Share Your view/ News Content With Us
Name:
Contact Number:
Email ID:
Content:
Upload file:

शीतकालीन चारधाम यात्रा शुरु

उत्तरकाशी : गंगा के मायके मुखवा में जिले के डीएम सी.रविशंकर व क्षेत्रीय विधायक विजय पाल सिंह सजवाण स्वयं पहुॅच कर मॉ गंगा के मायके मुखवा गॉव में मॉ के शीतकालीन प्रवास में पूजा अर्चना करने के बाद इस बात का संदेश दिया कि सरकार ने शीतकालीन यात्रा को जो जनता से वादा किया उसे अल्प समय में पूरा कर दिखाया। इस दौरान विधायक सजवाण ने कहा कि बीते दो यहां आयी आपदा से यात्रा ठप्प हाने से यहां के हाटल व्यवसाय व अन्य लोगों में मायूसी छायी है सरकार कि मनशा है कि यहां १२ माह यात्रा चले जिससे स्थानीय लोगों को रोजगार मिल सके। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड में तीथार्टन व पर्यटन आर्थिक रीड़ है। इस दौरान लगभग ३०० श्रद्वालुओं ने मॉ गंाग के मायका मुखवा में दर्शन किये। यात्रा के स्वागत के लिये १२ वी बटालीन के बैण्ड व भण्डारे का आयोजन भी किया गया। 

इधर गंगोत्री मंदिर समिति व तीर्थपूरोहितों ने शीतकाल यात्रा के शुरूवात से पहले मॉ गंगो के गर्भगृह में वेद मंत्रों से पूजा अर्चना करने के बाद गंगो आरती कीं इधर मन्दिर समिति के के अध्यक्ष भागेश्वर सेमवाल सचिव सुरेश सेमवाल, समेत मुख्यविकास अधिकारी जी.एस.एस.रावत,वरिष्ठ कोषागार अधिकारी मनमोहन सिंह मनाली, सेमत यात्रा से जुडे विभागों के अलाधिकारी मौजूद रहे है।

मंदिर के साथ ताल-बुग्यालों की भी भरमार

शीतकालीन चारधाम यात्रा यदि ठीक-ठाक चली तो यहां आने वाले देश-विदेश के तीर्थयात्री एवं पर्यटकों को ‘धरती पर स्वर्ग’ का एहसास होगा। जिले में न केवल पौराणिक मंदिर एवं मठ हैं, बल्कि ताल और बुग्यालों की भी भरमार हैं। राज्य सरकार ने इस साल से शीतकालीन चारधाम यात्रा शुरू करने का बीड़ा उठाया है। गंगोत्री धाम की यात्रा का श्रीगणेश रविवार को मुखबा में गंगा के शीतकालीन प्रवास से होना है। सरकार की यह पहल यदि रंग लाती है, तो जिले को न केवल धार्मिक पहचान बल्कि पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा। सर्दियों में बर्फीली चादर ओढ़े ताल और बुग्यालों का नजारा देखने लायक होता है।

दयारा बुग्याल - मखमली घास से लबालब यह बुग्याल शीतकाल में दिसंबर से मार्च तक बर्फ से लकदक रहता है। यदि आप गंगोत्री यात्रा पर आ रहे हैं, तो गंगोत्री हाईवे के भटवाड़ी से रैथल या बार्सू गांव होते हुए यहां पहुंचा जा सकता है। यहां से दयारा की दूरी सात किमी वाहन तथा पांच किमी पैदल है।

डोडीताल- समुद्र तल से 3024 मीटर की ऊंचाई पर स्थित यह ताल भगवान गणेश की जन्म स्थली माना जाता है। शीतकाल में बर्फ से ढके रहने वाले इस ताल तक पहुंचने के लिए उत्तरकाशी मुख्यालय से 15 किमी वाहन से संगमचट्टी तथा इसके बाद 21 किमी की पैदल दूरी नापनी पड़ती है।

