Share Your view/ News Content With Us
Name:
Contact Number:
Email ID:
Content:
Upload file:

बिना नक्शा पास कराए हो रहे निर्माण को ढहाया

हरिद्वार। हरिद्वार विकास प्राधिकरण की टीम ने पुलिस फोर्स को साथ लेकर नया गांव के पीछे कालोनी में बगैर नक्शा स्वीकृत कराए बनाए गए मकान को ढहा दिया। इससे आसपास के लोग भी सहम गए। ज्वालापुर कोतवाली में मंगलवार देर शाम विकास प्राधिकरण के अधिकारी पहुंचे। उन्होंने पुलिस को निर्माण ढहाने संबंधी आदेश की प्रति देकर पुलिस बल मांगा।
 
इसके बाद पुलिस विकास प्राधिकरण के अधिकारियों को साथ लेकर नया गांव के पास बनी कालोनी पहुंची। वहां पर अनाधिकृत निर्माण कर बने मकान व सडक़ के हिस्से को तोड़ दिया। कोतवाल अमरजीत ङ्क्षसह ने बताया कि प्राधिकरण की कार्रवाई में कानून-व्यवस्था के मद्देनजर पुलिसकर्मियों को भेजा गया था।
 

धूमधाम से मनाई गीता जयंती

ऋ षिकेश। हरिचंद गुप्ता आदर्श कन्या इंटर कॉलेज में गीता जयंती धूमधाम से मनाई गई। इस मौके पर कई स्कूलों की छात्राओं ने हिस्सा लिया। बुधवार को को हरिचंद गुप्ता आदर्श कन्या इंटर कॉलेज ऋ षिकेश में गीता जयंती श्लोकोच्चारण व सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ मनाई गई। कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि राजकीय महाविद्यालय ऋषिकेश डॉ. अशोक नेगी, भारत सेवा संस्थान के अध्यक्ष पं. योगेश्वर प्रसाद ध्यानी, विद्यालय की प्रधानाचार्य पूनम रानी शर्मा और अध्यक्ष अशोक चंद जैन ने दीप जलाकर किया। कार्यक्रम का शुभारंभ सरस्वती शिशु मंदिर आवास विकास के छात्राओं ने सरस्वती वंदना व हरिचंद गुप्ता आदर्श कन्या इंटर कॉलेज की छात्राओं ने स्वागत गीत से किया। इस मौके पर सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ ही श्लोकोच्चारण प्रतियोगिता का आयोजन किया गया।
 
प्रतियोगिता में हरिचंद गुप्ता आदर्श इंटर कॉलेज, राजकीय बालिका इंटर कॉलेज, जीआइसी आइडीपीएल, पंजाब ङ्क्षसध क्षेत्र सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज आवास विकास, सरस्वती शिशु मंदिर आदर्श नगर, श्री गुरु राम राय पब्लिक स्कूल, ऋषिकेश पब्लिक स्कूल, ओमकारानंद सरस्वती निलियम समेत अन्य स्कूलों ने हिस्सा लिया। इस मौके पर मुख्य अतिथि डॉ. अशोक नेगी ने कहा कि आज छात्राएं घर के कामकाज के बाबजूद भी छात्राओं से खेलकूद, सांस्कृतिक कार्यक्रमों व पढ़ाई के क्षेत्र में आगे हैं। इस मौके परशुराम सभा की अध्यक्ष सरोज डिमरी, मंजू बडोला, नीलम गुप्ता, साधना गुप्ता, अमित अरोड़ा आदि मौजूद थे।
 

एकता व प्रेम के भाव का करें प्रसार: चिदानंद

 ऋ षिकेश। स्वर्गाश्रम स्थित परमार्थ निकेतन आश्रम पहुंचे देशी-विदेशी साईं श्रद्धालुओं के 350 सदस्यीय दल ने प्रेम व एकता का संदेश दिया। इस दल में कर्नाटक, मुंबई, तमिलनाडु, चेन्नई व बेंगलुरू के अलावा ङ्क्षसगापुर, स्वीडन, श्रीलंका, मलेशिया, अमेरिका, थाईलैंड आदि देशों के श्रद्धालु शामिल हैं। श्रद्धालुओं के इस दल आश्रम के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानंद सरस्वती महाराज के सानिध्य में गंगा आरती भी की। बुधवार को स्वामी मधुसूदन नायडू के नेतृत्व में देशी-विदेशी साईं श्रद्धालुओं का 350 सदस्यीय दल परमार्थ निकेतन पहुंचा। इस अवसर पर दल ने आश्रम के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानंद सरस्वती महाराज के सानिध्य में आयोजित मां गंगा की भव्य आरती में भाग लिया। स्वामी चिदानंद ने कहा कि श्री सत्य साईं बाबा ने मनुष्य में एकता एवं प्रेम का भाव उत्पन्न कर समरसता का सूत्र दिया। उसी का अनुसरण करते हुए श्रद्धालुओं का यह दल मां गंगा के पावन तट पर पहुंचा है। कहा कि अपनी साधना को हमें पीडि़त मानवता, प्रकृति, पर्यावरण और जीवनदायिनी नदियों के संरक्षण में लगाना चाहिए। यही श्री सत्य साईं बाबा के प्रति हमारी सच्ची श्रंद्धाजलि होगी।
 
उन्होंने सभी श्रद्धालुओं को जल, प्रकृति संरक्षण, नदियों की निर्मलता और विश्व में शांति की स्थापना का संकल्प कराया। दल का नेतृत्व कर रहे स्वामी मधुसूदन नायडू ने कहा कि साधना अगर परिष्कृत, स्वच्छ एवं दिव्य वातावरण में की जाए तो विशेष फलदायी होती है। ध्यान क्रिया पर तो स्थान का विशेष प्रभाव पड़ता है। मां गंगा के तट पर लिया गया यह संकल्प अवश्य पूरा होगा। स्वामी चिदानंद सरस्वती ने स्वामी मधुसूदन नायडू को शिवत्व का प्रतीक रुद्राक्ष का पौधा भी भेंट किया। इस मौके पर श्री साई सैक टिग्रेट यूएसए हार्ड रॉक कैफे के मालिक बीएन नरङ्क्षसघमूर्ति, श्री सत्य साईं लोक सेवा संस्थान के मुख्य सलाहकार डेविड, जेनिफर कॉर्नवीच, सी. श्रीनिवास आदि उपस्थित रहे।
 

डीएवी पीजी कॉलेज को आज बंद कराएंगे छात्रसंघ पदाधिकारी

देहरादून। डीएवी महाविद्यालय के छात्र संघ संघर्ष समिति ने महाविद्यालय में सेमेस्टर प्रणाली के विरूद्घ व महाविद्यालय में चल रही अनियिमितताओं के खिलाफ आंदोलन करने का ऐलान किया है। इसके विरोध स्वरूप 30 नवम्बर को कालेज को बंद कराया जायेगा। डीएवी पीजी कालेज छात्र संघ के अध्यक्ष शुभम सिमल्टी ने छात्र संघ भवन में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा है कि महाविद्यालय में अव्यव्सथओं व सेमेस्टर प्रणाली के विरोध में कल 30 नवम्बर को कालेज को बंद कराया जायेगा।
 
महाविद्यालय प्रबंध छात्र छात्राओं की समस्याओं को लेकर चिंतित नहीं है, सेमेस्टर सिस्टम की जानकारी पूर्णत: न शिक्षक के पास है न कॉलेज प्रबंधन के पास है जिसके कारण बच्चों का भविष्य अधर में लटका हुआ है,समस्याओं का समाधान आज तक नहीं किया गया है जिससे छात्रों में रोष बना हुआ है। महाविद्यालय में कुछ समय पश्चात नियुक्तियां होनी है और कुछ वर्षों से महावद्यिालय में नियुक्तियों में धांधलेबाजी चल रही है जब तक समिति की सभी समस्याओं को नहीं सुना जायेगा तब तक समिति यह नियुक्तियां नहीं होने दी जायेगी। सरकार के उच्च शिक्षा मंत्रालय से भी इन समस्याओं का संज्ञान लिये जाने का आग्रह भी किया जायेगा। पत्रकार वार्ता में डीएवी कालेज छात्र संघ सचिव आकाश गौड, उपाध्यक्ष हिमांशु नेगी, समिति के सह मीडिया प्रभारी अरविन्द चौहान, प्रवीण रावत, द्गिम्बर चौहान, अंकित बुटोला आदि मौजूद थे।
 

रोडवेज कर्मचारियों ने मांगा 18 हजार न्यूनतम वेतन

देहरादून। रोडवेज परिषद की केंद्रीय प्रबंध समिति ने आउटसोर्स कर्मचारियों का न्यूनतम वेतन 18 हजार रुपए करने की मांग की है। परिषद का तर्क है कि नियमितक कर्मियों को सातवें वेतनमान का लाभ दे दिया गया है, ऐसे में आउटसोर्स कर्मचारियों का न्यूनतम वेतन भी बढ़ाया जाना चाहिए। गांधी रोड स्थित परिषद कार्यालय में केंद्रीय प्रबंध समिति की बैठक में यह मामला जोर-शोर से उठा। वक्ताओं ने कहा कि आउटसोर्स कर्मचारियों को उनके काम के अनुसार न्यूनतम वेतन 18 हजार रुपये किया जाना चाहिए। प्रदेश महामंत्री रामचंद्र रतूड़ी ने सीएम और परिवहन मंत्री से इस मामले में हस्तक्षेप करने की मांग की। साथ ही न्यायालयों में चल रहे प्रकरणों का जल्द निस्तारण का प्रयास हो ताकि आउटसोर्स कर्मचारियों को विभागीय संविदा में परिवर्तित किया जा सके।
 
उन्होंने साफ तौर पर कहा कि अगर न्यूनतम वेतन 18 हजार नहीं किया जाता है तो रोडवेज परिषद चरणबद्ध आंदोलन करेगी। बैठक में प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र सिंह जीना, शिव नारायण तिवारी, मोहन सिंह भंडारी, भूपेंद्र सिंह अधिकारी, राजेश नंदा, चंद्रभान, प्रेम सिंह रावत, विपिन बिजल्वाण, दिनेश पंत, मेजपाल, अनुराग नौटियाल, वेद प्रकाश, महेंद्र कुमार, रामप्रकाश, विक्रम डंगवाल, जगमोहन, तारादत्त जोशी, उमेश चंद भट्ट, रियासत खान समेत अन्य मौजूद रहे।

नियुक्ति को लेकर गुरिल्लाओं का प्रदर्शन

 देहरादून। एसएसबी स्वयं सेवक कल्याण समिति उत्तराखंड के बैनर तले प्रशिक्षित गुरिल्लाओं ने बुधवार को परेड ग्राउंड धरना स्थल पर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। गुरिल्ला समिति अपनी नियुक्ति की मांग कर रही है। परेड ग्राउंड धरना स्थल पर गुरिल्लाओं को संबोधित करते हुए केंद्रीय अध्यक्ष ब्रहमानंद डालाकोटी ने कहा कि केंद्र की ओर से उनकी नियुक्ति के सभी दस्तावेजों को बनाकर राज्य सरकार को सौंपा गया है।

लेकिन शासन प्रशासन उनकी नियुक्ति को लेकर लापरवाही बरत रहे हैं। जिसे लेकर गुरिल्लाओं में भारी रोष व्याप्त है। उन्होंने कहा कि समिति इको टास्क फोर्स गठित करने, होमगार्ड में नियुक्ति,आपदा प्रबंधन, लोनिवि आदि महकमों में गुरिल्लाओं की नियुक्ति की मांग कर रहा है। प्रदर्शन के दौरान समिति के लक्ष्मण सिंह नेगी, जितेंद्र सिंह कुंवर, गोपाल नाथ, कृष्ण कुमार आदि मौजूद रहे।

 

हाथियों ने जमकर मचाया उत्पात

देहरादून। बालावाला क्षेत्र में हाथियों ने मंगलवार रात को जमकर उत्पात मचाया। कई घरों सहित खेतों में खड़ी गन्ने की फसल को बड़ा नुकसान पहुंचाया है। रात करीब आठ बजे हाथियों का एक झुंड क्षेत्र में घुस आया। कई घरों की दीवार को तोड़ दिया। इसके बाद समीप ही गन्ने के खेतों में जा घुसे। यहां भी जमकर नुकसान पहुंचाया।
 
खेतों में जहां तहां गन्ने की फसल को नुकसान पहुंचाया। स्थानीय लोगों का कहना है कि हाथी रात भर इधर उधर धमकते रहे। बुधवार सुबह पांच बजे के आसपास हाथी क्षेत्र से चले गए। क्षेत्र पंचायत सदस्य धनवीर सिंह राणा ने कहा कि ग्राम सभा बालावाला में हाथियों ने पूरी रात आतंक मचाया। यहां विजय लोक, भगवान दास चौक, शर्मा मोहल्ला में रहने वाले हिम्मत सिंह राणा, रतन सिंह सजवाण के घरों की चारदीवारी को तोड़ दिया। इसके अलावा मुरारीलाल, रोशन लाल, अजय पुरी आदि के खेतों में खड़ी गन्ने की फसल को बबार्द कर दिया। उधर ग्रामीणों का कहना है कि हाथी अब सीघे आबादी वाले क्षेत्रों का रुख कर रहे हैं। इसे लेकर लोगों में भय का माहौल बना हुआ है। लोगों का कहना है कि ऐसा पहली बार नहीं हुआ है कई बार नजदीकी क्षेत्रों में हाथी घुस आए हैं। वन विभाग के संज्ञान में भी कई बार मामले को लाया गया है। लेकिन अभी तक कोई ठोस कार्रवाई नहीं की जा रही। ग्रामीणों ने हाथियों की ओर से किए गए नुकसान के लिए मुआवजे की मांग की है।
 

जलसंस्थान के महाप्रबंधक कार्यालय पर किया प्रदर्शन

 देहरादून। राजपुर रोड विधानसभा क्षेत्र अंतर्गत पूर्व में विभिन्न योजनाओं में पेयजल आपूर्ति को विभिन्न स्थानों पर ट्यूबवैल निर्माण कार्य किये जाने व पेयजल आपूर्ति प्रारंभ किये जाने की मांग को लेकर स्थानीय लोगों ने नेहरू कालोनी स्थित जल भवन के महाप्रबंधक कार्यालय पर प्रदर्शन किया। उन्होंने इस संबंध में महाप्रबंधक को ज्ञापन सौंपकर शीइा्र ही कार्यवाही किये जाने की मांग की। राजपुर रोड विधानसभा क्षेत्र के पूर्व विधायक राजकुमार के नेतृत्व में क्षेत्रवासी एवं कांग्रेस कार्यकर्ता नेहरू कालोनी स्थित जल भवन में इकट्ठा हुए और वहां पर उन्होंने राजपुर रोड विघानसभा के अंतर्गत पूर्व में विभिन्न योजनाओं व घोषणाओं में पेयजल आपूर्ति को विभिन्न स्थानों पर टयूबवैल निर्माण किार्य कये जाने व पेयजल आपूर्ति प्रारंभ किय जाने । इस अवसर पर पूर्व विधायक राजकुमार ने कहा है कि कांवली रोड, खुडबुडा, शिवाजी मार्ग, गुरूद्वारा के पास सीवर लाईनों का इस्टीमेंट बना हुआ है लेकिन अभी तक कोई भी कार्यवाही नहीं हुई है तथा जिन गलियों में पानी की लाइनें डाली हुई थी उसमें भी पानी नहीं आ रहा है और कहीं पानी आता भी है तो वह बहुत गंदा व बदबूदार है जिसे शीइा्र ठीक कराया जाना अति आवश्यक है।

 जेएनएनयूआरएम योजना के अंतर्गत डालनवला क्षेत्र में दो टयूबवैल, रिजर्व टैंक बलवीर रोड, जीजीआईसी राजपुर रोड, डीएल रोड में तैयार है लेकिन इसका जनता को कोई लाभ नहीं मिल रहा है और इन्हें शीइा्र ही शुरू किया जाना चाहिए। उनका कहना हे कि वर्तमान में विद्युत कटौती लगातार बढ़ती जा रही है जिस कारण टयूबवैलों का संचालन बाधिक होता है इसके निराकरण को टयूबवैल के संचालन को जनरेटर उपलब्ध करायें जाये। कांवली रोड व खुडबुडा, शिवाजी मार्ग, गुरूद्वारे के पास सीवर लाईन का शीघ्र ही रूके हुए कार्य जैसे संजय कालोनी, डी एल रोड, रेसकोर्स, ईसी रोड,  म्यूनिसिपल रोड, नई बस्ती चन्दर रोड, चुक्खूवाला आदि में टयूबवैल का कार्य अधर में है जिससे क्षेत्रीय जनता को समय रहते हुए इनका लाभ नहीं मिल पा रहा है। कुछ समय से क्षेत्र चुक्खूवाला पीएनटी कालोनी, चुक्खुवाला, खुडबुडा, गौरी शंकर मंदिर, काली मंदिर, कांवली रोड, घोसी गली, नेताजी मौहल्ला, अखाडा मौहल्ला, इन्द्रेश नगर, तिलक रोड, इन्द्रा कालोनी, मन्नूगंज, डी एल रोड, गांधी रोड, करनपुर, नदी रिस्पना, डालनवाला, मॉडल कॉलोनी, राजा रोड, मोती बाजार, डांडीपुर मौहल्ला आदि में गंदे पेयजल की शिकायतें प्राप्त हो रही है जो कि उचित नहीं है और विभाग को पूर्ण जिम्मेदारी के साथ जनता को स्वच्छ जल उपलब कराना सुनिश्चित करन चाहिए। विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत थाना डालनवाला के निकट रायपुर रोड पर पूर्व में निर्मित जर्जर टंकी के स्थान पर टयूबवैल के निर्माण हेतु स्वीकृति मिल चुकी है जिस पर वर्तमान तक कार्य प्रारंभ नहीं किया गया है  इस अवसर पर मुख्य महाप्रबंधक ने शीइा्र ही उचित कार्यवाही करने का भरोसा दिया। इस अवसर पर अनेक कांग्रेस कार्यकर्ता एवं क्षेत्रवासी मौजूद थे। 

 

 

मैड संस्था ने इको टास्क फोर्स को सौंपा ज्ञापन

देहरादून। बुधवार को संस्था के अध्यक्ष अभिजय नेगी के नेतृत्व में सदस्यों की ओर से दिए गए ज्ञापन में कहा गया कि रिस्पना के उद्गम क्षेत्र को रिस्पना इको सेंसिटिव जोन घोषित किया जाना चाहिए। साथ ही नदी किनारे हो रहे निर्माण कार्यों पर प्रतिबंध व नियंत्रित किया जाए। इसमें यह भी सुझाव दिया गया नदी के दोनों तरफ 50 मीटर तक के क्षेत्र को संरक्षित घोषित किया जाए।
 
रिस्पना में शून्य कूड़ा निस्तारण का लक्ष्य तय करने के लिए बड़े होटलों को सख्त निर्देश दिए जाए। सदस्यों ने इस बात पर भी जोर दिया कि रिस्पना के पुनर्जीवन का कार्य बिना वैज्ञानिक सलाह के होना मुमकिन नहीं है। रिस्पना पुनर्जीवन का खाका तैयार करने के लिए शोध संस्थानों को कार्यभार सौंपना चाहिए। इस दौरान विजय प्रताप सिंह, आदर्श त्रिपाठी, विनोद, शरद महेश्वरी, सुभोजित गुप्ता, ज्ञानवीर आदि मौजूद रहे।
 

नेता प्रतिपक्ष ने दिया प्राथमिक शिक्षकों को आश्वासन

देहरादून। प्राथमिक शिक्षकों को ब्रिज कोर्स और डीएलएड प्रशिक्षण से छूट की मांग को कांग्रेस विधानसभा और संसद में उठाएगी। बुधवार को शिक्षा निदेशालय में धरने पर बैठे शिक्षकों के बीच पहुंची नेता प्रतिपक्ष डा. इंदिरा हृद्येश ने उन्हें ये आश्वासन दिया।बुधवार को उत्तराखंड प्राथमिक शिक्षक संघ के नैनीताल जिले से जुड़े शिक्षकों ने निदेशालय पर धरना दिया। पिछले 22 नवंबर से धरने पर बैठकर प्राथमिक शिक्षक अपनी मांगें उठा रहे हैं। दोपहर में नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृद्येश उनके बीच पहुंची। वहां उन्होंने शिक्षकों की मांगों का समर्थन करते हुए उनसे बातचीत की। उन्होंने आश्वासन दिया कि कांग्रेस ने मुद्दे को अपने एजेंडे में शामिल कर लिया है। वे विधानसभा में और यूपी के सांसद के माध्यम से संसद में इस मुद्दे को उठाएंगी। शिक्षकों ने उनका आभार जताते हुए उनके हक की लड़ाई में साथ देने की बात कही।
 
शिक्षकों को कहना है कि तीन सितंबर 2001 के बाद नियुक्त और सरकारी संस्थान से विशिष्ट बीटीसी प्रशिक्षण प्राप्त बीएड, सीपीएड, डीपीएड, बीपीएड, मृतक आश्रित और उर्दू शिक्षकों को ब्रिज कोर्स और डीएलएड प्रशिक्षण से बाहर रखा जाए। संघ के प्रदेश महामंत्री दिग्विजय सिंह ने कहा कि करीब 13175 शिक्षकों को सरकार ने एनसीटीई से मान्यता की प्रत्याशा में सरकारी संस्थानों से छह माह का विशिष्ट बीटीसी प्रशिक्षण दिया। इसके बाद ही उन्हें प्रशिक्षित वेतनमान पर नियुक्ति दी गई। ये शिक्षक 3 से 17 साल की सेवाएं दे चुके हैं। धरने में प्रदेश अध्यक्ष निर्मला मेहर, संरक्षक प्रेम सिंह, मनोज तिवारी, हंसा दत्त भट्ट, मुनीषा जोशी, इंद्र सिंह रावत, हरीश पाठक, पूरन सिंह, जूनियर हाईस्कूल शिक्षक संघ के अध्यक्ष सुभाष चौहान, उमेश सिंह आदि मौजूद रहे।
 

शिवानंद ने खनन में करोड़ों के घोटाले का आरोप लगाया

 हरिद्वार। मातृ सदन के अध्यक्ष स्वामी शिवानंद सरस्वती ने आरोप लगाया कि हरिद्वार में खनन के नाम पर करोड़ों का घोटाला किया जा रहा है। उन्होंने दावा किया कि केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्रालय की टीम के सामने यह उजागर हो गया है। बुधवार को अपने आश्रम में पत्रकारों से बातचीत में स्वामी शिवानंद ने बताया कि मंगलवार को बिशनपुर कुंडी में दोपहर ढाई बजे खनन क्षेत्र में लगभग डेढ़ सौ ट्रक खनन सामग्री से लदे मिले। जबकि नियमानुसार एक दिन में एक हजार टन ही उठान हो सकता है। खनन का समय सुबह 6.30 से शाम 5 बजे तक का है। एक ट्रक में लगभग 9 से 10 टन खनन सामग्री लादी जाती है। इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि रोजाना कितना खनन हो रहा है।

 

स्वामी शिवानंद ने कहा कि राज्य के मुख्यमंत्री जीरो टोलरेंस की बात कर रहे हैं। लेकिन, खनन के नाम पर हो रहे घोटाले के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जा रही। उन्होंने कहा कि जहां-जहां खनन खोला गया है वहां सभी जगहों पर तौल कांटों के समीप से अलग से रास्ता बनाया गया है। जिससे एक ही रवन्ने पर कई बार गाड़ी आ जा सके। वैज्ञानिकों की टीम ने अपनी आंखों से यह सब देखा है। एक दिन में कई हजार टन माल गंगा से निकाला जा रहा है। करोड़ों रुपये का माल गलत तरीके से बाईपास हो रहा है। स्वामी शिवानंद ने कहा कि पहले ही खनन के कारण गंगा में अधिकांश टापू समाप्त हो चुके हैं। जो बचे हैं उन पर भी खनन माफिया की नजर है। यह सब मातृ सदन को दिखाई दे रहा है, लेकिन सरकारी अफसर आंख बंद किए हुए हैं। आरोप लगाया कि प्रतिदिन लगभग ढाई करोड़ रुपये की खनन सामग्री गंगा से निकाली जा रही है। उन्होंने कहा कि सरकार, प्रशासन व स्थानीय विधायक को पर्यावरण व गंगा से कोई मतलब नहीं है।

युवक ने बनाया दुष्कर्म का वीडियो

मसूरी। सोशल मीडिया का गलत प्रयोगो से अपराधों का आंकड़ा दिन प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है। ऐसी ही एक घटना मसूरी की प्रकाश में आयी है जहां पहले युवती से फेसबुक के जरिये दोस्ती कर प्यार का खेल खेला उसके उपरांत उसका दुष्कर्म कर वीडियो बना डाली। मसूरी के झड़ीपानी क्षेत्र की युवती ने एक फेसबुक फ्रेंड पर दुष्कर्म का आरोप लगाया है। युवती का आरोप है कि युवक ने पहले फेसबुक के जरिये दोस्ती कर युवती को अपने जाल में फांसा और फिर घर में घुसकर दुष्कर्म किया। युवती ने इस संबंध ने मसूरी कोतवाली में तहरीर दी है। जिस पर पुलिस ने विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज कर आरोपी युवक को किच्छा से गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।
 
आरोपी युवक झड़ीपानी क्षेत्र में वेल्डिंग का कार्य करता है। तहरीर मिलने पर पुलिस ने आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर उसकी तलाश शुरू कर दी थी। इसके बाद सूचना मिलने पर पुलिस ने आरोपी युवक को किच्छा से गिरफ्तार कर लिया। पुलिस के मुताबिक युवती ने युवक पर आरोप लगाया है कि वह दुष्कर्म का वीडियो इंटरनेट पर डालने की धमकी देकर उसे ब्लैकमेल कर रहा था। मसूरी कोतवाली प्रभारी निरीक्षक राजीव रौथाण ने बताया कि पीडि़त युवती ने पुलिस को तहरीर दी थी। इसमें कहा गया था कि उधमसिंह नगर निवासी एक युवक ने युवती के साथ फेसबुक के जरिये दोस्ती की और मेलजोल बढ़ाया। उसके बाद युवती के घर आकर उसके साथ दुष्कर्म किया। आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया और मामले की कार्यवाही जारी है।
 

रिवर बेसिन मैनेजमेंट का उत्तराखण्ड के लिये विशेष महत्व: सीएम

देहरादून। बुधवार को नई दिल्ली में मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने विवेकानन्द इण्टरनेश्नल फाउण्डेशन द्वारा रिवरबेसिन मैनेजमेंट विषय पर आयोजित संगोष्ठी को सम्बोधित करते हुए कहा कि रिवर बेसिन मैनेजमेंट का उत्तराखण्ड के लिये विशेष महत्व है। उत्तराखण्ड से निकलने वाली गंगा देश का सबसे बडा रिवर बेसिन है। गंगोत्री से गंगा सागर तक 05 राज्यों से होते हुए यह करीब 2525 कि$मी$ की यात्रा तय करती है, यही नही देश की सिंचित भूमि का 40 प्रतिशत तथा देश की बडी आबादी को खाद्य सुरक्षा इसी बेसिन से मिलती है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जल के बिना जीवन की कल्पना नही की जा सकती है। बावजूद इसके जल संचय के लिय जो अभियान चलाया जाना चाहिए वह दिखाई नही देता। आज हमारी कई नदियां विलुन्त हो चुकी है। देश में जो बडे 22 रिवर बेसिन है, अब उनमें पानी की कमी आयी है। यदि इस दिशा में कदम नही उठाये गये तो हमारी बढ़ती जनसंख्या, शहरीकरण उद्योग और कृषि के क्षेत्र इससे सीधे प्रभावित होंगे। बढी आबादी के चलते प्रति व्यक्ति जल की उपलब्धता में आ रही कमी भी चिंता का विषय है। वर्ष 1991 में जहां जल की उपलब्धता 2209 क्यूसेक मीटर थी, वह घटकर 2011 में 1545 क्यूसेक मीटर हो गयी है। इसी प्रकार भारत में प्रति व्यक्ति पानी स्टोरेज 209 क्यूसेक मीटर है, जबकि रूस में यह 6103 व चीन में 1111 क्यूसेक मीटर है। इसका मतलब साफ है कि भारत एक साल भी सूखे का सामाना नही कर सकता है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ग्रामीण कृषि सिंचाई योजना के जरिये हर खेत को पानी देने का लक्ष्य रखा है। जिस पर तेजी से कार्य किया जा रहा है। इससे हर खेत को पानी देने में हम जरूर कामयाब होंगे। उन्होंने कहा कि भारत में प्रतिदिन 38 हजार 3 सौ 54 मिलियन लीटर होता हैं। मगर जो हमारी या शोधन क्षमता है वह केवल 11 हजार 7 सौ 86 मिलियन लीटर चमत कंल है। हमें इस स्थिति को बदलना होगा। हमारे विशेषज्ञों को इस विषय पर भी चिंतन करना होगा।
 
उन्होंने कहा कि हमारा भूजल का स्तर लगातार गिर रहा है। हमने बिना सोचे समझे भूूजल का दोहन किया है। जबकि तमबींतहम के बारे में जितना काम होना चाहिए उतना हुआ नहीं। इसी इस तरह ंतेमदपब बवदजंउपदंजपवद के चलते 12 राज्यों  के 96 जिलों की हालत चिंताजनक बताई गई है। इससे लोगों और जानवरों के स्वास्थ में विपरित असर पड़ रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि इजरायल की जल संरक्षण की तकनीक आज प्रसिद्व है खासकर  उन्होंने खारे पानी को पीने के लायक बनाया चमत कतवच उवतम बतवच का जो मंत्र हमारे प्रधानमंत्री ने खेती के लिए दिया है इजरायल ने इसके सहारे अपनी खेती में जबदस्त तरक्की की हैं कुछ और देश भी इस ओर काम कर रहे हैं दुनिया में जल संरक्षण और शोधन के लिये जो अच्छे काम हो रहे हैं उससे हमें सीख लेकर यहां लागू करना चाहिए। उत्तराखण्ड में राज्य सरकार द्वारा ’’जल संचय जीवन संचय’’ की शुरूआत की गई है। इसके तहत टॉयलेट के सिस्टर्न में एक लीटर पानी की बोतल में रेत या मिट्टी रखकर सालाना करीब 14 हजार 748 लाख लीटर पानी बचा पायेंगे। यह कार्यक्रम जीरो बजट का है।  उन्होंने कहा कि प्रदेश के हर जिले में जन जागरूकता अभियान चलाकर 3837 चालखाल, जलकुण्ड, फार्म पौण्ड का निर्माण, 84000 कन्टूर टें्रच का निर्माण, 2186 चैक डैम का निर्माण तथा 381 रेनवाटर हारवेस्टिंग स्ट्रक्चर का निर्माण करके 34631$99 लाख ली0 जल संचय क्षमता में वृद्वि का लक्ष्य रखा है और हम इस लक्ष्य को पूरा करेंगे। हमनें इसी माह दो नदियों रिस्पना और कोसी नदी को पुनर्जीवीकरण करने का बीड़ उठाया है एक प्रदेश की राजधानी देहरादून की लाइफलाइन है तो कोसी नदी कुमांऊ की लाइफ लाइन है। धीरे धीरे बाकि  नदियों के संवर्धन के लिए भी कार्योजना तैयार की जा रही है। इस काम में सरकार विशेषज्ञ, धार्मिक गुरू और स्थानीय जनता सबको शामिल किया गया है। आगामी समय में जल स्त्रोतों के संरक्षण-संवद्वर्धन तथा जलस्त्रोत मैंपिग करने पर काम किया जा रहा है। जल संरक्षण संवद्वर्धन के अन्र्तगत सिंचाई विभाग 09 जनपदों में 21 जलाशय और 02 बैराज बना रहा है। इसमें लगभग 20$675 लाख क्यूबिक मीटर सतही एवं वर्षा जल का भण्डारण किया जा सकेगा। हमने 2022 तक 5000 प्राकृतिक जल स्रोतों को पुनर्जीवित/संबद्र्घन करने का लक्ष्य रखा है और ये हमारे लिये ’आर्टिकल ऑफ फेथ’ कर मुद्दा है।
 
उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड में जल विद्युत परियोजनओं की अपार संभावना है हमारी जलविद्युत क्षमता 25 हजार मेगावाट है मगर हम केवल 4000 मेगावाट का ही दोहन कर पा रहे है। कुछ पर्यायवरण से जुडे पहलु हैं जिनपर काम किया जा रहा है। उन्होंनेे विश्वास व्यक्त किया कि इस क्षमता का दोहन राज्य के विकास के लिए आने वाले दिनों में कर पायेंगें। उन्होंने कहा कि स्वामी विवेकानन्द का उत्तराखण्ड से विशेष लगाव रहा है, वे 04 बार उत्तराखण्ड आये। इस प्रकार उत्तराखण्ड का स्वामी विवेकानंद एवं गंगा से गहरा नाता रहा है, जो हमारे लिये आस्था और आजीविका से जुडा विषय है। इस अवसर पर सचिव, ऊर्जा राधिका झा उपस्थित रही। 
 

