है। पुलिस ने पांच युवतियों सहित दस लोगों को ‌गिरफ्तार ‌किया है। इसके अलावा पुलिस ने होटल के कमरों से 76 हजार रुपये की नकदी भी बरामद की है। पांच युवतियों में एक जम्‍मू, एक उत्तराखंड, एक नेपाल और दो चंडीगढ़ की हैं। गिरफ्तार किए गए आरोपी युवकों में तीन पंजाब और दो मुंबई के हैं। पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी कि होटल में जिस्मफरोशी का धंधा चल रहा है। 

इसी आधार पर पुलिस ने देर रात होटल में छापेमारी की। इस मामले के मुख्य आरोपी प्रवीण राणा को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। प्रवीण होटल में लड़कियों की सप्लाई करता था। प्रवीण राणा की गिरफ्तारी के वक्‍त उसके साथ दो कॉलगर्ल्स भी थीं। जबकि तीन कॉल्गर्ल्स को ग्राहकों को सप्लाई किया जा चुका था। इन्हें होटल से गिरफ्तार किया गया।

कहीं दूसरे राज्यों में तो नहीं फैला है नेटवर्क

कहीं दूसरे राज्यों में तो नहीं फैला है नेटवर्क

 

 

 

 

 

जिस्मफरोशी का यह धंधा शिमला के कैथू स्थित लॉर्ड ग्रेज होटल में चल रहा था। पुलिस ने देर रात लॉर्ड ग्रेज होटल में रेड कर इन सभी को गिरफ्तार किया है। पुलिस इस मामले की गहराई से छानबीन कर रही है कि कॉल्गर्ल्स को कहां से लाया गया और इस रैकेट के तार कहीं दूसरे राज्यों से तो नहीं जुड़े हैं। वहीं इन दिनों शिमला में टूरिस्ट सीजन भी खूब चरम पर है। 

ऐसे में पुलिस अब और सतर्क हो गई है। एएसपी भजन देव नेगी ने बताया कि अनैतिक व्यापार निवारण अधिनियम की धारा 3, 4 व 7 के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है। आरोपियों से पूछताछ की जा रही है। एसपी ने बताया कि शहर के बाकी होटलों में पुलिस अब नियमित तौर पर समय समय पर छापेमारी करती रहेगी।

राजधानी में एचआरटीसी की 'लेडीज टैक्सी सर्विस' शुरू

HRTC ladies taxi service in shimla
शिमला 22,दिसंबर।राजधानी शिमला में एचआरटीसी की ‘लेडीज टैक्सी सर्विस’ शुरू हो गई है। पहले चरण में एचआरटीसी ने दो रूटों पर सेवा शुरू की है। अच्छा रिस्पांस मिलने पर शहर के कुछ अन्य रूटों पर भी सेवा शुरू कर दी जाएगी। एचआरटीसी की लेडीज टैक्सी में पहचान के लिए ‘केवल महिलाओं के लिए’ लिखे बोर्ड लगाए गए हैं। 

इन टैक्सियों में महिलाओं के अलावा 10 साल से कम आयु वर्ग के बच्चे ही सफर कर पाएंगे। महिलाओं को सुविधाजनक परिवहन का माध्यम उपलब्ध करवाने के लिए न्यायालय ने एचआरटीसी को आदेश दिए थे। एचआरटीसी के क्षेत्रीय प्रबंधक देवासेन नेगी ने बताया कि ट्रायल के तौर पर दो टैक्सियां शुरू की गई हैं। रिस्पांस के बाद भविष्य में टैक्सियों की संख्या बढ़ाई जाएगी। 

इन रूटों पर चलीं टैक्सियां

1 संजौली से आईजीएमसी
2 मैहली से हाईकोर्ट वाया कसुम्पटी 

सुबह 8 से रात 7 बजे तक चलेंगी टैक्सियां- राजधानी में एचआरटीसी की लेडीज टैक्सियां सुबह आठ बजे से रात सात बजे तक चलेंगी। गर्मियों में सुबह आठ से रात आठ बजे तक टैक्सियों का संचालन किया जाएगा। 

