Share Your view/ News Content With Us
Name:
Contact Number:
Email ID:
Content:
Upload file:

पांच लाख अस्सी हजार के नकली नोटों के साथ तीन गिरफ्तार

काशीपुर । गोपनीय सूचना पर हरकत में आये वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के निर्देशन में एसओजी एवं काशीपुर पुलिस टीम ने ५ लाख ८० हजार रूपये के नकली नोट के साथ एक महिला समेंत तीन लोगों को अपनी गिरफ्त में लिया है। पुलिस ने बताया कि पकड़े गये आरोपियों के खिलाफ धारा ४८९/ग/ आइपीसी के तहत मुकदमा पंजीकृत किया है।

मामले का खुलासा करने वाली टीम को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने २५०० रूपये का नकद पुरूस्कार की घोषणा की है। गौरतलब है कि उधम सिंह नगर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एएस ताकबाले को नकली नोटो की गोपनीय सूचना मिली। जिस पर उनके निर्देशन में एसओजी एवं काशीपुर पुलिस ने एक टीम तैयार कर जाँच प्रारम्भ कर दी। जिस दौरान एसओजी एवं काशीपुर पुलिस ने शुगर मिल के पास से ग्राम तिलुवा थाना नौजन जिला बेतिया पश्चिमी चम्पारन बिहार हाल निवासी हिम्मतपुर इस्माई में रहने वाले विक्रमराम जाटव पुत्र पाती सिंह व उसके पुत्र राहुल एवं पत्नि सीवा देवी उर्फ  रेनू को अपनी हिरासत में लिया। जिनके पास से पुलिस ने १००० व ५०० रूपये के ५ लाख ८० हजार रूपये की धनराशी के नकली नोट बरामद किये है।

पुलिस ने आरएनएस को बताया कि उक्त आरोपियों से कड़ी पुछताछ करने पर उन्होने बताया कि  नकली नोट वह मालदा पश्चिम बंगाल से प्राप्त कर दिल्ली में कहीं पहुचाने एवं प्रयोग करने के लिये ले जा रहे थे। समाचार लिखेे जाने तक पुलिस द्वारा उक्त आरोपियों से विस्तृत पूछताछ जारी थी। उक्त मामले के अनावरण में प्रभारी एसओजी टीम में हरेन्द्र चौधरी, उपनिरिक्षक मौ० अकरम, हे०का० प्रकाश भगत, हे०का० ब्रजभूषण गुरूरानी, कानि० महेन्द्र डंगवाल, कानि० नीरजपाल, कानि० राकेश मलकानी, कानि० फिरोज खान, कानि० प्रकाश कठैत, कानि० राजकुमार, कानि० अमित देवरानी, कानि० मौ० यामीन, कानि० भूपेन्द्र सिंह, कानि० शाहिद हुसैन आदि शामिल थे। पुलिस ने पकड़े गये आरोपियों के खिलाफ धारा ४८९/ग/ आइपीसी के तहत मुकदमा पंजीकृत किया है। मामले का खुलासा करने वाली एसओजी एवं काशीपुर पुलिस टीम को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एएस ताकबाले ने २५०० रूपये का नकद पुरूस्कार की घोषणा की है।
 

तमंचे के बल पर व्यापारी से लूट

रूडक़ी । थाना बुग्गावाला क्षेत्र के राहघटी नदी के पास सुसराल से वापस लौट रहे एक कपड़ा व्यापारी से बदमाशों ने तमंचे के बल पर एक बाईक व १४ हजार रुपये की नगदी लूट ली। विरोध करने पर बदमाशों ने व्यापारी की कनपटी पर तमंचे की बट से वार कर उसे घायल कर दिया। सूचना पर बुग्गावाला पुलिस मौके पर पहुंची और बदमाशों की तलाश में कॉम्बिंग की लेकिन बदमाश हाथ नहीं लगे। बुग्गावाला थाना पुलिस जल्द ही बदमाशों को पकडऩे का दावा कर रही है।
 

आरएनएस को मिली जानकारी के अनुसार लालावाला मजबती निवासी प्रेम सिंह पुत्र दलबीर सिंह फेरी लगाकर कपड़ों का व्यापार करता है वह अपनी सुसराल मजाहिदपुर आया हुआ था। प्रेम सिंह ने अपनी सुसराल से ही किसी की एक प्लैटिना बाईक उधार मांगी और वह अपने घर वापस जा रहा था। रास्ते में जब वह बुग्गावाला थाना क्षेत्र के राहघटी नदी के पास पहुंचा तो वहंा खड़े हुए तीन चार युवकों ने उसे रोका और बाईक रोकते ही उक्त बदमाशों ने तमंचा निकाल कर प्रेम सिंह की कनपटी पर लगा दिया और उसकी तलाशी लेने लगे। बदमाशों ने उसके पास से १४ हजार रुपये की नगदी व प्लैटिना बाईक लूट ली।

जब प्रेम सिंह ने लूट का विरोध किया तो बदमाशों ने तमंचे की बट से उसकी कनपटी पर कई वार किये जिससे वह घायल भी  हो गया। बदमाश घायल अवस्था में उसे छोडक़र फरार हो गये बाद में उसने किसी तरह पास के गांव पहुच कर ग्रामीणों को वारदात की बाबत बताया और अपनी सुसराल व बुग्गावाला पुलिस को सूचना दी जिस पर तुरंत ही बुग्गावाला एसओ सम्पूर्णानंद गैरोला मेयफोर्स के मौके पर पहुंच गये और आलाधिकारियों को भी वारदात की सूचना दी। पुलिस ने बदमाशों की खोजबीन के लिए क्षेत्र में कॉम्बिंग की लेकिन बदमाश फरार होने में कामयाब रहे। पीडि़त की तहरीर पर बुग्गावाला थाना पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया बदमाशों की तलाश शुरू कर दी। थानाध्यक्ष सम्पूर्णानंद गैरोला का कहना है कि उन्हें बदमाशों की बाबत अहम सुराग लगे है जल्द ही बदमाशों को दबोच कर वारदात का खुलासा कर दिया जायेगा। आलाधिकारियों ने भी घटना की बाबत जानकारी ली और जल्द बदमाशों को पकडऩे के निर्देश दिये।

 

बस दुर्घटना ग्रस्त हुई, दो की मौत सात घायल

नई टिहरी । प्रतापनगर प्रखण्ड के लंबगांव से कंडियाल गांव जा रही बस संख्या यूके ०७ सी ०१४८ की कडिय़ाल गांव पनघट के पास अचानक दुर्घटनाग्रस्त होने से उसमें सवार दो लोगो की मौत हो गई और सात लोग गंभीर रूप से घायल हो गये। गंभीर घायलों मे बस चालक भी शामिल है।
 

आरएनएस को मिली जानकारी के अनुसार रविवार को लंबगांव से सांय साढ़े चार बजे टिहरी गढ़वाल मोटर आर्नस की रवाना हुई जैसे ही कंडियाल गांव पहुचने वाली थी कि गांव के पनघट के पास ही अचानक बस सतुलन खो बैठी और दो सौ मीटर गहरी खाई मे जा गिरी। दुर्घटना की सूचना तुुरंत १०८ सेवा को दी गयी जो सांय साढे पांच बजे के करीब दुर्घटना स्थल पर पंहुची तब तक ग्रामीणो ने बचाव एंव राहत का कार्य शुरू कर दिया। मौके पर कडियाल गांव निवासी भीम सिंह रावत व वीर सिंह की मौत हो गई। क्षेत्र के सामाजिक कार्यकर्ता देवी सिंह पंवार ने आरएनएस को बताया कि घायलों मे बस चालक बल्डोगी निवासी शीशपाल सिंह, कंडियाल निवासी जय सिंह, भैरव सिंह तथा वंदना देवी, उसका भाई शिवराज सिंह के अलावा मोल्यागांव व मंरगांव के एक-एक व्यक्ति शामिल है जिनके नामो का पता नही चल पाया है। बस मे एक दर्जन लोग सवार बताये जाते है। सभी घायलों को प्राथमिक उपचार के लिये राजकीय प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र लंबगांव लाया गया है। 

 

संदिग्धावस्था में दो शव मिलने से सनसनी

हल्द्वानी । जयपुर बीसा क्षेत्र में संदिग्धावस्था में दो शव मिलने के बाद क्षेत्र में सनसनी फैल गयी है। ग्रामीणों ने जयपुर बीसा से रामपुर रोड़ को जाने वाले मार्ग पर पुलिस बैरियर लगाने की मांग की है। जहां पुलिस खेत में मिले किसान के शव के मामले में ठंड से मौत होना बता रही है।

वहीं मृतक के परिजनों को अब भी उसकी हत्या की आंशका है। पुलिस क्षेत्राधिकारी सुरजीत सिंह पंवार ने आरएनएस को जानकारी देते हुए कहा कि पोस्टमार्टम रिर्पोट में किसान की मौत की कोई वजह नहीं पायी गयी है। गत दिवस ग्राम जयपुर बीसा के जंगल में गोरापड़ाव के समीप स्थित ग्राम हरिपुर तुलाराम निवासी महेश आर्या उम्र 26 वर्ष का पेड़ से टंगा शव बरामद हुआ। बताया जा रहा है कि आर्थिक तंगी से क्षुब्ध हो कर उक्त युवक ने अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली। उक्त युवक की पोस्टमार्टम रिर्पोट अभी नहीं आ पायी है परन्तु पुलिस इसे आत्महत्या ही बता रही है।

इसके अलावा जयपुर बीसा ग्राम में 50 वर्षीय कमलापति आर्य की अपने ही घर के पास खेत में पानी लगाने के दौरान देर रात मौत हो गयी। उक्त किसान की मौत को लेकर उसके परिवार एवं गांव में चर्चाओं का बाजार गर्म है। पुलिस ने मामले में फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट एवं डॉग स्क्वायड कराया परन्तु मृत्यु की गुत्थी नहीं सुलझ सकी । पुलिस अधिकारी उक्त किसान की मौत को ठंड से हुई मौेत बता रहे है। वहीं मृतक के परिजन कमलापति की हत्या की आशंका जाहिर कर रहे है। पुलिस क्षेत्राधिकारी एसएस पंवार के अनुसार कमलापति की पोस्टमार्टम रिर्पोट में मौत की कोई वजह नहीं होकर  सामान्य मृत्यु बताया जा रहा है।   इधर छात्र नेता संदीप पाण्डे का कहना है कि जयपुर बीसा का जंगल वर्तमान में गुन्डा तत्वों के लिए आरामगाह बना हुआ है। पिछले कुछ समय से वहां अक्सर संदिग्ध लोग देखे गये है। उन्होंने जयपुर बीसा से रामपुर रोड़ को जाने वाले मार्ग पर पुलिस बैरियर लगाने की जोरदार मांग की है। साथ ही इस मामले में जल्द ही कोतवाली लालकुआं का घिराव करने की चेतावनी दी है।

 

वार्षिक क्रीड़ा प्रतियोगिता का आयोजन

हल्द्वानी । चिल्ड्रन्स अकादमी स्कूल गोपीपुरम में वार्षिक क्रीड़ा प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। इस दौरान स्पून रेस,100 मीटर दौड,200 मीटर दौड़,सुई धागा रेस,फ्रोग रेस,बैंडमिंटन सिंगल व डबल  प्रतियोगिता तथा क्रिकेट प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जिसमें समस्त विद्यालय के बच्चो ने प्रतिभाग किया। इस दौरान विजेता प्रतिभागियो को स्कूल प्रबन्धक द्घारा पुरस्कृत किया गया।
 

इस अवसर पर प्रधानाचार्य पाठक,रेनू मिश्रा,मोनिका जोशी,कविता पाठक,नीरु जोशी,पुष्पा जोशी,नीमा पाण्डे,अंजू चौहान,बबली ढौडियाल,टिंकी ढौडियाल,मोहिनी,रितेश भारद्घाज,पूरन किरौला सहित तमाम अध्यापक व अभिभावक मौजूद थे।
 

3 चोरो को पीट कर भगाने वाले को सम्मान

रानीखेत । तीन दिवस पूर्व ब्लाक मुख्यालय ताड़ीखेत के ग्वेल देवता के मंदिर में हुई चोरी की घटना में , 3 चोरों को पीट कर भगाने वाले साहसी युवक मोहित नैनवाल का सम्मान किया गया। क्षेत्र के विधायक व नेता प्रतिपक्ष अजय भट्ट ने मंदिर से लगे जनमिलन स्थल पर एक सादे समारोह में इस साहसी युवक का सम्मान किया गया।
 

उक्त मंदिर में 3 चोरों ने रात्री समय चोरी करने के लिये धावा बोल दिया था। पुजारी व साथ सोये इस युवक के जाग जाने के बाद कुछ चांदी के सामान के साथ चोर भाग ही रहे थे कि उक्त युवक ने लाठी लेकर ललकारा व इन पर टूट पड़ा। तीनो को ही घायल अवस्था में कार लेकर भागने पर मजबूर कर दिया। कार पर भी इसने लाठी फटकारी। चोर सामान छोड़ अपनी जान बचाने को भाग निकले।

चोर अपने साथ लाये सब्बल , रॉड कटर भी छोड़ गये। हबड़ तबड़ में फाय्ॉर भी नही झोंक पायें। श्री भट्ट ने इस युवक का सम्मान करते हुए कहा कि ग्वेल जी रात्री में वंहा पर विचरण करते हैं। उन्होने इस युवक में अपनी शक्ती दी। युवक का होसला आफजाई करते हुए कहा कि वे उसका नाम मुख्यमंत्री, गवर्नर , को राष्ट्रपति पुरुष्कार के लिये भेजेगें। ब्लाक मुख्यालय ताड़ीखेत में 3 सिपाही रख कर फिलहाल अस्थाई पुलिस चौकी बनाई गई है।कार्यक्रम का संचालन फौजी घ्यानसिंह ने किया। इस अवसर पर ज्वाइन्ट मैजिस्टे्रट अहमद इकबाल,कोतवाल कमलराम आर्य, धनसिंह रावत,राजेन्द्र जसवाल,ज्योति मिश्रा सहित अनेको पुलिस कर्मी, भाजपा कार्यकर्ता क्षेत्र की जनता महिलायें बच्चे शामिल थे।
 

अनूठे अनुष्ठान में डूबा गोरसाली गांव

उत्तरकाशी । गोरसाली गांव इन दिनों अनूठे अनुष्ठान में डूबा है। हर साल रामलीला के रूप में मनाए जाने वाले इस अनुष्ठान में गांव का हर शख्स शामिल होता है। सौ साल से गोरसाली के ग्रामीण इस परंपरा को सहेजे हुए हैं। सिर्फ मंचन तक ही सीमित रहने की बजाए इस रामलीला का स्वरूप पूरी तरह आनुष्ठानिक है जिसमें गांव के लोग श्रीराम के आदर्शो को अपने आचरण में भी उतारते हैं।
 

जिला मुख्यालय से चालीस किमी दूर गोरसाली गांव की रामलीला 107 वर्ष पूरे कर चुकी है। दिसंबर माह में ही इक्कीस दिन तक दोपहर के समय आयोजित होने वाले इस मंचन की शुरुआत सुंदरकांड पाठ और यज्ञ की आहुति के साथ होती है। पूरे आयोजन के दौरान रामलीला के सभी पात्र व्रत और जरूरी धार्मिक नियमों का पालन करते हैं। जबकि गांव में शराब और मांस का सेवन भी प्रतिबंधित हो जाता है। प्रबंध समिति में शामिल लोग भी इक्कीस दिन तक यज्ञ वेदिका के निकट ही रहते हैं। इस दौरान वे गांव छोडक़र बाहर भी नहीं जा सकते। संयम और नियम के इस आयोजन में राम विवाह और राजतिलक जैसे आयोजन एकदम जीवंत होते हैं। राम विवाह में आधे गांव वाले बाराती तो आधे घराती होते हैं और इसे विवाह समारोह जैसा ही धूमधाम से आयोजित किया है। ऐसा ही नजारा रावण वध के बाद राजतिलक में भी देखने को मिलता है। अलग समय पर होने के कारण गोरसाली गांव की रामलीला में क्षेत्र के लोग भी बड़ी तादाद में पहुंचते हैं। जबकि अन्य गांवों में दशहरे के आस पास रामलीला मंचन किया जाता है। ग्रामीणों के मुताबिक रामलीला के दौरान मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम के आदर्शो को जीवन में उतारने के प्रयास किए जाते हैं। अपने पुरखों से रामलीला मंचन के बारे में मुख्य बात यही सीखी है।
 

चारधाम विकास परिषद के पूर्व उपाध्यक्ष सूरत राम नौटियाल भी गोरसाली गांव के ही रहने वाले हैं। अपने गांव की रामलीला में राम, लक्ष्मण सहित अन्य भूमिकाएं निभा चुके नौटियाल बताते हैं कि यहां अभिनय के साथ आस्था भी जुड़ी है। पुराने समय से ही रामलीला मंचन का अनुष्ठानिक स्वरूप आज भी यथावत रखा गया है। रंगकर्मी जयप्रकाश राणा ने आरएनएस को बताया कि उत्तराखंड के पर्वतीय क्षेत्रों में रामलीला, कृष्ण लीला या महाभारत से संबंधित मंचन आस्था से जुड़े होने के कारण इन्हें इसी तरह आयोजित किया जाता है, यहां तक कि मंचन में शामिल पात्र भी सुफल की कामना के साथ इन आयोजनों में अभिनय करते हैं।
 

चमोली की ऊंची पहाडिय़ों में बर्फबारी

गोपेश्वर । चमोली की ऊंची पहाडिय़ों में बर्फबारी से रविवार को लोग ठंड से ठिठुरते रहे। दोपहर बाद मौसम में बदलाव के बाद ही लोगों को धूप के दर्शन हुए। सुबह से ही आसमान में धुंध व बादल के चलते ऊंची पहाडिय़ों में बर्फबारी हुई। औली, गोरसों, बदरीनाथ, हेमकुंड साहिब, तुंगनाथ, रुद्रनाथ, चोपता की पहाडिय़ों में बर्फबारी हुई। दोपहर बाद मौसम ने करवट ली और हल्की धूप से लोगों को राहत मिली।
 

वहीं पर्यटन नगरी पौड़ी में दिनभर बादल छाने से ठिठुरन बढ़ गई है। दिनभर आसमान में बादल छाए रहने से लोगों को धूप नसीब नहीं हो सकी। बादलों के चलते शहर का तापमान भी लुढक़ गया है। ठंड का असर बाजार पर भी देखने को मिला। लोग आवश्यक कार्यो के लिए ही घरों से बाहर निकले। शहर का न्यूनतम तापमान पांच डिग्री सेल्सियस पर पंहुच गया है। लोगों ने ठंड से बचने के लिए दिन में भी अलाव का सहारा लिया। वहीं दूसरी ओर नए वर्ष पर बर्फबारी का इंतजार कर रहे पर्यटक जरूर बादल छाने से उत्साहित दिखे।
 

झील को पर्यटन केंद्र बनाने को योजना तैयार

नई टिहरी । टिहरी बांध झील को पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र बनाने को केंद्र सरकार ने ढाई सौ करोड़ के मेगा प्रोजेक्ट के तहत बडी योजना तैयार की है। इसी क्रम में शनिवार को केंद्रीय अतिरिक्त महानिदेशक पर्यटन ऊषा शर्मा ने टिहरी बांध की झील के विभिन्न चयनित स्थलों का दौरा कर प्रदेश से जुड़े आलाधिकारियों, जिलाधिकारी व कई वरिष्ठ अधिकारियों के साथ विचार विमर्श किया।
 

निरीक्षण में उनके साथ मौजूद पर्यटन सचिव उमाकांत पंवार, अपर सचिव अमित नेगी, जिलाधिकारी डॉ. रंजीत कुमार सिन्हा, मुख्य विकास अधिकारी सविन बसंल तथा अन्य अधिकारियों ने केंद्र सरकार को भेजे गए पर्यटन से संबंधित प्रस्तावों का धरातीलय निरीक्षण किया। भागीरथी पुरम स्थित अतिथिगृह में अतिरिक्त महानिदेशक को पावर प्वांट के माध्यम से कोटी कालोनी, मदननेगी, डोबरा सहित कई स्थानों को झील में नाव संचालन के लिए चयनित स्थलों को दिखाया गया। इसके साथ ही कोटी कालोनी और झील के पार साहसिक पर्यटन केंद्र बनाने के लिए भी प्रयास शुरू हो रहे हैं।

 

विदेश यात्रा से लौटने के बाद राज्यपाल से मिले मुख्यमंत्री

देहरादून । उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्रीविजय बहुगुणा ने आज दोपहर विदेश यात्रा से देहरादून लौटने के बाद सायंकाल राजभवन पहॅुच कर राज्यपाल डा0 अजीज कुरैशी से भेंट की। इस भेंट के दौरान मुख्यमंत्री व राज्यपाल के बीच दक्षिण अफ्रीका की यात्रा के अनुभवों, प्रवासी भारतीयों का राज्य के विकास में योगदान से सम्बंधित विभिन्न विषयों पर चर्चा हुई।
 

मुख्यमंत्री ने राज्यपाल को अवगत कराया कि उन्होने दक्षिण अफ्रीका में बसे प्रवासी भारतीयों से मिलकर उन्हें उत्तराखण्ड के विकास में सहयोग करने के लिए पूंजी निवेश करने का आमंत्रण दिया है जिसके सकारात्मक परिणाम होगें। 
 

भारत निर्माण प्रदर्शनी का आयोजन

विकासनगर । सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय भारत सरकार की ओर से संचालित विज्ञापन एवं दृश्य प्रचार निदेशालय की दस दिवसीय भारत निर्माण प्रदर्शनी का आयोजन रविवार को किया गया। इस दौरान केंद्र सरकार की ओर से चलाई जा रही विभिन्न विकास योजनाओं की जानकारी दी गई।
 

रविवार को मनोरंजन सदन डाकपत्थर में आयोजित दस दिवसीय प्रदर्शन का शुभारंभ पूर्व विधायक कुलदीप कुमार ने किया। प्रदर्शनी में केंद्र सरकार की ओर से चलाई जा रही विभिन्न विकास योजनाओं की जानकारी दी गई। इस दौरान विभिन्न विभागों की योजनाओं से संबंधित पोस्टर लगाए गए हैं। प्रदर्शनी में मानव विकास मंत्रालय की सर्व शिक्षा योजना, महिला सशक्तीकरण, अनुसूचित जाति, जनजाति के लिए चलाई जा रही विकास परक योजनाएं, सिंचाई नहरों का निर्माण ग्रामीण सडक़ों का बिछता जाल, ग्रामीण रोजगार के लिए किए जा रहे प्रयासों को दर्शाने वाले पोस्टर लगाया गए। वहीं कश्मीर घाटी में अमन चैन के साथ आ रहे बदलाव व घाटी के लोगों की ओर से किए जा रहे विभिन्न विकासपरक कार्यो का विवरण भी पोस्टर के जरिये दिखाए गए। प्रदर्शनी का मुख्य उद्देश्य सरकार की विकासपरक योजनाओं को आम जन तक पहुंचाना है। इस दौरान क्षेत्रीय प्रदर्शनी अधिकारी केसी मीणा, हेमंत कुमार, नरेश भंडारी, सुरेंद्र पाल आदि मौजूद थे।

 

पलायन की जिम्मेदार सरकार : रावत

देहरादून । उत्तराखण्ड राज्य आंदोलनकारी मंच के प्रदेश संगठन मंत्री मोहन सिंह रावत ने राज्य से हो रहे पलायन का जिम्मेदार  सरकार को ठहराया। उन्होने कहा कि उत्तराखण्ड राज्य गठन को १२ साल पूरे हो चुके हैं लेकिन अब तक सरकार ने ऐसी कोई नीति नहीं बनायी जिसका लाभ बेरोजगार युवाओ को हो सके।

राज्य की जनता भाजपा व कांग्रेस दोनो की सरकारों को देख चुकी है। लेकिन सभी सरकारे जन आकांक्षाओ के विपरीत कार्य करती रही। केवल बयानबाजी में ही विकास की बात कही जाती है। धरातल पर राज्य की दशा क्या है यह किसी से छिपी हुयी नही है। उन्होंने कहा कि राज्य के संसाधनो का उपयोग करने के लिए सरकार ऐसी नीति बनाये जिससे स्थानीय लोगों का अपने जल, जंगल, जमीन तथा प्राकृतिक संसाधनो पर अधिकार हो। तथा उन्हें इनसे रोजगार मिल सके। यह  सरकार की ही कूठराजनीति है कि यहां के युवाओं को यहां रोजगार नही मिल रहा है और वह अन्य राज्यों की ओर पलायन को मजबूर हो रहे है। उन्होने इसके खिलाफ जल्द ही मोर्चा खोलने की चेतावनी दी है।
 

टीपीएस रावत के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की मांग

देहरादून । उत्तरांचल पंजाबी महासभा ने पूर्व कैबिनेट मंत्री एवं उत्तराखण्ड रक्षा मोर्चा के अध्यक्ष टीपीएस रावत के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की मांग की है। साथ ही समुदाय ने टीपीएस रावत के खिलाफ आंदोलन छेडऩे की चेतावनी दी है। 
 

उत्तरांचल पंजाबी महासभा के प्रांतीय महामंत्री हरीश नारंग ने आरएनएस को बताया कि उत्तराखण्ड सरकार द्वारा मूल निवास प्रमाण पत्र जारी करने के मुद्दे पर जो निर्णय लिया है उसका पंजाबी महासभा स्वागत करती है। साथ ही उन्होने कुछ संगठनों पर आरोप लगाते हुए कहा कि वे उत्तराखण्ड में निवास करने वाले लोगो को बांटने का प्रयास कर रहे हैं। ऐसे लोगों को अपनी बयानबाजी से बाज आना चाहिए। श्री नारंग ने कहा कि हाल ही में उत्तराखण्ड रक्षा मोर्चा के अध्यक्ष एवं पूर्व कैबिनेट मंत्री टीपीएस रावत ने राजधानी में पत्रकार वार्ता करते हुए पंजाबी समाज पर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। उनकी इस टिप्पणी से पंजाबी समाज को गहरा आघात लगा है। इसलिए यह जरूरी हो गया है कि टीपीएस रावत के खिलाफ प्रशासन को मुकदमा दर्ज करना चाहिए। 

 

संतला देवी मंदिर मार्ग के पुर्न निर्माण का आश्वासन

देहरादून । मसूरी विधायक गणेश जोशी ने संतला देवी मंदिर में विशेष पूजा अर्चना कर भण्डारे का आयोजन किया। इस अवसर पर आयोजित भण्डारे में संतला देवी मंदिर में आने वाले सभी श्रृद्घालुओं ने प्रसाद ग्रहण कर माता के जयकारे लगाये। इस अवसर पर विधायक जोशी में संतला देवी मंदिर को जाने वाले मार्ग के पुर्न निर्माण की बात कही। श्री जोशी ने कहा कि शीइा्र ही इस सन्दर्भ में पर्यटन विभाग एवं वन विभाग से समन्वय कर कार्य किया जायेगा। उन्होंने संतला देवी मंदिर को पर्यटन मानचित्र पर स्थापित किये जाने की आवश्यकता बताई। उन्होंने कहा कि मूलभूत सुविधाओं के अभाव एवं प्रचार-प्रसार की कमी के कारण सिद्घपीठ संतला देवी मंदिर में पर्यटकों की अन्य स्थानों की अपेक्षा कम आवाजाही है। उन्होंने कहा कि वह मंदिर के प्रसिद्घि के लिए एवं प्रचार प्रचार के लिए कार्य करेंगे।
 

इस अवसर पर पूर्व विधानसभा अध्यक्ष एवं कैण्ट विधानसभा क्षेत्र के विधायक हरबंस कपूर, ऋशिकेष विधायक प्रेमचन्द्र अग्रवाल, पूर्व राज्यमंत्री कैलाश पंत, पूर्व राज्यमंत्री अजीत चौधरी, निर्मला जोशी, मण्डल अध्यक्ष मसूरी रूप सिंह कठैत, म.डल अध्यक्ष श्रीदेवसुमन नगर मण्डल आर0एस0परिहार, महामंत्री सुन्दर सिंह कुठाल, क्षेत्र समिति सदस्य दीपक पुण्डीर, ग्राम प्रधान गजियावाला राकेश शर्मा, प्रेम सिंह, उपाध्यक्ष मसूरी मण्डल कैप्टेन खेम बहादुर थापा, महिला मोर्चा महामंत्री ज्योति कोटिया, वन्दना ठाकुर, मन्सूर खान, लक्ष्मण सिंह रावत, अनिल सैनी, सभाषद कैण्ट बोर्ड विष्णु गुन्ता, पार्षद मनजीत रावत, राकेश जोशी, उषा शाही, राम बहादुर क्षेत्री आदि प्रमुख लोग इस अवसर पर उपस्थित रहे।
 
 

युवा चरित्र निर्माण प्रेरणा सम्मेलन का आयोजन

देहरादून । आर्य समाज मंदिर नत्थनपुर में आर्य समाज की ओर से युवा चरित्र निर्माण प्रेरणा सम्मेलन आयोजित किया गया। सम्मेलन में युवाओं का कई प्रबुद्घजनों ने मार्गदर्शन किया। सम्मेलन को संबोधित करते हुए वैदिक साधना आश्रम तपोवन के प्रधान प्रेम प्रकाश शर्मा ने कहा कि युवा पीढ़ी में अच्छे संस्कार विकसित किए जाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि चरित्रवान और संस्कारवान युवा राष्ट्र की निधि होते हैं।
 

आर्य समाज मंदिर में युवा चरित्र निर्माण प्रेरणा सम्मेलन का उद्घाटन कार्यक्रम के मुख्य अतिथि प्रेम प्रकाश शर्मा ने दीप प्रज्वलित कर किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि युवाओं को उचित मार्गदर्शन न मिलने के कारण उनके चरित्र व संस्कारों में निरंतर गिरावट आ रही है जो कि बेहद चिंता का विषय है। बच्चों के संस्कार में आ रही गिरावट से सभी परिवार चिंतित हैं। उन्होंने कहा कि सही मार्गदर्शन न मिल पाने से युवा दिग्भ्रमित और पथभ्रष्ट हो रहे हैं। नैतिक ीूल्यों का हास हो रहा है, शिष्टाचार खत्म हो रहा है। उन्होंने कहा कि युवाओं में अच्छे संस्कार विकसित करने और उन्हें उचित मार्गदर्शन दिए जाने की जरूरत है। सम्मेलन में दर्शनाचार्य, सुनीता मित्तल, रामकुमार तयाल, नत्थी सिंह रावत, राजीव सिरोही, मंजू शर्मा, आर्यसमाज नत्थनपुर के प्रधान महेंद्र पाल सिंह चौहान आदि ने विचार व्यक्त किए।    
 