नचिकेता ताल- टिहरी और उत्तरकाशी जिले की सीमा पर स्थित नचिकेता ताल बांज-बुरांश के घने जंगल से घिरा हुआ है। गंगोत्री-यमुनोत्री धाम की शीतकाल यात्रा करने के बाद केदारनाथ जाते समय तीर्थयात्री चौरंगीखाल से दो किमी की पैदल दूरी तय कर इस ताल का दीदार कर सकते हैं।

 

Over 300 people received free medical help though Rotary

Dehradun: DPMI and Rotary Club Dehradun Central together organised a free medical camp today, 16/112014, at DPMI premices in Badiripur area of Dehradun. The camp was innaugrated by a famous singer Mr. Narender Singh Negi and Rotary Governor Col. Dilip Patnaik by lighting a lamp.

The camp was set up with 14 doctors with different specialities. Among the participants were Max Speciality Hospital, Drishti Eye Center, Goyal Pathalogy Labs, Paal Physiotherapy, Cipla and Ruchi Medicos. Apart from the free checkup, the doctors prescribed medicines on the spot and the medicines were also distributed free of cost.

Rotary Club has always been ahead in terms of community service and regulary organises Blood Donation Camps and Medical Camps for the needy. In all 308 people from nearby 7 villages received free medical advice and help.

On the occasion present were DPMI Director Mr. Narendra Singh, Rotary President Mr. Jagat Batra, VP Pranav Sahni and other members of the Rotary.

Rotary Uttarakhand Disaster Relief Trust handed over 3 rebuilt schools

Dehradun : Rotary Uttarakhand Disaster Relief Trust handed over the first batch of schools destroyed in the June 2013 Uttarakhand Disaster on Children’s Day
 
At a special function at Village Kyunja-Village Chameli and Village Baniyadi of the Augustmani Block in District Rudraprayag, Primary School Kyunja, Primary School Chameli and Primary School Baniyadi that were completely destroyed in June 2013 floods have been reconstructed by Rotary India with financial assistance from the Dalmia Bharat Foundation and handed over to their respective school management committees y Smt. Shaila Rani Rawat, MLA Kedarnath, Government of Uttarakhand.
 
 
All the schools have been provided with school desks and benches for the students. The school compound has been provided with a solar street light as well.
 
Rotary Uttarakhand Disaster Relief Trust soon after the June 2013 disaster had offered to the Government of Uttarakhand to rebuild and reconstruct Primary schools in the Districts of Rudraprayag and Uttarkashi that were damaged in the disaster.
 
 
Speaking on the occasion Sh. Y.P. Das, Trustee of the Rotary Uttarakhand Disaster Relief Trust mentioned that several other schools will be constructed both in Rudraprayag and Uttarkashi as and when the schools sites are made available to the Trust by the respective school management committees.
 
Smt. Shaila Rani Rawat, MLA Kedarnath, Government of Uttarakhand was very appreciative of the quality of the schools that have been built as per the building specifications provided by the Central Building Research Institute in Roorkee and as approved by the Sarva Shiksha Abhiyan Department by the Government of Uttarakhand.  She was all praise that each school had been provided with a Kitchen and toilets both for boys and girls. The MLA also acknowledged the generous contribution by Rotary India for rehabilitation and reconstruction of the schools in Uttarakhand.
 
 
Six more schools are under construction and will be ready for handing over in the month of December 2014 followed by another six schools in April 2015 as per the information shared by Rotary Dehradun Central during a press conference on 15th November held at Dehradun. PDG Rtn. Rakesh Agarwal, DG Rtn. Col. Patnaik, DGE Rtn. David Hilton, PDG Shaju Peter, President Jagat Batra, VP Pranav Sahni, PE Rtn. Rajesh Goyal and Media Coordinator Rtn. Saket Ahuja were present on the occasion.
 

.