लाखों रुपये के जेवरात पर हाथ साफ

विकासनगर। थाना सहसपुर की धर्मावाला पुलिस चौकी अंतर्गत फतेहपुर गांव के एक व्यक्ति को सपरिवार शादी समारोह में जाना महंगा पड़ गया। बंद घर देख चोरों ने ताले तोडक़र लाखों रुपये के जेवरात पर हाथ साफ कर दिया। फतेहपुर निवासी अवनीश कुमार गत रात सपरिवार हरबर्टपुर के एक वेडिंग प्वाइंट में शादी समारोह में गए थे। रात में घर बंद देख चोरों ने ताले तोडक़र अल्मारी से करीब डेढ़ लाख रुपये के जेवरात चोरी कर लिए। शादी से लौटे परिवार ने जब घर के ताले टूटे देखे तो उनके पैरों तले की जमीन खिसक गई। कमरे में रखी अल्मारी का लॉकर टूटा पड़ा था। लॉकर से ज्वेलरी साफ मिली। सूचना पर चौकी इंचार्ज रंजीत खनेड़ा मय पुलिस बल के मौके पर पहुंचे। चोरों की तलाश में रात ही आसपास काबिंग की गई, कोई सुराग नहीं लग पाया।
 
शिक्षक के घर को बनाया निशाना 
विकासनगर कोतवाली क्षेत्र अंतर्गत रसूलपुर में बीती रात को चोरों ने राजकीय शिक्षक भजन लाल शाह के बंद घर को निशाना बनाया। चोरों ने घर के मेन दरवाजे का कुंडा तोडक़र अलमारी में रखी 15 हजार की नकदी उड़ा ली। चोरों ने पूरे घर को खंगालने में के बाद सामान को इधर-उधर फेंक दिया। बताया जा रहा है परिवार के लोग दो दिन पहले अपने गांव छुल्टाड- लाखामंडल में जागरण के कार्यक्रम में शामिल होने गए थे। सुबह गांव से वापस रसूलपुर घर लौटने पर उन्हें चोरी का पता चला। 

गैरसैंण सत्र को लेकर बैकफुट पर सरकार

देहरादून। गैरसैंण विधानसभा सत्र को लेकर अब सरकार विपक्ष को मनाने के काम में जुट गई है। सरकार कुछ मुद्दों पर विपक्ष के सामने बैकफुट पर आ रही है। जिसके चलते अब संसदीय कार्यमंत्री प्रकाश पंत खुद नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश को मनाने जाएंगे। दरअसल, विपक्ष ने सत्र से पहले होने वाली कार्यमंत्रणा समिति की बैठक में जाने से मना कर दिया है। जिसके बाद संसदीय मंत्री प्रकाश पंत उन्हें बैठक में लाने की कोशिश करेंगे। इस कवायत में प्रकाश पंत ने कहा कि ये संवादहीनता की वजह से हो रहा है। विपक्ष के जो भी आरोप हैं, वे सही नहीं हैं। पिछले 17 जून को विधानसभा सत्र के दौरान कार्यमंत्रणा समिति में न लाए जाने के बावजूद सरकार ने सदन में प्रवर समिति की रिपोर्ट को रखा था। जिसका विपक्ष ने जमकर विरोध किया था। इसी विरोध के चलते भविष्य में कार्यमंत्रणा समिति की बैठकों में शामिल न होने का भी ऐलान कर दिया था। बता दें कि 7 दिसम्बर से लेकर 13 दिसंबर  तक गैरसैंण में विधानसभा के शीतकालीन सत्र का आयोजन किया जा रहा है। संसदीय कार्यमंत्री प्रकाश पंत ने कहा कि गैरसैंण में होने वाले विधानसभा के शीतकालीन सत्र में मुख्य एजेंडा सप्लीमेंटरी बजट है।
 
इसके अलावा पेंडिंग बिलों को भी रखा जाएगा। कुछ नए बिल और नए विधेयक भी रखे जाएंगे। प्रकाश पंत ने कहा कि प्रश्नकाल भी काफी महत्वपूर्ण होता है, इसलिए प्रश्नकाल पर भी फोकस रहेगा। हालांकि इस बार 900 से अधिक प्रश्न आ चुके हैं और अभी और प्रश्नों की संख्या बढऩे की उम्मीद है। ऐसे में विपक्ष के अलावा अपनों के भी सरकार पर हमलावर होने की पूरी सम्भावनाएं नजर आ रही है। वहीं विपक्ष यानी की कांग्रेस ने कहा कि विपक्ष उन्हीं मुद्दों को उठाता है, जिसके विरोध की जरूरत होती है। सरकार के अव्यवहारिक निर्णयों का विपक्ष विरोध करता है। सरकार अगर  विपक्ष के साथ सहयोग की बात कह रही है तो विपक्ष सरकार को सहयोग देगा लेकिन अगर सरकार निरंकुश होकर काम करेगी तो हम जमकर विरोध करेंगे। माना जा रहा है कि इस बार विधानसभा का शीतकालीन सत्र काफी हंगामेदार रहने वाला है। सत्र में सरकार पर विपक्ष के हमलों के अलावा अपने भी निशाना साधते हुए नजर आएंगे हालांकि कार्यमंत्रणा समिति की बैठक को लेकर आगे और तस्वीर साफ होने वाली है।
 

नमामि गंगे योजना के कार्यों का डीएम ने लिया जायजा

हरिद्वार। तेज-तर्रार रवैये और तुरंत एक्शन लेने के लिए लोगों के बीच मशहूर हरिद्वार जिलाधिकारी दीपक रावत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की महत्वकांक्षी योजना नमामि गंगे के तहत गंगा को स्वच्छ, निर्मल और अविरल बनाने के लिए चल रहे कार्यों का निरीक्षण किया। डीएम ने हरिद्वार के कई गंगा घाटों पर पहुंचकर व्यवस्थाओं का जायजा लिया और अधिकारियों को जरूरी दिशा-निर्देश भी दिए। जिलाधिकारी ने बताया कि नमामि गंगे योजना में चल रहे कार्यों को निरीक्षण कर इस बात का जायजा लिया गया है कि विस्तृत परियोजना रिपोर्ट में कहीं कुछ रह तो नहीं गया, जिसे नमामी गंगे में शामिल किया जा सकता है। इस दौरान लोकनाथ ताले का भी निरीक्षण किया गया, जिसमें मल-प्रदार्थ गिरने का मामले सामने आया है।
 
डीएम ने बताया कि गंगा में नाले और सीवर के पानी गिरने की भी बाते सामने आई है। साथ ही प्राकृतिक पानी का स्रोत भी पंप में आ रहा है। इसके निराकरण के लिए अलग से पाइप डालने की योजना बनाई जाएगी ताकि मल-मूत्र सीधे गंगा में न गिरें। डीएम रावत ने श्मशान घाट का भी निरीक्षण किया। घाट समिति ने डीएम को बताया कि जलस्तर कम होने के कारण अस्थि विसर्जन विधिवत नहीं हो पा रहा है। जिसके लिए डीएम ने सिल्ट हटाए जाने की परमिशन के लिए पत्राचार करने की सलाह समिति को दी है।

मूल्यों पर नहीं सरकार का कोई नियंत्रण: चौहान

देहरादून। महानगर कांग्रेस अध्यक्ष पृथ्वीराज चौहान ने खाद्य पदार्थो एवम सब्जियों के आसमान छूते दामो पर गहरी चिंता व्यक्त की और इसे भाजपा सरकार का नकारापन कहा। उन्होंने कहा कि लगातार बढ़ती महंगाई चिंता का विषय है और इस पर डबल इंजन की भाजपा सरकार का कोई नियंत्रण नही। जिन मुद्ददो को लेकर केंद्र एवम प्रदेश में भाजपा ने सत्ता हथियाई है उन तमाम मुद्दों की भाजपा सरकार अनदेखी कर रही है।
 
आज खाद्य पदार्थो एवम सब्जियों के मूल्यों में लगातार वृद्धि हो रही है और भाजपा सरकार कुम्भकर्णी नींद सोयी हुई है। कांग्रेस ने पिछले आठ महीने से भाजपा के कार्यो पर नजर रखी अब कांग्रेस सरकार को झकजोरने का कार्य करेगी। आगामी विधानसभा सत्र में नेता प्रतिपक्ष  डा इंदिरा हृदयेश एवम प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह जी के नेतृत्व में सदन में एवम सदन के बाहर सरकार को घेरने का कार्य करेगी और कुम्भकर्णी नींद में सोयी सरकार को जगाने का कार्य करेगी। आज सरकार जनता से जुडे मुदो की अनदेखी कर रही है। इस अवसर पर महानगर कांग्रेस व्यापार प्रकोष्ट के अध्यक्ष पंकज मेसोन,महानगर महासचिव महेश जोशी एवम निहाल सिंह मुख्य रूप से उपस्थित थे।
 

 

यतिन ने की थी आत्महत्या

देहरादून। बागेश्वर के यतेंद्र वर्मा हत्याकांड को लेकर देहरादून पुलिस ने बड़ा खुलासा किया है जिसमें हत्याकांड को अंजाम देने वाले कोई और नहीं बल्कि खुद यतींद्र वर्मा ही था। नशे की गर्त में समा चुका यतींद्र वर्मा नशे का आदि हो चुका था । उसने नशे के सौदागरों को सबक सिखाने के लिए उन को मारने तक का प्लान तैयार कर लिया था ।
लेकिन उसमें हार जाने के बाद उसने खुद को गोली मारकर मौत को गले लगा लिया यह कहानी देहरादून पुलिस को तब पता चली जब यतीन्द्र वर्मा के होटल से पुलिस को सुसाइड नोट के साथ एक ऐसी डायरी मिली जिसमें कई राज दफ्न हैं इन राज के पन्नों को अगर बारीकी से पढ़ा जाए तो इसमें नशे के सौदागरों का वो काला चि_ा है जो देहरादून के जिम संचालक द्वारा अंजाम दिया जाता है यहां पर नशे की गर्त में समा चुका यूथ़ जिस नशे को उपयोग करता  है वह एक तरह से मौत का नया सीरीज किलर बम है इस डायरी में वो राज भी दफन हैं जो इस बात की तस्दीक कर रहे हैं कि किस तरह देहरादून की जिमो में नशे का कारोबार बड़े पैमाने पर संचालित किया जा रहा है जिसकी पकड़  में देहरादून का यूथ लगातार समाता जा रहा है पुलिस को इस मामले के खुलासे के बाद और भी कई तरह के ऐसी जानकारी हासिल हुई है जिनकी पुलिस पड़ताल कर रही है पुलिस के लिए इस मर्डर मिस्ट्री को खोला पाना काफी कठिन था लेकिन पुलिस ने इस मामले में खुलासा कर लिया है नशे का कारोबार देहरादून हत्याकांड के बाद क्या पुलिस ऐसे जिम संचालकों के खिलाफ कार्रवाई को अंजाम देगी जो देहरादून में युवाओं को नशे का सामान परोस रहे है इस मामले का खुलासा करते हुए जनपद की पुलिस कप्तान निवेदिता कुकरेती ने मीडिया को बताया की यतिन रवर्मा ने अपने को गोली मारकर होटल में मौत को गले लगा लिया था जिसके बाद उसकी लाश को ठिकाने लगाने के लिए यतिन की लाश राजपुर रोड पर फेक दी गयी इस मामले में पुलिस ने आरोपियों को पकड़ लिया है लेकिन नशे के सौदागरों के हाथो उसका आदी हो चूका यतिन अपनी अंतिम लड़ाई में हार गया लेकिन सौदागरों का सच अपनी डायरी में छोड़ गया है।

 

शहरवासी का धरना सातवें दिन भी जारी

ऋषिकेश। सर्वदलीय संघर्ष समिति ऋ षिकेश सातवें दिन भी धरने पर बैठी। वह गंगा किनारे हरिद्वार मार्ग पर डाले जा रहे कूड़े का विरोध कर रहे है। धरने में समिति के सहसंयोजक राजकुमार अग्रवाल व पूर्व सभासद हरीश आनन्द ने कहा कि पूर्व नगर पालिका बोर्ड में डा.आरके गुप्ता ने ट्रंचिग ग्राउंड के लिये नगर पालिका को दो बीघा ज़मीन दी थी। उस समय तत्कालीन बोर्ड ने डा. गुप्ता का स्वागत भी किया। कहा कि डा गुप्ता ने अपनी ज़मीन की रजिस्ट्री व एक स्टाम्प पर नगर पालिका को ज़मीन दी थी परन्तु आज उक्त ज़मीन का पता नहीं है। इस प्रकरण की जांच होनी चाहिये।
 
बीजेपी मंडल अध्यक्ष चेतन शर्मा ने कहा कि हमारी पार्टी आंदोलन को पूर्ण समर्थन देती है। जब प्रधानमंत्री दयानन्द आश्रम आये थे तब भी प्रशासन ने उनको दूसरे रास्ते से वहां लेकर गये ताकि उनकी नजर इस गंदगी पर ना पड़े। यहा प्रशासन भी गुमराह करने का काम करता है। आम आदमी पार्टी के विधानसभा अध्यक्ष अमित विश्नोई,नवीन मोहन,महिला विंग अध्यक्ष शांति तडियाल,यूकेडी के मोहित डोभाल,खोखा यूनियन से नन्दकिशोर जाटव व गढ़वाल महासभा के अध्यक्ष उत्तम असवाल अपने सभी पदाधिकारियों के साथ धरने को समर्थन दिया और कहा कि यह एक ज्वलंतशील समस्या है। धरने में मुमताज हाशिम,सतीश कुमार शर्मा,पूर्व उपाध्यक्ष नगर पालिका भगतराम कोठारी,जयपाल जाटव,चेतन शर्मा,राजपाल सिंह यादव,पंकज शर्मा,विवेक गोस्वामी,पुरंजय राजभर,वेद प्रकाश धींगरा,हरिराम वर्मा,विमला रावत,उमा ओवराय,मधु जोशी,बृजेश निगम,राजेश शाह, राजा धींगड़ा,उत्तम असवाल,विरेन्द्र भारद्वाज,सरदार हाकम सिंह,सरदार अमर सिंह,पुष्पा मिश्रा पूर्व सभासद,सत्य प्रसाद मंमगाई,संदीप अटवाडिया,सरदार गोविंद सिंह,राजेश कुमार साहनी,कपिल शर्मा,शीशराम कंसवाल,अजय शर्मा,विनोद शर्मा,मोहित डोभाल,शान्ति तडियाल, सरदार कुलदीप सिंह,प्रकाश पंत,मनोज शर्मा,जीतू मुखर्जी आदि धरने में उपस्थित थे। संचालन विवेक तिवारी ने किया। 
 

 

शिक्षकों की कमी से जूझ रहे महाविद्यालय

उत्तरकाशी। बरफिया लाल जुवांठा राजकीय महाविद्यालय में शिक्षकों के अधिकांश पद रिक्त पड़े हैं। जिस कारण महाविद्यालय के छात्र-छात्राओं को उच्च शिक्षा का लाभ नहीं मिल पा रहा है। छात्रों का कहना है कि परीक्षाएं नजदीक हैं। लेकिन अभी तक शिक्षकों की व्यवस्था नहीं की गई। बरफिया लाल जुवांठा राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में गत कई माह से विज्ञान संकाय के रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान, वनस्पति विज्ञान, गणित एवं कला संकाय में राजनीतिक विज्ञान के शिक्षकों के पद रिक्त चल रहे। जिससे विज्ञान वर्ग के छात्रों को पठन पाठन में परेशानी उठानी पड़ रही है।
 
छात्रसंघ अध्यक्ष अमन चुनार ने बताया कि कई बार विद्यालय प्रशासन सहित उच्चाधिकारियों को इस संबंध में अवगत कराया गया। लेकिन उसके बाद भी शिक्षकों की नियुक्ति नहीं की गई। जिससे छात्रों का भविष्य अंधकारमय हो गया है। वहीं मंगलवार को महाविद्यालय के छात्रों ने एक बैठक आयोजित कर उच्च शिक्षा मंत्री धन सिंह रावत को ज्ञापन प्रेषित किया और शीघ्र रिक्त शिक्षकों के पदों पर नियुक्ति की मांग की। वहीं चेतावनी दी कि यदि शीघ्र शिक्षकों के पद नहीं भरे गए तो वह आंदोलन के लिए बाध्य होंगे।

मरीजों को बांटी निशुल्क दवाईयां

नई टिहरी। हिमालयन अस्पताल जौलीग्रांट की ओर से टीएचडीसी की कोटेश्वर बांध परियोजना में एक दिवसीय निशुल्क चिकित्सा शिविर का आयोजन किया गया। शिविर में आए विशेषज्ञ चिकित्सकों ने निकटवर्ती क्षेत्रों से आए मरीजों की जांच कर निशुल्क दवाईयां वितरित की। बुधवार को कोटेश्वर बांध परियोजना में आयोजित चिकित्सा शिविर का शुभारंभ परियोजना महाप्रबंधक पीके अग्रवाल ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया।
 
उन्होंने कहा कि ग्रामीणों व परियोजना कर्मचारियों में स्वास्थ्य के प्रति जागरुकता लाने के लिए समय-समय पर इस प्रकार के चिकित्सा शिविरों का आयोजन किया जाएगा। कहा कि स्वास्थ्य के प्रति लोगों को जागरुक करने का हमारा लक्ष्य भविष्य में भी इसी प्रकार बना रहेगा। शिविर में क्षेत्र के विभिन्न गांवों से आए मरीजों का स्वास्थ्य परीक्षण कर दवाईयां वितरित की गई। इस मौके पर सजीव आर, सीमान्त पन्त, एचके जिंदल, डा. जी श्रीनिवास, डा. हिमांशु तनवर, डॉ. वन्दना, डॉ. दीक्षा, डॉ. ईशु, डॉ. सिराज आदि मौजूद रहे।
 

कुलपति के खिलाफ हिंदू जागरण मंच का प्रदर्शन

 नई टिहरी। श्रीदेव सुमन विवि की ओर से अंर्तराष्ट्रीय सेमिनार को विवि मुख्यालय के बजाए देहरादून विवि में कराने पर हिंदू जागरण मंच ने रोष जताया। उन्होंने विवि कुलपति का पुतला दहन करते हुए उन पर पहाड़ की उपेक्षा का आरोप लगाया। संगठन ने सरकार से कुलपति को पद से हटाने की मांग की है।बुधवार को हिंदू जागरण मंच, छात्र नेताओं व व्यापारियों ने श्रीदेव सुमन विवि की ओर से अंर्तराष्ट्रीय सेमिनार देहरादून में आयोजित न किए जाने पर नाराजगी जताई। उन्होंने नगर क्षेत्र चंबा चौराहे पर कुलपति डॉ. यूएस रावत के खिलाफ प्रदर्शन कर पुतला आग के हवाले किया।

विहिप जिलाध्यक्ष सुरम तोपवाल ने कहा कि कुलपति विवि मुख्यालय के बजाए अधिकांश समय देहरादून में ही रहते हैं, जिससे विवि के कई कार्य बाधित हो रहे हैं। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि कुलपति की पहाड़ विरोधी सोच के चलते अंर्तराष्ट्रीय सेमिनार बादशाहीथौल के बजाए देहरादून में आयोजित किया जा रहा है। संगठन ने सरकार से कुलपति से हटाए जाने की मांग की है। प्रदर्शन करने वालों में पूर्व अध्यक्ष प्रशांत उनियाल, अलंकार सुमन, रघुवीर रावत, महिपाल सजवाण, दर्शनलाल पोखरियाल, कुलवीर रमोला, गजपाल पंवार, दीवान सिंह, राकेश आदि मौजूद रहे।

 

कबड्डी सहित अन्य प्रतियोगिताओं का आयोजन

नई टिहरी। युवा कल्याण विभाग की ओर से खेल महाकुंभ के तहत बौराड़ी स्टेडियम में आयोजित खेल प्रतियोगिताओं के तीसरे दिन अंडर-14 की वॉलीबाल, ऐथलेटिक्स, कबड्डी सहित अन्य प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। मुख्य अतिथि सीडीओ आशीष भटगाई ने विजेता प्रतिभागियों को पुरस्कृत किया। बुधवार को बौराड़ी स्टेडियम में जिलास्तरीय खेल महाकुंभ के तहत अंडर-14 वर्ग के खेलों का आयोजन किया गया। 100 मीटर दौड़ में अभिषेक रावत व काजल, नितिन कोठारी व अंजली, सुखदेव व करिश्मा चौहान, 400 मी. में अंशुल भंडारी व अंजली, अमन नेगी व मनीषा, रोहित बिष्ट, 800 मीटर में अमन नेगी व कुमारी बेबी, अंशुल पंवार व मानषी नेगी, दिशांत सिंह व मनीषा, 600 मीटर में मनीषा व प्रदीप, सोनाली व अंशुल, मानसी व अमन, लंबीकूद में नितिन व काजल, महेश व हंसिका, सुखदेव व कामिनी, ऊंचीकूद मे अमन व मीनाक्षी, अनुराग व शालिनी, रोबिन व अंजली, बैडमिंटन सिंगल बालिका में मानसी, स्किंदा, अंबिका, बालक में राहुल, मयंक, हिमांशु, बैडमिंटन डबल बालक में नरेंद्रनगर, भिलंगना, जबकि बालिका वर्ग में चंबा, भिलंगना, टेबिल टेनिस बालक में धन सिंह, कृष्णा, दीपक, बालिका में अयन कोठारी क्रमश प्रथम, द्वितीय व तृतीय रहे।
 
वॉलीबाल बालक में चंबा विजेता व प्रतापनगर उपविजेता, खो-खो बालिका में नरेंद्रनगर प्रथम व प्रतापनगर द्वितीय, बालक में थौलधार विजेता व चंबा उपविजेता रहा। इस मौके पर डीओ पीआरडी एचएस खत्री, बीओ पीआरडी ममता भट्ट, रजनी बाला, रविंद्र राणा, यशपाल रावत, कमलनयन रतूड़ी, उत्तम सिंह, विजयपाल, दिनेश सेमवाल, दीनदयाल भट्ट, दर्शन लाल उनियाल, बीएस धनोला, किशोर सिंह, मोहित सती, राधे सेमवाल, चिरंजीव, राजेंद्र सिंह, हरीश आदि मौजूद रहे।
 

 

दलित छात्रा ने बच्ची को दिया जन्म

नई टिहरी। जौनपुर ब्लॉक के एक इंटर कॉलेज में तैनात शिक्षक द्वारा छात्रा से दुराचार के बाद गर्भवती होने के मामले में नाबालिग छात्रा ने दून के एक अस्पताल में बच्ची को जन्म दिया है। पुलिस ने आरोपी व बच्ची के डीएनए टेस्ट की तैयारी शुरू कर दी है।  विगत 26 सितंबर 2017 को जौनपुर ब्लॉक के एक इंटर कॉलेज में तैनात शिक्षक के दसवीं में पढऩे वाली नाबालिग दलित छात्रा के साथ दुराचार के बाद गर्भवती होने का मामला सामने आया था।
 
मामले का पता तब चला था, जब छात्रा ने परिजनों से पेट दर्द की शिकायत की थी। परिजनों की तहरीर पर कैम्पटी थाना पुलिस ने आरोपी शिक्षक के खिलाफ दुराचार का मामला दर्ज किया और उसे गिरफ्तार कर लिया था। वर्तमान में आरोपी शिक्षक जेल में हैं। पीडि़त छात्रा ने दून के एक अस्पताल में बच्ची को जन्म दिया है। छात्रा और नवजात दोनों स्वस्थ्य हैं। पीडि़ता के परिजनों ने नवजात बच्ची को गोद देने का मन भी बना लिया है। थानाध्यक्ष कैम्पटी मनोज नेगी ने बताया नाबालिग छात्रा द्वारा बच्ची को जन्म देने के बाद पुलिस आरोपी, नाबालिग छात्रा और बच्ची का डीएनए टेस्ट कराएगी। 
 

 

डीएम ने किया टेलीमेडिसन सेवा का शुभारंभ

 नई टिहरी। डीएम सोनिका ने जाखणीधार ब्लॉक के राजकीय एैलोपैथिक चिकित्सालय सेमंडीधार में टेलीमेडिसन सेवा का शुभारंभ किया। इस दौरान उन्होंने स्वास्थ्य केंद्रों को सुचारु रुप से चलाने के लिए वहां तैनात फार्मासिस्टों को जिला चिकित्सालय बौराड़ी में शनिवार व रविवार को प्रशिक्षण दिए जाने की बात कही। डीएम ने सेमण्डीधार के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र तथा मंदार में स्वास्थ्य उपकेन्द्र के दवा स्टोरों की दयनीय स्थिति पर कर्मचारियों को कड़ी फटकार लगाते हुए दवा स्टोर व दवा पंजिका को दुरुस्त रखने के निर्देश दिए। बुधवार को डीएम सोनिका ने जाखणीधार ब्लॉक के विभिन्न क्षेत्रों का भ्रमण कर विकास योजनाओं की जानकारी ली। उन्होंने राजकीय एैलोपैथिक चिकित्सालय सेमंडीधार में टेलीमेडिसन सेवा का शुभारंभ किया।

 

कहा कि इस सेवा से ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को चिकित्सीय परामर्श के साथ ही अन्य स्वास्थ्य संबंधी जानकारी क्षेत्र में ही मिल सकेगी। भ्रमण के दौरान पूर्व प्रधान ध्यान सिंह रावत ने डीएम को इंटर कॉलेज मंदार में प्रवक्ताओं की नियुक्ति न होने पर छात्रों को होने वाली दिक्कतों से भी अवगत कराया। क्षेपंस विजयपाल रावत ने 2011-12 में स्वीकृत मीउण्डी-मंदार लिंक रोड का लोनिवि की ओर से अभी तक मुआवजा न दिए जाने, पीएमजीएसवाई की भटवाड़ा-कस्तल सडक़ पर निर्माण कार्य प्रारम्भ न होने की शिकायत की। उन्होंने क्षेत्र के 6 स्वास्थ्य उपकेन्द्र में एएनएम तथा स्टॉफ नर्सों की तैनाती न होने से गर्भवती महिलाओं व बच्चों के टीकाकरण की समस्या की बात भी डीएम के समक्ष रखी। जिस पर डीएम ने संबंधित अधिकारियों को रोस्टर तैयार कर कर्मचारियों की तैनाती के निर्देश दिए। वही सेमण्डीधार उप स्वास्थ्य केन्द्र में अटैच फार्मासिस्ट शांतिलाल नाथ को अपने मूल स्थान पर ज्वाइन करने को कहा। इस मौके पर अतिरिक्त जिला सूचना अधिकारी एसएम बिजल्वाण, डीपीएम प्रीतम सिंह नेगी, अनूप कृषाली, सूरज बिष्ट आदि मौजूद रहे।

 

यूटीलिटी खेत में गिरने से पांच लोग घायल

 देहरादून। देहरादून के सहिया क्षेत्र में बिरमौ गांव से साहिया आ रहा यूटीलिटी वाहन उपरौली के पास अनियंत्रित होकर सडक़ से खेत में जा गिरा। हादसे में महिला समेत पांच लोग घायल हो गए। बिरमौ गांव से चालक गीतादास (25) पुत्र शशकू निवासी बिरमौ साहिया के लिए यूटीलिटी लेकर जा आ रहा था। जैसे ही गाड़ी उपरौली के पास पहुंची ढलानदार रास्ता पर अचानक मोड आया और वाहन के ब्रेक फेल हो गए। इससे यूटीलिटी सडक़ से नीचे सीधे नीचे खेत में जा गिरी।

 

हादसे में चालक गीतादास, झूलो देवी (60) पत्नी सबल सिंह निवासी बिनऊ, रोहित (17) पुत्र शशिया दास निवासी उपरौली, जयपाल सिंह (16) पुत्र चमन सिंह निवासी उपरौली, विक्की (15) पुत्र दयालू निवासी उपरौली गंभीर घायल हो गए। घायलों को आसपास के ग्रामीणों ने खाई से निकालकर सीएचसी साहिया पहुंचाया। प्राथमिक उपचार के बाद भी चालक गीता दास व झूलो देवी की हालत में सुधार न होते देख चिकित्सकों ने दोनों को हायर सेंटर रेफर कर दिया।

 

कब शिफ्ट होगा शहर के बीचोंबीच बना ट्रंचिंग ग्राउंड

ऋ षिकेश। योग और पर्यटन के नाम से मशहूर ऋ षिकेश पूरे विश्व में अपनी खास जगह बना चुका है। जिस कारण देश-विदेश से अनेक सैलानी यहां आते हैं। ऐसे में शहर के बीचोंबीच में ट्रंचिंग ग्राउंड का होना जैसे शहर के चांद पर दाग लगा रहा है। जिसको लेकर पिछले चार दिनों से आंदोलन चल रहा है। दरअसल, नगर पालिका ऋ षिकेश द्वारा शहर के बीचोंबीच डम्प किए गए कूड़े के ढेर को हटाने की मांग को लेकर सर्वदलीय संघर्ष समिति द्वारा आंदोलन शुरू किया गया है। समिति के संयोजक सुरेंद्र शर्मा ने कहा कि नगर पालिका शहर के बीचों बीच कूड़ा डाल रहा है।
 
इतना ही नहीं बल्की नदी के 60 मीटर की दूरी पर कूड़ा डम्प किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि एजीटी के साफ आदेश हैं कि गंगा के 500 मीटर दायरे में गंदगी डालने पर 50 हजार रुपये जुर्माना प्रतिदिन वसूला जाएगा। इसी के साथ उन्होंने बताया कि शहर के बीच में डाले जा रहे कूड़े से आने वाली बदबू से स्थानीय लोगों के साथ-साथ पर्यटक भी परेशान हैं। इसलिए कूड़ा निस्तारण की उचित व्यवस्था होने तक उनका आंदोलन जारी रहेगा। गौरतलब है कि ऋषिकेश में ट्रेंचिंग ग्राउंड की समस्या पिछले लंबे समय से बनी हुई है। जिस पर नगर पालिका अध्यक्ष से हर साल लोगों की यही मांग रहती है कि ट्रेंचिंग ग्राउंड को शहर से हटाकर कहीं और शिफ्ट किया जाए। वहीं नगर पालिका अध्यक्ष दीप शर्मा का कहना है कि हमने सरकार से टचिंग ग्राउंड को लेकर बात की है और हम पूरी कोशिश कर रहे हैं कि जल्द से जल्द शहर का कूड़ा शहर के बीचोंबीच ना होकर कहीं दूर डंप किया जाए लेकिन इतने बड़े शहर की कूड़े की समस्या को समाप्त करने में थोडा वक़त तो लगेगा। ऋ षिकेश में नगर पालिका और प्रशासन की अनदेखी स्थानीय और पर्यटकों पर भारी पड़ रही है। अब देखने वाली बात होगी की लोगों के इस आक्रोश के सामने पालिका प्रशासन क्या कदम उठाती है।
 

विकास व पर्यावरण में संतुलन आवश्यक: राज्यपाल

 

देहरादून। राज्यपाल डॉ$ कृष्ण कांत पाल ने कहा कि विकास और पर्यावरण में संतुलन स्थापित करना होगा। सस्टेनेबल डेवलपमेंट की अवधारणा को अपनाना होगा। ऐसी नीति अपनानी होगी जिससे हिमालय के दुर्गम क्षेत्रों में रहने वाले लोगों की आधारभूत आवश्यकताएं भी पूरी हों और पर्यावरण व जैव विविधता का संरक्षण भी सुनिश्चित हो। राज्यपाल, दून विश्वविद्यालय में हिमालयी क्षेत्रों में सस्टेनेबल डेवलपमेंट की चुनौतियां विषय पर आयोजित परिचर्चा को बतौर मुख्य अतिथि सम्बोधित कर रहे थे।  राज्यपाल ने कहा कि हिमालय केवल एक भू-स्थलाकृति ही नहीं है बल्कि यह मानव सभ्यता का महत्वपूर्ण केंद्र भी है। यहां हमारी सनातन धर्म व संस्कृति की धारा सदियों से प्रवाहित होती रही है। हिमालय का अध्ययन केवल एक भौगोलिक इकाई के वैज्ञानिक विश्लेषण तक ही सीमित नहीं रखा जा सकता है। हिमालय वस्तुत: समृद्घ भारतीय संस्कृति की आत्मा है।  
 
