Share Your view/ News Content With Us
Name:
Contact Number:
Email ID:
Content:
Upload file:

नकली नोट जमा करने पर शाखा प्रबंधक पर मुकदमा

देहरादून : एक तरफ सरकार पुराने नोटों को चलन से बाहर करने की तैयारी कर रही है तो वहीं नकली नोटों का कारोबार भी खूब फल फूल रहा है। हैरानी की बात तो यह है कि बैंक कर्मचारी भी नोटों की पहचान करने में गच्चा खा रहे हैं और धडल्ले से नकली नोट बैंकों के माध्यम से ही रिजर्व बैंक पहुंच रहे हैं। आरबीआई में जांच के दौरान ऐसे कई नोट प्रकाश में आ चुके हैं जो कि दून की विभिन्न शाखाओं में जमा किए जा चुके हैं। पटेलनगर थाने में ऐसा ही एक और मामला दर्ज किया गया है। 

पुलिस को दी गयी शिकायत में आरबीआई की ओर से यूनियन बैंक के शाखा प्रबंधक के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। शिकायत में आरबीआई कानपुर के प्रबंधक आर्यन के. सिन्हा की ओर से दी गयी शिकायत मे कहा गया है कि कुछ समय पूर्व पटेलनगर यूनियन बैंक ऑफ इंडिया की ओर से जो पैकेट आरबीआई में पहुंचे थे उनमें पांच सौ के तीन एवं सौ के छ: नोट नकली पाए गए। सीधे तौर पर इसके लिए बैंक प्रबंधक को जिम्मेदार बताते हुए मुकदमा दर्ज किया गया है। मालूम हो कि इससे पूर्व भी दून के स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, ओरियंटन बैंक ऑफ इंडिया, पंजाब नेशनल बैंक सहित अन्य बैंकों में भी नकली नोट जमा करने के मुकदमे दर्ज हो चुके हैं। सीधे तौर पर यह बैंक की जिम्मेदारी है कि नकली नोटों को चलन से बाहर किया जाए लेकिन देखा जा रहा है कि बैंक कर्मचारी ही असली और नकली के फेर को जान पाने में असफल साबित हो रहे हैं। इसके कारण अक्सर नकली नोट भी जमा हो रहे हैं। नोटों की पहचान करने के लिए मशीनें भी लगाई गयी हैं लेकिन इसके बाद भी नकली नोटों को लिए जाने के मामले प्रकाश में आने के बाद रिजर्व बैंक ने कड़ा रूख अपना लिया है।

इससे पूर्व इस प्रकार के मामलों में आरबीआई की ओर से अज्ञात लोगों के खिलाफ वाद दर्ज किया जाता था, लेकिन ऐसे मामले फिर भी रूक नहंी पाने के कारण अब बैंक ने शाखा प्रबंधकों को ही इसके लिए जिम्मेदार मानते हुए कड़ी कार्रवाई की है। बताया जा रहा है कि दून में यह पहला मामला है जबकि  बैंक में नकली नोट जमा होने और रिजर्व बैंक तक पहुंचने के बाद किसी बैंक अधिकारी पर ही कार्रवाई की जा रही है।

 

आरटीआई से सूचना मांगनें में हुआ आर्थिक शोषण

देहरादून : सूचना के अधिकार के अंतर्गत जानकारी मांगने पर संबंधित विभागों द्वारा किस तरह से व्यक्ति का मानसिक और आर्थिक शोषण किया जा रहा है इसका प्रत्यक्ष उदाहरण संभागीय परिवहन कार्यालय की कार्यप्रणाली से दिखायी दे रहा है।