टैक्सी में ईटीएम से मिलेंगे टिकट-
 एचआरटीसी की लेडीज टैक्सियों में यात्रियों से मनमाने किराये की वसूली नहीं हो सकेगी। टैक्सियों में यात्रियों को ईटीएम (इलेक्ट्रानिक टिकटिंग मशीन) से टिकट दिए जाएंगे। 

जीपीएस से लैस होंगी टैक्सियां- एचआरटीसी की टैक्सियां जीपीएस (ग्लोबल पोजीशनिंग सिस्टम) से लैस होंगी। जीपीएस की मदद से निगम के अधिकारी टैक्सियों पर नजर रख सकेंगे। अधिकतम रफ्तार 20 किलोमीटर प्रति घंटा निर्धारित की गई है।

हजारों ने छोड़ा मैदान, चुनावी मैदान से नाम वापस लिए

panchayat election in himachal pradesh.
शिमला 22,दिसंबर।हिमाचल प्रदेश में पंचायत चुनाव की नामांकन वापसी के दिन सोमवार को हजारों दावेदारों ने चुनाव मैदान छोड़ दिया है। कई दावेदारों ने अनेक प्रत्याशियों के समर्थन में भी मैदान छोड़ा। पंचायत चुनाव के लिए प्रत्याशियों को चुनाव चिन्ह भी बांटे गए। कई उम्मीदवारों को निर्विरोध चुना गया। 

पंचायत चुनाव के मद्देनजर हजारों दावेदारों ने 21 नवंबर को चुनाव का मैदान छोड़ दिया। हजारों दावेदारों ने जिला परिषद, पंचायत समिति सदस्य, ग्राम पंचायत प्रधान, उपप्रधान और वार्ड सदस्यों के पदों से अपनी दावेदारी छोड़ दी। मान-मनौव्वल के दौर के बाद कई दावेदार अपने नामांकन वापस लेने की प्रक्रिया में जुटे रहे। 

नामांकन वापसी का दौर 10 से तीन बजे के बीच चला। बाद में उम्मीदवारों की अंतिम सूचियों को संबंधित कार्यालयों के बाहर प्रदर्शित कर दिया है। ये चुनाव ग्राम पंचायत के प्रधानों, उपप्रधानों, वार्ड सदस्यों के पदों के अतिरिक्त जिला परिषदों और पंचायत समिति के सदस्यों के पदों के लिए हो रहे हैं। 15, 16 और 17 दिसंबर को नामांकन भरे गए। 

इनकी स्क्रूटिनी 18 दिसंबर को हुई। अब 21 दिसंबर को नामांकन वापसी होगी। पहले चरण का मतदान एक जनवरी, दूसरे चरण का तीन जनवरी और तीसरे चरण का पांच जनवरी को होगा। राज्य निर्वाचन आयोग के सचिव डा. अश्वनी कुमार शर्मा ने कहा कि आंकड़े एकत्र किए जा रहे हैं। 

किस जिले में कितने प्रत्याशियों ने वापस लिए नाम- कुल्‍लू में जिप के नौ, बिलासपुर में बीडीसी के 31 उम्मीदवारों ने सोमवार को नाम लिए वापस, जिला परिषद में 89 उम्मीदवारों में से 11 ने नाम वापस लिए हैं। चंबा में जिला परिषद के 14 उम्मीदवारों ने मैदान छोड़ा है। 

यहां बीडीसी के 42 प्रत्याशी बैठ गए हैं। किन्‍नौर जिले की 45 बीडीसी सीटों के ‌लिए 144 ने नामांकन भरा था। इनमें से 45 उम्मीदवारों ने सोमवार को नामांकन वापस ले लिया। जिला परिषद की दस सीटों के लिए 37 उम्मीदवारों ने नामांकन भरा था। 

इनमें से नौ ने नाम वापस ले लिया। ऊना में जिला परिषद के 12 और बीडीसी के 80 प्रत्याशी बाहर हो गए हैं। हमीरपुर में जिप के 26 और बीडीसी के 42 प्रत्याशियों ने नाम वापस ले लिया है।

बर्फ में 80 किमी चलकर करना होगा मतदान

 