 

कैंट ब्ल्यूज ने तपोवन ब्वॉयज को 6-0 से हराया

देहरादून । 45वें अमर शहीद खडक़ बहादुर मेमोरियल फुटबाल टूर्नामेंट में कैंट ब्ल्यूज ने फारवर्ड अंशुल प्रधान की हैट्रिक की बदौलत तपोवन ब्वॉयज को 6-0 से रौंदा। दूसरे मैच में बालाजी ब्वॉयज ने सडनडेथ तक खिंचे मुकाबले में नवादा को 6-5 से हराया।
 

एसजीआरआर इंटर कॉलेज नेहरूग्राम में चल रहे टूर्नामेंट में रविवार को कैंट ब्ल्यूज व तपोवन ब्वॉयज के बीच खेल गया मैच एकतरफा रहा। 10वें मिनट में कैंट ब्ल्यूज के फारवर्ड अंशुल प्रधान और 27वें मिनट में रूप राज थापा ने गोल कर बढ़त को 2-0 कर दिया। 37वें व 46वें मिनट में अंशुल ने गोल दाग कैंट ब्ल्यूज को 4-0 की मजबूत स्थिति में पहुंचा दिया। 50वें मिनट में सुशांत व 63वें मिनट में रमेश ने गोल कर कैंट ब्ल्यूज को 6-0 से जीत दिला दी।
 

बालाजी ब्वॉयज व नवादा के बीच खेला गया मैच संघर्षपूर्ण रहा। निर्धारित समय तक स्कोर 1-1 से बराबर रहा। 41वें मिनट में नवादा फारवर्ड हिमांशु ने गोल दागा। 59वें मिनट में बालाजी ब्वॉयज के अंकुर ने गोल दाग मैच 1-1 से बराबर कर दिया। सडनडेथ तक खिंचे मुकाबले में बालाजी ब्वॉयज ने 5-4 से बाजी मारी। बालाजी ब्वॉयज के लिए मयूर, भानु, नितिन, सौरभ व दीपक ने गोल दागे, जबकि नवादा के लिए श्याम, दीपक, विकास व अर्पण ही गोल कर सके। आज टूर्नामेंट में दून स्टार व चंद्रबनी और गोर्खा ब्वॉयज व गढ़वाल ब्वॉयज के बीच मैच खेला जाएगा।
 

बलात्कार के बाद हत्या के विरोध में ग्रामीणो ने लगाया जाम

विकासनगर । पाटा निवासी महिला की सभावाला के जंगल में बलात्कार के बाद नृशंस हत्या के विरोध में आक्रोशित ग्रामीणों ने रविवार को कालसी यमुना पुल पर सांकेतिक जाम लगाया। अंतिम संस्कार में आए पूर्व विधायक मुन्ना सिंह चौहान समेत अन्य लोगों ने महिला की मौत पर दो मिनट का मौन रखा।
 

आरएनएस को मिली जानकारी के अनुसार गुन्नी देवी पत्नी स्व. तुलाराम की अज्ञात अभियुक्तों ने शनिवार की रात में बलात्कार के बाद हत्या कर दी थी। महिला का रविवार को यमुना पुल पर अंतिम संस्कार किया गया। इस दौरान पूर्व विधायक मुन्ना सिंह चौहान समेत सैंकड़ों लोगों ने घटना के विरोध में दिल्ली यमुनोत्री हाईवे पर कालसी यमुना पुल के पास सांकेतिक जाम लगाया और दो मिनट का मौन रखकर श्रद्धाजंलि अर्पित की। पुत्र अनिल, वीरेंद्र सिंह, पूरण, भाई थेपाराम, नागचंद का रो रोकर बुरा हाल था। आक्रोशित ग्रामीणों ने डीएम को ज्ञापन भेजकर 24 घंटे के भीतर हत्या व बलात्कार कांड के आरोपियों को गिरफ्तार करने की मांग की है। पाटा व सुरेऊ आदि गांवों के ग्रामीणों ने आरोपियों के न पकडऩे पर हाईवे जाम की चेतावनी दी है। सांकेतिक जाम लगाने वालों में जगत सिंह स्याणा, जयपाल चौहान, सुभाष, सीताराम नेगी, जीत सिंह, लाल सिंह, अतर सिंह, मुकेश तोमर, चतर सिंह, धन सिंह, प्रताप सिंह, रणवीर सिंह, दयाराम आदि मौजूद रहे।
 

पूर्व विधायक मुन्ना सिंह चौहान ने आरएनएस को बताया कि सभावाला जंगल में महिला की बलात्कार के बाद नृशंस हत्या मानवता को शर्मसार करने वाली है। दिल्ली की घटना को लेकर जहां पूरे देश में जनमानस उद्वेलित है, ऐसे में जिला प्रशासन की हालत यह है कि जब मैंने सुबह करीब 11 बजे पोस्टमार्टम हाउस के बाहर से डीएम को फोन किया तो डीएम ने कहा कि उन्हें घटना की जानकारी ही नहीं है। प्रशासन की इस प्रकार की असंवेदनशीलता दुर्भाग्यपूर्ण है। आरोपियों को जल्दी गिरफ्तार किया जाना चाहिए। लोकगायिका  शांति वर्मा  ने आरएनएस को बताया कि दिल्ली की घटना के बाद भी पुलिस प्रशासन महिलाओं की सुरक्षा के प्रति गंभीर नहीं है। सुरक्षा के ऐसे कोई इंतजाम नहीं किए जा रहे, जिससे महिलाएं स्वतंत्र रूप से घूम सकें।
 

सीएम ने जताया शोक

देहरादून । मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा ने जनपद टिहरी के कंडियाल गांव के समीप हुई सडक़ दुर्घटना में दो व्यक्तियों की मृत्यु पर गहरा दु:ख व्यक्त किया है। उन्होंने दिवंगतों की आत्मा की शांति एवं दुख की इस घड़ी में उनके परिजनों को धैर्य प्रदान करने की ईश्वर से कामना की है। मुख्यमंत्री ने इस दुर्घटना में घायल हुए 7 व्यक्तियों के शीइा्र स्वास्थ्य लाभ की कामना की है।

 

विदेश यात्रा से लौटे सीएम

देहरादून । मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा रविवार को दक्षिण अफ्रिका यात्रा के बाद देहरादून पहुंचे। देहरादून पहुंचने पर राजस्व एवं आपदा प्रबन्धन मंत्री यशपाल आर्य, ग्राम्य विकास एवं पंचायती राज मंत्री प्रीतम सिंह, नियोजन मंत्री दिनेश अग्रवाल,अध्यक्ष, समाज कल्याण योजना अनुश्रवण समिति नारायणराम आर्य, विधायक सुबोध उनियाल एवं कांग्रेज नेता संजय पालीवाल ने मुख्यमंत्री से उनके आवास पर शिष्टाचार भेंट की।

 

पहाड़ो की नगरी में लगा सेलेबे्रटियों का तांता

देहरादून। नये साल के सेलिब्रेशन को लेकर पहाड़ो की रानी मसूरी में सेलेबे्रटियों तांता लग गया हैं। नये साल को पहाड़ो की खूबसूरती के साथ मनाने के लिए यहां क्रिकेटर मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर, फिल्मी सितारें अभिनेता व मुन्ना भाई के सर्किट अरशद वारसी के साथ ही फिल्म निदेशक कबीर खान भी मसूरी पहुंच चुके हैं  और अभी कई हस्तियों की यहां पहुंचने की उम्मीद जताई जा रही है। 
 
नववर्ष २०१३ के आगमन में मात्र कुछ दिन ही बचे हैं। हर कोई अपने ढंग से नववर्ष का स्वागत करने की तैयारियों में जुटा हुआ हैं। बाजारों में गिफ्ट आईटम अपने पैर जमा रही हैंं। होटल, रेस्टोरेंट भी पार्टियों के विशेष इंतजाम कर रहें हैं। द्रोण नगरी में सभी प्रमुख बाजार नये साल का स्वागत करने के लिए खासे उत्साहित हैं। इस बार पहाड़ो का लुत्फ उठाने के लिए कई-कई सेलेब्रेटी भी मसूरी में मौजूद हैंं। जहां महान क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर पिछले कुछ दिनों से सपरिवार मसूरी आये हुए हैं। वहीं दो दिन पहले अरशद वारसी भी सपरिवार मसूरी पहुंच चुके हैं। अरशद वारसी मुन्ना भाई फिल्म में सर्किट के नाम से चर्चित हैं। उनके प्रशंसकों की मसूरी में कोई कमी नहीं। हर कोई एक बार उनका दीदार करना चाहता हैं। मसूरी वासियों में सेलेब्रेटी के ऑटोग्राफ व उनके साथ फोटो खिचवाने का उत्साह है। इस समय मसूरी में फिल्म निदेशक कबीर खान भी मौजूद हैं। तीनों सेलेब्रेटी नववर्ष का स्वागत मसूरी में ही करेंगें। सचिन तेंदुलकर अपने मित्र संजय नारंग के घर पर ठहरे हुए हैं।  
 

नववर्ष पर 108 आपातकालीन सेवा रहेगी मुस्तैद

देहरादून। नववर्ष के शुभागमन को देखते हुये 108 आपातकालीन सेवा ने विशेष रुप से सजग रहने की तैयारी की है। जैसा कि अक्सर देखा जाता है कि नये वर्ष के आरम्भ होने से कुछ दिन पूर्व ही बड़ी संख्या में सैलानी पहाड़ी स्थानों जैसे देहरादून, मसूरी, नैनीताल, अल्मोड़ा, पिथौरागढ़, औली व अन्य विशेष स्थानों पर पहुंचकर नए वर्ष का शुभारम्भ करना चाहते हैं तथा विशेषकर 31 दिसम्बर को एक त्यौहार के रुप में मनाते है।
 
प्राय: देखा गया है कि इस दिन अनेक प्रकार की दुर्घटनाएं जैसे - सडक़ दुर्घटना, लड़ाई-झगड़ा, फूड-प्वाइजनिंग तथा अन्य प्रकार की आपातकालीन घटनाओं के घटित होने की सम्भावनाएं बनी रहती हंै। चूंकि इस अवसर पर लोगों द्वारा शराब आदि का सेवन कर वाहनों को चलाया जाता है, जिसके परिणामस्वरूप सडक़ दुर्घटनाओं की सम्भावनाएं भी बढ़ जाती है। इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुये 108 आपातकालीन सेवा ने दुर्घटना सम्भावित स्थानों को चिन्हित कर उन स्थानों पर 108 आपातकालीन सेवा के एम्बुलेंस वाहनों को तैनात करने का निर्णय लिया है, ताकि आवश्यकता के समय में 108 एम्बुलेंस को त्वरित रुप से घटनास्थल की ओर रवाना किया जा सके।
 
उत्तराखण्ड राज्य में 108 आपातकालीन सेवा के स्टेट हैड मनीष टिंकू ने नववर्ष के उपलक्ष्य पर राज्यवासियों एवं प्रदेश मेें  आने वाले सभी सैलानियों को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं देते हुये इस दिन को सुरक्षित रुप से मनाने का अनुरोध किया है तथा उन्होंने लोगों से अनुरोध किया है कि नव वर्ष का स्वागत भरपूर आनंद के साथ करें एवं शराब पीकर वाहन ना चलायें।    
 

राजपुर क्षेत्र की सुरक्षा भगवान भरोसे

देहरादून। राजपुर थाना क्षेत्र में रहने वालों के लिए अपने घरों को चंद घंटों के लिए भी बंद करके जाना किसी रिस्क से कम नहंी है। क्योंकि राजपुर पुलिस को न तो कप्तान की चिंता है और न ही कप्तान द्वारा अपराधों को रोकने में ही कोई दिलचस्पी है। हालात यहां इस प्रकार से बिगड़ चुके हैं कि थाना पुलिस क्षेत्रों में गश्त तक करती नजर नहीं आती। यह अलग बात है कि थाने पर बात करने पर अक्सर उनके मातहत रटे रटाए शब्दों प्रयोग कर थानेदार को क्षेत्र में गश्त करने का ही रिकार्ड बजाते नजर आते हैं। पूरे क्षेत्र में चोरों का आतंक सिर चढ कर बोल रहा है और स्थिति इस प्रकार से बिगड़ चुकी है कि चोर गिरोह एक ही मकान को बार-बार निशाना बना रहे हैं।
 
राजपुर थाना क्षेत्र में डायवर्जन से गुजरते समय लगता है कि राजपुर पुलिस की नाक के नीचे पत्ता भी नहंी फडक़ सकता लेकिन यहां तो पूरा का पूरा पेड़ ही चोर काट कर ले जाते हैं और पुलिस को भनक तक नहंी लगती। राजपुर पुलिस की अधिकांश सक्रियता चोर बदमाशों के लिए नहीं बल्कि छात्र-छात्राओं को परेशान करने भर तक ही है। अपना टाईम पास करने के लिए डायवर्जन पर खड़ी राजपुर पुलिस छात्रों के वाहनों की भीड़ लगा कर अपनी मुस्तैदी दिखाने की कोशिश तो करती है लेकिन अंधेरा शुरू होने के साथ ही यह मुस्तैदी धरी की धरी रह जाती है। इसके बाद पूरा क्षेत्र चोर गिरोहों के ईशारों पर चलता है। किस मकान को छोडऩा है और कहां चोरी करनी है यह बदमाशों पर निर्भर है। पुलिस यहां  बंद मकानों एवं सीनियर सिटीजन को सुरक्षा देने के नाम पर पूरी तरह से फेल नजर आ रही है। अभी तीन दिन पूर्व ही काठ बंगला क्षेत्र में चोरों ने एक मकान के ताले तोड़ कर लाखों की ज्वेलरी और नगदी पर हाथ साफ कर दिया तो अगले ही दिन एक वरिष्ठ नागरिक के घर को निशाना बना लिया।
 
एक रोज पहले ही कैनाल रोड निवासी रजनी देवी अपने घर को ताला लगा कर गयी थी। रजनी गुडग़ांव में अपनी बीमारी का ईलाज करा रही हैं। यहां वह अस्पताल में भर्ती हैं लेकिन उनका अपना ही घर दून में सुरक्षित नहीं था। हैरानी की बात तो यह थी कि उनके मान में तीन महिने में दूसरी बार चोरी हुई और राजपुर पुलिस ने कभी सीनियर सिटीजन होने के नाते उनकी सुध तक नहीं ली। गौरतलब है कि एसएसपी खुद सीनियर सिटीजन्स की सुरक्षा को लेकर गंभीर हैं लेकिन राजपुर पुलिस ने सीनियर सिटीजंस को दरकिनार कर अपना पूरा ध्यान मसूरी डायवर्जन पर छात्र-छात्राओं पर ही लगा दिया है। राजपुर थाना क्षेत्र शुरूआत से ही चोरों के सॉफ्ट निशाने पर रहता है लेकिन यहां आने वाले अधिकांश थानेदार क्षेत्र की सुरक्षा को लेकर फिसड्डी ही नजर आते हैं। वर्तमान समय में भी क्षेत्र के लोगों में चोरों का भय साफ देखा जा रहा है।
 

चरस के साथ युवक गिरफ्तार

देहरादून। ऋषिकेश में चरस बेचने के लिए निकले एक युवक को पुलिस ने दबोच लिया। तलाश्ीा लेने पर इसके पास से पांच सौ ग्राम चरस बरामद की गयी है। पुलिस के अनुसार इस युवक ने अपने कुछ अन्य साथियों के बारे में भी जानकारी दी है जिनके खिलाफ कार्रवाई किए जाने की तैयारी की जा रही है।
 
तीर्थनगरी में चरस के कारोबार को हवा दे रहे एक तस्कर को पुलिस ने उस वक्त धर दबोचा जब वह चरस अपने कुछ ग्राहकों को बेचने का प्रयास कर रहा था। सूचना मिलने पर पुलिस ने उसकी तलाशी ली तो इसके पास से पांच सौ ग्राम चरस बरामद की गयी। पूछताछ करने प युवक ने अपना नाम दीपक जाटव निवासी नई जाटव बस्ती ऋषिकेश बताया। वहीं पुलिस ने आरएनएस को बताया कि दीपक अन्य माध्यमों से चरस खरीदता था और इसे यहां अपने खास ग्राहकों को उपलब्ध कराता था। दीपक से पूछताछ के बाद पुलिस को कई अन्य लोगों के नाम भी पता लगे हैं जो कि इस प्रकार के धंधे  को हवा दे रहे हैं। दीपक के खिलाफ पुलिस ने एनडीपीएस एक्ट के तहत कार्रवाई करते हुए उसे जेल भेज दिया है।
 

Rajula” has been awarded with Best Film

Uttarakhand :  An Uttarakhand based feature film “Rajula” has been awarded with Best Film - Audience's Choice Award in the just concluded Delhi International Film Festival, 2012 which took place from 21st Dec to 27th Dec in New Delhi.

Rajula was earlier selected as official entry in the competition category of Delhi International Film Festival and premiered on 22nd December as the opening film of the competition category. The premiere was attended by top politicians from Uttarakhand like Shri Harish Rawat, IndraHridayesh, Bhagat Singh Koshiyari, Prasad Naithani, PradeepTamta, Mahendra Singh Mehra, and Ajay Bhatt along with advocate general, Uttarakhand U K Uniyal, BC Tripathi, chairman GAIL and other top industrialists from the state .

Rajula is the first film from Uttarakhand which has been selected and awarded at an International Film Festival. Rajula is inspired from the famous folk take of Uttarakhand "Rajula-Malushahi", a 700 year old story. Rajula is the modern interpretation of RajulaMalushahi and talks about the strength of women of Uttarakhand and their position in the society from male point of views.

Rajula stars Hemantpandey, famous film actor from Uttarakhand, Karan Sharma &AshimaPandey along with Chandra Bisht and Anil Ghildiyal

The film is written and directed by Nitin Tiwari and Produced by PriyankaChandola& Rama Upreti under the banner of Himadri productions.

The award was accepted by Film’s writer and Director Nitin Tiwari and Film’s lyricist and creative director Manoj Chandola during festival’s closing ceremony at sirifort.

On the occasion Nitin Tiwari dedicated the film to the strength of Uttarakhand’s women while Manoj Chandola spoke about the need of the hour to preserve Uttarakhand’s tradition, culture, music, literature and rich heritage










 

10 हजार हैक्टेयर भूमि में लैंड बैंक का निर्माण

देहरादून । गढ़वाल सांसद सतपाल महाराज ने कहा कि उनके अथक प्रयासों से राज्य में लैंड बैंक की स्थापना को स्वीकृति मिली है। 10 हजार हैक्टेयर भूमि में लैंड बैंक का निर्माण होगा।
 

इससे वन विभाग द्वारा जो आपत्तियां मार्गों के निर्माण के लिए लगाई जाती हैं उन्हें शीघ्रता से दूर कर मार्गों का निर्माण हो सकेगा। मार्ग निर्माण के दौरान कटने वाले वृक्षों की भरपाई लैंड बैंक द्वारा पूरी कर दी जायेगी। यह राज्य के लिए एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है। सांसद महाराज ने बताया कि जिला पंचायत एवं जिला परिषदों की बैठकों में सांसद प्रतिनिधि को नहीं बैठने दिया जाता था। इसके लिए भी उनके प्रयास से राज्य में आदेश जारी कर दिया गया है कि इन बैठकों में सांसद प्रतिनिधि बैठ सकते है। इससे वहां की समस्याओं को दूर करने में तथा उनसे अवगत होने में सहायता मिलेगी। ादल्ली में संसद सत्र के समय जब सांसद वहां होते हैं, ऐसे मे होने वाली बैठकों में उनके द्वारा नामित व्यक्ति भाग ले कर क्षेत्र की समस्याओं के समाधान के विशय में बात कर सकता है।
 

गढ़वाल सांसद सतपाल महाराज ने आगे कहा कि पर्वतीय क्षेत्रों में मिलते जुलते नामों से गांव होते हैं ऐसे में पी$एमज़ी$एस$वाई$ के अन्तर्गत चूक वश यदि किसी अनिर्मित मार्ग को संयोजित दिखा दिया जाता है तो उस मार्ग के संशोधन के लिए बड़ी लम्बी प्रक्रिया है जिसके कारण वह वर्षों तक अनिर्मित रहता है। उन्होंने कहा कि सरकार को जिलाधिकारी को शक्ति देनी चाहिए कि उसकी रिपोर्ट पर ही इसमें शीइा्र संशोधन कर मार्ग का निर्माण करवाया जाना चाहिए। जटिल प्रक्रिया के कारण मार्ग निर्माण लम्बित रहने से जनता को परेषानी का सामना करना पड़ता है। उन्होंने मांग की कि इस प्रक्रिया को जिलाधिकारी की रिपोर्ट पर ही दूर करनी चाहिए।
 
 

 

अवैध शराब परोस रहे दुकान स्वामी पर मुकदमा

देहरादून । शहर की नामी मच्छी की दुकान पर अवैध तरीके से शराब परोसे जाने का खुलासा नगर कोतवाली पुलिस ने किया है। पुलिस दबिश के दौरान ग्राहकों को दुकान के भीतर शराब का सेवन करते पाया गया। दुकान स्वामी पर आबकारी अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।
 

नियम कायदे जानते हुए भी राजधानी के लोग किस तरह कानूनी प्रक्रियाओं की धज्जियां उड़ा रहे हैं, बानगी देखने को मिली है। नगर कोतवाली पुलिस के अनुसार क्रास रोड स्थित तारा मच्छी वाले की दुकान पर अवैध तरीके से शराब परोसे जाने की शिकायत पर वहां धावा बोला गया। इस दौरान बिना लाइसेंस के दुकान में ग्राहकों को शराब परोसे जाना पकड़ा गया। चौकी प्रभारी धारा नीरज कुमार की तरफ से इस संबंध में कुलवंत सिंह उर्फ रिंकू पुत्र तारा सिंह निवासी आंेकार रोड पर मुकदमा दर्ज कराया गया है। पुलिस ने कुलवंत को गिरफ्तार कर लिए जाने की बात कही है।
 

वहीं दूसरी ओर रानीपोखरी पुलिस ने ऋषिकेश स्थित जाटव बस्ती निवासी सपना देवी पत्नी राजकुमार को देशी शराब की तस्करी करते गिरफ्तार किया है। थाने में शराब के साथ पकड़ी गई महिला पर आबकारी अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज करने के उपरांत कोर्ट में पेशी के बाद उसे जेल भेज दिया गया।

 

फील्ड अधिकारी ने दी झूठी रिर्पोट

देहरादून । योगराज गिरोह के झांसे में आकर उसके बताए अनुसार लोन कागजों की जांच में खानापूर्ति कर डिस्ट्रिक्ट काआपरेटिव बैंक के फील्ड अधिकारी दिनेश बड़थ्वाल ने लोन आवेदन प्रपत्रों में लगे कागजों की जांच भलीभांति करने और पेश किए दावों की सत्यता को परखने की झूठी रिपोर्ट बैंक उच्चाधिकारियों को दी। जिसके आधार पर योगराज गिरोह के लिए पन्द्रह लाख लेने का रास्ता साफ हो गया।
 

आरएनएस को मिली जानकारी के अनुसार दूसरों की जमीन पर फर्जीवाड़ा कर तैयार कराए कागजों को बैंको में गिरवी रखकर लोन लेने का कार्य करने वाले योगराज गिरोह का अजीबो गरीब कारनामा सामने आया है। जहां आम लोगों को जरूरत के लिए लोन लेने के लिए बैंक जाने पर बैंक अधिकारी लोन संबंधी कागजों को पूरा करने की बात बताते हैं, वहीं बताया जा रहा कि योगराज गिरोह फर्जी तरीके से लोन आवेदन संबंधी कागजात पूरे करने के बाद ही बैंक में लोन आवेदन करता है। नेहरूग्राम निवासी भूतपूर्व सैनिक भीम सिंह पुत्र नारायण सिंह की जमीन पर फर्जीवाड़ा कर लोन लेकर योगराज गिरोह पूरी रकम डकार गया, लेकिन बैंक अधिकारियों को फर्जीवाड़े का पता ही नहीं चला। हैरत है कि पीडि़त की तरफ से बैंक को बीती ८ अगस्त २०१२ को ही इस फर्जीवाड़े के संबंध में अवगत करा दिया गया था। लेकिन आज २८ दिसंबर २०१२ तक भी बैंक की तरफ से पुलिस में इस फर्जीवाड़े की रिपोर्ट दर्ज नहीं कराई गई।
 

सूत्रों की माने तो योगराज गिरोह ने इस फर्जीवाड़े के लिए तानाबाना बुनते हुए काआपरेटिव बैंक में लोन आवेदन किया। २८ मई २०१० को लोन पास होना बताया जा रहा है। १६ जून २०१० को रायपुर स्थित आरियंट बैंक ऑफ कामर्स पर योगराज के नौकर प्रकाश के नाम से फर्जी तरीके से खोले गए भीम सिंह पुत्र देवी सिंह निवासी ५२ आई ऋषिनगर के एकाउंट पर लोन प्रदाता बैंक ने १५ लाख का ड्राफ्ट जारी भी कर दिया। इस फर्जी एकाउंट में सुनील पुत्र शफरीलाल निवासी मधुर विहार लेन नम्बर-१ सहस्त्रधारा रोड तथा योगराज सैनी पुत्र कंटू सिंह निवासी सुन्दरवाला गवाह बने हुए हैं। हैरत देखिए जिस खसरा नम्बर १७२६ पर डिस्ट्रिक्ट कॉआपरेटिव बैंक ने लोन १६ जून १० को जारी किया, उस रजिस्ट्री को बैंक में साल २०११ में जमा कराया गया।

 

निशुल्क कैंसर शिविर 30 को

ऋषिकेश । गंगा प्रेम हास्पिस द्वारा एक दिवसीय निशुल्क कैंसर शिविर का आयोजन ३० दिसम्बर (रविवार) को पंजाब सिंध क्षेत्र स्थित सरदारनी नानकी देवी अस्पताल में सुबह नौ बजे से लेकर दोपहर एक बजे तक किया जा रहा  है, जिसमें कैंसर विशेषज्ञ एके दिवान, वरिष्ठ महिला रोग विशेषज्ञ रूपाली दिवान व सामान्य रोग विशेषज्ञ जीएस वत्स आदि रोगियों को निशुल्क परामर्श देंगे।


 

सामूहिक कृत्रिम गर्भाधान योजना शिविर का आयोजन

देहरादून । पशुपालन विभाग देहरादून द्वारा आतमा परियोजना के तहत इनोवेटिव एक्टिविटी में सामूहिक कृत्रिम गर्भाधान योजना के अंतर्गत न्याय पंचायत भगवन्तपुर के ग्राम सिनौला, जोहड़ी, मालसी एवं गुनियाल गांव तथा न्याय पंचायत खैरीमान सिंह के ग्राम कुल्हाड़ एवं गुजराड़ा में पशुओं में सामूहिक कृत्रिम गर्भाधान योजना शिविर का आयोजन किया गया।
 

शिविर की अध्यक्षता करते हुए मुख्य पशुचिकित्सा अधिकारी डा$ अविनाश आनन्द ने पशुपालकों को योजना के उद्देश्य एवं होने वाले लाभों की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि इस योजना से एक क्षेत्र की सभी गायों को एक साथ कृत्रिम गर्भाधान कर उनसे एक निर्धारित तिथि को संतति पैदा होंगी तथा साथ ही क्षेत्र के दुग्ध उत्पादन में अप्रत्याशित वृद्घि हासिल की जा सकती है। उन्होंने कहा कि इस प्रकार की विधि अपनाने से कए क्षेत्र के समस्त पशुओं को विभागीय अधिकारियों/कर्मचारियों द्वारा एक ही बार में स्वास्थ्य परीक्षण, टीकाकरण एवं कृत्रिम गर्भाधान आदि की सुविधा प्रदान कर प्रभावी परिणाम प्राप्त किया जा सकता है।

उन्होंने बताया  िकइस योजना के अंतर्गत गरमी (हीट) में न आने वाले पशुओं के स्वास्थ्य का परीक्षण एवं सामूहिक कृत्रिम गर्भाधान के उद्देश्य से दोनों न्याय पंचायतों में 25-25 पशुओं का चयन किया गया तथा शिविर में उक्त पशुओं का स्वास्थ्य परीक्षण कर कृमिनाशक औषधियां, मिनरल मिक्चर, चाटन भेली एवं चारा भेली का निशुल्क वितरण किया गया। इसके साथ ही पशुओं का एक वर्ष के लिए निशुल्क बीमा भी कराया गया। पशुपालकों ने उत्साह के साथ योजना को अपनाया एवं प्रसन्नता व्यक्त करते हुए योजना की प्रशंसा की। मुख्य पशुचिकित्सा अधिकारी ने यह भी अवगत कराया कि सामूहिक कृत्रिम गर्भाधान योजना के परिणाम 10 माह बाद उत्पन्न संतति के रूप में प्राप्त होंगे तत्पश्चात पुन: क्षेत्र में प्रदर्शनी लगाकर पशुपालकों को विभागीय सुविधा उलब्ध करायी जायेगी।
 

शिविर में विशेष अतिथि के रूप में आमंत्रित श्रीमती विमला देवी क्षेत्र पंचायत सदस्य मालसी ने सम्बोधित करते हुए जनता को विभागीय सुविधाओं का लाभ उठाने हेतु जागरूक होने के लिए कहा। शिविर में डा$ शैलेन्द्र वशिष्ठ, डा$ मनीष पटेल, डा$ ब्रजेश रावत, डा$ अमित पंवार, डा$ राकेश नौटियाल, नन्दकिशोर बिष्ट पशुधन प्रसार अधिकारी, वीरेन्द्र रतूड़ी, श्रीमती अलका शाह, आजाद राणा आदि उपस्थित थे।
 

हाड़ कंपा देने वाली सर्दी में नौनिहाल फर्श पर बैठने को मजबूर

विकासनगर । सरकारी मानक में कितनी संवेदनशीलता है, इसका अंदाजा इसी बात से चल जाता है कि सरकार द्वारा संचालित आंगनबाड़ी केंद्रों में दिसंबर की हाड़ कंपा देने वाली सर्दी में भी छोटे-छोटे नौनिहाल फर्श पर बैठने को मजबूर हैं। दिसंबर में सभी शिक्षण संस्थाओं में शीतकालीन अवकाश शुरू हो गए हैं, लेकिन यह नियम केंद्रों पर लागू नहीं हैं। वैसे भी आंगनबाड़ी केंद्रों में अवकाश की कोई व्यवस्था ही लागू नहीं की है।
 