महानगर बस सेवा महासंघ के अध्यक्ष द्वारा मांगी गयी जानकारी जो मात्र ४० पृष्ठों में दी जा सकती थी उसे कार्यालय द्वारा १०११२ पृष्टों में दिया गया। इसके एवज में उनसे २०२२४ रूपये वसूले गये। इस तरह से सूचना मांगने वाले व्यक्ति का कार्यालय ने शोषण करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। देहरादून महानगर बस सेवा महासंघ के विजयवद्र्धन डंडरियाल ने संभागीय परिवहन कार्यालय से आठ बिन्दुओं पर सूचना मांगी थी। उन्होंने सूचना मांगी थी कि ठेका परमिट टैम्पों के मीटर न लगाने पर कितने चालान किये गये हैं। ठेका परमिट टैम्पों के चालक को कौन से रंग की वर्दी पहनना आवश्यक है। एक जनवरी २००९ से १० नवंबर २०१३ तक ठेका परमिट टैम्पों के चालक के फ्रंट शीशे के ऊपर रूट नम्बर व स्थान लिखने पर कितने चालान काटे हैं। एक जनवरी २००९ से १० नवंबर २०१३ तक ठेका परमिट टैम्पों के फुटकर सवारियां चढ़ाने व उतारने में कितने चालान किये गये हैं। एक जनवरी २०१२ से १० नवंबर २०१३ कितनी सिटी बसों के चालकों व परिचालकों के वर्दी न पहनने पर कितने चालान किये गये हैं। स्टेज कैरिज परमिट में कम से कम ड्राईवर सहित कितनी सवारियों में वाहन का परमिट अधिकृत होता है। यदि कोई गाड़ी का परमिट आरटीओ द्वारा अधिकृत किया है तो उसके परमिट या मालिक का नाम व गाड़ी का नम्बर व पते की सत्यापित प्रतिलिपि दी जाये। देहरादून शहर के केन्द्र बिन्दु के स्थान का नाम क्या है यह भी स्पष्ट किया जाये। विजयवद्र्धन डंडरियाल ने बताया कि उसने इन बिन्दुओं पर जो जानकारी मांगी थी उनमें से ३ और ४ नंबर के बिन्दु पर तो उन्हें जानकारी दी ही नहीं गयी। पांचवे बिन्दु कीजानकारी दी गयी है कि सितंबर माह में टैम्पों का एक ही चालान फुटकर सवारी ढोने में काटा गया। जबकि ठेका परमिट टैम्पों फुटकर सवारियां चढ़ा व उतार रहे हैं। इसी तरह से सिटी बस चालकों व परिचालकों का वर्दी न पहनने पर कई चालान काटे गये लेकिन ठेका परमिट टैम्पों का वर्दी न पहनने पर एक भी चालान नहीं काटा गया है। इन सूचनाओं से यह प्रतीत होता है कि आरटीओ द्वारा सिटी बसों के संचालकों, चालकों और परिचालकों के साथ सौतेला व्यवहार किया जा रहा है। उन्होंने बताया इन आठ बिन्दुओं पर उन्होंने आरटीओ से जो जानकारी मांगी थी वह केवल ४० पृष्ठों में है और इसका शुल्क मात्र ८० रूपये बनता था लेकिन विभाग ने यह सूचना १०११२ पृष्ठों में दी है जो किसी काम की नहीं है। इसके एवज में उनसे २०२२४ रूपये वसूले गये जिससे उनका मानसिक और आर्थिक शोषण हुआ है। आरटीओ के अधिकारियों द्वारा इस तरह से अपने अधिकारों का दुरूपयोग और अपीलकर्ता का शोषण करने का काम किया गया है। विजयवद्र्धन का कहना था कि इस तरह से अपीलकर्ताओं का शोषण कर अन्य लोगों में भी खौफ पैदा किया जा रहा है जिससे कि वे किसी विभाग से कोई जानकारी न मांग सके। और विभागों के भ्रष्टाचार की पोल न खुले।

 

उत्तरकाशी में 17 जनवरी से बाढ़ सुरक्षा कार्य होंगे तेज

उत्तरकाशी : संसदीय सचिव एवं गंगोत्री के विधायक विजयपाल सिंह सजवाण ने कहा कि उत्तरकाशी में 17 जनवरी से बाढ़ सुरक्षा कार्य तेज कर दिये जाएंगे। अधिकांश कार्यो के लिए जरूरी प्रशासनिक और वित्तीय स्वीकृति ली जा चुकी है।

रविवार को पत्रकारों से वार्ता में संसदीय सचिव ने बाढ़ सुरक्षा कार्यो की रूपरेखा बताई। उन्होंने बताया कि मनेरी भाली द्वितीय चरण परियोजना के बैराज से इंद्रावती तक जल विद्युत निगम को सुरक्षा कार्यो की जिम्मेदारी दी गई है। करीब डेढ़ सौ करोड़ रुपये की लागत से होने वाले इन कार्यो के लिए टेंडर हो चुके हैं और प्रक्रिया अंतिम चरण में है। इसके अलावा मनेरी भाली प्रथम चरण परियोजना के पावर हाउस के आउटलेट से तिलोथ पुल तक सुरक्षा दीवार का कार्य भी शुरू किया जा रहा है। भागीरथी से मलबा निस्तारण के लिए सात लॉटों की नीलामी हो चुकी है। जबकि, जिला प्रशासन को अलग से करीब चार करोड़ रुपये उपलब्ध करवाकर असीगंगा व भागीरथी में गंगोरी से ऊपर के हिस्सों में मलबा निस्तारण की योजना बनाई गई है। उन्होंने बताया कि इन कार्यो को 17 जनवरी से हर हाल में शुरू करवा दिया जाएगा। संसदीय सचिव ने कहा कि अप्रैल तक हाई फ्लड लेवल तक काम पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। समयबद्धता के साथ ही काम की गुणवत्ता पर भी कड़ी नजर रखी जाएगी। इसके अलावा भटवाड़ी व डुण्डा ब्लॉक में प्रस्तावित सडक़ों व अन्य विकास कार्य भी तेज गति से करवाए जा रहे हैं। इस मौके पर शहर कांग्रेस अध्यक्ष विजय सेमवाल, शीशपाल पोखरियाल, अनिल रावत, गायत्री सेमवाल आदि मौजूद रहे। 

 

Narendra Modi will address rally in Gorakhpur on 23rd January

Lucknow : Modi, the most discussed Prime minister candidate is leaving no stone untunred in putting efforts for the upcoming election. Last month he had visited Dehradun in Uttarakhand for the Shankhnaad Rally which was a huge succes. Now he will he heading towards Gorakhpur for a rally on January 23rd. The venue of the rally is not yet finalised, however, the Fertiliser Factory ground is being discussed as the proposed venue.

The proposed site was inspected by a team headed by SSP Pradip Kumar who found the same almost suitable in terms of accomodating huge crouds and the security of the guest in the sate. Today the site was also supposed to be visited by BJP MP Yogi Adityanath.

कानून व्यवस्था पूरी तरह चौपट : चीमा

काशीपुर। विधायक हरभजन सिंह चीमा ने कहा है कि क्षेत्र में कानून व्यवस्था पूरी तरह चौपट हो गई है। असामाजिक तत्वों में पुलिस का खौफ खत्म हो चुका है। क्षेत्र में चोरी, डकैती, एवं फि रौती की घटनायें लगातार बढ़ रही हैं। 

यहां जारी बयान में विधायक चीमा ने काशीपुर पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान लगाये है। उन्होंने कहा है कि यहां पुलिस प्रशासन नाम की कोई चीज नहीं है। चोरियों, डकैतियों से जनता त्रस्त है। पुलिस अपने दायित्व का निर्वहन करने में पूरी तरह से विफल रही है। कुछ दिन पूर्व मोहल्ला लक्ष्मीपुरपटटी में हुई चोरी की घटना से लोग खुद को असुरक्षित महसूस करने लगे है। काशीपुर के व्यापारी प्रमोद शर्मा से फिरौती मॉंगने का मामला हो या पैगा स्थित इलाहाबाद बैंक की शाखा में दिन दहाड़े पड़ी डकैती का मामला हो। इन सारी वारदातों से स्पष्ट है कि गुण्डा तत्वों में पुलिस नाम का खौफ खत्म हो चुका है। पुलिस अभी तक किसी भी मामले का पर्दाफाश नहीं कर पाई है। ऐसे में काशीपुर पुलिस प्रशासन में व्यापक बदलाव किए जाने आवश्यकता है। श्री चीमा ने चेतावनी दी है कि पुलिस टीम को चुस्त दुरस्त नहीं किया तो क्षेत्र की जनता सडक़ों पर उतरने से भी गुरेज नहीं करेगी।

 

अवैध खनन से भरी दर्जनों वाहन को जब्त कर छोड दिया

बाजपुर। अवैध खनन से भरी एक दर्जन गाडियों को चौकी पुलिस द्वारा पकड लिया गया। जिसके चलते दर्जनों लोग चौकी पहुच गये तथा हंगामा करने लगे। जिसके चलते दोनों पक्षों में जमकर नौक-झौक भी हुई। जिन्हें बाद में सत्ता के दबाब में मामूली जुर्माना बसूल कर छोड दिया गया। वही पुलिस कर्मी द्वारा सार्वजिक रूप से क्षमा मांगी गयी। मामला क्षेत्र में चर्चा का विषय बना हुआ है। 

उल्लेखनीय हो कि क्षेत्र में अवैध खनन पर प्रशासन पूरी तरह सख्त नजर आ रहा है। जिसके चलते अभियान चला खनन माफियाओं के वाहनों की धर-पकड की जा रही है। रविवार को भी पुलिस ने मुख्य मार्ग पर जीजीआई के सामने जा रही अवैध खनन से भरी 12 बैल गाडियों को अपने कब्जे में ले लिया तथा चौकी ले आयी। जिसकी जानकारी होने पर दर्जनों लोग मौके पर पहुच गये तथा बैल गाडियों को पकडने का विरोध करने लगे। इस दौरान पुलिस चौकी पहुचे ग्राम कनौरी निवासी फुरकान ने पुलिस से जमकर नौक-झौक कर सत्ता का रोब झाडना शुरू कर मौके पर कुछ दिग्गज कांग्रेसियों को बुलाने की धमकी दी। इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर अभद्र व्यवहार करने का आरोप लगाया। वही सत्ता के दबाब में आये चौकी पुलिस कर्मियों ने बैल गाडियों को सीज करने के स्थान पर मामूली जुर्माना कर मुक्त कर दिया। वही एक पुलिस कर्मी द्वारा मामले पर खेद व्यक्त भी किया गया। जो की पूरे क्षेत्र मे चर्चा का विषय बना हुआ है। वही भाजपा नेता राजेश कुमार का कहना है कि प्रशासन को बिना किसी दबाब में आये कानून के तहत कार्रवाई करनी चाहिए। जिससे उसकी कार्य शैली पर प्रश्न-चिहन न लगे। रियाजुल, फैयाज, फैयाजुल, आरिफ, गुड्डू, सलमान, इरफान आदि मौजूद थे।