धर्मशाला 22 दिसंबर।हिमाचल राज्य चुनाव आयोग ने पंचायत चुनाव के मतदान के लिए तिथियां और पोलिंग बूथ को चिह्नित कर उनकी घोषणा तो कर दी लेकिन शेष विश्व से कट चुके बड़ा भंगाल गांव के लोगों को उनके सबसे बड़े अधिकार मताधिकार से अपरोक्ष से वंचित कर दिया है। कांगड़ा जिला में 10 और 12 जनवरी को मतदान होगा। इसके लिए पोलिंग बूथ चिह्नित कर लिए गए हैं।

धर्मशाला से करीब 160 किलोमीटर दूर और 2508 मीटर ऊंचाई पर ग्लेशियर के पास बसा दुर्गम गांव बड़ा भंगाल दिसबंर के पहले हफ्ते में बर्फबारी के चलते शेष दुनिया से कट चुका है। प्रशासन ने अगले छह माह के लिए यहां के लिए राशन भेज दिया है।

इस गांव में वर्तमान में करीब दो दर्जन से ज्यादा लोग रह रहे हैं। राज्य चुनाव आयोग ने इस गांव के लोगों के लिए 80 किलोमीटर दूर बीड़ में पोरलिंग बूथ बनाया है। यानी, बड़ा भंगाल गांव के लोगों को बर्फबारी के बीच जान खतरे में डालकर 80 किलोमीटर दूर तीन दिन का पैदल रास्ता तय कर बीड़ पहुंचना होगा।जनवरी में धौलाधार रेज और ऊंचाई वाले इलाकों में भारी बर्फबारी होती है। जनवरी माह के दौरान बड़ा भंगाल गांव कई फुट बर्फ से ढका होता है। ऐसे में यह कहना मुश्किल है कि कोई भी अपनी जान को खतरे में डालकर बर्फ के बीच तीन दिन का पैदल रास्ता तय कर 80 किलोमीटर दूर पोलिंग बूथ बीड़ में वोट डालना पहुंचेगा।

ऐसे में तो बड़ा भंगाल गांव के दो दर्जन से ज्यादा लोग वोट डालने के हक से महरूम रह जाएंगे। ऐसे में सवाल उठता है कि क्या चुनाव आयोग को दो दर्जन वोटों से कोई लेना देना नहीं। क्योंकि, भारी बर्फबारी के दौरान बड़ा भंगाल के लोगों का बीड़ पोलिंग बूथ तक पहुंचना नामुकिन लगता है। हालांकि, लोकसभा चुनाव के दौरान बड़ा भंगाल में ही पोलिंग बूथ लगाया गया था। यहां पर गांव के लोगों ने वोट डाले थे।

चुनाव कराने हेलीकाप्टर से टीम बड़ा भंगाल गई थी। लेकिन, क्या चुनाव आयोग को अब पंचायत चुनाव के लिए बड़ा भंगाल में पोलिंग बूथ स्थापित करने की जरूरत नहीं लगी। जिला निर्वाचन अधिकारी एवं उपायुक्त रितेश चौहान ने कहा कि चुनाव आयोग की ओर से पोलिंग बूथों के स्थल चिह्नित किए गए हैं। बड़ा भंगाल के लोगों के लिए बीड़ में पोलिंग बूथ बनाया गया है। यहीं पर गांव के लोगों को वोट डालना होगा।

एक-दूसरे के बेटों को मैदान छोड़ने की सलाह दे रहे कर्ण-महेश्वर

zila parishad election in rola ward of kullu.
 कुल्लू 22 दिसंबर।जिला परिषद का रैला वार्ड राजघराने के दो दिग्गजों के लिए प्रतिष्ठा का सवाल बन गया है। राजनीति के इस खेल में अब आरोप-प्रत्यारोपों का दौर शुरू हो गया है। कहने को तो मैदान में महेश्वर सिंह और कर्ण सिंह के पुत्र हैं, लेकिन असली जंग महेश्वर और कर्ण की प्रतिष्ठा की है। 

अपनी प्रतिष्ठा बचाने के लिए राजनीति के ये दोनों दिग्गज कुछ भी करने को तैयार हैं। रोचक बात यह है कि दोनों एक-दूसरे को अपने प्रत्याशी को मैदान तक छोड़ने की बात चुनावी भाषण में कर रहे हैं। रैला वार्ड से कर्ण सिंह के बेटे आदित्य विक्रम कांग्रेस की ओर से चुनाव लड़ रहे हैं। वहीं हितेश्वर सिंह हिलोपा की ओर से। ऐसे में पूरा राज परिवार रैला वार्ड में डटा हुआ है। 