राज्यपाल ने कहा कि उाराखण्ड एक प्रमुख हिमालयी राज्य है। ग्लोबल वार्मिंग का प्रभाव उत्तराखण्ड में भी देखने को मिल रहा है। हर साल बादल फटने, भूस्खलन जैसी दैवीय आपदाएं की घटनाएं हो रही हैं। अगर हमें हिमालय, यहां के वनों, नदियों, जीव जंतुओं, जैव विविधता की रक्षा करनी है तो स्थानीय लोगों की सहभागिता सुनिश्चित करनी होगी। मूलभूत सुविधाओं के अभाव में पलायन बड़ी समस्या है। राज्य सरकार ने महत्वपूर्ण पहल करते हुए पौड़ी में पलायन आयोग स्थापित किया है। राज्य के पर्वतीय क्षेत्रों में लोगों की मूलभूत जरूरतों को पूरा करने पर विशेष ध्यान देना होगा।  राज्यपाल ने कहा कि विश्वविद्यालयों में ज्ञान का सृजन होता है। उन्होंने आशा व्यक्त की कि इस तीन दिवसीय सेमीनार में वैज्ञानिकों व विशेषज्ञों के गम्भीर मंथन से कुछ ठोस निष्कर्ष अवश्य निकलेंगे जो कि नीति निर्धारण में सहायक होंगे। केंद्रीय कपड़ा राज्य मंत्री  अजय टम्टा ने कहा कि ऐसी तकनीक के विकास पर ध्यान देना चाहिए जिससे दैवीय आपदाओं का कुछ समय पहले पूर्वानुमान लगाया जा सके। विकास व पर्यावरण एक दूसरे के पूरक हैं। केंद्र सरकार हिमालयी पारिस्थितिकी के संरक्षण व स्थानीय लोगों की विकास की आवश्यकता को पूरा करने के लिए गम्भीर है। केंद्र सरकार ने उच्च हिमालयी अध्ययन केंद्र खोलने की आवश्यकता महसूस करते हुए जी$बी$पंत हिमालयी पर्यावरण व विकास संस्थान को जी$बी$पंत हिमालयी पर्यावरण व स्थायी विकास के राष्ट्रीय संस्थान के रूप में अपग्रेड किया है। श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित तीन दिवसीय सेमीनार, 29 नवम्बर से 1 दिसम्बर तक चलेगा जिसमें वैज्ञानिकों व विशेषज्ञों द्वारा व्यापक विचार विमर्श किया जाएगा। सेमीनार के उद्घाटन के अवसर पर विधायक दिलीप सिंह रावत, अपर मुख्य सचिव डॉ$ रणवीर सिंह, सचिव रविनाथ रमन, विज्ञान व तकनीक विभाग, भारत सरकार से आए वैज्ञानिक डॉ$ अखिलेश गुप्ता, श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ$ यू$एस$रावत, दून विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो0कुसुम अरूणाचलम सहित अन्य गणमान्य उपस्थित रहे।                     
 

 

राज्य हित में सकारात्मक परिणाम देने का आश्वासन

देहरादून। मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द सिंह रावत ने बुधवार को नई दिल्ली में केन्द्रीय ऊर्जा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार)  आर.के.सिंह से भेंट की। मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द्र सिंह ने कहा कि केन्द्रीय मंत्री से वार्ता के दौरान उत्तराखण्ड की 33 जल विद्युत परियोजनाओं पर व्यापक चर्चा की गई इस सम्बंध में ऊर्जा जल संसाधन, एवं वन मंत्रालय तीनों विभागों द्वारा मिलकर राज्य हित में सकारात्मक परिणाम देने का केन्द्रीय ऊर्जा राज्य मंत्री द्वारा आश्वासन दिया। देहरादून एवं हरिद्वार में अंडर ग्राउण्ड केबल के लिए सी.एस.आर. में फंडिंग देने के लिए सहमति बनी। मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द्र ने कहा कि लखवाड़-ब्यासी परियोजना, किसाऊ बांध परियोजना, टिहरी हाइड्रो पॉवर कॉर्पोरेशन (टी.एच.डी.सी) के लिए भी केन्द्र सरकार का सकारात्मक सहयोग मिल रहा है। वार्ता के दौरान उत्तराखण्ड में हॉस्पिटैलिटी यूनिवर्सिटी के लिए भी सहमति बनी तथा इसके लिए उन्होंने हर संभव सहयोग का भी आश्वासन दिया। 
 
मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने केन्द्रीय ऊर्जा राज्य मंत्री को अवगत कराया कि पर्यावरण एवं वन मंत्रालय द्वारा जनपद उत्तरकाशी में भागीरथी नदी के 100 किमी0 विस्तारित क्षेत्र गोमुख से उत्तरकाशी तक 4179.59 वर्ग किमी0 को ईको सेंसेटिव जोन के अन्तर्गत अधिसूचित किया गया है। मुख्यमंत्री ने आग्रह किया कि इस क्षेत्र में कुल 82.5 मेगावाट की पूर्व में आवटिंत 25 मेगावाट क्षमता तक की 10 लघु विद्युत परियोजनाओं कार्य शुरू किये जाने की अनुमति प्रदान की जाय जैसा कि पश्चिमी घाट महाराष्ट्र व हिमाचल प्रदेश को दी गई है।मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द्र ने लखवाड़ बहुउदेश्यीय तथा किशाऊ बहुउदेशीय परियोजनाओं पर भी शीघ्र सहमति प्रदान किये जाने का अनुरोध किया। उन्होंने कहा कि अलकनंदा तथा भागीरथी नदियों पर 70 में से 33 जल विद्युत परियोजनाएं जिनकी कुल क्षमता 4060 मेगावाट तथा लागत 41,000 करोड़ रूपये है, एनजीआरबीए, ईको संसेटिव जोन तथा मा0 उच्चतम न्यायालय के निर्देशो क्रम में बन्द पड़ी है। मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द्र ने अनुरोध किया कि यदि एक संयुक्त शपथ पत्र ऊर्जा मंत्रालय, जल संसाधन मंत्रालय तथा पर्यावरण व जल मंत्रालय द्वारा मा.उच्चतम न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया जाय तो उक्त परियोजनाओं हेतु शीघ््रा अनुमोदन मिल सकता है।  
 
इसी प्रकार चमोली की 300 मेगावाट की बावला नन्दप्रयाग जल विद्युत परियोजना के सम्बन्ध में मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय ऊर्जा मंत्री को बताया कि इस परियोजना से सम्बन्धित डीपीआर केन्द्रीय विद्युत प्राधिकरण के समक्ष अनुमोदन हेतु लम्बित है क्योंकि जल संसाधन मंत्रालय द्वारा इन्वार्यमेन्टल फ्लों का अभी अध्ययन नही किया गया है। साथ ही बावला नन्द प्रयाग जल विद्युत परियोजना जबकि तथा नन्द प्रयाग लंगासू विद्युत परियोजना हेतु पर्यावरण व वन मंत्रालय द्वारा पर्यावरणीय अध्ययन हेतु टर्मस ऑफ रेफरेन्स का अनुमोदन किया जाना बाकी है। मुख्यमंत्री ने टीएचडीसी इंडिया लिमिटेड में उत्तराखण्ड के 25 प्रतिशत हिस्सेदारी के प्रकरण को आपसी सहमति से सुलझाने का सुझाव भी केन्द्रीय ऊर्जा मंत्री को दिया। जिस पर उन्होंने सहमति व्यक्त की है। मुख्यमंत्री ने यह भी अनुरोध किया कि देहरादून, हरिद्वार तथा नैनीताल अंडरग्राउन्ड केबलिंग हेतु 1883.16 करोड़ रूपये का वितीय प्रस्ताव ऊर्जा मंत्रालय के समक्ष रखा गया है। इसमें हरिद्वार कुम्भ क्षेत्र हेतु अन्डरग्राउण्ड केबलिंग का कार्य भी सम्मिलित है। एकीकृत ऊर्जा विकास योजना (आईपीडीएस) के अन्तर्गत 190.68 करोड़ रूपये की डीपीआर भी देहरादून तथा हरिद्वार के सरकारी कार्यालयों में सोलर रूफ टॉप सिस्टम लगाने हेतु ऊर्जा मंत्रालय के समक्ष रखी गई है। मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द्र तथा केन्द्रीय ऊर्जा मंत्री के मध्य लघु जलविद्युत, ट्रांसमिशन तथा डिस्ट्रीब्यूसन हेतु ईएपी तथा केन्द्रीय सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों की कॉरपोरेट सोशल रिसपोंसिबिलीटी के अन्र्तगत राज्य में प्रस्तावित हॉस्पिीटीलिटी यूनीवर्सीटी हेतु फंडिंग के मुद्दों पर भी चर्चा की गई। जिसके लिए उन्होंने सहयोग का आश्वासन दिया है। इस अवसर पर सचिव, ऊर्जा राधिका झा उपस्थित थी। 
 

 

स्वास्थ्य सेवाएं बेहतर बनाने को सरकार ने उठायेगी कड़ा कदम

 
देहरादून। राज्य के दूरस्थ इलाकों में स्वास्थ्य सेवा को बेहतर बनाने के लिए सरकार एक के बाद एक कदम कड़े उठा रही है। राज्य के सभी जिलों के दूरस्थ इलाकों में बेहतर स्वास्थ्य सेवा मुहैया कराने के लिए दूसरे राज्यों के डाक्टरों को तैनात किया जाएगा। उत्तराखंड के बाहर से करीब 2000 डाक्टरों ने यहां अपनी सेवाएं देने की इच्छा जाहिर की है। मुख्यमंत्री ने कहा कि इन डाक्टरों की तैनाती दूरस्थ इलाकों में की जाएगी। राज्य में स्वास्थ्य व्यवस्था काफी खराब है। इसकी एक बड़ी वजह राज्य में डाक्टरों की भारी कमी है और सरकार हर जिले के अस्पतालों में डाक्टरों की तैनाती करना चाहती है। 
 
मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि दूसरे राज्य के करीब 2000 चिकित्सकों ने उत्तराखंड में सेवा करने की इच्छा जताई है, जिसके लिए स्वास्थ्य विभाग के पास आवेदन आ चुके हैं। इन चिकित्सकों की जल्द ही अस्पतालों में तैनाती कर स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाया जाएगा। 
 

निजी नर्सिंग संस्थानो को लेकर मंथन

देहरादून । मुख्य सचिव  उत्पल कुमार सिंह की अध्यक्षता में बुधवार को सचिवालय में निजी नर्सिंग संस्थानों को अनापत्ति दिये जाने से सम्बन्धित इम्पावर्ड कमेटी की बैठक आयोजित हुई। मुख्य सचिव ने निर्देश दिए कि निर्सिंग के नये पाठ्यक्रमों के संबंध में निजी संस्थानों की सुविधा को देखते हुए व्यवहारिक रूप में भविष्य में वर्ष में एक बार ही आवेदन जमा कराये जाए। कार्य के सरलीकरण व व्यवहारिकता को देखते हुए निरीक्षण दल द्वारा प्रवेश प्रक्रिया से पूर्व पुन: भौतिक निरीक्षण करने पर भी विचार किया गया। बैठक में बताया कि वर्ष 2018-19 में निर्धारित प्रक्रिया के अन्तर्गत निजी नर्सिंग संस्थान खोलने व सीट वृद्धि के लिए वर्ष में दो चरणों जनवरी तथा जून में आवेदन किये जाते हैं, उसे वर्ष में एक बार आवेदन करने पर निर्णय लिया गया। पाठ्यक्रम में एकरूपता लाने व संसाधनों के समुचित उपयोग के लिए देहरादून में संचालित स्टेट कालेज नर्सिंग तथा स्टेट स्कूल ऑफ नर्सिंग को एक ही संस्थान के रूप में सम्मिलित करने का निर्णय लिया गया। राज्य के विभिन्न जिलो में 05 ए.एन.एम सेन्टर जो वर्तमान में स्वास्थ्य एवं चिकित्सा विभाग के अधीन संचालित है, उन्हे अब चिकित्सा शिक्षा विभाग के नियंत्रण में चलाया जायेगा।
 
मुख्य सचिव ने कहा कि प्रदेश के 25 निजी नर्सिंग संस्थान चल रहे है, जो 04 मैदानी जिलों तक ही सीमित हैं। पर्वतीय जनपदों में भी नर्सिंग संस्थान खोलने के नये प्रस्ताव तैयार कर इन्वेस्टर्स को आमंत्रित किया जाय। वर्तमान में जनपद बागेश्वर तथा उत्तरकाशी में कोई नर्सिंग कालेज नही है। उन्होंने कहा कि इन जनपदों में कालेज खोलने हेतु निजी संस्थानों को आमंत्रित करने के साथ ही विद्यार्थियों को बेहतर रोजगार हेतु कैम्पस चयन की प्रक्रिया अपनायी जाए। मुख्य सचिव ने कहा कि निरीक्षण दल को पुनर्गठित करते हुए उनसे अपेक्षा की जाए कि उनके द्वारा जो भी संस्तुति दी जाए वह स्पष्ट व निश्चित हो। बैठक में अन्य राज्यों की भांति स्टेट मेडिकल फैकल्टी, स्टेट नर्सिंग काउंसिल, पैरामेडिकल काउंसिल एवं डेन्टल काउंसिल तथा मेडिकल काउंसिल को चिकित्सा स्वास्थ्य विभाग से स्थानान्तरित कर चिकित्सा शिक्षा विभाग के अधीन किये जाने पर निर्णय लिया गया। नर्सिंग छात्रों हेतु कौशल विकास विकसित करने के उद्देश्य से तीनों राजकीय मेडिकल कॉलेजों में छात्र-छात्राओं को प्रयोगात्मक प्रशिक्षण दिये जाने पर सहमति दी गई। बैठक में सचिव  एन.के.झा, अपर सचिव डॉ.पंकज कुमार पाण्डेय,  चन्द्रेश कुमार, महानिदेशक स्वास्थ्य डॉ.अर्चना, निदेशक चिकित्सा शिक्षा डॉ.आशुतोष सयाना, सीएमएस देहरादून डॉ.के.के.टम्टा सहित चिकित्सा विभाग के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।  
 

डीएम ने ली रेडक्रास सोसाइटी की बैठक

देहरादून। जिलाधिकारी/अध्यक्ष जनपदीय शाखा भारतीय रेड क्रास सोसाईटी, एस.ए मुरूगेशन की अध्यक्षता में विला ग्राउण्ड लखौण्ड निकट राजीव गांधी खेल मैदान सहस्त्रधारा रोड स्थित रेड क्रास सोसाईटी कार्यालय में बैठक आयोजित की गई। बैठक में जिलाधिकारी ने सम्बन्धित अधिकारियों को किये जाने वाले कार्यों/कार्यक्रमों तथा आय-व्यय के समस्त विवरण में पारदर्शिता अपनाते हुए कार्य करने और लोगों के हितों की पूर्ति के कार्यों को अपने ऐजेण्डे में सम्मिलित करने के निर्देश दिये। उन्होने समय-2 पर स्कूलों कालेजों तथा सार्वजनिक स्थलों पर विभिन्न बिमारियों की रोकथाम, साफ-सफाई, स्वच्छता, स्वस्थ जीवनशैली अपनाने जैसे जनजागरूकता कार्यक्रम आयोजित करने तथा लोगों को फस्र्ट मेडिकल रैस्पोन्डर/वॉलन्टियर्स का प्रशिक्षण देने के निर्देश दिये। उन्होने जनपद स्तर पर होने वाले आपदा प्रबन्धन के मॉकड्रिल में रेडक्रास सोसाईटी के सदस्यों के प्रतिभाग करने तथा सक्रिय रहने वाले वालिन्टियर्स/फस्र्ट एड मेडिकल रेस्पोन्डर्स का मोबाईल नम्बर  सहित विवरण देने के निर्देश दिये।
 
उन्होने जनऔषधि केन्द्रों पर पर्याप्त औषधि  तथा स्टॉफ रखने के भी निर्देश दिये। रेडक्रास सोसाईटी द्वारा जिलाधिकारी से कालसी, चकराता, सहिया, त्यूनी, विकासनगर आदि स्थानों पर जन औषधि केन्द्र खोलने हेतु स्वास्थ्य विभाग तथा अन्य आवश्यक माध्यम से वित्तीय आपूर्ति सहित अन्य परिचालन सहायता प्राप्त करने का आग्रह किया, जिस पर जिलाधिकारी ने सकारात्मक प्रतिक्रिया दी। जिलाधिकारी ने कहा कि सेन्ट्रल स्कूल में रेडक्रास की भी सदस्यता हेतु प्रयास करने क स्वास्थ्य विभाग को रेडक्रास सोसाईटी को सभी आवश्यक सहयोग देने के निर्देश दिये। इस अवसर पर चेयरमैन रणजीत सिंह वर्मा, वाईस चैयरमैन देवप्रकाश, सचिव रेडक्रास डॉ0 एम.एस अंसारी, मोहन एस खत्री, सहित सवस्थ्य विभाग व रेडक्रास सोसाईटी के सदस्य उपस्थित थे।
 

स्वामी चिदानंद को मिला महात्मा गांधी सर्विस पुरस्कार

ऋषिकेश। हरिजन सेवक संघ व ग्लोबल इंटरफेथ वॉश एलायंस की ओर से शांति व सेवा के लिए दिया जाने वाला लाइफ टाइम महात्मा गांधी पीस एंड सर्विस पुरस्कार परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानंद सरस्वती महाराज को दिया गया। राष्ट्रपति भवन में आयोजित कार्यक्रम में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने स्वामी चिदानंद को यह पुरस्कार प्रदान किया।  
 
परमार्थ प्रवक्ता के अनुसार राष्ट्रपति भवन में आयोजित कार्यक्रम में हरिजन सेवक संघ एवं ग्लोबल इंटरफेथ वाश एलायंस से जुड़े विभिन्न संतों ने भाग लिया। इस मौके पर राष्ट्रपति ने मां गंगा की आरती को याद करते हुए कहा कि वह मां गंगा की भव्य आरती में परमार्थ निकेतन गए हैं और वहां रहे हैं। मां गंगा के तट पर जाकर मन दिव्यता से ओतप्रोत हो जाता है, वह आरती शांति प्रदान करने वाली होती है।  इस मौके पर उन्होंने हरिजन सेवक संघ व ग्लोबल इंटरफेथ वाश एलायंस की ओर से परमार्थ आश्रम के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानंद को महात्मा गांधी लाइफ टाइम पीस एंड सर्विस पुरस्कार से सम्मानित भी किया। स्वामी चिदानंद ने राष्ट्रपति को तीर्थनगरी आगमन का निमंत्रण भी दिया। 
 

विभिन्न बिमारियों की रोकथाम, साफ-सफाई के निर्देश

 देहरादून। जिलाधिकारी/अध्यक्ष जनपदीय शाखा भारतीय रेड क्रास सोसाईटी, एस.ए मुरूगेशन की अध्यक्षता में विला ग्राउण्ड लखौण्ड निकट राजीव गांधी खेल मैदान सहस्त्रधारा रोड स्थित रेड क्रास सोसाईटी कार्यालय में बैठक आयोजित की गई। बैठक में जिलाधिकारी ने सम्बन्धित अधिकारियों को किये जाने वाले कार्यों/कार्यक्रमों तथा आय-व्यय के समस्त विवरण में पारदर्शिता अपनाते हुए कार्य करने और लोगों के हितों की पूर्ति के कार्यों को अपने ऐजेण्डे में सम्मिलित करने के निर्देश दिये। उन्होने समय-2 पर स्कूलों कालेजों तथा सार्वजनिक स्थलों पर विभिन्न बिमारियों की रोकथाम, साफ-सफाई, स्वच्छता, स्वस्थ जीवनशैली अपनाने जैसे जनजागरूकता कार्यक्रम आयोजित करने तथा लोगों को फस्र्ट मेडिकल रैस्पोन्डर/वाॅलन्टियर्स का प्रशिक्षण देने के निर्देश दिये।

 

उन्होने जनपद स्तर पर होने वाले आपदा प्रबन्धन के माॅकड्रिल में रेडक्रास सोसाईटी के सदस्यों के प्रतिभाग करने तथा सक्रिय रहने वाले वालिन्टियर्स/फस्र्ट एड मेडिकल रेस्पोन्डर्स का मोबाईल नम्बर सहित विवरण देने के निर्देश दिये। उन्होने जनऔषधि केन्द्रों पर पर्याप्त औषधि तथा स्टाॅफ रखने के भी निर्देश दिये। रेडक्रास सोसाईटी द्वारा जिलाधिकारी से कालसी, चकराता, सहिया, त्यूनी, विकासनगर आदि स्थानों पर जन औषधि केन्द्र खोलने हेतु स्वास्थ्य विभाग तथा अन्य आवश्यक माध्यम से वित्तीय आपूर्ति सहित अन्य परिचालन सहायता प्राप्त करने का आग्रह किया, जिस पर जिलाधिकारी ने सकारात्मक प्रतिक्रिया दी। जिलाधिकारी ने कहा कि सेन्ट्रल स्कूल में रेडक्रास की भी सदस्यता हेतु प्रयास करने क स्वास्थ्य विभाग को रेडक्रास सोसाईटी को सभी आवश्यक सहयोग देने के निर्देश दिये। इस अवसर पर चेयरमैन रणजीत सिंह वर्मा, वाईस चैयरमैन देवप्रकाश, सचिव रेडक्रास डाॅ0 एम.एस अंसारी, मोहन एस खत्री, सहित सवस्थ्य विभाग व रेडक्रास सोसाईटी के सदस्य उपस्थित थे।

विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय कार्य के लिए सीएम ने किया सम्मानित

 रुद्रपुर । स्वर्गीय पंडित राम सुमेर शुक्ल स्मृति एवं प्रतिभा सम्मान समारोह में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय कार्य के लिए सम्मानित किया गया।

श्रीरामलीला मैदान में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने एक एकड़ जमीन में नौ सौ क्विटंल गन्ने का उत्पादन करने वाले किसान चौधरी सतेंद्र सिंह को एवं पशु पालन एवं गौसेवा के क्षेत्र में चंदर अरोरा को सम्मानित किया। इसके अलावा उद्योग के क्षेत्र में राज्य का गौरव बढ़ाने के लिए कुमार ग्रुप के प्रबंध निदेशक अभिषेक अग्रवाल को मुख्यमंत्री ने सम्मानित किया। जन जन को वित्तीय रूप से साक्षर बनाने के लिए पंतनगर छात्र संघ के भूतपूर्व अध्यक्ष, सेबी के रिसोर्स पर्सन एवं वरिष्ठ बैंक अधिकारी मनोज सुयाल को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने शाल ओढ़ा कर एवं स्मृति चिह्न देकर सम्मानित किया।
 
इसके अलावा चिकित्सा के क्षेत्र में उत्तराखंड का नाम देश एवं विदेश में रोशन करने वाले एवं स्टेम सेल के क्षेत्र में अभूतपूर्व कार्य करने वाले डा. हिमांशु बंसल को सम्मानित किया गया गया। शिक्षा के क्षेत्र में किशन सिंह शाक्य, उच्च शिक्षा के क्षेत्र में श्रीनिवास शर्मा, साहित्य के क्षेत्र में गौरी मिश्रा, सामाजिक कार्य के क्षेत्र में जया मिश्रा, समाजसेवा के क्षेत्र में लाला यादव, संगीत के क्षेत्र में महेश चंद्र झा एवं ग्राम स्वच्छता के लिए प्रधान संजय छाबड़ा को सम्मानित किया गया।  विधायक राजेश शुक्ला ने मुख्यमंत्री को स्मृति चिह्न भेंट किया। स्मृति चिह्नि देने वालों में अशोक भल्ला व नितिन भल्ला भी शामिल थे। 

सीएम ने पंडित रामसुमेर शुक्ल को दी श्रद्धांजलि

 रुद्रपुर। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने तराई के संस्थापक महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी पंडित रामसुमेर शुक्ल की प्रतिमा पर माल्यार्पण करके उन्हें श्रद्धांजलि दी। इस दौरान पंडित शुक्ल की स्मृति में आयोजित प्रतिभा सम्मान कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि लचीली नजूल नीति तैयार करेंगे, ताकि लोगों को उसका लाभ मिल सके। कहा कि एनएच घोटाले की जांच वह सीबीआई से कराना चाहते थे, लेकिन सीबीआई ने जांच करना स्वीकार नहीं किया। इसलिए सरकार ने समानान्तर जांच कराई और आज दो पीसीएस अफसरों समेत दस लोग जेल में हैं।

रावत ने कहा कि सरकार के आठ महीने पूरे होने जा रहे हैं। हमने पहला निशाना भ्रष्टाचार पर किया। ऊधमसिंह नगर में एनएच 74 में मुआवजा घोटाला हुआ और बिहार के चारा घोटाले की तर्ज पर खाद्यान्न घोटाला हुआ। उन्होंने आरएफसी को बर्खास्त किया तथा तमाम अधिकारियों को स्थानांतरित किया। वह गरीबों का हक किसी को नहीं छीनने देंगे। कहा कि एनएच घोटाले में हमने सीबीआई जांच की मांग की थी, लेकिन सीबीआई ने जांच स्वीकार नहीं की, जिस कारण उन्होंने समानांतर जांच कराई।
 
जांच अभी जारी है। जो भी दोषी होंगे वह जेल जरूर जाएंगे। सरकार संस्थागत भ्रष्टाचार को रोक रही है। कहा कि वह विकास करना चाहते हैं। जनता सरकार पर भरोसा रखे, हम भ्रष्टाचार की कालिख से साफ निकलेंगे। हम सिंगल विंडो सिस्टम लागू कर रहे हैं, ताकि जनता को भटकना न पड़े। डेढ़ लाख बेघर लोगों को सरकार मकान देगी। शहरी क्षेत्र को खुले में शौच से मुक्त कर देंगे। बताया कि 39 हजार किसानों को दो फीसदी ब्याज दर पर ऋण उपलब्ध कराया है। इसके परिणाम देखकर इसकी सीमा बढ़ाने पर विचार किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तराखंड सरकार ने यह निर्णय लिया है कि वीरगति प्राप्त करने वाले जवानों के एक परिजन को सरकारी नौकरी दी जाएगी। यह भरोसा दिलाया कि रुद्रपुर मेडिकल कालेज का काम शीघ्र शुरू किया जाएगा। कहा कि उन लोगों को शर्म आनी चाहिए जो कानून व्यवस्था पर सवाल उठा रहे हैं। जब जेलर को जेल गेट पर गोली मारी गई तब कानून व्यवस्था पर कोई नहीं बोला। अब अपराधी को मारा गया तो कानून व्यवस्था पर सवाल उठा रहे हैं। अपराधियों को छोड़ा नहीं जा रहा है। कहा कि चिकित्सकों की कमी को पूरा किया जा रहा है। सरकार के स्पष्ट निर्देश हैं कि अधिकारी न्याय की भावना से कार्य करें।
 
भाजपा के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री शिवप्रकाश ने कहा कि फिल्म पद्मावती पर विवाद चल रहा है। इतिहास को तोड़ मरोड़ के पेश करने का प्रयास किया जा रहा है। महापुरुषों के बारे में बच्चों को जरूर जानकारी दी जाए। जो पीढ़ी अपने देश के महापुरुषों व इतिहास के बारे में नहीं जानती, वह देश गर्त में जाता है। कहा कि सरकार सीमाओं को सिकुडने न दे यह क्रांतिकारियों के लिए सच्ची श्रद्धांजलि होगी। देश में ऐसी सरकार काम कर रही है जो समझौते वाली नहीं है। कोई यदि टेढ़ी नजर से देखेगा तो वह खुद को सुरक्षित नहीं समझे।
 
कार्यक्रम के आयोजक विधायक राजेश शुक्ला ने कहा कि पंडित राम सुमेर शुक्ल के जन्मदिवस पर प्रतिभाओं का सम्मान कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जिनके पास भारत के प्रति सम्मान की भावना नहीं है, वह पढ़े लिखे पशु हैं। कहा कि तराई को बसाने वाले भूमिहीन मजदूर अभी जमीनों से वंचित हैं। उन्हें सम्मान देने की जरूरत है। श्री शुक्ला ने नजूल भूमि पर बैठे लोगों को निशुल्क फ्रीहोल्ड की मांग की। साथ ही कहा कि देवरिया गांव में ट्रंचिंग ग्राउंड बनाया जाना अनुचित है। धान के किसानों को मुख्यमंत्री की सख्ती के बाद उचित मूल्य मिल रहा है। कहा कि उद्योगों को भी सहारा देने की जरूरत है। उन्होंने ऊधमसिंह नगर में जमीनों की रजिस्ट्री पर लगी रोक हटाने की मांग रखी। इस दौरान काबीना मंत्री प्रकाश पंत, यशपाल आर्या, भाजपा नेता संजय जी, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट, जिलाध्यक्ष शिव अरोरा, विधायक राजकुमार ठुकराल, विधायक पुष्कर सिंह धामी, डा. प्रेम सिंह राणा, जिला पंचायत अध्यक्ष ईश्वरी प्रसाद गंगवार, मेयर सोनी कोली, पूर्व सांसद बची सिंह रावत, यूपी के विधायक कमलेश शुक्ला, पूर्व विधायक शैलेंद्र मोहन सिंघल, सुरेश परिहार, विकास शर्मा, हिमांशु शुक्ला, दिनेश शुक्ला, अनिल चौहान आदि मौजूद थे।

कानूनगो रिश्वत लेते गिरफ्तार

सितारगंज । खसरा खतौनी में नाम चढ़वाने को लेकर रिश्वत लेते हुए एक कानूनगो को विजीलेंस टीम ने रंगे हाथ गिरफ्तार किया है। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की है। 
 
बता दें कि सितारगंज क्षेत्र के एक काश्तार ने वीजीलेंस में शिकायत की कि उससे क्षेत्र का कानूनगो संतोष कुमार श्रीवास्तव खतौनी में नाम चढ़ाने के नाम पर रिश्वत मांग रहा है। अगर वो रिश्वत नहीं देगा तो उसका नाम खतौनी में चढ़ाने से इंकार करता है। उसकी इस शिकायत पर विजीलेंस ने मांगी गई रिश्वत वाले पैसे 2500 रुपये को कैमिकल पाउडर में लगाकर दिए। आज इन रुपयों को बतौर रिश्वत कानूगो श्रीवास्तव ने जैसे ही लिए तभी विजीलेंस की टीम ने छापा मारकर उसके कब्जे से ढाई हजार रुपये बरामद कर लिए। विजीलेंस ने आरोपी को अपनी हिरासत में ले लिया है। समाचार लिखे जाने तक कानूनी प्रक्रिया जारी थी। विजीलेंस टीम एसपी अमित श्रीवास्तव के नेतृत्व में भेजी गई थी।  

फारूक अब्दुला के खिलाफ मुस्लिम मंच का प्रदर्शन

देहरादून। मुस्लिम राष्ट्रीय मंच ने कश्मीर के षंदर्भ में पूर्व मुख्यमंत्री डा. फारूक अब्दुला की ओर से दिए गए बयान पर कड़ा एतराज जताया है। कहा कि अलगावादी विचारधारा वाले ऐसे नेताओं के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए। मंगलवार को मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के प्रदेश संयोजक गुलफाम शेख की अगुवाई में दर्जनों कार्यकर्ताओं ने परेड ग्राउंड स्थित लैंसडौन चौक पर प्रदर्शन किया। मंच ने कहा कि मंच फारूक अब्दुला की घोर निंदा करता है। उन्हें यह याद दिलाना चाहता है कि वह भी एक हिंदुस्तानी हैं। उन्हें जो मान सम्मान मिला है वह हिंदुस्तान के लोगों के जरिए मिला है।

न कि पाकिस्तान की ओर से। शेख ने कहा कि जम्मू कश्मीर में संसद की जो सीटें रिक्त पड़ी हैं उन्हें अविलंब भरा जाए। मंच ने फिल्म अभिनेता ऋ षि कपूर को भी आड़े हाथों लिया। आगाह करते हुए कहा कि कश्मीर का मसला कोई रंगमंच नहीं है। यह हमारे देश का मामला है। ऐसे मसलों पर अपनी सलाह न दें तो बेहतर होगा। उन्होंने केंद्र सरकार से मांग करते हुए कहा कि ऐसे लोग जो देश की एकता पर प्रहार कर सस्ती लोकप्रियता हासिल करना चाहते हैं। उनके खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाए। प्रदर्शन के दौरान प्रांत संयोजिका सीमा जावेद, बिलाल रहमान, मास्टर शकील, रहीश खान, सलीम अहमद, मेहताब अली, इमरान सिद्दकी, शाहीन रहमान, आशी खान, इमरान खान, शाकिल वसीम, खुर्शीद अंसारी, इसरार कुरेशी, इकबाल राव, वसीम आदि मौजूद रहे।

 

विभिन्न संगठनों के साथ मैड ने रिस्पना पुनर्जीवन पर किया मंथन

देहरादून। शिक्षित छात्रों के संगठन मेकिंग अ डिफरेंस बाय बीइंग द डिफरेंस (मैड) संस्था ने देहरादून के अनेक संगठनों एवम बुद्घिजीवियों के साथ रिस्पना पुनर्जीवन में आम जनमानस की भागीदारी पर विस्तृत चर्चा की। मैड संस्था ने रिस्पना पुनर्जीवन पर एक बैठक का आयोजन किया। 