एक ओर तो पूरे प्रदेश की शिक्षण संस्थाओं में शीतकालीन अवकाश चल रहा है, तो दूसरी ओर एक से चार साल तक के नौनिहालों के लिए संचालित होने वाले आंगनबाड़ी केंद्र अनवरत रूप से खुले हुए हैं। बताते चलें कि प्रदेश में बाल विकास परियोजना व सर्व शिक्षा अभियान, अलग-अलग व्यवस्था के तहत आंगनबाड़ी केंद्र संचालित हो रहे हैं। इनमें से सर्व शिक्षा अभियान के तहत अधिकांश आंगनबाड़ी केंद्रों ने स्वघोषित अवकाश कर रखा है, जबकि बाल विकास परियोजना से सीधे संचालित हो रहे आंगनबाड़ी केंद्रों में अवकाश घोषित नहीं हुआ है।
 

दिलचस्प बात यह है कि दोनों केंद्रों की फंडिंग बाल विकास परियोजना से ही होती है। सरकार द्वारा इन केंद्रों में अवकाश का कोई प्रावधान न होने के कारण दिसंबर की सर्दी में भी नौनिहाल कडक़ड़ाती ठंड में फर्श पर बैठ कर पढ़ाई करने को मजबूर हैं। वहीं इन केंद्रों में नौनिहालों के लिए फर्नीचर भी उपलब्ध नहीं कराया जाता है। उधर, विभागीय अधिकारियों से इस संबंध में संपर्क करने पर हर किसी ने अवकाश पर होने या प्रदेश से बाहर होने की बात कहकर पल्ला झाड़ दिया। जिलाधिकारी डॉ. बीवीआरसी पुरुषोत्तम, का कहना है कि आंगनबाड़ी केंद्रों का यह मामला उनके संज्ञान में आया है। इस पर सहानुभूतिपूर्वक विचार किया जा रहा है।


 

नगर निकाय क्षेत्रों के सीमा विस्तार के लिए अधिसूचना जारी

देहरादून l शहरी विकास मंत्री प्रीतम सिंह पंवार ने बताया कि आगामी माह अप्रैल 2013 तक नगर निकाय चुनाव सम्पादित कर लिये जायेंगे। उन्होने कहा कि नगर निकाय क्षेत्रों के सीमा विस्तार के लिए अधिसूचना जारी की जा चुकी है। तथा नगर निकायों में नये क्षेत्रों को शामिल करने के लिए नगर पालिका के माध्यम से सम्बन्धित जिलाधिकारियों के द्वारा शासन में प्रस्ताव आयेंगे, जिसके बाद सीमा विस्तार प्रक्रिया को अन्तिम रूप दिया जायेगा।

उन्होने कहा कि नये नगर निगम हल्द्वानी तथा हरिद्वार के सीमा विस्तार सम्बन्धी प्रस्तावों पर भी कार्यवाही गतिमान है। उन्होने कहा कि नये नगर निगमों का भी चुनाव आम नगर निकायों के चुनावों के साथ कराया जायेगा। उन्होने कहा कि नगर निकायों के आस पास के गांवो के नगर निकायों में संविलियन से सम्बन्धित अधिसूचना शासन द्वारा जारी की जा चुकी है, तथा उनसे सम्बन्धित गांव के लोगों द्वारा उठाये आपत्तियों का निराकरण निर्धारित प्रक्रिया द्वारा सम्बन्धित जिले के जिलाधिकारियों द्वारा किया जायेगा। उन्होने कहा कि सीमा विस्तार में सम्मिलित किये जाने वाले गांवो को वहां की जनता की भावनाओं के अनुरूप ही शामिल किया जायेगा। उन्होने बताया कि कतिपय वार्डों के परिसीमन के प्रस्ताव भी शासन में प्राप्त हो गये हैं, जिनको अन्तिम रूप शीघ्र दिया जायेगा।
 

जेएनएनयूआरएम तथा एडीबी योजना के अन्तर्गत प्रदेश में निर्माणाधीन कार्यांे की प्रगति पर उन्होने बताया कि उनके द्वारा प्रदेश में इन योजनाओं में संचालित कार्यों की लगातार समीक्षा की जा रही है। उन्होने कहा कि जेएनएनयूआरएम में तेजी से काम हुआ हैं तथा एडीबी योजना के अन्तर्गत लगभग 40से45 प्रतिशत कार्य पूर्ण हो चुका है। उन्होने कहा कि एडीबी योजना की धीमी गति का कारण पुराने ठेकेदारों की लापरवाही है, जिनको चिन्हित कर ऐसे ठेकेदारों की निविदा समाप्त करने के भी कठोर कदम उठाये जायेंगे।
 

शपथ ग्रहण समारोह आयोजित

हरिद्वार । इलैक्ट्रो होम्योपैथिक मेडिकल एसोसियेशन हरिद्वार का जिलास्तरीय शपथ ग्रहण समारोह किया गया।  जिसमें पूर्व मंत्री संजय पालीवाल ने मेडिकल ऐसोशियेशन के सदस्यों को शपथ ग्रहण कराई।  उन्होने शपथ ग्रहण समारोह में उपस्थित लोगो को कहा मानव सेवा सबसे बडी सेवा हैं । आज चिकित्सक अपनी सेवा से हमारे जीवन के कष्टों को दूर करता है।  चिकित्सक समय समय पर हमारी मदद करता है ।

उन्होने सभी चिकित्सकों को अपील करते हुए कहा बाढ ग्रस्त क्षेत्रों मे व पर्वतीय क्षेत्रों ग्रामीण क्षेत्रों मे अपनी सेवाएं दें। साथ ही उन्होने लोगो को बेहतर से बेहतर चिकित्सा उपलब्ध कराने की अपील की है। उन्होने चिकित्सको से कहा पर्वतीय क्षेत्रों मे समय समय पर कैम्प लगाकर  लोगो को अपनी सेवाएं दे।  जिसके लिये हम भी तैयार है और सरकार से भी मदद करांगे मेडिकल ऐसोसियेशन के अध्यक्ष के पी एस चौहान ने कहा  होम्योपेथिक पद्घति में सभी इलाज सम्भव हैं । इस दवाई से किसी को भी कोई दूस्प्रभाव नहीं पडता बेहतर से बेहतर चिकित्सा हम लोगो को इसी माध्यम से दे रहे हैं । होम्योपैथिक पद्घति चिकित्सा क्षेत्र मे अग्रणी भूमि निभा रही हैं । उन्होने सभी षपथ लेने वाले चिकित्सकों को बधाई देते हुए कहा मानव सेवा करें व बेहतर चिकित्सा लेागो को दे । उपस्थित लोगो में डॉ मीनाक्षी, पवन तोमर, आदेश चौहान, सुबोध चौहान, डॉ तलहा, डॉ राकेश आदि मौजूद थे।   

 

जीनोमिक्स तकनीक पर हुआ प्रशिक्षण का उद्घाटन

पंतनगर। विश्वविद्यालय के आणविक जीव विज्ञान एवं अनुवांशिकी प्रौद्योगिकी (एम$बीज़ी$ई$) विभाग में आज से ‘फसल उन्नयन में जीनोमिक्स का प्रयोग’ विषय पर एक प्रशिक्षण कार्यक्रम प्रारम्भ किया गया जिसका उद्घाटन सत्र मानविकी महाविद्यालय के पर्यावरण विभाग स्थित सभागार में आयोजित हुआ। उद्घाटन सत्र के मुख्य अतिथि कुमाऊँ विश्वविद्यालय के कुलपति, डा$ राकेश भट्नागर थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता पंतनगर विश्वविद्यालय के कार्यवाहक कुलपति एवं कुलसचिव, डा$ जे$पी$ पाण्डे, ने की। भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान स्थित पादप बायोतकनीक के राष्ट्रीय अनुसंधान केन्द्र (एन$आर$सी$पी$बी$) के नेशनल प्रोफेसर, डा$ एन$के$ सिंह, विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित थे। अधिष्ठात्री मानविकी, डा$ उमा मलकानिया; प्रशिक्षण निदेशक, डा$ अनिल कुमार; एवं प्रशिक्षण संयोजक, डा$ दिनेश पाण्डे भी इस अवसर पर मंचासीन थे।
 

अपने उद्घाटन संबोधन में डा$ भटनागर ने कहा कि देश की 1$2 अरब की जनसंख्या को कुपोषण से बचाने के लिए उसे अधिक गुणवत्तायुक्त एवं अधिक खाद्य पदार्थ उपलब्ध कराने की आवश्यकता है। उनके अनुसार अभी भी भारत में सभी को भोजन तथा बहुतों को पोषक भोजन नहीं मिल पा रहा है जिससे कुपोषण दूर करने की गंभीर चुनौती वैज्ञानिकों के सामने बनी हुई है। उन्होंने आशा प्रकट की कि यह प्रशिक्षण फसल उन्नयन के लिए आवश्यक तकनीक के क्षेत्र में मानव संसाधन विकसित करने में सहयोग करेगा जो कुपोषण दूर करने में अगला कदम होगा। डा$ भटनागर ने भारत में स्कूली शिक्षा पर अधिक ध्यान देने तथा परा-स्नातक स्तर के विद्यार्थियों को स्वतंत्र सोच विकसित करने का अवसर प्रदान करने पर बल दिया।
 

डा$ जे$पी$ पाण्डे ने अपने अध्यक्षीय संबोधन में कहा कि भारत में उत्पादन वृद्घि व खाद्यान्न आत्मनिर्भरता के दो चरणों को पार करने के बाद अब तीसरे चरण में कृषि में गुणवत्ता पूर्ण उत्पाद की ओर कृषि वैज्ञानिकों को अधिक ध्यान देना है। इसके लिए डा$ पाण्डे ने पोषणयुक्त प्रजातियों के विकास के साथ-साथ अधिक उत्पादन हेतु आधुनिक तकनीकों का सहारा लिये जाने की आवश्यकता बतायी। उन्होंने जीनोमिक्स को उच्च गुणवत्तायुक्त डिजाइनर फसलों के विकास के द्वार खोलने वाली तकनीक बताते हुए वैज्ञानिकों से किसानों की क्रय क्षमता के अनुरूप फसल प्रजातियां विकसित करने के लिए कहा।
 

डा$ एन$के$ सिंह ने जेनेटिकली मॉडीफाइड (जी$एम$) फसलों की वकालत करते हुए कहा कि जी$एम$ तकनीक सबसे शक्तिषाली व सुरक्षित आधुनिक तकनीकों में से एक है, जिससे गुणवत्तायुक्त व अधिक उत्पादन  प्राप्त किया जा सकता है, जिसका प्रमाण कपास की जी$एम$ फसल है। उन्होंने इस बारे में भ्रांतियों को दूर किये जाने की आवश्यकता बतायी। इससे पूर्व डा$ मलकानिया ने सभी का स्वागत करते हुए अपने महाविद्यालय के 10 विभगों व इनमें चल रहे पाठ्यक्रमों की जानकारी दी। डा$ अनिल कुमार ने प्रशिक्षण के बारे में तथा विभाग के रजत जयंती वर्ष में चल रहे कार्यक्रमों के बारे में भी बताया। अंत में प्रशिक्षण संयोजक, डा$ दिनेश पाण्डे ने सभी को धन्यवाद ज्ञापित किया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि व विशिष्ट अतिथि को शाल ओढ़ाकर व प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित भी किया गया तथा अतिथियों द्वारा दो प्रकाशनों का विमोचन किया गया। इस प्रशिक्षण में देश के 10 राज्यों के 22 वैज्ञानिक प्रतिभागिता कर रहे हैं।

 

बीस सूत्रीय कार्यक्रम में मंडल की कमजोर स्थिति

पिथौरागढ़ । आयुक्त कुमाऊं मंडल डा$ हेमलता ढौढि़याल ने वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से बीस सूत्रीय कार्यक्रम में मंडल की कमजोर स्थिति पर नाराजगी व्यक्त करते हुए सभी सूत्रों में मंडल के सभी जिलाधिकारियों को जनवरी तक प्रथम श्रेणी  प्राप्त करने के साथ जिलाधिकारियों को समय-समय पर विभागों की समीक्षा करने और अधिकारियों पर नकेल कसने के निर्देश दिये। उन्होंने लोक निर्माण विभाग और पीएमजीएसवाई की धीमी प्रगति पर भी नाराजगी व्यक्त की और कड़े निर्देश दिये कि जनवरी तक लंबित वन भूमि हस्तान्तरण के मामलों को नोडल और उच्च स्तर से व्यक्तिगत रूचि लेते हुए निस्तारण करायें और इसमें किसी भी तरह की शिथिलता न बरतें।
 

मंडलायुक्त ने जिला व राज्य योजनाओं में लोनिवि व पीएमजीएसवाई के लंबित कार्यो और अभी तक नये कार्यो में प्रगति न आने तथा सडक़ों की शिकायतें  प्राप्त होने को गंभीरता से लिया। मंडलायुक्त ने जिला, राज्य, केन्द्र व बाह्य सहायतित योजनाओं में अभी तक 50 प्रतिशत व्यय न करने वाले अधिकारियों पर सख्ती बरतने और कार्यो में निगरानी बढ़ाने के निर्देश जिलाधिकारियों को दिये। उन्होंने विभागीय अधिकारियों को अवशेष की प्रवृत्ति पर अंकुश लगाने और कार्यो में व्यक्तिगत रूचि लेने के निर्देश दिये।
 

जिलाधिकारी सीएमएस बिष्ट ने मंडलायुक्त को बताया कि लोनिवि के अधिकतर मामले वन भूमि हस्तान्तरण न होने के कारण रूके हैं जिसके लिए वनाधिकारी को व्यक्तिगत रूचि लेकर वन भूमि हस्तान्तरण के मामलों के निस्तारण में तेजी लाने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने बताया कि पीएमजीएसवाई के अंतर्गत 7 कार्यो की सैद्घान्ति स्वीकृति  प्राप्त हो गई है और पुराने कार्यो में 11 प्रगति पर और 3 कार्य पूर्ण कर लिये गये हैं। जिलाधिकारी ने कहा कि पुराने कार्यो को पूर्ण करने में प्राथमिकता दी जा रही है जिससे अगले माहों तक प्रगति आयेगी। नगरीय सीवर लाइन की स्थित पर जिलाधिकारी ने बताया कि नगरीय सीवर का कार्य धनाभाव के कारण रूका हुआ है तथा बीएडीपी के अंतर्गत मुनस्यारी में केन्द्रीय लोक निर्माण विभाग द्वारा कार्य प्रारम्भ कर धनराशि व्यय की जायेगी।
 

मंडलायुक्त ने जनपद में तेजी से हो रहे कार्यो की प्रगति पर संतोष व्यक्त करते हुए सभी जिलाधिकारी को चेताया कि माह जनवरी तक 70 प्रतिशत से अधिक व्यय कर कार्यो में समयबद्घता और गुणवत्ता बनाये रखें। उन्होंने अधिकारियों से संवेदनशील और जागरूक होकर कार्य करने की नसीहत दी और जनपद में पेंशन आदि के मामलों को तेजी से निस्तारण करने के निर्देश दिये। वीडियो कांफ्रेंस में मुख्य विकास अधिकारी डा$राघव लंगर, मुख्य चिकित्सा अधिकारी, अपर जिलाधिकारी, उप जिलाधिकारी, समाज कल्याण अधिकारी सहित अन्य सभी अधिकारी उपस्थित थे। 
 
 

रैली की तैयारियों को लेकर रूपरेखा तैयार

नैनीताल । उत्तराखंड कांग्रेस कमेटी के तत्वाधान में एफ.डी.आई के समर्थन में ३० दिसंबर को रूडक़ी में विशाल रैली निकाली जायेगी। इस सन्दर्भ में जानकारी देते हुये रैली के जिला संयोजक नारायण पाल ने आरएनएस को बताया कि  रैली को लेकर सभी तैयारियां पूर्ण कर ली गई हैं। उन्होंने कहा रैली को लेकर कांग्रेस कार्यकर्ताओं में काफी उत्साह है।

श्री पाल ने कहा एफ.डी.आई को लेकर भाजपा समेत अन्य राजनैतिक दल दुष्प्रचार कर जनता को भ्रमित कर रहें है। उन्होंने कहा एफ.डी.आई से सबसे ज्यादा फायदा किसानों को पहुंचेगा और बिचौलिया संस्कृति का भी खात्मा होगा। श्री पाल ने कहा रैली की सफलता के लिये जिले के प्रत्येक शहर में कांग्रेस कार्यकर्ताओं की बैठक आयोजित कर उचित दिशा निर्देश कार्यकर्ताओं को जारी किये जा चुके हैं। उन्होंने बताया रैली में उत्तराखंड के मुख्यमंत्री समेत समस्त सांसद, कांग्रेसी विधायक, केन्द्रीय मंत्री हरीश रावत समेत कई अन्य मंत्री भाग लेंगे। श्री पाल ने कहा मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा के नेतृत्व में प्रदेश में विकास कार्यों में गति आई है। बेरोजगारों को रोजगार उपलब्ध कराने के उद्देश्य से सरकार द्वारा कई कल्याणकारी योजनायें चलाई जा रही हैं। पत्रकार वार्ता के दौरान पूर्व संासद डा० महेन्द्र पाल सिंह, जिलाध्यक्ष सतीश नैनवाल, गोपाल बिष्ट, राजेश वर्मा, अजमल हुसैन समेत कई पार्टी कार्यकर्ता मौजूद थे।

 

समस्याओं से घिरा ऐतिहासिक विद्यालय

रुद्रप्रयाग । संस्कृत भाषा के प्रति जागरूक पैदा करने के लिये वर्ष 1924 में विद्यापीठ में संस्कृत महाविद्यालय की स्थापना की गयी। अपने स्थापना काल से लेकर अब तक यह विद्यालय विभिन्न समस्याओं से घिरा है। पूर्व विधायक  स्व0 गंगाधर मैठाणी के सद्प्रयासों से क्षेत्र में संस्कृत विषय में उच्च शिक्षा लेने के लिये विद्यापीठ में संस्कृत महाविद्यालय में आचार्य तक की कक्षायें संचालित होने लगी। श्री केदारनाथ सनातन स्नात्कोत्तर संस्कृत महाविद्यालय को सर्वप्रथम  केदारनाथ के रावल द्वारा संचालित किया गया। इस महाविद्यालय के पूर्व प्रबन्धक श्री 1008 रावल नीलकंठ थे। संस्कृत महाविद्यालय के साथ ही प्रदेश में आयुर्वेद की शिक्षा को बढ़ावा देने के लिये वर्ष 1947 में आयुर्वेद की भी स्थापना की गयी। श्री बद्री केदार मंदिर समिति द्वारा वर्र्ष 1976 में इस विद्यालय को अंगीकृत किया गया, और गोविन्द प्रसाद डिमरी को समिति द्वारा प्रथम प्रबन्धक बनाया गया।
 

विद्यालय में पूर्व मध्यमा, उत्तरमध्यमा , शास्त्री तथा आचार्य की कक्षायें संचालित होने लगी। वर्तमान में आचार्य कक्षा में 210 संस्थागत छात्र हैं । विद्यालय में राज्यानुदान से ग्यारह स्वीकृत पद हैं जिनमें से महज तीन की नियुक्तियां विद्यालय में की गयी है, बाकी नियुक्तियां बद्री केदार मंदिर समिति द्वारा की गयी हैं। लेकिन विद्यालय में छात्रावास की उचित व्यवस्था न होने से यहां शिक्षा लेने वाले छात्रों को दूर से आना पड़ता है। बीसवीं दशक के बने छात्रावास भी उपेक्षा के चलते कभी भी जमींदोज हो सकते हैं।  हांलाकि समिति द्वारा यहां पर 18 कमरों के छात्रावास का निर्माण किया जा रहा है, लेकिन एक अदद कीचन न होने से छात्रों को मैस जैसी मुश्किलों से जूझना पड़ सकता है।
 

संस्कृत महाविद्यालय विद्यापीठ में कर्मचारियों का टोटा तो है ही , वहीं अनियमित जलापूर्ति से भी छात्रों तथा अध्यापकों को जूझना  पड़ता है। प्रधानाचार्य दिनेश चन्द्र कहते हैं कि सितम्बर में हुयी क्षेत्र  में भयंकर त्रासदी के चलते जगह जगह पेयजल लाइनें क्षतिग्रस्त हो चुकी है,उन्होने आरएनएस को बताया कि विभाग के कर्मचारी हांलाकि लाइनों के दुरूस्तीकरण तो किया जा रहा है, लेकिन अभी तक मरम्मत का कार्य पूर्ण न होने से पेयजल किल्लत से जूझना पड़ रहा है।

पूर्व प्रमुख ममता नौटियाल, क्षेपस कमल सिह, प्रदेश सदस्य पर्वतीय विकास परिषद उ0प्र0 डां0 आशुतोष किमोठी , सामाजिक कार्यकर्ता विपिन सेमवाल, रश्मि नेगी, कुंवरी बत्र्वाल , गंगोत्री राणा, सुनीता शुक्ला, पं0 वेदप्रकाश ,मनोज पाण्डेय, पूर्व प्रधानाचार्य गजपाल सिंह रावत, मदन कोटवाल आदि ने आरएनएस को बताया कि विद्यापीठ शिक्षा का ही केन्द्र नहीं है, ूल्कि संस्कृत भाषा से लोगो को जागरूक करने का विषय भी है। उन्होने कहा कि आचार्य करके छात्र बीएड के लिये अन्यत्र पलायन कर रहे हैं उन्होने कहा कि सरकार को जनभावनाओं को ध्यान रखते हुये यहां पर बीएड शिक्षाशास्त्री की कक्षायें भी प्रारम्भ करनी चाहिये ,ताकि क्षेत्र के युवाओ को उच्च शिक्षा के लिये अन्यत्र ना जाना पड़े।
 

कर्मचारियों को आज भी कॉल लेटर का है इंतजार

कोटद्वार । पांच वर्ष से अधिक समय बीत गया कॉल लेटर के इंतजार में, लेकिन शासन है अभी भी बेसुध है। यहां बात हो रही है सितंबर 2007 में राजस्व विभाग में चतुर्थ श्रेणी कर्मियों की भर्ती के लिए आवेदन करने वाले उन आठ हजार युवाओं की, जिन्हें आज भी साक्षात्कार के लिए कॉल लेटर का इंतजार है।
सरकार बेरोजगारों को रोजगार मुहैया कराने के दावे तो कर रही है लेकिन, इन दावों की जमीनी हकीकत बेहद कड़वी है। विश्वास न हो तो जिलाधिकारी गढ़वाल की ओर से छह सितंबर 2007 को जारी एक विज्ञप्ति पर नजर डालें। इस विज्ञप्ति में जनपद गढ़वाल के राजस्व विभाग के अंर्तगत समूह घ के अनुसेवक, चौकीदार, सफाई नायक/चैन मैन/पटवारी चपरासी के 150 रिक्त पदों पर सीधी भर्ती हेतु आवेदन आमंत्रित किए गए थे। 8010 बेरोजगारों ने इन पदों के लिए आवेदन किया जिससे शासन को करीब सवा तीन लाख रुपये का राजस्व प्राप्त हुआ। आलम यह है कि नियुक्ति देना तो दूर, इन बेरोजगारों को आज तक इंटरव्यू का बुलावा नहीं भेजा गया है।
 

समाजसेवी जेएस राणा ने सूचना अधिकारी अधिनियम में जिलाधिकारी से इस संबंध में जानकारी मांगी, तो पता चला कि चयन हेतु शासन से आवश्यक दिशा-निर्देश नहीं मिले हैं। श्री राणा ने उत्तराखंड शासन (राजस्व अनुभाग) में अपील की तो बताया गया कि अपर सचिव (राजस्व) ने 08 जनवरी 2008 को जिलाधिकारी, गढ़वाल को समूह घ के रिक्त पदों पर समूह घ कर्मचारी सेवा नियमावली, 2004 के अनुसार साक्षात्कार के माध्यम से चयन की कार्रवाई सुनिश्चित करने के निर्देश दे दिए हैं।
 

शासन के मिले जवाब के बाद श्री राणा ने पुन: जिलाधिकारी से उक्त विषय पर सूचना चाही। 16 जनवरी 09 को डीएम कार्यालय से जारी पत्र में कहा गया कि शासन की ओर से समूह घ के भर्ती चयन हेतु स्पष्ट दिशा-निर्देश न मिल पाने के कारण चयन प्रक्रिया शुरू नहीं हो पा रही है। मामला विभागीय अपीलीय अधिकारी/मंडलायुक्त के पास पहुंचा तो 16 जनवरी 2009 को तत्कालीन मंडलायुक्त ने लोसूअ/जिलाधिकारी को अविलंब चयन प्रक्रिया आरंभ करने के निर्देश दिए, लेकिन आज तक उक्त निर्देशों का अनुपालन नहीं हो पाया है।

एक ओर चतुर्थ श्रेणी पदों के लिए आवेदन करने वालों की शासन सुध नहीं ले रहा, वहीं दूसरी ओर राजस्व विभाग चतुर्थ श्रेणी कर्मियों की कमी से जूझ रहा है। विभागीय सूत्रों से आरएनएस को मिली जानकारी के अनुसार जनपद में राजस्व विभाग में चतुर्थ श्रेणी कर्मियों के करीब पौने दो सौ पद रिक्त पड़े हुए हैं, जिस कारण राजकीय कार्यो के निर्वहन में भारी परेशानियां हो रही हैं।

 

मार्च तक मिलेगी बैंक को सीबीएस व एटीएम की सेवा

 कोटद्वार । जिला सहकारी बैंक के प्रशासक अर्जुन सिंह बिष्ट ने कहा कि डीसीबी की बैंकिंग सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए आगामी मार्च तक बैंक को सीबीएस करने सहित एटीएम सेवा शुरू कर दी जाएगी।
 

डीसीबी मुख्यालय में आयोजित पत्रकार वार्ता में श्री बिष्ट ने यह जानकारी दी। उन्होंने आरएनएस को बताया कि राष्ट्रीयकृत बैंकों से बेहतर सेवा देने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। इसके तहत बैंक को सीबीएस बनाने के लिए नाबार्ड, विप्रो व बैंक के बीच करार किया जा चुका है। गांव-गांव तक बैंकिंग सेवा पहुंचाने व स्थानीय बेरोजगारों को रोजगार देने के लिए बैंक के अंतर्गत 132 सहकारी समितियों में मिनी बैंकों का संचालन किया जा रहा है, जिनमें जनता का करीब 42 करोड़ रुपए बचत जमा है।

उन्होंने बैंक की प्रगति पर संतोष जताते हुए कहा कि मौजूदा वर्ष में बैंक को करीब चार करोड़ का मुनाफा हुआ है, वहीं कुल सुरक्षित एवं अन्य कोष में करीब दो करोड़ की वृद्धि हुई है। जमा धनराशि को बढ़ाने के लिए आगामी वित्त वर्ष में डेली डिपोजिट स्कीम को लागू किया जाएगा। उन्होंने बताया कि 30 दिसंबर को होने वाली बैंक की वार्षिक आम सभा (एजीएम) बैंकिंग सेवा को सुधारने के लिए विभिन्न प्रस्तावों पर चर्चा की जाएगी। पत्रकार वार्ता में बैंक के सचिव/महाप्रबंधकसत्यपाल सिंह नेगी मौजूद रहे।

 

मनरेगा में सौ दिन गारंटी रोजगार बेमानी

उत्तरकाशी ।  मनरेगा में सौ दिन के रोजगार की गारंटी जिले में बेमानी साबित हो रही है। विकास विभाग और जन प्रतिनिधियों की सुस्ती बेरोजगार ग्रामीणों तक उनका हक नहीं पहुंचने दे रही है। आलम यह है कि पंजीकृत कुल बेरोजगारों में से अस्सी फीसद को पंद्रह दिनों का भी काम नहीं मिल सका है।
 

महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना जिले बेहाल है। योजना के अंतर्गत सौ दिन के रोजगार की गारंटी के सापेक्ष एक फीसदी बेरोजगारों को भी सौ दिन का रोजगार अब तक भी नसीब नहीं हो सका है और तो और अस्सी फीसद से भी ज्यादा को अब तक पंद्रह दिनों का भी रोजगार नसीब नहीं हो सका है। जिले में पंजीकृत कुल 74,275 बेरोजगार ग्रामीणों में से केवल 740 को ही सौ दिन का रोजगार मिल सका है। जबकि 60,763 बेरोजगारों को पंद्रह दिनों से भी कम का रोजगार ही विकास विभाग अब तक मुहैया करा पाया है। काम मिलने की दर इतनी कम है कि बीते साल भी डेढ़ फीसद के करीब बेरोजगार ग्रामीणों को ही सौ दिन का काम मिल सका। मौसम के चलते दगा देती खेती के बाद जिले में मनरेगा ग्रामीणों की आजीविका कमाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है, लेकिन सौ दिन का काम मिलना जिले में अपवाद सा बन गया है।
 

नौगांव प्रखंड के सुनारा गांव जिले में उम्मीद की रोशनी नजर आती है। यहां 125 लोगों को सौ दिन का रोजगार मिल चुका है। ब्लॉक वार देखें तो नौगांव ब्लॉक सौ दिन के रोजगार के मामले में अव्वल है। यहां अब तक 378 लोग सौ दिन का रोजगार पा चुके है। चिन्यालीसौड़ ब्लॉक में केवल दो लोगों को ही सौ दिन का रोजगार मिल सका है। काम न मिलने के एवज में बेरोजगारी भत्ते का भले ही प्रावधान मनरेगा में हो लेकिन जिले में बेरोजगारी भत्ते देने में विकास विभाग भी ज्यादा दिलचस्पी नहीं दिखा रहा है। बेरोजगारी भत्ते के आवेदन कर चुके 1008 बेरोजगारों को अब तक भी बेरोजगारी भत्ता जारी नहीं हो सका है। हालांकि बीते सालों में बेरोजगारी भत्ते का वितरण नियत समय पर होता रहा है।
 

जिला विकास अधिकारी  प्रकाश रावत ने आरएनएस को बताया कि धन आहरण संबंधी दिक्कतों के चलते भी योजनाओं का सही क्रियान्वयन नहीं हो पाता। इसके अलावा पंचायत प्रतिनिधियों की सुस्ती भी रोजगार में बाधक हो रही है।
 

जुगरान ने मूल निवास मुद्दे पर सभी विधायकों पर साधा निशाना

उत्तरकाशी । राज्य आंदोलनकारी परिषद के पूर्व अध्यक्ष व भाजपा नेता रविंद्र जुगरान ने मूल निवास के मुद्दे पर सभी विधायकों को आड़े हाथ लिया। उन्होंने कहा कि यह इस समय प्रदेश की जनता के सामने सबसे ज्वलंत मुद्दा है। लेकिन राज्य सरकार ने इस मुद्दे पर अपनी मंशा जताते हुए अपना जनविरोधी रुख साफ कर दिया है।
 

उत्तरकाशी में आरएनएस से बातचीत करते हुए जुगरान ने कहा कि सदन में मूल निवास के मुद्दे पर जब कांग्रेस सरकार ने हाईकोर्ट के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देने की बजाए उसे स्वीकार कर शासनादेश लाने की तैयारी कर दी। हैरानी इस बात की है कि सदन में मौजूद विधायकों ने सरकार के इस रुख का विरोध भी नहीं किया। नियमानुसार संविधान लागू होने के दिन से देश में जो व्यक्ति जहां पर निवास कर रहा था उसे वहां का मूल निवासी माना जाना चाहिए। ऐसी स्थिति में उत्तराखंड सरकार को मूल निवास पर जीओ जारी करने का अधिकार ही नहीं है। उन्होंने कहा कि ऐसी ही भूल विधानसभाओं के पुनर्गठन के समय हुई। जब राज्य के पहाड़ी भू भाग को छह विधानसभा सीटें खोनी पड़ी, इसका सीधा असर नेतृत्व पर पडऩा लाजिमी है। उन्होंने बताया कि मूल निवास के मामले पर उन्होंने हाईकोर्ट में याचिका दाखिल कर दी है। इस मौके पर भाजपा जिलाध्यक्ष बी लाल, राजेंद्र काला, बिहारीलाल नौटियाल, दिनेश सेमवाल, नवीन पैन्यूली आदि मौजूद रहे।

 

एनआइटी के स्थायी परिसर का निर्माण कार्य शुरू करने की मांग को किया प्रदर्शन

श्रीनगर गढ़वाल । सुमाड़ी में एनआइटी के स्थायी परिसर का निर्माण कार्य शीघ्र शुरू करने की मांग को लेकर संयुक्तसंघर्ष समिति के तत्वावधान में श्रीनगर गोला पार्क में आंदोलनकारियों ने शुक्रवार को धरना देते हुए प्रदर्शन किया। गढ़वाल विवि छात्र महासंघ के अध्यक्ष शैलेश मलासी और विकास कठैत के नेतृत्व में विवि छात्रों ने भी आंदोलन को समर्थन देते हुए धरना प्रदर्शन में शिरकत की।
 

श्रीनगर के गोला पार्क में आंदोलनकारियों ने धरना देते हुए मांग को लेकर नारेबाजी भी की। संयुक्त संघर्ष समिति के अध्यक्ष अनिल स्वामी ने कहा कि सरकार की ढिलाई के कारण ही जनता को आंदोलित होना पड़ा है। सरकार के नुमाइंदे यह सुनिश्चित कर लें कि सुमाड़ी से एनआइटी को किसी भी स्थिति में अन्यत्र जनता जाने नहीं देगी।

नगर कांग्रेस अध्यक्ष वीरेंद्र नेगी और विवि छात्र नेता विकास कठैत ने भी सरकार को चेताते हुए कहा कि सुमाड़ी में एनआइटी का निर्माण कार्य शीघ्र शुरू किया जाए। राज्य निर्माण आंदोलनकारी विमला कोठियाल ने कहा कि सुमाड़ी में एनआइटी का निर्माण कार्य शीघ्र शुरू नहीं किया तो महिलाएं आंदोलन शुरू कर देंगी। आम आदमी की पार्टी के मीडिया प्रभारी टीका प्रसाद उनियाल, कोषाध्यक्ष पीएल पांडे, उक्रांद के सुधाकर भट्ट, भाजपा के कुशलानाथ, क्षेत्र पंचायत सदस्य मुन्नी पांडे, भोपाल चौधरी, विवि छात्र नेता विकास कठैत, छात्र महासंघ के अध्यक्ष शैलेश मलासी, दीवान चौहान सहित अन्य कई जनप्रतिनिधि भी शुक्रवार को धरने पर बैठे। वहीं विवि छात्र छात्र मीडिया परिषद के अध्यक्ष दीवान चौहान और निर्मलकांत, पंकज मैंदोली के नेतृत्व में पत्रकारिता के छात्र भी धरने पर बैठे।

सक्रिय युवाओं को संगठन से जोडऩे का आह्वान

नई टिहरी । एनएसयूआइ के नवनिर्वाचित जिलाध्यक्ष लखवीर चौहान ने कहा कि संगठन को मजबूती प्रदान करना उनकी पहली प्राथमिकता होगी। साथ ही सक्रिय युवाओं को संगठन से जोड़ा जाएगा।
 

संगठन के जिलाध्यक्ष लखवीर चौहान ने आरएनएस से बातचीत में कहा कि संगठन के वरिष्ठ छात्र नेताओं के मार्गदर्शन में संगठन हित में कार्य किया जाएगा। छात्र-छात्राओं का आभार प्रकट करते हुए कहा कि विभिन्न कॉलेजों से आए प्रतिनिधियों ने उन्हें इस पद के लिए योग्य समझा। प्रतिनिधियों ने चुनाव में भाग लेकर संगठन के प्रजातांत्रिक स्वरूप में मजबूती प्रदान की है। श्री चौहान ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों के कॉलेजों में अध्यापकों व छात्रों की समस्याओं को सरकार तक पहुंचा कर उनका निराकरण किया जाएगा। उन्होंने पूर्व छात्र नेताओं को धन्यवाद देते हुए कहा कि इसके उन्हें उनका निर्देशन मिलता रहेगा। इस अवसर पर पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष देवेंद्र नौडियाल, गंगा भगत सिंह, नवजोत तडिय़ाल, परवीन रावत, गौरव पयाल, अजय पेटवाल, यूथ कांग्रेस प्रतापनगर के अध्यक्ष विजयपाल रावत, सौरभ तडिय़ाल, पंकज फरासी, हरीश नेगी, परवेंद्र सागर, विश्वजीत, पंकज चौहान, परवीन पालीवाल, अनिल सेमवाल, संजय रावत आदि मौजूद थे।
 

विद्यालयों को मिल रहा दोहरा फायदा

उत्तरकाशी । तमाम चुनौतियों के बावजूद जिले के भटवाड़ी और डुंडा ब्लॉक के 21 प्राथमिक विद्यालय नई इबारत लिखने की ओर अग्रसर हो रहे हैं। कभी बच्चों को खौफजदा करने वाले यहां के विद्यालय अब उनके दोस्त बन चुके है। इस परिवर्तन की धुरी बनी मल्टीग्रेड मल्टीलेवल (एमजीएमएल) शिक्षण पद्धति का दोहरा फायदा इन विद्यालयों को मिल रहा है। इससे जहां शिक्षण की गुणवत्ता में उभार आया है वहीं नामांकन की कमी से जूझ रहे विद्यालयों में बढ़ोत्तरी हो रही है।
 

प्राथमिक विद्यालय भटवाड़ी में 50 बच्चों पर एक ही शिक्षक नियुक्त है पर यहां एमजीएमएल पद्धिति के अपनाए जाने से यहां सब कुछ व्यवस्थित चल रहा है। यहां नियुक्त सायरा बानो का कहना है कि अब यहां बच्चों को किताबी ज्ञान से इतर सिखने की प्रक्रिया पर जोर दिया जा रहा जो बच्चों को बहुत पसंद आ रही है। यहां कक्षाएं मायने नहीं रखती बल्कि बच्चे का सीखने का स्तर मायने रखता है। सिर्फ सायरा बानो ही नही क्षेत्र के कई शिक्षक इसी राह पर चल रहे हैं। इन शिक्षकों को इस पद्धति का प्रशिक्षण एक एनजीओ की ओर से ऋषि वैली आंध्र प्रदेश में दिया गया था, जिसके बाद उन्होंने इसे अपने यहां भी सफलतापूर्वक लागू किया।
 

शिक्षकों की माने तो बीते साल से शुरू इस तकनीकि की मदद से अब विद्यालयों में बच्चों का नामांकन भी बढऩे लगे हैं, तो वहीं बच्चों ने भी बंक मारना बंद कर दिया है। पांचवीं कक्षा में पढ़ रही सानिया बताती है कि उसे अब हर रोज स्कूल आने का मन करता है क्योंकि अब किताबों अलावा और भी रंगों और चित्रों से भी सीखने का मौका मिलता है।
 

एमएजीएमएल (मल्टी ग्रेड मल्टी लेवल) बहुवर्गीय और बहुस्तरीय तकनीकि में माना जाता है प्रत्येक बच्चे का सीखने का स्तर और गति समान नहीं हो सकती है तो फिर एक ही तरीके से उन्हें क्यों सिखाया जाता है। इस पद्धति में प्रत्येक बच्चे को उसके स्तर से सिखाने की प्रक्रिया अपनाई जाती है। इसके लिए विद्यालय में बच्चों के सीखने के स्तर और गति के हिसाब से चार समूह बनाए जाते है। पहले समूह में वे बच्चे होते है जो सीखने के लिए पूरी तरह से शिक्षक पर निर्भर है। दूसरे में वे जो शिक्षक पर आंशिक रूप से निर्भर होते हैं, तीसरे समूह में ग्रुप से सीखने वाले बच्चे शामिल किए जाते है और चौथे समूह में पढ़ाई में अव्वल या स्वतंत्र तरीके और तेज गति से सीखने वाले बच्चे शामिल किए जाते है।
 

बेसिक शिक्षा अधिकारी  के सिंह ने आरएनएस को बताया कि जिले में 21 स्कूलों में एसबीएमए की मदद से एमजीएमएल पद्धति के अनुसार बच्चों को सिखाया जा रहा है और इसका बेहतर परिणाम भी देखने को मिल रहा है। कोशिश की जा रही है इस पद्धति को अन्य स्कूलों में भी चालू किया जाए।
 

कर्मचारियों के अभाव में शोपीस बना कृषि सूचना केंद्र

यमकेश्वर । काश्तकारों को कृषि संबंधी विभिन्न तकनीकों की जानकारी देने और समस्याओं के निराकरण को खोले गए थे कृषि सूचना केंद्र कर्मचारियों के अभाव में महज शोपीस बन कर रह गए हैं। प्रखंड यमकेश्वर स्थित सूचना केंद्र में कर्मचारियों के नदारद रहने से आए दिन ताला लटका रहता है।
 

केंद्र सरकार की आत्मा परियोजना के तहत प्रत्येक विकासखंड में कृषि सूचना केंद्र खोले गए थे। इन केंद्रों का मुख्य उद्देश्य काश्तकारों को कृषि संबंधी जानकारियां देना और शासन की ओर से चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं का प्रशिक्षण प्रदान करना है। लेकिन, प्रखंड यमकेश्वर के कृषि सूचना केंद्र की स्थिति पूरी तरह उलट है। ग्रामीणों की माने तो केंद्र अकसर बंद ही रहता है, जिस कारण काश्तकारों को न तो समय से बीज मिल पाते हैं और न ही उनका समस्याओं का निराकरण हो पाता है।
 

क्षेत्र पंचायत प्रमुख प्रशांत बडोनी भी इस बात को स्वीकारते हुए आरएनएस को बताया कि क्षेत्र में कृषि सूचना केंद्र की स्थिति बदहाल है। उन्होंने बताया कि पिछले दिनों उन्होंने क्षेत्र में तैनात कृषि अधिकारी को महंगे दामों पर बीज बेचते रंगे हाथों पकड़ा था, जिसकी शिकायत मुख्य कृषि अधिकारी को भी की गई। इसके साथ ही उन्होंने विकासखंड व न्याय पंचायत प्रभारियों पर निर्देशों की अवहेलना आरोप लगाते हुए कहा कि अधिकारियों के नदारद रहने से काश्तकारों को खासी परेशानियों का सामना करना पड़ता है।
 

भूमि संरक्षण अधिकारी दीवान सिंह चौहान ने आरएनएस को बताया कि विकासखंड प्रभारी को कार्यालय में मौजूद रहने को निर्देशित किया गया है। विभिन्न मौकों पर विकासखंड प्रभारी काश्तकारों को प्रशिक्षण देने क्षेत्र में चले जाते हैं, ऐसे में सूचना केंद्र पर ताला लगाना मजबूरी हो जाती है।

 

सर्दियों के मौसम में गैस की किल्लत बढ़ी

कोटद्वार । सर्दियों के मौसम में गैस की किल्लत ने गृहणियों के चूल्हे की आग ठंडी कर दी है। गैस किल्लत के चलते क्षेत्रीय जनता खासा परेशानियों का सामना करने को विवश है।
 

पर्यटन नगरी समेत तहसील क्षेत्र में गैस किल्लत की समस्या बरकरार है। खास तौर पर दिसंबर के माह में सर्दियां बढऩे के कारण लोगों के घरों में गैस की खपत भी बढ़ जाती है ऐसे में गैस किल्लत किसी शाप से कम नहीं लगती। इन विकट दिनों में ग्रामीण क्षेत्रों में गाड़ी जैसे तैसे खिंच जाती है पर शहरी क्षेत्रों में स्थिति गंभीर हो जाती है। लैंसडौन गैस सर्विस के अंतर्गत जयहरीखाल, द्वारीखाल व रिखणीखाल समेत दुगड्डा प्रखंड के कई क्षेत्रों में गैस आपूर्ति का जिम्मा है। मांग के अनुरूप चल रही कम आपूर्ति व सरकार की नई गैस वितरण नीति को भी लेकर आम सिलेंडरों की किल्लत दिन-ओ-दिन बढ़ती जा रही है। गैस एजेंसी के प्रभारी प्रबंधक गिरिश कोटनाला ने आरएनएस को बताया कि आइसो से मांग के अनुरूप हमें आपूर्ति नहीं हो पा रही है। जबकि सरकार ने वितरण प्रणाली में के चलते सिलेंडरों का समान वितरण नहीं हो पा रहा है।
 

[हमें अफसोस है की हम उसे बचा नहीं सके]

दिल्ली l माता-पिता ने  हा है की उनकी बेटी का बलिदान खाली नहीं जाएगा सरकार देश की महिलाओं को सुरक्षित  रने के लिए उचित  दम उठाएगी।। 13 दिन बाद दिल्ली गैंगरेप की पीडि़त जिंदगी की  जंग हार गई। शुक्रवार देर रात  रीब 2:15 बजे गैंगरेप पीडि़ता ने सिंगापुर के माउंट एलिजाबेथ अस्पताल में अंतिम सांस ली उस वक्त वहां पर पीडि़ता के माता-पिता समेत भारतीय राजदूत भी वहां पर मौजूद थे। उसकी अंतिम सांस टूटते ही वहां मौजूद सभी की आंखें नम हो गई
 

अस्पताल के सीईओ डॉक्टर के लविन लोह ने इस बात की जानकारी देते हुए रात 4:15 बजे  हा की वी आर सॉरी टू से डेट शी इज नो मोर [हमें अफसोस है की हम उसे बचा नहीं सके]।  डाक्टर ने  पीडि़त को मस्तिष् में चोट लगने और लंग इंफेक्शन की भी पुष्टि की है।

शुक्रवार रात को पीडि़ता के  ई अंगों ने काम  रना बंद र दिया था। पीडि़ता को सांस दिलाने के लिए क्रत्रिम सांस दी गई इसके साथ ही हाईडोज एंटीबायोटि भी पीडि़ता को दी जा रही थी। लेकीन डॉक्टरों की सारी कोशिशें और  रोड़ों भारतीयों की  दुआएं उस वक्त बेकार साबित हुई जब पीडि़ता ने दम तोड़ दिया। ।

इस खबर के भारत आने पर जिस कीसी ने भी इस खबर को देखा उसकी आंखे नम हो गई। लड़की के पार्थिव शरीर को आज ही भारत वापस ले आया जाएगा। इस बीच दिल्ली में इस खबर के आते ही सुरक्षा प्रबंध चाचौबंद  र दिए गए हैं।

भारतीय महिला आयोग, दिल्ली महिला आयोग समेत आम आदमी पार्टी के मनीष सिसौदिया ने इस पर दुख व्यक्त कीया है। गैंगरेप पीडि़ता की मौत के बाद अब सभी आरोपियों पर हत्या का मुदमा चलेगा और सरकार आरोपियों के लिए फांसी की मांग  रेगी।

 

पूर्व मुख्यमंत्री तथा वर्तमान में राज्यसभा सांसद ने की राज्यपाल से भेंट

देहरादून l उत्तराखण्ड के राज्यपाल डा0 अज़ीज़ कुरैशी से आज उत्तराखण्ड के पूर्व मुख्यमंत्री तथा वर्तमान में राज्यसभा सांसद श्री भगत सिंह कोश्यारी ने शिष्टाचार भेंट की। श्री कोश्यारी ने राज्यपाल के स्वास्थ्य का हाल जानने के साथ ही राज्य के विकास सम्बंधी विभिन्न विषयों पर भी उनसे चर्चा की।

मुलाकातों के क्रम में आज राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य डा0 चारू वलीखन्ना ने राज्यपाल से मुलाकात करके उन्हें राष्ट्रीय महिला आयोग द्वारा जारी एक पोस्टर दिखाया जिसमें कार्यक्षेत्र में महिलाओं  को यौन उत्पीड़न से सुरक्षित रखने सम्बंधी आचार सहिताओं का उल्लेख किया गया है।
 

राज्यपाल ने अग्रंेजी भाषा में लिखे गये इस पोस्टर को महिला जागरूकता के लिए उपयोगी बताते हुए कहा कि महिलाओं को कार्यक्षेत्र में यौन उत्पीड़न जैसी गम्भीर समस्याओं से बचाने के लिए व्यापक जागरूकता अभियान चलाया जाना जरूरी है। उन्होनें इस बात पर विशेष बल दिया कि जागरूकता कार्यक्रमों के प्रकाशनों में प्रयुक्त्त पाठ्य सामग्री सभी प्रदेशों के स्थानीय भाषा में लिखी गई हो।
 

राज्यपाल ने महिलाओं के प्रति बढते यौन अपराधों/उत्पीड़न सम्बंधी घटनाओं की कडे़ शब्दों में भर्त्सना करते हुए इसे किसी भी सभ्य समाज के लिए शर्मनाक बताया। उन्होनें यह भी कहा कि इस पर प्रभावी नियंत्रण के लिए जनमत (पब्लिक ओपिनियन) तैयार करने का वातावरण सृजित किया जाना नितांत आवश्यक है।
 

विद्युत कटौती से तीर्थनगरी वासियों मे रोष

ऋषिकेश । ठण्ड के साथ ही लोगों की मुश्किलों में बिजली कटौती ने भी बढ़ोतरी कर दी है। यहां शहर में दोहपर करीब एक बजे से लेकर देर शाम करीब छह बजे तक बत्ती के गुल रहने की वजह से लोगों को खासी समस्याएं पेश आयी।

बिजली कटौती के चलते शहर के लोगों को एक साथ दोहरी मार झेलनी पड़ रही है। स्थानीय लोगों ने विद्युत विभाग से मांग की है कि विद्युत कटौती न की जाए। अन्यथा वह विरोध में आंदोलन करने को मजबूर होंगे।
 

हाथियों के आंतक से राहत को बने नये ट्रैफिक नियम

ऋषिकेश । हाथियों के आंतक को देखते हुए दून-ऋषिकेश पर शाम साढ़े छह बजे से सुबह सात बजे तक आवाजाही पर लगाये गये प्रतिबंध की वजह से जहां मार्ग से गुजरने वाले लोगों को हाथियों के आंतक से राहत मिली है। वहीं दूसरी ओर यहांऋषिकेश से दून व आसपास के इलाकों में जाने वाले लोगों सहित रानीपोखरी से शहर आने वाले लोगों के लिए यह प्रतिबंध फिलहाल आफत बना हुआ है।

वन विभाग की ऋषिकेश रेंज व स्थानीय पुलिस द्वारा हाथियों के बढ़ते आंतक के मद्देनजर लोगों की सुरक्षा के तहत लिये गये जनवरी माह तक उक्त मार्ग पर आवाजाही प्रतिबंध के निर्णय से यहां से आने-जाने वाले मुसाफिरों को खासी मुश्किलों का सामना करना पड़़ रहा है। मजबूरन मुसाफिरों को दून से ऋषिकेश आने के लिए लम्बा चक्कर लगाते हुए नेपालीफार्म की ओर से आना पड़ रहा है और रानीपोखरी व आसपास के इलाकों से शहर की ओर जाने वाले यात्रियों को भी नेपालीफार्म से ही होकर जाना पड़ रहा है, इससे जहां लोगों की जेबों पर इसका असर पड़ रहा है वहीं लम्बा सफर तय करना भी लोगों के लिए परेशानी का सबब बना हुआ है। कुछ स्थानीय लोगों द्वारा इस निर्णय को जनहित में बताया जा रहा है तो कुछ लोगों का कहना है कि वन विभाग को हाथियों को मार्ग पर आने से रोकने के लिए कारगर उपाय करने की जरूरत है ताकि इससे जनता को कोई परेशानी न पेश आए। हालांकि इस निर्णय से मार्ग पर हाथियों व मुसाफिरों के बीच होने वाले टकराव में काफी कमी आयी है। लेकिन मार्ग पर आवाजाही प्रतिबंधित हो जाने से अब लोगों को बतौर वाहनों में किराया भी अधिक चुकाना पड़ रहा है। पुलिस व वन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि मस्तकाल के दौरान जनवरी माह तक मार्ग पर आवाजाही को प्रतिबंधित रखा गया है और इसके बाद एक बार फिर से पहले की ही तरह मार्ग पर आवागमन सुचारू कर दिया जाएगा। फिलहाल लोगों को इस व्यवस्था का पालन करना होगा। साथ ही यदि व्यवस्था के पालन में कोताही बरती जाती है उक्त वाहन चालकों का नियम तोडऩे पर चालान आदि करने का निर्णय भी स्थानीय पुलिस ने लिया है।
 

रायवाला अवैध कारोबार पर पुलिस का नियंत्रण नही

ऋषिकेश । इसे विडम्बना ही कहा जाए कि रायवाला में जारी अवैध कारोबार पर पुलिस का कोई नियंत्रण अब नही रह गया है। आलम यह है कि थाने के बगल में कानून की धज्जियां उठायी जा रही है और पुलिस उक्तों के खिलाफ कार्रवाही करने की बजाय उन्हें संरक्षण प्रदान करने में लगी हुई है।
 

 मामला रायवाला बाजार का है जहां पुलिस थाने के बगल के होटलों में ही बिना लाइसेंस के शराब परोसी जा रही है बावजूद इसके मित्र पुलिस इस ओर कोई कार्रवाही करने का तैयार नही है। साफ होता है कि पुलिस के संरक्षण से ही यहां इस अवैध कारोबार को अंजाम दिया जा रहा है। पिछले कुछ समय पर अगर नजर डाली जाए तो पुलिस ने अभी तक ऐसी कोई प्रभावी कार्रवाही उक्त होटल स्वामियों के खिलाफ नही की जिससे इस अवैध कारोबार पर अंकुश लग सके। इसे पुलिस की दरियादिली कहा जाए या फिर कुछ और सूत्रों की मानें तो बतौर एक मोटी रकम पुलिस के अधिकारियों को उक्त होटल स्वामियों द्वारा अवैध रूप से शराब पिलाये जाने की एवज में भेजी जाती है, जिसके चलते ही उक्तों पर कार्रवाही नही की जा सकी है। पुलिस द्वारा खुद कराये जा रहे कानून के उल्लंघन को लेकर महकमें के आलाधिकारी भी मौन है और इस मामले पर बात करने को तैयार नही है। हकीकत संज्ञान में होने के बावजूद भी कार्रवाही न होने से इस अवैध कारोबार में पुलिस की मिलीभगत से इंकार नही किया जा सकता है। कई सालों से चले आ रहे इस अवैध कारोबार पर लगाम लगाने में आज तक पुलिस के अधिकारी विफल साबित क्यों होते आये है यह भी यहां एक बड़ा सवाल है, जिसका जबाव देने से महकमें के अधिकारी हमेशा कतराते रहे है। 
 

स्वयंसेवियों से राष्ट्र निर्माण व स्वयं के निर्माण से जुडऩे का आवाह्न

रुद्रप्रयाग । विभिन्न विद्यालयों के राष्ट्रीय सेवा योजना के सात दिवसीय विशेष शिविर रंगारंग कार्यक्रमों के साथ प्रारम्भ हो गये। राइका अगस्त्यमुनि का श्वििर राउप्रावि गिंवाला में प्रारम्भ हुआ। शिविर का उद्घाटन करते हुए प्रधान गिंवाला वीरेन्द्र विष्ट ने स्वयंसेवियों से राष्ट्र निर्माण एवं स्वयं के निर्माण में लगन से जुडऩे का आवाह्न किया। कार्यक्रम अधिकारी महावीर सिंह नेगी ने शिविर के बारे में विस्तृत जानकारी दी। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए विद्यालय के प्रधानाचार्य शिवप्रसाद भट्ट ने स्वयंसेवियों को शिविर में अनुशासित रहने के निर्देश दिए। इस अवसर पर विद्यालय के शिक्षक धीरसिंह नेगी, त्रिलोक सिंह जगवाण, राउप्रावि के प्रधानाचार्य नन्दलाल, योगेन्द्र सिंह नेगी, शिविर सहायक वीरेन्द्र सिंह रावत सहीत कई ग्रामीण उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन गिरीश बेंजवाल ने किया।
 

राइका सिद्घसौड़ की राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई का सात दिवसीय विशेष शिविर प्राथमिक विद्यालय टाट (सिलगढ़) में लगा है। शिविर के दौरान स्वयंसेवियों ने कार्यक्रम अधिकारी हर्षवर्धन रावत के नेतृत्व में गांव के मुख्य मार्गों की सफाई के साथ ही प्राकृतिक जल स्रोतों की सफाई एवं मरम्मत ीाी की गई। पर्यावरण संरक्षण हेतु जागरूकता अभियान के अन्तर्गत गांव में रैली निकाली गई। रैली में स्वयं सेवियों के अलावा ग्राम प्रधान टाट दीपा पंवार, उपप्रधान सतीश चन्द्र भट्ट, पूर्व प्रधान मातवर सिंह कण्डारी, उम्मेदसिंह कण्डारी, हयात सिंह कण्डारी, रामेश्वरी भट्ट, सुनीता भट्ट, अमिता, बबीता, आरती, युमंद अध्यक्ष राकेश कण्डारी आदि ने भी भाग लिया। रैली का नेतृत्व कार्यक्रम अधिकारी हर्षवर्धन रावत ने किया। रैली के उपरान्त स्वयं सेवियों ने पर्यावरण संरक्षण हेतु व्यक्तिगत प्रयास करने का संकल्प लिया। काय्रकम अधिकारी हर्षवर्धन रावत ने बताया कि शिविर में प्रतिदिन बौद्घिक सत्र एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं जिससे स्वयंसेवियों को समाज सेवा के साथ साथ बौद्घिक एवं चारित्रिक रूप से रूवक्तिगत विकास का अवसर प्रान्त होता है। शिविर की देखभाल करने के लिए राइका सिद्घसौड़ के प्रधानाचार्य डीपी भट्ट लगातार शिविर का निरीक्षण कर रहे हैं।
 

वहीं राइका कण्डारा में लगे राबाइका अगस्त्यमुनि की राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई के सात दिवसीय विशेष शिविर के चौथे दिन स्वयंसेवियों ने पंचायत धर कण्डारा में सांस्कृतिक मेले का आयोजन किया। मेले का उद्घाटन करते हुए महिला मंगल दल अध्यक्षा थापा जगवाण ने कहा कि पढ़ाई के साथ ही अन्य क्रिया कलापों में भाग लेने से छात्रों का सम्पूर्ण विकास होता है। इस अवसर पर स्वयंसेवियों द्वारा पर्यावरण संरक्षण, नशामुक्ति, कन्या भ्रूण हत्या आदि विषयों पर नुक्कड़ नाटकों के द्वारा ग्रामीणों को जागरूक किया। साथ ही सांस्कुतिक काय्रक्रमों से जनता का मनोरंजन भी किया। इस अवसर पर महिला मंगल दल कण्डारा द्वारा भी सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए गये। काय्रक्रम में कण्डारा के सांस्कुतिक समिति के अध्यक्ष वीरपाल सिंह रावत, पूर्व छात्र संघ महासचिव सन्दीप भण्डारी, डॉ$ अंजलि यादव, प्रेमसिंह नेगी, दरवान सिंह बिष्ट, उत्तम रावत सहीत बड़ी संख्या में ग्रामीण मौजूद थे। काय्रक्रम का संचालन कार्यक्रम अधिकारी माहेश्वरी रावत एवं विद्यालय के प्रशासनिक अधिकारी नरेन्द्र सिंह नेगी ने किया।

 

‘सरकार जनता के द्वार’ कार्यक्रम अधिकारियों को दिये निर्देश

देहरादून । अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व झरना कमठान ने अवगत कराया है कि ‘सरकार जनता के द्वार’ कार्यक्रम के तहत जिलाधिकारी द्वारा माह दिसम्बर 2012 हेतु राजस्व अधिकारियों के लिये तैयार किये गये ग्रामीण भ्रमण रोस्टर के तहत अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व को ग्राम छिद्दरवाला के भ्रमण हेतु नियत किया गया है।

उन्होंने बताया कि ग्रामीण भ्रमण के दौरान आवंटित ग्रामों में राजस्व, विकास कार्यक्रमों तथा योजनाओं का निरीक्षण कर सम्बन्धित आख्या जिलाधिकारी को उपलब्ध करायी जानी है। उन्होंने सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिये कि ग्राम छिद्दरवाला में 28 दिसम्बर 2012 को सांय 3$30 बजे स्वयं अथवा अपने-अपने विभाग के प्रतिनिधि को उपस्थित रहने हेतु निर्देशित करें।
 

रंजना ने ग्रहण किया ज्वाइंट मजिस्टे्रट का पदभार

देहरादून । जिलाधिकारी कार्यालय में तमिलनाडु कैडर 2010 बैच की आईएएस अधिकारी रंजना वर्मा ने जिलाधिकारी बीवीआरसी पुरुषोत्तम को ज्वाइंट मजिस्टे्रट पद हेतु अपना योगदान दिया। इससे पूर्व रंजना वर्मा तमिलनाडु के कोयम्बटूर जिले में दो माह ज्वाइंट मजिस्टे्रट के पद पर कार्य कर चुकी हैं।

वर्तमान में इनका स्थानान्तरण तमिलनाडु कैडर से उत्तराखण्ड कैडर में हुआ है। रंजना वर्मा ने उत्तर प्रदेश में स्नातक की डिग्री अंग्रेजी, संस्कृत एवं मनोविज्ञान में ली है जबकि स्नातकोत्तर उन्होंने इलाहाबाद विश्वविद्यालय से संस्कृत विषय में किया है। वर्तमान में इनके पति भारतीय वन सेवा के हैं, रामचन्द्रन राजगुरु उत्तराखण्ड में ही सूचना एवं प्रौद्योगिकी में डिप्टी कंजरवेटर के पद पर कार्यरत हैं। उनके ज्वाइंट मजिस्टे्रट के पद पर योगदान देने पर जिलाधिकारी ने उनसे अपने कर्तव्यों को पूर्ण निष्ठा एवं पारदर्शिता से निर्वहन करने की अपेक्षा की है।


 

नववर्ष पर वनों में घुसने वाले पर नरमी नहीं

विकासनगर । नववर्ष की पूर्व संध्या पर जश्न मनाने के लिए वनों में घुसने वाले चेत जाएं। यदि इस दिन वो जंगल में मिले तो उनकी खैर नहीं होगी। कालसी और चकराता वन प्रभाग के उप प्रभागीय वनाधिकारियों ने सभी रेंज अधिकारियों को पेट्रोलिंग टीमें पूरी तरह सक्रिय करने के निर्देश दिए हैं। साथ ही लोगों के वन क्षेत्र में घुसने पर नरमी नहीं बरतने के निर्देश दिए हैं।
 

न्यू ईयर जश्न मनाने के लिए बाहर से परिवार सहित लोग पछवादून व जौनसार बावर क्षेत्र के पर्यटन स्थलों पर आते हैं। बहुत से लोग वन में घुसकर शराब पीकर हुड़दंग मचाते हैं। कई लोग आग तापने के लिए लकडिय़ां जला लेते हैं, जिससे वन्य जीवों को खतरा बढऩे के साथ ही जंगलों में आग लगने की आशंका रहती है। इस जश्न का फायदा उठाकर लकड़ी व वन्य जीव तस्कर भी सक्रिय हो जाते हैं। वनों में घुसकर नए वर्ष का जश्न मनाने वालों की धरपकड़ व तस्करों की सक्रियता पर अंकुश लगाने के लिए कालसी वन प्रभाग के डीएफओ रामगोपाल वर्मा ने लांघा, तिमली व चौहड़पुर रेंजरों को पेट्रोलिंग टीमें पूरी तरह सक्रिय रखने के निर्देश दिए हैं।
 

उप प्रभागीय वनाधिकारी गुलवीर सिंह के अनुसार पैदल व वाहन से गश्त तेज कर दी गई है। उधर, चकराता वन प्रभाग अंतर्गत रीवर, कनासर, नाडा, बावर, देवघार व मोल्टा रेंजों में डीएफओ डॉ. दिवाकर सिन्हा ने रेंजरों को पूरी तरह मुस्तैद रहने के निर्देश दिए हैं। चकराता डीएफओ के अनुसार दिन व रात की गश्त तेज कर दी गई है। बार्डर सीमा से लगे जंगलों में विशेष ध्यान रखा जा रहा है, ताकि अवैध पातन व वन्य जीव शिकारियों पर पूरी तरह से अंकुश लग सके।
रेंजर तिमली महावीर सिंह रावत ने अवैध खनन से भरा एक वाहन पकड़ा है। रेंजर धर्मावाला क्षेत्र में गश्त कर रहे थे, तभी अवैध खनन से भरा वाहन पकड़ा गया। रेंजर के अनुसार अवैध खनन रामपुर मंडी क्षेत्र से भरकर लाया जाना बताया गया है। उत्तराखंड वन विकास निगम के क्षेत्रीय प्रबंधक व वन संरक्षक एमएस पाल ने गुरुवार को तिमली रेंज के पातन लाट कार्य का निरीक्षण किया। उन्होंने अधिकारियों को इस सबंध में आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। इस मौके पर प्रभागीय लौगिंग प्रबंधक आरएस केहड़ा, उप प्रभागीय वनाधिकारी गुलवीर सिंह मौजूद रहे।

 

आग लगने से दो मकान जल कर राख हुए

उत्तरकाशी । मोरी प्रखंड के दूरस्थ लिवाड़ी गांव में आग लगने से दो मकान जल कर राख हो गए। इस अग्निकांड में एक गाय, तीन बकरियों सहित घर में रखा पूरा सामान राख हो गया। आग लगने के कारणों का पता नहीं चल सका है।
 

आरएनएस को प्राप्त जानकारी के अनुसार गुरुवार सुबह लिवाड़ी गांव में उस वक्त अफरातफरी मच गई जब गांव के अधिराम व बीपी सिंह के घर से लोगों को धुआं उठता नजर आया। देखते ही देखते आग विकराल रूप धारण कर गई जिसमें दोनों मकान राख हो गये। आग से घर में रखा खाद्यान्न, कपड़े व नगदी राख हो गए। ग्रामीणों के काफी प्रयास के बाद आग को अन्य मकानों में फैलने से रोका जा सका। आग से दो मकानों के अलावा अधिराम की गाय व बीपी सिंह की तीन बकरियां जल गई। घटना की सूचना ग्राम प्रधान हाकम सिंह ने तहसीलदार को दूरभाष के माध्यम से दी। सूचना मिलते ही नायब तहसीलदार जीएल टम्टा व पटवारी मौके के लिये रवाना हो गये।


 

पंचायती आंगन में लोक नृत्य व गीतों की धूम रहेगी

विकासनगर । जौनसार बावर में एक माह तक मनाए जाने वाले प्रमुख त्योहारों में से एक मरोज की तैयारियां इन दिनों जोरों पर हैं। 11 जनवरी से शुरू होने वाले इस पर्व पर एक ही दिन हर घर में बकरा काटे जाने की परंपरा है। मरोज पर पूरे माह पंचायती आंगन में लोक नृत्य व गीतों की धूम रहेगी।
 

जौनसार बावर में एक माह तक धूमधाम से मनाए जाने वाले मरोज पर्व की बात ही निराली है। जनजाति क्षेत्र के 359 राजस्व गांवों व लगभग 500 खेड़े मजरों में निवास करने वाले हर परिवार में मरोज पर बकरा काटने की परंपरा है। पीढ़ी दर पीढ़ी मनाए जाने वाले त्योहार की खरीदारी के लिए बाजारों में रौनक बढऩे लगी है। बाजारों में बकरों की खरीदारी पर विशेष जोर है। त्योहार में पूरे माह मेहमानों की खातिरदारी करने का रिवाज है। पर्व के लिए लोगों में सुडौल बकरा पालने की होड़ रहती है। कई परिवार तो साल भर बकरे को पर्व के लिए पालते हैं। पर्व के दौरान माह भर दावतों का दौर चलता है। शाम को नृत्य व गीतों के माध्यम से जश्न मनाया जाता है।
 

मान्यता के अनुसार सैकड़ों वर्ष पहले क्षेत्र में क्रिरमिर नामक राक्षस का आंतक था। उसे प्रतिदिन एक बलि चाहिए थी। क्रिरमिर दानव का वास कर्मनाशा नदी टौंस में था। क्षेत्र के लोगों ने आंतक से मुक्ति को महासू व शिलगुर विजट देवता की आराधना व तपस्या की। पूर्वजों के अनुसार 27 गते पौष को महासू देवता के सेनापति कयलू महाराज ने क्रिरमिर राक्षस का वध किया था। इसी दिन से हनोल मंदिर के पास कयलू महाराज के नाम का एक बकरा काट कर उसका कुछ हिस्सा टौंस में फेंका जाता है। दूसरे दिन से धार्मिक परंपरानुसार पूरे क्षेत्र में महासू देवता के नाम का हर परिवार में बकरा काटा जाता है। मरोज कई मायनों में महत्वपूर्ण है। मरोज में बकरे का एक हिस्सा विवाहित बहन व बेटी को भेजना जरूरी होता है। इसे स्थानीय भाषा में बांटा कहा जाता है। यदि यह बांटा नहीं पहुंचता तो रिश्ता टूट जाता है।

 

समस्याओं पर आश्वासन न दें उनका निपटारा करें

नई टिहरी । जाखणीधार क्षेत्र पंचायत की बैठक के दौरान रखी गई समस्याओं के निदान को जिलाधिकारी डॉ. रंजीत कुमार सिन्हा ने अधिकारियों निर्देश दिए कि समस्याओं पर आश्वासन न दें बल्कि उनका समय पर निपटारा करें।
 

ब्लाक मुख्यालय टिहरी में हुई बैठक मे जिलाधिकारी ने क्षेत्र में गैस संयोजनों के सत्यापन में हो रही परेशानियों के संबंध में जिला पूर्ति अधिकारी निधि रावत को आगामी तीन जनवरी 2013 को जिला मुख्यालय में सभी गैस वितरण एजेंसियों के प्रबंधकों, सभी पूर्ति निरीक्षकों तथा विकास खंड के प्रमुखों के साथ बैठक आहूत करवाने के निर्देश दिए। इसके अलावा कृषि विभाग के लेखाकार की ओर से प्रभार न सौंपे जाने को गंभीरता से लेते हुए जिलाधिकारी ने तत्काल किसी भी स्थिति में चार्ज करवाने एवं कोषाधिकारी को पत्र भेजकर संबंधित कर्मचारी का वेतन रोकने के निर्देश मुख्य कृषि अधिकारी को दिए।

यदि उसके बाद भी समस्या का समाधान नहीं होता तो संबंधित के प्रति प्राथमिकी दर्ज करवाकर अग्रिम कार्यवाही करें। इस अवसर लोनिवि से संबंधित समस्याओं को सुनते हुए उन्होंने जीरो ब्रिज से जाने वाले मोटर मार्ग की वस्तुस्थिति के संबंध में संयुक्त निरीक्षण कर प्राथमिकता के आधार पर रिपोर्ट प्रस्तुत करने को अधिशासी अभियंता लोनिवि प्रातीय खंड को निर्देश दिए। क्षेत्र प्रमुख जाखणीधार जगदम्बा प्रसाद रतूड़ी ने जिलाधिकारी को क्षेत्र की समस्याओं के संबंध में अवगत कराया। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी, सविन बंसल, जिला विकास अधिकारी आरएस रावत, प्रभागीय वनाधिकारी टिहरी मुकुल कुमार जोशी, अधिशासी अभियंता लोनिवि प्रान्तीय खंड बदनसिंह, अधिशासी अभियंता विद्युत अमित कुमार युवा कल्याण अधिकारी नीरज गुप्ता, प्रमोद कुमार , ज्येष्ठ प्रमुख दयालसिंह आदि मौजूद थे।
 

 

मां अनुसूया के दरबार में श्रद्धालुओं का हुजूम उमड़ा

गोपेश्व । कड़ाके के ठंड के बावजूद भी सती मां अनुसूया के दर पर हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं का हुजूम उमड़ा पड़ा। सती मां अनुसूया के मंदिर में संतान प्राप्ति तप के लिए 150 महिलाओं ने पंजीकरण किया है।
 

सती मां अनुसूया से मिलने के लिए सगर, देवलधार, कठूड़, बणद्वारा से देवियों की डोलियां गांवों से परंपरा अनुसार पूजा अर्चना के बाद मंदिर के लिए रवाना हुई। सभी डोलियों का मिलन अनुसूया मां की मूल रथ डोली से अनुसूया गेट पर हुआ। इस मौके पर श्रद्धालुओं ने उत्सव डोलियों की पूजा अर्चना कर मनौतियां मांगी। इसके बाद सभी डोलियां पांच किलोमीटर की पैदल यात्रा तय सती मां अनुसूया आश्रम पहुंची। इस बार सती मां अनुसूया के मंदिर में संतान प्राप्ति के लिए अभी तक लगभग 150 महिलाओं ने पंजीकरण कराया है। तप करने वाले इन महिलाओं को बरोही कहा जाता है। उम्मीद है कि रात तक 250 बरोही मंदिर के अंदर रात्रि उपवास कर वर प्राप्त करेंगे। शुक्रवार को सारी रथ डोली समयानुसार अत्रिमुनी आश्रम जाकर स्नान करके अपनी गन्तव्य को जाएंगी।
 

इस साथ ही दो दिवसीय सती मां अनुसूया मेले का शुभारंभ मंडल विधायक राजेंद्र भंडारी ने अनुसूया द्वार पर रिबन काट कर किया। उन्होंने लोगों को भरोसा दिलाया कि मंदिर तक सडक़ निर्माण जल्द ही कराया जाएगा तथा इस तीर्थ को रोपवे से भी जोड़ा जाएगा। कार्यक्रम में जिला पंचायत अध्यक्ष रजनी भंडारी, नगर पालिका अध्यक्ष प्रेम बल्लभ भट्ट, जिला पंचायत सदस्य लक्ष्मण सिंह बिष्ट, मंदिर समिति के अध्यक्ष कुंवर सिंह नेगी भजन सिंह झिक्वांण, प्रदीप सिंह बिष्ट, बीरेन्द्र असवाल, सहित कई लोगों ने विचार व्यक्त किये। कार्यक्रम का संचालन उमा शंकर बिष्ट ने किया।
 

ऑल्टो खाई में गिरी, मौत

नई टिहरी । बीती रात्रि को चम्बा से कोटी कालोनी जा रही ऑल्टो के गाजणा गांव के समीप खाई में गिरने से उसमें सवार एक व्यक्ति की मौत हो गई।
 

आरएनएस को प्राप्त जानकारी के अनुसार बीती बुधवार रात्रि 9.30 बजे चम्बा से कोटीकालोनी जा रही ऑल्टो कार संख्या यूके07पी-8865 गाजणा गांव के पास खाई में जा गिरी जिससे उसमें सवार चालक ज्योति नयाल (45) पुत्र आनंद सिंह नयाल हाल निवासी भागीरथीपुरम गंभीर रूप से घायल हो गया। घायल को 108 सेवा से जिला अस्पताल ले जाया जा रहा था कि उसने रास्ते में ही दम तोड़ दिया। वाहन में अन्य कोई सवार नहीं था।
 

खिताबी मैच में मयंक ने मारी बाजी

कोटद्वार । एक पहल एवं संवाद संस्था के तत्वावधान में आयोजित ब्लाक स्तरीय शीतकालीन खेलकूद प्रतियोगिता के तहत सीनियर बालिका कबड्डी का फाइनल कलालघाटी व बालक सबजूनियर वर्ग का फाइनल मैच श्री गुरुराम राय पब्लिक स्कूल ने जीता। वहीं, एकल बैडमिंटन के खिताबी मैच में मयंक ने बाजी मारी।
 

भाबर क्षेत्र के अंतर्गत झंडीचौड़ स्थित हाट बाजार मैदान में आयोजित खेल प्रतियोगिता केतीसरे दिन गुरुवार को सीनियर बालिका कबड्डी के फाइनल में कलालघाटी ने झंडीचौड़ को व सबजूनियर बालक वर्ग में एसजीआरआर ने झंडीचौड़ पूर्वी को पराजित किया। युगल बैडमिंटन के फाइनल में मयंक व दीपक ने मनीष व अभिषेक को 21-18, 21-17 से परास्त किया। वहीं, एकल बैडमिंटन के खिताबी मैच में मयंक ने दीपक को 21-16, 21-17 से हराया। बालक जूनियर वर्ग के वॉलीबाल मैच में हल्दूखाता ने रामदयालपुर को व झंडीचौड़ ने कलालघाटी को परास्त कर सेमीफाइनल में प्रवेश कर लिया। इस अवसर पर आनंद घिल्यिाल, जगत सिंह, मनोज शर्मा, वीरेंद्र मनराल, नवीन कंडवाल, वीरेंद्र भारद्वाज, नवीन शर्मा, कन्हैया लाल, अजय नेगी, आशीष कुकरेती, मेहरबान सिंह, विनोद धूलिया आदि मौजूद रहे।
 

पाइप लाइन शिफ्ट करने को जलसंस्थान को इस्टीमेट

कर्णप्रयाग । नगर क्षेत्र कर्णप्रयाग के मुख्य बाजार स्थित जर्जर मोटर पुल से गुजर रही 50 मी. जलसंस्थान की पाइप लाइन को बदलने के लिए शुक्रवार को को दोनों विभाग के अधिकारी स्थल का संयुक्त निरीक्षण करेंगे। इससे पहले जलसंस्थान ने लाइन शिफ्ट करने के लिए आठ लाख का एस्टीमेट भेजा है।
 

ग्वालदम-कर्णप्रयाग राजमार्ग को जोडऩे वाले पुल निर्माण में बाधा बनी हुई है जलसंस्थान ने पूर्व में लोनिवि से लाइन शिफ्टिंग के लिए पांच लाख रुपये निर्गत करने को कहा था, पर अब विभाग ने इसी कार्य के लिए आठ लाख का एस्टीमेट भेजा है। लोनिवि कर्णप्रयाग के अधिशासी अभियंता प्रत्युष कुमार ने बताया कि इस संबंध में जलसंस्थान के उच्चाधिकारियों को कई बार सूचित किया जा चुका है। उन्होंने कहा कि इस संबध में दोनों विभागों की बैठक में तय किया गया है कि शुक्रवार को पाईप लाइन का ज्वाइंट निरीक्षण किया जाएगा।
 

उधर जलसंस्थान के अवर अभियंता दिनेश पुरोहित ने आरएनएस को बताया कि पाइप लाइन शिफ्ट करने के लिए देहरादून स्थित जलसंस्थान कार्यालय को आठ लाख रुपये का रिवाईज इस्टीमेट भेजा गया है स्वीकृति मिलने पर कार्य शुरू होगा जबकि अब नई पाईप लाइन मुख्य बाजार होते हुए कर्णप्रयाग-बदरीनाथ राजमार्ग से गुजारी जानी है इसके लिए बीआरओ से भी अनुमति मांगी गई है।

 

न्यू ईयर सेलिब्रेशन में पर्यटकों की आवाजाही तेज

देहरादून । न्यू ईयर सेलीब्रेशन को देखते हुए अधिकांश गेस्ट हाउस व होटल पहले ही बुक हो चुके हैं। सबसे ज्यादा निराशा चकराता घूमने आने वाले पर्यटकों को हो रही है। यहां कई सरकारी गेस्ट हाउसों में आफिस चलने व होटलों की संख्या भी काफी कम होने के कारण पर्यटकों को शाम होते ही लौटना पड़ रहा है। न्यू ईयर की रात जश्न मनाने की इच्छा ठहरने के स्थान फुल होने के कारण निराशा में बदल रही है।
 

कालसी वन प्रभाग के गेस्ट हाउस तिमली, लांघा और होरावाला नववर्ष की पार्टी के लिए बुक हो चुके हैं। उप प्रभागीय वनाधिकारी गुलवीर सिंह के अनुसार नागथात, बरौंथा, क्वानू, मेहरावना गेस्ट हाउस अभी खाली हैं, लेकिन काफी दूर होने के कारण वहां कम ही पर्यटक जाते हैं। चकराता वन प्रभाग के रामपुर मंडी, मुंडाली, कनासर, बुधेर, त्यूणी स्थित गेस्ट हाउस भी धीरे-धीरे बुक हो रहे हैं।
 

डीएफओ डॉ. दिवाकर सिन्हा ने आरएनएस को बताया कि ईको टूरिज्म के तहत भी गेस्ट हाउस में पर्यटकों की संख्या बढ़ती है। जौनसार में न्यू इयर सेलीब्रेशन को सबसे ज्यादा पर्यटक प्राकृतिक सौंदर्य से लबरेज चकराता की खूबसूरत वादियों में आते हैं। यहां मनोहारी नजारों के कारण न्यू इयर सेलीब्रेट करने का आनंद दोगुना हो जाता है, लेकिन पर्यटकों को ठहरने की सुविधा न होना अखर रहा है। रोजाना चकराता में पर्यटकों की संख्या बढ़ रही है, लेकिन शाम को निराश होकर लौटना पड़ रहा है। चकराता में होटलों की संख्या तो कम है ही, गेस्ट हाउस में भी पर्यटक नहीं ठहर सकते।
 

कहने को तो चकराता में जिला पंचायत, वन विभाग और पीडब्ल्यूडी के तीन सरकारी गेस्ट हाउस है, लेकिन इनमें पीडब्ल्यूडी गेस्ट हाउस को छोड़ शेष दो में पिछले काफी समय से सरकारी दफ्तर चल रहे हैं। सिंचाई विभाग के गेस्ट हाउस की दशा ठीक न होने के कारण पर्यटक उनसे गुरेज ही करते हैं। पछवादून में आसन वेटलैंड व अन्य पर्यटन स्थलों पर आने वाले पर्यटकों के लिए पर्याप्त सुविधाएं हैं।

 

नन्हे वैज्ञानिकों ने पेश किए विभिन्न मॉडल

ऋषिकेश । ऋषिकेश पब्लिक स्कूल में आयोजित विज्ञान प्रदर्शनी में नन्हे वैज्ञानिकों ने विभिन्न मॉडल प्रस्तुत कर अपनी प्रतिभा का परिचय दिया।विद्यालय में आयोजित विज्ञान प्रदर्शनी में जूनियर व सीनियर वर्ग की ओर से गणित, विज्ञान, जीव विज्ञान तथा कंप्यूटर विज्ञान विषय के वैज्ञानिक दृष्टिकोण को मॉडल व चार्ट के जरिये प्रस्तुत किया।

प्रदर्शनी में छात्रों ने महंगाई से निपटने के लिए सोलर कुकिंग सिस्टम के वर्किंग मॉडल का प्रदर्शन किया, वहीं वैश्विक स्तर पर पर्यावरण पर छा रहे भयावह संकट को दूर करने के उपाय भी सुझाए। इस दौरान छात्रों की ओर से हस्तनिर्मित वस्तुओं की भी प्रदर्शनी लगाई गई। प्रदर्शनी में जीव विज्ञान विषय सीनियर वर्ग में ईशिता सेमवाल, आकाश यादव, शिवम अग्रवाल, एश्वर्या, सर्वज्ञ व ध्रुव ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। मल्लिका पुंज, दिव्यांशी शर्मा, सांची रस्तोगी, सलोनी गोदियाल, अदिति व वंशिका ने द्वितीय स्थान प्राप्त किया। वहीं जूनियर वर्ग में मार्तड दुबे, अखिलेश गौतम, सार्थक सरीन ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। विज्ञान वर्ग के सीनियर वर्ग में सार्थक बंसल, मोहक वर्मा ने प्रथम, सागर मेहर व यश थपलियाल ने द्वितीय स्थान प्राप्त किया। वहीं प्राइमरी वर्ग के आर्ट एंड क्राफ्ट प्रदर्शनी में पायल गुप्ता, विनायक ध्यानी, शिवांश ध्यानी, एकता चौधरी, विवेश, यक्ष गौड़, हर्षित रस्तोगी, आकास कुमार, सार्वी शर्मा, प्राज्ञी क्षेत्री, गार्गी गौनियाल, हर्षित चौहान, दिव्यांशु जैन ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। इस अवसर पर विद्यालय के प्रधानाचार्य संजय बिष्ट, डॉ. संजय ध्यानी, डॉ. स्मिता बसेरा, मंजू चौहान आदि उपस्थित थे।
 

निर्माणाधीन भवन का छज्जा गिरा, अवकाश होने से टला बड़ा हादसा

ऋषिकेश ।  हरिद्वार मार्ग स्थित रामा मार्केट में निर्माणाधीन भवन का छज्जा अचानक भरभरा कर गिर पड़ा। गनीमत रही कि साप्ताहिक अवकाश के कारण बाजार बंद था, जिससे बड़ा हादसा होने से टल गया।
 

भवन निर्माण में सुरक्षा मानकों को पूर्ण कराने के लिए हरिद्वार विकास प्राधिकरण (हविप्रा) की जिम्मेदारी है। भवन निर्माण से पूर्व नक्शा पास कराना भी जरूरी होता है। खाली नक्शा पास कर देना ही नहीं, बल्कि मौके पर जाकर निर्माण में मानकों की सुनिश्चित करना भी हविप्रा का ही काम है। पहले से ही अपनी कार्यप्रणाली को लेकर चर्चित हविप्रा को सुरक्षा जैसे मानकों से कोई लेनादेना नहीं है। गुरुवार को रामा मार्केट में हुई घटना को देखकर कम से कम यही लगता है। रामा मार्केट के प्रथम तल पर फ्रंट से लेकर बैक तक हॉल का निर्माण कराया जा रहा है। इसमें मार्केट की ओर छज्जा भी डाल दिया गया था। गुरुवार की दोपहर यह छज्जा भरभरा कर गिर पड़ा। गुरुवार को साप्ताहिक अवकाश होने से दुकानें बंद थी, इसलिए वहां मौके पर कोई भी दुकानदार या ग्राहक नहीं था। वरन कोई बड़ा हादसा हो सकता था। छज्जे का मलबा जब गिरा तो निर्माण सामग्री का सच भी सामने आ गया। इसमें पुरानी ईटों का प्रयोग किया गया था। भवन का नक्शा पास है या नहीं, यह जानने के लिए आरएनएस द्वारा हविप्रा के सहायक अभियंता एससीएस राणा से मोबाइल पर संपर्क करना चाहा तो उन्होंने मोबाइल नहीं उठाया। हविप्रा के उप सचिव व उप जिलाधिकारी रामजी शरण ने आरएनएस को बताया कि इस मामले की शुक्रवार को जांच होगी। हविप्रा के अधिकारियों से पूरी जानकारी उपलब्ध कराई जाएगी।

 

सलाउद्दीन बट्ट मेमोरियल क्रिकेट टूर्नामेंट

देहरादून । प्रथम सलाउद्दीन बट्ट मेमोरियल क्रिकेट टूर्नामेंट में रीयल होस्ट ने शम्स इलेवन को सात रन से हराकर सेमीफाइनल में प्रवेश किया। ओएफडी स्टेडियम में चल रहे टूर्नामेंट में गुरुवार को रीयल होस्ट व शम्स इलेवन के बीच मैच खेला गया। रीयल होस्ट ने टॉस जीतकर बल्लेबाजी का निर्णय लिया। पवन (31), दीपक (45), चांद (52) व अनीश (13) की बदौलत रीयल होस्ट ने निर्धारित 20 ओवर में पांच विकेट खोकर 171 रन बनाए। शम्स इलेवन के लिए रजत ने तीन विकेट हासिल किए।
 

लक्ष्य का पीछा करने उतरी शम्स इलेवन की टीम निर्धारित ओवर में आठ विकेट खोकर 164 रन ही बना सकी। रजत (44), नईम (32), वी. कांत (33) व कासिफ (10) ने टीम के लिए सर्वाधिक योगदान दिया। रीयल होस्ट के लिए ओमकार ने दो विकेट चटकाए। आज टूर्नामेंट में विस्परिंग विलो व सचिवालय और रीयल होस्ट व राजेंद्र स्पोर्ट्स के बीच सेमीफाइनल मैच खेले जाएंगे।
 

भवन की हालत जर्जर विभाग ने किए दो नए कक्ष स्वीकृत

विकासनगर । प्राथमिक विद्यालय डांडा के भवन की जर्जर हालत को देखते हुए विभाग ने दो नए कक्ष स्वीकृत किए हैं। भवन जर्जर होने के चलते अभी तक बच्चों को खुले आसमान के नीचे पढ़ाई करनी पड़ रही है। ग्रामीणों की लंबे समय से जर्जर भवन के स्थान पर नए कक्षा कक्ष बनाने की मांग के बाद विभाग ने इसकी सुध ली।
 

प्रावि डांडा भवन की छत टूटने के साथ ही दीवारों में दरारें पड़ी होने से बच्चों को परेशानी हो रही है। कालसी ब्लॉक अंतर्गत डांडा गांव का प्राथमिक विद्यालय भवन करीब 30 वर्ष पुराना है। विद्यालय भवन की हालत बेहद जर्जर होने के चलते इस विद्यालय में अध्ययनरत करीब 25 बच्चे खुले आसमान के नीचे पढ़ाई करने को विवश हैं।
 

ग्रामीण रघुवीर नेगी, राजेंद्र नेगी, अभिभावक संघ अध्यक्ष मीरा वर्मा, गजेंद्र नेगी कहते हैं कि डांडा प्राथमिक विद्यालय भवन की हालत बेहद खराब होने के चलते कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है। उन्होंने शिक्षा विभाग के उच्चाधिकारियों से डांडा प्राथमिक विद्यालय भवन का पुनर्निर्माण कराने की मांग की थी। ग्रामीणों का कहना है कि भवन की हालत इतनी खराब है कि छत जर्जर होने के साथ ही भवन में दरारें पड़ी हुई हैं। दरवाजे, खिड़कियां तक टूटी हुई हैं, फर्श उखड़ा हुआ है। ग्रामीणों की मांग पर विभाग ने विद्यालय की सुध ली।
 

बीआरसी कालसी बीएस रावत ने आरएनएस को बताया कि डांडा प्राथमिक विद्यालय भवन की हालत खस्ता होने के चलते विभाग ने दो नए कक्ष स्वीकृत किए हैं। इसके लिए सात लाख 34 हजार रुपये स्वीकृत किए गए हैं।
 

आरआर पाल क्रिकेट अकेडमी ने पूरे अंक हासिल किये

देहरादून । 61वीं जिला क्रिकेट लीग में आरआर पाल क्रिकेट अकेडमी ने करीबी मुकाबले में प्रताप क्रिकेट अकेडमी (पीसीए) को तीन रन से हराकर पूरे अंक हासिल किए।
 

कर्नल ब्राउन स्कूल के मैदान में चल रही प्रतियोगिता में गुरुवार को आरआर पाल क्रिकेट अकेडमी व पीसीए के बीच मैच खेला गया। आरआर पाल अकेडमी ने टॉस जीतकर बल्लेबाजी का निर्णय लिया। संदीप (25), पुष्कर (32), अजय 23, नीरज (44), सन्नी (20), मुकेश (नाबाद 25) व शुभम (नाबाद 25) की बदौलत आरआर पाल अकेडमी ने निर्धारित 30 ओवर में छह विकेट खोकर 211 रन बनाए। पीसीए के लिए दीपक ने दो विकेट चटकाए।
 

जीत के लिए मिले 212 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए पीसीए की टीम निर्धारित ओवर में नौ विकेट खोकर 208 रन ही बना सकी। हिमांशु (48), आकाश (20), मोंटी (60), दिनेश (13), मनीष (नाबाद 16) व माही (13) का संघर्ष टीम के काम नहीं आ सका। आरआर पाल अकेडमी के लिए संदीप ने चार व दीपक ने दो विकेट झटके। आज प्रतियोगिता में आइएमएस व साई ग्रेस अकेडमी के बीच मैच खेला जाएगा।

 

प्रशासन चला गांव की ओर कार्यक्रम की समीक्षा

देहरादून । प्रशासन चला गांव की ओर कार्यक्रम की समीक्षा जिलाधिकारी बीवीआरसी पुरुषोत्तम द्वारा विकास भवन सभागार में आयोजित बैठक में की।
बैठक में जिलाधिकारी द्वारा न्याय पंचायतों पर तैनात किये गये नोडल अधिकारियों की निरीक्षण रिपोर्ट की समीक्षा करते हुए मात्र 16 अधिकारियों द्वारा ही अपनी निरीक्षण रिपोर्ट जिलाधिकारी प्रस्तुत कराई गई जिसमें से 24 अधिकारियों द्वारा अपनी निरीक्षण रिपोर्ट प्रस्तुत न करने पर जिलाधिकारी द्वारा गहरी नाराजगी जाहिर करते हुए मुख्य विकास अधिकारी को निर्देश दिये कि मुख्य कोषाधिकारी को पत्र प्रेषित किया जाय कि जिन अधिकारियों द्वारा अभी तक अपनी निरीक्षण रिपोर्ट प्रस्तुत नहीं की गयी है उनका माह दिसम्बर का वेतन तब तक आहरित न किया जाय जब तक उनके द्वारा अपनी निरीक्षण रिपोर्ट उपलब्ध नहीं कराई जाती है।
 

जिलाधिकारी द्वारा सभी नोडल अधिकारियों को सख्त निर्देश दिये हैं कि जो दायित्व उन्हें सौंपा गया है उसका निर्वहन भली प्रकार से करें तथा सरकार द्वारा संचालित जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ सुदूर क्षेत्रों में रह रहे व्यक्तियों को मिल रहा है या नहीं उसकी पूरी जानकारी से उन्हें अवगत करायें तथा योजनाओं से वंचित पात्र व्यक्तियों को योजनाओं का लाभ मुहैया कराया जाय। उन्होंने सभी अधिकारियों को यह भी निर्देश दिये हैं कि समाज कल्याण विभाग द्वारा दी जाने वाली वृद्घावस्था, विधवा, विकलांग पेंशन में यदि कोई पात्र व्यक्ति छूट जाता है एवं आपको लगे कि यह व्यक्ति वास्तव में ही गरीब है उसका घर तक का भी निरीक्षण करें तथा पात्रता की श्रेणी में आने पर उसका नाम नोट कर उन्हें सूचित करायें ताकि उन्हें योजना से लाभान्वित किया जा सके। जिलाधिकारी ने सभी अधिकारियों को यह भी निर्देश दिये ग्राम पंचायतों के निरीक्षण के दौरान उनके द्वारा किये जा रहे निर्माण कार्यों एवं ग्राम पंचायतों में कराये जा रहे कार्यों का भली प्रकार से निरीक्षण कर अपनी जांच आख्या प्रेषित करें। यदि किसी प्रकार की लापरवाही एवं कहीं कोई अनियमितता पायी जाती है एवं निरीक्षण के दौरान अधिकारी द्वारा सही रिपोर्ट प्रेषित नहीं की गयी तो इसके लिये सम्बन्धित अधिकारी स्वयं जिम्मेदार होंगे। उन्होंने सभी अधिकारियों को यह निर्देश दिये हैं कि अगले माह जनवरी 2013 से अधिकारी माह में केवल एक ही गांव का निरीक्षण करेंगे तथा गांव में कराये जा रहे निर्माण कार्यों एवं समस्याओं के बारे में अपनी स्पष्ट रिपोर्ट ष्रेषित करेंगे।
 

ब्लाक कालसी के न्याय पंचायत खाडी की रिपोर्ट प्रस्तुत करते हुए मुख्य पशुचिकित्सा अधिकारी अविनाश आनन्द द्वारा अवगत कराया कि कालसी से नागथात एक किमी मुख्य मार्ग से एक किमी$ अंदर कच्चे मोटरमार्ग को डामरीकरण की गयी है। जिस पर जिलाधिकारी द्वारा लोनिवि को उचित कार्यवाही के निर्देश दिये गये हैं। तथा उद्यान विभाग द्वारा उपलब्ध कराये जाने वाला बीज भी समय से प्रान्त नहीं हो रहा है यह शिकायत ग्रामवासियों द्वारा की गयी। उन्हें सिर्फ अदरक का बीज ही समय से प्रान्त हुआ है। जिस पर जिलाधिकारी ने सम्बन्धित विभाग को उचित कार्यवाही के निर्देश दिये हैंं। जिलाधिकारी को सहायक निदेशक डेरी द्वारा अवगत कराया गया कि नवादा में समाज कल्याण विभाग द्वारा जारी की जाने वाली छात्रवृत्ति जाति प्रमाण पत्र व आय प्रमाण पत्र न होने के अभाव में पात्र बच्चों को उपलब्ध नहीं हो पा रही है। जिसके लिये उन्होंने एओ माध्यमिक शिक्षा को निर्देश दिये कि इसमें जो पूर्व की व्यवस्था की गयी थी उसी के अनुसार स्कूल में छात्रवृत्ति का वितरण कराना सुनिश्चित करें। मुख्य कृषि अधिकारी द्वारा विकास खण्ड चकराता ग्राम सभा दसऊ के निरीक्षण में पाया कि वहां डिस्पेंसरी है वहां डॉक्टर नहीं हैं। तथा हाईस्कूल में टीचर कभी कोई आता है तो कभी कोई आता है। जिसके लिये जिलाधिकारी द्वारा एओ माध्यमिक को उक्त विद्यालय का निरीक्षण कर वस्तुस्थिति से उन्हें अवगत कराने के निर्देश दिये। जिला पंचायत राज अधिकारी द्वारा अवगत कराया गया कि एक आंगनबाड़ी केन्द्र एक छोटे से कमरे में चल रहा है जिसमें बैठने की व्यवस्था नहीं जिसमें बच्चे बरामंदे में बैठ रहे हैं। इस केन्द्र में दो कुपोषित बच्चे भी पाये गये। जिसके लिये जिलाधिकारी द्वारा जिला कार्यक्रम अधिकारी को उक्त ग्राम सभा का निरीक्षण करने के निर्देश दिये। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी सुशील कुमार, ज्वाइंट मजिस्टे्रट रंजना वर्मा, मुख्य पशुचिकित्साधिकारी डा$ अविनाश आनन्द तथा सभी नोडल अधिकारी उपस्थित थे।
 
 

सीएचसी में दो दिवसीय कार्यशाला का आयोजन

विकासनगर । भुवनेश्वरी महिला आश्रम ने पंचायत स्तर पर गठित स्वच्छता और स्वास्थ्य उप समिति की कार्यकर्ताओं के लिए सीएचसी में दो दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया। इसमें कार्यकर्ताओं को स्वास्थ्य व स्वच्छता से संबंधित कई जानकारियां दी गई।
 

कार्यशाला में दस ग्राम पंचायतों के स्वच्छता व स्वास्थ्य उप समिति के कार्यकर्ताओं को कन्या भ्रूण हत्या रोकने सहित स्वास्थ्य नीति बनाने में अपना योगदान देने की विस्तृत जानकारी दी गई। भुवनेश्वरी महिला आश्रम की श्रद्धा बिजल्वाण ने बताया कि कार्यशाला के माध्यम से उप समिति के कार्यकर्ताओं को उनके कार्यदायित्व और सरकार द्वारा बनाई जाने वाली स्वास्थ्य नीति में अपना योगदान देने की जानकारी दी जा रही है, जिससे पंचायत स्तर पर ग्रामीण स्वास्थ्य व स्वच्छता व बच्चों के न्यूट्रेशन के प्रति जागरूक हो सकें।

कार्यशाला में समाज में फैले कन्या भ्रूण हत्या के जहर को मिटाने के लिए भी कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षित कर जागरूकता जगाने को तैयार किया जा रहा है। कार्यशाला में मुकुल, महमूद खान, सरोज गैरोला, विजय कुमार, प्रवीन, अनिल, अनीता, ऋचा, नेहा आदि उपस्थित थे।
 

बेहड़ से आगे रहे भुल्लर लेकिन परिणाम रोका गया

देहरादून । एनएसयूआइ के प्रदेश अध्यक्ष पद के लिए हुए चुनाव में विजयी प्रत्याशी की घोषणा नहीं हो पाई। हालांकि मतगणना में सबसे अधिक 754 मत सुमित्तर सिंह भुल्लर को मिले। सौरभराज बेहड़ ने 635 मत हासिल किए। भुल्लर के खिलाफ आपराधिक मुकदमा दर्ज होने की शिकायत के कारण चुनाव अधिकारी ने अध्यक्ष पद के लिए विजेता की घोषणा नहीं की।
 

गुरुवार को कांग्रेस भवन में एनएसयूआइ प्रदेश कार्यकारिणी के लिए मतगणना शुरू हुई। दोपहर एक बजे शुरू हुई मतगणना रात आठ बजे पूरी हुई। प्रदेश अध्यक्ष पद के विजेता को लेकर समर्थकों में बैचेनी रही। अध्यक्ष पद के लिए सुमित्तर सिंह भुल्लर ने सात दावेदारों में सर्वाधिक मत हासिल किए, लेकिन उनके खिलाफ प्रतिद्वंद्वी द्वारा आपराधिक मुकदमा दर्ज होने की शिकायत पर चुनाव अधिकारी ने अध्यक्ष पद पर विजेता की घोषणा नहीं की। तीन या चार जनवरी को ही विजयी प्रत्याशी की घोषणा की जाएगी। चुनाव अधिकारी ने अध्यक्ष पद के दावेदारों की सूची प्राप्त मत सहित केंद्रीय कमेटी फेम को भेज दी गई। दोनों पक्षों को सुनवाई के बाद फेम अध्यक्ष पद के विजेता की घोषणा करेगी।
 

चुनाव अधिकारी आमिर सिद्यकी ने आरएनएस को बताया कि अध्यक्ष पद के प्रत्याशी के खिलाफ शिकायत के कारण विजेता की घोषणा नहीं की गई। भुल्लर और शिकायतकर्ता दो जनवरी को दिल्ली में फेम से सामने अपना पक्ष रखेंगे। उसके बाद फेम ही विजेता की घोषणा करेगी। उन्होंने बताया कि महासचिव पद पर श्रवण कुमार, सावन सिंह पठानी, नीतेश गुप्ता, गौरव सिंह खत्री व अनुपम कुमार, सचिव पद पर प्रकाश गिरी, पंकज टम्टा, मयंक खंडूड़ी, मनीषा यादव, विपिन चंद व भूपेद्र कुमार व राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य स्वाति नेगी, रविकांत व दीपक बिजल्वाण चुने गये।
 

टू नाइट्स इन सोल वैली में गंभीर भूमिका में नजर आएंगे पांडे

देहरादून । प्रसिद्ध हास्य धारावाहिक ऑफिस-ऑफिस से चर्चाओं में आए हास्य अभिनेता हेमंत पांडे फिल्म टू नाइट्स इन सोल वैली में गंभीर भूमिका में नजर आएंगे। फिल्म उत्तराखंड, पंजाब, यूपी, जम्मू आदि राज्यों के 40 सिनेमाघरों में आज रिलीज होगी। फिल्म पिथौरागढ़ की एक सच्ची घटना पर आधारित है।
 

गुरुवार को सिल्वर सिटी में पत्रकारों से बातचीत में पिथौरागढ़ निवासी अभिनेता हेमंत पांडे ने फिल्म के अनुभव साझा किए। उन्होंने कहा कि फिल्म टू नाइट्स इन सोल वैली से मैं सही मायने में एक्टिंग की शुरुआत कर रहा हूं। उन्होंने बताया कि फिल्म में मैं हिम्मत सिंह नाम के गाइड का किरदार निभा रहा हूं, जो चंडीगढ़ से सोल वैली में छुट्टी मनाने आए ग्रुप की मदद करता है। यात्रा के दौरान गु्रप के साथ कई अजीब-अजीब सी घटनाएं होती हैं। इस दौरान ही ग्रुप का एक सदस्य भी लापता हो जाता है। उन्होंने बताया कि नए साल में उनकी डोंट वरी बी हैप्पी, मछली जल की रानी है और भइया जी सुपरहिट रिलीज होंगी। उन्होंने उम्मीद जताई कि जिस प्रकार दर्शकों ने उन्हें हास्य भूमिका में पसंद किया, वैसे ही गंभीर भूमिका में करेंगे।
 

फिल्म के लेखक व निर्देशक हरीश शर्मा ने बताया कि यह फिल्म नब्बे के दशक में पिथौरागढ़ में हुई सच्ची घटना पर आधारित है। उस समय मैं पीटीआइ में पत्रकार था। हॉरर होने के बावजूद फिल्म में न तो खून खराबा है और न ही कोई आपत्तिजनक दृश्य है। फिल्म की शूटिंग पिथौरागढ़ व मोरनी हिल्स पंचकुला चंडीगढ़ में हुई है। उन्होंने बताया कि फिल्म की शूटिंग रेकार्ड 12 दिन में पूरी की गई है ओर इसे बनाने में लगभग एक करोड़ रुपये का बजट आया है। इस दौरान फिल्म में अभिनय करने वाले सुमित शर्मा, सिल्वर सिटी के निदेशक सुयश भी मौजूद थे।


 

मास्टर ब्लास्टर ने बेटे को सिखाई क्रिकेट की बारीकियां

मसूरी । मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर आज बेटे अर्जुन के शिक्षक की भूमिका में नजर आए। उन्होंने न केवल बेटे अर्जुन के साथ क्रिकेट खेला, बल्कि उन्हें क्रिकेट की बारीकियां भी सिखाई। इसके अलावा सचिन रोजाना की तरह वुडस्टॉक स्कूल स्थित जिम जाना भी नहीं भूले। सचिन ने प्रशंसकों को भी निराश नहीं किया और उनके साथ भी जमकर फोटो खिंचाई।
 

गुरुवार को सचिन जहां द्रोणाचार्य, वहीं अर्जुन एक शिष्य की भूमिका में थे। सचिन ने अर्जुन को क्रिकेट के टिप्स दिए। उन्होंने वुडस्टॉक स्कूल के क्रिकेट ग्राउंड में अर्जुन के साथ साढ़े तीन घंटे से ज्यादा समय व्यतीत किया। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, सचिन ने अर्जुन को बल्लेबाजी के बारे में भी बताया। कई बार सचिन ने खुद बल्लेबाजी कर अर्जुन को टिप्स दिए। अर्जुन भी बड़े ध्यान से सबकुछ देख रहे थे। करीब साढ़े तीन घंटे क्रिकेट खेलने के बाद सचिन ने दोस्त संजय नारंग के साथ बैडमिंटन में हाथ आजमाये। शाम करीब पांच बजे सचिन बोथवेल बैंक स्थित आवास आ गए।
 

गुरुवार को सचिन सुबह नाश्ता करने के बाद सचिन कुछ देर के लिए होटल रुकबी मैनोर गए। देर शाम सचिन पैदल ही चार दुकान तक गए। इस दौरान उन्होंने प्रशंसकों को भी निराश नहीं किया और उनके साथ फोटो खिंचवाई। रात का भोजन उन्होंने बोथवेल बैंक स्थित आवास पर ही किया।
गुरुवार को जहां सचिन और अर्जुन ने क्रिकेट खेली, वहीं पत्नी अंजलि और बेटी सारा ने बाजार में जमकर शॉपिंग की। इस दौरान उन्होंने चार दुकान स्थित चाय की दुकान में चाऊमिन और कॉफी का लुत्फ उठाया।
 

दो जनवरी को मीडिया से मिलने के आश्वासन के बाद गुरुवार को बोथवेल बैंक, रुकबी मैनोर होटल और चार दुकान में मीडियाकर्मियों का जमावड़ा नहीं रहा। लंढौर कैंटोनमेंट क्षेत्र में सचिन के ठहरने से चार दुकान और सिस्टर बाजार में व्यापारिक गतिविधियां बढ़ गई हैं। सचिन से मिलने आने वाले प्रशंसकों की आवाजाही बढऩे से चार दुकान क्षेत्र के होटल व रेस्तरां गुलजार हो गए हैं। व्यापारियों के चेहरे खिल गए हैं।


 

सडक़ दुर्घटना में वीडिओ की मौत

रुद्रप्रयाग । तिलवाड़ा से रुद्रप्रयाग को आ रही एक मोटरसाइकिल के सडक़ किनारे डंपर से टकराने से अगस्त्यमुनि के वीडीओ की मौत हो गई। दुर्घटना में मोटरसाइकिल में अन्य सवार दो ग्राम प्रधान भी बुरी तरह घायल हो गए। दोनों को उपचार के लिए चिकित्सालय भर्ती कराया गया।
 

जानकारी के मुताबिक शाम को अगस्त्यमुनि के ग्राम पंचायत अधिकारी सुरेंद्र लाल मोटरसाइकिल से तिलवाड़ा से रुद्रप्रयाग की तरफ आ रहे थे। नौलापानी के निकट सडक़ किनारे खड़े सीमा सडक़ संगठन के डंपर से उनकी मोटरसाइकिल टकरा गई। इससे सुरेंद्र लाल के साथ ही मोटर साइकिल में बैठे बाड़व के प्रधान अनिल नेगी व कांडी के प्रधान प्रदीप चमोला बुरी तरह घायल हो गए। घायलों को उपचार के लिए जिला चिकित्सालय पहुंचाया गया। जहां चिकित्सकों ने संतलाल को मृत घोषित कर दिया। घायलों में अनिल नेगी की हालत ज्यादा गंभीर होने के कारण उन्हें श्रीनगर रेफर कर दिया गया।
 

कुंवर दिव्य प्रताप अंतरराष्ट्रीय निशानेबाजी प्रतियोगिता में क्वालीफाई

देहरादून । दिल्ली के महाराज डॉ. कर्ण सिंह शूटिंग रेंज में चल रही राष्ट्रीय निशानेबाजी प्रतियोगिता में विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन के पुत्र कुंवर दिव्य प्रताप सिंह ने डबल ट्रैप स्पद्र्धा के जूनियर वर्ग में शानदार प्रदर्शन करते हुए अंतरराष्ट्रीय निशानेबाजी प्रतियोगिता के लिए क्वालीफाई किया है।
 

दिव्य प्रताप सिंह ने .12 बोर डबल ट्रैप स्पद्र्धा में 83 का स्कोर करते हुए यह उपलब्धि हासिल की है। 16 वर्षीय दिव्य एशियन स्कूल में 11वीं के छात्र हैं। कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन ने बताया कि दिव्य ने मात्र दो माह के अभ्यास से ही यह उपलब्धि हासिल की है। दिव्य को केंद्र सरकार रिनाउंड शॉट सार्टिफिकेट देगी।

 

दून में बहुरंगी यूनिवर्सल रंग महोत्सव का रंगारंग आगाज

देहरादून । बहुरंगी यूनिवर्सल रंग महोत्सव का राजधानी में गुरूवार को रंगारंग आगाज हुआ। इस समारोह का शुभारंभ नृत्यांजलि कला मंच असोम की मंत्रमुग्ध कर देने वाली प्रस्तुति से हुआ और फिर केरल व कर्नाटक के सांस्कृतिक दलों ने लोकरंग की मनमोहक छटा बिखेरी। सांध्य बेला मुंशी प्रेमचंद के प्रसिद्ध नाटक पूस की रात के नाम थी, जिसका कलाकारों ने स्थानीय परिवेश के अनुरूप गढ़वाली में मंचन किया।
 

यूनिवर्सल सांस्कृतिक शोध नाट्य विद्यालय की ओर से एमकेपी इंटर कॉलेज के सभागार में आयोजित पांच दिवसीय महोत्सव का शुभारंभ निदेशक संस्कृति बीना भट्ट  ने दीज जलाकर किया। इस अवसर  पर अपने संबोधन में उन्होंने आयोजन को सांस्कृतिक विरासत संजोने की दिशा में महत्वपूर्ण पहल बताया। साथ ही आश्वस्त किया कि विभाग की ओर से भी महोत्सव में सांस्कृतिक दल भेजे जाएंगे। उन्होंने कहा कि इससे हमें एक दूसरे की संस्कृति को जानने का मौका मिलेगा और साथ ही हम पूरे देश से रूबरू हो सकेंगे। कार्यक्रम की शुरुआत असोम के लोक कलाकारों ने पूर्वोत्तर के रंग बिखेर कर की और फिर केरल व कर्नाटक के सांस्कृतिक दलों ने बहुरंगी राष्ट्रीयता की मनमोहक छटा बिखेरी। स्थानीय कलाकारों ने भी उत्तराखंडी लोक प्रस्तुतियों का नयनाभिराम दृश्य साकार किया। सांध्य बेला नाट्य प्रस्तुतियों के नाम रही, जिसमें पहली प्रस्तुति मुंशी प्रेमचंद के प्रसिद्ध नाटक पूस की रात की थी। स्थानीय परिवेश के अनुरूप गढ़वाली में मंचित इस नाटक में आम आदमी की पीड़ा को इतने मार्मिक ढंग से प्रस्तुत किया गया कि दर्शक बंधे से रह गए। निर्देशन बलिराम भट्ट का था।
 

दूसरी प्रस्तुति मीता घोष निर्देशित बंगाली नृत्य नाटिका प्रणय मानुष की थी। नाटक बताता है कि एक अच्छा आदमी कैसे परिस्थितियों को अपने अनुकूल ढाल लेता है। कार्यक्रम में नाट्य विद्यालय के पूर्व अध्यक्ष दिवंगत सूबेदार सिंह और पूर्व रंगमंडल प्रभारी अमित सिंह का भावपूर्ण स्मरण करते हुए उन्हें श्रद्धासुमन भी अर्पित किए गए। इस अवसर पर महोत्सव के सचिव अनुज राजपूत, संयोजक डॉ.राखी राजपूत, अध्यक्ष अशोक तोमर, सांस्कृतिक सचिव बलीराम भट्ट, भाग सिंह नेगी, अनुज पंडित, शिखर मोहन, संजय गर्ग आदि मौजूद रहे। पांच दिन चलने वाले रंग महोत्सव में असोम, महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश, उड़ीसा, हरियाणा, उत्तरप्रदेश, मणिपुर, अरुणाचल प्रदेश, केरल, गुजरात समेत देश के विभिन्न हिस्सों से 15 नाट्य एवं सांस्कृतिक दल प्रतिभाग कर रहे हैं।
 

अज्ञात बीमारी की भेंट चढ़ा परिवार

विकासनगर । कहते हंै औलाद ही बुढापे मां-बाप का सहारा बनती है, लेकिन विकासनगर के जीवनगढ़ में रहने वाला एक मजबूर बाप ऐसा भी है जिसने अपने बुढापे के सहारा बनने वाली ओैलाद को तिल-तिल कर मरते देखा हेै। जिसने बुढी आंखेा के सामने अपनी एक अज्ञात बीमारी के भेंट चढ़ते तो देखा ही साथ ही, पिछले कुछ ही सालों में अपनी दो जवान बेटियो एक बेटे तक को खो दिया है, औेर अब उसका एकलौता सहारा एक ओर बेटा भी आखो के सामने जिन्द्गी ओर मोत से जुझ रहा है। इस अज्ञात बीमारी ने परिवार के चार लोगो को तो छिना ही ओैर अब आर्थिक तगंी के चलते परीवार में बचा एकमात्र चिराग भी बुझने जा रहा है लेकिन इस परीवार को आज तक भी सरकार ओैर प्रशासन की ओर से कोई भी मदद नही मिल पाई है।
 

विकासनगर के जीवनगढ गांव में रहने वाले इनाम बक्श का यह मजबूर परिवार एक एैसी अज्ञात बीमारी की चपेट में आ चुका है, जिसने कुछ ही सालो के अंतराल में उसके परिवार के चार लोगों को असमय ही लील लिया। अज्ञात बीमारी की भेंट चढ़े इस परिवार का अब एक मात्र सहारा भी इस बीमारी के कारण जिंद्गी और मौत के बीच जुझ रहा है, लेकिन स्वास्थय विभाग की ओर से कोई भी ठोस कदम नही उठाये गये जिससे इस परिवार को मदद मिल सके। इतना ही नहीं इस बीमारी और आर्थिक तंगी से जुझ रहे इस परिवार के पास आज ना तो ईलाज कराने को पैसा है ओैर ना ही खाने को। जबकि अब तो परिवार को ये भी डर सताने लग गया है कि परिवार में जो बच्चे है कही ये बीमारी उनको ना लग जाये। जबकि परिवार में इसी बीमारी के कारण विधवा हुई महिला का कहना है कि इस बीमारी में परिवार के चार लोगों की दर्द नाक मौत हो चुकी है। और परिवार में बचा एक और व्यक्ति भी जिंद्गी और मौत से जुझ रहा है। उनका कहना था कि पहले तो इस बीमारी में शरीर का कोई भी अंग काम करना बंद कर देता है ओर धीरे धीरे यह बीमारी पूरे शरीर में फैल जाती है ओैर अंत में मोत तक जा पहुंचती है। जिसके चलते दो साल पहले इसी बीमारी से पति की भी मौत हुई और पिछले पांच सालों से देवर भी चरपाई पर पड़ा है। परिवार में रोजी रोटी का कोई साधन नहीं और उन्हें कोई सरकारी मदद नहीं मिल पा रही है। आज घर में जो चुल्हा जलता है वो सिर्फ गांव वालो की मदद से जलता है। उनके पास इतना पैसा भी नहीं है कि वह ईलाज किसी अच्छे डाक्टर से करा सके। और उनका मकान भी आज जर्जर हालत में है, जो किसी वक्त भी कोई बड़ा हादसा मकान गिरने से हो सकता है।
 

जबकि इस बीमारी से पीडि़त व्यक्ति का कहना है कि अपने परिवार के अन्य लोगों की तरह ही उनको भी इस बीमारी ने जकड़ लिया है और उनके पास इतना पैसा भी नही ंके वह किसी अच्छे डाक्टर को दिखाकर अपना ईलाज ही करवा सकें। जबकि इस अज्ञात बीमारी से अब्दुल खालिक की पत्नी नजमा तो हाल बयां करते हुये कैमरे के सामने ही फफककर रो पड़ी। जैसे तैसे अपने आंसुओं को संभालते हुये, बोली कि परिवार के चार लोगों को खोने के बाद आज परिवार का एकलौता सहारा उनका पति भी इस बीमारी के कारण बिस्तर पर पडा हैं। जिनका आर्थिक तंगी में अपने स्तर पर ईलाज कराकर थक चुके हैं। लेकिन इस अज्ञात बीमारी का रहस्य कोई भी डाक्टर बताने में असमथर््ा हो रहा है। अब तो उनके पति जिंद्गी और मौत से जुझ रहे हैं लेकिन परिवार की मदद के लिये कोई भी हाथ मदद के लिये नहीं बढ़ रहा है। वहीं इस परिवार के बुजुर्ग व इनके पिता इनामबक्श अपनी डबडबाती आवाज में अपने परिवार के लोगों की मौत के बारे में जानकारी देते हुये कहा कि इस बीमारी ने उनके पूरे परिवार को उनसे छीन लिया और आज इकलौता सहारा भी मौत के दरवाजे पर खड़ा है।
सरकार ने जहां बीमारियों से लडऩे के लिये अनेकों योजनाएं चला रखी है वहीं आज जीवनगढ़ का यह परिवार अज्ञात बीमारी से जुझ रहा है लेकिन सरकार द्वारा बनाई गई यह योजनाएं उनके किसी काम नहीं आ रही हेेै। और सरकारी नुमाइंदे भी चुप हैं। क्या सरकार या स्वास्थ्य विभाग का कोई नुमाइंदा परिवार में अज्ञात बीमारी का पता लगा पायेगा या फिर गुमनामी के अंधेरे में चार लोगों की तरह अब्दुल खालिक भी अज्ञात बीमारी से अपनी जीवन लीला समान्त कर लेगा।
 

 

बड़ा हादसा होते होते टला, देर रात बाजार मे मची अफरा-तफरी

विकासनगर । देर रात विकासनगर के मुख्य बाजार में पुलिसकर्मीयों व चौकीदार की सतर्कता की वजह से बड़ा हादसा होते होते टल गया। जिससे न केवल यह हादसा टला बल्कि दुकानदारों का लाखों रूप्ये का नुकसान होने से भी बचा।
 

आरएनएस को मिली जानकारी के अनुसार विकासनगर के मुख्य बाजार पुलिस चौकी बाजार में देर रात  सूनसान पड़े बाजार में बिजली के पेनल नंबर 14 में लगे बिजली के मीटरों में अचानक शॉर्टसर्किट होने आग लग गई, जिससे आसपास के लोगों में अफरा-तफरी मच गई। जिसको पुलिस चौकी में मौजूद एक पुलिसकर्मी व रात्री चोैकीदारी पर मौजूद चौकीदार की सतर्कता के चलते विद्युत विभाग को दूरभाष द्वारा सूचित कर लाईन बंद करवाई गई।

आग पेनल बाक्स में लगी आग को पानी डालकर बुझाया गया। अगर समय रहते पुलिसकर्मी व चोैकीदार सर्तकता न निभाते तो, एक भयावह हादसा हो सकता था। क्योकि पेनल के पास ही मौजूद एक कपड़े की दूकान जो पूर्णतया लकड़ी आदि से निर्मित थी और आसपास की अन्य दुकानो को भी अपनी चपेट में ले सकती थी। साथ ही वहां सो रहे एक विकलांग व्यक्ति की जीवन लीला समान्त हो सकती थी। वहीं इस दौरान विद्युत विभाग की लापरवाही भी साफ देखने को मिली, क्योकि पुलिसकर्मीयों के फोन करने के बाद भी देर रात तक कोई भी विभागिय कर्मचारी घटनास्थल पर नहीं पहुंचा। जिससे रात भर मुख्यबाजार सहित आपपास के मोहल्लों की बिजली गुल रही। सवेरे ही विद्युत मीटरों को बदला गया और विद्युत सुचारू की जा सकी। पेनल बाक्सों में लगे मीटरों में आग लगने का यह कोई पहला मामला नहीं है, इससे पहले भी वार्ड नंबर दो में दो बार इस तरह की घटनाएं हो चुकी है, लेकिन फिर भी विभाग ने कोई सुध नहीं ली।

 

अघोषित कटौती से नाराज व्यापारियों ने एसडीओ को घेरा

गदरपुर । विद्युत की अघोषित कटौती से नाराज व्यापारियों ने पावर हाउस कार्यालय पहुंचकर विद्युत विभाग के एसडीओ का घेराव किया और विद्युत की आपूर्ति में सुधर लाने की चेतावनी दी।
 

उद्योग व्यापार मंडल के अध्यक्ष पंकज सेतिया एवं युवा व्यापार मंडल के अध्यक्ष लवली हुडिया के नेतृत्व में व्यापार मंडल के पदाधिकारियों एवं व्यापारियों ने पावर हाउस कार्यालय पहुंचकर एसडीओ ध्र्मवीर सिंह का घेराव किया। व्यापारियों ने एसडीओ धर्मवीर सिंह के मायम से डीजीएम रूद्रपुर के नाम 9 सूत्रीय एक ज्ञापन सौंपते हुए चेतावनी दी कि अगर समस्याओं का निदान नही किया गया तो व्यापारिक संगठन उग्र आन्दोलन करने को बाध्य होगें।
 

इस दौरान व्यापार मंडल के महामंत्री मनीष पफुटेला, कोषाध्यक्ष राजकुमार सीकरी, राकेश गुम्बर, विजय सिडाना, रोहित कालडा, सचिन बत्रा, संजीव छाबडा, अभिषेक वर्मा, परविन्द्र सिंह, राहुल अनेजा, मुकेश चावला, पिन्दर सिंह, नितिन सेतिया, गौरव भुडडी, राजकुमार पोपली, दीपक कोचर एवं अरूण बजाज सहित तमाम व्यापारी मौजूद थे।
 

बंद मकान में चोरो का तांडव, लाखों की चोरी

देहरादून । चोरों ने राजपुर थाना क्षेत्र में एक बंद मकान को निशाना बनाते हुए लाखों रूपए के जेवरात व नगदी चोरी कर ली है। घटना के समय पति-पत्नी अपने काम से जा रखे थे और इसी दौरान चोरों ने बंद मकान के ताले चटखा डाले। उधर इस चोरी से राजपुर पुलिस की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर भी प्रश्न चिन्ह खड़े हो गए हैं। चोरी की इस घटनो के बाद क्षेत्र में गश्त तेज कर दी गयी है, हालांकि चोरों का अभी तक कुछ पता नहीं चल पाया है।
 

एसएसपी केवल खुराना के सख्त दिशा-निर्देशों के बावजूद अभी भी कुछ थाना क्षेत्रों में गश्त एवं अपराधों को रोकने में लापरवाही बरती जा रही है। ऐसा ही एक उदाहरण राजपुर थाना क्षेत्र में प्रकाश में आया है जहां चोरों ने राजपुर थाने से चंद कदमों की दूरी पर ही एक बंद मकान के ताले दिनदहाड़े तोड़ दिए। काठ बंगला सिपरा कॉलोनी में अमित कपूर अपने परिवार के साथ रहते हैं। २५ दिसंबर को वे अपनी पत्नी के साथ काम पर गए हुए थे। अमित कपूर एवं उनकी पत्नी म्यूजिक कंपनी चलाते हैं तथा दून में ही उनका अपना म्यूजिक स्टूडियो भी है। दिन में दोनों लोग ताला लगाकर स्टूडियो में आ गए। काम निपटा कर जब उनकी पत्नी घर पहुंची तो उनके पहुंचने से पहले ही घर के दरवाजे खुले हुए पाए गए। घर के अंदर का सारा सामान बिखरा हुआ था जबकि आलमारियों को भी चोरों ने तसल्ली से खंगाला था। सूचना मिलने पर राजपुर पुलिस मौके पर पहुंची लेकिन आसपास के लोगों से पूछताछ करने के बावजूद भी चोरी से संबंधित कोई जानकारी पुलिस के हाथ नहीं लग पाई।
 

पुलिस को दी गयी शिकायत में अमित कपूर ने बताया कि चोरों ने उनके घर से ४५ हजार रूपए की नगदी, एक सोने की चेन, कानों की बालियां एवं सोने की अंगूठी चोरी कर ली है। उधर इस चोरी के बाद स्थानीय लोगों में भय का माहौल बना हुआ है। राजपुर थाना क्षेत्र पहले से ही चोरों का सॉफ्ट टॉरगेट बनता रहा है और अब दिनदहाड़े की गयी इस चोरी ने यहां की पुलिस व्यवस्थाओं को सीधे तौर पर चुनौती पेश कर दी है। वहीं पुलिस का कहना है कि चोरी से संबंधित जांच में कुछ लोगों केा संदेह के आधार पर हिरासत में लेकर उनसे पूछताछ की जा रही है।

 

नही छूट रही थानेदारों की आरामतलबी की आदत

देहरादून । चोरियों एवं अपराधों को रोकने में भले ही दून के कप्तान दिन रात एक किए हों लेकिन कुछ थानेदारों की आरामतलबी की आदत नहंी जा रही है। मसूरी डायवर्जन पर छात्रों पर अपना रौब गालिब करने वाली राजपुर पुलिस क्षेत्र के बंद मकानों की सुरक्षा करने में असफल साबित हो रही है। यहां चोरों ने राजपुर थाना क्षेत्र में एक बंद मकान को निशाना बनाते हुए लाखों रूपए के जेवरात व नगदी चोरी कर ली है। घटना के समय पति-पत्नी अपने काम से जा रखे थे और इसी दौरान चोरों ने बंद मकान के ताले चटखा डाले। उधर इस चोरी से राजपुर पुलिस की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर भी प्रश्न चिन्ह खड़े हो गए हैं। चोरी की इस घटनो के बाद क्षेत्र में गश्त तेज कर दी गयी है, हालांकि चोरों का अभी तक कुछ पता नहीं चल पाया है।
 

एसएसपी केवल खुराना के सख्त दिशा-निर्देशों के बावजूद अभी भी कुछ थाना क्षेत्रों में गश्त एवं अपराधों को रोकने में लापरवाही बरती जा रही है। ऐसा ही एक उदाहरण राजपुर थाना क्षेत्र में प्रकाश में आया है जहां चोरों ने राजपुर थाने से चंद कदमों की दूरी पर ही एक बंद मकान के ताले दिनदहाड़े तोड़ दिए। काठ बंगला सिपरा कॉलोनी में अमित कपूर अपने परिवार के साथ रहते हैं। २५ दिसंबर को वे अपनी पत्नी के साथ काम पर गए हुए थे। अमित कपूर एवं उनकी पत्नी म्यूजिक कंपनी चलाते हैं तथा दून में ही उनका अपना म्यूजिक स्टूडियो भी है। दिन में दोनों लोग ताला लगाकर स्टूडियो में आ गए। काम निपटा कर जब उनकी पत्नी घर पहुंची तो उनके पहुंचने से पहले ही घर के दरवाजे खुले हुए पाए गए। घर के अंदर का सारा सामान बिखरा हुआ था जबकि आलमारियों को भी चोरों ने तसल्ली से खंगाला था। सूचना मिलने पर राजपुर पुलिस मौके पर पहुंची लेकिन आसपास के लोगों से पूछताछ करने के बावजूद भी चोरी से संबंधित कोई जानकारी पुलिस के हाथ नहीं लग पाई।
 

पुलिस को दी गयी शिकायत में अमित कपूर ने बताया कि चोरों ने उनके घर से ४५ हजार रूपए की नगदी, एक सोने की चेन, कानों की बालियां एवं सोने की अंगूठी चोरी कर ली है। उधर इस चोरी के बाद स्थानीय लोगों में भय का माहौल बना हुआ है। राजपुर थाना क्षेत्र पहले से ही चोरों का सॉफ्ट टॉरगेट बनता रहा है और अब दिनदहाड़े की गयी इस चोरी ने यहां की पुलिस व्यवस्थाओं को सीधे तौर पर चुनौती पेश कर दी है। वहीं पुलिस का कहना है कि चोरी से संबंधित जांच में कुछ लोगों केा संदेह के आधार पर हिरासत में लेकर उनसे पूछताछ की जा रही है।
 

अतिक्रमणकारियों पर चला पुलिस का डंडा

देहरादून । पार्किग की समस्या से जूझते ऋषिकेश क्षेत्र में अब पुलिस ने अभियान छेड़ दिया है। यहां सडक़ों पर डेरा जमाए अतिक्रमणकारियों के खिलाफ चलाए गए अभियान के तहत गुरूवार को कोतवाली पुलिस ने कई  लोगों के पुलिस एक्ट में चालान किए जबकि एक दर्जन से अधिक वाहनों से काले शीशे निकाले। वहीं नटराज चौक एवं घाट रोड पर भी वाहनों के चालान काटे गए। नटराज चौक पर खडे होने वाले सभी बड़े वाहनों की पार्किंग मार्ग में बिलकुल बंद कर दी गयी है। इन वाहनों को नदी के एक किनारे पर खड़ा करने के लिए जगह तय की गयी है।
 

चार धाम यात्रा मार्ग के प्रवेश द्वार ऋषिकेश में यातायात व्यवस्था में सुधार के लिए पुलिस ने अभियान छेड़ दिया है। एसएसपी केवल खुराना के निर्देशों पर काम करते हुए ऋषिकेश कोतवाली प्रभारी विजय चंद्र सिंह गुंसांई ने यहां चलाए जा रहे अभियान के तहत आज घाट रोड पर चैकिंग अभियान चलाया। इस दौरान एक दर्जन से अधिक वाहनो के काले शीशे निकाले गए। शीशे निकालने को लेकर कई वाहन चालकों से झड़प भी हुई लेकिन पुलिस ने किसी को भी नहीं बख्शा और इन लोगों के वाहनों के शीशे निकाल कर उन्हें चेतावनी देकर छोड़ा। वहीं नटराज चौक पर अब तक खडे रहने वाले वाहनों केा पुलिस ने यहां से हटा दिया जिसके बाद यहां लगने वाले जाम से भी अब मुक्ति मिलती दिख रही है। अब तक यहां कमर्शियल वाहन कइ-कई घंटों तक खड़े रहते थे जिन्हें अब पास ही स्थित नदी के पास पार्किग किया जा रहा है।  नो पार्किग में खड़े वाहनों के अलावा सडक़ों पर अतिक्रमण करने वालों के खिलाफ भी कोतवाल श्री गुंसांई ने ८१ पुलिस एक्ट के तहत चालान काटे। ऋषिकेश ने जानकारी देते हुए बताया कि नटराज चौक के अलावा दून तिराहा, ऋषिकेश-हरिद्वार मार्ग पर भी अतिक्र्रमण करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की गयी है।

 

बीस लाख की चरस के साथ दो गिरफ्तार

देहरादून । राजधानी में मादक पदार्थों के कारोबार के एक और प्रकरण का एसटीएफ ने खुलासा किया है। इस बार एसटीएफ ने बीस लाख रूपए की चरस बरामद करते हुए दो आरोपियों को दबोचा है जो कि प्रेमनगर एवं इसके आसपास के क्षेत्रेंा में अपने कारोबार को हवा दे रहे थे। एसटीएफ अधिकारियों ने बताया कि दोनों लोग नियमित तौर पर हिमाचल से माल लेकर आते थे और यहां अपने नियमित ग्राहकों को ही माल की सप्लाई करते थे। दोनों से पूछताछ में कुछ और तस्करों के बारे में भी जानकारी हाथ लगी है।
 

नशे के सौदागरो के खिलाफ न केवल दून पुलिस बल्कि प्रदेश एसटीएफ भी सक्रिय है। हाल ही में दूून पुलिस ने साठ लाख की हेरोईन बरामद की थी तो एसटीएफ ने भी कई खेप मादक पदार्थों की पकड़ी है। ऐसे ही एक और खुलासे में एसटीएफ ने दो तस्करों केा पकड़ा है जिनके पास से चार किलो चरस बरामद की गयी है। मुखबिर की सूचना पर एसटीएफ टीम एवं विकासनगर पुलिस ने संयुक्त अभियान के तहत पुलिया नंबर एक विकासनगर से दो लोगों को उनकी कार सहित रोकने का प्रयास किया। कार संख्या एचआर ४०ए ८३३२ को रोके जाने के बाद जब कार की तलाशी ली गयी तो उसमें चार किलो चरस बरामद की गयी। पूछताछ करने पर दोनों ने अपने नाम श्याम सिंह निवासी ग्राम चोलना हिमाचल प्रदेश एवं त्यूनी निवासी बिजेंद्र सिंह बताए। इस चरस को यह लोग हिमाचल से ही लेकर आए थे।
 

पुलिस के अनुसार यह चरस हिमाचल की चरस के नाम से पहचानी जाती है जो कि नशे के शौकिनों में बेहद पसंद की जाती है। इसी कारण इसकी कीमत अंतर्राष्ट्रीय मार्केट में अन्य चरस से ज्यादा आंकी जाती है। इस चरस की कीमत बीस लाख रूपए बताई जा रही है जबकि अन्य प्रकार की इतनी ही मात्रा की चरस लगभग पचास से साठ हजार रूपए की आंकी जाती है। पकड़े गए लोगों में श्याम इस धंधे का पुराना जानकार है और देहरादून से लगे प्रेमनगर एवं आसपास के क्षेत्रों मेंं माल की सप्लाई करने के लिए ही त्यूनी निवासी बिजेंद्र को प्रयोग किया था। बिजेंद्र को माध्यम बना कर उसने आसपास के क्षेत्रों का सर्वे किया और यहां विभिन्न संस्थानों में पढने वाले छात्रों को अपने ग्राहकों के तौर पर तैयार किया। तस्करों को दबोचने वाली पुलिस टीम में एसटीएफ से एसआई संदीप नेगी, एसआई बीएस रावत, कांस्टेबल बिजेंद्र चौहान, बबलू गोस्ेह्लामी एवं संदीप चौहान जबकि विकासनगर कोतवाली से राजेंद्र रौतेला, रितेश आदी उपस्थित थे। एसटीएफ अधिकारियों के अनुसार पकड़े लोगों से कुछ अन्य जानकारियां भी हाथ लगी हैं जिसके बाद आने वाले दिनों में इन लोगों को भी बेनकाब किया जाएगा।
 

वहंी रायपुर पुलिस ने भी स्मैक की तस्करी में डोईवाला निवासी शुभम उर्फ पेप्सी को गिरफ्तार करते हुए इसके पास से दस ग्राम स्मैक बरामद की है। बरामद स्मैक की कीमत २५ हजार रूपए बताई जा रही है।

 

मिनी बस ने बाईक सवार को रौंदा, मौत

देहरादून । पैट्रोल पंप से तेल भरा कर सडक़ पर आ रहे युवक की बाईक पर मिनी बस ने टक्कर मार दी जिससे युवक गंभीर रूप से घायल हो गया। बस चालक रास्ते में ही बस को छोड़ कर फरार हो गया जबकि इसी बस में घायल को जौली ग्रांट अस्पताल में लाया गया जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया गया। पुलिस के अनुसार बस भी पैट्रोल पंप में ही आ रही थी और अंदर आते समय भी उसकी गति काफी तेज थी। पुलिस ने फरार बस चालक की पहचान कर ली है और जल्द ही उसकी गिरफ्तारी कर ली जाएगी।
 

डोईवाला मार्ग पर एक और सडक़ दुर्घटना की घटना घटित हुई है। इस बार सिटी बस चालक ने लापरवाही से बस चलाते हुए आफिस जा रहे युवक को टक्कर मार कर मौत के घाट उतार दिया। डोईवाला पुलिस से आरएनएस को मिली जानकारी के अनुसार जौली गांव बिचली डोईवाला निवासी संजय कुमार (४०) फ्लैक्स फूड्स में काम करता है। गुरूवार को वह दिन में अपनी फैक्ट्री से कुछ ही दूरी पर माजरी ग्रांट स्थित मंगल पैट्रोल पंप से तेल भरा कर बाहर निकल ही रहा था कि तभी हरिद्वार की ओर से आती एक मिनी बस ने तेजी से बस को पैट्रोल पंप के अंदर मोड़ा। उसी वक्त बाहर आ रहा संजय बस की चपेट में आ गया और बुरी तरह से घायल हो गया। दुर्घटना के बाद बस चालक बस से उतर कर फरार हो गया। इधर किसी तरह से बस में बैठे लोगों ने युवक को बाईक से अलग किया और उसे अस्पताल ले जाने की तैयारी शुरू की।
 

इस सिटी बस के कंडक्टर ने घायल संजय को जौली ग्रांट अस्पताल पहुंचाया जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। डोईवाला प्रभारी निरीक्षक कमलेश नंबूरी ने बताया कि बस चालक की पहचान कर ली गयी है और जल्द ही उसकी गिरफ्तारी भी कर ली जाएगी। बस को सीज कर दिया गया है।

 

दो गांवों के पास आई दरार के मामले में भूगर्भीय जाँच की मांग

उखीमठ l राज्य मीडिया सलाहकार समिति के पूर्व उपाध्यक्ष अजेन्द्र अजय ने रुद्रप्रयाग जिले में निर्माणाधीन  76 मेगावाट की फाटा. व्यूंग जल विद्युत परियोजना की सुरंग निर्माण के दौरान दो गांवों के पास आई दरार के मामले में क्षेत्र की तत्काल भूगर्भीय जाँच की मांग की है  उन्होंने कहा की दरार के चलते ग्रामीणों में दहशत का भाव है

 उन्होंने कहा की जल विद्युत परियोजना की सुरंग के निर्माण के दौरान विगत दिवस मैखंडा व खड़िया गांवों के पास गहरी दरार आ गयी है इससे ग्रामीणों के लिए खतरा बन गया है उन्होंने कहा उखीमठ क्षेत्र पहले से ही भू.स्खलन की दृष्टि से बेहद संवेदनशील है सुरंग निर्माण के दौरान दरारों के आ जाने से क्षेत्र के ग्रामीणों में दहशत की भावना आ गयी हैण् लिहाजाए सरकार को तत्काल इस क्षेत्र की भू.वैज्ञानिकों से विस्तृत जाँच करानी चाहिएण् उन्होंने भूगर्भीय जाँच होने तक निर्माण कार्य को बंद करने की भी मांग की हैण् उन्होंने कहा की यदि जरुरत पड़े तो सरकार को प्रभावितों के विस्थापन के बारे में भी विचार करना चाहिएण् उन्होंने आरोप लगाया की परियोजना निर्माण के दौरान विस्फोटको के अनियंत्रित प्रयोग से लोगों के पेयजल स्रोत भी सुख गए हैंण् उन्होंने कहा की सरकार को इसकी जाँच करा कर निर्माणदायी कम्पनी से इसकी भरपाई करानी चाहिए

 

राष्ट्रीय विकास परिषद की 57वीं बैठक आयोजित

देहरादून l प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह की अध्यक्षता में गुरूवार को नई दिल्ली में राष्ट्रीय विकास परिषद की 57वीं बैठक आयोजित की गई। बैठक में उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा के विदेश प्रवास पर होने के कारण उनके प्रतिनिधि के रूप में नियोजन मंत्री दिनेश अग्रवाल ने प्रतिभाग किया।

नियोजन मंत्री दिनेश अग्रवाल ने बैठक में राज्य का पक्ष रखते हुए कहा कि उत्तराखण्ड की विषम भौगोलिक परिस्थितियों को देखते हुए यहां के अनुरूप विकास योजनाओं को प्राथमिकता दी जाय। नियोजन मंत्री ने कहा कि उत्तराखण्ड को वित्तीय संसाधनों के आवंटन में विशेष प्राथमिकता दी जाय। इनमें अवस्थापना सुविधाओं के सृजन में पर्वतीय क्षेत्र हेतु पृथक मानक, विरल जनसंख्या को देखते हुए विषेष संचार नेटवर्क तथा पर्वतीय क्षेत्र हेतु अतिरिक्त बार्डर ग्रांट फंड का विशेष ध्यान रखा जाय।

उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड राज्य हेतु 11 प्रतिशत वार्षिक विकास दर का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। ग्यारहवीं योजना में हमारी विकास दर की उपलब्धि हमारे लक्ष्य (9ण्9ः) से अधिक रही है। अर्थव्यवस्था में विनिर्माण एवं सेवा सेक्टर में भी वृद्वि हुई है। इसके साथ ही वर्तमान सरकार ने अपने अल्प कार्यकाल में महत्वपूर्ण योजनाएं शुरू की है, जिनमे उत्तराखण्ड उद्योग सिंगल विन्डो फेसिलिटी तथा लाइसेंसिंग बिल, 2012 श्रमिकों के कल्याण की सुनिश्चितता हेतु ॅंहम ब्वउउपजजमम का गठन, राज्य के 74 सीमान्त एवं पिछड़े विकासखण्डों को विकास की मुख्यधारा में लाने के लिए एक निधि का गठन, बेरोजगारी-सह-कौशल भत्ता योजना तथा अल्पसंख्यकों के आर्थिक कल्याण आदि शामिल है।

उन्होंने कहा कि राज्य में आर्थिक विकास की प्रचुर सम्भावनाएं हैं। इस हिमालयी राज्य में सत्ताईस हजार मेगावाट जल विद्युत उत्पादन की क्षमता चिन्हित है। पर्यटन विकास की तथा औद्यानिकी एवं जड़ी-बूटी विकास की भी अत्याधिक सम्भावनाएं है। कानून एवं व्यवस्था की अच्छी स्थिति तथा उत्तम जलवायु के कारण यहाँ शिक्षण केन्द्रों की स्थापना तथा आवासीय परिसरों के निर्माण जैसी सम्भावनाएं भी अन्तर्निहित हैं। भारत सरकार में हमारे अनेक प्रकरण लम्बित हैं। यदि इन प्रकरणों का सम्यक् निराकरण हो जाय, तो राज्य को पर्याप्त संसाधन प्राप्त हो जायेंगे तथा हम अपनी इन क्षमताओं का उपयोग करके 12वीं पंचवर्षीय योजना एवं उत्तरवर्ती योजनाओं के लक्ष्यों को आसानी से प्राप्त कर लेंगे।

उन्होंने कहा कि जनवरी, 2002 में उत्तराखण्ड को विशेष श्रेणी राज्य का दर्जा प्रदान किया गया था। इसके बावजूद 38 केन्द्रपोषित योजनाएं 90ः10 से कम अनुपात में पोषित हो रही हैं। यदि उत्तर पूर्वी राज्यों की तरह ये 38 योजनाएं 90ः10 में वित्त पोषित होती तो राज्य को वर्ष 2012-13 में रू0 697 करोड़ का केन्द्रांश प्राप्त होता। राज्य सरकार द्वारा राष्ट्रीय विकास परिषद् की पिछली अनेक बैठकों सहित विभिन्न मंचों के माध्यम से ऐसी योजनाओं को 90ः 10 में वित्त पोषित करने का अनुरोध किया जाता रहा है। राज्य का 65 प्रतिशत भू-भाग वन क्षेत्र के अन्तर्गत है, जो कि राष्ट्रीय औसत से लगभग तीन गुना है। इसमें भी 15 प्रतिशत क्षेत्र आरक्षित वन क्षेत्र के अन्तर्गत है, जिसमें विकास कार्य पूर्णतः प्रतिबन्धित हैं। वनों के संरक्षण से हरित क्षेत्र बढ़ा है तथा कार्बन पृथक्कीकरण सम्भव हुआ है। यह दायित्व निभा कर हम पूरे देश और विश्व को पारिस्थितिकीय सेवायें प्रदान कर रहे हैं। राज्य में इसी माह नन्धौर अभ्यारण्य तथा पवलगढ़ आरक्षित क्षेत्र की स्थापना की गई है।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने 1000 मीटर से अधिक उचाई वाले क्षेत्रों में व्यावसायिक उपयोग हेतु वृक्षों की कटाई प्रतिबन्धित कर दी है। इस त्याग सापेक्ष हमें कोई प्रतिलाभ या प्रोत्साहन प्राप्त नहीं हो रहा है। वैज्ञानिक आधार पर किये गये कुछ आंकलनों के अनुसार हमारी पारिस्थितिकीय सेवाओं का मूल्य लगभग तीस हजार करोड़ रूपये प्रतिवर्ष है। हमने अनेक बार विभिन्न मंचों के माध्यम से उत्तराखण्ड को ग्रीन बोनस प्रदान किये जाने की माँग की है। इसी माह उत्तराखण्ड विधानसभा में भी ऐसा ही प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित हुआ है। राज्य की जलविद्युत परियोजनाएं बाधित होने के कारण लगभग एक हजार छह सौ पचास करोड़ रूपये प्रतिवर्ष का नुकसान हो रहा है।

उन्होंने केन्द्र सरकार से अनुरोध किया कि राज्य को अतिरिक्त विद्युत क्रय हेतु समतुल्य धनराशि की प्रतिपूर्ति की जाय। प्राकृतिक गैस आधारित विद्युत परियोजनाओं हेतु 6.0 एम0एम0एस0सी0, एम0डी0 गैस का आवंटन भी उत्तराखण्ड को उपलब्ध कराया जाय, ताकि इस पर आधारित परियोजनाएं स्थापित की जा सकें। राज्य की 625 कि0मी0 लम्बी अन्तर्राष्ट्रीय सीमा है। सीमान्त क्षेत्र अत्याधिक दुर्गम भी है। केन्द्रपोषित बी0ए0डी0पी0 के अन्तर्गत संचालित हो रहे कार्य सीमान्त क्षेत्र के निवासियों को विकास की मुख्यधारा में लाने के लिए नाकाफी है। सीमान्त क्षेत्र में जनसंख्या निर्वात ;च्वचनसंजपवद टंबननउद्ध सृजित होना अच्छा संकेत नही है। अतः बी0ए0डी0पी0 के अन्तर्गत धनराशि में वृद्वि की जाय तथा सम्पूर्ण जनपद इसके अन्तर्गत आच्छादित हों। बेहतर होगा कि सीमान्त क्षेत्र के विकास हेतु एक अवस्थापना उन्नयन निधि सी0एस0एस0 के अन्तर्गत सृजित की जाय। सामरिक दृष्टि से संवेदनशील राज्य होने के नाते भारत सरकार से पुरजोर अपील है कि राज्य में राष्ट्रीय राजमार्ग, एयर कनेक्टिविटी तथा रेलवे नेटवर्क के विस्तार हेतु विशेष प्राथमिकता देते हुए मानकों में भी शिथिलता दी जाय।

श्री अग्रवाल ने कहा कि आपदाओं तथा भूकम्प की दृष्टि से अतिसंवेदनशीलता तथा पुनरावृत्ति को देखते हुए छक्त्थ् में केवल अस्थायी निर्माण के बजाय पुनर्निर्माण हेतु धन आवंटित होना चाहिय। आपदा राहत की बजाय आपदा न्यूनीकरण पर बल दिया जाना चाहिये। हमारे राज्य में 233 गाँव आपदा के कगार पर बसे हैं। इन बसावटों को तत्काल विस्थापित किये जाने की आवश्यकता है। इस पर होने वाले भारी भरकम व्यय हेतु भारत सरकार से मदद की आवश्यकता है। राज्य की नदियों से रेता-बजरी व पत्थरों के चुगान हेतु एक वास्तविकता आधारित नीति की आवश्यकता है, ताकि अनावश्यक प्रतिबन्ध न लगें, अवैध चुगान न हो तथा नदियों का मार्ग भी अवरूद्ध न हो। राज्य को अपने स्थायी जनसंख्या के साथ-साथ तीन से चार गुनी भ्रमणशील जनसंख्या का भार वहन करना पड़ रहा है। भारत सरकार को केन्द्रपोषित योजनाओं की संरचना तथा अनुदान के आवंटन के मानकों में भ्रमणशील जनसंख्या को भी सम्मिलित करना चाहिए। नन्दाराज यात्रा को हिमालयी महाकुम्भ की संज्ञा मिली है। आगामी वर्ष 2013 में यह यात्रा सम्पन्न होनी है। इस अनूठे महाआयोजन हेतु विशेष पैकेज की माँग पर केन्द्र सरकार से पुरजोर सहयोग प्रदान करने की उन्होंने अपील की।

बैठक में मुख्य सचिव आलोक कुमार जैन, प्रमुख सचिव नियोजन एस.रामस्वामी, सहित अन्य प्रदेशों के मुख्यमंत्री, मुख्य सचिव एवं अन्य अधिकारीगण उपस्थित थे।

 

फ्लैक्सी हटाने की मांग

बाजपुर। कांग्रेस के नेताओं के नगर क्षेत्र के मुख्य मार्ग पर लगे हाइवे के दिशा सूचक ग्लो साइन बोर्डो समेत अन्य सरकारी स्थानों पर पार्टी  लगी फ्लैक्सी हटाने की मांग को लेकर भाजपाईयों ने उपजिलाधिकारी को ज्ञापन सौपते हुए जल्द कार्रवाई न किये जाने पर उग्र आंदोलन की चेतावनी दी।
 

गुरूवार को रोषित भाजपा कार्यकर्ता विकास गुप्ता के नेतृत्व मंे पहले एसडीएम कार्यालय पहुचे जिनके मौजूद न होने पर कार्यकर्ता नारेबाजी करते हुए तहसील कार्यालय मंे आ गये। इस दौरान श्री गुप्ता ने कहा कि  सत्ता के अहम में कांग्रेस नेताओ ने नियम व कानून के विरूद्ध भगत सिंह चौक पर लगाये गये दिशा सूचक ग्लो साइन बोर्ड सहित अन्य सरकारी स्थानों पर पार्टी के आला नेताओं की नववर्ष व अन्य पर्वो की बधाई देने वाले फ्लैक्सी लगायी गयी है। अपने नेताओं को सूरत दिखाने की चाहत रखने वालो ने फ्लैक्सियां लगाने से वाहन चालक मार्ग पूछने को विवश होने के साथ ही उनकी मुश्किले बढा दी है। प्रशासनिक अधिकारी भी इस सारे नजारे को मौन साधे देख रहे है, जो कार्रवाई करने का साहस नही जुटा पा रहे है। इसके उपरांत तहसील कर्मी पान सिंह को एसडीएम को संबोधित ज्ञापन सौपते हुए उचित कदम न उठाये जाने पर आंदोलन की चेतावनी दी। इस मौके पर जगतजीत सिंह, विशेष जैन, मोहित, सुरजीत, सूरज, अनिल, राकेश, आनंद, मनोज, राजीव, रितेश, हरजीत लाडी, सोनू, मयंक, अमित, राज किशोर, विपिन, नीशू, पियूष, कौशलंेद्र प्रताप सिंह आदि मौजूद थे

महिलाओं दौरा कलश शोभा यात्रा निकाली गयी

बाजपुर। आठ दिवसीय महा शिवपुराण कथा के दौरान महिलाओं दौरा कलश शोभा यात्रा निकाली गयी। मार्ग मंे धर्म प्रेमियों ने अनेक स्थानांे पर यात्रा का स्वागत किया। कथा के समापन पर विशाल भण्डारे का आयोजन किया जायेगा।

ग्राम महेशपुरा के शिव मंदिर में आयोजित इस कार्यक्रम के चलते गुरूवार को 108 महिलाआंे द्वारा कलश यात्रा निकाली गयी जो मंदिर परिसर से प्रारम्भ होकर दोराहा चौक पहुची तथा मंदिर परिसर में आकर इसका समापन किया गया। इस दौरान अनेक स्थानों पर कलश यात्रा को स्वागत किया गया। प्रधान राकेश कुमार गुप्ता ने जानकारी देते हुए बताया कि कल सुबह बाबा धर्मप्रकाश मुनि द्वारा समाधि ली जायेगी तथा उनको 108 कलश के पानी से स्नान कराया जायेगा। प्रति दिन शाम 5 बजे से लेकर 8 बजे तक प्रसिद्ध कथा वाचक कमल जी महाराज द्वारा महाशिवपुराण कथा से भगतों को निहाल किया जायेगा। तथा अगामी माह  4 जनवरी को कथा के समापन के अवसर पर विशाल भण्डारे का आयोजन किया जायेगा। शोभा यात्रा में राकेश कुमार गुप्ता, कमल जी महाराज, लाल बाबा, वेद प्रकाश, रिंकू, दीपक, रामबाबू, शैली, रजनी, मीना, रचना, लक्ष्मी, वीरवती, रामवती, रामदुलारी, सरिता, सिमरन, कौशल्या आदि मौजूद थे।

गरीब युवक की मेहनत ने पहुंचाया विदेश

हल्द्वानी । कडी मेहनत और जुझारूपन हमेशा ही तकदीर को बेहतर बना देती है। ऐसा ही हुआ है नैनीताल के सामान्य से परिवार में रहनें वालें युवक के साथ जिसकी नौकरी साउथ अफ्रीका में लगी है। ग्राफिक एरा पर्वतीय विश्वविद्यालय के एमबीए के छात्र रोहित भटट का सैलैक्शन टाइम लैजेन्ट प्राईवेट लिमिटेड़  कम्पनी के कैम्पस इंटरव्यू में हुआ है।

रोहित जनवरी माह में पूणें में ट्रेनिंग लेकर साउथ अफ्रीका की कम्पनी में काम करेगा जहॉ उसकों आकर्षक वेतन के अलावा अन्य सुख-सुविधाओं से भी नवाजा जाएगा। नैनीताल के रहने वाले रोहित भट्ट का जन्म प्रकाश चन्द्र के परिवार में हुआ है। रोहित नें अपनी प्रारम्भिक शिक्षा राजकीय इण्टर कॉलेज नैनीताल और बीकाम डीएसवी कैम्पस से की। रोहित काभी होनहार था जिसके कारण उसका चयन ग्राफिक एरा पर्वतीय विश्वविद्यालय में एमबीए में हुआ और उसनें दिन रात एक करके पढाई की जिसके कारण उसका सैलेक्शन साउथ अफ्रीका में हुआ है।

रोहित की मॉ सुमन भट्ट ने उसकों हमेशा से मेहनत करनें के लिए प्रेरित किया। रोहित के आगे बढऩें में ग्राफिक एरा विश्वविद्यालय के प्रध्यापकों को आर्शीवाद रहा। रोहित इसका सबसे ज्यादा श्रय उन्होनें विभागाध्यक्ष डा. मनीष बिष्ट को दिया है। प्रो. बिष्ट नें बताया कि हमेशा ही रोहित के असान्यमेंट कम्पलीट होतें है जिसके कारण उसकों यह उपलब्धि भी मिलनी थी। विश्वविद्यालय के डीन प्रो. आरसीएस मेहता ने रोहित और उनके परिवार को बधाई दी है। रोहित के पिता प्रकाश भटट ने कहा कि भगवान रोहित जैसा बेटा सभी को दे।


 

काम्बोज के जन्मदिवस पर विभिन्न कार्यक्रम आयोजित

काशीपुर । शहीद-ए-आजम उधम सिंह काम्बोज के जन्मदिवस पर आज नगर में विभिन्न स्थानों पर कार्यक्रम आयोजित किये गये और उनका भावपूर्ण स्मरण करने के साथ ही देश की आजादी में उनके द्वारा दिये गये योगदान को याद किया गया।

इस अवसर पर सामाजिक कार्यकर्ताओं द्वारा गरीब लोगों को इस कड़ाके की सर्दी से निजात दिलाने को कम्बल भी दिये गये। सामाजिक संस्था एचपी मैमोरियल समाज कल्याण समिति के कटरामालियान स्थित कार्यालय में शहीद-ए-आजम उधम सिंह काम्बोज के चित्र पर पुष्प अर्पित करते हुए संस्था की संस्थापक सचिव श्रीमती अलका पाल ने कहा कि शहीद काम्बोज ने अंग्रेजों से लोहा लेते हुए भारत मां की आजादी के लिए विदेशी धरती पर जाकर जिस तरह से राष्ट्रभक्ति का परिचय दिया वह सदैव भारत के स्वतंत्रता संग्राम में अमर रहेगा। उन्होंने कहा कि जलियावाला बाग कांड के दोषी जनरल डायर की निरंकुशता का जबाब देते हुए ब्रिटेन में उसको मौत के घाट उतारकर देश के नौजवानों को राष्ट्रभक्ति का पाठ पढ़ाया और स्वयं फांसी के फंदे पर झूल गये।

इस अवसर पर गरीब बेसहारा निर्धन ५० से अधिक लोगों को कम्बल वितरित कर शहीद-ए-आजम का भावपूर्ण स्मरण किया। समिति ने वरिष्ठ अधिवक्ता शैलेन्द्र मिश्रा, देवभूमि व्यापार मण्डल अध्यक्ष आशीष अरोरा बॉबी आदि का संस्था को सहयोग करने के लिए आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर अशोक जुनेजा, अमित जायसवाल, रवि सिंह, जया शर्मा, रंजना गुप्ता, रोहित पाल, नितेश पाल आदि मौजूद थे। बाजपुर। क्षत्रिय भवन धर्मशाला में अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा बाजपुर द्वारा शहीद ऊधम सिंह काम्बोज का जन्म दिवस हर्षोल्लास से मनाया गया।

इस दौरान शहीद ऊधम सिंह काम्बोज के चित्र पर माल्यार्पण किया गया। कार्यक्रम उपरांत हुई बैठक में नगर के प्रतिष्ठित सर्जन डॉ. हरिओम पाण्डेय के आईएमए प्रदेशाध्यक्ष चुने जाने पर बधाई दी गई। साथ ही दिल्ली गैंगरेप पीडि़ता के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना करते हुए आरोपियों को कड़ी सजा दिये जाने की माँग की गई। बैठक के अंत में कांग्रेस प्रदेश सचिव हरेन्द्र सिंह ढि़ल्लन ‘लाडी’ के पिता के आकस्मिक निधन व धर्मपाल सिंह चौहान की मृत्यु पर शोक व्यक्त किया गया। इस मौके पर क्षत्रिय महासभा के राष्ट्रीय महामंत्री उदयराज सिंह, प्रताप सिंह सेंगर, धूम बहादुर सिंह चौहान, जयपाल सिंह रावत, देवेन्द्र सिंह रावत, बाबू सिंह चौहान, अशोक कुमार चौहान, वीरेन्द्र सिंह, एस.एन. सिंह, लाल सिंह शाह, महीपाल सिंह, धर्मवीर सिंह चौहान, प्रभात सिंह, डॉ. महेन्द्र सिंह, संजीव कुमार, महावीर सिंह, नेपाल सिंह, छत्तर सिंह, ओमप्रकाश सिंह आदि थे। उधर दोराहा स्थित शहीद ऊधम सिंह काम्बोज की प्रतिमा पर उपजिलाधिकारी नंदन सिंह नागन्याल व पुलिस क्षेत्राधिकारी जी.सी.टम्टा ने माल्यार्पण किया।

 

नंदाराजजात यात्रा में कुमाऊ मंडल को शामिल न करने पर रोष

अल्मोड़ा । नंदाराजजात यात्रा में गढ़वाल की भॉति कुमाऊॅ मंडल को भी सर्किट में शामिल न करने पर यात्रा से वर्षो से जुड़े लोगों में रोष है। नंदा राजजात समिति अल्मोड़ा के पदाधिकारियों ने इस बावत अल्मोड़ा व बागेश्वर से जुड़े लोगों की एक वृहद बैठक कौसानी में आयोजित की।

सामेश्वर, मनान, कौसानी, रनमन, लोद सहित आसपास से बड़ी संख्या में लोगों ने इस बैठक में शिरकत की। बैठक में आगामी वर्ष होने वाली इस विशाल धार्मिक यात्रा को लेकर सरकार की तैयारियों की समीक्षा की गई। लोगों ने यात्रा में भोजन, विश्राम, सुरक्षा, स्वास्थ्य आदि व्यवस्थाओं पर भी चर्चा की। सभी वक्ताओं ने इस बात पर रोष जताया कि प्रदेश सरकार ने यात्रा के पुराने व ऐतिहासिक स्थल कुमाऊॅ को यात्रा सर्किट से बाहर रखा है। सभी ने राज्य सरकार से तत्काल कुमाऊॅ को भी इस रूट में शामिल करने की मांग की। इसके साथ ही यात्रा को भव्य, सुगम बनाने के लिए क्षेत्र में समितियों के गठन करने पर विचार किया गया जो उपसमितियंा बनाकर इस यात्रा में सहयोग करेंगी। इधर क्षेत्र में यात्रा के मुख्य मार्ग में पडऩे वाले सोमेश्वर के माला पुल को भी समिति के लोगों ने शीघ्र बनाने की मांग की। बैठक में बागेश्वर बदियाकोट से खिलाफ सिह दानू, भरत दानू, संजय जोशी, सुंदर बोरा, चंद्र शेखर पाण्डे, हरीश मेहरा, व्यापार मंडल अध्यक्ष आनंद बोरा, टैक्सी यूनियन अध्यक्ष दिवान सिंह राणा, भूवन चिम्वाल, देवेंद्र सिंह, जी सी गुंसाई, फकीर सिंह दोसाद, मोहन सिंह दोसाद, धर्म सिंह दोसाद सहित समिति के उपाध्यक्ष अनूप साह, हरीश भंडारी, सचिव भूवन जोशी आदि ने शिरकत की। बैठक की अध्यक्षत समिति अध्यक्ष प्रभात कुमार साह गंगोली ने की।


 

पालिका ने जलवाये अलाव

  बाजपुर । नगर पालिका ने शीत लहर को ध्यान में रखते हुए विभिन्न स्थानों व चौराहों के पास अलाव जलाये।नगर पंचायत सुल्तानपुर के अधिशासी अधिकारी देवनाथ मिश्रा के निर्देशानुसार नगर मेें अलाव जलवाये जा रहे है।
 

नगर पालिका परिषद बाजपुर के अध्यक्ष गुरजीत सिंह गित्ते ने कहा कि नगर पालिका द्वारा शीत लहर को ध्यान में रखते हुए नगर के विभिन्न स्थानों व चौराहों मुंडिया चौराहा, रामपुर बस अड्डा, शुगर फैक्ट्री, माल गोदाम के पास, नगर पालिका के सामने, इण्टर कॉलेज के पास, मंडी गेट के पास, मस्जिद के सामने, भगत सिंह चौक, बेरिया रोड़ पर ठंड के बचाव हेतु अलाव जलाये जा रहे है। जब तक शीत लहर चलेगी, तब तक अलाव जलाये जायेगें।
 

नृसिंह मंदिर में नगदी, घंटा व छत्तर चोरी

डोईवाला । मंगलवार की रात चोरों ने अठूरवाला विस्थापित क्षेत्र में स्थित नृसिंह मंदिर का ताला तोडक़र उसमें रखी नगदी, घंटा व छत्तर चोरी कर दिए। अठूरवाला निवासी सामाजिक कार्यकर्ता यशवंत सिंह गुसाई ने आरएनएस को बताया कि क्षेत्र के मोलधार में नृसिंह देवता के मंदिर से चोरों ने ताला तोडक़र हजारों रुपये का चढ़ावा चोरी कर लिया।

गांव के लोग बुधवार सुबह मंदिर पहुंचे तो दंग रह गए। इसकी सूचना जौलीग्रांट पुलिस को भी दी गई है। वहीं ग्राम प्रधान पुरुषोत्तम डोभाल, पूर्व प्रधान मंजू चमोली व क्षेत्र पंचायत सदस्य मनवर सिंह नेगी ने चोरी की घटना पर आक्रोश जताते हुए चोरों को गिरफ्तार करने की मांग की।


 

रीयल होस्ट ने यूनाइटेड स्कॉलर्स को आठ विकेट से हराया

देहरादून । प्रथम सलाउद्दीन बट्ट मेमोरियल क्रिकेट टूर्नामेंट में विस्परिंग विलो ने खालसा क्रिकेट अकेडमी को 14 रन से हराया। दूसरे मैच में रीयल होस्ट ने यूनाइटेड स्कॉलर्स को आठ विकेट से हराया।
 

ओएफडी स्टेडियम में चल रहे टूर्नामेंट में बुधवार विस्परिंग विलो व खालसा क्रिकेट अकेडमी के बीच पहला मैच खेला गया। विस्परिंग विलो ने पहे खेलते हुए विजय सिंह के अद्र्धशतक (75), आर्य सेठी (14), केशव (18) व पारस (19) की बदौलत निर्धारित 20 ओवर में आठ विकेट खोकर 169 रन बनाए। खालसा अकेडमी के हारुन व हन्नी ने दो-दो विकेट हासिल किए। लक्ष्य का पीछा करने उतरी खालसा क्रिकेट अकेडमी की टीम निर्धारित ओवर में नौ विकेट खोकर 155 रन ही बना सकी। हन्नी (25), विपिन (12), वरुण (30) व हारुन (12) ने सर्वाधिक योगदान दिया। विस्परिंग विलो के लिए केशव ने चार, विजय व मनीष ने दो-दो विकेट झटके।
 

दूसरा मैच रीयल होस्ट व यूनाइटेड स्कॉलर्स के बीच खेला गया। यूनाइटेड स्कॉलर्स ने पहले बल्लेबाजी करते हुए पांच विकेट खोकर 79 रन बनाए। अभिषेक (19) व राहुल रावत (27) ने सर्वाधिक रन बनाए। जवाब में रीयल होस्ट ने दीपक नेगी (नाबाद 41) व अनीश (नाबाद 23) की मदद से निर्धारित लक्ष्य को दो विकेट खोकर हासिल कर लिया।

 

रैली निकाल जिला मुख्यालय बंद कराया

बागेश्वर । कपकोट विधायक और ई.ई. विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। जहां अधीक्षक अभियंता के सर्मथन में अधिकारी कर्मचारी संयुक्त मोर्चा के द्वारा रैली निकालकर जिला मुख्यालय में कार्यालय बंद कराये वहीं विधायक के सर्मथन में तहसील प्रांगण में क्रमिक अनशन पर बैठ गया।

गौरतलब हो कि विगत दिनों कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर अभद्रता का आरोप लगाते हुए लोनिवि कपकोट डिवीजन के ईई गिरीशराम आर्या ने कपकोट थानें में कार्यकर्ताओं के खिलाफ मामला दर्ज करातेे हुए उनकी गिरफ्तारी की मांग की थी। वहीं विधायक ललित फस्र्वाण के द्वारा कांग्रेस कार्यकर्ताओ पर झूठे आरोप लगाकर उनके आरोपों को खारिज करते हुए प्रशासन से कार्यकर्ताओं के उपर लगे मुकदमों को हटाने की मांग करते हुए तहसील कपकोट में धरना दिया। आज कांग्रेस कार्यकर्ताओं के द्वारा विधाायक के आंदोलन को अपना सर्मथन देते हुए तहसील कपकोट में क्रमिक अनशन शुरू कर दिया।

क्रमिक अनशन में चामू सिंह देवली, हरीश फस्र्वाण, दीपक गडिय़ा, चंद्र सिंह, नरेन्द्र गडिय़ा बैठ गये। यहां हुई सभा को संबोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि ईई द्वारा सडक़ों के बारे में जानकारी मांगने पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं को झूठे मुकदमों में फंसाया गया है। विधायक ने बताया कि इस प्रकरण में पुलिस कप्तान द्वार कहा गया कि इस प्रकरण को आपस में निपटाया जाए। वहीं दूसरी और कोतवाली पुलिस रात्रि को कांग्रेस कार्यकर्ता नरेन्द्र बघरी के कठायतबाड़ा स्थित आवास में जाकर दबिश देकर उनके बच्चों का उत्पीडन कर रही है।
 

नौटियाल के निधन पर शोक जताया

नई टिहरी । भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के वरिष्ठ नेता कामरेड कमलाराम नौटियाल के निधन पर पार्टी के नेताओं व कार्यकर्ताओं ने शोक व्यक्त किया है। यहां आयोजित शोक सभा में भाकपा कार्यकर्ताओं ने कहा कि कामरेड कमलाराम नौटियाल गरीब किसान एवं मजदूरों के मसीहा थे।

शोक व्यक्त करने वालों में भाकपा नेता खुशीराम उनियाल, चंदन सिंह नेगी, जयप्रकाश पांडेय, जगदीश कुलियाल, होश्यिार सिंह रावत, माला मिश्रा, प्रेमा रावत, एटक के जिलाध्यक्ष योगेन्द्र नेगी, पूर्णानंद कोठारी, गोविंद राज आदि शामिल थे।

उत्तरकाशी में जनसंघर्षो की आवाज बुलंद करने वाले कमला राम नौटियाल जीवन के 83वें वर्ष में सदा के लिये खामोश हो गए। लंबे समय से देहरादून के सीएमआइ में उनका इलाज चल रहा था। बुधवार सुबह 6 बजकर 50 मिनट पर उनका निधन हो गया। उनके देहांत की खबर मिलते ही उत्तरकाशी जिले में शोक की लहर दौड़ पड़ी। सुबह से ही उनके उत्तरकाशी स्थित आवास पर लोगों की भीड़ जुटनी शुरू हो गई। दिवंगत के परिजनों ने बताया कि उनका अंतिम संस्कार कल (आज) केदारघाट पर किया जाएगा। बुधवार को ही उनकी पार्थिव देह को लेकर पुत्र दिनेश नौटियाल, पुत्री डॉ.मधु नौटियाल व अन्य परिजन देहरादून से उत्तरकाशी पहुंचे। वर्ष 1971 से 1977 तक उत्तरकाशी नगर पालिका के अध्यक्ष रहने के साथ ही उन्होंने जिले में सीपीआइ की कमान भी संभाली। क्षेत्र के विभिन्न जनांदोलनों का नेतृत्व करने के साथ ही उत्तरकाशी के आधुनिक स्वरूप की नींव रखने का श्रेय भी उन्हें ही जाता है।
 

तीन सप्ताह से जारी अघोषित कटौती पर बिफरे छात्र व व्यापारी

उत्तरकाशी । बदहाल राष्ट्रीय राजमार्ग सहित नौगांव विकास खंड में तीन सप्ताह से जारी अघोषित कटौती व लचर दूर संचार सेवा से गुस्साए छात्रसंघ बडक़ोट के छात्रों व व्यापारियों ने बुधवार को एसडीएम परमानंद राम व एसडीओ गिरीराज का नौगांव चौराहे पर घेराव कर संबंधित विभागों के खिलाफ नारेबाजी की। बाद में एसडीएम,एसडीओ के आश्वासन पर जाम खोला गया।
 

विद्युत व दूर संचार की ठप सेवाओं सहित डामटा, नौगांव-बडक़ोट राष्ट्रीय राजमार्ग पर नालियों का निर्माण होने से दुर्घटना का अंदेशा जताते हुये सुबह से ही रामहावि छात्रसंघ व व्यापारियों सहित जनप्रतिनिधिनियों ने मुख्य चौराहे पर जाम लगाया व धरना प्रदर्शन कर उक्त विभागों के खिलाफ नारेबाजी की। बाद में जाम की सूचना पर एसडीएम बडक़ोट परमानंदराम व ऊर्जा निगम के एसडीओ मौके पर पंहुचे व प्रदर्शनकारियों को कटौती के बाद नियमित विद्युत व्यवस्था सुचारू रखने का आश्वासन दिया। एसडीएम के बदहाल मार्ग व दूरसंचार की स्थिति सुधारने के बारे में एनएच व संबंधित विभाग अधिकारियों से बात करने के आश्वासन के बाद जाम व धरना प्रदर्शन समाप्त किया गया। प्रदर्शन करने वालों में व्यापार मंडल अध्यक्ष शशिमोहन राणा, छात्र संघ अध्यक्ष रोहित सिंह, मनवीर चौहान, कबूल पंवार, अंकित रमोला, अजब सिंह, जगदीश, सुंदर सिल्वाल, अर्जुन सिंह शामिल थे।

 

बैठक में शिक्षा, पेयजल, राष्ट्रीय राजमार्ग, सिंचाई, मुद्दे छाए रहे

उत्तरकाशी । क्षेत्र पंचायत नौगांव की बैठक में शिक्षा, पेयजल, राष्ट्रीय राजमार्ग, सिंचाई, जलसंस्थान, लोनिवि के मुद्दे छाए रहे। बैठक में प्रधानमंत्री सडक़ योजना सहित अन्य विभागीय अधिकारियों के उपस्थित न होने पर निंदा प्रस्ताव पारित किया गया।
 

क्षेत्र पंचायत प्रमुख यशवंत कुमार की अध्यक्षता में शुरू हुई बैठक में पिछली बैठक की कार्यवाही खंड विकास अधिकारी डीपी डिमरी ने सुनाई। बैठक में पिछले वर्ष राज्य वित्त के तहत 76 लाख रुपये की अवशेष धनराशि अभी तक न मिलने पर रोष व्यक्त किया गया। शिक्षा विभाग की परिचर्चा में क्षेत्र पंचायत सदस्य महावीर रावत ने बैठक में सक्षम अधिकारियों की अनुपस्थिति पर नाराजगी व्यक्त की। इसके साथ प्रधान दौलतराम ने रस्टाड़ी, खाबला, नरयूका, मानडग़ाव, क्चाडी, जूनियर हाईस्कूल, डांडागांव आदि विद्यालयों में पेयजल आपूर्ति न होने की बात कही।

स्वास्थ्य विभाग पर चर्चा में स्वास्थ्य निरीक्षक डॉ.मेजर बचन सिंह रावत ने जननी सुरक्षा योजना के साथ दस जनवरी से 15 जनवरी को जिला मुख्यालय में लगने वाले निशुल्क शिविर के बारे में जानकारी दी जिसमें विशेषज्ञ विभिन्न बीमारियों का निशुल्क उपचार करेंगे। प्रधान गडोली सुखदेव सिंह रावत ने सचल दल की ओर से दी जाने वाली दवाओं व उपकरणों पर सवाल उठाये। प्रधान रणवीर सिंह ने खरादी में डाक्टर के नदारद रहने से 18 गावों को स्वास्थ्य सुविधा से वंचित होना पड़ रहा है। राष्ट्रीय राजमार्ग पर चर्चा करते हुये क्षेत्र पंचायत सदस्य महावीर रावत तथा सोहन बहुगुणा ने विभाग की ओर से किए जा रहे डामरीकरण की गुणवत्ता पर हंगामा काटा। इस मौके पर अपर जिला अधिकारी डीके मिश्रा, उप जिला अधिकारी परमानंद, ज्येष्ठ उपप्रमुख प्यार चंद, प्रधान आनंदी, क्षेत्र पंचायत सदस्य चमन सिंह, प्रेम सिंह प्रधान आनंदी राणा, दौलतराम, राम प्रसाद सेमवाल आदि उपस्थित थे।

 

दूसरे दिन भी जारी रहा आंदोलनकारियों का धरना

श्रीनगर गढ़वाल । सुमाड़ी में एनआइटी के स्थाई परिसर के निर्माण को लेकर श्रीनगर के गोला पार्क में संयुक्त संघर्ष समिति के बैनर तले बुधवार को दूसरे दिन भी आंदोलनकारियों ने धरना प्रदर्शन किया। विवि छात्रसंघ सहित बसपा, भाजपा, कांग्रेस, उक्रांद ने भी आंदोलन को समर्थन देने की घोषणा करते हुए धरना प्रदर्शन में सहभागिता भी की।
 

धरना स्थल पर सभा को संबोधित करते हुए आंदोलनकारियों ने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि सुमाड़ी में एनआइटी के स्थाई परिसर का निर्माण कार्य यदि शीघ्र शुरू नहीं किया गया तो यह आंदोलन उग्र रूप भी ले सकता है। जिसकी जिम्मेदारी सरकार पर होगी।
 

बिड़ला परिसर छात्रसंघ के अध्यक्ष सुधीर जोशी, गढ़वाल विवि छात्र नेता विकास कठैत, बसपा के मुकेश अग्रवाल, उक्रांद के सुधाकर भट्ट, भाजपा के कुशलानाथ, आम आदमी पार्टी के टीका प्रसाद उनियाल, नगर कांग्रेस अध्यक्ष वीरेन्द्र नेगी, राज्य निर्माण आंदोलनकारी शकुन्तला थपलियाल सहित अन्य कई जनप्रतिनिधियों ने धरने में शिरकत करते हुए एनआइटी के निर्माण में हो रहे विलंब पर जमकर आक्रोश भी व्यक्त किया। संयुक्त संघर्ष समिति के अध्यक्ष अनिल स्वामी ने आरएनएस को बताया कि सरकार की हीलाहवाली के कारण ही यह जनआंदोलन शुरू करने पर विवश होना पड़ा है।


 

हत्याकांड का तत्काल खुलासा दोषियों को फांसी

कोटद्वार । रचना के हत्यारों को फांसी दो-फांसी दो, बुद्धवार को कोटद्वार नगर की सडक़ों पर यहां मांग गूंजी और मांग करने वाले थे महर्षि विद्या मंदिर के स्कूली बच्चे व सनेह क्षेत्र की महिलाएं। प्रदर्शनकारी बलात्कारियों के खिलाफ कड़ा कानून बनाने की भी मांग कर रहे थे।
 

दिल्ली में हुए गैंगरेप के दोषियों के साथ ही रचना हत्याकांड का तत्काल खुलासा कर दोषियों को फांसी की सजा देने की मांग को लेकर बुधवार को महर्षि विद्या मंदिर स्कूल के बच्चों ने नगर में जुलूस प्रदर्शन किया। स्कूली बच्चे वी वांट जस्टिस व नारी सम्मान से संबंधित तख्तियां लिए हुए थे। बच्चों ने लगातार बढ़ते महिला अपराधों पर अंकुश लगाने की मांग को लेकर उपजिलाधिकारी व पुलिस क्षेत्राधिकारी को ज्ञापन भी सौंपा।
 

दूसरी ओर, सनेह क्षेत्र के अंतर्गत विभिन्न महिला मंगल दलों व स्वयंसेवी संगठनों ने रचना हत्याकांड व दिल्ली रेप कांड को सामाजिक ढांचे पर कलंक करार देते हुए जुलूस-प्रदर्शन किया। महिलाओं ने रचना हत्याकांड व दिल्ली दुष्कर्म के आरोपियों को फांसी की सजा दिलाने की मांग को लेकर उपजिलाधिकारी के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन भी प्रेषित किया।
 

प्रदर्शन करने वालों में सतेश्वरी पुंडीर, सुधा बहुगुणा, भुवनेश्वरी देवी, चंपा रावत, रेखा देवी, कमला देवी, सुंदरी देवी, यशोदा थपलियाल, सुशीला रावत, आशा नेगी, सोना देवी, शोभा भट्ट, संगीता पुंडीर सहित कई अन्य शामिल रहे।


 

स्त्री स्वतंत्रता वर्तमान विषय पर संगोष्ठी

नई टिहरी । उत्तराखंड जनजागृति संस्थान की ओर से स्त्री स्वतंत्रता वर्तमान संदर्भ विषय पर संगोष्ठी आयोजित की गई। गोष्ठी में कहा गया कि आज भी महिलाओं पर अत्याचार कम नहीं हुए हैं। महिलाओं पर जहां भी अत्याचार हों वहीं उसका विरोध किया जाएना चाहिए।
 

नरेंद्रनगर के जागृति भवन खाड़ी में आयोजित संगोष्ठी में वक्ताओं ने कहा कि वर्तमान दौर में भी महिलाओं पर अत्याचार व शोषण की घटनाएं कम नहीं हो पा रही है जिसके लिए समाज का हर वर्ग जिम्मेदार है। इस मौके पर वरिष्ठ सर्वोदयी नेता धूम सिंह नेगी ने कहा कि आजादी की लड़ाई से लेकर वर्तमान समय में भी महिलाओं की भूमिका महत्वपूर्ण रही है। इस मौके पर मांऊट वैली की प्रभारी दुर्गा कंसवाल व जागृति संस्थान के अध्यक्ष अरण्य रंजन ने आरएनएस को बताया कि दिल्ली में गैंगरेप जैसी बड़ी घटना पर पूरा देश संवेदना प्रकट करता है लेकिन जब किसी गांव या घर में इस तरह की घटना होती है तो उसे दबाने का प्रयास क्यों किया जाता है। जो भी घटना हो उस पर तत्काल सुनवाई कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए।
 

इस अवसर पर महिला जागृति परिषद की संयोजिका वरदेई देवी ने कहा कि सबसे पहले घरेलू हिंसा को रोकना होगा। संगोष्ठी में संस्थान की सरंक्षिका दुलारी देवी, प्रधान फूलदास, यशपाल नेगी, राजेन्द्र भण्डारी, मंगल सिंह भण्डारी, उमराव सिंह पंवार, राजेश्वरी उनियाल, अनारकली, ममता, रीतू, उमा आदि मौजूद थे।

 

.