बेटों की लड़ाई में दोनों ही नेता रैला वार्ड में प्रचार में लगे है। कर्ण सिंह कहते हुए सुने गए कि रैला वार्ड बंजार विस क्षेत्र में आता है। ऐसे में हितेश्वर सिंह को मैदान छोड़ देना चाहिए था। हैरानी है कि उन्होंने अन्य वार्डों को छोड़ रैला वार्ड को ही क्यों चुना। यहां तक की उन्होंने महेश्वर सिंह को नसीहत दे डाली की हितेश्वर के लिए कुल्लू विस क्षेत्र में आधार तलाश करें। 

कुल्लू विस क्षेत्र में दो वार्ड ओपन थे। ऐसे में महेश्वर सिंह को अपने पुत्र को वहां से चुनाव लड़ाना चाहिए था। इधर, महेश्वर सिंह भी कर्ण को कमजोर करने की कसर नहीं छोड़ रहे हैं। उनका मानना है कि रैला वार्ड में हितेश्वर सिंह पहले भी चुनाव लड़ चुका है। ऐसे में लोगों ने उन्हें फिर से खड़ा किया है। फिलहाल, राजपरिवार की यह जंग चरम पर है।

 

 

नाकामी छुपाने को उठा रहे राम मंदिर का मुद्दा: आजम

रामपुर 22 दिसंबर उत्तर प्रदेश के नगर विकास मंत्री आजम खां ने कहा कि भाजपा के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार हर मोर्चे पर विफल साबित हुई है। सरकार की नाकामी को छुपाने के लिए राम मंदिर का मुद्दा उठाया जा रहा है।ये मामला अभी न्यायालय में विचाराधीन है। सभी को न्यायालय के फैसले का इंतजार करना चाहिए। अगर हालात खराब करने की कोशिश की गई तो इसका नुकसान देश को होगा।

अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए राजस्थान से पत्थरों की खेप पहुंचने के सवाल पर आजम खां ने कहा कि अयोध्या में श्रीराम के कई मंदिर हैं, कई महंत भी हैं। सभी अपने-अपने मंदिर को ही असली मंदिर बताते हैं। हमें इस झगड़े में नहीं पड़ना है।मामला कोर्ट में है तो फैसले का इंतजार करें। पूर्व प्रधानमंत्री पीवी नरसिम्हा राव और आरएसएस के समझौते से वहां पर चबूतरे का निर्माण हुआ था। पूजा भी होती है।न्यायालय में मामला विचाराधीन होने के बाद भी अगर निर्माण शुरू होता है तो प्रदेश सरकार का क्या रुख होगा, इस सवाल पर आजम खां ने कहा कि सरकार फैसला करेगी। कानून के मुताबिक जो कदम उचित होगा, उठाया जाएगा।

उन्होंने कहा कि ये मुद्दा इसलिए उठाया जा रहा है, क्योंकि भाजपा के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार पूरी तरह से विफल रही है। महंगाई, भ्रष्टाचार, बेरोजगारी, लूटमार जैसी समस्याएं ज्यों की त्यों खड़ी है। भाजपा ने चुनावों के दौरान जो वादा किया था, अब जनता उसका हिसाब मांग रही है।जनता का ध्यान मुख्य मुद्दे से हटाने के लिए मंदिर का मुद्दा उठाया जा रहा है। प्रधानमंत्री को चिंता सता रही है कि आईएसआईएस की जड़े हमारे यहां भी फैल रही हैं। उनको एक बात का ख्याल रखना चाहिए कि अन्याय की कोख से ही अराजकता पैदा होती है, जिसका नुकसान समाज को भी होता है।