गौरतलब है कि इस मुद्दे पर मैड विगत 7 वर्षों से काम करता आ रहा है और जब से मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इस मुद्दे को उठाया है तबसे संस्था वर्तमान राज्य सरकार के साथ भी इस प्रोजेक्ट में जुड़ी हुई है। 15 नवंबर को इसी के बारे में मैड की ओर से एक प्रस्तुति मुख्य सचिव उत्पल कुमार के अध्यक्षता में हुई एक उच्च स्तरीय बैठक में भी दी गई थी जिसमे इको टास्क फोर्स को यह जिम्मेदारी दी गयी थी कि वह रिस्पना पुनर्जीवन का एक खाका तैयार करें। मैड ने इस बैठक का आयोजन किया ताकि वह आम जन मानस एवं समाज के हर टपके को अपने इस अभियान से जोड़ सके। लोकेश ओहरी ने यह बात कही की यह स्पष्ट होना चाहिए कि इको टास्क फोर्स को क्या अधिकार क्षेत्र दिया गया है जिसके तहत वह इस प्रोजेक्ट में अपनी भूमिका निभाने वाले हैं।
 
सिटीजन्स फर ग्रीन दून के आशीष गर्ग ने भी इस बात पर जोर दिया कि रिस्पना में किसी भी तरह के सीवर का डाला जाना गलत है और इस पर तत्काल कानूनी प्रतिबंध न सिर्फ लगना चाहिए बल्कि लागू भी किया जाना चाहिए। प्रमुख संगठन के परमजीत सिंह ने इस बात पर जोर दिया कि रिस्पना पुनर्जीवन पर समाज के सभी वर्गों को साथ काम करना चाहिये। लिटिल फ्लावर स्कूल की रोहिणी मनुचा पूरी ने मलिन बस्ती के ज्वलंत मुद्दे को उठाया और कहा कि सरकार को यह स्पष्ट करना चाहिए कि मलिन बस्तियों के संदर्भ में उनकी नीति क्या होगी।  दून सिटीजन कौंसिल के ब्रिगेडियर केजी बहल ने अपनी राय रखते हुए कहा कि एक ओर जहां मलिन बस्तियों के मूल भूत अधिकारों की अवेहलना नही होनी चाहिए वही दूसरी ओर उनके पुनर्वास की तरफ राज्य सरकार को ठोस नीति नियोजित करनी चाहिए। कल्पतरु संस्था के प्रभास ने इस बात पे जोर दिया कि पहले हमें उन चीजों पर ध्यान आकर्षित करना चाहिए जो बिना किसी रुकावट के की जा सके और वी अदित मुद्दों को उसके बाद है देखना चाहिए। संयुक्त नागरिक संगठन के सुशील कुमार त्यागी ने यह बात कही की इस मुहीम को आगे बढ़ाना चाहिए और इसमें नई जान डालने के लिए और भी लोगों को साथ लेना चाहिए। राजप्यर कम्युनिटी इनिशिएटिव की अध्यक्षा रीनू पल ने इस बात पर जोर दिया कि राजौर क्षेत्र में किसी भी तरह के निर्माण कार्य जो रिस्पना तलहटी पर हो रहे हो उन पर प्रतिबंध लगना चाहिए और आरोपियों पर निगरानी की जानी चाहिए। नेशनल पेरेंट्स समूह के आरिफ मोहम्मद ने भी यही कहा कि अतिक्रमण के मुद्दे पर राज्य सरकार को वोट बैंक की राजनीति नहीं खेलनी चाहिये। जगमोहन मेहंदीरत्ता ने यह कहा कि सामाजिक संगठनों की तरफ से मैड को अपने सुझाव समय से दे देने चाहिए ताकि निष्क्रिय पड़े सरकारी तंत्र को आईना दिखाया जा सके।
 

विधान सभा अध्यक्ष ने शिवांश को दी बधाई

देहरादून। उत्तराखण्ड विधान सभा अध्यक्ष  प्रेम चन्द अग्रवाल ने राष्ट्रीय रक्षा अकादमी (एनडीए) की प्रवेश परीक्षा में टॉप करने वाले रामनगर के शिवांश जोशी को उनके ग्रह निवास भवानी गंज, रामनगर पर जाकर बधाई एवं शुभकामना दी। शिवांश जोशी ने राष्ट्रीय रक्षा अकादमी (एनडीए) की प्रवेश परीक्षा और साक्षात्कार के बाद देश भर से चयनित 371 युवाओं में टॉप किया है। उनका चयन एनआईटी त्रिचिनापल्ली (तमिलनाडु) के लिए भी हुआ था।

 

शिवांश जोशी के पिता संजीव जोशी भारतीय जीवन बीमा निगम के हल्द्वानी मंडल कार्यालय में सहायक प्रशासनिक अधिकारी और माता तनुजा जोशी  चिल्किया प्राथमिक विद्यालय में अध्यापिक के पद पर कार्यरत है। इस अवसर पर विधान सभा अध्यक्ष ने शिवांश जोशी के माता-पिता एवं प्रदेश वासियों को बधाई देते हुए कहा कि यह हमारे लिए गौरव का विषय है कि राष्ट्रीय रक्षा अकादमी (एनडीए) की प्रवेश परीक्षा में हमारे प्रदेश के छात्र ने सर्वोच्च स्थान प्राप्त किया है और हमें गर्व होना चाहिए की उत्तराखण्ड से एक और अधिकारी  देश की सुरक्षा में अहम भूमिका निभाने वाला है। उन्होंने कहा कि शिवांश जोशी आज उन सभी विद्यार्थियों के लिए एक मिशाल है जो कि प्रतियोगी परिक्षाओं की तैयारी कर रहे है।

तेल के टैंकर में आग लगरने से हड़कंप

 हरिद्वार। लालढांग क्षेत्र में हरिद्वार नजीबाबाद राष्ट्रीय हाईवे पर तेल के टैंकर में आग लगरने से हड़कंप मच गया। इस दौरान चालक ने सूझबूझ का परिचय दिया और बड़ा हादसा टल गया।  नजीबाबाद निवासी नीरज मंगलवार देर रात नजीबाबाद से तेल का टैंकर भर हरिद्वार की ओर आ रहा था। अभी चिड़ियाघर के समीप लाहडपुर गांव के सामने उसे शीशे में धुआं निकलता दिखाई दिया। इस पर चालक ने टैंकर रोक कर देखा तो पिछले हिस्से में आग लगी हुई थी।

 

इस पर चालक ने टैंकर को आसपास की दुकानों से दूर हाइवे के किनारे ले जाकर रोक दिया। टैंकर को जलता देख सड़क पर आने जाने वाले वाहन वहीं रुक गए। करीब एक घंटे तक टैंकर धू धू कर जलता रहा। लोगो की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने अग्निशमन की मदद से आग बुझाने का प्रयास किया, लेकिन तब तक टैंकर जलकर कबाड़ हो चुका था।  एसओ श्यामपुर प्रदीप मिश्रा ने भगाया टैंकर में आग लगने के कारणों का पता लगाया जा रहा है। फिलहाल टैंकर चालक और क्लीनर दोनों मौके से फरार हैं।

इनोवा में थी यतीन की लाश

देहरादून। बागेश्वर के इंजीनियर की गोली मारकर हत्या करने के बाद उसके शव को न्यूअम्पायर सिनेमा हॉल के समीप एक लॉज के नीचे फेंककर बदमाश फरार हो गये थे इस बात की पुष्टि अब समीप के एक पैट्रोल पम्प से लगे सीसीटीवी कैमरे से भी हो गई है जिसमें एक इनोवा कार कैद हुई है और वह तडके उस स्थान पर पहुंची थी जहां इंजीनियर की लाश मिली थी और उसके बाद गाडी राजपुर की तरफ रवाना हो गई थी। पुलिस टीमें अब सीसीटीवी को खंगालने में लगी हुई हैं और वह यह पता लगाने में जुटी हुई हैं कि यह इनोवा कार किसकी है और उसमें सवार लोग कौन थे। एसओजी सर्विलांस के सहारे हत्यारों तक पहुंचने के मिशन में जुटी हुई हैं और यह बात तो साफ हो चुकी है कि यह हत्याकांड प्रेम प्रसंग के चलते हुआ है और उसी लाइन पर पुलिस अपना काम आगे कर रही है। एसपी सिटी का दावा है कि हत्याकांड में शामिल बदमाशों को जल्द सलाखों के पीछे डाल दिया जायेगा और पुलिस के हाथ कुछ सुराग भी लग चुके हैं जिस पर काम किया जा रहा है और जल्द गुनाहगार बेनकाब हो जायेंगे।

 
न्यूअम्पायर सिनेमा हॉल के समीप बागेश्वर के एक इंजीनियर यतीन वर्मा की गोली मारकर हत्या करने के मामले में एसपी सिटी प्रदीप रॉय ने घटना का खुलासा करने के लिए कमान अपने हाथों में संभाल रखी है जिसके चलते पुलिस टीमें लगातार अपराधियों को खोजने में लगी हुई है। पुलिस ने जब सिनेमा हॉल के आसपास के कुछ सीसीटीवी कैमरों को खंगाला तो एक पैट्रोल पम्प के सीसीटीवी कैमरे में तडके साढे तीन बजे न्यूअम्पायर सिनेमा हॉल के अन्दर आई एक सफेद रंग की इनोवा कार कैद हुई है और चंद समय में ही वह वापस राजपुर की तरफ चली गई थी। इस इनोवा कार को खोजने के लिए पुलिस व एसओजी ने पूरी ताकत झोंक दी है और यह पता लगाया जा रहा है कि इस गाडी का नम्बर क्या हो सकता है इतना ही नहीं एसओजी ने मौके से कुछ मोबाइल डाटा भी उठाया है जिसके चलते बदमाशों की खोज तेजी से की जा रही है। एसपी सिटी ने बताया कि हत्याकांड के तार प्रेम-प्रसंग से जुडे हुए हैं और जल्द ही हत्याकांड में शामिल हत्यारों को जेल की सलाखों के पीछे पहुंचा दिया जायेगा।
 
गौरतलब है कि इस वारदात से जुड़ी प्रथम जानकारी के अनुसार मृतक यतिन वर्मा जो मूल रूप से बागेश्वर का रहने वाला पाया गया था, जांच में सामने आया कि यतीन 14 नवम्बर को घटनास्थल के समीप एक लॉज में ठहरा था। जिसके बाहर उसकी लाश मिली थी। जानकारी ये भी हैं की इसी लॉज में दो अन्य युवक भी ठहरे हुए थे जो आज तडक़े ही लॉज छोड़ एकाएक निकल गए थे। ऐसे में पुलिस से लॉज के उस कमरे की छानबीन भी की, जिस कमरे में ये युवक ठहरे थे, कमरे में शराब की खाली बोतले मिली, टेबल पर बिना खाया हुआ खाना भी पड़ा था। ऐसे में पुलिस को लॉज से एकाएक गायब होने वाले युवकों पर भी शक हुआ है। जिसके चलते पुलिस लॉज के कमरों सहित आसपास के इलाकों को भी खंगाल साक्ष्य जुटाने का प्रयास कर रही हैं। वही बरामद हुए शव पर पुलिस ने जांच के दौरान पाया था कि मृतक के सिर पर गोली लगने के साथ-साथ शरीर पर कई चोटों के निशान भी हैं। जिसके चलते ये हत्या का रहस्य पुलिस के लिए चुनौती भरा है। बहराल ये हत्या किस वजह से हुई और किसने की इस बात की पुलिस जांच कर रही हैं।
 

औली में स्कीइंग चैंपियनशिप 15 से 21 जनवरी तक

देहरादून। औली में 15 से 21 जनवरी तक होने वाली स्कीइंग चौंपियनशिप के लिए सरकार ने तैयारियां तेज कर दी हैं। इस कड़ी में विंटर गेम्स फेडरेशन से चौंपियनशिप के लिए खिलाडि़यों को आंमत्रित करने का अनुरोध किया गया है। इंटरनेशनल फेडरेशन आफ स्की रेस की ओर से औली में स्कीइंग चौंपियनशिप की हरी झंडी मिलने के बाद सरकार ने इस आयोजन की तिथि निर्धारित करने के साथ ही विंटर गेम्स फेडरेशन आफ इंडिया को भी सूचना भेज दी है। फेडरेशन से आग्रह किया गया है कि वह खिलाडि़यों को आमंत्रण देना प्रारंभ कर दे, ताकि इस आयोजन में देश-विदेश के खिलाड़ी शिरकत कर सकें। स्कीइंग चौंपियनशिप के लिए औली में विभिन्न तैयारियां भी तेज कर दी गई हैं।

इसके तहत निर्माण कार्यो के साथ ही स्नो मेकिंग मशीन के रखरखाव का कार्य किया जाना है। इन कार्यों के लिए धन की व्यवस्था की जानी है। जिसे देखते हुए प्रस्ताव आने वाली कैबिनेट की बैठक में लाया जाएगा। माना जा रहा है कि सरकार के पास अभी इन कार्यो के लिए ओपन टेंडर आमंत्रित करने का समय नहीं है, ऐसे में सीमित कंपनियों का चयन कर उनसे ही कार्य कराया जाएगा। वहीं, स्नो मशीन का रखरखाव भी वही कंपनी कर सकती है, जिससे इसे क्रय किया गया है। इसके लिए एकल टेंडर होना है। इसके लिए कैबिनेट की मंजूरी लेना आवश्यक है।

 

डीएम ने किया मण्डी परिसर का निरीक्षण

देहरादून। निरंजनपुर मण्डी समिति कार्यालय में जिलाधिकारी एस$ए मुरूगेशन की अध्यक्षता में कृषि उत्पादन मण्डी समिति की बैठक आयोजित की गयी। बैठक के पश्चात जिलाधिकारी द्वारा मण्डी परिसर का स्थलीय निरीक्षण भी किया गया।

बैठक में जिलाधिकारी ने मण्डी सचिव विजय थपलियाल से मण्डी कार्यप्रणाली एक्ट वित्तीय स्थिति, जनकल्याणकारी योजनाओं की समीक्षा की गयी तथा मण्डी शिफ्टिंग हेतु अब-तक की प्रगति की जानकारी प्रान्त की गयी। उन्होने किसानों/काश्तकारों के कल्याण हेतु चलायी जा रही कृषक उत्पादन क्षति सहायता योजना (फसल की अग्रि दुर्घटना, पशुधन, क्षति  बाढ एवं वर्षा से कृषि योग्य भूमि के कटाव से हुई क्षतिपूर्ति) तथा व्यक्तिगत दुर्घटना सहायता  योजना (कृषि कार्य करते अपंग, मृत्यु शारीरिक क्षति) और मण्डी में पंजीकरण सम्बन्धित प्रक्रियाओं, सुरक्षा मनकों, साफ-सफाई, नये स्थल पर मण्डी शिफ्टिंग इत्यादि पर विस्तार से चर्चा की गयी।
 
जिलाधिकारी ने नवीन मण्डी विस्तारीकरण भाग मे ंआवंटित दुकानों में करोबार न करने वाले व्यापरियों को नोटिस देकर, आंवटन रद्द किये जाने के निर्देश सचिव मण्डी समिति को दिये। उन्होने नवीन मण्डी स्थित कूड़ा निस्तारण संयत्र का निरीक्षण करते हुए वहां उत्पादित होने वाली जैविक खाद की गुणवत्ता देखी। जिलाधिकारी ने निर्माण शाखा के उप महाप्रबन्धक व अभियन्ताओं से मण्डी क्षेत्र में कराये जा रहे निर्माण कार्यों की समीक्षा करते हुए क्षेत्रीय कर्मचारियों, मण्डी पर्यवेक्षकों / मण्डी निरीक्षकों/ मण्डी सहायकों से रोड चैकिंग , निरीक्षण एवं प्रर्वतन कार्यों में तेजी लाने व मण्डी की आय /आवक बढाने हेतु प्रभावी कदम उठाने के निर्देश दिये।  उन्होने मुख्य अधिकारी से मण्डी सचिव व अन्य कार्मिकों से बेहतर समन्वय बनाकर कलयाणकारी योजनाओं के प्रचार-प्रसार किये जाने के निर्देश दिये।
 
जिलाधिकारी ने मण्डी समिति के सचिव विजय प्रसाद थपलियाल को निर्देश दिये कि किसानों व कास्तकारों के कल्याण हेतु चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं तथा उनके हित के लिए मण्डी में सभी प्रकार की व्यवस्थाओं को  पारदर्शिता के साथ सम्पादित करने के निर्देश दिये। उन्होने निरीक्षण के दौरान निर्देश दिये कि ऐसे दुकानदार जिनकों दुकाने आवंटित हुई है, लेकिन संचालन नही करते तथा अधिक समय दुकानें बंद रखते हैं उनका आंवटन निरस्त करें तथा परिसर में उचित साफ-सफाई रखें, नियमित निरीक्षण करते रहें साथ ही सुरक्षा के उचित मानकों का पालन करें। उन्होने नियमित रूप से कूड़े का डिकम्पोजिशन करने तथा दुकान आंवटन में टैण्डरिंग प्रक्रिया का पालन करते हुए कार्य करने के निर्देश दिये। इस अवसर पर उप महाप्रबन्धक अमित सैनी, सहायक अभियंता विजय तिवारी, अवर अभियन्ता के$पी श्रीवास्तव, उद्यान अधिकारी एस$ के श्रीवास्तव, मण्डी पर्यवेक्षक प्रदीप शर्मा, मण्डी निरीक्षक अजय डबराल, हरीश कोहली, दिनेश डोभाल, के$पी सिंह, विकास युदवंशी प्रगतिशील कृषक सुरेश कुमार  सहित सम्बन्धित कार्मिक उपस्थित थे।  

खाद्य सुरक्षा एवं मानक अधिनियम को डीएम ने ली बैठक

देहरादून। जिलाधिकारी एस$ए मुरूगेशन की अध्यक्षता में खाद्य सुरक्षा एवं मानक अधिनियम 2006 के प्रभावी क्रियान्वयन हेतु जनपद स्तरीय स्टेयरिंग कमेटी की बैठक जिलाधिकारी कैम्प कार्यालय में आयोजित की गयी।
 
जिलाधिकारी ने सम्बन्धित अधिकारियों को खाद्य सुरक्षा अधिनियम के अन्तर्गत जारी होने वाले ऑनलाईन लाइसेंस, रजिस्टे्रशन के सम्बन्ध में कृत कार्यवाही, अधिनियम के क्रियान्वयन में आ रही व्यवहारिक दिक्कतों, मीट विक्रय कर रहे प्रतिष्ठानों के पंजीकरण लाईसेंस हेत विभिन्न विभागों, नगर निगम, जिला पंचायत द्वारा निर्गत अनापत्ति प्रमाण पत्र तथा खाद्य सुरक्षा मानक अधिनियम के प्रचार-प्रसार के सम्बन्ध में विस्तृत विवरण प्रान्त करते हुए खाद्य सुरक्षा मानक अधिनियम  के तहत सभी सम्बन्धित विभागों अभिहित अधिकारी खाद्य सुरक्षा नगर निगम तथा जिला पंचायत के अधिकारियों को कार्य करने के निर्देश दिये।
 
जिलाधिकारी ने विभिन्न कोर्ट में लम्बित व अपील स्तर के प्रकरणों पर तेजी लाने, कानून का सम्बन्धित विभाग आपसी तालमेल से अनुपालन करवाने, खाद्य एवं मीट की दुकानों का औचक निरीक्षण करते हुए सैम्पलिंग लेने तथा सैम्पलिंग की रिपोर्ट तत्काल उजागर करते हुए आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिये। इस अवसर पर अभिहित अधिकारी खाद्य सुरक्षा देहरादून जी$सी कण्डवाल, ऋषिकेश संजय तिवारी, नगर निगम संजय कुमार, उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी बी$एस जगंपांगी सहित जिला पंचायत, नगर निगम के अधिकारी तथा कार्मिक उपस्थित थे। 

विद्यालयों में मूलभूत सुविधाओं के विकास में फंडिंग बढ़ाएं: सीएस

देहरादून। सचिवालय में मंगलवार को मुख्य सचिव उत्पल कुमार की अध्यक्षता में प्राथमिक व माध्यमिक विद्यालयों में मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराये जाने के संबंध में आयोजित बैठक में मुख्य सचिव ने कहा कि प्राईवेट सेक्टर जैसे ओ.एन.जी.सी., टी.एच.डी.सी. आदि जो भी संस्थाएं विद्यालयों को सुविधाएं उपलब्ध कराये जाने में योगदान देती है, उनसे अपेक्षा है कि वे प्राथमिकता के आधार पर संसाधन उपलब्ध कराने पर विशेष ध्यान दें। उन्होंने कहा कि ओएनजीसी तथा टीएचडीसी जैसी संस्थाएं प्रदेश में मूलभूत आवश्यकताओं में अधिक से अधिक सहयोग कर सकते है। मुख्य सचिव ने विद्यालयो में शौचालयों के निर्माण, पेयजल संयोजन के साथ ही फर्नीचर आदि आवश्यक उपकरण उपलब्ध कराने में प्राथमिकता से सहयोग देने का अपेक्षा करते हुए कहा कि इन संस्थाओं द्वारा जो धनराशि प्रदेश में विद्यालयों के विकास के लिए दी जा रही है वह इन संस्थाओं के स्तर के हिसाब से कम है। उन्होंने ओएनजीसी एवं टीएचडीसी के अधिकारियों से फंडिंग बढ़ाने की आवश्यकता पर जोर दिया। 

 
मुख्य सचिव ने कहा कि प्रदेश के दूरस्थ क्षेत्रों के विद्यालयों में मूलभूत आवश्यकता में और अधिक सुधार हो इस दिशा में ध्यान दिया जाना चाहिए। उन्होंने प्राईवेट सेक्टर से दूरस्थ क्षेत्रों में विद्यालयों की आवश्यकताओं के अनुरूप संसाधन उपलब्ध कराने को कहा। मुख्य सचिव ने शिक्षा विभाग के अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि विभिन्न संस्थाओं द्वारा विद्यालयों के लिए जो सुविधाएं उपलब्ध करायी जा रही है, उनका समय-समय पर अनुश्रवण ब्लॉक तथा जिला स्तर के साथ ही मण्डल व राज्य स्तर से भी किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि उन संस्थाओं द्वारा विद्यालयों के बारे में जो भी सूचनाएं मांगी गई हैं, शिक्षा विभाग उसे प्राथमिकता के आधार पर उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें। 
 
स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत विद्यालयों में निर्मित व निर्माणाधीन शौचालयों व पेयजल संयोजन के लिए प्रस्ताव बनाने के निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि वर्तमान में जो भी शौचालय बनाये जाये वहां पर पानी की उचित व्यवस्था रखी जाए तथा पेयजल लाईनों के अनुरक्षण की व्यवस्था भी सुनिश्चित करें। मुख्य सचिव ने कहा कि नये भवनों के निर्माण तथा वर्तमान में उपलब्ध भवनों में भी रेनवॉटर हार्वेस्टिंग के तहत बारिश के पानी को एकत्रित करने की व्यवस्था भी रखी जाए। मुख्य सचिव ने कहा कि कार्य की महत्ता को देखते हुए आगामी 10 दिन के बाद विद्यालयों में चल रहे कार्यों की समीक्षा बैठक की जायेगी, जिसमें सभी संबंधित विभाग व संस्थाएं अद्यतन उपलब्ध जानकारी के साथ हुई प्रगति के साथ उपलब्ध करायेंगे। मुख्य सचिव द्वारा सचिव, शिक्षा डॉ.भूपिंदर कौर औलख को विद्यालयों में मूलभूत सुविधाओं के विकास के लिए एक विस्तृत प्रस्ताव बनाकर ओएनजीसी व टीएसडीसी को उपलब्ध कराने के निर्देश देते हुए कहा कि यह दोनो संस्थाएं अधिक से अधिक योगदान देकर शिक्षा की मूलभूत सुविधाओं में और सहयोग कर सकते है।
इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव डॉ.रणवीर सिंह, प्रमुख सचिव राधा रतूड़ी, मनीषा पंवार, सचिव आनन्द वर्द्धन, अरविन्द सिंह ह्यांकी, डी.सेंथिल पाण्डियन तथा शिक्षा विभाग के अधिकारियों सहित ओएनजीसी, टीएचडीसी के प्रतिनिधि उपस्थित थे। 

राष्ट्रीय गौ रक्षा वाहिनी ने की वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक से मुलाकात

देहरादून। राष्ट्रीय गौ रक्षा वाहिनी गोवंश की सुरक्षा एवं संरक्षण के लिए अभियान चला रही है वाहिनि को ज्ञात हुआ है कि पुलिस प्रशासन ने अवैध रूप से गौकशी करने वालो व अवैध स्लाटर हाउस के विरूद्ध  गंभीरता दिखाते हुए स्क्वायड गठित करने का निर्णय लिया वाहनी पुलिस प्रशासन से मांग करती है कि जनपद में गौकशी करने वाले के विरुद्ध अभियान के दौरान संगठन को भी सम्मिलित करने का अवसर प्रदान करें जिससे वाहनी गौवंश की सुरक्षा एवं संरक्षण में अपना योगदान दे सके  महोदय वाहिनि यह भी मांग करती है

कि जनपद के थाना प्रभारियों को इस संबंध में दिशा निर्देश देने की कृपा करें की जब भी वे गौवंश करने वाले के विरुद्ध कार्रवाई करें तो इसकी सूचना संगठन को भी दी जाए जिससे इस अभियान की पारदशिर्ता बनी रहे साथ ही संगठन भी पुलिस प्रशासन को गौ तस्करी व गौकशी करने वालो के विरुद्ध अभियान में अपना पूरा सहयोग प्रदान करेगा संगठन यह भी अनुरोध करता है कि गौवंश के नाम पर बेवजह लोगों को परेशान अभद्रता करने वाले के विरुद्ध सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए तथा यदि कोई व्यक्ति गौ रक्षा वाहिनी के नाम का दुरुपयोग करते हुए पाया जाता है तो उसके विरुद्ध भी कारवाई सुनिश्चित की जाए सभी थाने चौकियों में  संगठन का मोबाइल नंबर उपलब्ध कराने की कृपा करें।

 

सरदाना के खिलाफ कार्यवाही की मांग

देहरादून। तंजीम ए रहनुमा एक मिल्लत ने पत्रकार रोहित सरदाना व अन्य पर दण्डात्मक कार्यवाही कराने व इन दोनों पर मुकदमे कायम किए जाने की मांग को लेकर जिलाधिकारी के माध्यम से राष्टपति को ज्ञापन प्रेषित किया। इस दौरान केन्द्रीय अध्यक्ष लताफत हुसैन ने कहा कि कहा कि रोहित सरदाना ने ट्वीट के माध्यम से हजूरे पाक की बीबी और उम्मत की मां हजरत आयशा तथा नवी की बेटी हजरत फातिका व हजरत मरियम के विरूद्घ अभ्रद अपमानजनक टिप्पणी की है।

जिससे सारी दुनिया का आवाम अचम्भित है। उन्होंने कहा कि तीनों महिलाए अपने अपने समाज की महान हस्तिंया है और किसी समाज की महान हस्तियों के बारे में अपमानजनक टिप्पणी किया जाना बहुत बड़ा अपराध है। उन्होंने कहा कि इसके विरूद्घ कार्यवाही की जाए जिससे भविष्य में महिलाओं के लिए कोई भी अपमानजनक टिप्पणी न कर सके। इस दौरान नसीम लददाक,एम जी फुरकान, वाहिद खान समेत कई लोग मौजूद थे। 

 

उक्रांद युवा प्रकोष्ठ के दीपक कौशिक बने केन्द्रीय प्रवक्ता

देहरादून।  उत्तराखंड क्रांतिदल युवा प्रकोष्ठ ने प्रदेश के प्रति समर्पण को देखते हुए युवा दीपक कौशिक केंद्रीय  प्रवक्ता  एवं विनोद धीमान  को जिला कार्यकारी अध्यक्ष के पद पर नियुक्त किया  गया।  कचहरी स्थित प्रदेश कार्यालय में मोके पर केंद्रीय महामंत्री  सुशील कुमारने प्रदेश सरकार की  अब तक की कार्यशैली पर प्रश्न करते हुए कहा  राज्य सरकार इलेक्शन से  पहले पलायन , कानून  व्यवथा ,स्वास्थ एवं शिक्षा को लेकर जो वादे किये थेवो आज कही भी धरातल पर दिखाई नहीं देते,आगे दौड़ पीछे छोड़ की बात कोसार्थक करते हुए राज्य सरकार जो की  2013 की आपदा के बाद से सडक़ों एवं पुलों केनिर्माण तक ना करा पाने वाली सरकार आज आल वेदर रोड के लिए हजारों पेड़ों कीआहुति दे रही है एवं कई परिवारों को विस्थापित कर  रही है।

पलायन को रोकने के नामपर पलायन आयोग का निर्माण करने वाले अभी तक आयोग का स्ट्रक्चर तक खड़ा हैकर पाए , आयोग किस तरह से कार्य करेगा ये अपने आप में बड़ा प्रश्न है ? केंद्रीयमहामंत्री  सौरभ आहूजा ने कहा की  राज्य सरकार पर्वतीय क्षेत्र से 3000 स्कूलों को बंद कर किस तरह से पलायन रोकने का नीति  निर्माण कर रही है। ऊ र्जा प्रदेश में  सरकार की दिशा हीन नीतिओं के  कारण  बिजली की दरों में लगातार वृद्घि आम जनताका शोषण है।  उक्रांद इस तरह की दिशा हीन नीतिओं का पुरजोर  विरोध करता है ध्लगातार राज्य सरकार के समक्ष  बदहाल स्वास्थ सेवाओं को दुरुस्त करने की बात रखनेके बाद भी सरकार द्वारा  उचित कदम नहीं उठाया जाना  दुर्भाग्यपूर्ण  है।  सरकार  स्थाई राजधानी पर भी अपने पक्ष को जनता के समक्ष  साफ करे। प्रदेश की युवा शक्ति कोउत्तराखंड की विचारधारा से जोडऩे के  लिए युवा उक्रांद समस्त विधालयों एवं कलेज मेंहमारी संस्ति हमारी पहचान के नाम से कार्यक्रम को प्रदेश भर में चलाएगा , जिसका उद्देश्य युवाओं  उत्तराखंड के इतिहास एवं संस्ति के बारे में  जानकारी देना है।  युवाउक्रांद प्रदेश में भ्रष्टाचार के विरुद्घ भी  सशक्त आवाज उठाने के लिए  प्रतिबद्घ है। उन्होंने कहा कि   राज्य सरकार प्रदेश में घटित घोटालों की निष्पक्ष जाँच कराएगी , एवंदोषिओं के विरुद्घ उचित कार्यवाही करेगी,अन्यथा की दशा में उक्रांद प्रदेश भर में जनव्यापी आंदोलन चलाएगा 

 

त्रिवेन्द्र राज में कानून व्यवस्था चौपट : नेगी

 देहरादून। जनसंघर्ष मोर्चा अध्यक्ष एवं जीएमवीएन के पूर्व उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी ने कहा कि सूबे के मुखिया की प्रशासनिक एवं राजनैतिक अक्षमतओं की वजह से पुलिस/प्रशासन पर ढीली पकड़ के चलते राज्य की कानून व्यवस्था सरकार के हाथ से निकल चुकी है। नेगी ने कहा कि आलम यह है कि कोई व्यक्ति जब सुबह घर से निकलता है तो उसे भरोसा नहीं होता है कि वह सकुशल घर पहुॅंचेगा या नहीं। दिल दहाड़े लूट-चोरियॉं, हत्यायें व बलात्कार हो रहे हैं, लेकिन सरकार हाथ पर हाथ धरे बैठी है।

 

बड़े शर्म की बात है कि जिस मुखिया को कानून का राज भॉंपने को रात के अन्धेरे में प्रजा के हितों की रक्षा को सडक़ों पर निकलना चाहिए था वो दिन ढलते ही अपनी चाहरदिवारी में कैद हो जाते हैं। अपने मुखिया की कार्यशैली से परिचित प्रशासनिक अमला भी उसी रंग में रंग चुका है। प्रदेश की जनता की जिन्द्गी राम-भरोसे चल रही है। जनसंघर्ष मोर्चा प्रदेश में व्याप्त जंगलराज के खिलाफ शीघ्र आन्दोलन करेगा।

आशाएं नहीं छोड़ेंगी आंदोलन

 देहरादून। उत्तराखंड आशा स्वास्थ्य कार्यकत्री यूनियन ने जोर देकर कहा है कि जब तक सरकार से उन्हें कोई ठोस आश्वासन नहीं मिलता है वह परेड ग्राउंड धरना स्थल से अपना आंदोलन नहीं हटाएंगी। अपनी मांगों को लेकर यूनियन ने सोमवार को धरना स्थल पर एक बैठक का आयोजन किया।

बैठक की अध्यक्षता करते हुए यूनियन की प्रांतीय अध्यक्ष शिवा दुबे ने कहा कि उन्हें मुख्यमंत्री की ओर से निर्देश मिले हैं कि आशाएं धरना स्थल से अपना आंदोलन बंद कर दें।
 