 

 

बाईक सवारों को बिना हेलमेट नही मिलेगा तेल

सितारगंज। पुलिस ने बाईक सवारों को हेलमेट पहनने का सबक सिखाने के लिये अनोखी पहल की है क्षेत्र के तमाम पेट्रोल पंप स्वामियों को पुलिस ने बिना हेलमेट पेट्रोल डलवाने पर पाबंदी लगा दी है। बाईक सवारों को हेलमेट पहनने पर विवश करने के लिये सर्वप्रथम पुलिस कर्मियों ने ही हेलमेट पहनकर पेट्रोल भरवाने की पहल की है। क्षेत्र की विभिन्न पेट्रोल पंपों पर बिना हेलमेट पहने बाईक सवारों को पेट्रोल नही मिलेगा यह हम नही सितारगंज पुलिस कह रही है।

वरिष्ठ उपनिरीक्षक आरसी मखौलिया ने बताया कि कोहरा बढ़ रहा जिस कारण दुघर्टनाएं घटित हो रही है। दुघर्टनाग्रस्त बाईक सवार अधिकांश लोग हेलमेट का प्रयोग नही करते है। जिस कारण बाईक सवार की मृत्यु की संभावना बढ़ जाती है। उन्होंने बताया कि पेट्रोल पंपों पर हेलमेट पहनकर तेल भरवाने से लोगों में हेलमेट पहनने की जागरूकता बढ़ेगी। कहा कि सर्वप्रथम पुलिस कर्मियों ने अभियान को अमलीजामा पहनाने के लिये पंपों पर हेलमेट पहनकर तेल भरवाकर शुरूआत की है। 

 

CM heard problems of over 1000 people during Janta Milan at CM house

Dehradun : The government is committed for the development of every community. The DMs have been given directions to solve the problems at district level. Now onwards, the DM will listen to people’s problem at a weekly basis. It is at the priority of the government to repair damaged roads. He said that it will be ensured that people’s problems should be solved within time period. This was said by the Chief Minister Vijay Bahuguna while listening to people’s problems today.

 
The Chief Minister at a Janta Milan programme held today, heard problems of over thousand people. A direction to ensure their solutions was given to the officials concerned at the spot. The Chief Minister met people from far off areas and heard their problems personally. The CM added that the government is committed to development of all sectors of the society. He gave directions to the Chief Secretary to ensure that the DMs of all districts attend to people’s problems personally. He added that that Janta Sammelan with the DMs must be attended on weekly basis. Listening to the problems for providing financial aid for health and educations and related to the problems of disaster affected people, he directed officers concerned. 
 
In an informal interaction with the media, the CM said that it is the priority of the government to repair roads. The officials have been given directions to repair roads within time. The work of repair of roads is majorly with BRO, thus an appeal has been made to the PM, Defence Minister and Road Transport Minister to ensure that the work is speed up. He said that the government is working for the GSI report to start work at Kedarnath area. He ensured that ministers in charge have been asked to inspect their areas and ensure people’s problems are solved. He added that for the upcoming Chaar Dhaam Yatra, online registration will be made so that the description of the tourists is with the government. 
 
In today’s Janta Milan programme, problems of people from Pauri, Chamoli, Rudrapayag, Bageshwar, Pitthoragarh, Uttarkashi, Tehri, Dehradun, Hardwar, Nainital and Udham Singh Nagar were heard. He gave directions to solve problems of the needy people. The CM sanctioned Rs 43 thousand to a boy named Umesh Kumar who is doing Btech and shared with Mr Bahuguna that he couldn’t pursue his education further due to want of funds. He also gave sanction for medical aid of under privileged people.
Present on the occasion were DM Dr BVRC Purushottam, Additional secretary RC Lohani, SSP Kewla Khurana, Officer on Special Duty Anand Bahuguna, Bansidhar Tiwari, Santosh Badoni and officers of several other departments.
 

.