सहारनपुर: मनचलों के आतंक से छात्रा ने छोड़ी पढ़ाई

 सहारनपुर  22  दिसंबर।वो पढ़ लिखकर कुछ बनना चाहती है। माता-पिता का नाम रोशन करना चाहती है, लेकिन मनचलों की रोज-रोज की हरकत उसके सामने पहाड़ बन कर खड़ी हो गई। पुलिस से बार-बार फरियादें की, लेकिन सुनवाई नहीं हुई।मजबूर होकर छात्रा को पढ़ाई छोड़नी पड़ गई। गरीब मां-बाप बेबस और आहत हैं। मनचलों द्वारा दी जा रही धमकियों से परिवार में दहशत है। क्या पुलिस दिल्ली में हुए निर्भया कांड जैसी घटना का इंतजार कर रही है।नगर क्षेत्र के गलीरा रोड से सटी कॉलोनी में रहने वाली युवती नवीननगर स्थित एसडी कन्या इंटर कॉलेज की 11वीं की छात्रा है। 24 जुलाई 2015 को जब वह कॉलेज जा रही थी तो ग्रीन फील्ड स्कूल के पास पल्सर बाइक सवार युवकों ने उसे रोक लिया।

इतना ही नहीं मनचले युवकों ने उसके साथ जबरदस्ती करने की भी कोशिश की। जब छात्रा ने उनकी हरकत का विरोध किया तो उसके साथ मारपीट की गई। साथ ही किसी को घटना के बारे में बताने पर जान से मारने और परिवार को परेशान कर देने की धमकी दी गई।डरी सहमी छात्रा तुरंत अपने घर लौटी और परिजनों को पूरा वाकया बताया। घटना से आहत और डरे हुए मां-बाप तुरंत शिकायत लेकर थाना सदर बाजार कोतवाली पुलिस के पास पहुंचे। उन्होंने मनचलों को सबक सिखाए जाने की उम्मीद से पुलिस को लिखित में की शिकायत की।

पुलिस ने रिपोर्ट तो ले ली, लेकिन मनचलों की धरपकड़ के लिए कदम कोई नहीं उठाया। इसके बाद छात्रा फिर से कॉलेज जाने लगी। दो-चार दिन तक मनचले गायब रहे, लेकिन कुछ दिन बाद फिर मनचलों ने उसके रास्ते में बाइक लगा दी।ऐसे में छात्रा की दहशत और बढ़ गई। उसने फिर अपने परिजनों को घटना की जानकारी दी, जिसके बाद उन्होंने फिर पुलिस से संपर्क किया। उम्मीद थी कि इस बार पुलिस जरूर कुछ करेगी, लेकिन नहीं उनका अंदाजा गलत था। लिहाजा मनचलों की हरकत बढ़ती गई।

वर्तमान में छात्रा मनचलों के आतंक से परेशान होकर और किसी अनहोनी के खौफ में पढ़ाई छोड़कर घर बैठी है, जिसके लिए मनचलों के साथ ही पुलिस की निष्क्रियता भी जिम्मेदार है। बेटी के पढ़ाई छोड़कर घर बैठ जाने से परिजन खासकर मां-बाप बेहद परेशान हैं।छात्रा के पिता ने बताया कि उनकी बेटी पढ़ाई में काफी होनहार है। वह बेटी को आगे तक पढ़ाना चाहते हैं, ताकि वह अपने पैरों पर खड़ी हो सके। मगर, मनचलों के आतंक ने उन्हें बेबस कर दिया है। मनचलों के खौफ से बेटी कॉलेज तो दूर की बात घर से बाहर कदम रखते भी डरती है। ऐसे में उनके परिवार में दहशत बनी हुई है। 

बाइक बदलकर आते हैं मनचले
परिजनों ने बताया कि मनचले लगातार नहीं आते वह कई दिन का गैप लेकर आते हैं और हर बार बाइक बदलकर और बिना नंबर की बाइक लेकर आते हैं। ताकि कोई बाइक का नंबर नोट न कर सके। ऐसे में मनचलों से खुद निपट पाना उनके लिए संभव नहीं हो रहा है। 

निर्भया केस से नहीं सबक ले रही पुलिस 
एक ओर दिल्ली के चर्चित निर्भया मामले में नाबालिग दोषी को रिहा किए जाने से लोग आहत हैं, वहीं सहारनपुर की पुलिस ऐसी घटनाओं को गंभीरता से नहीं ले रही है। लगातार मनचलों के डर से छात्राओं का स्कूल और कॉलेज छोड़ना जारी है।यदि पुलिस ने कठोर कदम नहीं उठाए तो सहारनपुर में भी निर्भया जैसी घटना होने से इनकार नहीं किया जा सकता। साथ ही समाज को भी बेटियों के प्रति अपनी सोच में बदलाव करना होगा। 