दुबे ने कहा कि बिना किसी ठोस आश्वासन के आशाएं धरना स्थल से उठने वाली नहीं हैं। करीब तीन माह से वह निरंतर अपना आंदोलन चला रही हैं। ऐसे में बिना कुछ हासिल किए आंदोलन समाप्त करने का सवाल ही नहीं उठता है। उन्होंने सीएम के आश्वासन पर कहा कि यदि सरकार की ओर से उन्हें लिखित में ठोस आश्वासन मिलता है तो आशाएं एक माह के लिए अपना आंदोलन टाल सकती हैं।
इस बीच बैठक के बाद आशाओं ने सरकार के खिलाफ अपना प्रदर्शन जारी रखा। न्यूनतम वेतन मांग, बोनस लाभ, राज्य कर्मचारी घोषित करने की मांगों को लेकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। प्रदर्शन के दौरान अनिता अग्रवाल, नीरू जैन, सीमा, मधु गर्ग, अंजू थापा, हेमलता, सीता माहरा, मंजू पासवान, साक्षी भारद्वाज, विजय लक्ष्मी काला, स्नेहलता, मधु पुरी, रीना पॉल आदि मौजूद रहे।

तय समय पर ही होगी औली स्कीईंग चैम्पियनशिप

देहरादून। इंटरनेशनल स्कीइंग चैम्पियनशिप के आयोजन को सफलतापूर्व किए जाने को सोमवार को सरकारी मशीनरी हरकत में नजर आई। आयोजन में सहयोग किए जाने को लेकर सरकार ने विंटर गेम्स फैडरेशन ऑफ इंडिया को पत्र भेजा। फैडरेशन से सभी अंतर्राष्ट्रीय कंपनियों को निमंत्रण भेजने के लिए कहा गया है। सरकार ने दावा किया कि आयोजन तय समय पर ही होगा। जो तारीख 15 से 21 जनवरी तय की गई है, उसी में आयोजन होगा। जीएमवीएन को मौके पर जरूरी तैयारियां पूरी किए जाने के निर्देश दिए गए हैं। असल काम आईस मेकिंग मशीन के साथ ही दूसरे उपकरणों को ठीक कराना है। इसके लिए उपकरणों का निर्माण करने वाली फ्रांस की कंपनी को ही जिम्मा दिया जाना है।

इसके लिए कंपनी के साथ एग्रीमेंट किए जाने के साथ ही सिंगल बिड पर उसे काम दिए जाने को कैबिनेट में प्रस्ताव लाया जाएगा। कैबिनेट में प्रिक्योरमेंट मानकों में छूट दिए जाने का भी प्रस्ताव लाया जाएगा।
कैबिनेट में प्रस्ताव आयोजन के लिए 12 करोड़ की वित्तीय स्वीकृति दिए जाने का भी लाया जा रहा है। इस बजट को अनुपूरक बजट में शामिल किया जाएगा। अनुपूरक बजट पास होने से पहले काम शुरू हो पाए, इसके लिए पर्यटन विकास परिषद के आकस्मिक निधि से बजट जारी होगा।
फ्रांस की कंपनी ने आईस मेकिंग मशीन के साथ ही स्की लिफ्ट को भी ठीक करना है। इसके लिए कंपनी की ओर से जो रकम मांगी जा रही है, उस पर कंपनी के साथ लगातार मोलभाव किया जा रहा है।
 
नहीं आई इटली की कंपनी
फ्रांस की कंपनी की ओर से जो बजट मांगा गया है, उसे क्रास चेक किए जाने को दूसरी कंपनियों से भी आवेदन मांगे गए। इटली की एक कंपनी ने जरूर दिलचस्पी दिखाई। सोमवार को कंपनी के प्रतिनिधियों ने पहुंचना था, लेकिन अब बताया जा रहा है कि कंपनी नहीं आ रही है। सचिव पर्यटन दिलीप जावलकर का कहना है कि आयोजन को सफलतापूर्वक किए जाने को लेकर सरकार गंभीर है। आयोजन अपनी तय तारीख पर ही होगा। इसके लिए विंटर गेम्स फैडरेशन ऑफ इंडिया को पत्र भेज दिया गया है। अंतर्राष्ट्रीय टीमों को निमंत्रण भेजे जा रहे हैं। वित्तीय व्यवस्थाएं भी की जा रही हैं।
 

आराघर में बिजली उपभोक्ताओं के लिए लगा जागरुकता शिविर

 देहरादून । सामाजिक-रचनात्मक मुहिम रंगोली आंदोलन के तत्वावधान में आराघर बिजलीघर में उपभोक्ताओं के लिए जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया। जिसमें देहरादून के शहरी व ग्रामीण क्षेत्र के कई उपभोक्ताओं ने प्रतिभाग कर अपनी समस्या बताई।
तेगबहादुर रोड बिजलीघर परिसर में मुख्य अतिथि उत्तराखंड राज्य विद्युत नियामक आयोग(यूईआरसी) के तकनीकी उप-निदेशक यशवर्धन डिमरी ने बिजली उपभोक्ता को उनके अधिकारों के जागरुक करते हुए कहा कि वे खुद ही सजग रहकर बिजली के दुरूपयोग को रोक सकते हैं।
 
मुख्य वक्ता यूईआरसी के कानूनी सलाहकार शिवांकू भट्ट ने कहा कि यूईआरसी प्रभावी रूप से उपभोक्ताओं को उनके अधिकारों व कर्तव्यों के प्रति जागरूकता कार्यक्रम चला रही है। राज्य में अनेक जगह जागरुकता शिविर लगाए जा रहे हैं। शिविर में आए उपभोक्ता महेंद्र कुमार ने सुझाव दिया कि बिजली का बिल दो महीने के बजाय एक महीने में दिया जाये, जिससे उपभोक्ताओं पर अतिरिक्त भार न पड़े। मोहकमपुर के राजेंद्र बिष्ट, नथुवावाला के विनोद कपरुवान, अनुसूया प्रसाद सती ने भी अपनी समस्या रखी। महावीर पाण्डेय बताया कि ऑन लाइन बिजली बिल जमा करने के बाद भी उनका बिल जमा नहीं दिखा रहा। न ही जमा किया बिल नए बिल में जोड़ा जा रहा है। यूईआरसी अधिकारियों ने इस मसले को सम्बंधित बिजलीघर के अधिकारियों को गंभीरता से लेने को कहा। एसडीओ आराघर जगपाल सिंह ने भी उपभोक्ता सेवा की जानकारी दी। रंगोली आंदोलन के संस्थापक शशि भूषण मैठाणी ‘पारस ने बताया कि रंगोली आंदोलन खुद के संसाधनों ऐसी सामाजिक मुहिम चलाता रहता है। ऐसे शिविर अन्य क्षेत्रों में भी चलाए जाएंगे।
 
सब्सिडी योजना पर एतराज
शिविर में सोलर वाटर सब्सिडी पर सवाल उठाते हुए यूपीसीएल के कर्मचारी मोहन पाठक ने कहा कि इससे अकेले आरघर स्टेशन को प्रतिमाह 15 से 20 लाख रुपये का नुकसान हो रहा है। उन्होंने कहा कि उपभोक्ताओं को सब्सिडी सरकार द्वारा दी जानी चाहिए न कि विभाग द्वारा। शिविर में वैडिंग प्वाइंट को दिए जाने वाले बिजली कनेक्शन की प्रक्रिया की समीक्षा की जरूरत पर सुझाव दिए गए।
 

टूरिज्म सर्किट विकास एवं सफारी वाहनों का शुभारंभ

कोटद्वार। सोमवार को कोटद्वार में कोटद्वार इको टूरिज्म सर्किट विकास एवं सफारी वाहनों का संचालन योजना’’ का शुभारंभ करते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा शुरू की गई इन योजनाओं से कोटद्वार के सामाजिक व आर्थिक विकास को नई दिशा मिलेगी। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने कहा कि कोटद्वार को गढ़वाल का द्वार कहा जाता है, आज इन योजनाओं के शुरूआत होने से कोटद्वार को विकास का द्वार भी कहा जायेगा। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने कहा कि इन योजनाओं से स्थानीय युवाओं को स्वरोजगार के नये अवसर मिलेंगे। साथ ही पर्यटकों की संख्या भी बढेगी। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने कहा कि देश-दुनिया में उत्तराखण्ड को देवभूमि के नाम से जाता है। उत्तराखण्ड की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि हमारे पास सकारात्मक और रचनात्मक मानव संसाधन उपलब्ध है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने कहा कि इको टूरिज्म को राज्य के विकास और आय से जोड़ा जायेगा। इस प्रकार की योजनाएं तैयार की जा रही है, जिससे स्थानीय युवाओं को अधिक से अधिक रोजगार मिल सके। साथ ही पर्यटन को भी बढ़ावा मिल सके।
 
मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने कहा कि राज्य सरकार संवेदनशील सरकार के रूप में कार्य कर रही है। हमारी सरकार ने दुर्गम पर्वतीय क्षेत्रों में चिकित्सकों का स्थानांतरण किया, जिसमें से 90 प्रतिशत चिक्तिसकों ने कार्यभार ग्रहण कर लिया है। कोटद्वार में आज पर्याप्त संख्या में चिकित्सक है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार जनसहयोग के साथ भविष्य के लिए योजनाएं तैयार कर रही है, जिनके दूरगामी परिणाम सामने आयेंगे। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने कहा कि चिकित्सा स्वास्थ्य के क्षेत्र को मजबूती प्रदान करने की दिशा में महत्वपूर्ण कदम उठाये जा रहे है। टेलीमेडिसन, टेलीरेडियोलॉजी जैसी योजनाएं शुरू की गई है, अब तक 12 चिकित्सालयों को इन योजनाओं से जोड़ा गया है। हमारा प्रयास है कि हम अपने प्रदेशवासियों को सुपर स्पेशलिस्ट डॉक्टर उपलब्ध करा सके। है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने पं. दीन दयाल उपाध्याय सहकारिता किसान कल्याण योजना के तहत 200 किसानो को 2 प्रतिशत के ब्याज पर 01-01 लाख रुपए के ऋण के चैक भी वितरित किये तथा आपदा प्रभावितों को हर संभव सहायता दिए जाने का आश्वासन दिया।
 
मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश के विकास के लिए ठोस कार्ययोजना तैयार कर रही है, जिसमें जनसहयोग की आवश्यकता है। उन्होंने ने कहा कि गृह मंत्रालय भारत सरकार की रिपोर्ट के अनुसार उत्तराखण्ड हड़ताली प्रदेशों की सूची में सबसे आगे है।यह हमारे लिए सोचनीय विषय है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने कहा कि उत्तराखण्ड को हड़ताली प्रदेश नही बनने देंगे, इसमें जनता का सहयोग चाहिए। उन्होंने कहा कि कार्मिको की हड़ताल से विकास कार्य बाधित होते है। राज्य सरकार विकास के कार्यों में इस प्रकार की बाधा को बर्दास्त नही करेगी। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार के सहयोग से ऑल वेदर सडक़ परियोजना का कार्य प्रगति पर है, इसके साथ ही जोशीमठ और औली के लिए भारत सरकार के सहयोग से महत्वकांक्षी परियोजना तैयार की जा रही है। 
इस अवसर पर मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने 960.77 लाख की धनराशि के विभिन्न कार्यो का शिलान्यास भी किया। इसमें राज्य योजना के अन्तर्गत विधानसभा क्षेत्र कोटद्वार में सिम्मलचैड़ से सिताबपुर, दुर्गापुर से हल्दूखाता एवं झण्डीचैड़ से लालढ़ांग-चिल्लरखाल मोटर मार्ग सुढृढ़ीकरण कार्य लागत 456.17 लाख रूपये है, राज्य योजना के अंतर्गत कोटद्वार में विकास खण्ड दुग्गड़ा के अंतर्गत विभिन्न मोटर मार्गों लागत 137.60 लाख है, राज्य योजना के अंतर्गत कोटद्वार के विकासखंड दुग्गड़ा में पी0सी0 एवं सी0सी0 द्वारा सुदृढ़ीकरण कार्य लागत 236.33 लाख रूपये, तथा एस0सी0एस0पी0 योजना के अंतर्गत कोटद्वार में भीमसिंह पुर से उदय रामपुर मोटर मार्ग लागत 130.77 लाख रूपये सम्मिलित है। इसके साथ ही मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कोटद्वार में कर्मकार कल्याण बोर्ड के कार्यालय भवन एवं सहायक श्रमायुक्त कार्यालय के नवनिर्मित भवनों का भी उद्घाटन किया। 
 
कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए वन एवं पर्यावरण मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत ने कहा कि कोटद्वार एक धार्मिक, ऐतिहासिक एवं प्राकृतिक रूप से महत्वपूर्ण स्थल है। उन्होंने कहा कि आज कोटद्वार इको टूरिज्म सर्किट विकास एवं सफारी वाहनों का संचालन योजना को शुभारंभ किया गया है, इससे पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। साथ ही कोटद्वार को एक नई पहचान मिलेगी। रावत ने कहा कि इस योजना से स्थानीय युवाओं का रोजगार के भी अवसर मिलेंगे। वन मंत्री रावत ने कहा कि आज जो सौगात कोटद्वार को मिली है, उसके लिए मुख्यमंत्री रावत का आभार है। वन मंत्री ने बताया कि आज सोना नदी गेट से शुभारंभ करते हुए 6 सफारी वाहनों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया है।
इस अवसर पर उच्च शिक्षा एवं सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ.धन सिंह रावत, लैंसडॉन विधायक दिलीप रावत, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती दीप्ति रावत, प्रमुख वन संरक्षक डॉ.आर.के. महाजन, एम.डी. इको टूरिज्म विकास निगम अनूप मलिक आदि उपस्थित थे।

32 लाख लोग अब तक उत्तराखंड से कर चुके हैं पलायन: बिष्ट

देहरादून। उत्तराखंड क्रांति दल दिल्ली प्रदेश के महासचिव नंदन सिंह बिष्ट ने कहा है कि राज्य बनने के बाद 32 लाख से भी अधिक लोगों ने उत्तराखंड से पलायन कर दिया है, उसी अनुपात में तेजी से गांव के गांव खाली होकर जंगलों में तब्दील हो रहे हैं तथा लगभग 3 लाख घरों पर ताले लग चुके हैं। 

 बिष्ट का कहना है कि लगभग 1900 स्कूल बन्द हो चुके हैं और इतने ही बन्द होने के कगार पर हैं। गांवों की पंचायत से लेकर राज्य की सत्ता तक माफियों की चेन बन गई है। पंचायत स्तर के युवाओं को चुनाव में दारु- दावत व गाडी-ध्याडी और एकाध ठेका अथवा ठेकेदारों के साथ लगाकर बर्बाद किया जा रहा है। तराई क्षेत्रों पर जनदबाव तेजी से बढ रहा है। कानून और व्यवस्था नाम की चीजें कहीं नजर नहीं आ रही हैं। आए दिन महिलाएं लापता हो रही हैं और असुरक्षित महसूस कर रही हैं। घरों के ताले टूट रहे हैं, झपटमारी-डकैती और लूट  आम बात हो गई है। कहीं भी, कोई भी सुरक्षित नहीं है। डर- भय और निराशा का माहौल उत्तराखंड के अन्दर पैदा कर दिया गया है। 
 
उनका कहना है कि न जाने कहां-कहां के लोग घुसपैठ करके उत्तराखंड में बसकर अपना वोटर कार्ड, राशन कार्ड और आधार कार्ड बना चुके हैं। सीमान्त एवं मध्य हिमालयी राज्य होने के कारण उत्तराखण्ड भूमि का टुकडा मात्र नही है। ये राष्ट्र की सुरक्षा की ²ष्टि से और सम्पूर्ण विश्व समुदाय के जीवन, पर्यावरण और जल की ²ष्टि से अत्यािक संवेदनशील क्षेत्र है। इसीलिए इसकी आर्थिकी का आत्मनिर्भर होना अति आवश्यक है। उत्तराखंडियों की देशभक्ति एवं देशप्रेम से भारत की ये अन्तराष्ट्रीय सीमाएं अभी तक सुरक्षित रही हैं, इसके लिए नव जवानों, माँ-बहनों व स्थानीय नागरिकों को हथियार चलाने एवं घुसपैठियों का सामना करने का प्रशिक्षण भी दिया, जिनमें से कुछ गुरिल्ला बनाकर नियमित जिम्मेदारी दी गई, परन्तु पलायन ने सबके लिए चुनौती खड़ी कर दी हैं। उत्तराखंड में कुछ ऐसे घुसपैठ तेजी से अपना जाल बिछा रही है जिससे सभी अनजान हैं। उनका कहना है कि यह सीमा पार के साथ-साथ अन्दर का भी है। आखिर ये यहाँ क्या कर रहा है? कौन है वो जो इन्हें शरण दे रहा है? कहीं ये कोई अपराधी तो नहीं हैं , तो क्या उत्तराखंड अपराधियों की शरण स्थली में बदल रहा है? जैसे सवाल उत्तराखंड की हवाओं में उठ तो रहे हैं, परन्तु पहाड़ों के अन्दर ही दम तोड़ दे रहे हैं। कोई भी कौम पैदायशी हिंसक नहीं होती उन्हें निकम्मी सरकारें एवं उनके द्वारा पोषित अपाराधिक तत्व आत्मरक्षा में हथियार उठाने के लिए मजबूर करते हैं। राष्ट्रीय पार्टियाँ और इनके द्वारा पोषित संगठन और लोग इस मुद्दे क्यों चुप हैं। उन्हें भी इसके लिए एकजुटता का परिचय देते हुए आगे आना होगा।
 

यूकेडी की मजबूती को अब गांव-गांव जायेंगे कार्यकर्ता: प्रकाश

देहरादून। उत्तराखंड क्रांति दल के केन्द्रीय महामंत्री जय प्रकाश उपाध्याय ने कहा है कि भाजपा व कांग्रेस की जन विरोधी नीतियों के खिलाफ अब गांव-गांव जाकर जनता को जागरूक करने का काम किया जायेगा। उनका कनहा है कि दल अब राज्य में अपनी ताकत बढऩे जा रहा है। दल के केन्द्रीय कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत करते हुए उपाध्याय ने कहा  है कि भाजपा और कांग्रेस की केवल सत्ता हथियाने की साजिश को राज्य के प्रत्येक व्यक्ति तक पहुंचाने का लक्ष्य तय किया गया है और राज्य में विकास की एक भी किरण नजर नहीं आ रही है और जन हितों को छोडकर वर्तमान सरकार जन विरोधी फैसले लेकर सुनियोजित तरीके से जनता का ध्यान बांट रही है और राज्य की जनता को धार्मिक एजेंडें को बढा रही है। उनका कहना है कि इन सवालों के जवाब देने और वर्तमान सरकार का विकास खोलने के लिए दल के कार्यकर्ता गांव गांव जायेगा और इस परिपेक्ष्य में संपूर्ण राज्य को तीन मंडलों में बांटा गया है।

 

गढवाल मंडल, कुमायूं मंडल एवं तराई मंडल और सर्वप्रथम दल  अपनी खोई हुई ताकत तराई मंडल में बढायेगा और जिसके लिए दल के केन्द्रीय अध्यक्ष दिवाकर भटट ने डी के पाल को तराई का प्रभारी नियुक्त किया है। उनका कहना है तराई मंडल की तीस विधानसभाओं में निरंतर गांव बचाओ उत्तराखंड बचाओ अभियान चलाया जा रहा और इस अभियान की लगभग सभी तैयारियां पूर्ण कर ली गई है। उनका कहना है कि पांच दिसम्बा को हरिद्वार में कार्यकर्ता सम्मेलन आयोजित किया जायेगा। प्रथम दस विधानसभा में यात्रा कर अभियान चलाये जाने का निर्णय लिया गया है और जिसका शुभारंभ चकराता विधानसभा से 12 दिसम्बर से किया जायेगा। उनका कहना हे कि इसके लिए दून के प्रभारी केन्द्रीय उपाध्यक्ष एन के गुसांई, सह प्रभारी सम्राट पंवार एवं सुभाष पुरोहित, विकासनगर केप्रभारी  केन्द्रीय महामंत्री बहादुर सिंह रावत,  सह प्रभारी दीपक पंत, एवं विमल भंडारी को सह प्रभारी बनाया गया है एवं महानगर दून के प्रभारी केन्द्रीय उपाध्यक्ष शैलेश गुलेरी एवं सह प्रभारी वीरेन्द्र सिंह बिष्ट व विलास गौड को बनाया गया है, ब्लॉक प्रभारी चकराता केन्द्रीय सचिव मनोज कुमार व सह प्रभारी राम सिंह चौहान व अशोक नेगी को बनाया गया है। इस अवसर पर अन्य स्थानों पर भी प्रभारी घोषित किये गये है और सभी से दल की मजबूती के लिए कार्य करने का आहवान किया गया है। इस अवसर पर वार्ता में जय प्रकाश उपाध्याय, संजय क्षेत्री, डी के पाल, बहादुर सिंह रावत आदि मौजूद थे।

 

मां संतला देवी व नून नदी के संरक्षण की मांग को लेकर किया प्रदर्शन

देहरादून। ग्राम सभा गल्जवाडी के मजरा झाडीवाला संतला देवी नून नदी के संरक्षण किये जाने की मांग को लेकर क्षेत्रवासियों ने ग्राम प्रधान लीला शर्मा के नेतृत्व में जिलाधिकारी कार्यालय पर प्रदर्शन कर जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपकर उचित कार्यवाही किये जाने की मांग की है।

यहां ग्राम सभा गल्जवाडी के मजरा झाडीवाला संतला देवी नूननदी के संरक्षण किये जाने की मांग को लेकर क्षेत्रवासियों ने ग्राम प्रधान लीला शर्मा के नेतृत्व में जिलाधिकारी कार्यालय पर नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया।
 
उनका कहना था कि ग्राम सभा गल्जवाडी के मजरा झाडीवाला संतला देवी में हर वर्ष लाखों श्रद्घालु दर्शन के लिए आते है परन्तु विगत कुछ वर्षों से संतला देवी के समीप बहने वाली नून नदी के दोनों ओर पिकनिक व शराब पीने वालों का हर दिन जमावडा  लगा रहता है और यह लोग नून नदी के जल में व आस पास डिस्पोजल प्लास्टिक, शराब की बोतले, व मांस आदि के टुकडे फैंक देते है जिससे नून नदी का साफ पानी पीने योग्य पानी प्रदूषित हो गया है व नदी का अस्तित्व समान्त होने के कगार पर पहुंच गया है और इसके अस्तित्व को बचाने के लिए इका संरक्षण करने की नितांत आवश्यकता है और इसके लिए हरसंभव प्रयास किये जाने की जरूरत है। उनका कहना है कि मां संतला देवी दार्शनिक स्थल न रहकर पिकनिक स्थल बनकर रह गया है जिससे मां संतला देवी की छवि भी खराब हो रही है और आज मां संतला देवी एवं नून नदी के अस्तित्व को बचाने के लिए इस दिशा में कठोर कार्यवाही किये जाने की मांग की गई है। इस अवसर पर जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपकर कार्यवाही करने का आग्रह किया गया है। इस अवसर पर ग्राम प्रधान लीला शर्मा, दीपक चौहान, गीता देवी, जानकी गुरूंग, विमला देवी सौभाग्य, मनकुमारी सहित अनेक क्षेत्रवासी मौजूद थे।
 

सडक़ों का निर्माण न होने पर कांग्रेसियों ने किया प्रदर्शन

देहरादून। रायपुर विधानसभा के वार्ड नंबर 29 एवं 30 की सडक़ों की दुर्दशा में सुधार व मरम्मत किये जाने की मांग को लेकर कांग्रेसियों ने जिलाधिकारी कार्यालय में प्रदर्शन किया और कहा कि जल्द ही यहां पर सडक़ों का निर्माण कार्य आरंभ नहीं किया गया तो इसके लिए जनांदोलन किया जायेगा।

प्रदेश एवं महानगर कांग्रेस कमेटी के कार्यकर्ता पूर्व ब्लॉक प्रमुख प्रभुलाल बहुगुणा के नेतृत्व में जिलाधिकारी कार्यालय में इकट्ठा हुए और वहां पर उन्होंने रायपुर विधानसभा के वार्ड नंबर 29 एवं 30 की सडक़ों की दुर्दशा में सुधार व मरम्मत किये जाने की मांग को लेकर जिलाधिकारी कार्यालय में प्रदर्शन किया और कहा कि जल्द ही यहां पर सडक़ों का निर्माण कार्य आरंभ नहीं किया गया तो इसके लिए जनांदोलन किया जायेगा। पिछले पौने दो साल से सीवर लाईन का कार्य पूरा कर लिया गया है और यहां पर सडक़ों पर बडे बडे गढढे है तथा लगातार दुर्घटनायें घट रही है और कई स्थानीय लोग घायल हो गये है लेकिन बार बार शिकायत करने के बावजूद भी आज तक इस ओर किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं हो पाई है जो चिंता का विषय है।
 
यहां तक की स्कूल आने जाने वाले छात्र छात्राओं एवं रोगियों को काफी दिक्कत का समाना करना पड़  रहा है और इसकेसाथ ही साथ दुर्घटना होने का हर समय  भय बना रहता है एवं जगह जगह पेयजल लाईन की ध्वस्त हो रही है और नालियां तो लगभग समान्त हो गई है और वैसे तो पूरी रायपुर विधानसभा क्षेत्र में सडक़ों की दुर्दशा है तथा समय पर निर्माण कार्य नहीं किया जा रहा है, जो चिंता का विषय है और इससे क्षेत्रवासियों में आक्रोश बना हुआ है। इस अवसर पर वक्ताओं ने कहा कि यदि पन्द्रह दिन के बाद सडकों का निर्माण कार्य आरंभ नहीं किया गया तो इसके लिए उग्र आंदोलन किया जायेगा। इस अवसर पर जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपकर शीइा्र ही कार्यवाही किये जाने की मांग की गई। इस अवसर पर अनेक कांग्रेस पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता मौजूद रहे।

जन संघर्ष मोर्चा का प्रतिनिधिमंडल मुख्य सचिव से मिला

देहरादून। जनसंघर्ष मोर्चा प्रतिनिधिमण्डल मोर्चा अध्यक्ष एवं जी0एम0वी0एन0 के पूर्व उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी के नेतृत्व में मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह से मुलाकात हेतु समय प्रदान किये जाने में आना-कानी/ अपरिहार्य कारणों का हवाला देने के कारण ज्ञापन उनके कार्यालय में उनके स्टाफ ऑफिसर बी0एस0 मनराल को सौंपा, जिसमें प्रदेश के मुख्यमन्त्री त्रिवेन्द्र रावत द्वारा निर्वाचन आयोग के समक्ष दिये गये झूठे शपथ पत्र मामले में प्राथमिकी दर्ज कराने को लेकर मुख्य सचिव कार्यालय में दस्तक दी गयी।

 
नेगी ने कहा कि सीएम रावत द्वारा अपने शपथ पत्र में वर्ष 2007 के चुनावी नामांकन पत्र में अपनी उम्र 46 वर्ष, 2012 के चुनाव में 52 वर्ष, 2014 के उपचुनाव में 54 वर्ष तथा 2017 के चुनावी नामांकन पत्र में भी 54 वर्ष अंकित की है। इनकी जन्मतिथि दिसम्बर 1960 है। वर्ष 2017 के नामांकन के समय इनकी उम्र 56 वर्ष से अधिक थी तथा इसी प्रकार वर्ष 2012 के चुनाव में इनकी उम्र 51 वर्ष थी, लेकिन इनके द्वारा 52 वर्ष प्रदर्शित की गयी। नेगी ने कहा कि इनके द्वारा अपनी पैतृक सम्पत्ति का चालू बाजारू मूल्य मात्र 50 लाख दर्शाया गया, जबकि उसकी कीमत लगभग 3 करोड से अधिक की है, जो कि डिफेन्स कालोनी, देहरादून में स्थित है। इसके साथ-साथ इन्होंने अपनी पत्नी की भूमि इत्यादि का चालू बाजारू मूल्य मात्र 28 लाख दर्शाया गया है, जबकि उस वक्त नामांकन के समय उक्त समस्त भू-खण्डों की कीमत करोड़ों में थी।
 
उक्त के अतिरिक्त इन्होंने अपने नामांकन पत्र में ढैंचा बीज घोटाले के सम्बन्ध में योजित जनहित याचिका में जारी हुए नोटिस का कहीं भी उल्लेख नहीं किया है, जो कि सरासर जनता के साथ-साथ निर्वाचन आयोग के साथ भी धोखाधड़ी है। आलम यह है कि फर्जीवोड़ा/धोखाधड़ी करने वाले ही आज जीरो टोलरेंश का ढोल पीट रहे हैं। प्रतिनिधिमण्डल में मोर्चा महासचिव आकाश पंवार, दिलबाग सिंह, मौ0 असद, प्रवीण शर्मा, बागेश पुरोहित, प्रभाकर जोशी आदि शामिल रहे।
 

प्राथमिक शिक्षकों ने शिक्षा निदेशालय पर दिया धरना

देहरादून। उत्तराखंड राज्य प्राथमिक शिक्षक संघ द्वारा विशिष्ट बीटीसी प्रशिक्षण प्राप्त शिक्षकों को डीएलएड एवं ब्रिज कोर्स से मुक्त किये जाने की मांग को लेकर शिक्षा निदेशालय में धरना-प्रदर्शन किया। उनका कहना है कि लगातार संघर्ष करने के बाद भी आज तक इस ओर सरकार की ओर से किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं की गई है। उत्तराखंड राज्य प्राथमिक शिक्षक संघ  के अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौहान के नेतृत्व में शिक्षक ननूरखेडा स्थित शिक्षा निदेशालय में पहुंचे, और वहां पर आज हरिद्वार जिले के शिक्षकों ने विशिष्ट बीटीसी प्रशिक्षण प्रान्त शिक्षकों को डीएलएड एवं ब्रिज कोर्स से मुक्त किये जाने की मांग को लेकर धरना दिया।
 
कहा सरकार की ओर से उनके हितों के लिए किसी भी प्रकार की कोई कार्ययोजना तैयार नहीं की जा रही है और आज सत्रह वर्ष बाद इस प्रक्रिया को अंजाम दिया जा रहा है जो पूर्ण रूप से गलत है और प्राथमिक शिक्षक पहले ही प्रशिक्षित है लेकिन अब उन्हें दुबारा प्रशिक्षण लेने की कोई आवश्यकता नहीं है। उनका कहना है कि इस प्रक्रिया को तत्काल प्रभाव से निरस्त किया जाना चाहिए अन्यथा आंदोलन को तेज किया जायेगा। इस मौके पर तौहिद अली, अनिल चमोली, मुकेश चौहान, मंजू देवी, पूनम दवेवी, आरती, सतेन्द्र सिंह, राजेन्द्र सिंह, सरस्वती देवी, शांति देवी सहित अनेक शिक्षक एवं शिक्षिकायें मौजूद थे।

जनसुनवाई कार्यक्रम में डीएम ने सुनीं लोगों की समस्याएं

देहरादून। जनपद में अधिक से अधिक जन सामान्य की समस्याओं का मौके पर निस्तारण करने के उद्देश्य से आयोजित जनसुनवाई कार्यक्रम में डीएम ने लोगों की समस्याएं सुनीं और उनके निस्तारण के निर्देश अधिकारियों को दिए। कई समस्याओं का मौके पर ही निस्तारण किया गया। 
जिलाधिकारी ने जनसुनवाई कार्यक्रम में उपस्थित विभिन्न विभागों के अधिकारियों को निर्देश दिये कि जो समस्याएं शिविर में प्रान्त हो रही है जिनका मौके पर
निस्तारण नही हो पाया है ऐसी शिकायतों को सम्बन्धित विभाग त्वरित गति से निस्तारण करे यदि समस्याएं उनके स्तर की नही है तो जिस स्तर की समस्या है को सम्बन्धित अधिकारी को हस्तान्तरित कर दी जाये तथा इसकी सूचना से शिकायतकर्ता को भी अवगत कराया जाय। जिलाधिकारी ने जनसुनवाई कार्यक्रम में प्रान्त प्रत्येक जन शिकायतकर्ता के आवेदन का निस्तारण सम्बन्धित विभाग के सक्षम अधिकारियों को मौखिक रूप में उपस्थित करते हुए करवाया।
 
उन्होने पूर्व की जनसुनवाई में लम्बित रह गये प्रकरणों/आवेदनों को भी जांचा तथा आज सामने प्रकरणों का तत्काल समाधान करवाया तथा कुछ प्रकरणों को सम्बन्धित विभाग को तय समय के अन्दर निस्तारण के निर्देश दिये। उन्होने स्वच्छता के नोडल अधिकारियों से फीडबैक भी लिया तथा इसमें अच्छा कार्य करने वाले कार्मिकों को भी फीडबैक देते हुए उन्हे प्रेरित करने के भी निर्देश दिये। जिलाधिकारी ने सभी विभागीय अध्यक्षों/प्रभारी अधिकारियों को निर्देश दिये है कि जो कार्य करने के लिए वे सक्षम है उसका मौके पर ही निस्तारण करें तथा जो शिकायतें उनके विभाग से सम्बन्धित नही है  उसकी सिफारिश तुरंत सम्बन्धित विभागीय अधिकारी को करें ताकि जनहित के कार्यों का जल्दी से समाधान हो सके और पात्र व्यक्ति को उसका लाभ मिल सके। जनसुनवाई में 43 शिकायतें प्रान्त हुई, जिसमें 9 शिकायतों का त्वरित समाधान किया गया है तथा बाकी को सम्बन्धित विभागों को हस्तांतरित करते हुए तय समय में निस्तारित करने के निर्देश दिये। 
 
जनसुनवाई में अधिकतर शिकायतें राजस्व विभाग, समाज कल्याण, जल संस्थान, नगर निगम, पुलिस विभाग, ग्राम्य विकास, लोक निर्माण, शिक्षा, पेयजल, विद्युत विभाग इत्यादि से सम्बन्धित रही। जनसुनवाई शिविर में नगर आयुक्त विजय कुमार जोगदांडे, मुख्य विकास अधिकारी जी$एस रावत, अपर जिलाधिकारी अरविन्द पाण्डेय, परियोजना निदेशक राजेन्द्र रावत, जिला विकास अधिकारी प्रदीप पाण्डेय सहित सम्बन्धित विभागीय अधिकारी उपस्थित रहे।                   
 

चीनी मिल के पेराई सत्र का सीएम ने किय शुभारंभ

देहरादून। डोईवाला चीनी मिल के आगामी पेराई सत्र 2017-18 का शुभारम्भ प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत एवं विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल द्वारा परंपरागत तरीके से पूजा अर्चना करके किया गया।

विधान सभा अध्यक्ष एवं मुख्यमंत्री द्वारा हवन पूजन के बाद किसानों के साथ सामूहिक रूप से नारियल तोड़ कर और गन्ना लदी ट्रैक्टर ट्रली का भी पूजन किया गया। इसके बाद क्रेन अपलोडर अन करके चौन कैरियर में गन्नाडालकर विधिवत गन्ने की पेराई शुरू की गई। इस अवसर पर विधान सभा अध्यक्ष ने कहा कि किसानों को किसी भी तरह की परेशानी व अनियमितता नहीं होने दी जाएगी।
 
उन्होंने कहा मिल एवं गन्ना किसान एक-दूसरे के पूरक हैं। डोईवाला चीनी मिल के आगामी पेराई सत्र 2017-18 का शुभारम्भ होने पर क्षेत्र के किसानों के चेहरे पर खुशी थी, क्योंकि अब जल्द से जल्द मिल को गन्ना आपूर्ति कर खेत खाली कर गेहूं कीबुवाई हो पाएगी। मिल के गन्ना मैनेजर कासिम अली के अनुसार डोईवाला चीनी मिल को गन्ना सप्लाई करने वाली गन्ना विकास समिति डोईवाला, देहरादून, रुडक़ी, ज्वालापुर और पांवटा साहिब को गन्ना खरीद का इंडेट दे दिया है। सेंटरों से गन्ना खरीद 26 नवम्बर से शुरू कर दी गयी है इसके बाद 27 नवम्बर से सेंटरों से गन्ना मिल में आ सकेगा।

अपराधों पर रोकथाम को कठोर कार्यवाही हो

देहरादून। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने प्रदेश में गिरती कानून व्यवस्था पर गहरी चिन्ता प्रकट की है। उन्होने कहा कि राजधानी में भी अपराधों की बाढ़ आ गई है नितदिन चोरी, हत्याओं व अन्य अपराधों में बढ़ोतरी राज्य के लिए अच्छा संकेत नही है सरकार व पुलिस को अपराधों की रोकथाम के लिए तदपरतापूर्वक कठोर कार्यवाही करनी चाहिए।

वहीं पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने प्रदेश में अब तक भी गन्ने की खरीद मूल्य की घोषणा न करने पर अपनी नाराजगी दिखाई है। उन्होने कहा कि अगेती प्रजाति का गन्ना खेतों में खड़ा है कोहलू व मिलों मे जा रहा है परन्तु खरीद मूल्य की घोषणा न होने पर किसान असंमजस में है तथा पिछला 300 करोड़ रुपये का बकाया मूल्य से अधिक का गन्ना किसानों का भुगतान भी सरकार नही कर पाई है, मुख्यमंत्री की इस पर चुप्पी भी आश्चर्यजनक है, इससे किसानों को भारी हानि उठानी पड़ रही है। कुछ चीनी मिलों द्वारा किसानों से गन्ना खरीदने को मना करने पर भी उन्होने सरकार की आलोचना की है। 

प्रशासन व लापरवाही बच्चों के भविष्य पर भारी

देहरादून। जिस राज्य के हिमालय से निकल रही नदियां देश के तमाम राज्यों की प्यास बुझाती हैं, उसी राज्य के सैकड़ों बच्चे पानी ना होने के कारण पिछले 5 महीनों से शिक्षा से दूर हैं। जिस राज्य में गंगा, यमुना, सरस्वती, मंदाकिनी, काली और गोला जैसी नदियां बह रही हों, उस राज्य में 180 बच्चे स्कूल में पानी न होने से घर में बैठ जाए ये बड़ी हैरानी की बात है। दरअसल अनुसूचित जनजातीय बच्चों के लिए पूरे प्रदेश में एक मात्र आवासीय इंटर कॉलेज कालसी में चल रहा है लेकिन हैरानी की बात ये है कि पीने के पानी की किल्लत के चलते बीते 5 महीनों से इस स्कूल ने 180 बच्चों की छुट्टी की हुई है। जिससे इन बच्चों का भविष्य अधर में लटक गया है। बरसात के मौसम में बीती 3 जुलाई को देहरादून के कालसी क्षेत्र में मौजूद एकलव्य नाम के इस आवासीय स्कूल में मलबा घुस आया था। जिस वक्त ये हादसा हुआ उस समय इस स्कूल में लगभग 450 गरीब बच्चे मौजूद थे।

 

जिसके बाद प्रशासन ने एकमात्र जनजातीय स्कूल से 180 बच्चों को हालात सुधरने तक घर भेज दिया। पूरा मामला मीडिया में आने के बाद सरकार ने अपने अधिकारियों को ना केवल मौके पर भेजा बल्कि सफाई व्यवस्था और दूसरी चीजों को सुधारने के लिए आदेश भी जारी कर दिए। सरकार के मंत्री और मुख्यमंत्री ने उस वक्त कहा था कि बच्चों के भविष्य से कोई खिलवाड़ नहीं किया जाएगा और जल्द ही स्कूल की व्यवस्थाओं को सुधारने के बाद बच्चों को दोबारा बुला लिया जाएगा लेकिन आज 5 महीनें का वक्त बीत गया और प्रशासन अब तक स्कूल में पीने के पानी की लाइन तक नहीं बिछा पाया है। बताया जा रहा है कि वन विभाग और दूसरे विभाग आपसी लड़ाई के चक्कर में उलझे हुए हैं और इस लड़ाई के चक्कर में बच्चों का भविष्य अधर में लटका हुआ है। स्कूल प्रशासन से लेकर बच्चों के परिवार के लोग सरकार और प्रशासन से गुहार लगा चुके हैं। अभिभावकों ने तो जिले के जिलाधिकारी मुरुगेशन से भी लिखित पत्र भेजकर स्कूल में जल्दी ही पानी की व्यवस्था करने की बात कही है। जिसके बाद जिले के जिलाधिकारी वी मुरुगेशन न कहा कि इस मामले को जल्द से जल्द देखा जाएगा लेकिन यह जल्दी कब आएगी किसी को भी नहीं मालूम। इस बात को ही जानकर मालूम होता है कि अगर राजधानी के स्कूलों का ये हाल है तो पहाड़ों में चल रही शिक्षा व्यवस्था किस हाल में होगा। सवाल उठता है कि जब राजधानी में सरकारी आदेश का ये हाल है तो राज्य में चल रही दूसरी योजनाओं का क्या हाल हो रहा होगा ? बहरहाल हम उम्मीद करते हैं कि सरकार का सरकारी अमला जल्द ही नींद से जागेगा और अधर में लटका 180 बच्चों का भविष्य जल्द ही शिक्षा की रोशनी से रोशन होगा।

किसानों ने जमकर किया हंगामा

हरिद्वार। गन्ने की प्रजाति सीओएस 96247 व 96268 की खरीद को लेकर लक्सर क्षेत्र के किसानों का गुस्सा सोमवार को फूट पड़ा किसानों ने शुगर मिल परिसर में जमकर हंगामा किया और शुगर मिल के तोल केंद्रों पर तोल कार्य भी ठप करा दिया। इस विषय पर किसानों का कहना है कि मिल प्रबंधन गन्ने की खरीद के मामले में मनमानी कर रहे हैं। गन्ने की सीओएस 96247 व 96268 प्रजातियों में चीनी रिकवरी कम बताकर इनकी खरीद से इंकार कर रहा है। ऐसे में क्षेत्र के वे तमाम किसान बेहद परेशांन हैं, जिन्होंने इन दोनों प्रजातियों को उगाया है।

 

किसानों का कहना है कि इन प्रजातियों में भी अन्य 8 तरह की चीनी रिकवरी आती है। मिल के अधिकारी जानबूझकर उन्हें परेशान कर रहे हैं।  किसानों ने चेतावनी दी कि जब तक दोनों प्रजातियों की खरीद शुरू नहीं की जाती है तब तक वे मिल में तोल चालू नहीं होने देंगे। किसानों का ये भी आरोप है कि मिल के अधिकारियों द्वारा हर वर्ष गन्ने की सीजन में किसानों को इसी प्रकार परेशान किया जाता है। ठ्ठ वहीं चीनी मिल के गन्ना प्रबन्धक सुरेश शर्मा का कहना है कि किसानों द्वारा दादागिरी की जा रही है। उनके मुताबिक इन दोनों प्रजातियों की बाबत मीटिंग में सहमति बनी थी कि 8 दिसंबर से 30 दिसंबर के बीच ही इनकी खरीददारी होगी।

 

एडमिशन के नाम पर 35 लाख की ठगी

 देहरादून। पिछले लंबे समय से शहर में ठगी की वारदातें रुकने का नाम ही नहीं ले रही हैं। ताजा मामला देहरादून के एक परिवार का है। जहां परिवार के ही 2 छात्रों को मेडिकल कॉलेज में एडमिशन दिलाने के नाम पर ठगों ने 35 लाख रुपए ठग लिए। पुलिस द्वारा ठगों पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। दरअसल, देहरादून के त्ररूस् रोड में रहने वाले तरनजीत सिंह पिछले 3 सालों से अपने बेटे और भतीजे को मेडिकल कॉलेज में एडमिशन दिलाने के लिए काफी जोर आजमाइश कर रहे थे।

इसी बीच वे उत्तर प्रदेश आगरा के रहने वाले धीरज कुमार के झांसे में आ गए। धीरज ने उन्हें झांसे में लेकर मेडिकल कॉलेजों में दाखिला दिलवाने के नाम पर 35 लाख रुपये हड़प लिए। पैसे लेने के काफी समय बाद भी धीरज एडमिशन नहीं करा पाया और बहाना बनाकर आगे की तारीख बताता रहा। इसी बीच जब तरनजीत सिंह धीरज की नीयत समझ गया और अपने पैसे वापस मांगने लगा तो धीरज उन्हें जान से मारने की धमकी देने लगा। जिस पर तरनजीत सिंह ने मामले की जानकारी कोतवाली में दी और जालसाजों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाया। 

किडनी कांड में डॉक्टर दंपत्ति गिरफ्तार

देहरादून। गंगोत्री चैरिटेबिल हॉस्पिटल लाल तप्पड़ डोईवाला के बहुचर्चित किडनी कांड मामले में संलिप्त डॉक्टर संजय दास और डॉक्टर सुषमा दास को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। बता दें कि दोनों आरोपियों के खिलाफ पुलिस में नामजद मुकदमा दर्ज था। देहरादून एसएसपी निवेदिता कुकरेती ने जानकारी देते हुए बताया कि अभियुक्त संजय दास और उसकी पत्नी सुषमा कुमारी को पुलिस ने गाजियाबाद से गिरफ्तार किया है। यह दोनों आरोपी दंपति अस्पताल में पहुंचे मरीजों को बेहोश करने का काम करते थे। मामले के खुलासे के बाद से पुलिस इन की सरगर्मी से तलाश कर रही थी। गिरफ्तार आरोपी संजय दास ने बताया कि उसे प्रत्येक मरीज को बेहोश करने पर दस हज़ार रुपये मिलते थे। बता दें कि गंगोत्री चैरिटेबिल हॉस्पिटल लाल तप्पड़ डोईवाला के बहुचर्चित किडनी कांड मामले में का खुलासा पुलिस ने 11 सितंबर को किया था।

मामले में पहले ही पुलिस किडनी रैकेट के मास्टरमाइंड डॉक्टर अमित राउत समेत 12 आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है। जिसके बाद आज पुलिस के हत्थे 2 और आरोपी चढ़ चुके हैं। बताया जा रहा है कि दोनों गिरफ्तार आरोपी अस्पताल में मरीजों को बेहोश करने के लिए एनेस्थीसिया देने का काम करते थे। 11 सितंबर को कोतवाली रानीपुर पुलिस ने लाल तप्पड़ के गंगोत्री चैरिटेबल हॉस्पिटल में चल रहे किडनी रैकेट का भंडाफोड़ा था। ये किडनी रैकेट लोगों की मजबूरी का फायदा उठाकर उनकी किडनी निकाल लेता थे और फिर साढ़े 3 से 4 लाख में ये किडनियां बेची जाती थी। पुलिस ने मुखबिर की सूचना के आधार पर कोलकाता के रहने वाली एक महिला और एक पुरूष को पकड़ा था, जिन दोनों की किडनी निकाली गई थी। मामले में अस्पताल के डॉयरेक्टर राजीव चौधरी के नाम के साथ ही ओमान के चार नागरिकों के नाम भी शामिल हैं। वहीं, केस के मुख्य आरोपी डॉक्टर अमित राउत का नाम साल 2013 में गुरुग्राम में 600 से अधिक लोगों की किडनी चुराने के कांड में भी आ चुका है। इस अस्पताल में काफी समय से गरीबों और मजबूर लोगों की किडनी निकालकर विदेशी मरीजों को लाखों में बेचने का खेल चल रहा था। वहीं नाम सामने आने के बाद सातों के खिलाफ लुक आउट नोटिस जारी कर दिया गया था।

 

पति को चकमा देकर भागी लुटेरी दुल्हन

 रुडक़ी। उम्रभर साथ जीने-मरने की कसम खाने वाली नई नवेली दुल्हन शादी के एक-दो दिन बाद ही घर की लाखों का सामान और ज्वैलरी लेकर फरार हो जाती है और घरवाले मुंह ताकते रह जाते हैं। ऐसी लुटेरी दुल्हनों के किस्सों इनदिनों आम हैं। देश के कई स्थानों पर लूट का ऐसा तरीका अपनाकर दुल्हन लडक़े को लूटकर भाग जाती है। इतनी ख़बरों और पुलिस द्वारा सचेत रहने के निर्देशों को बाद भी ऐसी घटनाएं रुकने का नाम नहीं ले रही हैं। रुडक़ी के कुआंखेड़ा गांव में भी ऐसा ही कुछ घटा है। दरअसल, कुआंखेड़ा गांव में रहने वाले अजय की शादी बड़ी धूमधाम के साथ तीन दिन पहले देहरादून निवासी काया से हिन्दू रीति रिवाज के साथ हुई थी। शादी में शरीक हुए सभी रिश्तेदार अभी वापस भी लौट नहीं पाये थे कि दुल्हन भाग खड़ी हुई। शादी के एक दिन बाद ही तबीयत खऱाब होने का बहाना किया तो उसका पति अजय उसे डॉक्टर के पास ले गया।

वहां से उसने अने पति से चिकन खाने की फरमाइश कर डाली। नई दुल्हन को नाराज न करते हुए अजय उसकी फरमाइश पूरी करने पुरकाजी ले गया। यहीं से नवनवेली दुल्हन पति को चकमा देकर फऱार हो गयी। पीडि़त परिवार अब पुलिस से दुल्हन को तलाश करने की गुहार लगा रहा है। परिवार का आरोप है कि देहरादून की सुमन नाम की एक महिला ने उनसे मोटी रकम लेकर शादी तय करायी थी। शादी में उनके लाखों रुपये खर्च हुए लेकिन अब ना तो सुमन फोन रिसीव कर रही है और ना ही लडक़ी पक्ष के लोग। दुल्हे के भाई राहुल का कहना है कि उन्होंने तीन लोगों के खिलाफ पुलिस में तहरीर दी है। उनको शक है कि तीनों का गैंग था और इसी के तहत उनके परिवार को शादी के लिये फंसाया गया। पीडि़त परिवार में दुल्हन के भागने से गहरा सन्नाटा पसरा है। लडक़ी अपने साथ लाखों के गहने लेकर फऱार हुई है। फिलहाल पुलिस पूरे मामले की जांच में जुटी है।

एक थी चोर रावत सरकार: जोशी

 मसूरी। पर्यटन नगरी मसूरी से भाजपा विधायक गणेश जोशी ने पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत की तुलना वर्तमान में सूबे के मुखिया त्रिवेंद्र सिंह रावत से करते हुए कहा है कि पूर्व में चोर रावत कि सरकार काम कर रही थी व वर्तमान में ईमानदार और जीरो टोलरेंस कि सरकार कि रावत सरकार काम कर रही है।

 

मसूरी में किसी कार्यक्रम में पहुंचे भाजपा विधायक गणेश जोशी ने कहा कि आज कांग्रेस के मित्र प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत की लोकप्रियता से घबरा गए हैं। जिस कारण कांग्रेस के नेता प्रदेश सरकार पर बेबुनियाद आरोप लगाने का काम कर रहे हैं। उन्होने कहा कि पूर्व और वर्तमान में काम कर रही दोनों रावत सरकार में ये अंतर है कि जो डीपी सिंह महाघोटाला कर त्रिवेंद्र रावत की सरकार में जेल की हवा खा रहा है, अगर हरीश रावत की कांग्रेस की सरकार होती तो वही डीपी सिंह बीजापूर गेस्ट हाउस में घूम रहा होता। विधायक गणेश जोशी ने कहा कि एनएच 74 घोटाले का मुख्य डीपी सिंह अब पुलिस की गिरफ्त में है। जिससे लगातार पूछताछ हो रही है। उन्होंने कहा कि इस केस में जो भी बड़े मगरमच्छ होंगे, वो भी जल्द जेल की सलाखों के पीछे होंगे।

 

मंत्री और पुलिस अधिकारियों तक पहुंचा एक जोड़ी जूतों काकिस्सा

 देहरादून। एक जोड़ी जूते कैसे किसी को इतना परेशान कर सकते हैं कि उसे पुलिस और मंत्रियों से मदद मांगनी पड़े। लेकिन ऐसा हुआ है राजधानी देहरादून के एक परिवार के साथ। यहां पड़ोसी के एक जोड़ी जूतों ने इस परिवार का घर से निकलना दुश्वार कर दिया है। ये बेहद दिलचस्प किस्सा निकलकर आया है देहरादून में बसायी गई नई रिस्पना पुरम कॉलोनी से। उत्तराखंड सचिवालय में चतुर्थ क्लास के कर्मचारी नरेश ममगाईं घर का दरवाजा जब भी खोलता और सामने उसको जो दिखता उसका खून खौल जाता। उनकी पत्नी जब भी दरवाजा खोलती तो सामने का दृश्य देख डर जातीं, उनके मासूम बच्चों को सामने का नज़ारा देख दहशत से सिर झुकाकर चलना पड़ता। दरअसल, ममगाईं के घर के सामने रहने वाला पड़ोसी उन्हें अजीबो-गरीब तरीके से टॉर्चर कर रहा है। दोनों ही परिवार देहरादून के रिस्पना पुरम में रहते हैं। नरेश का आरोप है कि उत्तराखंड पुलिस में कांस्टेबल जयवीर सिंह कैंथोला लंबे समय से किसी ना किसी तरह उनके पूरे परिवार को परेशान कर रहा है। कभी घर के आगे कूड़ा फेंक कर तो कभी बच्चों और मेहमानों के ऊपर कुत्ते छोडक़र। ये दुश्मनी पैसे या जमीन जायदाद को लेकर नहीं बल्कि विचारों को लेकर है।

 
बात इतनी बढ़ी कि सूरत देखना नहीं पसंद
नरेश कहते हैं कि पहले दोनों परिवार में बातचीत होती थी, लोग आपस में हालचाल जान लेते थे लेकिन जब उन्होंने देखा कि उनके विचार पड़ोसियों से नहीं मिल रहे हैं तो उनके परिवार ने जयवीर सिंह के परिवार से दूरी बना ली। इसी बात के चलते दोनों के बीच दुश्मनी बढ़ी। नरेश बताते हैं कि सिपाही को ये बात नागवारा लगी और वो आये दिन वो किसी ना किसी बात से उनके परिवार को परेशान करने लगा। लगभग 2 साल से ऊपर हो गए और सिपाही आये दिन कभी मेहमानों के ऊपर कुत्ता छोड़ देता, कभी घर के सामने कूड़ा फेंक देता। कभी फोन काम पर लगाकर गालियां निकालने लगता। नरेश का कहना है कि उसके रोज रोज के इस टॉर्चर से उनका परिवार बहुत परेशान हो गया है। इतना ही नहीं, अब जयवीर सिंह ने नरेश ममगाईं को परेशान करने के लिए जूतों पर ममगाईं लिखकर नरेश के घर की तरफ उनका मुंह कर दिया है। नरेश कहते है कि वो हार्ट के मरीज हैं और ये सब देखकर घर का एक-एक सदस्य परेशान है।
पुलिस से लेकर मंत्री तक से लगाई गुहार
सबसे अजीब बात है कि जूतों का ये किस्सा स्थानीय नेहरू थाने में भी पहुंच गया है। यही नहीं, मंत्री सुबोध उनियाल के पास भी ना केवल जूतों की शिकायत पहुंची है बल्कि खुद सिपाही के घर मंत्री फोन पर बात कर चुके हैं लेकिन मामला है कि सुलझने का नाम नहीं ले रहा है। बात अब इतनी बढ़ गई है कि अब ममगाईं देहरादून एसएसपी से मिलने जा रहे हैं। बहरहाल, मामला जो भी हो लेकिन जिस तरह से इन दोनों परिवार के बीच विवाद चल रहा है वो पुलिस और आस-पड़ोसियों के बीच भी चर्चा का विषय बन गया है।

खेल समारोह का शुभारम्भ

 ऋषिकेश। दून इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एण्ड टैक्नोलॉजी कॉलेज, श्यामपुर ऋ षिकेश के खेल र्स्पधा समारोह का शुभारम्भ उत्तराखण्ड विधान सभा अध्यक्षप्रेम चन्द अग्रवाल जी द्वारा किया गया। इस अवसर पर विधान सभा अध्यक्ष न वॉलीबॉल उछालकर कार्यक्रम का आगाज किया। खेल र्स्पधा समारोह पर विधान सभा अध्यक्ष ने कहा कि बैडमिंटन, मुक्केबाजी, हॉकी तथा एथलेटिक्स के क्षेत्र में उत्तराखण्ड के खिलाड़ी राष्ट्रीय स्तर पर अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। कॉलेजों में इस प्रकार के खेल र्स्पधा के आयोजन से यहां की खेल प्रतिभाओं को आगे आने का अवसर मिलेगा। उन्होंने कहा कि खेल, शरीर एवं मानसिक विकास में सहायक है। विद्यार्थी खेल को दिनचर्या का हिस्सा बनाएं। इस अवसर परअग्रवाल ने विद्यार्थियों से अनुरोध किया कि, वह उनकी रूची अनुसार खेल खेलें। जरूरी नहीं कि, वह वो ही खेल खेलें जो दूसरे खेलते हों। उन्होंने कहा कि, विद्यार्थी खेल को करियर के रूप में भी चुन सकते हैं। वह समय गया जब कहा जाता था। कि, खेलोगे कूदोगे तो बनोगे खराब पढ़ोगे लिखोगे तो बनोगे नवाब, अब खेल कूद कर भी नवाब बना जा सकता है।

विधान सभा अध्यक्ष ने कहा, राज्य सरकार खेल के विकास के ऊपर काफी महत्व दे रही है। उन्होंने कहा कि सरकार ने खिलाडिय़ों को प्रोत्साहन देने के लिए काफी योजनाएं बनाई हैं ताकि वह राष्ट्रीय औ अंतर्राष्ट्रीय स्पर्धा में आगे जा सकें। दून इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एण्ड टैक्नोलॉजी कॉलेज के खेल र्स्पधा पर वॉलीबॉल, बैडमिंटन, क्रिकेट आदि प्रतियोगिताओं को आयोजन किया गया है इस अवसर पर देवेन्द्र सिंह नेगी जिला पंचायत सदस्य, कार्यक्रम संयोजक लोकेश पाण्डेय, जिला महामंत्री संजीव चौहान, कॉलेज के निदेशक नीरज कुमार एवं अनिल पैन्यूली, अरूण कोठारी, मन्जु जी, गणेश रावत, प्रिंसिपल डा0 सुमित्रा एवं कॉलेज के छात्र-छात्राए, अध्यापक उपस्थित थे।

डीबीएस में आंतरिक परीक्षाओं को लेकर धरना जारी

 देहरादून। डीबीएस पीजी कलेज में छात्रसंघ का आंतरिक परीक्षाओं को लेकर चल रहा विरोध सोमवार को भी जारी रहा। इस दौरान अध्यक्ष योगेश घाघट नेे कहा कि छात्रसंघ कलेज में शिक्षा का बेहतर माहौल बनाए रखने के लिए प्रतिबद्घ है। छात्रसंघ ने पिछले दिनों ज्ञापन के माध्यम से छात्रों को हो रही परेशानी के बारे में अवगत करवाया था लेकिन, कलेज प्रशासन छात्रों की मांगों को गंभीरता से नहीं ले रहा था। जिससे क्षुब्ध होकर छात्रसंघ को आंतरिक परीक्षाओं के बहिष्कार का निर्णय लिया था।  छात्रों ने प्राचार्य के समक्ष असस्मेंट लगाए जाने की मांग रखी थी, जिसपर प्राचार्य ने गुणवत्ता का हवाला देते हुए अनसुना कर दिया।
 
छात्रसंघ ने कुल 30 अंकों में से 15 अंक की आंतरिक परीक्षा और 15 अंक का असस्मेंट लगाने का प्रस्ताव रखा, इसे भी प्राचार्य ने खारिज कर दिया। जबकि, कलेज के छात्र-छात्राएं इसके पक्ष में थे। प्रदेश के कई कलेजों में जबकि अस्मेंट की प्रणाली लागू है तो क्या इन महाविद्यालयों में शिक्षा की गुणवत्ता से खिलवाड़ किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्राचार्य अपनी हठधर्मिता छोड़ें, अन्यथा छात्रसंघ आंदोलन से पीछे नहीं हटेगा, जिसकी पूरी जिम्मेदारी कलेज प्रशासन की होगी।

नैनी झील के संरक्षण के लिए वैज्ञानिक व तकनीकी उपाय

देहरादून । राज्यपाल डॉ. कृष्ण कांत पाल ने कहा कि नैनी झील के संरक्षण में नैनीताल शहर के नागरिकों की सर्वाधिक महत्वपूर्ण भूमिका है। नैनी झील के संरक्षण के  लिए अब एक्शन मोड़ में आना होगा। वैज्ञानिकों व विशेषज्ञों के सुझावों पर शीघ्र क्रियान्वयन करना होगा। नैनीताल में रेन वाटर हार्वेस्टिंग सुनिश्चित करते हुए पानी के दुरूपयोग पर पूरी तरह से रोक लगानी होगी। राज्यपाल, सोमवार को राजभवन सभागार मे ंयूएनडीपी द्वारा ‘‘नैनी झील के संरक्षण के लिए वैज्ञानिक व तकनीकी उपाय’’ विषय पर आयोजित कार्यशाला के उद्घाटन सत्र को बतौर मुख्य अतिथि सम्बोधित कर रहे थे। राज्यपाल ने कहा कि नैनीताल झील के संरक्षण के लिए समय-समय पर अनेक सेमीनार किए गए हैं जिनमें विशेषज्ञों ने अपने सुझाव दिए हैं। विभिन्न संस्थाओं व समितियों द्वारा भी व्यापक अध्ययन कर रिपोर्ट तैयार की गई हैं। अब समय आ गया है कि नैनीताल झील को बचाने के लिए इन सुझावों का ठोस क्रियान्वयन  सुनिश्चित किया जाए। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इसके लिए अपनी प्रतिबद्धता व्यक्त की गई है। माननीय उच्च न्यायालय ने भी दिशा निर्देश दिए हैं। इसलिए स्थानीय प्रशासन को गम्भीरता के साथ इस पर काम करना होगा। 

 
राज्यपाल ने कहा कि सर्वाधिक महत्वपूर्ण जिम्मेवारी नैनाताल के नागरिकों को उठानी होगी। नैनीताल शहर  पीने के पानी की आपूर्ति के लिए नैनी झील पर निर्भर है। प्रति वर्ष  यहां की आबादी से कई गुना अधिक पर्यटक आते हैं। इनके लिए भी पानी की व्यवस्था करनी होती है। हमें समुचित  जल प्रबंधन व सस्टेनेबल टूरिज्म की अवधारणा को अपनाना होगा। पीने के पानी के दुरूपयोग को रोका जाए। रेन वाटर हार्वेस्टिंग को प्रोत्साहित करने के साथ ही यह भी सुनिश्चित किया जाए कि इससे प्राप्त पानी सीवरेज में न जाए। नैनीताल के लिए पानी के वैकल्पिक स्त्रोत को विकसित करना होगा। साथ ही यह भी देखा जाए कि क्या नैनीताल आने वाले पर्यटकों के एक भाग को निकटवर्ती दूसरे पर्यटन स्थल जाने के लिए प्रेरित किया जा सकता है। 
राज्यपाल ने ढांसा, बडक़ल व सुरजकुंड आदि झीलों का उदाहरण देते हुए कहा कि ये सभी कभी दिल्ली के पास स्थित महत्वपूर्ण झीलें थीं, परंतु अब ये सभी सूख चुकी हैं। ये हम सभी की जिम्मेवारी है कि नैनी झील की हालत इन झीलों जैसी न हो। इसके लिए दृढ़ इच्छा शक्ति से काम करना होगा। सामान्य बुद्धिमत्ता का प्रयोग करते हुए सामान्य नागरिक भी नैनी झील के संरक्षण में अपनी भूमिका निभा सकता है। 
 
मुख्यमंत्री त्रिवेद्र सिंह रावत ने कहा कि पूरे प्रदेश में जलस्त्रोतों व नदियों के पानी में कमी आई है। हम सभी इसके लिए चिंतित हैं। नैनी झील के लिए रणनीति बनाते हुए समयबद्ध तरीके से कार्ययोजना बनानी होगी। शहर के पीने के पानी के लिए विकल्प विकसित करने होंगे। स्थानीय सहभागिता सुनिश्चित करनी होगी। राज्य सरकार ने नैनी झील के साथ ही पूरे प्रदेश में जल संरक्षण के लिए दृढ़ संकल्प के साथ काम शुरू किया है। 25 मई को जल संचय-जीवन संचय अभियान संचालित किया गया था। बिंदाल व रिस्पना के पुनर्जीवीकरण के लिए अभियान प्रारम्भ किया गया है। वहां एक दिन निश्चित करके व्यापक स्तर पर वृक्षारोपण व सफाई का काम एक ही दिन में किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि यूएनडीपी की कार्यशाला में जो भी सुझाव आएंगें, उन्हें राज्य सरकार कार्यरूप में परिणत करेगी। इस अवसर पर मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह, प्रमुख सचिव आनंदबर्धन, यूएनडीपी के एडिशनल कंट्री डायरेक्टर डॉ. राकेश कुमार, सचिव रविनाथ रमन, प्रोफेसर एसपी सिंह, विभिन्न संस्थाओं से प्रतिभाग करने आए वैज्ञानिक व विशेषज्ञ उपस्थित थे। इसके बाद कार्यशाला में तीन सत्र और आयोजित किए गए। दूसरे सत्र में ‘‘झील के जलस्तर में गिरावट के कारण, शोध आवश्यकताएं व सम्भावित समाधान‘‘, तीसरे सत्र में ‘‘नैनीताल का बदलता भूदृश्य: पारिस्थितिक दृष्टिकोण व मानवीय दबाव‘‘ जबकि चौथे सत्र में ‘‘संगठनों की भूमिका, क्रियान्वयन रणनीति व कार्य बिंदु’’ विषय पर व्यापक विचार विमर्श किया गया। 
 
सर्दियां आ रही हैं और समय आ गया है कि आपके घरों में रसोई की हाईज़ीन बनाए रखते हुए स्वादिश्ट गर्मागर्म खाने का आनंद लेने के लिए कुछ बेहतरीन उपकरणों का समावेष किया जाए। सर्दियों का समय बेकिंग के साथ लजीज व्यंजन तैयार करने का समय है। होम अप्लायंसेस श्रेणी में अग्रणी ब्रांड, इनाल्सा सर्दियों में नया ओवन टोस्टर ग्रिलर (ओटीजी) पेष कर रहा है। अत्याधुनिक विषेशताओं व टेक्नॉलॉजी ने नई ओटीजी श्रृंखला को ग्राहकों के आधुनिक जीवन और जीवनषैली के लिए अत्यावष्यक उपकरण बना दिया है।
इनाल्सा की क्विक बेक ओटीजी श्रृंखला पूरे परिवार के लिए पाई, केक, मफिंस, सैंडविच, कुकी और ब्रेड तैयार करने के लिए श्रेश्ठ है। नई ओटीजी श्रृंखला डिजिटल डिस्प्ले के साथ 30 लीटर एवं 45 लीटर क्षमता के वैरिएंट्स में उपलब्ध है। इसके हाई-एण्ड वैरिएंट 70 से 230 डिग्री तापमान कंट्रोल, तापमान के उचित सर्कुलेषन के लिए कन्वेक्षन फंक्षन के साथ आते हैं तथा इसमें 6 स्टेज हीट सलेक्षन, 60 मिनट के टाईमर एवं 2 साल की वॉरंटी जैसी विषेशताएं हैं। अब आप सर्दियों की षाम को इनाल्सा के ओटीजी में तैयार किए गए अपनी पसंद के खाने का आनंद ले सकेंगे।
सर्दियों में हमारे घरों में गर्म पानी बहुत जरूरी होता है। हमें गर्म पानी की जरूरत नहाने, बर्तन धोने, कपड़े धोने और अन्य गतिविधियों के लिए होती है। इसी बात को ध्यान में रखकर, इनाल्सा ने 10, 15 और 25 लीटर के वैरिएंट्स में ग्लास लाईनिंग वाले हीटिंग एलिमेंट के साथ उच्च क्वालिटी का वाटर हीटर पेष किया है। आईएसआई मार्क के इन हीटर्स में एडजस्टेबल टेम्परेचर कंट्रोल एवं मल्टी फंक्शनल सेफ्टी वॉल्व है और यह टैंक पर 6 साल की वॉरंटी तथा उत्पादों पर 2 साल की वॉरंटी के साथ आता है। यह ब्रांड विंटर स्पेषल ऑफर प्रदान कर रहा है, जिसके तहत ग्राहकों को 1445 रु. मूल्य की 1200 वॉट की स्टीम आयरन निषुल्क प्राप्त होगी।
 
सर्दियों के लिए उत्पादों की नई श्रृंखला के बारे में जितेंद्र चौहान, सीईओ, इनाल्सा होम अप्लायंसेस ने कहा, ‘‘हमारा प्रयास है कि हम नए उत्पाद पेष करके ग्राहकों को फायदा पहुंचाएं और ब्रांड में ग्राहकों की रुचि स्थापित करें। हम इस साल वॉटर एवं किचन अप्लायंसेस की श्रेणी में कई नए वैरिएंट पेष करने की योजना बना रहे हैं। सर्दियां आ गई हैं और क्रिसमस का त्योहार आने वाला है, इसलिए हमें अपने ओटीजी एवं वाटर हीटर को बाजार में बहुत अच्छी प्रतिक्रिया मिलने की उम्मीद है।’’ किचन आज स्टाईल की पहचान बन रहा है। भारतीय घरों में आधुनिक अप्लायंसेस प्रयोग किए जाने लगे हैं। इनाल्सा के पास क्वालिटी एवं विश्वास की विरासत है, जो यह अपने उत्पादों में समाविश्ट कर अद्वितीय अनुभव, शानदार फंक्शनलिटी एवं पूर्ण संतोष प्रदान करता है। 

इंटरनेशनल सीजन के इंडिया चैप्टर का हुआ समापन

देहरादून। बीएमडब्लू गोल्फ कप इंटरनेशनल टूर्नामेंट को भारत में एक सबसे अधिक प्रतिष्ठित अमेचर गोल्फ टूर्नामेंट्स के रूप में प्रतिष्ठा प्राप्त है। टूर्नामेंट के क्षेत्रीय विजेताओं डीएलएफ कंट्री और कंट्री क्लब ने आज इसके ग्रैंड फिनाले में खिताब जीतने के लिये भिड़ंत की। 
भारत के दिग्गज क्रिकेट खिलाड़ी अनिल कुम्बले ने नेशनल विजेताओं को उनके शानदार परफॉर्मेंस के लिये सम्मानित किया। नेशनल फिनाले के विजेता बीएमडब्लू गोल्फ कप इंटरनेशनल के वल्र्ड फिनाले में भाग लेंगे। इसका आयोजन 5 से 10 मार्च 2018 तक साउथ अफ्रीका में किया जायेगा। बीएमडब्लू  गोल्फ कप इंटरनेशनल 2017 के वल्र्ड फिनाले में भाग लेने वाले 50 देशों में भारत एक है। यह 1,000 क्वालिफाइंग टूर्नामेंट्स के साथ एक ग्लोबल सीरीज हैए जिसमें 100,000 खिलाड़ी शामिल हैं। विक्रम पावाह, प्रेसिडेंट, बीएमडब्लू इंडिया ने कहा, ‘‘हम समूचे भारत में गोल्फ खेल और इसके कई महत्वपूर्ण मूल्यों को व्यापक दर्शकों तक पहुंचाने के लिये प्रतिबद्घ हैं। बीएमडब्लू गोल्फ कप इंटरनेशनल न सिर्फ हमारे ग्राहकों व संभावित उपभोक्ताओं को, बल्कि अन्य दर्शकों को भी आकर्षित करते हैं। गोल्फ परिशुद्घता, अभ्यास और बारीकी पर अटूट नजऱ के बारे में सिखाता है, जोकि एक परफेक्शनिस्ट के गुण हैं और बीएमडब्लू के सभी पहलू में ये सभी गुण पाये जाते हैं।
 
खिलाडि़यों ने एक बार फिर हमें असली बीएमडब्लू स्टाइल में गोल्फ का शानदार गेम दिखाया। हम सभी विजेताओं को बधाई देते हैं और बीएमडब्लू गोल्फ कप इंटरनेशनल के ‘वल्र्ड फिनाले’ में सर्वश्रेष्ठ गोल्फ के लिये उन्हें शुभकामनायें देते हैं।’’ बीएमडब्लू गोल्फ कप इंटरनेशनल 2017 के 18 टूर्नामेंट्स में भारत के 12 शहरों के 2000 से अधिक गोल्फर्स ने हिस्सा लिया। इन शहरों में हैदराबाद, बेंगलुरू, चेन्नई, मुंबई, पुणे, अहमदाबाद, जयपुर, नोएडा, लखनऊ, कोलकाता और गुड़गांव शामिल हैं। इन प्रादेशिक टूर्नामेंट्स के विजेताओं ने बीएमडब्लू गोल्फ कप इंटरनेशनल 2017 के नेशनल फाइनल में मुकाबला किया। एक एक्सक्लूसिव इंविटेशन-ऑन्ली इवेंट बीएमडब्लू गोल्फ कप इंटरनेशनल 2017 एक अमेचर गोल्फ टूर्नामेंट सीरीज को ग्राहकों, संभावित उपभोक्ताओं और ओपिनियन लीडर्स के लिये डिजाइन किया गया है तथा यह एक एक्सक्लूसिव सामाजिक संवाद के लिये सही संयोजन है। बीएमडब्लू गोल्फ कप इंटरनेशनल 2017 के नेशनल फाइनल में थ्री हैंडीकैप श्रेणियों के विजेताओं ने बीएमडब्लू गोल्फ कप इंटरनेशनल के वल्र्ड फिनाले में हिस्सा लेंगे। 
 

जीके, निबंध व चित्रकला प्रतियोगिता के विजेता पुरस्कृत

देहरादून। स्टूडेंट्स फेडरेशन अफ इंडिया (एसएफआई) जिला कमेटी देहरादून द्वारा आयोजित सामान्य ज्ञान, निबन्ध व चित्रकला प्रतियोगिता के परिणामों की शुरुआत आज लक्ष्मण भारतीय इण्टर कलेज से हुई।
 
स्टूडेंट्स फेडरेशन अफ इंडिया के जिला कमेटी सदस्य हिमांशु चौहान और विद्यालय के प्रथानाचार्य जयवीर सिंह ने लक्ष्मण भारतीय इण्टर कलेज चावला चौक में आयोजित कार्यक्रम में प्रतियोगिता के विजेताओं को पुरस्कृत किया। चित्रकला प्रतियोगिता में प्रथम-तुषार कक्षा-8, द्वितीय-किरण कक्षा-7 और तृतीय-निकिता कक्षा-8 रहे। निबन्ध प्रतियोगिता में प्रथम-प्रिया कश्यप कक्षा 8, द्वितीय-सोनिया कक्षा 7 और तृतीय-निशा वर्मा कक्षा 8 रहे। सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता में प्रथम-अंकित लोहिया कक्षा 10, द्वितीय-रितिक कुमार कक्षा 7
 
और तृतीय-चित्रा कक्षा 12 रहीं। इस मौके पर स्टूडेंट्स फेडरेशन अफ इंडिया की स्कूल इकाई का गठन भी किया गया, जिसमें सर्वसम्मति से 11 लोगों की कार्यकारिणी चुनी गई। अध्यक्ष-रिया, उपाध्यक्ष-अंकित, सचिव -चित्रा, सहसचिव-प्रिया को चुना गया। 
 

घर का ताला तोड़कर लाखों का सामान चोरी

 रुद्रप्रयाग। रुद्रप्रयाग नगर पालिका क्षेत्र के अंतर्गत बेलणी में एक घर से गत रात्री को चारों ने घर के ताला तोड़ कर दो लाख से अधिक की चोरी की। बेलणी में राकेश डोभाल के घर के गेट समेत दो कमरों के ताले तोड़कर चोर घर में घुसे, तथा यहां रखी तीन सोने की अंगूठी समेत दो लाख से अधिक का सामान लेकर फरार हो गए, चोर को यह जानकारी थी कि मकान मालिक घर में नहीं रहता है, जिससे चोरी की यह घटना अंजाम दी गई।

वहीं पड़ोंसियों को रविवार को इस घटना का पता चला, जिसके बाद इसकी सूचना पुलिस को दी गई। यह राजस्व क्षेत्र है, राजस्व उप निरीक्षक दुर्भा सिंह रावत ने घर का मुयाना किया। वहीं स्थानीय लोगों का आरोप है कि नगर क्षेत्र में रात्रि को नियमित गश्त नहीं होती, जिससे चोरी की घटनाओं को अंजाम दिया जा रहा है, कार्रवाई न होने से चोरों के हौसले बुलंद हैं।

दून केे दिल में सनसनी

 देहरादून। प्रदेश की राजधानी में एक अपराधियों के हौसले लगातार बुलंद हैं यहां चोरी, लूट, ठगी तो आम बात है ही लेकिन अब हत्या जैसे जधन्य अपराध भी अंजाम दिए जाने लगे हैं। सोमवार के राजधानी की धड़कन कहे जाने वाले धण्टाघर में एक युवक की हत्या कर शव फेंक बदमाशों ने पुलिस को खुला चैलेंज किया देहरादून में हत्या की खौफनाक घटना सामने आई है। एक युवक की गोली मारकर हत्या कर दी गई। शहर के बीचों बीच घंटाघर के पास उस वक्घ्त सनसनी फैल गई। जब मृतक का शव हत्या के बाद घंटाघर धारा चैकी के घ्नघ्किट राजपुर रोड में फेंक दिया गया। पुलिस घटना स्थल पर पहुंच गई है। तथा फॉरेंसिक जांच की टीम ने मौके पर पहुंचकर खुलासा किया है की युवक की सिर पर गोली मारकर हत्या की गई है।

मृतक की पहचान यतिन वर्मा के रूप में हुई है। 27 साल का यतिन बागेश्वर का रहने वाला बताया जा रहा है।युवक 14 नवंबर से देहरादून में रह रहा था। पुलिस ने शव की शिनाख्त बागेश्घ्वर के रहने वाले यतीन वर्मा के रूप में की है। पुलिस ने बताया कि यतीन वर्मा 14 नवंबर को देहरादून आया था और एक होटल में ठहरा हुआ था। पुलिस ने सीसीटीवी कैमरे को भी खंगाला।

एसपी सिटी प्रदीप राय के मुताबिक हो सकता है कि हत्या कहीं और करके शव को यहां फेंका गया हो।घटना स्थल पर पहुंची पुलिस मामले की तह तक पहुंचने का प्रयास कर रही है द्य युवक की हत्या करके शव को न्यू एम्पायर सिनेमा हॉल के पास फेंक दिया गया।घटना स्थल पर एसएसपी निवेदिता कुकरेती भी पहुंच गई है।
 

दुग्ध गुणवत्ता जांच कैंप का आयोजन

देहरादून। डेरी विकास विभाग ने डा.वर्गीस कुरियन के जन्मदिवस को उपभोक्ता जागरूकता कार्यक्रम के तहत आयोजित किया। केदारपुरम में लगाए गए विशेष शिविर में दूध के नमूनों की जांच की गई और दुग्ध गुणवत्ता की जानकारी लोगों को दी गई। दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ लिमिटेड की ओर से केदारपुरम में दुग्ध गुणवत्ता जांच कैंप का आयोजन किया गया। जिसमें उपभोक्ताओं को दूध की गुणवत्ता के बारे में जानकारी दी गई।

साथ ही दूध के नमूनों का परीक्षण इलेक्ट्रानिक मशीनों से किया गया। सहायक निदेशक डेरी विकास अनुराग मिश्र ने बताया कि यह कैंप डा.वर्गीस कुरियन के जन्मदिवस पर आयोजित किया गया। कुरियन ने दुध उत्पादन के क्षेत्र में भारत में श्वेत क्रांति का आगाज किया। कैंप में उपभोक्ताओं को लैक्टोमीटर, लैक्टोमीटर जार, मिल्क एडल्ट्रेशन टेस्टिंग स्ट्रिप भी वितरित की गई। इस मौके पर यूसीडीएफ के प्रबंधक एके नेगी, डेरी विकास विभाग के दुग्ध निरीक्षक शिव प्रताप सिंह, एके सिंह, विनोद वर्मा, आमोद त्यागी, एन पांडेय समेत अन्य मौजूद रहे।

नमामि गंगे की तर्ज पर हो रिस्पना का जीर्णोद्वार

देहरादून। देहरादून के शिक्षित छात्रों के संगठन मेकिंग ए डिफ्फेरेंस बाय बीइंग द डिफ्फेरेंस (मैड) संस्था ने रिस्पना नदी के पुनर्जीवन के बारे में अपने ही युवा सदस्यों में एक व्यापक जागरूकता अभियान चलाया। इस अभियान का संचालन रविवार को किया गया। प्रात: काल सुबह छ: बजे कड़ाके की ठंड में मैड सदस्य पहले एश्ले हल में एकत्र हुए। 

 
दर्जन भर से ज्यादा सदस्यों ने उसके बाद राजपुर की ओर प्रस्थान किया और वहां से उन्होंने रिस्पना के उद्गम के इलाके की एक सैर शुरू कर दी। चलते चलते कई युवाओं ने पहली बार रिस्पना नदी को इस स्वरूप में देखा। शहर में मृत घोषित की जा चुकी रिस्पना में आज भी उद्गम स्थल में काफी पानी देखा जा सकता है। अनेकों पानी के स्त्रोत जहाँ पथरों के नीचे से रिस रिस कर पानी आता रहता है उन इलाकों को भी बच्चों ने देखा। गौरतलब है कि मैड संस्था द्वारा रिस्पना के पुनर्जीवन हेतु विगत छ: वर्षों से काम किया जा रहा है। मैड संस्था की मुख्य मांग रही है कि राष्ट्रीय जलविज्ञान संस्थान रूडक़ी की उस शोध रिपोर्ट को लागू किया जाए जिसमे रिस्पना पुनर्जीवन का एक बुनियादी खाका खींचा गया है। इसके साथ साथ मैड ये भी मांग करता आया है कि रिस्पना नदी के पुनर्जीवन को नमामि गंगे के तहत लिया जाए क्योंकि रिस्पना एवं बिंदाल को केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय द्वारा गंगा बेसिन में घोषित किया जा चुका है।
 
चलते चलते मैड के सदस्यों ने यह भी देखा कि कैसे जगह जगह कूड़ा करकट युवाओं द्वारा ही फेंका गया है क्योंकि नाना प्रकार के रैपर, बोतलें, कैन इत्यादि देखने को मिले। इसको लेकर कैसे गहन सफाई अभियान चलाया जा सकता है इसपर भी संस्था के सदस्यों ने जब अभियान की समान्ति दोपहर में की गयी तब समोसे और चाय पर चर्चा की।
मैड संस्था अपनी ओर से इस बात से खुश है कि मुख्यमंत्री और मुख्य सचिव ने रिस्पना पुनर्जीवन पर बैठकों का दौर शुरू कर दिया है और उम्मीद करती है कि इको टास्क फोर्स द्वारा धरातल पर भी इसपे काम किया जायगा। अपनी ओर से संस्था हर संभव समर्थन सभी सरकारी विभागों को देती रहेगी और जमीनी स्तर पर भी अपना काम करती रहेगी। इस अभियान में मैड के संस्थापक अध्यक्ष अभिजय नेगी, अक्षत चंदेल, श्रेया रोहिल्ला, सात्विक निझोन, गगन धवन, शिवम सोनि, इश्वित, प्रेरणा रावत मौजूद थे।
 

सीएम ने किया 42 करोड की योजनाओं का शिलान्यास

नई टिहरी। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने रविवार को जनपद टिहरी के सेम मुखेम में सेम नागराजा के त्रिवार्षिक मेला एवं जात्रा का दीप प्रज्ज्वलित कर शुभारम्भ किया। इस अवसर पर आयोजित आमसभा को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार भ्रष्टाचार व बेईमानी पर लगाम लगाने के लिए दृढ़ संकल्प है, उन्होने प्राकृतिक सौन्दर्य से सराबोर इस क्षेत्र को पर्यटन के रुप में विकसित करने तथा प्रतापनगर को जोडने वाले डोबरा-चॉटी पुल के लिए 76 करोड  स्वीकृत किये जाने की बात भी कही। उन्होने कहा कि इस पुल के निर्माण में आधुनिक तकनिक व गुणवत्ता का पूरा ध्यान रखा जायेगा। इस अवसर पर उन्होने 42 करोड की योजनाओं का शिलान्यास व लोकार्पण किया साथ ही क्षेत्र के लिए अनेक योजनाओं की घोषणा भी की जिसमें कई मोटर मार्ग, पेयजल योजना शामिल है। 
मुख्यमंत्री द्वारा की गई घोषणाओं में बिसातली से कठूली मोटर मार्ग का डामरीकरण एवु सुधारीकरण, स्यांसू-भैंगा-चौंधार मोटर मार्ग पर हॉटमिक्स कार्य, इस क्षेत्र को पर्यटन क्षेत्र के रुप में विकसित करना, पीपलडाली-मोंटणा-मदननेगी के लिए उत्तराखण्ड परिवहन सेवा, मूडथाथ से थाथगॉव मोटर मार्ग का डामरीकरण, कोटी-रौल्या-पुजाडगॉव मोटर मार्ग का निर्माण, गैरी ब्राम्हणों की-बुरांसखंण्डा, काण्डा-बसेली-थौलधार मोटर मार्गो का निर्माण/डामरीकरण, पीपलडाडी-स्यांसू मोटर मार्ग पर बने पुल की सुरक्षा हेतु भारी वाहन अवरोधक, डोबरा-भल्डियांणा-चैधार मोटर मार्ग का निर्माण, खेट पर्वत के लिए पेजयल योजना की स्वीकृति, अग्रोडा, लम्बगॉव डिग्रीकालेजों में जिलाधिकारी की जॉच रिर्पोट के आधार पर विज्ञान विषय खोले जाने की घोषणा शामिल है। वही शिलान्यास में 269.41 लाख से 4 किमी कोला-पथियाणा मोटर मार्ग का निर्माण, भौतलाखाल से गैरी ब्राम्हणों की तक 173.01लाख द्वितीय चरण के तहत 3 किमी0 सडक निर्माण, 261.91 लाख रु0 से 3.8 किमी0 काण्डाखाल-सेरबधार मोटर मार्ग, 2108.01 लाख से सूरीधार ग्राम समूह पम्पिंग योजना आदि शामिल है। इसके अलावा 1350.40 लाख रु0 से बने 23 किमी0 कोडार-दीनगॉव मोटर मार्ग पुनस्र्थापना का लोकार्पण किया। 
मुख्यमंत्री ने सेम मुखेम में सेम नागराजा के त्रिवार्षिक मेला एवं जात्रा का शुभारम्भ कर आम जनता को सम्बोधित करते हुए कहा कि उत्तराखण्ड सरकार सुदूर आंचलिक क्षेत्रों में चिकित्सकों की तैनाती सर्वोच्च प्राथमिकता से की जा रही है वही शिक्षा व्यवस्था में सुधार के लिए सरकार ठोस नीति बनायी जा रही है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने जनपद में टेलीमेडिसन सेवा का शुभारम्भ करते हुए कहा कि वर्तमान में जनपद के 10 स्वास्थ्य उपकेन्द्रों को इससे जोडा गया है। उन्होंने कहा कि आगामी जनवरी माह तक उत्तराखण्ड देश का पहला राज्य होगा जहॉ पर टेली सेवायें उपकरणों से लैस बैलून तकनीक के आधार दी जायेगी। इस अवसर पर उन्होने हजारों चिकित्सकों की आंचलिक क्षेत्रों में तैनाती किये जाने की भी बात कही। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने जनपद में टेलीमेडिसन सेवा का भी शुभारम्भ किया। उन्होने विभागों द्वारा लगायी गई विकास प्रदर्शनी स्टॉलों का भी निरीक्षण करते हुए कहा कि विकास योजनाओं का लाभ आम जनता को मिले इसके लिए अधिकारियों को भी अपने कर्तव्यों का निर्वहन करना होगा। इस अवसर पर क्षेत्रीय विधायक विजय पंवार, अध्यक्ष जिला पंचायत श्रीमती सोना सजवांण, जिलाधिकारी सोनिका, मुख्य विकास अधिकारी आशीष भटगांई सहित भारी संख्या में जनता एवं जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।
 

सडक़ हादसे में दरोगा की मौत

डोईवाला। डोईवाला से हरिद्वार जा रही ऑल्टो कार और जीसीबी मशीन में जोरदार भिडंत हुई। हादसे में एक की मौत हो गई, जबकि तीन लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। वहीं जेसीबी चालक मौका देखकर घटनास्थल से फरार हो गया। डोईवाला से हरिद्वार जा रही ऑल्टो कार की नुन्नावाला गुरद्वारे के सामने जेसीबी से भिडंत हो गई। इस दौरान कार सवार चार लोग गंभीर रूप से घायल हो गए।

सभी घायलों को अस्पताल ले जाते वक्त दरोगा हुकम सिंह रौथाण की रास्ते में ही मौत हो गई। जॉलीग्रांट के आदर्शनगर निवासी हुकुम सिंह दरोगा के पद पर उत्तरकाशी के धरासू में तैनात थे। मौके पर पहुंची डोईवाला पुलिस ने जेसीबी मशीन को अपने कब्जे में ले लिया है और फरार जेसीबी चालक की तलाश में जुट गई है। 

मानव मन ही उसके उत्थान अथवा पतन का मुख्य कारण: भारती

देहरादून। महापुरूषों का मानव मन के सम्बन्ध में शास्त्रोक्त यही कथन है- मन के मते न चालिए मन पक्का यमदूत, ले जाए दरिया में जाए हाथ से छूट। इसके बावजूद त्रासदीपूर्ण बात यह है कि संसार आज इस उक्ति के बिलकुल विपरीत चल रहा है। दुनिया का सारा कार्य-व्यवहार मन के द्वारा ही संचालित हो रहा है। यह कार्य व्यवहार मन का क्षेत्र हो सकता है किन्तु यदि इस मन को आत्मिक स्तर पर कसकर यह कार्य व्यवहार सम्पादित हो तो दुनिया का नक्शा ही कुछ और नजऱ आए मन तू जोत सरूप है, अपना मूल पछाण। हीन विचारों से ग्रसित मन कमजोर हो जाता है ओर उसकी सोच निकृष्ट होने लगती है और मनुष्य पराजित हो जाता है।

दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान द्वारा प्रत्येक सप्ताह अपने निरंजनपुर आश्रम में आयोजित किए जाने वाले रविवारीय सत्संग-प्रवचनों और मधुर भजन-संर्कीतन के कार्यक्रम में आज सद्गुरू  आशुतोष महाराज जी की शिष्या और देहरादून आश्रम की प्रचारिका साध्वी सुभाषा भारती जी के द्वारा उपरोक्त प्रवचनों के माध्यम से उपस्थित संगत को मन की दिशा और दशा के सम्बन्ध में शास्त्रानुसार विस्तार पूर्वक समझाया गया और साथ ही इसकी दिशा और दशा सुधारने के उपाय स्वरूप पूर्ण गुरू के ब्रह्म्ज्ञान की महिमा भी रेखांकित की गई। हनुमान जी का अनुकरणीय उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि जो अपने मान का हनन कर लेता है वह हनुमान के सदृश्य हो सकता है। हनुमान जी को ही भक्त शिरोमणि की उपमा इसीलिए दी गई क्योंकि वे मान से रहित होकर अपने ईष्ट भगवान  राम की अनन्य भक्ति में सदा लीन रहा करते थे, तभी तो भगवान  राम ने अपने उद्गार व्यक्त करते हुए कहा था- हनुमान, पुत्र मैं तुम्हारे ऋण से कभी उऋण नहीं हो सकता।

सीएम से मिला स्काउट्स एण्ड गाइडस का प्रतिनिधिमंडल

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत से रविवार को मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय में हिन्दुस्तान स्काउट्स एण्ड गाइडस के उत्तराखण्ड राज्य कार्यकारिणी प्रतिनिधमण्डल ने हिन्दुस्तान स्काउट्स एण्ड (वोगल) गाइडस के 20वें स्थापना दिवस के अवसर पर शिष्टाचार भेंट की।

 

इस अवसर पर हिन्दुस्तान एण्ड गाइडस के प्रतिनिधिमण्डल ने मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र को स्कार्फ पहनाया तथा बैज लगाया। मुख्यमंत्री ने प्रतिनिधमण्डल को स्थापना दिवस की बधाई एवं शुभकामनाएं दी।

ब्रह्मज्ञान से परमात्मा के समीप हो जाता है मनुष्य: आर्य

देहरादून। समय के साकार सद्गुरु द्वारा प्रदत्त ब्रह्मज्ञान से मनुष्य परमात्मा के समीप हो जाता है और निरंकार प्रभु को देखता है, और देखकर जब इस ब्रह्मज्ञान के द्वारा परमात्मा को जान लेता हैं वो मोक्ष पद प्रान्त करता है। यह उद्गार संत निरंकारी भवन भूमि हरिद्वार रोड बाईपास पर रविवारीय सत्संग कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुये ज्ञान प्रचारक संत मोलूराम आर्य ने व्यक्त किये। 

 
उन्होंने परमात्मा की सहज भक्ति के मार्ग पर प्रकाश डालते हुये कहा कि मनुष्य की मंजिल परमात्मा को प्रान्त करने की होनी चाहिए और परमात्मा की प्रान्ति किसी ब्रह्मवेत्ता सद्गुरु से हो सकती है। जैसे ही ज्ञान की प्राप्ति हुई तो सभी अभ्यास कर्म खत्म हो जाते हैं। उन्होंने कहा कि ज्ञान का बीज जब इंसान के मनरूपी धरती पर पड़ता है तो मन ज्ञानी बन जाता है और ब्रह्म के साथ जुड़ा तो ब्रह्मज्ञानी। ब्रह्मज्ञान होने के बाद इंसान की वाणी, बुद्घि, कर्म, व्यवहार में बदलाव आ जाता है। सत्संग समापन से पूर्व अनेकों भक्तों ने विभिन्न भाषाओं का सहारा लेकर गीत, भजन और विचारों द्वारा सत्गुरु का गुणगान किया। मंच संचालन राजीव बिजल्वाण ने किया। 

अपने लिए कठोर बनो और दूसरों के लिए नम्र: मंजू

देहरादून। प्रजापिता ब्रह्मकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय के स्थानीय सेवाकेन्द्र सुभाषनगर में आयोजित रविवारीय सत्संग में राजयोगिनी ब्रह्मकुमारी मन्जू बहन ने स्वयं को बदलें विषय पर चर्चा करते हुए कहा कि हरेक सोचता है कि मैं क्यों बदलूँ, दूसरा क्यों नहीं, यदि मैं बदल गया और दूसरा नहीं बदला तो समस्या का समाधान कैसे होगा ? उन्होंने कहा कि बदलना अर्थात समाधान की ओर कदम बढ़ाना। हमें दर्द है तो हम बदल जाएं। 

 
जहाँ शोषण है, अत्याचार है उसे क्यों झेलें, समाधान खोजें, समाधान हर चीज़ का है। दुनिया में कोई ताला ऐसा नहीं जिसकी चाबी न हो। कोई समस्या ऐसी नहीं जिसका समाधान न हो। समाधान का पहला कदम है स्वयं का बदलाव। सफल जीवन जीने का सूत्र है अपने लिए कठोर बनो और दूसरों के लिए नम्र। अपने से गलती हो जाने पर स्वयं को समझाओ कुछ सजा दो ताकि वह गलती दोहराई न जाए, परन्तु दूसरे से गलती हो जाए तो क्षमा कर दो, जिससे उस का हृदय परिवर्तन होगा और वह भी  सुधर जायेगा।
 

यूकेडी निकाय चुनाव में मजबूती के साथ उतरेगी: व्यास

ऋषिकेश। उत्तराखंड क्रांति दल के पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष पंकज व्यास ने कहा कि यूकेडी प्रदेश में आगामी निकाय चुनाव में मजबूती के साथ भाग लेगी। 

यहां एक होटल में आयोजित पत्रकार वार्ता के दौरान उन्होंने कहा कि जनता अब अच्छी तरह समझ चुकी है कि राष्ट्रीय पार्टियों ने बारी-बारी से सत्तासीन होकर प्रदेश का शोषण करने के साथ अभी तक प्रदेश में विकास के लिए कोई भी रोड मैप तैयार नहीं किया है।
 
वर्तमान में डबल इंजन की सरकार की गति अपने आप ही रिवर्स गेर पर आ गई है। सभी विकास कार्य अब पूरी तरह से ठप्प हैं। उन्होंने यह भी कहा कि कल सोमवार को कोटद्वार में उत्तराखंड क्रांति दल महारैली करेगा। इसका उद्देश्य जो क्षेत्र नगरपालिकाओं में मिलने का विरोध कर रहे हैं, उनका समर्थन करना है। इस मौके पर यूकेडी के गढ़वाल मंडल युवा प्रकोष्ठ के पूर्व अध्यक्ष राजेंद्र यादव ने कहा कि सरकार की नाक के तले भ्रष्टाचार हो रहा है, लेकिन सरकार सो रही है। पत्रकार वार्ता में बीडी शर्मा, तीरथ सिंह राय, केंद्रीय संगठन मंत्री हरीश द्विवेदी, प्रचार मंत्री सुनील दत्त आदि मौजूद रहे।
 

संविधान के अनुपालन की शपथ दिलाई

देहरादून। भारत सरकार ने नागरिकों में संवैधानिक मूल्यों को बढ़ावा देने के लिए प्रति वर्ष 26 नवम्बर को संवैधानिक दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया है।
इस अवसर पर आज 26 नवम्बर को वन अनुसंधान संस्थान के मुख्य भवन के दीक्षान्तगृह में संस्थान के कार्यवाहक निदेशक एस$डी$ शर्मा, भा$व$से$ ने भारत के संविधान की उद्देशिका की विशेषताओं का सभी संस्थान कर्मियों के समक्ष उल्लेख किया व इसके अनुपालन की शपथ दिलाई। इस अवसर पर संस्थान के समस्त वरिष्ठ वन अधिकारी, वैज्ञानिक, कर्मचारी मौजूद रहे।
 

फिल्म पद्मावती के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन जारी

हरिद्वार। देशभर में जारी संजय लीला भंसाली के निर्देशन में आ रही फिल्म पद्मावती का विरोध कम होने का नाम नहीं ले रहा है। जगह-जगह इसके विरोध देखने को मिल रहे हैं। आज धर्मनगरी में भी इसको लेकर बड़ी संख्या में अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा समाज के लोगों ने फि़ल्म का जमकर विरोध प्रदर्शन किया और साथ ही निर्देशक संजय लीला भंसाली का पुतला दहन किया।

 

हरिद्वार के भगत सिंह चौक से पैदल मार्च निकालते हुए चंद्राचार्य चौक पर पद्मावती फिल्म के निर्देशक संजय लीला भंसाली का क्षत्रिय समाज के लोगों ने पुतला दहन किया। प्रदर्शनकारियों ने आरोप लगाया कि भंसाली ने इतिहास के साथ छेडख़ानी की है। जिसकी वजह से हिंदू समाज आहत है। उन्होंने बताया कि उत्तराखंड सरकार से फि़ल्म को प्रतिबंध करने की वह लोग मांग कर रहे हैं, वहीं यदि फि़ल्म उत्तराखंड में बैन नहीं की गई तो इसके परिणाम उचित नहीं होंगे। अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा समाज के लोगों ने बताया कि सिनेमा घरों को हमने पूर्व में ही आग्रह कर दिया है, कि यदि उन्होंने फिल्म रानी पद्मावती को अपने सिनेमा घरों में लगाया तो हिंदू समाज इसको किसी कीमत पर बर्दाश्त नहीं करेगा।

यातायात के नियमों का करें पालन: दिपेंद्र

रूडकी। चमनलाल महविधालय लंढौरा में संविधान दिवस पर विचार संगोष्ठी एवं प्रश्नोत्तर प्रतियोगिता का आयोजन किया गया इस मौकें पर यातायात प्रभारी निरीक्षक दिपेंद्र सिंह ने छात्राओं को यातायात के संबंध में जानकारी दी। तथा प्रश्नोत्तर प्रतियोगिता में ग्रुप ए ने बाजी मारी।
संविधान दिवस पर चमन लाल महाविद्यालय में विचार संगोष्ठी एवं प्रश्नोत्तर प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जिसका विषय प्राण व दैहिक स्वतंत्रता-अनु. 21 था। संगोष्ठी में एलएलबी प्रथम वर्ष के छात्र रुपिन कुमार ने प्रथम पुरस्कार छात्रा विखाशा ने द्वितीय पुरस्कार व फरमानी ने तृतीय पुरुस्कार प्राप्त किया वहीं संगोष्ठी में उपस्थित एडवोकेट अनिल कुमार, दिनेश धीमान, डा. ईश्वर दयाल कंसल ने एलएलबी करनें वालें छात्र-छात्राओं को कानून संबंधी जानकारी दी।
 
 
वहीं प्रश्नोत्तर प्रतियोगिता में ग्रुप अ के छात्र राहुल गिरी, अब्दुल रहमान, विनीत शर्मा, वकार आलम व अनीस ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। इस मौके पर यातायात प्रभारी निरीक्षक रुडक़ी दिपेंद्र सिंह ने कालेज के छात्र-छात्राओं को यातायात संबंधी जानकारी देते हुए उन्हें यातायात के नियमों का पालन करने की बात कहीं। साथ ही समिति अध्यक्ष रामकुमार शर्मा ने कहां कि इस प्रकार के कार्यक्रमों में आयोजनों से छात्र-छात्राओं में एक उर्जा शक्ति का संचार तथा उनका ज्ञान वर्द्धन होता हैं। कार्यक्रम का संचालन डॉ. नवीन त्यागी, डॉ. सूर्यकांत धस्माना ने किया। इस मौके पर तरुण कुमार, डॉ. निशु, डॉ. दीपा अग्रवाल, किरण शर्मा, विमल कान्त, गौरव, नावेद आसिफ,राजबीर सिंह,शिवानी, नेहा शर्मा,शहजाद आलम आदि मौजूद रहे।

फिल्म पदमावती को राज्य में प्रतिबंधित करने की मांग

 देहरादून। उत्तराखंड क्षत्रिय महासंघ ने हिन्दी फिल्म पदमावती के प्रदर्शन को पूर्ण रूप से प्रतिबंधित किये जाने की मांग को मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत से मिले उन्हें ज्ञापन प्रेषित करते हुए इस ओर उचित कार्यवाही किये जाने की मांग की।

यहां महासंघ से जुड़े हुए पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता अध्यक्ष आर एस राघव के नेतृत्व में मुख्यमंत्री आवास में एकत्रित हुए और वहां पर उन्होंने मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत से भेंट करते हुए उन्हें ज्ञापन सौंपा और उत्तराखंड में इस हिन्दी फिल्म पदमावती को पूर्ण रूप से प्रतिबंधित किये जाने की मांग की है और मुख्यमंत्री ने भी इस ओर उचित कार्यवाही करने का भरोसा दिया है।
 
इस अवसर पर राघव ने कहा है कि उत्तराखंड क्षत्रिय महासभा के सदस्य एवं वरिष्ठ अधिवक्ता आर एस राघव ने कहा है कि फिल्म रानी पदमावती का पुरजोर तरीके से विरोध किया जायेगा और इस फिल्म को यहां पर किसी भी सिनेमाघर में प्रदर्शित नहीं होने दी जायेगी। उनका कहना है कि फिल्म निर्माता ने अपना मुनाफा कमाने के लिए जन भावनाओं के साथ खिलवाड किया है जिसे किसी भी दशा में बर्दाश्त नहीं किया जायेगा।
उनका कहना है कि भारत के गौरवमय इतिहास पर निर्मित वालीबुड फिल्म पदमावती में इतिहास के वास्तविक तथ्यों को अपने कुछ मुनाफा कमाने की नियत से मनवांछित तरीके से फिल्म को बनाया गया है जिसके कुछ दृश्यों से उत्पन्न जन भावनाओं की क्षति के कारण राष्ट्र के गौरवमयी इतिहास से खिलवाड किया गया है जिसे सहन नहीं किया जायेगा।
उनका कहना है कि फिल्म रानी पदमावती को लेकर जिस तरह सेबात सामने आई है उससे हमारे बच्चों, युवाओं, महिलाओं व बुर्जुगों एवं समाज के सभी वर्ग अपने आप को अपमानित महसूस कर रहे है। उनका कहना है कि यदि राष्ट्र गौरव के सम्मान और स्वाभिमान को नजर अंदाज किया गया तो उसके गंभीर परिणाम फिल्म इंडस्ट्री को देखने पडेंगें।
 
इस अवसर पर रतन सिंह चौहान ने कहा है कि उत्तराखंड राज्य में भिन्न भिन्न क्ष्ज्ञत्रिय संगठन जैसे महाराणा प्रताप विचार मंच, क्षत्रिय चेतना मंच, अखिल भारतीय राजपूत महासभा, उत्तराखंड राजपूत महासभा, क्षत्रिय समाज सेवा संस्था, गौरव सैनानी युवा संगठन, हिन्दू समाज विकास समिति आदि संगठन जो समाज के लिए कार्य कर रहे है ने सर्व सम्मति से निर्णय लिया है कि सभी संगठन महासंघ के बैनर तले फिल्म रानी पदमावती का संगठित होकर विरोध करेंगें। उनका कहना है कि सिनेमाघरों के मालिकों को भी नैतिकता को देखते हुए समाज हित में प्रदर्शित न करें। उनका कहना है कि इस संबंध में सिनेमाघरों कसे स्वामियों को पत्र भी लिखा जायेगा। इस अवसर पर एडवोकेट रवि सिंह नेगी ने कहा कि यदि फिल्म रानी पदमावती को प्रदर्शित होने से नहीं रोका गया तो उत्तराखंड क्षत्रिय महासंघ संविधान के दायरे में रहकर लोकतांत्रिक तरीके से विरोध प्रदर्शन करेगा और समाज के सभी वर्गों के सहयोग से सडकों पर उतरकर आंदोलन करने से भी नहीं हिचकेगा। उन्होंने समाज के सभी वर्ग के लोगों से अपील की है कि मां पदमावती राष्ट्र का गौरव है जो की सभी वर्गों के सम्मान की बात है। इस अवसर पर महासंध के अनेक प्रतिनिधि मौजूद थे।

भाजपाईयों व क्षेत्रवासियों ने सुनीमन की बात

 देहरादून। भारतीय जनता पार्टी महानगर चिकित्सा प्रकोष्ठ के सह संयोजक व समाजसेवी डा. आनंद यादव के तत्वावधान में वार्ड 20 में गणेश मंदिर पर सभी क्षेत्रवासियों द्वारा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मन की बात कार्यक्रम को सुना।
इस अवसर पर क्षेत्रीय लोगों एवं कार्यकर्ताओं ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की मन की बात कार्यक्रम को धैर्य पूर्वक सुना और जीवन में उनकी बातों को उतारने का संकल्प भी लिया। इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने मन की बात में जनता को संबांधित करते हुए कहा कि हमारा देश 40 वर्षो से आतंकवाद से पीडि़त है,पूरा विश्व आतंकवाद से लड़ रहा है, और आज इससे मुक्ति दिलाये जाने की जरूरत है जिस पर केन्द्र सरकार कार्य कर रही है।

इस अवसर पर रेलवे बोर्ड एवं प्रदेश कार्यकारिणी भाजपा सदस्य रविन्द्र कटारिया, मंडल महामंत्री विपिन खंडूडी, प्रमोद भटट, अमन गोयल आदि अनेक कार्यकर्ता एवं क्षेत्रवासी मौजूद थे।
वहीं दूसरी ओर प्राचीन काली मंदिर, बरगद का पेड़ कारगी बंजारावाला रोड़ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मन की बात के कार्यक्रम का सीधा प्रसारण स्क्रीन के माध्यम से आयोजित किया गया। इस अवसर पर बडी संख्या में तमाम बुद्धिजीवी एवं स्थानीय लोग उपस्थित थे।

कार ने दो को उतारा मौत के घाट

 देहरादून। मजदूरी कर पैदल घर जा रहे दो युवकों को कार सवार ने रौंद दिया। हादसा इतना खतरनाक था कि पूरी रोड पर खून बिखर गया। हादसे की जानकारी मिलते ही पुलिस घटनास्थल पर पहुंच गई। जिसके बाद घायलों को पुलिस तुरंत अस्पताल ले गई, जहां उपचार के दौरान दोनों ने दम तोड़ दिया। मामला बंशीवाला रोड का है, जहां तेज रफ्तार से आ रही कार ने शनिवार रात दो पैदल जा रहे युवकों को चपेट में ले लिया। उसके बाद अनियंत्रित कार ने  सामने से आ रही गाड़ी को भी टक्कर मार दी।

 

घटना की सूचना मिलने के बाद पुलिस मौके पर पहुंची और दोनों घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया, जहां इलाज के दौरान दोनों युवकों ने दम तोड़ दिया। घटना के बाद चालक कार छोडक़र मौके से फरार हो गया। मृतकों की पहचान 28 वर्षीय प्रवीण सिंह और 27 वर्षीय अर्जुन के रूप में  हुई है। दोनों बंशीवाला थाना प्रेमनगर के निवासी बताये जा रहे हैं। बताया जा रहा है कि दोनों मृतक व्यक्ति मजदूरी का कार्य करते थे। वहीं, मृतकों के परिजनों ने पुलिस को कार चालक के विरुद्ध मुकदमा दर्ज करने के लिए लिखित तहरीर दी है। पुलिस ने संबंधित धाराओं के तहत मुकदमा भी दर्ज कर लिया है। कार्रवाई करते हुए पुलिस ने कार को कब्जे में ले लिया है। फिलहाल पुलिस फरार आरोपी की तलाश कर रही है।

शाइन समूह द्वारा दिया गया 2 बीएचके फ्लैट

 देहरादून। शाइन समूह जो कि समय समय पर अपने नये ऑफर नये उत्पाद लाता रहता है, हाउसहोल्ड उत्पादों की एक विस्तृत श्रंखला लाने जा रहा है। शाइन समूह के हाउसहोल्ड उत्पादों की अग्रिम बुकिंग करने वाले ग्राहकों के लिये शाइन समूह ने अपनी ग्राहक केन्द्रित सोच के अंतर्गत 51 ग्राहकों को विभिन्न उपहार देने के निर्णय लिया है। जिसके अंतर्गत वाराणसी के जितेंद्र कुमार सिंह, रूपा गुप्ता, पूर्णिमा सिंह, परमेश्वर श्रीवास्तव, गोपाल कुमार प्रिया, राज कुमार गुप्ता, राम कुमार व रायबरेली के नागेंद्र बहादुर सिंह को शाइन समूह के सीएमडी राशिद नसीम द्वारा 2बीएचके फ्लैट उपहार में दिया गया।

 

शाइन समूह के सीएमडी राशिद नसीम ने कहा कि शाइन समूह अपने ग्राहकों के प्रति हमेशा कटिबद्ध है और समय समय पर उनके लिए आकर्षक उपहार व योजनाये लाता रहता है। इन आठ लोगों को उपहार स्वरुप फ्लैट देना भी हमारी ग्राहक केंद्रित सोच का ही हिस्सा है। इससे पूर्व शाइन समूह ने लखनऊ निवासी मिथलेश राय,लखनऊ के ही निवासी व पान विक्रेता दिनेश कुमार व बिहार मूल की निवासी कुलवंती सिंह को भी उपहार स्वरूप फ्लैट गिफ्ट किया था।

रोहित को स्व$ कालिका प्रसाद भट्ट स्मृति सम्मान

रुद्रप्रयाग। अपशिष्ट प्रबन्धन और जलाशयों के संरक्षण विषय पर विज्ञान महोत्सव में प्रदेश में तीसरा स्थान प्राप्त करने वाले राउप्रावि डांगी-गुनाऊं के छात्र रोहित रौतेला और मार्ग दर्शक शिक्षक हेमंत चौकियाल का नागरिक अभिनन्दन किया गया। इस मौके पर छात्र को स्वर्गीय स्व कालिका प्रसाद भट्ट स्मृति विद्यार्थी सम्मान से भी नवाजा गया।
 
सम्मान समारोह के आयोजक स्वर्गीय कालिका प्रसाद भट्ट की धर्मपत्नी कल्पेश्वरी देवी ने छात्र को ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी तथा ट्रॉफी प्रदान की। ब्लक समन्वयक भूपेन्द्र सिंह बत्र्वाल ने रोहित व मार्गदर्शक शिक्षक हेमंत चौकियाल को सम्मानित करते हुए इसे ब्लॉक, जिला व प्रदेश का गौरव बताया। उन्होंने आशा जताई की छात्र राष्ट्रीय प्रतियोगिता में भी प्रदेश का गौरव बढाएगा। उन्होंने इस सम्मान समारोह को आयोजित करने वाली स्व भट्ट की धर्मपत्नी कल्पेश्वरी देवी और उनके सुपुत्र अरूण भट्ट व अतुल भट्ट का आभार भी व्यक्त किया। राप्रावि डांगी-गुनाऊं की प्रधानाध्यापिका ऊ षा बैंजवाल ने छात्र के मडल को नदियों की स्वच्छता के लिए मील का पत्थर साबित होने वाला बताया।
 
ग्राम प्रधान श्रीमती उषा रौतेला ने विद्यालय में आयोजित होने वाले क्रियाकलापों  में से इसे एक बड़ी सफलता बताया। प्रबन्धन समिति के अध्यक्ष जगदीश लाल ने आशा वक्त की कि आने वाले समय में विद्यालय के और छात्र भी ऐसी ही सफलता हासिल करेंगे। उन्होंने अध्यापक श्री चौकियाल को मेहनती व जुनूनी शिक्षक बताया। विद्यार्थी सम्मान समारोह में राजकीय स्नात्तकोत्तर महाविद्यालय अगस्त्यमुनि के छात्रों, राइका मयकोटी व राबाइका अगस्त्यमुनि के प्रतिभावान छात्र एवं छात्राओं को भी सम्मानित किया गया। समारोह में रोहित की माता प्रमिला देवी, पिता नन्दन सिंह का भी नागरिक अभिनन्दन किया गया। इस अवसर पर सूबेदार हीरामणी भट्ट, जगदीश लाल, संगीता भट्ट, मंगल लाल शाह, सुशीला देवी, सखुदेव रौतेला, कु नेहा,  कु काजल, रोहित भट्ट, नीरज, अजीम प्रेम जी फाउण्डेशन के नमोदीन्त, करण सिंह, अंकिता, अनूप शुक्ला सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थिति थे।

ओंकारेश्वर मंदिर में विराजमान हुए मद्महेश्वर

 रुद्रप्रयाग। पंचकेदारों में द्वितीय केदार के नाम से विख्यात भगवान मद्महेश्वर की चल विग्रह उत्सव डोली अपने शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर में विराजमान हो गई है। डोली आगमन पर सैकड़ों श्रद्घालुओं ने डोली का पुष्प अक्षत्र से भव्य स्वागत किया। रविवार से भगवान मद्महेश्वर की शीतकालीन पूजा-अर्चना यहां पर शुरू की जायेगी। 

शनिवार को ब्रह्मबेला पर गिरीया गांव में मद्महेश्वर धाम के प्रधान पुजारी राजेशखर लिंग ने भगवान मद्महेश्वर की चल विग्रह उत्सव डोली व साथ चल रहे देवी-देवताओं के निशाणों की पंचाग पूजन व पौराणिक परम्पराओं के तहत अनेक पूजायें सम्पन्न कर आरती उतारी और ठीक सवा आठ बजे भगवान मद्महेश्वर की चल विग्रह उत्सव डोली गिरीया से रवाना हुई और फाफंज, सलामी से होकर मंगोलचारी पहुंची, जहां पर रावल भीम शंकर लिंग द्वारा भगवान मद्महेश्वर की डोली को सोने का छत्र चढाया गया और ग्रामीणों ने अघ्र्य लगाकर मनौती मांगी। तद्पश्चात् भगवान मद्महेश्वर की चल विग्रह उत्सव डोली मंगोलचारी से रवाना होकर ब्राह्मणखोली, डंगवाडी यात्रा पड़ा़वो पर श्रद्घालुओ को आशीष देते हुए अपने शीतकालीन गद्दी स्थल ओंकारेश्वर मन्दिर में विराजमान हुई। डोली आगमन पर श्रद्घालुओं ने भगवान मद्महेश्वर को अघ्र्य लगाकर क्षेत्र की खुशहाली की कामना की। इस मौके पर मंदिर समिति के कार्याधिकारी अनिल शर्मा, मेलाध्यक्ष रीता पुष्पवाण, प्रधान पुजारी शिव शंकर लिंग, कुब्जा धम्र्वाण, सचिव प्रकाश रावत, खुशहाल सिंह नेगी, महावीर रावत, लक्ष्मण सिंह नेगी, मोहन सिंह बिष्ट, विजेन्द्र नेगी, जगदीश लाल, अनुसूया प्रसाद भट्ट, नवदीप नेगी, दीपक राणा, भूपेन्द्र राणा, विश्वमोहन जमलोकी, नवीन मैठाणी, नवीन, गजेन्द्र करासी, खण्ड विकास अधिकारी बीसी शुक्ला, थानाध्यक्ष प्रेम सिंह बिष्ट, लक्ष्मी प्रसाद भट्ट सहित मेला समिति के पदाधिकारी, सदस्य, विभिन्न विभागों के अधिकारी, कर्मचारी व विद्यालयों के अध्यापक व नौनिहाल मौजूद थे।

राज्य बनने में मातृशक्ति की सबसे बड़ी भूमिका: अग्रवाल

 ऋषिकेश। भरत मंदिर स्कूल ऋ षिकेश में आयोजित अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के तत्वाधान में उत्तरांचल प्रांत छात्रा सम्मेलन का शुभारंभ उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष  प्रेम चंद्र अग्रवाल जी द्वारा किया गया । इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने सर्वप्रथम भरत मंदिर स्कूल सोसायटी के संस्थापक परम पूज्य महंत परशुराम जी महाराज की मूर्ति पर फूल माला अर्पित की । छात्रा सम्मेलन के अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़ी अपनी पृष्ठभूमि से छात्र-छात्राओं को अवगत कराया उन्होंने कहा कि उन्हें विधानसभा अध्यक्ष बनने के पीछे अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की भूमिका रही है । इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि उत्तराखंड राज्य बनने में मातृशक्ति की सबसे बड़ी भूमिका रही है एवं प्रदेश के अंदर ऐसी बहुत सी महिलाएं हैं ।जो देश के प्रत्येक कोने में अपना नाम रोशन कर रही है ।

 

इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि महिलाओं के उत्थान में सरकार द्वारा बहुत सी योजनाएं चलाई जा रही हैं जो महिलाओं की सामाजिक कुरीतियों को तोडऩे में मदद कर रही है तथा साथ ही साथ उन्हें आगे बढऩे में प्रेरित कर रही है ।विधानसभा अध्यक्ष ने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के नारे को बुलंद करते हुए कहा कि यदि हम एक छात्र को शिक्षित कर रहे हैं तो हम सिर्फ एक छात्र को ही शिक्षित कर रहे हैं पर अगर हम एक छात्रा को शिक्षित कर रहे हैं तो हम आने वाली पूरी पीढ़ी को शिक्षित कर रहे हैं। इस अवसर पर क्षेत्रीय संगठन मंत्री  मनोज निखरा, प्रांत संगठन मंत्री  प्रदीप शेखावत , प्रदेश अध्यक्ष प्रोफेसर जगत सिंह बिष्ट , राष्ट्रीय छात्रा प्रमुख ममता यादव , प्रदेश छात्रा प्रमुख ममता सिंह , प्रदेश मंत्री सुधीर जोशी , विभाग संगठन मंत्री योगेश विद्यार्थी , जिला छात्रा प्रमुख अंजली शर्मा ,जिला प्रमुख अमित गांधी ,नगर मंत्री राजेंद्र बिष्ट , अनीता मंगाई ,शिव कुमार गौतम , रविंद्र राणा ,कपिल गुप्ता ,प्रशांत चमोली ,संजीव चौधरी एवं अन्य लोग उपस्थित थे।

विधानसभा अध्यक्ष ने किया वार्षिक उत्सव का शुभारंभ

ऋषिकेश। गुरु राम राय पब्लिक स्कूल, ऋ षिकेश के वार्षिक उत्सव समारोह का शनिवार को उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेम चंद अग्रवाल द्वारा दीप प्रज्वलित कर शुभारंभ किया गया। गुरु राम राय पब्लिक स्कूल के वार्षिक उत्सव समारोह पर विधानसभा अध्यक्ष ने सभी बच्चों को बधाई एवं शुभकामनाएं देते हुए कहा कि बच्चे ईश्वर का दिया हुआ एक अनुपम वरदान है देश का भविष्य है। हमें बच्चों को नैतिक शिक्षा देखकर अच्छे संस्कार देने होंगे। उन्होंने कहा कि अगर ज्ञान सफलता की चाबी है तो नैतिकता सफलता की सीढ़ी है एक के अभाव में दूसरे का पतन निश्चित है। विधानसभा अध्यक्ष ने कहा बच्चों के जीवन में शिक्षकों का एक विशेष महत्व होता है ।
 
अध्यापक छात्रों को आदर्श नागरिक बनाने के लिए उनका मार्ग दर्शन करके राष्ट्र के भविष्य को संवारने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं । उन्होंने कहा कि हम सब की जिम्मेवारी बनती है कि हम उत्तराखंड को कैसे आगे बढ़ाए । इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष न गुरु राम राय पब्लिक स्कूल को विधानसभा अध्यक्ष कोष से 4 लाख रुपये की सहायता राशि  देने की घोषणा की एवं 8 छात्राओं द्वारा प्रस्तुत नवदुर्गा कार्यक्रम की अच्छी प्रस्तुति देने पर प्रतिभाग करने वाली छात्राओं को एक-एक हज़ार रुपये प्रोत्ससाहन राशि कोष से देने की घोषणा की। वार्षिक समारोह पर स्कूल के प्रधानाध्यापक दीपक भारद्वाज ,ऋषिकेश पब्लिक स्कूल के प्रधानाध्यापक  एस एस भंडारी, शिव कुमार गौतम ,अशोक पासवान ,बृजपाल राणा ,कपिल गुप्ता ,विकास एवं स्कूल की छात्र छात्राएं अध्यापक गण तथा अभिभावक गण उपस्थित थे।

मान्यता के लिये बीसीसीआई को पत्र लिखें मुख्यमंत्री : नौटियाल

देहरादून। उत्तराखण्ड क्रिकेट एसोसिएशन (यूसीए) के सचिव दिव्य नौटियाल ने प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत से जी अनुरोध किया है कि बीसीसीआई की एजीएम से पूर्व पुडुचेरी के मुख्यमंत्री की भांति बीसीसीआई को उत्तराखण्ड राज्य क्रिकेट की मान्यता के लिये पत्र लिखे। जिससे वर्षों से लंबित मान्यता का मामला हल हो पाए। गौरतलब है कि 9 दिसंबर को बीसीसीआई की एजीएम (एन्युल जनरल मीटिंग) होनी है। दिव्य नौटियाल ने आज यहां जारी एक प्रेसनोट में कहाकि, उत्तराखण्ड राज्य निर्माण को 17 वर्ष का लम्बा समय बीत चुका है। बावजूद इसके उत्तराखण्ड राज्य क्रिकेट को बीसीसीआई से मान्यता नहीं मिल पायी है।
 
बीती 16 अक्टूबर को माननीय मुख्यमंत्री जी ने उत्तराखण्ड राज्य क्रिकेट की मान्यता के संबंध में एक बैठक बुलायी थी। लेकिन यह बैठक बेनतीजा रही थी।  दिव्य नौटियाल ने कहाकि, उत्तराखण्ड राज्य क्रिकेट की भांति पुडुचेरी राज्य क्रिकेट की  मान्यता का मामला बीसीसीआई के पास लंबित था। हालातों के मद्देनजर पुडुचेरी के मुख्यमंत्री वी. नारायणसामी ने पहल करते हुये बीसीसीआई को पत्र लिखा। मुख्यमंत्री के पत्र के संदर्भ में बीसीसीआई ने कमेटी भेजकर जमीनी हकीकत को जांच—परखा और पुडुचेरी राज्य क्रिकेट को पिछले दिनों मान्यता प्रदान कर दी। चूंकि उत्तराखण्ड राज्य क्रिकेट की मान्यता को मामला 17 वर्षों से लंबित है, इसलिए मुख्यमंत्री को अविलंब पहल करते हुये बीसीसीआई को पत्र लिखना चाहिए। दिव्य नौटियाल ने कहाकि, आगामी 9 दिसंबर को बीसीसीआई की एजीएम (एन्युल जनरल मीटिंग) है। ऐसे में अगर मुख्यमंत्री बीसीसीआई की एजीएम से पूर्व पत्र लिख देंगे तो मान्यता के मामले में बीसीसीआई सकारात्मक व ठोस कदम उठा सकता है।  दिव्य नौटियाल ने कहाकि, 16 अक्टूबर को मुख्यमंत्री जी द्वारा आहूत बैठक के बाद भी मुख्यमंत्री जी को बीसीसीआई को पत्र लिखने का अनुरोध किया था। अब पुन: अनुरोध है कि वो बीसीसीआई की एजीएम से पूर्व पत्र लिखकर मान्यता का मामला सुलझाएं। 
 

एनसीसी कैडेट्स को खास सौगात

देहरादून। मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने शनिवार को एनसीसी निदेशालय, घंघोड़ा कैंट, देहरादून में एनसीसी दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में प्रतिभाग किया। मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द्र ने कहा कि एनसीसी की स्थापना के 69 वर्ष पूर्ण हो चुके हैं। जिन उद्देश्यों के लिए एनसीसी की स्थापना की गई थी, उन उद्श्यों को पूर्ण करने के लिए राष्ट्रीय कैडट कोर तेजी से आगे बढ़ रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि यदि हमारा राष्ट्रीय चरित्र ऊँचा होगा तो राष्ट्र स्वयं तीव्र प्रगति की ओर अग्रसर होगा।  उन्होंने कहा कि एनसीसी एक ऐसा संस्कारिक संगठन है, जो देश को चहुंमुखी विकास को बल देने वाला साबित होगा। उन्होंने कहा कि वर्तमान में एनसीसी के समानान्तर कोई दूसरा संगठन अभी नहीं है, जो विभिन्न क्षेत्रों में इतना उत्कृष्ट कार्य कर रहा है। 

 
मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द्र ने कहा कि देश की सेवा के लिए मन एवं मस्तिष्क की मजबूती के साथ ही शरीर का स्वस्थ होना भी जरूरी है। उन्होंने कहा कि स्वामी विवेकानन्द जी ने अल्प आयु में ही हिन्दु धर्म, भारतीय संस्कृति एवं साधुता का वैश्विक स्तर पर प्रचार-प्रसार कर यह साबित करके दिखाया कि भारतीय संस्कृति एवं परंपरा सर्वश्रेष्ठ है। उन्होंने कहा कि एनसीसी एक ऐसा संगठन है, जो सामाजिक क्षेत्र के साथ ही विभिन्न कार्यक्रमों में जनजागरूकता अभियान  चलाकर राष्ट्र एवं प्रदेश के हित में उत्कृष्ठ कार्य कर रहा है। उन्होंने कहा कि देश एवं प्रदेश के सर्वांगीण विकास के लिए पुरूष एवं महिलाओं को समान रूप से मजबूती दिया जाना जरूरी है। मुख्यमंत्री ने एनसीसी प्रशिक्षण को और अधिक व्यापक स्वरूप दिये जाने पर बल दिया। उन्होंने एनसीसी के अपर महानिदेशक मे.जनरल सी.मणी को उत्तराखण्ड में एनसीसी एकेडमी की स्थापना के लिए प्रोजक्ट रिपोर्ट बनाने के लिए कहा।
 
इस अवसर पर मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द्र ने विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ठ योगदान देने वाले 40 एनसीसी कैडट को पुरस्कृत किया। जिन कैडटों को पुरस्कृत किया गया उनमें शूटिंग, पर्वतारोहण, विभिन्न सामाजिक गतिविधियों, अनुशासन, नौसेनिक शिविरों में उत्कृष्ठ कार्य करने वाले कैडट शामिल हैं। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने एनसीसी की वार्षिक पत्रिका ‘‘संकल्प‘‘ का विमोचन भी किया। मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द ने कहा कि राज्य में एन0सी0सी0 प्रशिक्षिण शिविरों में प्रयुक्त होने वाले वाहनों हेतु अनुमन्य पेट्रोल दरों, सहयोगी एन0सी0सी0 अधिकारियों को अनुमन्य मानदेय की धनराशि एवं एन0सी0सी0 प्रशिक्षण शिविरों में भाग लेने वाले सहयोगी एन0सी0सी0 अधिकारियों(ए0एन0ओ0) एवं एन0सी0सी0 कैडेटों की रेल,सडक़ यात्रा के दौरान अनुमन्य दैनिक भत्तों की दरों में दो से तीन गुना वृद्धि की गई है। उन्होने कहा कि इस सम्बंध में शासन द्वारा जी.ओ. भी जारी कर दिये गए हैं।  इस अवसर पर एनसीसी के अपर महानिदेशक मे.जनरल सी.मणी, उप महानिदेशक ब्रिगेडियर पी.एस.बैन्स, एनसीसी के अन्य उच्चाधिकारी उपस्थित थे। 

पुलिस ने बताया सडक़ पर कैसे रहें सुरक्षित

देहरादून। राजधानी में लगातार बढ़ रहे सडक़ हादसे की रोकने के लिए और सुरक्षा के प्रति जागरुकता फैलाने के लिए राजधानी देहरादून में सडक़ सुरक्षा सेमिनार का आयोजन किया गया। इस दौरान डीजीपी अनिल रतूड़ी ने दीप प्रज्ज्वलित कर सेमिनार का शुभारम्भ किया। साथ ही सडक़ सुरक्षा से जुड़े पहलू और सडक़ हादसों पर नियंत्रण पाये जाने के उपाय के बारे में चर्चा की।डीजीपी अनिल रतूड़ी ने कहा कि सेमिनार के जरिये जनता और विभागों से सुझाव लेकर सडक़ हादसों व सडक़ सुरक्षा के क्षेत्र में और भी बेहतर काम किया जा सकता है। इस सेमिनार का उद्देश्य जनता और अन्य विभागों को सडक़ सुरक्षा के प्रति जागरुक करना और उनके सुझावों और सहयोग से आगे बढऩा है। आयोजित सेमिनार में डीजीपी अनिल रतूड़ी, एडीजी अशोक कुमार, डीआइजी, एआइजी ट्रैफिक सहित पुलिस अधिकारी व सैकड़ों की संख्या में स्कूली छात्र छात्राएं उपस्थित रहे।
 
बता दें कि देहरादून में आये दिन कोई न कोई सडक़ हादसों में अपनी जान गंवा रहा है। सडक़ों पर ओवर लोडिंग और बेलगाम दौड़ते वाहन किसी न किसी के मौत का सबब बन रहे हैं। जिस पर लगाम लगाने के लिए कई बार पुलिस ने ट्रैफिक पुलिस, लोक निर्माण विभाग सहित नगर निगम के साथ मिलकर सडक़ों को दुरुस्त बनाने और वाहनों की तेजी पर लगाम लगाने की भरसक प्रयास किया है लेकिन बावजूद इसके देहरादून की सडक़ों पर हादसे कम होने का नाम नहीं ले रहे हैं। गौर हो कि राजधानी में 1 जनवरी 2017 से 31 अक्टूबर 2017 तक कुल 284 सडक़ हादसे हुए हैं, जिनमें से 105 दुर्घटनाएं काफी घातक थीं। इन 284 हादसों में 115 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। तमाम हादसों में सर्वाधिक 127 हल्के चौपहिया वाहन, 70 दोपहिया वाहन शामिल हैं। इसके अलावा 38 ट्रक, 7 डंपर, 5 ट्रैक्टर, 11 बसें, 6 मिनी बसें, 4 तीन पहिया वाहन और 16 अन्य वाहन शामिल हैं।

.