एसएसपी आरपीएस यादव ने बताया कि असामाजिक तत्वों के डर से छात्रा के पढ़ाई छोड़ने का मामला गंभीर है। यदि शिकायत के बाद भी पुलिस ने कोई कदम नहीं उठाया है तो इस संबंध में संबंधित थाने से जवाब मांगा जाएगा। किसी भी व्यक्ति को माहौल खराब करने की इजाजत नहीं दी जा सकती। जल्द ही मनचलों को चिह्नित कर कठोर कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

यूपी के सीएम से रेनू की गुहार, मुझे बचा लीजिए

नई दिल्ली  22 ,दिसंबर।उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले में तीन साल की रेनू एक ऐसी बीमारी के साथ पल - बढ़ रही है जो उसे धीरे-धीरे मौत की ओर बढ़ा रही है। दरअसल, रेनू के सिर में बड़ा सा ट्यूमर है जो उसे हर पल मौत की ओर ढकेल रहा है।रेनू और उसका परिवार जिले के बहादुरपुर ब्लॉक के कुसरौर गांव में गरीबी के बीच अपना जीवन गुजर बसर कर रहा है। जहां रेनू के पिता दिन भर मजदूरी करते हैं और वहीं मां प्रमिला दूसरे घरों में बर्तन साफ करने का काम करती है।रेनू की छः अन्य बहने भी हैं, उन्हें खेलता कूदता देख रेनू की कसक केवल आंसूओं तक ही सीमित रह पाती है। वो न तो खेल पाती है, और न ही ढंग से सो पाती है।एक ओर रेनू के माता-पिता पर पूरे 9 लोगों के परिवार का भरण-पोषण करने की जिम्मेदारी है तो दूसरी ओर रेनू का इलाज कराने की भी चिंता।लेकिन रेनू के परिवार के पास इतने पैसे नहीं है वो उसकी इस बीमारी का इलाज करा सकें। रेनू के बढ़ते हुए ट्यूमर की वजह से उसे हर वक्त दिक्कतों का सामना भी करना पड़ता है।

जब कभी रेनू को इस ट्यूमर की वजह से दर्द होता है, तो वह न तो इसे किसी से साझा कर सकती है और न ही उसका परिवार उस दर्द को कम करने में सहायक है।रेनू की मां के अनुसार उन्होंने कई डॉक्टरों से रेनू का ईलाज कराया लेकिन पैसों के अभाव की वजह से उसकी सही ईलाज नहीं हो सका। रेनू का ट्यूमर दिन प्रति दिन बढ़ता चला जा रहा है।रेनू के परिवार के पास इतने पैसे नहीं है कि वे उसे पास के जिला अस्पताल ले जा सकें। रेनू और उसके परिवार ने प्रदेश के मुखिया से गुहार लगाई है कि समय रहते उसके परिवार की मदद करें, ताकि रेनू अपनी जिंदगी एक सामान्य बच्चे की तरह जी सके।

वर्ल्ड कप से ठीक पहले यह कप्तान लेगा संन्यास

दिल्ली 22,दिसंबर।अगले साल मार्च माह में भारत में टी-20 का सबसे बड़ा टूर्नामेंट हैं। करीब एक माह तक चलने वाले इस वर्ल्ड कप टूर्नामेंट से ठीक पहले क्रिकेट जगत को एक बड़ा झटका लगा है।

न्यूजीलैंड टीम के कप्तान बैंडन मैककुलम ने वर्ल्ड कप से ठीक पहले संन्यास लेने का ऐलान किया है। 34 साल का यह खतरनाक बल्लेबाज फरवरी माह में ऑस्ट्रेलिया के ‌खिलाफ क्रिकेट सीरीज के बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह देगा।

मंगलवार को मैककुलम ने पत्रकारवार्ता में कहा कि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 20 फरवरी को ओवेल टेस्ट उनका आखिरी अंतरराष्ट्रीय मैच होगा। यह उनका 101 वां टेस्ट मैच होगा। फरवरी माह में कीवी टीम ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेलेग